इन हिंदी बीएफ

छवि स्रोत,मराठी एचडी बीपी व्हिडिओ

तस्वीर का शीर्षक ,

रोमांटिक सेक्स बीएफ: इन हिंदी बीएफ, उसमें एक लड़के के साथ उसने भाई बहन के सेक्स वाला रोल प्ले चैट भी किया हुआ था.

नंगे बीएफ हिंदी

वहां पर मैंने देखा कि एक औरत दूसरी औरत के साथ सेक्स वाली क्रियाएं कर रही थी. चुदाने वाली लड़कियांममता खाना बहुत स्वादिष्ट बनाती थी पर राजन ने देखा कि प्रकाश ने बहुत कम खाना खाया और चुप ही रहा.

मैं इतनी मजबूर हो गई कि मैंने अपने सामने खड़े हुए विवेक को अपनी बांहों में कस कर जकड़ लिया. सेक्सी फिल्म हिंदी में नंगी वालीमैंने उनके चिकने मदमस्त बदन को देखते हुए अपनी शर्ट और पैन्ट निकाल कर मालकिन के कपड़ों के ऊपर ही रख दिए.

प्रीत ने मेरी ड्रेस की चेन खोल दी और मेरे कंधे से ड्रेस को सरका दिया.इन हिंदी बीएफ: उन्होंने पीछे से मेरे पैरों के बीच से हाथ डालकर मेरे लंड को दबा दिया.

मारिया आंटी के साथ चुदाई की कहानी का पूरा मजा मैं आपको इस सेक्स कहानी के अगले भाग में लिखूँगा.मेरी कमर के चारों ओर अपनी बांहों का घेरा बना दिया और मेरे होंठ चूमने के लिये अपने होंठों को गोल कर लिया.

తిరుపతి ఎక్స్ వీడియో - इन हिंदी बीएफ

मेरे कुछ धक्कों ने भाई बहन के रिश्ते को पूरी तरह ध्वस्त कर दिया था.मेरे डिस्चार्ज होने का समय आया तो मैंने उसके मुंह से निकालकर लण्ड को अपनी लुंगी में लपेट लिया और शैली के हाथ में दे दिया.

फिर दीदी चली गई … मैं फिर दीदी के कमरे में गया और दीदी का लिखा उस पत्र को पढ़ने लगा. इन हिंदी बीएफ पूजा के बड़े भाई का नाम मनोज है, उसकी दो बेटियां हैं, इक्कीस साल की रीना व उन्नीस साल की मीना.

उसने लिखा कि मैं देश के एक नामी गिरामी न्यूज़ चैनल की एंकर हूँ और दिल्ली में फ्लैट लेकर अपनी एक सहेली के साथ ही रहती हूँ। उसने मुझे चैनल का नाम भी बताया था लेकिन गोपनीयता के लिए मैंने चैनल का नाम यहाँ नहीं लिखा है.

इन हिंदी बीएफ?

तीनों दिन मैंने अपनी चूत चुदवाई और मेरे पास काफी सारे गिफ्ट्स हो गये. हुआ भी वही … इस दूसरी चुदाई में पता नहीं, मैं कितनी बार झड़ चुकी थी … और बीच बीच में मेरा मन कर रहा था कि जेठजी हट जाएं, तो मैं लेट कर चैन की सांस लूं, पर जेठजी कहां रुकने वाले थे. मैंने एक हाथ से उनके एक निप्पल को उमेठने लगी और दूसरे निप्पल को मुँह में भर लिया.

लेकिन थोड़ी देर में वह थक गई और रुक गई, बोली- मुझे प्यास लगी है, मैं पानी पीकर आ रही हूँ. उन्होंने कहा- ठीक है, तुम बस अपने कमरे में 5 मिनट इंतजार करो, मैं अभी आती हूं. अब संजय ने अपने कपड़े उतार दिये और उसका लंड बिल्कुल सामने तना खड़ा था.

ध्यान से देखा, पिंकी ने सिर्फ साड़ी पहन रखी थी, नीचे ब्रा एवम् ब्लाउज भी नहीं था. मैंने सोचा कि दो मिनट की ही तो बात है इसलिए ऐसा सोच कर मैंने गेट भी नहीं लगाया था. आलिया- आहह ओह भाई याह अम्मह आह ओह भैया आपने तो मेरी गांड की मां चोद दी.

दीदी भी उतनी ही प्यासी थी। शायद मुझसे कहीं ज्यादा। वो भी मेरा साथ देने लगी। उस आनंद में मैं इतना खो गया कि मुझे होश ही नहीं रहा कि हम दोनों भाई-बहन हैं. ये पहला मौका था, जब मैं किसी लड़की के मुँह में उसे बिना चोदे झड़ गया.

मैं सोफे पर बैठ कर फोन यूज कर रहा था … तभी आलिया तैयार होकर आ गई, मैं आलिया को देखता ही रह गया.

आलिया- तुम पागल हो गए हो क्या!मैं- नहीं, मुझे तुम बहुत पसंद हो, मैं तुम्हें अपनी गलफ्रेंड बनाना चाहता हूँ.

जब जीजा का लंड खड़ा हो गया तो उन्होंने मेरी चूत को पर लंड को धकेलना शुरू कर दिया. और वो मेरे लन्ड पर बैठ के मुझे चोदने लगी और आह आह आह आह की आवाज निकाल रही थी. मैं भी चाची को गाली देते हुए चोदने में लगा था- ले मेरी जान चाची … साली न जाने कबसे मेरे लंड में तेरी चुत का भोसड़ा बनाने की तमन्ना थी … आह … ले.

वह ब्रा पेंटी में मुझे देखते ही मुझसे चिपक गया और मेरे होंठों को चूसने लगा. मोटी होने के कारण उसको घोड़ी बने रहने में दिक्कत होने लगी तो बेड पर लिटा दिया और खड़े खड़े चोद दिया. बार-बार उसके पेट से होते हुए उसकी चूचियों पर हथेलियों को ले जाकर उसके उभारों को दबाने लगा था मैं.

चाची बोली- अब रहा नहीं जाता … जल्दी से अन्दर डाल दो … मुझे अब रहा नहीं जा रहा है.

मालिश वाले लड़के के जाने के बाद पायल बोली- नानू आप रोज मालिश करवाते हैं क्या?उसकी ओर देखते हुए मैंने कहा- हां, रोज कराता हूँ. तो मैं अपनी गैलरी में आ गया और मेरी नजरें प्रीति को खोजने लगी कि वो अभी स्कूल से आई या नहीं!क़रीब 2 बज के 50 मिनट पर स्कूल से आई. मैंने धीरे से उसके अंडरवीयर को नीचे सरकाते हुए उसका लंड बाहर निकाल कर अपने मुँह में ले लिया.

मैं ज्यादा देर ना टिक सकी और मैंने दीदी के मुँह में ही अपना अमृत त्याग दिया. साथ में दूध की बोतल भी ले ली … क्योंकि वहां जो मेरी चूचियों में दूध है, वो डॉक्टर छोड़ता नहीं. वो एक बार तो थोड़ा उचक गई मगर मैंने ज्यादा अंदर तक उंगली को नहीं घुसाया.

मैंने धीरे धीरे लंड को आगे सरकाना शुरू कर दिया और पूरा लंड उसकी चुत में उतार दिया.

मैंने सर की गांड पे और अपने लण्ड पे क्रीम लगा ली और मैं धीरे धीरे सर की गांड में लंड डालने लगा. मैं- तो क्या किया उसने आपके साथ?भाभी- ये बात मेरी शादी से पहले की है.

इन हिंदी बीएफ बार-बार मेरा अंगूठा उसकी चूत पर फंसे जांघिया को उठा कर अंदर तक एक राउंड लगा कर आ रहा था. कामोत्तेजना के कारण चूत से निकलता रस उसकी चुत में चमक पैदा कर रहा था.

इन हिंदी बीएफ मुझसे जितना खुलकर बात कर लोगी, तुम्हारा रिश्ता उतनी आसानी से हो जायेगा. मैंने कहा- कोई है?तो नीचे से संजय की आवाज आई- मां मामा के यहाँ गई है, कल आएगी.

इतने में ही आगे से अंगूठे को मेरी चूत में विवेक ने अंदर बाहर करना शुरू कर दिया.

चुदाई वाला सेक्सी बीएफ

मैंने जैसे ही चाची की पैंटी निकाली, उनकी सुनहरी झांटों वाली चुत मेरे सामने आ गयी. एक तरफ तो मेरा मुंह उसकी चूत में था और दूसरी तरफ वो मुझे लंड चुसवाने का मजा दे रही थी. इसके बाद मैं 69 की पोजीशन में आकर उसकी बुर चाटने लगा और उससे कहा कि मेरा लण्ड मुंह में ले ले.

उसका चेहरा गुस्से से लाल था। लेकिन दूसरे ही पल वो मेरे सामने घुटनों पर था. वो एक बार तो थोड़ा उचक गई मगर मैंने ज्यादा अंदर तक उंगली को नहीं घुसाया. उसने मेरे लंड को मुँह में ले लिया और चूस चूस कर लंड का सारा पानी अपने मुँह से गटक गई.

फिर मुझे अपने सीने से लगा लिया और कहा- कसम से कहता हूँ, तुम्हारी जवानी देख कर ही तुमको चोदने का मन बना लिया था.

मेरे दुकान पर एक लड़की आई और उसने मुझसे पूछा- आपके पास काम मिलेगा क्या?तो मैंने उससे पूछा- आपने कहीं काम किया है पहले?वो बोली- हां किया है लेकिन वहां का माहौल कुछ ठीक नहीं है इसलिए उस काम को मैं छोड़ना चाहती हूं. अब तक की सेक्स कहानीभाभी को प्यार से चोदा-1में आपने पढ़ा कि एक नवविवाहित भाभी मुझे एक पार्टी में मिली. मैंने- उससे क्या होगा मेरी रंडी … सिर्फ लंड का पानी ही तो निकलेगा … लंड को चुत थोड़े ही मिल जाएगी.

वो बोला- अब कब आओगी?मैंने कहा- अब इतने मोटे लंड को छोड़ कर किसी और का लंड क्या काम करेगा. तो जैसे ही उसने मुझे देखा तो प्रीति ने मेरी आँखों में पढ़ लिया कि मुझे क्या चाहिए. मगर सच कहूँ, मुझे इस तरह अपने शौहर से फरेब करना बड़ा अजीब लग रहा है.

वो पजामा भी ज्यादा देर मेरे शरीर पर रह न सका क्योंकि जेठजी ने पजामे को खींच कर मेरे टांगों से अलग कर दिया. हो सकता है कि कहानी को लिखते समय मुझसे कुछ गलतियां हो जायें तो कृपया सबसे निवेदन है कि गलतियों पर ध्यान न दें.

और जब ऐसा करता तो सिल्क का बंदन कांप जाता- उफ्फ्फ आह अउ ईश आउच … उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआह्ह!वो मेरे सर के बालों को जोर से खींच लेती. परन्तु मेरा मानना है कि ये सब सेक्स में इंटरेस्ट के ऊपर निर्भर करता है और अपने आप ही सब होता चला जाता है और आपको पता भी नहीं चलता कि ये सब अपने आप ही हो रहा है. उसके बाद उसने अपने लंड में भी बहुत सारी क्रीम पोत ली और मेरी गांड पर लंड का सुपारा सैट कर दिया.

सपना ने मेरे सर को अपने हाथों से इतना दबा रखा था कि मुझको सांस तक नहीं आ रही थी.

आज जो कहानी मैं आप लोगों को बताने जा रहा हूं वह मेरे पहले प्यार और सेक्स की कहानी है. वैसे तो मैं ऐसा माल रखता ही नहीं, फिर भी कई बन्दों की बॉडी रिएक्शन कर जाती है. और मेरा लन्ड जैसे ही उसकी कसी चूत के अंदर गया, वो चिल्ला उठी- आराम से करो … अभी ताजी चूत है, ठीक से चुदी भी नहीं है.

यहां एक भूल हो गई, मैंने उसके दूध में नींद की गोली नहीं डाल सकी थी. सारा थूक मॉम के मुंह से गिरता हुआ उनकी मस्त मुलायम चूचियों पर गिर रहा था। यह चीज शर्मा अंकल भी देख रहे थे और फिर वो मॉम की गर्दन को अपनी जीभ से चाटते हुए मॉम की चूचियों पर पहुँच गए.

इसलिए उन्होंने दीदी की चुत को पूरी तरह से देखने के लिए दीदी के दोनों पैरों को फ़ैला दिया. अब आप सोच रहे होंगे कि मुझे ही भैया के घर पर क्यों रुकने के लिए कहा गया था?दरअसल मेरे भैया सुबह ही काम पर चले जाते थे और शाम को वापस आते थे. निधि बोली- जब आप गर्म होते हो, तो बहुत गालियां देते हो जी … और मेरे को बहुत मज़ा देते हो.

साड़ी वाली भोजपुरी बीएफ

मेरी कमर के चारों ओर अपनी बांहों का घेरा बना दिया और मेरे होंठ चूमने के लिये अपने होंठों को गोल कर लिया.

अधिकारी- नहीं सर कैसी बात करते हो … आप बस थोड़ा टाइम दो, सब हो जाएगा. अब इन बातों से ध्यान हटाकर मैंने केले को बिस्तर के नीचे बड़े सम्मान से एक कपड़े से ढक कर रख दिया, क्योंकि सुबह उसे सबकी नजरों से बचा कर फेंकना भी था. बस फिर क्या था … मैंने झट से उन्हें एड कर लिया, हमारी दोस्ती का सिलसिला आगे चल पड़ा.

वो बार-बार अपनी चूत को मेरे जांघिया में तने हुए मूसल पर रगड़ रही थी. उसके वीर्य की पिचकारी इतनी तेजी से अंदर जा रही थी कि मुझे अपनी गांड में उसका वीर्य गिरता हुआ अलग से ही महूसस हो रहा था. एक्स एक्स एक्स देसी आंटीफिर उन्होंने धीरे से अपना लंड मेरी चूत से निकाला और मेरे मुंह के सामने ले आए और मुझे चूसने के लिए कहा.

फिर मेरी फुदी पर अपना लंड गाड़ते हुए एक ही झटके में सारा लंड मेरी फुदी में घुसेड़ दिया. फिर 15 मिनट बाद मैंने वीर्य मैम की चूत में छोड़ दिया और वो लेटी रही.

अभी इस बारे में भी आश्वस्त नहीं था कि उनको गांड की चुदाई पसंद है भी या नहीं. मैंने अपनी दोनों बाहों का हार बना कर संदीप के गले में डाल दिया और उसका वरण कर लिया. उसने सलवार खोल दी और उसकी गोरी जांघें जैसे जैसे मेरी आंखों के सामने नंगी हो रही थीं वैसे वैसे ही मेरे अंदर की हवस का शैतान उसके जिस्म के लिए प्यासा होता जा रहा था.

मेरा लण्ड पूरे जोश में आ गया तो मैंने संगीता का टॉप उतारा और नीचे के कपड़े भी उतार दिये तो संगीता बोली- क्या कर रहे हो विजय ? दरवाजा खुला है और भाभी आ गई तो?नहीं आयेगी, अब नहीं आयेगी. मैंने अपनी जीभ निकाल कर उनके मुँह में डाल दी और वो किसी आइसक्रीम की तरह उसको चाटने, चूसने लगे. वो झड़ने लगी और उसके कुछ अन्तराल पर ही मेरे लंड से भी वीर्य निकल पड़ा.

पांच मिनट बाद मेरा छूटने वाला था … तो मैंने पूछा- कहां निकालूं? तुम्हारी चूत में या मुँह में?ये सुन कर वो जल्दी से अपनी चूत से लंड निकाल कर नीचे बैठ कर मेरा लंड चुसकने लगी.

और वो अपना लोवर पहन कर बोले- मैं आता हूँ जान एक ड्रिंक लगा के!मैं वैसे ही नंगी लेटी रही और मेरी आँख लग गई. उन्होंने मुझे घुमा कर मेरी पीठ अपनी तरफ करी और पीछे से मुझे अपनी आगोश में ले लिया.

वो दीदी के ऊपर ही ढेर हो गए और दीदी ने उनको अपनी बांहों में सुला लिया और अपनी टांगें अंकल की पीठ से कस ली थीं. फिर मैं उठी और बाथरूम जाकर साफ़ करके फिर से रूम में आकर ब्रा पैंटी पहन कर बैठ गई. मन तो मेरा भी यही चाहता था कि बाकी कामों के बारे में सोचना छोड़ कर इस पल का मज़ा लूं, पर फिर दिमाग में आया कि पूरी रात बाकी है और जेठजी को भी तो तड़पाना है … इसलिए मैं उन्हें अपने से अलग करते हुए बोली- ठीक है, आपको जो करना है बाद में करना … क्योंकि अभी मुझे बहुत काम करना बाकी है.

संजू ने करीब एक घंटे बाद मेरे मोबाईल पर कॉल किया और बोली- आज आपने आने में बड़ी देर कर दी … कहां रह गए?मैंने कहा- हां यार, जरा लेट हो गया था, लेकिन मैं अभी रास्ते में हूँ … बस घर ही आ रहा हूँ. कानपुर में शादी में मेरे और शिखा मामी के बीच क्या क्या हुआ, वो मैं आपको मिशन चुदाई के अगले भाग में जरूर बताऊंगा. श्वेता दीदी- तुम्हारी दीदी तो कुछ नहीं बोल रही … तुम बताओ … तुम क्या खाओगे?साकेत भैया- हां अर्णव.

इन हिंदी बीएफ मैंने काम बिगड़ते देख कर उसे समझाया कि देखो एक तो हम लोग सिर्फ इमेजिन कर रहे हैं … और फिर तुम भी तो अंर्तवासना में इस तरह की कई कहानी पढ़ चुकी हो. इसके बाद राकेश ने अपनी पैन्ट व अण्डरवियर उतार दिया और मेरे ऊपर चढ़ गया.

बीएफ सेक्स हिंदी बीएफ

ये सुनते ही मैंने अपनी स्पीड और बढ़ा दी, जिससे उसकी चूत से ‘फच … फच. उस दिन परमीत के भारी उरोजों के खुले दर्शन ने भी हमें इतना नहीं लुभाया था, जितना आज रिझा रहे थे. मेरे एक हाथ में मोबाइल था, पर एक हाथ को मैंने अपने ही जिस्म को सहलाने के लिए आजाद कर रखा था, साइज क्या था, बाल कितने थे, ये सब मां चुदाए, आप तो बस ये पूछो कि मन कहां था, ध्यान कहां था, बेचैनी कितनी थी, किसे महसूस किया.

वो बोली- हां बिल्कुल … पर जरा खुल के करो न!मैंने- मुझे अच्छा नहीं लगेगा मोनिका. और मेरे आगे वाला पीछे दबाव डाल डाल कर मेरे बूब्स को अपनी पीठ से रगड़ रहा था. फुल हद पोर्न वीडियोसहमने सभी ने कोल्ड कॉफ़ी पीने का मन बनाया और ऑर्डर करके कोल्ड कॉफ़ी पीने लगे.

राजन ने कहा- हाँ मुझे मालूम है … पर मैं मजबूर हूँ, अब मैं तुम्हें अपने से अलग नहीं कर सकता.

अब जीजा से भी रहा न गया और वो मेरी मोटी गांड को अपने हाथ से दबाने लगे. उधर अभय ने पीछे मेरी कमर को अपनी तरफ खींचा तो उसका लंड मेरी गांड में टकराने लगा.

दीदी के साथ आपका मन नहीं लगता है क्या?वो बोले- तुम्हारी दीदी में अब वो रस नहीं रहा रिया. नीतू भी अपनी गांड को मेरे मुँह पर दबाने लगी और अपनी चूत को मेरे होंठों पर ऊपर नीचे रगड़ने लगी. अब उसके हर धक्के के साथ मेरा बार-बार मुंह खुल जाता था क्योंकि मुझे दर्द हो रहा था.

उसे मैं किसी रंडी की तरह अपनी चूत और गांड की साइज पूरी तरह से दिखाने लगी.

अपने एक हाथ से उनके बोबे को, तो दूसरे हाथ से उनकी चुत को मसलने लगा. उस दिन परेशानी में ठीक से देखा नहीं होगा मैंने!‘सिल्क’ यह उसका नाम नहीं है पर मैं उसको इस कहानी में सिल्क ही बुलाऊंगा. मेरे नंगे होते ही आंटी ने पहले तो मेरी छाती पर अपनी प्यारी प्यारी उंगलियों को फिराते हुए हाथ फेरा.

ब्लू फिल्म हिंदी हिंदी मेंउसके बाद उसने मुझे बेड पर लिटा दिया और मेरे पूरे बदन को किस करने लगा. ये कहते हुए उन्होंने एक वी-नेक की टी-शर्ट और एक शॉर्ट स्कर्ट पहनने को दिया.

वीडियो बीएफ हिंदी एचडी

उसी के रस को उंगलियों में भिगो कर मैं उसकी योनि के चारों तरफ फैला रहा था. ताज़ी वैक्सिंग होने के कारण, एकदम रुई की तरह मुलायम त्वचा को चाटते हुए ऊपर बढ़ता गया. सचिन मेरी टांगों के बीच आया और मेरी दोनों टांगें अपने कंधों पे उठा ली और चूत में लंड डाल के घपाघप ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा।मेरी आँखें बंद थी और मैं बस अपने होंठ को दाँतो से दबाये ‘सी … सी … आई … आई … आहह … अहह … ‘ करते हुए बेड में ऊपर नीचे होते हुए चुदवा रही थी। मेरी चूत मुझे हर झटके के साथ आनन्द से भर रही थी.

तभी मुझे एक आईडिया आया कि क्यों न किसी कॉलब्वॉय को बुलाकर आदी को उससे चुदवा दूँ. मैं जीजा जी से उन दोनों के द्वारा दिए काम की वजह से थक गए थे और इसका बदला लेने के लिए आज की रात उन दोनों लड़कियों की जबरदस्त चुदाई को लेकर जीजा जी से बात कर रहा था. अब तो उसका हौंसला बढ़ गया था और उसने मेरी फुदी पर अपनी उंगली को रगड़ना शुरू कर दिया.

थोड़ी देर बाद मैंने जानबूझ कर अपनी कोहनी उसके मम्मों पर दबाई, तो उसने कुछ नहीं बोला … बल्कि चुपचाप मुझसे सटी हुई बैठी रही. इसके बाद उसने मुझे बेड पर लिटा दिया और मेरे दोनों पैर अपने कंधे पर रख लिए. आलिया को दर्द हो रहा था, वो ना चाहते हुए भी अपने भाई से चुद रही थी.

पहले सारी जवानी अपने घर में रिलेटिव से, या ब्वॉयफ्रेंड से चुसवा लेती हैं, तब ही शादी करती हैं … देख नहीं रहे हो तेरी बहन 30 की हो गयी है, कोई टेंशन ही नहीं है. उनको भी अपनी चूत पर एक जवान लड़की की चूत के घर्षण में बहुत मजा आ रहा था.

तब तक वो दो बार झड़ चुकी थी।मैंने कहा- कहाँ निकलना है?उसने कहा- अपनी बीवी से कोई पूछता है कि कहाँ निकाले? अब अपने बच्चे की माँ नहीं बनाएगा क्या?वो ऐसे बोली तो मैं उसके बोलते बोलते झड़ गया … मेरा सारा माल उसकी प्यासी चूत के अंदर ही निकल गया.

मैंने उसकी चूचियों को जोर से अपने हाथों से दबाया और उसकी चूचियों को पीते हुए उनका रस निचोड़ने लगा. वीडियो में बीएफ चाहिएमेरे आते ही उन्होंने मुझे देखा और कहा- सुरेश मैंने तुम्हें जो नाम दिए थे, क्या क्या हुआ उनका?मैं- मालकिन, हर एक पास गया पर …मालकिन- अरे थोड़ी बहुत भी वसूली नहीं की, या कुछ उखाड़ कर भी लाया है?मैं ना में गर्दन हिला दी. बीएफ चुदाई दिखाओउसके बाद उन्होंने सही निशाना लगा कर मेरी चूत में एकदम से लंड को घुसा दिया. अचानक ही कामविहिल वसुंधरा ने अपनी दोनों जांघों को थोड़ा और खोल दिया और वो कुर्सी पर अपने नितम्ब थोड़ा और आगे की ओर खिसका कर, नाईटी के ऊपर से ही, अपने दोनों हाथों से मेरा सर अपनी दोनों जांघों के ठीक बीच में जोर-जोर से दबाने लगी.

मैं अपने लिए पार्ट टाइम जॉब की ढूंढ रहा था और किस्मत से भाभी के मामा के गांव के पास एक फैक्ट्री में मुझे सुपरवाइजर की नौकरी मिल गई.

फिर मुझे चूमते हुए सोफे पर ठीक उसी तरफ लिटा दिया, जैसे थोड़ी देर पहले वो लेट कर अपना लंड चुसवा रहे थे और खुद ठीक मेरी तरह ही मेरी दोनों टांगों के बीच बैठ गए. मैं चाची के बड़े बड़े मम्मों को मुँह से चूसने को हुआ, तो उनके हल्के भूरे रंग के कड़क निप्पल मेरे सामने थे. कुछ दिन मैंने उसे नहीं छेड़ा यह सोच कर कि अभी इसे यहाँ रमने देता हूँ.

सच में क्या मस्त चीज थी वो … आज भी उसकी याद आते ही लंड खड़ा हो जाता है. इसके बाद मैंने सिल्क की जाँघों को पकड़ कर ऊपर कर फैला दिया मेरे सूखते होंठों को जाँघों के जोड़ से चिपका दिया और उसकी चूत को चूमने लगा, चाटने लगा. बस इस घटना के बाद से मुझे राकेश पर शक होने लगा कि यह आदमी ठीक नहीं है.

चूत चोदते हुए बीएफ

मुझे अपनेआप पर एक ग़रूर सा हो आया और बेसाख्ता ही मेरे होंठों पर मुस्कान आ गयी. यह सब देख कर मेरे मन में उठी जिज्ञासा की लहर मुझे मॉम के कमरे की तरफ धकेलते हुए ले जा रही थी. सर अपने लन्ड को पूरा बाहर निकाल लेते और फिर पूरा लन्ड एक झटके में ही मेरी चूत में डाल देते.

फिर वो मूत कर आई और पैंटी डालते हुए बोली- घर कितने बजे जाना है?उसने अभी निक्कर नहीं डाली थी.

वैसे तो हम दोनों में काफी खुले तौर पर बात हो रही थी लेकिन अभी तक इतने भी नहीं खुले थे कि बात सेक्स तक पहुंच जाये.

तो उसने और तेज तेज धक्के लगाने शुरू कर दिए जिससे मुझे और दर्द होने लगा और मैं चिल्लाने लगी. मैंने उसकी चूचियों को जोर से अपने हाथों से दबाया और उसकी चूचियों को पीते हुए उनका रस निचोड़ने लगा. बीएफ हिंदी पिक्चर वीडियो मेंमुझे शुरू शुरू में तो कुछ अजीब सा लगा, पर बाद में मुझे उसके हाथों का स्पर्श अच्छा लगने लगा.

उसने इतना काम करने के पांच हजार रुपये मांगे और मेरे कहने पर चार हजार में राजी हो गई. कुछ देर बाद उसने बोला- मैं जरा घर होक़र आती हूँ … तब हम लोग फिर से काम करना शुरू करेंगे. मैंने उसको अपनी बलिष्ठ बाँहों में बीच लिया की सिल्क की आह्हः अह्ह्ह निकल गई.

मैं चाह रही थी कि आज मेरी चूत से लंड के घर्षण से उत्पन्न मादकता में मेरी चूत का पानी छूट जाये. ये तुम्हारे लिए ही तने हैं … आह चूस लो इनको … सारा रस निचोड़ लो इनका.

वो कमरे के अन्दर आ गया था और बहुत मिन्नतें करना लगा कि आज उसका आखिरी दिन है.

मैं भी आ गया और न्यू मुंबई एरिया में 1 रूम सेट किराये पे लेकर रहने लगा. कुछ दस मिनट तक दीदी को चोदने के बाद साकेत भैया अचानक जोर जोर से धक्का मारने लगे. यही सब कहते-कहते मैंने उसके मुँह से अपना मुँह लगा दिया और संदीप ने भी बिना कुछ कहे मौन स्वीकृति देते हुए मेरा साथ देना शुरू कर दिया.

ಬಿಎಫ್ ಆಂಟಿ जेठजी अपने लंड पर और मेरी चूत पर थूक लगाया और एक ही झटके में पूरा लंड पेल दिया. पापा के बेडरूम में एक छेद है जो विण्डो एसी की साइड में है, वहां से पूरे बेडरूम का एक एक कोना दिखता है.

मगर अब उसने गियर बदलने के बाद भी अपना हाथ गियर से नहीं उठाया और मेरी फुदी के साथ ही लगाए रखा. मैंने पास पड़े तौलिये से मुँह साफ किया और बाथरूम में जाकर मुँह धोकर आ गया. फिर मैं नीचे बैठ गया और पायल को उठा कर अपनी गोद में अपनी जांघों पर बैठा लिया.

सनी लियोन एचडी बीएफ वीडियो

मैंने तेल की शीशी से तेल अपनी हथेली पर लिया और उसकी गोरी जांघों की मालिश करना शुरू कर दिया. इसलिए तू मेरी चिंता छोड़ … और यहां से जल्दी चल, वहां इसी बेसब्री से तेरा इंतजार भी हो रहा होगा. मुझे चूत चटवाना बहुत अच्छा लगता है तो मैंने अपनी दोनों नंगी टांगें उसकी कमर पर रख ली और वह अंदर तक मेरी चूत को चूसने लगा.

चाची मुझसे व्हाट्सएप पर बातें किया करती थीं, तो कभी कभी वो मेरे सामने रो दिया कर दी थीं. प्रीति को धीरे धीरे मजा आने लगा, प्रीति कहने लगी- ओ संजय, मेरे संजय … अपनी प्रीति की आग को बुझा दो! चोद कर मुझे तृप्त कर दो मेरे संजय!मैंने उसकी चूत को चोदना चालू रखा.

उसने एक हाथ से लंड पकड़ कर चूत में डालने की कोशिश की, पर इस आसन में चूत का द्वार आसानी से नहीं मिलता, जिस वजह से लंड चूत में घुसने की बजाय छिटक गया.

मैंने यंत्रचालित तरीके से हाथ बढ़ा कर कागज़ ले लिए और गर्म कॉफ़ी के सिप लेते हुए उन का अवलोकन करने लगा. जब उसने जीन्स को निकाला तो मेरे लंड ने मेरे अंडरवियर में चिपचिपा पदार्थ छोड़ना शुरू कर दिया था. पूरी रात ट्रेन में खड़े रहकर सफर करने से पैर दुख रहे थे, तो हम बेंच पर बैठ गए.

दोपहर को जब मैं खाना खाकर बैठा हुआ था, तब चाची मेरे पास आईं और मेरे पास बैठ गईं. मैं इशारा समझ गई थी, मैंने भी दीदी की गीली चूत मुँह लगा दिया और अपने ही अंदाज में उनकी चूत चाटना शुरू कर दिया. ये सेक्स कहानी मेरे तीसरे यार की है जो शादी से पहले मुझे मस्त चोदता था.

हम दोनों उसके साथ चुदाई का मजा कभी उसके घर पर ले लेते थे, कभी वो मेरे घर पर ही मुझे पेल देता था, या फिर कभी हम दोनों अलग अलग होटलों में चुदाई का खेल खेलते थे.

इन हिंदी बीएफ: वो मेरे इस हमले हड़बड़ा गईं और जोर जोर से ‘आहह … ओह्ह!’ की आवाज़ें करने लगीं. तभी मुझे किसी गाड़ी की आवाज़ आई, तो मैं अलग हो गई और उसे एक स्माइल दे दी.

इतना सोचने का क्या लाभ था!कमरे में आकर दीदी ने अतिरिक्त कपड़े उतार देने को कहा. उसने मेरे लंड की पहाड़ी फूलते हुए देखी और मुस्कुराते हुए अन्दर आने को कहा. मैं- करना कुछ नहीं है, बस सीधे थन से दूध पीना है, मगर तुम हो कि सुनती ही नहीं हो.

जब तक हमारा मिलना नहीं हुआ, तब तक हम दोनों वीडियो कॉल करके एक दूसरे से खुल कर सेक्स की बात करने लगे थे.

मेरी अकड़न तेज होते देख कर दीदी झटपट उठ बैठीं … और नीचे जाकर मेरे दोनों पैरों को मोड़ कर मेरे सर की ओर उठा दिया, जिससे मेरी चूत उनके सम्मुख और स्पष्ट बाधा रहित पहुंच गई. तभी डोली ने तेज झटके देने शुरू कर दिए और मेरी कमर को जोर से जकड़ कर शांत हो गयी. दरअसल आज यहां आते वक्त ही मनु ने साफ कह दिया था कि अगर जरा भी मौका मिले, तो संदीप के करीब आने से मत चूकना … और यहां तो मौका ही मौका था.