ससुर बहू की चुदाई बीएफ

छवि स्रोत,मोटी मोटी औरतों की सेक्सी फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

देहाती चुदाई बीएफ सेक्सी: ससुर बहू की चुदाई बीएफ, उसे महसूस हुआ कि मेरा लंड और तनता जा रहा है साथ ही और लंबा भी हो रहा था.

चलती बस में सेक्सी मूवी

मैंने 12 बजे के करीब जाकर नताशा को टहोका और उसके लिए चाय का गर्मागर्म प्याला मंगवाकर प्यार भरे चुम्बन के साथ उसे जगाया. 14 वाली सेक्सी पिक्चरमैं जानता हूँ कि तुम भी मेरा लंड लेने के लिए तड़प रही हो।यह बोलते ही उसने मेरी नाभि पर और मेरे पूरे शरीर पर किस करना शुरू कर दिया। मैं पागल होने लगी.

‘ओफ्फ फ्फ्फ…’ क्या फीलिंग थी… ऐसी चुसाई मेरे जीवन में कभी नहीं हुई. सेक्सी चुदाई कुंवारी लड़कीबस मुझ जैसे कमीने को तो इशारा मिल गया कि गुरु कोशिश करो तो बात शायद बन जाए।मैंने वहीं खड़े-खड़े सिगरेट पीना शुरू कर दिया। अब वो लड़की बार-बार मुझे देख रही थी.

मैं घुटनों के बल बैठ कर उसके पैर दबाने लगा। उसी बीच उसने मुझसे ड्रिंक माँगा और मैंने उसको वियाग्रा वाला ड्रिंक दे दिया।बस 5 मिनट बाद ही वो गरम होने लगी। उसने मुझे जाँघों तक दबाने के लिए कहा.ससुर बहू की चुदाई बीएफ: मैंने ध्यान से देखा तो तो वो मेरी मौसेरी बहन स्वीटी थी, मैंने इसे सामान्य समझ कर कि भाई बहन में इतना प्यार तो आम बात है.

बातों में आंटी सेक्स की बातें करती थीं और वो भी तब, जब उन्हें मालूम रहता था कि मैं सामने खड़ा हूँ।पहले तो मुझे उन्हें चोदने का ख्याल नहीं आया.मेरी उंगलियों के अन्दर घुसने का मेरी गुड़िया को पता भी नहीं चला, क्योंकि उसकी प्यासी चूत में इस समय तेल लगा खूंटा लंड पूरे आवेग से चुदाई कर रहा था.

हिंदी में सेक्सी वीडियो चलाओ - ससुर बहू की चुदाई बीएफ

मैंने उसे सोफे पर लिटा दिया और उनकी कमर तक आ गया। फिर दीदी ने अपनी चुची को दोनों हाथों से दबाकर दोनों को भींच दिया। मैंने उनके बीच में से अपने लंड के लिए जगह बनाई और मम्मों के बीच में लंड डाल कर अन्दर-बाहर किया।पहले तो दीदी को मजा नहीं आया, पर बाद में जब उनके निप्पल धीरे-धीरे कड़क हो गए और मैं भी ज़ोर-ज़ोर से मम्मों को चोदने लगा तो उन्हें मजा आने लगा।मैं भी उनकी चुची को और जोर से दबाने लगा.पर मैं आगे बढ़ना नहीं चाहता था… बहुत छोटी थी वो!और मेरे दोस्त की बेटी थी थी.

’उसकी मादक सीत्कारें सुनकर मैं और मस्ती से चूत को कुरेदने में लगा रहा। फिर मैंने उसकी पैंटी फाड़ दी और अपना मुँह उसकी चुत पर रख दिया और उसको अन्दर से चाटने लगा।मेरे ऐसा करने पर वो तड़प उठी और बोली- यार मैं मर जाऊँगी प्लीज़ अब चोद दे प्लीज़ यार आह. ससुर बहू की चुदाई बीएफ अन्तर्वासना पर हिंदी सेक्स स्टोरीज पढ़ने वाले मेरे प्यारे दोस्तो, आप सबको दीपक का नमस्कार। मैं अन्तर्वासना की हर सेक्स स्टोरी को बड़े चाव से पढ़ता हूँ। हिंदी सेक्स स्टोरी की इस विशाल साईट से लगभग 3 सालों से जुड़ा हुआ हूँ।पहले बहुत दिनों तक अपनी बात लिखने से हिचकता रहा.

जिसके साथ शादी करोगे, वो बहुत लकी होगी।मैंने कहता कि तुमसे ही करूँगा.

ससुर बहू की चुदाई बीएफ?

मगर मजबूरी मेरी थी तो जाना ही था मैं थका था तो नहा धो कर पहले फ्रेश हुआ और शाम 7 बजे सीमा के फ्लैट पर पहुँचा. तो मेरे अन्दर ही झड़ना।इतना कहते ही हम दोनों साथ में झड़ गए और मैं उसके ऊपर लेट गया और उसे किस करते हुए बोला- भाभी, आप बहुत नमकीन हो।भाभी बोली- आप भी बहुत तीखे हो।हम दोनों हंसने लगे।उस दिन मैंने चार बार भाभी की चुदाई की. ’मैंने पूछ- क्या किया तूने?उसने कहा- तू क्यों चिल्लाया? मेरा तो पहली बार है थोड़ा दर्द तो होगा ना!‘और मेरा चमड़ा छिल गया…’मेरा लंड खुल गया था, टोपी बाहर… फिर लंड सेट किया, फिर एक धक्का… दर्द कम हुआ और फिर धीरे-2 मैं हिल रहा था, उसे मजा आ रहा था, मेरा लंड जरा सा अन्दर था, मुझे कन्ट्रोल नहीं हुआ मैंने एक और झटका मारा, फिर वो चिल्लाई, उसके आँसू निकलने लगे.

एक बार को मुझे इसा लगा मानो वंदु बस इतना ही सुख देगी मुख-मैथुन का… और यह सोच कर मैंने उसके सर से अपना दबाव कम कर दिया. मुखचोदन करते हुए मुझे रह-2 कर यह बात उत्तेजित कर रही थी कि मेरी पत्नी के सबसे छोटे छेद में सबसे बड़ा लंड, और सबसे बड़े छेद में सबसे छोटा लंड चुदाई कर रहा था!नताशा की गांड मारता अनातोली भी पूरा मस्त हो चुका था, वो रह-2 कर अपने लंड को अपनी रूसी बहन की चौड़ी हो चुकी गांड से पूरा बाहर निकाल कर गांड को हाथों से चौड़ा कर देता था और साथ-साथ मस्ती भरी आवाज में चीखने भी लगता था- ओह. ‘गुरु जी, जिस चीज़ का मैंने अभी चुम्बन लिया है, वो सांप नहीं है न?’‘ह्म्म्म आखिर तुम जान ही गई तो तुम ही बताओ ये क्या है?’‘गुरूजी, ये आपका लिंग है.

‘ओह गॉड! तो उसको पीछे से चोदना था इसलिए मुझे ऐसा खड़ा किया है!’उसने पीछे से एक जोर का धक्का दिया, वैसे मैं दर्द से चिल्ला उठी- आऽऽऽह…मैं अपना पूरा मुँह खोल कर चिल्लाई पर उस पर कोई असर नहीं हुआ. ‘आअह्ह आह्ह्हह अह्ह्ह हहह हहह उफ्फ फ्फ्फ…’ मैंने सोचा कि शायद वो पीना चाहती है. मौसी काम करने के बाद थक गई थी वो खाना खाकर आराम करने के लिए लेट गई.

फिर शादी वाले फोल्डर में एक फोल्डर और दिखा जिसमें ‘सीक्रेट हनीमून’ लिखा था।मैं वैसे ही बहनोई की बहन की फोटो देखकर उत्तेजित हो गया था. मुझे फ्रेश होने जाना है।मैंने कहा- ठीक है बाथरूम उस तरफ है।वो जाने लगा.

मेरा लंड तो पूरा बेक़रार हो चुका थाअंजलि के होंठ पीते पीते दोनों गर्म हो गए.

इसलिए वो उसको नहीं चोदता है।अब आंटी की चुत की खुजली को मैं मिटाता हूँ। आज भी वो मुझसे चुदती हैं मैं उनके घर जाकर आती की चुत में शॉट मारके आता हूँ और वो मुझे पैसा भी देती हैं।आपको मेरी ये सेक्स स्टोरी कैसी लगी.

!’‘हाँ मेरी बहनचोद बहन मैं भी तुझे चोरी छिपे आँखों से चोद-चोद कर थक गया हूँ। मुझे अपना पति बना ले मेरी रानी. मौसी के मुंह से चिल्लाने की आवाज़ आई- आआईई ईई म उम्म्ह… अहह… हय… याह… ईईओ!मैंने मौसी के चुचे मसलना शुरू किया और कुछ देर बाद मौसी नॉर्मल हो गई. मैंने अपनी जीभ से जैसे ही दाने को हल्का सा रगड़ा, वो बोली- ध्यान से… बहुत अच्छा लग रहा है.

उसने अपनी टाँगें मेरी कमर पर टाइट कर दीं, जिससे मुझे पता चल गया कि वो झड़ने वाली है। ये समझते ही मैं कभी अपनी स्पीड तेज़ करता. [emailprotected]गर्लफ्रेंड और उस की सहेली के साथ थ्रीसम चुदाई की सेक्सी कहानी. मैंने भी उनकी लुंगी खोल दी, आहहह उनका 6 इंच का लंड मुझे सलामी दे रहा था, काफी मस्ती भरती जा रही थी मुझमें ‘उम्म महह मम्म…’ उनका हाथ मेरी चुत जैसे ही छुआ.

इस दौरान हम दोनों ने ही अपना कौमार्य खोया था।आपके मेल का वेट करूँगा।[emailprotected].

कुछ देर ऐसा चलता रहा।फिर मैं उसकी गोद में सिर रख कर लेट गया। वो मेरे बालों में हाथ फेरने लगी। मैंने उसके टॉप को थोड़ा ऊपर किया और अब मेरे सामने उसका नंगा पेट था. एक दो दिन अमन आकर उसको रगड़ देता था और एक दो दिन तो वो और संगीता डिलडो से मौज ले ही लेती थीं।बस अब तो मोनिका को यह तय करना होता था कि आज चूत में कौन जायेगा।तो बताइए कैसी लगी सेक्सी कहानी… अगर आपको भी कहीं कोई फकिंग चूतिया या मोनिका जैसे किरदार मिलें तो मुझे भी मिलवाइएगा।[emailprotected]सनी वर्मा की सभी कहानियाँ. मुझे याद आया कि अन्तर्वासना पर कुछऑडियो स्टोरीज भी हैं डेल्ही सेक्स चैट वाली लड़कियों की.

मुझे भी अच्छा लगा क्योंकि मैं भी उसे पसंद करने लगा था… गांडू हूँ तो क्या हुआ दिल तो मेरा भी धड़कता है… यह भी चाहता है कि कोई मुझे पसंद करे!मैं ना चाहते हुए भी उस खेत की तरफ बढ़ने लगा… वो रोज की तरह पसीने से लथ-पथ था और मेरे पैरों की आहट सुनते ही हाथ में दराती लिए मेरी तरफ घूमा और खड़ा हो गया. और उन्होंने कहा- हाँ तुझे सिगरेट पीनी होगी।मैं चुपचाप बैठ गया और वो हंसकर बोलीं- तो यहीं पी ले ना. सन्तुष्ट थे… लेटते ही आँख लग गई।पूरा मजा देने वाली चुदाई की यह कहानी आपको कैसी लगी, मुझे इमेल करें![emailprotected].

अब बात आती है मेरी इस कहानी कीयह कहानी किशोर और एक 21 साल की नवयौवना के बीच की है जो अंत में आपस में सेक्स करते हैं, वो कुंवारी थी, एक आकर्षक व्यक्तित्व की मालकिन थी, नाम था अंजलि-अंजलि मेरे से एक फ्लैट छोड़ कर रहती है, साथ में उसके माता पिता हैं जो किसी विदेशी कंपनी में काम करते हैं, ज्यादातर दिन में बाहर ही रहते हैं, वो दिन भर घर में अकेली रहती है.

मेरा फिर पानी निकल गया।मैंने सारा माल एक कटोरी में डाल कर कटोरी किचन में रख दी। मामी ने मुझे नाश्ता दिया और मेरे सामने उस कटोरी में जमा मेरे लंड की मलाई को चाट कर खाने लगीं।दोपहर को मैं अपने कमरे में मुठ मारते-मारते बोल रहा था- अह. मुदस्सर, वो कितनी सुन्दर सेक्सी और प्यार करने वाली है। मैं उसको अक्सर मिलती हूँ। लेकिन मनीष ऐसे नहीं राज़ी होता है तुमने उसको बदले में क्या दिया था?’‘अरे यार, वह मेरी बड़ी बहन परवीन बाजी की चुदाई करता था.

ससुर बहू की चुदाई बीएफ भाभी की चूत इतनी गीली थी कि फ़ौरन मेरा लंड जड़ तक भाभी की चूत में घुस गया. और उसकी जीन्स को उतारने की कोशिश करने लगी।तब तक उसके हाथ मेरे मम्मों पर आ चुके थे, वो बड़ी बेरहमी से मेरे चूचों को मसले जा रहा था।मैंने भी अब तक जीन्स खोल दी.

ससुर बहू की चुदाई बीएफ ‘कितने बड़े हैं… और देखो तो गोल तो ऐसे हैं जैसे भगवान ने इन्हें परकार से नाप लेकर बनाया हो!’ वो खुद से बड़बड़ाया. मेरे मन में कई ख्याल उमड़े, फिर कुछ समझ आया कि वंदना मुझे कितना भी प्यार करती है… कितनी भी समर्पित है… लेकिन है तो यह एक नारी ही ना!!और नारी सुलभ लज्जा का प्रदर्शन तो स्वाभाविक ही था!ख़ैर, यह विचार आते ही मैंने मुस्कुराते हुए वंदु को अपने बाहों में पूरी तरह से क़ैद कर लिया और एक झटके में उसे बिस्तर पे पलट कर अपने नीचे कर दिया.

तब पता चला कि हम दोनों ऐसे ही नंगे बिना बेडरूम के दरवाजे खोले सो गए थे। दीदी को आना था इसका हम दोनों को ख्याल ही नहीं रहा। खैर हमने दरवाजा लॉक क्यों किया था, इसका जवाब प्रतीक्षा को देना पड़ा।यह थी मेरी अपनी भांजी के साथ चुदाई की कहानी.

सेक्सी ब्लू फिल्म चुदाई फिल्म

यूँ तो पूरा सुपारा ही संवेदनशील होता है लेकिन वो छोटा सा कटा हुआ हिस्सा जिसके रास्ते इस सृष्टि के सृजन का बीज निकलता है वो कुछ ज़्यादा ही उत्तेजित करने वाला होता है. वो बात नहीं है देव, आपका लंड काफी बड़ा है, इससे मुझे दर्द हो रहा है।मैंने मामी से कहा- आप लंड को मुँह में लेकर चूसो ताकि ये गीला हो जाए. उसने अंदर रखे हुए ग्लास को देखा तो कहने लगी- आप अकेले ही?तो मैंने कहा- और कोई तो है नहीं!तो वो एकदम बोल पड़ी- हम तो हैं.

मैंने उसको बोला- मजा आया?आंटी बोली- इतने मस्त सेक्स के लिए मैं कब के तड़प रही थी!उसके बाद मैंने उसकी फिर से चुदाई की इस बार मैंने उसकी गांड भी मारी. तब उनके मोटे लंड का आंवला सरीखा सुपारा चूत की फांकों को चीरता हुआ अन्दर को चला गया।अब वो मुझे चोदते हुए और मेरे दूध मसकते हुए कहने लगे- बहू बहुत मजा आ रहा है. अन्दर कुछ नहीं पहना हुआ था।मैंने उसे नंगी कर दिया और उसके दूध पकड़े और निप्पलों को अपने होंठों में दबा कर उसे प्यार करने लगा। वो गर्म होने लगी.

ऐसे ही दिन बीतते गए और समय निकलने लगा।एक रात मंझली मेरे कमरे से रात को चुदाई करा कर जा रही थी कि सबसे बड़ी बहन ने उसे मेरे कमरे से निकल कर जाते देखा, उसने अपनी माँ को बता दिया.

दूसरे हाथ से मैंने उसकी ट्रैक पेंट नीचे कर दी और पेंटी के ऊपर से ही चूत सहलाने लगा. मुझे अभी भी शर्म आ रही थी इसलिए मैंने अपना मुँह तकिये के नीचे दबाया हुआ था. मैं उसे चूसूँगी।अब अजीत ने अपने लंड को सुनीता की चुत पर रख कर जोर का धक्का दिया.

शाहीन हमारे पड़ोस में रहने वाली एक लड़की है मेरी हमउम्र… उनके परिवार के साथ हमारे परिवार के काफी मधुर सम्बन्ध हैं तो शाहीन गाहे बगाहे हमारे घर में आती जाती रहती है परिवार के एक सदस्य की भान्ति. शाम को श्रेया के घर गया तो उसके मम्मी पापा को कहीं जाना था तो मुझे 2-3 घंटे उसके साथ रहने को कह कर चले गये. कुछ देर बाद मैंने फिर से पानी छोड़ दिया, मुझे यकीन नहीं हुआ कि मैंने दूसरी बार ऑर्गैस्म का एक्सपीरियेन्स किया इतने छोटे टाइम में!यह मेरे साथ कभी कभार ही होता था और वो भी सेक्स के बाद जब लड़का मेरे साथ और कुछ करता… तब! लेकिन इसने तो करने से पहले ही मुझे पूरा गीला कर दिया.

मैंने तुरन्त अपना लंड पेंट के अन्दर किया और उसके सामने आकर खड़ा हो गया।उसने मुझसे कुछ नहीं कहा. अब मैं भी लास्ट स्टेज पर पहुँच गया था, मैं बोला- चाची मेरा पानी छूटने वाला है.

हम दोनों के मुँह से सी…सी… उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह… की आवाजें निकल रही थी. माँ अपने रूम में सोने चली गई तो उन्होंने कैमरा देखा और उसे उठा कर देखने लगी तो उसमें माँ और उनके यार का वो वीडियो चल गया. प्रिय दोस्तो, आपने मेरी कहानीमेरी बहन है सनी लियोनी से भी ज्यादा सेक्सी चुदक्कड़-1के पहले भाग में पढ़ा कि कैसे मैंने अपनी बहन भूमिका की सील तोड़ी। अब कहानी उसके आगे की पेश कर रहा हूँ।भूमिका की सील तोड़ने के बाद अब हमारी हवस और भी बढ़ गई थी, जब भी मौका मिले, हम एक दूसरे से चिपक जाते थे। डर भी लगता था कि कोई देख ना ले!कभी मैं भूमिका का गाउन उठाकर उसकी चूत चाटने लगता था.

इस जोश के कारण मैं जल्दी ही झड़ गया और उसकी गांड से मेरा पानी खून के साथ टपकने लगा।हम दोनों थक कर बेड पर ही गिर गए और थकान के कारण वहीं सो गए।सुबह उसे चला भी नहीं जा रहा था और वो मुझसे कहने लगी- देख लिया.

फिर मैंने शॉवर बंद किया और आंटी को गोद में उठाया तो चिल्लाने लगीं- अरे मैं गिर जाउंगी. मैंने कल्पना के मुंह में अपने हाथ की उंगलियां डाल दी और वो चूसने लगी और शरीर में एक लहर के साथ ही मैं उसकी जांघों पर स्खलित हो गया. आंटी सेक्स की यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!थोड़ी देर बाद आंटी को मैंने घोड़ी बनने बोला, वो बन गई, मैं फिर आंटी की चूत मारने लगा.

फिर वे दोनों छत पर चले गये और दारू पीने लगे!मैंने खाना लगा दिया था, दीपक खाना खाते वक्त नशे में मुझे ही घूरे जा रहा था, मुझे थोड़ा अजीब सा लगा. इस नई कहानी के माध्यम से हम हमारे हनीमून की चुदाई भरी दास्तान पेश कर रहे हैं.

और चाची काफ़ी परेशान दिख रही हैं। कोई न कोई बात ज़रूर है, पर वो मुझसे बता नहीं पा रही हैं।मैंने खिड़की से झाँक कर देखा तो वो अपने कपड़े उतार कर केवल ब्रा और पेटीकोट में थीं।पहले तो मैंने सोचा कि ये देखना ग़लत है. पर हग करते करते मैंने फिर से उन्हें किस किया लेकिन इस बार उन्होंने मुझे आगे होकर लिप किस किया. फिर उसने मेरे लंड के सुपारे के ऊपर थोड़ा सा किस किया। शायद उसे लंड की महक अच्छी लगी। फिर वो लंड को मुँह में ले कर चूसने लगी।मैं भी जोश में आ गया और उसकी चुत में हाथ फेरने लगा। उसकी चुत पर एक भी बाल नहीं थे। क्या मस्त फूली हुई गुलाबी-गुलाबी चुत थी।मेरे चुत पर हाथ फेरने से वो सिसकारियाँ भरने लगी। मैंने उसकी चुत को चाटना चालू किया.

चूत की चुदाई सेक्सी वीडियो चूत की चुदाई

कुछ देर बाद कहने लगी-अब जाओ ना!मैंने जकड़ के रखा उसे!कहती- तुमने बॉडी अच्छी बनाई तो इसका मतलब गर्लफ्रेंड को तंग करोगे?मैंने कहा- तेरे लिए ही है यह बॉडी!फिर उसे अपने बदन से चिपका के मैंने लंड पेल दिया उसकी चूत में.

मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूं और यहाँ बहुत सी कहानियां पढ़ी हैं, कुछ सच्ची लगी और कुछ एकदम काल्पनिक हैं. कुछ दिन बाद मैं जयपुर आया, मैंने अपने बाद रूम में एक नाइट विज़न कैमरा फिट करवाया जो किसी को आसानी से दिखाई ना दे, यह बात सिर्फ मुझे पता थी. गुरूजी के हाथ अब रमा के घुटनों के ऊपर आ चुके थे और रमा की सुडौल जांघों की मालिश कर रहे थे.

तो कभी उसकी एक टाँग अपने कंधे पर रख कर चुत पेलता, उसको मम्मों को और होंठों को बारी-बारी से चूसता हुआ उसको चोदता।उसको भी मजा आ रहा था।करीब दस मिनट बाद वो अकड़ गई और झड़ गई. दोस्तो मेरा नाम प्रिंस है, मैं बिहार, बेगूसराय जिला के एक छोटे गाँव में रहता हूँ। मेरा उम्र 20 साल है। मैं अभी बी ए के पहले साल की पढ़ाई कर रहा हूँ।यह बात उस समय का है जब मैं बारहवीं में पढ़ता था।जब सर सभी स्टूडेंट्स को पढ़ा रहे थे तो मैं भी पढ़ रहा था। सर निषेचन के बारे में बता रहे थे तो मैंने खड़ा होकर सर से पूछा- सर, निषेचन क्या होता है?तो सारे स्टूडेंट्स हँसने लगे. देवर भाभी की सेक्सी फिल्में हिंदी में’ कहने लगी।मैंने उसे बिस्तर पर लिटाया और लंड को उसकी चुत पर रगड़ने लगा.

फिर मैं दूसरे चूचे को चूसने लगा और दो उंगलियां उनकी चूत में डाल कर फिर से फिंगरिंग करने लगा। इससे आंटी सेक्स से थोड़ी अकड़ने लगीं। मुझे पता चल गया था कि बस अभी आंटी अपना माल छोड़ने वाली हैं. यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!‘रमा क्या बताऊँ तुझे, कल तो एक पल के लिए मेरी सांसें ही रुक गईं थी.

200 किमी/घंटा की रफ़्तार से नताशा भाभी की नाजुक गांड में राजू का लंड रेल इंजन के पिस्टन की भांति दौड़ने लगा. उम्म्ह… अहह… हय… याह… ये ए ए ए ओओओओह!जब एक बार उसका लंड रपट कर गांड की जगह मेरी पत्नी की चूत में जा घुसा, तो राजू ने मौका देखकर पीछे से अपनी भाभी की खाली हुई गांड में अपना तरोताजा लंड पेल दिया और दुगने उत्साह और रफ़्तार से अपनी माँ समान भाभी की गांड मारने लगा. उस भाभी की जितनी तारीफ करो उतनी कम है। हालांकि भाभी मुझे उम्र में छोटी थी पर तब भी मैं उसको भाभी ही कहता था।मेरे फुफेरे भाई ने मुझसे कहा- यार तुम चंडीगढ़ में हो.

फिर ट्राइ किया। इस बार सुपारे के साथ लंड का कुछ हिस्सा बुर में चला गया। मेरा टांका टूटा तो जरा खून निकला और उसका भी निकला। हम दोनों को दर्द हुआ। वो चिल्लाई. मैंने अपनी आँखें बंद कर ली थीं।मैंने कहा- नहीं देखा तो अब देख लो।यह कह कर मैंने तौलिया अपने ऊपर से हटा दिया।उसने मेरा लंड देखते ही अपनी आँखें बंद कर लीं और बोलने लगी- मुझे कुछ नहीं देखना. कुछ ही दर हम बातें करते रहे, रिया पिंक कलर का सूट पहन कर आई थी, क्या लग रही थी.

अब आप लोग ही बताओ कि मैं क्या करूँ?जिससे भी बात करूँ वो मानता ही नहीं… कहता है जब वो कुछ करने नहीं देती तो तुम बाप कैसे बने!कोई मेरी परेशानी नहीं समझ रहा.

मैं पहले तुम्हारी गांड की गहराई को नापना चाहता हूँ।उसने बोला- प्लीज़. जैसे ही गांड का उदघाटन करूँगा तो आप सब को अगली पोर्न हिंदी स्टोरी में बताऊंगा।आपके मेल के इन्तजार में हूँ।[emailprotected].

वो बोली- अरे! आप यह क्या कर रहे हैं?मैं बोला- आप किसी अनजाने को घर पर बुला कर उसके सामने ऐसे कपड़े पहन कर उसको दारू पिला रही हो… उसका मतलब मैं ना समझ पाऊँ… मैं इतना पागल तो नहीं हूँ. इतनी गीली है तो घुसा दे ना मेरे राजा!’ माला ने खुद ही कड़क लंड पकड़ कर टोपा अपनी बड़ी सी खुली गीली चूत में घुसा लिया और उठ कर धीरे से उस पर बैठ गई- हाय मर गई राजू… बहुत मोटा है रे… साली चूत तो फट रही है. लेकिन धीरे-धीरे चोदने के बाद वो ठीक हो गई। अब तो वो अपने मम्मों को खुद प्रेस कर रही थी।लंड घुसने के दस मिनट में ही उसने माल छोड़ दिया। मैंने लंड बाहर कर लिया था.

उसी वक्त मैंने अपना लंड जोहा की गांड पर रखा और जोरदार झटका दिया तो मेरा आधा लंड घुस गया. सच्ची में तुम भी एक कार्टून हो।फिर वो बैग लेकर बेडरूम में चली गईं और इधर मेरी हालत खराब होनी लगी। मेरी समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करूँ।फिर मैंने जल्दी से कपड़े पहने और सोफे पर जाकर बैठ गया। तभी आंटी साड़ी पहन कर सामने आईं।मैंने उनको देखा तो मेरा मुँह खुला ही रह गया।आंटी पास में आकर खड़ी रहीं और कहा- तुम कुछ मत बताओ. वो खुद ही आ गई अपनी गुलाबी चूत लेकर मेरे घर चुदाई के लिए…दोस्तो, मैं राज सिंह 24 साल का हूँ। कुछ समय पहले ही मैंने अन्तर्वासना पर एक लौंडिया पटा ली उसने भी मना नहीं किया और झट से हां कर दी.

ससुर बहू की चुदाई बीएफ सिर्फ मैं ही नहीं मैंने अपने दोस्तों से भी कई बार रूबी को चुदवाया था. कोमल मराठी मुलगी थी तो वो मराठी में बहुत कुछ कह रही थी जिसको मैंने यहाँ नहीं लिखा…बेरहमी पता नहीं क्यों मेरे अंदर आ गई.

काजल अग्रवाल सेक्सी वीडियो चुदाई

राम!इतने में राम ने अपनी टी-शर्ट उतार दी।राम की छाती के बाल देखकर दिव्या ने कहा- वाह. मैंने उन्हें मना किया- यह ग़लत है… आप मुझसे बड़ी हो और शादीशुदा भी!पर वो कहने लगी- तुम मुझे अच्छे लगे और अपने हो… मैं माँ बनना चाहती हूँ. उसकी हालत देखते हुए अब मैंने झुक कर उसकी एक चूची को अपने होंठों में भरा और अपने लंड को बिल्कुल एक हल्की रफ़्तार लेकिन ज़ोर के साथ उसकी चूत के पूरे भीतर तक गाड़ दिया… बिल्कुल वैसे जैसे इंजेक्शन देते वक़्त सुई हमारे बदन में घुसती है.

सारे हुक खोल कर उसने बलाऊज के दोनों पल्ले अपने दोनों हाथों से अपने वक्ष से हटा दिए. मैंने मन ही मन ठान लिया कि इन बीस दिनों में मैं इसकी गांड का छेद को चोद चोद कर इतना बड़ा कर दूँगा कि चलने से ही सबको मालूम हो जाए कि इसकी गांड कितनी चुदी है. जानवर सेक्सी जानवर सेक्सी वीडियोतब मैंने उसका फोन लिया और देखा कि उसने भी मेरी ही तरह एक हाइडिंग एप्लिकेशन डाउनलोड कर रखा है.

मेरे दिमाग़ में कभी सेक्स की बात नहीं आई लेकिन परी बड़ी मासूम और चुलबुली थी.

फिर भी मैं नार्मल रहने की कोशिश कर रहा था कि अंजलि को ऐसा न लगे कि मैं कोई फ़ायदा उठा रहा हूँ, पर अंजलि के मन में क्या था… यह तो मैं भी नहीं समझ पा रहा था. धीरे करो जान ही ले लोगे क्या?मैंने समझाया- जान पहली बार में ऐसा होता है।वो बोली- मालूम है, पर धीरे-धीरे करो ना!फिर मैंने उससे बोला- मैं लेट जाता हूँ और तुम मेरे लंड पर बैठ जाओ।वो मेरे ऊपर आ गई और किसी तरह उसने अपनी चुत मेरे लंड में फंसा दी।इसके बाद खूनी चुदाई का दौर चला और उसने मुझे अपनी सील तुड़वा ली। ये सब बहुत ही रसीला वाकिया है.

इसे यहाँ पर इसकी सील तोड़ने लाया था।फिर उसने कहा- इसकी सील ऐसे नहीं टूटेगी. तब तक वो लेट गई थी, मैं भी अपना कुर्ता उतार कर उसके पास लेट गया और उसे अपने सीने से चिपका लिया उसकी गर्म साँसें मैं अपने चेहरे पर महसूस कर रहा था. हम तो कज़िन हैं।मैंने भी कह दिया- मुझे तुम अच्छी लगती हो और तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहता हूँ।उसने कहा- मैं अपने ब्वॉयफ्रेंड को दुख नहीं दे सकती।लेकिन मैंने भी कह दिया कि हम ऐसा कुछ नहीं करेंगे.

उसकी चुत रस से लबालब थी।मैंने उसकी बुर को धीरे-धीरे उंगली डाल कर सहलाना चालू किया.

थोड़ी देर ऐसा करने के बाद उसने मुझे दोनों हाथों पर और घुटने के बल खड़े होने को कहा और मेरी कमर को पकड़ कर अंदर बाहर अंदर बाहर करे जा रहा था नॉनस्टॉप…मैंने कभी नहीं सोचा था कि कोई आदमी भी इतनी स्पीड से कर सकता है, कुत्ते को देखा था लेकिन आदमी की इतनी स्पीड मैं पहली बार देख भी रही थी और एक्सपीरियेन्स भी कर रही थी. 5″ साइज़ है मगर इतना पता है कि मैं कसी भी लड़की को सन्तुष्ट कर सकता हूँ. अपना पानी मेरी चूत में ही छोड़ दे। मैं तेरा बच्चा पैदा करूँगी।फिर मैं दीदी की चूत में ही झड़ गया।मैं थोड़ी देर तक दीदी के ही ऊपर लेटा रहा।फिर हम दोनों उठे.

बीपी सेक्सी हिंदी ब्लू फिल्मझूट मत बोल।दीपा बोली- तुम दोनों ऐसे सिसकारियाँ लोगे तो मैं कैसे सो पाऊँगी?लानी बोली- तो तू मजा क्यों नहीं लेती. वो कहने लगी- कोई आ जायेगा यहाँ!मैं बोला- इतने लोगों में यहाँ कौन आ रहा है?उसने कुछ नहीं कहा.

नेपाली सेक्सी नंगा वीडियो

मुझे थोड़ा गुस्सा आया, मैंने कहा- तेरी फ़िक्र है… वरना मुझे क्या!तो हंस के कहती- जल रहा है?मैंने कहा- मुझे क्यूँ जलन होगी?तो बहुत हंसी और मुझे छू के बोली- आई लव यू!मैंने कहा- क्या बात, आज मान लिया?कहती- अब तंग मत करो… बोल दिया तो बोल दिया!मैंने उसको दबोचा तो कहती- नो… अभी नहीं, जाने दो!वो मेरी शर्ट पहन कर किचन में गई कॉफी बनाई तो किचन में मैंने पकड़ के पीछे से लंड से टीज़ किया. वासना के अतिरेक में हम तीनों कब पलंग से उतर कर नीचे बिछे कारपेट पर शिफ्ट हो गए, हमें इसका बिल्कुल पता नहीं चला. वो एकदम नमकीन थी, पर मुझे बहुत अच्छा लग रहा था।चाची हल्की-हल्की आहें भर रही थीं.

तो उन्होंने मुझे बाईक की चाबी देते हुए मामी जी बहन और उऩकी बीवी यानी चाची, जिनकी उमर 35 के आसपास थी, दोनों के साथ सामान लाने भेजा. बाहर चलो सब।सब लोग कुनमुनाते हुए उठ कर बाहर चले गए। अन्नू भी चली गई. बस में और सवारियां चढ़ गईं और बस खचाखच भर गई। उस भीड़ में एक लड़की मेरे पास आकर खड़ी हो गई। मैंने दिमाग चलाया, मेरे बाजू में दो लड़के बैठे थे। मैंने उनको थोड़ा सरकने को कहा और उसको मेरे पास बैठने को कहा।वो मेरे पास बैठ गई।थोड़ी देर बाद उसने अपना फोन निकाला और कहीं मिलाया। शायद उसका फोन नहीं लगा.

मेरा फिर पानी निकल गया।मैंने सारा माल एक कटोरी में डाल कर कटोरी किचन में रख दी। मामी ने मुझे नाश्ता दिया और मेरे सामने उस कटोरी में जमा मेरे लंड की मलाई को चाट कर खाने लगीं।दोपहर को मैं अपने कमरे में मुठ मारते-मारते बोल रहा था- अह. दिन का प्रोग्राम तय करती और मस्ती करती…हाँ, अभी तक मोनिका ने अपने जिस्म की भूख को संगीता को नहीं बताया था, बस संगीता यही जानती थी कि अनिल सीधा आदमी है और ज्यादा रोमांटिक नहीं है. !फिर तो सभी और निशा भी हंसने लगी।निशा मुझसे चिपक कर हंस रही थी तो मैंने पहली बार उसको दूसरी निगाह से देखा।इसके अगले दिन मैंने निशा से पूछा- क्या तुम्हारा कोई ब्वॉयफ्रेंड है?तो उसने कहा- पागल हो क्या.

कैसे कहूँ। पिंक पेंटी में वो मदमस्त माल लग रही थी।आप कल्पना कीजिएगा कि एक कमसिन मदमस्त लौंडिया केवल गुलाबी पेंटी में मेरे लंड से चुदने के लिए सोफे पर चित्त पड़ी हो. ’ करने लगी।वैभव कई मिनट तक मेरी बहन के रुई जैसे दूधों को मसलता रहा और दोनों निप्पलों को चूसता रहा।कुछ ही देर में भूमिका के दोनों दूध लाल हो चुके थे। अब वैभव बिस्तर पर लेट गया और भूमिका उसके बॉक्सर को नीचे करने लगी। वैभव का बॉक्सर नीचे आते ही उसका सात इंच का लंड खड़ा हो गया।भूमिका ने अपनी दो उंगलियों से लंड को पकड़ा.

मैं- हेलो?मनजीत- हेलो रूचि जी, मैं मनजीत बोल रहा हूँ!मैं- हाँ बोलिए!मनजीत- क्या सोचा आपने?मैं- किस बारे में?मनजीत- मैंने जो बोला था!मैं- मैं नहीं करना चाहती!मनजीत- क्यों?मैं- मेरी मर्ज़ी!मनजीत- लेकिन फिर भी एक बार सोच लीजिए, इससे आपको दो फ़ायदे होंगे!मैं- क्या?मनजीत- बिना मेहनत के रोज नये नये पार्टनर भी मिल जायेंगे और बदले में अच्छे पैसे भी मिल जायेंगे.

अगर आज तूने मेरी चूत फाड़ दी तो मैं तुझसे शादी करके तुझसे रोज अपनी चूत मरवाया करूँगी. बंजारा की सेक्सी वीडियो‘आह्ह्ह्ह्ह…’ वंदु ने अपनी कमर को थोड़ा ऊपर उठाते हुए एक गर्म सिसकारी भरी. सेक्सी वीडियो एचडी प्रोआंटी नीचे झुकी तो मैं उनके बड़े बड़े बूब्स देख कर पागल हो गया, मेरा लंड मेरे हाफ पैंट में पूरा हार्ड हो गया, मैं उसको पैंट में सेट कर रहा था तो आंटी ने ये नोटिस कर लिया. मैंने तो उसका नाम ही नहीं बताया और न ही उसके बारे में कुछ कहा।उसका नाम शाजिया (बदला हुआ नाम) था और उसके बारे में क्या बताऊँ भाई, उसकी स्लिम फिगर, आखें.

पर मैं मुँह वापस हटा कर उसके गले को ही चूसना जारी रखा तो उसने फिर से मेरे मुँह को उठा कर अपने मम्मों पर रखकर कुछ देर तक दबाए रखा।अब मैंने भी सोचा कि इसे और ज्यादा तड़पाना अच्छा नहीं है।मैं अब उसके मम्मों की घुंडियों को मुँह में भर कर चूसने लगा। उसको मानो रहत मिल गई हो.

शाम का वक्त था अंधेरे और उजाले के बीच का फर्क मिट गया था, लालिमा मद्धम रोशनी ऐसे लग रही थी मानो किसी ने रोमांस के लिए डेकोरेशन किया हो. 5″ साइज़ है मगर इतना पता है कि मैं कसी भी लड़की को सन्तुष्ट कर सकता हूँ. अब मैं उनके पेट पर हाथ घुमा रहा था, चाची की साँसें तेज हो रही थी, इसी बीच उनके कान, गर्दन पर गर्म सांस छोड़ते हुए चाटे रहा था, ब्लाउज के ऊपर से भी चाची की चूची को दबा रहा था, वो पागल हुए जा रही थी और मेरे लंड पर अपना हाथ घुमा रही थी.

वर्षा आंटी बोली- उस दिन क्या देख रहा था?मैं हिम्मत करके बोला- आपके बूब्स देख रहा था!वो बोली- इनको छूना है क्या?मैं बोला- हाँ!तो आंटी ने सेक्स के जोश में मुझे पकड़ लिया और मुझे किस किया. मनजीत- इसमें सोचना क्या है, आप अकेली नहीं है जो हमारे साथ कर रही हैं कोलकाता में बहुत सी कॉलेज गर्ल, ऑफिस गर्ल या हाउस वाइफ हम से जुड़ी हुई हैं, उतना तो छोड़िये, बहुत सी मॉडल भी हमसे जुड़ी हुई हैं, किसी को कोई प्राब्लम हुई है क्या आज तक?मैं- कोई जान पहचान वाला मिल गया तो?मनजीत- उसके लिए आप टेंशन मत लो, हमारे ज्यादातर कस्टमर इंडिया के बाहर के होते हैं, 20% ही इंडियन होते हैं. संगीता अब समझ गई थी कि क्या होने वाला है।मैंने जा कर दरवाजा अन्दर से भी बंद कर दिया और सीधे संगीता पर टूट पड़ा। हमने दस मिनट तक लगातार किस किया.

सेक्स फुल वीडियो सेक्सी

मैं जोर जोर से चूत में लंड को अंदर बाहर कर रहा था, एक हाथ से कमर को पकड़े था तो दूसरे से उसके लम्बे बाल… बस चोदे जा रहा था ‘आआ आह्ह… स्स स्साआअह्ह… अअह. जिसमें हम जो चाहें वो हाइड कर सकते हैं।वो एप कैसे खोलते हैं वो मुझे पता था. मुझे ऐसा लगा कि जैसे किसी ने बाँस को मेरी चूत में डाल दिया हो।फिर वो मेरे पास आया और मेरे माथे को चूम कर कहने लगा- अगर तुम नहीं चाहती.

धीरे से पेलने में लंड अन्दर जा ही नहीं रहा था।मैंने सुपारा फंसा कर थोड़ा जोर लगाया ही था कि वो कहने लगी- ऊ.

पर यार कुछ होगा तो नहीं?मैंने ‘ना’ में सर हिला दिया।अब क्या अब मेरे हाथ उसकी टी-शर्ट निकाल रहे थे। अन्दर पिंक ब्रा थी उसकी.

मैं देहली में जॉब करता हूँ और यहाँ पर एक किराये के मकान में रहता हूँ. मेरी इस हरकत से वो पागल होने लगी और 2 मिनट के अन्दर उसकी चुत का पानी छूट गया और वो निढाल हो गई।अब मेरी मौसेरी बहन संग चुत चुदाई की कहानी को मैं अगले भाग में पूरा लिखूंगा। आपके मेल का इन्तजार रहेगा।कहानी जारी है।[emailprotected]बहन की चुदाई की इस सेक्सी स्टोरी का अगला भाग. नंगी भाभी की सेक्सी चुदाईमुझे इसका मतलब पता था, ये रूसियों में प्रचलित सेक्स वाइफ लाइफ स्टाइल का निशान है.

वो समझ गई, मैंने अपना लंड चूसने को कहा तो नेहा और मैं 69 की पोजीशन में आ गए, वो मेरा लंड चूसने लगी. पर बहुत दिन हो गये थे, मुझे कभी नहीं लगा कि मुझे उसे कभी चोदने को मिलेगा. !मैंने कहा- अब मान भी लो ना!तो बोली- मान कर खुद को और तुमको भी दोबारा दुख नहीं पहुँचा सकती।मुझे उसकी वो बात याद थी कि वो मुझसे टुन्नी में कहती थी कि उसके मुँहबोले भाई के साथ मिलकर वो नशा करती थी और वो उसको ब्लू फिल्म दिखा कर न जाने कितनी पोज़िशन्स में उसको चोदता था।जब मैंने उससे कहा- उसको मना नहीं करती थीं।तो बोलती थी- नहीं.

और उनके रसीले मम्मों को दबाने लगा। मुझे आंटी के मम्मों को दबाने में बहुत मजा आया, तो मैं उनके मम्मों को दांतों से काटने लगा। वो पागल होने लगीं और अपने हाथों से अपनी साड़ी और पेटीकोट उतार दिया।अब वो सिर्फ़ पेंटी में मेरे सामने खड़ी थीं। मैं उन्हें बिस्तर पर ले गया और उनकी पेंटी भी उतार दी।आंटी की रसीली और चिकनी चुत देखने के बाद मैं और पागल हुआ जा रहा था। आंटी की चुत से एक नशीली खुशबू आ रही थी. कुछ देर चुप रहने के बाद हम दोनों ने बातचीत शुरू की। यूं ही बात करते-करते हम दोनों के बीच गर्लफ्रेंड ब्वॉयफ्रेंड की बातें होने लगीं। उसने बताया कि उसकी अभी तक कोई गर्लफ्रेंड नहीं थी.

लेकिन स्लोली और स्मूद्ली चूसना।मैंने उसकी चुची मुँह में भर ली और चूसने लगा.

मैं रोने लगी और बहुत जोर से चिल्ला पड़ी।इतने मैं उसका दोस्त वहाँ आ गया, उसने कहा- अबे ये क्या कर रहा है. ये बाथरूम में इतनी देर से कर क्या रही है।जब मैंने की-होल से अन्दर देखा तो बस देखता ही रह गया। उसकी क्या मस्त गोरी-गोरी और निकली हुई गांड थी और चुची. हम लोग चाचा के मित्र के यहाँ गये पर उऩके मित्र घऱ पर ताला लगा कर चार पाँच दिन के लिये किसी की शादी में गये हुए थे.

प्रियंका चोपड़ा का हॉट सेक्सी उसको पास से देख कर मेरा लंड फिर से तन कर खड़ा हो गया, उसकी नज़र मेरे लंड पर थी और मेरी नज़र उसकी चुची पर… अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था, मैंने उसके रसीले होंठों पर अपने होंठ रख दिए और ऐसे चूसने लगा जैसे बच्चे लोलीपोप चूसते हैं… वो भी मेरा साथ पूरे जोश से दे रही थी, उसकी सांसे और धड़कन इतनी तेज हो गई थी कि मैं साफ़ साफ़ महसूस कर रहा था. सच में आंटी सेक्स की मूर्ति… माल लग रही थीं वो।मैं रूम में अन्दर आया तो उन्होंने बोला- क्या लोगे.

दोनों ने ही भी किसी को कपड़े नहीं पहनने दिए।आज उसकी बहुत याद आ रही थी. आंटी यह सुन कर हंस पड़ी और बोली- तो देर किस बात की है? फिर आज मेरी सेक्स की पूरी प्यास बुझा दो ना!यह सुनते ही मैंने उसकी नाइटी को उतार दिया, अब वो मेरे सामने ब्रा और पेंटी में पड़ी थी. जरा सा भी खराब नहीं करना।रोहित ने लंड का रस पी लिया।मैं रोहित के मम्मों को ब्लाउज के ऊपर से ही दबा रहा था। फिर मैंने उसकी साड़ी और बाकी के सारे कपड़े उतार दिए।वो एक मस्त सेक्सी लड़की दिख रहा था। दस मिनट तक मैं रोहित के मम्मों को चूसता रहा। पीछे से दीपा मेरी गांड चाट रही थी।फिर मैंने रोहित को 69 में लिटा दिया और उसकी चूत को चाटने लगा.

सेक्सी चूत की सेक्सी फिल्म

कुछ पल को रुक कर मैंने अपनी स्थिति को एडजेस्ट किया और कोमल को भी संभालने का मौका दिया. सुनील ने कहा- हमारी इतनी किस्मत कहाँ!तभी सुनीता ने एकदम कहा- एक बात पूछूं क्या?सुनील ने हाँ में जवाब दिया. क्योंकि तेरे चाचा ने बच्चे तो पैदा कर दिए, पर वो ठीक तरह से मुझे शांत नहीं कर पाते हैं.

अब शायद उनकी चुत और गांड ने दोनों लंड झेल लिए थे।कपिल बोला- बस अब चलो पूरी घोड़ी बन जाओ।मॉम अपने हाथों के बल पर उठते हुए पूरी चौपाया बन कर घोड़ी बन गईं।वाहह. तभी 18-19 साल की एक लड़की आई, उसने पूछा- मैं अंदर आ सकती हूँ क्या?मैंने उसको अंदर बुला कर बिठाया.

!’भाभी की चूत पानी छोड़ रही थी, मैं भी अपनी एक उंगली से चुत को चोद रहा था। मैंने उसी उंगली को कई बार अपने मुँह में लेकर चुतरस का स्वाद भी लिया।कुछ ही पलों बाद मेरे होंठ रसीली भाभी की चूत को चूसने लगे थे।‘आह.

मेरा पहला मौका है।मुझे लगा साली इतनी गदराई हुई है और पहली बार चुदा रही है. रोज़ रात को ये कमीनी चूत मेरी बहुत परेशान करती है, आपके लंड के लिए तरसती है. यहीं मेरे पास बैठ जा… मेरे साथ ही देख ले ब्लू फिल्म…उसने कहा- मैं दूसरे कमरे में जाकर देखूंगी!मैंने कहा- नहीं…तो वो नाराज होकर दूसरे कमरे में चली गई.

और वो सुमन से बोली- दीदी, मुझे भी करना है!सुमन चिल्ला कर बोली- नहीं!तो नेहा ने कहा- आप कर सकती हो तो मैं भी कर सकती हूँ. आंटी का फेवरेट डर्टी सेक्स किया। वो तो मुझे बताने भी शर्म आ रही है कि नशे में मैंने क्या-क्या किया था।दूसरे दिन मैं अपने घर पे गया और दिन भर अपने लंड को तेल से मालिश करता रहा. तो दीदी की गांड और उसकी चुची ही दिमाग में आ जाती। फिर भी वो मेरी दीदी थी.

मैं बारी-बारी से उसके दोनों चूचुकों को बुरी तरह से चूस रहा था। इससे उसके मुँह से आवाज निकलने लगी।मैंने उसके खूब दूध पिए.

ससुर बहू की चुदाई बीएफ: मैंने धकापेल चुदाई जारी रखी, आंटी मजे में मादक सिसकारियां ले रही थीं, मैं भी हचक के लंड पेले जा रहा था।तभी आंटी को चरम का मजा आने लगा और उनके मुँह से आवाज़ आने लगी- आह्ह. मुझे कह देना, मैं आ जाऊँगा या जब मेरे घर कोई नहीं होगा तब मैं तुम्हें बुला लूँगा।इस तरह हम दोनों ही ऐसे मौके का वेट करने लगे। इस बीच हम दोनों की सेक्स को लेकर खूब चैट चलने लगी थी।फिर वो दिन भी आ ही गया। मेरी कज़िन के घर वालों को किसी की शादी में 2 दिन के लिए एक नजदीक के गाँव जाना था। सोनिया ने जाने से मना कर दिया था.

तब कहीं जाकर एक नम्बर किसी कॉलेज गर्ल कुसुम का लगा।वो बोली- कौन?मैं बोला- मैं अविनाश बोल रहा हूँ।तो वो बोली- मैं कुसुम हूँ, आपको किससे बात करना है?मैं बोला- आपसे. तू तो सच में बहुत उस्ताद है रे…’ माला ने हँसते हुए राजू को चूम लिया।‘पर राजा तेरा लंड तो अभी तक बहुत जोर से तन कर चूत में घुसा है।’ माला की आँखों में मस्ती और प्यार की चमक थी और शरारत से मुस्करा रही थी।‘तो घुसा रहने दे ना. लेकिन मैंने अपने शॉर्ट्स का बटन खुला छोड़ दिया था और मैं रात को अंडरवियर नहीं पहनता हूँ। जब मैंने सोने का नाटक करते हुए खर्राटे भरना शुरू किए.

उसकी अधखुली आँखों में देखते हुए मैंने अपनी पोज़ीशन को एक बार फिर से ठीक किया और उसकी कमर को थाम कर अपने लंड को जड़ तक बाहर निकल कर धीरे-धीरे झटके देने शुरू किए.

और मैं पैंटी के ऊपर से हाथ फेरने लगा उसकी चूत पर, चूत के ऊपर पेंटी गीली सी थी, उसकी चूत के रस में भिगो कर मैंने अपना हाथ निकाल कर जैसे ही मुँह में रखा, कोमल ने बंद आँखें खोल कर मेरी ओर देखा और शर्मा गई. तो मैंने आँखें खोली तो देखा की सुधीर अपनी पैंट निकाल रहा है और वह पैंट निकाल कर बिस्तर पर पीछे हाथ टिका कर बैठ गया।ऐसे में उसका तना हुआ लिंग उसकी चड्डी के ऊपर से स्पष्ट नजर आ रहा था. xxx मूवी देखा कर मुझे जोश आने लगा, मैंने उसे कहा- मेरी बाजू पे सिर रख ले!उसने वैसे ही किया.