जवान लड़कियों के बीएफ

छवि स्रोत,साउथ साउथ बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

સુહાગરાત વિડીયો: जवान लड़कियों के बीएफ, मुझे पटा था कि मैं फर्स्ट क्लास का माल हूँ चोदने के लिए!चाचा और मैं, हम दोनों धीरे धीरे एक दूसरे के करीब आने लगे थे.

हरियाणा के बीएफ

दीदी ब्रा खुलते ही ऊपर उठने लगी लेकिन मैंने दीदी के सर को लंड पर दबा दिया और दीदी भी चुपचाप लंड को चूसने लगी. बीएफ सेक्सी सॉन्गकुछ सलवार तो हाथ से घुटने तक चली गई और बाकी की सलवार को मैंने अपने पैरों से उतारना शुरू कर दिया.

मैंने अपने सभी कपड़े उतार फेंके और पूरी तरह से नंगा होकर ममता के ऊपर जाकर चढ़ गया. नंगी पुंगी पिक्चर वीडियोकमर 28 की और कूल्हे 36 के थे।उसको देखते ही मेरा लण्ड खड़ा हो गया उसका नाम रोशनी था। बातों ही बातों में हमारी अच्छी दोस्ती हो गई। वो शाम मेरी अमेरिका में बिताई सबसे अच्छी शाम थी। रात के दो बजे जब नाईट क्लब बंद हुआ.

‘मैं भी तुम्हें ऐसा ही मजा दूंगा, अभी मेरी गांड मारनी हो तो बोलो?’मुझे शाकिर की लेनी थी तो मना कर दिया.जवान लड़कियों के बीएफ: चुदास चढ़ गई तो मैंने भाभी की टांगें चौड़ी की और अपना लंड उनकी चूत की फांकों पर रगड़ने लगा.

इतने मैं उस आदमी ने मुझे हिलाया और हंसते हुए कहा- कहाँ खो गए करण? मैं विनोद.मैंने धीरे से एक धक्का लगाया और मैंने अपना लंड कविता की जवान चूत में डाल दिया और उसके मुख से ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ की तेज आवाज निकल गयी.

ব্লু পিকচার ভিডিও পিকচার - जवान लड़कियों के बीएफ

जब कॉलेज ऑफ हुआ तो मैं घर जाने को कॉलेज के गेट के बाहर निकल रहा था तो वो मुझे गेट पर खड़ी मिली.कॉलेज में सब टीचर और स्टूडेंट्स उसके बारे में जानते हैं कि वो कितनी सरलता से जिस लड़की को चाहे पटा लेता है.

मैं अकेला नहीं हम सब साथ में चोदेंगे उस रंडी को, तभी उसको समझ आएगा कि प्यार में धोखा क्या होता है और साली का एमएमएस बना लेंगे ताकि वो अपना मुँह ना खोल पाए. जवान लड़कियों के बीएफ ”अच्छा तुम अपनी चुन्नी, सलवार, कमीज़, ब्रा, पेंटी सभी कुछ उतार कर चेयर पर रख दो और गोलू तुम्हारी साइज़ की नाप लेके बताएगा कि तुम कितना सच बोल रही हो.

अमित- अरे मैंने तुम दोनों के फोटो दिखाए थे, उसने तुम्हें पसंद किया है और अवी को पता है इस बारे में उसने भी हाँ कह दी है.

जवान लड़कियों के बीएफ?

दोस्तो, कहानी लिखने में कोई ग़लती हुई हो तो माफ़ करना और मेरी हिंदी एडल्ट स्टोरी कैसी लगी, मुझे मेल जरूर करें. क्या तुम्हारे काम में हाथ बंटाने में मेरी कोई जरूरत है?आंटी बोलीं- नहीं बेटा. फिर मैंने उसकी कमर को पकड़ा और नीचे से धक्का लगाया, तब कहीं जाकर उसकी संकरी गांड में मेरा आधा लंड घुसा.

मेरी तो चीख ही निकल गयी और फिर रोहण ने अपना पूरा लंड मेरी चूत में डाल दिया. यूं तो मेरा सारा बदन प्रिया के बदन के साथ ही लगा हुआ था लेकिन मैं जानबूझ कर थोड़ा सा ऑफ़-लाईन था… बोले तो… मेरी दायीं जाँघ प्रिया की दोनों टांगों के बीच में थी,प्रिया की दायीं टांग मेरी दोनों टांगों के बीच में कसी हुई थी, प्रिया की योनि की गर्मी मेरी दायीं जाँघ का बाहर वाला ऊपरी सिरा झुलसाये दिए जा रही थी. मैं समझ गया था कि दीदी झड़ चुकी हैं, पर मैं नहीं रुका और एक मिनट बाद मैं भी झड़ गया.

जैसे जैसे मेरे हाथ उनकी चूत को स्पर्श करते, उनकी मादक चीख निकल जाती. अब मैं ये सोच रही थी कि यहाँ 500 ही मिल रहे हैं और वहाँ मैं 40 हजार कमा चुकी हूँ. ” अब उसका लंड मम्मी की चूत को चीरता हुआ पूरा अन्दर चला गया और उस दर्द से मम्मी एकदम चीख पड़ीं.

भैया का लंड उसकी चूत पे टकराते ही, उसकी बंद कली एक सूरजमुखी का फूल बन गई और भैया के लंड को अपने अन्दर एक चुम्बक की भाँति खींचने लगी. करीब पांच मिनट की घनघोर चुदाई से रीना दूसरी बार झड़ते हुए औंधे मुँह मेरे ऊपर गिर पड़ी.

ये थी मेरी देसी मामी की चुदाई की सेक्स स्टोरी, कैसी लगी, मुझे जरूर बताना.

दर्द से मैं बेहाल हो गई, मेरे पैर काम्प रहे थे, वो मुझे झुका कर मुँह दाब के चोदता जा रहा था, मैं बार बार आगे खिसकने की कोशिश करती थी, तो अंकल ने मुझे उठा कर दीवार के पास खड़ी कर दिया, मुझे चिपका कर दीवार पर दाब दिया.

गोलू पीछे होने की कोशिश करता रहा, पर पूजा ने ताकत से उसका मुँह चूत पर दबोच दिया. देखा तो क्या… उसके बूब्स क्या मस्त लग रहे थे, जैसे कह रहे हों ‘हमें इस ब्रा से मुक्त करो. मैंने पूछा- हम वास्तव में कहां जा रहे हैं?कुणाल- ट्रेन वाली आंटी के घर.

मुझको खुंदक आ रही थी, मैंने उनको नीचे से माँगा हुआ सामान ला दिया और कमरे में आ गया, पर मुझे नींद कहां आती. मैं- ठीक है मैं रहूँगी लेकिन मेरी ड्रेस ये गन्दी हो जाएगी तो शाम की पार्टी में क्या पहनूंगी और दूसरी बात?अवी- मैं ले आऊंगा दूसरी ड्रेस ओके. क्योंकि उन लड़कों ने मुझे गिरा दिया था, जिस से सड़क पर गिरने से मुझे खून आने लगा था.

राहुल इतना अधिक उत्तेजित हो गया था कि थोड़ी ही देर में उसने अपना पानी जोया के मुँह में छोड़ दिया.

मेरी नजर गेस्टरूम में गई, मैं वहां गया तो देखा कि बुआ और दिलप्रीत सिंह दोनों बातें कर रहे थे. उन्होंने अपने लाल होंठ खोल करके मेरे लंड को मुँह में ले लिया और चूसने लगीं ‘उउंम उउंम उम्म…’इसके बाद वे मेरे लंड के नीचे मेरी दोनों गोलियों को मुँह में लेकर चूसने लगीं और लंड को खींचने लगीं. बाद में जी भरके करना जो करना हो। हमारे पास काफी टाइम है। अब तुम नहाकर कपड़े पहनो जब तक मैं माँ जी से मिल कर आती हूँ और खाना ले आती हूँ।मैं बोला- जान.

वो बार बार ऐसे करने लगा और मुझसे बोला- देखो, तेरे गांड की पॉटी मेरे लंड पर लगी है. फिर मेरे दोनों हाथों को लेकर अपने मम्मों पर रख कर अपने हाथ को पीछे ले जा कर मेरा लंड पकड़ लिया. मैंने अपना हाथ बहन की टांग पे रख दिया और एक उंगली बहन की चुत में अन्दर बाहर करने लगा.

तभी अवी ने पूछा- बेबी अभी तैयार नहीं हुई हो क्या?ये कहते हुए उसकी नजर मेरी सैंडल पर पड़ गई तो उसे पता चल गया कि मैं तैयार हूँ.

मेरी बेचारी प्राणप्रिया पत्नी के चूतड़ किड के लगातार चपत मारते रहने के कारण लाल हो चले थे, जिन पर किड अभी तक उकड़ू हुआ लंड द्वारा मुख चोदन करता हुआ लगातार चपत जमाए जा रहा था. एक दिन मैंने उससे पूछा- तुम्हारा कोई दूसरा बॉयफ्रेंड भी है क्या?उसने मना कर दिया.

जवान लड़कियों के बीएफ मैं किसी को कुछ नहीं कहूँगी, इसमें बुरा क्या है, तलब लगी तो जो सामने था, उससे शांत करवा ली. फिर वापस आ जाना लेकिन पहले शालू को दिल्ली छोड़ आना, ये नहीं कि यहीं से बैठा दो और कहो अकेली चली जाओ.

जवान लड़कियों के बीएफ सोनी रोते हुए बोली- ठीक है बोल?मैं- सोनी, देख अगर तुझे मैं ग़लत लगता हूँ तो ऐसा ही सही, पर मेरी एक बात सुन ले, मैं तुझसे बहुत प्यार करने लगा हूँ और तेरे बिना मुझे कहीं अच्छा नहीं लगता. मैंने फिर धक्का दिया, तो उन्होंने अपने नाख़ून मेरी पीठ में गड़ा दिए और होंठों को चूसने लगीं.

मेरी माँ सिसकारियाँ लेने लगी, वो बस चिल्ला चिल्ला के यही कह रही थी- चूस ले सारा पानी अपनी माँ की चूत का… बहुत पानी देती है ये!और वो ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… ऊह…’ करने लगी.

ब्लू पिक्चर अंग्रेजी बीएफ

आते वक्त मैंने एक मोबाइल लिया जिसमें सीक्रेट तरीके से फ़ोन रिकॉर्ड हो सके और किसी को पता न चले. हमने जूस पिया और ज़ायरा भाभी ने अपनी चुत को साफ किया, अपनी साड़ी सही की. मैं उसे बिना कुछ बोले अपने रूम में जाकर बहुत रोया उसे भूलने के लिए मैंने अपना हाथ भी काट लिया था, लेकिन उसे कोई फ़र्क नहीं पड़ा.

अब तुम्हारा क्या मूड है?”तो उसने मुस्कराते हुए अपने दूध खुजाए और कहा- वही. मेरी इच्छा अधूरी रह गई।पर मैं समझ सकता था कि सबके सेक्स करने का तरीका अलग अलग होता है इसलिए मैंने ज्यादा जोर नहीं दिया। हाँ. तभी भाभी पीठ के बल लेट गई और गर्दन पर भी विक्स लगाने को बोल कर अपना पल्लू हटा दिया.

जब मैं उन सीडी को देख रहा था तो उसमें से कुछ आश्चर्यजनक सीन देखने में आए.

मैंने भाभी से कहा- तो मैं भाभीजी आपको क्या बोलूँ?भाभी ने कहा- तुम भाभी ही बोलो. मैंने ओके बोला औऱ 15 मिनट के बाद पायल को बोला- मैं छाया के घर सोने जा रहा हूँ. मैंने उसे उठाया, बेड पर बिठाया… उसे कहा- आंखें खोलो और देखो बहाने मत करो!जबरदस्ती से मैंने उसे देखने के लिए मजबूर किया.

जिस पटरे के पीछे मैं था, मुझसे दो कदम की दूरी पर मम्मी और फूफा जी थे. तभी चाची ने कहा- आलम मैं तौलिया तो वहीं रख कर भूल आई हूँ, मुझे जरा तौलिया उठा कर दे देना. दोस्तो गांड अगर दोनों की रज़ामंदी से चुद रही हो, तो चोदने में बड़ा मजा आता है.

मोहन लाल के इस राज का किसी को यहाँ पता नहीं था, क्योंकि उसकी पत्नी और ससुर पहले ही गुजर चुके थे. यह सुनते ही पापा ने लंड की स्पीड बढ़ा दी और मेरी दोनों टांगों को ऊपर कर दिया और जम के लगे चोदने ‘आहह हउंह हह ओहह हहह मेरे राजा… और चोदो मुझे… फाड़ दो मेरी चूत को… पूरा डाल दो!और जोर से चिल्लाई मैं, मेरी चूत पूरी गीली हो चुकी थी, पूरे कमरे में फच फच की आवाज चुदाई की गूंज रही थी.

मेरे हाथ का अपनी नंगी चुची पर स्पर्श होते ही ममता जी के मुँह से इईई… श्श्शशश… ओय… इइईई…” की आवाज निकल‌ गयी और वो सिहर गयी… उन्होंने मेरे हाथ को पकड़ लिया और नहीं… अब बहुत हो गया… बस अब…” कहते हुए मुझे हटाने लगी. दोस्तो मेरी गरम कहानी कैसी लगी, कृपया करके नीचे लिखी गई मेल पर बताएं. मेरी सेक्स कहानी के पहले भाग में आपने पढ़ा कि मैंने अपनी बहू के साथ एक शादी में जाना था.

मन कर रहा था कि अभी बहू के लबों को चूम लूं मैं… लेकिन मैंने सब्र किया… मन में मैंने सोचा कि अभी कुछ देर मैं इन लबों को चूम लेने की लालसा को मन ले लिए तड़पता रहूँगा, इस तड़प में मुझे और ज्यादा आनन्द मिलेगा.

अंत में मुझे ही खुल कर कहना पड़ा कि भाभी बाहर से कुंडी को मैंने ही बंद किया था. वैसे एक बात बताऊँ आज तुम बहुत अच्छी लग रही हो, इतनी अच्छी कि मैं शब्दों में बयान नहीं कर सकता हूँ. मैंने भी रोशनी की टांगों को पकड़ कर फैला दिया- विक्की, अब मुझे देखो कैसे मैं दोनों जाँघों के बीच बैठकर अपना लंड चूत की लकीर पे रगड़ रहा हूँ, ऐसा करने से चूत गीली हो जाती है और लंड आसानी से घुस जाता है.

अगर कोई परेशानी हो तो मुझे या अवी को कॉल कर लेना और अपना नाम शालू ही बताना क्योंकि उसकी गर्लफ्रेंड का नाम शालू ही है ओके बाय. मैं- दीदी आपकी खुशी की और मेरे ये सब कुछ करने की एक ही वजह है, करण, उसी ने मुझे आपके और अमित के बारे में बताया था, वो तो अमित को जान से मारने वाला था लेकिन मैंने उसको समझाया और आपको एक बार अमित से शादी की बात करने को बोला और फिर आपसे कुछ दिन का टाइम माँगा ताकि हम अमित की पोल खोल सके आपके सामने.

मैंने सोचा कि पहले कपड़े बदल लेती हूँ बाद में अवी से मोबाइल के बारे में पूछ लूँगी. मैं भी थक गया था तो मैंने भी 5-6 करारे धक्के मारे और उसकी गांड को को वीर्य से भर दिया. मैंने भी मौका पाकर ममता की चूचियों पर हाथ रखकर सहलाने लगा, पर उसने मेरा हाथ हटा दिया और कहा- नहीं ये मत कीजिये.

भोजपुरी बीएफ सेक्सी गाने

जरा भी रहम नहीं आया आपको अपनी बहूरानी पर?”अच्छा, अब तू मुझे ही दोष दे रही है? रात को तू ही तो ‘लव यू… लव यू…’ बोल कर कह रही थी- कुचल डालो इसे… फाड़ के रख दो मेरी चूत आज… बहुत सताती है ये!इसका मतलब यह थोड़ी न के आप सच में ही रौंद डालो मेरी कोमल जगह को बेरहमी से; चाहे कोई जिये या मरे; आपकी बला से!”बहूरानी थोड़ा तुनक कर बोलीं लेकिन उनकी आँखें से शरारत झलक रही थी.

चाची ने गेट खोला उन्होंने एक मैक्सी पहन रखी थी और शायद वो इस वक्त कपड़े धो रही थीं जिससे उनकी मैक्सी हल्की सी गीली थी. पर रोशनी ने कहा- सुबह फिर वापस आना पड़ेगा और अगर तुम चाहो तो आज रात मेरे घर ही रुक सकते हो।मेरी तो जैसे लाटरी निकल गई. मैं अभी चल ही रही थी कि वो दौड़ते हुए आया और पीछे से ही मुझे पकड़ कर उठा दिया.

”मेरे सीने मैं धक धक हो रही थी कि अगर वो चिल्लाएगी तो मेरे इज्जत का तो फालूदा निकल जायेगा. मेरा लंड अब पिस्टन की तरह उसकी चूत के अन्दर-बाहर हो रहा था और हाथ उसके पूरे जिस्म को मसल रहे थे. क्सक्सक्स हिंदी सेक्सी मूवीथोड़ी देर उसका लंड चूसने के बाद विवेक ने अपनी फ्रेंची निकाल कर फेंक दी.

सो जल्दी से नहाने घुस गए। थोड़ी देर में मैं नहा-धो कर तैयार हो गया था।मैं कमरे से बाहर निकला और मैंने मधु को आवाज दी. कभी कभी दोस्तों और रिश्तेदरों के यहां जाना होता तो बहुत तकलीफ होती रही.

मैं उसे समझाने लगा कि बस 2 मिनट का दर्द है बाबू, इसके बाद मजा ही मजा. जैसे ही वो घर से बाहर निकला, मैंने बहूरानी का हाथ पकड़ कर अपनी ओर खींचा तो वो मेरी गोद में आ गिरी. उनकी बड़ी सी गांड इतनी जबरदस्त मटकती है, जब वो जीन्स पहनकर चलती हैं कि सब देखने वालों के लंड खड़े हो जाते हैं.

एक बात और… मैंने अपने जीवन में अभी तक सिर्फ अपनी धर्मपत्नी रानी से ही सम्भोग किया था. भाभी एकदम माल हैं, उनकी नशीली आँखें, गुलाबी पंखुड़ी जैसे होंठ, मस्त नरम चूचे, पतली कमर, गहरी और गोल नाभि, मस्त उठी हुई गांड. मैं सुबह जगी तो अपने आपको ब्रा पैंटी में देख कर हैरान हो गई, पर बाद में ध्यान आया कि मैं रात में ऐसे ही सो गई थी.

मैंने देर न करते हुए भाभी को चित लिटाया और अपना लंड निकाल कर उनकी चूत पर रख दिया.

तभी वो पीछे होते होते दीवार से लग गई, वह संभल गयी और बोली- तुमने यह क्या कर दिया?मैं बोला- वही किया जो तुम चाहती थी!वो बोलने लगी- यह गलत है, अभी मैं कुछ नहीं करने दूंगी. कह रहा है पेट में कुछ दर्द सा है और बुखार जैसा लग रहा है, तो मैंने भी उसे छुट्टी के लिए कह दी और कहा है कि दवाई ले लेना.

क्या न करूँ?” दिनेश उसके साथ खेल रहा था, वो उससे गन्दी बातें बुलवाना चाहता था क्योंकि एक औरत सिर्फ उससे ही खुलती है जिसका लन्ड उसकी फुद्दी को खोलता है।यही जो… आप कर रहे हो. मैं उसे समझाने लगा कि बस 2 मिनट का दर्द है बाबू, इसके बाद मजा ही मजा. निशा ही क्यों? कहानी सुना रहे हो कि खुद बना रहे हो?”सुनाऊं या बनाऊं, तू सुनने से मतलब रखना.

उस सहेली ने पूछा- तुम्हें चाहिए?संजना ने कहा- हाँ।इस तरह से एक कॉल बॉय का नंबर हमारे पास आ गया, संजना ने उसका नंबर अपने फ़ोन में सेव किया और उसे व्हाट्सएप पर मैसेज किया. रोशनी ने जैसे ही चिल्लाने की कोशिश की, उसके मुँह में बाम से भरा रस टपकने लगा. कुणाल ने आंटी को किस करते हुए कहा- आपने याद किया तो शैतान हाजिर है आंटी.

जवान लड़कियों के बीएफ मैंने प्रिया के निप्पल को मुंह से निकला और प्रिया के वक्ष से ज़रा सा परे उठ बैठा तो प्रिया को यह बिल्कुल भी पसंद नहीं आया और तत्काल प्रिया ने नाराज़गी की सिलवटों भरे माथे सहित मेरी और देखा. मैंने चाची को डॉगी स्टाइल में होने को कहा, तो वो झट से गांड उठा कर कुतिया बन गईं.

एक्स एक्स एक्स बीएफ इंग्लिश एचडी

कैसे हो? ज्यादा देर इंतजार तो नहीं करना पड़ा?अवी- नहीं बाबू, तुम्हारे लिए इंतजार कैसा और तुम बताओ. मैंने बहुत कोशिश की कि उसके लिए ऐसा न सोचूँ, पर वो थी कि मेरे दिमाग़ से उतरती ही नहीं थी. लंड के रास्ते इतना ज़्यादा मजा मुझे कभी नहीं आया था इतना उस समय दूसरे धक्के में आया क्योंकि पहले धक्के में मुझे भी बहुत दर्द हुआ था.

एक मत से यह भी निर्णय हुआ कि अपनी सोसाइटी में सीसीटीवी भी लगवा लिया जाए. आप आ गए?फिर वो उठी और उसने अपनी ब्लैक कलर की पैंटी को उठा कर पहन लिया. सेक्सी करता हूंमैं मानता हूँ, कोई भी लड़का या लड़की खुद को कितना भी शरीफ और सभ्य दिखाता होगा लेकिन वासना सभी के मन जन्म लेती है.

पिंकी अपनी स्कर्ट आधी खोल के झुक गई और बोली- उसके आने से पहले एक बार मुझे जल्दी से चोद दो.

मैं थोड़ी देर रुका रहा, फिर जब वो खुद ही नीचे से धक्के देने लगीं तो मैंने भी स्टार्ट कर दिया. वो अपने होंठों पर जीभ फेरते हुए बोलीं- इतने दिनों बाद एक जवान देसी लंड का माल पीकर मजा आ गया.

मेरी इंडियन सेक्स स्टोरी उस समय की है जब मैं अपनी बुआ के यहाँ उनकी जेठानी की लड़की के विवाह हेतु हाथरस आया था. फिर भाभी ने सोफा की ओर इशारा करते हुए कहा- इसे यहां और उसे इस तरह लगाना है. ”जैसा कल्याणी ने बोला, मैंने कल्याणी का मुँह में मुँह चिपका कर एक धक्का पेला.

ठीक इसके बाद मैं नीचे बैठ कर कल्याणी की चुत को चाटने लगा और दाने को दाँत से खींच कर हौले से काटता भी जा रहा था.

स्लेटी रंग के फूलों वाले प्रिंट की लॉन्ग फ्रॉक पहने मंजरी बहुत खूबसूरत और सेक्सी लग रही थी. ठीक है अदिति बेटा… एज यू लाइक!” मैंने कहा और अपना जिस्म ढीला छोड़ दिया. वीडियो में वो और अकीरा दोनों ही पसीने से लथपथ हो चुके थे, वो थक कर बैठ गया और हल्का पेग बनाया, उसका लन्ड अभी भी अकीरा की चूत में ही था.

सनी लियॉन की क्सक्सक्स वीडियोउसकी ड्रेस उसकी बॉडी से थोड़ी सी फिट थी और उस फिटिंग ड्रेस में वो क़यामत लग रही थी. पूरे डेढ़ साल बाद मैंने अपनी कामुकता से भरपूर बहू की चूत की चुदाई की थी.

सेक्सी सेक्सी बीएफ बीएफ एचडी

वो नॉनवेज माँस मच्छी सब खाते हैं, तो बोलो क्या कहती हो? उसे कल बुला लूँ?मैंने मन मार कर हां में सर हिला दिया, पर मन में कुछ घबराहट सी महसूस हो रही थी. और अनुभवी होने के नाते मुझे पता था कि इस नई उम्र के लड़कों में काम-शक्ति बढ़ने लग जाती है।मैंने कहा- आगे से नहीं करना. मैंने कुछ नहीं कहा, तब उसने फिर से पूछा- क्या मैं तुम्हें पसंद नहीं हूँ?मैंने कहा- तुम तो बहुत सुंदर हो, तुम्हें तो कोई भी अपनी जीएफ बनाना चाहेगा.

क्यों न हम लोग बीच पर घूमने चलें।मुझे भी उसकी बात अच्छी लगी और हम दोनों कलंगुट बीच पर आ गए।बीच का मौसम वाकयी बहुत सुहावना था। हम दोनों ने एक रेस्टोरेंट पर जाकर बैठ गए और नाश्ता करने लगे।सामने समुद्र के किनारे बड़ी रंगीनी थी. मेरे फ्रेंड्स इतने ज्यादा हैं कि कोई ना कोई फोन या मैसेज करता ही रहता है. उसने धीरे से गोलू की मुर्झायी हुई भिन्डी को अपनी आंख बंद करके चूसा.

उसने मुझे पूछा कि आज आप जल्द आ गए?तो मैं बोला- हां, आज बॉस नहीं आया था इसलिए बस आ गया. मगर मुझमें अब और सब्र नहीं बचा था, मैंने उनके हाथों को पकड़ लिया और थोड़ा जबरदस्ती से उनके हाथों को हटा कर उनकी नंगी चूचियों पर टूट पड़ा… जो एक बड़े से आम की जितनी तो रही होगी. होम थियेटर की वजह से आवाज चाहे जितनी भी करूँ, उस रूम के बाहर नहीं जाती थी.

फिर वर्षा में कुछ जान आई और कुछ उस कैप्सूल का भी असर दिखाई दिया, उसकी सांसें तेज होने लगीं. शुरू में उन्हें रात में सुबह, मैं बिस्तर छोड़ने से पहले बोनस चाहिए होता था, अगर दोपहर में ऑफिस से आ जाते तो उस समय की भी बोनस चुदाई.

शहजाद- हल्लो नसीम!मैं धीमी और कांपती आवाज में बोली- हां शहजाद कहिए?शहजाद- क्या हुआ संजय खाना खाने के लिए नीचे उतरा या नहीं?मैंने सुकून की सांस ली कि शहजाद को कुछ पता नहीं चला था.

पिंकी ने रोशनी के फिगर को नोट किया- क्या बात है रोशनी दीदी, आखिरकार सर ने उनकी ताकत तुम्हारे जाँघों और पुट्ठों में भर ही थी. क्सक्सक्स वीडियो विलेजइसका मतलब था कि दीदी अब पूरी तरह से मस्त हो चुकी थी।मैं पूरी तेज़ी से चूत में उंगलियों को अंदर बाहर करने लगा और साथ ही दीदी के एक बूब को चूसने लगा. देहाती नंगा वीडियोभाभी ने उनसे कहा कि समीर ने दिन भर बहुत मदद की है, इसकी आज पढ़ाई भी ठीक से नहीं हो पाई होगी. यही सोचते हुए कि चलो आज भाग गई कल सुबह तो आएगी ही, यही सब सोचते हुए मैं सो गया.

मैंने फटाक से अपने होंठ उनके गुलाबी होंठों पे रख दिये उन्होंने तपाक से अपनी जीभ मेरे मुँह में घुसा दी और मेरी जीभ की तलाश करने लगीं.

नहाते समय मैंने सोचा कि वैसे भी मैं वरुण के सामने कपड़े बदल लेती हूँ तो क्यों नहीं आज टॉवेल पहन कर ही बाहर आ जाती हूँ. मैंने अंजलि के होंठों को अपने होंठों में दबाया और अपनी उनकी उसकी चूत में फिराने लगा, उंगली से उसकी चूत कुरेदने लगा. उन्होंने कहा कि हो तो पूरी बॉडी में रहा है, मगर तुम जहाँ भी लगा पाओ.

’ बोल कर पदमा के मुंह में घुसा दिया, जिससे उसकी आवाजें भी बंद हो गईं. मैं एक वीक बुआ के यहाँ रुका और रोज़ हमने ओरल सेक्स किया, चुदाई नहीं हो पा रही थी, शायद इसकी वजह हमारा भाई बहन का रिश्ता था. उसकी चुचियां और गांड का शेप देख कर तो मन कर रहा था कि बस उस पर अपना हाथ फिराता ही रहूँ.

सेक्सी बीएफ डॉक्टर का

अवी ने कहा- मेरी जान, वो तुम्हारे लिए ही है, तुम्हारे लिए ही लाया था. फ़िर मैंने अपना लंड उनकी चूत के अन्दर डालने की कोशिश की, मगर नहीं गया क्योंकि मेरा लंड कुछ ज्यादा मोटा और लम्बा है. मुझे हल्की हल्की नींद आने लगी थी तो भाभी ने मुझसे बोला- एक जादू दिखाऊं?तो मैं बोला- दिखाओ.

उन्हें देख मेरा हाथ भी अचानक मेरी पेंटी के अंदर चला गया, मैंने भी उस समय सिर्फ एक छोटी टीशर्ट और पेंटी पहनी हुई थी, जिसमें मेरी पेंटी साफ दिख रही थी।तभी रानी की नजर मुझ पर गई और वे दोनों बैठ गए, रवि का लण्ड खड़ा हुआ था.

शावर चालू करके जैसे ही माया के बदन पे ठंडा पानी पड़ने लगा, उसे अच्छा लगने लगा.

फिर मेरे दोनों हाथों को लेकर अपने मम्मों पर रख कर अपने हाथ को पीछे ले जा कर मेरा लंड पकड़ लिया. मेरे पड़ोस में एक भाभी रहती हैं, उनका नाम पायल है और उनका फिगर 36-30-38 है. सेक्सी वीडियो सॉन्ग भोजपुरीमुझे किशोर पर बहुत गुस्सा आने लगा, मैं बोली- यहाँ क्या खैरात बंट रही है? तुम उसे मना कर दो, मैं उसे कुछ भी करने नहीं दूंगी, वो मेरे बाप जितना है, बाप समान है!वो बोला- एक बार की तो बात है, तुम्हें कुछ फर्क नहीं पड़ेगा.

भाभी के ब्लाउज के सारे बटन एक झटके में खुल गए और दो बटन टूट कर भी ज़मीन पर बिखर गए. पर मुझे तो उनके बदन पर हाथ लगाने का नशा हो गया था, मैं फिर उनसे चिपक कर उनके मम्मों पर हाथ लगाने लगा. फ़िर बहन ने मेरा हाथ अपनी चुत पे रख दिया और मुझे अपने ऊपर खींच कर मुझे चूमने लगीं.

वो पूरी तन्मयता से अपनी जीभ को कामिनी की चुत में अन्दर बाहर करने लगा. अगले दिन प्रोपोज़ डे था तो मैं रोज लेकर भी गया और आज वो रास्ते में भी नहीं मिली.

आधी रात बीतने को थी; कभी कभी विपरीत दिशा से आती कोई ट्रेन हमें क्रॉस करती हुई निकल जाती.

क्या भैया से कटवाने के बाद से जंगल खड़ा कर लिया?सुकुमारी भौजी ने कराहते हुए कहा- इस चैत(होली के बाद का महीना) में तोसै (तुझसे) झांटें कटवाऊँगी. मेरा लैंड अपन कपड़ों की तह के साथ बिल्कुल उसकी चूत के ऊपर चुभ रहा था. यानि सैंडल, ड्रेस, ब्रा एंड पैंटी, नेलपॉलिश, लिपिस्टिक, पूरा मेकअप का सामान मतलब सब कुछ था, जो कि लड़की को जरूरत पड़ती हैं.

गांव की सुहागरात वीडियो अब मैं भाभी की जाँघों पर बैठकर उनकी गांड को दोनों हाथों से चौड़ी करने लगा. फिर मैंने उसे नीचे लिटाया और उसके मम्मों पर चॉकलेट लगा कर उसके मम्मों को चाटने लगा.

जैसे मैंने अपनी जीभ उनके निप्पलों पर फिराई, उनके मुँह से आह निकल गई और वो मेरा मुँह वहाँ से हटाने लगीं. मैं बस कराह भरी सिसकारियां और आहें भरते हुए चुदाई का आनन्द ले रही थी. क्यों न हम लोग बीच पर घूमने चलें।मुझे भी उसकी बात अच्छी लगी और हम दोनों कलंगुट बीच पर आ गए।बीच का मौसम वाकयी बहुत सुहावना था। हम दोनों ने एक रेस्टोरेंट पर जाकर बैठ गए और नाश्ता करने लगे।सामने समुद्र के किनारे बड़ी रंगीनी थी.

बीएफ चालू वाली

दीदी के आने से मैं खुश तो था लेकिन मम्मी के लिए दुखी था क्योंकि अब मम्मी का चलना मुश्किल था दो महीने के लिए. यह सुन कर रमेश, सुरेश और काजल को मयूरी पर बड़ा ही गर्व महसूस हुआ और उन्होंने राहत की साँस ली. मेरे पास खिसक आने से बहूरानी की जांघें खुल गयीं थीं और उसकी पैंटी में से चूत की झलक दिखने लगी थी.

मेरी नज़रें महेश से मिलीं, वो बार बार मुझे लंड चूसने को बोल रहा था, मगर मुझे उससे घिन आ रही थी. रज़ाई एक ही थी काफ़ी बड़ी थी। रात को सोने से पहले मैंने सबको फोन करके बता दिया कि हम दोनों होटल में रुके हैं.

दोस्तों ये मेरी पहली पोर्न कहानी थी, आपको अच्छी लगी हो तो मुझे जरूर बताना आपके मेल का इन्तजार करूँगा.

मैंने कल्याणी की दमदार गोल गोल कसी हुई चूचियों को मुँह में ले के चूसना शुरू कर दिया. सो जल्दी से नहाने घुस गए। थोड़ी देर में मैं नहा-धो कर तैयार हो गया था।मैं कमरे से बाहर निकला और मैंने मधु को आवाज दी. दोनों पति पत्नी रोपड़ के रहने वाले थे और दोनों काम की तलाश में चंडीगढ़ आए थे.

उसके दोनों हाथ मेरे पीठ पर नाखून चुभते रहे और धीरे धीरे मैंने उसे दीपक भैया के बेड पर लेटा दिया. मैंने पीछे से एक हाथ की उंगलियों से बड़े प्यार से उसकी निप्पल को सहलाया, दूसरे हाथ की उंगलियों से उसकी क्लिट वाली लुल्ली पे घुमाने लगा. अब इस बात से मुझे डर लगने लगा कि क्या बात है, पर वो गेट कीपर के पास गया और कहा कि कोई भी मुझे पूछे तो कह देना कि बाहर गए हैं.

वे मेरे ऊपर चढ़ बैठे, औंधे हो गए मेरी टांगें अपने हाथ से दूर दूर कीं और गांड में पेला हुए लंड पूरा जड़ तक पेल दिया.

जवान लड़कियों के बीएफ: मैंने थोड़ा सा जोर लगाया तो जैसे ही मेरा सुपारा अन्दर गया, उसकी चीख निकलने को हुई, पर मेरे होंठों में ही दबी रह गई. कहानी का पहला भाग :मुझे किस किस ने चोदा-1मेरी सेक्स स्टोरी हिंदी के पिछले भागमुझे किस किस ने चोदा-4में अब तक आपने पढ़ा किउसी समय भाभी के पापा बोले- समधी साहब, आप दोनों के बीच में हम लोगों की भी कोई जगह है कि हम लोगों को भूल गए?पापा बोले- आप नहीं होते तो मैं आरती को कैसे मिलता.

मैंने भी थोड़ा संभलते हुए रुकना ठीक समझा और उसके होंठों पर आराम से किस करने लगा. फिर मेरी छोटी सी कमर को पकड़ कर वह वैसे ही कमोड पर मुझे झुकाए मेरी चूत चोद रहा था. उन्होंने खुद मेरे लंड को अपने हाथों से अपनी चुत के छेद पर सैट किया और मुझसे बोली- अब लगाओ धक्का.

दीदी- देखो सन्नी, ये ग़लत कर रहे हो तुम, बात सिर्फ़ लंड चूसने की हुई थी और अब तुम…मैंने दीदी को बीच में ही चुप करवा दिया- दीदी मैं समझ सकता हूँ कि आप क्या बोल रही हो, लेकिन डरो नहीं, मैं कुछ नहीं करूँगा, मैं तो बस हल्की सी मस्ती कर रहा हूँ, बाकी का काम मैं आपकी मर्ज़ी के बिना नहीं करूँगा.

फिर मैं शाम तक नीचे आ गई क्योंकि बच्चों के स्कूल से आने का वक्त हो गया था. संजय ने एक ही झटके में अपना 7 इंच लंबा और मोटा लंड मेरी चुत में डाल दिया. उधर वो आईटम उसी भाव में मस्ती से गांड उठा उठा कर फसल की कटाई कर रही थी.