बीएफ फिल्में मूवी

छवि स्रोत,தமிழ் ஆன்ட்டி வீடியோ செக்ஸ்

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ एचडी हिंदी वीडियो: बीएफ फिल्में मूवी, मुझे मालूम नहीं कि वो अपनी तन की भूख कैसे शांत करती होगी, क्या पता कई बार शराबी ग्राहक भी उसकी चूत की प्यास को बुझा देते होंगे.

सेक्सी पिक्चर ओपन सेक्सी पिक्चर ओपन

मेरी सेक्सी कहानी के पिछले भागबॉय से कॉलबॉय का सफर-2में अब तक आपने पढ़ा. सेक्सी वीडियो सेक्सी ब्लू पिक्चरअंत में जज से कहा कि कानूनगो साहब अगर मयूर के पक्ष में बयान दे देंगे, तो उसकी नौकरी बच जाएगी.

अब दीदी चेयर पर बैठी हुई फोन को स्पीकर पे डाल कर प्रीति की चुदाई की स्टोरी को सुन रही थी और अपनी चुत को सहलाए जा रही थीं. मोटी औरत की चुदाई हिंदी मेंदोस्तो, मेरे दूध बहुत सेक्सी हैं… बड़े बड़े, गोल गोल, मुलायम और बेहद नर्म.

बहुत अच्छा सिंगर और बांसुरी बजाने वाला भी हूँ। मेरी इस योग्यता के चलते हर महीने लड़कियों के प्रोपोजल मुझे आते हैं और मैं अपने हिसाब से जो आसानी से चोदने मिले ऐसी लड़की को ही ‘हाँ’ कर देता हूँ।थोड़ा सा अपने बारे में बता कर कहानी शुरू करता हूँ। मैं एक बहुत सुन्दर और हैंडसम लड़का हूँ। मेरे लंड का साइज औसत से बड़ा है और कसम से दोस्तों.बीएफ फिल्में मूवी: पर अब फिर से दीदी ने आँखें खोलीं और फिर बोलीं- राहुल ये सही नहीं है.

जैसे ही हम रूम में पहुंचे तो मैंने उन्हें पीछे से पकड़ लिया, अचानक हुई इस हरकत से वो सहम गईं- क्या कर रहे हो ये.मेरी नजर उसकी जांघों के जोड़ पर यानि जहां बुर होती है, वहां थी, लेकिन अंजलि की बुर पैंटी से ढकी हुई थी.

गांड की सेक्सी - बीएफ फिल्में मूवी

इसी कारण से जब भी मैं लड़की बनता तो अपने मम्मों को भी दबा लेता था और नितंबों को भी दबाता था.दो मिनट बाद मैंने अपना लंड उसकी चूत में से निकाला तो उस पर खून लगा हुआ था.

आज मुझे भी इसी बात का अहसास था कि आज भाभी की चुत मेरे लंड का पानी पिएगी. बीएफ फिल्में मूवी थोड़ी देर में मैं ऐसे ही सो गई।जब सुबह मेरी नींद खुली तो मैंने देखा कि जमाई जी मेरी बगलमे नागे पड़े सो रहे थे.

मेरी सेक्सी कहानी के पिछले भागबॉय से कॉलबॉय का सफर-2में अब तक आपने पढ़ा.

बीएफ फिल्में मूवी?

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार और सभी चुदी/अनचुदी पाठिकाओं की चुत को मेरा और मेरे लंड का ढेर सारा प्यार. उसके नाख़ून मेरी बाँहों में घुसे जा रहे थे- राजे ले जा मुझे आसमान की सैर पर… कस कस के ठोक… मर्दन कर दे मेरे बदन का. अब आगे:मम्मी अजय को कंधों से पकड़ कर खींच कर बोली- साले अनीता के पीछे पीछे भागता रहता है, आज मुझे भी अपना दम दिखा।यह बोल कर मम्मी ने अपने होंठ अजय के होंठों से लगा दिए और चूमने लगी.

उनको थोड़ा बहुत दर्द हो रहा था क्योंकि उनकी बहुत महीनों से ऐसी चुदाई नहीं हुई थी. वो बोली- नहीं मुझे तुझसे जरूरी बात करनी है, अभी चल मेरे साथ चाय का तो बहाना है. मैं थोड़ी देर में उसके घर पहुंच गया और नाज़ को देख कर वापस जाने का नाटक करने लगा तो जूही ने मेरे को रोकते हुए कहा- आ गए हो तो चाय पी कर चले जाना!और वो चाय बनाने के बहाने किचन में चली गयी.

वो उससे गले लग कर मिला और दोनों ने जी भर के किसिंग की, बिना सोचे कि मैं भी वहाँ पर हूँ. मम्मी पापा मेरी नानी के यहाँ गए हुए थे क्योंकि नानी की तबीयत खराब थी. मैं तड़पने लगी- जान… ऐसे क्यों पी रहे हो… रुको, तुमको असली मजा देती हूँ.

ड्रॉइंग रूम में केक को टेबल पर रख दिया और निशा के लौटने का इंतजार करने लगा. फिर उसकी पीठ पे हल्के हल्के जीभ फेरने लगा और उसकी पिछाड़ी तक आते हुए उसको चूमने लगा.

अगले दिन सुबह नाश्ता के वक़्त मैंने उसकी तरफ देख कर एक स्माइल दी, तो वो थोड़ा शरमा गई.

जब हम उसके रूम में पहुँचे तो मैंने उससे नेहा की मुलाकात करवाई और यह कहा कि यह मेरी सबसे अच्छी फ्रेंड है और इससे मैं कुछ भी नहीं छुपाती, यहाँ तक कि मैंने आपके साथ कल रात में क्या क्या किया, वो भी इसे बता दिया है.

अब मैंने दिव्या के कपडे उतारने शुरू किये, उसे पूरी नंगी किया और बिस्तर पर लिटा कर उसके ऊपर आ गया. मेरा 7 इंच लंबा ओर 2 इंच मोटा लंड अब मेरी जान की चुत में जाने के लिए तैयार था. फिर मां की चूत पर थूक लगाकर अंकल के एक दोस्त मां की चूत में अपना लंड घुसाने लगे.

पारुल बोली- मेरा एक पैग और बनाओ!लेकिन इस बार मैंने अपना नहीं बनाया क्योंकि मुझे गाड़ी भी ड्राइव करनी थी. मैंने उसके मम्मों को उसके साड़ी से और उसके ऊपर के ब्लाउज से अलग कर दिया और फिर मैंने देखा. और मेरी नजार अंजलि की स्कर्ट के नीचे से दिख रही उसकी नंगी गोरी चिट्टी चिकनी टांगों पर ही थी.

मैंने उसको बेड ले ज़बरदस्ती लिटाया और उसकी गांड में आयिल लगा कर दबाव दे कर उसकी गांड में लंड का सुपारा फंसा दिया, वो फिर दर्द से शोर करने लगा.

दीदी ने मेरे बालों को पकड़ कर अपने चूचों पर दबाना शुरू कर दिया। अब मैंने नीचे खिसकते हुए दीदी को पेट पर चाटना किस करना शुरू किया, दीदी बार बार ‘स्स्स धीरे करो न आर्य… प्लीज स्स्स हल्के से…’ प्लीज बोल रही थी।मैंने दीदी की गोल नाभि में अपनी जीभ डाल कर घुमाना शुरू कर दिया. और मुँह से ‘अहह…’ निकल गई।मुझे उसके आंड अपने चूतड़ों पर टच होते फील हो रहे थे। उसका पूरा लंड मेरी गांड में समा गया था। मुझे उसका लंड उसके शुक्राणु से भरा हुआ फील हो रहा था।उसने दो मिनट के बाद लंड बाहर निकालना शुरू कर दिया। मेरी आँखें पानी से भर गईं। मैंने अपना मुँह पूरा तकिए पर दबा दिया। उसने धीरे से अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया।मैंने रोते हुए कहा- रुक जाओ रवि. मेरी साली पीछे घूम गई और प्लेटफार्म पर हाथ रख के गांड पीछे के तरफ से उभार दी.

साला जिन मम्मों को कल तक मैं ऊपर से देख कर लंड हिलाता था, वो आज खुद मेरे पास में खड़ी होकर मुझे दूध पिला रही थी. गांड थोड़ी खुल गई थी।उसने धीरे से अपना लौड़ा अन्दर बाहर करना शुरू किया। मेरी गांड अन्दर से गर्म हो चुकी थी, मैंने रोते हुए कहा- ओह. लौटा तो मेरी बीवी उसके एकदम बगल में बैठी थी, मैं जैसे ही आया, उसने मेरे हाथ से बोतल ले ली, बोली- ये लीजिये सर! आ गई.

वो भी इतनी गरम हो गई थी कि जैसे ही मेरे होंठ उसकी चुत को चूमते, वो अकड़ जाती.

अब पैंटी पूरी बीच में से कट चुकी थी लेकिन दोनों टांगों में फंसी हुई थी. ऐसा करते समय हम दोनों कुछ देर के लिए सांस भरने पानी से बाहर सर करते और एक दूसरे को वासना से देखते हुए फिर से पानी के अन्दर घुस जाते.

बीएफ फिल्में मूवी उस लड़के ने इस दौरान मेरी साली के चूतड़ों को सहलाना चालू कर दिया था, वो भी जैसे अब हवस में पागल हो गया था. ऐसे हमने बोतल तो निकालीं लेकिन बुआ ने भी नोटिस कर लिया कि मैं तैयार हूँ.

बीएफ फिल्में मूवी वो बिस्तर पर गिरते ही किसी गेंद की तरह उछलीं और वापस बिस्तर पर गिर गईं- यू आर वाइल्ड…भाभी अपनी आवाज़ को तीखी करके बोलीं. मैं यहाँ किसी रिश्तेदार के घर पर रह रहा हूँ और मैं उनके आँगन में सोता हूँ.

मैं अपने लिंग-मुंड को वहीं अटका छोड़ कर प्रिया के ऊपर लम्बा लेट गया.

छोड़ा छोड़ि सेक्सी

उसने मुझसे रास्ते में पूछा- कौन सा फ्लेवर लूँ?मैंने मुँह बनाते हुए कहा- मत लो. मुझको नंगा देख कर दोनों जोर जोर से हंसने लगे, बोले- बड़ा चिकना है रे तू तो!पहला वाला दूसरे से बोला- देख, मादरचोद को… इसकी गांड कितनी चिकनी है लौन्डियों की तरह!मैंने कहा- प्लीज, जाने दीजिये. वैसे तो उनकी उम्र 35-36 साल थी मगर वो बहुत खूबसूरत और पूरी हट्टी कट्टी भरी हुई दिखती थीं.

तो भाभी बोली- ऐसी बात है तो ले आओ, मैं साथ दे दूंगी!मैंने पूछा- सच बताइये, आप पियेंगी?तो बोली- आज तुम जो पिलाओगे वो पियूँगी!मैंने वेटर को फ़ोन किया और उसको 500 का नोट दिया और अपने रूम में 4 बीयर लाने को बोला. काव्या जागी तो खुद को नंगी देख कर वो एकदम से थोड़ा शर्मा सी गयी लेकिन मैंने उसे अपनी बांहों में जकड़ लिया और चूमना चाटना शुरू कर दिया. उसने चूत और मम्मों को छिपाने के लिए स्काई ब्लू रंग की छोटे से पैंटी और ब्रा पहनी हुई थी.

फिर पंकज नीचे लेटा और रेखा पंकज का लंड गप्प से मुँह में लेकर चूसने लगी.

मैंने समधी जी को नाश्ता दिया और उनके बगल में बैठ गयी, उनसे बातें करने लगी।वो मुझसे बोले- समधन जी, आप तो आज भी जवान हो!मैंने खुश होकर उनसे कहा- क्यों आप जवान नहीं हो अब क्या?वो हँसने लगे. उसने कहा- मैं तुम्हारे बारे में ऐसा कुछ नहीं सोचती, पर तुम मेरे बहुत अच्छे दोस्त हो. मेरी नजर उसकी जांघों के जोड़ पर यानि जहां बुर होती है, वहां थी, लेकिन अंजलि की बुर पैंटी से ढकी हुई थी.

कुछ देर बाद हम दोनों उठे, मैंने देखा आंटी की गांड में से खून निकल रहा था. उसकी 38 साइज़ की ब्रा में उसके चूचे मेरे लंड को स्टैंडिंग पोजीशन में ही बनाए रहते थे. यह सुन कर वो बोला- अगर आप मेरी कोई सहायता करना चाहती हैं तो मेरी बहन बन कर कर सकती हैं.

मैंने उसको उसके और मेरे घर वालों से छिपा कर एक मोबाइल दिया और उससे कहा कि अभिलाषा मैं रोज तुम्हें इस पर कॉल किया करूँगा. उसने मुँह को हटाने का प्रयास किया, पर मैंने उसका मुँह पकड़ कर सारा का सारा माल उसके मुँह में डाल दिया.

जैसे ही मैं उसकी तरफ घूमा, वो बोली- क्या हुआ भैया?मैंने कहा- तुम बाहर क्या कर रही हो? तुम्हें घर में सोना चाहिए था. मैं- इसका मतलब ये हुआ कि जब भी आपके पति घर पर नहीं होंगे, हम देर रात तक बातें कर सकते हैं?माँ- हां… कर सकते हैं. वो कहने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… देवा, इसे निकाल दो… बहुत दर्द हो रहा है.

उसमें नंगी वीडियो दिखी, तो आंटी सेक्सी वीडियो देख कर हैरान हो गईं और मेरे सामने ही फिल्म देखने लगीं.

उसके पुष्ट स्तन मेरे सीने से दब गये और मैंने अपनी बाहों का घेरा उसके गिर्द कस दिया. तभी उन्होंने मुझसे कहा- भैया की बात का बुरा मत मानना, पहली बार था इसीलिए भैया के सामने नंगी हो जाती तो उन्हें बुरा लगता. उसके आने के बाद भी हम दोनों एक दिन चुदाई कर ही रहे थे कि वो कमरे में आ गई.

मैंने पैंटी नहीं पहनी थी तो मेरी चूत नंगी सामने आ गई जिसे जमाई जी शीशे में देख रहे थे. कॉलेज खत्म हुआ और मैंने परमिट शॉप से जाकर एक वोद्का की बॉटल ले आया.

आपको माही की गांड चुदाई की कहानी में अगले सेक्स स्टोरी में बताऊंगादोस्तो, इस चुदाई की कहानी में सभी नाम कल्पनिक हैं, लेकिन कहानी असली है. दीदी की हंसी के साथ दीदी के चूचे भी ख़ुशी के मारे उछलने लगे… उफ़ मन कर रहा था स्क्रीन में से ही खा जाऊं. मैंने उनको उल्टा किया और टांगों को बिस्तर से नीचे करके खुद नीचे आ गया.

लड़की के वॉलपेपर

मुझे देखने के बाद पहले तो वह खुश हो गई लेकिन जल्द ही उसने अपना गुस्से से भरा चेहरा दिखाया।स्वाति बोली- तुम मुझे छोड़ कर कहाँ गए थे?मैं – यार मुझे लगा कि कोई आ रहा है तो मैंने साईट बंद कर दी थी.

भाभी बोली- यार प्लीज, मेरा भी उधर ही कुछ जुगाड़ करवा देना, इधर मैं सो नहीं पाऊँगी, बहुत भीड़ है, रात भर ट्रेन में भी ठीक से नहीं सो पायी और सुबह से तो तुम देख ही रहे हो!भाभी भी दिल्ली से आज सुबह ही पहुची थी. साथ ही प्रिया की आँखें उलट गयी तथा वो निष्चेष्ट सी हो कर मेरी बाहों में झूल गयी. सच में तुम दोनों के लन्ड मुझे छोटे लग रहे हैं। फिर भी जोर से चोदो तुम दोनों कुत्ते पूरा का पूरा अपना अपना लन्ड मेरी गान्ड और चूत में घुसा दो, फाड़ दो मेरी चूत और गांड दोनों, अगर दम है तो!मैंने जो भी सेक्सी कहानियों में पढ़ा था वो सब अपने आप मेरे मुंह से निकलने लगा.

खैर ये मेरा काम नहीं है, उसने भी तुम्हें लाने के लिए पूरी मेहनत की थी. मैंने पूछा- मैं बिना किसी को बताए क्यों आऊं?सर ने कहा कि तुम अगर अपनी माँ को बताओगी तो वो तुम्हें आने नहीं देंगी और अगर तुम नहीं आओगी तुम्हारा काम 35 हो जाएगा. नौकर मालकिन सेक्समैंने अपनी जीभ से उसकी भगनासा को चाटा तो वो काम्प उठी और मेरा सर चूत पर दबाने लगी.

फिर हमने एक दूसरे के नंबर्स एक्सचेंज किए और उसके बाद से ऑफिस कैंटीन में भी बात होने लगी. अब जब भी निशा का पति बाहर जाता, मैं उसका पति बन जाता और हम सेक्स का आनन्द लेते.

इससे आगे मैं कुछ बोलता, तो उसने रोक दिया और बोली- अब तो मिलना ही पड़ेगा. मेरा शरीर तो लंड का साथ दे रहा था पर मस्तिष्क विरोध करते हुए कहने लगा कि भैया ये क्या कर रहे हैं?वे शरारत से पूर्ण मुस्कुराते हुए बोले- आपने ही तो गरमा गरम खाने पर बुलाया है और पूछ रही हैं कि क्या कर रहा हूँ. जल्दी ही उनमें से एक ने हिम्मत दिखाई और मेरे कूल्हों से अपनी जीन्स सटा दी.

दीदी एकदम मस्त हो चुकी थीं, अपनी आँखें बंद करके बस अपनी चुत की रगड़ाई का मज़ा ले रही थीं. अन्तर्वासना के पाठक एवं पाठिकाओं से निवेदन है कि अधिक से अधिक मेल करें. जिसे सुन कर मेरा लंड अन्डरवियर के अन्दर ही कुतुबमीनार बना जा रहा था.

कुछ देर बाद वो चुत के होंठों को खोल खोल कर दिखाने लगी, जो मुझे भी दिख रहे थे.

धीरे धीरे… मेरी पसलियाँ टूट जायेंगी इतनी ताकत से तो!” बहूरानी अत्यंत कामुक स्वर में बोली और उसने मेरे चौड़े सीने में अपना मुंह छुपा लिया और वहीं चूमने लगी. मैं जैसे ही स्टेशन की तरफ घूमा, एक मैसेज आया- कॉल मत करना, मैसेज से बात करो मेरे पति घर में ही हैं.

इसलिए मीडिया वाले कहने लगे कि कानूनगो ने मोटी घूस लेकर गरीब लोगों के हिस्से वाले मकान अमीर लोगों को बाँट दिए. आंटी को लगा कि आज वो बहुत दिन बाद मिली है इसलिए उसको ऐसे तड़पा कर चोद रहा हूँ. अचानक मैंने अपने 8 इंच का तना हुआ लंड उनके चूतड़ों के बीच में लगाया और गांड की दरार में गाड़ने लगा.

वह तरह तरह की आवाजें निकालने लगी अह अह उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह्ह्ह्ह्ह् इस्स्स्स्स्. बाहर एक बच्चे को दिखाते हुए बोली- ये मेरा छोटा बेटा है, बड़ा दिल्ली में है, वो नहीं आया. उसको मजा आने लगा और वो जोर जोर से आहें भरने लगी, लेकिन कमरे के अन्दर होने की वजह से उसकी आवाज बाहर किसी को नहीं सुनाई दी.

बीएफ फिल्में मूवी मैंने समझाया कि जिस तरह का दर्द पहली चुदाई में होता है, वैसा ही होगा और फिर मज़ा भी बहुत आएगा. मैंने नोटिस किया कि रोशनी पिंकी को साइड में ले जाकर उससे कुछ बात कर रही थी.

ललिता भाभी की

घर पर बोल आना कि ऑफिस के किसी काम से बाहर जा रही हूँ और अगले दिन शाम तक ही आ पाऊंगी. मैंने उनकी चुत का नमकीन पानी गटक लिया और भाभी की पकड़ ढीली पड़ने लगी. हमने साथ में खाना खाया, पर रोशनी के चेहरे पे कुछ टेंशन सी लग रही थी.

मुझको कुछ गड़बड़ लगा, फिर दिल मानने को तैयार नहीं हुआ, मैं गाड़ी के पीछे पीछे चलने लगा. पूजा चिल्लाई- उई माँ मर गई माँआआअ…मुझे लगा कि अगर छोटी भाभी ने चीख सुन ली तो प्रॉब्लम हो जाएगी. नंगे ब्लू फिल्मफिर मेरी बीवी ने अपने हाथ से दोस्त का लंड पकड़ कर अपनी चुत के छेद पर रखा और कहा- धक्का मारो.

मैंने लंड उसकी गांड से निकाला और एक टांग हाथ में लेकर उसकी चुत में शॉट लगाने लगा.

वो मेरा पहला अवसर था, मैंने धीरे धीरे मॉम की जांघ पर हाथ रख के सहलाया. करीब 20 मिनट बाद मैंने अपना सारा माल उसकी चूत में ही छोड़ दिया और उसकी ऊपर लेट गया.

मेरी एक मीठी सी चीख भरी सिसकारी निकल गई और मैं उससे और अधिक चिपक गई. उसने ज़ोर से चीखते हुए अपने पूरे शरीर एकदम से टाइट कर लिया और बेतहाशा झड़ने लगी. मैं उसकी चूत पर ऊपर दाने पर लंड का टोपा लगा कर चूत की दरार में ऊपर से नीचे तक ले जाने लगा.

मैं लंड लहराता हुआ बोला- मुँह में लोगी इसे?उन्होंने मना कर दिया, मैंने भी जबर्दस्ती नहीं की और वो मेरे सामने टाँग फैलाकर लेट गईं.

इसके बाद भी काफी दिन नार्मल ही बीते, पर धीरे धीरे अब वो भी मुझे प्यार करने लगी थी. दोस्तो, मैं सैम मलिक दिल्ली से हूँ मेरी उम्र 22 साल की है, हाइट 5 फुट 7 इंच है. इस वक्त अजीब मस्त नजारा था, एक लंड मां की चूत में घुसा था और एक गांड में कबड्डी खेल रहा था.

𝚡𝚡𝚡 𝚑𝚒𝚗𝚍𝚒फिर मैंने भाभी को सीधा कर दिया और उनके होठों को किस करने लगा। कसम से भाभी इतनी गर्म थी, मुझे पता नहीं था. मां ने झट से मेरा हाथ नीचे कर दिया और मैं नींद में होने का बहाना कर लेटा रहा.

बांग्ला सुदा सुदी

आंटी बोलीं- विकी तू ये सब भी कर लेता है?मैंने कहा- हां आप नहीं करतीं क्या?वो बोलीं- मैंने कभी नहीं किया. भगवान् जाने… क्या चल रहा था लड़की के दिमाग में? मैं आहिस्ता से उठा और बैड से नीचे उतर कर फर्श पर खड़ा हो गया. अब प्रीति की आवाज़ साफ़ सुनाई दे रही थी… वो फोन पे अपनी चुदाई की कहानी सुनाए जा रही थी.

खैर अगले दस मिनट तक वो अपना लंड मेरी चुत में हिलाता रहा और फिर से खलास हो गया. हालांकि मैं कोई हीरो नहीं हूँ जो हर लड़की मेरी तरफ भागे और इतना सीधा भी नहीं हूँ जो कोई लड़की देख कर अनदेखा कर दे. एकाध बार उन्होंने मुझे ये भी कहा है कि अनूप तू मेरी जिन्दगी मैं बहुत बड़ी सौगात बन कर आया है और मैं चाहती हूँ कि तू हमेशा के लिए मेरे पास ही बना रहे.

मैं उसकी टी-शर्ट उतारने लगा, पहले तो वह शर्मा रही थी, पर थोड़ा कहने के बाद मान गई. एक दिन मैं उनसे बोली- आप मेरी माँ तो नहीं हैं, मगर होतीं तो मुझे इस तरह से ना चुदवातीं. मुझे अब समझ आने लगा था कि नीला ने मुझसे नदी पर चल कर नहाने के लिए क्यों कहा था.

मेरी तरफ से ग्रीन सिग्नल देखकर उसने अपना पूरा हाथ मेरी पेंटी में डाल दिया और वो मेरे कूल्हे दबाने लगा. अलका रानी के बड़े बड़े चूचुक जैसे ही मेरे मुंह के सामने आये, मेरे बदन में वासना की आग तीव्र से तीव्रतर हो उठी.

हम दोनों यूं ही देर तक चूमा चाटी करते रहे; मैं उसके मम्में नाइटी के ऊपर से ही दबाता रहा और वो मेरी पीठ को सहलाती रही.

सोनी ने कहा- नवीन इधर मम्मी और भाई दोनों हैं, हम आज सब कुछ नहीं कर सकते. एक्स मराठी व्हिडीओये इतना तेज़ धक्का था और इतने बड़े लंड से था कि मुझे खुद लगा कि मैंने अपना लंड किसी नई सील पैक चूत में घुसेड़ दिया हो. डॉक्टर ने पेशेंट को चोदासुन कर चाचा जी फ़ोन पर ही रावण जैसी ऊँची हंसी हंसे और बोले- कोई बात ही नहीं… 5-7 जन और हों तो उन्हें भी ले आओ. कुछ देर बाद वह एक महिला के साथ बाहर आया और बच्चे के बारे में बात करने लगा जिसे सुनकर मुझे समझ आया कि वो जवान मोटे लंड वाला चोदू आदमी अपनी दमदार चुदाई से अपनी बीवी को माँ बना चुका था.

तब आंटी का पूरा संयम खत्म हो गया और बोलीं- मेरे राजा, आज इस प्यार की प्यासी अपनी आंटी को खूब प्यार करो.

मुझे देखते ही वो अपना लंड सहलाते हुए बोला- तुम्हारी माँ बहुत ही मॉडर्न हैं और मुझे लगता है वो तुम्हारे पापा को पूरा मस्त करके रखती होंगी. काव्या जागी तो खुद को नंगी देख कर वो एकदम से थोड़ा शर्मा सी गयी लेकिन मैंने उसे अपनी बांहों में जकड़ लिया और चूमना चाटना शुरू कर दिया. मेरी कहानी है भाई बहन की चुदाई की… मेरे कई मामा हैं, सगे और दूर के रिश्ते के… अलग अलग मामाओं की 3 जवान लड़कियां मैंने चोदी हैं.

मैं दस मिनट ऐसे ही दम साधे पड़ा रहा और इंतजार करने लगा कि आगे क्या होगा. जैसा कि मैंने पहले बताया था कि मेरे चूचे उभरे हुए हैं तो चिंटू कई बार मेरे मम्मों को टच करके भाग जाता था और मैं भी सबके सामने होने के कारण थोड़ा सा विरोध करता कि ये सब ठीक नहीं है. विनय- क्या हुआ नेहा?मैं- जिनके लंड के ऊपर तिल होता है, वो बहुत सेक्स करते हैं.

सेक्स टैबलेट

मेरा नाम मैं बताना नहीं चाहता, आप मुझे बस वर्मा जी के नाम से जान लो. दोस्तो, इसके बाद तो हम दोनों ऑफिस में रूम में या जहां भी जगह मिलती, चिपक जाते और वहीं चुदाई करने लगते. मैंने तभी उनकी हाथ छोड़े और एक हाथ से अपने लंड को चाची की चुत पर रगड़ने लगा.

मैंने अंजलि के दोनों हाथ कस कर पकड़ लिए और उसकी स्कर्ट नीचे खिसका कर निकालने लगा.

मैंने झट से अपना लंड बाहर निकाल दिया और उसके शरीर पर मेरा माल छोड़ दिया.

तभी उसने खुद ही मुझसे नंबर माँगा और बोला कि मुझे कुछ काम होगा तो कॉल करूँगी. अब उसने भी अपना एक हाथ पीछे कर के मेरे खड़े लंड पर रख दिया और हल्के हल्के दबाने लगी. सेक्स ब्लू सेक्स ब्लूजैसा कि मैंने पहले ही बताया था दीदी दिखने में मॉम जैसी हैं, पर उनका फिगर मॉम से काफी बड़ा है.

जैसे रेशम की नर्म-गर्म सी, नाज़ुक सी मुट्ठी जैसी कोई चीज़ मेरे मेरे लिंग पर रह-रह कर कस रही हो. तभी मैंने परीक्षित को भी, जो मुझे किस कर रहे थे, उन्हें अपने से अलग किया और उनके भी लंड को सहलाने लगी. मेरे यूं उसके फोटो शूट करने से बहूरानी मुझे कभी गुस्से से देखती हुई मना करती.

मैंने उसको गांड मराने के लिये बोला… तो पहले तो उसने मना कर दिया, पर थोड़ी देर में मान गई. आह… सख्त से दिखने वाले मम्मे कितने नर्म थे यार… मानो कोई रुई के गोले हों.

मैंने उसके चूचों को दबाते हुए मज़े लेने लगा तो वो कसमसा सी गई और सिसकारियां भरने लगी.

आज मैं आपको मेरी देसी चुदाई की कहानी बताने जा रहा हूँ कि कैसे मैंने अपनी पड़ोस वाली आंटी की प्यास बुझाई. माफ़ी चाहता हूँ दोस्तो, मैं अपनी भावनाओं के आगे उस लड़की के बारे में बताना ही भूल गया. तभी मुझे एक कोने में पतली सी रस्सी दिखी और मैं वो उठा के सीधा बेडरूम में वापस आया.

लड़कियों की चूत में लंड अन्तर्वासना पर हिंदी सेक्स कहानी पढ़ने वाले मेरे अजीज दोस्तो, मैं रॉनित एक बार फिर आपकी सेवा में उपस्थित हूँ. आपको और ख़ास तौर से लड़कियों को बताना चाहता हूँ कि मैं बचपन से ही थोड़ा कमीना किस्म का रहा हूँ और सेक्स में काफ़ी इंटरेस्ट लेता रहा हूँ.

बाद में नाज़ ने कमर हिलाना चालू किया तो मैं जूही को छोड़ कर नाज की चुदाई करने लगा और जूही ने नाज की चुची दबाना चालू कर दी जिससे नाज की हालत जल बिन मछली जैसी हो गयी।10 मिनट तक लगातार चुदाई के बीच में नाज दो बार झड़ गयी थी. मुझे तो कोई चिंता थी ही नहीं क्योंकि मेरे घर पर कोई नहीं था, पर मंदिर के कार्यक्रम की वजह से काम्या को भी बाहर जाने का बहाना मिल गया था. मुझे भी तो अब ही गांड मारनी थी तो मैंने चुत की तरफ से लंड हटा कर फिर गांड के छेद पे रख दिया.

लड़की और कुत्ता का सेक्स

वो बोली- आ आहह आह… प्लीज़ चूसो इन्हें प्लीज़ जीजू चूसो ना अपनी आज की बीवी के चूचों को… जी भर के चूसो… आह खाली कर दो इन्हें…मैं भी जोश में आ गया और मैंने उसके एक निप्पल को मुँह में भर कर दम से उसे चूसने लगा. कमरे में आते ही उन्होंने अन्दर से दरवाजे को लॉक कर दिया और मुझसे बोलीं- टेंशन मत लेना, मेरा हज्बेंड सो गया है. मगर आप 8 बजे मेरे ऑफिस में आ पाओगी?मैंने कहा- ज़रूरत मेरी है… अगर आप ऑफिस में तो क्या जहाँ भी बुलायेंगे, मैं पक्का आऊंगी.

अपनी अंडरवियर उतार फेंक कर जीजा पूरे नंगे हो गए, उनके लन्ड के पास बहुत सारे बाल थे, नंगे होकर जीजा मेरे बिस्तर पर चढ़ आए, मेरा सीना जोर जोर से धक धक करने लगा, मेरी सांसें बहुत तेज़ हो गई अब मुझे बहुत घबराहट होने लगी. पूजा ने अपनी सहेली से मिलवाया और उसको मेरे साथ चुदाई की सारी बात बता दी.

प्रिया रोज़ 9 बजे तैयार हो कर एक्टिवा लेकर कम्प्यूटर इंस्टिट्यूट चली जाती थी और करीब ढ़ाई बजे वापिस आ कर खाना खा कर थोड़ी देर आराम करती थी.

अब बिंदु मुझसे खुल कर बात नहीं करती थी क्योंकि उसको उसी के रियल बेटे ने मेरे सामने चोदा था. अभी मैंने दो चार बार ही उसकी चूत पर जीभ फिरायी होगी कि उसने मुझे अपनी चूत से ऊपर उठाते हुए मुझसे बोला- आह. मैंने मम्मी ने पापा ने सभी ने बातें की, मैंने ज्यादा देर बातें की अपने कमरे में मोबाइल एक जगह रख कर अपना काम भी करती रही और बात भी होती रही.

मेरा लंड अभी भी पूरा जड़ तक उनकी चूत में घुसा हुआ था, मैंने कहा- अभी मेरा तो हुआ ही नहीं, मुझे भी तो करने दो!वो अचानक से उठा कर मेरा लंड मुख में लेकर चूसने लगी, बोली- बहुत मस्त टेस्ट है तुम्हारे लंड का!मैंने कहा- यह तो आपकी चूत का पानी है, अभी मेरा पानी बाकी है. जैसे ही मैंने अपना लिंग पूरी सख्ती से प्रिया की योनि से बाहर खींच कर वापिस प्रिया की योनि की गहराई की आखिरी हद तक पंहुचाया, तभी मेरे अंदर… मेरे खुद का ज्वालामुखी फट पड़ा. जब वो झड़ने से बच गया तो नताशा ने जल्दी से सबसे इम्पोर्टेन्ट ऑर्गन को अपने मुंह में भर लिया, और किसी चोकलेट कि तरह उसे चाटने लगी.

पर एक बार की बातों में उसके साथ उस तरह की बातें हुईं, जो उससे पहले कभी नहीं हुई थीं.

बीएफ फिल्में मूवी: फिर मेरी वाइफ भी वहां आ गई, वो चेयर ले कर वहीं फ्रेंड के सामने बैठ गई और उसने अपनी टांगें हल्की सी खोल दीं. जल्दी से मैंने बैग खोला, अपनी जीन्स और शर्ट निकाली और अन्दर से एक पिंक कलर की ब्रा और पैंटी निकाल कर पहन ली.

तभी भाभी बोलीं- मुझे वाइल्ड सेक्स और गालियों के साथ मज़ा आता है, पर तुम्हारे भैया सीधा करके सो जाते हैं. मैंने लंड पर कंडोम चढ़ाया, उधर माँ चित होकर अपनी चुत खोले हुए बड़ी ही चुदासी मुद्रा में लेटी थीं. उसकी बातें सुन कर मैं रोने लगी और रो रो कर सब कुछ बता दिया कि मेरे साथ क्या क्या हुआ.

मुझे उसने कहा- अगर तू राज़ी हो तो मैं तेरा भी इंतज़ाम करवा देती हूँ और क्योंकि तुमने अभी तक चुत में लंड नहीं लिया तो तुम्हें 25 से 30 हज़ार रूपए भी दिलवा दूँगी.

उसने पूछा- ऐसा क्या खास है?रोशनी तुम्हें मैंने हमेशा चुन्नी पहने ही देखा है, पर आज तुम्हारा कॉन्फिडेंस नजर आ रहा है. मैंने धीरे से अपने हाथ उसकी पतली कमर पे रखा और धीरे धीरे फिराने लगा. लंड में वाकई बहुत शक्ति है… और यहाँ तो वो दो-दो थे, मुर्दा लड़की में भी जान डाल सकने में समर्थ! उन्होंने मेरी प्राणप्यारी पत्नी को एक नया जीवन ही दे दिया था!मैंने धीरे से गोरी ब्लॉन्ड रशियन लड़की के चूतड़ों के नीचे से अपने हाथ हटाए और अपना लंड हाथ में लेकर मेरी प्रोस्टीट्यूट बीवी के सामने खड़ा हो गया.