एचडी में बीएफ भेजो

छवि स्रोत,जानवरों वाली सेक्सी पिक्चर

तस्वीर का शीर्षक ,

भोजपुरीsex: एचडी में बीएफ भेजो, बहन की आंहों की आवाज बिल्कुल मादक औरत जैसी थी।फिर लगभग 15 मिनट की चुदाई के बाद राहुल का माल उसकी चूत में निकल गया.

రష్మిక సెక్స్ వీడియోస్

वो एकदम से बोली- चूसो न इनको प्लीज!मैं जान गया कि वो बूब्स चुसवाने का ज्यादा मजा ले रही है. इंडियन हॉट सेक्सी बीपीबलविंदर ने अलीमा की चूत से निकले हुए पानी को अपने मुँह से स्पर्श किया और जीभ से चाटा.

सेक्सी बुआ की वासना की कहानी में आज मैं आपको अपनी जीवन में हुई इस खास चुदाई के बारे में बताने जा रहा हूं. सेक्सी नंगी लड़कियांअब मैं बिल्कुल उनके लंड के समीप तक अपने हाथों को लेकर जाती और जांघों के जोड़ तक अपनी उंगलियों को टच कर देती.

चूत में लण्ड अपनी ठोकरें मार ही रहा था और रीति अपनी कामुक आवाजें निकाले जा रही थी.एचडी में बीएफ भेजो: उसके बाद उसने रानी को घुमा कर दीवार के सहारे खड़ा कर दिया और पीछे से रानी के उरोजों को मसलने लगा.

अब हम दोनों के बीच भाई बहन के अलावा एक दूसरा रिश्ता भी बन गया था।हम एक दूसरे से सारी बातें खुल कर करने लगे।फिर दी ने दिसम्बर में मुझे फ़ोन करके अपने जन्मदिन पर आने के लिए कहा.बहुत मजा दे रहा है भी टू अपनी बहन को चोद कर!राहुल- हां मेरी जान … आज तुझे चोद चोद कर पूरा खुश कर दूंगा.

सेक्सी बुर चूत - एचडी में बीएफ भेजो

उसकी लैगिंग में उसकी चूत, चूत का मोती, उसकी गांड और सब कुछ दिख रहा था.मेरी अम्मी घबराते हुए बोलीं- हायल्ला अभी आगे की ही बात कर … पीछे से तो मैं कभी चुदी ही नहीं हूँ.

मैंने उसको बताया कि मेरे एक प्रोपर्टी डीलर फ्रेंड के फ्लैट्स मोहाली में खाली पड़े हैं. एचडी में बीएफ भेजो इस वजह से उसकी पूरी गर्दन लाल पड़ गयी और जगह जगह मेरे दांत के निशान पड़ गए थे।लेकिन वो भी एकदम असली वाला मर्द था.

मगर मैं फिर भी तैयार थी क्योंकि मेरी जवानी की गर्मी अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रही थी.

एचडी में बीएफ भेजो?

जब वो उंगली से तेल लगा रहे थे तो चिकनी उंगली आराम से अंदर बाहर हो रही थी और मुझे बहुत मजा आ रहा था. मुझे 1 घंटे बाद मेरे दोस्त अनमोल ने कॉल करके बोला कि मेरी बहन के पीछे पीछे बगल वाली कॉलोनी के लफंगे जा रहे हैं, अंजलि को फॉलो कर रहे हैं।मैंने कहा- करने दो. तुम मेरे दिल में समा चुकी हो … मुझे तुम्हारे जिस्म में समा जाने दो.

प्रिय पाठको, नमस्कार! मैं आपका प्यारा अनुराग अपनी जवानी की चुदाई की कहानी लाया हूं. सर मेरी तरफ देखकर मुस्कुरा कर बोले- क्या सोच रहे हो … अरे यार हां, मैं भी लंड में इंट्रेस्टेड हूँ. जब भी वो जिम में व्यायाम करता था, तो उसे देखते रहने का ही मन करता रहता.

बस पूजा शुरू होने वाली है।मैं जब वहां पहुँची तो साहिल वहीं पर सफेद रंग का कुर्ता पजामा पहने बैठा था. मेरी फीगर 36-32-38 की है।मेरे इंटर पास करते ही मेरे घर वालों ने मेरी शादी करा दी. रानी कामुकता भरी ‘उफ्फ आह … साहिल मेरी जान चोदो … कब से मैं तुमसे अपनी चूत चुदवाने के जुगाड़ में थी … चोद मेरे राजा!’ की आवाज़ों से साहिल की उत्तेजना को और ज़्यादा बढ़ा रही थी।साहिल भी अपनी पूरी रफ्तार से रानी की ठुकाई करने में मगन था.

कमरे में आते समय उसने खुद से अपनी नाइटी की डोरी खोल दी थी, जिससे उसकी नाइटी के अन्दर से उसकी सुर्ख लाल रंग जालीदार ब्रा में से झांकते सफ़ेद मक्खनी उरोज मुझे पागल किये दे रहे थे. बाबा उस आंटी की चूत चाट रहे थे और आंटी धीरे धीरे सिसकारियां ले रही थी.

मैंने थोड़ी रिक्वेस्ट की कि बाबा का तो चूस रही थी, मेरा लौड़ा चूसने में क्या जाता है.

मगर भानू के लंड को चूत का स्पर्श मिल चुका था और अब उसको रोक पाना नामुमकिन था.

उसके अब्बू यूपी से गुजरात आए थे, जिस कारण उसके सारे रिश्तेदार यूपी में ही हैं. मामा की बनियान पूरी पसीने में भीगी रहती थी और मैं उनके आसपास घूमता रहता था ताकि उनके बदन को ताड़ सकूं. मेरे वहां पहुंचते ही हेमा चाची बिस्तर से खड़ी होकर मेरे पास आईं और मेरे गले लग गईं.

मैंने भी कह दिया- मैं तो बहुत टाइम से अकेली खड़ी हुई बोर हो रही थी. थोड़ी देर बाद जब बलविंदर की नींद टूटी तो उसे यह अहसास हुआ कि उसका मुँह अलीमा की चूची पर था. मैंने वहां से निकल कर गैस एजेंसी का पता किया फिर वहां से इनडेन का नया सिलिंडर, मजबूत कांच के टॉप वाला चूल्हा, रेगुलेटर वगैरह कम्प्लीट सामान खरीद कर मंजुला के घर पहुंचा.

मैंने हेमा चाची से कहा- चाची लंड का सफेद पानी चूत के अन्दर ही छोड़ दूं या बाहर निकाल दूं?हेमा चाची ने कहा- बाहर ही छोड़ दो भास्कर … वैसे तूने पहले तो ये पूछा ही नहीं था.

वो मुझे देख कर बोला- आ आजा … अंजलि है न तू!मैं बोली- यस तुम ही ऑर्डर दोगे?वो बोला- यार ये मेरे पापा का बिजनेस है … लेकिन मैं भी देख रेख करता हूँ. मैंने पूछा- इस तरह से रस्सी से बंध कर तुम कभी चुदी थी?वो बोली- मैं ग्रुप में एक साथ 3-4 लंड से चुदी हूं. अगली बार उसको लगा कि मैं फिर धीरे धीरे डालूँगा लेकिन इस बार मैंने पूरा लंड एक बार में ही उसकी चूत में घुसा दिया.

मगर रानी ये जानती थी कि वो सीढ़ियों से नहीं बल्कि दो मर्दों के लंड के नीचे आ गयी थी और उसकी चूत और गांड का बैंड बज चुका था. मैं कानपुर का रहने वाला हूँ और जैसा कि मैंने अपनी इस आंटी की सेक्स कहानी के पहले भागपड़ोसन चाची के जिस्म का सुख बारिश मेंमें मेरी और मेरी पड़ोसन हेमा चाची के साथ बारिश में छत पर हुई रंगरेलियों के बारे में बताया था, उसी के आगे मैं इस सेक्स कहानी को लिख रहा हूँ. उस दिन वो सुबह से ही बिज़ी थी क्यूंकि उसको बहुत सारे काम करने थे तो उस दिन सुबह से हमारी बात भी नहीं हो पाई थी.

काफी समय तक उसने मेरी गांड, मेरी जांघ मेरी पीठ पर अपनी जीभ को घुमाता रहा.

फिर मैंने पीसी ट्यूनिंग के लिए एक सॉफ्टवेयर इनस्टॉल किया और टेंपरेरी फाइल्स को रिमूव करने लगा. वह गहरी गुलाबी ब्रा और पैंटी पहने हुए थी जिसकी किनारियों पर जाली थी.

एचडी में बीएफ भेजो मैं भी दी की जांघों पर हाथ फेरने लगा।मैंने जांघ सहलाते हुए दी की ड्रेस जांघों पर से थोड़ी और ऊपर कर दी. भाभी ने मेरी तरफ देख कर मुस्कान दी और लपक कर मेरी बाइक पर पीछे बैठ गईं.

एचडी में बीएफ भेजो हॉट गर्ल सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मैं अपने रिश्तेदारी के एक स्मार्ट लड़के को सेक्स के लिए पटा रही थी. मैंने भाभी की चुत का पूरा मानमर्दन जीभ और दो उंगलियों से किया और कोई दो ही मिनट में भाभी झड़ गई.

मैं बस उनको अपने बदन के इशारों में बताने की कोशिश करता कि मेरी गांड चोद लो लेकिन वो इस तरफ ध्यान ही नहीं दे रहे थे.

এক্স এক্স ভিডিও

मेरी मामी जी, मेरे मामा जी का बड़ा लड़का और भाभी जी सूरत में रहते हैं. प्रीति को इतने जोर से दबाने से दर्द होने लगा था, पर उसके होंठ मेरे मुँह में होने की वजह से वो आवाज नहीं कर पा रही थी. उसने मुझे किस करके ये कहा, तो मैंने भी उसे चूम कर बोला- आई लव यू टू … मुझे भी तुम्हें चोदने में बहुत मज़ा आया बेबी.

मैं बोला- अब डाल दूं क्या?वो बोली- क्या डालना है?मैंने कहा- इतनी भोली भी न बनो दीदी, आपकी चूत में लंड डालने की बात कर रहा हूं. फिर जब वो दोनों चरम सीमा पर पहुंचने को हुए तो अलीमा बोली- अंकल, मुझे कुछ हो रहा है … प्लीज़ आप और जल्दी जल्दी से अन्दर बाहर करो. सिसकारते हुए मैं- हाय … तेरी चूत … आह्ह … ले … फाड़ दूंगा आज मैं तेरी भट्टी … आह्ह … चुद … और चुद … आह्ह … ले जा पूरा अंदर।वो जोर जोर से सिसकारने लगी और मैं भी जोर जोर से अपने लंड की मुठ मारने लगा.

मैंने पूछा- चाची, क्या लड़कियां भी ब्लू फिल्में देखती हैं?हेमा चाची ने कहा- हां क्यों नहीं.

वो लंड को चूसने लगी और फिर मैं उसके मुंह में लंड को आगे पीछे करने लगा. दोस्त की बीवी को चोदाई कहानी पर राय देने के लिए आप कमेंट्स में लिखें. फिर मैंने उससे बोला- मुझे लड़कियों की ब्रा पेंटी पहन कर करवाने में बहुत मजा आता है.

अब मैं उनके पेट की मालिश कर रही थी और मेरे तने हुए रसीले दूध उनके सामने थे. अचानक मुझे महसूस हुआ कि मेरे नाज़ुक मखमली अधनंगे पैरों पर राजेश हल्के हल्के उसके मर्दाना पैर रगड़ रहा है. अब दोनों अपने चरम पर पहुंच गए और हर झटके से दोनों की सिसकारियों की आवाज़ तेज होने लगी.

कमरे में विशाल और मेरे मुंह से ओह्ह … आह्ह … आईई… आअहह … यस … आह्ह … फक … जैसी आवाजें निकल रही थीं. और साहिल है भी इतना स्मार्ट!ऊपर से उसका लौड़ा भी इतना शानदार है कि अगर वो सड़क पर नंगा होकर चले तो बहुत सी लड़कियाँ वहीं सड़क पर उससे चुदवा लें.

उसकी आवाज़ और तेज हो गई- आह्ह शिवम् … नहीं … बस करो … आह्ह … शिवम् … कोई आ जायेगा … आह … आह … नहीं।मैंने उसकी चूची छोड़ दी और कमरे का दरवाजा अंदर से लॉक कर दिया. क्लासरूम सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरी क्लास के एक हैंडसम लड़के को मैं पसंद करती थी. अब सिर्फ एक अचड़न थी और वह थी- बच्चे।चूत चोदने की चाहत में मैं किसी तरह बच्चों को सुलाने की कोशिश करने लगा.

इतना मस्त स्वाद था उसकी चूत की क्या बताऊं … उसकी चूत का स्वाद मुझे पागल कर रहा था.

आंटी ने मुझे चाय नाश्ता दिया और कहा- मैं अभी आई … तुम जब तक चाय पियो. फिर वो बोलीं- तूने कोई लड़की क्यों नहीं पटाई अब तक? हाथ से करने की क्या जरूरत है तुझे. मुझे ये सुनकर बहुत खुशी हुई कि वो मेरे लंड से चुदकर इतनी संतुष्ट हुई.

मुझे अजीब सी सिहरन महसूस हुई लेकिन मैंने रियेक्ट नहीं किया और उसकी साइड में बैठ गयी. मेरे दूसरे धक्के में मैंने पूरा लंड प्रिया भाभी की चूत में पेल दिया.

अम्मी भी अपनी वासना से भरी हुई आहें भरते हुए उसे और तेजी से चुत चूसने की कहते हुए अपनी गांड उठा उठा कर अपनी चुत की चटनी बनवा रही थीं. नूपुर बोली- देवू ये देख न मेरे बाल मेरे मुँह में … और आँखों में आ रहे हैं … तो तो इन्हें बांध दे न प्लीज!मैं- यार, तू खुद कर ले. वो मेरे इस तरह आने से एक बार को तो चौंकी, मगर अगले ही पल उसने मुझे हैलो बोल कर बैठने को कहा.

हिन्दी porn

फिर मैंने यहां वहां देखा और चुपके से दरवाजा खोलकर उसके घर से निकल आया और चुपचाप सीढ़ियों से होता हुआ ऊपर छत पर जाने लगा.

सेक्स इन वाटर स्टोरी में पढ़ें कि कैसे एक अनजान आदमी ने मुझे स्वीमिंग पूल पर चूत में उंगली करते देख लिया. आजकल जवान लड़के मेल प्रोस्टीटयूट या मेल एस्कॉर्ट या जिगोलो बनने के सपने देखने लग जाते हैं सेक्स के मजे और पैसे के लिए. हम दोनों ने चाय ख़त्म की।फिर वो मेरे पास आकर बैठ गयी।मैं उसे किस करने लगा.

वो लंबी लंबी सिसकारियां लेने लगी- देवू मेरी जान आई लव यू सो मच ओहहह … अहह!मैं उसकी चुत को चाटता और वो लम्बी लम्बी सिसकारियां लेती. जब अगली दोपहर में मैं बाजार से कुछ सामान लेकर आ रहा था तो गली में घुसते ही रास्ते में पड़ने वाले हेमा चाची के घर की तरफ मैंने निगाहें घुमाईं. हिंदी सेक्सी वीडियो में भेजेंएक लंड गांड में, एक मुँह में और एक एक दोनों हाथों में … मुझे जैसी चुदक्कड़ के लिए ये सब एक हसीन सपना ही तो था.

वो सोचने लगी कि ससुर ने जो चुदाई की वो तो मेरे पति के द्वारा की गयी चुदाई से कहीं ज्यादा बेहतर थी. चूंकि मैं पहली बार किसी लड़की के साथ सेक्स करने जा रहा था, तो अनुभव की कमी थी.

हाय … क्या मस्त मजा आया था उस दोपहर लंड चुसवाने में!फिर हेमा चाची ने अपना मुँह खोला और मेरा लंड हेमा चाची के मुँह में समा गया. मैं रोज सुबह 8 बजे की बस से निकलता था और शाम को 7 बजे की बस से लौट आता था. उसके मुंह से अब मस्त मादक सिसकारियां निकल रही थीं- आह्ह … विशाल … आह्ह विशाल … चोद दे बेटा … आह्ह … मेरी गांड में बहुत मजा आ रहा है.

इस दोहरे हमले से अलीमा बिल्कुल मदहोश हो गई थी … उसकी आंखें इस मस्ती से बंद हो गई थीं और वो सिर्फ सीत्कार भरते हुए अपनी चुदास मिटाने की कोशिश कर रही थी. मुझे ये डर था कि अगर हेमा चाची ने ये सब देख लिया … तो वो मेरे बारे में पता नहीं क्या सोचेंगी?लेकिन क्या बताऊं यार … मैं उस टाईम खुद को उत्तेजित होने से रोक ही नहीं पाया क्योंकि सामने हेमा चाची जैसी अप्सरा ऐसी हालत में हो, तो कौन खुद पर काबू कर पाता. जैसे ही बलविंदर ने अलीमा से पूछा कि तुम्हें मजा तो आ रहा है न!इस सवाल पर अलीमा तो जैसे पागल हो गई थी.

मैं आंचल जी को किस करते और उनके दोनों मम्मों को दबाते दबाते मैं आंचल का टॉप उतारने लगा.

उस ब्लूफिल्म को भाभी ने देख लिया और हल्का सा मेरे लंड की ओर देखकर मुस्करा दीं. जब मैं अपने झटके की रफ्तार तेज करने लगा तो ‘ईई उईई हह’ की सिसकारियां चाची के मुंह से निकलने लगी।मैंने चाची को बताया- मैंने बुआ, सुमन और सुनील की बहन को चोदा.

मैं और सुमन दोनों बढ़िया रेस्टॉरेंट में गए और खाना खा कर रेस्टॉरेंट से वापिस चल पड़े. और मेरी मैडम भी साहिल की बहुत बड़ी प्रशंसक थी, हमेशा उसी की तारीफ करती रहती थी हमारे सामने।हम दोनों बैठी थी. ओए होए … आह्ह … क्या चूत थी यारो उसकी!एकदम से छोटी सी, चिपकी हुई फांकों वाली, नन्ही सी मुनिया.

मैं अपनी गांड चुदवा रही थी।साहिल ने कई पोजीशन में मेरी गांड बजाई और अपना सारा माल मेरी गांड में बहा दिया. जिसमें वो अपनी चुत में कभी शैम्पू की गोल शीशी डाल कर दिखातीं, तो कभी अपनी झांटों को साफ़ करते हुए वीडियो दिखातीं. फिर हम दोनों एक दूसरे के ऊपर इस तरह लेटे कि मेरा लंड उसके मुँह में और उसकी चूत मेरे मुँह के पास थी.

एचडी में बीएफ भेजो पहली बार मैंने उनका नंगा बदन तब देखा था … जब वो एक बार छत पर नहा रहे थे. दी और मैं गोलू के पीछे सोफे पर बैठे थे।मैंने दी के साथ छेड़खानी शुरू कर दी।मैं कभी उनके कान को दांतों में दबाता तो कभी उनकी जांघों पर हाथ फेरता।दी मुझे हर बार रोक रही थी कि मत करो … गोलू देख लेगा।फिर मैं भी थोड़ा रुक गया.

रंडी सेक्सी वीडियो

मैंने साहिल को रोका लेकिन वो रुका नहीं; वो जैसे किसी मशीन की तरह मुझे चोद रहा था. थोड़ी देर बाद मेरा शरीर अकड़ने लगा और मैं मम्मी के मुंह में ही झड़ गया. मैं तो हैरान था कि सोनू इतना सब इंतजाम करके मेरी बहन की चुदाई करेगा!कहानी पर कमेंट्स में बतायें कि आपको रंडी बहन की चुदाई कहानी कैसी लगी.

अब आगे की देसी चुदाई की स्टोरी:चुदाई के बाद ठाकुर मंजू के ऊपर ही लेट गया था. फिर जैसे ही हम दोनों घर के लिए वापस निकले तो हल्की हल्की बारिश शुरू हो गई. ज़िस्म सेक्सीऔर कहीं किसी को पता चल गया तो दिक्कत हो जाएगी।मैं बोली- नहीं मैम, रहने दीजिए.

उसके लिए आप सभी का धन्यवाद।दोस्तो, यह सेक्सी टीचर चुदाई कहानी मेरी और मेरी प्रिंसिपल मैडम मोनिका (बदला हुआ नाम) की है।मोनिका की उम्र लगभग 35 साल, हाइट 5.

चूत में लण्ड अपनी ठोकरें मार ही रहा था और रीति अपनी कामुक आवाजें निकाले जा रही थी. फिर आगे पता चला कि साहिल नहीं जाएगा तो दादी बात खत्म करने के बाद मुझे बताने लगी कि हम लोगों को उनके साथ चलना है लेकिन साहिल नहीं जाएगा.

प्रिया ने उन्हें पूरी चुदाई के बारे में बताया था।तो दोस्तो, इस तरह से मैंने अपनी भाभी की बहन यानि कि मेरे भाई की साली और मेरी होने वाली बीवी की चुदाई शादी से पहले ही कर दी. हेमा चाची मेरी गर्दन पर किस कर रही थीं और अपने हाथों को मेरी छाती पर फेर रही थीं. मैंने अपने हाथ की मदद से मैडम की पैंटी को अलग कर दिया और चुत पर जीभ फिरा दी.

मैंने तुरंत लंड को बाहर निकाला और कॉन्डोम में जमा वीर्य को बिना सुईं वाले सिरींज में भर लिया.

मैं जानता था कि अगर अबकी बार लंड नहीं घुसाया तो ये फिर बाद में ले भी नहीं पायेगी. इसी का फायदा उठाते हुए उस औरत ने मोना के पैरों पर पड़ी चादर हटा दी और वह लड़का मोना की जांघों को सहलाने लगा. फिर 8 दिनों बाद एक बार फिर मैंने हेमा चाची के घर के बाहर ताला लगा पाया.

बबलू डब्लूबलविंदर बोला- कोशिश तो करो बेबी … तुम सिर्फ ये सोचो कि यह एक लॉलीपॉप है, जो तुम बचपन में बड़े मजे से चूसती थीं. लेकिन हेमा चाची को छत पर मौजूद बंदरों से इतना डर लग रहा था कि उन्हें इस सबसे कोई दिक्कत ही नहीं हो रही थी.

हिंदी मां बेटे का सेक्स

मैंने भाभी की चुत का पूरा मानमर्दन जीभ और दो उंगलियों से किया और कोई दो ही मिनट में भाभी झड़ गई. महिलाओं का तो मुझे पता नहीं लेकिन मर्द तो औरत के जिस्म को ताड़ने का कोई मौका नहीं छोड़ते. उसकी चूत में चार लौड़ों का वीर्य जा चुका था और उसके कमरे में भी वीर्य फैला हुआ था.

फिर हमारी दसवीं क्लास की टीचर आ गईं और सबसे पूछने लगीं कि सब कैसे हैं … वगैरह वगैरह. मगर रानी ये जानती थी कि वो सीढ़ियों से नहीं बल्कि दो मर्दों के लंड के नीचे आ गयी थी और उसकी चूत और गांड का बैंड बज चुका था. फिर जब वो चाय लेकर आने लगी तो टेबल के पास पहुंच कर उसको ठोकर लगी और चाय छलक कर उसके और मेरे कपड़ों पर जा गिरी.

इसके बाद उसने मेरे कान में बोला- कहां जा रहे हो?मैंने उसकी छाती से खुद को सटाते हुए कहा- मैं इंदौर जा रही हूं … आप कहां जा रहे हो. सिसकारते हुए मैं- हाय … तेरी चूत … आह्ह … ले … फाड़ दूंगा आज मैं तेरी भट्टी … आह्ह … चुद … और चुद … आह्ह … ले जा पूरा अंदर।वो जोर जोर से सिसकारने लगी और मैं भी जोर जोर से अपने लंड की मुठ मारने लगा. शबाना- ये आपका लंड है और ये इतना बड़ा कैसे है?मैंने- क्यों सोहेल का नहीं पकड़ा था क्या कभी?शबाना- अरे यार … तभी तो कह रही हूँ कि उसका तो इतना बड़ा नहीं था.

ग्रामीण भारत में मेल प्रोस्टीटयूशन यानि पुरुष वेश्या का चलन अभी नहीं पहुंचा है किंतु भारत के महानगरों में यह धड़ल्ले से चल रहा है. अब राणा के कारण मुझे पता नहीं तुम्हारी चुदाई करने को मिलेगी या नहीं!अम्मी ने मेरी तरफ देखने के लिए सर घुमाया, तो मैं अपने कमरे में दाखिल हो गया और मैंने कमरे के दरवाजे उड़का लिए.

बलविंदर अपनी इस लंड चुसाई का बड़े प्यार से आनन्द ले रहा था और वो अलीमा के सर को सहलाते हुए लंड कुछ कुछ अन्दर बाहर करने लगा.

लम्बा मोटा और मजबूत टिकाऊ टाइप का लंड है, जिसकी चुत में घुस गया, तो समझो एक ही चुदाई में उसका दो-तीन बार पानी निकाले बिना बाहर नहीं निकलता है. भोजपुरी सेक्सी आर्केस्ट्रा वीडियोकविता- हाह्ह … उफ्फ … उम्म … लगता है बहुत आग लगी हुई है तुम्हें!वो हंस रही थी लेकिन मुझे गुस्सा आ रहा था. हिंदी मूवी चुदाई सेक्सीफिर उसने मुझे एकदम से उठकर पटका और मेरे अंडरवियर को खींचकर निकाल दिया. यह तो इशारा करता ही था, मैं ही इसे आगे बढ़ने के लिए इजाजत नहीं देती थी.

दोस्तो, एक लंड देखने की लालसा में मुझे अपनी गांड मरवानी पड़ी एक टॉप आज बॉटम बन गया था.

मैं कमरे से बाहर आया और वहां किसी ऐसी जगह की खोजबीन करने लगा जहां मैं हिमानी की चूत का आनन्द ले सकूं।जल्दी ही बैंकेट हॉल के थर्ड फ्लोर पर कोने में एक छोटा सा कमरा दिखाई दिया जिसमें एक बेड पड़ा था. उसकी चुत चुदाई के साथ ही मुझे उसकी मक्खन गांड भी लुभा रही थी, जिस पर मैं चाटें मार रहा था, जिसमें अंकिता को मजा आ रहा था. उसका 7 इंच का लंड आंटी की गांड में फंस गया और वो जोर जोर से चिल्लाने लगी- आह्ह … ऊह्ह … मर गयी … ईईई … आआआ ….

[emailprotected]Xxx चूत की कहानी का अगला भाग:पापा के दोस्त से पहली मस्त चुदाई- 4. मेरी पिछली कहानी थी:नागरिकता के लिए बुढ़िया को चोदा[emailprotected]. मैंने उसके मोबाइल में अपना नम्बर फीड करने के लिए उसके नम्बर से अपने मोबाइल पर अपना नम्बर डायल कर लिया और अपना नम्बर फीड कर दिया.

एक्स बीपी इंग्लिश

मैंने भी अपना एक हाथ अब उसकी स्कर्ट में डाला और उसकी चूत को दबाने लगा. मुझे गुस्सा आ गया और लन्ड को तुरंत चौथे गियर में डाल दिया और तेज़ तेज़ चोदने लगा. मैंने उसके गुलाबी होंठों को अपनी गिरफ्त में लेते हुए उसके हाथों को कस कर पकड़ लिया और अपना लंड धीरे धीरे अन्दर डालने लगा.

गर्लफ्रेंड की चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे कोचिंग लाइबरेरी में एक हसीन लड़की से मेरी दोस्ती हुई.

इधर मेरी उत्तेजना भी चरम पर थी; मैंने अपने कपड़े भी फटाफट उतार फेंके और सिर्फ शॉर्ट्स पहने हुए मंजुला की ग्रीवा को चूमने लगा.

फ़ोन पर हम लोग घंटों तक बाते करते, हफ्ते में एक बार मिलने भी जाते।फिर वो कुछ दिन के लिए फिर दिल्ली चली गयी. सोहेल की अम्मी की तबियत ठीक नहीं रहती थी और वो घर के कामकाज में खुद को बड़ी मजबूर महसूस करने लगी थीं. தமிழ் ஸ்கூல் செக்ஸ்तुम समझ जाना और फिर से सीढ़ियों की तरफ चले जाना।ये बोलकर अब अनमोल भी रूम में अंदर चला गया और अंदर जाकर बोला- मामला सेट हो गया, अब शुरू करते हैं।मैं भी रूम के बाहर पहुंच कर अंदर झाँकने लगा तो देखा कि मेरी बहन को रोहन और मोनू नंगी कर रहे थे.

मैं आंखें बंद करके लेटी हुई थी कि अचानक से किसी ने मेरी चूची को सहला दिया. मैंने खूब सारी लाल चूड़ियां पहनी और मैंने पायल भी पहनी।मैं बिल्कुल इस तरह तैयार हुई जैसे आज मेरी सुहागरात है. कुछ दस मिनट बलविंदर ने अलीमा को रोके रखा तो उसका दर्द थोड़ा सा कम हो गया था.

आज शायद अपने जीवन में मैंने पहली बार खुद को इतने सेक्सी अंदाज़ में देखा था।कुछ देर बाद मैं आ गयी अपने इंस्टीट्यूट में!एक दो लड़कियों ने मेरी तारीफ भी की जिससे मुझे बहुत अच्छा लगा. फिर अभी बारिश थोड़ी हल्की है तो तुम घर चली जाओ।मैंने अपना सारा सामान उठाया और क्लास से बाहर निकल गयी.

मैं कहाँ हैंडसम हूं।ज्योति भी हमारी बातें सुन रही थी।मैंने उसके तरफ देखा तो फिर मुस्कुराई।पर मेरी हिम्मत नहीं हुई कि उसको पूछ लूं कि तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है या नहीं।थोड़ी देर बाद मैं अपने घर पर आ गया।रात को मैं उसके बारे में ही सोच रहा था कि कैसे उसको पटाऊँ।अगले दिन जब मैं दीदी के घर गया तो दीदी खाना बना रही थी।मैं सीधा किचन में गया.

इंडियन सिंपल गर्ल सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मेरे चाचा की बेटी बहुत खूबसूरत माल जैसी है. अब सेठ बोला- संतो, जल्दी से घोड़ी बन जा। मैं तेरे पीछे से बाड़ कर तुझे चोद लूंगा. मैंने चारों तरफ देखा तो उसी कमरे के बगल से एक खिड़की थी, जिससे बाहर का हल्का सा दिख रहा था.

भाई की डिजाइन फिर मैंने उसकी पैंटी उतारनी चाही तो उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और एक हाथ से अपना चेहरा ढक लिया. मैं बोला- जब तक मेरा लंड दोबारा खड़ा होगा तब तक मैं तुम्हें रस्सी से बांध देता हूं.

एक रात में मैं सोने के लिए गया तो दीदी अपनी साड़ी उतार रही थी। उन्होंने फिर ब्लाउज उतार दिया. बीच रात में मैंने उन दोनों की चुदाई देखी जिसमें भाभी को पूरा मजा नहीं मिला. उसका लंड मेरे मुंह में था और उधर से उसके लंड से भी वीर्य की धार मेरे मुंह में आ गिरी.

एक्स एक्स एक्स इंग्लिश बीपी पिक्चर

वो हांफते हुए बोलीं- बहनचोद मादरचोद आराम से कर … साले मुझे रंडी समझ रखा है तूने!मैं हंसने लगा. हिंदी सेक्स भाभी कहानी में पढ़ें कि कैसे मुझे भीड़ भरी ट्रेन में भाभी से चिपक कर खड़ा होने का मौक़ा मिला. मुझे कुछ कुछ हो रहा है।फिर मैं बोला- मेरी जान … आज तो कुछ हो ही जाने दो.

मैं पूरी जोर से उसके स्तनों को पी रहा था मगर उनमें से कुछ नहीं निकल रहा था. हेमा चाची ने मुझसे अपनी पकड़ हटा ली और सामान्य भाव से सिर हिलाते हुए कहा- हां चलो चलते हैं.

मैंने देखा कि उस काली सिल्की नाईटी से हेमा चाची की घुमावदार गांड अच्छी तरह से उभर कर नजर आ रही थी.

शाम के समय जब नेहा मेरे घर आई तो मैंने चुपके से उसके मोबाइल फोन से कविता का नंबर चुरा लिया. मैंने उसकी चूत पर लंड को कई बार रगड़ा और फिर उसने खुद ही मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मेरे होंठों को खाने लगी. कुछ देर उसी स्थिति में रहने के बाद जब अलीमा अपनी कमर को हिलाने लगी.

मैंने उसके पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया और धीरे धीरे नीचे कर दिया।अंधेरे में चूत नहीं दिख रही थी तो मैं उंगली से उसकी चूत की फांकों को मसलने लगा।चाची भी गर्म होने लगी. अब मैंने आंख को अधखुला रख कर उन दोनों की कारगुजारी को देखना शुरू कर दिया. तो दोस्तो, मुझे जरूर बताइयेगा कि कहानी कैसी लगी? अगर आपको अच्छी लगी होगी तो मैं मेरी ज़िंदगी के कुछ और पन्ने भी पक्का खोलूंगी आप लोगों के सामने।मुझे मेरी ईमेल पर मैसेज करें.

फ्रेश होने के बाद मैंने 30 साइज़ की नेट ब्रा पैंटी पहनी, जिसने मेरे 32 के दूध और ज्यादा टाइट दिखने लगे.

एचडी में बीएफ भेजो: इसी के साथ मुझमें चुदाई के दौरान काफी देर तक लगे रहने के कारण आज तक मैंने सबको उनकी डिमांड से ज्यादा संतुष्ट किया है. राहुल अब मेरी चूत को पहले हाथों से फैलाया और उसमे अपना थूक लगा दिया.

मैंने उसे कसकर पकड़ा और किस करते हुए एक हाथ से उसके बालों को पकड़े हुए अपना लंड डालने लगा. फिर पूनम के पैरों को अपने कंधे पर रख कर मक्खन में गर्म चाकू की तरह उनकी चूत में लंड घुसा दिया. हाँ … अगर ये किसी और के लिए मुझसे किनारा करे … या इसका मेरे से मन भर जाए तब मुझे दिक्कत होनी चाहिए.

जो कम्बल बस वालों ने दिया था उसको अपने पैरों पर आधा फोल्ड करके मैंने रख लिया.

शायद किसी चौकीदार का कमरा लग रहा था, परन्तु मेरे लिए वह कमरा एकदम फिट था. वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुरा कर बोली- ठीक है, अभी 5 मिनट में ला देती हूं. उस अस्पताल में मरीजों की काफी भीड़ थी, जिस वजह से हम दोनों को रात के करीब दस बज गए.