बीएफ हिंदी मूवी सेक्स

छवि स्रोत,रक्षाबंधन 2022

तस्वीर का शीर्षक ,

हॉट हॉट सेक्सी फोटो: बीएफ हिंदी मूवी सेक्स, उसने भी मेरे सिर के पीछे हाथ लगा कर मेरे बालों को सहलाते हुए मेरा साथ देना शुरू कर दिया.

सेक्सी पिक्चर मराठी भाषेत

ये पैंटी इतनी ज्यादा छोटी थी कि सिर्फ़ मेरी चुत के ऊपर ढक्कन सा बना रही थी. स्ट्रिपचैटउसने झुक कर मेरी योनि को चूमा, फिर योनि के इर्द गिर्द चूमते हुए जांघें कमर और टांगों को चूमने लगा.

क्योंकि मुझे भी वाइल्ड सेक्स और चुदाई के दौरान गालियां देना और सुनना बहुत पसंद हैं. वाई टू मैटवो कमलनाथ की कमर के पास दोनों जांघें फैला कर पीछे की तरफ से बैठ गई.

आपके प्यार का इन्तजार करूँगा और जल्द ही एक नई सेक्स कहानी लेकर आऊंगा.बीएफ हिंदी मूवी सेक्स: वो कहती थी कि सेक्स करने में बहुत मजा आता है और सच में सेक्स करने में बहुत मजा आता है.

वो अपनी गांड नीचे से उछाल उछाल कर अपनी उंगली अपनी चुत में डाल कर … और मम्मे दबाने लगीं.अगर तुम चाहती हो क़ि मैं परेशान ना रहूं तो मुझे अपनी दीदी की कमी महसूस ना होने दो, मेरे प्यार को अपना लो।अब उसका विरोध कम हो गया और वो मेरी बांहों में लिपट गई.

एस एस सेक्स - बीएफ हिंदी मूवी सेक्स

तभी भाबी ने चैन को पकड़कर खाल से अलग करना चाहा तो मुझे एकदम से बहुत तेज दर्द हुआ और मैं बोला- भाबी धीरे करो प्लीज, दर्द हो रहा है.आंटी ने उसके मुँह को दबा लिया और मुझे फुल स्पीड से चुदाई करने के लिए कह दिया.

मैंने करीब आकर भाभी को अपनी गोद में उठा लिया और ले जाकर बिस्तर पर पटक दिया. बीएफ हिंदी मूवी सेक्स फिर मैंने धीरे से एक उंगली चूत में डाल के अपने मुंह में ले ली और फिर वही उंगली आंटी के मुंह में दे दी.

वो पूछने लगी कि आप रूम पर खाना नहीं बनाते हो क्या?मैंने बताया कि आज राशन खत्म हो गया है.

बीएफ हिंदी मूवी सेक्स?

मैंने कई बार देखा था कि घर पर चाहे कोई रिश्तेदार आये या फिर कोई और मर्द आये वो मेरी मां को देखता ही रह जाता था. सिर पकड़ कर जोर से दबाते हुए उसके गले तक लन्ड को डाल दिया और मैं झड़ गया. वो दर्द से बिलख पड़ीं ‘उम्म्ह … अहह … हय … ओह …’पूरा लंड पेलने के बाद मैंने उनको कुछ देर तक ऐसे ही जकड़े रखा.

मैंने उसको आंख मारी और कहा- ठीक है, पहले खाना खा लेता हूँ, फिर हम दोनों मस्त वाला गेम खेलते हैं. मैं इतनी तेज धक्के मारने लगी कि कमलनाथ समझ गया कि मैं भी झड़ने वाली हूँ. ऐसे ही 10 मिनट तक लंड सहलाने के बाद मैंने उसको इशारा किया कि टॉयलेट में चलो.

मुझे ऐसा लग रहा था मानो सभी मर्द अपनी अपनी बारी का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे. मुझे तो बस बुआ की चुदाई करनी थी, मेरी ये भी हसरत पूरी हो रही थी।मैंने झटके लगाने शुरू किए. चूंकि मैं अब अपनी ससुराल के शहर में था, तो मेरी बीवी अपनी माँ के साथ ज्यादा जाती रहती थी.

मैंने धीरे से सुपारे का अगला भाग दीदी की गांड में घुसाया तो वो उचक गई. दोस्त ऑफिस में गया हुआ था इसलिए उसने तुरंत मेरी मंशा को समझ लिया और रूम की चाबी देने के लिए हां कर दी.

मुझे बाहर निकलने की आपा-धापी में समझ ही नहीं आया कि इन दोनों में से कौन सी भाभी मेरे साथ सैट हुई थी.

फिर मैं उठा और दीदी को एक थप्पड़ मार कर बोला- चल साली, मेरे कपड़े खोल और मेरा लौड़ा चूस ले.

चूंकि पिता जी का फोन आ चुका था कि मुझे भाभी भैया के घर ही रहना है, तो भाभी ने मुझे मेरा कमरा दिखा दिया. रवि भी पिछले बीस मिनट से एक ही आसान में संभोग करते हुए थकने लगा था. मैंने कहा- क्या देख रही हो?उसने कहा- मैं इसी के लिए तरस रही थी और मैंने उस दिन आपको न जाने क्या बोल दिया था.

मैंने सीधे बोल दिया कि मैं तो इसके साथ सेक्स करने के लिए कुछ भी कर जाऊंगा. उसने मेरे पास आकर पूछा कि इस जिम में आप ही ट्रेनर हो?मैंने कहा- हां जी कहिए, मैं ही ट्रेनर हूं. अम्मा ने कहा- बेटे मैं वो अनुभव लेना चाहती हूँ, जिसमें औरत आदमी का लंड और आदमी औरत की चुत चाटता है.

मैंने उससे पूछा कि एक ही कमरे में सब सोयेंगे तो हमारा काम कैसे बनेगा?वो बोली- तुम उसकी चिंता मत करो, वो सब मैं देख लूंगी.

वो जब ऊपर उठती, तो उसके चूतड़ मेरे लंड को छू जाते और जब वो नीचे जाती, तो मेरे दोनों हाथ थोड़ा फिसल कर उसके मम्मों को छू जाते. ऑफिस से आते ही मैं दीदी की ठुकाई करता था और फिर रात में सोते टाइम भी उनकी चूत को खूब चोदता था. अंतरा ने मुझे किस करना शुरू कर दिया और हम दोनों ने सेक्स का पूरा मजा लिया.

उसके बाद मैंने उसको लेटा कर उसकी जीन्स को खोलते हुए उसे निकाल दिया. फिर उसने अपना हाथ धीरे से मेरी पैंट के ऊपर से ही मेरे लंड पर रख दिया. जब मैं उधर गई, तो उन्हीं दिनों बुआ के यहां उनके कुछ और रिश्तेदार भी आए हुए थे.

फिर टाइम पास करने के लिये मैंने अन्तर्वासना पर कहानियां पढ़ना शुरू किया.

उधर कमलनाथ पूरा संतुष्ट दिख रहा था और वो मदिरा का स्वाद लेने में मग्न था. योनि कविता की चिकनाई से भरी हुई थी इस वजह से लिंग का सुपारा, तो बिना किसी दबाब के अन्दर चला गया.

बीएफ हिंदी मूवी सेक्स मैं ज्यादा बढ़ चढ़कर नहीं बता रहा हूं, जैसा है वैसा ही बता रहा हूं. तू तो अब अपनी मम्मी की चुदाई करके मजा दिया कर … लेकिन अभी तू अपने रूम में जा … नहीं तो सुबह कुसुम तुम्हें यहां देखकर न जाने क्या सोचेगी.

बीएफ हिंदी मूवी सेक्स मैं दीदी के पास गया और दीदी से सीधा ही बोल दिया- दीदी, अगर आप लोगों को मेरे यहां पर रहने से कोई परेशानी हो रही है तो मैं बाहर किराये पर कमरा ले लेता हूं. अंगिका- आपका अपॉइंटमेंट थोडा जल्दी मिल सकता है क्या?मैं बोला- मैम, मैंने 5 आर्डर बुक किये हैं और 3 का तो एडवांस भी आ चुका है.

उसके मुंह से एक सी … सी … आवाज आई और उसने मेरे सिर को अपनी चूची पर दबा लिया और मेरे बालों पर अपनी उंगलियों से सहलाने लगी.

ट्रिपल सेक्सी देहाती

अब विशाखा बोली- मेरे सोना … अपनी सलहज की जवान चूत में अपने लौड़े को जल्दी से पेल दो. थोड़ी देर में कांतिलाल मेरे ऊपर से उठकर बिस्तर पर लेट गया और मैं वैसी ही पड़ी रही. आंटी मुझसे बोलीं- बेटा, अब और न तड़पा … जल्दी से इसे मेरे अन्दर डाल कर इसकी सारी गर्मी मिटा दे.

रमा की बात तो सही ही थी कि कांतिलाल ने मुझे निचोड़ कर रख दिया था, पर आनन्द भी उतना ही आया था. मेरा लंड खड़ा हो गया था और मैंने प्रिया की गांड पर अपना लंड लगा दिया था. नमस्कार पाठको, मुझे आप सबका प्यार मिला, बहुत ख़ुशी हुई कि मेरी कहानियां आपको रोचक लगीं.

हम दोनों हांफते हुए अपने अपने चूतड़ हिला हिला योनि में लिंग रगड़ते हुए आगे बढ़ने लगे.

जैसे ही लाइट बंद की गई मैंने धीरे अपने और भाभी के बदन को चादर के नीचे ढक लिया और मैं भाभी की गांड के साथ चिपक गया. तो एक लड़का बोला- तो इतना शार्ट स्कर्ट टॉप पहन कर इधर क्या कर रही है. मेरी बच्चेदानी पर चोट लगती तो हर बार ऐसा लगता जैसे उसका लिंग एक करंट सा छोड़ रहा है, जो मेरी नाभि तक जा रहा और मेरी योनि की नसों को ढीला करने पर मजबूर कर रहा है.

मगर फिर भी मैं उसका साथ दे रही थी क्योंकि मुझे भले ही दर्द हो रहा था लेकिन मजा भी बहुत मिल रहा था. अब उन्होंने खुद ही अपने हाथों से मेरी पैंट और मेरी निक्कर उतारी और कमर पर हाथ रख कर मेरे सामने किसी पहलवान की मुद्रा में खड़ी हो गईं. मन तो कर रहा था कि अभी पकड़ के चोद दूँ … पर आंटी की ननद होने के कारण ऐसा नहीं कर सकता था।फिर हमने साथ बैठ कर खाना खाया और थोड़ी देर बातें की.

मैंने भी झट से उसकी जांघों पर हाथ रख दिया और बोला कि अब बता के क्या फायदा? अब तो आपकी शादी हो गयी है. अंदर जाते ही भूखे शेर की तरह मैं उस पर टूट पड़ा, उसको जगह जगह पर चूमने और काटने लगा.

वहां पर मैंने फुल बॉडी वैक्स कराया, जिसमें मेरी चुत भी एकदम साफ़ और चिकनी की गई. वो किसी से फोन पर बात कर रही थी और बात करते हुए ही उसकी आंखों से आंसू भी निकल आये थे. फिर मैंने उनको उनकी ननद की चुदाई के लिए बोला तो वो बोली- मैं उससे बात करूंगी.

एक दिन की बात है कि जब मेरी तबियत कुछ ठीक नहीं थी और मैं उस दिन ऑफिस नहीं गया.

दोस्तो, आपको चाची की चूत की चुदाई की यह स्टोरी पसंद आई हो तो मुझे अपने मेल जरूर भेजें और कहानी के बारे में अपना फीडबैक दें. वो बोलीं- हां अन्दर आ जा, प्रीति अन्दर है, वो तेरे आने की ही कह रही थी. फिर उन्होंने कहा- कुछ दवाइयां आपको आज ही मिल जाएंगी और बाक़ी दवाइयां आपको दो दिन बाद उपलब्ध हो पायेंगी।मैंने उनसे कहा- लेकिन आप जरूर यह दवाई मंगवा दीजिए।मैं अपने घर आ गया और घर पर मैंने वह दवाई अपनी मम्मी को दे दी। मैंने अपनी मम्मी को सारा कुछ समझा दिया था.

हम एक कमरे के घर में रहते थे तो मुझे अम्मा अक्सर नंगी दिख जाती थी तो …हाय, मेरा नाम समीर है. वो समझ गई और उसने एकदम से मेरे गाल को नोंचने के लिए हाथ बढ़ाया … तभी रिक्शा रुक गया और मैं उतर गया.

मैं उसकी उत्तेजना समझ गई थी और संभोग की अवधि भी बहुत अधिक हो चुकी थी, इसलिये अब कांतिलाल को झड़ना थोड़ा आसान सा लगने लगा था. मैंने कहा- आपको तो पता ही है कि आज कल लड़कियां कितना पैसा खर्च करवाती हैं. मैं समझ नहीं पा रहा था कि यह क्या हो रहा है … क्योंकि उस टाइम पहली बार इस लड़की ने मेरे लंड को छुआ था और मुँह में लिया था.

सेक्सी वीडियो पंजाबी नंगी

मैं अभी करीब 5 से 7 बार उसके लिंग पर चोट कर चुकी थी और शायद और भी चोट करती, क्योंकि मैं एक लय में थी और बहुत तीव्रता से झड़ रही थी.

मैंने कहा- फिर तू अपनी सेक्स की प्यास कैसे बुझाती थी?अम्मा ने कहा- जब मैं घर अकेली होती थी, तब अपनी चुत में उंगली डाल कर या गाजर मूली खीरा वगैरह डाल कर घंटों हस्तमैथुन करती थी. पिंकी के आने के बाद हमने कुछ देर तो टीवी देखा और फिर सोने की तैयारी करने लगे. चूंकि उसका बदन पीछे की तरफ झुका हुआ था तो उसके गोल-गोल बूब्स जो उसके सूट में कैद थे एकदम उभर कर सामने खड़े हुए थे.

मस्तानी भाभी की उम्र लगभग 30 साल की थी और उनका फिगर बड़ा ही मस्त था. अपनी बहन की बेटी को नंगी करने के बाद मैंने देखा कि वह बहुत ही कामुक और सुंदर नजर आ रही थी. कायरव meaning in hindiहालांकि उसकी भी चरम सीमा की लालसा खत्म नहीं हुई थी, मगर इस असहजता की वजह से वो लय उसमें नहीं दिख रही थी, जो शुरूआत में दिख रही थी.

पहले मैंने अकेले जाकर एक रूम बुक किया और उसको फोन करके अन्दर बुला लिया. अपनी प्रतिक्रियाएं भेजना न भूलें और कहानी के नीचे दिये गये कमेंट बॉक्स में अपने कमेंट्स भी छोड़ें ताकि मुझे आप लोगों के विचार पता लग सकें.

अबकी बार मैंने अपना हाथ ऐसा रखा था कि उनकी हथेली मेरी हथेली से चिपक गई. एक बार फिर से मैंने चाची की चूत मारी और उसकी चूत में ही माल छोड़ दिया. मुझे ध्यान आया कि कहीं उसके झांट तो बीच में नहीं आ रहे? ऐसा ख्याल मुझे इसलिए आया क्योंकि जब मैं उसकी चूत में उंगली करता था तो चूत में उंगली आराम से चली जाती थी.

मैंने अपने आपको संभालते हुए कहा कि मैं तो आपको नहीं देखता हूं … मैं तो बस अपने काम से काम रखता हूं. फिर भाभी ने उंगली के इशारे से चूत चाटने को बोला और हम 69 की पोजिशन में आ गए और खूब चुसम चुसाई खेली. मैंने हंस कर आंख दबाई और कहा- हां फिर मैंने मलाई की चर्चा छेड़ दी थी.

तो मैं सुबह करीब आठ बजे तैयार होकर जाने के लिये सीढ़ियों से नीचे आ रहा था कि एकदम से मेरे पैर थम गये.

मेरे उस्ताद ने उसकी चूत को मेरी अनुमति के बिना ही चोदना शुरू कर दिया. फिर उस मुन्ना नाम के लड़के ने अपने दोनों हाथ अंतरा के चूतड़ों के नीचे ले जा कर उनको तकिया जैसा सहारा दे दिया और ज़ोर ज़ोर उसकी चुत का बाजा बजाना शुरू कर दिया.

एक तरफ गर्दन घुमा कर भाभी सोनू के लंड को चूसती हुई मोनू के लंड पर कूदने लगी. अब तो मेरी कामवासना मचल उठी लेकिन उसकी चूत ज्यादा प्यासी थी!सभी काम प्रेमियों को विहान राजपूत की प्यार भरी राम राम!दोस्तो, आज मैं आपके सामने अपनी लाइफ की एक सच्ची चुदाई-घटना का वर्णन करना चाहता हूं, आपका ज्यादा समय न लेते हुए मैं बताता हूं कि बात करीब 2 साल पहले की है. मैंने उसको उठने को कहा, लेकिन वह न उठी, शायद वो भी लंड के मजे ले रही थी.

चुदाई के दौरान मर्द इनको मुंह में लेकर चूसता है और जब बच्चा पैदा होता है यहीं से दूध निकलता है. मैंने भी अब अपने होंठों को उसके निप्पल से हटा कर उसके गले को चूमना शुरू कर दिया. मैंने फिर से उनको पकड़ लिया और एक कोने में ले जाकर पीछे से अपना तन्नाया हुआ लंड उनकी चुत में घुसा दिया.

बीएफ हिंदी मूवी सेक्स मैं भी ताबड़तोड़ मम्मी की चुदाई रहा था, लेकिन मेरा पूरा लंड मम्मी की चूत में जा नहीं रहा था. कमलनाथ ने एक मापने के लिए एक स्केल ली और हर एक गमले में उसे डालकर कुछ नापने लगा.

ब्लू पिक्चर सेक्सी बीपी पिक्चर

भाभी के मुंह से कामुक सिसकारियां निकलने लगीं ‘उम्म्ह … अहह … हय … ओह …’ बीच-बीच में मैं भाभी के चूचों को दबा भी रहा था और कभी उसके निप्पलों को पी रहा था. उसने अपनी उंगली को निकाल कर देखा कि मेरी बहन खुद ही चुदाई को उतावली हो रही थी. उनकी टांगें फैली हुई थीं और लंड वैसे ही एक साइड में अगल से दिखाई दे रहा था.

लगातार सेक्स करने की बजाए मैं अपने लंड को जुबैदा की चुत से बाहर निकालता, बस मेरा सुपारा उसकी चूत में रहता … और फिर कसके झटका मार देता. और मेरा यह हथियार चैन में बुरी तरह से फंस गया, अब निकल भी नहीं रहा है और थोड़ा सा खून भी निकल रहा है।यह सुनकर भाबी पहले तो थोड़ा सा हंसी और फिर बोली- मैं तुम्हारी कुछ मदद करूं क्या?मैं बोला- भाबी अब आप ही इस प्रॉब्लम से बाहर निकाल सकती हो!तो उन्होंने कहा- ठीक है, कोई बात नहीं. शेख चिल्ली हिंदू है या मुसलमानवो बोला- साली रंडी, मैं बहुत दिनों से तेरी चूत को चोदना चाह रहा था.

अब आज मेरे सामने उन दोनों की रासलीला की कहानी यहां से शुरू होती है.

जैसे ही वो फ्री हुई, मेरे पास आयी, बोली- यार अभी नहीं।मैंने थोड़ा उनको इमोशन ब्लैकमेल किया और कहा- मैं ऊपर रूम में इंतजार कर रहा हूँ. मैं बस हाय हाय करते हुए उससे विनती करती हुई बोलने लगी- प्लीज कांतिलाल जी छोड़ दो … नहीं तो मैं झड़ जाऊंगी, ओह्ह मां मर जाऊंगी मैं.

कुछ देर के बाद सब कुछ जब सामान्य हो गया तो हम लोग उठे और अपने अपने कपड़े पहनने लगे. उसके बाद मैंने एक गिलास उठाया और उसको दारू से भर के काव्या को दिया. मेरे नीचे वाली सीट पर जो आंटी थी वो भी सो चुकी थीं और उनके खर्राटों की आवाज मेरे कानों में आ रही थी तो मैंने हेडफोन लगा लिये और मूवी देखने लगा.

मां बोली- आह्ह … मैं तो बहुत दिनों से इस तरह की चुदाई के लिए प्यासी थी बेटा.

मैंने भी उसे गले से लगा लिया और बोला- तुम भी बहुत प्यारी हो काव्या. शाम को करीब छह बजे सलमा की अम्मी का फ़ोन आया कि दोनों को भेज रही हूँ. मैंने देखा कि उसकी सील टूट चुकी थी, खून आ रहा था और उसके आँसू भी!लेकिन मैं नहीं रुका … मैं और तेजी से राउंड मारने लगा.

पेंट वाला पजामावो दबे हुए स्वर में बोलीं- क्या कर रहे हो?मैं बोला- आज तेरी गांड मारने का मन है. इसमें मैच क्या करना होता है? मगर मुझे एक बात सच बताओ कि क्या तुम मुझको पसंद करती हो?वो बोली- हां …इतना कहकर वो फिर से शरमाने लगी.

राजस्थानी सेक्सी चुटकुला

मम्मी ने मेरी तरफ देखा और मुस्कुरा कर कहा- बेटा, तुम मुझसे कितना प्यार करते हो?मैं बोला- मम्मी जी, मैं आपसे इतना प्यार करता हूं … अगर आप इजाजत दो, तो बेटा के प्यार के साथ साथ पापा की कमी पूरी कर दूँ. वो किसी से फोन पर बात कर रही थी और बात करते हुए ही उसकी आंखों से आंसू भी निकल आये थे. मैं पूरी ताकत लगा कर अपने चूतड़ों को आगे पीछे करते हुए अपनी योनि में उसके लिंग का घर्षण करती रही.

उसके बाद मैंने धीरे से काव्या के सुर्ख लाल होंठों को अपने होंठों की क़ैद में दबा लिया और उसे किस करने लगा. मैंने बोला- यार, घर पर क्या बोलूँगा … नहीं रुक सकता, सॉरी!इसके बाद काव्या ने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोला- रुक जाओ ना निहाल. यदि मेरी कोई भी किसी भी तरह की बात या शब्दों का इस्तेमाल बुरा लगे तो उसके लिए मैं आप सबसे दिल से माफी चाहता हूं और कोशिश करूंगा कि अपनी कहानी को और बेहतर ढंग से लिख सकूं.

मम्मी बोलने लगी थीं- आह … चोदो बेटा और जोर से चोद दे … आह और जोर और जोर से चोद … पेल दे पूरा लंड फाड़ दे मेरी बुर. उसको देखते ही दिल में हलचल सी मच गई और मैंने उसको टोकते हुए नमस्ते की तो वो भी मेरी तरफ देख कर हल्के से मुस्करा दी. मामी मेरा लंड लेकर खुश रहने लगी थी और मैं भी मामी की मामी की चुदाई करके मजे लेता रहा.

मेरी सहली मौली मुझे बताती थी कि वो अपने बॉयफ्रेंड से कैसे चुदाई का मजा लेती है तो मुझे भी चुदवाने का मन करता था और मेरी चूत भी गीली हो जाती थी. चाची की गोरी मांसल जांघों को तो मैं पहले ही देख चुका था और अब उनके नंगे कूल्हों ने मुझे मानो वहशी बना दिया था.

कुछ देर ऐसा करने के बाद मैंने उसे उठ कर घुटनों के बल घोड़ी बन कर बैठने को बोला.

वैसे दोस्तो, मैं लिखने के मामले में थोड़ा आलसी हूँ इसलिए कोई गलती कहानी में हो जाए तो माफ कर देना. पूजा का मोबाइल नंबरमैंने अपना कौमार्य अपने होने वाले पति की अमानत समझ कर बचा कर रखा था. सेक्सी पिक्चर फुल सेक्सी पिक्चरमां ने पूछा- वो कहां मिलेगी?मैंने बताया- यहीं पर मार्केट में ही मिल जाती है. लेकिन मुझे तो रोज सेक्स करने का मन करता था और मेरे पति ऑफिस में काम की वजह से मुझे सप्ताह में एक दो बार ही चोदते थे.

फिर अचानक से राज मजे लेता हुआ बोला- अल्पना और सोना तो अभी से इतनी थक गई हैं कि सुबह स्वीमिंग पर नहीं आई हैं.

कुछ देर तक मेरी बूर चाटने के बाद डॉक्टर साहब ने चेयर नीचे कर दी और मेरे ऊपर लेट गये. कांतिलाल भले कितना भी सहनशील क्यों न होता … मगर बाकी मर्दों की तरह उसकी भी एक सीमा थी और अब उससे बर्दाश्त करना मुश्किल था. मैंने बात को आगे बढ़ाते हुए कहा- फोन पर तो मैंने कभी सर्विस दी नहीं है और न ही मैं देना चाहता हूं.

मेरी कद काठी बहुत ही मस्त है, जिस कारण बहुत सी लड़कियां मुझ पर मरती भी हैं. अन्तर्वासना सेक्स स्टोरी पसंद करने वाले मेरे प्यारे दोस्तो, मैं एक कहानी लेकर आया हूँ. फिर मैंने बिना अंडरवियर के ही लोअर पहन लिया और नीचे जाकर खाना खाया और कुछ देर बाद फिर ऊपर आकर अपने कमरे में लेट गया।भाबी भी नीचे सारा काम निपटा कर दादी को खाना खिला कर और अपनी छोटी गुड़िया को और अपने आप खाना-वाना खाकर मेरे लिए एक गर्म दूध का गिलास उस में हल्दी डालकर लेकर आई.

वीडियो सेक्सी फिल्म्स

हम दोनों ने एक दूसरे को पकड़ लिया और कुछ देर यूँ ही उसी अवस्था में लेटे रहे. वंदना भाभी- हैलो … बल्लू को बुलाएंगे क्या एक बार?उधर से आवाज आई- आप कौन बोल रही हैं?वंदना भाभी- बोल देना कि वंदना का फोन है. फिर हम लोगों ने वाइन से लेकर सिगरेट और खाने पीने के अलावा हमने डांस बार में भी डांस किया, जिसमें मेरे ग्रुप में मैंने और सनी ने … और अल्पना और वरुण ने साथ में डांस किया.

जब भी मैं वहां जिम के पास से जाता था, उसे देखने का मौका नहीं छोड़ता था.

ये बात उन दिनों की है, जब मैं अपनी बुआ के यहां छुट्टियों में गई हुई थी.

मैं उसके घर उसकी मम्मी के आने तक के लिए रुका था और उनको देर शाम तक वापस आना था. अब वो राज जानने की जिज्ञासा सब में थी, जिसके वजह से हमने ये सब किया था. दिल्ली एस्कॉर्ट सर्विसदिन प्रतिदिन मेरा आकर्षण हॉट श्रेया आंटी की तरफ बढ़ता ही जा रहा था.

कुछ देर के बाद जब अचानक से स्क्रीन पर एक डरावना सीन आया, तो उसने अपना हाथ मेरे हाथ पर रख दिया. अंधेरे में कुछ दिखाई तो नहीं दे रहा था अंदर मगर अपने हाथ से मैंने उसकी पैंटी को खींच कर उसे पूरी नंगी कर दिया. आज मैं भी बहुत खुश थी कि मैं जिससे प्यार करती हूँ, उसका लंड पहली बार लूंगी.

मैंने अपने हाथ से लौड़े को उनके भोसड़े के खांचे में रखा और एक तेज सांस लेकर एक ही धक्के में लौड़े को उनके भोसड़े में अन्दर तक घुसा दिया. दो मिनट बाद उसने खुद अपनी पैंटी को उतारा और मुझे धक्का देकर बिस्तर पर सीधा लिटा दिया.

जब भी कोई जवान लड़की सामने होती थी तो सबसे पहले नजर उसके चूचों पर जाती थी.

मेरी इस गर्म हिंदी सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मुझे अपनी बहन की वासना के बारे में पता चला और मैंने बहन की चुदाई अपने एक दोस्त से करवायी. मैं अक्सर सोचा करता था कि उनके पति शायद जॉब पर जाते होंगे इसलिए उनसे मुलाकात नहीं हो पाती है. मैंने पेटीकोट पेट तक उठा दिया और उसकी पैंटी के ऊपर से चाची की चूत को चूम लिया.

इंडियन मारवाड़ी सेक्स जब उन्होंने मुझे मिलने के लिये कहा, तो मेरा लौड़ा तो तुरंत खड़ा हो गया था. वो मेरी चूत में उंगली करने के बाद मुझे अपना लंड चूसने के लिए बोलने लगा.

कमलनाथ दनादन धक्के मारे जा रहा था और कविता वहीं कराह कराह कर अपने चूतड़ों को उठाने का प्रयास कर रही थी. उन कपड़ों को देख राजेश्वरी बहुत खुश हुई और बोली- यार, मैंने भी यही कपड़े आज के रात पहनने की सोची थी. मां गेट की ओर गयी तो मैं चुपके से रूम से बाहर आ गया और मां को देखने लगा.

किचन सेक्सी फिल्म

अम्मा ने कहा- बेटे मैं थोड़ी देर के लिए शीला चाची के पास जा रही हूँ, तू सो जा, मैं अभी आती हूँ. मैंने उसकी बुर को हाथ से रगड़ा और अपना लंड उसकी बुर के मुंह पर लगा दिया और उसके ऊपर लेट गया. जब मैंने उससे कहा कि अगर वो लोग मेरे साथ संभोग करने चाहेंगे, तब क्या होगा?उसने बोला- कोई बात नहीं वैसे भी हम सब यहां मजे करने आए हैं और संभोग हम सबके बीच सामान्य बात है.

ये कह कर मैंने उसके मुँह में अपना लंड डाल दिया और रुक रुक कर उसके मुँह में मूतने लगा. वो थोड़ा और ऊपर उठा और मुझे मुस्कुराते हुए देख कर बोला- मजा आ गया, आज से पहले ऐसे किसी को नहीं चोदा था … न ही किसी ने मुझसे चुदवाया था.

लड़की के हाथसे लंड सहलवाने में मुझे भी मज़ा आने लगा था, मैंने भी जींस के ऊपर से ही निधि की चूत को सहलाना आरम्भ कर दिया। अब तक निधि बहुत ज्यादा गर्म हो चुकी थी.

चुदाई के बाद वो पूछने लगी कि आज लंड कैसे चला गया?मैंने कहा- मेरा लंड तुम्हारे उस घोंसले में फंस कर रह जाता था. इस हिंदी सेक्स स्टोरी के पिछले भागखेल वही भूमिका नयी-9में अब तक आपने पढ़ा था कि नए साल का स्वागत करने के बाद हम सभी ने एक ऐसा कार्यक्रम शुरू किया, जिसमें सेक्स से भरी हुई पटकथा का मंचन किया जाना था. मैं कुछ सोचती या कहती, इससे पहले वो बोले- फिर हम चारों का अच्छा चलता रहेगा.

मेरी भाई बहन सेक्स प्रॉब्लम मैं आपके पास भेज रहा हूँ ताकि आप मुझे सुझाव दे सकें कि मैं क्या करूं. प्रिया ने लंड चूसने से मना किया, तो उसने प्रिया के मुँह पर चांटा जड़ दिया. हम दोनों ने एक दूसरे को पकड़ लिया और कुछ देर यूँ ही उसी अवस्था में लेटे रहे.

मैं उठा तो भाभी ने मेरी लोअर में तना हुआ मेरा लंड देख लिया और फिर टीवी की तरफ देखने लगी.

बीएफ हिंदी मूवी सेक्स: अब बात साफ़ हो गई थी कि मेरी बहन मेरे लंड से चुदने के लिए एकदम रेडी है. वही जब रवि रमा के ऊपर से हटा और लिंग को बाहर खींचा, तो उसका वीर्य रमा की योनि से बह निकला.

उसने पहले तो मुझे एक टी-शर्ट और स्कर्ट पहनने को कहा, पर वो मुझे जंच नहीं रहे थे. मैंने भाभी से पूछा- लंड चूसोगी?भाभी तो जैसे मेरे इस सवाल का इन्तजार कर रही थीं. मैं थोड़ा नाराज़ हुआ लेकिन मैंने गुस्से में उससे बैड पर गिराया लंड को खड़ा किया और उसकी चूत पर रखकर सहलाया और झटके के साथ एक बार में आधा अंदर डाल दिया.

एक बच्चा बोला- आंटी आप मिल गईं … आपने कितनी देर में दरवाजा खोला … वो भैया कहां हैं?तभी मैंने पीछे से आकर भाभी की गांड पर दांत से काट लिया.

एक तरफ कमलनाथ के ऊपर रमा सवारी कर रही थी, तो दूसरी तरफ कांतिलाल राजेश्वरी को घोड़ी बना कर पीछे से धक्के मार रहा था. मेरे लंड को आंटी ने मेरी चड्डी से बाहर निकाल कर देखा, तो उनकी आंखें फटी की फटी रह गईं. उसने पूछा- सिर्फ़ सुंदर?मैंने बोल दिया- मस्त माल है, देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया.