बीएफ भेजो बढ़िया

छवि स्रोत,तब्बू की नंगी फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

आगरा बीएफ: बीएफ भेजो बढ़िया, बहुत ही प्यारे बबले थे उसके!वो जोर जोर से बोले जा रही थी- ओह्ह आर्यन मैं कब से प्यासी हूँ … आंह चोद डालो मेरी इस चूत को.

सेक्सी woman

नमस्कार दोस्तो, मैं अरुण कुमार वापस अपनी दूसरी सेक्स कथा लेकर आपके सामने आया हूँ. सेक्सी वीडियो नंगी बिल्कुलअब जब भी मैं साड़ी पहनती तो उनकी नजर मेरे पेट पर और कमर पर टिक जाती थी.

आमोद कुमार[emailprotected]नंगी लड़की सेक्स फोरप्ले कहानी का अगला भाग:दोस्त की सहेली संग चुदाई युद्ध- 3. বুলু ফিল্ম সিনেমাकॉलेज खत्म करके मैं सीधा मेरे दोस्त वरुण की मेडिकल शॉप पर गया और उसे नींद की दवाई देने को कहा.

मैंने भी लंड का सुपारा उसकी चूत की दरार में रखकर एक जोर का धक्का मार दिया.बीएफ भेजो बढ़िया: एक साथ एक से ज्यादा मर्दों से चुदवाने का ये मेरे लिए एक सुनहरा अवसर था.

उसकी मांसल गांड का गर्म अहसास मेरे लंड को हो रहा था इसी वजह से मेरा लंड तनाव में आने लगा था.इस पर वो बोलीं- अरे वाह … ऐसे में तो बहुत मजा आ रहा है … और जोर जोर से चोदो.

एक्स एक्स वीडियो सेक्सी मराठी - बीएफ भेजो बढ़िया

इतने में पापा ने उसकी नाईटी की कमर के ऊपर वाली रिबन खोल दी, जिससे उसकी सैट वाली डोरी वाली पैंटी और रिबन की ब्रा दिखने लगी.मेरी शादी को काफ़ी टाइम हो गया है और मेरे दो बच्चे भी हो गए हैं, तो अब तुमसे मैं संतुष्ट नहीं होने वाली.

वो बात कुछ ये है कि मेरे पास चुकाने को पैसे नहीं हैं।मुखिया जी बोले- पैसे नहीं है मतलब?मैं बोला- वो मुखिया जी बात ये है कि वो पैसे जुए में हार चुका हूँ अब मेरे पास एक भी पैसा नहीं है।मुखिया जी- तू इतना सा होकर जुआ खेलता है?अब मैंने उन्हें अपनी तकलीफ बताई और वो बोले- अच्छा तो ये बात है, कोई बात नहीं. बीएफ भेजो बढ़िया इससे उसकी चूत की कलियाँ खुल गई थी, अंदर का गुलाबी गुलाबी दिखने लगा था.

दरवाज़े को खोलने के लिए जैसे ही वो रुकी, तो मैं पीछे से उसकी गांड पर जाकर चिपक गया.

बीएफ भेजो बढ़िया?

पापा मौक़ा पाते ही मेरी चूची दबा लेते और प्लान बना कर मैं पापा से अपनी चुत चुदवा लेती थी. इतनी देर में अमन आया और अपने कपड़े उतारने लगा और आज उसने अपना अंडरवियर भी उतार दिया और मेरे तरफ मुँह करके लंड हिलाने लगा. अब आगे फ्रेंड वाइफ Xxx स्टोरी:सविता मेरे कंधे पर सर रखकर बैठी हुई थी और मैं आहिस्ते आहिस्ते उसकी मखमली बांहों को सहला रहा था.

तभी जीजा के मुँह से निकला- मादरचोद रंडी तुझको तो पूरे मुहल्ले के लड़कों से चुदवाउंगा. अब हम दोनों चाचा भतीजे मिलकर हर रोज़ ज्योति और स्वाति रंडी की चूत का भोसड़ा बनाते हैं. ये सीधी उसके पेट में गयी क्योंकि उसने मेरा लंड मुँह से बाहर निकाला ही नहीं था.

थोड़ी देर में ही हम दोनों की जीभ आपस में केक के लिए झगड़ने सी लगी थीं. हम साथ में नहाए और जल्दी से बाथरूम में एक और राउंड निपटा कर तैयार होकर निकल गए।मैंने उससे उसके घर से कुछ दूर पर ड्रॉप किया और दुबारा मिलने का वादा करके वो चली गयी।फिर ये हमारा हर हफ़्ते का काम बन गया।5 साल बाद कुछ कारणों से हम अलग हो गए लेकिन अब भी उसके साथ बिताए पलों की मेरे दिल में वही जगह है।आशा करता हूँ कि आपको मेरी कॉलेज गर्ल फक की कहानी अच्छी लगी होगी. भाभी ने आंखें मटका कर कहा- ओहो … लाला मतलब तुम्हारी गर्लफ्रेंड चाहे जिधर से दे देती है?मैं कहा- हां भाभी, आप सही पकड़े हैं.

दस बजे के लगभग हम लोग पूरी बोतल खत्म कर चुके थे और बहुत नशे में थे. लेकिन मुझे यह मजा मिला गाँव की ओर जाने वाली एक सुनसान सड़क पर! हल्की हल्की बारिश हो रही थी.

मुझको इतना मजा आ रहा था कि अगर उस वक्त कोई मेरी गांड में हाथ भी डाल देता तो शायद दर्द नहीं होता.

मुझे लगने लगा कि आज तो मेरी चूत की होली दिवाली ईद क्रिसमस एक साथ मन जाएगी.

उनके शाम को जाने के बाद मैं बाथरूम में घुस गई और आधा घंटा गर्म पानी से नहाकर अपनी भोसड़ी और गांड को कुछ आराम दिया. मैंने हंसते हुए उसे आंख मार दी तो सोनाली शर्माकर अपनी जीभ अपने ही होंठों पर फिराने लगी. मैं- कुछ बोलोगी, या मुझे ऐसे ही देखते रहोगी?साबिरा- जाओ, भाईजान ऊपर अपने कमरे में हैं.

पीछे से चूत चोदने वाले बाबा ने मुझे नीचे खींच कर ज़मीन में खड़ा कर दिया और मेरी एक टांग उठा कर मुझे पीठ से अपनी तरफ करके मेरी गांड में अपना लंड पेल दिया. एक पकी हुई जवान लौंडिया, जो चुदने की पूरी उम्र की हो गई थी और अब तक उसकी चुत पर झांटें नहीं उगती थीं. फिर बोली- ठीक है शालिनी, नौ बजे तक मैं रेडी हो जाऊंगी, तुम मुझे अपने साथ पिक कर लेना … बाय.

पापा ने सीधा चूत पर लंड टिकाया और जोर से धक्के देकर लंड अन्दर डाल दिया.

मैंने सोनाली को अपने नीचे लेते हुए कहा- अच्छा तो भाभी भी तुम्हारे साथ है क्या?मैं अपने घुटने के बल बैठकर उसकी दोनों चुचियां मसलते हुए बोला. मैंने उसे अपनी तरफ मुँह करके सीधा लेटने को कहा और मैं उसकी एक टांग ऊपर उठा कर उसकी चूत में फिर से लंड पेल कर फकाफक चोदने लगा. फर्स्ट नाईट Xxx कहानी में पढ़ें कि मैंने कैसे अपनी कुंवारी दुल्हन की नाजुक चूत को सुहागरात में अपने लंड से फाड़ा.

मैं अपने शरीर की अच्छी देखभाल करता हूँ क्योंकि अच्छा शरीर ही इस काम में सफल होने का कारण है. अदिति मेरे कान में बोली- हर्षद, तुमने तो मुझे एक धक्के में ही झड़ा दिया. अंकल बोले- बेटा मैं तुमको काफी दिन से चोदना चाहता था, तुम बड़ी गजब की माल हो.

कुछ कहानियों में थ्रीसम सेक्स होता है, लड़की की चूत और गांड में एक साथ लंड चलते हैं.

गे फ्रेंड सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरे दोस्त ने मुझे अपने घर बुलाकर गांड मरवायी. मैं बोली- मोनिका, अगर मैं राज को ही पटा लूं तो?वो बोली- नहीं भाभी अगर उसने मेरे पति को बता दिया तो?मैं बोली- चल देखती हूँ.

बीएफ भेजो बढ़िया मैंने लगातार 4-6 बार उसके चूतड़ पर चट चट मारा और पीछे से उसकी चूत में उंगली करी।उसने अपनी कमर उठाई और मैं पीछे से उसकी चूत चाटने लगा।मैंने उसको सीधा लिया और उसकी चूत चूसने लगा।फिर मैं उसे बेड की किनारे पर लाया और मैं फर्श पर खड़ा हो गया और सुविधानुसार उसकी टांगें उठाकर उसे चोदने लगा।मैं एक भूखे जानवर की तरह उसे चोदे जा रहा था बिना ये सोचे समझे कि ये उसका फर्स्ट टाइम है. मैंने मार्किट से मैनफोर्स का पान फ्लेवर का बड़ा पैकेट ख़रीदा क्योंकि वह एक्स्ट्रा डॉटेड और एक्स्ट्रा रिब्ड कंडोम है.

बीएफ भेजो बढ़िया इतने में दूसरे वाले ने भी अपना भीमकाय लंड मेरे होंठों के पास कर दिया. मुश्किल से तीस सेकंड में मेरा लंड फूट पड़ा और चाची ने मेरे लौड़े का सारा माल खा लिया.

मैंने आज तक जो भी कहानी लिखी है, वह सब हकीकत है और मेरे साथ गुजर चुकी हुई होती है.

नोरा फतेही एक्स एक्स एक्स

फरवरी 2019 में मेरी किस्मत ने एक नया मोड़ लिया और मुझे एक ऐसी भाभी का साथ मिला, जिसे देखते ही मुझे उससे प्यार हो गया. उसने दी तो मैंने बहुत सारी वैसलीन उंगली पर ले ली और दोनों के लंड पर लगा कर डिब्बी खाली कर दी. मोबाइल पर गाने सुनते सुनते अब मैं शिराज के घर के बाहर से निकल ही रहा था कि सामने से मुझे उसके घर का दरवाजा खुलता हुआ दिखायी दिया.

मैंने कहा- यार, अभी तो मैंने अपने लंड का आधे का आधा भी अन्दर नहीं घुसाया है और तुम ऐसे कर रही हो. मां कसम उसकी इस बात से मैं इतना उत्तेजित हो गया था कि पूरी रात मैं सो नहीं पाया और उसके सपने देखता रहा. तभी ललिता भाभी की सिसकारियां तेज़ होने लगीं और वो जल्दी जल्दी उछलने लगीं.

अब मुँह में लंड दिए वाला बाबा सीधा होकर लेट गया और उसने मुझे अपने ऊपर चढ़ा लिया.

दूध दबा दबा कर पीने में उस वक्त बड़ा मजा आता है, जब चूची चुसवाने वाली खुद से दूध पिला रही हो. मैं उसे कई दिनों से देख रहा था कि वो इंसान ब्रांच के चक्कर काट रहा था. अपनी मेरी एक सेक्स कहानीमौसेरे, फुफेरे भाई बहनों की खुली चुदाईमें आपने पढ़ा था कि एक कमरे में दो फुफेरे भाइयों ने अपनी तीन मौसेरी और सगी बहनों के साथ मिल कर सेक्स का धमाल किया था.

मैंने झट से अपना मोबाइल उठाया और फ्री सेक्स कहानी की वेबसाइट खोली, उसमें वीडियो सेक्शन भी है. हॉट इंडियन भाभी की चुदाई कहानी सब्जी बेचने वाली एक सेक्सी लेडी की है. पापा ने परमीशन के साथ साथ उसे 50 हजार रूपये भी दिए, जिससे वह अपने लिए नए कपड़े खरीद सके.

फिर शलाका ने मुझे बेड पर अपने बाजू में लिटा लिया और वह अब मेरे कपड़ों को उतारने लगी. फिर जब हम दोनों नहाने एक साथ बाथरूम में गए तो उधर उसने अपनी हसरत मुझे बताई.

उसे शायद अन्दर तक सनसनी होने लगी थी और अच्छा भी लगा था तो वो फिर से चुम्बन देने के लिए राजी हो गई. मेरी नींद जब खुली तब अदिति मेरी बांहों से छूटने की कोशिश कर रही थी. अचानक भाभी ने धक्का दिया, तो मुझे होश आया कि मैं ये क्या करने लगा था.

चंडीगढ़ पढ़ाई के लिए आया तो मकान मालकिन से दोस्ती के बाद सेक्स का मजा मिला मुझे!जब मैं करीब बीस साल का था, उस वक्त मैं बारहवीं उत्तीर्ण करके घर से बाहर रहने के लिए चला गया.

हम दोनों के ही बदन पसीने से भीग चुके थे और हम दोनों ही थक कर लेट गए. खैर … मैं जैसे ही घर में दाखिल हुआ, तो मुकेश ने ‘आ कमल …’ कहते हुए मुझे अपने गले से लगा लिया. इन्हीं कुछ सेकेण्ड्स में वीरू का सारा माल कमोड में गिर गया और उसने फिर से खिड़की से बाहर देखा।शब्बो ने अपना सीना ढक लिया था।ये देख कर वीरू का मन उदास हो गया और वो नहाने चला गया।इस घटना के बाद शबाना ने अब वीरू के मन की बात समझ ली।अब वो जानबूझकर वीरू के सामने अपने चूचे दिखाने का प्रयास करती.

वो मादक सिसकारियां लेकर ‘आह स्ह स्ह ऊं ऊं …’ करने लगी- ओह हर्षद, आज पहली बार एक मर्द मेरी चूचियां चूस रहा है. मैंने दो उंगलियां भी चूत के अन्दर डाल दीं और तेजी से चूत के अन्दर बाहर करने लगा.

वो खुद जोर जोर से गांड उठा कर उंगली करवाने लगीं और उसी में उन्होंने अपनी पेशाब की धार तक बहा दी. एक दिन मौसी का फोन आया कि अजय अभी तुम्हारे एग्जाम भी ख़त्म हो गए हैं. कुछ दिनों बाद मैं अपने घर वापस आ गया और अब हम दोनों ने इस बारे में आगे बात करना ही ठीक नहीं समझा.

निरहुआ रिक्शावाला २

समझ गयी ना!माँ थोड़ा घबराती हुई- हम्म्म!फिर मुखिया जी ने अपना हाथ माँ के ब्लाउज़ पर रखा और उनके दूध को दबाने लगा.

अब वो थोड़ी देर रुका और धक्के देने शुरू कर दिए।मैं- आह आ आह और जोर ज़ोर से करो!अमन- जी चाची!उसने अपने धक्कों की गति बढा दी।मेरे दूध बहुत हिल रहे थे इसलिए मैंने उसे अपने हाथों में थामा।तभी अमन ने मेरे हाथ साइड किये और अपने हाथ से मेरे दूध को कस कर पकड़ लिया. फोरप्ले सेक्स की कहानी में पढ़ें कि मैं एक देसी लड़की के साथ अकेला उसके घर में था. मुझसे रहा नहीं गया, मेरी चीख निकल गयी- आउच ओह्ह मोहक इतना ज़ोर से क्यों मारा?मेरा बूब तो टमाटर की तरह लाल हो गया।मोहक बोला- डेज़ी, वो ब्लू फ़िल्म में करते हैं न ऐसा … तो मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने मार दिया।मैंने कहा- बेबी प्यार से मारो न … देखो कैसे लाल हो गया।फिर मोहक ने मुझे लेटने को कहा और मेरे ऊपर आकर उसने मेरी चूत में लंड डाल दिया.

दोस्तो, लम्बी मेहनत के बाद जब मुझे सरकारी विद्यालय में एक अध्यापक की नौकरी मिली तो ऐसे लगा जैसे मेरा बचपन का ख्वाब पूरा हो गया है. थोड़ी ही देर में हम सबका खाना हो गया और हम सभी बाहर आंगन में रखी कुर्सियों पर आराम से बैठकर बातें करने लगे. सिर्फ राज के सेक्सी वीडियोचूंकि मम्मी की गांड पहले से खुली हुई थी, इसीलिए मैं जोर जोर से धक्के देने लगा था.

मैं तब तक पर्वी की चूत में लंड डालकर खड़ा रहा जब तक रस का एक एक कतरा उसकी चूत में न छूट गया. मैंने उसकी मखमल जैसी चूत पर अपना हाथ रखा और सहलाया तो देविका सीत्कारने लगी- आह उफ्फ स् स्ह स् स्ह हं हं ऊई ऊई!वो मादक आवाजें निकालने लगी थी.

दोस्तो, जिसकी ऐसी तारीफ खुद उसका पति करे, उसका मेरी तरफ आकर्षित होने लाजिमी था. वीरू का कमरा पहले फ्लोर पर बना था और इस एंगल से देख़ने से शबाना की चूचियां और भी खूबसूरत लग रही थीं. मैं उसकी चूत चाटने लगा और वो तेज तेज कामुक सिसकारियां और गर्म आवाजें भरने लगी.

आह मुझे इस लंड की जरूरत है … ओह चोद मजे से … चोद चोद कर आज मेरी चूत फाड़ डाल!हम दोनों चुदाई में इतने तल्लीन थे कि दीन दुनिया की कोई खबर ही था ना थी. मैंने अपनी दो उंगलियों से उसकी चूत को फैलाया और अन्दर तक उसकी चूत को चाटने लगा. मैं भाभी की चूचियों को मसलने लगा और वो गांड रगड़ कर लंड को अन्दर तक लेने लगीं.

नहाते समय एक बार फिर से लंड चूत चैतन्य हो गए और मैंने फिर से उसकी ताबड़तोड़ चुदाई करना शुरू कर दी.

ससुर जी मेरे मम्मों को बिल्कुल निचोड़ रहे थे और मुझे काफी तकलीफ हो रही थी लेकिन मैं भी उस समय पूरे जोश से भरी हुई थी और अपनी शर्म को दूर करते हुए अपने आप को उनको सौंप चुकी थी. मेरा लंड रूकने का नाम नहीं ले रहा था तो मैं बाथरूम में घुस गया और मुठ मारने लगा.

सब पूछने लगे- कौन किसको चोदेगा?मैंने कहा- चिट डाल लेते है, जिसमें जिसका नाम आया, वो अपना पार्ट्नर चुन लेगा. चूत से निकल कर रस फिर से बहने लगा था और मेरे लौड़े से होता हुआ अब उसकी मलाई मेरे गोटों पर जाने लगी थी. मैंने कहा- फिर कैसे गांड में लंड पेलूँगा?वो बोला- मेरी सलवार नीचे करके मार लेना.

वो आंह उन्ह करने लगी और मेरे लंड के सुपारे को अपनी गांड पर महसूस करने लगी. बस यहीं से शुरू होती है उस मस्त भाभी की चूत की मलाई खाने की शुरूवात. नीचे संगमरमर की तरह तराशी हुई गहरी नाभि के साथ लचकती कमर … आह क्या कहने थे.

बीएफ भेजो बढ़िया मैंने कहा- भाभी मैं समझा नहीं, आप क्या कह रही हो?भाभी बोली- अच्छा तो अब अनजान बनने का नाटक कर रहे हो देवरजी. मेरे इस तरह से हाथ फेरने से भाभी को भी कुछ मजा आया और वो समझ भी गईं.

सुहागरात के दिन क्या होता है

देर रात को मेरा फ़ोन बजा, मैंने बिना स्क्रीन देखे, फ़ोन उठाया और कान में लगा कर बोला- हां जान. मैंने मौसी के हाथ से सोहम को लेते समय उनके दूध दबा दिए थे, जिससे वो मेरी तरफ वासना से देखने लगी थीं. खटर-पटर की आवाज से खाट हिल रही थी इसलिए उसने दोनों टांगों को कंधे पर रख मेरे बाजू पकड़ लिए और मैंने उसे अपने लंड पर टांग नीचे फर्श पर लिटा दिया.

बेरोजगारी के चलते मैंने अपने गांव में ही मोबाईल ठीक करने की दुकान खोल ली थी. लेकिन आज तुम मेरी कली का फूल बना दो, मेरा कुंवारापन दूर करके मुझे एक औरत बना दो हर्षद. गांव की सेक्सी राजस्थानीअगर हमें ये पसंद है तो हमें इन हिस्सों को हाथों से छूने और सहलाने की जरूरत है.

तभी उसकी एक और कातिल फ़ोटो आई जिसमें वो थोड़ा झुक कर अपने बूब्स के दर्शन करवा रही थी और उसने अपनी बड़ी बड़ी आंखों में से एक आंख दबा रखी थी.

अब जो मैं बोला, वो करता जा वरना तेरे घर की इज्जत कचरे के डब्बे में मिलेगी तुझे बहनचोद. वहां पर क्या क्या हुआ?दोस्तो, मैं हर्षद आपको अपने दोस्त की गांड चुदाई की कहानी सुना रहा था.

फिर शादी तय हो गई और वो दिन भी आ गया जब हम दोनों एक साथ एक ही बिस्तर पर आने वाले थे. मैं कभी होंठ चूसने लगता, तो कभी उसके मम्मों को मुँह में भरके चूस लेता. मैंने कहा- जब हम लोग किसी दुकान पर सामान खरीदने जाते हैं, तो जब माल पसंद आता है तभी तो उसके दाम चुकाते हैं? या बिना देखे ही दाम देना पड़ता है?वो बोली- बिना देखे दाम क्यों देना?मैंने कहा- हां वही मैं कह रहा हूँ … मैं पहले अपनी बीवी को देखूँगा.

एक हाथ से मैं उसके दूध सहला रहा था और अब नाइटी हट जाने के कारण मैं उसकी पैंटी के ऊपर से ही चूत को सहला रहा था.

आपने उस दिन बड़ा मस्त डायलॉग बोला था … वो क्या कहा था … एक बार फिर से कहिए ना?मैं- अरे जाने दो यार … उस दिन जोश में कह गया. एक तुम हो, न जाने बिना स्खलित हुए कितनी बार मेरी चूत से पानी छुड़वा दिया. ’फिर उन्होंने पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया और एक झटके में पेटीकोट नीचे खींच दिया.

ज्योति का नाटकहम दोनों इतने कामातुर हो गए थे कि दोनों साथ में जोर से सिसकारियां लेते हुए झड़ गए. मैंने उसकी चूत की फांकों में लंड का सुपारा रखा और धीरे धीरे रगड़ना शुरू किया.

सेक्सी पिक्चर चुदाई कहानी

वो बोला- चलिए आपको दिखाता हूँ!वो मुझे अपने साथ ऊपर ले जाकर दिखाने लगा. मुझे हैरानी जब हुई जब होटल के रजिस्टर में अनीशा ने मेरा और उसका रिश्ता पति और पत्नी लिखा. झींगुरों की आवाज के अलावा सामने के कमरे से एक तेज़ चलती सांसों की आवाज सुनाई दी.

मैंने मुँह खोला और अन्दर लिया ही था कि उसके लंड ने सारा वीर्य मेरे मुँह में उगल दिया. Xxx टीन गर्ल सेक्स कहानी में जवान कमसिन बेटी की चूत चुदाई उसके पापा ने की. उसे भी अपनी चूत चटवाने में मजा आ रहा था- आहहह … अंकल … आंह बहुत मजा आ रहा है.

अब उसने संतोष को पास आने का इशारा किया तो वो भी पास आ गया और मेरा गाउन निकालने लगा. मेरी इस तरह कि बिंदास बातों से कमरे में सेक्स का माहौल बनने लगा था. अब मैं हमेशा सविता की फ़ोटो अपने फोन में रखने लगा जो मैंने मुंबई में ली थी.

कुछ दिनों बाद मैंने नोटिस किया कि पापा अपने रूम में सोनम का नाम लेकर मुठ मारते हैं. लंड को पूरा अन्दर तक दबाते हुए मैंने रेशमा की चूत का दाना अपनी दो उंगलियों में पकड़ा और जोर से बाहर की तरफ खींचते हुए बोला- साली छिनाल रंडी रेशमा … तेरी मां की चूत साली तेरे जैसी घरेलू औरतें ही लंड को ज्यादा मजा देती हैं बहन की लौड़ी … आह ले चुद मेरे लौड़े से हरामन कुतिया.

मैंने कैसे आंटी की गांड मारी, वो मैं आपको अगली Xxx कहानी में लिखूंगा.

मैं- आअहह मेरी रांड, साली चूस ऐसे ही अपने मालिक का लौड़ा … छिनाल हम्म्म आअह रेशु मेरी जान … आंह. सेक्सी सुपर हिटमैंने तेल लेकर उनके कंधे से लगाना शुरू किया और पूरी पीठ को तेल से चिकना कर दिया. इंग्लिश कोचिंग सेंटरमैंने कहा- काहे का अंतिम राउंड चाची … अब मुझसे और नहीं रुकना हो पाएगा. रुचि उसके जाने के बाद मेरे सोफे पर आ गई और मुझसे चिपक कर बोली- मम्मी, आपकी बहुत तारीफ करती हैं.

इसी जोश में मैंने नीचे से अपनी गांड उठाकर जोर का धक्का मारा तो पूरा लंड रेखा की चूत में गहराई में जा चुका था.

मेरे शरीर में मानो कंपकंपी छूटने लगी क्योंकि रियान मुझे घूर रहा था. दुबई सेक्स का मजा मुझे दिलवाया मेरे एक फोटोग्राफर दोस्त ने अपनी एक सेक्सी मॉडल के साथ. उसकी चूत बहुत गीली हो चुकी थी तो मैंने पहले उसकी चूत पर एक किस किया और फिर ऊपर को बढ़ा.

और खून और जैल की वजह से कमरे में फच फच फच फच के साथ ही अनुषा की दर्द और मजे की मिली जुली आवाज आ रही थी- आह ऊह उह आयी मर गयी!मैंने ऐसे ही बीस मिनट तक उसे चोदने के बाद बेड पर लिटा दिया. वो बोली- उनको ये सब करते शर्म नहीं आई होगी?मैं बोला- इसमें शर्म की क्या बात है?ये सुन कर वो कुछ बोली नहीं. वो बोली- बावला है के!मैं बोला- हां, तेरे प्यार में बावला ही हो गया हूँ.

सेक्सी वीडियो में साड़ी वाला

तभी सरिता भाभी ने मुझे देख लिया और वो मुस्कुराती हुई खाना खाने लगी. मैंने अपने लंड पर और तेल लगाया और चाची की गांड पर टिका दिया और हल्के से अन्दर डालने लगा. पापा जब तक कुछ समझ पाते, उसने एक पल में ही पापा के लंड को अपनी चूत में समा लिया और आंह आंह मर गई करती हुई ऐसा जताने लगी जैसे इतना मोटा पहली बार लिया हो.

कुछ दिन तो ठीक बीते मगर एक हफ्ते बाद मेरी बुआ की बेटी स्नेहा वापस अपने घर आ गई.

दोस्तो, नंदा की बड़ी लौंडिया मेरे लौड़े से चुद चुकी थी और अब छोटी की चूत चुदाई बाकी थी.

सोनाली मेरे पास आकर झुककर चाय देने लगी तो मैंने उसके स्तन देखकर कहा- मस्त हैं. उस दिन ऑफिस जल्दी क्लोज करके हम सबको उनके घर पार्टी में बुलाया गया था. hande erçel sexवो खुद जोर जोर से गांड उठा कर उंगली करवाने लगीं और उसी में उन्होंने अपनी पेशाब की धार तक बहा दी.

इस पर उसने कुछ जवाब नहीं दिया और मैंने भी उससे कुछ ज्यादा नहीं कहा. उसने मुझे अपना पूरा काम समझाया और मैंने उसके काग़ज आदि देखे, जिसमें कुछ सुधार की जरूरत थी. सर का कॉल आया- मेघा आज कॉलेज नहीं आई क्या?‘सर वो हमारे पड़ोस के घर में कोई नहीं है, तो मुझे उनके घर पर रहना है.

आज की सेक्स कहानी का तारतम्य उसी पिछली सेक्स कहानी से जोड़ कर आगे लिख रहा हूँ. मैंने उसे बताया कि मैं कुछ दिनों के बाद हॉलिडे के लिए दुबई जा रहा हूँ.

कमरे में चुदाई की मधुर आवाज़ फचा फच फच चट की जबरदस्त गूंज आ रही थी.

इस तरह मैं शादी के पहले कई लड़कों से चुद चुकी थी और एक से एक मोटे तगड़े लंड से चुदी थी. मुझे कोई दिक्कत नहीं थी क्योंकि मैं पहले भी उसके पति के साथ सविता के सामने पी चुका था. थोड़ी देर बाद मैंने अपना लंड उसकी चूत की फांकों में फंसाया और रगड़ने लगा.

सेक्सी वीडियो ब्रेजर उसने बताया कि मैं अपने ऑफिस के पास बस स्टैंड पर हूँ और मुझे कोई साधन नहीं मिल रहा है. मगर पापा मूड में थे, वो बोले- यहीं करते हैं न यार … तुम्हारी चूत के रस को तो मैंने पिया ही नहीं है.

रेखा- सच में ना अंकल … मुझे ज्यादा दर्द नहीं होगा ना?मैंने कहा- ज्यादा नहीं होगा बेटी, मैंने कहा ना कि मैं तुम्हें बड़े प्यार से चोदूंगा. वो बैठ कर बर्तन धो रही थी तो उसके पीछे का पूरा मस्त नजारा मुझे दिख रहा था. आज उसने सफेद पजामी कुर्ता पहन रखी थी और वह बहुत ही खूबसूरत लग रही थी और उसके दूध तो मानो कयामत ही ढा रहे थे.

हिंदी सेक्सी फीचर फिल्म

मैंने कहा- क्या हुआ, तुम मुझसे गुस्सा क्यों हो?उसने कहा- यह कैसे कह रहे हो कि मैं गुस्सा हूं?मैं चुप रहा. मेरी अम्मी ने मेरी बीवी से कहा- जाओ इसराना, फकीर की सेवा करो, थोड़ा उनके पैर दबा दो. उसकी कुंवारी बुर एकदम कसी हुई थी और मेरा मोटा लंड उसकीसीलपैक बुरमें नहीं जा पा रहा था.

पर सपना हकीकत भी बनता है … और किसी किसी का सपना, सपना ही रह जाता है. उसे चुप देखकर मैंने अपने हाथों से उसकी जकड़ी हुई कमर छोड़ दी और उसकी चूचियां सहलाने लगा.

बहुत समय से कुछ एक जैसी चुदाई करते करतेहमारी सेक्स लाइफ़बोरिंग होने लगी थी.

उसने देखा कि सही मौक़ा आ गया है तो वो मेरे बेडरूम में दबे पांव आई और झटके से ट्यूबलाइट जला दी. वो- तुम्हारा तो नहीं हुआ हार्ट फेल आज तक!मैं बोला- हो जाता भाभी … पर मैं अपना ब्लड प्रेशर हाई होने के बाद उसे लो कर लेता था. मैं डर गया और उससे माफी मांगने के लिए मैंने 5 मैसेज कर दिए, पर उसका कोई जवाब नहीं आया.

भाभी ने मास्टर का लंड पकड़ा और बोलीं- ये तो लोहे जैसा सख्त हो गया है … मेरी फट न जाए. काफी देर तक अञ्जलि चूत चटवा कर मदहोशी में तैरती हुई अपनी चूचियों को अपने आप बेदर्दी से दबाने लगी, अपने निप्पल पर अपनी जीभ चलाने की कोशिश करने लगी. मैं आयशा के ऊपर ही ढेर हो गया और वो मेरी पीठ को सहलाती हुई मुझे चूमने लगी.

लेकिन आज तुम मेरी कली का फूल बना दो, मेरा कुंवारापन दूर करके मुझे एक औरत बना दो हर्षद.

बीएफ भेजो बढ़िया: आगे बढ़ने से पहले मैं आपको बता दूँ कि मैं एक सामान्य शरीर का 5 फीट 8 इंच का युवक हूँ. करीब 2 किलोमीटर बाद एक नर्सिंग होम दिखा तो मैंने बाइक रोकी और नर्सिंग होम के अन्दर जाकर रिशेप्शन पर पूछा- क्या यहां पर वाटर प्रूफ ड्रेसिंग हो सकती है?उसने मुझे बताया- हो जाएगी.

उसको मैंने व्हाट्सैप पर मैसेज किया और उसके साथ फ्लर्टिंग करना चालू कर दी. तो दादाजी बोले- बहू, मैं मुखिया जी से बात करके देखता हूँ शायद वो हमें कुछ समय दे।तो माँ बोली- नहीं ससुर जी, मुझे पता है वो नहीं मानने वाला है. कुछ देर मेरे गालों को चूमने के बाद उन्होंने मेरे चेहरे का दोनों हाथों से थामा और मेरे होंठों पर अपने होंठ लगा दिए.

थोड़ी देर में मैंने उसकी चूत में माल निकाल दिया और उसकी बाजू में लेट गया.

मैं एक अंडरवियर में रह गया था और मेरा लंड खड़ा होकर बाहर आना चाहता था. उस दिन मैंने उसको अन्दर जाते समय देखा था तो सच में यार राखी के क्या चूतड़ थे … उफ्फ … मेरे लंड को तो मार ही डाला था जालिम ने!पहली ही नजर में मुझको लगने लगा था कि अभी के अभी इसको पटक कर चोद दूँ. शायद घर के बाहर वो भी किसी से बात नहीं करती थी इसलिए भी मेरी उससे बात करने की हिम्मत नहीं होती थी.