हिंदी सेक्सी बीएफ दिखाइए वीडियो में

छवि स्रोत,आवाज वाली सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

ઓપન સટ્ટા મટકા: हिंदी सेक्सी बीएफ दिखाइए वीडियो में, दस ड्रेस मैंने पसंद किए हैं, एक बार आप देख लो उसमें से कितने लेने हैं?गुलशन- अरे कितने क्या.

हॉट सेक्स भाभी

चूंकि मेरे घर में कोई नहीं था तो उसकी चिल्लाने से कोई डर भी नहीं था. वीडियो सेक्सी ओपनक्योंकि अब चाची को आनन्द आने लगा था इसलिए उत्तेजना वश वह भी तेज़ी से उचकने लगी थी और उनकी योनि में रुक रुक कर संकुचन होने लगा था.

अब उसे भी मज़ा आ रहा था।कुछ देर के धक्कों के बाद वो झड़ गई और उसकी चूत रस से गीली हो गई। अब मैंने उसे चोदने की स्पीड बढ़ा दी और उसके झड़ने के कुछ मिनट बाद मैं भी झड़ने लगा।मैंने उससे पूछा- मेरा निकालने वाला है. देहाती वाला सेक्सी वीडियोमैंने तुम्हें साफ-साफ कह दिया था, अगर तुम चाहो तो मैं कभी यहाँ नहीं आऊंगा और तुम्हारी माँ को भी संभाल लूँगा.

जैसे ही उसके चूतड़ मेरी जाँघों पे लगे और मैंने उसे गोद में अच्छे से ले लिया और नीचे से झटके लगा कर पूरी तरह से लंड उसकी चूत में डाल दिया, मेरा लंड पूरा उसकी चूत में फिट हो चुका था और टट्टे उसकी चूत से सटे पड़े थे.हिंदी सेक्सी बीएफ दिखाइए वीडियो में: ऋषिका ने अपने पति को बताया तो उसके पति ने उस शहर में जहाँ से रयान आया था, अपने डीलर से रयान के बारे में पूछा.

फिर वो अपनी गांड हिलाने लगी तो मैं समझ गया कि अब ये तैयार हो गई है।मैं धीरे-धीरे धक्के देने लगा।फिर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी। वो जोर-जोर से चिल्लाने लगी- अह.मेरे देवर के लंड का रस बहुत ही ज्यादा था, मैंने एक बार पूरा गटक लिया मगर फिर भी मेरे देवर के लंड से रस निकला जा रहा था।आदी ने कहा- प्रमिला भाभी, आज आपको अपने लंड के रस से नहला दूंगा!मैंने कहा- हां मेरे प्यारे देवर, नहला दो अपनी भाभी को!उस दिन मेरे देवर ने अपनी भाभी की तीन बार चुदाई की और चुदाई की प्यास बुझाई.

जोधपुर मारवाड़ी सेक्सी वीडियो - हिंदी सेक्सी बीएफ दिखाइए वीडियो में

जब मैं बाथरूम से वापिस आया तब देखा कि चाची मेरे बिस्तर पर बैठी कुछ सोच रही थी, मैंने पूछा- मेरी प्यारी चाची जान, बड़ी गुमसुम सी हो कर बैठी क्या सोच रही हो?मेरी और देखते हुए वह बोलीं- मैं सोच रही थी कि क्यों न हम नीचे मेरे वाले कमरे में चलें.पर कुछ साल बाद हम अपने नए घर में शिफ्ट हो गए और वो लोग पुराने घर में ही रुक गए.

आपको तो 3 दिन भी बर्दाश्त नहीं होता है। आपके पता है ना कि मेरे पीरियड चल रहे हैं. हिंदी सेक्सी बीएफ दिखाइए वीडियो में राजे कमीना अभी भी सुड़क सुड़क करता हुआ उस फुव्वारे से जो निकलता वो पी जाता.

उसकी सांसें मेरी गर्दन पर गरम-गरम महसूस हो रहीं थीं। खटिया बुरी तरह से ‘चूं.

हिंदी सेक्सी बीएफ दिखाइए वीडियो में?

अब उन्होंने पैरों पर जाने को कहा तो मैं उनके पेटीकोट को घुटनों तक उठाकर पैरों की मालिश करने लगा. फिर उसने मोना से कहा कि अभी बहुत अर्जेंट काम आ गया, मैं आपको कल बता दूँगा. जो कि हमने बारी-बारी से एक-दूसरे की सिर्फ़ पेंटी उतारी लेकिन ब्रा नहीं उतारी।हम दोनों हील पहन कर ही रखी थीं और विग और स्टॉकिंग भी पहने रहे थे। उसने मुझे बेड पर लेटाया और खुद मेरे ऊपर लेट गया। हम दोनों की साँसें एक-दूसरे की साँसों से मिल रही थीं। उसने लिपस्टिक के ऊपर लिपग्लॉस लगा रखी थी.

फिर वो वैसे ही रस से सना हुआ लंड मेरे मुँह के पास ले आया और लंड चूसने को कहा. एक बार तो मन किया कि ये मेरी बाहों में नंगी ही तो पड़ी है, मैं भी कपड़े उतार के पूरा नंगा हो जाऊं और टांगें खोल के लंड पेल दूं इसकी चूत में… बुरा मानेगी तो मान जाय मेरी बला से. नीतू को अब मज़ा आने लगा था, वो भी लंड की मुठ मारने में लगी हुई थी और थोड़ी देर बाद गोपाल के लंड की नसें फूल गईं, वो रोकना चाहता था मगर उससे कंट्रोल नहीं हुआ और उसके लंड से एक के बाद एक पिचकारी निकलने लगीं, जिससे चादर भी खराब हो गई और नीतू का हाथ भी वीर्य से सन गया.

मैं उनसे मिला, मामी खुश थी, उन्होंने मुझे अपना दूध पिलाया और मैंने उनकी खूब चुदाई. !मैं इतना बोल कर भाभी पर फिर से टूट पड़ा- घोड़ी बनोगी?वो उठीं और उन्होंने पहले मेरे लंड को जी भर के चूसा. तब तक तुम मेरे लिए चाय लेकर आओ।मोना चाय बनाने चली गई और काका पुराने ख्यालों में खो गया।ये दोनों कुछ सोचें.

वैसे भी रवि के जाने के बाद मेरा मन कहीं लग ही नहीं रहा था इसलिए मैं वहीं पास नहर के किनारे पर चला गया और 7 बजे तक वहीं बैठकर बहते पानी को देखता रहा और उसमें कंकर फेंकता रहा. वो बोलीं- क्या बताऊँ… मेरे पति काम से आने के बाद खाना खा कर तुरंत सो जाते हैं और मुझे प्यार भी नहीं करते हैं.

पर प्रेरणा पुस्तक को स्कूल में नहीं ला सकती थी, तो उसने लगभग दस दिनों बाद संडे के दिन मेरे घर पर आकर मेरी नोट्स देने के बहाने चुपके से लाकर दिया। उसने उसे पालीथिन के अंदर तीन बार पेपर से लपेट कर उसमे रबर बैंड लगा कर रखा था। अभी मैंने उसे देखा भी नहीं था और पुस्तक को सिर्फ छू कर उसे सम्हाल के रखने का डर और उसको देखने की उत्तेजना में दिल धक-धक करने लगा।प्रेरणा ने उसे जल्दी वापस करने को कहा.

एक दिन चाची की तबीयत खराब हो गई, सीमा ने मुझे फोन पर बताया, तो मैंने उन्हें क्लिनिक लेकर आने के लिए कहा, सीमा चाची को लेकर क्लिनिक पर लेकर आ गई.

कोक की बोतल में एक दारू का पेग डाल कर उस लड़की को दिया- ये पी लो, पेट ठीक हो जाएगा. नीतू को अब मज़ा आने लगा था, वो भी लंड की मुठ मारने में लगी हुई थी और थोड़ी देर बाद गोपाल के लंड की नसें फूल गईं, वो रोकना चाहता था मगर उससे कंट्रोल नहीं हुआ और उसके लंड से एक के बाद एक पिचकारी निकलने लगीं, जिससे चादर भी खराब हो गई और नीतू का हाथ भी वीर्य से सन गया. मैडम किसी कुतिया की तरह बिस्तर पर मचल रही थी- आई ईई इईई इईई उह्ह्ह्ह… उफ़ उफ़… ऐसे ही चूसो… आःह हां हां इसी तरह वाह आई ईई ईई!अब मैंने दोनों टांगों के बीच आकर मैडम की चूत को देखा, चूत भैंस जैसी काली थी और उसकी चिकनी चूत के दर्शन करने के बाद मैंने चूत चाटना शुरु कर दिया.

अब मुझसे बिल्कुल भी सहन नहीं हो रहा था तो मैं उसके आगे गिड़गिड़ाने लगी तो उसके चेहरे पर एक कमीनी हँसी आ गई, उसने एक झटके में अपना पूरा लंड मेरी चूत में उतार दिया. उम्म्ह… अहह… हय… याह… मुझे और मत तड़पाओ प्लीज।मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उसकी चूत पर रख कर धक्का लगा दिया। वो आँख बंद करके चीख उठी, उसकी चीख से मेरी बड़ी साली जो दूसरे कमरे में सोई थीं. लेकिन मैंने उसको किसी तरह मना लिया और चल पड़ी हमारे इस नये रिश्ते की किश्ती!और इसी दौरान मैंने उसको सेक्स चैट करने को भी राज़ी कर लिया, पर वो इतनी भी शरीफ नहीं थी जितना मैं उसको समझ रहा था, उसका जवाब था कि हम ये सब सिर्फ़ मेसेज पर ही करेंगे, ना कि असल में!उसकी तसल्ली के लिए मैंने भी हामी भर दी पर असल में तो मुझे उसको चौदना था.

मैं नीचे जाकर आता हूँ।संजय नीचे चैक करने गया था कि उसकी मॉम सोई या नहीं और उसके पापा तो अपने काम के चक्कर में रात को ही आते हैं और एक काम वाली है, जो शायद आज आई नहीं, तो संजय की लाइन क्लियर थी। उसकी मॉम खर्राटे मार रही थीं.

अब शायद मॉंटी का रस उसको अच्छा लगने लगा था या वो वासना के चलते ऐसा कर रही थी, ये तो वही जाने. मैं धीमे-2 लंड को गांड की पूरी लम्बाई में चोदने लगा जबकि नताशा का मुंह पूरे मनोयोग से स्वान के लंड को पुचकारने में लगा रहा. तू आ तो सही।पूजा ख़ुशी से कुर्सी के पास आई और जब वो बैठने लगी तो संजय ने चालाकी से उसका स्कर्ट ऊपर को कर दिया।अब पूजा संजय के खड़े लंड पर बैठी थी बीच में बस पतला सा बरमूडा और पेंटी आ रही थी।पूजा- ऑउच मामू मुझे नीचे कुछ चुभ रहा है।संजय- अच्छा ऐसी बात है.

तो वो मुझ पर हँसते हुए ताने मारने लगी।थोड़ी देर के बाद उसने बगल की टेबल की दराज में क्रीम की डिब्बी होने का कहा।मैंने अपने लण्ड पर ढेर सारी क्रीम लगाई और उसकी चूत पर भी ढेर सारी क्रीम लगा दी।अब मैंने फिर से उसकी दोनों टांगों को उठा कर कन्धों पर डाला और उसकी चूत में अपने लण्ड को पेलने लगा।इस बार की ठोकर से बड़े आसानी से पहले मेरे लण्ड का सुपारा गया. वो बोलीं- क्या बताऊँ… मेरे पति काम से आने के बाद खाना खा कर तुरंत सो जाते हैं और मुझे प्यार भी नहीं करते हैं. अनिता- आह… सस्स नहीं उफ़फ्फ़ प्लीज़ आह… ऐसे मत करो पापा आह… मैं मर जाऊंगी आह.

तभी मेरे लंड ने पिचकारी मार दी जो सीधे उसके गले के अन्दर टकराई पर वो रुकी नहीं और हर पिचकारी को अपने पेट में समाती चली गई और अंत में जब कुछ नहीं बचा तभी उसने मेरा लंड छोड़ा.

मेरे लंड के हाथ में पकड़ते ही वो झुकी और मेरे लंड के चारों तरफ अपने होंठों का फंदा बना कर उसमें बची हुई आखिरी बूँद को झट से चूस गई. ना तो मोटा और ना ही पतला है, हर कोई मेरी तारीफ करता है।दोस्तो यह सेक्स स्टोरी तब की है जब मैं स्कूल में थी और उस वक्त मेरी कमसिन उम्र थी।उस समय मुझे सेक्स के बारे में कुछ भी ठीक से नहीं मालूम था, बस टीवी में कभी-कभी कुछ व्यस्क सीन दिख जाते थे तो अजीब सी फीलिंग्स आती थी। लेकिन उस वक्त मैं इस सबको इग्नोर कर देती थी।मेरे अन्दर सेक्स की प्यास मेरे कज़िन भाई न जगा दी.

हिंदी सेक्सी बीएफ दिखाइए वीडियो में ! ये तो बहुत खूबसूरत है।गुलशन जी कुछ बोल पाते, तब तक अनीता ने सुमन से ही हैलो कर लिया।सुमन- सॉरी, मैंने आपको पहचाना नहीं!अनीता- आप बताओगे सुमन को. ? मैंने तो किसी दोस्त को नहीं देखा, दरअसल गोपाल थोड़ा अजीब ही है। उसके इतने कोई खास दोस्त हैं भी नहीं.

हिंदी सेक्सी बीएफ दिखाइए वीडियो में लड़की की पहली चुदाई के बाद उसे चलने फिरने में कैसे फील होता है ये जानना था!’हम लोग ऐसे ही कोई एक घंटे तक बातें करते रहे. ‘अहह उम्म्ह… अहह… हय… याह… अहह… इतनी जोर से न दबाओ बाबू, उईई दुखता है बाबू… आयी आई आई ईई नं नन् न दर्द हो रहा है बाबु…सी सीई ईई इईई.

मैंने भी झपट के सुलेखा को बाँहों में बांधा और उठा कर अपने रूम की तरफ चला.

ইন্ডিয়ান সেক্স

मैं फूट-फूट कर रोने लगा ‘उई मां… मर गया… रवि… यार तू कहाँ है… आ…हा… रवि… ले जा मुझे… यहाँ से… आ. आह।लगभग 5 मिनट तक मोना पागलों की तरह लंड को चूसती रही। वो पूरा लंड मुँह में भर रही थी और काका उसके मुँह को चुत समझ कर चोदने में लगे हुए थे।मोना- बस काका अब बर्दाश्त नहीं होता. ये कैसे हो सकता है?काका- अरे पागल, तेरी काकी बांझ है मेरे तो ना जाने कितने बेटे और बेटियां इस गाँव में घूम रहे हैं।मोना- वो कैसे काका.

उन्होंने बोला- मैं कैसी लगती हूँ तुम्हें?मैंने तुरंत बोला- बहुत ही ज्यादा अच्छी और मैं आपको पसंद भी करता हूँ. तभी ये ऐसे बोल रही है।काका ने मोना को समझाया- तू पहले विस्तार से सब बात बता. और भैया तुम अपने रूम में जाओ अब!मैंने अनमने मन से अपने कपड़े पहने और अपने रूम में आ गया और छेद से देखने लगा.

मैंने अपने खड़े लंड को उसकी गांड के छेद के सामने लगा दिया, चाची बोली- अब धीरे से पेलना!पर मैंने एक जोरदार धक्के के साथ अपना पूरा लंड उसकी गांड में एक ही धक्के में पेल दिया.

मैं खुजा देती हूँ।मॉंटी उठकर टीना के बिस्तर पर चला गया और टीना ने उसकी टी-शर्ट निकाल दी। अब वो सिर्फ़ एक शॉर्ट कैप्री में था और हाँ मैं आपको बताना भूल गई कि टीना ने भी उठ कर अपने कपड़े बदल लिए थे। वो रात को एक टी-शर्ट और कैप्री पहन कर सोती थी. उसमें बैठ जाना, सुबह तेरा पति घर आ जाएगा।मैं चुपचाप घर चली आई। मैंने अपनी सास और ससुर को कुछ नहीं बताया। उनको बोल दिया- मेरी सहेली का भाई अच्छा वकील है. उनके तने हुए मम्मों का साइज़ 34 इंच का था और उठी हुई और गांड का नाप 42 इंच का होगा.

चूतड़ों को नचा-नचा कर आगे-पीछे की तरफ धकेलते हुए मेरे लंड को अपनी बुर में लेते हुए सिसिया रही थी- ओह चोद मेरे राजा… मेरे बहन के लंड… और ज़ोर से चोद… ओह… मेरे चुदक्कड़ बालम, सीईईई… हरामजादे भाई… और ज़ोर से पेल मेरी बुर को… ओह-ओह… सीईई… बहनचोद… मेरा अब निकल रहा… हाईई… ईईई ओह सीईई. चलो अन्दर वो हरामी वर्मा सर की क्लास है आज।साहिल की बात सुनकर सब वहाँ से चले गए. आधा एक ही झटके में अंदर… उफ्फ… एकदम से मुझे शॉक लगा और मैं कसमसा गई.

मैं खड़ा हुआ और सबीना ने अपनी दोनों चुचियों को आपस में मिलाया, मैंने मस्ताना को चुचियों के बीच में घुसाया और जमीला से बोली- भाभी, थोड़ी और आइसक्रीम डालो न मस्ताना के टोपे पर!तो जमीला ने काफी आइसक्रीम मेरे मस्ताना के टोपे पर डाल दी. मेरी चूत में बिल्कुल जगह नहीं थी फिर भी वो मेरी चूत में अपना लंड घुसाने में तुला हुआ था.

चूँकि उसके पति की डेथ हो चुकी थी जिससे कई सालों से सेक्स की भूखी थी जिस भूख को मेरे हल्के से खड़े लंड और घूरती नजरों ने और भी बढ़ा दिया।उस दिन के बाद से वो कुछ ज्यादा ही फ्रैंक होने लगी, सालों के बाद हमारी किराएदार वाली बिल्डिंग में आने लगी, मुझसे कुछ ज्यादा बात करने लगी और अपने पपीतों को ज्यादा दिखाने लगी।एक दिन वो बीमार हो गई, उस समय उसके बच्चे भी कहीं ट्रिप पर गए थे. अब तक की सेक्स स्टोरी में आप सभी ने पढ़ा था कि सुमन ने संजय के ग्रुप से हाथ मिला लिया था ताकि वो रैगिंग से बच सके।अब आगे. फिर वो अपना गाउन पहन कर चुपके से अपने रूम में चली गई और मैं कल के बारे में सोचकर रंगीन सपने बुनने लगा.

मेरे पति का नाम राज, वे 37 साल के हैं। मेरे ससुराल में हम 5 लोग हैं, जिनमें मेरे ससुर, मेरे पति, मैं, मेरा एक देवर और मेरा बेटा हैं।मेरे ससुर करीब 57 साल के हैं और मेरी सासू माँ नहीं हैं। देवर का नाम आदी है.

दूर से ऐसा लग रहा था जैसे कैटरीना कैफ़ हो। उसके तने हुए चूचे भी 36″ के होंगे. इसके बाद मैं दो उंगली कोमल की चूत में और अंगूठा कोमल की गान्ड के छेद में घुसा के तेल मालिश करने लगा और एक हाथ से उसकी जांघों और पिडली की भी मालिश करने लगा. वो भी मजाक में मुझे मारने लगी। अब मारने के बहाने से मैंने उनके चुच्चे को भी दबा दिया जिसका उन्होंने कोई विरोध नहीं किया।अबमेरी हिम्मत थोड़ी बढ़ गई तो मैंने उनका हाथ पकड़ कर मरोड़ दिया और उन्हें दीवार के सहारे लगा दिया और दूसरा हाथ धीरे से उनके चुच्चे पर रख दिया तो भाभी बोलने लगी- मुझे दर्द हो रहा है.

तो मेरी फ्रेंड ज्योति शाम को मेरे घर पर आई।उसने पूछा- आज कॉलेज क्यों नहीं आई? तो मैंने उसे रात की सारी बात बताई. हम पहुंचने ही वाले थे लेकिन संदीप मुझे नेवली खुर्द गांव की तरफ एक सुनसान रास्ते पर वीराने में एक कोठरी में ले गया जहाँ पर उसके दो दोस्त जग्गी और राजू पहले से ही दारु की पी रहे थे.

‘अंकल जी, मेरे पास आओ!’ उसकी आवाज बदली बदली सी थी जैसे किसी कुएं के भीतर से बुला रही हो. फ्लॉरा के दर्द की उस जालिम को कहाँ कुछ परवाह थी, वो तो बस मज़े लेने में लगा हुआ था. जो उसे इसके बारे में सही से बता पाएगा। वो तैयार हो गई।उसने अपने घर पर बताया कि उसके अन्दर ही कमी है जोकि थोड़े से इलाज़ के बाद ठीक हो जाएगी। इससे घर में सब लोग खुश हो गए। अगले दिन डॉक्टर ने हमें सब कुछ सही तरीके से समझा दिया कि हमें क्या-क्या करना होगा, जैसे कि वीर्य का चयन.

सनी लियोन सेक्सी वीडियो हिंदी में

तो मैंने आयेशा को बोला- यहाँ कुछ मत करना, जो कुछ करना है बाद में कर लेना.

मैं जानता था कि पूजा पहली बार चुदाई करवाने जा रही थी इसलिए मैं आराम से पूजा को किस कर रहा था, क्योंकि अब मम्मी या बहन के आने का डर भी नहीं था औऱ हमारे पास सारी रात थी इसलिए मैं भी उसे प्यार से किस करने लगा और धीरे-धीरे दूसरे हाथ से उसकी गोल और बड़ी चूची को दबाने लगा जिससे उसको हल्का दर्द भी हो रहा था और मजा भी आ रहा था. तो अमन ने रोहन की जगह ले ली और एक झटके में पूरा लंड आयेशा की चूत में डाल दिया. मगर आप तो मेरी गांड मारकर ही दम लोगे।काका- ऐसे कैसे जाने दूँगा मेरी रानी.

लगभग 10 मिनट तक जोर-जोर से शॉट मारकर मैं एकदम से उसकी चुत में खाली हो गया. इतने में निशा भाभी पसीने में भीगी हुईं चाय ले आईं।भाभी के पसीने में भीगने से उनके सूट के बाहर से ही उनकी चूचियाँ चमक रही थीं।ऊओह क्या सेक्सी सीन था. वाली सेक्सी मूवीऋतु ने पूछा- अरे भाई, किस बात का वेट कर रहे हो… तुम ये करना भी चाहते हो या नहीं?मैं- मुझे लगा तुम मुझे पहले पैसे दोगी.

मगर मैं समझ गई थी कि फूफा जी अब मेरे ऊपर आना चाहते हैं इसलिए मैं खुद ही फूफा जी के साथ चिपके चिपके एक साइड को हो गई और फूफा जी को भी खींच कर अपने ऊपर लाने की कोशिश करने लगी. उसकी चूत को मेरे लंड की लत लग चुकी थी और पिछले दो माह से बिना चुदे जैसे तैसे खुद को संभाले हुए थी.

सभी लड़कियाँ अन्दर आते ही धीरे-2 अपने कपड़े निकाल कर नंगी हो गई और बेड पर लाइन से अपनी चूत को उभार कर लेट गई. करीब दस मिनट बाद दीदी भी कपड़े पहन कर आई, मेरे पास बैठ कर बोली- किसी को कुछ बताना नहीं! और अब जाओ बाजार से सब्जी ले आओ, अब ताई भी आती होगी. वो अपने मुँह से ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ की हल्की आवाजें निकाल रही थीं। मैंने भाभी को बेड पर लेटा दिया और उनकी चूत के दाने को मुँह में लेकर चूसने लगा। वो उत्तेजित होकर अपनी गांड उठा कर मुझसे अपनी चूत चुसवा रही थीं।भाभी बोलीं- आज पहली बार मेरी चुत किसी ने चूसी है.

मैं भी उसके साथ चिपक कर लेट गया और पीछे से ही अपने लंड को उसकी चुत पर रगड़ने लगा. थोड़ी देर में मैंने सारा माल पेंटी में छोड़ दिया और पेंटी को साफ़ करके टाँग दी, थोड़ी देर बाद में नहाकर बाहर आ गया. लगभग आठ महीने तक मैंने उसको चोदा और फिर मेरा बीटेक खत्म हो गया और मैं जॉब ढूंढने के लिए बंगलोर आ गया.

हालांकि मॉंटी सेक्स से अनजान था मगर एक जवान लड़की को नंगी देखना किसी भी लड़के के लिए आसान नहीं होता, उसकी उम्र तो ऐसी थी कि वो किसी की भी चुदाई के लायक था मगर उसका भोलापन उसे रोके हुए था.

पिंकी अब चुप थी लेकिन उसकी देह से लग रहा था कि उसे भी मजा आ रहा है!मैंने दोनों हाथों से अब कस क़स के उसके जोबन को मसलना शुरू कर दिया और फिर उसके कान में बोला- सुनो ना… एक बार तुम्हारे रसीले जोबन को चूम लूं… बस एक बार इन…इन. प्यार के बदले में रानी भी प्यार देने के लिए मजबूर हो जाती है और राजे को भरपूर आनन्द देने की चेष्टा करती है.

दिख नहीं रहे?शारदा- क्या बताऊं आज पूजा स्कूल में गिर गई तो आरती उसके पास है।संजय- क्या कैसे गिर गई ज़्यादा चोट तो नहीं लगी ना उसको?दोस्तो, आप मुझे मेरी इस सेक्स स्टोरी पर संयमित भाषा में ही कमेंट्स करें. ‘अम्मा जी ने एक ठो उपाय बताया है हमका, जिससे लड्डू के भैया पर आये हुए संकट को हल किया जा सकता है. आकाश ने मेरी साड़ी का पल्लू हटा दिया और मेरी चुचियों को ब्लाउज के ऊपर से मसलने लगा.

हम दोनों की बातों का सिलसिला करीब एक साल चला और फिर वो मौका आया जिसका हम दोनों को ही बेसब्री से इंतज़ार था. दो मोटे-मोटे लंड कोमल-गुलाबी गांड में अन्दर-बाहर होने लगे, और रूसी गुड़िया हल्की-हल्की कराहट के साथ दोनों लंडों को अपनी गांड में लेना शुरू हो गई. ऐसे तो शताब्दी के ललितपुर आने का टाइम दोपहर में साढ़े बारह के करीब है लेकिन उस दिन वो डेढ़ घंटे की देरी से आई; खैर जाना तो था ही तो चढ़ गया.

हिंदी सेक्सी बीएफ दिखाइए वीडियो में संदीप और राजू ने एक साथ एक तेज झटका दिया और उन दोनों के लंड आधी लंबाई तक मेरी गांड में उतर गए. जैसे ही वो दोबारा जोश में आईं मैंने कॉन्डोम चढ़ा कर बिना पूछे बताए एक बार में हीपूरा लंड उनकी चूत में उतार दिया.

సెక్సి వీడియో బిఎఫ్ హిందీ

यार जब पानी ही लेना था तो मुझे क्यों देख रही थी?साली औरत का भी पता नहीं होता कि चाहती क्या है?इतने में वो फिर से कमरे से बाहर आई और जैसे मैंने चादर से चेहरा ढक लिया, सिर्फ़ आँखों से चादर हटी हुई, ऐसे पड़ा रहा. जमीला- आप तो कल आने वाले थे और जूनागढ़ से भी कल सुबह निकल गए थे मोहन कह रहा था. मेरे तैयार होकर ऑफिस जाने के बाद वह दूसरे फ्लैट में काम निपटा कर फिर मेरे घर की सफाई आदि करती तथा मेरे कपड़े आदि धो कर सुखाने डाल देती.

और अब मैं पूजा भाभी से थोड़ी सी हिम्मत करके बोली- हां, भाई साहब को आपके बाल चुभते होंगे इसलिए वो भी आपकी चूत को साफ करने में आपकी मदद करते हैं. नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम आरव है, दिल्ली का रहने वाला हूँ।मैं जाट हूँ और 24 वर्ष का हूँ 5’9″ हाइट है और स्लिम बॉडी है। मेरे लंड का साइज 7″ है।मैं घर में रहकर अभी सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहा हूँ। यह कहानी मेरी और मेरी चचेरी भाभी के बीच की है। हमारा एक संयुक्त परिवार है।बात उस समय की है जब मैं अपने बी. मारवाड़ी देवासी सेक्सी वीडियोअब मैंने उसकी चूत पर एक किस कर दिया, जिससे उसके मुँह से प्यार भरी आह निकल गई.

पहले ये बता तेरे पापा कब आते हैं?सुमन- वैसे तो वो 10 बजे आते हैं, कभी लेट भी आये हैं, मगर आज जल्दी आ गए और अर्जेंट में किसी काम से सूरत गए हैं।टीना- गुड… यानि आज मैं तुझे रस चखा सकती हूँ।सुमन- कैसा रस? दीदी मैं कुछ समझी नहीं.

तभी नीचे लेटे हुए रुस्लान ने अपना भारी-भरकम लंड आराम फरमा चुकी गांड में घुसेड़ दिया और ऊपर से चंगेज़ ने इस बार अपने द्वारा चुसी हुई चूत को निशाना बना लिया. मैंने भी ज्यादा देर करना सही नहीं समझा और मैंने उसके पैरों को फैला दिया और अपना लंड उस की चूत पर रख कर लंड को चूत पर रगड़ने लगा.

मोना ने कुछ कपड़े पसंद किए और कुछ जरूरत का सामान लिया फिर वो नीतू को लेकर घर आ गई. फिर उसने अपना लंड बाहर निकाला और मेरे हाथ में लंड पकड़ा दिया।मेरे हाथ के ऊपर अपना हाथ रखा और दो-तीन बार हिलाया। ये इशारा था कि मैं लंड हिलाऊं। मैंने दो-तीन बार लंड को हिलाया, फिर मैं करवट बदल कर लेट गया व उसकी तरफ पीठ कर ली।अब उसने अपना हाथ आगे बढ़ा कर मेरा लंड फिर पकड़ लिया और हिलाने लगा।वो मेरे कान में धीरे से बोला- बहुत मस्त है. जमीला की चूत भी सबीना की चूत की तरह पानी छोड़ रही थी जिससे मेरी उंगली भीग गई जिनको मैं मुंह में लेकर चाट गया और अब जमीला की चूत में दो उंगली डाल कर उसकी चूत उंगलियों से चोदने लगा और सबीना की चूत को जीभ से चोदने लगा.

अगले दिन सायं को मुझे काम था अतः मैं दोपहर एक बजे ही क्लीनिक पर चला गया.

आप तो जानते ही हैं ये गंध नहीं है ये तो मेरे लिए सम्मोहन यंत्र की तरह काम कर रहा था, मैंने कोमल की कोमल चूत में मुंह क्या लगाया, उसे पूरा खा जाने का प्रयास करने लगी।कोमल ने शायद मेरे इतने प्रशिक्षित होने का अनुमान नहीं लगाया था, वो खुश होकर कहने लगी- अरे. दो विकराल लंडों से मेरी बीवी की गांड फटी जा रही थी, यह देख कर पोर्न डायरेक्टर ने इशारा किया और नीचे लेटे हुए चंगेज़ ने अपना लंड बाहर निकाल लिया. अगर तुम्हारी ‘हाँ’ हुई तो रात को तुम्हें अपनी बीवी बना लूँगा और ना हुई, तो कल के बाद तुम मेरी शक्ल नहीं देखोगी, किसी भी हाल में तुम मेरी बेटी नहीं रहोगी, क्योंकि मैंने शुरू से तुम्हें बेटी माना ही नहीं.

सेक्स वीडियो पिक्चर पंजाबीउसने मेरे पति का नाईट सूट पहना हुआ था, मैं उसे देखने लगी तो मेरी नजर उसके पजामे में उसके उभरे हुए लंड पर पड़ी, वो काफी बड़ा लग रहा था. मैंने फूफा जी को कस के अपनी बाहों में ले रखा था और फूफा जी ने मुझे… हम दोनों एक दूसरे को तेज़ी से चोद रहे थे.

हिंदी चूत चुदाई

उसी तरह शहर की हवा में गोपाल ऐसा हो गया, मगर मैं आज भी जवान ही हूँ. साब तुझे खूब मजा देंगे।पर मैं मन ही मन प्रार्थना कर रही थी कि कैसे भी इस चुदाई से बच जाऊँ।वो मुझे एक सुनसान गेस्ट हाउस में ले गई और मुझसे बोली- चल अच्छे से नहा ले।मैं उसको कातर भाव से देखने लगी।वो मुझे रेज़र देकर बोली- नीचे के बाल साफ कर लेना. पड़ोस वाली जवान भाभी को नंगी देख कर मेरा मन भाभी की चुत की चुदाई का हो गया.

वही हाल गांड का भी होगा तो बस मैंने आपको बता दिया और वैसे भी दर्द मुझे हुआ था आपको नहीं. मेरे प्यारे साथियो, मेरी हिंदी नोन वेज स्टोरी कैसी लग रही है?[emailprotected]कहानी जारी है. चाची का शरीर एकदम से अकड़ने लगा और फिर हम दोनों एक साथ एक-दूसरे के मुँह में झड़ गए.

कुछ ही क्षणों में जब मेरे लिंग-मुंड ने माला की योनि में प्रवेश किया तब माला के चेहरे कुछ असुविधा एवम् कष्ट की रेखाएं दिखाई दीं और उसके मुंह से उम्म्ह… अहह… हय… याह… की सीत्कार निकली. मैं तभी गाँव से आई थी, तो मुझे शहर के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी. मैंने ही उसकी प्यास बुझाई थी और आज तुझे चोद कर अपने लंड की दीवानी ना बना दूँ तो तुम कहना.

तब आंटी ने मुझे चाय का कप पकड़ा दिया। वो किसी पार्टी में जा रही थीं. दोस्तो, अपनी प्यारी साईट अन्तर्वासना पर आप सब की कहानी पढ़ते पढ़ते आज मुझे 8 साल से ज्यादा समय हो गया, मैंने अपने जीवन के कुछ अनुभव आपके साथ बांटे.

अभी तो जिस काम के लिए आया हूँ, वो शुरू करते हैं!’मेरी बात सुनकर उसने सिर झुका लिया और चुप खड़ी रह गई.

फ्लॉरा के दर्द की उस जालिम को कहाँ कुछ परवाह थी, वो तो बस मज़े लेने में लगा हुआ था. कॉलेज गर्ल सेक्स व्हिडिओइतने में वह अनोखे लाल सक्सेना हाज़िर हो पड़ता है- क्या हाल है भाबी माँ के?सक्सेना अपनी पागलों वाली मुस्कान देते हुए बोला. हिंदी सेक्सी एचडी वीडियो मेंमैंने कहा- पहले तुम सब कर आओ, फिर मैं जाऊंगा।सबने हाँ भर दी।अब सबसे पहले खुद राकेश गया और बाहर आकर उस रंडी की, उसकी चूत की, उसके बदन की तारीफ करने लगा।फिर नदीम और फिर अंकित सब चुदाई करके आ चुके थे. !मैंने कहा- पहले कल्पना करो कि वो बूढ़ा जो उस फिल्म में उस लड़की को चोद रहा था, तुम्हारी चुत को चूस रहा है।वो बोली- छीः कैसे पति हैं आप.

कितना टाइम हो गया, मैं ऐसे करती रहूंगी तो सुबह हो जाएगी और ये पानी क्या निकला.

वो थोड़ा सा चिल्लाई पर थोड़े झटके के बाद वो शांत हो गई और वो मेरा साथ देने लगी. दोस्तो, इसके बाद कई बार जैसे मौका मिलता हम दोनों चारपाई को किचन में ले जाते और अपनी चुदाई की आग को ठंडी करते, मजे करते!भाभी तो थी और गर्लफ्रेंड भी, तो स्वाद भी मौके मौके पर चेंज होता रहता था. मैं अंगड़ाई लेने लगी दर्द के कारण, लेकिन उसकी पकड़ इतनी मजबूत थी कि मैं हिल भी नहीं पा रही थी.

चो…अ…दिए ना?मैंने कहा- डालिंग अब बेचारे इस बूढ़े को भी अपनी चुत का अमृत पिला दो, ये लो ये बूढ़ा तेरी चुत में अपना लंड डाल रहा है।ये कह कर मैंने तुरंत अपना लंड संजना की चुत में डाल लिया।वो जैंसे चिहुँक उठी और लंबी सी ‘इ…स… अअअअ. मैंने उनके संकेत को समझा और अपने दोनों हाथों से उनके दोनों स्तनों को बारी बारी से मसलने तथा जघन-स्थल एवं योनि को सहलाने लगा. वहाँ मेरी बहन ने पेशाब करने के बाद अपने चूत को पानी से खूब अच्छी तरह से साफ़ किया, इसके बाद उसके लंड को भी साफ़ किया.

ट्रिपल सेक्स व्हिडीओ कॉम

अब उसने मेरी बहन की चूचियों को अपनी हथेलियों में भरकर मसलना शुरू किया तो मेरी बहन अपने बदन को उत्तेजना के साथ ऐंठने लगीं. बहुत जलन हो रही है, पता नहीं आज इतनी खुजली कैसे हो गई।टीना- अरे कुछ नहीं मेरे सोना. वो इतनी कमसिन और सुन्दर थीं कि कोई उन्हें एक बार नजर भर कर देख ले तो वो अपने आपको रोक नहीं सकता.

थोड़ी देर में वो आयेशा से मुंह में झड़ गया, आयेशा उसका सारा वीर्य पी गई.

यही कहानी लड़की की मधुर आवाज में सुनें!अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनने के लिए सबसे अच्छाब्राउज़र क्रोम Chrome है.

मैं बुरी तरह से चीखी तो वो बोला- समझ आया मतलब?मैंने कहा- प्लीज़ ऐसे मत करो।तो उसने गुस्से से मेरे दोनों बोबे दबोचे और बोला- मुझे ये ही पसंद है. अब मैंने मेरे एक फ्रेंड को कॉल किया, वो उधर करीब ही था और दो मिनट में ही आ गया. देहाती पंजाबी सेक्सी‘पैंटी ब्रा वगैरह नहीं पहनती घर में?’ मैंने उसकी झांटो में उंगलियाँ पिरोते हुए पूछा.

मैं जल्द ही इस वृत्तांत को आपके समक्ष प्रस्तुत करने की चेष्टा करूँगा. वो मेरे बूब्स पर नज़र गड़ाते हुए बाल्कोनी के पास दरवाजे पर खड़ा हो गया. मगर ये नई चुत का क्या चक्कर है काका?काका ने मोना को सारी बातें विस्तार से बताईं.

पलंग पर लेटा दिया और मुझे हर जग़ह चूमने लगा। अब पैग का नशा मुझ पर भी चढ़ने लगा। मुझे अजीब सी सिहरन होने लगी और मजा आने लगा।फिर उसने मेरी ब्रा खोल दी और मेरे मम्मों को चूसने लगा। मैं पागल सी हो गई. हम उस लड़की के पास पहुंचे, सुमित ने उस से पूछा- यू नीड हेल्प, मिस?उसने सुमित की तरफ देखा और बोली- हू द फक आर यू?मगर सुमित बोला- मैं नीरज का दोस्त हूँ.

अपने छोटू को बाहर मत निकालना मेरी जान!थोड़ी देर में मेरी और उसकी साथ में ही छूट होने लगी.

रयान ने ऋषिका को जल्दी कपड़े बदलने को कहा और फटाफट अपने कपड़े बदल कर अदरक की चाय बनाई. चाची बोली- अरे अशोक, तुम कितना चोदते हो, मेरी चुत की हालत खराब हो जाती है… आह!मैं हल्का सा मुस्कुरा कर बोला- चाची, अब मुझे आपकी गांड मारनी है. अभी लगभग तीन बज रहे थे, हमें चार बजे तक अपना चुदाई कार्यक्रम खत्म कर लेना था।हमने जल्दी ही एक दूसरे को चूम चाट कर गर्म कर लिया। अब तक शरीर का हर अंग दर्द से टूट रहा था, पर चुदाई का नशा फिर से चढ़ते ही दर्द कहाँ गायब हो गया, पता ही नहीं चला.

हिंदी फिल्म सिर्फ तुम आप तो मेरे घर का सभी काम अच्छे से जानती हो और उसे बहुत निपुणता से संभाल भी रखा है. मैं पिंकी को देखूँगा।भाभी ने मेरे लंड पर हाथ फेरते हुए कहा- पटा ले.

वो मेरा लंड चूसे जा रही थी और आख़िर में मैं उसके मुँह में ही झड़ गया. वो भी चुदवाना चाहती है, पर कहाँ करूँ?तब मैंने कहा- कल बताता हूँ।दूसरे दिन मैंने अपने एक दोस्त को सब बात बताकर उसके घर का प्रोग्राम बना लिया। वो मुझे चाभी देकर शाम तक के लिए कहीं चला गया।मैं सीमा को वहीं ले गया. मैं हमेशा उससे उसकी पढ़ाई की ही बात करता था और उसे अच्छा करियर बनाने के लिए प्रोत्साहित करता रहता था.

ब्लू फिल्म चाहिए ब्लू

अंत में जब वो धराशायी हुई तो उसका पूरा बदन कांपने लगा और शरीर ढीला हो गया. उन सबको विदा करके जब हम घर के अंदर आये तब मम्मी पापा और बुआ अपने अपने कमरे में चले गए और चाची मुस्कराते हुए मेरे पास आई और धीरे से कहा- हम रात को बारह बजे के बाद तुम्हारे भंडार में जितना भी माल है वह सब निकलवाने आयेंगे. पूजा- मामू ये किसका घर है? यहाँ कोई आएगा तो नहीं ना?संजय- तू ज़्यादा सवाल मत कर.

जैसे ही लंड मेरी मुँह के अंदर गया, मुझे कुछ खुरदरा सा लगा और थोड़ी देर बाद मुझे लंड खट्टा और नमकीन सा लगने लगा, मैं समझ गयी कि रात की चुदाई के बाद मामा जी ने लंड नहीं धोया, इसलिए लंड में लगा रस सूख कर मामा जी के लंड में ही चिपक गया है. संजय बोलता रहा और टीना गौर से सब सुनने लगी और ये सुनकर उसकी आँखों में चमक भी आ गई.

आराम से जान लोगे क्या?काका ने मोना की बात अनसुनी करते हुए लंड को पीछे खींचा और फिर से एक जोरदार दे धक्का दिया। इस बार पूरा 9″ का लंड मोना की चुत में खो गया.

पूजा अपने कूल्हे हवा में उठा कर सिसकारी ले रही थी ‘आआआअ… रीईईइतूऊऊउ… मैं माआआर गईईई… आआआ आआह्ह्ह… जऊऊर सीईईई… अह्हह्ह… हाआआआन हाआआन चाआआटो मेरीईई चूऊत… आआआह…’ और फिर वो झड़ने लगी. क्या शानदार नजारा था…एंड्रयू का भारी भरकम लंड मेरी जीवनसंगिनी की बच्चेदानी को चोदने में लगा हुआ था, मेरा छोटा लंड उसकी गांड में किसी पिस्टन की तरह घुस-निकल रहा था, तो स्वान के गर्दभ लंड ने मेरी छोटी सी गुड़िया का मुंह फाड़ कर रख दिया था. तो मैंने आयेशा को बोला- यहाँ कुछ मत करना, जो कुछ करना है बाद में कर लेना.

उसकी पेंटी के पास आ गया और पेंटी के ऊपर से ही उसकी चुत को सहलाने और किस करने लगा। फिर मैंने उसकी पेंटी उतार कर एक साइड में फेंक दी और उसकी चुत पर एक प्यारा सा चुम्बन किया और उसकी चुत के दाने को चाटने लगा।वो- आआहह. ओफ काका अब आप ही मेरी प्यास मिटाओ ओफ इस साले ने चुत की आग को भड़का दिया है आह. थोड़ी देर मेरी चुत को और चाट लेते।संजय- चुत चाटने से इसका दर्द नहीं जाएगा.

अचानक रयान को बैंक में एक ऑफर मिलता है कि 200 किमी दूर एक बड़े शहर के इंडस्ट्रियल एरिया में बैंक को अपनी नई ब्रांच खोलनी है और उसे वहाँ का मेनेजर बना कर भेजा जा सकता है.

हिंदी सेक्सी बीएफ दिखाइए वीडियो में: ताकि मेरा भाई मेरी और आकर्षित हो जाए और मेरे साथ सेक्स करने के लिए तड़पने लगे।मेरी नाईट ड्रेस मैंने और भी छोटी कर दी मेरी जाँघें भी अब तो दिखने लगी थीं। मैंने देखा कि मेरे भाई का ध्यान भी मेरी ओर हो गया था।एक रात को मैं सोने का नाटक कर रही थी क्योंकि मुझे अब रात को नींद नहीं आती थी। मुझे अपने बदन पर किसी का हाथ महसूस हुआ. उससे बात करने की हिम्मत नहीं हो रही थी, तब भी मैंने उससे कहा- चलो रोहन नाश्ता कर लो.

मेरी माँ हमेशा पूजा पाठ में लगी रहती हैं, उनका एक पूजा रूम है, ज्यदा वक्त वो पूजा रूम में ही लगाती हैं. कहकर उसने मेरे थूक से सना हुआ अपना लौड़ा हाथ से हिलाना शुरु कर दिया और मुझे वहीं अपने सामने बिठाए रखा… उसके हाथ की स्पीड बहुत तेज थी, वो इस्स आह… इस्स आह… करता हुआ अपना लंड अपने हाथ में भरकर तेज तेज मेरी नाक के सामने मुट्ठ मार रहा था. अगर आप बुरा ना मानो तो आपको हग कर लूँ, मैं आज आप बहुत अच्छे वाले पापा लग रहे हो.

दस बारह मिनट तक आंटी ने मुझसे चूत चटवाई और परम आनन्द प्राप्त करके वो शांत हो गई.

ये तो शगुन का लाल रंग है। एक काम कर नीचे जाकर गर्म पानी से चुत को अच्छे से साफ कर ले, आराम मिल जाएगा। उसके बाद दोबारा भी तेरी चुत की ठुकाई करनी है. तो मैंने दीदी का हाथ पकड़ कर उसको अपने पास खींचा और हम लगभग चिपक गये. और फिर दोनों मम्मी पापा के आने से पहले कपड़े पहन कर तैयार होकर पढ़ने बैठ गई.