प्रियंका चोपड़ा के बीएफ वीडियो एचडी

छवि स्रोत,सेक्सी मुंबई सेक्सी मुंबई

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू सेक्सी वीडियो भेजो: प्रियंका चोपड़ा के बीएफ वीडियो एचडी, अगर मैं उसके साथ ऐसा संबंध रखूँ तो?वह चुप हो गई और मेरा कलेजा धड़कने लगा.

सेक्सी वीडियो अंग्रेज लोग

पापा इसे ग़लत नहीं समझते थे। घर के खुले माहौल में हम सबके लिए यह आम बात थी।बिस्तर पर लेटते ही मेरे जिस्म में और भी तरंगें उठने लगीं। मेरा एक हाथ आहिस्ता-आहिस्ता नीचे चूत से जा लगा और दूसरा हाथ एक चूचे के निप्पल पर चला गया।मेरी नंगी टाँगों और मम्मों पर बेहद नर्म कम्बल का एहसास मुझे और भी उत्तेजित करने लगा। एक इंच तक उंगली अपनी बुर में डाल कर अन्दर-बाहर करने लगी. इंग्लिश फिल्म सेक्सी इंग्लिश सेक्सीकिसी सुंदर सी पोर्नस्टार के चूचों की तरह एकदम उठे हुए थे।मैं पागल हो गया था.

पर याद रहे अगर किसी को भी पता चला तो वो तुम्हारा आखिरी दिन होगा।मैंने कहा- पक्का मैडम. भाभी के देसी सेक्सी वीडियोजिसको मैंने पहले से बुला किया था।रिचा बोली- ये भी आ गया?तो मैंने बोला- जब तुम लोग करोगे.

तो देखा कि सोनी अभी भी मूवी देख रही थी।उस वक्त मेरा हाथ उसकी गाण्ड पर चला गया था। मुझे अपने अन्दर एक अजीब सी.प्रियंका चोपड़ा के बीएफ वीडियो एचडी: मैंने अपना लण्ड पहले आयशा की चूत में ठोका फिर निकाल कर प्रियंका की चूत में पेलने लगा। करीब हर 5 से 8 झटके पर मैं बारी-बारी से दोनों चूतों को जमकर चोद रहा था।उधर प्रियंका.

तो मैं सोफे पर लेट कर देख रहा था।अचानक मैंने देखा कि रिया ने नींद में अपने हाथ रज़ाई से बाहर निकाले.जैसे मुर्गी की गर्दन काटने पर मुर्गी तड़पती है।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैडम के नॉर्मल होते ही एक करारा झटका और मारा कि मेरा पूरा लण्ड मैडम की चूत में चला गया।मैडम मुझे बाहर निकालने को कह रही थीं.

सेक्सी सुहागरात वाली वीडियो - प्रियंका चोपड़ा के बीएफ वीडियो एचडी

माँ के बड़े बोबे मेरे हाथों में समा नहीं रहे थे। बोबे मस्त मुलायम और नरम थे.जिसमें से उसके कंधे खुले हुए थे और गोरा बदन झाँक रहा था। वो गाउन ट्रांसपेरेन्ट भी था.

जिससे मेरा आधा लण्ड भाभी की चूत में चला गया।भाभी को इस बात का एहसास था, उन्होंने अपना मुँह जोर से भींच लिया और तड़फ कर बिस्तर की चादर को खींच लिया।मैं रुक गया और भाभी के मम्मों को चूमने-चूसने लगा। भाभी का दर्द कुछ कम हुआ. प्रियंका चोपड़ा के बीएफ वीडियो एचडी इस डायमंड रिंग की चमक उसकी बला की खूबसूरती के आगे फीकी थी।मैंने उसका घूंघट उठाया और उसके चाँद से चहरे को निहारता ही रह गया.

लेकिन उसे ठीक से नींद नहीं आ रही थी।मैंने पूछा- क्या हुआ?वो बोली- दर्द काफ़ी हो रहा है।मैंने पूछा- मैं पैर दबा दूँ।तो उसने ‘हाँ’ कर दी। मैं दीदी के पैर दबाता रहा.

प्रियंका चोपड़ा के बीएफ वीडियो एचडी?

मैंने वहाँ खड़े होकर ताज़ी हवा ली और फिर फ्रेश होने चला गया।जब मैं फ्रेश होकर नाश्ते के लिए नीचे आया. तो उसने मुझे तेज़ी से धक्का दिया और सलवार ठीक करते हुए बाहर चली गई।मैं उसके शरीर के इस भाग को देख कर सोचता ही रह गया. तो मुझे एकदम से झटका लगा। मेरे बैग में मैडम के घर की किताब मिली। मैं उसे भूल ही गया था.

पर मेरा भाई आज सोने का नाम ही नहीं ले रहा था। किसी तरह उसको नींद आई. पर तभी उसने रज़ाई से बस अपनी हथेली निकाली और फोल्डिंग पलंग के ऊपर हल्के से पटकी। मैंने ध्यान दिया तो ऐसा लगा मानो वो मेरा हाथ माँग रही हो।थोड़ी देर बाद मैंने सोचा कि रिया शायद भांग के नशे में ऐसा कर रही थी।मैंने मम्मी को फिर से देखा और लेट कर अपना हाथ उसकी हथेली में रख दिया। उसने मेरे हाथ को अन्दर रज़ाई में खींचा और सीधे अपने मम्मों पर ले गई।मैं जब इस बार उसके मम्मों को दबाने लगा. उसने बताया कि – उसके पति एक प्राइवेट कंपनी में काम करते हैं और रात को लेट आते हैं। मेरा बच्चा अभी छुट्टियाँ होने की वजह से नाना-नानी के घर गया हुआ है और जल्दी ही वापस आ जाएगा। वो आते ही कंप्यूटर पर गेम खेलने के लिए धूम मचाएगा.

मेरे आगे जाते ही उसने सीट खोल कर सूसू की और कैपरी डाल ली।मैंने नाराज़गी जताई. सुन कर संजीव रुक गया और मुझसे पूछा- क्या हुआ? क्या अधिक तकलीफ हो रही है? अगर कहो तो मैं बाहर निकाल लेता हूँ।मैंने तुरंत कहा- नहीं, कुछ नहीं हुआ, आप संसर्ग ज़ारी रखिये।मेरा उत्तर सुन कर संजीव बोला- तो फिर तुमने आह्ह. फिर अपने आप मेरा हाथ उनके पेट पर चला गया और उन्होंने भी मेरे हाथ पर अपना हाथ रख दिया जैसे एक पति पत्नी सोते समय रख लेते हैं वैसे ही हाथों की स्थिति हो गई।हमारे इस खेल को शुरू हुए लगभग 15 मिनट हो गए थे। मेरा लण्ड बुरी तरह से सख्त हो चुका था.

मैंने उसके सिस्टम ठीक किया और जाने के लिए तैयार हो रहा था।उतने में मैडम आई. तो देखा वहाँ पर कुछ सफेद कलर का जैल जैसा कुछ था।मैं समझ गई कि आज भाई ने मुठ मार कर माल यहीं गिरा दिया है।उसको देख कर मेरा मन भी कुछ करने लगा.

इस थन से जो दूध निकलता है उसका स्वाद वही जानता है जिसे उसको पीने का सौभाग्य मिला है.

36 की है।शाज़िया मुझे ‘जाना’ और मैं शाज़िया को ‘जान’ बोलता हूँ।हमारी मुलाकात एक इंस्टिट्यूट में हुई थी और पहली नज़र में ही शाज़िया मुझे पसंद आ गई थी। बस मैंने देर ना करते हुए उसे प्रपोज कर ही दिया.

और तेज-तेज झटकों से उसकी गाण्ड मारने लगा। जिससे उसकी गाण्ड और चूत में अलग ही गरमी का एहसास हो रहा था. गले पर चूमने के निशान थे। वो समझ गया अन्दर क्या हुआ था। इधर सन्नी भी बड़े गौर से अर्जुन को देख रहा था।सन्नी- मैंने तुम्हें पहले भी कहीं देखा है. मैं उनकी मस्त जवानी को देख कर हतप्रभ होकर उनकी तरफ एकटक देखता रहा।आंटी मेरे पास आईं और कामुक अंदाज में बोलीं- क्या हुआ.

मगर वो एक ना माना और मजबूरन पायल को जीप के अन्दर उसके साथ तलाशी देने जाना पड़ा।अन्दर जाकर बदल सिंग ने पायल को अपनी गोद में बैठा लिया और उसके गाउन के अन्दर हाथ डालकर उसके मम्मों को दबाने लगा।उसका खड़ा लौड़ा पायल अपनी गाण्ड पर साफ महसूस कर रही थी।बदल सिंग- छोरी तेरा जिस्म बाहर से तो चमकता सोना है. तो हम दोनों अलग हो गए।उसके भाव ऐसे थे कि कुछ हुआ ही न हो और बोलने लगी- देखा मैं जीत गई।मेरा मन तो कर रहा था कि उसकी पप्पी ले लूँ. वो मुझे देख कर मुस्कुरा रही थी, उसने जाते हुऐ अपना कार्ड मुझे दिया और इशारे से ‘कॉल मी’ कह कर चली गई।मैं भी बहुत ख़ुश था.

तो पहले ही बोल देती।सब सोच-समझ कर मैंने उसे आवाज़ दी, उसने पहली आवाज़ में ही जवाब दिया- क्या है? और तू क्या कर रहा है मेरे साथ?मैंने कहा- सॉरी.

सन्नी हँसता हुआ वहाँ से चला गया और अर्जुन वापस अन्दर कोमल के पास चला गया।टोनी- बॉस क्या हो रहा है. वह मुझसे बहुत प्यार करती है और मैं भी उससे बहुत प्यार करता हूँ।एक दिन मैंने बड़ा साहस जुटा कर उससे कहा- रानी. आमिर भी शायद समझ चुका था कि मैं झड़ने वाला हूँ। वो और तेजी से मेरा लंड चूसने लगा। उसकी जुबान मेरे लंड के छेद पर रगड़ मार रही थी।मैं तो सातवें आसामान पर ही था। तभी आमिर ने मेरा आंड अपनी मुठ्ठी में पकड़ लिया और मैं झड़ने लगा। उसने चूसना बंद किया.

और मेरा उनके घर जाना हो नहीं पा रहा था, मैं उनको देखने के लिए कई दिन से तड़प रहा था. ’फिर मैंने उससे पूछा- किस समय मिलना उचित होगा?अभी भी मेरा घर लगभग दस किलोमीटर दूर था और हम लोग शहर के बाहरी सड़क पर ही थे।उसने कहा- जब भी आने का दिल करे तब आना. । एक मेरे पास आया और मेरे दूध दबा के बोला- इस रंडी का क्या रेट है शांति.

कब मेरे लंड को उसकी चूत की गुफा में घुसने का मौका मिलेगा।सपनों में कई बार मैं उसके मम्मों को मसल कर उसकी चूत मार चुका था.

किसी को नहीं पता चलेगा।आयशा बोली- पहले तू ये बता कि तूने क्या-क्या देखा?प्रियंका बोली- सब कुछ. पूरा लौड़ा दनदनाता हुआ चूत में समा गया।एनी को लगा उसकी बच्चेदानी पर ज़ोर की चोट लगी है.

प्रियंका चोपड़ा के बीएफ वीडियो एचडी दो की तो बहन है और सन्नी आपका बेस्ट फ्रेण्ड है?पुनीत- तू ज़्यादा होशियार मत बन. लेकिन किचन की लाइट से मुझसे सब साफ़-साफ़ दिख रहा था।सपन ने बोला- आजा किसी का डर नहीं है मेरी जान.

प्रियंका चोपड़ा के बीएफ वीडियो एचडी यह बात कुछ और थी कि यह मेरा पहला सेक्स अनुभव था।मैं भी मुंबई वासी हूँ. ’ गूंज रही थीं।करीब 20 मिनट के झटकों के बाद उसने लण्ड को बाहर निकाला और मेरा खड़ा टाइट सीधा लण्ड जो उसकी चूतरस से गीला था.

लेकिन पहले जितने भी लड़के हैं अपने हाथ में अपना-अपना लण्ड निकाल लें और लड़कियाँ अपनी प्यारी सी मुनिया में उंगली डाल लें.

सेक्सी एचडी बीएफ सेक्सी

तब जाकर उन्हें आराम हुआ और वो ठीक हो पाए।आज ज़िंदगी में पहली बार वो मुझसे इतना खुश थे कि बताना मुश्क़िल है, वो बोले- आज तुमने मेरी सबसे बड़ी तमन्ना पूरी की है।अब उनका नेचर मेरे साथ पूरी तरह से बदल चुका था, वो मुझे इतना प्यार कर रहे थे. जो कि मुझे नेट के माध्यम से और कुछ अपने स्कूल की फ्रेंड्स की वजह से जानती थी।कभी-कभी जब मौका मिलता था. उसने मेरे हाथ को पकड़ लिया। मैंने उसके हाथ को उठा कर अपने लण्ड पर रखा और मेघा की कच्छी में हाथ डाल दिया.

तो मैंने उनसे बोला- भाभी मैं झड़ने वाला हूँ।तो वो बोलीं- अन्दर मत झड़ना. ’ की आवाज के साथ अन्दर-बाहर हो रहा था।वो भी नीचे से उछल रही थी और अब उसने मुझे कसकर अपने सीने से चिपका लिया और कहने लगी- हाय मैं गई. राजेश ने मेरी गाण्ड के छेद की चुम्मी लेते हुए कहा- ताकि मेरे जैसे गाण्ड के दीवानों का काम बन जाए। मैं तो बस अब सिर्फ तुम्हारी गाण्ड मारने के लिए ही अपना लौड़ा यूज करूँगा।मैंने कहा- मैं भी अब बस तुमसे ही अपनी गाण्ड मरवाऊँगी.

जिससे वो घोड़ी बन गई।इस वजह से मुझे पकड़ने के लिए उसकी कमर मिल गई थी।फिर दोस्तो, मैंने सोनी की क्या गाण्ड चुदाई की.

उसने लौड़े को होंठों में कस कर दबा लिया और अर्जुन को इशारे से मुँह चोदने को कहा।अर्जुन भी कहाँ पीछे रहने वाला था. अब मुझसे काबू नहीं हो रहा था।मैंने अपना फोन निकाला और ईयरफोन लगा कर उस पर ब्लू-फिल्म देखने लगा। फिल्म देखने के बाद मैंने मुठ्ठ मारी. इतनी सारी बातों में अभी तक उसके बदन का कोई अनुमान नहीं लगा पाया था। उसकी कमर कैसी हो गई होगी.

तो मौसा-मौसी ने प्रीत को जन्मदिन की बधाई दी और फिर प्रीत चली गई।मैंने सोचा आज तो लग रहा है काम बन जाएगा।फिर जैसे-तैसे करके दिन निकला। मैंने प्रीत के लिए एक शॉर्ट. फिर वो मेरे पास आई और मेरे लण्ड पर हाथ रखते हुए बोली- क्यों शरद, तेरा लण्ड तखड़ा नहीं होता है क्या?बस उनका हाथ लगाना था कि लण्ड तमतमा कर तन गया।‘अरे वाह. देखती हूँ कि कहाँ चला गया है।अब वो जैसे ही मुझे ढूँढने के लिए चली तो चूत खुलने के बाद उसकी चाल बदल चुकी थी।माँ ने पूछा- क्या हुआ.

मुझे तो तुमसे सेक्स का पूरा मजा मिलता ही है। फिर अगर तुम्हें ऐसी प्यास है. कल हम उसको फार्म पर देख लेंगे।उसके बाद वो अन्दर चले गए और पार्टी को एंजाय करने लगे।टोनी अब एकदम शान्त हो गया था.

पर स्कूल में दोस्तों के द्वारा बार-बार बोलने पर मुझे भी लगने लगा कि यार ये तो मेरी गर्लफ्रेन्ड है। काफी सोचने के बाद मैंने उसे प्रपोज करने का सोचा। वैसे तो हम दोनों हमेशा साथ ही होते थे. बस अब हमारी ज़िंदगी यूँ ही बहुत मज़े में कट रही है।अक्सर वो भी मेरी गाण्ड मारते हैं. पर आज आप सबके सामने मैं बताने जा रहा हूँ।मैंने अब तक तीन लड़कियों को प्यार किया है.

और मुझे बिस्तर पर लिटाकर मेरे चूचों को चूसने लगे।उसके बाद वो मेरे पेट को चाटने लगे.

मगर उसकी ज़ुबान लड़खड़ा रही थी। पायल का भी कुछ-कुछ यही हाल था।पायल- भाई अपने ये क्या कर दिया. जिससे सोनी सिसकारियाँ लेने लगी।पांच मिनट सोनी के चूचों को खूब चूसा और दबाया. तब मैंने कहा- तुम्हारी कच्छी दिखाई दे रही है।चूचियों का नाम तो मैं ले नहीं सकता था।वो तुरंत मेरे पीछे झाडू लेकर दौड़ने लगी।मैंने कहा- तुमने प्रोमिस किया है.

जिसकी वजह से मेरा लण्ड बार-बार फिसल रहा था।लेकिन फिर जूही ने अपने हाथ से मेरे लण्ड को अपनी चूत पर सैट किया और धक्का लगाने को कहा। मैंने भी एक जोरदार धक्का उसकी चूत पर लगा दिया. जैसे लण्ड को अन्दर महसूस कर रही हों।कुछ पलों बाद बुआ मेरे ऊपर कूदने लगीं.

जिनको पढ़कर मेरा भी दिल अपनी आप बीती लिखने का किया और मैं हाजिर हूँ अपनी कहानी के साथ।जब मैं 18 साल का हुआ था. अब जल्दी से इसको चूत के दीदार करवा दो।सन्नी हँसता हुआ उस घर के पास गया और घन्टी बजाने लगा।थोड़ी देर बाद नौकर ने दरवाजा खोला. मम्मी का नाम अंजलि है।इस कहानी के लगभग सभी अंश वास्तविक है।बात है लगभग 3 महीने पहले की है.

सेक्सी पिक्चर ब्लू ब्लू पिक्चर

आज तुमने मेरी चूत में अमृत-वर्षा करके मेरी चूत की आग को शांत कर दिया.

चूमते-चूमते आमिर के होंठ मेरे लोअर की इलास्टिक तक पहुँच गए। अब वो मेरे लोअर को उतारने लगा। मैंने अन्दर कट वाली चड्डी पहनी थी. तो उन्होंने अपने सारे कपड़े निकाल दिए और मेरे हाथ में अपना लंड दे दिया। मैंने आज से पहले इतना मोटा लंड नहीं देखा था. तो भाभी ने बिना हाथ-पैर धोए और चूत धोए चूमना चालू कर दिया।क्या मस्त मादक गंध थी भाभी की चूत की.

ये तो सोने पर सुहागा हो गया। अब तो मैंने भी ठान लिया कि पूनम की सील तो पूनम की रात में ही तोडूंगा।एग्जाम खत्म हुए. तो वो कुछ घबराई हुई लग रही थीं।उन्होंने कहा- शिवम जल्दी से मेरे बंगले पर आ जाओ. हिंदी सेक्सी वीडियो रोने वालीजिसके कारण मेरा लंड और नजदीक से दीदी की चूत को छूने लगा और उत्तेजना में और मैं झड़ गया।कुछ देर यूं ही निढाल पड़ा रहने के बाद मैंने एक हाथ से दीदी की नाइटी को आगे से खोल दिया.

जिससे लण्ड बड़े ही सुचारू रूप से अन्दर-बाहर जा-आ रहा था।उसको मजे से चोदने के साथ. गर्मियों में तो अक्सर पूल पार्टी होती रहती है।ऐसे ही एक बार पूल पार्टी में अपने दोस्तों के साथ गया था.

मेरे घर में सभी काफी हंसमुख स्वभाव के हैं ख़ास तौर पर मेरे डैडी और मेरी बहन बहुत ही हंसमुख हैं. उसने कोई विरोध नहीं किया। धीरे-धीरे मैंने अपना हाथ उसकी सलवार में डालना शुरू किया. जिसमें 3 बहनें और एक छोटा भाई हैं। उनके मम्मी-पापा दोनों ही काम करते हैं इसलिए शाम को ही आते हैं।यह कहानी उनकी बीच वाली लड़की की है, उसका नाम चिंकी है, वो बहुत फ्रैंक लड़की है और बिंदास लड़कों की तरह रहती है।दोस्तो, ऐसी लड़कियों से मज़े लेना बहुत आसान होता है, बस जो आप कर रहे हैं.

’उसका शरीर एकदम जकड़ गया और उसकी चूत के मसल्स ने मेरे लंड को जकड़ लिया।वो एक फव्वारे की तरह बह गई और मैंने भी अपने लंड का पानी उसकी चूत को समर्पित कर दिया।वो पाँचवी बार झड़ चुकी थी. पता नहीं नतीजा क्या होगा?यही सोचते सोचते नींद आ गई, सुबह उठे तो नाश्ता करके दीपेश और बाकी लोग भी अपने अपने डिपार्टमेंट चले गए। उस दिन मैं चाहता तो घर जा सकता था लेकिन पीयूष की जवानी मुझे कमज़ोर बना रही थी, मैंने सोचा कि कुछ भी हो मैं इसको एक बार तो दिल की बात बताकर रहूंगा।मैं कॉलेज के बहाने से उस वक्त तो कमरे से निकल गया लेकिन फिर 12 बजे ही वापस आ गया।करीब 1. जिनके प्रकाशन के बाद मुझे काफ़ी ईमेल भी आए हैं और मैंने उनके जबाव भी दिए हैं। कइयों ने तो मेरी कहानी को फेक भी बोला था.

तो मैंने भाभी को किस किया और उठाया। उसके बाद मैंने उस लड़की को भी भाभी की मदद से चोदा।यही है मेरी सच्ची कहानी।मुझे मेल जरूर करें।[emailprotected].

बस उनका साथ दे रही थी।उन्होंने जी भर के मेरा स्तनपान करने के बाद मेरे पेट को चूमते हुए नीचे मेरी योनि के ऊपर अपना मुख रख दिया और ऊपर से रगड़ते हुए पेटीकोट का नाड़ा खोल कर पेटीकोट को नीचे सरका दिया।अब मैं सिर्फ पैन्टी में थी और उन्होंने एक बार अपना सर ऊपर उठा कर मेरी पैन्टी की ओर देखा. और फिर मैं वहाँ से अपने घर आ गया।जैसे ही मेरा हाथ लंड पर लगा तो मुझे लंड कुछ चिपचिपा सा लगा देखा तो पता लगा कि लंड पूरा का पूरा खून से सना हुआ है।लंड को धो कर संजना को फोन किया और पूछा- कैसी हो?तो संजना का जबाव था- साले कुत्ते कमीने… हरामजादे.

मैं पढ़ने मैं बहुत अच्छा था और उसका एक विषय में कुछ सही नहीं था तो टीचर ने उसको मेरे साथ बिठा दिया और उसको मुझसे हेल्प लेने को बोला।इस तरह हमारी बात शुरू हुई. ये तो उसे भी ज्यादा खूबसूरत सीन था।मैं उनके मम्मों को अपने हाथों में भर कर चूसने लगा. तो मैंने प्रीत का सर दोनों हाथों से पकड़ा और जोर-जोर से प्रीत के मुँह को चोदने लगा।करीबन 30 से 40 धक्के मारने पर सारा माल प्रीत के मुँह में डाल दिया।अब हम दोनों साथ में नहाए और फिर प्रीत ने अपने कपड़े पहने और मुझे खाना दिया। इसके बाद जैसे ही उसने दरवाजा खोला.

वो भी मुझे पागलों की तरह चूमे जा रही थी।मैंने अब उसके मम्मों को ब्लाउज के ऊपर से ही मसलना स्टार्ट कर दिया. पैंट ऊपर की और उसी कातिल मुस्कान से मुस्कराया।हमने गाड़ी स्टार्ट की और लड़की वालों के घर की तरफ गाडी दौड़ा दी।कहानी अभी बाकी है दोस्तो. लेकिन मैं अब भी जोर-जोर से चोदे जा रहा था।लगभग 15 मिनट के जोर-जोर से चोदने के बाद मैं भी उसकी चूत में ही झड़ गया।उसकी चूत लबालब भरी हुई थी।मैं बहुत थक चुका था.

प्रियंका चोपड़ा के बीएफ वीडियो एचडी पर अकेले में। इसलिए एक-दो किताबें हमेशा हमारे गद्दे के नीचे पड़ी रहती हैं। उस समय मैं कमरे में अकेला था. मैं उसका साथ देती जा रही थी।मैं पूरी तरह से अब गरम हो चुकी थी तो मैंने उससे बोला- मेरी सूसू की जगह पर कुछ हो रहा है।तो उसने बोला- इसको अब सूसू की जगह नहीं बोलना.

मराठी बीएफ पिक्चर

वो उछल गई।फिर लौड़ा चूत में जड़ तक पेल कर मैं सोनी की गाण्ड पकड़ कर उसको ऊपर-नीचे करने लगा, सोनी भी उछल-उछल कर चुद रही थी और बार-बार होंठों पर चुम्मियां करती रही।दोस्तो, एक बात बता दूँ. ! ये तो तन गया।’मेरे मुँह से कुछ नहीं निकल रहा था। हम सब में केवल मोहिनी ही थी जो पैन्टी ब्रा में थी। बाकी सब नंगे थे।मैं हकलाते हुए बोला- मैम मेरे कपड़े।‘वो भी मिल जायेंगे. मैं उसे शब्दों में नहीं लिख सकता। करीब 5 मिनट तक पायल मेरे ऊपर ही सवार रही.

तो मैं समझ गया कि अब समय आ गया है कि अपने लण्ड की इच्छा पूरी की जाए।मैं अपना मोटा टाइट लण्ड उसकी चूत में डालने लग गया। मुझे पता था कि अगर एक ही बार में डालूँगा तो इसकी फट जाएगी. जिससे मुझे बहुत ज्यादा मज़ा आया।अब मेरा लण्ड छोटा होना शुरू हो गया था. बीपी पिक्चर चोदा चोदी सेक्सीअपने हाथ फेर कर हल्के से दबाते हुए बोली- देखो जीजू अभी इसकी चुदास खत्म नहीं हुई.

तो देखा की बस पीछे की चार सीटें खाली हैं। एक पूरी लम्बी वाली और उसके अलावा तीन और.

मेरे आगे जाते ही उसने सीट खोल कर सूसू की और कैपरी डाल ली।मैंने नाराज़गी जताई. मैंने फिर और धक्के के साथ कोशिश की और लंड थोड़ा अन्दर चला गया।उसकी हल्की सी दर्द भरी ‘आह्ह.

वो चीख़ पड़ी और मैं लगातार उसकी चूत में धक्का मारने लगा। वो भी नीचे से गांड उठा उठा कर साथ देने लगी. बस थोड़ा सहन करो।अब उन्होंने मुझे चोदना चालू कर दिया और मेरा दर्द भी धीरे-धीरे गायब होने लगा। मैं भी अपनी गाण्ड उछाल-उछाल कर उनका साथ देने लगी, हर झटके पर मेरे मुँह से ऐसी आहें निकल रही थी ‘उम्म्म्मम. मैंने उसकी कमर के नीचे हाथ डालकर उसके दोनों चूतड़ों को कसकर पकड़ लिया और अपना लण्ड उसकी चूत के अन्दर-बाहर जोर-जोर से करने लगा।मैं बोला- ले सम्हाल.

इसलिए मैंने सोचा कि अब इसको पूरी नंगी करूँ तभी चुदाई हो पाएगी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने उसकी कमीज़ को.

मैं उसी वक्त वहाँ से चला आया।मुझे भी डर था कि कोई हमें देख ना ले।वहाँ से निकलने के बाद फोन करके मैंने उसे समझाया कि छूने और किस करने से कोई प्रेगनेन्ट नहीं होता है. चल अब निकलते हैं।ये दोनों भी फार्म के लिए निकल गए। अब ज़रा हम रॉनी की तरफ़ चलकर देखते हैं कि वो क्या कर रहा है।पुनीत और पायल एक गाड़ी में निकले और अर्जुन उनके पीछे दूसरी गाड़ी में निकला. मुझे सुकून नहीं आएगा।सन्नी- कितने दिन हो गए इसको ठंडा किए हुए जो ये ऐसे फड़फड़ा रहा है।अर्जुन- हा हा हा तुम भी ना दिन की बात करते हो.

अवधेश प्रेमी के सेक्सीजो भी हो, उस वक़्त मेरा दिमाग ज्यादा चल नहीं पा रहा था। मेरे दिमाग में तो बस अनीता दीदी की मस्त चिकनी चूत ही घूम रही थी।थोड़ी देर के बाद मैं धीरे से उठा और वापस उनके दरवाज़े के पास गया और जैसे ही मैंने अन्दर झाँका. नीचे सफेद रंग की कसी हुई पजामी पहनी थी जो बारिश में उसकी त्वचा से चिपक गई थी और कूल्हों पर सूट के कट में से उसकी गुलाबी पैंटी भी नज़र आ रही थी.

बीएफ डाउनलोड एचडी

क्योंकि मैंने स्कर्ट के नीचे उनसे छुपा कर बहुत पहले से ही एक बहुत ही मोटा और लंबा रबर का लंड पहना हुआ था। उसे देखकर उनकी आँखें फटी की फटी रह गईं और मेरे चेहरे पर एक कातिलाना स्माइल आ गई।फिर मैंने उनके बालों को पकड़ा और उनके मुँह में लंड घुसेड़ दिया. जिससे मैं भी लौड़ा चुसवाने के मजे में पागल हो गया और मैं उसकी चूत में उलटे हाथ से उंगली करने लगा. यह थी मेरी भाभी के साथ प्यारी चुदाई और अब आप सबकी तरह मैं भी उनकी पूरी रात की चुदाई का इंतजार कर रहा हूँ।दोस्तो, हो सके.

वो एक भूखे कुत्ते की तरह उस पर कूद पड़ी और बुरी तरह से चूसने लगी।कुछ मिनट बाद मैं भी झड़ गया और उसने मेरा सारा माल पी लिया और कहने लगी- बहुत जल्दी हो गया तुम्हारा. हम दोनों के दिलों की धड़कनें तेज थीं और एक प्यारा सा अहसास हो रहा था।मैं इस काम में नया खिलाड़ी था और धीरे-धीरे किस कर रहा था. उसके नीले रंग के ढीले कच्छे में से उसकी फ्रेंची ने जो उभार उसकी जांघों में बनाया हुआ था उसे देखकर मेरे मुंह में पानी आ रहा था।कुछ देर बाद दीपेश आ गया और मुझे देखकर बोला- अरे प्रिंस तू आ गया.

अब नहीं रुका जा रहा।पर मैं लगातार चूत पीता रहा।मुझे उसकी तड़प पर मजा आ रहा था। अब हम 69 की अवस्था में थे, वो मेरा लण्ड पी रही थी और मैं उसकी चूत।अब वो बोली- प्लीज़ मेरी चूत में अपना लण्ड डाल दे. कुछ देर बाद मैं पढ़ने में इतना मस्त हो गया कि समय का पता ही नहीं चला और जब मैं उठा तो शाम हो चुकी थी और डिनर का टाइम हो गया था।डिनर के वक़्त मैं काजल को देखकर छोटी सी स्माइल दे रहा था. जब मैं सिर्फ़ 18 साल का था और मैं अपने मामी के गाँव गया हुया था, मेरे दो ममेरे भाई हैं, वहाँ पर मेरे ममेरे बड़े भाई की बेटी की शादी थी।छोटे वाले भाई अक्सर बाहर रहते हैं.

यह समझते ही मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और उसकी गोरी गाण्ड में तेज तेज चांटे मारने लगा. तो महंगा लगता है। मेरा सारा ध्यान तो घर के माल पर ही था।मौसी ने उससे कहा- आज रात को यहीं रुक जाओ.

मगर मैं अभी उसे और अभी और गर्म करना चाहता था।मैंने शाज़िया से कहा- जान एक बार इस लंड को अपने होंठों की गर्मी दे दो.

तो आयशा ने देखा कि हमारी पीछे की सीट में उसकी एक सीनियर मैम सुरभि और एक बैचमेट प्रियंका बैठी थी. माता-पिता की सेक्सी वीडियोऔर उसके मार्क्स भी अच्छे आए थे।रिजल्ट के बाद ऋतु मेरे पास आकर बोली- तुम्हारी वजह से मेरे मार्क्स बहुत अच्छे आए हैं जिसके लिए मैं तुम्हें तुम्हारी फीस देना चाहती हूँ।इतना कहते ही उसने मुझे किस करना शुरू कर दिया. karan सेक्सीपर मैं बुर को रसगुल्ला समझ कर चाटता रहा।रिया भी मेरे मुँह में झड़ गई. ’दोस्तो, इस कहानी में रस भरा पड़ा है इसको मैं पूरी सत्यता से आपके लिये लिख रहा हूँ.

तो वो मदमस्त हो गई।मैंने पहले उसकी चूत के बाहरी हिस्से को चाटना शुरू किया.

मैंने योनि को सिकोड़ दिया और पानी छोड़ते हुए झड़ गई।इधर मैं अपनी साँसों को काबू करने में लगी थी. किस तरह सभी मुझे खाने को हो रहे थे।कुछ देर बाद मेरा दरवाजा जो भाई के कमरे में खुलता है. वो मस्त हो उठीं।मैंने फिर से उन्हें कहा- लेकिन आपने अभी भी इसका नाम तो नहीं बताया.

जब सोचा कि मौका सही है तो मैंने उसके सर को खुले बालों से पकड़ा और उसके होंठ पर अपने होंठ लगा दिए और पूरी शिद्दत से उसको चूमने लगा।वो तो पहले से गरम थी. आपसे गुजारिश है कि अपने ख्यालात कहानी के नीचे कमेंट्स में अवश्य लिखें।[emailprotected]. जो कि दो अलग-अलग कॉर्नर की थीं।मैंने बहाना बना दिया कि दोस्त एक साथ की टिकट मिली ही नहीं।मैंने कहा दोनों लड़कियों को अपने से दूर बैठाना ठीक नहीं है। इसलिए अन्दर जाकर मैं और किरण एक साथ बैठ गए और हरीश और मंजू एक साथ बैठ गए।फिल्म स्टार्ट हुई.

દેશી સોદવાનુ

तो अपना लंड निकाल लिया। थोड़ा पानी पिया और कन्डोम चढ़ा कर उसको फिर से चोदने लगा।फिर कुछ मिनट चोदने के बाद मैं भी झड़ गया।हम दोनों थोड़ी देर एक-दूसरे को बाहों में लेकर पड़े रहे और एक दूसरे को चूमते रहे।मेरा अभी और मन था तो मैंने उसको बोला- तुम मेरा लंड चूसो।पहले तो उसने थोड़ा ना-नुकुर किया. तो आधा लण्ड नीलम की चूत में घुस चुका था और वो एकदम से चीखने लगी।मैंने उसका मुँह दबाया और उससे कहा- थोड़ा धीरे चिल्लाओ. पर कोई जाता ही नहीं।फिर मैंने कहा- कभी बारिश में सेक्स किया है?तो प्रीत बोली- नहीं।मैंने कहा- करोगी?प्रीत बोली- ओके.

पर हाथ नहीं रखा और कंधों पर दोनों हाथ रखकर उसकी गर्दन पर हौले से किस किया।उसने हल्के से ऊपर देखा.

वहीं परी भी एक 5 फुट 6 इंच की सुन्दर फिगर वाली मस्त लड़की बन चुकी थी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !बाहरी दुनिया से दूरी बनी होने कारण हम दोनों साधारण दोस्त थे.

मेरा नाम महेश है, मैं दिल्ली में रहता हूँ, मेरी उम्र अभी 22 साल है. मैं लॉलीपोप की तरह उसके मोटे लाल सुपारे को चूसने लगा और वो मदहोश होने लगा. जीजा साली का सेक्सी रोमांसबोली शाम को देख लेना। अब इतना टाइम लगा रही है तो जरूर कोई लहँगा वगैरह लिया होगा.

तो कभी-कभी पूरा लंड मुँह में लेकर ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगती।अब हम 69 की पोज़िशन में आ गए। मैं उसकी चूत चाट रहा था. लेकिन मेरे हाथ अभी भी उसकी चूचियों पर ही थे। मेघा कहने लगी- क्या कर रहे हैं सर कोई देख लेगा।मैंने उसकी चूचियों को हल्के से दबाया और उसके गालों को चूम लिया। फैक्ट्री में और लोग भी थे. पकड़ कर नीचे खींचता।मैं थोड़ा दर्द और थोड़ा काम के आवेग में सब सह रहा था।लगभग दस मिनट हो चुके थे और मैं अभी पूरे दिल से लंड को चुसवा रहा था।वैसे नार्मल लाइफ में मैं 5 मिनट ही लंड चुसवाना पसंद करता हूँ.

तो मुझे बहुत गुदगुदी का एहसास हुआ और मेरी उत्तेजना और भी बढ़ती गई। मैंने अपनी दूसरी उंगली भी चूत में डाल ली और अपनी चूत में फिंगरिंग करने लगी।मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. मेरी इस बात पर वो मुस्काईं और कहा- आप सच में पागल हो।कहते हुए उन्होंने अपनी पैन्टी खींच ली और उसे पहनने लगीं और कहा- कल नई और ताज़ा दूँगी.

तो मैंने बिना देर किए ऑटो कर लिया और रात को 7 बजे तक घर पहुँच गया तो मेरा स्वागत किया गया, उसके बाद मैं घर में गया।अन्दर जाते ही खाने का निमंत्रण आया।भूख जोरों से लगी हुई थी, मैं खाने बैठ गया.

अपनी सेक्सी बहन की चूत और गाण्ड चोदने की तैयारी का चौथा भाग लिख रहा हूँ।मैं जानता हूँ कि इस बार थोड़ा लेट पोस्ट कर रहा हूँ. उसने भी हँस कर कहा- और तुम्हारे प्रवीण ‘की’ मार देता। वैसे प्रवीण के कूल्हे हम औरतों से भी ज्यादा खूबसूरत हैं। उसकी तो हर बात मुझे प्यारी लगती है। तुम प्लीज़ मेरी बात का बुरा मत मानना।मैंने पूछा- तो तुमने क्या कहा?मोना बोली- मैंने उससे कहा शीला. ना कुछ कर पा रही थी।मेरी कामवासना चरम पर थी।मैंने भाभी को कस के पकड़ लिया, उसके सर को पकड़ चुम्बन करने लगा पर भाभी सदमे में थी.

साली जीजा के सेक्सी वीडियो सुन कर संजीव रुक गया और मुझसे पूछा- क्या हुआ? क्या अधिक तकलीफ हो रही है? अगर कहो तो मैं बाहर निकाल लेता हूँ।मैंने तुरंत कहा- नहीं, कुछ नहीं हुआ, आप संसर्ग ज़ारी रखिये।मेरा उत्तर सुन कर संजीव बोला- तो फिर तुमने आह्ह. तो मैंने फिर से अपना हाथ उनके पेट पर रखा और चूचे सहलाते हुए उनकी सलवार का नाड़ा पकड़ कर खोलने लगा।भाभी ने मेरा हाथ पकड़ कर दूर कर दिया और दूसरी और करवट लेकर सो गईं।भाभी के इस विरोध से मैं डर गया और उनसे थोड़ा दूर हो गया। उनके बारे में सोचते-सोचते कब आंख लग गई.

अब चुदाई पूरे जोरों पर चल रही थी और अब मैंने अपनी स्पीड का मीटर बढ़ा दिया था। फिर 15 मिनट की चुदाई के बाद मेरा लंड शाज़िया की चूत में पिचकारी मारते हुए झड़ गया।कुछ देर मैं उसके ऊपर ही लेटा रहा। उस दिन हमने 3 बार चुदाई का मजा लिया. हम दोनों को आपके जवाब का इंतजार रहेगा।उम्मीद है आप सभी को भी यह पढ़कर मज़ा आया होगा।आपका अपना सेक्स कहानी लेखकरवि स्मार्ट[emailprotected]. किराये की आमदनी है और जमीन जायदाद की खरीद फ़रोख्त का काम कर लेता है।उसकी एक बहन है, नाम है ऊषा… उसके घर में और कोई नहीं है।ऊषा का 32-28-32 का फिगर कमाल का है.

हिंदी बीएफ के वीडियो

सरिता शादी के बाद भी तुम्हारी चूत तो पहले जैसे ही है।सरिता- क्या करूँ. इसलिए गौरी के ऊपर ही लेट गया।थोड़ी देर बाद वीर्य को रूमाल से पोंछा और कपड़े पहनकर मैं घर आ गया।घर में खाना खाकर सो गया।सुबह उठकर नाश्ता करके मैं कोचिंग के लिए बिलासपुर चला गया।उसके बाद सिर्फ हम दोनों फोन सेक्स ही करते हैं।[emailprotected]. बड़ी मुश्किल से मैंने उसके हाथ को पकड़ कर अपना लंड उसको पकड़ाया।जैसा मेरा अनुभव था.

टायलेट में चलते हैं।मगर उसने आँखों से नहीं का इशारा किया।मेरा लंड अब पैन्ट के अन्दर दर्द करने लगा. उसके गर्म पानी से मेरा लंड भी गर्म हो गया और मैं भी उसकी चूत में जोर-जोर से पिचकारियाँ मारते हुए झड़ गया।थोड़ी देर उसके ऊपर ही लेटा रहा.

और आखिरकार वो शब्द मेरे कानों में पड़ ही गए जिनके लिए मैं सुबह से प्रार्थना कर रहा था.

घर के सभी लोग शादी में जा चुके थे और उन्हें अगले दिन वापस आना था। घर पर केवल हम दोनों ही थे. लम्बाई 5’7″ है।बात अब से 5 साल पहले की है जब मैं गुजरात अहमदाबाद रहता था। तब मैं 18 साल का था. हे भगवान वो एकदम पटाखा बन गई थी, वो अब बहुत हसीन दिखने लगी थी।जब एक दिन वो नहाने के बाद बाहर आई.

तो वो तो रात को ही वापस आते थे।उसने मुझे ‘हाँ’ बोल दिया और हम लोग घर घर आ गए।वो बहुत ज्यादा भीग गया था. वो पंजाबी थीं तो पंजाबी औरत का मज़ा तो आप जानते ही हैं।मैंने उनकी चूत पर से अपना मुँह हटा कर उनके लिप्स पर आ गया।वो उतावली हो कर मेरे कपड़े उतारने लगीं और मेरे लंड से खेलने लगीं।जैसे ही मैं उनके हाथ से लंड निकाल कर उनकी चूत पर रखने लगा. तभी ऊपर वाले ने तेरी फ़ौरन सुन ली और ये लड़की पायल निकली।अर्जुन- भगवान की सौगंध सन्नी, इसको देख कर ही मेरा लौड़ा बेकाबू हो गया.

वो मस्त हो उठीं।मैंने फिर से उन्हें कहा- लेकिन आपने अभी भी इसका नाम तो नहीं बताया.

प्रियंका चोपड़ा के बीएफ वीडियो एचडी: तब तक वर्षा अपने कपड़े चेंज कर चुकी थी और सोने जा रही थी।मैंने उसे सारी बात बताई. जिन्हें देख कर अर्जुन अपना होश खो बैठा और पायल के मम्मों को दबाने लगा।पायल ने अर्जुन को पीछे धकेला और जल्दी से अपना कुर्ता पहन लिया।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !पायल- सारा मज़ा अभी ले लोगे क्या.

अब मैंने मैम की गाण्ड में एक उंगली ज़ोर से घुसा दी। मैम चिल्ला उठीं. उसे चूमना शुरू कर दिया।इस बार सोनी मेरा पूरा साथ दे रही थी। मैंने उसे 15 मिनट तक चूमा और फिर मैंने उसके कपड़े उतारने शुरू कर दिए।उसने अन्दर लाल रंग की ब्रा और पैन्टी पहनी थी।मुझसे अब कण्ट्रोल नहीं हो रहा था. तो ममता भी पूरा साथ देने लगी।मेरा हाथ उसकी चूत पर जाकर उसके भगनासा को रगड़ने लगा।मेरे इस कृत्य से उसकी आवाज़ और तेज़ हो गई और ममता जोरदार सिसकारियाँ लेने लगी ‘आ.

तो महंगा लगता है। मेरा सारा ध्यान तो घर के माल पर ही था।मौसी ने उससे कहा- आज रात को यहीं रुक जाओ.

आप का उत्तरदायित्व है कि आप लोग सेक्स से पहले लड़की को अच्छे से गरम करें. जिसके कारण और बहुत ही सेक्सी और फिट दिखती थी।उस चुस्त सूट में उसकी बड़ी चूचियों के बड़े ही कामुक दीदार हो रहे थे साथ ही उसकी एकदम गोल चूचियों के चूचुक भी काफी सख्त और स्पष्ट उभार लिए हुए दिखाई दे रहे थे।मैं उसे देखने के बाद मदहोश हो गया और उसकी तरफ एकटक देखता ही रह गया. मुझको दिया और धीरे से मेरे लण्ड मेरी जीन्स के बटन को और ज़िप को खोलकर बाहर निकाल लिया।मेरी आदत है.