बीएफ नीग्रो

छवि स्रोत,बुरी लड़की का सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

भाभी को किचन में चोदा: बीएफ नीग्रो, ऐसे होते हैं ये जाट… अगर खुश हो गए तो बल्ले-बल्ले और अगर बिगड़ गए तो चल साले निकल ले…लेकिन कुछ भी हो, जाटों के सिवा किसी का लंड पसंद ही नहीं आता.

general सेक्सी पिक्चर

’ राकेश ने कहा।‘नहीं बच्चा, इस पूजा में तुम शामिल नहीं हो सकते, हमें पता है तुम अपनी पत्नी से बेहद प्यार करते हो और इतनी सुदंर पत्नी से कौन प्यार नहीं करेगा… परंतु यदि तुम साथ रहे तो श्राप नहीं टूटेगा. न्यू सेक्सी वीडियो इंग्लैंडमैं यह सब ठीक उसी तरह से कर रहा था, जैसे सुहागरात में करते हैं।थोड़ा देर दोनों के बीच धक्का मारने का खेल चलता रहा और फिर अन्त में मैंने उसके चूत के अन्दर अपना पानी डाल दिया और उसके ऊपर लेट गया।काफी थक चुके थे हम दोनों… तो पता नहीं कब नींद आ गई.

फिर मुझे अपने उपर कंट्रोल नहीं रहा और मैंने उसे जबरदस्त किस करना शुरू कर दिया. सेक्सी वीडियो जल्दी भेजेंउनकी 18 साल की एक लड़की और 12-13 साल का लड़का है। उनके पति किसी मार्केटिंग जॉब में हैं.

अब हम सीधे हुये और मैंने उसकी चूत पर लंड लगाया ही था कि सुमन भागती हुई आई और सीधा मेरे लंड को पकड़ लिया और मुझे चिल्लाती हुई बोली- मैंने मना किया था!और मुझे हटाने लगी.बीएफ नीग्रो: पर पड़ोस का मामला होने के कारण बोल ना सका।वह मुस्कुरा दी और मैंने उसको अपनी बांहों में भर लिया, उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए, वो भी मेरा साथ देने लगी।प्यार-मुहब्बत का सिलसिला चल पड़ा.

मोनिका ने संगीता को रात को उसके पास ही सोने को कहा पर संगीता बोली- आज नहीं, फिर कभी!तब मोनिका ने एक नया डिलडो संगीता को गिफ्ट किया।संगीता 7 बजे तक घर आ गई।रात को संगीता ने पोर्न मूवी और डिलडो का खूब मजा लिया, अमन का फोन आया तो उसने कह दिया कि वो पोर्न मूवी देख रही है और उसकी उंगलियाँ उसकी चूत में हैं।संगीता ने अमन को बता दिया कि दिन में उसने और मोनिका ने पोर्न मूवी देखी थी.यह हिंदी सेक्सी कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!वो खड़े खड़े ही मेरी चुत में धक्के लगा रहा था, उसके लंड के घर्षण से मेरी चुत धीरे धीरे पानी छोड़ रही थी और वो पानी बह कर बेड पर गिर रहा था, मैं भी अपनी आँखें बंद करके चुदाई का मजा ले रही थी, उसके जोर के धक्कों से मेरा पूरा बदन हिल रहा था.

मधु डांसर का सेक्सी वीडियो - बीएफ नीग्रो

तो मुझे इन चीजों से अपनी प्यास बुझानी पड़ती है। वैसे भी वो बहुत दिनों में आते हैं।मैंने कहा- कोई बात नहीं चाची.तो सिहर उठी और मेरा हाथ पकड़ लिया। मैंने अपना एक उंगली से उसकी चूत के कुएँ से पानी निकालना चाहा.

उनको मैंने हर तरह से चोदा है।नेहा गनगना गई और मुझसे लिपट गई।मैंने नेहा को खूब चूमा. बीएफ नीग्रो वह मेरे ऊपर बैठ गया, अपने लंड पर थूक लगा कर मेरी गांड पर टिकाया, मैंने ही गांड उचका कर उसका लंड गपक लिया.

हैलो, मेरा नाम शिवम है। यह मेरी पहली हिंदी सेक्सी स्टोरी है, जो मैं आपको बताने जा रहा हूँ। मैं जो चुदाई की कहानी बताने जा रहा हूँ, वो मेरी और मेरे मामा की लड़की के बीच की है, 2 साल पहले बात की है।मैं महाराष्ट्र से हूँ, मेरी उम्र 22 साल है। मैंने अभी पढ़ाई पूरी की है। मेरी लम्बाई 5.

बीएफ नीग्रो?

वंदना का चेहरा एक बार फिर से मेरे लंड के बिल्कुल करीब आ गया और इस बार मैं अपने लंड को उसके गालों और होंठों पे रगड़ने लगा. उससे पहले ही फ्री हो जाता हूँ।अंजलि ने खुश हो कर थैंक्स कहा और चली गई। यहाँ मुझे समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करूँ।मैं जल्दी से तैयार होकर आंटी के घर पे गया और उनसे कहा- आंटी, आज हम जल्दी खाना बनाते हैं. वो ‘आआआह्हह फ़क मी प्लीज़ उम्म्ह… अहह… हय… याह… उस्स स्सआआह ह्ह्ह…’ की आवाजें कर रही थी और मेरा सर अपनी चूत पे दबा रही थी.

वो मेरे बालो को सहला रही थी, लेकिन वो जल्दी ही खलास हो गई और उसका पानी मेरे मुंह में गिर रहा था।वो शायद संकोचवश मेरे मुंह को अपनी चूत से अलग करना चाह रही थी, लेकिन वो असफल हो रही थी और फिर उसने प्रयास करना बंद कर दिया।उसकी चूत के रस को चाटते हुए, नाभि से होते हुए उसके दूध को पीते हुए मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए, उसने कोई प्रतिरोध नहीं किया. हम दोनों के इन प्यार भरे लम्हों को शब्दों में नहीं लिखा जा सकता… सिर्फ़ एहसास किया जा सकता था. मानो ऐसा लग रहा था कि बुर की चुदाई की पूरी तैयारी से आई हो।मैंने जैसे ही अपना हाथ उसकी बुर पर लगाया.

अभी मुझे स्कूल जाना है प्लीज़।मैं बोला- ठीक है।हम दोनों ने वापिस एक लंबी किस की और वो स्कूल चली गई। आज मैं बहुत खुश था कि आज मैं पहली बार सेक्स करूँगा और वो भी मेरी बहन के साथ. जब सुबह हुई तो मैंने अपना लंड पैंट के अंदर पाया, मैं चौंक गया कि जोहा ने जरूर मेरे लंड को दबाया होगा और चूसा होगा क्योंकि मेरा लंड अब भी भीगा हुआ था. वो भी वीर्य को मज़े से पी गई।तब से लेकर आज तक मैं अपनी दीदी की बहुत बार चुदाई कर चुका हूँ और मैंने दीदी की गांड भी मारी है।आपको मेरी दीदी की चुदाई की इस सेक्स स्टोरी पर क्या कहना है.

‘देख के क्या होगा मेमसाब, इसको हाथ में ले के देखो!’ उसने हंस के बोला. वो भी बहुत नखरे करती थी, कैन्टीन या पार्क में बैठ कर अक्सर लड़कों को आँखें मारती और बाद में गांड दिखा कर भाग जाती.

उधर अनातोली ने खुद ही अपने लंड को दाएं हाथ से मुठ मारनी शुरू कर दी तो राजू खाली हुए मुंह को भकाभक चोदने लगा.

धीरे धीरे उसका शक यकीन में बदल गया कि अब मैं उसकी रूममेट को चोदता हूँ क्योंकि एक दिन रात को उससे अपनी रूममेट को फोन सेक्स करते हुए सुन लिया और अगले दिन मुझसे आकर सीधा पूछ लिया- तुम मेरी रूममेट के साथ सेक्स करते हो?मैं चुप रहा और वो समझ गई… फिर एकदम नशीली स्माइल देते हुए बोली- दोनों को एक साथ चोदोगे?मेरी ख़ुशी का तो कोई ठिकाना ही नहीं था.

वंदु ने मुझे यूँ अपनी तरफ़ मुस्कुराते हुए देख कर सवालिया नज़रों से देखा मानो मेरी मुस्कुराहट की वजह पूछना चाह रही हो. कुछ सेकण्ड में गुरु जी लंड पूरा तन चुका था।‘रमा, लिंग दर्शनों के लिए तैयार है, खोलो अपनी आँखों की पट्टी!’ गुरूजी ने मुस्कुराते हुए कहा. मैंने पिंक कैपरी और पिंक स्फेगटी पहन रखी थी, उसने ब्लैक शार्टस और ब्लैक टाप पहन रखा था.

जिससे मेरा लंड कड़ा होने लगता।चाची भी मेरी इन हरकतों का बुरा नहीं मानती थीं। शायद उनको भी अच्छा लगता होगा क्योंकि उनके शरीर को छूने वाला कोई नहीं था।जब वह नहा कर अपने कमरे में कपड़े बदलतीं तो मैं दबे पाँव चोरी-छिपे उनको देखता। चाची भी इस बात को समझ चुकी थीं, इसलिए वे भी अपने कामुक बदन को खूब मस्ती से दिखातीं. उसका रोने जैसा चेहरा हो गया। मुझे दया आ गई, मैंने लंड निकाल लिया और उसे औंधा करके उसकी गांड चाटी क्योंकि अब उसकी गांड मरवाने की बारी थी। मैंने अपना लंड जैसे ही उसकी गांड की छेद पर टिकाया, उसने अपने हाथ से मुझे रोक दिया और मेरा लंड खुद अपने छेद पर टिका कर कहा- अब दो धक्का!मैंने बिना देर किए जोर से झटका लगा दिया. इसलिए वो अब यही रहती हैं।उतने में आकाश की बस आई और वो मुझे ‘बाय’ कहकर चला गया। मैं भाभी के बारे में सोचने लगा और जल्दी ही फ्लैट पर आ गया। तभी मैंने सोचा भाभी से कैसे पहचान बनाऊं.

कमरे की खिड़की से आ रही हल्की सी रोशनी में कामरस से सराबोर मेरी प्यारी वंदु की प्यारी मुलायम चूत बिल्कुल चमक सी रही थी.

तभी आयुषी का मैसेज आया- मैंने काकूल को बता दिया है, आज उसके साथ मजे करो छत पर… मौका मिलेगा तो घर पर बुलाऊँगी, फिर हम दोनों की चुदाई करना!मैंने कहा- मजा आयेगा, दोनों का पेशाब पीने को मिलेगा।‘वो बाद में सोचना… अभी काकू दस मिनट के लिये गई है छत पर… मजे ले लो।’फिर काकूल ने इशारा किया. ‘आआऐई ईईई ईई… उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआह्ह… ऊऊह ऊओफ्ह्ह…’ की आवाज़ से कमरा गूंजने लगा. मेरा लंड एकदम मौसम में आ गया। पूरे 8 इंच का मेरा मोटा लंड इतना टाइट हो गया कि अब लगने लगा था कि चाची की चुत में ही सीधा घुसेड़ देना चाहिए।चाची कमरे में अन्दर हस्तमैथुन में मस्त थीं। कुछ देर उंगली करने बाद जब चाची की चुत कू पूरा न्मजा मिल गया आई तो वो कुछ शांत हुईं।तभी उन्होंने मुझे अपने कमरे के पास देखा.

वो मुझे वहां खड़ा करके अपनी गाड़ी ले आई और मैं उसके साथ गाड़ी में बैठ गया। गाड़ी में बैठते ही मैंने उससे होंठ छू जाने की बात को लेकर सॉरी बोला।वो बोली- कोई बात नहीं. तो मैंने कहा- अरे अभी थोड़ी अलग हुए!वो थोड़ी खिल गई और फिर हम काम करने चले गए।दोस्तो. ना…कहते हुए मुझे अपने ऊपर खींचने की कोशिश कर रही थी, मगर मेरे होंठ अब चूत की फांकों को चूमते हुए उनके प्रेमद्वार तक पहुँच गये जो कामरस से भीगकर तरबतर हो रहा था।मैंने अपनी जीभ को निकाल कर उस रस को चाट लिया जिससे संगीता भाभी ने एक‌ बार मीठी‌ सी आह भरी‌ और फिर उन्होंने मेरे सिर को पकड़कर मुझे अपनी चूत पर से हटा दिया.

मैं बाहर जाने के लिए एक कदम आगे बढ़ी लेकिन उसके आगे मैं नहीं जा सकी क्योंकि वो वहीं खड़ा था और उसने आगे आकर मेरा रास्ता रोक लिया.

तू रुकेगा या कहीं जा रहा है?मैं बोला- मैं बाहर जाकर आता हूँ।मैं जाने के लिए कह कर बाहर निकला और वापस आ गया। मामी नहा के बाहर आई हुई थीं।वे पूरी नंगी आईने के सामने खड़ी होकर अपनी मखमली चुत पर हाथ घुमाते हुए हिंदी चुदाई की बातें बोल रही थीं- हाय बेटे. सुबह बात करूँगी।फिर मैं सुबह दिव्या के रूम पर गया, उसका रूम खोला क्योंकि एक चाभी मेरे पास भी थी।जैसे ही मैं अन्दर गया.

बीएफ नीग्रो शाम को कॉलेज से आकर खाना खाना और रोज़ रात को भैया-भाभी की चुदाई देखना!कुछ दिन बाद शनिवार था. कल उससे ठीक से बात करूँगा। आप उसकी टेंशन मत लो और वो आप पर नाराज भी नहीं होगा। फिलहाल अभी सोते हैं।फिर मैं कपड़े पहनने लगा तो आंटी ने कहा- रहने दो.

बीएफ नीग्रो अब बात आती है मेरी इस कहानी कीयह कहानी किशोर और एक 21 साल की नवयौवना के बीच की है जो अंत में आपस में सेक्स करते हैं, वो कुंवारी थी, एक आकर्षक व्यक्तित्व की मालकिन थी, नाम था अंजलि-अंजलि मेरे से एक फ्लैट छोड़ कर रहती है, साथ में उसके माता पिता हैं जो किसी विदेशी कंपनी में काम करते हैं, ज्यादातर दिन में बाहर ही रहते हैं, वो दिन भर घर में अकेली रहती है. जैसे ही सुनीता वापिस ड्राइंग रूम में वापिस आई तो पंकज ने उठ कर सुनीता को बाँहों में ले लिया और उसकी गाल पे एक सच में किस कर दिया, जिससे सुनीता के गाल गुलाबी हो गए और गर्म हवा मदहोशी के सागर में डूब गई.

लगता है बहुत दिनों से कोई मिली नहीं है।मैं बोला- तुम भी तो मूड में थीं। वैसे मुझे मिलती तो बहुत हैं.

सनी लियोनी सेक्सी वीडियो फुल एचडी

वो नहीं होना चाहिए था, मैं तुम्हें अपना भाई मानती हूँ और तुमसे बड़ी भी हूँ।मैंने मन ही मन सोचा कि भाई. मैं जैसे जैसे नीचे आ रहा था, कोमल के दोनों पैर खुलते जा रहे थे, मैं सर उठा कर कोमल को दिन के उजाले में देखने लगा. जब मैं क्लास 12 में पढ़ता था। मैं और मेरा दोस्त बाइक पर मस्ती करने निकले थे। उस दिन हम घूमते हुए ज्यादा आगे आ गए थे.

तो उसने मेरे लंड को थोड़ी जगह दी अन्दर जाने के लिए उसने मेरे लंड को अपनी गांड ढीली करके अन्दर जाने दिया. तुमको अच्छा लगेगा और मैं जानता हूँ कि तुमको भी जरूरत है…कोमल- नहीं. इतना सब हो जाने के बाद भी शर्माता है।मैंने कहा- नहीं मेरी कई फ्रेंड नहीं है.

दोनों ने ही भी किसी को कपड़े नहीं पहनने दिए।आज उसकी बहुत याद आ रही थी.

रमा अपनी तारीफ से खुश भी हुई और डरी भी एक संशय उसके मन में आया कि यह कोई पूजा है भी या नहीं, पर वो एक बच्चा चाहती थी ताकि कोई उसे बाँझ न कह सके तो उसने अच्छा बुरा सोचना बंद कर दिया, ‘नहीं गुरु जी’ उसने जवाब दिया।‘तुम्हारा पति तुम्हारे कन्धों की मालिश करता है या नहीं?’‘नहीं गुरु जी’ रमा ने झट से जवाब दिया. तो मैं फ्रेश होने के लिए अटारी से बाहर निकला। मैंने देखा कि चाची आँगन में एक छोटे से बाथरूम में नहा रही थीं। बाथरूम में छत न होने के कारण सामने से मुझे सब दिख रहा था. क्या इसीलिए कि भाई की कोई साली नहीं है?तो फिर से सभी हंसने लगे।मैंने कह दिया- हाँ जीजा जी, हाय री मेरी फूटी किस्मत.

फिर उसने मेरी शर्ट ऊपर की, मुझे अच्छा लगा, फिर उसने उतार दी और मेरी ब्रा भी… मैं शरमाने लगी तो उसने कहा ‘अभी शुरुआत है मेरी जान!इतना कहते ही उसने अपने कपड़े उतार दिए और मैंने उठ के उसका कच्छा उतार दिया लेकिन उसका देख कर मैं डर गई, उसने पहले मेरी चुची पकड़ी और काट लिया. ज्यादा लगेगी!वह लंड जोर से गांड में अंदर बाहर कर रहा था, पूरा डाल रहा था और कह रहा था- बस हो गया… थोड़ा सा और…सर पर हाथ फेर रहा था, बार बार मुंह चूम रहा था, गालों पर हाथ फेरता था. मतलब देसी इंडियन गर्ल…मैंने फटाफट से साईट पर साइन अप किया और कुछ क्रेडिट पॉइंट्स खरीद लिए.

उनकी गांड तो फ़ैल कर और भी ख़तरनाक हो गई थी। कपिल ने मॉम की गांड को जबरदस्ती फ़ैला कर अपने लंड को घुसा दिया और मॉम चीख निकल पड़ी. ’‘माँ क्या सोच रही हो?’‘कुछ नहीं… और कहीं तो चोट नहीं लगी? ज़रा अपना कच्छा तो उतार के दिखा?’रमा के कहने की देर थी और राहुल ने झट से कच्छा नीचे कर दिया। रमा उसके 12 इंच के सांड जैसे लौड़े को देख कर हैरान रह गई।‘कितना बड़ा है!’ रमा के मुंह से अचानक ही निकल गया।‘क्या कितना बड़ा है माँ?’ राहुल ने भोलेपन का नाटक करते हुए कहा।‘बड़ा नहीं राहुल, मैंने कहा कितना सूज गया है.

सपना पूरा हो गया था। मैंने लगातार उनकी चुत को 15 मिनट तक चोदा और बाद में मैं ढीला पड़ गया।अब तक आंटी भी झड़ चुकी थीं। उन्होंने बोला- मज़ा आ गया।मैंने आंटी के एक दूध का निप्पल अपने मुँह में भर लिया और चुसकने लगा।आंटी ने मेरे सर पर हाथ फेरते हुए बोला- फिर आना।जाने से पहले आंटी ने मेरा लंड फिर से चूसा।उसका पति एडवोकेट है, सारा दिन कानून की किताबों में घुसा रहता है और शाम को दारु पी कर सो जाता है. ‘ऊह्ह्ह ह्ह… मेरी वंदु… उम्म्म्म… उम्मम…’ मैं भी अपनी उत्तेजना को दर्शाते हुए वंदु को इधर-उधर चूमते हुए अपने लंड को ज़बरदस्त झटकों के साथ उसकी चूत में पेलता रहा. मैं समझते हुए उठकर अपना लंड पकडे उसकी ओर गया, और खड़े होकर लंड उसके मुंह में दे दिया.

बातें करते करते वो आलती पालथी मार कर बैठ गई तो मेरी नजर उनके पैरों की तरफ चली गई और मुझे उनकी चूत की हल्की सी झलक दिखलाई दी क्योंकि उन्होंने नीचे पेंटी नहीं पहन रखी थी.

‘चुदाई करने जा रहे हो क्या?’मैंने ‘हाँ’ में सर हिलाया और हंस कर वहाँ से ऊपर जाने लगी, ऊपर जाके मैंने दरवाजा बंद किया. अपनी रखैल की आग बुझा मादरचोद!’भाभी के मुँह से गालियां सुन मुझे और जोश आ रहा था. सच पूछो तो तोली सिर्फ अपने चौड़े टोपे को ही मेरी भार्या की गांड में अन्दर-बाहर कर रहा था लेकिन लड़की इतने में ही मुंह खोल कर तनावपूर्ण चेहरे के साथ सांसें लेने लगी थी.

लेकिन मेरा हब्शी लंड उनकी चुत में जा नहीं रहा था। फिर मैंने उनके चुत के ऊपर अपनी जीभ को लगाया और चूत चाटने लगा।साथ ही मैंने अपनी दो उंगलियां एक साथ आंटी की चूत में अन्दर तक घुसा दीं। वो चीख उठीं और बोलीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आराम से राहुल. पूरा सुपारा अब एक गर्म और गीले बंद डिब्बे में फँसा हुआ प्रतीत हो रहा था.

फिर मैंने उसे नीचे लिटाया और खुद उसके ऊपर आ गया, एक बार फिर उसकी चूत को चूस कर अपना लंड उसकी चूत पर सेट किया और जोर से एक झटका मार कर पूरा लंड एक बार में ही लगभग अन्दर कर दिया. ऐसी जोरदार चुदाई से तो ये मर जाएगी यार!पर राजवीर ने उसकी बात नहीं सुनी और उसने एक जोर का झटका दे दिया। इस झटके से उसका लंड मेरी चुत में समा गया। मैं एकदम से लस्त हो गई।कुछ देर बाद उसने धीरे-धीरे धक्के देना चालू किए। मैं आहें भरने लगी- अहह. अब मैंने रीना को इशारा किया, वो तुरंत मेरे ऊपर आ गई और लण्ड को अपनी चुत पर सेट करते हुए बैठ गई, मेरा लिंग उसकी चुत में पूरा घुस चुका था वो वो जोर जोर से मेरे लण्ड पर कूदने लगी.

सेक्सी पिक्चर एचडी वीडियो हिंदी

उनकी 18 साल की एक लड़की और 12-13 साल का लड़का है। उनके पति किसी मार्केटिंग जॉब में हैं.

उफ्फ्फ़… उछलती चूचियों को मुँह में भरना आअह्ह!कोमल की सांसें उखड़ने लगी तो मैंने उसको फिर से पलट दिया, उसके ऊपर आकर मिशनरी स्टाइल में चूत में लंड घुसा दिया. वो सब बाद में इस्तेमाल करने की सोची।फिलहाल मैं बुरी तरह थक चुका था. वो मुझे देखकर आश्चर्यचकित रह गया और घबरा कर पूछने लगा- खैरियत तो है न?मैंने कहा- सब ठीक है, बाहर गाड़ी में तुम्हारी भाभी बैठी हैं, और मैं भी वापस उसके पास जा रहा हूँ, तुम 5 मिनट में अपने सामान का बैग लेकर हमारे पास आ जाओ.

’ मेरी पत्नी मुदस्सर का टोपा अन्दर जाते ही बुरी तरह से दर्द से बिलबिला उठी और अपनी गांड वापस खींचने लगी लेकिन मुदस्सर ने उसकी पतली कमर कसकर पकड़ी हुई थी. ’मैंने पूछ- क्या किया तूने?उसने कहा- तू क्यों चिल्लाया? मेरा तो पहली बार है थोड़ा दर्द तो होगा ना!‘और मेरा चमड़ा छिल गया…’मेरा लंड खुल गया था, टोपी बाहर… फिर लंड सेट किया, फिर एक धक्का… दर्द कम हुआ और फिर धीरे-2 मैं हिल रहा था, उसे मजा आ रहा था, मेरा लंड जरा सा अन्दर था, मुझे कन्ट्रोल नहीं हुआ मैंने एक और झटका मारा, फिर वो चिल्लाई, उसके आँसू निकलने लगे. सेक्सी वीडियो भोजपुरी चूतये मेरी सच्ची सेक्स स्टोरी है, आपको कैसी लगी, मुझे इमेल करें![emailprotected]मुझे facebook पर भी join कर सकते हैं.

उसकी चुची में ज्यादा लग रहा था।वो भी मुझे पढ़ते हुए मेरी आँखों में आँखें मिला कर पढ़ रही थी, उसकी निगाहों से ऐसा लग रहा था मानो जैसे लंड चूसने को तैयार हो।कुछ समय बाद हमारी दोस्ती भी हो गई और उसने मुझे प्रपोज़ भी कर दिया।मानो मेरी तो लॉटरी ही निकल पड़ी हो, मैंने भी उसको बोला कि मैं भी तुम्हें काफ़ी टाइम से पसंद करता हूँ. इस सेक्सी स्टोरी में मैं आपको बताना चाहूँगा कि कैसे मैंने मेरी बहन की सहेली शीला की चूत की चुदाई की!अन्तर्वासना के पाठकों को नमस्कार.

मैं कराह रहा था, चूतड़ सिकोड़ता था पर लंड अंदर हो तो गांड सिकोड़ें या फैलाएं, क्या फर्क पड़ता है. अब बात आती है मेरी इस कहानी कीयह कहानी किशोर और एक 21 साल की नवयौवना के बीच की है जो अंत में आपस में सेक्स करते हैं, वो कुंवारी थी, एक आकर्षक व्यक्तित्व की मालकिन थी, नाम था अंजलि-अंजलि मेरे से एक फ्लैट छोड़ कर रहती है, साथ में उसके माता पिता हैं जो किसी विदेशी कंपनी में काम करते हैं, ज्यादातर दिन में बाहर ही रहते हैं, वो दिन भर घर में अकेली रहती है. मैंने वो उतार दी, उसकी बिना बालों वाली बुर मेरे सामने थी, उसमें से कुछ चिपचिपा सा निकल रहा था। तभी उसने मेरा मुंह अपनी बुर पर लगा दिया.

वो सब बाद में इस्तेमाल करने की सोची।फिलहाल मैं बुरी तरह थक चुका था. तो भाभी अचानक बोलीं- ऐसे क्या देख रहे हो?मैंने कहा- भाभी आप बहुत सेक्सी हो।भाभी इतरा कर बोलीं- मुझे पता है।‘जितना आपको पता है आप उससे भी ज्यादा झकास माल हो।’उन्होंने आँख मारते हुए कहा- तो क्या अब इस झकास माल को देखते ही रहोगे या कुछ करोगे भी।इतना सुनते ही मैं भाभी पर टूट पड़ा।उन्होंने कहा- मैं तुम्हारी हूँ सैम. तो चूत और लंड कैसी लगी आपको मेरी ग्राहक की चुदाई की असली कहानी? जरूर बताइयेगा और पानी निकालिएगा बाथरूम में जाकर![emailprotected].

मेरे एक रिश्तेदार के यहाँ नागपुर में शादी थी, हम सब पूरी फॅमिली शादी में गये थे.

और पैंट उतार के खेल लो।उसने पैंट उतार दी।मेरा इतना बड़ा लंड देख कर हैरान रह गई और डर कर कहने लगी- इतना मोटा और लम्बा लंड तो मेरे ब्वॉयफ्रेंड का भी नहीं है. मैंने धकापेल चुदाई जारी रखी, आंटी मजे में मादक सिसकारियां ले रही थीं, मैं भी हचक के लंड पेले जा रहा था।तभी आंटी को चरम का मजा आने लगा और उनके मुँह से आवाज़ आने लगी- आह्ह.

’मैं भाभी के कूल्हे पकड़ कर धीरे-धीरे ठोकर लगाते हुए चुदाई का आनन्द ले और दे रहा था। मेरा पूरा लंड अन्दर-बाहर हो रहा था। भाभी के चूतड़ों पर से हाथ आगे ले जाकर कुत्ते की तरह मैं भाभी की चुत की चुदाई और हाथों से उनके बोबों की मसलाई कर रहा था, रसीली भाभी की मीठी-मीठी सिसकारियां निकल रही थीं।रसीली भाभी एक हाथ से नीचे से मेरे लंड की गोटियों को सहला कर जोश में ‘आ हां हह. ’मैं अपनी गांड उछाल कर उसका साथ दे रही थी। वो मेरे दोनों चुचों को पकड़ कर मुझे चोदने लगा।वो इतनी जोर से चोद रहा था कि पूरे कमरे में चुदाई की ‘फक. वो एकदम नमकीन थी, पर मुझे बहुत अच्छा लग रहा था।चाची हल्की-हल्की आहें भर रही थीं.

’ रमा ने राहुल से कहा जो कच्छे की टांग से बाहर झांक रहे अपने लिंग की तरफ इशारा कर रहा था।‘चल जाकर नहा ले, ज्यादा बातें मत बना वरना स्कूल के लिए लेट हो जायेगा. उसकी पेंटी को भी खोल दिया।फिर मैंने अपने भी सब कपड़े उतार दिए और मैंने उसकी कमर के नीचे एक तकिया रख कर जैसे ही मैंने अपना लंड उसकी चिकनी चुत में डालना चाहा. शादी का टाइम करीब आने लगा और मैं अपनी फैमिली के साथ वहां पहुंच गया.

बीएफ नीग्रो मैं मौसी की चुदाई किये जा रहा था और मैंने अपना माल मौसी की चूत में ही छोड़ दिया. बहन तो सिर्फ़ आप जैसी होनी चाहिए, जो भाई के हर दुःख को समझती हो।ये बोलते हुए मैंने दीदी को अपनी बांहों में ले लिया और उन्हें किस करने लगा। तो वो अलग हो गईं और बोलीं- अभी सब घर में हैं।फिर जिस दिन सब को जाना था, उस दिन दीदी मेरे पास आईं और बोलीं तेरा काम बना दिया है.

हॉट अंग्रेजी सेक्सी वीडियो

ये कहकर वो रोने लगी और उनके आँखों से पानी आने लगा।मैं वैसे ही उनके ऊपर लेट गया और उनके होंठों को चाटते हुए कहने लगा- सॉरी जानू, फर्स्ट टाइम कर रहा हूँ इसलिए. उसने पैंट की चैन खोली और झट से पैंट उतार दी, तो मेरी नजर उसके अंडरवियर पे गई, उसने ग्रीन कलर की फ्रेंची पहनी हुई थी और उसका वो वाला हिस्सा बहुत फूल गया था, अब मैं एक छोटी सी फ्रेंची पहने हुए आदमी के बहुत पास खड़ी थी।‘आपको यकीन नहीं होता ना साहब की साइज छोटा है… मैं आपको यकीन दिलाता हूँ कि उससे काफी बड़ा भी होता है. लेकिन हम लोग सिर्फ दोस्त हैं और कुछ नहीं।तो भाभी चुटकी लेते हुए बोलीं- और क्या होता है.

मेरे होते हुए भी उसके और लड़कियों के साथ उसके सम्बन्ध थे।अब मुझे लगा कि यही मौका है आगे बढ़ने का. तो अमित ने दवा ला कर दी, इस वजह से देर हो गई।फिर नेहा ने सुमन को सामान दे दिया।ब्रा-पेंटी देख कर सुमन भी खुश हो गई और चूत की सील खुलवा कर नेहा भी हैप्पी थी।दूसरे दिन नेहा सुबह आई और बोली- आज तुम दुकान नहीं जाना. सेक्सी मूवी गाना वालीजब उसको यकीन हो गया कि मैं गहरी नीद में हूँ तो उसने अमिता को हिलाया.

फिर कुछ देर के बाद मैंने अपना माल निकाल दिया और उसको पौंछ कर उसके ऊपर पड़ा रहा, चूमता रहा, चूसता रहा उसकी चुची को!वो खुश लग रही थी, मदहोशी में बोली- जब तुम मुझे चोद के मेरे ऊपर पड़े रहते हो और प्यार करते हो तो मुझे बहुत अच्छा लगता है!मैंने कहा- तेरा हज़्बेंड और बॉयफ्रेंड क्या करते थे?कहती- उनकी बात ना कर, वो साले चोद कर ऐसे निकलते थे जैसे मैं रंडी हूँ, चोद दिया तो बस जाओ!मैं उसे और चूमने लगा.

मैं अंगड़ाई लेने लगी दर्द के कारण लेकिन उसकी पकड़ इतनी मजबूत थी कि मैं हिल भी नहीं पा रही थी. मैंने हामी भरी तो उसने मुझे मेरा कुर्ता उतारने को कहा, फिर ब्रा के ऊपर चुन्नी डाल दी, दुल्हन टाइप से!फिर कहा दूध लेकर आने को!तो मैंने कहा- अभी?तो कहता- डाइरेक्ट पी लूँगा!उसने मेरे बोबे दबा दिए.

ना कि तुम मेरी। तुम रोहित की गांड मार दो।मैंने कहा- ठीक है।मैं दीपा को पकड़ के उसके होंठ चूसने लगा. निशिका ने कहा- थेंक यू, इतनी छोटी सी प्रोब्लम के लिए मैंने आपको परेशान किया।मैंने कहा- मैडम, आप हमारी पड़ोसी हैं, और आपकी सहायता करना तो हमारी जिम्मेदारी है।फिर उसके पापा आ गये, उन्होंने कहा- बेटा हो गया?मैंने कहा- हां अंकल, बस एक वायर निकल गया था! अब मैं चलता हूँ. मैं होर किस्से दी णी होणा!इन्नी गल सुनदे ई मैंनूँ ते ग्रीन सिग्नल मिल गया.

वो भी मेरा लंड चूस रहा था।अब तक दीपा ने भी सारे कपड़े उतार दिए और मेरे साथ रोहित की चूत चाटने लगी।हम तीनों से अब कंट्रोल नहीं हो रहा था। मैं रोहित के ऊपर आ गया और उसकी चूत में अपना असली लंड डाल दिया। फिर धीरे-धीरे उसकी चुत को चोदता हुआ ऊपर-नीचे होने लगा। उसकी चुदाई के साथ मैं उसके मम्मों को भी दबा रहा था।दीपा ने भी मेरे पीछे से सैटिंग बना कर लंड मेरी गांड में डाल दिया। मेरे मुँह से भी ‘आह.

मैंने उसको कहा- तू अपना खून साफ कर ले और कपड़े पहन ले!मैंने अपने कपड़े पहन लिए और उसके बाद अपना काम करने लग गया. और उन्होंने सोते में मुझे पकड़ लिया।कुछ ही देर बाद चाची मुझे अपने गले से लगा कर सोने लगीं। मैं ऐसे ही पड़ा रहा और फिर मैं चाची को क़िस करने लगा। जब चाची ने कुछ नहीं कहा तो मैं धीरे-धीरे उनकी चुची को दबाने लगा।चाची सीधी हो गईं तो मैंने चाची की नाइटी ऊपर कर दी।अब चाची उठ सी गईं. वो ब्लाउज़ और पेटीकोट में नहा रही थीं, मैं उन्हें वहीं से देखने लगा। पहले मैंने सोचा यह गलत है, लेकिन फिर मैंने सोचा कि कौन सा उन्हें पता है कि मैं देख रहा हूँ।धीरे-धीरे उन्होंने अपना ब्लाउज भी उतार दिया.

हिंदी में देसी चुदाई सेक्सीमुझे तेरे खुले मुँह ने ही सब बता दिया है।आंटी हंसने लगीं और फिर मैं भी हंसने लगा।कुछ देर बाद मैं वहाँ से निकलने लगा।मैंने आंटी से कहा- मुझे शाम को अंजलि के साथ जाना है तो अभी जाता हूँ. जिससे बवाल हो गया और मेरी बहनजी मुझसे बहुत नाराज हुईं।दूसरे दिन मैंने चुदास के चलते अकेले में अपनी भानजी कविता का हाथ पकड़ लिया.

सेक्सी चोदा चोदी खुल्लम-खुल्ला वीडियो

‘अरे मेमसाब क्या शरमा रही हो!’ उसने मेरा हाथ छोड़ दिया और अपने हाथ से अपना लिंग हिलाया और फिर छोड़ दिया. पहले भी और अब यह?तो दिव्या बोली- यह अच्छा है।मैं दिव्या की चुची से खेल रहा था।उसकी बहन कहती- दीदी नहीं. मेरा घर नई मुम्बई खारघर में 3 बैडरूम का एक फ्लैट है जो 11th फ्लोर पर है.

‘क्या सही में? आह!’‘हाँ… औरत की संभोग की प्यास मर्द से कई गुना ज़्यादा होती है. पायल बहुत खुश थी।थोड़ी देर बाद पायल ने उठ कर अपने कपड़े पहन लिए और नीचे अपने कमरे में चली गई।इस तरह मेरा नेहा भाभी और पायल की मस्त चुदाई का सिलसिला दो महीने तक चलता रहा।फिर पायल की शादी हो गई और भाभी प्रेग्नेंट हो गई।आपको यह बहन की और भाभी की चूत की चुदाई की कहानी कैसी लगी, अपने विचार अवश्य लिखें।[emailprotected]. इन सबके बीच तनु काले रंग के टू पीस गाऊन में गजब की निखर रही थी।गाऊन सिल्की था इसलिए शरीर का नक्शा कपड़ों के ऊपर से भी देखा जा सकता था। लेकिन गाऊन शरीर को पूरा ढका हुआ था, उसकी डिजाइन सिम्पल ही थी। पर भाभी के गोरे बदन ने उसकी सुंदरता बढ़ा दी थी.

इसलिए मैं मना करने लगी।परन्तु मामा की ज़िद की आगे मुझे झुकना पड़ा और हम तीनों खेतों में चले गए। वहाँ जाकर पहले तो हम दोनों बहुत मस्ती की. ’उसकी बातें सुनकर मैं जोश में आ गया और मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिए।उसके मम्मे क्या लग रहे थे। मैं उसके गोरे मम्मों पर टूट पड़ा। एक मम्मे को मुँह में लेकर चूसने लगा व दूसरे मम्मे को हाथ से जोर से दबाए जा रहा था।सोमी आहें भरती बोली- थोड़ा धीरे दबाओ. उसका लंड अभी पूरी तरह खड़ा नहीं हुआ था लेकिन वो राजू के लंड से बीस था.

भाभी।’फिर मेरे दोनों हाथ उनकी गोरी और गरम पीठ पर मानो भाग रहे थे। मेरा मन कर रहा था कि भाभी को अभी ही चोद डालूँ. क्या तुमको मैं सच में गंदा लगता हूँ?उससे ये बात पूछते समय मेरी आँखों से आँसू निकलने वाले ही थे मुझे बहुत बुरा लग रहा था।मैंने निशा से कहा भी कि तुम्हारी बात से मेरी आँखों से आँसू निकलने वाले हैं।निशा कहने लगी- प्लीज भाई रोना मत.

एक बार आधी रात को मेरी गर्लफ्रेंड का फोन आया और उसने मुझे दुबारा फोन सेक्स चैट करवाने को बोला.

तो पता चला कि हम लोगों को डाउनसाइड में जाने की जरूरत है, वहाँ बहुत सारे एजेंट्स यही काम करते थे।हम लोग एक शॉप पर पहुँचे और पूछताछ करने लगा, तभी एक ग्रुप और उस शॉप पर आया और सेम चीज के लिए पूछताछ करने लगा। कमाल की बात ये थी कि वो ग्रुप कोई और नहीं था. हीरोइनों की सेक्सी वीडियो दिखाओबड़े ही तने हुए और लंड खड़ा कर देने वाले थे।मेरे दोस्त मुझसे अक्सर कहा करते थे कि तू भाभी के इतना क्लोज़ है तो उनको चोद क्यों नहीं देता?पर सच बताऊं तो मुझे कभी चान्स ही नहीं मिल रहा था।एक दिन अंकल मेरे घर आए और उन्होंने मेरे पापा से कहा- हम लोग 2 हफ्ते के लिए तीर्थ यात्रा पर जा रहे हैं। आप घर का ख्याल रखिएगा, घर में निशा बहू अकेली ही है।पापा ने कहा- कोई बात नहीं. सेक्सी शुद्ध हिंदीटेबल पे दो कपों में ठंडी हो चुकी चाय जैसे दो जिस्मों के खेल की गवाही भर रही थी. सिर्फ़ स्माइल करके मुझसे कहा- मुझसे अकेले में मिलना।मेरी बहन की चुदाई की कहानी कैसी लगी? मुझे लिखें… आपके मेल के इन्तजार में।[emailprotected].

फिर मैं अपने कुछ दोस्तों से मिला और अपना काम खत्म करके मैं घर आ गया। फिर भाभी, मैंने और ताऊजी-ताइजी ने डिनर किया और फिर मैं ऊपर और ताऊजी-ताइजी नीचे चले गए। मैं टीवी देख रहा था, तभी भाभी का मैसेज आया कि वो बहुत बोर हो रही हैं.

मैं भी ऐसा नहीं हूँ।इसी तरह सारी बहनें और मैं सभी हंसी मजाक तो किया करते थे।एक दिन मैं मजाक-मजाक में गाना गा रहा था- कुण्डी मत खड़काओ राजा. सच में क्या मस्त माल लग रही थी।जब वो कमरे से बाहर गई तो मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए और एक दवा खा ली। तब तक वो पानी लेकर आ गई। उसके आते ही मैंने उसको पकड़ लिया और उसे बेड पर पटक दिया। उसकी पैन्टी खींच कर निकाल दी।हय. और मैं देखकर खुश होऊं!फिलहाल आज अमिता मेरे बचपन के दोस्त मुदस्सर के साथ थी.

तो उसने पूछा- ये क्या है?मैं डर गया और मैंने ‘सॉरी’ का मैसेज भेज दिया।लेकिन थोड़ी देर में उसने मैसेज किया- कोई बात नहीं!इससे मेरी हिम्मत थोड़ी बढ़ गई और मैं उसे रोज एक नॉनवेज मैसेज भेजने लगा और उधर से मुझे एक फन्नी रिप्लाई मिलने लगा था।हम बाहर भी मिले और मूवी देखने साथ भी गए।कुछ दिन बाद उसकी बड़ी सिस्टर की शादी लड़के वालों के शहर में जाकर थी। उसके घर के सभी लोग जाने लगे. वह मेरे ऊपर बैठ गया, अपने लंड पर थूक लगा कर मेरी गांड पर टिकाया, मैंने ही गांड उचका कर उसका लंड गपक लिया. रह रह कर लंड फुदक फुदक के लावा उगल रहा था… मेरा जिस्म हल्का होता चला गया.

सेक्सी चुदाई के फोटो

मैं दीदी की चूची चूसने लगा तो थोड़ा दर्द कम हुआ और मैंने फिर होंठ चूसते हुए एक और धक्का मारा तो मेरा पूरा लंड दीदी की चूत में फंस गया और दीदी रोने लगी. फिर वे दोनों छत पर चले गये और दारू पीने लगे!मैंने खाना लगा दिया था, दीपक खाना खाते वक्त नशे में मुझे ही घूरे जा रहा था, मुझे थोड़ा अजीब सा लगा. और अब उसने निकर पूरी घुटनों तक खिसका दी।दीदी- दवाई तो लगा दी है, लेकिन अब पूरी फैला दी तुमने!यह कह कर वो साफ करने लगी.

मैं सिखा दूँगी।उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी कमर पर रखवा लिया और डांस सिखाने लगी। अचानक उसने अपना हाथ को ऊपर किया और उसकी टी-शर्ट उसके पेट से ऊपर तक उठ गई। मेरा हाथ अभी उसकी कमर पर ही था। नंगी कमर पर हाथ पड़ते ही मैं गनगना गया और मैंने आव देखा न ताव, उसके होंठों को अपने होंठों में भर लिया।उसने मुझे पीछे करते हुए कहा- बड़े बेताब हो।मैंने कहा- हाँ बहुत ज्यादा.

वो बोली- क्या लेंगे आप?मैंने कहा- जो मर्जी!वो कॉफ़ी ले आई, हम दोनों एक दूसरे को देखते हुए पीने लगे.

धीरे धीरे मैंने उसके कपड़े उतरने शुरू किये तो वो ‘मम्मी है…’ बोलने लगी. मैं पिछले कई सालों से अन्तर्वासना की सेक्स स्टोरी पढ़ता आ रहा हूँ। मुझे इस तरह की हिंदी में चुदाई की कहानी पढ़ने में बहुत मजा आता है। मैंने सोचा कि मैं भी अपने साथ घटी एक सच्ची घटना को सेक्स स्टोरी के रूप में लिख कर आप लोगों को सुनाऊं।मेरी ये सेक्स स्टोरी मेरे और मेरे बगल में रहने वाली एक आंटी की है। इस सेक्स स्टोरी में मैंने उनको कैसे पटाया और उनको कैसे बड़े प्यार से चोदा. हिंदी डॉग सेक्सी वीडियोजल्दी दिखा!और ये कह कर दीदी मेरे पास आ गई। मैंने अपना मोबाइल निकाला और उसकी फोटो दिखाई जो कि उसके बॉयफ्रेंड और उसकी जॉइंट फोटो थी और फोटो भी कुछ ऐसी थी.

अब मैंने फिर से डिब्बे से तेल निकाल कर अपनी त्रिपतिव्रता पत्नी की गांड पर मल दिया और अपनी दो उंगलियों को अन्दर घुसेड़ दिया. 5 इंच लंबा था और मोटा भी बहुत था। इस वक्त अजीत का लंड अपने पूरे शवाब पर था।मैंने अंकिता की तरफ चुपके से देखा. तभी बोला- सोनी, तुम्हारी चुची इतनी बड़ी कैसे?मैं- तुम ही तो कई दिनों से चूस रहे हो, इस कारण बड़ी हो गई।विकास- तेरी मम्मी जितनी हो जाएंगी कुछ दिन में… लगता है चूची को चूसना छोड़ना पड़ेगा।मैं- जानू थक गए? और चोदो ना मुझे!विकास बोला- कंडोम निकलता हूँ, लंड चूस के खड़ा करो।मैं बोली- कंडोम निकालो मत, मैं ऊपर से ही चूस लूँगी।मैं अपने पति का लंड कई बार कंडोम के ऊपर से भी चूस लेती हूँ.

?’‘उसने मुझे अपने भाई के बारे में आईडिया दिया और मैंने वैसे ही किया। जैसे अंजलि ने बताया।दोस्तो, इस सेक्स स्टोरी में अब संदीप का आंटी के संग चुदाई का रिश्ता कैसे बना वो आने लगा है। अब इधर से इस हिंदी सेक्स स्टोरी में कुछ टर्न आएगा। आप मुझे लिख सकते हैं।[emailprotected]कहानी जारी है।. अब उसे दर्द के साथ मजा आने लगा। मैं धीरे-धीरे धक्के तेज करने लगा।वो ‘उह्ह्ह ऊऊहह.

पर मैं अब भी चुत चाट रहा था।थोड़ी देर बाद भाभी फिर से मूड में आ गईं और बोलीं- अब मेरी बारी है।मैंने भी तुरंत अपना लौड़ा निकाला और भाभी के मुँह में लगा दिया। भाभी भी एकदम किसी लॉलीपॉप की तरह मेरे लंड को चूसने लगीं। कुछ ही देर में मेरा भी पानी निकल गया और मैं थक सा गया।भाभी मेरी मलाई चाटने के बाद भी मेरे लंड को चूस रही थीं.

30 बजे मैंने, उसको डिनर के लिए कॉल किया, तो कहती- मेरी फ्रेंड और उसका ब्वॉयफ्रेंड आया है, मैं उनके साथ जा रही हूँ।मैंने कहा- ठीक है।मैं यह जानने के लिए राम से मिलने गया कि वो क्या कर रहा है. बड़ी गर्मी लग रही है।भाभी आगे-आगे चल दीं, मैं पीछे-पीछे उनकी पिछाड़ी पर नजरें गड़ाए हुए चल रहा था। टाइट नाइटी में भाभी की क्या गांड मटक रही थी. मैंने नताशा का सिर पकड़ कर अपना लंड उसके मुंह से बाहर निकालते हुए, राजू के लंड की तरफ मोड़ दिया.

सेक्सी सेक्सी नंगी सेक्सी सेक्सी तेरे दूध पीना है।उसने कुछ नहीं कहा तो मैं समझ गया कि अब मैं कुछ भी कर सकता हूँ।मैंने उसकी टी-शर्ट को जैसे ही उठाया मेरा तो समझो भाग्य ही खुल गया. हम दोनों बात करते रहे, शाम को कोमल घर चली गई और मैं वापस मुंबई आ गया और इस धुआँधार ट्रिप के बाद तो मुझे और कोमल को चुदाई का चस्का लग गया, जब मेरा या उसका मन करता, मैं औरंगाबाद चला जाता दिनभर चुदाई के कई दौर चलते.

और क्या!’रमा जब राहुल को उठाने गई तो उसकी पहली ही नजर…कहानी जारी रहेगी. उसके बाद उसको देखा वो काला सा सफेद तौलिये में खड़ा था, मुझे घूर रहा था. कोमल की लाल रंग की छोटी सी पेंटी पहनी थी, जिसके ऊपर से उसकी गांड मस्त और उठी हुई लग रही थी।फिर मैंने जब उसकी पेंटी खिसकाकर उसके चूतड़ पर हाथ लगाया तो लगा कि मुलायम रुई का गोला मेरे हाथ में आ गया.

बुर का चुदाई वीडियो सेक्सी

अमूमन इतनी जल्दी मैं झड़ता नहीं… लेकिन वंदु ने चुदाई से पहले मेरे लंड को इतना तड़पाया और सहलाया था मैं भी झड़ने के कगार पे आ चुका था ‘ओह्ह्ह… वंदु… उफ़्फ़्फ़्फ… मैं भी आयाऽऽऽऽ’और दो-तीन तेज़ झटकों के साथ मैंने वंदु की चूत में अपने लंड का उबलता हुआ लावा उगल दिया. मैं माही की चूत में से अपने लंड को बाहर खींचता और जब सिर्फ़ सुपारा अंदर रह जाता तो ज़ोर से उसे फिर चूत की गहराइयों तक पेल देता. अब वो मेरे पास चिपक कर बैठी थी और शर्ट के ऊपर के बटन खुले थे, मेरा लंड खड़ा था और मैडम ने धीरे से अपना हाथ मेरे लंड पर रख कर पूछा- यह खड़ा क्यूँ है?मैं बोला- जब आप अपने बच्चे को दूध पिला रही थी, तबसे ये खड़ा हो गया…वो बोली- अच्छा.

मैं मोहित 18 साल की उम्र का पंजाब से हूँ। मेरी ये xxx सेक्सी स्टोरी मेरी भाभी रागिनी के साथ की है। इस सेक्सी स्टोरी में उन्होंने मुझे किस तरह गरम और उत्तेजित करके चुदाई का खेल खेला, इस सबका विवरण है।मेरी भाभी रागिनी एक सेक्स बम की तरह हैं. तुझे तो बहुतेरे मिल जाएंगे, पर मेरी सील टूटने के वजह से मुझे कौन चोदेगा। मैं अब कण्ट्रोल नहीं कर पाती हूँ इसके वजह से मेरी तबियत बार-बार बिगड़ जाती है।‘इस पर अंजू ने क्या कहा आंटी.

तो भाभी बोलीं- क्या हुआ?मैंने कहा- ये दूध अच्छा नहीं लग रहा है।वो मुस्कुरा दीं और बोलीं- ये अच्छा नहीं लग रहा है तो देवर जी को कौन सा दूध चाहिए?मेरे मुँह से एकदम से निकल गया- आपका.

लड़का फिर चिल्लाया।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!तब रोमेश ने उसकी गांड से अपना लंड निकाल लिया. वो कार में आ कर बैठी और तभी मुझे फील हुआ कि वो नशे में है, उसके मुँह से शराब की स्मेल आ रही थी।तो मैंने पूछ ही लिया कि क्या तुम किसी पार्टी से आ रही हो या ऐसे ही पी ली?उसने बताया कि उसकी फ्रेंड का बर्थडे था और उसका कुछ दिन पहले ही अपने बॉयफ्रेंड से ब्रेकअप हुआ है, सो उसी गम में थोड़ी सी पी ली।मेरा पप्पू तो उसके ब्रेकअप के बारे में सुन कर उछलने लगा। मैंने उससे कहा- तुम उदास न हो. खैर इन दोनों चुची से तो मैं तब से खेल रहा हूँ जब ये सिर्फ़ एक सेब जितनी थीं। पिछले 3 सालों में 28 इंच से बढ़ कर 38 हो गईं.

खुद सामने से आकर चूत चुदवाकर चली जाती हैं। आज तक मैंने किसी को चोदने को नहीं कहा, वे सब खुद आकर अपना घाघरा ऊँचा करके मेरे लंड से अपनी चूत की ठुकाई करवाती हैं। पर आज तक कभी शहर वाली चूत को नहीं चोदा. क्योंकि रोज तो वो अपने पति से चुदवाती ही थी और चूत उसकी गीली हो चुकी थी।अब लंड अन्दर जाने के बाद मैंने उसके होंठों को चूसना शुरू किया और साथ ही मम्मों को अपने हाथों से दबाना भी चालू कर दिया। धीरे-धीरे चुदाई में गर्मी आने लगी और मेरे धक्कों की रफ़्तार भी बढ़ने लगी। वो आँखें बंद करे और अपने होंठों को रसपान करते हुए चुदवाए जा रही थी।एक बार बीच में सिर्फ उसने कहा- और जोर से. मैं बोली- मजा क्यों? क्या हुआ जो मजा आएगा?विकास- अरे रात को तो खूब मजा ले रही थी और इतना जल्दी भूल गई?मैं- क्या किया… तुम बताओ, मैं तुम्हारे मुख से सुनना चाहती हूँ।विकास- सोनी, ये सब छोड़ो, आज मैं कंडोम ले आया हूँ, कल बिना कंडोम के किया, आज से कंडोम लगा के चोदूँगा।मैं एकदम घबरा गई कि मेरी बेटी सेक्स के चक्कर में पड़ गई.

तो मीता ने मेरी चुत में एक उंगली डाल दी और कहने लगी- कैसा लगता है?मुझे थोड़ी अजीब सा लग रहा था पर मज़ा भी आ रहा था।तभी वो उठी और कपबोर्ड से लकड़ी का एक गोल डंडा लेकर आई, मैंने देखा कि वो काफ़ी बड़ा था लगभग सवा फुट लम्बा सवा इंच व्यास का… उसके किनारे भी गोल थे।मीता बोली- ले इसे मेरी चूत में डाल!मैं चौंक गई.

बीएफ नीग्रो: जब मैं बस 20 साल का था। मैं अपनी बुआ के लड़के की शादी में गया था, वहां पर मेरे दूर के रिश्ते में मेरी मामा की लड़की भी आई थी। उसका नाम शारदा था. नमस्कार दोस्तो, मैं पिछले दस सालों से अन्तर्वासना का नियमित वाचक हूँ, मेरा नाम विकास है मेरी आयु 30 वर्ष की है मैं मुंबई का रहने वाला हूँ.

चाची मेरे पास आई और बैठ गई, उन्होंने मुझसे पूछा कि मैंने आज बाथरूम में क्या किया?मैं समझ गया, मुझे लगा कि आज फिर से क्लास लगने वाली है लेकिन उसके बाद कुछ ऐसा हुआ कि मैं हैरान हो गया. तनु दसवीं क्लास में थी और भरे-2 बदन की एक खूबसूरत लड़की थी, देखने में आयेशा टाकिया सी लगती थी, बदन भी वैसा ही था बस तनु के स्तनों का आकार कुछ अधिक बड़ा था।इतनी उम्र में ही तीनों भाई बहन पूरे विकसित जवान लगते थे. फिर जो उसने धक्का दिया तो मेरी चीख निकल गई…पर कौन छोड़ता है…मेरी अनचुदी गांड में उसने पूरा लंड पेल ही दिया… इस तरह मेरी गांड का उद्घाटन हो गया.

तब मैं अपने घर को निकल गया।उसके बाद हम लोगों ने बहुत बार चुदाई की। मेरी पहली वाली दोस्त अभी भी अमेरिका में है। हम उनको भी स्काईप पर अपनी लाइव चुदाई दिखाते हैं.

हो सकता है… पर जब मैं इंडिया में था तो उसे मुझसे गांड मरवाने में खूब मजा आता था. कुछ पल के लिए वो रुक गई… फिर हौले हौले वो दोबारा मेरे लंड पर झूलने लगी. ऐसा सोच कर इसे चूसो।भाभी ये देख कर मुस्कुराने लगीं उन्हें डेरी मिल्क बहुत पसंद थी इस बात को उन्होंने मुझे बाद में बताया था।वे झट से लंड को मुँह में लेकर चूसने लगीं.