बीएफ पिक्चर पवन सिंह का

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी हिंदी चोदने वाला

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी+सेक्सी: बीएफ पिक्चर पवन सिंह का, हम दोनों ही रेलवे में काम करते थे लेकिन ये नहीं जानते थे कि हम एक सोशल नेटवर्किंग साइट पर भी अन्जाने में एक दूसरे से बात कर रहे हैं.

बीएफ नई फिल्में

फाड़ डाल मेरी चूत को … आज मेरी चूत का भोसड़ा बना दे … और जोर से चोदो … और जोर से चोद।बेजन्ता आंटी के भावों से मैं समझ गया कि वह झड़ने वाली है. बाद में बीएफमैंने उसके बाद थोड़ा सा लंड उसकी चूत के मुंह पर रखा और एक इंच तक अंदर डालकर उसके होंठों को चूसने लगा.

फिर मैंने एक किस उसकी गर्दन पर किया तो उसके मुँह से प्यारी सी आह्ह निकली।मैंने फिर 3-4 किस उसके कंधों और गर्दन पर जड़ दिए. बीएफ सेक्सी वीडियो गाना मेंसुबह का शो होने के कारण बहुत कम लोग थे, जिनमें ज़्यादातर जोड़े थे और 2-3 सिंगल लोग थे.

मैं परवीन के पास बैठ गया और उसके होंठों को मुँह में भरकर किस करने लगा.बीएफ पिक्चर पवन सिंह का: जैसा कि मैंने ऊपर बताया कि यह कहानी मेरी और मेरी साली मोनिषा जो शादीशुदा है, उसके बीच में हुई थी.

मुझे पता चला कि वह भी एमएनसी कम्पनी में आईटी विभाग में काम करती हैं.मैंने जैसे तैसे उनको समझाया और विक्की का लंड उसकी बहन की चूत के अन्दर डलवा दिया.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी बीएफ चोदने वाली - बीएफ पिक्चर पवन सिंह का

उस समय सुमन नीला टॉप और जीन्स पहन रखी थी, वो एकदम मस्त माल लग रही थी.मेरा लंड एकदम गबरू जवान फनफनाता हुआ मूसल सरीखा है, आज ये जिसकी भी चूत लेता है, उसकी मां चोद देता है.

उसके हुस्न की तारीफ करते रहो और किसी दूसरी लड़की से उसकी तुलना करते रहो. बीएफ पिक्चर पवन सिंह का बस बेटा, जो दर्द होना था हो गया … अब और नहीं होगा, चल अब चुप हो जा!” अंकल जी ने मुझे प्यार से सांत्वना दी जिससे मेरी रुलाई और जोर से फूट पड़ी.

फिर उसने दूसरा कप मेरी तरफ बढ़ाते हुए मुझसे कहा- अरमान मामा, ये आपके लिये.

बीएफ पिक्चर पवन सिंह का?

भाबी भी मज़े से अपनी गांड उठा उठा कर अपनी चुत चुदवाने का मजा लूट रही थीं. जब उसका दर्द शांत हो गया तो उसने आँखों से मुझे अनुमति दे दी और मैंने अपना बेस्ट दिया. मेरे प्यारे दोस्तो, आपको ये कहानी कैसी लगी? इस पर अपने कमेंट के जरिये मुझे जरूर बतायें.

हमें बाद में पता चला कि हम दोनों वर्चुअल ही नहीं बल्कि रीयल लाइफ में भी दोस्त हैं. मैं पसीने से भीग गया तो ज्योति मेरे ऊपर आ गई और अपनी गांड हिला कर लण्ड अपनी चूत में लेने लगी और गालियां देने लगी- भोसड़ी के … तेरे लण्ड को खा जाऊंगी आज, आह आह … उम्म्म … हाय मेरी प्यासी चूत और उसमें तेरा ये हथौड़े जैसा गर्म लौड़ा … आह चोद बहन के लौड़े … ऐसा लण्ड मिले तो मैं तेरे साथ भागने को भी तैयार हूं मेरे सेक्सी लंड के राजा … आह्ह … कितना मजा आ रहा है तेरा लण्ड लेने में. आपके स्नेह और प्यार को देखकर मुझे लगा कि मुझे अपनी एक कहानी और प्रस्तुत करना चाहिए.

हम लोग उसे प्यार से बाबा बुलाते थे, क्योंकि उसके घर का नाम ऋषभ बाबा था. जब वो अंकल के घर की सीढ़ियों से नीचे गईं, तो अंकल को देखकर अम्मी की आंखें खुली रह गईं. अंतर्वासना की दुनिया एक ऐसी दुनिया है कि यहां बूढ़े भी अपना मनोरंजन कर सकते हैं.

घर आकर भाभी ने गेट खोला और अन्दर से एक तौलिया और अजय का लोअर, टी-शर्ट लाकर मुझे दिया. मैं उसे चोदते हुए उसकी बगलों पे जीभ फेर देता, तो वो और गर्म हो जाती.

लेकिन तब भी मैं अन्दर जाते हुए खिड़की से उसको एक बार जरूर देखता कि वो क्या कर रही है.

पर उतना वक्त लगाया कि वह दोनों वापिस हॉल में जाकर अपनी जगह पर बैठ जाये।मैं हॉल में गई और उन्हें पूछा- पसंद आया?क्या?” दोनों के चेहरे पर बारह बजे थे।मैं शरारत से उनकी तरफ हँसती हुई बोली- चाय नाश्ता पसंद आया या नहीं?मैंने उनकी फिरकी ली है ये समझ में आते ही वो रिलैक्स हो गए।वाह … भाभी … एकदम मस्त था.

मैंने कहा- मेरा निकलने वाला है, कहां निकालूँ?उसने बोला- भैया मेरे अंदर ही निकाल दो. अब कभी उसका हाथ ऐसी वैसी जगह लग जाता तो रीमा बस हंस कर कह देती- सब समझ रही हूँ … तुम फीस वसूल कर रहे हो. सपना ने कसके मुझे पकड़ लिया और मेरे कानों के पास होकर बोली- रोमी आह मजा आ रहा है … प्लीज़ और जोर से करो ना.

वसुन्धरा जी! मैं आप से कुछ कहना चाहता हूँ और उम्मीद करता हूँ कि आप मेरी बात पर गौर जरूर करेंगी. इस बार फिर से भाबी ने मेरे लंड पर अपना कामरस निकाल दिया, जिससे मेरा लंड पूरा भाबी के माल में लथपथ हो गया. फिर मैंने उससे पूछा कि उसकी सुहागरात कैसी रही?उसने अपनी सुहागरात के बारे में बताते हुए कहा- जब मैं बेड पर बैठी थी तो मेरा पति अंदर आया.

मेरी बीवी बहुत ज्यादा खूबसूरत है, हुस्न परी है और उसको देख कर सठियाये हुए बूढ़ों के लटके हुए लंड भी खड़े हो जाते हैं। कौसर जहाँ कहीं से भी निकलती है, सारे मर्दों की निगाहें उसकी तरफ ही रह जाती हैं और कोई ना कोई उससे छेड़खानी भी कर देता है।दोस्तो, मैं आपको अपनी जिन्दगी का एक सच्चा वाकया सुनाने जा रहा हूँ.

मैंने शावर लिया और बाहर आकर तौलिया से बदन पोंछ कर एक जोड़ी धुले हुए साफ कपड़े बदन पर डाल लिये. मेरा हाथ भी अपने लंड को चैन नहीं ले रहा था और लंड की घिसाई शुरू कर चुका था. अब मैं चाची और अपनी बहन कोमल की चुदाई की कहानी याद करता हुआ अपना लंड हिलाने लगा.

उनकी मैक्सी का गला इतना बड़ा होता था कि अगर भाबी कभी झुकी हुई दिख जाती थीं, तो मुझे उनकी दोनों चुचियां बाहर आती हुई दिखने लगती थीं. मेरा मन भाभी की गांड मारने का था तो मैंने भाभी को बोला, तो वे बोलने लगीं कि मैंने आज तक गांड नहीं मरवाई है. तभी अंकल बोले- फातिमा आज से तुम मेरी हो … और मैं इससे से भी अच्छी ब्रा ला दूंगा.

शादी के बाद मैं कभी उससे नहीं मिला, हालांकि मेरे पास उसका कॉल आया था.

बस मैं खुद ही उसके साथ अपने शरीर को मजा दिलाने के लिए पूरी नंगी होकर उसके साथ बिस्तर में आ जाती. मुझे दूसरी तरफ यह भी विश्वास था कि वह शायद अपने घर वालों के सामने इस तरह कोई बात नहीं बतायेगा.

बीएफ पिक्चर पवन सिंह का मैंने घण्टा भरा संचालक की सहायता की और वहाँ से निकल कर उसको बोल दिया कि मेरा भोजन होटल में ही भिजवा दे. मौसी आइसक्रीम खाना पसंद नहीं करती थी लेकिन उनकी आदत थी कि वो सोने से पहले दूध जरूर पीकर सोती थी.

बीएफ पिक्चर पवन सिंह का मेरे इस हरकत से श्वेता मैडम जोश में आ गईं और बड़ी बड़ी सिसकारियां भरने लगीं. पानी देने के बाद वह जब वापस जाने लगी तो चाची की गांड की दरार में उनकी मैक्सी फंस गई और जिससे उनकी गांड उभर कर मुझे साफ-साफ दिखाई देने लगी.

वह कभी लिप्स चूसता कभी मेरे निप्पल चूसता।कुछ देर की चुदाई के बाद उसका छूटने को हुआ तो उसने अपना लंड जैसे ही निकाला उसका वीर्य मेरे पेट पर छूट गया.

नवनीत राणा सेक्सी फोटो

पर मैंने देखा उसे भी ये सब अच्छा लगा, तो मैं दोबारा उसके करीब गया और धीरे से उसकी जांघ को सहलाने लगा. आंटी की चुदास बता रही थी कि वो चुदाई की ललक में कितनी अधिक बेबस थीं. मैंने कहा- बोलो … सही कहा न मैंने! बताओ आप क्या करते मेरे साथ?वो बोला- तुम्हें लड़की ही होना चाहिए था.

हर धक्के के साथ लण्ड फूलता जा रहा था और चूत को टाइट करता जा रहा था. मैं उसके होंठ छोड़कर उसकी शर्ट ऊपर करके उसकी चूची चूसने लगा, वो अब वासना में जलने लगी थी और मेरा लंड पकड़कर मसलने लगी थी. उसने पीछे मुड़कर देखा तो एक आदमी उसके पीछे खड़ा था। उसका लन्ड मेरी मां की गांड में चुभ रहा था जो अभी पूरा कड़क नहीं हुआ था।मेरी मां थोड़ी आगे खिसक गई मगर भीड़ की वजह से वह फिर पीछे धकेल दी गई। अब फिर उस आदमी का लन्ड मेरी मां की गांड पर रगड़ खाने लगा.

शमा ने मेरे तने हुए लंड को अपने हाथ में लेकर हिलाया और उसको अपने मुंह में भर कर चूसने लगी.

भाभी बोली- मेरा एक काम करोगे राज?मैंने कहा- जी भाभी बोलिये?मैं आंखें नीचे करते हुए ही बोल रहा था. घर जाकर मैं जी भरकर मादक सेक्स वाली सिसकारियां देते हुए नहाई और अपनी यादें ताजा कीं. अचानक चाची की नजर मुझ पर पड़ी और उन्होंने मुझे उनके चूचों को घूरते हुए देख लिया.

यह सोचकर कि इस मौके को अब मैं हाथ से नहीं जाने दूंगा, अचानक से मैंने उसका लंड दोबारा अपने हाथ में पकड़ा और पूरे मन के साथ उसके लंड को मुंह में लेकर चूसने लगा. अंकल ने अम्मी की चूत पर थोड़ा थूक लगाया और हल्के हल्के से अपने लंड अम्मी की चूत में उतार दिया. राहुल ने सीमा के चूतड़ों के नीचे एक तकिया लगाकर सीमा की चूत को अपने और पास किया और लगा अपनी बुलेट ट्रेन को चलाने.

चाहे पाना हो या …फिर मैंने नट में पाना लगाया और वो दूसरे पाने से नट खोलने लगा, ऐसे ही में गाड़ी सही करने में उसका साथ देने लगी और हमारे हाथों की अठखेलियां होने लगी. तो दोस्तो, यह थी मेरी आपबीती। आपको मेरी यह क्सक्सक्स कहानी पसंद आई या नहीं … मुझे मेल जरूर करें.

आप एक मिनट! ज़रा अंदर आयें … प्लीज़!” वसुंधरा की धीमी सी इल्तज़ा मुझे सुनाई दी. मैंने एक जोरदार शॉट मारा और पूरा लंड उसकी अनचुदी चूत में भीतर तक समा गया था. उसकी गोरी-गोरी जांघों पर जवानी के भूरे-भूरे बाल आने शुरू हो गये थे.

मैं- क्या देख रही हो?श्वेता- बहुत सालों बाद लंड देखा है, पांच साल हो गए मेरे तलाक को, उसके बाद आज लंड देख रहीं हूं.

थोड़ी देर में वह झड़ गई, वह बोली- बस, अब बाहर निकालो बहुत दर्द हो रहा है. मैंने उसकी उंगली में रिंग डाल दी और कहा- अब तो दे दी मुँह दिखाई, अब तो दीदार करा दो. यह सच्ची सेक्स कहानी मैं आपके सामने शुरुआत से लेकर आ रहा हूँ कि कैसे मैंने उसे पटाया और उसकी जमकर चुदाई की.

जब सारी शराब ख़त्म हो गई तो बॉस बोले- चलो, मैं अब चलता हूँ।फिर वे मुझे बोले- अगर कोई प्रोब्लम हो तो मुझे फ़ोन करना. तभी मैंने अपना लंड पीछे कर लिया, जिससे लंड उसके हाथ से निकल गया और वो खड़ी हो गयी.

जो महिलाएं अच्छा सेक्स करती हैं, उनको पता होगा कि झड़ने के बाद क्या हालत होती है. उसने पीछे मुड़कर देखा तो एक आदमी उसके पीछे खड़ा था। उसका लन्ड मेरी मां की गांड में चुभ रहा था जो अभी पूरा कड़क नहीं हुआ था।मेरी मां थोड़ी आगे खिसक गई मगर भीड़ की वजह से वह फिर पीछे धकेल दी गई। अब फिर उस आदमी का लन्ड मेरी मां की गांड पर रगड़ खाने लगा. मैं अपने पास अक्सर एक कंडोम का पैकेट रखता ही हूँ, क्या पता कब कौन की चूत चोदने को कहां पर मिल जाए.

चुदाई वीडियो चुदाई वीडियो सेक्सी वीडियो

”बेबी बोली- दूसरी बात मैं यह सोचती हूँ कि क्या गिन्नी की किस्मत भी मेरी जैसी है?क्यों? अब गिन्नी को क्या हो गया?”अब पढ़ेंउस बेचारी का हाल भी मेरे जैसा ही दिखता है.

इस बीच टाईम अपनी गति से बढ़ता जा रहा था, जब हमारी नजर टिक-टिक करती हुई घड़ी पर पड़ी, तो दोनों के ही चेहरे उदास हो गए. फिर मैंने अपनी लोअर और अंडरवियर एक साथ नीचे कर दिये और अपना लंड भाभी के हाथ में दे दिया. फिर उसके अन्दर ही मैं माल छोड़ देता था और फिर दोनों मियां बीवी करवट बदलकर सो जाते थे.

मैं तो उनको देख कर नहीं खो सा जाता था, उनके पास से निकलता था तो खुद को भूल सा जाता था।और हाँ … मैंने बताया कि उनकी दो लड़कियां थी, बड़ी लड़की का नाम देविका था जो 24 साल की रही होगी और दूसरी का नाम नेहा था 21 साल की होगी. वैसे भी मुझे बाद में पता लगा कि आग तो दोनों तरफ ही लगी हुई थी, इसलिए चुदाई तो होनी ही थी. बीएफ फिल्म भेजिए हिंदीकरीब दस मिनट तक ये खेल चला, फिर सनी जी ने बंटी जी को इशारा किया और अपना लंड मेरे मुँह से निकाल कर सीधा मेरी गांड की तरफ आ गए.

जब वीर्य के बाहर निकलने या अंदर ही रखने पर मेरा कोई वश न रहा तो मैंने वीर्य के आवेग को अपने मन में उठ रहे आनंद के हवाले कर दिया. मैं बोली- हाँ आअह्ह आहह!उसने मुझे उतारा और बोला- चल साली जल्दी से कुतिया बन जा … अब तेरी गांड मारूँगा.

फिर मैंने कुछ दिनों बाद ये बात अपने पेरेंट्स को बताई और हमने आपसी सहमति से तलाक ले लिया. जब मानसी के मुंह से मैंने ‘दूध’ शब्द सुना तो मेरी नजर मौसी के चूचों पर चली गई. क्या सिर्फ बात करने के लिए दिया?कुछ देर ऐसे बात हुई, तो उन्होंने कहा कि तो आज रात मिलते हैं.

अगले दिन सुबह सुबह वो मुझे जगाने आयी क्योंकि सब लोग मेले में जाने वाले थे. कुछ ही देर में समीरा बाहर आते हुए सामने सोफे पर साहिल के सामने बैठ गई, वो बोली- अरमान मामा ने आपके बारे में कई बार बताया था कि आप उनके बेस्ट फ्रेंड हो. मैं जब भी उनको कनखियों से देखता, तो उन्हें अपनी तरफ देखता हुआ ही पाता.

पूरा कमरा सीमा की सीत्कारों से भर गया- उम्म्ह… अहह… हय… याह… और चोदो … और जोर से राहुल … आज तो फाड़ ही दो तुम मेरी चूत को …उसकी चीत्कार राहुल की स्पीड और बढ़ा देती.

मेरा प्यार का नाम प्रिंस है। मैं दिल्ली के पास फरीदाबाद (हरियाणा) में रहता हूं। यह मेरी पहली कहानी है अगर इसमें कोई गलती होती है तो माफ कर दें। वैसे तो मैं अन्तर्वासना का पुराना पाठक हूं लेकिन पहली कहानी लिखने की हिम्मत आज हुई है।कहानी को शुरू करने से पहले मैं अपने बारे में कुछ और भी बताना चाहूंगा. तो वो मुस्कुरा दी और उनके पति की एक रम की बोतल ले आयी। जिसे देखते ही ऐसा लगा कि प्यासे को रेगिस्तान में शरबत मिल गया हो।फिर कुछ देर के बाद वो कपड़े बदल कर आई तो मैं उसे देखता ही रह गया.

मेरे लंड का नाप 6 इंच ही है, पर ये इतना मजबूत है कि किसी भी भाभी और लड़की की चीख निकालने के लिए काफी है. मैं अपने लंड के बारे में बताऊं, तो ये करीब 7 इंच का है … लेकिन काफी मोटा है … मतलब 3 इंच तक की गोलाई का होगा. उसकी पहली पसंद आंटियां ही थीं, उसने कुछ लड़कियों से मजे भी लिए हैं.

ड्रेसिंगरूम में आ कर मैंने ड्रेसिंगरूम की सभी लाइट्स ऑन कर दी और वसुंधरा को बहुत आहिस्ता से कंधे से पकड़ कर आईने के सामने कर दिया. वैसे भी इससे पहले मैंने किसी अन्य लड़की को चोदा भी नहीं था, हां मुठ बहुत बार मारी थी. थोड़ी देर तक उसके लंड से चुदने के बाद मैंने उसके लंड को चूसना शुरू कर दिया.

बीएफ पिक्चर पवन सिंह का मुकुल राय उठकर रसोई में चला जाता है और थोड़ी देर के बाद वो एक शहद की शीशी लेकर वापस आता है।शहद की शीशी को देखकर परीशा के चेहरे पर मुस्कान तैर जाती है, वो भी अपने पापा का मतलब समझ जाती है।मुकुल राय फिर शहद की शीशी को खोलता है और उसे अपने लंड पर अच्छे से लगा देता है। मुकुल का लंड बिल्कुल लाल रंग में दिखाई देने लगता है. अंकल आप … कितना डर गई मैं … भला ऐसा कोई मजाक करता है?”अंकल मुझे खींच कर एक कोने में ले गए और मेरे चुचे मसलने लगे, नसीब से वहां पर कोई सिक्योरिटी गार्ड नहीं था.

सेक्सी चोदने वाली चोदने वाली

अम्मी की आंखें मज़े से बंद थीं, वो अंकल के लंड की एक एक इंच को महसूस कर रही थीं. दो सीधी सीधी सिलाइयाँ हो तो मारनी हैं, इसमें कौन सी रॉकेट-साइंस है. अगर आपको मेरी सेक्स कहानी अच्छी लगी हो, तो कमेंट बॉक्स में मुझे कमेंट जरूर करें.

ये सब सुनकर मुझे बहुत बुरा लग रहा था, लेकिन मुझे क्या पता था कि आगे चलकर मुझे जन्नत की सैर करने मिलेगी. हमारी पार्किंग की लाइट खराब थी, मैंने गाड़ी पार्क की और घर के तरफ जाने लगी. रवीना टंडन की बीएफ सेक्सी वीडियोआज मैं इस चूत को फाड़ डालूंगा सोनल …भाभी- हां, अपनी चुदक्कड़ भाभी को चोद दे रोमी.

एक तो बरसात की रात … ऊपर से काम की देवी मेरे साथ में … बहुत मुश्किल से खुद पर काबू करके बैठा था मैं। वो 2 गिलास ले कर आई और कुछ आइस क्यूब भी साथ में ले आई.

प्रिया मुस्कुराने लगी और बोली- तुम पागल हो, मेरी गलती की वजह से तुम परेशानी उठा रहे हो।प्रिया- अब मुझे भी नींद नहीं आ रही है। चलो बात करते हैं, बोर नहीं होंगे।मैं- ठीक है. मैं झट से लंड बाहर निकाल कर उसकी पीठ पर आह आह करते हुए लंड हिलाने लगा.

मुझे अपना लंड चुसवाने के बाद जीतू मेरी चूची को चूसने लगा और उसके बाद वो अपना लंड मेरी चूत में डालने लगा. मैं झटपट उठा, मार्केट गया, कल के लिए सब्जी वगैरह खरीद कर, होटल से सभी के लिए खाना ले आया. यह बात तब की है, जब मैं जनवरी 2018 में किसी काम से दिल्ली 4 महीने के लिए स्किल डिवेलप्मेंट की क्लास लगाने गया हुआ था.

पहले तो वे मना करने लगे, लेकिन बंटी जी ने कहा- सनी भाई मान लो इसकी बात … देखो अभी मजा आया कि नहीं … लगता है इसके पास ढेर सारे आईडिया हैं.

क्या सोच संगीता ने उसे एक जोरदार चुम्मी दी और बोली- ठीक है, पर तुम आना बंद नहीं करोगे न?चाय पीकर राहुल संगीता की गाड़ी से सोसाइटी वापिस आया. मैं उसकी कैप्री को हल्का सा नीचे करके परवीन की अनचुदी चूत पर अपनी जीभ से हल्का सा चुभलाने लगा. सीमा ने राहुल के तौलिया में तम्बू से झांकते बम्बू को हवा लगाने के लिए राहुल का तौलिया खींच दिया और नीचे बैठ कर उसका खड़ा लंड अपने मुंह में ले लिया.

बीएफ पुरानी बीएफफिर इसी पोजीशन में मैंने परवीन को 10 मिनट चोदा और मैं भी कंडोम में ही लंड उसकी चूत के अन्दर डाले डाले झड़ गया. उसके हाथ का टच होते ही मेरे शरीर में सनसनी दौड़ गई उसकी आंखों में देखने लगी.

जंगल चुदाई सेक्सी वीडियो

जैसे ही मेरे लंड ने माल छोड़ना शुरू किया, वो रूक गयी और मुँह के ही अन्दर लंड लिए हुए माल को लेने लगी. सबसे पहले मैंने तौलिया हटाया, अपने नंगे बदन पर परफ्यूम लगाया और गुलाबी रंग की ब्रा और पेंटी पहनी, फिर गुलाबी रंग का पेटीकोट और ब्लाउज़, फिर मैंने गुलाबी रंग की साड़ी पहनी. मैंने उसकी मर्दाना छाती को अपने मम्मों से रगड़ कर एक अजीब सा सुख पाया.

वो- जब सब कुछ देख लिया, तो क्या शर्माना … वैसे तुम भी तो सब देखना चाहते थे ना … अब जी भर के देख लो. मैंने नहाकर आज शरद की दी हुई साड़ी पहनी और मेरे मिनी लैपटाप पे ये कहानी लिख दी. उसके काले चमकीले बाल उस टॉप पर उसकी खूबसूरती में चार चांद लगाने के साथ-साथ कितने ही तारे भी साथ में जोड़ रहे थे.

जिंदगी में पहली बार मुट्ठ मारने में इतना मजा आया मुझे क्योंकि रात को तो मैं थका हुआ था लेकिन रात भर नींद लेने के बाद लंड में एक अलग ही जोश भर गया था और सुबह-सुबह की एनर्जी थी लौड़े में।तभी मेरी नज़र वहां पड़ी हुई ब्रा और पैंटी पर पड़ी. उसकी पैन्टी उतारकर मैंने घुटनों से नीचे तक कर दी और उसकी चूत देखने लगा. जैसे ही मैं कार से उतरा तत्काल ही वसुन्धरा सीढ़ियों से नीचे उतर कर बिल्कुल मेरे पास आ गयी.

वह बहुत ही ज्यादा गर्म हो गई और बोली- प्लीज़ जान … फक मी (चोदो मुझे)।फिर मैंने अपनी जीभ से उसकी चूत के दाने को धीरे धीरे चाटना शुरू किया. मैं फिर से शुरू हो गया, लेकिन श्यामली ने देख लिया था, तो हमने खुद पर कण्ट्रोल कर लिया.

मेरा नाम तन्मय गुप्ता है और मैं राजस्थान के उदयपुर शहर में रहता हूँ.

मैं देख रही थी कि कैसे बबीता उसके मोटे लंड से चुद कर मजे ले रही है. बीएफ सेक्सी एचडी साड़ी वालीजरूर योग में ऐसी ही अवस्था को समाधि कहते होंगे जहां ना खुद की खबर होती है, न जग की. बीएफ सेक्सी हिंदी मूवी चुदाईखैर … अब मैं उठ कर भाबी के ऊपर लेट गया और मैंने भाबी की टांगों को अच्छे से चौड़ा कर दिया ताकि लंड बेहिचक सीधा भाबी जी की चुत में घुस जाए. यह रोज-रोज नहीं होता है कि कोई औरत 15 मिनट में अपनी चूत देने को तैयार हो जाए.

ऐसा लगा जैसे मेरा लंड मुझसे कह रहा है कि बस बरसों की प्यास आज मिटा दूं अपने दोस्त से थोड़ा सा प्यार उधार मांग लो और थोड़ा सा प्यार अपने दोस्त को उधार दे दो.

मन इसी उधेड़बुन में रहता कि क्या करूं इन सेक्सी फीलिंग्स से मुक्ति मिले और मेरा मन पढ़ाई में लगे. नम्रता अपनी आंखें बन्द किए हुए, होंठों को चबाते हुए, मेरी छातियों को कस कर भींचते हुए मजा ले रही थी. चूंकि आज आंटी के चूचे मेरी पीठ पर टच हो गये थे इसलिए लंड बार-बार उनके बारे में अहसास करके खड़ा हो रहा था.

माँ ने बड़ी बहन बसंती को मामा के पास ही रहने को छोड़ दिया, ताकि कुछ खर्चा कम हो जाए. मेरी मां उस गाड़ी को देख रही थी लेकिन न जाने क्यों वह अंदर नहीं गई। उस बस के जाने के बाद फिर वही बस आई जिसमें मेरी मां को एक अजनबी से मजा मिला। मां उस बस में चढ़ गई परंतु थोड़ी झिझकते हुए. मैंने झट से फोन उठा कर बात की, तो मौसी बोलीं- नानी की तबीयत बहुत खराब है … तो मैं और तुम्हारे मौसाजी परसों सुबह तक घर आ पाएंगे.

अफ्रीकन आदिवासी सेक्सी वीडियो

फिर मैंने उसकी ब्रा को उतारा और उसके चूचों के बीच में तने हुए उसके भूरे रंग के निप्पलों को दांतों से काटा तो उसने मेरा सिर पकड़ कर अपने चूचों पर दबाते हुए मुझे अपने सीने में छिपा लिया. मैंने कहा- वो लोग जब तक ना जायें, तब तक लंड सहलाकर टाइट करो, बाद में सीधा चुत में डाल दूंगा तो टाइम बच जाएगा. कमरे में सर्वत्र काम-गंध फैली थी और रति-कामदेव की लीला अपने चरम पर पहुँचने को अग्रसर थी.

उसने भी किस में पूरा साथ दिया। अब अक्षिता का भी सब्र जवाब दे रहा था.

शाम को राहुल जब उसकी कोठी पर पहुंचा तो उसको अहसास हुआ कि वो बहुत पैसे वाले लोग हैं.

फर थोड़ी देर बाद लंड मुँह से बाहर निकालकर मैंने लंड से आंटी के चेहरे की अच्छे से मालिश की. उसने फोन पर मानसी को बताया कि वह कुछ दिन के लिये हमारे पास रहने के लिए आ रही है. बीएफ सेक्सी हिंदी देवर भाभी कीअब मैंने मैडम की चुत में अपनी दो उंगली डाल दी और उसकी चुत रगड़ने लगा.

मेरे मन में उसकी चुत को लेकर लाखों ख्याल अपनी जगह बना चुके थे जिन्हें निकालना मुश्किल था. मैं बोली- तुम्हारे कमरे में कोई बैठा है, मुझे जाने दो, अच्छा नहीं लगेगा. फिर उन्होंने अपना लंड चूत में डाल कर नितंबों को फैला दिया, जिससे मेरी गांड का छेद खुल गया.

आंटी बोली- तुम बहुत बदमाश हो गए हो।मैं बोला- क्यों?वह बोली- मैं सब जानती हूं तुम कैसी नजर से मुझे देखते हो!आंटी के मुंह से यह सुनकर मेरा भी हौसला बढ़ गया, मैं बोला- आप हो ही इतनी नमकीन जिसका मजा हर कोई लेना चाहता है।आंटी ने पूछा- आज तक तुमने कभी किसी के साथ सेक्स नहीं किया?मैं बोला- नहीं … मुझे इस बात का नॉलेज भी नहीं है. मैं उसको काफी दिनों तक रुकवा रही थी क्योंकि मैं अकेली बाहर जा नहीं सकती.

मैंने जैसे तैसे उनको समझाया और विक्की का लंड उसकी बहन की चूत के अन्दर डलवा दिया.

मैं उसके नंगे नितम्बों को मुँह में लेकर चूसने लगा और अपने हाथों से उसके शरीर के नाजुक अंग सहलाने लगा. पूरे कमरे में हमारी हमारी गर्म सांसों का कोलाहल था और कमरा गर्म आवाजों से भर गया था. मुझसे रहा नहीं गया, मैं भी गिलास एक तरफ रख कर उस पर टूट पड़ा, उसके मम्मों को चूसने लगा.

बीएफ सेक्सी मूवी नई मैं तो उसकी नजर को देख रही थी मगर भाभी इस बात पर ध्यान नहीं दे रही थी. फिर मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रखे और उसकी चूत में एक धक्का दे दिया.

जब मैंने अपनी सहेली शाहीन को ये बताया कि मुझे लड़के देखना अच्छा लग रहा है. मोबाईल किनारे रखकर नम्रता की ठुड्डी को हिलाते हुए बोला- ये सब तुम्हारा ही कमाल है. वो चिल्लाने लगी- आह-आह … आह बस ऐसे ही और तेज पंकज …मैं लंड को तेज-तेज चुत में अन्दर-बाहर करने लगा.

चोदा चोदी चोदा चोदी सेक्सी चोदा चोदी

एक कहावत है कि अगर औरत संतुष्ट है तो कितनी भी भीड़ में छोड़ दो वो कुछ नहीं करेगी. उनके साथ फोन पर बातों में मैं उनसे सेक्स के विषय को लेकर काफी खुल चुकी थी. मैं आपको तहे दिल से और सभी कन्याओं और भाभियों को लंड खड़ा करके नमस्कार करता हूँ.

मैंने कहा- अगर तुम मेरे लंड पर तेल नहीं लगाओगी, तो मैं ऐसे ही अपना सूखा लंड तुम्हारे छेद में घुसा दूंगा. अभी मैं मौसी को ये जाहिर नहीं करना चाहता था कि मैं उठ गया हूँ और यह सब कुछ हम भाई-बहनों का ही प्लान है.

जब उसने दोबारा से मेरा हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रखा तो मुझे पता चला कि उसने पैंट निकाल दी है.

सुमन भाभी- मुझे विश्वास तो नहीं होता, पर तुम पर शक भी नहीं किया जा सकता है. उसके गोरे चूचे और उसके चूचों पर ब्राउन रंग के निप्पल देख कर अजय ने उसके निप्पलों को मसलना शुरू कर दिया. मैंने कहा- किस तरह की मदद चाहिए तुम्हें?वो बोली- मैं तुम्हारे साथ भाग चलने के लिए तैयार हूं लेकिन इस शादी के लिए तैयार नहीं हूं.

पांच-सात मिनट की चुदाई के बाद ही मेरा पानी निकलने की कगार पर पहुंचने को हो गया. वहां से मैंने कुणाल की पत्नी के लिए मेरे घर की तरफ से पोशाक और कुणाल के लिए भी कपड़े के लिए और शाम को वापस घर आ गए. ”अंकल टीवी देखने में व्यस्त हैं, ऐसा दर्शा रहे थे, पर मुझे पता था कि वो ये मौका नहीं छोड़ने वाले.

लंड को उसकी चूत की फांकों से लगा दिया और चूत को अपने लंड से सहलाने लगा.

बीएफ पिक्चर पवन सिंह का: फिर दूसरे दिन भी वही … और जब हम शॉप में मिले तो मुझे यकीन हो गया कि तुम मुझे वासना वाली नज़रों से नहीं देखते. अजय ने फिर अपने मुंह से थोड़ा सा गर्म थूक निकाला और ऋतु की गांड के छेद पर मलने लगा.

बीवी- आप बहुत गन्दे हो गए हो, स्कूल नहीं जाना है क्या? जाईये तैयार हो जाईये. लेकिन कहते हैं कि कई बार ऊपर से खराब दिखने वाला आम असल में अंदर से बहुत ही मीठा और रसीला होता है. मैंने अपनी लोअर के अंदर हाथ डाल दिया और लंड को हाथ में लेकर मुट्ठ मारने लगा.

कुछ पल लंड चुसाई का मजा लने के बाद मैंने उसे उठाया और झूले के स्टैंड बार के सहारे खड़ा कर दिया.

पर नितिन थोड़ा शर्मीला था और कम पहल करता। नितिन मुझे लोगों के बीच छूता भी नहीं था. उसने कहा- जीजा, जल्दी से पेल दो अपना लंड मेरी चुत में … मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है. मैंने भाभी की मंशा जान कर कहा- भाभी, मुझे पता है कि आप ऐसा क्यों पूछ रही हो। लेकिन इसमें मेरी गलती बिल्कुल भी नहीं है.