पंजाबी बीएफ फोटो

छवि स्रोत,हिंदी में सेक्सी वीडियो फिल्म हिंदी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी दे दीजिए सेक्सी: पंजाबी बीएफ फोटो, छोड़ता है… और वाकयी बहुत प्यारी लग रही थी…रोज़ी के चेहरे से लग रहा था कि उसको मेरी बात अच्छी लग रही है.

एक्सएक्स सेक्सी वीडियो दिखाइए

मेरा मतलब है कोई दूसरा तो नहीं आएगा ना?’‘अरे नहीं मेरी परी, यहाँ कोई नहीं आएगा, दरवाज़ा तो बंद है। तुम चिंता मत करो !’‘पर वो आयल?’मैं तो कुछ और ही सोच रहा था। मुझे आयल या क्रीम का कहाँ होश था पर मैंने बात सम्भालते हुए कहा,’ठहरो. देसी सेक्सी चोदी चोदा वीडियोऊपर से मैं इतना डर भी गई थी कि मुझे कुछ समझ ही नहीं आया।‘फिर क्या हुआ?’ मैंने पूछा।रूचि एक कौर मेरे मुँह में मुस्कराते हुए डालते हुए बोली।रूचि- फिर अंकिता ने मेरे बाल खींचे और मुझे उठा कर अपने करीब लाई और मेरे होंठों को अपने होंठों से सी कर मेरे होंठ काटने लगी.

आ हू उः उः …!आरोही- अई आ… न न नहीं आ करते आ रहो… आ होने दो… आ दर्द आज आ जितना आ होना है आ उफ़ फास्ट और फास्ट आह मैं गई आ फक मी आ… फक मी आ फक हार्ड… आ आ मैं गई उूउउ उईईईई… ह अयाया अई आआ… अयाया आहा हः आहह. देसी भाभी सेक्सी इमेज! चल तू मेरे साथ आखिर वो तेरा भाई है, ‘ना’ बोलेगा तो उसका कान खींच कर उसे नीचे बुलाऊँगी। और फिर तुम सो जाना अकेले छत पर।मनु बोली- राज मान जाएगा क्या?नानी मनु को ऊपर लेकर आईं और बोलीं- राजु बेटे… मनु तुम्हारी बहन है ना.

साजन मेरे पीछे आया, मुझे अंग की गड़न महसूस हुईस्तन से लेकर द्रवित अंग तक, उँगलियाँ की सरसरी विस्तृत हुईदोनों हाथों में भींची कमर, और अंग पे मुझे बिठाय लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.पंजाबी बीएफ फोटो: और आपने भी उसको सब खुलकर दिखाई…सलोनी- धत्त मैंने कुछ नहीं दिखाया… चल हट मुझे शर्म आ रही है…पारस- हाए हाए… मेरी जान… अब शर्म आ रही है.

चलो पहले तुम पेशाब कर लो !मैंने कहा- मुझे पेशाब नहीं आई है !उसने कहा- पेशाब कर लो, वरना जल्दी झड़ जाओगी और मैं नहीं चाहता कि तुम मेरा साथ जल्दी छोड़ दो !तब उसने मुझे छोड़ दिया, मैंने वहीं गोदाम के किनारे बैठ कर पेशाब करने की कोशिश करने लगी, पर उत्तेजना में माँसपेशियाँ इतनी अकड़ हो गई थीं कि पेशाब करना मुश्किल हो रहा था।तभी विजय मेरे पास आ कर मेरे सामने बैठ गया और कहा- क्या हुआ.पर प्लीज़ बताओ न…रेहान- तुम तो फेल हो गए हो, अब मुझे मौका दो मैं उसकी ठुकाई करता हूँ…!राहुल- तो कर लो ना यार.

भोजपुरी सेक्सी चुदाई चुदाई - पंजाबी बीएफ फोटो

ऐसे जिस्म की नुमाइस करेगी तो लौड़ा तो फुंफकार ही मारेगा ना…सोनू- ले आओ साली को बिस्तर पर बहुत हंस रही है.मैंने उनकी सलवार को खोल दिया और पेंटी के अंदर हाथ डाल कर हाथ फेरने लगा तो उनकी चूत पूरी गीली थी बहुत पानी निकल रहा था और मेरा लंड भी एकदम टाइट हो गया.

तुमसे आज दोपहर को तुम्हें पता चल जाएगा कि मैं झूट नहीं बोल रहा हूँ…! अब प्लीज़ जब तक वो ना आए एक बार और मस्ती करते है न…! देखो मेरा अज़गर कैसे फुंफकार रहा है…!आरोही ज़ोर से हँसने लगी तो रेहान ने बेड पर चढ़ कर उसके मुँह में लौड़ा घुसा दिया। आरोही इस अचानक हुए हमले से बेख़बर थी। रेहान ने सुपाड़ा मुँह में डाल दिया तो अब आरोही दोनों हाथों से लौड़ा पकड़ कर उसको चूसने लगी।रेहान- उफ़ जालिम. पंजाबी बीएफ फोटो आराम से चूस।तभी विकास ने पूरा लौड़ा टोपी तक बाहर निकाला और ज़ोर से झटका मारा पूरा लौड़ा गाण्ड में जड़ तक घुस गया।इसी के साथ दीपाली झटके के साथ ही बिस्तर पर गिर गई।अरे दीपाली को क्या हुआ? इसको हम अगले भाग में जानेंगे।बस दोस्तो, आज के लिए इतना काफ़ी है। अब आप जल्दी से मेल करके बताओ कि मज़ा आ रहा है या नहीं.

!कह कर बाहर गया, पति भी उसके साथ दूसरे कमरे में चले गए। मैं अच्छे से नहा धोकर फ्रेश होने लगी और पहली बार कपड़े उतार अपने नंगे बदन को देखने लगी, मैंने अपनी चूत सहला दी, चूत पर हल्के-हल्के रोयें थे। मैंने सोचा कि आज चूत को चिकनी कर दूँ… आज दिल खोल कर चुदूँगी.

पंजाबी बीएफ फोटो?

मेरे मम्मे दिख रहे थे, तब मेरी नज़र चाचू पर गई, जो मेरे सामने सोफे पर बैठे थे, वो मेरे थिरकते मम्मे देख रहे थे और उनकी पैन्ट पर टेंट तन गया था. !”शाहाना बिलकुल मस्त हो चुकी थी। हम दोनों बेड पर लेट गए और एक दूसरे का लंड और चूत चूसने लगे। मैं उसके मुँह में ही अपना लंड हिलाने लगा और जोर-जोर से उसकी चूत को चूमने लगा।आह. ! नहीं तो अभी सलमा को भी पता चल जाएगा।रेशमा मुझे कहने लगी- जब मज़ा तुम दोनों ने लिया है, तो तुम लोग ही उठाओ… मैं क्यों उठाऊँ.

कैमरे लगवाए गए ताकि पुलिस नागरिकों की अच्छी तरह से सुरक्षा कर सके।लेकिन लोग तो बस इसमें भी अपनी सुविधा ढूँढते हैं।इसी तरह एक दिन सन्ता ने सुबह-सुबह पुलिस कंट्रोल रूम में फ़ोन किया।सन्ता- हैलो, जी मुझे आपकी सहायता चाहिए थी !कंट्रोल रूम में इरफ़ान- जी बताइए कि हम क्या कर सकते हैं आपके लिए? हम आपकी सहायता के लिए ही हैं।सन्ता- क्या आपके सी. उसका लण्ड और जोर मारने लगा और लगभग मेरी गाण्ड के छेद पर पहुँच चुका था- अरे… हट जा न… हटो शाहनवाज…‘मना मत करो… बुलबुल…’‘देखो मैं चिल्ला पड़ूँगी. एक दिन वो मेरे पास आई और उसने कहा- मेरे कंप्यूटर में कुछ खराबी आ गई है और मैंने एक जरूरी इमेल करनी है.

उन्न्नन्ही …री ! और ज़ोर से चोद ! तूने तो लगता है अपने सरप्राइज का भी भुरता बना दिया। इतना ज़ोर से चोद रहा है हायय री. हैलो दोस्तो, मेरा नाम पिंटो है, मैं मुंबई का रहने वाला हूँ। यह कहानी अंतर्वासना पर मेरी पहली कहानी है।मेरी तरफ से आप सभी के लंड और चूत को मेरा नमस्कार।यह कहानी लड़कियों और भाभी की चूत में पानी लाएगी और मर्दो का लंड खड़ा हो जाएगा।पहले मैं अपना परिचय देता हूँ, मैं 22 साल का लड़का हूँ, मेरा बदन स्लिम है, लेकिन मेरा लंड 8′ लंबा और 2. मिनी को कैसे दिखाऊँ इस के बारे में सोचते सोचते सो गया। सुबह नौ बजे मेरी नींद खुली तो मैं हाल में गया और वहां मिनी को देख कर मुझे रात का सारा दृश्य मेरी आँखों के सामने घूम गया और मैं वह सी.

!ये सुन कर मैं शर्मा गया और कुछ नहीं बोला।दीदी बोलीं- वैसे तू अन्दर से लाल है।मैंने कहा- कैसे?वो बोलीं- तेरा वो लाल है. !प्रिया- अरे मेरे कालेज में आज एग्जाम के लिए सिग्नेचर करने जाना है, आज लास्ट-डे है।मैं बोला- तो जाओ उठो आलसी लड़की.

उनकी हंसी मेरी मर्दानगी की धज्जियाँ उड़ा रही थी।मैं बोला- अब जब तक आप मुझे मर्द नहीं मानोगी तब तक आप ऐसे ही रहोगी.

पप्पू वापिस मुड़ने लगा तो बिल्ली बोली- अबे काम पे चला जा, तेरी तो शादी हो चुकी है, अब इससे बुरा क्या होगा?***शिक्षक इरफान- हमें मच्छरों को पैदा होने से रोकना है…विद्यार्थी पप्पू- वो तो मुश्किल है सर.

बस यह वही नजारा था जो कुछ साल पहले एक फ़ैशन वीक में रैम्प पर एक मॉडल गौहर खान की स्कर्ट फ़टने से हो गया था. क्या हुआ…!सचिन- वो दोनों तुम्हारे रूम की ओर आ रहे हैं।रेहान- ओके बाय।रेहान ने पास पड़ा तौलिया लपेट लिया।रेहान- जान, राहुल और आरोही आ रहे है तेरा हाल-चाल पूछने उन्हें वापस भेज देना ओके. मेरे गीले से उस अंग से उसने जी भर के रसपान कियामैंने कन्धों पे पाँव को रख रस के द्वार को खोल दियाउस रात की बात न पूछ सखी जब साजन ने खोली मोरी अंगिया!.

पर मैं भी अब सब कुछ समझ गया था कि किसी को कैसे मज़ा दिया जा सकता है।तो मैं उसके निप्पलों को कभी चूसता तो कभी उसके होंठों को चूसता. न जाने कितनी लड़कियों को चरमोत्कर्ष कभी नसीब नहीं होता और कितनों को एक ही सेक्स में तीन से चार बार हो जाता है. उसने अपनी उम्र 35 बताई और अहमदाबाद का ही रहने वाला बताया।उसने कहा- मेरा पत्नी से तलाक़ हुआ है और अब अकेला ही घर पर रहता हूँ।सलीम ने कास्ट पूछी तो बोला- हिंदू हूँ.

!मेरा लण्ड गनगना गया, जीवन में पहली सील तोड़ने का अवसर था।मुझसे फेसबुक पर भी जुड़ सकते हैं और ईमेल आईडी भी लिख रहा हूँ।कहानी जारी है।.

सोनू जल्दी से बिस्तर के नीचे आ गया और लौड़ा दीपाली के होंठों के पास ले आया।मगर दीपाली ने होंठ सख्ती से भींच लिए।सोनू- अरे क्या हुआ. !जूही- साहिल मुझे अन्ना के बारे में कुछ बताना है।साहिल- बाद में बता देना, अभी चलो यहाँ से वरना रेहान पता नहीं क्या सोचेगा।दोनों नीचे आ जाते हैं। तब तक संजू और सचिन भी आ चुके थे, सचिन वहीं रेहान के पास खड़ा था और संजू अन्दर रूम में दारू पीने चला गया।रेहान- आओ हीरो, आओ दिमाग़ ठीक हुआ क्या इसका. कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा:अब आगे…फिर करीब 2 से 3 बजे के आसपास मेरी आँख खुली तो मैंने अपने बगल में माया को भी सोते हुए पाया.

ट्रेन चल पड़ी और दो मिनट के बाद आंटी वापस आ गईं। वापस आकर आंटी ने मुझे हिलाया, जगाया, कितनी देर बैठा रहेगा, थोड़ा सा लेट जा वरना तबियत ख़राब हो जाएगी। चल तू अपना सर मेरी गोद में रख कर लेट जा. इस बर्फ़ से मेरी चूत जैअसे जलने लगी थी।फिर दीवान पर लेट कर मैंने चूतड़ों के नीचे से हाथ लेजा कर प्रयत्न किया, फिर भी नहीं हुआ. जब उसके स्तनों को अपने मुख में भर लिया तो अब मेरी जिव्हा उसके स्तन के शिखर पे रक्तिम बिंदु से खेल रहे थे। मेरी जीभ का एक एक वार स्तन के शिखर को और भी ऊँचाइयों तक लिए जा रहा था। मैं बारी बारी से उन स्तनों को चूम रहा था तभी मुझे अपने सर पर दबाव सा महसूस हुआ, यह इशारा था अब कठोर वार करने का, अब मैंने उन स्तनों का मर्दन शुरू कर दिया.

भीगे अंग को मुख के रस से, चहुँ और सखी लिपटाय दियाहोठों से पकड़ कर कंठ तरफ, मैंने उसको सरकाय लियानीचे के होंठ संग जिह्वा रख, मैंने लिप्सा अपनी पूर्ण कियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

!”पर मैंने एक ना सुनी और धक्के मारता ही गया थोड़ी देर में वो शांत हो गई।फिर मैंने उससे पूछा- कैसा लग रहा है?तो उसने कहा- बहुत मज़ा आ रहा है. मज़ा करो, पर उससे कोई सवाल मत करना। मैंने उसका माइंड ऐसे बना दिया है कि अब वो खुलकर तुम्हारे साथ मस्ती करेगी, पर तुम उसको अहसास मत होने देना कि तुम्हें पता है और रात को हम दोनों मिलकर उसको चोदेंगे… वादा याद है ना…!राहुल- हाँ यार मुझे याद है.

पंजाबी बीएफ फोटो !फिर मैंने उसके निप्पल को पहले प्यार से दबाया, फिर मैं उन्हें जोर से दबाने लगा। उससे भी शायद बर्दाश्त नहीं हो रहा था और मुझसे भी नहीं. उसने अपनी जिह्वा से सखी, अंग को चहूँ ओर से चाट लियाबहके अंग के हर हिस्से को, जिह्वा-रस से लिपटाय दियारस में डूबे मेरे अंग में, अन्दर तक जिह्वा उतार दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

पंजाबी बीएफ फोटो फिर मैंने सोचा कि चोदने से अच्छा है, मालिश से ही इसका पानी निकाल दूँ क्योंकि इसने अभी तक इसका मजा लिया नहीं था. तभी सलमा का नम्बर आया…सन्ता ने पूछा- तुम अपनी योग्यता बताओ !सलमा ने बोलना शुरू किया:बी ए पास हूँटाइपिंग जानती हूँकम्प्यूटर जानती हूँफाइलें संभालना जानती हूँअकाउंट्स भी आता है.

तेरे रिश्ते और उम्र की शर्म मार रही थी, मैं तो कब से तेरे नीचे पिसना चाहती थी। आ… खाजा मेरे इस जिस्म को फाड़ डाल मेरी फुद्दी धज्जियाँ उड़ा दे.

लंड मोटा करने की दवा

मैं चाची को छेड़ते हुए बोला- क्यूँ चाची अब तो मर्द मानती हो ना?चाची बोली- क्या लल्ला? कैसे मर्द बनते हो. ।मामी की इन चीखों की चिंता किये बिना मैंने एक धक्का और लगाया तो मेरा आधा लौड़ा चूत के अंदर धंस गया जिससे मामी और जोर से चिल्ला कर मुझे कहने लगी- मैंने इतने सम्भाल कर रखा हुआ था इसे और तूने इसका कबाड़ा कर दिया रे… तूने तो इसे फाड़ कर रख दी रे…. आज जल्दी आने की कहानी तो बतलाओ जरा?’***इरफ़ान का लौड़ा ठीक से खड़ा नहीं होता था तो वो किसी फकीर के पास गया और अपनी समस्या बताई.

थोड़ी देर के बाद कासिम, मेरे शौहर आए और बेड पर आ कर बैठ गए और मैंने घूँघट लिया था, पर उन्होंने घूँघट नहीं उठाया और मेरे लहंगे को ऊपर किया और मेरी चूत में उंगली करने लगे. अया…आ गई मैं फिर से…इधर उसके लंड पर दीदी के चूत का गाड़ा सफेद पानी तेल की तरह लिपट कर चमक रहा था और अब उसका लंड की मशीन की तरह अंदर बाहर हो रहा था. मैं तो जैसे हवा में उड़ने लगा।वो मेरे लंड को जिस तरीके से चूस रही थी, मुझे लगा कि वो कई दिनों की प्यासी हो।फिर अंत में मेरे लंड ने उनके मुँह में ही अपना ‘सोमरस’ छोड़ दिया.

!जूही दोनों पैर रेहान के साइड से निकाल कर बैठ जाती है। रेहान अपने हाथ से लौड़ा पकड़ कर चूत पर सैट कर देता है, जैसे ही जूही बैठी, लौड़ा चूत में घुस जाता है।जूही- ओई उफफफ्फ़…!रेहान- साली इतनी बार चुद चुकी है, अब भी उई उई कर रही है…!जूही- आ.

पहले तो आते जाते कोई कुछ बोल देता, कोई कुछ, कोई कहता- देख कितनी छोटी है अभी साली फिर भी नैन-मटक्का करने से बाज नहीं आती! उम्र से पहले मेरी छाती कहर बनने के लिए तैयार हो चुकी थी, लड़कों की बातें सुन-सुन कर अब कुछ कुछ होने लगता, मैं मुस्कुरा देती, उनके हौंसले बढ़ने लगे और फिर :जिंदगी में अब तक मैं बहुत से लौड़े ले चुकी हूँ. !फिर हम बाथरूम में नहाने चले गए। आगे की कहानी फिर कभी आपको सुनाऊँगा।जैसा हुआ वैसा ही मैंने आप लोगों का सुना दी। मुझे मेल करो।[emailprotected]. उन्होंने खिलंदरी करनी शुरू की और कुछ ही देर में मैं उनके बेड के पास नंगा खड़ा होकर अपने सामने घोड़ी बनी हुई अपनी बबिता आंटी की मस्त गर्म चूत को अपने मूसल से चोद रहा था.

”अब वो भी खड़ी हो गई।चलो ना किचन में… कॉफ़ी बनाते है… फिर एक दौर और करेंगे… मैं खुश हो गया और उसके मोटे मोटे चूतड़ पकड़ लिये…ऊईऽऽ मांऽऽ… ” वो उछल पड़ी… और किचन की तरफ़ लहरा कर चल दी…दोस्तो कैसी लगी मेरी आपबीती? जरूर बताइयेगा।आपकी मेल का इन्तजार रहेगा।आपका अपना राहुल[emailprotected]. ‘मुझे तो बस इतना पता है कि एक नंगी लड़की किसी की दीदी या कोई रिश्तेदार नहीं होती… वो तो बस एक कामुक, गर्म औरत होती है, जिसका नंगा गर्म जिस्म देखकर कोई भी मर्द उसे प्यार करना चाहे. जय- अह अहह अह श्रेया, अह अह निकल रहा है!मैं- बह जाने दो, कुछ नहीं होता!जय के लंड से मुठ झटकों में निकल रहा था, करीब चार बार तेज झटके फिर कुछ बूंदें उसने निकाली.

लेखक : इमरानपारस- वाह यार… तुम्हारा काम तो बहुत मजेदार है।लड़का- क्या साहब… बहुत मेहनत का काम है…पारस- वो तो है यार देख मेरे कैसे पसीने छूट गए…और तेरे भी जाने कहाँ कहाँ से, सब जगह से गीला हो गया तू तो…सलोनी- बस अब तो हो गया नापारस- हाँ जानेमन हो गया… अब स्कर्ट तो नीचे कर लो, क्या ऐसे ही ऊपर पकड़े खड़े रहोगी… हा हा?लड़का- हा हा… क्या साहब?सलोनी- उउऊऊनन्न्न मारूंगी मैं अब तुमको. सैफ़ की घरवाली करीना की डिलीवरी हुई…नर्स सन्नी लियोनी खबर लेकर बच्चे के बाप सैफ़ के पास पहुँची- मुबारक हो…!! आप एक बेटे के बाप बन गये हैं…सैफ़ बहुत खुश हुआ, उसने खुशी और उत्साह से भरकर नर्स को गले लगाया और दो हजार रुपये दिए।पर उसकी असली चिंता यह थी कि वो अपनी पत्नी करीना के साथ सेक्स कब से शुरु कर सकेगा.

! जा लेजा…!साहिल समझ जाता है कि रेहान को बहुत गुस्सा आ रहा है। यहाँ से जाने में ही भलाई है। वो जूही का हाथ पकड़ कर उसको ऊपर ले जाता है। अन्दर अन्ना ज़बरदस्ती आरोही को बेड पर लिटा कर उसके मम्मे दबा रहा था। उसके मना करने पर अन्ना ने उसको दो चुम्बन भी कर दिए थे।अन्ना- अईयो साली. दीदी जलन में अंधी हो रहीथी और आप बदले की भावना में अंधे हो रहे हो।रेहान- चुप कर कुत्ती… सिम्मी मेरी जान थी…!जूही- अरे तो उसकी मौत का कितना बदला लोगे… हाँ… हम दोनों बहनों की इज़्ज़त आपने दांव पर लगा दी. हा हा हा हा …आँखें खुल चुकी थीं और सीधे दीवार पे लटकी घड़ी पे गई, देखा तो सुबह के 5 बज रहे थे…मैं थोड़ा अचंभित सा हो गया, ‘इतनी जल्दी…कौन हो सकता है??’ मैंने खुद से फुसफुसाकर पूछा और धीरे से आवाज लगाई…कौन…?? कौन है ?”मैं हूँ बुद्धू….

मैंने कस कर उसकी चूत को मसल दिया तो ऋज़ू- अह्ह्हा…आआआ… मेरी चूत भी तेरे लौड़े को पूरा खा जाएगी।उसकी भाषा हर तरह की लगाम छोड़ती दिख रही थी.

!अब मैं रोज दिव्या को पढ़ाने उसके घर जाने लगा। पहले मैं दिव्या को इस नजर से नहीं देखता था, लेकिन एक दिन जब मैं जब दिव्या से उसके पेपर के बारे में जानने उसके घर पहुँचा, तो उस वक्त उसकी मासिक परीक्षा चल रही थी।उस वक्त दोपहर के दो बजे थे, मैंने घन्टी बजाई, दिव्या ने दरवाजा खोला।मैंने कहा- दिव्या मम्मी कहाँ हैं।उसने कहा- सो रही हैं। आप दो मिनट रुकिए मैं कपड़े बदल कर आती हूँ।मैंने कहा- ठीक है. !थोड़ी देर भारती मेरे लंड पर बैठी रही और उसके बाद उसने मेरा लंड अपनी चूत मे धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया। कुछ देर के बाद जब उसकी चूत में मेरे लंड की जगह बन गई, तो उसका दर्द कम हो गया। भारती ने थोड़ातेज़ धक्के लगाने शुरू कर दिए और दो मिनट बाद ही वो झड़ गई।झड़ने के बाद वो मेरे ऊपर से हट गई और बोली- जय अब आप मेरी चुदाई करो. !तो अब आपको ज़्यादा इन्तजार नहीं करना पड़ेगा अगले भाग में एक नए ट्विस्ट के साथ उसकी एंट्री हो रही है तो देखो आपको मज़ा आता है या नहीं ओके.

यह सभी कुछ हम बारिश में गीली छत पर ही कर रहे थे कि अचानक दीदी बोली- बाकी का काम बिस्तर पर करना।और मुझे भी लगा कि काम को आखिरी अंजाम देने के लिए हमें बेड पर जाना ही पड़ेगा. मुझे लगता है कि दिल्ली में अन्तरवासना को पढ़ने वाली लड़कियाँ कम है क्योंकि दिल्ली की एक भी लड़की ने मुझे मेल नहीं किया इसलिए आप सब लड़कियाँ जो अन्तरवासना पढ़ती हैं, वे दिल्ली की लड़कियों को अन्तरवासना पढ़ने की सलाह दें.

साजन ने कहा ले फिर से गिन, मैंने फिर से गिनती शुरू करीहर गिनती के ही साथ सखी, मेरे मुँह से सिसकारी निकलीआकर पचपन पर प्यारी सखी, मैंने दीर्घ ‘ओह’ उच्चार कियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. !आंटी, यह बच्चा हमारे प्यार की निशानी है।”तुम समझ नहीं रहे अमन, मैं किसी को मुँह दिखाने लायक नहीं रहूँगी।”क्यूँ आंटी? आपका भी तो मन था कि आप माँ बनती।”मगर यह बच्चा नाजायज़ है, मैं किसी से क्या कहूँगी. एक सुंदर लड़की ने आपसे लिफ्ट मांगी और रास्ते में उसको चक्कर आ गया, उसकी तबीयत खराब हो गई।आप उसे लेकर अस्पताल गए।वहाँ डॉक्टर बोला- बधाई हो! आप बाप बनने वाले हैं।लो हो गई टेंशन…आप बोले- मैं इसके बच्चे का बाप नहीं हूँ!फिर लड़की बोली- यही इसका बाप है।और टेंशन…पुलिस आई।आपका मेडिकल चेक-अप हुआ, रिपोर्ट आई कि आप तो कभी बाप बन ही नहीं सकते।आपको और टेंशन.

आलिया भट्ट की एक्स एक्स वीडियो

!रेहान- अन्ना अभी नहीं, तुम कल कर लेना अभी मेरे प्लान का दूसरा भाग शुरू करना है। तुम बात को समझो यार उसकी चूत को मत छेड़ो.

डाल दो पूरा आराम से।साहिल ने पूरा लौड़ा चूत में घुसा दिया और धीरे-धीरे झटके मारने लगा। जूही भी आपने कूल्हे पीछे धकेल कर मज़ा लेने लगी।जूही- आ. बात करने का मौका देख कर मैंने फ़ूफ़ी से बहुत हिम्मत करके पूछ लिया- आपको पति के बिना अकेलापन लगता होगा न? रात को इसीलिए नींद नहीं आ रही?फ़ूफ़ी हल्की सी मुस्कुराईं और बोलीं- शायद ये हो सकता है. !”स्नेहल ने कहा- यार श्रद्धा मैं तो झड़ गई।मैंने अपनी उंगली निकाली और चाट ली।फ़िर उसके पैरों पर चुम्बन करके ऊँगलियाँ फ़िराने लगी। उसे बहुत मजा आ रहा था और मुझे भी।पैरों पर चूम कर मैं वापिस योनि की तरफ़ आ गई। मैंने अपना मुँह स्नेहल की योनि पर रख दिया और चाटने लगी।फ़िर अपनी जीभ मैंने उसके योनि के अन्दर डाल दी, वो चिल्लाई और मस्त हो कर आवाजें निकालने लगी, आ आ आह आ ओ आह आ आ ओ आ आह आ आ आआआह ओ आ आ आअ.

!आरोही- हाँ रेहान जी, मैं समझ रही हूँ। आप निश्चिन्त हो जाओ, अब मैं कोई शिकायत का मौका नहीं दूँगी।उसके बाद रेहान ने अलग-अलग पोशाकों में आरोही के फ़ोटो खींचे, यहाँ तक कि ब्रा-पैन्टी के पोज़ भी ले लिए और इस दौरान कई बार आरोही के मम्मे और चूतड़ छूए।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !अब आरोही को भी मज़ा आने लगा था।रेहान- यू लुकिंग वेरी नाइस बेबी. !फ़िर हम दोनों ही एक साथ झड़ गए में उसकी चूत में झड़ गया।उस दिन मैंने उससे दो बार चोदा, फ़िर हम बाथरुम गए, एक-दूसरे को साफ़ किया और फ़िर पढाई करने लगे।अब जब भी मौका लगता है। हम चुदाई करते हैं। उस साल दिव्या अच्छे नम्बरों से पास हुई। उसने मुझे ‘धन्यवाद’ बोला।मैंने कहा- ऐसे काम नहीं चलेगा. सेक्सी पिक्चर चोदा चोदी एचडी वीडियोसाजन ने बाँहों से उठा बदन, सारा जोर नितम्बों पर लगा दियामेरी सीत्कार उई आह के संग, स्पंदन की गति को बढ़ा दियामैं गिनती ही सखी भूल गई, मुझे मदहोशी की धार में छोड़ दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

!मैं एकदम से हिल गया। कतराते-कतराते कहा- ठीक हूँ और तुम कैसी हो?वो बोली- कुछ खास नहीं, पर सब ठीक है।फ़िर हल्की आवाज में कहा- पर मुझे भी बदला लेना है।मैंने कहा- क्या. तो लूज़र है हा हा हा… मैं लूँगी मज़े और तुम ही ही ही… अगर मज़ा लेना हो तो आ जाना हमारे पास…!रेहान आरोही और राहुल को इशारा करके एक रूम में चला गया।राहुल- आरोही, तुमने जूही को क्या कहा, उसने मुझे लूज़र कहा.

आओ चोदें रगड़ रगड़ कर,साथ में छोड़ें पानी…!***कुंवारी कलि ना चोदिये, चूत पे करे घमंड;चुदी चुदाई चोदिये, जो लपक के लेवे लंड!प्रस्तुति- आर के शर्मा. मुझे उस वक़्त वाक़यी में ख़ुद पर शर्म आ रही थी कि मैं अंकिता की बातें बर्दाश्त कर रही थी।तभी अंकिता ने मुझे बाल से पकड़ कर खींचा और बोली- साली मादरजात. आ जाओ सब यहाँ आराम से बैठ कर ड्रिंक करेंगे।रेहान ने अच्छे से टेबल लगाई थी, सब वहाँ बैठ गए, शैम्पेन खोली गई.

जय से सम्भाला नहीं गया, पहली बार था बेचारे का और उसने सारा पानी अंदर ही छोड़ दिया!मैं- अह, यह क्या किया तुमने? एक तो कंडोम नहीं पहनी ऊपर से अंदर ही छोड़ दिया?जय का लंड सिकुड़ के चूत से बाहर आ गया और मुठ मेरी चूत से बह रहा था. !आरोही वहाँ सीधी लेट जाती है और अन्ना उसके पास जाकर उसके होंठों पर हल्की सी किस कर देता है फिर उसके पास लेट कर उसकी मम्मे सहलाने लगता है।एक हाथ उसकी जाँघों पर रख देता है और उनको मसलने लगता है, आरोही की सिसकारियाँ निकलने लगती हैं। अन्ना धीरे-धीरे उसकी चूत को रगड़ने लगता है।आरोही- आ सीसी उफ. मैंने उठ कर उसके कंधे पर हाथ रखा और उसको दुलारते हुए पूछा- क्या हुआ मन्जू तुम रो क्यों रही हो?वो सुबकने लगी.

तेरी मक्खन जैसी गाण्ड मुझे पागल बना रही है।अनुजा वापस टेक लगा कर बैठ गई और दीपाली घोड़ी बन कर उसकी चूत चाटने लगी।विकास- हाँ बस ऐसे ही रहना जानेमन.

!”मैंने उसके चूचों को पहली बार छुआ था, मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मुझे क्या करना है।तो उसने मेरे हाथ पकड़े और अपने चूचों के नीचे रखवाए और बोली- यहाँ से पकड़ना है बेवकूफ़…! और मुझे ऊपर उठा कर घूमना है। ओके. हमने वहाँ भी चूमना चालू किया और उसको वहाँ भी आधे घंटे तक किया, वो झड़ गई और इस बार मैंने उसके मुँह में दे दिया और मुँह में ही झड़ गया.

प्रीति की गाण्ड अपने लण्ड पर उछालने लगा।मेरे बैठे रहने की पोजीशन की वजह से मेरा लण्ड प्रीति की चूत में अन्दर तक घुस-घुस कर चोट कर रहा था।प्रीति की गांड बिलकुल ज़मीन तक छू जाती।प्रीति मेरे कानों को काटने लगी थी और लगातार उसके उछाल तेज होते जा रहे थे।कुछ ही पलों में प्रीति ने एक जोरदार फुहार छोड़ी।मेरा लन्ड उससे सराबोर होता हुआ बाहर फिसल आया।प्रीति मुझ पर ही निढाल हो गई।मैंने प्रीति को एक नजर देखा. मैं चैक कर लेता हूँ।तो वो मान गई और मैं टेबल पर चढ़ गया। उसी समय जरा टेबल हिली और उसने अचानक मेरे पैर नीचे से पकड़ लिए और बोली- तुम तसल्ली से चैक करो. ’ निकल रही थीं।बाद में उसने झटके से मेरी सलवार खींचीं, पैन्टी के ऊपर से ही मेरी योनि को सहलाने लगी, जो गीली हो गई थी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !उसने कहा- इतनी जल्दी.

मुझे अचानक से वो सब बातें याद आ गई जो दीदी ने चाची को बोली थी-ज़्यादा बकवास मत करो चाची, वरना अगर तुम्हारे बारे में घर में बता दिया तो तुम घर से निकाल दी जाओगी. मगर मधु का जिस्म अभी बिल्कुल दर्द सहने का आदि नहीं था… वो खुद उसे हटा देती थी…शायद उसको हल्के सी भी दर्द का अंदाजा नहीं था… उसको केवल आनन्द चाहिए था. समझ नहीं आ रहा…!रेहान- तुमने सही किया उसको मना नहीं किया पर मैं उसको ज़्यादा कुछ नहीं करने दूँगा। तुम एक काम करो, उसका पानी निकाल दो.

पंजाबी बीएफ फोटो राजू… के पिताजी… यानि मेरे पति… राजेश मेरी इच्छा पूरी नहीं कर पाते इसलिए मैं और चीजों से काम चलाती हूँ, वो कल से गाँव गए हैं, मैं आज बाजार खरीददारी करने गयी थी. मेरे बस की तो हो नहीं तुम…!!इशरत- ठीक है, मैं जा रही हूँ किसी से चुदवाने ! फिर मत बोलना कि मैंने कुछ ग़लत किया !मैं- हा हा, इतनी जल्दी भी क्या है, मेरे आने का तो इंतजार करो, फिर मेरे सामने चुदना किसी से भी.

नागपुर की सेक्स

!” और मैं भड़भड़ा कर झड़ गई।अब चमेली की बारी थी। चमेली जीजाजी के ऊपर आ गई और बोली- बड़े चुदक्कड़ बनते हो, अब मैं तुम्हें झड़ाऊँगी. मुझे दिखाओ।मैंने झड़ने से ठीक पहले लंड को चूत से निकाला और उसे हथेली आगे करने को कहा, पर जब मेरे लंड से ‘आग’ निकली तो वो उसके चेहरे व चूचियों को भिगाती हुई. !रेहान- जानेमन लौड़ा चूत पर फेरने दो मज़ा आएगा और तुम्हारा पानी भी निकल जाएगा।आरोही- आप को जो भी करना है.

उँह…हुँ…हुँ… उँह…हुँ…हुँ… की आवाज निकलने लगी।कुछ देर बाद जब महेश जी को लगा कि मैं शांत हो गई हूँ तो उन्होंने मेरे हाथों को छोड़ दिया और एक हाथ से मेरे उरोजों को सहलाने लगे और मेरी गर्दन व गालों पर चुम्बन करने लगे।अब मेरे होंठ और हाथ दोनों आजाद हो गये थे इसलिये मैंने अपने दोनों हाथों से महेश जी के कँधों को पकड़ लिया और अपने आप ही उत्तेजना के कारण मेरे मुँह से इईशश. उसने तुमको क्या किया?सलोनी- ओह तुम भी न… अरे ऐसा भी क्या… बस जब वो मेरे साथ नाच रहा था… तब ही उसने कुछ शरारत की थीं…मैं- अरे नहीं यार… वो उस बेचारे ने बहुत पी ली थी… इसीलिए. अंग्रेजी सेक्सी तस्वीरवो जो पार्क है ना… वहाँ इस दोपहर में कोई नहीं होता, आओ वहीं झाड़ियों में मुत्ती करते हैं दोनों…सलोनी- पागल है, अगर किसी ने देख लिया तो…कहानी जारी रहेगी।.

! और अब तो इसका राज जान कर ही आगे चुदाई होगी।मैं जीजा जी के पीठ पर घूँसा बरसते हुए बोली- जीजा जी खड़े लण्ड पर धोखा देना इसे ही कहते हैं…! अच्छा तो अब ऊपर से हटिए, पहले राज ही जान लो.

!रेहान- मैंने उससे कहा है कि डायरेक्टर शाम को आएंगे, तब तक मेरे साथ लंच कर लो, पर वो नहीं मानी और कहा कि अपनी किसी सहेली के यहाँ जा रही है। शाम को आ जाएगी वापस।राहुल- ओह कहाँ चली गई. ”मैंने देखा कि उसकी गाण्ड से गुलाबी-गुलाबी कुछ निकल रहा था, छोटे-छोटे टुकड़ों जैसा। मैंने झट से लंड उसकी गाण्ड से बाहर खींच लिया देखने के लिए कि क्या है?उन्ह्ह.

!मैं- ओके, मैं रिया से बोल देता हूँ कि तुम दूद्दू नहीं पीने दे रही हो।तभी रिया आई तो मैं बोला- रिया, देखो ना ये मुझे दूद्दू नहीं पिला रही है।रिया- ओए, मेरे जीजू को दूध क्यों नहीं दे रही? कोई बात नहीं विकास मैं देती हूँ रुको. !करीब 5 मिनट तक आरोही ऐसे ही चीखती रही, अब वो दोबारा अपने चरम पर आ गई थी अब उसको थोड़ा मज़ा आने लगा था।आरोही-. दो दोस्त इरफ़ान और सलमान लम्बे अरसे बाद मिले।सलमान- और सुना यार ! वो तेरी गर्लफ़्रेन्ड सलमा कैसी है?इरफ़ान- वो अब मेरी गर्लफ़्रेन्ड नही रही…सलमान बीच में टोकते हुए- अच्छा किया तूने जो उसे छोड़ दिया! माँ की लौड़ी रण्डी थी… हम सबने खूब चोदा था साली को!इरफ़ान- मादरचोद.

तेरी गाण्ड से लौड़ा बाहर निकल गया इसका स्वाद ले ले।दोनों ने मिलकर लौड़े को चाट-चाट कर साफ कर दिया। कुछ देर वो तीनों वहीं बातें करते रहे.

!”मैं पागलों की तरह उनका लंड को अपने थूक से भिड़ा कर के उसको चाट रही थी। मौसा जी मेरे इस अंदाज़ से पागल हुए जा रहे थे।अह. ऐसा मार्गदर्शन तो कभी किसी ने नहीं किया।”परन्तु एक समस्या और थी, नीति अपनी घरेलू समस्याओं को भी मुझ से बताना चाहती थी। पर ऑफिस में समय देने में मैंने असमर्थता जताई।फिर तय हुआ कि ऑफिस से बाहर कहीं और जगह पर मिला जाए, परन्तु कहाँ यह प्रश्न गंभीर था।खैर अब नीति और मेरे बीच दूरियाँ बहुत कम हो गई थीं और हम लोग अन्तरंग बात भी करने लगे।एक दिन मैंने नीति से पूछा- क्या वो दिलचस्प फोटो देखना चाहेगी?दिखाइए. सखी साजन ने जल के अन्दर, मुझे पूर्णतया निर्वस्त्र किया,हाथों से जलमग्न उभारों को, कई भांति दबाकर छोड़ दिया,जल में तर मेरे नितम्बों को, कई तरह से उसने निचोड़ दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

मजेदार मजेदार सेक्सी वीडियोअब हमने कपड़े ठीक किये और उसने जाते जाते कहा- यार, मेरे बॉय फ्रेंड को पता नहीं चलने देना, आई लव हिम टू मच. वो मेरे इतने करीब खड़ी थी कि उसका खुला पेट वाला हिस्सा मेरे मुँह के पास आ चुका था जिसमें से उनकी गोल-गोल गहरी नाभि की महक मेरे नथुनों में मीठा ज़हर घोल रही थी.

इमो सेटिंग

उससे पूछा- क्या बात है मन्जू? तुम मुझसे खुल कर कहो तुमको क्या दिक्कत है?उसकी आँखों से आँसू निकलने लगे. !मैंने कहा- जब लड़का-लड़के से और लड़की-लड़की से अपनी शरीर की जरूरतें पूरी करते हैं, उसे समलिंगी कहते हैं।उसने पूछा- शरीर की जरुरत मतलब ! कैसी जरुरत !तो मैंने कह दिया, अभी तुम बच्ची हो सो जाओ। और फिर मैं भी सिस्टम बन्द करके सो गया।अगले दिन उसके आने के समय पर बारिश होने लगी थी। सब बारिश होने का संकेत देख कर जल्दी ही चले गए. ले साली सम्भाल, अपनी बुर को भोसड़ा बनाने से बचा… तेरी बुर को फाड़ कर ही दम लूँगा…!”चुदाई के धक्के से मेज हिल रही थी। मैं यह सोच रही थी कि मज़ाक में जीजाजी चमेली को चिढ़ाने के लिए चोद रहे हैं, अभी चोदना बंद कर देंगे,लेकिन जब जीजाजी नशे के शुरूर में बहकने लगे साली.

‘अच्छा सच बता क्या तू मुझे उस समय एक भाई की नज़र से देख रहा था या एक मर्द की नज़र से?’ दीदी ने बड़े भोलेपन से पूछा. तो हाथ भी नहीं लगाने देती उसको… हा…हा… उस सबको सोचकर अभी भी रोमांच आ रहा है…पारस- ओके भाभी… ठीक है… चलो उतरो. लड़के का मुँह देख लग रहा था जैसे उसके हाथ से ना जाने कितनी कीमती चीज छीन ली गई हो…सलोनी- ओह ज़मील, आज मुझे जल्दी जाना है… फिर कभी तुम घर आकर आराम से चेक कर लेना…और सलोनी ने झुककर उस लड़के के मुँह पर चूम लिया…बस अब तो कबीर की प्रसन्नता का गुब्बारा फट पड़ा.

आगे से सलोनी की स्कर्ट अभी भी उसकी बेशकीमती चूत को ढके थी पर इस समय शायद उसकी चूत पर उस मोटे के हाथ थे जो पता नहीं कैसे उसको छेड़ रहे होंगे…अब या तो मैं यहाँ रूककर सलोनी की मस्ती देखता या फिर इस नई बालों वाली चूत का मजे लेता…यह तो पक्का था कि वो चुदाई के लिए पूरी तरह तैयार थी और मेर लण्ड को बिना किसी शर्म के कभी सहला रही थी तो कभी कसके पकड़ लेती तो कभी मरोड़ देती. तुम बहुत परेशान कर रहे हो…मनोज- अरे यार तुमने ही तो कहा था… अब कोशिश कर रहा हूँ तो मना कर रही हो…सलोनी- ये सब उस समय के लिए बोला था… अब मैं किसी और की अमानत हूँ…मनोज- अरे यार, मैं कौन का अमानत में ख़यानत कर रहा हूँ. आ उफ़फ्फ़…!राहुल ने आरोही की टाँगों के बीच आकर अपना लौड़ा चूत पर टिकाया और एक धक्का मारा, आधा लंड चूत में चला गया।आरोही- आ.

!”प्रिय पाठकों आपकी मदमस्त सुधा की रसभरी कहानी जारी है। आपके ईमेल की प्रतीक्षा में आपकी सुधा बैठी है।[emailprotected]. मैं अपनी आँखें बंद कर लेता हूँ।मैंने अपनी आँखे बंद कर लीं, उसने पानी पीकर तौलिया वापस हाथ में ले लिया।मैंने उसको ‘सॉरी’ बोला और जाने के लिया आगे बढ़ गया।आप लोग सोच रहे होंगे.

!उसने ‘सम्भाल’ शब्द पर कुछ नजरों से बोला। मुझे कुछ समझ में तो आया तो मैंने भी तुरन्त कहा- क्यों नहीं.

लंड पेलने लगा और मैडम भी हर धक्के का जवाब अपनी कमर को उचकाते हुए दे रही थी।मैं अपने दोनों हाथों से उसकी कमर को पकड़ कर उसको चोद रहा था।मैडम मस्ती के नशे में चूर होकर कह रही थी- चोद… मेरे राजा… उम्ह्ह उम्ह्ह. तिरस्कर मधु के सेक्सी वीडियोआप जाओ हम चुपचाप रहेंगे।राहुल- आ जाओ साथ बैठ कर टीवी देखते हैं।आरोही- नहीं ब्रो, आप देखो हम यहीं हैं।राहुल वहाँ से चला जाता है और आरोही लैपटॉप चालू करके नेट खोल लेती है।जूही- दीदी आज कुछ सेक्सी वीडियो देखें. तमन्ना हीरोइन का सेक्सी वीडियोमौका तो देकर देखो… फिर अगर कुछ कम लगे तो मेरा मुँह पर कालिख मल देना…यह सुन कर अचानक से चाची के चेहरे के भाव बदल से गये और कुछ गंभीर होती लगी. !राहुल- अरे यार अब तुझसे क्या छिपाऊँ, तू अध-नंगी की बात कर रहा है, मेरा बस चले तो उसको पूरी नंगी कर दूँ.

चल तैयार हो जा रेलवे से सील तुड़ाई का भत्ता लेने को।नीलू- मतलब ?अबे यार जब ट्रेन में कोई बच्चा पैदा होता है तो रेलवे उस बच्चे को आजीवन यात्रा पास देती है अब तू भी क्लेम कर देना कि तेरी सील ट्रेन में टूटी थी सो रेलवे तुमको भी आजीवन ट्रेन में चुदने का पास से देगी हा हा हा.

?जूही- दीदी मेरी बात का यकीन करो इस घर में जगह-जगह कैमरे लगे हैं। रेहान ने पहली बार तुम्हारे साथ किया, वहाँ भी कैमरा था।आरोही- हाँ याद है रेहान ने कहा था हमारे प्यार को कैमरे में कैद कर रहा हूँ, क्योंकि जब भी याद आएगी मैं देख लूँगा. मैं रात भर सोचती रही कि जय ठहरा ज़ीरकपुर चंडीगढ़ का और मैं मॉडल टाउन जालंधर, यह मुझे सिर्फ सोशल नेटवर्क से जानता है, सोशल नेटवर्क पर चैट फिर फ़ोन सेक्स अब बात वेबकैम पर लाइव सेक्स पर पहुँच गया. ! तब जूही ने तुमको आइडिया दिया था कि कमरे में बन्द कर दो सिमरन को और मैंने उसकी बात काट कर दूसरा आइडिया दिया था।आरोही- हाँ याद है.

चाची बोली- जोर से चोद! मैं झड़ने वाली हूँ!मैं और जोर से चोदने लगा और मेरा लंड उनकी चूत में ही झड़ गया, चाची भी झड़ चुकी थी. !मैं बेड पर लुढ़क गया और दीदी को मेरे निक्कर का उभरा हुआ हिस्सा दिखाई दे गया।मैं बोला- नहीं दीदी, अन्दर में बहुत काला हूँ. तुम उसको कैसे जानते हो? कौन हो तुम?साहिल भी अपना आपा खो चुका था और वो भी आरोही को गाली देने लगा।साहिल- साली कुत्ती मेरी बहन थी वो, जान से भी ज़्यादा प्यारी बहन और तूने उसको मार दिया।आरोही- प्लीज़ मुझे छोड़ दो दुखता है, मैंने कुछ नहीं किया, तुमको गलतफहमी हुई है। प्लीज़ छोड़ दो उउउ.

police की सेक्स

मैंने हल्का सा नीचे झुककर देखा- अरे, इसका लण्ड तो ठीक सलोनी की चूत से चिपका था !क्याआआ ये अर…रे…रे…र…कहानी जारी रहेगी।. कुछ देर बाद मैंने फ़ूफ़ी से पूछा- तुम अभी रोमांटिक मूवी देख रही थीं, तो कैसी लगी?फ़ूफ़ी बोलीं- वो तो मैं ऐसे ही देख रही थी. सोचा तुझे रसोई में कंपनी दे दूँ। यह तो खाना खाने वाला नहीं और शायद आज रात तुम दोनों यही रुक लो। ऐसी हालत में यह ड्राईव नहीं कर पाएगा। आज तुम हमारे यहाँ सो जाओ।”मुझे अब नशा सा था मैंने भी डबल मीनिंग बातें शुरू कर दीं।कोई बात नहीं.

?मैंने कहा- आज तक के इतिहास में किसी औरत की कितनी भी छोटी बुर क्यों न हो और मोटे से मोटा लंड भी उसकी चूत में क्यों न घुसा हो.

फिर मैंने अपना लंड मीनू के मुँह में दे डाला और उसे लंड को चूसने के लिए कहा। मीनू ज़ोरों से मेरा लंड चूसने लगी और बोली- अब से यह लंड मेरा.

आज रात को बस मेरा काम कर देना मैं आरोही को दिखा दूँगा कि मैं क्या हूँ… प्लीज़ यार कोई खास नुस्ख़ा लाना, जो मुझे तुमसे भी अधिक पावरफुल बना दे…!रेहान- साले मैं वगैर नुस्खे के ही ऐसा हूँ… अगर मैं नुस्ख़ा ले लूँ तो तेरी दोनों बहन थक जाएंगी, पर मैं नहीं थकूंगा, अब जितना कहा उतना करना ओके…!राहुल- ओके बाबा. मैंने तो अनेकों बार सुनीता की चूत से निकले चरम रस मेरे दोस्तों की शीघ्रपतन की बीमारी का इलाज किया है. देहाती सेक्सी चुदाई दिखाओबल्कि उसको गन्दी नजर से देखने वाला गन्दा होता है… यह तो तुम खुद कहती हो ना… और मैंने कभी तुमको मना किया कुछ भी या किसी भी तरह पहनने को… यह हमारा जीवन है, चाहे जो खाएँ.

कभी इस चक्कर कभी उस चक्कर, मेरे नितम्ब थे डोल रहेसाजन ने उँगलियों से उकसाया, कभी उन पे कचोटी काट लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. उसके विपरीत मुख करके सखी, घुटनों के बल मैं बैठ गईकंधे तो पलंग पर रहे झुके, नितम्बों को पूर्ण उठाय दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. चाची ने मेरे गालों पर हाथ लगा कर देखा, फिर वापिस मालिश शुरू कर दी और अब वो मेरी छाती की मालिश कर रही थी.

मैंने लण्ड पूरा बाहर निकाल दिया और भाभी को चाट कर साफ़ करने को कहा, फिर चूत में वापस डाला, अब तो लम्बे-लम्बे धक्के मारने लगा और भाभी बहुत उत्तेजित हो गईं, बोलने लगीं- फाड़ दो मेरी फाड़ दो मेरी चूत… पूरा लण्ड अन्दर डाल दो. आप चोदोगे तो, किसी को भी रुला दोगे।वो भी खुल कर बातें करने लगे, बोले- मेरा लन्ड कोई सम्भाल नहीं पाएगा, किसी भी लड़की की बुर में पेलूँगा तो रो देगी।अब मेरा पूरा दिल जिद करने लगा था कि शैलेश भैया से गाण्ड मरवा कर ही रहूँगा।मैंने पूछ ही लिया- वैसे आपका लंड कितना मोटा है?उसने अपने हाथों से उँगलियों को मोड़ कर बता दिया कि इतना मोटा है मेरा लंड।मैंने उनसे कहा- कभी मुझे भी चांस दीजिए.

!मैं तो देखता ही रह गया। ब्रा में से दो गेंदें बाहर आने की कोशिश कर रहे थे और रस्सिओं वाली चड्डी उसके चूतड़ों पर खूब जंच रही थीमनु बोली- ऐसे क्या देख रहा है, उस दिन देखा नहीं क्या?मैं बोला- उस दिन तो मेरी आँखों पर पट्टी लगी हुई थी। उस दिन मेरा ध्यान कहीं और था। सच कहूँ मनु, तुम बहुत खूबसूरत हो… मैंने ऐसे अब तक किसी को नहीं देखा.

मैं आपसे बहुत प्यार करती हूँ।मुझे तो जैसे भरोसा ही न हुआ, मैं बस उसके होंठों पर झुक कर उसके प्यार का जवाब देने लगा।अधरों का रसपान भी बहुत ही मस्त था. लगातार मेरी नाक बह रही है, सारा बदन टूट रहा है, अभी उठी हूँ… श्रेया ने कॉफी बना कर दी, उससे भी ज़्यादा कुछ फ़र्क नहीं लगा उसने पूछा- कैसी तबीयत है?मैं बोली- थोड़ा दर्द है चूचियों और निप्प्लों में पर ज्यादा नहीं !वो हंसती रही मुझे देख कर. 3बजे थे, सो मैंने सोचा एक बार और नहा लूँ, नहा कर फ्रिज में से निकाल कर कुछ खाया और ससुर से चुदने को तैयार हो गई।यह दास्तान मैं फिर कभी सुनाऊँगी.

हिंदी सेक्सी वीडियो ब्लू एचडी कान के साथ लण्ड भी खड़ा हो गया था…मधु- भैया… भाभी अंदर कमरे में हैं… यहाँ उनका कोई दोस्त ही बड़ा सर है… वो क्या बताया था… हाँ मनोज नाम है उनका…मैंने दिमाग पर ज़ोर डाला… उसने बताया था कि कॉलेज में उसके विनोद और मनोज बहुत अच्छे दोस्त थे, दोनों हमारी शादी में भी आये थे।मैंने मधु को कमरे में देखने को बोला. !लेकिन अब उन्होंने मुझसे मीठी-मीठी बातें करना शुरू कर दिया था। मैं रोज उनके यहाँ आने-जाने लगा और उनसे बातें करने लगा।एक दिन मैंने हिम्मत करके उनको एक ख़त लिखा जिसमें लिखा था कि आज रात को आठ बजे मिलना, क्यूंकि गाँव में सर्दी के दिनों में सब जल्दी ही सो जाते हैं।यह ख़त मैंने उनको चुपके से पकड़ाया तो उन्होंने भी शाम को मुझे एक ख़त पकड़ाया, जिसमें लिखा था कि आठ बजे नहीं.

मैं आता और देखना मैं कैसे करता तुम डायलोग बोला अच्छा था, पर इस सीन में ज़ुबान नहीं हाथ का इस्तेमाल करो. जूजा जीअब तक आपने पढ़ा कि झड़ते समय पंकज ने मुझे अपने से चिपका लिया और अपना लंड जड़ तक मेरी चूत में घुसेड़ कर अपना पूरा का पूरा माल मेरी चूत की गहराई में छोड़ दिया। उधर नरेन भी ज़न्नत को अपने चिपका कर ज़न्नत की चूत अपने लंड के पानी से भर दिया। झड़ते वक़्त मैं और ज़न्नत ने अपने हाथों से पंकज और नरेन को अपने से सटा लिया था और जैसे ही चूत के अन्दर लंड का फुव्वारा छूटा. ! तब जूही ने तुमको आइडिया दिया था कि कमरे में बन्द कर दो सिमरन को और मैंने उसकी बात काट कर दूसरा आइडिया दिया था।आरोही- हाँ याद है.

सेक्सी ब्लू देखना

करीब 20-25 मिनट के बाद चाचू का पानी निकलने वाला था, तो चाचू ने लण्ड मेरी चूत से निकाला और मेरे मुँह में घुसेड़ दिया और मेरे मुँह को चोदने लगे और फिर सारा माल मेरे मुँह में ही डाल दिया. हाय फ्रेंड्स,मेरा नाम सुषमा है, शादीशुदा हूँ और मेरे तीन बच्चे हैं, मेरी उम्र 30 साल है, मैं बहुत सुन्दर हूँ, एकदम दूध सी गोरी, बिल्कुल चिट्टी, मेरी फिगर 32-28-34 है।अब तक आप मेरी कहानीइन्जेक्शनपढ़ चुके हैं।वास्तव में डॉ. वो नींद में थी, फिर मैंने थोड़ा और कस के दबाया, तो वो जाग गई और उठ कर बैठ गई और बोली- आप यह क्या कर रहे थे?तो मैंने कहा- प्यार कर रहा हूँ.

जागो मेरे पति परमेश्वर…सुबह हो गई है और आपकी प्यारी सी बीवी आपके लिए गरमागरम चाय लेकर आई है !” प्रिया ने अपने नाज़ुक होंठों से इस अंदाज़ में कहा कि मैं तो मंत्रमुग्ध सा बस उसे फिर से उसी तरह देखने लगा।अरे अब अन्दर भी चलोगे या यहीं मुझे घूरते रहोगे. !फ़िर उसने अपना नाम ‘आनन्द’ बताया।फ़िर उसने मेरे नंगे बदन पर हाथ फिराते हुए मेरी चूत में अपनी एक उंगली घुसा दी। मेरे मुँह से सिर्फ़ ‘आहह’ की आवाज़ निकली।वो बोला- तेरी चूत तो एकदम गीली है, लगता है मुँह में जो पानी डाला था वो तेरी चूत से निकल रहा है ! ज़रा बेड पर बैठ कर अपनी टाँगें तो फ़ैला.

ओह गॉड ! अब मैं घर कैसे जाऊँगी…और यह क्या अंकल तो पूरे सलोनी के दीवाने हो गए थे- हाँ हाँ क्यों नहीं बेटा.

मैं आता और देखना मैं कैसे करता तुम डायलोग बोला अच्छा था, पर इस सीन में ज़ुबान नहीं हाथ का इस्तेमाल करो. इसलिए पूछा कुछ सीन तुमको बिकनी के देना होगा जी और एक सीन में तुम नहाना जी और कोई तुमको मरने की कोशिश करना. मैंने दो पैग और लिए होते लेकिन मैंने उसको लिटा दिया, वो फ्रेंची में था।मैंने दरवाज़ा लॉक किया, उसके करीब आया, उसकी टी-शर्ट ऊपर कर दी। उसके संग लिपट गया। उसकी छाती से मम्मे रगड़ने लगा।मैंने उसके लंड को पकड़ लिया, बाहर निकाल देखा.

सबके लंड 7-8 इंच के बीच थे!फिर संजीव ने मेरे चूतड़ों के नीचे तकिया लगाया और मेरी चूत पर थूक लगा कर अपने लंड का सुपारा रगड़ने लगा. वो हमेशा ऐसी ब्रा पहनती थी कि उसके चूचे मिसाईल की तरह लंड पर वार करते थे।मैं हमेशा से ही उसके चूचों को देखने की ताक में रहता था और जब कभी उसकी ब्रा के थोड़े से भी दर्शन हो जाते. !!अपने ख्यालों में उसकी शूशू करती हुई तस्वीर लिए मैंने बाथरूम का दरवाजा पूरा खोल दिया और…कहते हैं कि यह मन बावला होता है…यह प्रत्यक्ष प्रमाण मेरे सामने था…एक मिनट में ही मेरे मन ने रोज़ी के ना जाने कितने पोज़ बना दिए थे… और दरवाजा खोलते ही ये सब के सब…कहानी जारी रहेगी।[emailprotected]hmamail.

!आरोही बाथरूम में चली गई।30 मिनट बाद दोनों तैयार होकर कार में घर की तरफ़ चल पड़े।घर पहुँच कर आरोही ने राहुल को आवाज़ लगाई, वो जल्दी से नीचे आया और दोनों को देख कर खुश हो गया।राहुल- वेलकम रेहान.

पंजाबी बीएफ फोटो: पहले तो थे धीरे-धीरे, अब स्पंदन क्रमशः तेज हुएअंग ने अब अंग के अन्दर ही, सुख के थे कई-कई छोर छुएतगड़े गहरे स्पंदन से, मेरा रोम-रोम आह्लाद कियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. मेरी बहन की नथ खुली है… मीठा मुंह तो होना चाहिये न !’ इतना कह कर नंगी चंदा रानी कमरे से बाहर चली गई।.

फिर धीरे-धीरे मैं भाभी के पास आता गया और मैंने भाभी की चूचियों पर अपना हाथ रख दिया तो भाभी सोने का नाटक करने लगीं. !”ये ले आज तो तेरी चूत की बैंड बजा दूँगा…!”मैं ताबड़-तोड़ धक्के लगा रहा था। आंटी भी खुल कर मेरा साथ दे रही थीं। वो साथ ही साथ ज़ोर-ज़ोर की आवाज़ निकाल रही थीं. प्लीज़ प्लीज़ आआ…!जूही की बातों से साहिल और ज़्यादा उत्तेज़ित हो गया और अपनी पूरी ताक़त लगा कर झटके मारने लगा। दोनों के मिलन की आवाजें गूँजने लगीं ठप.

संजीव ने मुझे इस हालत में देखा तो उसने मुझे अपने सीने से लगा लिया और फिर उसने मेरे होंठ पर अपने होंठ रख कर मुझे किस करने लगा और अपने हाथो से मेरे बूब्स दबाने शुरू कर दिए थे.

तो वो अपने कमरे में जाकर सो गई।उधर खाना ख़त्म करके दीपक और प्रिया कमरे में चले गए।प्रिया- भाई किताबें निकाल लो. बस तुम्हारी खातिर कर रही हूँ… जाओ अब मैं कुछ नहीं करूँगी।फिर पति मिमयाने लगे- अरे तुम मेरी जान हो… मज़ाक किया यार… सॉरी !मैं बोली- चलो, बात मत बनाओ. प्लीज़ आ उई आईए आह…!अंकित लौड़े को सिमरन के होंठों पर घुमाने लगता है, वो सिमरन का मुँह खोल कर लौड़ा अन्दर डाल देता है। वो चूस नहीं रही थी, अंकित बस मुँह में आगे-पीछे करने लगता है।संजू- वाउ क्या टेस्टी चूत है यार.