नेपालन की सेक्सी वीडियो बीएफ

छवि स्रोत,बी एफ फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी बीएफ वीडियो पंजाबी: नेपालन की सेक्सी वीडियो बीएफ, शायद तान्या ने अंदर ब्रा नहीं पहनी थी और तान्या का वक्षाकार भी इतना बड़ा था कि अगर ब्रा भी होती तो भी उसके चूचे बाहर ही झांकते.

राजस्थानी लड़की को चोदा

थोड़ी देर में मुझे मजा आने लगा, मेरा दर्द कम हो गया और मैं धीरे धीरे अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा. હીન્દી xxxमेरी मम्मी मेरी दादी का चूस रही थी।तभी मेरी साड़ी में हलचल हुई और मैंने देखा मेरी साड़ी, साया उठा कर मेरी पैंटी नीचे करने वाली मेरी मामी है। मामी मेरा लिंग चूसने लगी और दादी मामी का.

लगभग शाम के 4 बजे तक हम लोग जयपुर पहुँच गए, मैं प्रिय भाभी को बिल्कुल भूल चुका था और मेरे दिमाग में सिर्फ और सिर्फ सोनम का वो मासूम सा चेहरे घूम रहा था. முஸ்லிம் செஸ் தமிழ்बहादुर ने रीटा को कस कर आपने आगोश में ले लिया और अपना तीर सा लण्ड अब रीटा की चूत में आखिर तक घुसेड़ दिया तो रीटा का बदन तले पापड़ सा अकड़ कर तड़क गया.

मुझे पूरा विश्वास था कि इसकी चूत चोदने में किसी कुंवारी चूत से कम मजा नहीं आएगा…मैंने उसके पैर फैलाये और नीचे अपने पंजों पर बैठ कर उसके जांघ मेरे कंधे पर रखते हुए अपनी जीभ फ़िर से उसकी रसीली चूत में लगा दी.नेपालन की सेक्सी वीडियो बीएफ: दोनों में आसानी से बुला सकता हूँ !!” (फिर नाटकीय ढंग से उसका नाम एक बार प्यार से और एक बार गुस्से से लेकर दिखाओ। वह ज़रूर हँस पड़ेगी)तुम हँसती हुई ज्यादा अच्छी लगती हो ….

आज मैं आपको वो दास्तान सुनाने जा रही हूँ जो अपने अंदर और कई दास्तां छुपाए हुए है। मैंने अपनी ज़िंदगी में जो कुछ किया, जो पाया, जो खोया सब आपके सामने रखूंगी। यह मत समझिएगा कि यह कोई गमगीन दास्तान है.मैं अगले दिन सुबह 8 बजे छत पर जाने वाला था पर कोहरा होने के कारण मैं 9-30 पर छत पर गया…अपनी नहीं रक्षिता की.

ट्रिपल सेक्स बीपी वीडियो - नेपालन की सेक्सी वीडियो बीएफ

चूत !और उसे चाटने लगे !चूत वैसे भी काफी गर्म हो रही थी और वो पानी छोड़ने लगी। मैंने कहा- अब आप ऊपर आ जाओ !वे शरारत से बोले- साफ बोलो कि मुझे क्या करना है?मुझे पता था अब ये मेरे मुँह से बुलवाकर छोड़ेंगे इसलिए मैंने जल्दी से अपनी आँखे बंद कर के कहा- आप मुझे चोद दो !पर वे कौन से कम थे, बोले- मैंने सुना नहीं ! जरा जोर से बोलो !मैं जोर से उन्हें अपने ऊपर खींचते हुए बोली- मुझे चोद दो ! चो….उसे ही अपनी मंजिल मान चुकी थी मैं…कुछ देर नग्न अवस्था में एक दूसरे की बाँहों में हमें वक़्त का पता ही नहीं चला.

चूसी और चुदी हुई रीटा बुरी तरह शरमा कर अपना चेहरा अपने हाथों में ढांप कर राजू की छाती में छिपने की कोशिश करने लगी. नेपालन की सेक्सी वीडियो बीएफ उनकी सिसकियाँ अब तेज़ होती जा रही थी!! उनकी आआआ आआआह्ह ह्ह्ह आआआ अह्ह्ह सुनकर मुझे एक अलग सी ताक़त मिल रही थी!!मेरे हाथ उनके पूरे बदन पर चल रहे थे.

चल जल्दी से बता!”तुम पहले वादा करो कि तुम किसी को भी नहीं बताओगी!”अरे बाबा, मुझ पर भरोसा रखो, मैं किसी को भी नहीं बताऊँगी.

नेपालन की सेक्सी वीडियो बीएफ?

! प्लीज़ !मैं उसके नंगे चूतड़ों और चूचियों को कस कर मसलने लगा, वो उत्तेजित हो चुकी थी. मोना मेरा लण्ड जोर जोर से चूस रही थी, उनके मुँह की गर्मी से अचानक मेरे लण्ड में मेरा माल आंटी के मुँह में गिर गया, मैं शांत हो गया. मैंने उनकी टांगों पर हाथ फेरना शुरु कर दिया और धीरे धीरे उनकी स्कर्ट के अन्दर हाथ डालना शुरु कर दिया.

तो उस दिन के बाद किसी और को नहीं देख पायेगा तू…!!!मेरी आँखें भर आई थी… पर साथ साथ होंठों पर मुस्कान भी थी. मुझे ज़बरदस्ती उसका मुंह हटाना पड़ा तो वो बोला ‘मेरी जान पहले तुम भी अपने सारे कपड़े निकालो!’‘क्यूँ नहीं जानू मैं भी निकालती हूँ तभी तो असली मज़ा आएगा. मैंने पूछा- निधि क्या छुपा रहो हो?वो हकलाते हए बोली क्क्कुछ नही सर!मैंने कहा- झूठ मत बोलो, मैंने तुम्हे एक लैटर पढ़ते हुए देखा है, क्या लिखा है उस में मुझे दिखाओ.

राहुल अंकल ने कहा- तेरी चूत से बहुत पानी निकला!हाँ मेरे राजा! बहुत दिनों से पानी नहीं निकला था! इसलिए आज बहुत पानी निकला! तू भी चाट ना मेरी बुर का पानी!इतना सुनते ही राहुल अंकल भी अपनी जुबान से बाजी की बुर का पानी चाटने लगे. लण्ड व चूत से पच्च पच्चर फच्च फच्चर की गुन्डी आवाजें, मस्ताई हुई रीटा की सुरीली ईसऽऽऽ ईसऽऽऽ सिसकारियाँ और किलकारियाँ, पलंग की चरमराहट राजू के दिल दहला देने वाले ठप्पों की थाप की आवाज और दोनों की बहकी बहकी साँसों ने वातावरण को और भी गर्म और रंगीला बना दिया. जैसे मैंने ऊपर लिखा कि किस तरह अपनी सहेली के साथ मैं लेस्बियन सेक्स का मजा ले लेती थी पर मुझे लड़कों से चक्कर चलाने से संकोच सा था इसलिए जब दाना कूदने लगता तो मैं वाशरूम में जाकर सलवार का नाड़ा खोल इंग्लिश सीट पर टांगें चौड़ी करके बैठती और उंगली गीली कर करके दाने को रगड़ खुद को शांत कर लेती.

मैं तड़प रही थी, उस का लौड़ा पूरी तरह से कस चुका था, उस को भी दर्द हो रही थी लेकिन उसने निकाल कर फिर से डाल दिया. उस दिन जीजू घर आए और हमें बोले- चलो आज घूम कर आते हैं, वहीं से खाना पैक करवा लेंगे!दीदी बोली- नहीं अखिलेश! मैं रिस्क नहीं लेना चाहती! बहुत नाजुक समय है.

कितने दिनों के बाद मिली तू!दोनों सहेलियाँ एक दूसरे से बात करती रही और मैं रागिनी को देख रहा था.

नहीं…………मैंने आज तक किसी से नहीं किया है………तू घबरा मत ! तुझे कुछ नहीं होगा और मजा भी आयेगा।सच सच……….

एक बार रात को मैं बाथरूम जाने के लिए उठी तो देखा मम्मी पापा के कमरे की लाईट जल जल रही थी, उत्सुकता से खिड़की की झिर्री से देखा कि मम्मी नंगी लेटी हुई हैं और पापा अपने लंड पर कंडोम चढ़ा रहे थे. तुमने मेरे चूत को फाड़ डाला……वो दर्द से कराह उठी, मैं समझ गया कि इसकी चूत की आज पहली बार चुदाई हो रही है।दूसरा धक्का बिना देर किये मैंने मार दिया जिससे मेरा लंड सपना की चूत की गहराइयों को नाप गया।हाय आह………. बस फिर क्या था, मैं चूमता गया उसकी आँखों, माथे और फिर नीचे की ओर गले में, सब जगह! बस उसने आँखें बंद कर ली.

मेरी मम्मी मेरी दादी का चूस रही थी।तभी मेरी साड़ी में हलचल हुई और मैंने देखा मेरी साड़ी, साया उठा कर मेरी पैंटी नीचे करने वाली मेरी मामी है। मामी मेरा लिंग चूसने लगी और दादी मामी का. तुम तो प्यारी सी हो!” उसके उभार देख कर एक बार तो मेरा मन ललचा गया गौरी एक दम से सोफ़े में से उठ कर मेरी गोदी में बैठ गई. इस खेल में समझदार रीटा ने बहादुर के लण्ड पर ढेर सा थूक थूका और लण्ड को खूब गीला पिच्च कर दिया.

क्या हुआ ?मेरा तो निकालने वाला है ?मुझे तो अभी समय लगेगा !कितना ?अभी तो ५-६ मिनट लगेंगे क्यों ?मैं भी तुम्हारे साथ ही झडना चाहती हूँक्या तुम्हारा पति नहीं है घर पर ?वो हुआ ना हुआ एक बराबर है !वो कैसे ?साले का उठता ही नहीं ?फिर तुम कैसे काम चलाती हो ?तुम्हारे जैसे चिकने लौंडों को याद करके काम चला लेती हूँ अईई ….

उसे देख मैं भी रुक गया, मगर थोड़ी देर बाद मैं आगे बढ़ा और उसके पास चला गया और उसे बात की. नई और कुंवारी चूत की सील तोड़ने और ज्यादा देर तक अपनी साली को चोदने के लिये मैंने ओनली मी स्प्रे शिश्न मुन्ड पर स्प्रे करा था. हमने एक धर्मशाला में कमरे ले लिए क्योंकि हम कमरों के ऊपर ज्यादा पैसे खर्च नहीं करना चाहते थे.

एक झटके से जाने क्या हुआ मुझे अपनी दोनों जांघों के बीच कुछ गर्म-गर्म रिसता हुआ सा महसूस हुआ…… मेरे मुँह से आनन्द भरी आहें निकलने लगी… बंद आँखें जब खुली तो वो मेरे ऊपर था और लम्बी लम्बी सांसें ले रहा था…उसकी गर्म-गर्म सांसें मेरे पसीने से गीले बदन को ठंडक पहुँचा रहीं थी…मैंने उसे उसकी गर्दन पर एक चुम्बन किया… और कुछ देर हम उसी तरह लेटे रहे…कुछ देर बाद. घर पहुंचा तो मेरी बहन ने जल्दी से आकर मुझसे पापा के बारे में पूछा और तभी अनीता दीदी भी अपने घर से बाहर आ गईं और पापा की खबर पूछी. मैंने झट से उसका लौड़ा निकाला और अपने हाथों में ले लिया और फिर मुँह में डाल कर जोर जोर से चूसने लगी। मैं सोफे पर ही घोड़ी बन कर उसका लौड़ा चूस रही थी और अनिल मेरे पीछे आकर मेरी चूत चाटने लगा.

आंटी उठी और मेरी पैंट को उतार कर मेरे लंड को सहलाने लगी और फिर मुँह में लेकर चूसने लगी.

‘जीजू, जोर से मारो ना… साली को फ़ाड़ डालो…! ‘ मेरे चूत में एक मीठी सी, प्यारी सी कसक उभर आई. मैं बोला- जरुर लो मेरी जान …फिर मैं खड़ा हुआ, उसने मेरा टी-शर्ट उतारा और और मेरे सीने को चाटने लगी। इसमें बड़ा मजा आ रहा था.

नेपालन की सेक्सी वीडियो बीएफ मुझे लगा कि मामी अब बाहर निकलेगी तो मैंने मामी को पेट के नीचे हाथ डाल कर पकड़ लिया और ऊपर से ऐसा जोर लगाया कि लंड अन्दर धंसने लगा. बहादुर के दाँत रीटा की चूच्चे में धंसे तो मदहोश रीटा को लगा जैसे वह बिना चुदे ही झड़ जायेगी.

नेपालन की सेक्सी वीडियो बीएफ वह नीचे से एक तरफ से ब्लाउज उठाती है और फूले फूले भूरे काले चुचूक को बच्चे के मुँह में देकर ऑंचल से ढक देती है…. थोडी देर तक उसका लंड चूसने के बाद उसने अपना लंड मेरे मुंह में से निकाल लिया और मुझसे बोला.

‘आह भैया… आखिर नहीं माने ना… अपने मन की कर ली… हाय… उह्ह्ह्ह!’ सोनू ने मुस्करा कर मुझे जकड़ लिया.

हिंदी फिल्म सेक्सी वीडियो

? चिंता मत करो, तुम चाहोगे तो तुम्हें निशा और मंजू की चूत भी दिला सकती हूँ। लेकिन उसके लिए पहले तुम्हें मुझे खुश करना पड़ेगा।”वो नहीं जानती थी कि दोनों पहले ही चुद चुकी हैं…. कहानी का पिछला भाग :मेरी बीवी की पहली चुदाईदोस्तो, मैं आज अपनी चुदैल बीवी नीना की वह दास्तान बताने जा रहा हूँ, जिसके बाद हम दोनों की जिंदगी में बहार आ गई. दर्द के बारे में बताने पर देवर मुझे उसी पोज में अपने ऊपर लिटा कर खुद ही नीचे से धक्के मारने लगा.

उनकी चूचियों को चूमता रहा और उनके चूचुक उमेठता रहा और पीता रहा।जब लगा कि उनका दर्द कम हो गया है और उन्होंने नीचे से कूल्हे उठाना शुरू कर दिए थे. उन दोनों ने अन्दर आते ही कूपे को अन्दर से लाक कर लिया और दोनों मेरे पास आ कर खड़े हो गए. मैंने कहा- हाथ तो अंदर डाल ले!उसने मना कर दिया, मुझे बहुत गुस्सा आया पर मैं शांत रहा और अपना अपना लण्ड पजामे से बाहर निकल कर उसके हाथ में दे दिया.

जब बाजी की गांड एकदम गीली हो गई तो राहुल अंकल ने अपनी एक उंगली बाजी की गांड में पेल दी तो बाजी जोर से उछल पड़ी- उई अम्मी ओह्ह्हह्ह,आह्ह्ह बहुत दर्द हो रहा है! थोड़ा धीरे पेलो अपनी उंगली को मेरे चोदू राजा!तभी राज अंकल ने बाजी की चूत को देखा तो देखते ही रह गए- वाह! क्या मस्त चिकनी चूत है! एक भी बाल नहीं!राज अंकल ने चूत को सहलाया और अपनी एक उंगली को चूत में पेल दिया और अपनी उंगली को आगे पीछे करने लगे.

ये खूबसूरत और बहुत ही उत्तेजक हैं।’कहते हुए मैं उसकी गांड और चूत चोदने लगा… करीब बीस मिनट से ज्यादा हो गया था।रागिनी कहने लगी- मेरे पैर दुःख रहे हैं. । झंडे बेटा, मैं पिछले छः सालों से किसी मर्द के लंड की भूखी हूँ। आज तेरा लंड पाकर तेरी चाची धन्य हो गई…. फ़िर से नीचे बैठने पर यही प्रक्रिया होने से दुगुना मजा आने लगा लेकिन थोड़ी ही देर में मेरी जांघों में दर्द होने लगा.

अब तक उन्होंने भी मुझे कपड़ों से अलग कर दिया था और मेरे बदन पर सिर्फ मेरा अंडरवियर ही बचा था!तभी उन्होंने अपने नाज़ुक हाथों से मेरे लण्ड को पकडा और उसे सहलाने लगी. खूब चुदाई करते और खूब काम करते…एक दिन तो उसने मुझे सबके रहते हुए ही कॉपी रूम में पकड़ लिया. सोनिया- ऐसा है तो मैं तुम्हारे साथ ज़रूर आऊँगी … मैं भी तो जानूं आख़िर सेक्स अनुभव कैसा होता है … और जब तुम डॉक्टर हो तो मुझे डरने की क्या ज़रूरत … तुमको तो सुरक्षित सेक्स के बारे में पूरी कहानी ही पता होगी … नो बहाना … चलो चलते हैं तुम्हारे फ्लॅट में ! मगर याद से मुझे आठ बजे तक सुपारा पुलिस स्टेशन तक छोड़ देना, मुझे एक फाइल लेनी है वहाँ से.

‘मजा आया हरामी… गांड चाट कर… ‘ मैंने उसका मुंह सीधा करके महिमा की गांड में घुसा दिया । उसे चाटना ही पड़ा. मगर मुझे परवाह किसकी थी… उसकी कसी गाण्ड में मैंने अपना लंड डालना चालू रखा और पूरा अन्दर तक डाल दिया… फिर धीरे से बाहर निकाला और एक झटके से अन्दर डाला। उसकी गाण्ड को चोदने में मुझे बहुत मजा आ रहा था… एकदम कसी हुई गाण्ड और मेरा मोटा लंड… मैं तब तक उसकी गाण्ड को चोदता रहा जब तक कि वो ढीली नहीं पड़ गई.

वो अपने कपड़े उतारने लगी!तुम कल क्या देख रहे थे?मैंने सोचा कि तुम्हें आज सब कुछ दिखा देती हूँ…इतना सुनते ही मैंने उसके होंठ चूस लिए, वो तड़प उठी जैसे बिन पानी मछली!आकांक्षा ने आज काले रंग की ब्रा और काले रंग की ही पेंटी पहन रखी थी. लेकिन मेरा फ़िर जमीर सर उठा कर खड़ा हो गया और कहने लगा कि यह गलत होगा।और अब वक़्त आ गया है कि मैं आप सबको अपना तारुफ़ करवा दूँ. मेरी स्पीड भी बढ़ रही है !मैं भी अंगुली तेज कर रही हूँ !हाँ मेरा पप्पू भी बहुत जोर लगा रहा है !क्या अभी पप्पू ही है ?हाँ अभी काला नहीं पड़ा है ना पप्पू ही है बिलकुल गोरा चिट्टा ?हाय राम कितना मोटा है ?कोई १.

तभी मेरी नज़र उसकी छोटी स्कर्ट के अंदर उसकी दोनों टांगों के बीच में उसकी काले रंग की पेंटी पर पड़ी जो उसकी दोनों टांगो के बीच से दिख रही थी पर शायद उसको पता नहीं था.

अरे तुम तो घर गयी थी ना… ?” राहुल ने पूछा।हाँ पर भइया आ गए थे… वो ही मुझे अभी छोड़ कर गए हैं… ”तुम रात का खाना हमारे यहाँ खाना… बना लिया है… ”साहिल भी बाथरूम से आ गया था. हम दोनों प्लस टू पास करके वूड्स एक्टिंग स्कूल में जाया करती थी।बहुत दिनों से जूली नहीं आई, मालूम चला कि वो बीमार है तो मैं उसे मिलने चली गई।मैं- जूली, तू कहाँ रहती है यार आजकल? एक्टिंग स्कूल भी नहीं आ रही?जूली- कुछ नहीं यार! बस अब नहीं जाना, वहाँ अच्छे लोग नहीं हैं!मैं- क्यूँ? अब क्या हुआ … पिछले बार की तरह अब किसी ने तुम्हें छेड़ दिया?जूली- इस बार तो उससे भी बुरा हुआ. बस आँखें बंद किये मैं इन्तज़ार कर रही थी कि कब उसका प्यारा लण्ड मेरी गाण्ड का उद्धार कर दे.

यह प्रैक्टिस तो सिर्फ़ इसलिए कि तू शो में खुलकर एक्टिंग कर सके… अब चलो दो दिन तक मन लगा कर खान अंकल से एक्टिंग सीखो … बायखान सर- चलो अब तुम सुमित इसे ज़मीन में गिराकर एक ज़ोरदार किस करो!सुमित मुझे जमीन पर लिटा कर मेरे गालों को चूमता है …खान सर- साले किस मतलब जानता है…? होंठों पर दे चुम्बन … ठहर, मैं दिखाता हूँ. विश्रांती की मादक मुस्कराहट ने और भी मजा भर दिया… फिर विश्रांती की पेंटी को एक ही झटके में खोल दिया….

खुश इसलिए क्योंकि भाभी मान गई थी और भाभी सभी को मना सकती थी और दुःखी इसलिए क्योंकि अभी शादी में कम से कम एक महीना और लगना था. सुबह उठते ही कोमल ने चाय बनाई… मैंने उसे समझाया- कोमल देखो, आपस में चोदा-चादी करने से घर की बात घर में ही रहती है… प्लीज किसी सहेली से भी इस बात का जिक्र नहीं करना. पर मम्मी का लेक्चर अभी भी चालू था…!!और अगर कभी ज्यादा रिसाव हो तो सावधान रहना कि कपड़े गंदे न होने पाएँ… और खून देख कर घबराना नहीं.

पंजाबी सरदार सेक्सी

कुछ ही देर में मैं झड़ने वाला था, मैंने उससे पूछा- अपना अमृत कहाँ गिराऊँ ?उसने झटपट मुझसे कहा- मेरे मोम्मों पर गिराओ !ऐसा कहकर वो लेट गई और मैंने उसके ऊपर चढ़कर चूचियों के बीच अपना सारा माल डाल दिया….

’ कहते हुए मेरे सर को अपने सीने पर दबाने लगी।मैंने अब उसकी साड़ी को निकालना शुरू किया. मेरी पीठ को सहलाते हुए वो गीलेपन के उस एहसास को महसूस करने की कोशिश करने लगी जो बरसों के बाद उन्हें नसीब हुआ था।मैं झड़ रहा था. बिना दहेज़ के शादी होगी नहीं और दहेज़ मेरे पापा देंगे नहीं!मुझे क्या!अमित अंकल जिंदाबाद!!खाओ पियो चौड़े से, चूत चुदाओ लौड़े से![emailprotected].

धूमधाम से चुदी हुई खस्ता हालत में रीटा के बदन में रह रह कर दर्द की टीसने उठ रही थी. ” सोनिया मस्ती में चीख रही थी।मैं भी मस्ती में जोर जोर से धक्के लगा कर सोनिया की कुंवारी चूत का भुर्ता बना रहा था।ओह्ह. हिंदी ब्लू सेक्सी चुदाईथोड़ी देर ऐसा करने के बाद मैंने उसकी साड़ी और पेटीकोट उतार दिया जिससे अब वो सिर्फ पैंटी में थी। उसका फिगर बढ़िया होने से पैंटी में बहुत सेक्सी लग रही थी.

मैंने उनसे पूछा- बुआ की तबीयत कैसी है?तो उन्होंने कहा- वो शायद बच नहीं पाएगी इसलिए वो चाहती है कि मनीषा(चित्रा की बड़ी बहन) की शादी जल्द से जल्द हो जाए. यह क्या हो रहा है अखिल ??उसने मुझे ऊपर से नीचे देखा …मेरी पतली टाँगें और भरी हुई जाँघें … मेरी चिकनी फुद्दी और गोरी चिकनी बुंड देखकर चुप हो गया.

राजू ने रीटा की हड्डी पसली एक कर दी थी और उसकी जवानी को चारों खाने चित कर दिया था. ‘अब इसे नीचे झुका लो!’ गोमती ने उसके कड़कते हुये लौड़े को अपनी अंगुली से नीचे दबा दिया. चोद ऐसी आवाज़ें मेरे मुँह से अपने आप ही निकलती जा रही थी।मैंने कुल तीन बार कमल से गाण्ड मरवाई।आगे की कहानी अगली बार ……………॥.

दोपहर को दो बजे जब आयशा घर पर वापिस आई तो मैं उससे बात नहीं कर पा रहा था और मैं खाना लगा कर योगी के कमरे में चला गया. मुकेश अब तेजी से मेरे होंठों को तो चूस ही रहा था साथ ही वो दोनों चूचों को भी कसकर दबा रहा था. आखिर तुम्हारा पति क्या सोचेगा? कहीं इस पर दाग ना पड़ जाये! तुम अपने बच्चों को दुधू कैसे पिलाओगी?नीना शर्म से लाल हुई जा रही थी.

मैंने उसको अन्दर बुला कर दवाजा बंद कर लिया, उसको अपनी बाहों में ले लिया और चूमने लगा पर वो अपने को मुझसे दूर करके बिस्तर पर बैठ गई.

कुछ देर इन्तजार करने के बाद श्यामलाल ने मुझे अंदर बुलाया और मुझे अपनी बेटी से मिलवाया. ‘तेरी मां की चूत… अब तो लण्ड का पानी तो निकाल के रहूँगा…’उसने अपना लण्ड मेरी गाण्ड में दबा दिया.

भाभी के स्तन सच में स्वाति दीदी से भी बड़े थे, प्रिया भाभी के स्तन 36′ से कम नहीं थे. इतना मजा आया…फिर भाभी संजू और मैं हम तीनों बिस्तर पर नंगे लेटे रहे।मैंने कहा- भाभी, यह सब क्या किया?भाभी बोली- रॉनी हम रोज-रोज एक जैसी चुदाई कर कर के परेशान हो गए थे तो हमने ऐसा करने की योजना बनाई।संजू बोला- मुझे तुम्हें छिप कर देखने में बहुत मज़ा आ रहा था ! मैं बहुत ज्यादा गर्म हो रहा था !उसके बाद हमने दिन भर सेक्स किया और जब भी हमें मौका मिलता है हम सेक्स करते हैं।. उसके सीधे होते ही उसका लण्ड सीधा खड़ा हुआ, बिल्कुल नंगा, मदमस्त सा, सुन्दर, गुलाबी सा जैसे मुझे चिढ़ा रहा हो, मुझे मजा आ गया.

राजा : बोली ठीक 15 मिनट बाद आरम्भ होगी ताकि आप सभी इस समय में इसके जिस्म का मुआयना कर लें और अपने हिसाब से बोली लगायें. मैंने धीरे धीरे लण्ड मसल पर पिचकारियों का दौर समाप्त किया और अन्तिम बून्द तक लण्ड से निचोड़ डाली. और उनका ज्यादा सख्त नहीं था इसलिए अन्दर भी नहीं गया।मैंने उससे कहा- मैं भी कोशिश करता हूँ.

नेपालन की सेक्सी वीडियो बीएफ अगली रात को मैंने उससे कहा- चल कुछ सेक्स हो जाये!तो वो बोली- नहीं!मैं- क्यों? तू तो मुझसे प्यार करती है फिर क्यों नहीं?शालू- मैं गन्दा काम नहीं कर सकती. शाम को लगभग सात बजे का समय था, भैया टहलने के लिए बाहर गए हुए थे, मैं मौका पाकर सीधा प्रिया भाभी के कमरे में घुस गया और अंदर से कुण्डी लगा ली.

महेशी की दवा

अह उहऽऽमैं उस का उत्साह बढ़ा रही थी!साले चोद दे मुझे!हाँ! मेरी रांड देखती जा!उसने मुझे पलट लिया और घोड़ी बना कर चूत मारने लगा. तब लण्ड रीटा के दाने को रगड़ता हुआ रीटा की बच्चेदानी से टकरा कर रीटा को गुदगुदा जाता तो हरामी रीटा मजे से दोहरी हो प्यार में अपने चूचों को राजू के सीने से रगड़ कर राजू के मुँह पर चुम्बन जड़ देती. मैंने घर पर फोन करके बता दिया कि मैं एक और महीने तक जयपुर रुकूँगा और भाभी उसके बाद नौकरी छोड़ देंगी और हमेशा घर पर ही रहेंगी.

पर मेरा बिल्कुल मन नहीं था, मेरी ज़िन्दगी के सबसे महतवपूर्ण इंसान को कुछ फर्क नहीं पड़ रहा था कि मैं हूँ या नहीं. उधर मैंने देखा कि मम्मी दोनों तरफ़ से चुदी जा रही थी और अपना मुख ऊपर करके दांतों से अपना होंठ चबा रही थी. हिन्दी बियफमैंने उसे कहा कि मैं भी इसी समय ऑफिस से निकलता हूँ अगर आपकी फिर कभी बस मिस हो जाए तो मुझे कॉल कर दीजिएगा, अगर मैं ऑफिस में रहा तो आपको ले लूँगा.

जो नंबर उसने दिए थे मैंने उन लड़कियों को भी फ़ोन किया और उनको भी सेक्स का मजा दिया.

पर आखिरकार वेदांत के पास एक कन्धा तो था जिस पर सर रख वो अपने दुःख बाँट सकता था … वो थी मैं. उसके कारण आज मेरा इज़हार फिर अधूरा रह गया… उसकी वासना की वजह से मेरे निस्वार्थ प्रेम की बलि चढ़ रही थी… और मैं कुछ नहीं कर पा रही थी… पर मन ही मन रश्मि को सबक सिखाने का फैसला ले चुकी थी.

जूली ने एक आँख मारी और उसके पास जाकर खड़ी हो गई।उसने डरते हुए जूली को कहा- मैं पहले कभी नहीं आया ! दोस्तों ने बोला कि मज़े करने हैं तो इस गली में चले जाना।जूली- सच है ! यहाँ बहुत मज़े करवाने वाली हैं। तुझे किसके पास जाना है?जूली ने उसको पास खींच कर चूम लिया और उसके लौड़े को दबा दिया। वो शर्म और डर से पानी पानी हो गया. गेम्स के पीरियड में मुझे क्लास में ले जाकर अपनी शर्ट मेरे सामने उतार कर बोली कि मैं तुमसे प्यार करती हूँ…. ‘छैलू, मुझे एक बार बस, मर्दों वाला आनन्द दे दो…’ उसने कातर शब्द मेरे दिल को चीर गये.

वो रोती ही रही फिर उसे भी मजा आने लगा और वो अपने हाथ मेरी पीठ पर चलाने लगी और बोलने लगी- फाड़ दे मेरी चूत को! भोंसड़ी के! बड़ा तड़पाया है इस चूत ने आज तक! आ… आह्ह्ह ओह्ह्ह… मजे आ गया.

ओऽऽह… ओऽऽऽह… आऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽह… मानों उसका बांध टूट पड़ा है, उसे एक दौरा-सा आता है और वह कमर एकदम धनुष की तरह उठा देती है। …. अब मैं और तान्या ही उस कमरे में थे, मेरा पूरा ध्यान तान्या के होंठो की तरफ था, मैं अपनी कुर्सी से उठा और तान्या का चेहरा पकड़ कर तान्या के होंठों पर एक चुम्बन जड़ दिया. अब उसके बोबे बिल्कुल आजाद थे, मौसमी जैसे उसके भरे-पूरे बोबे और उन पर बारीक़ से चुचूक तो कयामत ढा रहे थे.

क्सक्सक्स भाबीदीपाली के होंठ बहुत रसीले थे… मुझे सबसे ज्यादा मजा उसके होंठों को चूमने में आया।फिर मैं उसके चुचे दबाने लगा। उसके स्तन बहुत बड़े थे और मुझे भी बड़े ही पसंद हैं. चूत पानी छोड़ रही थी… चिकनी हो गयी थी… लंड फिसल कर अन्दर घुसता चला गया… कामिनी के मुंह से सिसकारी निकल पड़ी.

सेक्सी तमिल सेक्सी

तभी मुझे तान्या के पापा श्यामलाल की आवाज़ आई, शायद नौकरों ने तान्या के बेहोश होने की खबर श्यामलाल को कर दी थी, इसलिए मैंने वहाँ से निकलना ही ठीक समझा और तान्या से अगले दिन का कह कर वहाँ से निकल गया. जब हम बहुत उत्तेजित हो जाते थे तो मेरा लण्ड कोमलता से सहला कर मेरा वीर्यपात करवा देती थी. तान्या इतने जोर से चिल्लाई कि उसकी आवाज से पूरा कमरा गूँज उठा मगर दरवाजा बंद होने की वजह से आवाज बाहर नहीं गई.

तब मम्मी जोर फुसकारी मार कर बोली- मेरी जान मुझे इस तरह मत जला! मुझे चोद दे!उसके बाद अंकल ने मम्मी की साड़ी पूरी तरह से उतार दी. और वो दर्द और मज़े में चीखे ज़ा रही थी और मैं सिर्फ़ और सिर्फ़ चोद रहा था… कह सकता हूँ कि खूब बेरहमी से चोद रहा था. फिर एक दिन मुझे कहीं काम से बाहर जाना था, तो उसने मुझे एक जगह छोड़ने को कहा तो मैंने उसको हाँ कर दिया.

मैंने उसे उठाया और अपने कमरे में ले जाकर ब्रा लंड पर रख कर चित्रा के नाम की मुठ मारने लगा. मैंने कहा- ऐसा नहीं हो सकता!तो आंटी ने कहा- क्यों?मैंने पूछा- अंकल नहीं करते क्या आपके साथ?तो आंटी ने कहा- करते हैं पर तुम बताओ कि करोगे या नहीं?तो मैंने कहा- ठीक है!फिर मैंने कहा- आज नहीं, फिर कभी!उन्होंने कहा- आज क्यों नहीं?तो मैंने कहा- बस ऐसे ही!फिर आंटी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और मेरे होंठो पर अपने होंठ रख दिए और उन्हें चूसने लगी. तैयाऱ होकर वो बाहर चले गए। थोड़ी देर में ही बाकी घरवाले भी आ गए।उसके बाद मैं 12 दिन वहाँ थी। रोज़ किसी ना किसी बहाने से हम एक दूसरे के करीब आते और 4-5 बार वो मुझे चोद भी चुके थे। वो पल भूलते नहीं। लोगों के लिए यह गलत हो सकता है, पर हम दोनों के लिए बहुत खास एहसास था।अपनी राय मुझे इस पते पर भेजें।.

अनिल मेरे होंठों को जोर जोर से चूस रहा था, मैंने हाथ उसकी कमर पर ढीले से छोड़ रखे थे. उसने अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी… और अपनी आँखे बंद कर ली। हमारे आस-पास पानी ही पानी था…और हम प्यासे थे…।साँस फूल गई और हम ऊपर सतह पर आ गये… ऊपर आकर थोड़ी दूरी बना ली ताकि किसी को शक न हो। दूर से ही एक दूसरे को इशारा करते…गोता लगाते…पानी के अंदर किस करते….

रीटा की बन्द चूत अब नये नये फूल की तरह थोड़ा सा खिल कर छोटी भौंसड़ी बन गई, चूत की बाहरी फाकें खुल सी गई थीं और बीच में से गुलाबी पंखुड़ियाँ अब दिखाई देने लगी थी.

’ की आवाज निकलने लगी, पर मैं पूरी तरह से उनकी भरी भरी चूचियों को दबाता रहा उनके चुचूकों को ऊँगलियों के बीच लेकर मसलने लगा।मैडम अब सिसकारियाँ भरने लगी- नहीं. सेक्स चुड़ै वीडियोश्यामलाल के पास कोई विकल्प नहीं था इसलिए उसने मेरे माता-पिता के सामने मेरी और तान्या के शादी का प्रस्ताव रख दिया जिसे मेरे माता-पिता ने मान लिया. आदिवासी सेक्सी बीपीआअह्ह! भाभी का बदन अकड़ने लगा था, उनका पानी निकलने वाला है यह मैं समझ गया… मैंने अपनी एक उंगली उनके मुँह में डाली, उन्होंने काट ली, फ़िर उसे धीरे धीरे चूसना शुरू किया. नहीं, यह एक बहुत हसीन, बहुत रंगीन और जज़बातों से महकती दास्तान है। बस इसके जो किरदार हैं काश वो.

बहुत ही प्यार से बोली- ये मेरे लिये हैं? सच में ?मैंने कहा- हाँ !फिर मैंने उसका हाथ अपने हाथो में लेकर कहा- एक डांस हो जाए.

अगली रात चली तो गई लेकिन अँधेरा होने की वजह से किसी और की बाँहों में जा बैठी!या सोचा समझा धोखा था? जो भी था, रहस्य है, दो के साथ? बहुत आया! क्या बहुत आया?जानने के लिए अगली कड़ी ज़रूर पढ़ना![emailprotected]. सप…”राहुल ने निखिल का सर पकड़ लिया और हल्की-हल्की आह भर के अपना लंड चुसवा रहा था। उसकी आँखें नशीली हो गई थी।करीब दस मिनट तक निखिल राहुल की जांघों से लिपटा उसके लंड को ऊपर से नीचे तक चाट-चाट कर चूसता रहा। अब राहुल से रहा नहीं जा रहा था।उठ. एक दिन फिर उसने मुझे कॉल किया और कहा कि आज उसे घर जल्दी जाना है इसलिए क्या मैं उसे छोड़ सकता हूँ?मैं उस दिन ऑफिस नहीं आया था पर मैंने कहा कि हाँ जरूर! आपके ऑफिस के पास आकर आपको कॉल कर दूंगा और उनका नंबर सेव कर लिया.

वह मेरे चूचों का मर्दन करने लगा… चूत का दाना बीच बीच में सहलाने लगता !अब वो अचानक से पलटा और मेरे ऊपर आकर मेरी चूत पर अपने लण्ड का हक़ साबित करने लगा. मैंने गांड फैला कर उसके छिद्र में थूका और ऊँगली को घुमाते हुए धीरे धीरे ऊँगली अन्दर करने लगा। आधी ऊँगली अन्दर जाते ही उसने कहा. जिससे मेरी चूत को ही नहीं गाण्ड को भी दर्द हो रहा था… जैसे चूत के साथ साथ गाण्ड भी फट रही हो…मेरा पानी फिर से निकल गया… तभी उसका भी ज्वालामुखी फ़ूट गया और मेरी चूत में गर्म बीज की बौछार होने लगी… उसका लण्ड मेरी चूत के अन्दर तक घुसा हुआ था इसलिए आज लण्ड के पानी का कुछ और ही मजा आ रहा था…हम दोनों वैसे ही जमीन पर गिर गये। मैं नीचे और वो मेरे ऊपर…उसका लण्ड धीरे धीरे सुकड़ कर बाहर आ रहा था.

तमन्ना भाटिया xxx

जिस तरह पहले उसने मेरा दिल तोड़ा था उसका भी टूटा… उस लड़की ने उसे साफ़ साफ़ कह दिया कि इस उम्र में भले ही एक आकर्षण मात्र. थोड़ी देर में मुकेश मेरे सामने आया और बोला- आँखे खोल!मैंने डर के मारे आँखे खोली तो दंग रह गई, सामने मुकेश का 10 इंच का लौड़ा किसी फन फहराते सांप की तरह लहरा रहा था. चोद… आ जा चोद दे… आ आहमेरे मुंह से ख़ुद ब ख़ुद ये सब आवाजें निकलने लगी।फ़िर मैंने एक हाथ से राहुल का लंड पकड़ा और हिलाने लगी…वो मेरे स्तन दबा रहा था… अ आ आह… मेरा बॉस मुझे चोदे जा रहा था… उसकी स्पीड बढ़ गई।मेरी बुर से पूरा रस निकल चुका था….

मैं नीचे गिर गई मगर राणा अंकल ने मेरी गाण्ड को तब तक नहीं छोड़ा जब तक उनके वीर्य का एक एक कतरा मेरी गाण्ड में ना उतर गया.

उसे देखकर मुझे हंसी आने लगी क्योंकि यह तो वही बात हो रही थी ‘लंगूर के मुँह में अंगूर’कुछ देर बाद लड़के वाले चले गए और शादी छः महीने बाद की तय हुई क्योंकि लड़का अभी पढ़ाई के लिए विदेश जाना चाहता है.

मुकेश का लौड़ा चूसते चूसते मेरा हलक सूखने लगा था लेकिन मेरी चूत तरबतर हो गई थी और शरीर में एक अजीब सी उत्तेजना भर गई थी, मैंने मुकेश से कहा- मेरा हलक सूख रहा है!मुकेश ने कुछ सोचा और फिर मेरे मुँह को कसकर पकड़ लिया और उसमे पेशाब की धार छोड़ दी. गाँव की औरतें : रंडी को सबके सामने चोदो… गंदगी फैला रखी है बाप-बेटी नेमुखिया : हाँ यही होगा ! बांध दो भुवा को और बुलाओ उस रांड को …लोगों ने पापा को पेड़ से बांध दिया पर उनकी आँख खोले रखा ताकि वो मेरी इज्ज़त लुटते हुए देख सकेंमुखिया जी ने धीरे धीरे मेरे सारे कपड़े उतार दिए … मेरी जांघे कंपकंपा रही थी, वो उन्हें छू रहा था …. गांड की सेक्सी वीडियोअबकी बार उसकी टांगें थोड़ी ज्यादा चौड़ी थी और मुझको उसकी पेंटी दिख रही थी मैं वहीं पर नज़र लगाये बैठा था और उसकी बातों का जवाब दे रहा था.

कोई पूछेगा लंच करने को तो कह दूगी आज कल वज़न ठीक रखने के लिए मैं दोपहर में खाना नहीं खाती…वेदांत : जब तुम्हें खाना खाना नहीं है तो क्यों ले के आओगी…मैं क्या अकेले हाल में जा के खाऊंगा…!!मैं: उफ्फ्फ ये लड़का… बस तू मुझसे कोई सवाल मत कर. यह सुनने के बाद मेरी खुशी का ठिकाना न रहा क्योंकि आज मेरे पास वो मौका था जो मुझे कई दिनों से नहीं मिल रहा था. मैं अपने आप को उनसे छुड़ाने का स्वांग करने लगी… क्या करूँ! करना पड़ता है ना… लोकलाज़ भी तो कोई चीज़ है ना! अह्ह्ह्ह वास्तव में नहीं… वास्तव में तो मैं चाह रही थी कि वो मेरा अंग अंग मसल डालें… मेरे ऊपर चढ़ जायें और मुझे चोद दें… पर हाय रे… इतनी हिम्मत कहाँ से लाऊँ… कि जीजू को ये सब कह सकूँ.

और कपड़े डाल कर चल दी।मैडम ने रोका, रेस्ट रूम ले गई ! लेटाया और हॉट वाटर बैग मेरी चूत पर रखा !आराम मिला, मैडम ने पेन किल्लर दिया !मैं थोड़े देर में चुपचाप वहाँ से चल दी।मुझे पता था मैडम मुझे नौकरी से निकाल देंगी।मैं दुबारा नहीं गई …हाँ ! घर पर महीने के अंत तक सेलरी पहुँच गई थी …अब अपनी श्रेया को इजाजत दीजिये !. मैंने कहा- क्या?आंटी बोली- तुम्हारे अंकल तो महीने-महीने में आते हैं, क्या तुम मेरे साथ ऐसा हर रोज करोगे?तो मैंने कहा- क्यों नहीं मेरी जान! अब तुम मेरी हो.

’‘तो क्या हुआ, मेरे भगवान है वो, चाहे जो करें… जैसे करें!’तभी बॉबी के कमरे से कुछ खटपट की आवाजें लगी.

उसने मेरी टांगें फैलाई …चोदो ना जल्दी सर … अहह ! लेकिन आराम से करना !मेरा पानी जांघों से बह रहा था !उसने कैसा बॉय फ्रेंड है जो इस रेशम सी कोमल लड़की को कुँवारी छोड़ा हुआ है. थोड़ा आराम करने के बाद… मैंने बोरोलीन क्रीम ली, अपने लंड पर और रानी की गाण्ड पर खूब अच्छे से लगाई… रानी को पेट के बल लिटाया और धीरे से अपना लंड उसकी गाण्ड के छेद में टिका दिया… उसकी गाण्ड कुंवारी थी. थोड़ी देर के बाद मैंने भाभी से पूछा- आपने कल ऐसा क्यों कहा कि कोई देख लेगा? क्या आपको इस पर ऐतराज नहीं था?तो वो बोली- मुझे पता है कि तुम और स्वाति पहले सेक्स कर चुके हो.

कुत्ते की चुदाई आह……सॉरी सॉरी करने लगी।मैंने कहा- शीला मैं छुटने वाला हूँ !तो शीला बोली- गांड में नहीं, मैं तुम्हारा रस अपनी चूत में लेना चाहती हूँ !मैं रुक गया, अपना लंड निकाला और शीला को सीधा लिटा कर उसकी चूत में अपना लंड डाल कर तेज धक्के मारने लगा। शीला भी चूतड़ उछाल कर मेरा साथ देने लगी और जोश में आकर आह …… स …. ‘नहीं रे… तेरी गाण्ड तो ठीक है बिल्कुल… बस छेद में थोड़ी लाली है या सूजन है… ‘‘अन्दर जलन सी लग रही है…’ मैं कुछ कुछ बेचैन सी हो गई थी.

रीटा मचलने के बहाने अपनी फड़फड़ाती चूत को राजू के लण्ड को चूत में गपकने लगी तो राजू शरारत में लण्ड को पीछे खींच कर रीटा को सताने लगा तो रीटा ने राजू की गाल पर जोर से चपेड़ लगा कर गन्दी गन्दी गालियाँ बकने लगी- बहनचोद! माँ के लौड़े, अब डाल अंदर और चोद अपनी बहन को! साले मादरचोद, चोद नाऽऽऽऽ. खुले गले में से उफनते उरोजों की छोटी छोटी गुलाबी चुचकियाँ बहादुर की आँखों से लुका छिप्पी खेल रही थी. श्यामलाल ने बाहर कुछ देर इन्तजार करने के लिए कहा और बोला- कुछ ही देर में मेरी बेटी भी यहाँ आने वाली है तो तुम भी उससे मिल सकते हो और जल्द से जल्द पढ़ाना शुरू कर सकते हो.

हिंदी फिल्म हीरोइन सेक्सी वीडियो

केवल मेरे ही कपड़े उतारोगे तो कैसे काम चलेगा तुम लोग भी तो अपने अपने हथियार निकालो. तुम्हारी जानकारी के लिए बता रही हूँ, सोनिया नंगी हुई पर उसने तुम्हारे आदमियों के मुँह से सुन लिया था कि तुमको यहाँ से भगाने की योजना बन रही है… इस सबके लिए उसने कमज़ोर दिखने का नाटक किया… नहीं तो तेरे आदमियों की क्या औकात जो उसके सामने टिक सकें।अब्बास- बड़ा बोलती है तू… सोनिया का छोड़… तू अपनी बता. जल्दी से कुछ कर ! नहीं तो मैं मर जाऊँगी !”क्या करूँ बुआ ? खुल कर बोलो ना !”क्या बोलू बेशर्म.

मुझे अगले दिन भाभी के घर जाना था मगर मैं पूरा दिन और सारी रात सोनम के बारे में और उसके बारे में मम्मी को कैसे बताऊँगा, यही सोचता रहा क्योंकि सोनम मुस्लिम थी और मैं हिंदू बनिया. मैंने मन ही मन में उन्हें गालियाँ दी- साले भेन के लौड़े, तेरी तो माँ चोद दूंगा मै, माँ को हाथ लगाता है?पर तभी मेरे होश उड़ गये, मम्मी ने तो गजब ही कर डाला.

घर पहुंचा तो मेरी बहन ने जल्दी से आकर मुझसे पापा के बारे में पूछा और तभी अनीता दीदी भी अपने घर से बाहर आ गईं और पापा की खबर पूछी.

फ़िर उसके बालों को पकड़ कर मैंने अपने मुंह की तरफ़ खींचा और चूसने लगी उसके होठों को. भाभी ने उनका परिचय कराया- एक का नाम श्रुति था, वो भाभी की तरह ही मस्त फिगर वाली थी. एक साथ दो लड़कों से चुदाई, आह्… कभी सपने में भी नहीं सोचा था, कि ऐसा स्वर्गिक आनन्द भरा सुख मुझे नसीब होगा.

‘मेरे राजा… मुझे रोज चोदा करो… हाय रे…मुझे अपनी रानी बना लो… मेरे भैया रे…’उसकी कसक भरी आवाज मुझे उतावला कर रही थी. अब मैं भी जाग गया, मैंने कहा- आंटी, क्या कर रही हैं आप? मुझे नंगा क्यों किया?मैंने ऐसे ही झूठ का नखरा किया. चोदू राजू रीटा की तँग चूत के चूस्से को सह नहीं पाया और वह भी रीटा के साथ झड़ने लगा.

’‘और गोमती, दिन में दो बार भी चुद गई!’‘देर से ही मानो, पर हमने इतना सब्र तो किया ना, मिला ना फ़ल!’‘हाँ री, मिला क्या, लगता है अब तो रोज ही मिलेगा यह फ़ल!’‘दीदी, एक बार चारों से एक साथ चुदवा कर मजा ले!’‘साली मर जायेगी…’‘अरे दीदी, अभी तो मौका है… जाने फिर ऐसा समय आये, ना आये?’दोनों ने अपनी निंदासी आँखें खोली और अपनी आँखें एक दूसरे की आँखों से लड़ा दी.

नेपालन की सेक्सी वीडियो बीएफ: तेरी फ़ुद्दी नहीं फड़क रही क्या………सोमा ने मुझे देखा और कमल से बोली- पकड़ इसको………कमल ने तेजी से लपक के मुझे पकड़ा और घसीट के वहीं पटक दिया……मैं कराह उठी…. पर अब्बास के हाथ ने अभी भी मोना के दोनों हाथों को कसकर जकड़ा हुआ था और मोना को छूटने का कोई भी मौका नहीं दे रहा था…अब्बास ने अपने दूसरे खाली हाथ से मोना के बदन पर बचा आखिरी लिबास उसकी पैंटी को भी नीचे खिसका दिया और जैसे ही मोना की पैंटी नीचे खिसकी.

आशा करता हूँ सभी चूतों और लौड़ों को मेरी यह कहानी भी पहले वाली कहानियों की तरह ही पसंद आएगी. और इधर माँ का बुरा हाल था- आआह्ह्ह ओह्ह्ह्ह उह्ह्ह्ह मह्ह्ह्ह अहाआअफिर मैंने उन की दोनों टांगें फैलाई और बीच में आ गया. मैंने कहा- हाँ, यह ठीक रहेगा !फिर हम काफी देर तक एक दूसरे की गर्दन में बाहें डालकर चिपककर बैठे रहे। तब तक 5 बज चुके थे.

”हमने 20 मिनट सामान रखने में और संवारने में बिताए, अंत में मैं दोपहर के भोजन पूर्व एक ठंडी बीयर लेने और बरामदे पर ठंडक लेने के लिए चला गया।करेन ने छोटे रसोईघर से मुझे देखा,”ठीक है, मुझे लगता है कि मैं अपने कमरे में जाऊँ और कपड़े बदल लूँ और मुझे लगता है तुम भी….

मैं काफी गोरा हूँ, मेरा वजन 56 किलो है, मैं काफी चिकना हूँ और मेरी टाँगें और गाण्ड तो एकदम लड़कियों जैसी ही है. हुम्म… आह!फिर मैंने उन्हें सोफे पर ही लिटा दिया और उनके पूरे शरीर को दबोचने लगा। चाची भी पूरे जोश में थी और मेरे बालों में तो कभी मेरे हाथों को सहलाती। अब चाची चुदने के लिये बिल्कुल तैयार हो चुकी थी, वो ऐसे तड़प रही थी जैसे सालों से भूखी हों।मैं उनकी नाईटी खोलने लगा कि अचानक दरवाज़े पर घण्टी बजी, घण्टी की आवाज़ सुनते ही हम दोनों घबरा गये और रुक गये। तभी हमरी नज़र सामने लगी घड़ी पर पड़ी, शाम के 5. ’‘छीः मैं गाण्ड नहीं मारता… भोसड़ी की आई है बड़ी गाण्ड मराने वाली!’‘गाण्डू है मेरा देवर, भाभी की इतनी सी इच्छा पूरी नहीं कर सकता?’‘मां की लौड़ी, मुझे कह रही है, भेन दी फ़ुद्दी, गाण्ड फ़ट के हाथ में आ जायेगी!’‘ओह्हो, बड़ी डींगे मार रहे हो, और भड़वे, गाण्ड नहीं चोदी जा रही है?’वो गुर्रा कर और उछल कर मेरी पीठ पर सवार हो गया.