तेलुगु तेलुगु बीएफ

छवि स्रोत,न्यू बीएफ सेक्सी फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ वीडियो करने वाला: तेलुगु तेलुगु बीएफ, इधर मुझे पता चला कि ज़िन्दगी में पहली बार मुझे लड़कियों के साथ एक ही रूम में पढ़ना पड़ेगा.

बीएफ पिक्चर इंग्लिश बीएफ

हम दोनों एक दूसरे के ऊपर लेटे हुए थे, वो पूरी नग्न थी, सिर्फ एक पैंटी पहनी हुई थी. पंजाबी बीएफ भेजोमेरी गांड में उसका मोटा लंड घुसा, तो मैं बस तड़फ गई … मगर दो तीन शॉट के बाद ही मेरे मुँह से मस्त आवाजें निकलने लगीं- बसस्स … अहह उफफ्फ़!करीब आधे घंटे तक उसने अलग अलग पोज़ में मेरी चुत और गांड मारी.

भाभी ने मेरे लंड को पकड़ा और अपने हाथों से उनकी चूत पर सेट कर के ऊपर नीचे होने लगी. अनुष्का शेट्टी की सेक्सी बीएफउसके बाद वो अपनी उंगली मेरी नाभि पर फेरने लगे और उनका टाइट लंड मेरी गांड पर एकदम ज़ोर से दबा जा रहा था.

अंकल- तुम्हारे पास कौन सी कार है?मैं- मेरे पास कार नहीं है … क्योंकि मुझे कार चलाना नहीं आती.तेलुगु तेलुगु बीएफ: अब दोनों पूरे गर्म हो गए थे, मैं अपनी फुल स्पीड से चोदने लगा।आहह आहह ऊईई ऊईई सीईई सीईई आहह करके वो लंड ले रही थी।फिर मैंने उसे घोड़ी बना कर जमकर चोदा।उसके बाद उसकी टांगों को चौड़ा करके चोदने लगा और थोड़ी देर बाद दोनों एक साथ पानी छोड़ दिया और चिपक कर लेट गए।20 मिनट बाद मैंने उसकी गान्ड में लन्ड रगड़ना शुरू कर दिया.

मेरी पिछली कहानी थी:बीवी की चुदाई में भानजी भी चुद गयीआज मैं आप सबके लिए अपनी न्यूड भाभी सेक्स कहानी लेकर आया हूं.मेरे मजबूत डोले और उभरी हुई चेस्ट को देख कर अब लड़कियां मेरी ओर आकर्षित भी होने लगी थीं.

बीएफ सेक्सी चाहिए इंग्लिश में - तेलुगु तेलुगु बीएफ

उसकी चूत को पांच-सात मिनट तक चाटने के बाद जब उससे रहा न गया तो वो बोली- बस करो मैडी … आह्ह … मेरी जान निकलने वाली है, जल्दी से कुछ करो, मैं और बर्दाश्त नहीं कर पा रही हूं.इस पर मैं कुछ सोचने लगा, तो उमेश सर बोले- चिंता मत करो, मैं इन फोटो को किसी को भेजूंगा नहीं … ना ही तुमको कोई दिक्कत होगी.

ज़ोहरा अपने मन में हैरान परेशान सी सोच रही थी कि इतना बड़ा लंड इस दुनिया में किसी इंसान का नहीं हो सकता. तेलुगु तेलुगु बीएफ कमरे में अँधेरा था, जिससे उसे पता नहीं चला कि उसके साथ ये सब राजीव कर रहा है.

थोड़ी देर बाद चाचा भी खाना खाने आ गए तो थोड़ी देर बातें करके घर आ गया.

तेलुगु तेलुगु बीएफ?

मतलब भाभी जी ऐसा जाहिर कर रही थीं कि वो किसी से बात करते समय खिलखिला रही हैं. करीब आधे घण्टे के बाद मेरे लन्ड ने दोबारा खड़ा होना शुरू किया। मैंने ज्योति से कहा- ज्योति, अब मैं तुम्हारी गांड मारूँगा. मैंने उससे ही पूछा तो उसने मुझसे नाम और सारी डिटेल पूछ कर कार्ड बना दिया.

मैं नहीं रोकूंगी।मैंने ज्योति को उठा कर बैठा दिया और उसे अपना लन्ड चूसने का इशारा किया तो वो मेरे लन्ड को अपने मुख में लेकर चूसने लगी।कुछ देर उसे अपना लन्ड चूसने के बाद मैंने कहा- ज्योति, चुदाई के लिए तैयार हो. मैंने उसे वापस अपने लौड़े पर बिठाया और किस करने लगा।दोनों बहनों की टाइट चूत इस बात की गवाह थी कि इनकी खातिरदारी किसी ने काफी वक्त से नहीं की है।मैंने मेघा की नंगी पीठ पकड़ी और फिर हल्के हल्के लण्ड अंदर करने लगा. भाभी मुझे अपने रूम में देखकर घबरा गई और उठ कर खड़ी हो गई और बोली- तुम यहां क्या कर रहे हो?मैंने जवाब दिया- भाभी भाई बाहर रहते हैं, इसीलिए आप उदास रहती हो.

उन्होंने आँख मारते हुए कहा- अब से तुम ही मेरी बीवी की कमी पूरी करोगी. उसने मुझे बेड पर धकेला और मेरे तने हुए लंड को एकदम से अपने मुंह में भर लिया. मुझे तो इतना सेक्स चढ़ रहा था कि मैंने उनसे कुछ नहीं कहा, बस चूमने में सर का साथ देने लगा.

लेकिन फिर मैंने उस सेक्सी लेडी को अच्छे से देखा, उसकी उम्र लगभग तीस बत्तीस साल के आसपास रही होगी. बुआ बोलीं- हां, पर हममें से किसी को तैरना भी नहीं आता … और यहां खुला भी है, तो हम यहां नहा भी नहीं सकते.

अब मुझे सामने से काजल का फिगर दिखने लगा था … तो मैं अब आपको काजल का फिगर बताना चाहूंगा.

उस पर एक बार जिसकी भी नजर पड़ जाए, तो समझो वो उसके शरीर को पूरा निहारे बिना नहीं रहेगा.

यह कहानी मेरी पड़ोस में रहने वाली भाभी ज्योति के प्यार की चुदाई वाली है। ज्योति भाभी अपने पति और 1 साल की लड़की के साथ मेरे घर के पास वाले मकान में किराये पर रहती थी. फिर एक दिन उमेश सर ने होमवर्क दिया था, तो कई बच्चों की तरह मैं भी उनका दिया हुआ होमवर्क नहीं कर पाया था. मैंने घर से सर के घर जाकर पढ़ने की परमीशन ले ली और अगले दिन सर से बोला- ठीक है सर मैं आपसे पढ़ने को राजी हूँ.

मम्मी दर्द से चीखने लगीं और कहने लगीं- आह आह … मुझे मीठा मीठा दर्द हो रहा है. मैंने बगल में पड़ा एक स्केचपेन उठाया और चुत चोदते हुए उनकी गांड पर दिल के आकार की डिज़ाइन बनाने लगा. तब तक मामी पीछे पलटी तो आगे से उनके चूचों की गहराई और उनके काले निप्पल उस पीले ब्लाउज में साफ दिख रहे थे.

फिर थोड़ी देर बाद हमने एक ही रजाई कर ली और मैं उसके ऊपर चढ़ गया और अपने होंठ उसके होंठों पे लगा दिए.

आप मम्मी-पापा को आप ये बोल देना कि मेरे दोस्तों ने उनके घर पर पार्टी प्लान की है, हमें वहाँ जाना पड़ेगा।तो दीदी मान गयी।शाम को हम पापा के पास गए और जैसा प्लान किया था, वैसा बोल दिया।पर पापा ने मना कर दिया। क्यूंकि वे अपने घर की लड़की को रात को कहीं बाहर जाने नहीं दे सकते थे।पर बाद में मैंने भी कहा- पापा, कुछ गलत नहीं होगा. थोड़ी देर बाद वो मेरी नजरों का पीछा करते हुए अपने जिस्म को देखने लगीं और वो मुस्कुराते हुए अपना पल्लू ठीक करने लगीं. जब भी भाभी के पति घर आते, तो वो मुझसे बात करने के लिए बाथरूम में चोरी से फोन लेकर जातीं.

वो बोलीं- इसमें क्या है, तू हमारा भतीजा है … तेरे लिए इतना तो हम कर ही सकते हैं. लेकिन मुझे उसकी सिसकारियां सुन रही थी जिनको सुनकर मैं जोर जोर से उसकी चूत सहलाने लगा. मॉम वहीं झुक कर अंकल का लंड मुँह में लेकर चूसने लगीं और आगे पीछे करने लगीं.

मैंने उससे पूछा- आपको कहाँ जाना है?तो वो बोली- मुझे मधुबनी जाना है.

लेकिन दूसरी बार खत्मा लगाने से पहले मोनिका ने अपने हाथ से लंड सैट किया और बोली- डालो!मैंने एकदम धक्का दिया और मेरा पूरा लंड मेरी बहन की चूत में चला गया. 5 इंच का पूरा लंड माही की चुत में घुस गया था, जिसके कारण वो दर्द के मारे जोर से चिल्लाने लगी.

तेलुगु तेलुगु बीएफ दस मिनट तक उसकी गांड को फिर से चोदने के बाद मैंने आंटी को कहा कि मुझे उसके मुंह में माल निकालना है. एक शाम उसने बातें करते करते मुझसे मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में पूछा तो मैंने कहा कि मुझे कुंवारी लड़कियों में कोई दिलचस्पी नहीं है.

तेलुगु तेलुगु बीएफ साथ ही मैं अपना एक हाथ नीचे ले गया और अपना हाथ अन्दर डाल कर उसकी चूत पर उंगली करने लगा. इस बार मैंने लंड पर थोड़ा ज्यादा सा थूक लगाया और फिर से धक्का दे मारा.

क्योंकि दोनों बुआ के घर एक ही थे, वे दोनों दो भाइयों की पत्नियां थीं.

बच्चों के डिजाइनर कपड़े

आई लव यू और ये जो गाड़ी में खेल चल रहा है, उससे मुझे कंट्रोल नहीं हो रहा है. गांव में हमारे साथ मेरी बुआ की लड़की रहती थी, वो बचपन से ही हमारे यहां रहती थी, यहीं पढ़ी और यहीं से उसकी शादी हुई. मैं अपने बेटे के भविष्य के लिए एक पुलिस इंस्पेक्टर से चुदवाने के लिए राजी हो गई थी.

फिर मैं तैयार होकर कॉलेज चला गया, लेकिन पूरे दिन मेरे दिमाग में वो ही घूमती रही. मैंने आगे हाथ बढ़ा दिए और उसकी दोनों चूचियों को पकड़ कर उन्हें मींजते हुए उसकी चुत में ताबड़तोड़ लंड चलाने लगा. मेरे सास ससुर ने भी मना नहीं किया और मैं अपनी ननद के यहां चली गई।ननदोई जी मुझे स्टेशन से लेने आये.

दरवाजा बंद होते ही फूफा जी की आंख खुल गई, वे खड़े हुए और उन्होंने अम्मी को पकड़ लिया.

उसके दांत भींचे हुए थे और वो अपनी मुट्ठियों को बांधें हुए लंड को झेल रही थी. अब दीदी भी पूरी गर्म हो गई थीं, तो दीदी ने उठ कर उसका लंड पकड़ लिया. गांड मरवाने की कहानी में पढ़ें कि जवान होते ही मेरी गांड में खुजली होने लगी थी.

नीता अपनी नाइटी ठीक करके वापस से जाने लगी तो मैंने उसका हाथ पकड़़ कर कान में फुसफुसाया- मैंने जो कहा था वो काम कब करेगी?वो मेरे कान में फुसफुसाते हुए बोली- मैं अब जाकर शिल्पी को गर्म करूंगी और उसको किसी बहाने से बाहर भेजूंगी. उसके मुंह से एकदम से कामुस सिसकारियां निकलने लगीं- आह्ह … फक मी मैडी… आह्ह … फास्ट … फक मी कमॉन… चोदो मुझे, और तेज … आह्ह बहुत मजा आ रहा है. उमेश सर- लेकिन तुम लड़कियों वाले कपड़े पहन कर डांस करो, मुझे कपल डांस बहुत पसंद है.

प्लीज़ निकाल लो प्लीज़ …भाई ने लंड नहीं निकाला और मुझको किस करने लगा. उसने एक पिंक कलर का सूट पहन रखा था, जिसमें वो बहुत सुंदर लग रही थी.

फिर आंटी ने पूछा- अब तुम ये बताओ कि मैं तुमको कैसी लगती हूँ?मैंने उनके सीने के उभारों को देखते हुए कहा- आप बेहद खूबसूरत हो, कॉलेज के समय में तो आपके बहुत दीवाने होंगे … आपको पाने के लिए लड़कों की लाइन लगी रहती होगी. इसी तरह दस मिनट के बाद जब मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूं तो मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उनके मम्मों के ऊपर सारा पानी डाल दिया. लंड लेते ही उसकी एक सिसकारी निकल गई और वो मुझे गाली देने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… मादरचोद … ओह … मार ही दिया … आह … चोद भोसड़ी के … आंह … अन्दर तक पेल दे.

लंड हिलाते समय मैंने उसके लंड का विकराल रूप देखा, तो मेरी धड़कनें बढ़ गई थीं.

उसको गौर से देखा मैंने; हल्की सांवली रंग और भूरी आँखें, कन्धे तक बाल उसकी खूबसूरती को और बढ़ा रहे थे. मैंने उन पर अपना थूक लगाया, फिर अपने लंड का माल लगाया और उसके मुँह में चूसने के लिए दे दिए. उसके नग्न होने के बाद मैंने टाईलेट के कमोड को ढक कर उसे उस पर बैठा दिया और अपनी चूत उसके लण्ड में घुसा कर उसके गोद में बैठ गई.

मैं नीचे से धक्का लगाता रहा और उसकी चूचियों को अपने होंठों से चूसने लगा. उसी समय जैसे ही मैं पीछे को हटा, तो उन्होंने फिर से मेरे होंठ जकड़ कर होंठ चूसने लगीं और मेरे हाथ अपने मम्मों पर रख दिए.

मैं पास ही में हुई क्रिसमस पार्टी से आ रहा था कि बीच रास्ते में ही बारिश होने लगी. भाभी ने भी कहा कि हां यार मैं भी यही चाहती हूँ पर मौका ही नहीं मिल रहा है. मैंने उसको देखकर मुठ मारी और अपनी मॉम की चुदाई ख्यालों में ही कर दी.

गोल्ड की चैन

वो तड़प उठी और मुझे गालियां देने लगी- कुत्ते हरामी छोड़ मुझे … साले मेरा मन तो है मगर तूने मुझे परेशान किया तो मैं नहीं चुदूंगी.

मगर वो ज्यादा देर तक लड़की के द्वारा हो रही लंड चुसाई के सामने टिक नहीं पाया और उसने उस लड़की के सिर को अपने लंड पर दबा दिया. तो अम्मी ने शकील को फोन किया और सारी बात समझाई और कहा- मैंने कोशिश कर ली. पिछले भागमेरी पड़ोसन मस्त चोदने लायक मालमें अब तक आपने पढ़ा था कि मैं भाभी को अपनी गोद में बिठा कर उन्हें कार चलाना सिखा रहा था.

जल्द ही वापस ले लूंगी अपनी चूत में इसको।मैं खड़ा हुआ और तेल की शीशी उठा लाया. मैं- तब तो और मजा आएगा रे छिनाल … और अब तो तेरी गांड बिना तेल के ही मारूँगा … और अब ज्यादा बोल मत, जो बोला है. बीएफ काजोलउसके कपड़े हमारे घर में भी कुछ रहते थे।अब सागर ने बस शॉर्ट्स पहना और शर्ट उतार दिया.

हल्का सा धक्का लगाते ही मेरे लंड का सुपारा उसकी चिकनी चूत में घुस गया. करते हुए मैंने रानी की चूचियों को जोर से दबा दिया और वो मेरे होंठों को काटने लगी.

ये बात तो खुलकर कर रही हैं, पर आज तक किसी और से नहीं चुदीं, तो मेरे लंड से कैसे चुदेंगी. अब उसके टांगें एक तरह से मेरी कमर से लता सी लिपटी हुई थीं और लंड का स्पर्श चुत से हो रहा था. मैंने पूरे नौ महीने तक हॉस्टल में रह कर हर दिन घर की उस वीडियो रिकॉर्डिंग को देखा था और मैं हस्तमैथुन कर लिया करता था.

मेरा एक हाथ लंड पर था इसलिए मन में सेक्स के अलावा कुछ ख्याल नहीं आ रहे थे. मैं तैयार होकर आती हूँ।घर पर उसने सलवार कमीज उतार कर लाल रंग की साड़ी पहन ली. इसका मतलब यह लेडी सेक्स के लिए मुझे जिगोलो समझकर आज रात के लिए यहां अपने घर पर लाई है.

कभी एक बार फिर मुझे ही आकर खड़ा करना पड़े!!चाची अब हर बार डबल मीनिंग बात कर रही थी.

मैं उठी और उनके पास गयी और जाते ही नीचे बैठ कर उनके पैर पकड़ कर रिक्वेस्ट करने लगी. कोई 30 मिनट तक नहाने के बाद मुझे तैरता देखकर छोटी बुआ बोलीं- मयूर, तूने बोला था कि तू हमें भी तैरना सिखाएगा.

मुझे अंतर्वासना सेक्स कहानी साइट पर चुदाई की कहानियां पढ़ना बहुत अच्छा लगता है. मैंने भी उसे अपनी बांहों में उठाते हुए बेड पर लिटा दिया और उसके ऊपर चढ़ गया. फिर क्या हुआ?दोस्तो, मैं आपको अपने जीवन की एक सच्चाई बताना चाहता हूं.

पर मुझे आज कुछ अजीब सा लगा क्योंकि मॉम ने कभी हमें इतनी जल्दी सोने को नहीं बोला था. मेरे शौहर चुप हो गये और उसने मेरी कमर पकड़ कर एक झटके से अपना लण्ड मेरी चूत में घुसा दिया. मैं सोच रहा था कि अब जब भी मुझे अगला मौका मिलेगा तो मैं दीदी की चूत को पैंटी उतार कर देखूंगा.

तेलुगु तेलुगु बीएफ एक ही झटके में मेरा पूरा लंड अपनी दीदी की चिकनी चुत के घर में सड़ाक से घुस गया. सेकंड एसी में बहुत सी बर्थ ऐसी भी थीं, जिनमें सारी छह की छहों बर्थ खाली थीं और पर्दे भी लगे थे.

स्पर्म चेहरे पर लगाने के फायदे

खुशबू के चूचे काफी बड़े और टाईट हैं, उसकी गदराती जवानी को देखकर कोई भी उसे चोदना चाहेगा. इस पर वो मुस्करा दी और थैंक्यू बोल कर मुझे डाइनिंग टेबल के पास आने को बोल कर किचन में चली गयी. मैंने थोड़ा और सोचा और कहा- हमें राजा ही बनना है ना … तो क्यों न नंगे ही राजा बनें? अगर तुम्हें कोई प्रॉब्लम ना हो तो हम सिर्फ गहने पहन कर हम ये कर सकते हैं.

कुछ दिन उधर रुक कर मैंने अपनी बहन की चुत को भोसड़े में तब्दील कर दिया था. मैंने अपनी भानजी से कहा- बेटा, मैं जीजा जी को मना लूंगा लेकिन पहले तुमसे पूरा मामला समझना पड़ेगा. राजस्थानी बीएफ ब्लूकमरे में आते ही सबसे पहले भाभी ने मुझे वह गोली खिला दी और उन्होंने भी खुद एक गोली खा ली.

ज़ाफिरा- साली कुतिया … भाई का लंड समझ ही मत न … बस इतना समझ कि ये लंड है और तेरी चुत में घुस कर मजा दिलाएगा.

सच कहूं तो मैंने कभी इतने बड़े लंड से सेक्स नहीं किया था, मन बहुत था लेकिन, मौका नहीं मिला. गजब की सेक्सी माल लग रही थी वो!शहर में तो पता नहीं कितनों पर रोज बिजली गिराती होगी.

कभी मैं उनके पेट को टच करता, तो कभी ब्रेक लगा कर पीठ पर किस कर देता. मैंने मुस्कुरा कर उससे अपने प्यार का इजहार किया और उसको अपनी गोद में उठाकर बाथरूम ले गया. इसके कुछ देर बाद मैंने भाभी के पूरे ऊपर के बदन को आइसक्रीम लगा लगा चाटा और साड़ी खोल कर पूरा नंगी कर दिया.

रुहाना बहुत तेज चिल्लाने लगी और कहने लगी- चूत में जलन हो रही है … निकालो इसे … आह्ह … बहुत दर्द हो रहा है.

मेरी बहन आनन्द से उसके सर को अपने चूत पर दबा रही थी और आहें भर रही थी।उसके बाद दूध वाले ने अंजलि की एक टांग उठा कर किचन की स्लैब पर रख दिया और अपना लन्ड निकाल कर उस पर थूक लगा कर मेरी बहन की चूत में घुसा दिया और जोर जोर से चोदने लगा।मेरी बहन वासना से पूरी मदहोश हो चुकी थी. मैंने पूछा- तुमने जो पैसे लिये थे, उनसे क्या किया तुमने?तो उसने कहा- मैं ब्रा पैंटी और चूत को शेव करने का सामान लेकर आई थी. सपाट गोरा पेट और उस पर गहरी नाभि थी, जिसको छूने को मेरे होंठ तरस रहे थे.

सेक्सी बीएफ नंबर वनमैंने मोबाइल में साढ़े सात बजे का अलार्म लगा दिया और उसकी आवाज कम कर दी ताकि अलार्म बजे तो मम्मी जी को ना सुने. लेखक की पिछली कहानी:स्विमिंग पूल में दो कोच से चुदीहाय फ्रेंड्स, मेरा नाम माधुरी है.

सपने में पीरियड्स होते हुए देखना

तब तक भाभी ने चड्डी-ब्रा भी उतार दी।मैंने बहुत सा तेल अपने लण्ड पर लगाया और ज्योति की फूली हुई चूत पर लगाया।अब वापस टांगों के बीच आकर मैंने लगाया निशाना चूत पर और कर दिया लण्ड को उसके हवाले। दे झटके … दे घचाक … शुरू हो गया हमारा चुदाई का प्रोग्राम।हम लगातार एक-दूसरे के साथ लिप-किस में होड़ लगाये हुये थे और नीचे लण्ड अपना काम कर रहा था. दोस्तो, कुछ समय बाद उसने मोहल्ले की ही एक बहुत गरीब परिवार की निहायत खूबसूरत लड़की को भी अपने जाल में फंसा लिया. तब अम्मी ने ज़ोहरा को कहा- ज़ोहरा, तू आज से अकेली और अलग कमरे में सोएगी.

हम दोनों ने चुदाई की स्पीड बढ़ा दी और फुल स्पीड में ऊपर नीचे होने लगे. मैं समझ गया कि सिग्नल ग्रीन है, मैंने उसके हाथ पर थोड़ा सा अपना हाथ चलाया. तभी उसके पापा का फ़ोन आया- घर पर कब तक आ रही हो … इधर और भी काम हैं.

और अम्मी ने भी एक राहत की सांस ली क्योंकि अम्मी को पता था कि शकील अब सुनीता के चक्कर में बार-बार घर आया करेगा. इतना बोलकर अंकल ने पास में रखा लोशन उठाया और अपने लंड पर लगाने लगे. इस तरह से भाभी को जवाब दे देता था और वो मुझसे इसके आगे भी कुछ न कुछ पूछने लगती थीं.

फिर संजय अंकल सीट पर लेट गए और मैं उनके लोवर को उतार कर उलटी हो गई. अम्मी का कहने का मतलब यह था कि शकील कभी सुनीता को अम्मी और शकील की चुदाई के बारे में नाम बता दे.

उसे मेरी जीएफ के बारे में पता था और बाद में मैंने उसकी मर्जी की बिना पर, उससे कह दिया था कि उससे ब्रेकअप कर लूंगा.

मैं उसकी चूचियों को सहलाते हुए निप्पलों को मुँह में लेकर चूसने लगा. इंग्लिश सेक्सी बीएफ पंजाबीपहले तो मैंने अपने लंड को हाथ में लेकर उसकी चूत की फांकों में रगड़ दिया और जब वो लंड लेने के लिए अपनी कमर उचकाने लगी, तभी एक जोर के झटके के साथ मैंने अपना पूरा लंड उसकी चूत की गहराई में उतार दिया. बीएफ सेक्सी हीरोइन कीमेरी अगली कहानी गुजराती भाभी की है! अहमदाबाद में जो मजा मुझे मिला है, उसका तो मुकाबला ही नहीं हो सकता. तभी मैंने उनके कान में फुसफुसा दिया कि भाभी मुझे बड़ी तेज प्यास लगी है.

वो एकदम से रुककर मेरे कान के पास आ गया और धीरे से बोला- सोनिया तेरी बड़ी मस्त गांड है … एक बार अन्दर डालने दे न यार प्लीज़!मैंने कोई जबाव नहीं दिया.

उन्होंने मुझे धक्का देकर पीछे कर दिया और बोलीं- इतनी जल्दी क्या है अभी तो हमारे पास तीन दिन हैं. मैंने भी उसको कभी अप्रोच करने की नहीं सोची क्योंकि मैं किस मुंह से उससे माफी मांगता. भाभी अभी भी छूटने की कोशिश कर रही थी मगर वो यह भी जानती थी कि बगल में ही उसका पति सोया हुआ है.

अब आगे होटल रूम सेक्स कहानी:मैं तो मन ही मन खुश हो रहा था कि चलो कुछ नया तो मिला चुदाई करने को. तो मैंने बोला- मैं आपके घर पर ही स्वेटर लेकर आ जाऊँगा थोड़ी देर बाद!उन्होंने बोला- ठीक है!फिर जब पापा जब मार्किट से आ गये तब पापा से उनके लड़के का स्वेटर ले कर उनके घर पर चला गया. मैंने पूछा- क्या हुआ?टीना ने कहा- मेरा जवाब लिए बिना ही चालू हो गए.

सेक्सी ब्लू पिक्चर पंजाबी

वो आज भी मुझे बहुत मिस करती है और मुझे मिलने को बुलाती है।मुझे समझ नहीं आता कि मुझे उससे मिलने जाना चाहिए या नहीं कृपया अपनी राय दें।और आप लोगों को मेरी पहले सेक्स की कहानी कैसी लगी मेल करके जरूर बताएं. मैंने भी अपने दोनों हाथों से उसके लंड की मालिश की थूक से! और फिर मैं उसका लंड चूसने लगी. थोड़ी देर बाद मैंने फिर से मॉम के पेट पर हाथ रखा और अपना लंड मॉम की गांड के पास सटा दिया.

अंकल के इतने बड़े लंड से चुद कर मुझे दस धक्के के बाद बहुत ही ज़्यादा मज़ा आने लगा.

आज भी वैसा ही हुआ, मेरी पत्नी सो गई तो मैं अवनीत के कमरे में पहुंचा, वो टीवी देख रही थी.

मगर अचानक कुछ दिन के बाद उसका फोन आया और उसने मेरे ऊपर वही आरोप लगाने शुरू कर दिये. अपने रूम में लाकर मैंने उसे लिटा दिया और उसकी चुत में लंड पेलने लगा. पंजाबी सेक्सी बीएफ भेजोफिर मैंने उसकी नाइटी को पूरा ऊपर उठाते हुए निकालकर साइड में रख दिया.

मोनिका भाभी गर्म हो गई और मेरे होंठों को जोर से चूसने लगी।फिर मैंने गाउन उतार कर अलग कर दिया और पीछे से ब्रा का हुक भी खोल दिया. मेरी उम्र 24 साल और शरीर नार्मल ही है, मैं कोई बॉडीबिल्डर नहीं हूँ, मेरे लंड का साइज 6 इंच है।अब वक़्त बर्बाद न करते हुए कहानी पर आता हूँ, ये कहानी मेरे और मेरे चाची के बीच हुए सेक्स सम्बन्ध के बारे में है।मेरी चाची मेरे पड़ोस में ही रहती हैं और चाचा की दुकान है। मेरी चाची एक घरेलू महिला हैं और उनके 2 बच्चे हैं. एक दिन में जब ऑफिस से घर आया … तो मैंने देखा कि एक बहुत सुन्दर सी औरत वहां हाथ में प्लास्टिक का बैट लिए खड़ी हुई है और अपने बच्चे को खिला रही है.

बाजी ने ये भी समझाया कि उसकी शादी नहीं हुई तो डॉक्टर बोले- जिसने ये किया उससे ही शादी कर दो. मेरा लंड में इतना दम है कि ये किसी भी आंटी औरत और भाभी और लड़की की चुत प्यास बुझाने को काफ़ी है.

मेरे पिताजी की एक दूकान है गारमेंट्स की तो मैं पिताजी की हेल्प करने जाता रहता हूँ.

चारू की योनि की संकीर्ण दीवारों ने मेरे लंड को चारों तरफ से बांध लिया था. जिस दिन मेरे घर में कोई नहीं रहता, तो रात तो मैं उमेश सर के घर में ही रुक जाता. उसके बाद मैंने कई बार भाभी की चुदाई की और साथ ही बहन की चुदाई भी की.

देवर की बीएफ सेक्सी साथ ही मैंने अपने हाथ वापस से उसके मम्मों पर रख दिया और उन्हें सहलाने लगा. और दोस्तो, मुझे यह बताते हुए बिल्कुल भी संकोच नहीं है कि मुझे भी वो सब देखना बहुत ही रोमांचक लगता था.

फिर उस दिन पूरे लंच टाइम में मैंने एक घंटे तक भाभी से फोन पर बात की और उसके साथ थोड़ा सहज होने की कोशिश की ताकि वो भी जल्दी से लाइन पर आ जाये।इस तरह से हमारी रोज घंटों फोन पर बातें होने लगी।शुरूआत में तो हमारी नॉर्मल बातें हो रही थीं; फिर धीरे-धीरे सेक्स को लेकर भी चर्चा होने लगी. फिर चाची इधर उधर की बातें करने लग गयी।अचानक चाची ने मुझसे पूछा- क्या मेरी कोई गर्लफ्रेंड है?तो मैंने कहा- नहीं!तब चाची ने कहा- तभी तेरी ऐसे हरकतें हैं?मैं एकदम से सकपका गया. मैंने अपनी छाती के निप्पल सहलाते हुए कहा- ऐसा क्या ख़ास देख लिया है भाभी जी?भाभी ने एक मादक अंगड़ाई लेते हुए कहा- मेरी जवानी आपका भोग लगाने को मचलने लगी है.

इंग्लिश ब्लू फिल्म वीडियो सेक्सी

उसके बाद मैंने उसके मम्मों और होंठों को किस करके उसको दुबारा से गर्म कर दिया. चुदाई करते करते ननदोई जी मेरी चूचियों को खूब मसल रहे थे … कभी मेरे उरोजों के चूचुकों को अपने लबों में दबा दबाकर चूस रहे थे. वो आदमी उठा और कॉन्डम को लड़की के हाथ में थमाकर वापस से सीट पर जा बैठा.

भाभी के बाल गीले थे और उनके चेहरे और गर्दन पर पानी की बूंदें आ रही थीं. मुझे लगा कि शादी के बाद शायद वो संदीप के लंड से चुदते हुए एक बार भी झड़ी नहीं है.

मेरी समझ में कुछ नहीं आ रहा कि ये सब क्या हो रहा है, क्यों हो रहा है.

मैं उसको अपनी अच्छी दोस्त मानता रहा लेकिन उसने फिर किसी और से शादी कर ली. एक दिन मैंने थोड़ी सी ड्रिंक की हुई थी तो मैंने प्रिया को हाय लिख कर भेज दिया. मेरी लम्बाई 5 फुट 7 इंच है, रंग सांवला है, शरीर ठीक-ठाक है और मेरा लंड 6.

हल्का सा धक्का लगाते ही मेरे लंड का सुपारा उसकी चिकनी चूत में घुस गया. बस इसमें कितना दम है, ये देखना है।ऐसा कह कर वो मेरे लन्ड को अपने मुंह में लेकर चूसने लगी और मैं उनके सर पर आप हाथ फेरते हुए बोला- इसमें इतना दम है कि आपके जिस्म की पूरी गर्मी को चोद कर शांत कर देगा।कुछ देर लन्ड चूसने के बाद वो उठी और बाहर का दरवाजा बंद कर आई. वो उत्सुकता से मेरा बेल्ट खोलने लगी, जिसके तुरंत बाद ही उसने मेरी जीन्स और अंडरवियर दोनों एक झटके में उतार कर फेंक दी.

मैं भी हैरान थी कि इतनी देर से वो मेरी चूत चोदने में लगा हुआ है और अभी तक टपका नहीं है.

तेलुगु तेलुगु बीएफ: मैं अपनी सास के बेड पर बैठ गया और उन्हें छूने की कोशिश करने लगा।उनकी तरफ से कोई हलचल ना होने पर मेरी हिम्मत और बढ़ गयी।फिर मैं अपना हाथ धीरे से उनके चूचियों पर ले गया तो … ये क्या … उनके ब्लाउज के एक के अलावा सारे बटन खुले थे और मैंने पहले ही बताया था कि वो अंदर ब्रा नहीं पहनती तो मेरा हाथ सीधा उनकी बायीं चूची को छू गया. वो गहरे नीले रंग की साड़ी पहनी हुई थीं और उन्होंने आज अपनी साड़ी को एकदम कमर की नीचे से बांधी हुई थी, जिससे उनका चिकना पेट साफ़ साफ़ दिख रहा था और कमर के बीचों बीच में नाभि साफ़ दिख रही थी, जो कि काफ़ी गहरी थी.

मेरे कमरे में आना ज़रा!मैं उठकर चाची के रूम में गया तो वो साड़ी पहन रही थी और उनको कंधे पर साड़ी के ऊपर पिन लगानी थी. मैं अब खेत में जाकर गाजर, मूली, बैंगन और खीरे जैसी चीजें अपनी गांड में लेने लगा और मुठ मारता. प्रशान्त मम्मी की चूत में उंगली देने लगा और मैं मम्मी की गांड में उंगली देने लगा.

मेरी चूचियां बाबा के सामने थीं और मैं जानबूझकर ऐसे झुकी थी कि बाबा को मेरी चूचियां हिलती दिख जायें.

शुरू में चिट्ठी में रोमांटिक बातें होती थी लेकिन धीरे धीरे अश्लील और गंदी बातें लिखने लगे. इतना कहते हुए भाभी फिर से रोने लगीं और मेरे कंधे से सर टिकाते हुए अपना दुखड़ा रोने लगीं. वो मुझे मुस्कुराते हुए देखी और पूछने लगी- हमको पहचाने?मैंने गौर से देखा उसे और शर्माते हुए बोला- नहीं, नहीं पहचान पा रहे हैं.