बीएफ एक्स एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स

छवि स्रोत,नंगा वीडियो बताओ

तस्वीर का शीर्षक ,

डॉगी बीएफ मूवी: बीएफ एक्स एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स, वो तुरंत जग गई, उसने खुद को बहुत छुड़ाने की नाकामयाब कोशिश की, लेकिन न छूट पाई.

ತ್ರಿಬಲ್ ಎಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋ ಇಂಡಿಯನ್

वो एक तरफ जाँघ चाट रहा था और अपनी उंगली पद्मिनी की चूत पर पेंटी के ऊपर से ही धीरे धीरे रगड़ रहा था. करवा चौथ विधिजैसे ही लंड धक्का मार कर बाहर आना चाहता था, चूत उछल कर उसे बाहर जाने से रोक देती थी.

उसके बाल खुल के बिखर गये थे और उसका सुन्दर गुलाबी मुख काले बालों के बीच जैसे पूनम का चन्द्रमा हो, उसकी भरी भरी पुष्ट जंघाओं के जोड़ पर मध्य में उसकी फूली हुई चूत जिसे वो दोनों हाथों से खोले हुए मेरी ओर लाज भरी आंखों से मन्द मन्द मुस्कान सहित देख रही थी. हिंदी सेक्सी वीडियो भाभीमैंने एक हाथ उसके सलवार में डाल दिया और उसकी चूत में उंगली करने लगा.

मॉम बोलीं- दूसरा कौन है, जिससे मैं चुदवा सकती हूँ?मैंने कहा- वो दूसरा और कोई नहीं.बीएफ एक्स एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स: तभी मेरी मुलाकात बघेल नाम के एक हट्टे कट्टे और मोटे लंडधारी से हुई.

जब वो झाड़ू लगाती तो उसके गहरे गले वाले कुरते में से उसके मलाई से गोरे चूचों के दर्शन हो जाते.अब कोमल भाभी का जब भी मन करता, वो मुझे फोन करके बुला लिया करती थीं.

भाई बहन xnxx - बीएफ एक्स एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स

तो भाभी ने कहा- अन्दर ही झाड़ दो!मैं जोर जोर से धक्के लगाने लगा, तभी भाभी का पानी फूट पड़ा और उसकी गर्मी से मैं भी झड़ने लगा। झड़ने के बाद में भाभी के पास ही लेट गया और उनके मम्मों से खेलने लगा।भाभी को मैंने पूछा- आज सुबह आपने एकदम से मेरा लंड क्यों मुंह में ले लिया था?तो उन्होंने कहा- मैं बहुत दिनों से देख रही थी कि आप मेरे मम्मे और गांड को ताड़ते थे और मुझे भी चेंज के लिए नया लंड चाहिए था.मम्मों को पकड़ कर इतना दबाओ की लड़की के मम्मों पर दबाने वाले का हाथ छाप जाए.

उसको देख कर ऐसा लगा जैसे हम दोनों एक दूसरे को चोदने के लिए ही बने हैं. बीएफ एक्स एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स मेरे होंठ सोनिया के होंठ चूस रहे थे और मेरे हाथ सोनिया के बड़े मम्मे मसल रहे थे.

कुछ देर बाद उसकी गांड उठने लगी तो मैं समझ गया कि ये फिर से गरमा गई है.

बीएफ एक्स एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स?

मैं भी अब झड़ने वाला था तो मैंने अपनी चुदाई की रफ़्तार और तेज कर दी. मैंने अभिलाषा से कहा- तो फिर आज मेरा क्या होगा? मेरा काम कैसे चलेगा?अभिलाषा कहने लगी- देखिए मिस्टर राज! जब कोई एम्प्लाई छुट्टी मांगता है तो, छुट्टी तो देनी ही पड़ती है. फिर दो घंटा बाद जब मैं आया तो आते ही नहाया और तैयार होकर घर से निकलने लगा.

फिर 15-20 धक्कों के बाद मुझे लगा कि मेरा भी काम होने वाला है, तो मैं रुक गया और अपना ध्यान कहीं और लगाने लगा. भाबी मदमस्त सिसकारियां लेने लगीं और मेरी गांड पकड़ कर अपनी चूत पर दबाने लगीं. राज शॉट पे शॉट मारता चला गया और मधु उस जोरदार चुदाई का मजा लेने लगी.

फिर उस दिन हम दोनों किस किया, मैंने उसके बूब्स खूब दबाये और फिर वहाँ से चला आया. चुप हो जाइये।” उसने दबाने की कोशिश की लेकिन उसकी आवाज़ ने उसकी सिसकी ज़ाहिर कर दी।डरिये मत, झिझकिये मत. आख़िर मुझे सोचता देख कर वो बोला कुछ दिनों बाद तुम्हारी चुत की कीमत एक बार चुदने के लिए सिर्फ 2000 की रह जाएगी और पूरी रात को चुदवाने की कीमत बस 5000 से ज़्यादा नहीं मिलगी.

मैंने उसकी टाँगें खोलीं और टांगों को अपने कंधे पर रख के बिना तेल लगाए. वो लड़की ऐसी थी, जब उसे मेरी जरूरत पड़ी तब मुझे हमेशा मुझे याद करती और काम होने के बाद भाव भी नहीं देती, कितने लड़कों के साथ फ़ोन पर टाइम पास करना उसकी आदत थी.

अब मेरे सामने नई मुसीबत खड़ी हो चुकी थी, संजू चाहता था कि मैं उसकी बीवी मंजू को उसके सामने चोदूँ और मंजू चाहती थी कि जब संजू न हो तब मंजू को चोदूँ!समझ नहीं आ रहा था करना क्या है!तभी कैम्प वाले ने हमें बोला- राफ्टिंग करने जाना है तो तैयार हो जाओ!हम तीनों राफ्टिंग के लिए चल पड़े.

अब मेरे सामने उसकी नाजुक, मुलायम चुत खुली पड़ी थी, मुझे उसके दीदार हो गए थे.

उसने शर्ट के बटन खोल दिया और मेरे सीने के बालों पर हाथ फेरते हुए बातें करने लगी. नीलू बोली- सिर्फ मम्मे ही नहीं, पूरे शरीर पर लगाने से निखार आ जाता है. आखिर में बापू ने पद्मिनी की दोनों पैरों को दोनों तरफ फैलाते हुए खुद को बीच में घुसा लिया.

5 मिनट के बाद उसने एक और झटके से पूरा लंड मेरी कुंवारी चूत में डाल दिया. उनको मस्ती सूझी तो उन्होंने मुझे गिरा कर खुद मेरे ऊपर चढ़ गईं और लंड पर उठने बैठने लगीं. ” मैं बोली।आह…” वह दर्द से चिल्लाया, मैंने अचानक ही लंड पर दबाव बढ़ाया था और 70-80 प्रतिशत लंड चुत के अंदर घुस गया था।मजा आया?” मैंने हँसते हुए पूछा।हाँ, कमीनी ने चमड़ी उधेड़ दी.

एक विस्फोटक चुदाई के बाद की मस्ती भरी थकन की नींद में खोयी रेखा रानी की सुंदरता को निहार निहार के मैं कुछ समय तक यूँही पड़ा रहा.

मैं अब अक्सर यही सोचता रहता था कि भाभी को चोदने के लिए मनाऊं कैसे?एक दिन मैं ऐसे ही भाभी के घर के सामने से निकला तो भाभी ने मुझसे कहा- क्यों आज नहीं आओगे अपनी भाभी से मिलने?मैंने कहा- नहीं भाभी, ऐसा नहीं है. मुझे अब जाने क्या होने लगा, वहां बहुत गुदगुदी होने लगी, मैं उछलने सी लगी. मैं उसको उठा कर बाथरूम में ले गया वहाँ उसके साथ नहाया और फिर उसने वहाँ भी मेरा लंड चूसा.

वो कभी उस आदमी के बालों को कस के पकड़ लेतीं, तो कभी उसकी कमीज के अन्दर हाथ डाल कर उसकी पीठ को किसी बिल्ली की तरह नोंच रही थीं. इस बार अलका ने अपने होंठ थोड़े खोल दिए और मैंने जीभ उसके मुंह में सरका दी. उसने माँ को अपनी गोदी में उठा कर अपना लंड उसकी चूत में डालकर माँ को बोला कि अब धक्के मारो इस पर.

बिंदु ने पूछा- तब बताओ कुत्ता सबसे पहले कुतिया से क्या करता है?वो बोला कि वो अपनी ज़ुबान से कुतिया की चुत चाटता है.

मेरे लौड़े ने बीस पचीस तुनके मारे और हर तुनके के साथ गरम वीर्य के मोटे मोटे थक्के रेखा रानी के मुंह में झाड़े. मैंने यह कहते हुए फोन बंद कर दिया कि ठीक है… मगर याद रखना जो मैंने कहा है.

बीएफ एक्स एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स तो फूफा जी मुस्कराते हुए बोले- चिल्ला लेती मेरी जान, हमने आपके ससुर की बहन को भी तो चोदा है, उनकी बहू को चोद लिया तो क्या हुआ!मैंने मुस्कराते हुए कहा- तो फूफा जी, एक रात और रुक जाना, बहू को अच्छी तरह से चोद के जाना…फूफा जी हंसते हुए बोले- अच्छा तो मतलब… बहू भी ज़बरदस्ती करवाना चाहती थी. डॉली एकता की चुत चाटना चालू कर चुकी थी और मादक अंदाज में गालियां देते हुए बोलने लगी थी- डाल मादरचोद अन्दर.

बीएफ एक्स एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स उसकी गांड में लंड पेलने के साथ ही मैं उसकी चूत में भी उंगली कर रहा था, जिससे उसको डबल मजा आ रहा था. फिर मैंने उनके बेड के नीचे देखा तो पाया कि गद्दे के नीचे मैनफोर्स के कंडोम का पैकेट है.

अब तक आपने पढ़ा था कि अब मैं अपने इस कॉलगर्ल वाले चक्कर से आजिज आ गई थी और इससे छुटकारा पाने की जुगत में थी.

शादी कार्ड शायरी इन हिंदी

उधर मेरा लंड अपना काम उसकी सलवार के ऊपर से कर रहा था, लंड और चुत के पानी से सलवार वहां गीली हो चुकी थी।15 मिनट तक ऐसे ही चलता रहा और मैं धीरे धीरे उसके पेट को चूमता हुआ नीचे जाने लगा. मैंने उन्हें सलाम-वालेकुम कहा जोकि मैं अंकल-आंटी से तो कभी कभार तो करता था लेकिन शबनम भाभी से कभी नहीं. मैंने अपने चूतड़ों से एक झटका मारा और मेरा लंड बिना किसी रोक टोक के मेरी बहन की चूत में घुसता चला गया.

अपने चुचों के मसलने से मॉम एकदम मस्ती से भर उठीं और ज़ोर ज़ोर से सीत्कारने लगीं- आाह. कुछ दिन हम दोनों की चुत को कोई खुराक नहीं मिली, तो लंड के लिए तड़फ गईं. मैं भी अब धीरे धीरे अपनी गति बढ़ने लगा मगर इतनी जोर से भी नहीं कि धक्का लगाने से किसी प्रकार की कोई आवाज निकले.

रोहित ने अपना लोअर और टीशर्ट उतार कर साइड में रख दिया। अब हम दोनों भाई बहन नंगे थे।भाई ने अपनी चचेरी बहन को बांहों में भर लिया!आह क्या नज़ारा था… दो नंगे जवान जिस्म, भाई बहन के।मेरे बूब्स उसकी छाती से दब रहे थे वो मेरी पीठ पर, गांड पर, फ़ुद्दी पर हाथ फिरा रहा था। मैं पहले से ही तैयारी करके आई थी, मैंने अपनी चूत की झांटें क्रीम लगाकर साफ़ कर रखी थी और मेरी चूत चमक रही थी.

और हां दोस्तो, कल ही आरुषि का मेसेज आया है कि वो किसी काम से पालमपुर जा रही है, अब आप तो जानते ही होंगे कि लड़कियाँ बुलाती नहीं हैं, लड़के खुद आ जाते हैं. फिर थोड़ी देर बाद वो झड़ गई, पर मैं अभी भी नहीं थका था और वैसे ही झटके लगाए जा रहा था. अन्यथा कि स्थिति में पापा से सब कुछ कह देने की धमकी दी थी, तब जाकर उस हरामी से पीछा छूट सका था.

इतने में सोनू नीचे बैठ गया और मेरी स्कर्ट के अंदर घुस के मेरी चूत अपनी जीभ से चाटने लगा. अब तक की सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि पद्मिनी के बापू ने रात को उसकी चूत में उंगली डाल कर चैक कर लिया था कि उसकी बेटी अभी कुंवारी है. यह तो पक्का थाकिरेखा जैसी कामुक पटाखे को झेलना शशि कांत के बस का रोग तो था नहीं.

मैं खाला के कमरे में गया तो देखा कि एक मोहतरमा लाल कपड़ों में दुल्हन बन घूंघट ओढ़े मेरा बिस्तर पर इंतजार कर रही थी. अंत में भाभी ने मेरे माथे पे किस किया और बोला- तुमने मुझे आज बहुत खुश किया.

मेरे ऐसा करने से वो तड़प रही थी और मुँह से आवाजें निकाल रही थी- आआह. बेचारे तिवारी जी उन आँखों का बोझ नहीं उठा सके, सब यही सोच रहे थे कि सर तो छुपे रुस्तम निकले. फिर खाना खाने के बाद भाभी को तैयार किया गया और भैया भी तैयार हो गए।जब भाभी तैयार हुयी तो वह बहुत सुन्दर लग रही थी, उनकी ननदें यानी मेरी चचेरी बहनें उनको अन्दर कमरे में ले गयीं और बिस्तर पर बैठा दिया.

ये सब आप जानेंगे कहानी के अगले भाग में, जुड़े रहिये अन्तरवासना के साथ।अपनी प्रतिक्रियाएँ मुझे इस मेल आई डी पर ज़रूर दें, आपका प्यार ही मेरी प्रेरणा है।[emailprotected]कहानी का अगला भाग:गे कहानी: दूध वाला राजकुमार-4.

पूरी मस्ती से मेरे लण्ड को सुकन्या रानी खाये जा रही थी … मैं एकाध बार उसके मुंह पर ही कुछ देर के लिए बैठ जाता था जिसकी वजह से उससे सांस लेना भी दूभर हो जाता था … लेकिन इसीमें तो मज़ा है … उसकी मुंह की गर्मी और इस उत्तेजना भरे माहौल में मेरा लण्ड भी चरम पर पहुँचने लगा … मैंने उसके मुंह में झटके मारने की क्रिया को लगभग दोगुनी कर दी और आँखें बंद करके वीर्य को उसके मुंह में ही छोड़ दिया. एक दिन नहीं आया तो क्या हुआ, अगले दिन या उसके भी एक दिन बाद मुझे कॉल्स आने लगे और मैं सेवाएँ देता रहा।इस कहानी का यह भाग यहीं खत्म हुआ. फिर गीता ने पूछा कि सारी रात को एक ही करेगा या कोई और भी होगा?उसने कहा- अगर कोई और हुआ तो पैसे भी ज़्यादा मिलेंगे.

मैं उनको देखने में इतना लीन हो गया था कि पहली बार में उनकी बात को ठीक से सुन ही नहीं पाया. इसकी चूत, गांड और मुँह में एक साथ लंड घुसाना है, जिससे इसे आज एक नया अहसास चुदाई का हो.

मैं घर पर खाली बैठा रहता था और घर में बस चाचा, चाची एक बहन थे, बाकी सब लोग दिल्ली में थे. मेरी अगली कहानी में मैं लिखूंगा कि मैंने अपनी वाइफ की गांड कैसे चुदवाई… ये कहानी जल्दी ही ले कर आऊंगा… तब तक आप अपने लंड हिलाओ और लड़कियां अपनी चुत में उंगली डाल कर आगे पीछे करें. मैंने खाला को अपने गले लगाया और पीठ पर हाथ फिराया, उनकी पीठ बहुत चिकनी थी, मैंने पूछा- क्या आपको मालूम है सुहागरात में क्या करते हैं?उन्होंने अपना सर हाँ में हिलाया और मुझसे और कस का लिपट गयी.

खेत में चोदने वाला सेक्सी वीडियो

इतना बोल के वह भी जूसी रानी की तरह इधर उधर सरक ली किसी से गप्पें चोदने.

फिर मैंने उनको चोद दिया, लगातार ताबड़तोड़ चुदाई के बाद मैंने अपना लावा उनकी चूत में छोड़ दिया. बस वहाँ सोने के क्रम में मैंने एक गलती कर दी, वो मुठ से भरा हुआ कंडोम उनके डस्टबिन में डाल कर मैं वापस आ गया था. कुछ देर बाद मुझे एक कॉल आया जो उसी मोटी का था उसने मुझे मेरे घर के पास ही एक गार्डन में बुलाया, जहाँ मैं समय पर पहुँच गया तब वो बोलीं- उनका एक ग्रुप है जिसमें कुछ औरतें शामिल हैं सिर्फ औरतें ना कि कोई आदमी, इनकी संख्या 6 है जिनमें मैडम और पतली भी आते हैं.

अब मैंने भी दोस्ती के नाते हां कह दिया और उसके बताए पते पर चला गया. मैंने उनकी गांड के छेद पर लंड टिकाया और एक धक्का दे मारा तो मेरी मम्मी एकदम से उछल पड़ीं. इंडियन ओपन सेक्सी शॉटउसने अपने दोनों हाथों से पद्मिनी की दोनों जांघों को दबाया और अपने लंड को चूत के छेद में घुसाने की कोशिश की.

और मैंने उनकी चूतड़ में लंड डाल कर ज़ोर ज़ोर से धक्का देने शुरू कर दिए, वो अपनी चूतड़ उठा उठा कर चुदने लगी. मैंने अभिलाषा को बेड पर लिटाया और उसकी टांगों के बीच आकर अपने लंड को उसके चूत के चिकने छेद पर रखा.

वो मान गई और सारा दिन जब टाइम मिला, उसने किस किया, मैंने भी उसको हग किया. वो जिस तरह से किस कर रही थी, उससे पहले मुझे लगा कि ये तो चालू लड़की है. एक दिन जब मैं भाभी को चोद रहा था, तभी उनकी बहन यानि मेरी फ्रेंड आ गई.

मैं खाना खाकर अपने कमरे में चला गया और सोने की कोशिश कर रहा था मगर अपनी सौतेली बहन डॉली के बर्ताव की ओर दिमाग़ जा रहा था. बेटे के द्वारा गांड पे दांत काटने और मेरी गांड को मसलने पर मेरी चूत से पानी नहीं बल्कि झरना बहने लगा था. क्योंकि उसने मुझे इन पिक्चर्स के बारे में नहीं बताया था, तो मुझे यही दिखलाना था कि मुझे कुछ नहीं पता.

मैं भी अपनी चूची उसके मुँह में देकर उससे बड़े प्यार से चुसवा रही थी.

जबकि वो अपने कॉलेज के कई कपल देखती रहती देखती थी कि हर किसी का अफेयर चल रहा है और सब ख़ुश भी हैं, बस वो ही नहीं है. मैंने आपको अपनी चुत में उंगली करते हुए कई बार देखा है मुझसे आपका दुःख देखा नहीं जाता है.

अपनी जिंदगी को अपनी मर्ज़ी से जीना है और मज़े लेकर जीना है और साथ में पैसे भी कमाने है. नूरी खाला ने मुझे बताया कि वो एक रात की शादी मुझको सारा से करनी होगी. बोलो ना अब मैं झड़ने वाला हूँ, तुम लंड रस पियोगी ना?पद्मिनी ने बापू का लंड चूसते हुए, उसकी तरफ़ देखकर हाँ में सर हिला दिया.

रमेश नंगा हुआ और बाथरूम में घुस गया- हाय सेक्सी बेबी!और उसने पूजा को अपनी बांहों में जकड़ लिया. अगले दस मिनट के बाद दीदी ने मेरे लंड को फिर से हिलाना शुरू कर दिया था. दोस्तो, अगर आपके मेल आते हैं तो जल्दी ही मैं दूसरी कहानी लिखूंगा और लड़कियाँ, भाभियाँ मुझे बेहिचक मेल कर सकतीं हैं।मेरी ईमेल आईडी है[emailprotected].

बीएफ एक्स एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स खैर उसने आते ही पूछा कि खाना खा लिया?मैंने कहा- नहीं मैं तुम्हारा इंतज़ार कर रही थी. तो उसने मुझे बताया कि वह ग्रेजुयेशन कर रही है और साथ ही सिविल सर्विसेज़ की तैयारी भी कर रही है.

भाभी और देवर का वीडियो सेक्सी

वह और भी शर्माने लगी और मेरे बहुत कहने पर मीठी आवाज़ में बोली- मैं भी आप को प्यार करती हूँ. मुझे पता चला कि खाला शादी के कुछ ही साल बाद हीजवानी में ही बेवाहो गयी थी. तुम्हारे दूध को पकड़ सकता हूँ?उसने कहा कि तुम पकड़े हुए ही हो और कैसे पकड़ना है?मैंने कहा- मतलब मैं इनको देख सकता हूँ.

ये कह कर वो एकदम से मुझसे लिपट गया और बोला- तुम बहुत अच्छी हो आई लव यू वन्द्या. उसके मम्मों और चूतड़ों पर हाथ फिराया, उसे गोद में बैठा कर प्यार किया और उसके गालों पर हाथ रखकर पूछा- ज्यादा दर्द हुआ?उसने हाँ में सिर हिलाया. देसी भाभी के सेक्सी वीडियोउसके घर में दो भाई-भाभी, माँ-बाप के अलावा और कोई नहीं था, सब अपने-अपने कमरे में जाकर सो गए.

जैसा कि आप जानते हैं कि उस रात जो भी हुआ, उसके बाद हम एक दूसरे के और करीब आ गए थे.

पूजा ने मेरे सोये हुए लन्ड को मुँह में लेकर चूसना चालू किया और मेरे पूरे बदन पे प्यार से हाथ फिराती रही. मैंने भी स्पीड बढ़ा दी और इसका नतीजा ये हुआ कि डॉली ने भी मेरे मुँह पर अपना गाढ़ा पानी निकाल दिया, जिसे मैं बड़े मजे से चाट गया.

किस करते वक्त मेरा लंड पेन्ट के अन्दर ही अपनी अंगड़ाईयां ले रहा था और अब तो काबू से बाहर हो रहा था. पूजा अपने चूतड़ उठा उठा कर धक्के दे रही थी, मैं भी नीचे से अपनी गांड उठा के धक्के देने लगा. नहींऽऽपापा जी …” बहूरानी के मुंह से निकला और वो मुझे फिर से अपने ऊपर लिपटाने लगी.

लालजी ने रजाई को लाकर वहीं फर्श पर बिछा दिया और मुझसे बोला- चल वन्द्या, तू रजाई में लेट जा, आज तुझे चोद चोद कर पागल कर दूंगा.

!तब उस आदमी ने अपनी पकड़ को थोड़ा ढीली कर दी और आराम आराम से मॉम के चुचों को मसलने लगा. मैंने मिसेज़ रानी को जगाया, वो अपना सर पकड़े उठी, बोली- हैंग ओवर से सर फटा जा रहा है. यह तो पक्का थाकिरेखा जैसी कामुक पटाखे को झेलना शशि कांत के बस का रोग तो था नहीं.

क्सक्सक्स वॉलपेपरयदि ना करता तो सच में बहुत पछताता भी, सो जब उसके साथ सेक्स किया तो मज़ा भी बहुत आया. फिर तुम तो कभी किसी को बुलाओगे ही नहीं?तो मैं बोला- हाँ, आप देख सकती हैं कि मेरे पास किसी का नंबर है ही नहीं!फिर हम दोनों उनके बेडरूम में गए.

जा सेक्सी वीडियो

अब तक आपने पढ़ा कि मेरे जिस्म के खरीदार अशोक ने मुझे चोद दिया था और अब वो मुझे कुसुम की सच्चाई बता रहा था. एक बार भाभी और मैं चुदाई करने में मस्त थे तो तभी अचानक दरवाजे की घंटी बजी. सूर्यमुखी: जब बीवी और आप बात बात पर लड़ने लगे, दोनों यह जताने का कोशिश करे कि वही सही है.

तब मैंने पूछा- तुम्हारा झड़ा नहीं है क्या?तब उसने कहा- मैं तो झड़ गयी थी मगर मुझे बहुत गांड में खुजली हो रही है मुझे ऐसे लग रहा है कि मैं चुदवाती जाऊं!उसके बाद वो मुझसे बोली- मैंने तुझे कहा था कि तुझे मुझसे शादी करनी होगी, मगर मैं चाहती हूँ कि तू मुझसे चाहे शादी मत कर… बस मुझे रोज चोदना… नहीं तो मैं मर जाऊंगी. बुआ के मुँह से ऐसा सुनकर मैंने उनसे कहा कि तो बुआ मुझे ही बना लो ना. भाभी ने आज अपना पल्लू कुछ ढलकाया हुआ था जिससे उनकी चूचियों के दीदार हो रहे थे.

आपने मुझको जगाया क्यों नहीं?उसने नहाते हुए कुछ ऊंची आवाज़ में नादान बनते हुए बापू से पूछा. एक दिन उसने ऊपर से एक कागज पर ‘आई लव यू!’ लिख कर भी नीचे मेरे ऊपर फेंक दिया. उसने पूछा- क्या ये तुम्हारा पानी है?मैंने उससे कहा- हां रस निकलते समय गाढ़ा होता है.

” वह ऐसे याचनात्मक स्वर में बोला कि मुझे लगा वो बस अभी रो ही देगा।तुम ठीक तो हो… तुम्हें कुछ हुआ तो नहीं?” मैंने चिंताजनक स्वर में कहा।नहीं।” उसने रुआंसे होकर कहा।मैंने न चाहते हुए भी खुद को बाथरूम से बाहर कर लिया और उसने उठ कर दरवाज़ा बंद कर लिया. मैंने पूछा कि उसने उस क्लिप को कहीं नेट पर अपलोड तो नहीं कर रखा है?वो बोली- नहीं.

” उसने बोला।नहीं यार… आज नहीं है, लेकिन अक्सर मेरे घर में होती है हर बार। मैं और राकेश पीते हैं साथ में!” मैंने बताया।हम्म…तो फिर जाने दो.

कुछ पल के लिए मिंटू ठहरा लेकिन जल्दी ही उसने एक और झटका मारा और उसका लंड मेरी चूत को फाड़ते हुए मेरे शरीर के अंदर घुस गया. हिंदी ट्रिपल एक्स सेक्सतभी चाची जी ने मुझे रोका तो मैं पूरी तरह डर गया था, उन्होंने नरम आवाज में बोला- रुको, ले लो पानी!उन्होंने साइड में से पानी उठा के दिया।उनके चेहरे को देख कर लग रहा था कि वो मेरी हरकतों को पूरी तरह से समझ गई हों।मैंने थैंक्स कहा और अपनी साइड जा कर सो गया। डर के मारे मेरी नींद उड़ी हुई थी। मैं चाची जी की तरफ पीठ कर के सो रहा था. एचडी देसी पोर्न फोटोपूरा पल्ला ऊपर लपेट लिया था, कुछ दिखाई नहीं दे रहा था, ज्यादातर वो ऐसा पल्ला नहीं लेती थीं. तभी मेरी नज़र सुनील पे पड़ी तो उसका लौड़ा पूरा टाइट था! मैं समझ गया कि वो वासना के चंगुल में है, मैंने शीतल को इशारा किया तो उसने भी देखा.

जब मैं लौट रहा था पोखर की ओर तो अपना अंडरवियर कंधे पर रखे था पीछे से भाई साहब भी चले आ रहे थे, पास आए तो देखा कि उनका भी अंडरवियर कंधे पर था, मेरी तरह नंगे थे एक और खास बात थी कि उनका नौ इंची का मस्त लंड खड़ा था, टनटना रहा था मतलब ऊपर नीचे हो रहा था.

क्योंकि मेरे अच्छे नंबर आए थे, इसलिए बिना किसी मुसीबत के मुझे कॉलेज में दाखिला भी मिल गया. अब मेरा एक हाथ उसके गले के नीचे था और एक हाथ उसके घुटनों के नीचे था. अब मैंने काजल को गोदी में उठा कर बेड पर लिटा दिया और खुद भी उसके ऊपर चढ़ गया.

फिर कुछ देर बाद मेरी भी तबियत ठीक हो गई और मैं भी अपने ऑफिस जाने लगा. तभी ऑडियन्स से आवाजें आती है, इतनी खूबसूरत पत्नी से नाराज नहीं होते है, उनको लग रहा था कि मैं उससे नाराज हूं और इसलिये मैं उसको अपनी बांहों में नहीं ले रहा हूं जबकि यह मेरा संकोच था कि कैसे उसे मैं अपनी बांहों के घेरे में लूं।इधर उसके चिपकने से उसके जिस्म की गर्मी भी मुझे आह्लादित कर रही थी. इस सेक्स कहानी के पिछले भागमेरी अंतरंग डायरी: मेरी सेक्सी बहन की वासना-1में आपने पढ़ा:मैं बाहर जाकर मिसेज़ रानी को गोद में उठा अंदर लाया.

हरियाणवी सेक्सी डॉट कॉम

जैसा कि आपने पिछले भाग में पढ़ा था कि मेरे ड्राइवर को अपने जाल में फंसा कर चुदाई का मजा लेने की प्लानिंग की गई थी. देखते ही देखते एक तेज स्वर के साथ के साथ मैं पहले स्खलित होने लगा मेरे स्खलन से हुए लन्ड के तनाव और गर्म वीर्य से मंजू भी मेरे साथ साथ में स्खलित हो गयी, उसकी सिसकारियों से कमरा गूंज उठा. मैंने उससे अपनी प्रॉब्लम बता कर कहा- मुझे तुमसे दो तरह की सहायता चाहिए.

उन्होंने कहा- विशाल प्लीज़ अब मत तड़पाओ और मेरे अन्दर अपना वो डाल दो.

उसने फिर लंड को मुँह में ले के 5 मिनट चूसा और बोली- अब ना सताओ और डाल दो मेरी चुत में इसको.

इसके कुछ दिन के बाद मैंने फिर से उनसे बच्चे के बारे में पूछा, तब उन्होंने बताया कि उनके पति में कुछ कमी है, लेकिन उनका इलाज चल रहा है. मेरा नाम तुषार है, मैं महाराष्ट्र के जलगांव का रहने वाला हूँ, बात आज से 15 साल पुरानी है, मेरी उम्र तब 22 साल की थी, हम किराये के मकान में रहा करते थे, घर में मैं, बड़ा भाई, मम्मी पापा थे, मम्मी पापा भाई जॉब करते थे तो 10 बजे घर खाली हो जाया करता था।हम नीचे के फ्लोर पर रहते थे और ऊपर डॉक्टर मकान मालिक अपनी बीवी, एक बेटा और एक बेटी के साथ रहता था. বিএফ ভেজো বিএফवो बोली- भैया, मुझे और मम्मी हम दोनों को बच्चा टिका दो!शीतल ने भी हामी भरी और मैं बिना लौड़ा निकाले ही सो गया शिवानी के ऊपर!इस तरह से हम सबको बदन में शांति मिली और सब लोग बेसुध होकर सो गए!यह कहानी आपको कैसी लगी? मुझे मेल करें![emailprotected]कहानी का अगला भाग:मेरी मम्मी रंडी निकली-5.

नाही मेमसाब, हम उनके घर के पास में छोड़ सकते हैं पर उनके घर नाही जा सकत हैं. लेकिन तभी मैंने सोचा कि किसी दूसरे का मज़ा क्यूँ खराब करूँ तो इसीलिए मैं वापिस से नीचे आ गया. उनको भी अपनी गलती का एहसास हुआ और झट से हाथ नीचे करके तुरंत दरवाजा बंद कर दिया.

उसने चुदास भरी आवाज में पूछा- हम दोनों कहां मिलेंगे?तो मैंने बोला- होटल बुक करते हैं. वो बोली- छोड़िए ना… क्या कर रहे सुबह सुबह…मैंने कहा- प्यार कर रहा हूँ.

वो समझती रही कि वो कोका कोला पी रही है और उसने कोकाकोला के चक्कर में पूरा पौवा पी लिया.

भाबी जी ने आज अपनी साड़ी का पल्लू हटा कर मेरे सामने अपना सीना कर दिया था और कहने लगी थीं कि आज मैं नाप का ब्लाउज इसलिए नहीं लाई हूँ ताकि आप सही फिटिंग का ब्लाउज बना सको. दोस्तो, आपको मेरी हिंदी सेक्स स्टोरी कैसी लगी… मुझे मेल करके ज़रूर बताएं. वो सिर्फ अंडरवियर में थे, उनका लंड अंडरवियर में उभार बना रहा था जिसे देखकर भाभी हंसने लगीं।अब भैया वापिस बिस्तर पर आ गये और भाभी के पीछे बैठ कर उनकी गर्दन पर किस करने लगे.

आदिवासी नंगी फोटो असल में मेरी गांड फट रही थी कि मैं उसके घर पकड़ा जाता तो सब इज्जत का कचरा हो जाता इसलिए मैंने मना किया था. फिर माँ ने लंड चूस कर अपनी चुत पर रखा और अन्दर ले लिया और ऊपर बैठ कर उछलने लगी.

अगर गर्लफ्रेंड होती तो इसी तरह वो मेरा ख्याल रखती, कभी कभी अपने हाथों से मुझे खाना खिलाती. मैंने तुरंत उसको 69 की पोजीशन में लिटाया और उसकी चिकनी चूत को चाटने लगा. बस यूं समझ लीजिए कि उसका फिगर 28-28-30 का था, जो नॉर्मल ही होता है.

भाभी का हॉट सेक्सी वीडियो

भले ही हमारी शादी नहीं हुई है, पर हैं हम दोनों एक पति पत्नी की तरह ही. थोड़ी देर में जब उन्हें दोबारा जोश आया तो मैं वापिस से धुआंधार तरीके से उन्हें कुतिया बनाकर पेलता गया. थोड़ी देर ऐसा करने के बाद मैंने उसको नीचे लेटा लिया, उसकी टांगों को अपनी कंधों पर रखकर मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा तो उसके मेरा लंड पकड़ के अपने चूतड़ों के होल पर यानि गांड पर रखा.

मेरे पिछले भागों को लेकर मुझे बहुत से मेल मिले और बहुतों ने कई तरह के कॉमेंट्स किए. मैं दो दिन बाद आने की बोल कर चलने को हुआ तो काजल ने मुझे गले लगाया और किस किया.

मैंने मजाक के मूड में कहा, मुझे उनका ये दिखावटी खफा होने अंदाज अच्छा लग रहा था.

फिर मैंने एक और जबरदस्त धक्का लगाया तो मेरा पूरा का पूरा लंड अन्दर चला गया. खाना बनाने के बाद हमने खाना खाया और बैठ कर बारिश बंद होने का इन्तजार करने लगे. वो मस्त होती गई, उसने आँखों को बंद कर लिया तो मैंने और जोर से उसकी चूचियों को तेजी से दबा दिया.

यह एक सच्ची घटना है, मेरा एक दोस्त है उसका नाम नवल है, वह मेरा सबसे पक्का दोस्त है. मैंने उसका मुँह अपने मुँह में लेकर उसकी जीभ को चूसना शुरू किया और अचानक ही ज़ोर का झटका दे मारा, जिससे उसकी चीख निकल गई. मेरी बहन रीनू सिर्फ पारदर्शी नाईटी में थी उसमें से उसकी चूचियाँ साफ दिखाई दे रही थी, मोटे मोटे चूचों के ऊपर काले निप्पल और नीचे चूत भी… काफी कुछ दिखाई दे रही थी.

हमने एक दूसरे की जानकारी ली और इसके बाद हम सीधे सेक्स मैटर पर आ गए.

बीएफ एक्स एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स: काजल जब नार्मल हुई तो मैंने पूछा- क्या बाकी बचा भी अन्दर डाल दूँ?तो उसने हां में सर हिला दिया. मैंने उसका हाथ पकड़ा और जैसे ही मैंने खुद अपना हाथ रखा, वह पैन्ट के ऊपर से ही बहुत बड़ा सा लगा.

वो बोली- रात को सबको करेले की सब्जी में नींद की गोली मिला कर खिला देंगे. उसने तुरंत मेरी चूत में अपना लंड डालना शुरू किया, मेरी चूत बहने लगी थी मतलब बहुत गीली हो चुकी थी. हे भगवान कहां फंसा दिया…” मैंने मन ही मन सोचा और किचन से निकल कर हॉल की तरफ चल दिया.

मैं उसके कसे हुए शरीर को मोहित हो गई। फिर क्या हुआ?पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…मैं अर्चना जैन बहुत बड़ी चुदक्कड़ हूँ, ना जाने कितने लंड मेरी चूत खा चुकी है.

एक ही धक्के में मेरा आधा लिंग उसकी छोटी सी योनि की नाजुक फांकों को चीरता हुआ अन्दर धंस गया. पहले तो केवल मैं और दिनेश ही गा रहे थे, फिर सब सुर मिलाने लगे व साथ में नाचने लगे. दअरसल वो पढ़ने में बहुत होशियार थी और मैंने उसको काफी हेल्प की, इसके चलते वो मुझसे काफी इम्प्रेस हो गई थी.