बीएफ सेक्सी वीडियो देसी देहाती

छवि स्रोत,चूत में लंड डालकर दिखाओ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी बीएफ विदेशी चुदाई: बीएफ सेक्सी वीडियो देसी देहाती, दीपा मनोज से बोली- तुम दोनों एक साथ नहा लो, अपनी पुरानी यादें ताजा कर लो, मैं रसोई संभाल कर अपने वाशरूम में तैयार होती हूँ.

दिसावर फुल चार्ट

साथ ही अपना खड़ा लंड उसके हाथ में पकड़ाते हुए कहा- तुझे शर्म नहीं आती दूसरों की चुदाई देख कर … अब मेरे सामने नाटक चोद रही है. चोदी चोदा पिक्चर चोदी चोदा पिक्चरसारिका ने मुझे किस किया और बोली- मैं चली सोने … पर तू आज इसकी चीखें निकलवा … और इसकी आग ठण्डी कर दे.

मां बोली- तू उसी की बात कर रही है ना वो जिसके साथ तुमने सोनम चाची पकड़ी थी, उसी का भान्जा है न वो?मैंने हां में मुंडी हिली दी. सेक्सी सेक्सी गाना सेक्सीउसने शरमाते हुए जवाब दिया- तुम्हें मजा आया मेरी चूचियों से खेलने में.

पूरे विधि विधान के हिसाब से मूहर्त निकाला, जो कि एक हफ्ते के बाद का था.बीएफ सेक्सी वीडियो देसी देहाती: मेरे कंठ से मदमस्त आवाजें निकल रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… सुहास … तेरा लंड मेरी बच्चेदानी तक जा रहा है … मेरे दूध चूसो भोसड़ी के … आह आह बेबी मुझे चोदो.

मैं बार-बार उस मैसेज को पढ़ रहा था और खासतौर पर उसके लास्ट 2 शब्द, जिसमें उसने कहा था ‘मेरे चंपू.उसी दिन जब वो बधाई देने के बाद मिली, तो मैंने उससे पूछा- क्या हुआ वॉयलेट, उदास क्यों हो?वॉयलेट- अरे ये पढ़ाई मुझसे नहीं हो पा रही है … मैं 3 सब्जेक्ट में फेल हो गई हूँ.

बफ पिक्चर वीडियो में - बीएफ सेक्सी वीडियो देसी देहाती

मैं उसके साथ सेक्स करना चाहता हूं, लेकिन यह आपकी परमीशन के बिना संभव नहीं है.लंड चुत के अन्दर की गर्मी को पाकर एकदम से गुर्रा उठा और उसके बाद तो मैं भाभी की दनादन चुदायी करने लगा.

मेरा लंड ठंडा होने जा रहा था, उसे सबा ने चूस-चूस कर फिर खड़ा कर दिया था. बीएफ सेक्सी वीडियो देसी देहाती उसने गांड को अच्छे तरीके से चेक किया कि मेरी साली की गांड कहां कहां से फटी हुई है.

फिर अचानक मेरी बीवी ने मेरे कंधे पकड़ कर मुझे नीचे गिरा दिया और गुर्राते हुए मेरे ऊपर चढ़ गई.

बीएफ सेक्सी वीडियो देसी देहाती?

ये देख कर वन्दना बोली- वाह दीदी, आपके सन्तरे तो बड़े ही गए।नीरू- बड़े नहीं होंगे तो और क्या होंगे? तेरे ये जीजू इन्हें क्या कम मसलते और चूसते हैं।मैं- नीरू, अब तुम वन्दना को बिल्कुल नंगी कर दो और खुद भी नंगी हो जाओ।नीरू ने ऐसा ही किया. पार्टी एक रईस सीनियर के फार्म हाउस में थी, जहां स्विमिंग और गार्डन के अलावा भी बहुत सी सुविधाएं मौजूद थीं. भाभी मेरे पास आ कर बैठीं और कहा- जो हो गया, उसकी चिंता न करके अब आगे कुछ ग़लत ना हो, उसका ध्यान रखना है.

फिर जब मूवी शुरू हुई तो उसमें एक किसिंग सीन को देख कर मेरी नजरें भी भटकने लगीं. मैंने उससे कह तो दिया था लेकिन मैं सोच में पड़ गई कि मैंने इससे ये क्या कह दिया. मैंने उसकी गांड के छेद पर लंड को लगा दिया और उसकी गांड के छेद को अपने लंड से रगड़ने लगा.

दरअसल शिल्पा दीदी की शादी जिस गांव में हो रही थी वो मेरे बॉयफ्रेंड आशीष का गांव था. जब भी वो हमारे घर पर होती थी मैं अपने कमरे में ही खुद को कैद कर लिया करता था. अब उनकी हिम्मत और बढ़ गयी और अब वो मुझे जब देखते, तो जानबूझ कर अपने पैंट को सहलाते और ऐसा शो करते कि उन्होंने मुझे देखा ही नहीं है.

इस गांड चुदाई स्टोरी में पढ़ें कि पिता ने अपनी बेटी की कामवासना जगा कर उसे चुदाई करवाने पर मजबूर कर दिया. वैसे तो मैं हमेशा से ही गांड मरवाना चाहती थी, पर कभी मौका नहीं मिला था.

मैं सर की पूरी प्लानिंग समझ रही थी और मैं अंदर से बहुत खुश थी कि आज मुझे नया लंड मिल ही जाए शायद!फिर भी मैं दिखावा करती हुई बोली- सर आप ये मुझे कहाँ ले जा रहे हैं? ये कॉलेज का रास्ता नहीं है.

कुछ देर लंड चूसने के बाद सुहास ने मुझे घोड़ी बना दिया और मेरी चुत में अपना लंड डाल दिया और धक्के लगाने लगा.

चाची हंसने लगीं और कहने लगीं- दीपू तुमने आज जो सेक्स का असली मजा दिया है न … वो मजा आज तक मेरे पति ने कभी नहीं दिया. सुनील और मनोज की गर्म साँसे दीपा से टकरा रही थी और खुद दीपा भी अब शायद मन तैयार कर चुकी थी मस्ती करने का. जाने के समय मैंने और परमीत ने मनु के यहां अपनी साइकिल छोड़ी थी … और ऑटो से वहां गए थे, इसलिए मुझे अपनी साइकिल के लिए मनु के यहां जाना था.

मैंने उसको एक दिन उसके चूचे देखने के लिए कहा तो मना करने लगी लेकिन फिर मैंने उसको अपनी छाती की फोटो भेज दी और बदले में उससे उसके चूचे की फोटो मांग ली. उसके होंठ मेरे होंठों में ऐसे फंसे हुए थे कि मुझे सांस लेना भी भारी हो रहा था. मेरा ब्वॉयफ्रेंड मेरी नाभि को किस करने लगा और मुझे गुदगुदी करने लगा.

कुछ देर बाद वो मुझसे बोली कि ज़रा ऐसे हो जाओ, मुझे भी मूवी देखनी है.

वो झुक कर घड़े से पानी का लोटा भरने लगीं, गाँव की भाभी की मांसल और मोटी गांड देख कर मुझसे रहा नहीं गया. आधा आधा जाने के बाद पूजा थोड़ा सहज हो गयी; धीरे- धीरे लन्ड अंदर बाहर जाने लगा, अब पूजा दर्द की जगह मजा ले रही थी. वहां पर उछल-उछल कर तो मैं उसकी चूत की चुदाई नहीं कर सकता था इसलिए बस उसी छुअन का मजा लेता रहा.

धीरे धीरे हमारी रोज बात होने लगी और हम एक दूसरे से घंटों बातें करने लगे. अब मनोज नीचे से दीपा के पैर अपने पैर से सहलाने लगा और सुनील की ओर करने लगा. मेरे पति तो आते हैं, मेरी चूत में अपना पांच इंच का छोटा पतला सा लंड डालकर पानी निकाल लेते हैं और मैं प्यासी रह जाती हूँ.

इस पर वो हंसने लगी और बोली- वो तो फिलहाल नहीं मिल सकता है … लेकिन उनके बर्तन जरूर मिलेंगे.

जब हम बांस के पेड़ों के झुरमुट से बाहर निकले, तो हमने देखा वहां कुछ लोग खड़े थे. मैंने उसके लंड को पकड़ लिया और उसको कपड़ों के ऊपर से ही दबाने-सहलाने लगी.

बीएफ सेक्सी वीडियो देसी देहाती मैं और पापा सोच रहे थे कि ये क्या करने वाला है!अन्दर जाकर भाई ने मेरे रूम में लटक रहे झूले को पकड़ लिया और उसको देख कर फिर बाहर चला गया. शायद जेठजी के लंड को फिर से मेरी चूत की गुफा में सैर करने के एक और मौके का आहट मिल गई थी.

बीएफ सेक्सी वीडियो देसी देहाती फिर भाभी जी ने कहा कि जो औरत सामने गेट पर खड़ी है मैं उसे भी अपने साथ ही लेता चलूं और उसे रास्ते में छोड़ दूं तो मैंने उनकी बात मान ली. मैं चित लेट गया, मोसी मेरे पेट को चूमते हुए मेरी नाभि को चाटने लगीं.

मैं जोर से भाई का लंड चूस रही थी कि अचानक से भाई की आंख खुल गई और वो मेरे सिर को अपने लंड पर दबाने लगे.

सेक्सी बीएफ गोली

मैंने खाना खत्म किया और यही सोचने लगा कि अगर चाची ने मुझे मुट्ठी मारते हुए देख लिया था, तो उस समय क्यों नहीं बोलीं. मैंने उसकी तरफ सवालिया निगाहों से देखा, उसने कहा- तीसरा काम मेरी जैसी की प्यास बुझाने का पुण्य भी तो हो जाता है. उसने अपने मेडिकल बॉक्स से एक स्प्रे की बोतल निकाली और मेरे लंड पर स्प्रे कर दिया.

यह सच था रिया जॉली से मिलने ही इसी लिये आयी थी कि जॉली उसके साथ ऐसा कुछ करे, जो एक कमसिन लड़की की साथ नहीं किया जाना चाहिए. अपनी जवान बहू की चिकनी कमर देख कर मेरे और मेरे लंड महराज को नशा सा छाने लगा। सायरा की पीठ मेरी तरफ थी और वो अपने काम में मशगूल थी।मैं दबे पांव रसोई के अन्दर गया और सायरा की कमर को सहलाते हुए उसको पीछे से कस कर पकड़ लिया।बड़ी सहजता के साथ बोली- पापा जी, नहा चुके है आप?हां नहा तो चुका हूं!” मैं उसकी चूची को उसके ब्लाउज के ऊपर से दबाते हुए बोला. लगता है बंध्या ने बातों बातों में ही अपनी चूत की चुदाई की चुल्ल बताई होगी मगर इसके जीजा ने तो अपने काम के लिए इसकी चूत ही चुदवा दी.

वो अपनी चूत को अपने हाथ से मसलने लगी और अपनी उंगलियों से अपनी चूत के दाने को रगड़ने लगी.

इन सबको सोचते सोचते कब मेरा हाथ मेरे स्तनों पर चला गया, मुझे पता भी नहीं चला. उसके बाद मुझे ध्यान आया कि आशीष ने कई बार विजय के बारे में बताया था. अब तक मैंने बस तीन चूतों का रसपान किया है लेकिन उन्हें चोदा हचक हचक के है, उनकी चीखें निकाल चुका हूं.

मैं खुद पेड़ के सहारे टिक कर बैठ गया और सबा को अपने लंड के ऊपर अपने तरफ मुँह करके बैठा दिया. उसने भी मस्ती में कहा- आपका ये दीवाना थोड़ी देर में आपकी खिदमत में हाजिर हो जाएगा जानेमन. अब मुझसे खुद भी सहन नहीं हो रहा था, तो मैंने उसे उठाया और बाथटब में ले गया.

मैं तो प्यार के मारे मयूर से लिपट गई और उसको अपनी बांहों और टांगों में जकड़ लिया. मैंने अपनी आंखें खोली तो देखा कि मेरे हस्बैंड भी मेरी गर्दन और मेरी चूचियों पर अपने हाथ फिरा रहे थे और उनका लंड ठीक मेरे मुंह के सामने था.

मेरी चूत से गीला सा पदार्थ निकलना शुरू हो गया था और मैं गर्म होने लगी थी. उसके इशारे पर मैंने अपने लंड पर थूक कर उसके सुपाड़े को चिकना कर लिया और उसकी गांड के छेद पर लगा दिया. चुत पर साबुन लगा कर मैं परी मैम के पीछे जाकर पेट व परी की चुत पर मसलने लगा.

इस मौके को इस तरह संकोच में जाया मत करो और इनकी वाइफ को भी बोल दो कि वो भी जल्दी से चेंज कर लें.

थोड़ी देर तक दीदी की चुत चाटने के बाद साकेत भैया उठ कर बैठ गए और उन्होंने दीदी को भी उठा कर बैठा दिया. मैंने हौले से उनके एक दाने को चुटकी में लेकर धीरे से मसला और फिर अपने थरथराते होंठ उस निप्पल पर रख दिए. मैंने सोचा कि क्यों ना मयूर से शादी करके उसे भी यहां बुला लूं और सब कुछ मेरे पति (प्रतीक) को बता दूं.

मेरे साथी ने टैक्सी वाले से चुन-चुन कर कुछ ऐसी जगह पूछी जहां पर आंखों को गर्म नजारे देखने के लिये मिल जायें. मैं अपना हाथ घुमा कर उसकी कच्छी के साइड से उसकी चूत में उंगली करने लगा.

नायरा के बड़े बड़े मम्मे देख कर शबनम बोली- नायरा की बच्ची, मेरा एक काम कर दे. मैं तो इसलिए खुश था कि मैं कनाडा में तीन चुदक्कड़ों को एक साथ चोदूंगा. तभी दरवाज़ा खटका।मम्मी गयी- शैली अभी सो रही है, उसे उठाती हूँ और तैयार होने को बोलती हूँ.

सुहागरात सुहागरात बीएफ

मुझे लगा कि बेटा अगर अब पीछे हट गया, तो फिर जिंदगी भर इनकी चुत नहीं मिलने वाली.

हां इन सब में मैं थोड़ा पीछे रहती थी, पर कोमल और परमीत के रहते हमारा ग्रुप भी बिंदास ग्रुप कहा जाता था. होटल में पहुँच कर दीपा मनोज अपने रूम में चले गए, सुनील अपने रूम में. धीरे-धीरे अब गोवा के खुले माहौल की गर्मी हम चारों पर हावी होने लगी थी.

नशा मुझपे हावी हो चला था … ऊपर से वासना का रंग भी मुझे चुदासी किए हुए था. मेरी मां ने ठीक ही कहा था कि तुम्हारी मां ने घर में रंडीखाना खोला हुआ है. बाथरूम में नहाते हुए सेक्सी”अरे … मैं छोड़ दूंगा ना!”रहने दीजिये ना सर!”मैं आ रहा हूँ … साथ चलेंगे कॉलेज.

शबनम पतली पर लम्बी थी … उसे अपनी लम्बी गोरी काया पर गुमान था और वो खुल कर जिस्म दिखाती पोशाक पहना करती थी. मेरी गांड पर तेल अच्छी तरह से मलने के बाद उसने मेरी गांड में उंगली डाल दी.

‘आह कविता चाची … आपकी क्या मस्त चूचियां हैं … आह तेरी चूत की बड़ी याद आती है … एक बार दे दो चाची. मैं उन्हें अपने जिस्म से लिपटा कर प्यार करने लगा, किस करते हुए उनके मदमस्त मम्मों को दबाने लगा. कुछ देर में किशोर ने खाने पीने का इंतजाम किया और फिर वो अपने रूम में चला गया.

परमीत ने उस आधे खड़े लंड को अपने हाथों में संभाला, ये देखते ही कोमल अपनी सहेली के साथ तालियां बजाने लगी. उस समय मेरी उम्र 21 साल की थी जब मैं दो दो लौड़े एक साथ मेरी चूत ओर गांड में ले लेती थी. मैं बस इंतजार कर रही थी उनका लंड अपनी चूत में लेने का।बॉस ने मुझे ऐसे ही किस करते करते मेरी चूत में लंड डाल ही दिया.

गुलाबी चूत के होंठों पर मेरे लंड का चिकना सुपाड़ा लगते ही उसकी भी सिसकारी निकल गई.

मैंने अन्दर देखा कि बाथरूम में बाथटब था, मैंने सोचा उसी में इसके साथ कुछ किया जाए. आज तुम भी ये जान लो की परमीत पक्की सरदारनी है और सरदारनी किसी चैलेंज से पीछे नहीं हटती.

मैं कभी उसके होंठों को अपने मुंह में भर कर चूस कर रहा था तो कभी अपनी जीभ को उसके मुंह के अंदर डाल रहा था. दूसरी ख़ुशी ये थी कि मुझे वो जानकारी मिली थी, जिसकी तैयारी में मैं अभी से लग गया था. उसने मुझे दो बार यूं घूरते हुए पकड़ लिया था, फिर भी वो मुझे अनदेखा कर गई.

फिर मुझे बहुत तड़पाने के बाद, आंटी ने अपने चुचे मेरे मुँह के पास रख दिए. चाची मेरे ऊपर लेट कर मेरा लंड चूसे जा रही थीं और मैं चाची की चूत पी रहा था. बबली बोल रही थी- ऊऊम्म्मम … मेरे राजा … कहां थे यार इतने दिनों से … तुमने कभी कोई पहल क्यों नहीं की … वरना आज तक तो हम दोनों न जाने कितनी बार चुदाई कर चुके होते … और शायद मैं तुम्हारी औलाद की माँ भी बन गई होती.

बीएफ सेक्सी वीडियो देसी देहाती ”और उन्होंने निचोड़ के सारा पानी बूब्स और पेट पर निकाल दिया और टिशु लेने गए. कभी कभी तो माँ बाप भी इसमें शामिल हो जाते हैं और वो भी बताने लगते कि वो कैसे याद करते थे.

बहन की चुदाई बीएफ सेक्सी

फिर आंखें खोलते ही उसने मुझे देखा मेरी नजरें उसके छिपे लंड पर ही गड़ी हुई थीं. कम से कम आधा घंटे तक ऐसे ही पड़े रहने के बाद हमने फिर से चुदाई करनी शुरू कर दी. कहने का तात्पर्य यह है कि वहां पर ज्यादा खुलेपन का अहसास किया जा सकता है और किसी भी तरह का मजा लिया जा सकता है.

जब हमारी नजर एक दूसरे से मिली, तब चाची गुस्से में लाल हो कर वहां से चली गईं. एक तो उसके औलाद नहीं थी और पति की मौत भी शादी के दो साल बाद ही हो गई थी. एक्स एन एनउसके दोनों बच्चे सुबह सात बजे निकल कर सांय पांच बजे ही वापस आते थे.

मैंने उसको बिस्तर पर चित लिटाया और अपने लंड का सुपारा उसकी रसीली चुत पर रखकर हिलाया.

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम विजय है और मैं 36 साल का शादीशुदा मर्द हूँ. तो फ्रेंड्स मुझे अपनी इस चुदाई की कहानी के लिए आपकी मेल का इन्तजार रहेगा.

एक दिन मेरी गर्लफ्रेंड रूम पर नहीं थी तो उसकी एक सहेली मेरे रूम पर आई. थोड़ी देर बाद सुधीर सर ने पीछे से मेरी चूत में अपना लन्ड डाल दिया और राजेश्वर सर मेरे मुख में अपना लन्ड पेलने लगे. थोड़ी देर बाद सुधीर सर ने पीछे से मेरी चूत में अपना लन्ड डाल दिया और राजेश्वर सर मेरे मुख में अपना लन्ड पेलने लगे.

और अगले दिन हम दोनों तैयार होकर करीब 11 बजे घर से निकल गयी और बस स्टॉप पर पहुँच गयी.

जब लंड को बाहर निकाला तो उसकी गांड से खून बह रहा था जिसके इलाज के लिए एक लेडी डॉक्टर को बुलाया गया. उसके बाद हम दोनों उठ कर बाथरूम में गये और शावर के नीचे गर्म पानी में नहाने लगे. लेकिन अब मैं जानने लगा कि मेरा 7 इंच का लंड भी औरतों को खुश कर सकता है.

एक्स बीपी इंडियनमैंने उनके पास जाकर उनको पीछे से पकड़ लिया और अपना लौड़ा उनकी गांड पर रगड़ने लगा. मैं- उसे तो बुलाओ, वो अपनी गलती है ऐसा सोच कर वहीं का वहीं हॉल में खड़ा है.

बंदरों का बीएफ

केवल अशीष ने जब पहली बार चोदा था तो उसने सीधे कहा था कि बंध्या तेरी सील टूटी हुई है. लेकिन तुमने मेरी सच्चाई जानने के बाद ऐसा नहीं किया और मुझसे बात करना बंद कर दिया. जेठजी कुछ देर तक मेरे चेहरे को देखते रहे और उस दौरान मैं हल्के हल्के से मुस्कुराती रही.

अब सुनील ने उसी चम्मच से फिर खाया और बोला- हाँ अब तुम्हारी झूठी चम्मच से खाने से मीठा हो गया. मैंने ये चुदाई अपने जीजा के साथ ही करवाई थी और ये सब शादी से पहले ही हो चुकी थी. चूंकि हम वहां खड़े रह कर बातें नहीं कर सकते थे, इसलिए मैंने उसे ऑटो में बिठाया और मैं उसे नजदीक के ही अपने पसंदीदा रेस्टोरेंट में ले गई.

वो दाने को छेड़ने से ही चिहुंक उठी थी, जब मैंने दाने को दो उंगलियों की मदद से मींजा, तो उसकी वासना चरम पर पहुंच गई. मैंने परी के चूचों पर साबुन लगाकर मसले, फिर मैं परी मैम की चुत पर साबुन लगाने लगा. वो मुझे चोदते-चोदते मेरे होंठों को चूस रहा था तो कभी मुझे चोदते चोदते मेरी गर्दन को किस कर रहा था.

तभी दीदी ने साकेत भैया का हाथ पकड़ लिया, तो भैया ने दीदी की पैंटी को छोड़ दिया. सोनिया- ओह गॉड रोहन … आह्ह्ह आह्ह … मैं झड़ रही हूँ … मैं झड़ रही हूँ … आह्ह आह्ह्ह्ह.

एक काम जो इस बीच में चारों ने किया … वो ये कि अपने अपने मियाँ के मन में ये विश्वास जगा दिया कि अगर पार्टनर बदल कर डांस किया जाए तो कोई बुराई नहीं है.

कुछ ही देर में उन्होंने अपने दांतों से पकड़ कर मेरी पेंटी भी उतार दी और फिर खुद भी पूरे नंगे हो गए. पेट की आंत का ऑपरेशन कैसे होता हैचूंकि मैं पहले से ही उत्तेजित थी और संदीप के अहसास ने मुझे और गर्म कर दिया. पीरियड के बाद भी खून आनाबॉस- नेहा रानी, मूत पियेगी?मैंने मुस्कुरा कर बॉस की तरफ देखा और अपना मुँह खोल कर किसी रंडी की तरह मूत निकलने का इन्तजार करने लगी. इसके बाद मैंने अपना एक हाथ मोसी के आगे की तरफ ले जाकर उनके मम्मों पर डाल दिया और यूं ही एक दूध पकड़ कर लेटा लेटा मम्मे की गोलाई का जायजा लेता रहा.

आंटी ने धीरे धीरे लंड को काफी हद तक निगल लिया और आगे पीछे होने लगीं.

राहुल रीमा के मम्मों को जानवरों की तरह मसल रहा था और चूस रहा था, जिससे रीमा पूरी तरह पागल होकर अपनी चूत में उसका लंड ले रही थी. वो कई महीनों के बाद घर पर आते हैं और इसी कारण मेरी मां ने अपने कुछ दोस्तों को मदद के लिए रखा हुआ है. उसने बॉटल उठा कर वोड्का के दो बड़े बड़े घूंट अन्दर उतारे और मेरे बाजू में आकर लेट गई.

मैंने खाना खत्म किया और यही सोचने लगा कि अगर चाची ने मुझे मुट्ठी मारते हुए देख लिया था, तो उस समय क्यों नहीं बोलीं. क्या?”हाँ, ब्लाउज पेटीकोट में मस्त माल लगेगी और चुदाई में भी आसानी होगी. फिर मैंने उन्हें अपनी गोद में बिठा कर ऊपर उठाया और उनके मम्मों को सहलाते हुए और चूमते हुए उनकी ब्रा के हुक्स खोल दिए.

बीएफ सेक्स फिल्म मूवी

आह उनन आह हूंऊऊऊ संज अ अ य … तड़पाओ मत … डाल दो मेरी चूत में! अब बर्दाश्त नहीं होता! चोद दो मुझे!” उषा बोली. सोनिया- हाय तो मेरी चूत में उंगली डालकर रब करो ना … मेरा दाने और दूसरे हाथ से मेरी चूचियों को दबाओ जानू. इससे पहले भी मैंने मोटे और लम्बे लंड देखे हुए थे लेकिन विवेक के लंड के साइज वाला औजार पहली बार मैं देख रही थी.

मेरे लंड को बाहर निकाल लिया और मेरे लंड को तब तक सहलाती रही जब तक कि मेरा स्टॉप नहीं आ गया.

वॉयलेट- तेरा काफी लंबा है … तुझे देखकर लगा था कि तेरा लंड लुल्ली होगा.

दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसने में ऐसे लगे हुए थे जैसे जन्मों के प्यासे हों. बॉस ने मेरे मुँह में मुँह डाल कर अपनी कमर को तेज तेज चलाना शुरू कर दिया, जिससे गांड में भी जल्दी जल्दी लंड घुसने लगा. मधु शर्मा का नंगा फोटोउसकी टांग को उठा कर मैंने उसकी चूत में वहीं बाथरूम के अंदर ही अपना लंड डाल दिया.

परी मैम ने मेरे लंड को हिलाते हुए कहा- अब जल्दी से डाल दे अपने लंड को मेरी चूत में … ये बहुत प्यासी है. थकान का आलम ये था कि महसूस तो रही थी, लेकिन कोई भी पीछे नहीं हटना चाहता था. उसका हाथ मेरे बालों में घूम रहा था और वो मज़े के साथ कामुक आवाजें करने लगी.

इसी बीच मेरे लंड ने अंदर तक घुसने के मुकाम को हासिल कर लिया था और ऐसा लग रहा था जैसे मैंने किसी बर्फ के खाने में अपने लंड को दे दिया हो. मैं- अगर मुझे अकेले खाना होता, तो इतनी देर से आपको आवाज क्यों लगाती?जेठजी- ह्म्म, अच्छा तुम चलो मैं आता हूं.

उसने बनियान उतार दिया और वो मेरे सामने ही बिल्कुल पूरी तरह से नंगा हो गया.

मैं अन्दर से तो विराट से चुदाई करवाने का मन बना रही थी, पर थोड़ा झिझक रही थी. हम सभी वहां पहुंचे, तो यशिमा ने मुझे सोफे पर बैठाया और पानी लेने अन्दर चली गई. आप कम्पनी देने की बात तो कह ही रही थीं, मेरी योग्यता को भी परख लीजिएगा.

ব্লু ফিল্ম দাও हल्की चांदनी की रोशनी में हमारे दोनों के नंगे बदन खूबसूरत लग रहे थे. मैंने उससे कंडोम का पैकेट ले लिया, तो सबा मेरी तरफ देखने लगी लेकिन कुछ बोली नहीं.

मेम मेरे साथ पहले भी कई बार बाइक पर बस स्टॉप तक जाती थीं, तो इस बात से ऑफिस के बाकी के लोगों के मन में कोई अन्य विचार नहीं आते थे. कुछ ही देर के बाद मेरी चूत से पानी की धार फूट पड़ी और मेरी चूत के पानी से पापा का लंड भीगने लगा. मैंने ये चुदाई अपने जीजा के साथ ही करवाई थी और ये सब शादी से पहले ही हो चुकी थी.

बीएफ इंजॉय

बुर्का और ऊपर करके वो टॉप के बटन खोलकर सामने से वो मेरे बूब्स चूसते हुये मुझे चोदने लगा।उसके झटके देखके लग रहा था कि अभी उसको बहुत कुछ सीखना बाकी है. मैंने सोचा कि क्यों ना मयूर से शादी करके उसे भी यहां बुला लूं और सब कुछ मेरे पति (प्रतीक) को बता दूं. तभी उसके जाने के बाद अनिता भाभी आयी जिसने मुझे तन और मन से अपना पति माना हुआ था.

मैंने उसे झूठ बोला।वन्दना- अगर ये बात है तो मैं भी तैयार हूं, मैंने भी बहुत सी थ्रीसम मूवी देखी है पर कभी मौका नहीं मिला ऐसे करने का! अब दीदी को मनाना आप का काम है।मैं- ये हुई ना बात मेरी जान!यह कह कर हम फिर से स्मूच करने लगे. मैंने भी अपने एक हाथ का घेरा बनाकर जेठजी के गले में डाल दिया, ताकि मैं भी अपना बैलेंस बनाकर चुदाई का मज़ा ले सकूँ.

अन्तर्वासना पर मेरी यह पहली कहानी है अगर कोई गलती हो तो दिल पर मत लेना.

आह … गांड मराने में इतना मजा आता है … उह … मुझे तो मालूम ही नहीं था. इस जगह का एक फायदा और था कि यदि कोई हमारी तरफ आता तो हमें दूर से ही दिख सकता था. तब मैं समझी कि कुमार और विक्की मिल कर मुझे फंसाए हुए हैं और उन दोनों को सब पता है कि मैं दोनों से चुदवाती हूँ.

राज की बहन जब आती थी तो उससे बहुत बात करती थी, दोनों साथ ही टाईम बिताती थी. थोड़ी देर बाद वो चरम सीमा पर आ चुकी थीं और मेरी झमाझम चुत चटाई के बाद झड़ गईं. शादी वाले माहौल में घर महमानों से भरा रहता है … इसका मामी जी को ख्याल रहेगा.

सच में बहुत देर से रूका हुआ रस था क्योंकि खाली करने में रानी को काफी वक़्त लगा.

बीएफ सेक्सी वीडियो देसी देहाती: इसके बाद मैं सीधे अपने रूम पर ही जाता हूँ … आप टेंशन नहीं लो … हां अगर भैया के आने का डर है … तो मैं चला जाता हूँ. मेरे पहले सेक्स की स्टोरी।तो दोस्तो, आप सबको मेरी कहानी कैसी लगी, आप मेल करके मुझे जरूर बताएं। मुझे आप सबके मेल का इंतज़ार रहेगा।[emailprotected]पर आप अपने विचार भेज सकते हैं।.

फिर उसने मेरे लंड के टोपे को खोल कर पीछे खींच दिया और अपने मुंह में भर कर चूसने लगी. अब मैं उसके बगल में बिस्तर पर लेट गया और उसको अपनी बांहों में खींच लिया. दोनों बहनें सिसकारियां ले ले कर एक दूसरे की चूत चाट रही थी क्योंकि दोनों ही पहली बार किसी औरत से चूत चटवा रही थी तो दोनों ही एक साथ झड़ गयी.

उसने आते ही मनोज को और सुनील को एक लाईट किस दिया और अपना पेग लेकर बेड पर बैठ गयी क्योंकि रूम में दो ही कुर्सी थीं.

मैंने आंटी की चूत के चारों ओर अपनी जीभ से परिक्रमा करना शुरू कर दिया. फिर वो फव्वारे की तरह झड़ गईं और दीदी की चुत से ढेर सारा पानी निकल गया. आंटी की चूत में उंगली जाने के बाद वो ऐसे तड़प रही थी जैसे बिन पानी की मछली होती है.