बीएफ फिल्म सेक्सी भेजो

छवि स्रोत,वर्ल्ड सेक्सी पिक्चर

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी हिंदी चुदाई बीएफ: बीएफ फिल्म सेक्सी भेजो, क्या लोगे, जूस या बियर?कहते हुए उसने म्यूजिक चला दिया।आशु भी खड़ा हुआ और उसने सपना के दोनों हाथ थाम लिए और उसे अपने नजदीक खींचा। सपना ने भी आगे आकर उसके होंठ से अपने होंठ लगा दिए, दोनों काम की आग में जल गए, आशु ने सपना को कस के भींच लिया.

कॉल गर्ल के सेक्सी वीडियो

कौन रवि और आप कौन बोल रही हैं?वो बोली- आप अमित भैया नहीं बोल रहे हैं?मैंने कहा- नहीं जी।उसने एकदम से फ़ोन कट कर दिया. सेक्सी वीडियो अकाउंटसमझा करो!मैं- क्यों आपको अच्छा नहीं लग रहा है?यह कहते हुए मैंने भाभी को कंधे पर किस किया और भाभी के कान की लौ को किस करते हुए चूसने लगा।भाभी एकदम से गरमा गईं और कहने लगीं- नहीं राहुल मुझे यह सब पसंद नहीं है.

पर वासना की आग शांत नहीं हुई थी।हम दोनों को ही डर था, योगी बोला- जान. एक्स एक्स एक्स देवर भाभी सेक्सी वीडियोपर संतुष्टि नहीं मिलती थी। उसको और पीछे धक्का दे कर उसके सलवार में हाथ डाल कर उसकी चूत में लगातार उंगली करता रहता था.

मुझे जल्दी जाना है।उसने पैंट पहन लिया और ‘बाय बाय’ करता हुआ चला गया।कैलाश बोला- साला बदमाश है.बीएफ फिल्म सेक्सी भेजो: जो मैंने खुद उतार दी।मेरे सहलाने से उसका लंड खड़ा हो चुका था और झटके ले रहा था।मैंने उसके हाथ से अपना लंड छुड़ाया और उसके लंड के ऊपर अपनी गांड रख कर उसकी गोद में बैठ गया। मैंने उसका लंड अपनी गांड पर टिकाया, पर वह बोला- लेट जा यार.

उन दिनों मेरी छुट्टियां चल रही थी इसलिये दोपहर में मैं घर पर अकेला ही रहता था.आज हमारी इतनी प्यारी मामी मेरा इतनी बेसब्री से इन्तजार कर रही हैं। लगता है आप हमें बहुत याद कर रही थीं.

पूजा का सेक्सी - बीएफ फिल्म सेक्सी भेजो

और मैंने झट से गीला लंड उसकी झड़ी हुई चूत में घुसा कर दनादन दस बारह धक्के लगा दिए।उसके मस्त चूतड़ों का डांस देख कर और उसकी सिसकारियाँ सुन कर बहुत जोश चढ़ गया था। मैंने चूत की जड़ में लंड को दबा कर जोर से चूची भींच कर पिचकारी मार दी।नेहा चिल्ला पड़ी- हाई…मसल डाला जालिम राजू… उफ़… सी… हाई पिला दे अपना रस.मेरा मन तो कर रहा था कि अभी मामी को सीधा करके उनके मम्मों को चूस लूँ!अब मैं मामी की कमर की ऊपर से नीचे तक मालिश कर रहा था, तभी मामी एकदम से बोलीं- बस रहने दे.

दर्द हो रहा है!पर अंकल कहाँ रुकने वाले थे। दस मिनट तक धकापेल होती रही, ऐसा लग रहा था कि जैसे अंकल ने कोई दवाई खाई हुई हो।फिर अंकल ने मम्मी को गांड में डलवाने के लिए कहा तो मम्मी बोलीं- नहीं दर्द होता है. बीएफ फिल्म सेक्सी भेजो ’ की आवाज निकल गई।भाभी ने फिर मेरे गालों को चूम लिया और दोनों हाथों से मुझे अपनी बाँहों में भरकर जोरों से भींच लिया जिससे भाभी के उरोज मेरी छाती तले पिस से गए।अब लगभग मेरा पूरा लिंग भाभी की योनि में था और मैं अपने लिंग पर योनि की गर्माहट को महसूस कर रहा था।यह दूसरा अवसर था.

मैं दर्द से मर रही हूँ और तुझे आवाज की पड़ी है।तो मैंने कहा- प्लीज़ आवाज मत करो मेरी प्यारी दीदी।वो चुप हो गई और मैंने फिर से एक जोर से धक्का लगाया और मेरा पूरा लंड दीदी की बुर में घुस चुका था।मैंने देखा कि पूरा लंड घुस गया है कि नहीं.

बीएफ फिल्म सेक्सी भेजो?

दोस्तो, मैं कमल राज सिंह एक बार फिर अपनी एक मधुर यादगार लेकर हाज़िर हूँ।मैं 28 साल का हूँ ऊँचाई 5 फुट 10 इंच. इस तरह से लंड चुसाई करने में तो सनी लियोनी को भी फेल है।नेहा डॉक्टर साहब के ऊपर जा कर उनके पेट पर किस करने लगी और उनकी टी-शर्ट और बनियान उतारने की कोशिश करने लगी।फिर नेहा मेरी तरफ देख कर बोली- बैठ के वहाँ गांड मरा रहा है क्या. वह इस दौरान एक बार झड़ चुकी थी, पर मेरा छूटना अभी भी बाकी था।फिर मैं जोर-जोर से चोदने के बाद उसकी चुत में ही झड़ गया और मैं निढाल होकर उसके ऊपर ही गिर गया।बाद में जब मैं खड़ा हुआ तो देखा कि बिस्तर पर उसकी चुत से निकले खून के दाग लगे थे, तो मैंने चादर को साफ किया।जब सुमन बिस्तर से उठी, तो दर्द के कारण उससे ठीक तरह से चला भी नहीं जा रहा था। मैंने उसको एक दर्द की टेबलेट दी.

जो बस नंगा खड़ा करके अपनी मुठ मार कर खुश है मेरी तो कोई फ़िक्र ही नहीं… हां मुझे सामने खड़ी करके मुझे अपने आप उंगली करते देख बहुत खुश हो जाता है। मुझे रंडी की तरह बहुत पैसे तो दे देगा पर मेरी ख़ुशी का क्या करूँ. मैंने एक बार भी सेक्स नहीं किया था और तू है कि मेरे सामने हाई हील्स पहन कर अपनी गांड उछाल-उछाल कर चलती है तो मेरे लंड को चुदास भर जाती है। इसलिए आज कोई नहीं है तो मैंने तुझे चोद दिया. नेहा छूट गई तभी डॉक्टर साहब ने भी पिचकारी छोड़ दी।नेहा सीधी हुई, उन्होंने एक-दूसरे को फिर से जैल लगाया और नहा कर बाथरोब पहन कर बाहर आ गए।आपके ईमेल की प्रतीक्षा रहेगी।[emailprotected]कहानी जारी है।.

’मैंने उसको और ज़ोर-ज़ोर से चोदना शुरू कर दिया, उसकी और ज़ोर से आवाज़ निकलने लगी ‘आहह माँ. क्योंकि सर आगे बैठे थे।नितिन फिर और आगे बढ़ने लगा, उसने मेरी जांघों पर हाथ रख दिया, मैं उसका हाथ हटाने लगी. तो चाटने में और मजा आ रहा था। ऐना बाजी तो पागल हो चुकी थीं, उनके मुँह से लगातार कामुक आवाजें निकल रही थीं ‘इश्श्स्स्स्.

वो ज़्यादातर सूट या साड़ी पहनती थीं, कभी-कभार जीन्स टॉप भी पहन लेती थीं, पर मुझे वो सूट में बहुत ही सुंदर लगती थी। वो शादीशुदा थीं, लेकिन उनके पति कहीं साउथ में जॉब करते हैं। पतिदेव वहाँ अकेले रहते हैं, उनके कोई बच्चा नहीं था। मैं उन्हें सम्मान से मैडम ही बुलाता था।मेरे सब फ्रेंड्स मुझे एक छोटे बच्चे की तरह ही ट्रीट करते थे. ’ भाभी ने मेरे लंड से खेलते हुए कहा- चल राजा, थोड़ी थोड़ी बियर का मजा लेते हैं। और मैं तुझे अपनी कुछ बहुत सेक्सी वीडियो दिखती हूँ!‘ओह यस भाभी.

मैं अपनी रजाई में सोया हुआ था। मेरे पास मेरे दो सीनियर बैठे हुए थे। थोड़ी देर बात करते-करते मुझे नींद आ गई.

शाम को हम लोगों को पूजा में जाना है।हम दोनों लोग मिल कर काम करने लगे।रात में घर के मम्मी-पापा पूजा में चले गए.

इस आवाज़ में वो एहसास था जो उस वक़्त होता है जब आप उन्माद से भरे हों और उस उन्माद में आपकी पसंद की चीज़ आपके हाथों में आ जाती है. आज तो सच में चूत में आग लग रही है। देख कमल अगर प्यार से चुदाई का असली मज़ा लेना है तो औरत को इतना गर्म कर. ’आंटी के मम्मे रुई जैसे मुलायम थे।उनके इन रसीले मम्मों को हाथों में पकड़ कर प्यार करना मेरा सपना था.

! और मैं भी आपका इंतजार करते करते सो गई थी।उनका मुंह खुलते ही दारू की बदबू आई, उन्होंने कहा- वो दोस्तों के साथ कब रात बीत गई. लेकिन चाची ने आँखें नहीं खोलीं। सीधा लेटने के बाद पापा का हाथ चूची पर और एक पैर चाची के दोनों पावों पर था। अब पापा चाची को अँधेरे में निहार रहे थे, पर उस वक़्त सब्र किसे होता है। पापा ने अपने होंठों से चाची के गाल पर किस किया और अपने हाथों से चाची की चूची को दबाने लगे। पापा चाची की चूची को बहुत आराम से पकड़ कर छोड़ते हुए मजा ले रहे थे. जिस पर सुमन व रेखा भाभी सोते थे और साथ ही कुर्सियां टेबल, अल्मारी व कुछ अन्य सामान होने के कारण ज्यादा जगह नहीं थी.

इसलिए उन्होंने मुझसे बातें करना बहुत ही कम कर दिया और मुझसे दूर ही रहने की कोशिश करने लगीं।सुबह भी जब तक मैं सोता रहता.

मैं चुदाई के साथ-साथ उसकी गोरी गांड पर जोर-जोर से थप्पड़ भी मार रहा था। गांड पर चमाट की आवाज मुझे और जोश दिला रही थी।मैं कुछ मिनट तक रवीना की गांड मारता रहा. और उसकी जुबान भी मेरे मुंह के अन्दर तक सफर कर रही थी।मैंने भी अपना एक हाथ उसके चूतड़ों से हटा कर उसकी छाती के उभार पर रख दिया, जबाव में उसने भी अपना एक हाथ नीचे ले जाते हुए मेरे लंड को पकड़ लिया।औरत के हाथ की गरमी पाते ही लंड टाईट होने लगा. सड़का मारते हैं।’ कमल बिस्तर पर बैठा था और सरला भाभी शीशे के सामने खड़ी थीं।‘हाय राम मेरे भोलू चोदू राजा, हम साथ हैं, दोनों इतने उत्तजित हैं। गर्म हैं.

फिर वो अपनी बेटी को अपनी बीवी के पास छोड़ कर आए और मेरे ऊपर टूट पड़े। जीजू धीरे-धीरे मेरी बुर में अपना लंड डालने लगे। मुझे बहुत दर्द हो रहा था लेकिन मैं बोली- रुकना मत. पर पहले शॉट में लंड नहीं घुसा। फिर मैंने सेकेंड अटेंप्ट में पूरा लौड़ा घुसा दिया. पर उसने मुझे आँखें बन्द करके बेड पर लेटने को कहा। जब मैं लेट गया तो उसने मुझे आँखें खोलने को कहा। मैंने जैसे ही आँखें खोलीं, तो मुझे चक्कर सा आ गया।वो सिर्फ़ ब्रा और पैंटी में खड़ी थी।दोस्तो.

पर उसकी आँखों से आँसुओं की धार बहने लगी।मैं थोड़ा रुका और फिर कुछ ही पलों बाद उसी तरह का एक और झटका मार दिया। अब मेरा पूरा लंड उसकी बुर में था.

जाने कितनी ही बार मैंने कितनी ही औरतों के साथ ये खेला था लेकिन इस तरह से किसी के लिए इतना भावुक होना मेरे खुद के लिए एक उलझन भरी बात थी. क्या हीरे सी चमक रही है।’सरला भाभी ने हँसते हुए और इस खेल का मज़ा लेते हुए अपनी जांघों को खोल दिया, कमल ने भाभी के चूत के दाने को रगड़ दिया। सरला भाभी सिसिया कर मचल उठीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… हाय राजा, आज तो बहुत फड़क रही है.

बीएफ फिल्म सेक्सी भेजो लेकिन बहुत धीरे से ताकि कोई सुन ना सके।मैं उसकी चूचियों को बेइंतहा चूसे जा रहा था और वो पूरे ज़ोर से चुसवा रही थी।करीब दस मिनट के बाद उसने अपने कपड़े उतारने का इशारा किया और मैंने उसकी नाइटी उतारी और उसने अपनी चूचियों को हाथों से ढक लिया।इसके बाद जब मैंने उसकी पेंटी उतारी तो उसने दोनों पाँव एक-दूसरे पर कर लिए।मैंने अपने कपड़े भी उतारे और फिर से उसके ऊपर आ गया।इससे पहले कि मैं कुछ करता. सच में मस्त माल लग रही थी।मैंने अपनी पैंट और अंडरवियर एक साथ उतार दिए और उसके शरीर के हर हिस्से को चूमने लगा। वो भी बस मुझे ‘आई लव यू सन्नी.

बीएफ फिल्म सेक्सी भेजो जिस पर मैं सोया हुआ था। चारपाई बाहर निकालने के बाद उन्होंने एक बार फिर से लैटरीन की तरफ देखा और फिर कमरे की सफाई करने के लिए जल्दी से आँगन में पड़ी झाडू उठाकर उस कमरे में चली गईं।मेरी तरकीब कामयाब हो गई थी, भाभी के कमरे में जाते ही मैं भी धीरे से बिना कोई आवाज किए लैटरीन से बाहर आ गया और उस कमरे में घुस गया।मुझे देखते ही भाभी बुरी तरह घबरा गईं, वो जल्दी से बाहर जाना चाहती थीं. मेरा लंड बहुत फड़कता है।हम दोनों हँस कर फिर से एक-दूसरे से लिपट गए और फिर से गुडमॉर्निंग चुदाई शुरू हो गई।[emailprotected].

मौका देख मैंने बाथरूम के दरवाजे के नीचे की तरफ एक छोटा होल बना दिया था।आप सोच रहे होंगे यह क्या चूतियापंथी हुई, पर इसका मतलब आप को बाद में पता चल जाएगा।दोपहर का एक बजा होगा, रोशनी मेरे कमरे में आई- भईया, आपका खाना लगा दूँ?मैंने कहा- नहीं मेरा सर दर्द हो रहा है.

ब्लू सेक्सी पिक्चर चुदाई वाली

तू मेरा एक काम कर दे। अभी तुरंत जा कर मेडिकल स्टोर से कुछ दवाई (मेडिसिन) लेके आ।मैं आंटी से बोला- आप परेशान मत हो. ऐसा लगा कि उसकी बुर में अन्दर आग लगी हो।मैंने उससे पूछा- ये इतनी गर्म क्यों है?वो बोली- मुझे नहीं मालूम।मैं- एक बात पूछूँ… तुम्हें कैसा लग रहा है?वो बोली- कुछ मत पूछो और ये बताओ कि तुम्हारी उंगली और अन्दर नहीं जा सकती है?मैं उसकी ये बात सुनकर और जोश में आ गया. मेरा मतलब ये था कि किसी इन्सान का इतना बड़ा हथियार कैसे हो सकता है?यह सुन मैंने तुरंत अपना पजामा खोल दिया.

और हम आधा घंटे के बाद ही बाहर आ गए। सच तो यह है भाभी कि मुझे बहुत चुदास चढ़ रही थी और कमल भी खूब गर्म हो रहा था। मैंने छू कर देख था उसका हथियार पैंट में टाइट हो रहा था. उसका रिस्पोंस अच्छा मिलते देख मैं अपना हाथ उसकी कमर से सरकाते हुए उसके चूतड़ों पर ले गया और उन्हें मसलने लगा। उसके मुँह से ‘आह. मैंने खाना खाया और थोड़ी देर टीवी देखा, फिर सोने के लिए कमरे में आ गया।मैंने सोचा एक बार फिर से ऑनलाइन हो कर देखता हूँ। इस बार ऑनलाइन हुआ तो देखा कि मेरे इनबॉक्स में किसी का मैसेज पड़ा था, उसका नाम रिया था, उसने मुझे ‘हाई.

मगर इस चुदाई में क्या मजा आया, कसम से लंड बाग़ बाग हो गया।उस दिन हमने 3 बार चुदाई की और ये चुदाई का दौर एक साल तक चला। इस एक साल में मैंने उसकी बुआ की लड़की की भी चुदाई की, वो कहानी के अगले भाग में लिखूंगा।मैंने बिल्कुल सच्ची सेक्स कहानी लिखी है.

जब उससे रहा नहीं गया, तो उसने मेरे बाल खींचने शुरू कर दिए।अब बिना देर किए मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा और दबा दिया।वो जोर से चिल्लाने लगी और उसकी चूत से खून निकलने लगा। उसकी सील अब तक नहीं टूटी थी। मुझे विश्वास ही नहीं हो रहा था।फिर मैं रुक कर उससे बातें करने लगा और जब वो मेरे साथ बातों में मगन हो गई. मेरा नाम असीम (बदला हुआ) है, छत्तीसगढ़ में रहता हूँ। मैं दिखने में अच्छा हूँ. वैसे भी रात है, इस वक्त तो सब लोग सो रहे हैं।मुझे कुछ इशारा सा लगा, तो मैं उसके साथ उसके घर में चला गया.

तो मैंने उसे अपने चूचों के खूब दर्शन करवाए। फिर वही पेंटी ले कर अपनी कैपरी में डालकर अपनी चुत पर भी रगड़ने लगी।योगी अब भी बाहर खड़ा देख रहा था. थोड़ी देर में सब पता चल जाएगा।मैंने उसे कुर्सी पर बिठा दिया और आँखों पर आलू-खीरा रख कर उसे बैठे रहने को कहा।अब मैं दूसरी तैयारी करने लगा. ’ कह दिया।फिर भाभी ने मुझसे पूछा- कहाँ पर मिलना है?मैंने भाभी से कहा- कहीं पर भी मिल लेंगे।भाभी ने कहा- मेरे पास अपनी कार है, मैं कार में ही तुमसे मिलने आऊँगी।मैंने भाभी को सेक्टर 29 में मिलने को कहा।भाभी ने कहा- ठीक है मैं शाम को 6.

अब मैं बस शिखा के बारे में ही सोच रहा था कि आख़िर वो क्यूँ मुझसे इतना लगाव दिखा रही है।फिर कुछ देर के बाद वो खाना लेकर आई और मुझे खुद खाना खिलाया। जैसे ही खाना खत्म हुआ. !ये कहते हुए उसने अपनी चुची पकड़ कर मेरे मुँह में डाल दी। मैंने उसकी चूचियों को फिर चूसना शुरू किया, उसके तो मानो तन-बदन में आग सी लग गई। वो मेरे सर को बहुत ज़ोर से दबाने लगी और ‘उह आह.

सारा मोहल्ला इकट्ठा करेगी क्या? अभी तो आधा लंड ही घुसा है बहन की लौड़ी. वो अब बिल्कुल ठीक है। मैंने मशीन से उसकी नली खोल दी है। अब कोर्इ परेशानी की बात नहीं है। गीता से घर जाकर पूछ लेना।तभी एक मरीज मेरे क्लीनिक आ गया, कहने लगा- डाक्टर साहब कहाँ गए थे. लेकिन आज नहीं हो सकता।मैं- चलो अच्छा तो नेक्स्ट टाइम आप जब भी आएं तो मुझे कॉल करके आना.

यह तो बोलना पड़ेगा।मैंने सोचा यह तो मान ही नहीं रही है साली। मैंने बोला- ठीक है आंटी बोल दो.

अब वो सिर्फ ब्रा और पेंटी में थीं।वो बोलीं- चलो उधर बेड पर चलते हैं।मैं उनको चूमता हुआ ‘हाँ’ बोला।वो बोलीं- पहले तुम बाहर के गेट पर कुण्डी लगा कर आ जाओ।मैं कुण्डी लगाने चला गया और जैसे ही लौट कर कमरे में अन्दर गया. तो कभी उनके बॉस मेरी मॉम को चोदते।इस तरह उनका सेक्स चालू रहा, करीब 4:30 बजे सुबह तक मॉम और आंटी कई बार चुदीं।तब तक मैं भी सो गई थी।इसके बाद वो लोग अपने घर चले गए। मैं सुबह 8 बजे उठी. तो वो सिहर उठतीं और मेरे बालों को पकड़ कर मुझे वहाँ से हटाने लगतीं।रेखा भाभी अब उत्तेजना के वश में थीं.

?’यह हिंदी सेक्सी स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!वो हंसा और उसने अपना लंड मेरी चूत में ठेल दिया। मुझे दर्द के साथ मजा भी आ रहा था। अगले कुछ पलों के बाद वो धक्के पर धक्के देते हुए मेरी चूत को रौंद रहा था।मैं भी उसके लंड को लील गई थी और अपनी गांड उठाकर उसके लंड को अपनी चूत में अन्दर तक ले रही थी, मेरे मुँह से सिसकारियां निकल रही थीं- आहह. तो हम दोनों के शरीर में आग लग जाती।कई बार मैं मामी को उलटा लिटाकर उनकी चुत में दारू डाल पीता। कभी-कभी मामी ने दो-दो सिगरटें चुत से और गांड से जला कर पीं।हम महीने में एक-दो बार ही नहाते.

मैं आपसे एक बात कहूँ?तो मैंने कहा- हाँ रितु कहो?तो वो बोली- आपका ‘वो’ तो काफी बड़ा है।मैं तो समझ गया कि रितु लंड की बात कर रही है. ये बात मुझे पहले क्यों नहीं बताई?तब उसने कहा- मैंने इसलिए नहीं बताया कि शायद मैं तुम्हें बताती तो तुम उसी वक्त मुझसे मिलने की फरमाइश करते।मैंने उससे कहा- ऐसी कोई बात नहीं है।पर बात तो उसकी भी सही थी।मैंने उससे पूछा- मेरे पास तो तुम्हारा मोबाइल नंबर नहीं है. पर लंड निकल गया था, अतः फिर थूक लगा कर डाला और धीरे-धीरे स्पीड बढ़ा दी।अब मेरा लंड जोश से भर गया था। कैलाश ने भी गांड ढीली करके टांगें चौड़ी कर ली थीं और अपनी गांड उचकाने लगा था।मैं थोड़ा रुका.

क्सक्सक्स वदो

वो जोर से आवाजें निकालने लगीं।भाभी बोलीं- घुसा दो ना अपना पूरा लंड मेरी फुद्दी में.

!मैंने भी अपना मुंह उसकी गांड पर रख दिया और जबान से उसकी गांड को अन्दर तक पेलने लगा।रोशनी भी एक छिनाल के जैसे सिसकारियां भरती रही- आहह. जो मुझसे कह रहे हैं कि मैं उनकी भी स्टोरी को लिख कर पोस्ट करवा दूँ।आज ऐसे ही एक दोस्त ने मुझे अपनी एक स्टोरी लिखने के कहा जिसे मैं लिख कर यहाँ पोस्ट कर रहा हूँ। मेरे दोस्त अजय की इस कहानी को उन्हीं के शब्दों में आप सभी के सामने पेश है।हैलो. और फिर सेक्स करते हैं।मैंने अनजान बनकर मम्मी की चूत पर हाथ रखकर उनसे पूछा- मम्मी.

मुझे चोद दो, अब रहा नहीं जा रहा है।यह सुनते ही मैंने एक जोर का झटका मारा और उसके होंठों को उसकी चीख निकलने से पहले किस करके बन्द करने लगा था. तो वो भी चुदास के नशे में बहने लगीं।मैंने कहा- चलो किसी होटल में रूम लेते हैं।इस पर आंटी ने मना कर दिया।मैंने उनके वक्ष को रगड़ना शुरू किया तो उन पर चुदाई का खुमार चढ़ने लगा। उनका बैग मेरी टांगों पर रखा हुआ था। उसकी आड़ में आंटी ने मेरे दहाड़ते शेर पर अपना हाथ रख दिया और उसे बड़े प्यार से सहलाने लगीं।मैंने उनको फिर एक बार होटल के रूम में चलने को कहा. सेक्सी सपना डांसअब तो वो सिसकारियां भरने लगी और उसने भी अपना हाथ मेरी पैंट के अन्दर डाल दिया, उसका हाथ मेरे लंड को आगे पीछे करने लगा।अब मुझे बहुत मजा आने लगा था।कुछ ही देर में उसकी चुदास भड़क उठी.

आज सपना पूरा हो गया।कुछ मिनट तक चोदने के बाद निहाल बोला- तबसस्सुउम्म. मेरी नींद तो मौसी की चड्डी और ब्रा ने उड़ाई हुई थी।मैं बहुत ही उत्तेजित हो गया था और मुझे किसी को जमकर चोदने की बहुत तेज इच्छा हो रही थी। मैं मन ही मन मौसी को नंगी इमेजिन करने लगा और उनकी चुत चुदाई की कल्पना करने लगा।मैं पूरी तरह से बेकाबू हो चुका था।मौसी अब तक सो चुकी थीं, मेरा बेड काफी बड़ा था.

हम ऐसा नहीं कर सकते।लेकिन मैंने आंटी की एक नहीं सुनी और मैंने उनको फिर से किस किया। इस बार मैं एक हाथ से उनके चूचे को दबाने लगा. पायल आंटी ने जल्दी से अपनी लैगी पहन ली। मैं तो एकदम से डर गया था कि अब क्या करूँ। पायल आंटी का पति बाहर खड़ा है। पायल आंटी ने कुण्डी खोली और हम दोनों बाहर निकल आए. एक गिलास में पीने से प्यार बढ़ता है।वो दोनों एक ही गिलास से दारू पीने लगे।थोड़ी देर में नेहा डॉक्टर साहब की गोदी में जा कर बैठ गई, नेहा डॉक्टर साहब से बोली- बीवी भारी तो नहीं लग रही न?मेरे मुँह से निकल गया- यार साइड में बैठ कर पी लो न!वो बोली- तुझको बड़ी पीछे मिर्ची लग रही है फुसफुस.

ममेरी बहन की और भाभी की चूत की चुदाई-1तभी दरवाजे पर खटखट हुई…पायल ने सब कुछ छोड़ कर पीछे हट अपनी निक्कर ठीक कर ली।‘कौन है?’ मैंने अपना पप्पू पजामे डाल कर पूछा।‘कोई नहीं… मैं हूँ नेहा…’मैंने झट पलट कर दरवाज़ा खोल दिया… नेहा भाभी अंदर आ गई और बोली- अभी मम्मी पड़ोस में गई हैं प्रसाद देने. तब आंटी ने मुझे बुलाया और मुस्कुरा कर कहा- आज रात खाना मेरे घर खाने आ जाना।मैंने ‘हाँ’ कर दी और मैं कमरे पर चला गया।रात के 8 बजे आंटी ने मुझे आवाज़ दी और मैं उनके घर चला गया। तभी मैंने आंटी से पूछा- आज आपकी माँ नहीं दिख रही हैं. ; मैंने उनकी चूची मसल डाली।पायल भाभी उछल पड़ी- हाय… मर गई साले, मसल डाला… उफ़ जालिम, ऐसे तो अपनी चूत का पानी निकल जाएगा राजा! इसीलिए तो हम दोनों अच्छे दोस्त हैं.

उनके पूरे होंठों को मैंने अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा।चाची ने घुटी सी आवाज में कहा- ऊन्न.

मैं शिप्रा मेम के साथ उनके डिपार्टमेंट के अन्दर रूम में था और उनकी चूत में उंगली कर रहा था।अब आगे. अब चल रंडी की तरह ज़मीन पर बैठ जा और मेरे सोते हुए लंड को साफ करके खड़ा करना शुरू कर दे.

तो हम उससे आगे कुछ कर भी नहीं सकते थे।उन दो घंटों तक तो हमारा यही खेल चलता रहा. मैं भी थोड़ा हंसकर, अपना सर झुका कर मोबाइल में खेलते हुए बैठ गया।गाड़ी स्टेशन छोड़कर निकल चुकी थी. आज सपना पूरा हो गया।कुछ मिनट तक चोदने के बाद निहाल बोला- तबसस्सुउम्म.

इसलिए मैंने बोला- मैं अपने रूम जा कर मैसेज कर दूँगा।उसने कहा- ठीक है।फिर मैं अपने रूम पर चला गया। वहाँ जाकर नहाने के बाद अपने बिस्तर पर सो गया। इतने में मुझे याद आया कि मैसेज करना है। फिर मैंने फेसबुक में मैसेज कर दिया. हमें इस बात का भान ही नहीं हुआ।अगले दस मिनट में मैं पूरी नंगी स्नेहा के ऊपर बिल्कुल नंगा पड़ा था, उसने अपनी बुर खोल दी और कहने लगी- भैया चोद दो मुझे अब रहा नहीं जाता. तो हम अलग हो गए।वो बोला- मैं अभी आता हूँ!और वो बाथरूम में चला गया।उसके जाते ही हम दोनों ने एक बार एक दूसरे की आँखों में देखा और फिर एक साथ एक दूसरे पर टूट पड़े.

बीएफ फिल्म सेक्सी भेजो मेरा फ़ोन यहीं कहीं झाड़ियों में गिर गया है।मैंने कहा- पहले आप खड़ी तो हो जाइए।मैंने उनको सहारा देकर खड़ा किया और कार में बिठाया।फिर मैंने कहा- मेरा फ़ोन चार्ज नहीं है, आप कहो तो मैं आपको आपके घर तक पहुँचा सकता हूँ, मुझे ड्राइविंग आती है।रवीना ने कुछ सोचने के बाद कहा- ठीक है।अब हम रवाना हो चुके थे। फिर उन्होंने मुझसे मेरा नाम पूछा, तो मैंने कहा- जी मेरा नाम आनन्द है।‘हम्म. अब तो मैं उसे हर रोज कॉल करता और पूछता कि पढ़ाई में कोई दिक्कत तो नहीं है.

वीडियो में सेक्सी चाहिए

रेखा भाभी उससे दुगनी ताकत से मेरे सिर को और अधिक अपनी योनि पर दबाने लगीं।भाभी की योनि रह-रह कर मेरे चेहरे पर पानी उगलने लगी जैसे कि उनकी योनि में कोई सैलाब आ गया हो, योनिरस से मेरा सारा चेहरा भीग गया।रेखा भाभी अब शाँत हो गई थीं मगर फिर भी काफी देर तक वो ऐसे ही मेरे सिर को अपनी जाँघों के बीच दबाए पड़ी रहीं। रेखा भाभी का काम हो गया था. जल्दी से उतार दे।वो डर गई और कपड़े उतारने लगी, कुरते के नीचे उसने ब्रा पहनी ही नहीं थी। ऊपर से नंगी होने के बाद मैंने इशारे से उसे मेरे बगल में खींचा। अपने दोनों मम्मों को अपने दोनों हाथों से छुपाने की नाकाम कोशिश करती हुई वो मेरे पास आ गई।मैंने उसे अपने बांहों में भर लिया और सहलाया। जब मैं उसके मम्मे चूसने लगा. जब मैं 19 साल का था और हमारे घर के पड़ोस में एक नया शादीशुदा जोड़ा रहने आया था। भैया सूरज और सुमति भाभी की शादी को अभी एक साल ही हुआ था। मैं उन्हें भैया-भाभी ही कहता था।सूरज भैया काम के सिलसिले में अधिकाँश बाहर रहते थे और सुमति भाभी एक हाउसवाइफ की तरह घर में ही रहती थीं।सुमति भाभी भी साली एकदम सेक्सी माल थीं.

’ की आवाज़ निकली और वो मेरे साथ चिपक गई।अब मैंने मौका देखते हुए भाभी के ब्लाउज के हुक्स खोल दिए। अन्दर वो काली ब्रा में थी।भाभी थोड़ा सा शर्मा रही थी।मैंने उससे कहा- असली मजा लेना है तो शर्म मत करो।इसके बाद भाभी ने हँस कर खुद ही अपनी ब्रा खोल दी, मैंने उसके मम्मों से दूध पीना शुरू कर दिया और बीच-बीच में निप्पल को दांत से काट रहा था।भाभी के मुँह से ‘आअह. इतना अच्छा लग रहा है… गया… गया!’रवि ने जोर से झटका मारा और उसकी गर्म गर्म पिचकारी निकल कर नोरा की स्कर्ट के नीचे जांघों पर दूर तक गीला कर गई।नोरा ने रस अपनी जांघों पर मल दिया- वाह मेरे राजा… वाह. सेक्सी वीडियो मम्मी की चुदाईअब बताओ?मैंने फिर से उसकी सुन्दरता के बारे में लिखा और साथ ही कहा- आपकी हाइट भी अच्छी है और ड्रेसिंग भी अच्छी करती हो।उसने कहा- और?मैंने कहा- आपके लम्बे बाल बहुत अच्छे लगते हैं।इसके बाद मैंने पूछा- अब मेरे बारे में बताओ।उसने कहा- एक तो आपकी हाइट बहुत अच्छी है, आपके लम्बे हाथ और लम्बी उंगलियां बहुत अच्छी लगती हैं और आप बातें बहुत मजे की करते हैं.

मुझे बहुत ज़ोर से पेशाब आ रही है।पायल आंटी ने बाथरूम का डोर बन्द कर दिया और अपनी कुरती को ऊपर करके अपनी लैगी के दोनों तरफ हाथ डाल कर उसे उतारने लगीं। मेरे फोन की टॉर्च की रोशनी पायल आंटी के ऊपर थी। मैंने जल्दी से वहाँ से टॉर्च की रोशनी हटा कर दूसरी तरफ कर दी।पायल आंटी- अनमोल.

और इस बर्थ पर मेरे साथ जो महिला ट्रेवल करने वाली थी, वो अपने पति के साथ आई हुई थी।ऐन मौके पर उसने अपनी बर्थ एक्सचेंज कर ली। अब वो अपने पति की बर्थ पर चली गई और मेरे बर्थ पर एक लड़के को भेज दिया।जब मैंने उसको देखा तो बस देखती ही रह गई वो एक मिलिट्री अफसर था। उसकी उम्र लगभग 24-25 की होगी। वो युवक लम्बा और हैंडसम था।उसने मुझे ‘हाय. मैंने अपने लंड को उनकी चुत में जल्दी से घुसेड़ दिया। वो भी ‘ओह्ह अह्हह.

कि वो अब क्या करें। भाभी वहीं पर बुत सी बनकर खड़ी हो गईं, उम्म्ह… अहह… हय… याह… तब तक मैं भाभी के रूप को आँखों से पीता रहा।फिर रेखा भाभी जल्दी से पलट कर दूसरे कमरे में चली गईं। भाभी के दूसरे कमरे में चले जाने के बाद भी मैं भाभी के रूप में ही खोया रहा।सच में रेखा भाभी इस रूप में कयामत लग रही थीं. तो हम सोचेंगे।वो उदास सी हो गई और टेबल पर बिल के पैसे रख चली गई।मैं भी चला आया।मैं रात भर सोचता रहा था कि मैंने उसे ऐसा क्या कह दिया।अगली सुबह वो मुझे वर्कशॉप में मिली और मैं उससे बात करने गया. चुत पर हल्के रेशमी बाल थे। मैंने झट से अपने मुँह को नंगी चुत पर लगाया और चुत चाटना शुरू कर दिया। साथ ही अपने हाथों से भाभी की चुत को फैला कर चुत के बीच में जीभ से चाटने लगा।भाभी ने भी अपनी चूत पसार दी और सिसियाने लगीं- आहह उईसस्स.

जल्दी से पेल दो।मुझे भी सही लगा। मैं जैसे ही उसकी टाँगों के बीच में आया.

मैं एक औसत सांवले शरीर का हूँ, लेकिन मेरी आँखें और स्माइल इतनी सच्ची रहती हैं कि ये स्टेज से लड़कियों को बहुत आकर्षित करती हैं। ऊपर वाले ने मेरा चेहरा भी काफी आकर्षक दिया है. पर पहले दरवाजे को कड़ी लगा दो।मैंने लाइट ऑन की और दरवाजे की कड़ी लगा दी। मैं फिर बाजी के पास आ गया, उनकी नाइटी उतार दी, अब वो सिर्फ़ ब्रा में थीं।बाजी के दो बड़े-बड़े कबूतर उस छोटी सी ब्रा की कैद से बाहर आना चाहते थे। मैंने ब्रा उतार दी और बाजी के मम्मे एकदम से उछलने लगे ‘उम्म्म्म. तो इस वजह से अब उनमें वो दम नहीं रह गया है।आंटी की बातें सुनीं तो मेरी तो बांछें खिल गईं। अब मुझे क्या फ़र्क पड़ता.

सेक्सी वीडियो चूत चुदाई चूतपर उनका शरीर अभी भी कसा हुआ है। उनके स्तन बहुत बड़े और सुडौल हैं और गांड तो बहुत ही मस्त और मोटी है।मेरी मौसी के दो बच्चे हैं. कभी उनके कान के पीछे अपने होंठ को रगड़ता।यह मेरा किसी लड़की या औरत के साथ पहला अनुभव था।हालांकि मैंने काफी सारी सेक्स कहानियाँ तथा बहुत ब्लू-फिल्म भी देख रखी थीं और ये सब करते हुए मुझे बहुत मजा भी आ रहा था लेकिन भाभी अभी भी चुपचाप बैठी थीं।मैंने अपने हरकतों को रोकते हुए भाभी से पूछा- क्या हुआ भाभी.

किस करते हुए सेक्सी वीडियो

फिर बाद में चूसने लगी।उसके गर्म मुँह में मेरा लंड आग का गोला बन गया। मैं जन्नत की सैर कर रहा था ‘आह उहह. तब मुझे कुछ अजीब सा लग रहा था। मैं मन ही मन में ख्याल आने लगे कि इतनी हसीन लड़की के बारे में मैंने पहले कभी क्यों नहीं सोचा!उनका फिगर तो मैंने मापा नहीं, लेकिन अंजलि मैडम फ़िल्मी अदाकारा काजल अग्रवाल से किसी भी मामले में कम नहीं लग रही थीं। उनके गालों पर बालों की एक लट. नहीं, मैं तो वो बस सोने के लिये…’ मैंने अपनी बात पूरी भी नहीं कही थी की.

मैं अभी ऐसे चिल्ला ही रहा था कि मेरी गांड की तरफ से कुछ झटके आने लगे। मैं अभी भी चीख रहा था- जोर से. आप मुझे मेल कर सकते हैं।[emailprotected]आप मुझे इंस्टाग्राम पर भी जोड़ सकते हैं. तो वो सिहर उठतीं और मेरे बालों को पकड़ कर मुझे वहाँ से हटाने लगतीं।रेखा भाभी अब उत्तेजना के वश में थीं.

तो मैंने उसकी कलाई को पकड़ लिया और बोला- साली आज की रात सभी एक साथ नहायेंगे।वो हँसते हुए बोली- हाँ जरूर. मैं अब रूकने वाला नहीं था। मैं अपना हाथ उनकी चुत की तरफ ले गया।दोस्तों मुझे डर भी बहुत लग रहा था. इतने करीब से कभी नहीं देखा।पायल आंटी ने हँसते हुए कहा- तो आज देख ले अच्छे से.

!मैंने भाभी की आँखों से भी पट्टी हटा दी और हाथ भी खोल दिए।फिर 10-15 मिनट हम एक-दूसरे की बांहों में ही पड़े रहे।फिर भाभी बाथरूम जाने के लिए उठीं, तो वे ठीक से चल भी नहीं पा रही थीं।मैं- क्या हुआ रंडी. ’ करने लगी।मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकाला और उसकी गांड के होल पर फिट कर दिया और जोर से शॉट मारा, तो मानो उसकी जान निकल गई हो।उसकी आँखों में आंसू आ गए लेकिन मैं नहीं माना और दोबारा से एक और जोरदार शॉट मार दिया।मेरे लंड में भी दर्द होने लगा था। वो ‘आअह्ह.

तो कुछ ही देर बाद मैं उसके मुँह में ही अपना माल छोड़ने को हो गया। मैंने उसे पीने का इशारा किया.

तब मैंने उसे अपने पास खींचा और उसको किस करने लगा।वो भी मेरा साथ दे रही थी… हम लोग लगभग दस मिनट तक किस करते रहे।उसके बाद मैंने उसकी चूचियों को दबाने के लिए उन पर हाथ रखा. भाभी की चुदाई की सेक्सी कहानियांपर यह कहानी असल में मुझ पर आधारित नहीं है। ऐसी घटना मेरे साथ नहीं घटी. बीपी पिक्चर गुजराती सेक्सी वीडियोइस धमाधम चुदाई में उन्होंने 3 बार पानी छोड़ा थ़ा।बाद में दोपहर में मैं वोदका लाया. चार-पाँच धक्के में ही मेरी पिचकारी छूट गई और मैं साधना के ऊपर ही गिर गया।उसके बाद मैंने पूरे हफ्ते रात-दिन उसे खूब चोदा और हम दोनों पति-पत्नी की तरह रहने लगे।तो दोस्तो, यह थी मेरी सच्ची सेक्सी स्टोरी, प्लीज़ मेरा उत्साह बढ़ाने के लिए मुझे इस सेक्सी स्टोरी के लिए मेल ज़रूर करें, ताकि मैं आपके लिए अपने बहुत सारे अनुभव साझा कर सकूँ।[emailprotected].

चल अब इस मस्त गर्म-गर्म कड़क माल से तेरा निकालती हूँ!’‘हाय राम राजू, तेरी यह बचपन की गर्लफ्रेंड तो सच में बहुत मस्ती में है। और मुझे भी बहुत मजा आ रहा है.

उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ करते हुए सिसिया रही थी। मैं उसकी गर्दन पर चूमे जा रहा था।कुछ मिनट तक ऐसा ही चलता रहा, फ़िर मैंने उसको सीधा किया। उसके ब्लाउज को खोल दिया। वो काली ब्रा पहने हुए थी. फिर अब तो तीन-चार महीनों में कभी-कभी भगवान की कृपा से मेरे सूखे खेत को पानी की बूंद नसीब हो जाती थी। सबसे खास बात ये थी कि मुझे खुद भी इस बीच सेक्स के लिए बहुत ज्यादा ललक नहीं रहती या और शारीरिक क्रियाओं का मन नहीं करता।अब शादी के डेढ़ साल बीत गए और बच्चे का कोई पता नहीं था. ’ बोल रही थीं, पर मैं जान गया था कि ये ‘ना’ नहीं है, ये बस ‘करता जा.

जो अब बिल्कुल खड़ा हो गया था। नेहा उनकी लंड की खाल को आगे-पीछे कर रही थी।नेहा मेरी खाल इतनी देर आगे-पीछे की होती तो मेरा लंड तो अब तक बह जाता।डॉक्टर साहब ने नेहा की ब्रा की डोरी खोल दी, अब वो ऊपर पूरी नंगी हो गई थी, अब उसके शरीर पर केवल डोरी वाली पेंटी रह गई थी।नेहा नीचे गई और उसने डॉक्टर साहब की निक्कर और फ्रेंची निकाल दी। उसने डॉक्टर साहब की फ्रेंची मेरी तरफ उछाल दी और हँसते हुए बोली- ले. वो गर्म होकर झड़ गई। उसकी गर्मी से मैं भी पिघल गया, एक झटके के साथ ही मैंने अपना सारा वीर्य अपनी बहन की चूत में उड़ेल दिया. तो मैंने धीरे से उनकी तरफ फिर अपना हाथ बढ़ा दिया।मगर अब वो मेरे हाथ की पहुँच से बाहर थीं। रेखा भाभी सुमन के बिल्कुल पास होकर सो रही थीं.

किन्नर की चुदाई का वीडियो

और बताती भी क्या कि यही वह आटो चालक है जो मुझे छेड़ता था या जिसकी हम लोगों ने पिटाई और शिकायत की थी।वो भी मुझे पहचान चुका था. मैं तो घर पर हूँ और सड़का मार कर मजा लेने वाला हूँ।’‘हाय राम सच में तू घर पर है. कि मुझसे रुका ही नहीं जा रहा था। मैं ये मौका कैसे छोड़ सकता था कि उसको पूरी तरह ना चूसूं!मैंने अब उसकी जाँघों पर किस करना शुरू कर दिया.

गई।’जैसे ही सरला भाभी ने अपने चूतड़ उठाए, चूत कसकर और अकड़ा कर पानी छोड़ा.

क्योंकि मुझे अकेले सोने से डर लगता है।मैंने ‘हाँ’ बोला और मामी रूम में चली गईं। अब मैं सोचने लगा कि आज तो लॉटरी लग गई.

या जानवर का!उसकी इस बात पर हम दोनों ही हंस दिए। उसने हँस कर मेरी तरफ जैसे ही अपना मुँह थोड़ा उठाया. पर मैंने लड़खड़ाती हुई आवाज में कहा- यह क्या कर रही हो?वो अपने मम्मों को मेरी तरफ तानते हुए बोली- अब देखो और बताओ कि ये क्या साइज है?मैंने उसकी चूचियों को ब्रा के ऊपर से छुआ तो वाकयी 34 इंच की चूचियां लगीं।जब मैंने उसके चूचों को छुआ तो मुझे वो बड़े नर्म और कोमल से लगे।मैंने हल्के से एक चूची को दबा दिया. सेक्सी चोदने वाली व्हिडिओअब जनाब मेरी तो चांदी हो गई।तभी एमसी साहब के जाते ही झट से सुमन आई और बोली- तुमसे मैंने ये पीसी अपने लिए बनवाया है.

’ की आवाज़ आने लगी। सरू साली थकती ही नहीं थी, बस लंड चूसने की आवाज़ आ रही थी।मैं बहुत तड़प रहा था। मेरे लंड में सनसनी हो रही थी। मैं कहीं का न रहा। अब तो मैं खड़ा भी नहीं रह सकता था ‘ओह्ह्ह्हह. और साले तूने उसको फुसला कर उसको ठोकने भी आ गया।मैं घबराया, मुझे बात बिगड़ती दिख रही थी।माया- नहीं सरोज. क्योंकि शादी में जाने के लिए कोई और नहीं है।मैं तैयार हो गया और शाम को अपनी बाइक पर चाची के घर पहुँच गया। कुछ देर बाद मैं चाची को लेकर निकल पड़ा और कुछ देर बाद हम पहुँच गए।वहाँ पहुँचने पर चाची की बेस्ट फ्रेंड ने हमारा वेलकम किया। उनके साथ एक आंटी और थीं.

उसने फौरन अपना हाथ सर के फड़फड़ाते लंड पर रख दिया और उनकी पैंट उतारने लगा।सर का लौड़ा उनके अंडरवियर में से निकाल कर अपने मुँह में चूसने के लिए ले लिया। सर मस्त हो गए. क्या हाल है मेरे दोस्तो… मैं जानता हूँ कि यूँ अचानक से कहानी को बीच में छोड़कर ग़ायब हो जाने से मेरे कई पाठक मुझसे ख़फ़ा हैं.

हमें ये सब नहीं करना चाहिए।मैंने उसकी एक बात ना सुनी और उससे लिपटा रहा।उसने भी कुछ देर बाद मेरा विरोध करना छोड़ दिया और वो भी मेरा साथ देने लगी। हम दोनों ने लगभग 6-7 मिनट तक किस किया। फिर मैंने उसकी गर्दन पर किस किया.

मुझे जरूर लिखिएगा।[emailprotected]पड़ोसन भाभी की चुदाई की कहानी जारी है।. और मेरे लोअर को नीचे खींचने लगी। उसकी चुत गीली हो चुकी थी और चुत का पानी मेरे हाथों में को भी गीला कर चुका था।फिर मैंने अपना लोअर और अंडरवियर निकाल दिया. तो मैंने उसकी कलाई को पकड़ लिया और बोला- साली आज की रात सभी एक साथ नहायेंगे।वो हँसते हुए बोली- हाँ जरूर.

मां बेटे का सेक्सी वीडियो बताइए आंटी तुरंत घोड़ी बन गईं। मैंने उनकी गांड के पीछे से लंड लगाकर उनकी गांड मारने लगा। आंटी की गांड का होल बहुत छोटा था. क्योंकि वो हर बार कहते हैं कि वो अभी इस बात के लिए तैयार नहीं हैं और इस कारण अब हम दोनों की मैरिड लाइफ बहुत अधिक मधुर नहीं रही है।मुझे लगा कि यह सही मौका है, मैंने उनका हाथ अपने हाथों में ले लिया और कहा- कोई बात नहीं.

वो एकदम से चिहुंक गई और उसने मुझे लंड नहीं डालने दिया। उसे प्रेग्नेंट होने का डर था।मैं भी बेवकूफ था. ब्रा में फंसी उनकी चूचियां और भी मस्त लग रही थीं। मैं ब्रा के ऊपर से दूध की टोंटी चूसने लगा और दांतों से काटने लगा. उस बदमाश ने तेरी ली या नहीं?सरला ये सब नयना से फुसफुसा कर पूछ रही थीं।सरला नयना से चिपक कर हमारे केबिन में खड़ी थीं। मैं ऑफिस के काम से उस दिन बाहर था और यह सब बातें नयना ने मुझे बाद में बताई थीं।‘हाय राम भाभी.

ஹிந்தி செக்ஸ் ஃபிலிம்

’ बोला और कुछ पैसे दिए।मैंने पैसे लेने से मना कर दिया और स्टेशन को चल दिया।यह थी मेरी सच्ची सेक्स कहानी, मुझे आपके मेल्स का इन्तजार रहेगा। आपको कहानी कैसी लगी. थैंक यू जान।थोड़ी देर बाद संजय ने कपड़े पहने और मेघा वापिस मेरे कमरे में आकर अपने कपड़े पहनने लगी।उसने देखा कि मेरा लंड पूरा खड़ा है तो उसने इशारे से पूछा- तुमको कैसा लगा?मैंने लंड हिला कर कहा- मस्त था. ’ एक शायराना अंदाज़ में मैंने उसके गालों को सहलाते हुए कहा और धीरे से आँख मार दी.

निकाल डाला यार सारा रस!‘मजा तो आया ना मेरी जान सोनिया रानी?’ कमल ने उसके अपने गीले होटों से उसके होंट चूम लिये. तब आंटी ने मुझे बुलाया और मुस्कुरा कर कहा- आज रात खाना मेरे घर खाने आ जाना।मैंने ‘हाँ’ कर दी और मैं कमरे पर चला गया।रात के 8 बजे आंटी ने मुझे आवाज़ दी और मैं उनके घर चला गया। तभी मैंने आंटी से पूछा- आज आपकी माँ नहीं दिख रही हैं.

मुझे पसंद भी था, वो मेरे लंड को हिला रहा था, मुझे भी मजा आ रहा था।थोड़ी देर बाद वो अपना लंड मेरी गांड में डालने लगा.

तो मैं प्रेग्नेंट होऊँगी ही नहीं और कुछ होने का डर ही नहीं है। हां तुझे जरूर होगा. वो कैसे?मैंने कहा- भाभी मैं आपसे मिलना चाहता हूँ, मिल कर ही बताऊँगा।उन्होंने कहा- तो मना किसने किया है. मैंने अपनी उंगली चूत की धारी में चला दी और दाना रगड़ दिया।‘हाय सी… उफ़….

तो साबुन आँखों में जाने से मेरी आवाजें आ रही होंगी मेरी माँ रुक जा. मेरे तो हाथ की मुठ्ठी में भी नहीं आ रहा है।मैंने कहा- थोड़ा नजदीक से देखना नहीं चाहोगी?ये कहते ही मैंने उसे बिस्तर के कोने पर बिठा दिया और अब मेरा लंड बिल्कुल उसके मुंह के सामने था।वो मेरा मतलब समझ गई थी।रोशनी- बहाने क्यों बनाते हो. इसलिए रंगीन अखबार आया था, उसमें फिल्मी दुनिया की खबरें आती थीं।आज के अखबार में मल्लिका शेरावत की सेक्सी फोटो छपी थी, मैं अभी देख ही रहा था कि चाची आ गईं और उन्होंने मुझसे पूछा- यह तेरी फेवरेट हीरोइन है क्या?मैंने कहा- नहीं तो.

वो सिसकारियां लेने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह…मैं उनके होंठों को चूमने लगा, वो भी मेरा साथ दे रही थीं.

बीएफ फिल्म सेक्सी भेजो: मेरा नाम अमन है, मैं जयपुर का रहने वाला हूँ।अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली सेक्स स्टोरी है।मेरी माँ का नाम सुनीता है. बहुत गर्म है यार!सरला भाभी अपने आप धीरे-धीरे अपने चूतड़ों हिला कर चुदाई करते हुए उसके ऊपर झुक कर अपनी चूचियों को कमल के सीने पर रगड़ रही थीं- हाय…राम कमल, यह तो बहुत कड़क हो रहा है यार.

अच्छी खिलाड़िन है।वो मेरी आँखों में सेक्सी अंदाज़ से देखती हुई बोली- क्यों क्या मुझे कम समझ रहे थे साले?मैंने कहा- नहीं यार, ऐसी बात नहीं. पर वो मेरी पकड़ छूट नहीं पाईं।कुछ ही देर में उनका विरोध ढीला पड़ गया और वो मुझे चूमने में साथ देने लगीं। अब मैं अपना हाथ उनकी गोलाइयों पर ले आया और उनके दूध सहलाने लगा. देखना दर्द नहीं होगा।उनके लंड का सुपारा कब मेरी चूत में अन्दर घुस गया.

चूत… लंड… चुदाई… चोद… डाल… फाड़ दे। करने को कर रहा है।उसकी बात सुन कर और शर्म देख कर रवि हंस रहा था- क्या भाभी, तुझे इस तरह शर्म करने की जरूरत नहीं है… उफ़… आप इतनी सुन्दर और सेक्सी लग रही हो।रवि सामने आकर अपना खड़ा मोटा तगड़ा लंड का टॉप उसकी बड़ी सी चूत के मोटे मोटे होठों के बीच रगड़ने लगा।नोरा ख़ुशी से मचलने लगी- हाई… सीई… उह्ह्ह… यस रवि… यस रगड़ दे जोर से… उफ़… मर… गई.

जो करना है उसे कहीं और भी तो करो।पता नहीं उसे क्या हुआ, उसने तुरंत अपने लॉकर से चाभी निकाली और अपने डिपार्टमेंट का मेन दरवाज़ा अन्दर से लॉक कर दिया।मैंने पूछा- यह क्या कर रही हो?इससे पहले कि मैं कुछ बोल पाता. मैं गुजरात का रहने वाला हूँ।मैं आप सभी के लिए अपनी एक नई कहानी लिख रहा हूँ. ’वो पागल हो रही थीं।मैंने सिर्फ़ अंडरवियर पहन रखी थी, झट से उतार दी, मेरा फनफनाता लम्बा लंड बाहर आया.