मराठी बीएफ बीएफ

छवि स्रोत,जंगल लव सेक्सी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो पापा: मराठी बीएफ बीएफ, मैंने आंटी के पास जाकर उनसे बोला कि आंटी मैं घर ही जा रहा हूँ, आप मेरी बाईक पर बैठ जाइए … मैं आपको घर छोड़ देता हूँ.

हिंदी सेक्स हॉट बीएफ

कुछ देर यूं ही चोदने के बाद मैंने दीदी को घोड़ी बना दिया और दीदी की मस्त गांड पर चपत लगाकर पीछे से उनकी गांड में लंड घुसा कर जोरों से कमर पकड़कर धक्के मारने लगा. हिंदी बीएफ पिक्चर सेक्सी फिल्मजैसा मैंने पहले वर्णित किया था वो अनुभव मुझे यौन सम्बन्ध से अधिक दो व्यस्कों के मध्य कोई खेल लगा.

मुझे ऐसा इसलिए लग रहा था कि मेरी चादर में लंड खड़ा था और चादर तनी हुई थी. शादीशुदा औरत की बीएफ सेक्सीदो मिनट बाद रोशन लाल ने लंड बाहर निकाला, तब तक अलीज़ा की चूत में पानी घुस चुका था.

कुछ देर हम लेटे रहे और उसके बाद हमने फिर से एक राउंड चुदाई का और खेला.मराठी बीएफ बीएफ: तो मैंने कहा- चाची मेरा होने वाला है … रस कहां निकालूं?उन्होंने कहा- अन्दर ही निकाल दे … बड़े दिनों बाद ही सही, पर मेरी चूत को शांति मिल जाएगी.

काफी देर तक वो मेरा लंड ऐसे ही चूसती रही एक पोर्न स्टार की तरह से मेरे लंड को न केवल चूस रही थी … बल्कि मेरी गोटियों को भी चूस रही थी.मेरे मुँह से लार टपक रही थी।ये देखकर वो मुस्कुरा दी और कहा- मेरा दूसरा सवाल ये है कि मेरा साइज क्या है मेरे ब्रा कप के साथ?मैं हँसा और कहा- आपकी गांड 36 इंच आपकी कमर 26 और दूध 34 के.

अफ्रीका का बीएफ - मराठी बीएफ बीएफ

थोड़ी देर बाद मैंने महसूस किया कि मेरे लंड के साथ कुछ हरकत हो रही है.पर कोमल दीदी की चूचियां तो ऐसे हिलते हुए दिख रही थीं, जैसे उन्होंने ब्रा ही ना पहनी हो.

जब मेरी हसीन मामी अपना एक पैर आगे करके नल पर पानी भरती थीं … तो पीछे से देखने के बाद मेरा लंड यही कहता था कि इसी पोजीशन पर अपना लंड मामी की साड़ी उठाकर उनके गांड को फैला कर डाल दूँ, पर मामा की वजह से कुछ कर नहीं पर रहा था. मराठी बीएफ बीएफ वो तड़फ क्या थी, इसे जरा रोक कर मैं पहले आपको आंटी के बारे में बता देता हूँ.

मुझे पूरा यकीन था कि सबके सोने के बाद कुछ न कुछ कांड जरूर होने वाला है.

मराठी बीएफ बीएफ?

दीदी इस समय बेशर्म होकर अपने पति के सामने अपने भाई के लंड को सहला रही थीं. आंटी ने मुस्करा कर अपना मुंह खोला और मेरे लंड को अपने मुंह में भर कर चूसने लगी. मैंने उसको रोका तो उसने मेरे हाथ झटक दिये और अगले ही पल मेरी पजामी खींच दी.

पूरी तरह टाइट और आसमान को सलामी देते हुए मेरे लंड ने हुंकार भरना शुरू कर दी थी. उन्होंने भी मुझे चूमना शुरू कर दिया और हमारा चुदाई का खेल शुरू हो गया. अकेले में बातचीत के समय मुझे ऐसा लगा कि जैसे गुड़िया बुआ मुझे लाइन दे रही हैं.

साथ ही एक हाथ आगे ले जा कर उसकी चूत की क्लिट को रगड़ने लगा।इस तरह 4-5 पोजिशन बदल बदल कर मैंने उसे 25 मिनट तक चोदा। इतने में 2 बार और झड़ चुकी थी. मैं समझ गई कि मेरी चूत अब परमानेंटली फैल गई है।वॉशरूम से बाहर आकर यह बात मैंने अपने दोनों प्रेमियों को बताई।नीरव ने मेरी पेंटी खिसका कर देखा और मेरे छेद का फोटो लिया और मुझे दिखाया।मैंने फोटो में देखा कि मेरी चूत का दरवाजा खुल गया है।अब मैंने मुस्कुरा कर अपने दोनों प्रेमियों को बोला- अब तो मेरी पूरी फट गई है. मैंने पूछा, तो बोलीं- तुम्हारा मुँह गंदा हो गया है … अब ऐसे कभी मत करना … मुझे अच्छा नहीं लगता.

मैंने उसको पांच मिनट तक ऐसे ही चोदा और फिर उसको कुतिया की पोज में कर दिया. मैं मंजू के सामने अपना तना हुआ लंड खोले खड़ा था और वो मेरे लंड को देख कर आंखें फाड़े और मुँह खोले ठगी सी खड़ी थी.

खाना होने के बाद मैंने पूछा- अब बताइए?उन्होंने कहा कि मैं तुमसे जो बात करूंगी … वादा करो, किसी को नहीं बताओगे … और तुम मेरी मदद करोगे.

मैंने दीदी को झुका कर चूत में लंड पेल दिया और जोर जोर से बड़ी दीदी की चुदाई करने लगा.

जिस आएगी, उस दिन बस अंदर घुसते ही सबसे पहले यही काम निपटाऊँगा। कमाल है तुम इतने दिन कैसे बिता लेती हो पति के प्यार के बिना?मैंने उदास हो कर कहा- क्या बताऊँ, आपको?वो बोले- दोस्त बनी हो तो दोस्त से कैसी शर्म?मैंने कहा- नहीं जाने दीजिये।वो बोले- मैं तुम्हें अपनी एक राज़ की बात बताऊँ. और देखते ही देखते लंड को अम्मी की चूत में पूरा उतार दिया और जोर जोर से धक्के मारने लगा. फिर मैं पूरा नंगा होकर कंडोम पहनकर दीदी के ऊपर चढ़कर किस उन्हें करने लगा.

फिर वो शांत हुई तो मैंने एक आखिरी धक्का मारा और पूरा लंड उसकी चूत में उतार दिया. राज- भाभी आज आप हमारी रंडी बनने वाली हो … पता है न आपको!मैं- हां, मेरा शिबू मुझे रंडी बनाना चाहता है … तो मैं भी रंडी बनने को तैयार हूं. पर गले में पड़ा मंगलसूत्र ने और सिंदूर ने यकीन दिलाया कि यह सिर्फ एक वहम है।हमने साथ में कॉफी पी और मॉल में घूमे.

मैंने अन्दर आते ही उनसे चिपक गया और उन्हें अपनी बांहों में कसके पकड़ लिया.

दोनों के बदन पसीने से गीले हो गये थे और फिर पापा तेज तेज सिसकारियों की आवाजें करते हुए मेरी बीवी की चूत में झड़ने लगे. उसके मुंह से अह्हह्ह … हुम्म … अम्म … आहा … करके सिसकारियां निकलने लगीं. मैं कॉन्डम लेने गया तो आंटी सिसकारते हुए चूत में लंड डालने के मिन्नत कर रही थी.

इस पर वो नाराज होते हुए बोली- पागल है क्या तू? किसी ने देख लिया तो?फिर मैं पीछे हो गया. थोड़ी देर बाद वो फिर गर्म हो गईं और उनके मुँह से सिसकारियां निकलने लगीं. फिर अगर कुछ लोग कर भी लेते हैं तो उसको खुल कर सबके सामने नहीं ला पाते हैं और इनमें से कई लोग ओपन हो भी जाते हैं.

मैं उठ कर अमिता के पास पहुंचा, जब तक चार लोग सीट कूद कर सामने की सीट पर आ गए.

तभी जीजा जी भी अपने शर्ट पैंट उतार कर स्विमिंग पूल में आ गए और वे दीदी के पास आकर उन्हें किस करने लगे. आंटी जल्द ही तड़प उठीं और आवाज निकालने लगीं- आह गोलू … आआईईई … मैं मर जाऊंगी … जल्दी करो.

मराठी बीएफ बीएफ मौसी भी कुछ देर बाद बाथरूम की लाइट ऑफ करके बिस्तर पर सोने के लिए आ गईं. दोस्तो, मेरी यह सच्ची Xxx गर्ल सेक्स स्टोरी आपको कैसी लगी, मुझे इसके बारे में जरूर बताइयेगा.

मराठी बीएफ बीएफ 14 फरवरी का दिन था और मैं सुमित से मिलने के लिए काफी उत्सुक हो रही थी. मैंने पिंकी से बोला- चलो पन्द्रह मिनट हो चुके हैं … तुम्हारे बाल काले हो चुके हैं.

कोई फोन में लगा हुआ था तो कोई खाने पीने में और बातें करने में मशगूल था.

छोटी बच्चों की बीएफ

वो तो मुझे बस देखता ही रह गया।मैंने उससे पूछा- क्या हुआ?तो वो मेरी तारीफ़ करने लगा।फिर उसने मुझे फूल दिये, मैंने फूल ले लिये। फिर वो मुझे अपने साथ टैरेस पर ले कर गया. उस दिन मैंने फर्स्ट टाइम किसी लड़के लंड को उसकी पैंट में खड़ा हुआ देखा था. लेकिन उन्हें कोई और रूम दे दो क्योंकि नाईट में कोई लेडी नहीं है शिफ्ट पर और सारे जूनियर बिजी हैं.

इसके बाद मैंने उनकी साड़ी और पेटीकोट खोलकर उनको पूरी तरीके से नंगा कर दिया. मैंने तो कभी किसी लड़के की गांड तक नहीं मारी तो लड़की की गांड चुदाई का मौका कहां मिलने वाला था. मगर इस बार उसका पानी नहीं निकला था … इसलिए वो मेरे झड़े हुए लंड पर बदस्तूर उछल रही थी.

मैं- दीदी सच में आपका सेक्सी फिगर देखकर मेरा लंड बेकाबू हो जाता है.

अगर मेरी बिटिया मेरे अलावा बाहरी रांड बन जाए, तो उसके सेक्सी बदन के लिए एक रात का कम से कम 5 लाख मिलें. कई बार जब पापा मेरी मां की चुदाई दिन के समय में कर रहे होते थे तो मैं और लवली भी मां-पापा की चुदाई लाइव देखने के लिए पहुंच जाते थे. मैंने उसके लंड को दबाते हुए बोली- बिना नाम लिए नहीं निकालोगे?वो ना में सर हिलाने लगा.

चूत में लंड लेने से इतना मजा आता है तो फिर मैं भी क्यों न एक बार ऐसा ही मजा लूं. मैं रुका नहीं उसकी गीली हो चुकी चूत पर मुँह से प्रहार किए जा रहा था. क्योंकि मुझे प्रोटीन ड्रिंक, मैगी और ऑमलेट आदि खुद बनाने का शौक है.

यह सुन कर रोशन लाल ने लंड फिर से बाहर निकाला और बिना देर किए फिर से अन्दर पेल डाला. थोड़ी देर आराम करने के बाद भाभी मेरे लंड से खेलने लगी और मैं उनकी चूची की घुंडी को धीरे धीरे दबाने और चूसने लगा.

मैंने आंटी से कहा- लगता खुशियां बांटने के लिए हमारे साथ आपकी फ्रेंड भी शामिल हो गई हैं. मैं साबुन लगा कर उनकी गांड में लंड डालने लगा और वो आह … आह … आह … ओफ्फो … ओफ्फो … ओफ्फो … करती रही. मेरा दर्द अब मजे में बदल गया और मैं जोर जोर से सिसकारियां भरने लगी- आहहहह उन्ह.

उसके बाद हमने क्या किया?भाई बहन की चुदाई की इस सेक्स कहानी के पिछले भागजीजा ने भाई से बहन की चूत चुदवाई-3में आपने जाना कि इस वक्त मैं घर में अकेला था और अपनी दीदी की चुत चुदाई के लिए बेकरार था.

आप मुझे मेरी पहली कहानी के बारे में अपनी राय दें, मैंने यहां पर गोपनीयता के लिए फेक आईडी का प्रयोग किया है लेकिन आपके मैसेज मुझे मिल जायेंगे. इस ऐनल सेक्स हार्ड फक स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मेरे दो यारों ने मेरी चूत मतलब गांड मोटे लंडों से मार मार कर खुली कर दी. मनोहर ने मेरी गांड के छेद पर क्रीम लगाई और मैंने अपने हाथों से दोनों चूतड़ फैला दिये.

कुछ देर ऊपर से चोदने के बाद अब लवली ऊपर आ गयी और पापा के लंड पर बैठ गयी. मेरे विरोध न करने से मौसी की हिम्मत बढ़ गई और अब उनका हाथ मेरी गांड पर आ गया और वो मेरी गांड सहलाने लगीं.

उसने मौसा का हाथ पकड़ लिया और अपनी कमर पर रखवा कर अपने हाथ से दबाते हुए कमर को सहलाने लगी. वो सिसकारते हुए बोला- आह्ह … हां … स्स्स … ओह्ह … अच्छा कर रही हो … मां की तरह बेटी भी पूरी रांड है. 20 मिनट तक मैंने पारुल की चूत चोदी और फिर उसकी चूत को भी अपने माल से भर दिया.

बीएफ सेक्सी फुल एचडी वीडियो हिंदी में

अलीज़ा लंड गांड में लेते ही चीख उठी- आह मर गई … रोशन लाल जी आपका लौड़ा है या लोहा की रॉड है.

वो बोली- मां! आप यहां क्या कर रही हो? आपको शर्म नहीं आती है एक पति पत्नी के रूम में इस तरह से ताक-झांक करते हुए? आप बाहर चलिये, मैं बाहर ही आती हूं. यह अंतर्वासना पर मेरी पहली कहानी है जब मैंने सोचा कि मैं अपना एक किस्सा आप लोगों के सामने शेयर करूं। यह मेरी सच्ची कहानी है. मेरे मामा बहुत साधारण व्यक्ति थे और अपने घर के बाहर वाले हिस्से में परचून की दुकान करते थे.

और इसी के साथ वह मेरे ऊपर ही लेट गया और मेरे बालों को सहलाने लगा।नीरव धीरे से मेरे कान में बोला- डार्लिंग, तेरी चूत पूरी तरह फाड़ दी है मैंने। अगर तू कहे तो तेरी चुदाई कर दूं या फिर अपना लंड घुसा कर रहने दूं?मुझे दर्द तो बहुत हो रहा था. या तुम्हें ही चुदाई की जल्दी हो रही है?नीरव की बात सुनकर मैं भी हंसने लगी और उसकी दुकान में रुक गई।अब नीरव ने मुझसे धीरे से कहा- तुम्हारे लिए मैंने एक गिफ्ट भी लिया है। चलो दिखाता हूं।यह बोलकर उसने मेरा हाथ पकड़ा और मुझे दुकान के पीछे की तरफ बने हुए हिस्से में ले गया।वहां मैंने देखा कि उसका एक छोटा सा पर्सनल कमरा भी है और एक सोफा कम बेड भी है. बीएफ डॉग एंड गर्ल्समैं आंटी के सामने पूरा नंगा खड़ा था और आंटी मेरे नीचे बैठ कर मेरे खड़े लंड को चाटने लगी थीं.

दीदी की आंखों में मदहोशी छा गई और हम दोनों एक दूसरे के मुँह में शराब का आदान-प्रदान करते हुए मजा लेने लगे. मैं पढ़ने में औसत से अधिक था किन्तु सर्वश्रेष्ठ छात्रों से 19 ही था.

फिर आंटी ने मुझे पार्सल को एक जगह रखने को कहा- अयाज, आओ यहां सोफे आ जाओ. मगर मुझे गली गलौच मार पीट वाला वाइल्ड सेक्स पसंद है। नीरा को सकिंग और पीछे करना पसंद नहीं. तो इनकी पहली चुदाई यादगार बनाने की ज़िम्मेदारी मेरी हुई न!मैं फिर सीधे होकर लेट गई और बोली- चलो, फिर से खेल शुरु करते हैं।सब मुस्कुराए और उठकर बैठ गए।मैं भी उठी तो मनोहर मेरे सिरहाने जाकर घुटने पर बैठ गया।उसने कहा- अबकी बार ऊपर से लंड चूस।मेरे अगल बगल में सनी और विश्वजीत था। रोहन और पूरन, दोनों नीचे की ओर थे।मैं मुँह ऊपर करके मनोहर का लंड चूसने लगी.

दूसरा बोला- तो सुभाष का क्या भरोसा, नई नवेली दुल्हन को ही परोस रहा हो. सब कुशल मंगल के बाद मैंने कहा- और सुना तेरा मियां कहां है, कैसा है?तो वह बोली- मियां जी ठीक हैं. क्या थी वो योजना?ये सेक्स कहानी एक फाइव स्टार होटल के एम्प्लोयी फ्लैट में मेरी सहकर्मी की एक पद सीनियर प्रीति की चुदाई को लेकर है.

उंगलियां मौसी की चूत की फांकों से सीधे संपर्क में आ गयी और जिस्म में हवस का तूफान सा उठ गया.

उसने भी मेरी आंखों में देखते हुए आई लव यू टू बोल दिया।उसके इतना बोलते ही मैंने उसे गोदी में उठा कर सोफ़ा पर पटक दिया और टीशर्ट उतार कर उसके ऊपर चढ गया और पूरी बॉडी को चूमने लगा।अब वो भी गर्म हो गई थी और आह … आह … की आवाज करने लगी।वो भी मेरे बॉडी को चूमने लगी. पर जब भी मेरे को मौका मिलता तो मैं उस फ्लर्ट जरूर करता।एक दिन मेरे घर में सब बाहर जा रहे थे और मैं घर में अकेला था.

फिर बाद में मुझे समझ आया कि वो अपने रूम में आने के लिए बोल कर गयी हैं. वैसे तो मैं अभी तक 10 महिलाओं को अपनी सेवा दे चुका हूं, मगर ये कुछ खास ही चुदाई हुई थी, जो मैं कभी नहीं भूल सकता. तुम अपनी पहली चुदाई जिंदगी भर याद करो, ऐसी चुदाई करवाऊंगी तुमसे!दोनों हंस दिए।तभी पीछे से मेरी गांड पर एक थप्पड़ पड़ा, मैंने देखा तो विश्वजीत था।उसने मुझे कहा- हमसे कोई बैर है क्या, हमारी चुदाई यादगार नहीं बनाओगी?इस मैंने कहा- आप सब तो पहले भी चूत चोद हो.

अपने पैर मैंने उसके पैरों पर रख दिये तथा अपने हाथ से उसके स्तनों के साथ खेल करने लगा।मिनी और मैं इसी तरह लेटे बहुत देर तक बातें करते रहे।उसने मुझे अपने परिवार के बारे में बताया. [emailprotected]नोनवेज़ सेक्स स्टोरी का अगला भाग:मेरी चालू बीवी लंड की प्यासी-5. कम से कम 9 या 10 पिचकारियां माल की उनकी चूत में निकलीं … औऱ मैं उन्हीं के ऊपर गिर कर सो गया.

मराठी बीएफ बीएफ एक दिन मैंने देखा कि बुक में एक भाई बहन सेक्स स्टोरी थी जिसमें बहन की चुदाई हो रही थी. हमने वहां जाकर अपना सामान रखा और कपडे चेंज करने के बाद बीच पर चले गये.

सेक्सी बीएफ कोरोनावायरस

मैंने कहा- सक्सेना जी, आप मेरे बिजनेस को रिकवर करने में मदद करोगे तो मैं आपको खुश कर दूंगी. मैंने उनसे पूछा- माल कहां लोगी?तो उन्होंने कहा- मेरे अन्दर ही गिरा दो … आह … न जाने कब से मेरी चुत सूखी पड़ी है. होटल पहुंच कर मैंने अपनी चूत को शीशे में देखा तो चूत सूज गयी थी और बूब्स एकदम से लाल हुए पड़े थे.

जब हम दोनों करीब सात बजे उठे तो आंटी ने बोला- तुम आज रात को यहीं सो जाना. वो बोली- क्या बात है, इतनी सुबह?मैंने कहा- भाभी हम तो आपको हमेशा ही याद करते रहते हैं. लड़की की बीएफ सेक्सी चुदाईचूत और लंड के मिलन और दोनों के वीर्य के मिश्रण से नीचे का एरिया पूरा गीला हो गया.

उसकी चूत एकदम चिकनी हो रखी थी और पानी बहने की वजह से गीली और रसीली हो रही थी.

जैसे जैसे लंड का टोपा उसके बच्चेदानी को छूता, उसके मुख से आअह्ह ह्ह्ह्ह निकल जाती. मौसी को कुछ पता नहीं चलने दिया कि मेरे और मौसा के बीच में प्यार की कोंपलेंफूट चुकी हैं.

कुछ देर बाद उन्होंने पूछा- तूने कभी सेक्स किया है?उनकी आवाज सुनकर मैं सकपका गया और मैंने मोबाइल बंद करके उनकी तरफ देखा. अब मुझसे भी बर्दाश्त न हुआ और मैं भी उठ कर उसके लंड को अपने हाथ में लेकर मसलने लगी और उसके होंठों को चूसने लगी. उन्होंने मुझसे फिर से चुत चाटने को कहा, तो इस बार मैंने उन्हें 69 में कर लिया.

चुपचाप मैंने खाना खाने से पहले ही 3 पैग पी लिए और छत पर जाकर प्लानिंग करने लगा।फिर खाना खाया।रात के अंधरे में अकेला छत पर खड़ा हुआ मैं अपनी माँ की हरकतों के बारे में सोचने लगा।ये सोच सोच कर मेरा हाथ बार बार मेरे कुंवारे लण्ड पर जा रहा था.

उसने मुझे उसकी जांघों के बीच में खड़े उसके लंड के ऊपर बिठा लिया और मुझे फिर से चोदने लगा. जब जब मौसा की जीभ मैडम की चूत में जाती थी तब तब वो मेरी चूत को भी जोर से चूसती थी. मुझे फिर पोर्न और चुदाई वाले वीडियो देख कर ही लौड़े को शांत करना पड़ा.

45 साल की बीएफअब वहां चूंकि बैठने के लिए जगह कम थी तो वो इसी बेंच पर थोड़ा सा आगे को होकर बैठ गया. वह बड़े प्यार से मेरे बालों पर हाथ फिराकर मुझे अपनी तरफ भींच रही थी। उसके मुँह से सिसकारियाँ निकल रही थीं- ओह मेरे अभिनव … मेरे राजा.

बीएफ वीडियो हिंदी में दिखाओ

फिर उनको सीधा करके उनकी बुर की झांटें अपने जिलैट के रेजर से साफ़ कीं और उनकी चूत पर साबुन लगा कर अंदर उंगली डाल डाल कर उनकी चूत को खूब साफ किया. हम तीनों बाथरूम में गये तो मैंने देखा कि मेरा माल साधना की चूत से बह कर नीचे गिर रहा था. मैंने सोचा कि मैं कुछ जल्दी आ गया हूं तो क्यूं ना कुछ तफरीह कर लूं.

मेरा मोबाइल मामी के कमरे में चार्ज में लगा था और मैं मस्ती से उनकी ब्रा को अपने लंड पर रगड़ रहा था. उस रिक्शा वाले की उत्तेजक बातों से मेरे शरीर में भी गर्मी पैदा होने लगी. मैंने उनकी साड़ी को ऊपर करने की कोशिश की, लेकिन साड़ी उनकी गांड पर बहुत टाईट थी.

पर मैं अब भी मोनिका की नंगी चूत देख कर यूरिन गिरने वाला सीन याद कर रहा था. मैं जोर जोर से उनकी गांड में लंड को ठोकता रहा और मामी की चुदाई का पूरा मजा लिया. अगर मुझे किसी और का लंड चाहिए ही होता तो मैं तुम्हारे बाप का लंड ही कब का अपनी चूत में ले चुकी होती.

मैंने हिम्मत करके कहा- तो फिर आप पेटीकोट भी उतार दो, नहीं तो तेल लगने से खराब हो जायेगा. तीनों के लंड सोये हुए थे इसलिए तीनों ने एक साथ मेरे मुंह में लंड डाल दिये.

मेरे शरीर पर अब मेरा अंडरवियर ही बचा था जिसको मेरे देसी लंड ने तोप की तरह ऊपर उठा रखा था और लंड के झटके देने से अंडरवियर में जैसे एक सांप सा फन उठा कर बार बार उछल रहा था.

जब मैं गया तो मां मेरे पापा से कह रही थी- आशीष को क्या हो गया है? आपके कारण से वह मुझे घूर रहा था. 2020 का सेक्सी वीडियो बीएफइधर मैं दीदी के चूतड़ों को मसल रहा था और दीदी को ऊपर नीचे कर रहा था. सी बीएफ जबरदस्तीमगर मुझे उसकी इन्सानियत का पता तब लगा जब उसने मुझे अपने हाथ से खाना बना कर खिलाया. अब रोशन लाल ने अलीज़ा को सोफ़े पर सीधा लेटा दिया और अपना लंड चूत पर सैट करके एक धक्का दे दिया.

मैं तो एक बार डर गयी मगर फिर अंदर ही अंदर खुश हो गयी कि आज मेरी चूत की प्यास बहुत मस्त लंड से बुझने वाली है.

ऐसा मजा तो मुझे कभी किसी चीज में नहीं मिला था जितना पापा मेरा लंड चूसते हुए दे रहे थे. उसकी चूत पर पैंटी बिल्कुल चिपकी हुई थी और चूत की फाकें पैंटी पर लाइन बना रही थीं. गे क्रॉसड्रेसर सेक्स स्टोरी का अगला भाग:बॉटम क्रॉसड्रेसर की सेक्स स्टोरी- 3.

तो मैंने कहा- अच्छा, बुरा न मानो तो एक बात पूछूं?वह बोली- पूछ!तो मैंने कहा- कब मेहनत करती हो?वह बोली- शुरू शुरू में तो हमने बच्चा जल्दी न हो, इसलिए कंडोम इस्तेमाल किया था. शायद उस कुंवारी लड़की की चुदाई से सील टूटने से कुछ खून भी निकल आया था. वो उसके साथ सेक्स नहीं कर पाता है, लेकिन उसने कभी किसी से सैटिंग नहीं की … उसका कारण उसका भय था कि वो बदनाम हो जाएगी.

बीएफ वीडियो ओपन हिंदी में

हालांकि होटल में मुझे लड़कियों की कमी कभी नहीं होती, लेकिन अब मैं सोच समझ कर ही किसी लड़की को चोदता हूँ. फिर उसकी गर्दन पर किस करने लगा और अपने दोनों हाथ उसकी कमर पर रख कर दबाने लगा जिससे जीन्स थोड़ी ढीली हो जाये और उसको हटाने में आसानी हो. चुदाई के मैदान में वह किसी भी रिश्ते को आराम से अपने बस में कर लेती थी.

मेरे शरीर में एक मादकता सी छाने लगी क्योंकि मुझे न केवल बलविंदर अपितु उसकी पत्नी रूपिंदर व पुत्री डॉली के भी वस्त्र व उनके अंतर्वस्त्र भी सूंघ कर चिन्हित करने थे.

मैं उनकी मदद के लिए थोड़ा ऊंचा हो गया जिससे दीदी ने लोवर और मेरी चड्डी को नीचे कर दिया.

अबकी बार लंड को पूरा दबाते हुए मेरी चूत में धीरे धीरे सरकाने की कोशिश की. जब बबलू ने भी ग्रेजुएशन पूरी कर ली तो उसकी नौकरी भी मैंने अपने परिचित के यहां लगने में उसकी मदद कर दी. बीएफ देखिएयदि पढ़ाई की कुछ बात होती तो सब स्टूडेंट्स आपस में फोन पर डिस्कस कर लेते थे.

वो सुबह 8:00 बजे मेरे घर आती है और दोपहर दो बजे अपने घर वापिस चली जाती है. पूजा को गर्म करके मैंने उसकी चूत चोद दी और अब वह मेरी बीवी बन कर रहने लगी. पर मैं तुम्हारी सहमति के बगैर कुछ भी नहीं करूंगी। अगर तुम्हें पसंद नहीं तो मैं नीरव को मना कर दूंगी।मानव ने कुछ सोचकर कहा- मेरी समझ से तो नीरव का प्रस्ताव स्वीकार कर सकती हो। हो सकता है कि इससे हम लोगों की सेक्स लाइफ ज्यादा शिक्षित और ज्यादा अच्छी हो जाए।उसकी बातें सुनकर मेरा तनाव दूर हो गया और मैं भी उत्सुक हो गई.

मैं तेजी से जीभ को अंदर बाहर करते हुए मौसी की चूत में जीभ से चोदने लगा. थोड़ी देर बाद जब अमन मेरे ऊपर से हट कर साइड में हुआ तो उसके लंड का गाढ़ा पानी मेरी चूत से बहने लगा जिसको मैंने अपनी पैंटी से साफ कर दियाउस रात अमन ने सुबह 4 बजे तक मुझे 3 बार चोदा.

पहली बार मैं ऊपर चढ़ कर दीदी को पेल रहा था और अब सन्नी लियोनी की उनकी टांगें हवा में उठा कर तरह दीदी को पेलने लगा था.

इतना बोल कर मैंने दरवाजे पर टंगे कपड़े पहनने के लिए हाथ बढ़ाया तो उसने मेरा हाथ पकड़ लिया. मैंने उसे उठा कर अपने सीने से लगाया और कहा- उदास क्यों होती हो … मैं तुम्हारे साथ हूँ. आपको दोस्त की मम्मी की चुदाई की हिंदी सेक्सी कहानिया कैसी लगी? मुझे जरूर बताना.

कितने बीएफ मैं सोच ही रही थी कि वो बोल पड़ा- क्या हम यहां पर थोड़ी देर बैठ सकते हैं?उसने छत पर एक तरफ बने स्टोर रूम की ओर इशारा करते हुए कहा. कई बार मैंने ट्राई कर लिया तो वो हंसते हुए पूछने लगी- पहले नहीं किया है क्या तूने?मैंने कहा- नहीं ताई, मैंने इससे पहले कभी नहीं किया है.

दीदी ने मुस्कुराते हुए मेरे कानों में धीरे से कहा- कोई बात नहीं मेरे प्यारे भाई. रेशमा- ऐसा तो बस आपको लगता है … मेरे पति मुझे पर जरा भी भी ध्यान नहीं देते हैं. वो मेरी गोलियों को अपनी उंगलियों से मसलते हुए पूरे लंड को गले तक लेते हुए चूस रही थी.

सेक्सी बीएफ वीडियो भाई बहन का

सर का लंड मुंह में लिये हुए जिया मेम इस वक्त बहुत ही सेक्सी लग रही थी. सर्दियों का मौसम था तो मोसी बाहर घर के आंगन में नंगी नहा रही थी जहां धूप आई हुई थी।घर में और कोई नहीं था. मुझे बुआ की मुँह की लार और उनकी चूतरस के मिश्रण को चाटने में बहुत मजा आ रहा था.

मैंने उसकी चूचियों को पकड़ लिया और दोनों हाथों से दोनों चूचियों को दबाने लगा. जो मैं पूछने आई थी, वो मुझे पता चल गया। मेरे पति का कोई चक्कर नहीं था।मैं उठ खड़ी हुई- अच्छा राजेश जी, बहुत बहुत शुक्रिया आपका.

कुछ देर सहलाने के बाद मेरी बहन थोड़ा सा कसमसाई तो मुझे लगा कि वो उठ गई है.

मैं समझ गया कि आज ये दोनों सब कुछ भूल कर मुझसे चुदने का प्रोग्राम बना कर आई हैं. आपके रेस्पोन्स के आधार पर ही मैं अपनी अगली कहानी जल्द से जल्द लेकर आऊंगा. मुझे नीचे वाली सीट चाहिए थी अपने पति और बेटे के पास।फिर कुछ देर के बाद वो बंदा आया जिसकी वो सीट थी.

फिर मेरे कंधे पर मेरे गाल पार, मेरे मम्मों पर कई बार ज़ोर ज़ोर से काटा।मैंने कहा- अरे काटो मत, निशान पड़ जाएंगे।वो हंस कर बोला- तो क्या हुआ, तेरे उस चूतिया पति ने कौनसा देखने हैं? अभी तो तेरे जिस्म और और रंगीन करूंगा।फिर राजेश ने मुझे घोड़ी बनाया और फिर चुदाई कम करी, मार मार के मेरे दोनों चूतड़ लाल कर दिये. अब दीदी लाल कलर की ब्रा और पैंटी में मेरे सामने थी। तभी दीदी ने मुझे धक्का देकर दीवार से सटा दिया. हम दोनों कब एक दूसरे के जिस्मों को भी सहलाने लगे कुछ पता ही नहीं लग पाया.

मैं कभी अपनी जीभ से चुत की दोनों फांकों से रगड़ देता, तो कभी चूत में अन्दर डाल देता, कभी जीभ को गांड के छेद में फेर देता.

मराठी बीएफ बीएफ: पूजा को गर्म करके मैंने उसकी चूत चोद दी और अब वह मेरी बीवी बन कर रहने लगी. मगर दिक्कत ये थी कि अगर को हल्का धक्का भी देगा तो दरवाजा खुल जाना था.

मैं बोला- इसके लिए क्या करें फिर?वो बोली- अपने किसी दोस्त को चाय के लिए बुला लो. मामी मेरे लंड के पास आकर उसे किस करने जा रही थीं कि तभी मैंने अपनी आंखें खोल दीं और मामी के मुँह में अपना लंड दे दिया. अगर मुझसे कहानी लिखने में कोई गलती हुई हो … तो उसकी लिए माफी चाहता हूँ.

एक बार फिर से भाभी की आनंद भरी सिसकारियों में दर्द की कराहटें भी शामिल हो गयीं.

लंड अन्दर लेते ही आंटी जोर से चिल्ला दीं- आह मर गयी … आहआह तेरा बहुत बड़ा है … उईईई मां. अगली सुबह फिर दोपहर तक डॉक्टर ने हम लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी और मैं सहेली को उसके घर ले गयी. पर उन्होंने मुझसे कुछ नहीं कहा और मुझे बदस्तूर उनके मम्मों के दीदार होते रहे.