छोटा बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी पाठवा सेक्सी पाठवा

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ दुकान: छोटा बीएफ, मैं पेंटी लाइन पर आकर जीभ से पूरी चुत के इर्द गिर्द के भाग को जितना चूम रहा था … वो उतना ही तड़प रही थी.

सेक्सी मां बेटे का सेक्स

उसके बाद तो मुझसे जैसे उठने की हिम्मत ही नहीं बची, इसलिए मैं भी उनके बगल में ही लेटी रही. गांव की सेक्सी वीडियो मारवाड़ीवो बोले- कैसा है?उई माँ … ये इतना मोटा कैसे जायेगा मेरी फुद्दी में?”सब चला जायेगा; और एक बार के बाद तुमको यही पसंद भी आएगा; तेरी इस जवानी के लिए ऐसा लंड ही चाहिए! इतना मस्त गदराया हुआ बदन है तेरा … छोटे लंड से तो तेरी प्यास नहीं बुझेगी.

इसी बीच मैंने उस लड़की की माँ पर भी साथ साथ डोरे डालने शुरू कर दिए थे।पर आखिर एक दिन भगवान ने मेरी सुन ली, उसकी माँ मार्केट गई थी सब्जी और घर का राशन लाने और वहां बहुत तेज बारिश हो गई. सेक्सी वीडियो साड़ी पहनी हुईमैंने उसके पास जाकर उसकी चूत को हथेली से रगड़ते हुए उसकी गर्दन को फिर से चूमना शुरू कर दिया.

उसने कहा- आज तुमने हमारे घर की स्थिति परिस्थिति का आकलन तो कर ही लिया होगा, मैंने जानबूझ कर ही तुम्हें यहां बुलाया था.छोटा बीएफ: मैं उठा, उसको लेटी रहने दिया, सोफे पर आकर के लण्ड सेट कर के पहले झटका मारा.

मेरे मुँह से सिसकारियों का निकलना स्वाभाविक था और अब मैंने अपना एक हाथ नीचे लाकर संदीप के लंड को कपड़े के ऊपर से ही पकड़ना और दबाना चाहा.ज्योति की फ्राक ज्योति को पकड़ा कर मैंने उसकी पैन्टी घुटनों तक खिसका दी और टांगें फैलाने को कहा तो वो विश्राम की स्थिति में खड़ी हो गई.

रियल सेक्सी वीडियोस - छोटा बीएफ

देखने वाली बात यह थी कि अभी तक मैंने वसुंधरा के किसी भी गोपनीय नारी-अंग को न तो आवरण-विहीन किया था और न ही स्पर्श किया था लेकिन तिस पर भी वसुंधरा का शरीर भयंकर काम-ज्वाला में तप रहा था.खास यह हुआ कि जब मैं लिफ्ट के पास खड़ी लिफ्ट के आने का इंतज़ार कर रही थी, तो दो वेटर आपस में बात कर रहे थे।एक बोला- लगता है, आफताब भाई को इस रंडी से इश्क हो गया है,वरना एक बार चोदने के बाद कौन बार बार एक ही रंडी पर पैसे खर्च करता है।मुझे बड़ा अजीब लगा कि ये लोग मुझे कोई रंडी समझ रहे थे.

जैसा कि आप जानते हो कि मेरी कहानी मेरे अपने अनुभव या मेरे साथ घटित घटनाओं पर आधारित होती हैं. छोटा बीएफ लेखक की पिछली कहानी थीकुंवारी लड़की की चुदाई का सपनासेवक राम मनवानी हमारे मुहल्ले में रहते हैं.

तब तक वो दो बार झड़ चुकी थी।मैंने कहा- कहाँ निकलना है?उसने कहा- अपनी बीवी से कोई पूछता है कि कहाँ निकाले? अब अपने बच्चे की माँ नहीं बनाएगा क्या?वो ऐसे बोली तो मैं उसके बोलते बोलते झड़ गया … मेरा सारा माल उसकी प्यासी चूत के अंदर ही निकल गया.

छोटा बीएफ?

जिस पर भाप उगलती कॉफ़ी के मग्गों वाली ट्रे रख कर वसुंधरा ‘मैं अभी आयी’ कह कर वॉर्डरोब में से कुछ कपड़े निकाल कर वाशरूम में जा घुसी. मैंने बोला- तो फिर तुम सबके सोने के बाद चुपके से मेरे कमरे में आ जाना. मुझे शुरू शुरू में तो कुछ अजीब सा लगा, पर बाद में मुझे उसके हाथों का स्पर्श अच्छा लगने लगा.

मनु को देखते हुए उसने कहा- ये रखो … अगर इस उपहार से भी वो ना पटे, तो ये मुझे दे देना … मैं जरूर पट जाऊंगा. पिंकी के होंठ और बोबे उसकी कमजोरी थी और दोनों का मर्दन एक साथ होते ही पिंकी बेकाबू होने लगी. मैं और जोर से चिल्ला कर उससे बोली- अच्छा … तो तुम मेरे कपड़े चुराते हो.

मैं झुक कर उसका लंड चूसने लगी और वो मस्ती से मेरे बालों को सहलाए जा रहा था. हकीकत यह है कि जब लण्ड खड़ा होता है तो उसको यह नहीं दिखता कि चूत उसकी मां की है या बेटी की. तभी मेरे दोस्त ने मुझे हाथ पकड़ कर हिलाया और कहा- ओए किधर है?उसके झंझकोरने से मुझे जाकर कहीं होश आया.

सपना- वो तो उसको डराने के लिए बोला था … तुम लगते ही साउथ इंडियन हीरो जैसे हो, तो क्यों ना बोलूं. इस बात से भी हिचकता था कि अगर तूने कुछ बता दिया तो फिर मेरा क्या होगा.

संदीप खाना निकालने परोसने के लिए उठ गया, इस पर पहले तो मैंने संदीप को गिफ्ट पकड़ाया और उसके कानों के पास मुँह करके ‘आई लव यू’ कहती हुई खुद रसोई की ओर भाग गई.

हम दोनों साथ में नहाए और नहाकर मै वापिस अपने घर आने के लिए तैयार हो गई.

मैं- वो कैसे भाभी?भाभी- मेरी मामा की लड़की रीमा मुझसे 4 साल छोटी है. और चला गया।उस दिन मैं दोनों के लिये सेक्स पॉवर की गोली लेकर गया था जिसके खाने से औऱ भी ज्यादा मजा आया. पर मुझे ये जानने की बहुत जिज्ञासा हो रही थी कि वो मेरी से क्या मांग रहा था.

और जाते जाते मैंने उसे धीरे से कान में कहा- कोई भी बहाना बना कर आज रात यहीं रुक जाओ. खेत पर तमाम लड़कियां काम करती थीं इसलिये चोदन की व्यवस्था भी हो जाती थी. सीधे-सीधे जाने से संदीप का घर ज्यादा दूर नहीं था, पर हमें तो उसके लिए उपहार भी लेना था, इसलिए हमने मार्केट वाला रास्ता पकड़ा, जो थोड़ा घूमकर उसके घर पहुंचता था.

मेरे लंड के मुंड को मैं उसकी बच्चेदानी पर टकराते हुए महसूस कर रहा था, उसके बाद कुछ पल तक शान्त हो जाती और फिर से मेरा साथ देने लगती.

मैं अभी बाकी था, तो कुछ देर बाद मैंने फिर से चाची की चुदाई शुरू कर दी. मैंने बाथरूम के दरवाजे से कान लगा कर सुनने का प्रयास किया, मगर कोई ख़ास मालूम न हो सका. एक दिन की बात है, मैं और दीदी श्वेता दीदी, हम तीनों कॉलेज से घर आ रहे थे.

जब ब्लाउज निकाला तो देखा कि उसने नीचे से एक सेक्सी काली ब्रा पहनी हुई थी. मेरा भाई मेरी ब्रा पैंटी पहने हुए था और लैपटॉप पर गे वाली पोर्न देख रहा था. कुछ देर के बाद भाभी ने मेरी तरफ ही करवट ले ली और अपना मुंह मेरी तरफ कर लिया.

मैं लंड के टोपे को चूसती हुई, उसके लंड को हिला रही थी और अपने एक हाथ से अपनी चूत सहला रही थी.

उसकी छूट से मैं भी चरम पर पहुंच गया और मेरे लंड ने भी उसकी चूत में गर्म लावा छोड़ दिया. मुझे अन्दाजा हो गया था कि मेरी बहन के अन्दर कुछ ज्यादा ही सेक्स भरा हुआ है.

छोटा बीएफ मेरे बहुत बोलने के बाद वो लंड चूसने के लिए मान गईं और नीचे फर्श पर घुटने बल बैठ गईं. मैंने उसको हमेशा भाई की नजर से ही देखा था और आज वो इस तरह से बेशर्म होकर मेरी चूत में झांक रहा था.

छोटा बीएफ उन्होंने धीरे से कराहते हुए कहा- एक ही बार में डाल कर 5-6 धक्के मार दो … मेरी परवाह मत करो!ये सुनते ही मैंने लंड को बाहर को खींच कर बाकी लंड पर तेल की बूंदें टपकाईं और तेल की चिकनाई कुछ ज्यादा करते हुए एक जबरदस्त धक्का दे मारा. उनके मुँह से एक तेज आवाज निकलने को हुई, तभी अंकल ने दीदी के मुँह पर अपने मुँह को जमा दिया.

मैंने उनसे इस बारे में खुल कर बात की, तो चाची ने अपनी सारी कहानी मुझसे कह दी.

दुल्हन मेहँदी डिजाईन

फिर मैंने उसकी दोनों टांगें खोल कर अपने कंधों पर रख लीं और उसकी चूत पर लंड सैट कर दिया. मैंने उसके बटन बन्द करते हुए कहा- अब टाइम ओवर हो गया है, तुम कल आना! फिर देखता हूं कि तुम अपने जिस्म की कितनी नुमाइश करती हो. एक हफ्ता तो वो होटल में रहा, फ्राइडे को रात को लखनऊ चला गया, क्योंकि सेकंड सैटरडे को बैंक बंद था.

उससे कहने लगी कि वो मेरे भाई से मेरी शिकायत न करे और जैसा वो कहेगा वैसा ही मैं करने के लिए के तैयार हूं लेकिन मेरे भाई को मेरे यार और उसके प्लान के बारे में न बताये. संगीता के वन, टू, थ्री बोलते ही लण्ड को अन्दर की ओर दबाया तो मेरे लण्ड का सुपारा टप्प की आवाज के साथ संगीता की चूत के अन्दर हो गया. रात को बेटा भी उससे एक हफ्ते बाद मिल रहा था तो शोभा और राजन को सेक्स में ज्यादा उठा पटक का मौका नहीं मिल पाया.

मम्मी बोलीं- हां यार मन तो मेरा भी है … पर किससे चुदवा लिया जाए?आंटी ने मम्मी की नाइटी में हाथ डाल दिया और उनकी चुचियों को मसलने लगीं.

मैं आदी से बोली- क्या देख रहे हो?उसे ये बोल कर मैं आईने में अपने बाल संवारने लगी. पूरा लौड़ा चुत में पेलने के बाद मैं थोड़ी देर के लिए यूं ही रुक गया और चुत की गर्मी का अहसास करने लगा. मेरा लंड जोर जोर से अन्दर बाहर हो रहा था और मेरी धक्के देने की गति और भी तेज हो रही थी.

प्रोफाइल चैक करते करते मैंने पांच भाभियों और आंटियों को मैसेज भेज दिया और सो गया. मेरे बैठते ही उसे ऑटो वाले को एक अपार्टमेंट का नाम बताया और बोली कि वहां ले चलो. अब तक की मेरी सेक्स कहानी में आपने पढ़ा था कि मैं और मनु, परमीत के घर गए थे, जिधर उसने हम दोनों को एक डिल्डो दिखाया.

फिर मेरे लंड को मुख से चूस चूस कर पानी निकाल दिया और उसे पी गयी।कुछ समय बाद मैं उठा और फिर हम दोनों 69 के पोजीशन में आ गए और खूब चूसा एक दूसरे के कामांग को।ऐसे चूसने के बाद मैं नीचे अपनी उंगली पुनः डालने लगा. वहां सभी कमरे में सो रहे थे और इधर किचन में इतनी रात को मैं अपनी दीदी को पेल रहा था.

एक दूसरे के नंगे बदन से चुमाचाटी होने लगी और कुछ ही पलों में 69 में होकर लेट गए. रात के 1:30 बजे थे, पता ही नहीं चला कि हम दोनों आपस में चिपक कर कब सो गए. आलिया ने दोनों हाथों से बेडशीट पकड़ ली थी … मैं पूरी ताकत से आलिया को चोदने में लगा हुआ था.

सपना- अब बताओ … चाय या कॉफी और नाश्ते में क्या खाओगे?मैं- मैं चाय पियूंगा और नाश्ता जो तुम खिला दो … चलेगा … वैसे मैं कच्चा दूध पीता हूँ … वो भी सीधे थन से मुँह लगा लगाकर.

फिर चाची ने मुझसे सीधा सवाल पूछा- तेरी कोई जीएफ नहीं है … तो ये किसके लिए रख कर घूम रहे हो?मैंने अचकचाते हुए कंडोम की तरफ देखा और चाची से बोला- ओह्ह … वो दोस्त के लिए लिया था, उसको देना था. खाना खाते हुए चर्चा में पता चला कि उसकी बहन शाम को बाबू जी के साथ ही लौटेगी. मैंने देखा कि संजू ने अपनी चूत के बालों को पूरी तरह से क्लीन शेव कर लिया था.

खैर काम खत्म करके गप्पें मारते हुए रात ग्यारह कैसे बजे, पता ही नहीं चला. उसकी बड़ी बड़ी चूची, गोल मटोल गांड ऐसे मादक हैं, जो किसी बूढ़े के लंड में भी आग लगा दें.

वो तुरंत ही मेरे बगल में निढाल होकर लेट गया।मुझे बहुत दर्द हो रहा था मैं भी लेटी रही. वो दरवाजा बंद करके आई तो मैंने उसकी पैन्टी उतार दी और अपनी लुंगी सामने से हटाकर उसकी स्कर्ट ऊपर उठाकर उसको अपनी गोद में बिठा लिया. उनके मुँह से एक तेज सीत्कार निकल गयी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… उफ्फ … मर गई.

सट्टा किंग गली दिसावर की आज की खबर

तब तक वो दो बार झड़ चुकी थी।मैंने कहा- कहाँ निकलना है?उसने कहा- अपनी बीवी से कोई पूछता है कि कहाँ निकाले? अब अपने बच्चे की माँ नहीं बनाएगा क्या?वो ऐसे बोली तो मैं उसके बोलते बोलते झड़ गया … मेरा सारा माल उसकी प्यासी चूत के अंदर ही निकल गया.

जब उठी तो उसकी चूत से मेरा वीर्य और उसकी चूत का पानी दोनों साथ में मिल कर उसकी जांघों से बह रहे थे. तो दोस्तो, मेरी कहानी कैसी लगी, आप सभी के मेल के इंतजार में आपका अपना शरद सक्सेना।[emailprotected]. उनके चेहरे से साफ दिखाई दे रहा था कि इतने सालों के बाद चुदाई करवाके उनको सुकून भी मिल रहा है.

मेरे लंड के सुपाड़े का निरीक्षण करने के बाद अचानक से उसने मेरे लंड को मुंह में भर लिया. ये कहानी आज से 3 साल पहले की हैमेरी गर्लफ्रेंड का नाम अंशी (बदल हुआ नाम) है, वो बहुत ही सुंदर माल है. सेक्सी वीडियो एचडी देहाती हिंदीउन्होंने थोड़ी देर तक मेरे लंड को चूसा, फिर बोलीं- जानू मुझसे नहीं रहा जा रहा है … इस लौड़े को जल्दी से अन्दर डाल दो.

मैंने फिर मूतना शुरू किया, तो उसने मेरे मूत की धार के आगे हाथ कर दिए और फिर उसके मन में ना जाने क्या आया, वो मेरा मूत अपने मम्मों पर गिराने लगी और अपने मम्मों की मेरे मूत से मालिश करने लगी. मैंने फिर भी उसको अनसुना कर दिया और पीछे धकेल दिया और उसकी एकदम गोरी गुलाबी चुत को चूम लिया.

उसके इस वार से मेरा पूरा बदन कांप उठा और मैंने अपनी दोनों टाँगें उठा कर उसके कंधों पर रख दी. मैं सीधा जेन्ट्स के बाथरूम में गया और दीदी के बारे में सोच कर मुठ मारने की सोची. दो तीन बार वैसा करने के बाद जेठजी ने अपना मुँह ही चुत पर लगा दिया और मेरी समूची चूत अपने मुँह में भर कर झिंझोड़ डाली.

मैं इशारा समझ गई थी, मैंने भी दीदी की गीली चूत मुँह लगा दिया और अपने ही अंदाज में उनकी चूत चाटना शुरू कर दिया. तो मैं बोला- तुम्हारी भी चूत कम मस्त नहीं है मेरी जान … अभी भी इसे चोद कर मेरा मन नहीं भरा है. जब मुझे लगा कि मामी सो गई हैं, तो मैंने धीरे से अपना हाथ उठाकर उनके पेट पर रख दिया और ऐसे ही लेटा रहा जब उनकी कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई, तो उनके पेट को सहलाने लगा.

मैंने उससे कहा- बेटा मैं जो कुछ भी पूछूं, सच सच बताना और बिल्कुल भी शरमाना नहीं.

अब मेरा भी पानी छूटने वाला था, तो मैंने उसके मुँह से लंड निकाल लिया. सचमुच उसने मुझे बहुत ही बेदर्दी के साथ चोदा था।इस बार तो आधे घंटे तक वह मुझे चोदता रहा.

दोस्तो, उस दिन के बाद से मेरी सेक्सी मॉम की तरफ देखने का मेरा नजरिया बदल गया था. वे मुझे अपनी ओर झुका कर मेरे चूचों को मसलते हुए बोले- और तेज़ सोनम … और तेज़!मैं भी तेज़ी से उछाल मारने लगी. हालांकि चूत में अभी भी काफी दर्द था मगर एक मर्द के लौड़े को चूत में लेने की फीलिंग भी बहुत ही मदहोश कर देने वाली थी.

मेरा रंग काफी गोरा है और मेरे दूध मेरे ब्लाउज से बाहर निकलने के लिए बेताब रहते हैं. नहीं तो आजकल की लड़कियों का कुछ पता नहीं चलता कि कब अपनी बुर की सील तुड़वा लें. लेकिन आलिया की हालत इतनी पतली हो गई थी कि वो पैग भी नहीं मार पाई … बस ऐसे ही लेटी रही.

छोटा बीएफ तभी मैंने दीदी की एक सहेली का कमेंट्स पढ़ा- हां यार, शिवम तो तेरा ही है. फिर अंकल दीदी की जांघों के बीच में बैठ गए और अपने लंड को दीदी की पानी छोड़ती हुई चुत पर रख दिया.

दर्द का सबसे अच्छा तेल कौन सा है

जब सुबह मेरी नींद खुली तब 10 बज रहे थे तो मैं बाथरूम में फ्रेश हुई और तैयार होकर उन अंकल से विदा ली. साले ने सारा गाढ़ा वीर्य मुँह में छोड़ दिया जो मेरी नाक से भी हल्का बाहर आने लगा था. करो … जोर से करो!तब मैंने उनके पैर अपने कन्धों पर रखे और चाची की चुदाई करता रहा.

तब तक अपना ख्याल रखिये, खुश रहिए और अपनी साथी का ध्यान भी रखिये और साथ ही साथ अन्तर्वासना पर सेक्सी कहानियां पढ़ते रहिए. तभी विवेक ने जोर से अपना अंगूठा मेरी चूत में डाला कि मेरे मुंह से सी… सी. उर्वशी की सेक्सी फिल्मचूंकि भाभी की चुत भी गर्म हो चली थी, इसलिए मुझे उनकी चुत के टपकते पानी का स्वाद मिलने लगा था.

इन सबके बावजूद मैं खुद को रोक लेता हूँ, क्योंकि मैं तुम्हें धोखा नहीं देना चाहता.

उसी समय मुझे शरारत सूझी और मैं आलिया के गालों पर किस करके भागने लगा. अब मैंने पायल के होंठों को छोड़ कर उसके कबूतरों को भींचते हुए उसकी चूचियों को मुंह में भर लिया.

मनीषा ने हैरान होते हुए पूछा- इस समय?तो रेखा ने कहा- चाचा जी को खुश करने का यही सही समय है. मैं बोला- मादरचोद मेरी रंडी निधि … आ जा न … तेरे को चोदना है रांड आआ … न!अचानक से मेरे बेडरूम का दरवाजा खुल गया. मेरी दीदी से साकेत भैया का चक्कर कैसे फिट हुआ और मेरी दीदी का बुर चोदन कैसे हुआ.

दीदी भी उतनी ही प्यासी थी। शायद मुझसे कहीं ज्यादा। वो भी मेरा साथ देने लगी। उस आनंद में मैं इतना खो गया कि मुझे होश ही नहीं रहा कि हम दोनों भाई-बहन हैं.

अंकल ने स्वीटी आंटी को गले लगाते हुए कहा- सरप्राइज!मुझे तो उन्हें देख कर मानो बहुत गुस्सा आ रहा था कि इस साले को अभी ही टपकना था. वो- आह … बस धीरे करो जान … लग रही है … आह फक मी आआह …मेरी गर्लफ्रेंड चिल्लाती रही और मैंने चुदाई चालू रखी. अब मुझे भी मज़ा आने लगा था उन दोनों आदमियों की हरकतों पर! और मैं भी उन दोनों की इन हरकतों को एंजाय करने लगी।अब सामने वाला मेरे थोड़ा साइड में हुआ और अपनी कोहनी से मेरे बूब्स को दबाने लगा.

सेक्सी 3g मेंउससे राजन ने उससे कहा- चलिए एक दिन मैं बनाया करूँगा, एक दिन आप बनाइएगा. मुझे मालूम था कि अब मैं अगर उसको लंड चूसने को बोलूंगा, तो ये मना नहीं करेगी.

जानवरों का सेक्सी वीडियो में

मैंने तेल की शीशी से तेल अपनी हथेली पर लिया और उसकी गोरी जांघों की मालिश करना शुरू कर दिया. कुछ देर के बाद वो बाहर निकली और कहने लगी कि अब सोने की तैयारी करते हैं. उस वक्त तक मेरे मन में उनकी खूबसूरती को निहारने के अलावा दूसरा कोई गलत ख्याल नहीं था.

’ करते रहने के बावजूद मैंने उसका लहंगा और पैंटी को भी उतार कर ही दम लिया. मैंने कहा- आइ लव यू टू … अब तू निकल यहां से, वरना दोनों पकड़े जायेंगे. मेरे हाथों ने डिल्डो को दीदी की चूत में अचानक ही अन्दर तक घुसेड़ दिया और सीधे जड़ तक पेल कर वहीं रोक दिया.

वो पूछने लगी- बच्चा कैसे पैदा होता है?मैंने कहा- जब मर्द का लंड औरत की योनि में जाता है और उसकी योनि में स्पर्म गिरता है तो औरत के अंडे से स्पर्म मिल कर बच्चा पैदा होता है. मैंने डरते हुए उनसे कहा- आंटी अभी बाहर जो कुछ हुआ, मैं उसके लिए काफी शर्मिंदा हूँ. एक कारण यह भी था कि इससे पहले श्वेता कभी मेरे इतने करीब नहीं आई थी.

मगर अभी के लिए थोड़ी देर तो इसे अपने हाथ में पकड़ ले यार। कब से मेरा लंड तुझ से प्यार करने को तरस रहा है।मैंने उसका लंड अपने हाथ में पकड़ा और धीरे धीरे उसे हिलाने लगी. मैंने पूछा- आपका कब हो गया था?चाची ने कहा- चुदाई के समय मेरा दो बार पानी निकला था.

मैं आहहह उहहहह करती रही और संदीप का लंड समझ कर उसे चूत में पूरा समा लेने को तड़प उठी.

वो बोला- मैं तो तेरी गांड को ही भरना चाह रहा था मगर तेरी चूत का टेस्ट भी लेना था. खूबसूरत भाभी सेक्सी वीडियोहमने हां में सर हिला दिया, दीदी के जाने के बाद मनु ने दरवाजा बंद किया और हम फिर से परमीत के बिस्तर पर आकर बैठ गए. सेक्सी हॉट गर्ल की चुदाईमैं जब से आया हूँ यही सोच रहा हूँ कि तुम्हारी चूत जब लण्ड मांगती होगी तो तुम क्या करती होगी? मुझे देखो मेरा क्या हाल हो रहा है!”इतना कहकर मैंने मनीषा का हाथ अपने टनटनाये लण्ड पर रख दिया और अपने होंठ मनीषा के होठों पर. मुझे मजा आ रहा था, मेरा जिस्म गर्म होने लगा था कामवासना की अग्नि से!और सामने वाला अब मेरी तरफ चेहरा कर के खड़ा हो गया और मेरे बूब्स को दबाने लगा.

उधर आलिया भी किलकिला रही थी- ओह मर गई आह राज … धीरे चोदो … मुझे दर्द हो रहा है … आंह राज तुम्हारा बहुत बड़ा है.

उसकी सांसें गहरी होकर गले में अटक गई थी और मुझे जोर से पकड़ कर नाखून गड़ा दिए थे।मैं उसके ऊपर चढ़े चढ़े उसको सहला रहा था. 20-25 मिनट रुकने के बाद उसने मुझे फिर से अपना लंड चूसने के लिए कहा. मैंने भी बोला- मुझे भी बहुत मज़ा आया अपनी चूत और गांड की चुदाई करवा कर।यह बोल कर मैंने अपने दोनों हाथों से उन दोनों के लंड मसल दिए.

इस समय कमरे में पानी मौजूद नहीं था, इसलिए में पानी पीने के लिए किचन में गया. राज प्रीति को देख कर चौंक गया और बोला- प्रीति, तुम यहाँ क्या कर रही हो?प्रीति ने बहाना बनाते हुए कहा- ऐसे ही घूम रही हूं. उसने जैसे ही मेरा शॉर्ट्स उतारा, तो मेरा आधा खड़ा लंड उसके चेहरे के सामने आ गया.

दूध स्राव

हम 20 मिनट तक ऐसे ही एक दूसरे के आगोश में गुम से होकर पड़े रहे।उसके चेहरे पर सन्तुष्टि के भाव साफ झलक रहे थे। मैंने उसकी चूत को देखा तो उसकी चूत में से अभी भी वीर्य और लहू के मिश्रण का रिसाव हो रहा था. पति के बेरूखी की वजह से जो तमन्ना दबी हुई थी, संजय का लंड देख अब सेक्स की भावना बढ़ने लगी।अब मैं अच्छे सै तैयार होकर संजय के घर जाने लगी. मैंने उसकी चूत पर हाथ रख कर उसकी चूत को धीरे से सहलाना चालू कर दिया.

मैंने ज्योति से पूछा- इतना ही हुआ या इससे अधिक कुछ हुआ है, मुझे सच सच बताओ? तभी मैं राकेश का सही इलाज कर पाऊंगा.

तो अब चाची जरा शांत हो गई।मैंने उनको अपने ऊपर चढ़ा दिया और उनके ब्लाउज़ को निकाल के उनकी ब्रा को खोल दिया.

वो बोली- तुम ही मेरी जिंदगी के मालिक मेरे जिस्म के मालिक हो, ये जवानी अब तुम्हारी है, इसे जैसे चाहो चाटो, चोदो पेलो, लेकिन धोखा मत देना. अब अगले दिन शुक्रवार था, पर रोहित बालकनी में आया नहीं … ना ही उसके जाने की आवाज़ आयी।मुझे कुछ गड़बड़ सी लगी आज तो कॉलेज स्कूल छुट्टी भी नहीं थी. राम तेरी गंगा मैली सेक्सीजब मैंने वो कमरा देखा तो मुझे पसंद आ गया और मैंने वहां रहना शुरू कर दिया.

इस तरह से मेरे कहने पर मेरी बीवी अपनी नाभि, बुर और गांड को मटका कर ऐसे नाचती थी मानो स्वर्ग लोक की अप्सरा नाच रही हो. उधर जीजा जी नंगे होकर कुर्सी प्यार बैठकर अपने लंड को सहलाते हुए अपनी बहन के आने का इन्तजार कर रहे थे. मुझे किसी भी चीज की जरूरत होती है तो मेरे घर वाले मुझे लाकर देते हैं.

एक बात यहां पर मैं पाठकों को बता देना चाहता हूं कि औरत के शरीर में दो प्रकार होंठ होते हैं. मैंने उससे शाम को लेने आने का कह दिया … इस पर वह ख़ुश हो गयी और बोली- ठीक है … पांच बजे आ जाना.

उनके जाते ही मैंने नखरे दिखाते हुए कहा- जल्दी बताओ क्या काम है?संदीप ने भी नखरे दिखाते हुए कहा- काम तो कुछ नहीं है.

मनीषा का घर तो हनी की ननिहाल है, इसको एक हफ्ते के लिए वहां भेज दो, बच्चे आपस में घुलमिल जायेंगे तो डिसीजन आसान हो जायेगा. उनके दोस्त ने मेरी दोनों टांगें उठा दी तो मेरी गांड का छेद उनके बिल्कुल सामने आ गया. इसलिए तू मेरी चिंता छोड़ … और यहां से जल्दी चल, वहां इसी बेसब्री से तेरा इंतजार भी हो रहा होगा.

हिंदी सेक्सी कहानियां सुनाइए धीरे-धीरे हमारी दोस्ती और आगे ऐसे ही बढ़ती गई। मैं उनसे अपनी हर बात शेयर करने लगी. मैं- ये आपका बेटा उनकी औलाद है?भाभी- हां … इसके आने तक उनके पास मेरे लिए वक्त था, पर अब नहीं है.

एक जवान लड़की के कोमल हाथों में जब लंड गया तो मैं खुद को रोक नहीं पाया. मैंने कहा- तो तू मेरी बात मानेगा?उसने कहा- तेरी बात नहीं मानूंगा तो किसकी बात मानूंगा?इतना कह कर उसने मुझे अपनी तरफ खींच लिया और मेरे बूब्स को जोर से दबाते हुए मेरे गालों को किस करने लगा. मैंने उससे पूछ ही लिया, मीना, तुमने यहाँ के बाल कब साफ़ किये थे?वो शर्माती हुई बोली- मैंने और मेरी एक सहेली ने एक दूसरी के बाल पिछले सप्ताह ही क्रीम से साफ़ किये थे.

బిఎఫ్ కావాలి

दर्द कम करना भी मेरे ही हाथ में था, तो मैंने केले को चूत में डालना वहीं रोक दिया. करीब 30-31 साल की सिल्क एक आकर्षक महिला थी जो किसी भी मर्द को दीवाना बना दे. इसलिए उनके कहने पर मैं कभी कभी अपने कपड़ों के शोरूम पर भी चला जाता था.

लंड चूसते चूसते कब उन्होंने अपनी सलवार और ब्रा उतारी, मुझे पता भी नहीं चला. धीरे से मैंने अपना हाथ उसकी सलवार के अंदर डाल दिया और पैंटी के ऊपर से ही हाथ फिराना शुरू कर दिया.

मेरी बात से आंटी जरा भी गुस्सा नहीं हुईं, बल्कि मुस्कुरा कर हंस दीं.

कैबिनेट में कई लेडीज़ पर्सनल-केयर आर्टिकल्स पड़े थे, उन में बड़ी कम्पनी का बॉडी-लोशन, की बॉडी-क्रीम, की एन्टी-एजिंग क्रीम, परफ्यूम की शीशियां, हेयर-रीमूवल क्रीम, फ़िलिप्स का लेडीज़ इलेक्ट्रिक शेवर और वी वाश भी थी. मेरे पापा मम्मी जब रंग लगाने के लिए गए, तो आंटी ने उन्हें यह कह कर रोक दिया कि उन्हें रंग लगाना पसंद नहीं, अबीर लगाइए. मैंने कहा- सर, मेरी चूत भी मचल रही है आपका लोहे की तरह सख्त लन्ड लेने के लिये!फिर लाइट आ गयी और हमारा ये वार्तालाप खत्म हो गया.

उसके बाद उसने मुझे बेड पर लिटा दिया और मेरे पूरे बदन को किस करने लगा. वो पूछने लगे तो चाची ने बहाना बना दिया कि चूत के झांट साफ करते हुए उनको लग गयी थी. मेरे पति ने मुझे खूब चोदा और मेरी चूत से मैंने चार बच्चे निकाल दिये.

आलिया फिर से दरवाजे पर दस्तक देने लगी- राज दरवाजा खोल, वरना मैं तुम्हारे पापा को कॉल करती हूँ.

छोटा बीएफ: कुछ देर बाद मैंने नीतू को शावर के नीचे ही झुका कर घोड़ी बना दिया और उसकी चूत में लंड पेल दिया. मालकिन तूफानी ताकत से लंड पर हिल रही थी … और ऐसे हिलते समय उनके बड़े बड़े दोनों स्तन ऊपर नीचे झूल रहे थे.

आज शैली को पूरी नंगी करने में मुझे कोई भय नहीं था क्योंकि आज तो उसकी मम्मी ने ही उसे मेरे पास चूत चुदाई के लिए भेजा था. चाची ने कहा- मुझे गांड में लंड लेना बहुत अच्छा लगता है और मजा भी आता है. पायल ने मेरे कंधों से हाथ मेरे मजबूत बाजुओं पर लाकर अब पूरे रिदम के साथ मेरे लंड पर कूदना शुरू कर दिया.

वो अपनी कमर को हिलने लगा और दीदी की चुचियों को धीरे धीरे दबाने लगा.

कुछ देर बाद अंकल ने आंटी को जल्दी से नीचे पटक दिया और जोर जोर से अपनी गांड को हिला हिला कर अपने लंड को स्वीटी आंटी की चुत में धकेलने में लग गए. लेकिन बार बार चाची के चूचे और उनकी चुत में होती हुई उंगली दिख रही थी, जिससे मुझे चाची की मस्त जवानी भी लुभाने लगी. मैंने कहा- ऐसा है, तो फिर आप मेरा भी मेकअप कर दीजिए ताकि मैं भी आपके भैया को प्यार कर सकूं.