हिंदी वाला बीएफ भेजो

छवि स्रोत,कुत्ते की और लड़की की सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

சினேகா செஸ் விதேஒஸ்: हिंदी वाला बीएफ भेजो, यहां हमारे पड़ोस के घर में एक जवान भैया भाभी और उनका एक 7 साल बेटा रहते हैं.

घोड़े कुत्ते की सेक्सी वीडियो

भैया और भी तेज निकले, मां के पैर को खींचते हुए अपना लंड दुबारा मेरी माँ की चूत में डाल दिया. चुत चुदाई सेक्सीहनी की गांड चाहे जितनी कुलबुला रही हो … मगर जिस वक्त लंड गांड में जाएगा, उस वक्त हनी की आवाजें निकल जाएंगी और उसकी छटपटाहट गांड चुदाई के लिए मुश्किल करेगी.

उन्होंने संभल कर बैठना चाहा, तो जैसे ही वो सीधी हुईं कि मेरा पूरा लंड उनके हाथों में आ गया. न्यू सेक्सी व्हिडिओ सेक्सीउसने मुझे शाबाशी दी और कहा कि अब वो दिन दूर नहीं, जब तू उसकी चूत में अपना लंड गाड़ेगा.

लास्ट डांस करने के बाद हम लोग वहां से निकल गए और डिनर करने के लिए रिजॉर्ट के रेस्टोरेंट में आ गए.हिंदी वाला बीएफ भेजो: मैंने पैर पसारते हुए कहा- अब गिलास में क्या निकालना … सीधे मुँह लगा कर चूस लो.

मुझे याद आया कि मेरी बहन जो कभी नाक पर मक्खी नहीं बैठने देती थी, आज पराये मर्द के आगे झुकी हुई थी.मैं- हिम्मत तो तुम्हारे अन्दर नहीं है … और मुझसे कह रही हो कि हिम्मत है या नहीं.

मोबाइल सेक्सी पिक्चर - हिंदी वाला बीएफ भेजो

वीडियो खत्म होने से पहले मैंने भाभी के दोनों मम्मों को अपने हाथों से पकड़ लिया.मैं- अच्छा और ये सब मन में कबसे चल रहा था?रवि- जब से तुम ऑफिस में आई.

धीरे धीरे मैंने अपने हाथ उसके चेहरे पर फेरना शुरू किया तो वो धीरे धीरे मदहोश होने लगी. हिंदी वाला बीएफ भेजो मैंने कुच्ची से कहा- ये पक्का कर लेना भोसड़ी के कि तुम बस शब्बो को चोदोगे … और मैं जमीला को.

भाभी ने हंस कर कहा- ओके मेरी जान … लेकिन अपनी भाभी की चुदाई करने आते रहना.

हिंदी वाला बीएफ भेजो?

भैया ने भाभी की टांगों से सर निकाला और लम्बी सांसें लेते हुए भाभी की उठती बैठती चूचियों को देखने लगे. मैं सुबह शाम भाभी के घर जाता हूं और बहुत सेक्सी सेक्सी बातें करता हूं क्योंकि मैं भाभी को चोदना चाहता था. वो नशीले अंदाज में बोली कि बाबू जो आज मैं पिलाती हूँ, पी लो शांति से.

मैंने पूछा- मैडम का क्या नाम था?वो बोला- उसका नाम कंचन था, आज मेरे लिए तू ही कंचन है. उसने सीधे ही अपना हाथ मेरे लंड पर रखा और उसको सहलाने लगी।उसका कोमल हाथ रखे जाने से मेरी जांघें फैल गयीं और मैंने लंड को उसके हाथ के हवाले कर दिया।वैसे तो हम सबसे पीछे वाली सीट पर थे और बस में अंधेरा भी था लेकिन फिर भी मैंने उसके हाथ के ऊपर बैग रख दिया जिससे हमारा ये अन्तर्वासना का खेल किसी को दिखे नहीं. लेकिन वो बोल रहा है कि हम नीचे सीट पर ही बैठे रहेंगे काफी देर! उनको बोलो ऊपर वाले खाली डबल स्लीपर में सो जाए!ड्राईवर बोला- मैडम जी, आप अपना सामान यही पड़े रहने दीजिए.

मैंने सरिता से कहा- सरिता, तुम भी बहुत सुंदर और सेक्सी हो और विलास भी अच्छा और सीधा साधा है. जल्दी से इसे ठंडा कर!मेरी समझ में नहीं आया कि अब लंड तो मुरझा गया इसे कैसे शांत करूं. उस दिन मैं बाथरूम में मुठ मारके बाहर निकला और भाभी से कोई बात किए बिना चुपचाप अपने घर आ गया.

लॉकडाउन के बाद जब हमारी बेटी कॉलेज गयी तो हमने दिन के उजाले में चुदाई का मौक़ा मिला. इस वजह से मेरी गांड भी फट रही थी कि कहीं चाची गुस्सा ना हो जाएं और मेरे घर पर बता दें.

मैंने उससे पूछा- तुमको कॉलेज में एडमिशन लिए हुए कितना टाइम हो गया?शिल्पा बोली- मुझे तो एक साल से ज्यादा हो गया है.

मैंने कहा- क्या शैतान … ये मेरे भाई की साली तो है ही न!इस बार शिल्पा भी हंस पड़ी.

रमेश सर लंड को बाहर निकाल कर उठे तो सीमा को उनके कड़े और खड़े लौड़े के दीदार हो गए. इसका नतीजा ये हुआ कि वो दोनों जल्दी ही दोबारा फिर से आह आह के साथ पूरी ताकत के साथ 4-5 ठोकरें लगाकर निढाल हो गए. मगर जब उसने अपने हाथ से मेरे स्तन को दबाया तो मैं उससे दूर हट गई।राजपाल को लगा कि मैं नाराज हो गई हूं।मगर मैं नाराज नहीं थी।उसने पहले मुझे मनाया, फिर बोला कि मैं तुम्हें बचपन से प्यार करता हूं।मैंने उसे बोला- मैं नाराज नहीं हूं।उसने मुझे अंदर से देखने की इच्छा जाहिर करी।मैं शरमा गई.

दरअसल मेरे मम्मी पापा किसान हैं और वो दिन में खेत में चले जाते हैं. फिर जब पूरा लौड़ा घुस गया तो मैंने बाहर लंड को निकाला और इस बार एक झटके में अन्दर डाल दिया. जब मैं अपनी गांड हिलाने लगा तो सोनाली ने भी कमर ऊपर नीचे करके लंड को अन्दर बाहर किया.

आंटी बोलीं- तुम्हारी मम्मी चुदवाने को राजी हो गई हैं, लेकिन वो पूछ रही थीं कि कैसे क्या करना होगा और उसने कहा है कि उसका लड़का यानि तुम घर पर हो, तो उसको पता तो नहीं न चल जाएगा.

जल्दी से इसे ठंडा कर!मेरी समझ में नहीं आया कि अब लंड तो मुरझा गया इसे कैसे शांत करूं. रवि का लंड 4 इंच लंबा था, उन्होंने रवि से कहा- यदि मोहिनी और सोनम राज़ी है तो रवि उनकी उनकी चूत चोद सकता है. भाभी ने कहा- और मुझमें क्या-क्या अच्छा लगता है?मैंने कहा- आपकी कमर भी बहुत मस्त है.

मैं- कोई बात नहीं, तुम एक बार मुझसे मिलो तो सही … तुम्हारा सारा डर निकाल दूंगा. फिर उसकी गर्दन से चूमते हुए कान की लौ को चूसा और जमीला के कान में धीरे से बोला- मेरे लंड को चूसो. मैंने कई बार दीदी को मेरे लंड का पानी ब्रेड पर लगा कर भी खिलाया है.

मेरे हस्बैंड को भी पता था कि वहां कोई मर्द तो रहता नहीं है, भाभी अकेली ही घर पर रहती हैं.

अब स्कूल खत्म होने के बाद हालात ये होने लगे थे कि मैं जिस बस से घर जाती, उसी बस में सर भी अपने घर जाने लगे थे. चूंकि भैया भाभी हमारे पड़ोसी थे तो इस वजह से हमसे काफी अच्छे संबंध हो गए थे.

हिंदी वाला बीएफ भेजो उस दिन काम की वजह से व बारिश की वजह से बाहर जाने में मुझे देर हो गई. आज मुझे बस ये हैरानी होती है कि जिसे हद से ज़्यादा प्यार करो, दिल से चाहो, वो मिलता क्यों नहीं है.

हिंदी वाला बीएफ भेजो दोस्तो, मेरी हॉट आंटी की चुदाई कहानी आपको कैसी लगी, मुझे जरूर बताएं. वो सिहर उठी तो मैंने उसकी टांगें फैलाते हुए उसकी बुर पर अपने होंठों को रख दिया.

दीदी को बहुत मजा आ रहा था और मैं भी उसकी चूत को चाटने का पूरा मजा ले रहा था.

बीएफ सेक्स ब्लू पिक्चर बीएफ

तुम जरा बाम लगा दोगे क्या?मेरा दिमाग ऐसे हालात मैं बहुत तेज दौड़ता है. वो भी हंस गई कि मैं बांसुरी बजाने की बात मतलब लंड चूसने की बात कर रहा हूँ. सरिता अपने दोनों हाथ से मेरे सर को पकड़कर अपनी चूचियों पर दबाने लगी और साथ ही वो अपनी गांड हिला रही थी.

अब अगले एक हफ्ते उन लोगों ने अपने काम तेजी से निबटाये।जाने से एक दिन पहले नेहा ने पूरा दिन ब्यूटी पार्लर में बिता कर अपना एक-एक अंग चिकना और चमकीला करवाया।सारी तैयारी करके दोनों फ्लैट से माले एयरपोर्ट पहुंचे, वहाँ से एक स्टीमर बोट से वो ताज के एक्सोटिका रिज़ॉर्ट में पहुंचे।बोट में उन लोगों के साथ एशियाई मूल का ही उन्हीं की हमउम्र एक जोड़ा था. मैं चुदी हुई कुतिया सी, अपने नीचे लेटे हुए मर्द के सीने के ऊपर पसर कर लेटी रही … और बस उसके झड़ने का इंतजार करती रही. सरिता पहली बार मेरा बड़ा सा सुपारा चूस रही थी, बहुत ही मुश्किल से उसने लंड मुँह में लिया था.

आखिर तुम्हारे इस मूसल जैसे लंड ने मेरी चूत को अपने लायक बना ही दिया.

उस वक्त मेरा ध्यान सिर्फ़ भाभी की ओर ही था और मैं उनके उभार देखते हुए उनसे बातें कर रहा था. मेरा लंड गांड में अन्दर बाहर होने लगा और उसकी गांड से फ़च फच की आवाज आने लगी. कुछ देर के बाद तो वो हाथ में हाथ डालकर घूमने लगा, दोनों फोटो लेने लगे.

मैंने उसकी चूत से उसका हाथ हटाया और उसकी बाजू में हाथ डालकर कंधे के नीचे से हाथ घुमाकर उसके सर को हथेली पर रख लिया. मैंने कहा- मैं तुम्हारा पति हूँ कोई दुश्मन नहीं हूँ, यदि तुम्हें कुछ हुआ तो मुझे ही झेलना पड़ेगा. मैं बातों के दौरान धीरे से उन्हें गर्म भी कर देता, पर मैं ज्यादा सेक्स के बारे में जानता नहीं था कि लड़की को पटाते कैसे हैं.

इसलिए शनाया को नए लंड से कोई दिक़्क़त नहीं थी बल्कि उसे तो अपनी चूत के लिए एक नया लंड मिल रहा था. मैंने कहा- हां बोलो … आग लगा कर किधर भाग गई?जमीला ने हंस कर कहा- कहां हो मेरे राजा जी!मैं- पता नहीं, अभी जब से तुमसे मिला हूँ कुछ होश नहीं कि मैं कौन हूँ और कहां हूँ … बस तुम ही तुम मेरे ख्यालों में गूंज रही हो.

वो मुझसे पूछने लगा- आंटी कहां हैं?तो मैं बोला- क्या बात है मुझे बताओ, अम्मी स्कूल चली गई हैं. मोहिनी ने दो तीन बार ज़ोर से थप्पड़ मारते हुए कहा- और ज़ोर से चल!रवि ने ज़ोर ज़ोर से चलकर बरामदे का चक्कर पूरा किया. इसलिए आगे क्या होगा … ये जानने के लिए मैंने गन्ने के पेड़ों के बीच में लेटकर आगे जाकर जगह बनाई और वहीं बैठ गया.

मीनाक्षी ने बातों बातों में मुझसे पूछा- नवीन, तुम स्कूल में मुझे पसंद करते थे ना!मैंने भी कहा- हां, तुम भी तो मुझे ही देखती रहती थी.

उसके बाद मैंने समझ लिया कि इनका खेल खत्म हो गया है अब इधर रूकने से कोई फायदा नहीं है. कुछ ही दिनों में भाभी और मेरी अच्छे से दोस्ती हो गयी थी क्योंकि भैया ज्यादातर टूर पर होते थे. मैं पूरी तरह समझ गया कि ये रसीली भाभी आज चूत का पानी निकलवा कर ही ऊपर जाएंगी.

हॉट गर्ल सेक्स Xxx कहानी के पिछले भागफूफाजी ने मेरी अन्तर्वासना जगायीमें आपने अब तक पढ़ा था कि मेरे फूफा जी से मेरी पक्कमपाक दोस्ती हो गयी थी. वो तो खिड़की में से बारिश की बूंदें अन्दर आ रही थीं, तो बारिश होने का अंदाज हुआ.

यार साड़ी पहनने वाली स्नेहा वेस्टर्न ड्रेस में, वो भी इतनी गजब … मैं चमत्कृत था. पर करते भी क्या रात को सब होते हैं और दिन में दोनों मां और श्रुति होती है. जब दोनों काफी करीब आ गए, तो मैंने सीमा से रात में मिलने की बात कही.

बीएफ अच्छा-अच्छा

वह अपनी चुत में उंगली करके व मैं अपना लंड हिला कर अपना लावा निकाल देता था, फिर भी चैन नहीं मिलता था.

दो तीन मिनट बाद ही उन्होंने मेरा सर अपनी चूत में दबा लिया और झड़ गईं. फूफा जी ने मेरी जांघ पर अपना हाथ रख देते और इसी बहाने अपने हाथों की कोहनी से मेरे मम्मों को दबा देते. सेक्सी गर्ल हिंदी चोदन स्टोरी में पढ़ें कि मुझे दुकान पर आये एक भोले भाले ग्राहक की बेटी से बात करने का मौका मिला और वो चालू निकली। मैंने उसकी चूत मारी.

वो अपने मम्मों पर हाथ फिराने लगी और मचलने लगी तब मैंने उसकी पैंटी निकाल दी जोकि पूरी गीली हो चुकी थी. जिया दीदी के कातिलाना मम्मों को मसलते हुए मैं अलग ही सुख और लज्जत महसूस कर रहा था. सेक्सी वीडियो 4 फरवरीवो इतनी अधिक चुदासी हो गयी थी कि उसने धीरे से मेरे कानों के पास किस करके फुसफुसाते हुए कहा- थोड़ा जोर जोर से दबाओ ना … इन्हें!उसकी बात को मानकर मैं भी उसके कपड़ों के ऊपर से ही जोर जोर से चूत को सहलाने लगा और कभी बोबे को दबाने लगा.

उसकी पैंटी पूरी गीली होने की वजह से मेरी अंडरपैंट भी लंड के ऊपर गीली होने लगी थी. बीच में ही जब उसके मुँह से पचापच की आवाज निकलती थी तो मेरा जोश और बढ़ने लगता था.

उस दिन टाइमिंग इतनी सही थी कि कोहरा शाम 6 बजे से ही शुरू हो गया था और 10 बजे जब उसको आना था, तब तक पूरा गांव सो गया था. थोड़ी देर मुँह चोदने के बाद मेरा छूटने वाला था तो मैंने प्राची के सिर को पीछे से पकड़ कर जोर जोर से चोदना शुरू कर दिया. दूसरे दिन से मोहन और रवि ने सोनू को सुहागरात के लिए तैयार करना शुरू किया.

इसलिए तू खा ले, कब तक भूखा रहेगा।मैंने मौसी मां की बात मान ली और खाना खाकर आया. फिर विलास ने अपना मुँह और नीचे लाकर मेरी गांड के छेद को अपने होंठों से किस किया तो मेरे बदन में बिजली सी दौड़ने लगी थी. वो बोली- कोई बात नहीं, अभी पूरा कर लो … और जल्दी से अपना पानी निकाल लो.

उसके हटते ही एक ने मुझे टेबल से नीचे उतारा और खुद एक कुर्सी पर बैठ गया.

मैं- मैं भी पटाना चाहता हूं लेकिन अभी कॉलेज बंद हैं और जिसे पसंद करता हूँ … वो मिल नहीं सकती. उन्होंने कहा- तुमको उस वक्त शर्म नहीं आती है जब रात को मुझे नंगी देख कर सेक्स करते हुए देखते हो.

मैं अपनी तारीफ सुन सुनकर खुश हो रही थी और साथ में मेरी चूत गीली हो रही थी. मैंने उसको अपने नीचे से निकाला और वह, जिसका मैं लंड चूस रही थी, उसको छेद पर कब्जा करने के लिए कहा. ये सुनकर मम्मी ने बोला- अरे बस इतनी सी बात, तुम परेशान मत हो … मैं अभी शुभ से बोल देती हूँ, वो तुमको मार्केट ले जाएगा.

मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और कुछ धक्के मारने के बाद ही मेरे प्यारे पति ने अपने लंड पर से मुझे ऊपर उठने नहीं दिया. ट्रेन की भीड़ में एक जवान सुंदर भाभी से मेरा मिलन हुआ, दोनों जिस्म गर्म हुए. उसके चार दिन बाद सीमा कॉलेज के बहाने से घर से निकली और दोनों बस में बैठकर चंडीगढ़ आ गए.

हिंदी वाला बीएफ भेजो गगन के लंड का रस उसकी मां की गांड में टपका था और दिनकर चाचा के लंड का पानी सुम्मी की चुत में छूट गया था. उसने बाथरूम के दरवाजे की तरफ देखा और मेरे पास आकर मुझे बांहों में भर लिया.

बीएफ सेक्सी नंगा नंगा

अब मैंने अपना तौलिया हटा दिया तो मेरा मोटा लम्बा लंड पैंटी के ऊपर से अम्मी को रगड़ रहा था. हम बस अड्डे पहुंच गए और मैंने तुरंत होटल जाने के लिए रिक्शा किया।इसी बीच उसने भी अपने घर फोन कर दिया था कि रास्ते में बस खराब हो गयी थी तो अभी बस बस्ती पहुंची है, आने में शायद दोपहर हो जाएगी. विजय ने मेरी पलंगतोड़ चुदाई करके मेरे तन बदन में लगी हुई आग शांत कर दी थी अच्छी तरह … लेकिन उसके साथ बिताए उन चुदाई के दिनों के थोड़े दिन बाद ही मेरा शरीर पुनः उसके लण्ड का भूखा हो गया.

उस वक्त मुझे कुछ अजीब सा लगा लेकिन मैंने उस बात को नजरअंदाज करते हुए उनके गर्दन में अपना हाथ घुमा लिया जिसका फायदा उन्होंने एक कदम और आगे बढ़ते हुए उठाया. इस बार उसकी गांड कुछ खुल सी गई थी तो पहले धक्के में आधा लंड उसकी गांड में अन्दर चला गया. सेक्सी वीडियो hd bfमैं काफी दिनों से यहां अपनी लाइफ की एक मदमस्त कर देने वाली सेक्स कहानी शेयर करने की सोच रहा था.

मुझे तो यकीन नहीं होता था कि तुम्हारा ये मूसल जैसा लंड मेरी चूत में पूरा घुस जाएगा.

दीदी ने जैसे ही दरवाज़ा खोला तो उसकी सीधी नज़र मेरे मोटे लम्बे खड़े लंड पर गयी. मैं अपने मुँह में सोनाली की एक चूची लेकर चूस रहा था और दूसरी चूची को हाथ से मसल रहा था, दूसरे हाथ को सोनाली की कमर में डालकर उसे सहारा दे रहा था.

आपको ये भाई बहन की चुदाई हिंदी में कहानी कैसी लगी, इसके बारे में कमेंट करके ज़रूर बताएं. मैंने इस चुदाई की मस्ती में अपनी दीदी की तड़प भरी आहों और कराहों को अनसुना कर दिया था. लेकिन 10 मिनट हो जाने के बाद भी वो जब बाहर नहीं आई तो मुझे कुछ शक हुआ.

वो मुझसे बोली- ओके तुम्हें जैसा भी लगा हो, पर तुम ये बात किसी से मत कहना.

मुझे नींद ही नहीं आयी रात भर!भैया और भाभी सुबह 8 बजे गांव के लिए निकल गए, तब जान में जान आयी. मैंने सोनाली का एक पैर कमोड पर रख दिया और मैं अपना तना हुआ लंड का सुपारा उसकी गीली चूत पर रगड़ने लगा. अच्छे से उसका दूध पीने के बाद उसने मुझसे कहा- मेरे दूध तो पी लिए, अब अपना दूध भी तो पिलाओ.

आर्केस्ट्रा के सेक्सी गानेवहां एक ड्रम रखा था जिसके सहारे मैंने उसको घोड़ी बना दिया और पीछे से सना की चूत में लंड डालकर उसे चोदने लगा. गोरा बदन, बड़े बड़े दूध और …रीना हंस कर बोली- और … और क्या?हसित बोला- और नीचे की झील … मगर वो तो तुमने अभी दिखाई ही नहीं.

हॉट वाला बीएफ

मैंने उसे कसम देकर पूछा- अब बोलो कि तुमको नहीं पता ये क्या है?वो बोली- रुको अभी बताती हूँ. मैंने भी मुग्धा की बात का समर्थन किया।पर अंगिका जिद पे अड़ गई कि जो होगा उसके सामने होगा. एक बार मैंने भाभी की आंखों में देखा और उनकी चूत को चूसना शुरू कर दिया.

दोस्तो, दिल्ली ले जाकर मेरे फूफा जी ने मुझे किस तरह से चोदा और मेरी कमसिन सीलपैक चुत का भोसड़ा बना दिया. जब मैं लौटा तो मौसी मां ने फिर पूछा- क्या हुआ बेटा?मैंने कहा- मौसी, जोर से पेशाब लगी थी।मौसी मां मेरा भीगा लोवर देखकर मुस्कुराकर बोली- तो पहले ही कर आता … इतना क्यूं रोकता है कि पैंट में ही हो जाए! बेटा, इच्छाओं को दबाना नहीं चहिए कभी!फिर मैंने होमवर्क किया और खाना खाकर सो गया. और जैसे ही इसका आभास वीरू को हुआ कि शबाना की गांड से उसके लौड़े का निकाह हो चुका है तो उसने भी शबाना को ऊपर उठा लिया.

भाभी मैं आपकी पीठ पर कैसे साबुन लगा सकता हूँ?भाभी बोलीं- अरे वो सब मैं बता दूंगी कि कैसे साबुन लगाना है. मोहन मुर्गी पालन, रवि बकरी पालन, सोनू ग्रीन हाउस में विदेशी सब्जी, फूल उगाना सीखने लगे. फिर उसने मुझे अपनी गोद में उठाया और खुद नीचे लेटकर मुझे अपने लंड पर बैठा लिया.

अपनी चुत पर मेरा मुँह के लगते ही आंटी सिहर उठीं और बुदबुदाने लगीं- ये क्या किया तूने … आज तक तेरे अंकल ने कभी नहीं किया हाय मररर गयी रे मैं तो … तूने ये क्या कर दिया. कुछ देर बाद मैं पूरी तरह तैयार हो चुकी थी और आईने में खुद को देख रही थी कि तभी फूफा जी अन्दर आ गए.

ये वो वक़्त था, जब मैं मामी को अपना कंधे का सहारा और अपने कंधों के ऊपर उनकी टांगें रख कर उन्हें दिल खोल कर चोदूँ.

मैंने भी अपने दोनों हाथों से उसकी गोलमटोल गांड को सहला कर लंड पर दबाव बनाए रखा. कॉलेज सेक्सी वीडियोसआंटी ने मम्मी के हाथ से मेरे लिए कई बार हलवा आदि बना कर भेजा था तो मैं अपने कमरे में आंटी के हाथ का बना हलवा ले जाता था और अपने लंड पर लगा कर आंटी को याद करके मुठ मार लेता था. सेक्सी वीडियो लड़का लड़की चोदते हुएचूँकि मैं एक किसान परिवार से हूँ इसलिए घर चलाने के लिए खेती ही एक सहारा थी. मैं भाभी की चिकनी चुत चाटने लगा और वो मेरे लम्बे लंड को चूसने लगीं.

मैं समझ गया कि वो फिर से ऑर्गज्म पर पहुंचने वाली है, मैं नीचे से जोर से झटके लगाने लगा.

मुझे इतना यकीन हो गया था कि वो मेरे अलावा किसी और से प्यार नहीं कर सकता था. मुझे चोदकर अपने बच्चे की मां बना दे।उसकी चूत को चाटना मैंने जारी रखा. अब बारी तीसरे लड़के की थी लेकिन तभी अनिल और दूसरा लड़का जो निबट चुके थे, वे तीसरे से बोले- जल्दी से चोद कर आ जाओ, हम बाहर इन्तजार कर रहे हैं … और हां पहले पारुल को बाहर भेजना.

मैंने झुककर सरिता के दोनों निपल्स पर बारी बारी से अपनी जीभ घुमा दी. सीमा भाभी अपने पति से अपने प्यार की कहानी सुना रही थी और मैं उसको देखे जा रहा था. यंग पोर्न गर्ल सेक्स कहानी मेरे हॉस्टल की नौकरानी की कुंवारी बेटी की है जो वहीं रहती थी.

कोई अच्छी बीएफ

मगर आधा घंटा बाद ही मुझे फिर से अपनी चुत में सुरसुरी होने लगी और मुझे फिर से लंड की याद सताने लगी. अपनी ये आपबीती भाभी ने जब मुझे बताई तो मुझे अपने आप पर काफी शर्म महसूस हुई. मैंने उसे समझाया कि अगर बिना किसी के जाने चुदवा लो, तो कोई दिक्कत नहीं है.

रात को जब मैं दिन भर की कोचिंग करके वापस आया तो इतना थक चुका था कि मैं बिना खाए ही सिर्फ़ दूध पीकर सोने चला गया.

मैं चुदी हुई कुतिया सी, अपने नीचे लेटे हुए मर्द के सीने के ऊपर पसर कर लेटी रही … और बस उसके झड़ने का इंतजार करती रही.

इस तरह पांच मिनट जोरदार चुदाई के बाद वो फिर से झड़ने के कगार पर आ गई थी. एकदम गोल और टाईट गांड को थिरकते देख कर मेरा जी काबू में ही नहीं रहता था. देसी पोर्न सेक्सी मूवीथोड़ी देर बाद ऐसे ही गांड मारने के बाद उन्होंने अपनी पकड़ ढीली कर दी.

प्रिया- आआहह … भैया … क्या कर रहे हो … आआ आअहह … पागल हो जाऊंगी मैं … आआअहह!मैंने प्रिया की जांघें और फैलाईं और उसकी चुत को और खोल कर चूसने लगा. मैं उसकी चुत को छोड़ कर उसके चारों तरफ जीभ फिराने लगा, जिससे वो पगला उठी और बोलने लगी कि अगम अब बर्दाश्त नहीं होता, ज्यादा मत तड़पा … बस अब मेरी ले ले. तो उन्होंने फोन लेकर खुद बात करना शुरु कर दिया- बेटी, मैं बिल्कुल ठीक हूं.

मैं आज आपको जो Xxx अम्मी सेक्स कहानी बताने जा रहा हूँ, वो मेरी अम्मी और मेरे बीच के सेक्स अफेयर की है. दोस्तो … अभी इस ओरल सेक्स लंड चुसाई कहानी को यहीं ख़त्म करते हैं, पर अभी मेरठ से मुजफ्फरनगर का ये सफर बाक़ी है.

शादी के कुछ टाइम बाद भैया ने अपना खुद का बिजनेस स्टार्ट कर दिया।बिजनेस के काम से वे अधिकतर शहर के बाहर ही रहते हैं और कभी-कभी ही घर आते हैं.

मैंने मालिश करते हुए उन्हें कहा- भाभी, आपका ब्लाउज तेल से खराब न हो जाए. मेरा जो हाथ उसके स्तन पर था, अब वो उसके चेहरे पर चला गया और एक उंगली उसके मुँह में डाल दी जिसे वो चूसने लगी. मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और कुछ धक्के मारने के बाद ही मेरे प्यारे पति ने अपने लंड पर से मुझे ऊपर उठने नहीं दिया.

अंग्रेजी सेक्सी वीडियो बफ कोई दस मिनट बाद भाभी अपनी चरम सीमा पर आ गईं और आह आह करती हुई झड़ने लगीं. फिर उसने मुझे अपनी गोद में उठाया और खुद नीचे लेटकर मुझे अपने लंड पर बैठा लिया.

इसलिए मेरा निवेदन है कि आप, अपने जैसे व्यक्ति को मेरे पति के लिए खोजें. वो छटपटा रही थी और ‘हाय ऊं ऊं हुँ हूँ …’ की आवाज के साथ सिसकारियां ले रही थी. हॉट भाभी सेक्स कहानी का अगला भाग:जयपुर की मस्त चालू भाभी की चुदाई यात्रा- 2.

साड़ी वाली बीएफ बीएफ

मेरे दोनों पैर अपने कंधे पर ले लिए और लंड गांड में डालकर चोदने लगे. वो बोली- यार तुम में और उस लड़के में बहुत अंतर है … और हां मुझे पता है कि हम भाई बहन लगते हैं, पर मुझे इससे कोई दिक्कत नहीं है. सूरज बोला- यार, मैंने एक लड़के से बात की है वो मादरचोद मना कर रहा है.

वो खुद मुझसे चुदने को मचलने लगी थी, लेकिन मिलने का कोई मौका नहीं मिल रहा था. मैंने कहा- सोनाली, इतना घूर कर क्या देख रही हो?सोनाली मेरे लंड की तरफ देखकर बोली- तुम्हारा अमृत बहुत गाढ़ा है.

मैंने आठ दस झटकों के बाद उसकी चुत में रस झाड़ दिया और उसके ऊपर ही पसर गया.

आप इसे कैसे सहन कर लेती हो?मैंने फिर से अपनी साली को समझाने की कोशिश की कि मर्द के लंड से लड़की को केवल एक बार दर्द होता है. हम दोनों ने खाना खाया और खाना खाने के बाद मॉम फिर से रसोई में बर्तन साफ करने चली गईं. अब सोनाली ने मेरी तरफ मुड़कर मेरे होंठों को चूम लिया और कमोड पर बैठ गयी.

आज जो नजारा मैंने देख लिया था उसके बाद तो मुझे चैन नहीं आने वाला था. अब तक ब्लूफिल्म में ही चुत को देखा था मगर आज सामने से उसकी फूली हुई चूत को देखकर मैं पागल सा हो गया. जिया दीदी वासना भरी आवाज में बोलीं- अब किस बात का इंतजार है!इस समय में बहुत खुश था आखिर मेरी इच्छा पूरी होने वाली थी.

भाई भाभी सेक्स कहानी उन दिनों की है, जब मैं भईया और भाभी के घर मैं अपनी छुट्टियां बिताने के लिए गया था.

हिंदी वाला बीएफ भेजो: मैंने उनकी नंगी और मोटी मोटी चूचियों को नंगा देखा तो ऐसा लगा जैसे मुझ पर कुछ नशा सा चढ़ गया हो. उनका हाथ अब कंधे की सीध में था।जाने अंजाने उनका हाथ मेरे लंड पर रख गया। मेरा लंड फिर से फुफकारने लगा.

वो हंस कर बोली- शेप न बिगड़ जाए इसलिए!मैंने भी हंस कर उसकी बात समझ ली. बर्थ-डे पर जिया दीदी आने वाली थीं और उनके अलावा कोई रिश्तेदार नहीं होगा. दर्द, पीड़ा, जलन ऐसे अनेकों भाव शब्बो के मुँह पर उमड़ने लगे।होंठों को वीरू ने बंद करके रखा था।टाँगें तो पहले ही उसके कंधे पर अटक चुकी थीं और शब्बो चाची किसी सिर कटी मुर्गी की तरह वीरू के लौड़े के नीचे तड़पने लगी.

विशाल ने मोहिनी का और प्रकाश ने सोनम का समाज और रिश्तेदारों से बीवी के रूप में परिचय कराया.

सीमा के छोड़ जाने से सिर्फ एक ही ख्याल दिमाग में घर कर बैठा था कि क्या सीमा आयेगी? क्या अब फिर मिलना होगा? और अगर मिलना भी हुआ तो क्या वो वही सीमा रहेगी जिससे मैं पहचानती हूं?ख़ैर कश्मकश में दिन यूँही गुज़रते रहे. दोस्तो, अभी के लिए अन्तर्वासना से विदा चाहूंगा, हम फिर यहीं मिलेंगे. मेरे कुतिया बनते ही अंकल ने अपने लंड को मेरी कुंवारी चुत पर सैट किया और धीरे से धक्के लगाते हुए लंड को चुत में डाल दिया.