मुस्लिम बीएफ सेक्सी वीडियो

छवि स्रोत,बाल सीधे करने वाली क्रीम

तस्वीर का शीर्षक ,

ப்ளூ பிலிம் தமிழ்: मुस्लिम बीएफ सेक्सी वीडियो, मेरे लंड का सुपारा काफ़ी मोटा है, पर मामी जैसी चुदक्कड़ को थोड़ी सी भी परेशानी नहीं हुई.

गोपी की चूत

रूम में पहुंचते ही मैंने बैग्स को तरफ फेंक कर रूम भीतर से लॉक कर के अदिति को भी अपने बाहुपाश में लॉक कर लिया और उसे बांहों में लिए बेड पर गिरा कर उनके स्तन दबोच कर उन्हें चूमने चाटने लगा. सामूहिक चुदाई कहानीकहानी में आगे बढ़ने से पहले मैं आपसे अपने दोस्तों का परिचय करा देता हूँ.

आपकी गोरी[emailprotected]मेरी चूत की चुदाई स्टोरी का अगला भाग:मिस्त्री के बाद उसके दोस्तों से चुद गयी. बीपी इंग्लिश ब्लू फिल्मनगमा की गांड में मेरे आंड टकराने लगे थे तो पट पट की तेज आवाजें आने लगी थीं.

उन्होंने मेरे होंठों को चूमना चूसना शुरू कर दिया और मैं उनके बदन को सहलाने लगी.मुस्लिम बीएफ सेक्सी वीडियो: अचानक से चाची ने मेरे लंड को पकड़ लिया और थोड़ा हिला कर उसमें करेंट डाल दिया.

लेकिन वो नहीं माना और उसने मेरी चूत को अपने मुँह में भर लिया जिससे मैं बिल्कुल पागल हो गयी थी.जेठ जी की कहानी के पहले भागअपने जेठ जी से चुदाई का मजा लियामें आपने पढ़ा कि मेरी जेठानी की डिलीवरी के समय वो अस्पताल में अपनी अम्मी के साथ थी.

मास्टरबेशन क्या होता है - मुस्लिम बीएफ सेक्सी वीडियो

मेरी मौसी का काफी बड़ा सिलाई सेंटर है, जिससे उनकी काफी अच्छी कमाई हो जाती है.साथ ही उन्होंने शॉवर चालू कर दिया और गिरते पानी में गांड मारने लगे.

मैं- अबे मुझे क्या पता कि तुम लोग ये क्या खिचड़ी पका रहे हो, मुझे पहले क्यों नहीं बताया?कुच्ची ने कहा कि मैं पूरा मामला फिट होने के बाद ही तुझे बताना चाह रहा था. मुस्लिम बीएफ सेक्सी वीडियो अब दोनों एक दूसरे को चोदने लगे।तब मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और तेज़ तेज़ चोदने लगा.

बस हमें ऐसा तरीका आना चाहिए, जिससे हम सब एक दूसरे की जरूरत पूरी कर सकें.

मुस्लिम बीएफ सेक्सी वीडियो?

यह नजारा हमारी जिंदगी का बेहतरीन पल था, जिसे हम दोनों कभी नहीं भुला पाए थे. मैंने दो ठोकरें मारकर अपना लण्ड जड़ तक धँसा दिया तो बहार चूतड़ उठा उठाकर मुझे चोदने लगी. मेरे घर पर सभी लोग होली मनाने के लिए गांव चले गए थे और लॉकडाउन लगने से पहले वापस न आ सके.

अचानक से उसने कहा कि मैं अभी सेक्स नहीं कर सकती हूँ, ये सब ग़लत है, ये सब शादी के बाद करते हैं. अब आगे ग्रुप में ओपन सेक्स की कहानी:उस मर्द लौंडे के अपने ऊपर से हटते ही मेरा ध्यान मेरे साथ वाली उस पड़ोस वाली भाभी पर गया तो मैंने देखा उनमें से एक लौंडा नीचे लेटा था और भाभी उसके लंड के ऊपर बैठी थीं. ममता- इसका मतलब आपने अभी भी दिल से मुझे अपना दोस्त नहीं माना?ममता ने मुँह बना कर कहा, तो अभय बोला- कुछ बातें ऐसी होती हैं कि चाहते हुए भी अपनी बहन से नहीं कर सकता हूँ.

वो मुस्कुरा कर बोला- अच्छा!डॉक्टर ने मुझ पर लाइन मारना शुरू कर दिया था और मैं भी उसका पूरा साथ दे रही थी. कुछ देर तो शहज़ाद ने मेरे चुचे रगड़े, लेकिन जब ये पाया कि मैं सो गई हूं. मैंने भी उसके टॉप को ऊपर किया और गोरे मोटे बूब्स पर अपना मुंह लगाकर काटने और चूसने लगा.

मैंने उसी समय आपने फोन से उनका नम्बर डायल करके उन्हें अपना नम्बर दे दिया. जब मैं काफ़ी कोशिश के बाद भी मामी कीचुत का छेदनहीं ढूंढ पाया, तो मामी न मुझे बेड पर चित लेटने को कहा.

कॉलेज में जब भी तीन चार दिन या अधिक की छुट्टी होती तो संगीता अपने घर चली जाती.

मैंने धन्यवाद कहने के लिए फोन किया तो बोलीं- किस बात का धन्यवाद, विजय साहब.

अभय ने ममता के इतना बोलते ही एक के बाद एक पिचकारी ममता की कुंवारी बुर में छोड़ना चालू कर दीं. दो दिन बाद मौसी की डेथ हो गई। मम्मी-पापा दोनों वहाँ चले गए। उन दिनों मैं गुलाब की बांहों में पड़ी रहती थी. अगले दिन वो मुझे स्कूल जाती हुई दिखाई दी पर उससे कुछ बात ना हो पाई.

मेरे ऊपर चुदास इतनी ज्यादा चढ़ी हुई थी कि मैं इस बार बहुत जल्दी झड़ गई. लैंड बुर की चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपनी क्लास की देसी लड़की को अपनी प्रेमिका बनाया और फिर उसे चूत चुदाई के लिए तैयार करके चोदा. मैंने भी उसके टॉप को ऊपर किया और गोरे मोटे बूब्स पर अपना मुंह लगाकर काटने और चूसने लगा.

देसी फैमिली की चुदाई कहानी के पिछले भागबेटी के बॉयफ्रेंड का लंड मेरी चूत में घुसा तो …में अभी तक आपने पढ़ा था कि मेरी बेटी के आशिक शहजाद के लंड से मैं अपनी चुत चुदाई करवा चुकी थी.

हर बार की तरह मेरा एक ही जवाब होता था कि भाभी मैं यहां आता जाता रहता हूं. सार्थक की मम्मीं मुझसे बोलीं- बेटा, तू उर्वशी को डॉक्टर के यहां ले जा. लेकिन हम दोनों को गले मिलने के लिए कोई जगह नहीं थी तो मैंने उसको अपने कमरे में ही आने के लिए बोला.

मगर मामी को लगा कि उनकी हरकत के कारण बाइक गिर पड़ी है तो वो बार बार सॉरी बोल रही थीं. उनके लंड चूसने से दो चीजें समझ आने लगी थीं कि एक तो बहुत दिन से भाभी लंड की भूखी हैं … और दूसरी बात ये कि उन्हें लंड चूसने का अनुभव बहुत ज्यादा है. उसका निचला होंठ चूसते हुए मैं बहू के दोनों स्तन दबाने मसलने लगा; फिर उसके टॉप में सामने से हाथ घुसा कर ब्रा में उंगलिया घुसा दीं और नंगा स्तन मसलने लगा.

जैसे ही मैंने एक सांस में पैग खींचा, भाभी जी ने दूसरे पैग में दारू डाल दी और फिर से गिलास में चुतामृत निकाल दिया.

चूंकि इस वक्त पूरे घर में मैं और मां ही थे और हम दोनों हॉल के बाजू वाले रूम में नीच बिस्तर बिछा कर चुदाई कर रहे थे. उनको अहसास करवा रही थी कि मेरी चूत को भी चाटो।कामुक अंदाज में लंड चूसा तो उसमें तनाव तो बढ़ा लेकिन मगन के मुकाबले लंड छोटा था.

मुस्लिम बीएफ सेक्सी वीडियो आप मुझे मेल के साथ कहानी के नीचे कमेंट्स भी करें कि आपको यह स्टेप मॉम सन सेक्स स्टोरी कैसी लगी. दोस्तो, मैं सोनिया कमल एक बार फिर इस देसी सेक्स कहानी का अगला भाग लेकर हाजिर हूँ.

मुस्लिम बीएफ सेक्सी वीडियो अभय ने एक बड़े से पेड़ के पीछे गाड़ी रोक कर ममता को पकड़ लिया और उसके होंठों को चूमने लगा. मैं किस करते हुए मिहिका की गर्दन को चाटने लगा और उसकी ब्रा के ऊपर से ही एक चुची को चूसने लगा.

जोया ने अपना मुँह रुमाल से साफ किया और विवेक की तरफ देख कर हंसने लगी.

कनाडा के बीएफ

आह … क्या महक थी कुंवारी बुर के पानी की!मैंने शीना की और देखा वो बस मुझे देख कर मुस्कुराये जा रही थी।फिर मैंने शीना की गांड के नीचे एक तकिया रखा- शीना, अब मैं तुम्हारी बुर चाटने लगा हूँ, फिर तुम मेरा लन्ड चूसना!शीना- अंकल मैं तो कब से अपनी बुर चटवाने को मरी जा रही हूं, बस आप जल्दी से चाटना शुरू करो. पहले नेहा ने अपनी छोटी बहन को अपने चाचा चाची की चुदाई का आँखों देखा वर्णन किया. फिर भाभीजी से टिकटॉक वीडियो के लिए कपड़ों की बातें होने लगीं।वो बोलीं- राजा, तुम बताओ कि कौन सी ड्रेस सही रहेगी?मैं- आप वेस्टर्न ड्रेस टाई कीजिये, आप देखने वालों के दिल में आग लगा दोगी भाभीजी.

अजय बोला- ऐसे नहीं … मुंह खोलो हल्का सा!मैंने कहा- नहीं।उसने बोला- खोलो तो!मैंने हल्का सा मुंह खोला और फिर अजय ने अपना लंड मेरे होंठों पे रख के दबा दिया।विरोध में मैंने ‘उम्म’ किया पर उसने मेरा सिर पीछे से पकड़ लिया और अपना लंड मेरे मुंह में धकेलने लगा।धीरे धीरे उसका सख्त लंड मेरे मुंह में अंदर तक चला गया और मैं म्म … हम्म … हम्म … कर रही थी क्योंकि मैं उसे निकाल नहीं सकती थी. अफ़रोज़- ओह आपा ये कैसे होगा?मैं- घबरा मत, इसका पूरा इंतज़ाम मैं कर दूंगी. मैं भी काफ़ी दिनों के बाद किसी लंड से चुद रही थी इसलिए मैं भी चुदाई का पूरा मज़ा ले रही थी.

उर्वशी आगे बोली- मैं अपने आपको शान्त करने के लिए एक क्रीम भी लायी हूँ, जिसे पुसी पर लगाने से वो और टाइट हो जाती है.

अपने होंठों पर रेड लिपस्टिक और आंखों में काजल लगा हुई वो जन्नत की हूर सी लग रही थी. मेरी हॉट गर्लफ्रेंड सेक्स के लिए मचल रही थी तो मैंने भी मीतू की बात मान कर लंड चूत में पेल दिया. मैंने भाभी से पूछा कि आपके पति ऐसा क्या काम करते हैं, जो उन्हें एक सप्ताह के लिए बाहर जाना पड़ा.

मैं भी किसी कुत्ते की तरफ दुम हिलाता हुआ बिस्तर पर आ गया और सीधे उसकी चुत चाटने में लग गया. इसके बाद से हम दोनों कई बार संभोग कर चुके हैं … और अब भी करते आ रहे हैं. सेल्समैन ने क्या हेराफेरी की, यह तो मैं नहीं समझ पाया लेकिन इतना कन्फर्म था कि मेरी बाइक में 200 रूपये का पेट्रोल नहीं डाला गया.

थोड़ी देर बाद मैं चाची से अलग हुआ और बोला- चाचीजान, आपकी चुदाई में मजा आ गया. अब आगे 3सम सेक्स कहानी:मीरा अभी ये सब सोच ही रही थी कि तभी रितेश का कॉल आया कि आज उसको शहर जाना होगा क्योंकि उसे डिस्पेंसरी के लिए कुछ नए मेडिकल इक्विपमेंट्स आए हैं.

मैं कुछ बोलती, उससे पहले उन्होंने मेरे मम्मों को दबोच लिया और बोले- शबनम, इन संतरों को भी रंग लेने दो. वक्त की नजाकत को समझते हुए मामी जी अपनी चूत की खुजली मिटाने के लिए अब खुद ही धीरे धीरे अपनी कमर को झटके देख कर ऊपर की ओर उचकाने लगीं. मां कल रात की मेरी चुदाई की बात कर रही थीं क्योंकि कल मेरा माल जल्दी निकल गया था.

आह … रबड़ की तरह मामी जी का निप्पल मेरे होंठों में खिंचता और मैं वापस उनके निप्पल को उनके मम्मे तक ले आता.

मैंने शन्नो की चूत में लंड की मार तेज़ कर दी और तेज़ी से अन्दर-बाहर करने लगा. मगर हम अभी करीब तक नहीं आए थे।जब वो काम करने लगता तो निक्कर सी और बनियान ही पहनता था।दो चार दिन के बाद उसने दूसरी जगह का काम भी ले लिया और मेरे पति से कहा- यहां मैं अकेला संभाल लूंगा बाकी लोगों को दूसरी साइट पर भेज देता हूं. मेरा लंड आंटी के चूतड़ों की दरार में घुस कर उनकी गांड से रगड़ रहा था.

मेरा सुपारा जैसे ही गांड के अन्दर गया, मां को बहुत दर्द हुआ और वो तड़पने लगीं. डैड- अरे मेरी प्यारी धर्मपत्नी कैसी है … क्या कर रही है?रोहन अंकल- इस साले को बोल कि मैं अपने यार से चुद रही हूँ.

लेकिन दोस्तो … जब उन्होंने अपनी एक पिक भेजी, तो मैं उन्हें देख कर दंग रह गया. मम्मी की तौलिया भी बहुत छोटी थी, उनकी चूचियां आधी से भी कम ही ढकी हुई थीं. पूनम ने मेरे कंधों पर अपने दांतों से हल्के से काटना शुरू कर दिया और इसके साथ ही वो अपने नाखूनों से मेरी पीठ को नौंचने भी लगी थीं.

जवान लड़की का बीएफ सेक्सी

मेरा लंड मामी जी की रसभरी चूत की दीवारों को फैलाता हुआ पूरा का पूरा अन्दर जा घुसा.

कुछ इसी तरह की परिस्थितियां बनीं कि उस दिन हम दोनों की मुलाक़ात नहीं हो सकी. तभी मुझे कुछ आवाज सुनाई दी जिसे सुन कर मैं रुक गया और खिड़की से झांक कर अन्दर देखा. इसी दौरान उनकी चुत गीली हो गयी थी … तो मैंने उंगली डाल कर चुत का सारा पानी भी निकाल दिया था.

वो मुझे पीछे से चोदने लगा और मेरा मजा और बढ़ गया।बीस मिनट तक चुदने के बाद मैं छूटने वाली थी. फिर जैसे रुबिका अपने कमरे में गयी तो मैंने शहज़ाद का मूड बनाने के लिए एक लाल रंग की फैंसी सी और बहुत ज़्यादा खुली हुई ब्रा पैंटी पहन ली. सेक्स कैसे करते हैं सेक्स कैसे करते हैंमैंने बाइक के लिए इसलिए कहा क्योंकि बाइक पर ब्रेकर और गड्ढों में उनसे चिपकने का मौका मिलेगा.

मैं उसकी दूध सी सफेद चूचियों को बारी बारी से मुंह में लेकर पीने लगा. मेरा लंड ढाई इंच मोटा होने की वजह से इसको निगलने के लिए अनुष्का शर्मा जितना बड़ा मुँह होना जरूरी है, वरना चूसने वाली के मुँह में जल्दी ही दर्द होने लगता है.

तभी उसके पास रितेश का फोन आया कि मैं आज घर नहीं आ पाऊंगा और कल शाम तक घर पहुंच सकूंगा. अपनी सलवार कमीज़ उतार कर मैं नाइटी पहनने लगी … तो देखा कि मेरी पैंटी बुरी तरह से भीगी हुई है. सपने में भी उनकी चुत चुदाई कर लेता था लेकिन प्रत्यक्ष में मुझे कभी मौका नहीं मिला.

मेरे अचानक से ऐसा करने पर वह घबरा गई और वह उसके मुँह से आवाज निकलने वाली थी. फिर वो बोला- लगता है आपका गुलाब के बिना मन नहीं लगा!मैं बोली- ये बेकार की बातें छोड़ो, ये बताओ कि वो है कहां?वो बोले- उसके पिता का इंतकाल हो गया है. फिर उसने मेरे पूरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और गले तक लेकर चूसने लगी थी.

वो नीचे लेट गईं और अपनी टांगें खोलकर मुझसे अपनी चुत चुदाई का इशारा देने लगीं.

उधर मेरा काम भी बढ़ने लगा।नवम्बर का महीना आ गया था और उसमें नीता के मामा की लड़की की शादी थी. देसी फैमिली की चुदाई कहानी कैसी लगी आपको? आप मुझे मेल करना न भूलें.

अबकी बार मैंने उसके सामने लंड कर दिया तो उसने चूसने से भी मना नहीं किया. मैंने चित्रा का हाथ चूमकर कहा- चित्रा, मैं तुम्हारी हर जरूरत पूरी करने की कोशिश करूंगा. जब जब वो अपने मजबूत चूतड़ों के दबाव से मेरी चूत में धक्के मार रहे थे, तो मेरी बच्चेदानी सहम कर रह जाती थी.

इधर प्रकाशित कुछ सेक्स कहानी बहुत ही अच्छी होती हैं, उनको बार बार पढ़ कर लंड हिलाने का मन होता है. उसकी चूत में उंगली की और उसकी चूचियों को मसल मसल कर उसकी चूत को फिर से गर्म कर दिया. कॉलेज Xxx कहानी में पढ़ें कि कैसे किसी दूसरे कॉलेज में हम दोस्तों ने दो लड़कियों को अपने यारों से चुदती देख लिया.

मुस्लिम बीएफ सेक्सी वीडियो ये सब अगर मां को गलती से भी पता चल गया ना … तो वो जमीन में जिंदा गाड़ देगी. मैंने उनके बाल सहलाने शुरू किए ही थे कि तभी उनकी भी आंख खुल गई और वो मुझे देखकर मुस्कुराती हुई देखने लगीं.

औरत की चुदाई

वो मेरे ऊपर आकर बोले- तू चिंता मत कर शबनम … मैं आराम से तेरी गांड मारूंगा. मैंने भी अपना सारा जिस्म उसको सौंप दिया और मैं भी उसके बालों और उसकी कमर पर हाथ फिराने लगी. तभी मालिक की पत्नी कार से निकल कर आई, पूरी बात सुनी और पंप मैनेजर से कहा- साहब की बाइक में तेल कम डाला गया है या ज्यादा, भूल जाओ.

जब तुम्हारे पति चले जाते हैं और महीनों के बाद आते हैं, तब तुम क्या करती हो?उनको जवाब देते हुए मम्मी बोलीं- करना क्या है बस किसी तरह से बर्दाश्त करती हूँ … आग लगी रहती है. मैं उसके ऊपर आ गई और उसके लंड को अपनी चूत पर सैट करके पूरा लौड़ा चुत के अन्दर डलवा लिया. कैटरीना कैफ की ब्लू पिक्चरतभी आज आपको हटा कर आपकी जगह ले ली।नीतू- कोई बात नहीं रूपाली, जितना मेरा हक़ है राहुल पर, उससे कहीं ज्यादा तुम्हारा है.

दोस्तो, मैं आप सबकी चुदक्कड़ बहन आशना एक बार फिर से भाई बहन की चुदाई की कहानी में स्वागत करती हूँ.

वो ये कहते हुए एक अच्छी भार्या की तरह मेरे पास आई और मेरे सिर को पकड़ कर चुम्बन करने लगी. मेरी आंख सबसे पहले खुली, तो मैं उठते ही शहज़ाद के लंड का स्वाद लेते हुए उसके लंड को चूसने लगी.

वो लड़का राहुल अपना मुँह ऊपर दीवार की तरफ मुँह करके लंड खोल कर खड़ा था. रीना की मां की मानसिक स्थिति ठीक नहीं थी, इसलिए वो अधिकतर समय सोई रहती थीं और ज्यादा किसी से बात नहीं करती थीं. उसका मोटा लंड था और अंदर आते ही चूत में तीखी चीस उठी; मगर मैं बैठती गई.

मेरी मम्मी की चूचियां भी सामन्य आकार की थीं मतलब ज्यादा दबाई नहीं गई थीं … इसलिए बड़ी या ढीली नहीं थीं.

कुछ ही देर में वो दोनों निखिल के लंड को चूमने लगीं और एक दूसरी की चूत में भी उंगली करने लगीं. अब आगे बहू सेक्स की कहानी:आधे से ज्यादा मेहमान तो वरमाला होते रात में ही निकल लिए थे; बस वर वव्हू पक्ष के कुछ नजदीकी खास रिश्तेदार ही विदाई होने की प्रतीक्षा में रुके हुए थे. मेरे चूतड़ों का साइज 38 इंच है और मेरी कमर 32 इंच की है, जबकि मेरे हाहाकारी मम्मों का साइज 36 इंच है.

सेक्सी कर दोमैं तो अब खाना खाना चाह रहा था मगर कुच्ची मुझे वहां ले गया, जहां बहुत सारी औरतें और लड़कियां बारात देखने खड़ी थीं. मॉम- ऐसा है क्या … तो अब रूको, अभी पिक भेजती हूँ … तेरे पूरे गुलाम खानदान की.

सास दामाद की बीएफ

वो मुझसे कहने लगीं कि ये क्या कर रहा था … मुझे बहुत दर्द हो रहा है. चाची ने हंसते हुए मेरी मम्मी की एक चूचि उनके ब्लाउज के ऊपर से पकड़ ली और जोर से दबाने लगीं. अंकल ने इतनी खुली बात कही थी कि मुझे एक बार में ही समझ में आ गया कि अंकल काले जरूर हैं मगर बात बड़ी उजली कर रहे हैं.

ऐसे बातचीत होते होते नगमा ने एक दिन मुझसे बोला कि उसको मेरा लंड चूसना है. उन्होंने मुझसे बात की और कहा- तू आज घर पर ही रहियो … और उर्वशी को कुछ भी जरूरत हो, वो उसे दे देना. किसी दिन जब मेरे पति घर पर नहीं होंगे, तो मैं तुमको अपने घर बुला लूंगी.

मैं रसोई में गया तो देखा कि मां वहां नंगी खड़ी होकर खाना बना रही थीं. हम दोनों कार में बैठे तो मैंने उससे पूछा- उसी जगह चलें या कोई नई जगह?कुछ नया ट्राई करते हैं. मैंने उस वक़्त टी-शर्ट पहनी थी तो मैंने तुरंत मेरी टी-शर्ट ऊपर करके अपने दोनों दूध उनके सामने खोल दिए थे.

मैं मादक सिसकारियां लेने लगी- अआह आह!थोड़ी ही देर में राजेश ने मुझे बिल्कुल नंगी कर दिया था. मैं उसे समझाने लगा- देख भाई ऐसा करना ठीक नहीं होता … वो शायद उस वक्त हम दोनों को चोदने दे देती, मगर बाद में फिर कभी शायद दुबारा तुझे न मिलती.

इतनी देर में उसकी चूत से पानी निकल कर उसकी जांघों को भिगोने लगा था.

फिर मैंने उनसे कहा- आप मुझसे शादी करना चाहती हो, तो एक काम करना पड़ेगा. ससुर और बहू कीमेरे दिमाग़ में सिर्फ़ उसकी चूचियों की गोलाई और उसकी चुत ही घुसी रहती थी. मायजिओ द्वारासर ने दोनों गिलासों में आधा आधा गिलास गर्म पानी भरा और अपनी जेब से एक शीशी निकाली जिसपर थ्री एक्स रम लिखा था. वहां जो भी 7-8 लोग थे, वो सब सेक्स वीडियो देख अपना लंड हिला रहे थे.

शुरू में तो मुझे ये जरा असहज सा लगा कि पति के सामने कोई दूसरा मुझे कैसे चोद सकता है, पर धीरे धीरे मुझे भी इस चीज में आनन्द आने लगा और मैं भी चुदाई के दौरान किसी और से चुदवाने के लिए व्याकुल होने लगी.

ब्रेस्ट मिल्क सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं अपनी चचेरी बहन की चुदाई करना चाहता था. भाभी के साथ होने वाली चुदाई के बारे में सोचते हुए मेरा लंड एकदम खड़ा होने लगा था. इसी बीच वो बोल रही थीं- आह राज … तेज करो आह … और तेज मेरे राज … साले तू बड़ा मस्त चोदता है.

मेरे दिमाग़ में सिर्फ़ उसकी चूचियों की गोलाई और उसकी चुत ही घुसी रहती थी. मैंने दरवाजा बंद करते हुए कहा- शन्नो, आज तुम्हें क्या हुआ?वो बोली- राज आज हमारी सुहागरात है, तो क्या तुम मुझे एक दुल्हन की तरह नहीं चोदना चाहते हो?मैंने उसे बिस्तर पर बैठा दिया और उसके बदन को देखने लगा. भाभी के साथ होने वाली चुदाई के बारे में सोचते हुए मेरा लंड एकदम खड़ा होने लगा था.

ಕನ್ನಡ ಓಪನ್ ಸೆಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋ

मैंने मौसी की ताबड़तोड़ चुदाई करना शुरू कर दी और झड़ने को आ गया तो मैंने उनसे पूछा- कहां छोड़ूँ?मौसी ने अपना मुँह खोल दिया और जीभ बाहर निकाल दी. ट्रेन चलते ही सबसे पहले मैंने अपना नागपुर जाने वाले टिकिट कैंसिल किया. मैं और जीजा जी एग्जाम से दो दिन पहले जा रहे थे और एक दिन बाद आने का टिकट था.

मैंने देखा कि चाची की आंखें फैल गईं और चाची कराहने लगीं- आहह ओह धीरे धीरे करो … मेरी गांड फट रही है.

और फिर भाभी जी तो थीं ही कमाल की अप्सरा … अगर उनका चेहरे और मासूमियत की तुलना करूं तो बॉलीवुड अभिनेत्री कियारा आडवाणी से काफी मिलती है.

मैं दूसरी लड़की हुर्रेम के पास गया और पीछे से उसकी चूत को चाटने लगा. उधर मेरे निकलते ही मेरी बेटी सबा ने शहजाद के पास जाकर उससे सीधे सीधे बात की. सेक्सी रिजल्टएक दो बार तो ऐसा हुआ कि दीदी मेरे पास आकर मेरे कंधे से अपने बूब्स सटाने लगती थीं और मेरी जांघ पर हाथ रख देती थीं.

मेरी गुलाबी कोमल गांड में उसने अपना माल भर दिया।सुन्दर बोला- चल कुतिया … अब मेरे लिये तैयार हो जा। मैं तेरी चूत को फाड़ दूंगा. ऐसे में आप क्या क्या करोगे मेरे साथ?” बहूरानी अपने दोनों हाथ कमर पर रख कर इठला कर बोली. मेरे ऐसा करते ही उन्होंने भी अपने एक हाथ से मेरे लंड को पकड़ लिया और हिलाने लगीं.

मैं भी जोश में था … मैंने भी मिहिका के नीचे वाले होंठ को अपने होंठों में कैद कर लिया और जोर से खींच खींच कर होंठ चूसने लगा …. तीन दिन बाद भाभी ने फोन पर बताया कि एक दो दिन में मेरे पति किसी काम से देहरादून जाने वाले हैं.

उसका तुरंत मैसेज आया- धन्यवाद … फ्रेंड्स रिक्वेस्ट स्वीकार करने के लिए.

वो शर्मा गई और बोली- अब तारीफ़ हो गई हो … तो मैं बैठ जाऊं!मैंने अचकचा कर कहा- अरे हां हां क्यों नहीं बैठो न … सॉरी मैं तुम्हारी खूबसूरती में इतना ज्यादा खो गया था कि मुझे कुछ ख्याल ही न रहा. वो पूर्ण निर्लज्ज तरीके से मेरा लंड चाट चाट कर, चूस चूस कर फिर उसे अपनी गीली चूत में घुसा कर जितनी बेशर्मी से उछलती है उसकी कोई सानी नहीं, कोई मुकाबला नहीं. मगर मुझे तो मामी की चूची पीने में इतना मजा आ रहा था कि मैंने लंड को जरा सा भी भाव नहीं दिया.

इंग्लिश ब्लू वीडियो भाभी ने दर्द और उत्तेजना के मारे कूकना शुरू कर दिया- आह आह हई मम्मी इस्स … मम्मी!उनकी दोनों टांगें मेरे चूतड़ों के पीछे कसके जकड़ी हुई थीं, तब भी मैं भाभी की चुत में कस कसके धक्के मार रहा था. जब कोई लड़का मेरे चूचे दबाता था तो मैं बहुत ज्यादा अच्छा फील करता था.

रितेश ने उसे फोन पर ही चूमते हुए कहा- अरे जान, दो दिन के लिए अपनी चुत को समझा लो … मैं वापस आकर तुम्हारी चुत का भोसड़ा बना दूंगा. और उसने चुदाई की गति बढ़ा दी।वो धीरे धीरे आधे से ज्यादा लंड निकालता और फिर झटके से पूरा अंदर तक डाल देता।उसका हर झटका मुझे ऊपर को हिला देता और मेरे मुंह से आहह … अहह … आहह … आई … आई … स्सस्सी … स्सस्सी … स्सस्सी … आहह … अजय निकलने लगी।ऐसे ही वो मुझे 4-5 मिनट तक चोदता रहा और फिर थोड़ी देर बाद रुक गया और हांफते हुए सांस भरने लगा।अब तक मेरा दर्द भी काफी कम हो गया था और हल्का हल्का मजा भी आने लगा था. जब लोग तेरी नंगी मदमस्त चूचियों को देखेंगे … तो वो वाह वाह कर उठेंगे.

ब्लू सेक्स करते हुए दिखाएं

मैं लगातार सिसकार रही थी- आह्ह … जेठ जी … आह्ह … हाय … लंड … आह्ह … ऊई … मेरी चूत … आह्ह … ओह्ह … चुद गयी … आह्ह।इधर जेठ जी मेरे पुट्ठों को पीटने लगे और कमरे में मेरी चीखें और चट चट की आवाज सुनाई देने लगी।वे बोले- शबनम मादरचोद रंडी … साली तू बहुत चुदासी औरत है।मैंने अपने हाथों से अपने मम्मों को निचोड़ना शुरू कर दिया और बोली- और तेज जेठ जी … और तेजी से चुदाई करो, मजा आ रहा है. पर मुझे लगता था कि उनकी मंशा कुछ ऐसी ही थी और सोचता रहता था कि दीदी न जाने चोदने के लिए कब बोलेंगी. फिर एक रात को जब मुकेश पूरे नशे में मुझसे लिपटने लगा तो मैंने अपनी अदाओं से उसको खूब रिझा लिया और उसके सीने पर हाथ फेरती हुई बोली- जान, ऊपर के पोर्शन का काम कितना बढ़िया हुआ है.

भाभी बहुत गर्म हो चुकी थीं और वो ये जान चुकी थीं कि मैं भी उन्हें तड़पाने के लिए जानबूझ कर ऐसा कर रहा हूँ. अब मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए और हम दोनों सीधे 69 की पोजीशन में आ गए.

एक मुझसे बात करता और बाकी के मेरे स्तनों को निहारते या गहराई को देखने की कोशिश करते.

मैंने पूछा- ये क्यों किया?तो वो आंख मार कर बोली- किसी के आने का झंझट नहीं रहेगा. उसने कहा- भाभी आपने पांच लीटर दूध देने का वायदा किया था!मैंने कहा कि मैं दूध और पैसे देने में असमर्थ हूं. इस बार मामी का हाथ मुझे अपने कंधे पर कुछ हरकत करता हुआ सा महसूस हुआ पर मैं कुछ बोला नहीं.

ये कहकर वो बेड पर घोड़ी बन गईं और मुझसे बोलीं- आओ और पीछे से लंड डालो. मैंने तो बहू से बहुत कहा कि मैं भी दिल्ली तक चलता हूं वहां से एअरपोर्ट तक सी ऑफ करके मैं भी किसी फ्लाइट से नागपुर लौट लूंगा. मैंने अब चुदाई का टॉप गियर लगाया और ज़ोर ज़ोर से धक्के मारते हुए उसकी चूत का भोसड़ा बनाने लगा.

क्या सही में हमारे पेरेंट्स ऐसा करते हैं?ममता मजे लेने के मूड से- तुझे क्या लगता है.

मुस्लिम बीएफ सेक्सी वीडियो: मलाईदार चूत थी उसकी … एकदम क्लीन शेव्ड और प्यारी सी छोटी सी एकदम गर्म गर्म … मुझे मजा आ गया था और मैं चुत को पकी अमियां के जैसे चाटे जा रहा था. फिर उसने ममता की सलवार पैंटी सहित निकाल दी, जिससे ममता की बिना बालों वाली चूत खुल कर सामने आ गई.

अभी मुझे टहलते हुए दस ही मिनट हुए थे कि पांच लड़के पण्डाल से निकल कर अचानक सड़क पर मेरे सामने आकर खड़े हो गए. आयुषी मुझसे पूछने लगी- ये क्या कर रहे हो?मैंने कहा- आज मैं तुम्हें स्वर्ग का सुख देना चाहता हूं. कुछ देर बाद शन्नो की सिसकारियां कम हुईं तो वो बोली- हां राज, अब मजा आने लगा है … अब और तेज़ तेज़ चोदो आह अपनी इस शन्नो को चोद दो … आह क्या मस्त लंड है.

यह देख कर मुझे गुस्सा आ गया और शीना भी समझ गयी कि मैं गुस्सा हो गया हूं.

ममता- बोल भी दो यार … अब तो हम फ्रेंड बन गए हैं … और हां इसको थोड़ा आराम दे दो. बहार के पीछे आकर उसकी डबलरोटी की तरह फूली हुई बुर के लब फैलाकर मैंने अपनी जीभ फेरना शुरू किया, मेरे हाथ बहार के निप्पल्स मरोड़ रहे थे. मैंने धन्यवाद कहने के लिए फोन किया तो बोलीं- किस बात का धन्यवाद, विजय साहब.