एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स

छवि स्रोत,चूत की चुदाई की वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

whistle सेक्सी: एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स, उस कॉलब्वॉय को मैंने काफी बड़ी कंपनी से हायर किया था, इसलिए मैं उस पर भरोसा कर सकती थी.

हिंदी सेक्स विडिओ हँड

यह सुनकर मैंने उनका हाथ पकड़ झट से उन्हें खींच कर अपनी बांहों के आगोश में लिया और कहा- मोहिनी जी, कल जो हुआ वो तो एक इत्तेफाक था, मैं बहुत ज्यादा ही नशे में था, कभी होश में मेरे जोश का सामना कीजियेगा, फिर पता चलेगा किसी असली मर्द से चुदवाने का सुख क्या होता है. free पोर्नपापा ने भइया को जोर से थप्पड़ मारा और कहा- तेरी बहन घर में चुद रही थी और तू बाहर बिस्किट खा रहा है, पागल बेशरम कहीं के.

जब मुझे महसूस हुआ कि उसका एक हाथ मेरी जांघ पर आ चुका है तो मेरा लंड मेरी पैंट में खड़ा होकर तन गया. ब्लू फिल्म दे दो ब्लू फिल्मअब तेरी मम्मी के लिए कोई आता नहीं होगा, तो लड़की को धंधे में लगा दिया.

फिर साड़ी एक हाथ से समेट कर दोनों जांघें फैला उसके लिंग के ऊपर बैठ गयी.एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स: जिस दिन उसकी सगाई हुई थी उस दिन भी मैंने अपनी ममेरी बहन की चुदाई की थी.

अब मुझे डर लगने लगा तो नामित ने बोला- कुछ नहीं जान … बस आज तेरी जमकर कुटाई होगी और तुझे कई तरह के मजे मिलेंगे.मैं नहीं झुकी तो उन्होंने मेरे को दबाकर झुकाया और अपनी पैंट की जिप के पास की सख्त चीज को मेरी सलवार के ऊपर से ही पिछवाड़े पर जहां मेरी गांड है, उस पर फिट करके रगड़ने लगे.

हिंदीसेक्स वीडियो - एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स

सच बता रहा हूँ दोस्तो, उस टाइम तक मुझे कल्पना के बारे में कुछ भी मालूम नहीं था.चूंकि उसने अपना मुँह पिल्लो में दबाया हुआ था, इसलिए आवाज़ चिल्लाने की नहीं हो रही थी.

लगभग दस मिनट उसको कुतिया वाली पोज में चोदने के बाद अब मेरे लंड ने भी और ज्यादा टाइट होना शुरू कर दिया और मैं जल्दी ही झड़ने वाला था. एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स मेरे पास लगभग एक घंटा तो था ही, मैं बिंदास होकर एकदम प्यार से भाभी को चूमने लगा और धीरे धीरे उनको निर्वस्त्र करने लगा.

उसके बाद उसने मिशिका की पैंटी को नीचे सरकाते हुए उसके पैरों से निकाल दिया और उसकी चूत पर किस कर दिया.

एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स?

फ़िर वाणी ने भी बात ना खींचते हुए बताया- तुम सही बोल रहे हो, यह मेरी सहेली है और इसके और मेरे पति दोनों साथ में काम करते हैं इस वक्त दोनों साथ में टूर पर गये हैं. पुनीत बोला- यार वन्द्या तुम ऐसा करो कि थोड़ा फ्रेश हो लो, इधर बगल में बाथरूम है. मैंने उनसे कहा कि सच है, ऐसे में मैं कहीं जाऊंगी तो अच्छा नहीं लगेगा.

उसे जगाने के बहाने और उसको चाय और ब्रेकफास्ट देने जाती थी, तो उसके सामने पूरा झुक के अपने मम्मों का दीदार कराती थी. मैं रूम में पहुंचा और अपने कपड़े उतार कर सिर्फ एक शॉर्ट चड्डी में लेट गया, जिसमें मेरा 8 इंच का लंड बमुश्किल ढका हुआ था. मैं रोज सही समय से कॉलेज जाता और अपने आप में मस्त रहने वाला लड़का था.

पूषी बोलीं- हां जल्दी आओ, मैं भी चुदने के लिए पिछले एक घंटे से बेचैन हूँ, तेरा लंड इतना सुहावना है कि मन ही नहीं भर रहा, पता नहीं काम्या बेटी को अपना कैरियर विदेश में ही क्यों बनाना था, यहाँ रहती तो लम्बे लंड का मजा भी लेती रहती और कैरियर भी बना लेती, खैर काम्या न सही, काम्या की माँ की किस्मत में इस लंड का मज़ा लिखा था. मैं मैक से कस के लिपट गई और उसे अपने नाखूनों से नोंचने लगी, काटने लगी. हम दोनों की दोस्ती गहराने लगी, तो अब कभी कभी मैं उन्हें नॉन वेज मैसेज भेज दिया करता था.

मैंने सीमा की चूत पर लंड को रगड़ना शुरू किया तो वह कहने लगी कि चूत में बहुत दर्द हो रहा है. मैंने एक बार उनका हाथ हटाया, तो आंटी कहने लगी कि मैं तुम्हें अच्छी नहीं लगती क्या?आंटी ने फिर पूछा- तुम्हारा वह सब करने का मन नहीं करता क्या? तेरे अंकल तो रोज दवाई खाकर सो जाते हैं और अगले दिन सुबह ही उठते हैं.

वो मेरी चूत को सहलाने लगा और मेरी चूत में अपनी उंगली डाल कर मेरी चूत को चोदने लगा.

दूसरा आप भाभी को रेस्पेक्ट दें, उनकी थोड़ी तारीफ करें, उनके साथ कुछ टाइम अकेले में स्पेंड करें, उनकी पसंद और न पसंद जानने की कोशिश करें.

00 बजे घर आते हैं और खाना खाने के बाद मम्मी के साथ अपने बेडरुम में सो जाते हैं. मैंने उसकी काफी तारीफ की और उसने थैंक यू भी बोला, वह बहुत खुश था, पर एग्जाम करके वह नर्वस भी लग रहा था. मैंने उसकी गांड की दोनों तरफ से उसको पकड़ लिया और उसको ऊपर नीचे होने में उसकी मदद करने लगा.

उसने मुझसे कहा- हां चलो, मैं तुम्हें छोड़ देती हूँ, पर जाने से पहले तुम मेरे साथ चाय तो पी लो. मैं चुपचाप सर के लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी। मैं चाहती थी कि वो जल्दी-जल्दी मुझे फ्री कर दें। लेकिन सर ने मेरे मुंह को ही चोदना शुरु कर दिया. दोस्तो, मेरा नाम पायल जैन है। अन्तर्वासना पर भेजी गई एवं प्रकाशित होने वाली यह मेरी तीसरी स्टोरी है और मैं उम्मीद करती हूँ कि यह आप सभी को बहुत पसंद आएगी।मेरी पहली कहानी थीजोधपुर की भाभी संग पहला लेस्बीयन सैक्सतथा दूसरी कहानीलेस्बियन सेक्स: भाभी और ननद का प्यारजिसे तमाम पाठकों ने पसंद किया था.

लेकिन अगर मैं उसे ये सब पहले बता देता तो शायद वो मुझे अपनी सील पैक चूत में लंड डालने नहीं देती.

वैसे भी ससुर भी इस दुनिया में नहीं थे इसलिए मैं अपनी सास के साथ ज्यादा लड़ाई झगड़ा नहीं करना चाहती थी. आओ मेरे लाल, अपनी एक्स सास को अपनी रखैल बना लो, पेल दो मेरी चूत में अपना लंड. उसके इस तरह से लंड घिसने से मुझे बड़ी कामुकता और व्याकुलता का अहसास हुआ जा रहा था.

गजब का फिगर था, क्या दूध, क्या गांड … मस्त चिकनी चमेली भाभी को देखकर तो मेरे हिसाब से सबका लंड खड़ा हो गया होगा. अगले 3 दिन बाद क्या हुआ और मैंने क्या गिफ्ट दिया सलहज को … और उसने मुझे कैसे खुश किया, वो सब अगली कहानी में बताऊंगा. वो बेडरूम की तरफ चल पड़ी उसकी कॅट्वाक देख कर रवि का लंड और खड़ा हो गया.

मेरी बीवी की भोसड़ी पर एक भी बाल नहीं था और उसकी भोसड़ी पावरोटी जैसी फूली हुई थी.

वो मेरे बालों में हाथ फेरता हुआ कह रहा था- आह्ह्ह अह्ह माया तुम कामदेवी हो आह्ह्ह आह्ह्ह. उसने मुस्कुरा कर कहा- ज़्यादा ना खो जाओ, वरना निकलना मुश्किल हो जाएगा.

एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स मैं तुम्हें जानती भी नहीं हूँ, फिर भी तुम्हारा लेटर पढ़ने के बाद से मैं तुमसे मिलने के लिए बेचैन हूँ. मैंने कहा- जो मन चाहे खा लो, मैंने रोका है क्या?उसने बिना कुछ बोले मुझे बेड पे धक्का दे दिया और तुरंत झुक कर मेरे लंड को मुँह में लेकर कर पागलों की तरह चूसने लगी.

एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स दोस्तो, सच कहूँ तो उसका खुला निमंत्रण से मेरे लंड महाशय सर उठा चुके थे, लेकिन थोड़ी नौटंकी तो बनती ही है ना. उस कॉलब्वॉय को मैंने काफी बड़ी कंपनी से हायर किया था, इसलिए मैं उस पर भरोसा कर सकती थी.

मैंने एक हाथ से पंकज के लंड को पकड़ लिया और अपनी जलती हुई गर्म चूत पर रखवा दिया.

बिहार की भाभी की सेक्सी

धीरे-धीरे मेरी रफ़्तार बढ़ने लगी, और मैं ज़ोर-ज़ोर से लंड को लुंगी से बाहर निकाल कर पंप करने लगा था. मैंने सोचा जब तक कोई काम नहीं है तब तक ड्राईवर का काम ही कर लेता हूँ. मैं- हां मैं आ जाऊंगा, पर आना कहां है?कल्पना- परसों मेरे घर वाले दोपहर में सूरत जा रहे हैं किसी शादी में शरीक होने.

‘पद्मा दीदी, आप लंड को संभालो मैं अपनी चूचियां और चूत इनसे मसलवाती हूँ, फिर हम दोनों जगह बदल लेंगी. मुझे डर भी बहुत लग रहा था कि कहीं प्रीतम मुझे यह न कह दें कि उसके घर छोड़ देता हूं. आज मेरी चूत में बहुत दिन के बाद लंड जा रहा था, तो मुझे उससे चुदवाने में बहुत अच्छा लग रहा था.

मैंने भी अपने फ़ोन के कैमरे को ऐसे एंगल पर होल्ड किया कि वो मुझे अच्छे से देख सकें.

लोवर में सोनू का हाथ जैसे ही मेरे लंड पर टच हुआ तो सोनू ने उसे पकड़ लिया और पकड़ते ही वह उठकर बैठ गई. फिर मैं नीचे का दरवाज़ा बंद किया और डोर-बेल का कनेक्शन बंद करके ऊपर आ गया. मैं बोली- थैंक्यू भैया, पर अभी मेरी हेल्प करिए … कहीं चेंजिंग रूम में ले चलिए.

उसकी शादी हमारे कजिन इमरान से हुई थी और उनका आपस में बहुत प्यार मोहब्बत था. वो मुझे अपने लंड पर बैठने को बोला और मैं उसके लंड पर बैठ गयी और वो मेरी चूत को चोदने लगा. पर मैंने नहीं की, तो उन्होंने खुद से कमर पर हाथ लगाकर मुझे दबाया और मेरे टांगों पर नीचे लिपट कर अपनी उंगली चुत की रेखा पर चलाते हुए अपनी नाक भी मेरी चुत में रख दिए.

जब से अपनी गर्लफ्रेंड को चोदा था, तब से हर दिन चुदाई करने का मन करता था. भाभियां मेरे पड़ोस वाली मुझे चुदाई के किस्से सुनाती थीं, तो ही कुछ वही पता था.

मयूर ने मेरी ब्रा को एक झटके से अलग कर दिया और मेरे चूचे हवा में फुदकने लगे. मेरे बूब्ज़ बिल्कुल तने हुए रहते हैं और मेरे हिप्स मेरा पॉइंट ऑफ़ अट्रैक्शन हैं एकदम गोल और पीछे को निकले हुए, बिल्कुल शेप में! इन्हें देख के बहुत सारे लोग मुझे लाइन मारते हैं और पटाने की कोशिश करते रहते हैं. मैंने भाभी के घुटनों को थोड़ा मोड़ा और लंड को चूत के छेद पर सेट किया.

ऐसे ही हमने अंगूर और संतरा खत्म कर दिया। उसे खत्म करते ही राहुल ने मुझे बेड पर सीधा लिटा लिया और मेरे ऊपर आ गए.

मेरे पड़ोस में एक लड़का रहता है, जो किराये पर कमरा लेकर रहता है और पढ़ता है. मैं शादीशुदा होने के कारण सेक्स का आदी था, और कई महीने से सेक्स से वंचित था. मैं दोनों को मस्त कर रहा था और एक एक हाथ से दोनों के बूब्स को दबा भी रहा था.

मैंने उसका लोअर उसके घुटने तक सरका दिया और फिर उसकी पैंटी की इलास्टिक को अपने दांतों से पकड़ कर नीचे खींचने लगा. मैंने कहा- आपने खाये नहीं?वो बोले- मैं आपके बिना कैसे खा सकता हूँ?मैं बहुत खुश हुई.

जैसे ही वो गांड नीचे करके चुत उसके मुँह पर दबाती, वो उसकी चुत पर जोर से काट लेती और जैसे ही गीता वापस गांड ऊपर करती, मेरी उंगली और अन्दर हो जाती. वह जोर जोर से आवाजें निकाल रही थी- आह्ह … ऊऊऊ … आआआ … उम्म … ओह्ह … अम्म … मा … उफ्फ … करती हुई वह चुदाई का मजा लेने लगी. मगर इतना जरूर था कि मेरे साथ चुदाई करते वक्त वह पूरी तरह से आजाद ख्याल की घरेलू चुदक्कड़ औरत जैसी ही पेश आती रही, जिसे मैं महज उसकी मस्ती मानता था.

वीडियो बिहारी सेक्सी वीडियो

मैंने कहा- आवाज़ पहचान ली है पर इतनी सुबह आपने कैसे याद किया?उसने कहा- इडियट आज शनिवार है, वीकेंड …मैंने कहा- तो क्या हुआ?संध्या बोली- मैंने क्या कहा था, याद है या भूल गए.

मैं ये देख कर हैरान रह गया कि उसकी मनी (कामरस) भी बिल्कुल मेरी मनी की तरह गाढ़ी थी. मुझे और मत तड़पाओ राहुल … प्लीज अपना लंड मेरी चूत में डालो!अब राहुल ने अपने हाथ में थोड़ा थूक लगा कर अपने लंड के सुपारे में लगाया और मेरी चूत पर रख कर थोड़ा रगड़ा। मैं सिहर गई। फ़िर राहुल मेरी दोनों टांगों को पकड़कर ऊपर उठाने लगे और उन्होंने मेरी दोनों टांगों को मेरे सिर के इधर-उधर गद्दे से लगा दिया. मैंने पूछा- कितने देर में आ रहो आप?उसने कहा- बस पहुंच ही रहा हूं … तुम कहां पर खड़े हो?मैंने कहा- मैं यहीं हुड्डा मेट्रो स्टेशन के नीचे ही खड़ा हूँ।उसने कहा- ठीक है, मैं गाड़ी लेकर बस 5 मिनट में पहुंच रहा हूँ।लगभग 10 मिनट बीत जाने के बाद फिर से फोन रिंग करने लगा, मगर अबकी बार किसी दूसरे नम्बर से फोन आया था.

हां रंडी चोद कर प्यास बुझाई जा सकती है, लेकिन बीमारी के डर से मैं रंडियों के चक्कर में नहीं पड़ा था. मैं फिर से गर्म और गीली होने लगी थी और अपनी उत्तेजना में उसके लिंग को बेरहमी से दबाने और जोर जोर से हिलाती गई. देहाती सेक्सी गानाउन्होंने मुझे बड़े प्यार से देखा और मेरे सर पर हाथ फेर कर मुझे फिर से चूत चाटने का इशारा कर दिया.

नंगी भाभी को देखकर तो मेरा 6 इंच का लंड अपने पूरे ज़ोर पर आ गया था और भाभी को सलामी देने लगा. उसकी नुकीली जुबान मेरी चूत की फांकों को ऊपर से नीचे तक चाटे जा रही थी, जिससे मेरी टांगें खुद ब खुद फ़ैल गईं और मैं चुदासी सिसकारियां लेने लगी.

उसने मेरी चूत में अपना लंड पेल दिया और मेरी चूत की खुजली को बड़े मस्त तरीके से शांत किया. आखिर एक कुंवारी लड़की कब तक इतना सहन करती, वो भी दो तीन हल्की सी चीखें मार कर एवं अपनी कमर को झटके मार कर झड़ गई और हाम्फने लग गई और मुझे ‘आई लव यू भाभी …’ और ‘प्यारी दोस्त’ बोल कर गले से लगा लिया. मैं कभी उसके चूतड़ों को पकड़ कर अपनी तरफ खींचती, तो कभी अपनी टांगें उसकी कमर पर लाद देती.

ये सब देखते हुए मैंने सुखबीर को उन्हें भगाने को कहा, तो उसने एक पत्थर मारा. वहां पर लोगों ने किराए के लिए ऊंचे-ऊंचे मकान बना दिए हैं जिनमें हॉस्टल टाइप कमरे बनाकर खूब पैसा लूट रहे हैं. हमने घर जाकर सारा काम खत्म किया और सास-ससुर को खाना खिला कर उन्हें भी उनके रूम में भेज दिया.

मैं कामुक सिसकारियां लेने लगी- आह्ह्ह … ओह्ह्ह … उम्म्म … आह्हहा … ओह्ह …मेरी चुदाई करने के बाद वह बोला- जान… लंड का वीर्य कहां छोड़ूँ?मैंने कहा- मेरी चूत में ही छोड़ दो.

जल्दी ही मेरा वीर्य छूटने वाला था, लेकिन मैं अभी आंटी की चूत को कुछ और देर चोदने के मजे लेना चाहता था. उसने मेरी चूत पर जीभ को लगाया, तो मैं एकदम से चीखने लगी उम्म्ह… अहह… हय… याह… क्योंकि मुझे बहुत मजा आ रहा था.

फिर वन्द्या की चूत से ख़ून क्यों निकल रहा है?तब अब्दुल बोला- अगर मेरे लंड से लड़की की चूत से खून नहीं निकले, तो क्या मतलब हुआ मेरे पठान होने का?मुझे बहुत असहनीय दर्द हुआ, पर अब्दुल को कोई फर्क नहीं पड़ा. दूसरे दिन मेरी सहेली ने मुझे एक पड़ोसी के बारे में बताया, जिससे मेरी सहेली चुदवा चुकी थी. तो बोली- अरे सोनू, बिना घुसाए ही?मैं बोली- हां ऐसे ही करवाने वाला दर्द हो रहा है.

कुदरती तौर पर उसकी बुर में छोटे-छोटे काले बाल थे, जो ज़्यादा घने भी नहीं थे. रिशु ने मिशिका की चूत में लंड को एडजस्ट किया और फिर धीरे धीरे उसकी चूत में लंड को हल्के से अंदर से बाहर की तरफ और फिर बाहर से अंदर की तरफ धकेलना शुरू कर दिया. अन्तर्वासना पर ये मेरी पहली रियल सेक्स स्टोरी है, जो कि मेरे और मेरी भाभीजान के बीच की है.

एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स जैसे चूत से कोई बहुत गर्म गर्म पिचकारी से निकलने को हो और मुझे इसका अहसास भी हुआ. उसने पूरा खीरा चूत में घुसेड़ लिया और जोर से चुदासी आवाज में बोलने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… और जोर से चोद मुझे और जोर से …मैं भी उसका साथ दे रहा था- अच्छे से है चोद रहा हूँ … आह तेरी ये मस्त गांड वाओ … तेरी चूत तो एकदम कातिल है.

செக்ஸ் மூவி

मैं तो अब बिल्कुल ऐसे खड़ी हो गई कि उन लड़कों को मेरा मुँह ना दिखे, ना वह जान पाएं कि मैं कौन हूं. इधर अब सारा भी मेरी बीवी थी, पर उसे तो हलाला के चलते तलाक देना होगा. मेरे शर्ट और पतलून उतारने के दौरान ही दोनों ने साड़ी-ब्लाउज उतार दिए थे और दोनों के मादक जिस्म को देखने भर से ही लंड खड़ा हो गया था, जिसको देखकर शीला और पद्मा दोनों का मुँह खुला का खुला रह गया.

मैं बहुत जोर जोर से चिल्लाने लगी, पर वह एक नहीं माने और अपना पूरा लंड अन्दर करते गए. इसके साथ ही उसे नीना के चेहरे पर कातिल मुस्कान दिखाई पड़ी तो उसने एक झटके में ब्रा का हुक खोल दिया, जिससे दोनों आजाद कबूतर हवा में उड़ने लगे. bf.xx वीडियोमैंने सोचा कि अभी कुछ काम भी नहीं है इसलिए कुछ देर छत पर टहल आती हूँ.

मेरे पास इसके सिवा और कोई भी अमीरी नहीं है, बस ये ही मेरी जायदाद और मेरी विरासत है.

वह नीचे से मेरे लंड को अपने हाथ में लेकर बार-बार दबाकर उसको नाप रही थी. मन कर रहा था कि एक बार फिर से पकड़ कर उसकी चूत में लंड को घुसा दूं मगर मैं ऐसा करके उसको नाराज नहीं करना चाहता था.

तभी पटेल बोला- साली रंडी … पेशाब कर दिया?उसका दोस्त बोला- साले ये पेशाब करने ही तो आई थी यहां … और अपन ने करने नहीं दिया. मेरी माँ भी मेरे साथ रहने को आ गई थीं ताकि मुझे खाना आदि की दिक्कत न हो. मैंने कहा- बताइये?भाभी जी कहने लगी- दो-तीन दिन से मेरी कमर में, मेरे कन्धों के बीच दर्द हो रहा है, लगता है किसी मांसपेशी में खिंचाव आ गया है, मेरा वहां हाथ नहीं पहुँचता, तो सोचा था तुमसे थोड़ी आयोडेक्स लगवा लेती हूँ.

इतना सुनकर चौबे जी तो एक बारगी सफ़ेद हो गए, परन्तु दोनों लड़कियों के माँ बाप ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी.

यहाँ किसने आना है अब, सारे कपड़े अन्दर सुखा देता हूँ और लुंगी पहन लेता हूँ, जब तक लाइट है, तब तक तो ठंड लगेगी नहीं. मैंने बिस्तर में लेटे हुए उनका लंड देख कर नाड़ा खोला और अपनी सलवार में हाथ घुसा दिया. दिन में कभी कभार हमारी थोड़ी बहुत बात हो जाती, पर ज्यादातर समय वो मुझसे दूर ही भागते.

एक्सएक्सएक्स हिंदी सेक्सउसकी तंग गांड मेरे लौड़े को जैसे दबा कर उसकी जान ले लेने की कोशिश कर रही थी. मैं एकता की पीठ पर चुम्मा चाटी करने लगा और दोनों आपस में किस करने लगीं.

सेक्सी सेक्सी सीन दिखाओ

इसमें मैं क्या कर सकता हूँ भला? बोर्ड ऑब्ज़र्वर ने तुम्हारी शीट छीनी है. फिर उसने घर वालों के बारे में पूछा, तो मैंने बताया- मामा जी की डेथ हो गई और सब वहाँ पर गए हुए हैं. रमेश जी ने सुजाता को अपने पास बुलाया और सुजाता को बोलने लगे- मेरे लंड के ऊपर बैठोगी तुम?सुजाता रमेश जी लंड के ऊपर बैठ गई.

मेरी आंखें खुल बंद हो रही थीं … क्योंकि मेरे पति ने मुझे कभी न तो मसला था और ना ही मेरी चूत को अपने हाथ या मुँह से छुआ था. ”फिर मैंने कौशल्या को एक जबदस्त गुड बाय चुम्मा दिया और कपड़े पहन कर अपने घर चल गया. उसकी यह हरकत धीरे धीरे मेरे अन्दर गर्मी और एक्साइटमेंट जगाने लगी, आखिर जवान लड़की हूं.

अब इंदु बेड के नीचे आ के बेड को पकड़ के झुक गयी और मैं उसकी चुत में फिर से लंड डाल कर अन्दर बाहर करने लगा और मजा लेने लगा. वे सुजाता को नंगी देख कर बोलने लगे- आज मुझे भी तुम्हारी चुदाई करना है, तुम जो बोलगी, वो लाकर दूँगा. मैं तो और भी पागल होके उसके कबूतरों को चूसने लगा, उसकी चूचियों को काटने लगा.

फिर उसने पल्लू पूरा नीचे गिरा दिया और बाल आगे कर अपने एक मम्मे को छुपा लिया. काफी देर की चुदाई के बाद वह एकदम से अकड़ना शुरू हो गई और मेरे लंड पर ही झड़ने लगी.

मैंने उससे पूछा कि दूसरी बर्थ पर किसी ने आना है क्या?उसने कहा- नहीं, ये बर्थ मेरी है.

एन्जॉय करो … क्यों ऐसे मौके को हाथ से जाने देना चाहती हो? मेरी ड्यूटी रात 1:30 बजे तक चार स्टेशनों बाद खत्म हो जाएगी. बीफ सेक्सी हिंदीमामी अपने बैग में से सामान निकालने लगी और मुझे अपने कपड़े दिखाने लगी. हँड पॉर्नपर कहीं पति उस पर या उसके चरित्र पर शक ना करने लगे, इसलिए वह मना करती रहती है. आज भी उस सर्द शाम को याद करके लंड खड़ा हो जाता है और सोचता हूँ कि जीवन में कैसे कैसे पड़ाव आते हैं.

मैं भी अब ये जान गई हूं कि मेरे लिए हर एक मर्द की सिर्फ यही चाहत होगी, उसका यही अरमान होगा कि एक बार मुझे पा ले और मेरे साथ एक रात गुजार ले.

दोस्तो, हम एक संयुक्त परिवार में रहते हैं और मेरे परिवार में मुझे मिलाकर 25 लोग हैं. मैंने उसे अपना लोअर दे दिया और कहा कि सामने बाथरूम है वहां जा कर चेंज कर ले, लेकिन उसने बोला कि मैं कहीं किसी गैर के यहाँ तो हूँ नहीं जो बाथरूम यूज़ करूँ. धीरे धीरे मैं अपने हाथ को उसकी कमर से नीचे उसके चूतड़ों तक ले गया और उसके चूतड़ों को दबाने लगा.

मैंने प्रिया से पूछा- कैसा लगा?वो बोली- बहुत अच्छा … पहली बार आपने इतना मज़ा दिया. मैंने अपना मुँह खोल दिया तो मैक ने मेरे मुँह में अपना लंड डाल दिया और उसे जैसे ही घुसाया, तो उसके लंड से बाकी बचा गरम गरम रस मेरे मुँह में भरने लगा. मैं- देखो अगर तुम मुझे अपना दोस्त समझती हो, तो बता सकती हो वरना … मैं समझूंगा कि तुम मुझे अपना दोस्त नहीं समझती हो.

सेक्सी पिक्चर भेजो मूवी

रिशु ने मिशिका की चूत में लंड को एडजस्ट किया और फिर धीरे धीरे उसकी चूत में लंड को हल्के से अंदर से बाहर की तरफ और फिर बाहर से अंदर की तरफ धकेलना शुरू कर दिया. शायद मुंबई के कुछ लोग जानते भी होंगे, पर ये एक ऐसी नौकरी थी, जिसमें मुझे मूल रूप से गैर भारतीयों या परदेशियों के साथ कार्य करना था. मैं अब ज्यादा गर्म होने लगी और न जाने क्यों अपनी गांड पीछे उसकी तरफ अपने आप ही सटाने लगी.

वो किचन से एक खीरा लायी और मुँह में लेकर ऐसे चूसने लगी जैसे लंड चूस रही हो.

फिर मैंने धीरे धीरे अपनी ममेरी बहन को नंगी कर दिया और उसे बिस्तर पर लिटा दिया.

मैंने उसके बाद आंटी के चूचों को नीचे से हाथ ले जाकर फिर से दबाना शुरू कर दिया और आंटी की कमर पर झुक कर उसके चूचों को दबाने लगा. फिर वो भी कुतिया बनकर बोली- मेरी गांड और चूत का भी भला कर दो लंडराज. सेक्स करती हुई महिलाउसने उठ कर अपना लंड मेरे मुँह तरफ लाकर बोला- वन्द्या, ओपन योर माउथ.

यह बोलते बोलते मेरे लंड ने लम्बी पिचकारियों के साथ अपना गाढ़ा माल उनके मुँह में उगल दिया. अब मेरी गांड के छेद में मुझे डेविड का दस इंच वाला मूसल लंड चुभता सा महसूस हो रहा था. मैंने कहा- हां हाँ मीशा … पूछो न जो पूछना चाहती हो!वो बोली- जब से मैं जवान हो रही हूँ, मेरे शरीर में बहुत परिवर्तन हो रहे हैं और मेरे मन में बहुत बैचैनी हो रही है.

कुछ देर बाद उनका रिप्लाई आया- वाओ … पम्मी मेरी पोस्टिंग इसी शहर में है. गोरे, चिकने मस्त मम्मे … जिन्हें मैंने उनकी बेसुधी में बहुत बार देखा था.

फिर हम दोनों शॉवर लेकर फ्रेश हुए और हम ज्यादा थकने की वजह से एक साथ सो गए.

और क्या करूँगा?भाभी हंसने लगीं और कहने लगीं- अच्छा वो नहीं हिलाते हो?मैंने कहा- क्या हिलाता हूँ?भाभी बिंदास बोलीं- अपना लंड नहीं हिलाते हो?यह कहते हुए भाभी मेरे लौड़े पर हाथ रखकर घुमाने लगीं. रात को खाना खाने के बाद उसका रिप्लाई आया, उस वक्त लगभग 9 बजे होंगे. आंटी ने फिर मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मेरा लंड आंटी की चूत में अंदर सरकने लगा.

देसी सेक्सी वीडियो में इंदु ने भी अपनी चुत और गांड को उसी कपड़े से साफ किया और अपना पेटीकोट साड़ी भी ठीक करके मुझे जोरदार चुम्बन दिया और बोली- अभी कितने दिन रहना है. 4-5 दिन मैंने कुछ नहीं खाया और उदास ही रहा लेकिन एक हफ्ते बाद ही उसका मेसेज आया जिसमें उसने लिखा था- आपने मुझे जो भी कहा वो बुरा लगा बहुत, लेकिन कुछ दिन आपसे बात नहीं करके मुझे भी लग रहा है कि मुझे भी आपसे प्यार हो गया है.

उन दोनों ने मुझे वहीं ज़मीन पर लेटा कर एक ने नयी बियर की बोतल खोली और मेरे शरीर पर डालने लगीं. मैं भी निहारिका को उसके बदन पर कभी यहाँ तो कभी वहाँ छू-छूकर गर्म करने की कोशिश करने लगा। वो अब बहुत गर्म हो चुकी थी. मैंने उसे उसी होटल का एड्रेस दिया और वहां पर एक रूम बुक करने के लिए कहा.

सेक्सी वीडियो गाना के

तीन मर्दों को चुम्मियां देने के बाद, उनके सामने सिर्फ ब्रा पैंटी में, शराब के नशे में मैं गर्म हो चुकी थी और बेशर्म भी. मेरे हाथ को उसकी चूत बहुत गर्म लगी और साफ पता लग रहा था कि उसकी पानी छोड़ चुकी थी. उसके बाद जो चोदा-चोदी एक्सप्रेस चली कि रुकने का नाम ही नहीं लिया, जब तक मेरे लंड ने पानी नहीं छोड़ दिया.

और उन्होंने अपनी उंगली से मेरी फुद्दी के होंठों को बड़े इत्मीनान से सहलाया और मुझे बता दिया कि वो किस सफाई की बात कर रहे हैं।मैं तो जी … खुद सफाई का बहुत शौकीन हूँ, मैं तो कभी भी गंदगी के पास नहीं फटकता, हमेशा एकदम साफ रखता हूँ, और दूसरी से भी यही चाहता हूँ कि वो भी साफ सुथरी हो. मुझे हमेशा से बैडमिंटन खेलने का शौक रहा है, तो शरीर का आकार एकदम चुस्त दुरुस्त है.

झड़ते समय पता नहीं क्या हुआ … मैंने वाणी की चुची छोड़ कर गीता की चुची जोर से दबा डाली तो वो भी एकदम से झड़ गयी.

मेरे घर वालों ने बोला कि अपनी सहेली से मिलना है तो उसको अपने घर बुला लो. उसने मुझे हग किया, जिससे उसके टाईट बूब्स मेरी छाती में गड़ गए और मेरे जिस्म का भी उसने नाप ले लिया. ऐसे ही काफी देर तक करने के बाद मैं रिवर्स पोजीशन में आ गया और किस करते हुए उसकी चूत के पास आ पहुंचा.

उसने कमरे में ले जाकर मुझे बेड पे लिटा दिया और खुद भी मेरे ऊपर आकर कुछ इस तरह से छा गया कि मैं पूरी की पूरी उसके नीचे ढक गई थो. रमेश ने अब धीरे-धीरे अपनी स्पीड तेज की और सुजाता के मुँह से भी उतनी ही तेजी से ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ निकलने लगा. बॉस ने मेरी बीवी की टांगों को फैलाकर उसकी गांड के नीचे तकिया लगा दिया.

मैंने उसको बताया कि मुझे भी उसी के घर के आगे की तरफ जाना है रास्ते में। वह अपने घर उतर जाएगी और मैं आगे चला जाऊंगा.

एक्स एक्स बीएफ एक्स एक्स एक्स: मैं सोचने लगा कि कहीं इंतजार करते हुए बोर न हो गई हो और वापस चली गई हो. तुम यह बताओ कि कितनी देर में निकल चलोगी?मुझे भारी चुदास चढ़ी हुई थी तो न जाने कैसे मैंने एकदम से बोल दिया- अन्दर आ जाओ … मैं डीजे के पास दिख जाऊंगी.

उसके बाद मैंने धीरे से लंड को फिर उसकी गांड पर सेट किया और एक ज़ोर का धक्का दिया तो अबकी बार आधा लंड उसकी गांड में घुसा दिया. काफी देर लंड चूसने के बाद वो अपनी टांगें फैला कर बोलीं- आ जा जमाई राजा. मेरी इस आपबीती को आप सभी पढ़ रहे हैं, मैं आपको आगे बढ़ने से पहले मेरी काया के बारे में बताना चाहूँगी.

आशीष अब मेरे ऊपर आ गया और पेंटी के ऊपर से ही, जहां चुत है, वहां अपने लंड को पैन्ट के अंदर से रगड़ने लगा और मेरी समीज ऊपर करके मेरे मम्मों को चूमने लगा.

मेरे को बहुत गर्मी सी लगने लगी और मैं 5-7 मिनट में पसीने पसीने हो गई. हम लोग दूधवाले के पास गए तो वो मुस्कराकर बोला- मेमसाब आइए न!जहां पर उसका गैस चूल्हा रखा हुआ था वो मुझे वहां पर ले गया. )इसके बाद जब भी हमारी चुदाई के दरमियान वह पहले झड़ जाती, तो मैं उसकी गांड मारता.