बिहारी सेक्सी बीएफ फिल्म

छवि स्रोत,जबरदस्ती चुदाई सेक्सी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी देसी गर्ल बीएफ: बिहारी सेक्सी बीएफ फिल्म, मैडम ने मुझे अपनी छाती से चिपका लिया और फिर हमने पानी चालू किया, अब हम भीगते हुए एक दूसरे को चूमने, चाटने लगे.

ऑल इंडिया बीएफ

थोड़ी देर में हम रूम पर पहुँच गए, कमरे पर पहुँचते ही वो मुझ पर टूट पड़ी तो मैंने उसे रोका- आराम से करो, आज अच्छे से चोदूंगा तुमको!पहले हमने कुछ खाया पिया और फिर मैंने उसे किस करना शुरू कर दिया खड़े खड़े ही!निकी पहले से ही बहुत गर्म थी, मैं उसको किस करने के साथ धीरे धीरे उसकी चुची भी सहला रहा था और नाभि को सहला रहा था. बीएफ सेक्सी मां और बेटाऔर एक शादीशुदा स्त्री थी जो घूंघट में थी। वो पता नहीं बेटी थी या उनकी बहू थी। क्योंकि हम अन्जान थे उस गांव में तो हमने उनसे उनके परिवार के बारे में ज्यादा सवाल भी नहीं किए।खैर.

बस उस टाइम तेरी जमकर चुदाई करूँगा ना।मोना ने गोपाल को मनाने की बहुत कोशिश की मगर वो सारी रात का जगा हुआ कहाँ मानने वाला था, उसने चादर खींची और सो गया।मोना का मूड तो एकदम खराब हो चुका था, वो वहाँ से उठकर दूसरे कमरे में चली गई और रोने लगी।दोस्तो, यहाँ तो गड़बड़ चल रही है. एचडी सेक्सी पिक्चर बीएफअगले पाँच-सात मिनट के बाद मैं माला के ऊपर था और अपने लिंग को बहुत ही तीव्रता से उसकी योनि के अन्दर बाहर करता रहा.

वो कह रही थी कि पिछले सात आठ महीने से कुछ नहीं किया उसके हबी ने!’‘अंकल जी वैसे मस्त बॉडी है उसकी.बिहारी सेक्सी बीएफ फिल्म: फिर वो आगे कुछ कह पता इससे पहले ही रामू उसकी चैन खोल कर उसका लंड बाहर निकाल कर जल्दी से मुँह में लेकर चूसने लगा।‘अबे देख क्या रहा है.

तेरी छाती बताती है।मैंने उसका बोबा पकड़ कर कहा- मस्त तो तेरे ये हैं.मजे करेंगे और क्या!मैंने बोला- ठीक है, चलो करते हैं।अंकल मुझे अपने बेडरूम में लेकर गए। वे मेरे गालों पर किस करने लगे और एक हाथ से मेरे लंड को दबाने लगे। मैंने भी उनका लंड पकड़ लिया, उनका लंड भी मस्त था। इस उम्र में भी एकदम टाइट था। मुझे विश्वास नहीं हो रहा था। फिर उन्होंने धीरे-धीरे मेरे सारे कपड़े उतार दिए और मुझे बेड पर लेटा दिया। अब वो मेरे पूरे शरीर पर किस करने लगे.

हरियाणवी बीएफ सेक्स - बिहारी सेक्सी बीएफ फिल्म

फिर मैंने उनसे पूछा- क्या हुआ मैडम, क्या आप ज़्यादा डर गई हो?मैडम बोली- नहीं तो!मैं बोला- फिर आप बिल्कुल चुप क्यों हो?तो मैडम बहुत ही धीरे से बोली- मुझे बहुत प्यास लगी है.अब तक आपने मेरी इस चुदाई की कहानी में पढ़ा था कि काका मोना की चुत चोद रहे थे और मोना झड़ चुकी थी। लेकिन काका का लंड अभी भी पूरी मस्ती से चुत के चिथड़े उड़ाने में लगा हुआ था।अब आगे.

हर किसी का अलग ही स्वाद, अलग ही मज़ा और अलग ही स्टाइल!यह मेरी पहली कहानी है तो ज़ाहिर है मेरी पहली गर्लफ्रेंड से ही शुरुआत करूँगा. बिहारी सेक्सी बीएफ फिल्म फिर मेरे लंड को मुंह में भरकर चूसने लगी साथ ही वो मेरे चूतड़ों को दबाती जा रही थी और अपनी उंगलियाँ मेरी दरार में चला रही थी.

एक दिन मैं ऑफिस में अपने काम में व्यस्त था कि दोपहर बाद कोई साढ़े पांच बजे मेरा फोन बजा.

बिहारी सेक्सी बीएफ फिल्म?

घर पे ये स्वेटर गर्मी दिलाने के लिए काफी होता था, पर सफर में स्वेटर के बावजूद मुझे ठंड़ का अहसास हो रहा था। मैं रात के और गहराने पर कंबल निकाल के ओढ़ लूंगी सोच कर ऐसे ही सो गई और रोहन ने एक बड़ा सा कंबलनुमा शाल ओढ़ लिया।प्रेरणा और विशाल ने भी हमारी नकल की।हमारी बस लगभग रात के आठ बजे, फिर एक ढाबे पर रुकी. हॉस्पिटल पहुँच कर ओपीडी में देखा कि एक आंटी जिनकी उम्र तक़रीबन 40 साल होगी. रात को करीब दस बजे आंटी ख़ुशी के कमरे से बाहर निकल कर उसका कमरा बाहर से बन्द करके मेरे यानि मयंक के कमरे में आ गई, मेरी आँख लग गई थी.

वो एक अच्छे दोस्त की तरह मेरा बहुत ख्याल रखती है… इस समय वो भी मेरे पास बैठी है, लो बात करो उससे!निष्ठा चौंक गई, इस समय ऋषिका रयान के बेड रूम में??ऋषिका फोन पर आई, बोली- घबराओ मत निष्ठा, मैं अभी आई हूँ, मेरे पास कुशल का फोन आया था, वो बहुत परेशान था… वो बहुत रोमांटिक है पर धोखा देने वाला आदमी नहीं है. ’मैं भाभी को दे दनादन चोद रहा था और भाभी भी नीचे से गांड उठा कर मेरे लंड से युद्ध कर रही थीं. पास की छत पर खड़े राजू ने ये सीन देख लिया। जब मोना खड़ी हुई तो उसकी नज़र उससे मिली और उसकी आँखें फट गईं।काका- अरे क्या हुआ.

मैंने जैसे ही उसकी अकड़ी निपल पर जीभ घुमाई, एक हल्की सी चीख उसके गले से निकली, कराहते हुए बोली- कचूमर निकल दो… इस कम्बख्त चूची का… आज तो चटनी बना ही डालो इसकी… हरमज़ादी ने जान खींच रखी है मेरी… हाँ राजा हाँ…. मैं झड़ने के करीब पहुँच गई और चिल्लाने लगी- और कस कर चोदो मुझे… फाड़ दो मेरी चूत को… बना दो मुझे बाजारू रंडी! मैं अब तुमसे हमेशा चुदवाऊंगी! मुझे ऐसे ही हमेशा चोदना!उसने अपनी स्पीड बढ़ा दी. मैंने एक भी ना सुनी।बाद में देखा तो मेरी बनियान में खून लग गया था। उसने भी मेरी पीठ पर नाखूनों से खून निकाल दिया।फिर उसके सामान्य होने पर धीरे-धीरे चुदाई शुरू हो गई। पहला दौर तो 3 मिनट ही चला। मैंने बिना लंड को चुत से बाहर निकाले दूसरा दौर शुरू कर दिया। अबकी बार 20 मिनट तक खूब चोदा और दोनों साथ में ही झड़ गए। इसके बाद कुछ देर तक दोनों ने आराम किया.

तो वो बोलीं- बना लेना चाहिए ना।मैं बोला- कोई बनती ही नहीं।‘क्यों?’मैं बोला- आप ही बन जाओ ना।तो वो मना करने लगीं- अरे मैं कैसे बन जाऊं. आज जो कहानी मैं बताने जा रहा हूँ वो मेरी और मेरी एक दूर की मामी की है। मेरी मामी की उम्र 28-29 साल होगी, उनकी शादी को एक साल हुआ था। वो दिखने में बहुत सुन्दर हैं, उनका फिगर 36-24-36 होगा.

समझी!सुमन- वो तो निकाल दूँ मगर उसके बाद जो करना है वो सोच कर ही डर लग रहा है.

’ कह कर मुझे सुला दिया।टीना- यही बात है तेरी वजह से वो लोग खुलकर सेक्स नहीं कर पाते थे और धीरे-धीरे तेरी मॉम के अन्दर सेक्स की फीलींग्स कम होने लगी और अब शायद वो करती ही नहीं होंगी.

तब तक पीछे से मैंने उसकी चूत में उंगली डाल दी, वो कसमसाने लगी।मैंने कहा- बहुत रंगरलियाँ मनाई तुमने! अब रोज ऐसे ही चुदाई होगी!मुदस्सर के चेहरे की रौनक वापस आ गई थी।मैंने अपनी बीवी से कहा- अमिता कुतिया की तरह झुक जा!तो वो झुक गई तो मैंने मुदस्सर से उसको चोदने के लिए कहा तो मुदस्सर ने अपना लंड झट से उसकी चूत में डाल दिया।‘आएईई… मुदस्सर बहुत दर्द हो रहा है धीरे धीरे. मैंने कहा- मुझे कोई ऐतराज नहीं… पर मैं सिर्फ रेशमा को नहीं, नीलिमा को भी चोदना चाहता हूँ. मैं हाल में ही सोया था और ऐसे ही तीन दिन गुजर गये, सब कुछ एकदम ठीक ठाक था.

अब आगे:मैंने मानसी के शरीर को चूमते हुए नीचे सरकना शुरू किया और जैसे जैसे मैं नीचे जा रहा था, वो और उग्र होती जा रही थी. आभा मुस्कुरा उठी और कल्पना ने जोर की हंसी के साथ मेरा हाथ पकड़ा और मुझ पर झुकते हुए ‘चलो, तुम्हें बाथरूम दिखाती हूँ. इतने में भाभी बोली- नीचे सब इंतज़ार कर रहे हैं, जल्दी चलो, वरना सब शक करेंगे…मैंने कहा- जानेमन, ऐसे कैसे नीचे जा सकते हैं, तुम्हारे राजा को तम्बोला में कुछ तो मिलना चाहिए ना?तो उसने कहा- क्या चाहिए, जल्दी बोलो?मैंने कहा- एक मस्त ब्लो जोब…मैंने सोचा कि वो नहीं मानेगी पर जैसे ही मैंने कहा ब्लोजोब… मेरी सेक्सी कहानी बन गई, वो तुरंत नीचे बैठ गई, मेरी पेंट की ज़िप खोली और लंड को बाहर निकाल लिया.

बाद में बात करती हूँ।‘ओके जान आई लव यू बेबी और नाइट का प्लान हो तो ज़रूर याद करना।’मैं- ओके बाइ।मैंने कॉल कट कर दी। उसके बाद मैं सोचने लगी कि अब क्या होगा.

आप जरूर आना, मेरी तरफ से आप इनवाइट हैं।मैं- भाईसाहब सबको तैयार करने का रिश्ता कराने का क्रेडिट आपको ही है। सुकांत बता रहा था।भाई साहब- पर वह मेरे से यह भी बता रहा था जब उसके पिता व ताऊ ने उसे झिड़क दिया तब आपने ही तो कहा था कि कह देना मैं कहीं और शादी नहीं करूँगा और यह भी सलाह दी कि भाई साहब को अप्रोच करो, मैंने उसे सपोर्ट किया।मैं- भाई साहब, लड़की बहुत इंटेलीजेंट है क्लास टॉपर है. यह पुरानी बात है 2011 की, मेरे घर से कुछ ही दूर एक परिवार रहता था यानि कि मेरी प्रेमिका का घर… उसका नाम पूजा था, उसके घर में उसके माता-पिता एक भाई और वो. वो मुझे अपने हाथों से पीछे धकेलने लगी, पर मैं उसी पोजिशन में खड़ा रहा। थोड़ी देर जब कमला थोड़ी शान्त हुई तो फिर से धीरे से धक्का लगा दिया। अब मेरा लंड करीब चार इंच अन्दर घुस गया था.

मैं बूब्स का वैसे भी बहुत दीवाना हूँ दोस्तो… मैंने पहले उनके लेफ्ट बूब को मुँह में लेकर चूसना शुरू किया और राईट वाले को अपने हाथ में लेकर जोर से दबाने लगा. अगले दस मिनट तक हम दोनों 69 की मुद्रा में एक दूसरे की जननेन्द्रियाँ को चूसते एवम् चाटते हुए उत्तेजित करने लगे. मैंने जल्दी से उधर अपनी दो उंगलियां डाल दीं।तो आंटी सेक्स की मस्ती में कराह का थोड़ी सी हिलने लगीं और मेरे हाथ को धकेलने लगीं, तो मैंने और जोर से उंगली को अन्दर कर दिया।फिर थोड़ी देर बाद आंटी अपनी गांड हिलाने लगीं.

इस पर भी जब वो कुछ ना बोली तो मैंने धीरे-धीरे उसके पूरे मम्मे को हथेली से दबाना शुरू कर दिया।अब मैं पूरा खुल चुका था.

तो मैंने थोड़ा सा लंड बाहर निकाला और एक इतना करारा शॉट मारा कि मेरा पूरा लंड चुत में जड़ तक घुसता चला गया।वो फिर से चीखी- मर गई माँ. एक बार मुझे उनके बेटे से पता चला कि आज आंटी घर पर अकेली होंगी क्योंकि उनका बेटा और उनके पति गाँव में किसी कार्यक्रम में जा रहे हैं और उन्हें घर तक आते हुए रात हो जाएगी.

बिहारी सेक्सी बीएफ फिल्म रेखा रंडी की बात ख़त्मतो पाठक पाठिकाओ, अपने देखा कि किस तरह से रेखा रंडी ने जूसी को भावनात्मक रूप से ब्लैकमेल करके अपना कहा मनवाया. वो मेरा साथ देने लगी।फिर मैंने उसकी टी-शर्ट को उतार फेंका और ब्रा भी उतार दी। फिर उसको बिस्तर पर लिटा के उसके चूचे चूसने लगा।सच में क्या रसीले चूचे थे.

बिहारी सेक्सी बीएफ फिल्म मैं आवाज़ें करने लगी।तभी उसने मुझे अपनी गोद में उठाया और जाकर अपने बिस्तर पर पटक दिया। उसने अपनी टी-शर्ट उतार दी और मेरे पास आ गया। उसने मेरी कुरती उतार दी. मम्मी काम करते करते अपनी साड़ी ऊपर की होगी और यश का मन ललचाया होगा…मम्मी ने ऊपर ऊपर से अपनी चूचियाँ दिखाई होगी और यश ने ना जाने इस खेत में कितने झटके मारे होंगे मम्मी की चूत में.

अब ऐसी मालिश से किसी नामर्द का ही खड़ा ना होता होगा, मगर मॉंटी का तो पूरा तन गया था.

राजा बाबू सेक्सी वीडियो

’मैं चिल्ला पड़ी, उनका आधा लंड मेरी चुत में घुस कर फँस गया था, मेरी आँखों में आँसू आ गए।उन्होंने मेरा मुँह बाँध करके एक और जोर का झटका दे मारा, जिससे उनका काला नाग मेरी चुत की गली को फाड़ता हुआ अन्दर बच्चेदानी से जा टकराया। मेरी बहुत बुरी हालत हो गई थी।यह पोर्न स्टोरी इन हिंदी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!‘आई. आंटी ने मेरे बाल सहलाते हुए कहा- तुझे मेरी नाभि क्यों अच्छी लगती है?मैंने उनकी नाभि मैं अपनी उंगली घुमाते हुए कहा- ये बहुत गहरी और बड़ी है. थोड़ी देर की चुसाई से ही उसका मूसल लोहालाट हो गया और वो दुबारा मेरी बीवी के ऊपर चढ़ गया.

अब मैंने पूरे ज़ोर से लंड घुसाते हुए भाभी की चुत को चोदना चालू किया. जब मैं उसके यहाँ कुछ दिनों के लिए गई थी। क्योंकि मम्मी को कोलकाता जाना था. मैंने मैडम को अब फर्श पर सीधा लेटा दिया और फिर उनकी चूत को पागलों की तरह चाटने लगा जिसकी वजह से पानी मेरे ऊपर से गिरकर मैडम की चूत पर टपक रहा था और मैडम ऊओह्ह्ह आअहह ह्म्म्म्म कर रही थी.

कुछ मैंने हरामज़ादी के कंधे थाम के सहारा दिया तो सुल्लू रानी लंड मुंह से निकाले बिना बिस्तर पे चढ़ने में कामयाब हो गई.

तो वो उछल पड़ती थी। उसकी सिसकारियां लगातार बढ़ रही थीं और वो मेरे सर को अपनी चुत पर दबा रही थी।मैं जोर-जोर से उसकी चुत को चाटने लगा। बाद में मैंने चुत से मुँह हटा लिया और हाथ चुत को रगड़ना और सहलाना चालू किया. तो दोस्तो, यह मेरी हिंदी सेक्सी कहानी कैसी लगी?बताना जरूर![emailprotected]. मुझे तो उनकी उंगलियों से ही मजा आने लगा। अब उन्होंने तीनों उंगलियां दो-तीन बार घुमाईं और हाथ निकाल लिया। अब उन्होंने अपने मशहूर लंड पर क्रीम मली.

सुबह सुबह राजे को मैं और जूसी दोनों अपना स्वर्ण अमृत पिला देती हैं. योगिराज एक ही झटके में कोमल की गान्ड में घुस गया और कोमल की चीख निकल गई, कोमल चीखते हुए बोली- मादरचोद, मैंने तेरा क्या बिगाड़ा था जो मेरी गान्ड फड़वा दी?अब मैंने कोमल की चुचियों को सहलाया और उसको हिम्मत दिलाई- कोई नहीं, दर्द में ही तो मजा है चुदाई का!मैंने कोमल को बाँहों में भर लिया और मोहन को इशारा किया तो मोहन ने कोमल कीचूत में लंडपेल दिया. मैं फिर शांत हुआ और फिर एक आखिरी धक्के में पूरा लंड उसकी बुर में पेल दिया.

अब मैंने बिमलेश को मेरी टांगों के बीच में अधलेटी किया हुआ था और हमारा मुंह लैपटॉप की तरफ था। हिम्मत को हमारा साइड व्यू दिख रहा था।मैंने धीरे धीरे बूब्स को दबाते हुए ब्रा की स्ट्रिप खोल कर ब्रा एक साइड में उछाल दी और अब एक हाथ से बूब्स दबाते हुए और दूसरे हाथ को पैंटी के ऊपर से बिमलेश की रसीली मुनिया को सहलाया तो पाया कि बिमलेश की मुनिया तो पहले ही रस निकाल कर गीली हो चुकी है. अब मैंने लंड को धीरे से थोड़ा बाहर किया और फिर एक ज़ोर का धक्का देकर पूरा अंदर डाल दिया जिसकी वजह से मैडम की चीखने की आवाज़ मेरे मुँह में दबकर रह गई.

फिर अजय गाड़ी की दूसरी तरफ से घूम के आया, मैं वैसे ही गाड़ी की सीट पर लेटी रही, मेरी चुत पर अजय के दोस्त का माल लगा था तो अजय अपने दोस्त से बोला- साले तूने चुत में ही माल निकाल कर छोड़ दिया? चल साफ कर इसे!अजय का दोस्त पानी से मेरी चुत गाड़ी में ही धोने लगा. उसने धीमे से मेरी टी-शर्ट को पकड़ा और एक झटके से उसे मेरे माथे पर से होते हुए उतार फेंका, ब्रा भी उसने उतनी ही जल्दी निकाल दी. कानपुर से लौटने के बाद मैंने महारानी अंजलि, अपनी बेगम जान को रिपोर्ट दी- मल्लिका ऐ आलिया, आपका हुकम गुलाम ने बजा दिया.

मुझे कुछ पाठकों ने मेरे और अनुभवों को लिखने की गुज़ारिश की तो इस कहानी में मेरा रीना से मिलने के पूर्व अनुभव को बता रहा हूँ कि कैसे मैंने एक भाभी की चुदाई की थी उसके घर जाकर!मेरा नाम विक्रम है, जयपुर में रहता हूँ.

गीता ने अपना सर मेरे कंधे पर रख दिया, मैंने उसकी गर्दन और उसके आस पास अपने होंठों से चूमा. थोड़ी देर तक तो ऐसा ही चलता रहा, फिर सोफे पर सलोनी ने अपने हाथ को फैलाया और अपने आगे का पूरा वजन उसी हाथ में दे दिया, इस तरह उसकी गांड काफी ऊँची हो गई. अब तो मम्मी सातवें आसमान पर थी, खूब जोर जोर से ऊपर से झटके मार रही थी.

पर वो कहते है कि जोड़ियाँ तो ऊपर वाला ही बनाता है… मैंने उसके बायो-डाटा से उसके गांव का पता निकाल लिया था और बहुत हिम्मत करके काफी लोगों को मनाने के बाद आज हम दोनों एक सफल और सुखी शादीशुदा दम्पति हैं. मैंने अपना लंड सुनीता की चूत की दरार के बिल्कुल बीच सेट किया और सुनीता को धीरे धीरे ऊपर बैठने का इशारा किया.

थोड़ी देर हम ऐसे ही एक-दूसरे से लिपटे रहे और एक-दूसरे की पीठ पर हाथ फेरते रहे. [emailprotected]मेरी सेक्सी कहानी : जिस्म की वासना-2रवि स्मार्ट की सभी कहानियाँ. ये साला बड़ा ठरकी है।साहिल- क्या रे टीना तू लड़की होकर लड़कियों की खिंचाई करती है.

సెక్సీ వీడియో హిందీ

और उसने पूरा पानी मेरे मुँह में ही गिरा दिया। उसका कोरा पानी भी जबरदस्त था।हम दोनों संतुष्ट हो चुके थे.

जिस दिन चिंटू का बर्थडे था वो दिन भी सन्डे का था, हमने चिंटू को फोन किया और उससे पूछा कि हम दोनों उन्हें बर्थडे विश करना चाहती हैं हमें कहाँ मिलोगे?तो चिंटू ने कहा- आप दोनों कहीं मत जाइये, हम दोनों ही आपके घर आते हैं. उसने इतनी अदा से कहा कि मैं न जाने कैसे मान गया। फिर मैंने उसके मुँह की चुदाई की. ! आज रात का मेरा सरप्राईज यही है!उसने ये कहते हुए अपनी दीदी आभा की ओर इशारा किया।अब मैं थोड़ा होश में आया, मैं खुश तो था पर मैंने कहा- पहली बात तो ये है कि मैं तुम्हें कल्पना ही कहूँगा। और मुझे ये समझ नहीं आ रहा है कि अगर आभा सब जानती है तो फिर स्कूल के सामने इसने मुझे पहचाना क्यों नहीं? और यहाँ कोई नहीं रहता या आज ही नहीं है। वो प्यारा सा बच्चा भी तो था ना.

उनके मम्मों का साइज बढ़ गया। भाभी के मम्मे बहुत बड़े और तने हुए थे और उन पर छोटे-छोटे से भूरे निप्पल हवा में लहराने लगे।अब हम दोनों ऊपर से नंगे हो चुके थे और मेरे लंड का साइज तन के 6. उसके मुँह से ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ की आवाज़ आने लगी। मैं उसे आराम से चोदने लगा पर वो मेरा साथ नहीं दे रहा था, इसलिए मुझे थोड़ा कम मजा आ रहा था।मैंने कहा- यार मजा नहीं आ रहा है, यहाँ से कहीं और चलते हैं।उसने कहा- जहाँ भी ले चलना है, ले चलो. बीएफ चूत चुदाई चूतफ्लैट के बाजू के फ्लैट में एक भाभी रहती थीं जिनका नाम रोज़ी था। वो भाभी मुझे रोज कामुक भाव से देखती थीं और मैं भी उनको देखकर सोचता था कि बस आज ये किसी तरह मिल जाए बाकी सब मिलने के बाद देख लूँगा।इस तरह काफ़ी टाइम बीत गया।एक दिन मेरी किस्मत खुली.

मोना- लड़की होगी तो भी अच्छा है उसमें मेरी खूबसूरती और आपके जैसी ताक़त होगी. ऋषिका एक बार तो बोली- रयान, हम ये गलत तो नहीं कर रहे?पर रयान ने बजाए जवाब देने के उसका टॉप उतार दिया और अपना भी… धीरे धीरे दोनों ही बिना कपड़ों के चादर के अंदर चिपटे ही थे.

’ की मादक आवाजें निकलने लगीं। वो बड़े आराम से एक रंडी की तरह मेरे लंड को चूसने लगा।मैं भी उसके लंड को हिला रहा था और थोड़ी देर में ही उसने अपना माल मेरे हाथ पर निकाल दिया।माल निकलने के बाद वो दूसरी ओर मुँह करके सो गया। पर मैं क्या करता. चुदाई शुरू होते ही मानसी की ऐसी हालत देख कर मेरी तो जैसेगांड ही फट गईथी. जब वो खुद को फिर से तैयार कर के बाहर आई, मैं वैसे ही बेड पे लेटा था, मुझे देख कर वो बोली- अरे तुम्हारा तो अभी भी ढीला नहीं पड़ा है.

पहले विला रूबी की पड़ती थी तो रूबी उतरी और विवेक का हाथ पकड़ कर साराह को बाय बोल कर अपनी विला की ओर हंसते हुए चल दी. मैं उसे लगातार देखे जा रहा था मुझे पता था कि अभी कुछ ही देर बाद उसकी नज़र मेरी तरफ उठेगी. उन्होंने थैंक्स बोलते हुए कहा- बेटा, तुम 12वीं में पढ़ते हो। ज्योति अभी 11वीं में है, शाम को तुम मैथ्स में उसकी कुछ मदद कर सकते हो?मैंने सोचा मौका अच्छा है और झट से हाँ कह दी।शाम को मैं उसके घर गया, दरवाजा खटखटाया तो उसकी बहन ने दरवाजा खोला.

घर आकर पता चला कि मेरी चुदाई की वीडियो बनी है, अब सब लोग आते हैं और मुझे रात भर मेरी गांड और चूत की चुदाई करते हैं.

वो जैसे-जैसे गर्म होती गई हम गहरी किस करने लगे। मैंने उसका टॉप और ब्रा पूरी उतार कर उसके बदन से अलग कर दी. इतने वर्षों से राजे से चुद के मुझे काफी अंदाज़ा होने लगा था कि वो कब झाड़ेगा.

उसका लंड तो पहले से चूत के रस से गीला था, उसने धीमे से गांड के अंदर घुसाना चालू किया, मुझे असहनीय दर्द हो रहा था इस तगड़े लौड़े के गांड में जाने से, मैंने दोनों हाथ से पलंग की किनारे पकड़ रखे थे जिसे मैं जोर से दबा कर गांड मरवाने के दर्द को झेलने की कोशिश करने लगी. लेकिन मैंने तो तुम्हें कुछ कहा ही नहीं।तब मैंने थोड़ा सामान्य होते हुए कहा- वास्तव में मुझे कुछ मेल करने वालों की करतूत याद आ गई तो मैं भड़क उठा. जूसी- मैं समझी नहीं तू क्या कहना चाहती है?मैंने डरते डरते बोल ही दिया- देख मैं फिर से बोल रही हूँ कि अगर मेरी बात तुझे ख़राब लगे तो हम दोनों इसको हमेशा के लिए भूल जायेंगे.

रयान बोला- मैं तुम्हारे लिए कॉफ़ी बनता हूँ…उसने दो कप कॉफ़ी बनाई और लेकर अपने बेड रूम में आ गया. 7-8 मिनट बाद वो झड़ गई, उसके पानी का स्पर्श होते ही मैं भी उसकी चूत में ही झड़ गया. रानी बैठ कर उसकी गांड से रस को साफ करने लगी और साथ में दर्द से थोड़ी सिसकारी भी ले रही थी.

बिहारी सेक्सी बीएफ फिल्म अब भाभी मेरी छाती की घुंडियों को किस कर रही थीं। फिर भाभी ने अपने ब्लाउज पर थोड़ा केक लगा कर मेरी आँखों में अश्लीलता से देख कर आँख मारी। मैं एकदम से उनके मम्मों को ब्लाउज के ऊपर से ही चूसने लगा और उनकी गर्दन को किस करने लगा।भाभी भी कामुक आवाज में मोन कर रही थीं- आअहह. मैंने फिर हिम्मत को कॉल किया और कहा- भाई, 10 बजे हमारी चुदाई शुरू होगी।बिमलेश से भी बात की तो वो बोली- यहाँ से लौटते समय हमारे यहाँ रुकना, आपके योगिराज की बहुत याद आ रही है।कोमल 9.

सनी लियोन के सेक्सी वीडियो गाने

तो साथियो, पूजा तो इस चुसाई से इतनी गर्म हो गई थी कि उसका पूरा जिस्म हरकत करने लगा था। वो कमर को हिला-हिला कर मज़ा ले रही थी और आँखें बंद किए हुए गरम आहें भर रही थी।पूजा- आह. मैंने भी अपने कूल्हे हिलाने चालू कर दिए और मैं भी सुन्दर से मस्त चुदाई मजा लेने लगी. फिर नहीं होगा।मैंने फिर से जोर से एक धक्का दे मारा और इस बार मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुसता चला गया, वो दर्द से तड़फ उठी, वो बोली- प्लीज़ निकाल लो.

चलो तब तक ऑफिस में चलते हैं, पास ही है।मैं उसके ऑफिस में एक दूसरी वर्कशॉप अटेन्ड करने पहुँच गया. मैंने अपना लौड़ा जो मेरी पत्नी के होंठों से गीला हो चुका था, रजनी की चूत के मुंह पर रख दिया और हल्के हल्के आगे को करते हुए रजनी की चूत में डालना शुरू किया. सनी लियोन के बीएफ फुल एचडी मेंउसे क्या हुआ है और वह अब कैसी है?उत्तर में अम्मा ने कहा- ऐसी कोई बात नहीं है और अब वह बिल्कुल ठीक है.

बेस्ट ऑफ लक।ये चिट्ठी लिखकर मैंने मंगलवार की सुबह उसके स्कूल बैग में रख दी।इसके बाद बहन की बुर की चुदाई की सेक्स स्टोरी में क्या हुआ, वो अगले भाग लिखूंगा। आप अपने मेल लिख सकते हैं।[emailprotected]छोटी बहन की चुदाई करने के लिए क्या किया-2.

जब तक कि तुम कुछ नहीं कहोगी।आंटी चुदक्कड़ थी और उसकी चूत में आग लगी थी सो वो मान गई।मैंने अपनी पेंट को थोड़ा नीचे उतारा और आंटी को इशारा किया कि साड़ी उठाकर मेरे लंड पर बैठ जाए।दोस्तो जब चूत और लंड में आग लगी हो तो बस चूत और लंड ही दिखाई देते हैं।आंटी सेक्सी थी. मैं अभी तक कुल 6 लंडों से चोदन करवा चुकी हूँ, मेरा पहला चोदन 21 वर्ष की आयु में हुआ था, मुझे मेरे ही जीजा जी ने ही चोदा था.

उधर निर्मला और गायत्री भी वापस आ गई थीं। जब उन्होंने देखा कि मोना अब तक सो रही है तो गायत्री ने निर्मला से कहा कि बहू अब तक सोई है उसे उठाओ।निर्मला- ये शहर की लड़कियां हैं. आजा चूस ले।उसने मेरा हाथ अपनी चुची पर रखा तो मैंने मसल दी।उसने कहा- आउच आराम से दबा राजा!मैंने चुची की घुंडी मरोड़ी तो सिसिया दी- उफ़फ्फ़ आउच. वो बोली- चूस इसे!मैंने चूसना चालू कर दिया, मजा नहीं आया, मैं बोला- आंटी, गन्दा लग रहा है!तब आंटी ने कहा- पहली बार है, इसलिए लग रहा है, एक बार और कर, मजा आएगा!मैंने थैली निकाली और लंड पर लगाकर रबड़ बैंड लगा कर कंडोम बनाया.

और उसके चूचे चूसने लगा।दोनों के अन्दर सेक्स की इतनी ज़्यादा भूख और गर्मी थी कि वातानुकूलित कमरा होने के बावजूद हमारे पसीने निकल रहे थे।यह चूत में लन्ड की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!जैसे ही मैंने पहला तेज़ झटका मारा.

मैंने कहा- ठीक है…फिर मुझे कुछ अच्छा नहीं लगा, मैं लेटी हुई थी और कब मेरी आँख लग गई पता नहीं चला. देखने में तो 34 की उमर का सचिन नहीं लगा तो मुझे लगा कोई होगा… यह सचिन का छोटा भाई हो सकता है. फिर सचिन थोड़ा और ज़ोर लगाने लगे और साथ ही मेरे निप्पल को मुँह में चूस रहे थे.

सूट वाली बीएफमतलब सबके पास एक-एक है। मैं सो रहा था मेरी दीदी ने दरवाजे पर दस्तक दी। लेकिन मैं थका हुआ था तो गेट नहीं खोला। तो उसने ही अपनी चाभी से गेट ओपन कर लिया और अन्दर आ गई, मुझको उसके आने का पता भी नहीं चला।उसने अन्दर आकर रोज की तरह कपड़े चेंज किए और सब्जी आदि काटी ताकि रात के खाने की तैयारी कर सके।फिर वो सफाई करने में लग गई। इतने में मेरी नींद भी खुल गई. साले ने जूसी वाला वाइब्रेटर मेरी चूत में दिया और लौड़ा गांड में… फिर बहनचोद मेरी गांड और चूत की एक साथ जो ठुकाई हुई है कि वर्णन करना ही मुश्किल!खैर अच्छे से चुद के, गांड मरवा के मैं और राजे दोनों सो गए.

आवाज सट्टा किंग

बस नॉर्मल सा घर था। गायत्री के कहने पर सुमन सामने के कमरे में चली गई।टीना- अरे आओ मेरी प्यारी गुड़िया. फक मी।उसके बाद उसने मेरे लंड को बाहर निकाला। मेरा लंड देख कर वो खुद झुक गई और पूरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगीं। दुशाली बड़ी प्यासी सी होकर लंड चूस रही थी। उसे देख कर मेरा लंड और बड़ा हो गया. बस फिर मैं कल का बेसब्री से इंतज़ार करने लगा कि कब दस बजें और मेरी अप्सरा यानि रीना के दर्शन हो जायें!रात भर सोच सोच कर नींद नहीं आई उसकी जिस्म की कल्पना, वो मदहोश कर देने वाली उसकी खुशबू… जैसे तैसे नींद आ ही गई.

मैंने उसकी चूत में उंगली हल्के हल्के अंदर बाहर करना शुरू किया तो उसकी चूत में से पानी निकल गया, उसने मेरे लंड को ज़ोर ज़ोर से ऊपर नीचे करना शुरू किया, मैंने उसको मुँह से करने को बोला तो शाल के अंदर घुस कर उसने मेरे लंड पर मुँह लगाकर मेरा पानी निकाल दिया और पी गई. अपनी इज्जत के साथ साथ मुझे उसकी इज्जत, मान सम्मान का भी पूरा पूरा ध्यान रखना था. लेकिन मैं मां के पास नहीं गया, मुझे पता था कि अगर मां ने मेरी आंखों में आंसू देखे तो वो पूरी बात पूछे बिना नहीं छोड़ेगी इसलिए मैं सीधा ऊपर वाले कमरे में जाकर गद्दे पर गिर गया.

फिर पीछे से चोदूँगा।मैंने देखा था कि अब तक आंटी की गांड किसी ने नहीं मारी थी।मैंने सोच लिया था कि आंटी की गांड ज़रूर मारूँगा। आंटी कमरे में बने हुए बाथरूम में जाकर अपनी चुत को अन्दर तक धो कर आ गईं। फिर आंटी ने मेरे लंड का चूसना शुरू कर दिया। मैंने उनकी चुत को 69 की पोजीशन में कर लिया।आंटी बोलने लगीं- क्या इस तरह भी चूसते हैं।मैंने कहा- हाँ आंटी. मैंने अपनी आँखें बंद कर रखी थीं। उसने अपने हाथ मेरे उरोजों पर रख दिए. अजीब सी खुशी थी उसकी आँखों में… उसने मेरी आँखों में देखा और मुझे आँख मारी.

मैं इतनी स्वार्थी नहीं हूँ किरण!‘नहीं नहीं मैं दुखी बिल्कुल नहीं हूँ,’ जूसी ने कहा- बस मुझे बहुत अटपटा लग रहा है. उसके बाद मेरे पूरे शरीर को चूमने लगा।यही कहानी लड़की की मधुर आवाज में सुनें!अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनने के लिए सबसे अच्छाब्राउज़र क्रोम Chrome है.

रूम में पहुंचकर रूबी को ध्यान आया कि उसका मोबाइल गाड़ी में ही छूट गया है.

तूने ऐसा क्या किया कि तेरे चूचे इतने बड़े-बड़े हो गए।मैंने कहा- क्या करूँ, रोज अपने हाथों से इनको खूब दबाया है. सनी लियोनी के बीएफ सेक्सीपर कुछ दिनों बाद वो कहीं और अपने पति के ही साथ रहने लगीं। आज भी कभी-कभी उनका कॉल आ हांता है. बीएफ एचडी बीएफ हिंदीमैंने कहा- मेरा निकलने वाला है!उसने कहा- मुझे पिला दो!मैंने पूरा पानी उसको पिलाया, उसने मेरा लंड चाट चाट के साफ़ कर दिया और लेट गई।हम बातें करने लगे. साथ में दो बच्चों की परवरिश भी करना, तो बेचारी इनके चक्कर में पड़ कर रह गई। अब बीमार भी रहने लगी है तो बिजनेस फेल हो गया मगर एक शॉपिंग माल है जो इनका है.

सुबह उठा तो मेरे सर से वासना का भूत उतर चुका था, अब मुझे चाची के साथ किये गए बेशर्मी से मुझे शर्म महसूस हो रहा था, मैं उठ कर बाथरूम गया और तैयार होकर क्लिनिक चला गया.

मुझे बहुत बुरा लगा कि मेरा ही बॉय फ्रेंड और मेरी ही मम्मी… सोचा सामने जाऊं और खूब सुनाऊँ उन दोनों को… मगर चुप रही और सोचा कि देखूँ तो सही आगे क्या क्या करते हैं. मुझे हल्का नशा सा होने लगा… बाथरूम से बाहर आते ही मेरे कदम डगमगाने लगे… जैसे तैसे मै बिस्तर पर आकर लेट गई।मैंने आदित्य से कहा- आदित्य, ये तुमने मुझे कोन सी टेबलेट खिला दी… मेरा सर बहुत भारी हो रहा है. मेरा रूम उनके बाजू में ही था… रात को जब सामान पैक करने के बाद मैं बिस्तर पर लेटी, तभी आलोक आ गया।उस वक्त मैं नाइटी में थी… और जैसा आप लोगों को पता ही है कि मैं नाइटी के अंदर कुछ नहीं पहनती हूँ, जिस वजह से मेरा एक एक अंग गाउन में उभर रहा था।मैं और आलोक एक दूसरे को देख कर मुस्कुराने लगे… वह भी केवल हाफ पैंट में ही था.

अब मैडम ने मुझे अपने ऊपर से हटाया और वो सोफे पर बैठ गई, मैडम ने अपनी नाईट पैन्ट को उतार दिया, उन्होंने अंदर काली पेंटी पहनी हुई थी. और क्या उसकी तारीफ करूँ।फिर उसने मेरे कान में कहा- जो सामने होटल है ना. तभी अम्मा मुख्य द्वार की ओर जाती हुए बोली- माला, मुझे अब दूसरे घरों में भी काम करने जाना है इसलिए तुम यहाँ का काम निपटा दो और साहिब से पूछ कर उनकी कोई ज़रूरत हो तो उसे पूरा कर देना.

छोटे बच्चे के सेक्सी

भाभी थोड़ी पीछे हुई और चूतड़ हिलाते हुए मेरे हाथ पकड़ कर अपने चुचों पर रख दिये।मैं उनके चुचे दबाते हुए उनके गालों को चूमने लगा. लड़की दोनों हाथों से अपने मम्मे छुपाने की चेष्टा करती है लेकिन वो उसे रोक नहीं पाती और वो आदमी उसकी चूचियाँ चूसने लगता है. आजा चूस ले।उसने मेरा हाथ अपनी चुची पर रखा तो मैंने मसल दी।उसने कहा- आउच आराम से दबा राजा!मैंने चुची की घुंडी मरोड़ी तो सिसिया दी- उफ़फ्फ़ आउच.

फिर अगले दिन उसका काल आया और पूछा- कब आ रहे हो मुझसे प्यार करने?मैंने कहा- जब भी आप इज़ाज़त दो, तब मैं हाज़िर हो जाऊँगा.

शराब का घूंट लेते हुए मेरी तरफ आगे बढ़ी और मुझसे बोली- अब तक कितनी लड़कियों को चोद चुके हो?इससे पहले मैं कुछ बोलता, ‘सॉरी यार! एक मिनट रूको.

चूसने में बहुत मज़ा आया।अब उसने भी रेस्पॉन्स देना शुरू कर दिया और हम बेड पेर लेट कर किस करने लगे। फिर मैंने उसके मम्मों को कपड़ों के ऊपर से ही दबाने स्टार्ट किए तो वो सीत्कार करने लगी।मैं समझ गया कि उसको मज़ा आ रहा है और जब मैंने उसकी गर्दन के पीछे किस किया तो वो और ज्यादा मचलने लगी।तक़रीबन 10 मिनट तक हम किसिंग करते रहे। फिर मैंने उसका कुर्ता उतारा और ब्रा भी उतार दी।वउओ क्या ठोस चूचे थे. चूत के अन्दर एंड्रयू के साथ-2 स्वान के लंड की डबल डोज पाते ही मेरी नाजुक बीवी को आटे-दाल का भाव पता चल गया और वो कुतिया कि तरह मुंह खोल कर औंधे मुंह बिस्तर पर जा गिरी. केरल के बीएफस्नेहा इनके घर में इतनी धन दौलत है, इकलौती बहू है फिर क्या प्रॉब्लम है?’ मैंने चाय की चुस्की ली.

मैंने दूसरी तरफ अपना मुँह कर लिया लेकिन उसने लोअर में तानकर खड़े हुए लंड को देख लिया क्यूंकि लोअर बहुत ज्यादा उपर उठा हुआ साफ़ दिख रहा था. पढ़ाई लिखाई में शुरू से ही कमजोर रहा हूँ इस लिए दसवीं भी पास नहीं कर पाया. आंटी भी मेरा फेस अपनी नाभि पे रगड़ने लगी और बोली- आज तो तेरे मन की पूरी हो गई!मैं- आंटी, अभी मेरे मन की पूरी नहीं हुई, मुझे और भी बहुत सी चीज़ अच्छी लगती है.

सुनील की किस्मत कितनी अच्छी है।इसी तरह की बातें चल रही थीं कि मैंने देखा कि दुशाली का पल्लू नीचे गिर गया था। उसकी आँखें बंद थीं और उसके चुचे उसके ब्लाउज से बाहर निकल कर भागने की फिराक में लग रहे थे. ’ की आवाज गूँज रही थीं।संजू जैसे जन्नत में गोता खा रही थी। वो इस पोज में संजू लगभग 10 मिनट चुदी।अब वो थोड़ा थक गई थी तो वो बोली- बाबा अब मैं नीचे आऊंगी, आप मेरे ऊपर आकर चुदाई करो।इसके बाद संजना नीचे आ गई और गुप्ता जी उसके ऊपर लेट गए और जबरदस्त चुदाई करने लगे।चुदाई इतनी जबरदस्त थी कि मेरा पलंग भयंकर आवाज करने लगा। गुप्ता जी को निकला हुआ पेट संजना के पेट से टकरा रहा था.

अब हम एक दूसरे को चूमने लगे, अमिता से अब बर्दाश्त नहीं हो रहा था, वो चिल्लाने लगी- राज बुझा दो मेरी प्यास!मुझसे भी अब सहन करना मुश्किल था, मैंने भी अपना लंड उसकी चूत पर रखा और एक ही धक्के में आधा लंड उसकी प्यारी सी चूत में भर दिया.

मैंने भी उसकी चूत में अपना लंड चलाना शुरू किया तो पूरे कमरे में फच फ़च की आवाज़ आने लगी. वरुण बोला- भाभी, बस होने वाला है!तभी मैंने उससे कहा- पानी चुत के अंदर मत निकालना!तो बोला- ठीक है!वरुण मुझे और तेज़ चोदने लगा. इसका ज़्यादा सेवन जानलेवा होता है। आज तो तेरी गांड का अच्छे से चोदन कर सकूं इसलिए उनको दिया है, चल अब देर ना कर.

बीएफ पिक्चर इंग्लिश में सेक्सी जोर-जोर से करो।फिर मैंने धक्कों की स्पीड तेज की और पूरी स्पीड में सोनू को चोदने लगा। पूरा कमरा ‘छाप. तो वो मुझसे बोलीं- चुत में ही पानी छोड़ दिया।मैं हैरान होकर खड़ा हुआ तो देखा कि कन्डोम फट कर लंड के ऊपर चढ़ गया था और मेरा लंड पर भाभी की चुत का पानी लगा हुआ था। भाभी की चुत से मेरे लंड का पानी निकल रहा था।वो उठीं और उन्होंने अपनी सलवार उठा कर उससे अपनी चुत अन्दर तक साफ की और मेरे लंड को भी साफ़ करके भाभी बाथरूम में नहाने चली गईं।मैं अपने कपड़े पहन कर घर आ गया। उसके बाद भाभी को जब भी मौका मिलता है.

तुझे तो मेरे दोस्तों से मिलवाना पड़ेगा, तेरी जैसी गांडू बहुत कम हैं और ऐसी गांड को लंड हमेशा ढूँढते ही रहते हैं।उन्होंने मेरे से काम के पैसे भी नहीं लिए और चल दिए।दोस्तो, यह थी मेरी तीसरे अनुभव की गांड चुदाई की गे सेक्स स्टोरी।आगे आपसे शेयर करने को और भी बहुत सारे बातें हैं। आपको यह सच्ची घटना कैसी लगी। मुझे मेल कीजिए।[emailprotected]. सिंपल।गायत्री- तुम्हारी बात तुम ही जानो, मुझे तो अपना काम करने दो।गायत्री बड़बड़ाती हुई चली गई, फिर टीना सुमन को अपने रूम में ले गई।टीना- अरे क्या हुआ ऐसे मुँह क्यों फुला लिया तूने यार. उसके अगले दिन रात के करीब 2:30 बज रहे थे और मुझे बहुत ज़ोर से पेशाब लगी तो मैं पेशाब करने उठा और जब मैं वापस आया तो मेरी नज़र मैडम के रूम की तरफ चली गई.

తమిళ్ సెక్స్ బ్లూ ఫిలిం

’ कर रही थी। फिर मुझसे भी कण्ट्रोल नहीं हो रहा था तो मैंने वापिस दो झटकों में पूरा केला अन्दर पेल दिया, पर इस बार वो ज्यादा नहीं चिल्लाई।फिर मैंने उसे 10 मिनट तक चोदा और उसकी गांड में ही माल डाल दिया। इससे वो बहुत खुश हुई और मैं भी।फिर मैंने उसे 2 बार और चोदा।अब वो थक गई थी, मैं भी थक गया था। मैंने उसे पेनकिलर गोली खिलाई. ये तीन लोगों, दो पुरुष+एक स्त्री द्वारा सामूहिक चुदाई की सबसे प्रचलित शैली है. 30 बज गए थे।हिम्मत मेरे रूम में आया, उसके हाथ में मोबाइल भी था जिसमें मेरी और बिमलेश की चुदाई रिकॉर्ड थी, मुझे दिखाते हुए बोला- गुड़ यार, बहुत मस्त चुदाई की है… देखो चूत से कितना पानी निकला है! आज बिमलेश भी खुश है और मैं भी, चलो तैयार हो जाओ शाम होने को है 5.

!’अब उसने अपने दोनों हाथ मेरे टॉप के अन्दर डाल दिए और मेरी ब्रा को नीचे सरका कर जोरों से मेरे मम्मों को भंभोड़ने और दबाने लगा।इधर मेरी चुत में गुदगुदी होने लगी. मगर मेरे एक गाँव वाले ने मुझे गुड़गाँव के एक बहुत बड़ी सोसाइटी में चौकीदार की नौकरी के लिए सिफ़ारिश करवा कर मेरी नौकरी का जुगाड़ कर दिया.

एक मिनट में फिर मैंने झटके देने चालु किये, मौसी भी चूतड़ उठा उठा कर मेरा जवाब दे रही थी और बड़बड़ा रही थी- हाय मेरे राजा, आज तूने मुझे जन्नत का मजा दिया है… अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह अह्हह्हह्ह आज से जो तू कहे… तुझे मिलेगा! मैं आज से तेरी गुलाम!ऐसी बात सुन कर मुझे जोश आ रहा था, मेरे झटके तेज हो रहे थे.

उनके बालों को आगे की ओर किया और पेट पर हाथ ले जाकर उनके पेटीकोट को उतार दिया।अब मैं उनकी पूरी गर्दन और पीठ को चाटने लगा। मेरे हाथ आगे होकर उनके स्तनों को सहला रहे थे। जैसे ही मैं अपना एक हाथ नीचे ले गया. 7-8 मिनट बाद वो झड़ गई, उसके पानी का स्पर्श होते ही मैं भी उसकी चूत में ही झड़ गया. मैंने झट से अपने कपड़े उतार दिए और सिर्फ़ अंडरवियर पर आ गया और सीधे भाभी की जाँघों पर बैठकर मालिश करने लगा.

एक दिन मैंने एक लड़की देखी जो काफ़ी खूबसूरत थी, फिर मैं उसे रोज देखने लगा और वो रोजाना तलवाड़ा से मुकेरियाँ जाती थी. ले तेरी घोड़ी तैयार है आजा चढ़ जा!काका खड़ा हुआ और मोना के पीछे जाकर लंड को चुत पे सैट किया फिर मोना की कमर को कस के पकड़ के एक जोरदार धक्का मारा तो पूरा लंड एक हे बार में मोना की चुत में जड़ तक समा गया।मोना- आआईइ काका मार डाला रे. चलो उधर आपके लिए दूसरा गर्म सीन भी तैयार है।दोपहर को तो संजय सो गया था मगर पूजा की नादान जवानी उसे रात को कहाँ सोने देने वाली थी।सबके सो जाने के बाद कमरे में वो दोनों बैठे हुए थे।पूजा- मामू अभी तो आपके सर में दर्द नहीं है ना?संजय- नहीं मेरी जान.

अनिल ने होटल ऑनलाइन ही बुक किये थे तो हमें जाते ही वहाँ तीन कमरे मिल गए।हमने अपने अपने कमरे चुन लिए.

बिहारी सेक्सी बीएफ फिल्म: उसके बारे में भी बता दूँ, वो बहुत खूबसूरत है, क्लास के सभी लड़के उस पर मरते थे पर किरण किसी को भाव नहीं देती थी. मुझे गांड चटवाने में बहुत अच्छा लग रहा था, मैं दोनों का सर पकड़ कर अपनी चूत और गांड पर दबाने लगी.

धीरे धीरे हम लोग पक्की सहेलियाँ बन गईं और सेक्स की बातें करने लगीं. अभी तक मेरी हिन्दी गे स्टोरी में आपने पढ़ा…अचानक से वो दोनों हंसने लगे, एक ने कहा- भागती कहाँ है जाने-मन… थोड़ा सा प्यार हमें भी दे दे!मैं हैरान रह गया ‘ये दोनों कौन हैं और क्या कह रहे हैं?’तभी दूसरा बोला- डरती क्यूं है साली रंडी… सुबह तो बड़े मज़े से किसी लौंडे की फ्रेंची को चाट रही थी. आप और रानी भाभी उसी के बेडरूम में चुदाई करना पूरे दो घंटे! मैं बाहर आँगन में बैठ कर चौकीदारी करती रहूँगी, मान लो कोई आ भी गया तो एकदम से भीतर आ नहीं पायेगा, हमें संभलने का मौका मिलेगा.

तभी मैंने उसके होंठों पे तीन चार लगातार किस कर दिए और प्यार से बोला- ओये होए मेरी जान, सब झेलने का पक्का मन बना कर आई है डार्लिंग!इस तरह हम कुछ देर बातें करते रहे और बीच में मैंने चाय का आर्डर दे दिया था, कुछ ही देर मैं चाय आ गई.

अब दोनों ने भी उनकी जगह बदल ली, अब परीक्षित मेरी चूत को चोदने आ गए और चिंटू रानी की चूत को. की नंगी तस्वीर भेजो… जैसी मांग करते हैं। कोई माँ बहन के बारे में अनाप-शनाप बोलते हैं। यार अगर कुछ लेखक रिश्तों को तार-तार करते भी हैं तो क्या सबको एक ही तराजू में तौलना सही होगा? हमारा भी घर परिवार है. गोद में ही बैठना था तो हमारी गोद में कौन से कांटे लगे थे।मैंने ऊपर से ही चिढ़ते हुए कहा- चुप रहो नहीं तो ठीक नहीं होगा।वैसे मेरे मन में उसकी बातों को सुनकर थोड़ी खुशी की लहर पैदा हुई थी क्योंकि कोई भी किशोरी जल्द से जल्द जवान होना चाहती है और उसकी बातों ने मुझे जवानी का अहसास कराया था।फिर वो बड़बड़ाया कि हम तो चुप ही हैं.