एक्स एक्स एक्स बीएफ सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,नेपाली सेक्स वीडियो देहाती

तस्वीर का शीर्षक ,

भारतीय वीडियो बीएफ: एक्स एक्स एक्स बीएफ सेक्सी बीएफ, इस वजह से उसने पूछा- अच्छा तो मुझे भी बताओ कि तुमको कैसी लड़की पसंद है?मैंने फट से बोल दिया कि बिल्कुल तुम्हारे जैसी.

हिंदी विलेज सेक्स वीडियो

पांच मिनट के सम्भोग के बाद अचानक कुत्ता पलट गया और दोनों पीछे से चिपक गए. एचडी सेक्स हिंदीशादीशुदा भाभी की कुंवारी चूत चोदन कहानी पर आप अपने विचारों से मुझे अवगत कराएं.

वर्षा तुम्हें नहीं पता, मैंने उसके लिए क्या क्या नहीं किया वर्षा … पर उसे तो मेरी शक्ल भी पसन्द नहीं थी. एचडी वीडियो सेक्सी हिंदीपर जब तू निराश होके जाने लगी, तब तेरी ये प्यारी उठी हुई जीन्स में गांड देखी, तो मेरे दिल ने मुझे कहा कि माया निराश हुई, तो कोई बात नहीं मना लूंगा.

उसने मेरे लहंगे को पूरा पीछे से कमर तक चढ़ाकर मेरे ऊपर लगभग चढ़ गया.एक्स एक्स एक्स बीएफ सेक्सी बीएफ: मेरी झक्की खुल गई और मैं बेसाख्ता बोलने लगा- ओह तुम … यार बड़ी मस्त आवाज़ है तेरी … एकदम एकदम गांड फाड़ दी.

फिर वो बिस्तर पर सीधी लेट गईं और मैंने उनकी दोनों टांगें अपने कन्धों पर रखकर उनकी चूत मारनी शुरू की.मैंने फिर दोनों को बेड किनारे पर पीठ के बल लेटाया और दोनों के पैरों को उनके पेट से चिपका के थोड़ा फैला दिया.

देसी सेक्स सेक्स - एक्स एक्स एक्स बीएफ सेक्सी बीएफ

राहुल ने झट से मुझे जमीन पर बिछे गद्दे पर गिरा दिया और मेरे ऊपर आ गए.फिर थोड़ा सा खींच कर एक जोर का धक्का मारा और मेरा लंड उसकी उसकी चूत में जड़ तक समा गया.

अभी मेरा आधा ही लंड अन्दर घुसा था कि सीमा आंटी दर्द से करहाने लगीं. एक्स एक्स एक्स बीएफ सेक्सी बीएफ तभी उसने मेरे मुँह को जिस हाथ से दबाया हुआ था, जिससे मैं चिल्लाऊं नहीं … उस हाथ को मुँह से हटा लिया.

फिर अंत में जब उससे नहीं रहा गया तो उसने मेरे सर को पकड़ लिया और जोर से अपनी चूत पर दबाने लगी.

एक्स एक्स एक्स बीएफ सेक्सी बीएफ?

मैं सोच रही थी कि अगर वह बच्चों के स्कूल में जाने के बाद आए तो ज्यादा सही रहेगा क्योंकि मेरी सास को तो वैसे भी कुछ दिखाई नहीं देता है. हर वक्त मैं इसी बात को लेकर परेशान रहने लगा था कि आखिर इस समस्या का इलाज हो तो हो कैसे. अब आगे:माँ के रिश्ते के बारे में सब कुछ पता चलने के बाद मैं पूरी तरह से उत्तेजित हो गया था और कहा कि मैं भी हर रोज घर आने से पहले यहाँ मुठ मारने आता था।मम्मी ने मुझे देखा और कहा- मुझे पता था कि तुम हमारे रिश्ते को जल्द से जल्द समझ जाओगे और हम लोग इसके लिए तैयार थे।यह सुनकर मैंने खुद को समझाया कि करण के साथ चुदाई के बाद माँ एक असली चुदक्कड़ हो गई है.

उस दिन मेरे मन में लड्डू फूटने लगे थे और मैं ख़ुशी से उसकी चुदाई के सपने देखने लगा. इस बार मैं उस जगह बैठ गई थी, जिधर से मुझे अपनी मम्मी की हरकतें दिखने वाली थीं. रास्ते में पहले तीन लोग कार में, दो मॉल में और फिर स्टोर से बंगले पहुंचने में एक.

आज पहली बार मैंने मुँह में किसी का माल पिया था, मुझे इस वक्त थक जाने के कारण भूख लग आई थी. ठंड इतनी अधिक थी कि मुझसे रहा नहीं गया और मैंने अपनी दोनों सहेलियों को कहा कि मैं आग तापने जा रही हूँ. वो बोली- ये क्या कर रहा है?लेकिन मैं नहीं माना और चूत चुसाई करता गया.

उसके इतना कहते ही वाणी उठी और वहीं लगी अलमारी में से एक डिल्डो वाली बेल्ट निकाल कर पहन ली. अब आगे:फिर जब सर पूरी तरह से शांत हो गए तब उन्होंने हम दोनों को घर जाने के लिए बोल दिया।जब हम लोग स्कूल से कुछ दूर अपने गाँव की ओर चले आए तब पिंकी ने मुझे गाली देना शुरू कर दिया.

वैसे तो मेरी कई गर्लफ्रेंड भी रह चुकी हैं लेकिन मैंने काफी दिनों से सेक्स नहीं किया था इसलिए मैं जल्दी ही झड़ भी गया था.

मैं बोली- नहीं रामू प्लीज़ कोई बात नहीं है … मैं तो रोज ही अपने बदन में ऐसे तेल लगाती हूँ.

भाभी की चूत चुदाई कहानी के पिछले भागपड़ोसन भाभी के साथ सेक्स एंड लव-2में आपने पढ़ा था कि मैंने नैना को एक बार चोद दिया था और वो मेरे बाजू में लेटी हुई थी. मिसेज रॉय की हरकत के बाद उनके चेहरे पर कुछ सवाल उभर आए थे, जो मैंने पढ़ लिए थे. मेरा भाई उसको पहले से जानता था, इसलिए जल्दी ही हमारी फाइल वहां पर लग गई। हम अपनी फाइल निकलवाकर अपने नम्बर का इंतज़ार करने लगे।जब हमार नम्बर आया तो मैं और मेरा भाई अंदर चले गये.

वो मेरा सब माल पी गयी और कहने लगी- इतनी जल्दी कोई झड़ता है क्या?मैंने कहा- अब इतनी हॉट माल सामने हो तो उसके सम्मान में तो कोई भी झड़ जाएगा. मैं खुद में बहुत गर्म हो गयी थी और मन में लिंग योनि में घुसाता निकलता दिखने लगा था. फिर उसने नज़रें नीचे की और फिर बोलने लगा- एक बात और कहूंगा, शायद आपको अच्छी ना लगे … काश कि आप मेरी फूफी ना होतीं.

वो भाग कर मेरे पास आया और बोला- अरे मुझे बोल दिया होता, मैं बैठा था न … आपको अकेली को आने की क्या जरूरत थी.

जैसे-जैसे मैं भाभी की चूत में धक्के लगा रहा था, उसी रफ्तार से भाभी की चूचियां उनकी छाती पर ज़ोर-ज़ोर से हिल रही थी. गीता जोर जोर से खुद आगे पीछे होने लगी और चिल्लाने लगी- आह आह हा हा हा इस्स्स्स माँ बचा ले … मुझे इन चोदुओं से. उसने अपनी चूत पर हाथ रखा हुआ था, वहां मेरा लंड लगा, तो वो हड़बड़ा गई.

क्या हुआ मेरे सील तोड़ राजा … थक गए क्या … अभी तो रात बाकी है न … हेहेहै …”अरे मेरी मिष्टी डोई … मैंने आज तक तेरी जैसी गुद गुद औरत नहीं देखी … तुझे चोद कर परम आनन्द आ गया. मगर जिस तरह से वह मेरे बदन के साथ खेल रहा था वह मुझे कच्चा खिलाड़ी नहीं लग रहा था. थोड़ा बहुत उनके यहां जाना और मिलना जुलना भी था, पर वैसा और लड़कियों के साथ भी था.

कुछ देर बाद मैंने देखा कि पापा ने बहुत जोर से मम्मी को चोदना शुरू किया और लंड को जोर-जोर से अंदर घुसा कर मम्मी से चिपक गए.

उसने मेरे सिर को पकड़ लिया और अपने लंड को मेरे मुंह में घुसा दिया और मेरे मुंह को चोदना शुरू कर दिया. कुछ घंटे बाद बारिश बंद हुई, मैं बाज़ार गया और सलहज के लिए एक स्वेटर खरीद लाया और साथ में एक ब्रा भी ले आया.

एक्स एक्स एक्स बीएफ सेक्सी बीएफ आप ही सोचिये अगर आपको चार दिन खाने को ना मिले, तो आपकी हालत कैसी होगी?पापा बोले- तुम कहना क्या चाहती हो? मैं भूख से पागल हो जाऊंगा और क्या?मम्मी बोली- मेरी बच्ची की भी हालत ऐसी है, आप समझ रहे हैं ना, उसकी शादी कर दो, सब ठीक हो जाएगा, घर की लक्ष्मी को कोई जानवरों तरह पीटता है क्या? वो तो अभी नादान नासमझ है. हिम्मत करके मैंने फिर से प्रिया के सॉफ्ट बालों में हाथ घुमाया, तो उसकी नशे के मारे आंखें बंद हो गईं.

एक्स एक्स एक्स बीएफ सेक्सी बीएफ जब वो यहाँ गांव आते हैं तब उनके लंड पर बैठकर खेलती हूँ।मेरी देवर भाभी सेक्स की इस कहानी के बारे में आप अपने विचार मुझे मेल आई-डी पर भेज सकते हैं। आपकी प्यारी भाभी।[emailprotected]. उनकी सूखी चूत में मेरे लंड ने अपने रस की बारिश की और भाभी ने मुझे अपने सीने से लगा कर मेरे लंड के रस एक एक बूंद को आत्मसात कर लिया.

वैसे हमारी वॉट्सएप्प पर रोज बातें होती थीं और हम खुल कर सम्भोग संबंधी बातें भी करते थे.

सेक्सी वाले

बाद में रात को जब मैंने उसको मैसेज किया कि कहीं मिलने का प्लान बनाते हैं. बड़ी लड़की बोली- अगर माँ और बाबूजी हां कर देते हैं, तो हम दोनों बहनों को कोई परेशानी नहीं है. फिर जैसे उसने समझा कि उसके हाथ कहाँ हैं उसने तुरंत हाथ हटा कर अपनी आँखों को हाथों से बंद कर लिया.

एक दो बार तो ऐसा तक हुआ कि उसने दोस्त के नीचे लेटे हुए ही मेरा नाम लेकर जोक करना शुरू कर दिया ताकि मेरी झांटें सुलगा सके. तो दोस्तो, आपको बता दूँ कि बीच में जो एक हफ्ते का गैप बात करने के लिए मिला था, उसमें हम दोनों को एक दूसरे से प्यार हो गया था. तो तुम्हारा क्या हाल होगा? और पहली पहली बार है, तो थोड़ा दर्द तो होगा ही ना, अभी थोड़ी देर में कहोगी कि जोर जोर से मारो, धीरे धीरे में मजा नहीं आ रहा.

पता नहीं मुझे उन्हें देख क्या हुआ कि मेरे अन्दर भी हल्का हल्का कुछ शुरू हो गया.

इसके बाद तीसरे आदमी ने मेरी जानू की दोनों चुचियों को जमकर दबाया और चूसा. ”तुम्हारे जैसी खूबसूरत लड़की को ऐसे ही सड़क पर कैसे छोड़ कर जा सकता हूँ … या तो तुम बताओ कहाँ जाओगी या फिर मेरे साथ चलो … मुझे कोई परेशानी नहीं होगी. तो फ्रेंड्स मेरी ये सच्ची घटना आपको कैसी लगी, प्लीज़ मुझे कमेंट करके जरूर बताना.

उसको गुदगुदी होने लगी, तो मैंने उसको डॉगी स्टाइल में खड़ा किया और पीछे से उसकी गांड में सुपारा लगा दिया. इस बार वो चिंहुक गईं, पर इस बार उन्होंने मुझे रोका नहीं, उन्होंने दर्द को बर्दाश्त कर लिया. मेरे पूछने पर पता चला कि उसकी तरह उसकी चूत भी अभी तक कुंवारी थी … जिसका उद्घाटन करने का सौभाग्य मुझे मिल रहा था.

उस आदमी ने तुरंत जेब से अपने 500 का नोट निकाला और मेरे हाथ में रख दिया. पता बताने की बजाय उसने मुझे मंडी हाउस के मैट्रो स्टेशन पर आने के लिए कह दिया.

तभी मंजू रोटियां लेकर आ गयी और मुझे लौड़ा सहलाते देख अचरज में पड़ गई. वैसे एक बात बोलूँ, आप हो बहुत बेदर्द इंसान, लेकिन आपकी ये बेदर्दी और नशे से भरा जोश मुझे बहुत पसंद आया. मैंने भी ऐसा ही कुछ करने का डिसाइड किया कि इस बार एक ही बार में पूरा घुसा दूंगी.

इशारा समझकर प्रशांत ने अपना अंडरवियर ही नहीं बल्कि बनियान को भी निकाल फेंका.

सभी लंड धारकों को टाइम पर चूत और सभी चुतवालियों को समय पर लंड मिल रहा होगा. जब मैंने लंड को उसकी गांड से बाहर निकाला तो माल के साथ-साथ थोड़ा खून भी लगा हुआ था मेरे लंड पर. उसके बेडरूम से होते हुए, वो मुझे किचन तक ले गयी और इधर-उधर देखने लगी.

मैंने अपना हाथ सोनू की स्कर्ट से अंदर डाल कर पहले उसके चूतड़ों पर फिराया और कुछ देर चूतड़ों पर हाथ फिराने के बाद मैंने सोनू को सीधा किया और उसकी चूचियां पीने लगा. ऐसे ही एक दिन नहाने के बाद भाभी ने ब्रा और पेंटी पहनी और फिर पेटीकोट व ब्लाउज पहनकर साड़ी लपेट रही थी तो मुझसे से कंट्रोल नहीं हुआ और मैं रूम में अंदर चला गया.

ऐसे में उसका लंड भी मेरी चुदक्कड़ बीवी नीना के हाथों का खिलौना बन चुका था. इतने में उसने मुझे पीछे हाथ करके रुकने के लिए बोला, मुझे समझ नहीं आया, पर मैं रुक गया. ज़रीना ने मेरे बाल पकड़ कर मुझे उसके ऊपर कर लिया और बोली- आमिर मुझे चोदो, आज मेरी चूत को फाड़ दो, मुझे अपना बना लो.

सेक्सी भोजपुरी आर्केस्ट्रा वीडियो

क्या कमी रह गयी थी … इस साली कुतिया की परवरिश में!मैं दर्द से अधमरी हो गई थी.

एक बार उसने मेरी गर्ल फ्रेंड को लेकर मेरे इंटीमेट रिश्तों के बारे में पूछना शुरू कर दिया. उसने मेरा हाथ पकड़ के मुझे अपने पास खींच लिया, जैसे उसने हाथ पकड़ा. उसने बोला- आमिर, मेरे भी दिल में दबी दबी ख्वाहिश थी कि काश कभी हम आपस में चुदाई कर सकते.

इतना सुनकर मेरा लंड अचानक खड़ा हो गया, मेरे लिए ये अजीब और नया अहसास था. मैं भी रंजना दीदी के दूधों को जोर जोर से दबाने लगी और रंजना दीदी के होंठों को भी चूमने लगी. इंडिया गेसिंगमैं फ़ालतू तो था ही, सो टाइम पास करने के लिए मुझे अखबार पढ़ना ठीक लग रहा था.

फ़िर उसके बाद कब तुमसे मुलाकात हो पता नहीं, इसलिये मैं जल्दी से मूड बनाना चाहती हूँ. प्रीति की बहन के ब्वॉयफ्रेंड ने भी मुझे बताया कि प्रीति आपसे ही नहीं, मोहल्ले के कई लड़कों को फंसा चुकी हैं और अपनी रातें रंगीन कर चुकी हैं.

उसकी कोई आपत्ति न पाकर मुझे हिम्मत आ गई और मैंने उसे अपनी तरफ घुमा लिया. मैंने अपना एक हाथ उसके ब्लाउज़ में डाला और दूसरा साड़ी के अन्दर डाला और एक साथ चुचे की घुंडी और चुत का दाना मसल दिया. देख मेरा अच्छा दामाद है न, प्लीज, सिर्फ एक बार चूत लंड का मिलन करवा दे, मुझ पर रहम कर.

अब उसकी चुच्ची चूसते हुए मैं उसकी चूत में तेज तेज उंगली अन्दर बाहर लगा. वैसा ही किया मैंने तो ये क्या हुआ, जो हिस्सा मेरे हाथ में था, वो देखते ही देखते मेरे हाथ से बाहर जाने लगा और भैया का लंड लोहे जैसा हो गया. मैंने कहा- अगर ठीक नहीं हुआ तो तुम्हारा क्या होगा?वह धीरे धीरे रोने लगी- वह मुझे मारता भी था.

पर आपसे कुछ पूछ लें?मैं बोली- हां पूछिए … मैं बुरा नहीं मानूंगी, ना कुछ गाली दूंगी.

वो पटेल का दोस्त भी थोड़ा मेरे सीने से उठा और मेरे कुर्ता को पेट से ऊपर करने लगा. मेरे लंड ने उसके गर्म मुंह में फिर से अपना वीर्य छोड़ना शुरू कर दिया.

लेकिन पिछली किस के कारण होठों में दर्द हो रहा था, पर मैं साहिल के लिए कुछ भी कर सकता था. इस तरह की आवाज अपने आप मेरे मुँह से निकल रही थीं कि अचानक से दरवाजा खुला और सोनम की मम्मी उसकी चाची और सामने वाली एक लेडीज सामने आके खड़ी हो गईं. मेरा दोस्त भी हंस हंस कर उसे चोदता था और मुझे आवाज देकर मजाक करता था.

टाइम देख कर उसने अपने कपड़े एकत्रित किये, अपने जिस्म को कपड़ों के अंदर पैक करना शुरू कर दिया. मेरे बड़े पापा के घर भी मेहमान आए हुए थे तो टेस्ट-रिपोर्ट करवाने हम लोग शाम के 7 पहुंच पाए. तभी उस नम्बर पर एक मैसेज आया- तुम मुझे बेचैन करके कहाँ गायब हो गए हो, तुम्हारा फोन भी स्विच ऑफ़ आता है.

एक्स एक्स एक्स बीएफ सेक्सी बीएफ तभी उसने एक तेज आह … भरते हुए अपने लंड का गर्म लावा मेरी फुद्दी के अन्दर ही छोड़ दिया. पटेल मेरी पेशाब का एक एक बूंद चाट कर पी गया और बोला- इसकी पेशाब बहुत मस्त है … ये साली बहुत बड़ी चुदक्कड़ है यार.

मिया खलिफा सेक्सी

मैंने अपनी बहन से कहा- बहन, मैं एक बार फिर से तुझे नंगी देखना चाहता हूँ. भाभी इस झटके के लिए तैयार नहीं थी, वह एकदम चिहुंक गई और आ … आ … आ … की आवाज़ से इकट्ठी हो गई. तभी वो उल्टा होकर मेरे कूल्हों को फैलाकर मेरी गांड में अपनी उंगली डालने लगा.

मैं बिल्कुल उछली जा रही थी, पीछे से गांड में लंड घुसाए हुए वो तीस साल वाला जोर से धक्का मार रहा था. मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया था, जिससे उसके लौड़े की चोटों से मेरी चूत से फचक फचक की आवाजें आने लगीं. मारवाड़ी सेक्सी वीडियो 2021पटेल मुझे बोला- चल तू भी हम लोगों के साथ भाग … आगे चल के कहीं तुझे चोदेंगे … तेरा भी काम हो जाएगा.

जब मुझसे रहा नहीं गया तो मेरे मन में पता नहीं क्या आया कि मैंने सीमा की चूचियों को दबाना शुरू कर दिया.

फिर वन्द्या की चूत से ख़ून क्यों निकल रहा है?तब अब्दुल बोला- अगर मेरे लंड से लड़की की चूत से खून नहीं निकले, तो क्या मतलब हुआ मेरे पठान होने का?मुझे बहुत असहनीय दर्द हुआ, पर अब्दुल को कोई फर्क नहीं पड़ा. मामी की चूत कई दिन से नहीं चुदी थी, सो वे जल्द से जल्द लंड को निगलना चाह रही थीं.

कहानी पर अपनी प्रतिक्रिया देने के लिए नीचे दी गई मेल आई-डी का प्रयोग करें. फिर उसने मेरी गर्दन पर किस किया और मैंने चूमते हुए उसको बेड पर लेटा लिया. अब हम दोनों पूरी तरह से गर्म हो चुके थे। उनका लण्ड मेरी चूत से रगड़ खा रहा था।राहुल ने अपना लण्ड मेरी चूत पर जोर-जोर से रगड़ना शुरू कर दिया और साथ ही मुझे प्यार करने लगे। कभी मेरी चूचियों को दबाते, कभी चूसते, कभी मेरे चूतड़ों को दबाते और सहलाते.

उसके जाते ही वाणी की वाणी मचलने लगी- भैनचोद … इतना गरम कर दिया है कि अब रहा ही नहीं जा रहा है.

मैं कुछ देर तक आराम से अपनी उंगली को शिल्पा की मखमली गांड के छेद में अन्दर बाहर करता रहा. फिर मैंने भी उनका झूठा पानी पीया।राहुल मुझे बोलने लगे- भाभी, आप कितनी अच्छी हो, मेरा कितना ख्याल रखती हो, और आप कितनी सुंदर हो. उसके बाद मैंने उससे कहा- आगे भी कुछ करना है या जाऊं?उसने कहा- तुम खुद ही सोच लो क्या करना है.

क्या बादाम सॉन्गउसने अपने जिम ट्रेनर से बोला कि मेरी कमर में कर्व आना चाहिए और बूब्स भी बड़े बड़े दिखने चाहिए. फिर मैंने उसके पैरों के बीच में जाकर उसकी गीली-गीली योनि पर अपनी जीभ रख दी और होंठों से उसको प्यार करने लगा.

ब्लू पिक्चर सेक्सी नंगी नंगी

प्रिया ने भी ऐसे किया और उसने मेरी जींस में से मेरी निक्कर में हाथ डाल कर मेरे नितंबों को ज़ोर ज़ोर से मसलना चालू कर दिया. थोड़ा बहुत उनके यहां जाना और मिलना जुलना भी था, पर वैसा और लड़कियों के साथ भी था. उसकी चूत ने थोड़ी ही देर में पानी छोड़ दिया, पर मेरा लंड अभी और बेकरार था, इसलिए मैंने चूत से लंड बाहर निकाल कर उसकी गांड में डाल दिया और पद्मा भी चूतड़ हिला हिला कर गांड मरवाने का मज़ा लेने लगी.

”उसकी बात सुन मैं उसकी तरफ घुमा और उसके चेहरे को देखा तो वो अब शांत थी और शायद अपनी बात पर शर्मिंदा भी थी- इट्स ओके … पर हुआ क्या जो इतना गुस्सा आया है तुम्हें?ऐसा कुछ नहीं है … बस मेरा एक बॉयफ्रेंड है जो आज मेरे साथ मूवी देखने आने वाला था … पर देखो ना अब तक नहीं आया … जबकि उसने मुझे कहा था कि तुम थिएटर के अन्दर चलो, मैं दस मिनट तक आ जाऊँगा और अब उसका फ़ोन भी बंद आ रहा है. ”उसकी बात सुन मैं उसकी तरफ घुमा और उसके चेहरे को देखा तो वो अब शांत थी और शायद अपनी बात पर शर्मिंदा भी थी- इट्स ओके … पर हुआ क्या जो इतना गुस्सा आया है तुम्हें?ऐसा कुछ नहीं है … बस मेरा एक बॉयफ्रेंड है जो आज मेरे साथ मूवी देखने आने वाला था … पर देखो ना अब तक नहीं आया … जबकि उसने मुझे कहा था कि तुम थिएटर के अन्दर चलो, मैं दस मिनट तक आ जाऊँगा और अब उसका फ़ोन भी बंद आ रहा है. राधिका आंटी ने उसमें से कुछ रस पी लिया और कुछ रस अपने दूधों पर डालकर फैलाने लगी.

इस वक्त भी मुझे इतना जम के गर्मी और करवाने घुसवाने का मन हो रहा था कि जल्दी से बस कोई लंड डाल दे और रगड़ कर चुदाई करे. मेरे लंड की पिचकारी निकलने को हुई, मैंने उसके मुँह से लंड बाहर खींचने का प्रयास किया. कुछ देर बाद ऊपर से धक्के लगाती हुई नैना अब थकने लगी थी, तो मैंने भी नीचे से धक्के लगाने शुरू कर दिए.

पापा बोले- अभी समझाता हूं … रुक छिनाल कहीं की, अभी तेरी आदत गई नहीं और अब तो घर पर बुलाने लगी है, रुक अभी देखता हूँ. फिर सबसे मिला नमस्ते किया, सबने मेरा स्वागत बड़े ही अच्छे तरीके से किया.

मेरी इस इच्छा पर उसने मुझसे बोला कि ठीक है, वो मेरे लिए एक लंड की जुगाड़ करवा देगी.

’‘सिर्फ चूत? तेरे होंठों और गांड को मेरा लौड़ा याद नहीं आता?’‘मेरे हर अंग को तू याद आता है. सेक्सी वीडियो शिल्पाउसकी साँसों से मैं बता सकता था कि वो बहुत ही ज्यादा गर्म हो चुकी है।थोड़ी ही देर में वो नीचे जाने के लिए उठी। मैं भी उसको उठता देखकर उसके पीछे जाने लगा। अभी भी बिजली नहीं आयी थी और नीचे जाने वाली सीढ़ियों पर बहुत अंधेरा था। वह सीढ़ियों से नीचे उतरने लगी. सेक्सी एचडी पंजाबीमैंने उन्हें बता दिया कि मैं तो बाहर जा रहा हूँ और वहीं से खाकर आऊंगा. वो मेरी चूची को अपने लंड से चोद रहा था, तो उसके लंड का पानी मेरी चूची में लग रहा था.

मैंने धीरे-धीरे उसकी गांड को सहलाया और धीरे-धीरे उसका लोअर नीचे की ओर सरकाने लगा.

उसका लंड काला था और मोटा था और मुझे उसके लंड से चुदवाने में एक अलग सा मजा आ रहा था. बस 5-7 मिनट उसकी गांड मारने के बाद मैंने लंड उसकी चूत में घुसा दिया और 20 मिनट तक उसको चोदता रहा. उस वक्त मैंने मेरे भैया को नहीं, जैसे किसी और आदमी को भैया में महसूस किया.

तभी उसने अपना लंड मेरी चूत से बाहर निकाला और मेरी चूत को चाटने लगा. मामी बोलीं- जाओ तुम भी सामने वाले कमरे में सो जाओ, काफी रात हो गई है. अब आगे:वे दोनों अपने अनुभव का फायदा उठा कर मुझे तृप्त करने में लगी हुई थीं.

रामगढ़ सेक्सी

तभी प्रमिला ने बोला- ओ मेरे घोड़े … गांड में लिए बहुत दिन हो गए हैं. निहारिका के साथ हुई नई घटनाओं की जानकारी मैं आपको समय-समय पर देता रहूंगा. शाम को करीब छह बजे मेरी आँख खुली, मैंने थोड़ा हाँथ-मुँह धोया और बाहर चाय पीने के लिए निकला.

वो 3-4 महीनों में सिर्फ 5-6 दिनों के लिए आते हैं फिर चले जाते हैं तो मेरी चूत में खुजली होने लगती है इसीलिए आज तू मुझे खूब अच्छी तरह से चोद कर मुझे खुश कर दे.

मुझे उसकी ये सब बातें सुनाई तो दे रही थीं, पर मेरी समझ में कुछ नहीं आ रहा था … क्योंकि एक तो मैं नशे में थी, ऊपर से निक और नामित मुझे इस तरह चाट और मसल रहे थे कि उनकी वजह से मैं कामवासना में डूबती जा रही थी.

वर्षा ने पास में ही पड़ी मम्मी की साड़ी से मेरी दिख रही गांड को ढक दिया. पहले दिन तो उसने मुझसे ज्यादा कुछ नहीं पूछा, लेकिन उसके तेवर बता रहे थे कि वो हम दोनों की चुदाई की कहानी पूरी तफ्सील से सुनना चाहती है. 1 ते 10 घनफिर मैंने धीरे से लंड के अगले भाग को हल्का से गांड में पुश किया, लंड थोड़ा सा अन्दर चला गया.

उन्होंने मुझे अपनी बांहों में जकड़ा तो मुझे उनके लंड की सख्ती महसूस हुई. राजिंदर मेरी गांड मार रहा था और उपिंदर लंड चुसवा रहा था और दोनों बातें कर रहे थे. जब काफी देर हमने आपस में प्यार कर लिया और सोनू उत्तेजित हो गई तो मैंने सोनू से कहा- सोनू, जरा नीचे हाथ लगा लूं.

मुझे अभी भी लंड के सिवा कुछ नहीं सूझ रहा था, क्योंकि मैंने अभी जस्ट आधी अधूरी चुदाई करवाई थी. लता भाभी के हाथ मेरे लंड तक पहुंच गए, उन्होंने कहा- राज आपने तो मेरा सब कुछ देख लिया, अपना हथियार तो दिखाओ.

इसके अलावा भी कुछ किस्से हैं, जिन्हें मैं समय मिलने पर आप सब से शेयर करूँगा.

उसने मुझे टॉवेल दिया और चली गयी फिर मैं भी उसके नाम की मुठ मार के बाहर आ गया और ऐसे बर्ताव किया मानो कुछ हुआ ही नहीं. मैं अन्तर्वासना की अधिकतर कहानियाँ पढ़ चुका हूँ। हर बार एक दर्शक की तरह इन कहानियों का आनंद उठाता रहता हूँ। लेकिन इस बार मैंने मेरी ज़िंदगी की एक सच्ची कहानी आपको बताने की कोशिश की है. मुझे ऐसा लग रहा था कि उसे मर्दों की छाती से कुछ ज्यादा ही प्यार था.

सिर्फ सेक्सी मूवी घर पर आकर मैंने कपड़े बदले और हॉल में सोफे पर आकर बैठ गया तो मेरी नज़रों के सामने राधिका आंटी की दिनभर की हरकतें आने लगीं और मैं उत्तेजित होने लगा. बियर कुछ ज्यादा ही तेज थी, जिससे मुझे मजा आने लगा और इस वक्त न जाने क्यों मुझे चुदास सी चढ़ने लगी थी.

गीता बहुत खुश थी और फ़िर उसने दोनों खाली बोतल एक तरफ़ रख कर वापस शॉवर के नीचे मुझसे आ कर लिपट गयी. थोड़ी देर बाद उसकी चूत ने हार मान ली और सीटी की आवाज़ से पानी छोड़ दिया. थोड़ी देर बाद मम्मी को मुझ पर दया आई, तो मेरे पास आकर बोलीं- चल कुछ नहीं होगा, तू घबरा मत, पढ़ाई में ध्यान दे.

किन्नर किन्नर की सेक्सी

मैंने भी उसे किस करते हुए कहा कि मुझे भी तुम्हारे साथ बहुत अच्छा लगा और किस्मत ने मिलाया तो हम दोनों जरूर मिलेंगे. मैं हाँफ रहा था और कोमल ने मेरे सारे वीर्य को अपने अंदर गटक लिया था. अब मेरा सब्र भी खत्म हो गया और समझदारी से काम लेते हुए मैं वापस मेट्रो स्टेशन की तरफ जाने लगा.

जब उनकी ओर से कोई हरकत नहीं हुई तो मैंने अपना हाथ उनके मम्मों की ओर बढ़ाया लेकिन उन्होंने मेरा हाथ पर अपना हाथ रख दिया, मेरी तो जैसे जान ही निकल गयी. मैं भी एकता की चुत पर थूक लगा कर अपना औजार को छेद के अन्दर डालने लगा.

एक दिन की बात है जब मेरे चाचा-चाची दोनों ही किसी काम के सिलसिले में बाहर गए हुए थे.

नशे के साथ-साथ मेरी हवस बढ़ती जा रही थी और मैं अपनी लुंगी में एक हाथ डालकर अपने टनटनाए लौड़े को सहला रहा था. मैं समझ चुकी थी कि अब मेरी चाहतों को ये ही पूरा कर सकता है, जो एक महीने पहले ना हो पाया, आज उसे होने देना चाहिए. थोड़ी देर बाद भाभी की वासना फिर भड़क गई और मुझे बोली- राज! ज़रा ज़ोर-ज़ोर से तेज़-तेज़ करो, बहुत ही मज़ा आ रहा है.

आंटी की बड़ी सी गोल-मटोल गांड और उसके बीच में प्यारी सी छोटे-छोटे बालों वाली चूत दोनों ही चमक रही थीं. इतने में वहां दुकान के दो नौकर मेरे पास आकर बोले- मैडम आपको कोई प्रॉब्लम है क्या?मैं उनकी तरफ देखने लगी, पर अभी मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था. मैंने अब नीरू बहन का टॉप ऊपर से फाड़ कर निकाल दिया और उसकी नंगी चूचियों को अपने मुँह में भरकर पीने लगा.

मैं उसे गोद में बिठा कर उसकी दोनों चुचियों को नाइटी के ऊपर से मसल मसल कर दबा रहा था.

एक्स एक्स एक्स बीएफ सेक्सी बीएफ: अब चीखने की बारी वाणी की थी ‘आह मर गयी … ये इतना टाइट क्यों जा रहा है?’तो गीता ने कुछ बोलने की जगह डिल्डो खींचा और छोड़ दिया. इस सबमें लगभग 20 मिनट तक मुझे चुदाई के पहले की धुआंधार गर्म करने के खेल में मेरा पानी छूट गया.

सलोनी- अच्छा क्या है उसकी इच्छा?मैं- आपको नहीं पता?मैंने शरारती लहज़े में मुस्कुराते हुए पूछा।सलोनी- जी नहीं, मुझे क्या पता. मैं मन ही मन आंटी के चूचों को दबाने और उनकी चूत को चोदने के ख्याली पुलाव पकाने लग गया था. जैसे ही कमर से नीचे खिसकाया, उसका बहुत कड़क लंबा हिलता हुआ लौड़ा मेरी आंखों के सामने आ गया.

मैं एक बार फिर मायूस सी होकर उठी और आन्सर शीट वहीं छोड़ कर ऑफिस के बाहर चली आई.

मैंने उसकी गांड की दोनों तरफ से उसको पकड़ लिया और उसको ऊपर नीचे होने में उसकी मदद करने लगा. अब तो मैं वासना के अंतिम छोर में पहुंच गई थी और रोके से भी मेरी सिसकारियां नहीं रुक रही थीं. शौहर के जाने के बाद मुझे बहुत दिनों के बाद मेरे हाथों ने लंड को छुआ था.