ब्लू सेक्सी बीएफ बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो फिल्म भेजो

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू फिल्म इंग्लिश बीएफ: ब्लू सेक्सी बीएफ बीएफ, फिर मैंने उनसे पूछा कि आपकी तो शादी से पहले बहुत गर्लफ्रेंड्स रही होंगी, आप भी अच्छे दिखते हो.

कॉलेज की लड़कियों के फोटो

मैंने देखा कि अंकल अभी सिर्फ़ बरमूदा में थे, उन्होंने ऊपर कुछ नहीं पहना था. कनाडा सेक्सी वीडियोमैंने कहा- लेकिन बिना कंडोम के क्यों?मीनू बोली- मैंने बहुत दिनों से लंड नहीं लिया है.

पर तभी मुझे याद आया कि अब मैं भारत में नहीं, बल्कि मेक्सिको में हूँ और इस देश के अपने अलग रीति रिवाज हैं. सेक्सी पिक्चर नई सेक्सीमुझे भी रुचि के रूप में अपने ही घर में मेरे लिए एक नया मनोरंजन का साधन मिल गया था.

महेश ने नीलम की साड़ी को पीछे से उसके चूतड़ों तक उठाया और उसकी कमर को पकड़ कर अपना लंड नीलम की चूत में लगा कर निशाना सेट करने लगा.ब्लू सेक्सी बीएफ बीएफ: मैंने पति से बहाना बना दिया कि मेरी फ्रेंड प्रेग्नेंट है और उसके घरवाले किसी रिश्तेदार के अंतिम संस्कार पर गए हैं, तो मैं उसका ख्याल रखने जा रही हूँ.

पूरे गर्म होने के बाद हम मिशनरी पोजिशन में आ गए और मैंने अपना लन्ड तैयार कर लिया.सबका पहला पैग सॉलिड बनाया, फिर धीरे धीरे हम चारों ने सारी बोतल खाली कर दी.

तेरे नाल प्यार हो गया सोनिया - ब्लू सेक्सी बीएफ बीएफ

मैंने देखा तो वो उस पर आइसक्रीम लगा रही थी। अभी मैं कुछ समझता, तब तक मेरा आधा लंड उसके मुंह में था.उसने ऐसे ही चुदते हुए अपने मम्मों को मेरे मुँह में दे दिए और मैं उनको बारी बारी से चूसने लगा.

पर रास्ते भर मेरे दिमाग में एक ही बात चल रही थी कि इतनी सुंदर होने के बाद भी उनके पति उनके चोदते क्यों नहीं हैं. ब्लू सेक्सी बीएफ बीएफ मैंने उसे चोदते हुए कहा- वेरोनिका डार्लिंग … ये चुदाई की इंडियन स्टाइल है.

मैंने भी भाभी को सीधे लिटाया और अपना लंड हाथ में लेकर भाभी की दोनों टांगों के बीच में आ गया.

ब्लू सेक्सी बीएफ बीएफ?

शायद वो मेरे द्वारा की गई हरकत को भूल चुकी थी या फिर वो जान बूझ कर नॉर्मल व्यवहार कर रही थी ताकि मैं भी नॉर्मल हो जाऊं. वीना आंटी को भी चुदने में अब मज़ा आने लगा था- आ ह आह आह और जोर से वरुण … फाड़ दे मेरी ये चूत तू आज … साली बहुत तड़पाती है मुझे. वो बाहर से बोला- सर जल्दी कीजिए … बहुत देर हो गई है … हमें घर भी जाना है.

हम दोनों लोग आज भी जब भी मौका मिलता है तो हम दोनों लोग सेक्स करते हैं. मैं उसके ऊपर झुक गया और उसके मम्मों को चूसने लगा और तेज़ तेज़ उसकी चूत चोदने लगा. चूंकि हम दोनों ही पढ़े-लिखे थे इसलिए जानते थे कि कॉन्डम के साथ सेक्स करने में कोई खतरा नहीं है.

काफी देर तक ऐसे ही पड़े रह कर एक दूसरे को चूमने के बाद हमने कपड़े पहन लिए. वो अपना पूरा मूत पी गयी और बोली- यार एक बात बताऊं प्रकाश … मुझे ये सब बहुत पसंद है. जब मैं उसके कमरे की तरफ जाने लगा तो दरवाजे के पास पहुंच कर मुझे अंदर से कामुक आवाजें सुनाई दे रही थीं.

मैंने धीरे से लंड को अपने मुँह में ले लिया … और लंड को अपने मुँह से ही हिलाने लगी. मैं चिल्लाने को हुआ, लेकिन अंकल ने फ़ौरन ही मेरे होंठों को चूसना शुरू कर दिया और लंड को धीरे धीरे मेरी गांड में घुसाते चले गए.

वो बोली- इस वक्त मैं दूध कहां से लाऊं?मैं बोला- अरे तेरे पास है न और बोल रही हो कि कहां ले लाऊं.

मैं अपनी इस घटना को आप लोगों के सामने कहानी के रूप में पेश कर रही हूँ.

वो भी नीचे से गांड उठा कर इस बात का संकेत दे रही थी अब उसकी चूत मेरा लंड लेने के लिए गर्म हो चुकी है. दादर से गाड़ी निकली और ठाणे स्टेशन से एक लेडी मेरे कंपार्टमेंट में आ गयी. वाह … क्या लग रही थी वो! मेरा दिन का गुस्सा छू मंतर हो गया और लंडराज ठुमके लगाने लग गया।मामी पास में आयी तो मैंने उन्हें एक स्माइल दी जिसका उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया।मैं फिर परेशान हो गया।तभी मुझे अखिल और प्रिया आते दिखे, मैं उनको देख खुश होते हुए पास गया तो पहले प्रिया ने मुझे गले से लगा के विश किया.

करीब आधे घंटे बाद उसकी गांड मारने के बाद मेरा वीर्य निकलने वाला था. कहानी का पिछ्ला भाग:जिगोलो बनने की राह-2दोस्तो, भाभियो और हॉट गर्ल्स, मैं आपका राज, आपके सामने फिर से उपस्थित हूँ. मैंने पूछा- तुम ये सब भी देखते हो?वो बोला- ये सब मेरे दोस्त वगैरह भेजते रहते हैं मुझे.

उसने मेरी चूचियों को मसल मसल कर उनका हलवा सा बना दिया था, मेरी चूचियों का बुरा हाल हो चुका था.

मैं कभी कभी विवान भैया की मम्मी के साथ भी बाजार करने जाती थी जिससे मेरी और विवान भैया की मम्मी के बीच में भी मधुर सम्बन्ध बन गए थे. कभी उसकी चुत के होंठों को अपने होंठों से पकड़ कर खींचता, कभी उसकी चूत के छेद में जीभ डाल देता, कभी अपनी उंगली डाल देता. ड्रिंक खत्म होने के बाद मैंने ऋतु की जांघ पर हाथ फेरना शुरू कर दिया.

अब अगले तीन दिनों तक इनकी भाषा भी बदल गयी थी … अब ये बड़ी बेशर्मी से अश्लील वाक्य आपस में बोल रहीं थी. मगर उन सब ने मिल कर मेरे यार को तीन-चार थप्पड़ मारे और आशीष उनके चंगुल से छूट कर भाग गया. मजा आया चाची?”चाची- हां … ये मेरी ज़िंदगी की सबसे यादगार चुदाई थी और सबसे मजेदार … तेरी बीवी लकी होगी जीशान … उसे हर दिन जन्नत दिखाएगा तू.

तभी मेरा भेजा चला और मैंने सोचा कि भाभी की मुस्कराहट शायद कोई और इशारा कर रही है.

चाची की गांड पहली बार गांड चुदाई के बाद आज थोड़ी ज्यादा मोटी दिख रही थी. कभी उसकी चुत के होंठों को अपने होंठों से पकड़ कर खींचता, कभी उसकी चूत के छेद में जीभ डाल देता, कभी अपनी उंगली डाल देता.

ब्लू सेक्सी बीएफ बीएफ महेश और नीलम अब भी एक दूसरे की बांहों में पड़े हुए ज़ोर से हांफ रहे थे ।इस बहू की चुदाई कहानी पर आप अपने विचार दे सकते हैं।मेरा ईमेल है-[emailprotected]. फिर उसने मेरी साड़ी उतारी और मेरी गर्दन पर चूमने लगा, मैं मदहोश सी हो गई.

ब्लू सेक्सी बीएफ बीएफ … वो दो साल तक नहीं आने वाला है, जब तक उसका प्रोजेक्ट पूरा नहीं हो जाता. जब मेरी गांड चुदते हुए पूरी तरह से खुल गई तो मैंने पति को नीचे लिटा लिया और खुद उनके लंड पर बैठ कर मैंने पूरा लंड अपनी गांड में ले लिया.

मैं श्वेता को फिर से चोदने लगा और पूरा लंड बाहर निकाल कर फिर से पूरा घुसा देता था.

योगा एक्स एक्स एक्स बीएफ

मैंने उसे घोड़ी बना दिया और उसके पीछे से लंड उसकी गांड में घुसा दिया. पंकज ने सारिका की गांड के नीचे तकिया लगा दिया जिससे सारिका कि चूत ऊपर उठ जाये. सारिका भी हंस दी और बोली- चलो फ्रेश हो जाओ, मैं तब तक कुछ खाने को लाती हूँ.

फिर उसने मॉम को झुकने को बोला और अपना 8 इंच का मोटा लंड मॉम के मुँह में दे दिया. और फिर उसकी वाइफ ने भी कहा- ये तो खुद गाइनेकोलॉजिस्ट हैं और बहुत पर्फेक्ट हैं अपने काम में … और मैं खुद भी तो साथ में हूं. ” महेश ने अपनी पत्नी का हाथ पकड़कर अपने लंड पर रखते हुए कहा।मैंने कहा न, अब मुझसे यह सब नहीं होता, बस … आज के बाद मेरे क़रीब मत आना। मैं अब इस उम्र में भगवान की पूजा पाठ करके अपने ग़ुनाहों की माफ़ी माँगना चाहती हूं.

यह बात तो मेरे दिमाग में ही नहीं आई थी क्योंकि कुछ देर पहले उसने इसी काम के लिए मना किया था।मैंने आश्चर्य भरी नज़रों से उसे देखा तो उसने कहा- जान, तुम्हें जिसमें खुशी मिले मैं वो हर काम करूंगी.

मेरी इस बात से किसी को कोई शक़ नहीं हुआ और मैंने जाते ही कमरे को अन्दर से बंद करके सारे कपड़े उतार दिए. उसने अपनी गांड उठाकर अनिल के लंड को पूरा अपनी चूत में लेना शुरू कर दिया. एक बार मैंने उसके फोन में पोर्न क्लिप देख लिया तो …मेरा नाम तान्या है और मैं पुणे से हूं.

शावर से गिरता पानी बदन पर लगे साबुन को तो साफ कर रहा था मगर सुमिना के साथ बैठी उस लड़की की मासूमियत का रंग था कि हर पल और गहराता जा रहा था. वह वहीँ पर दरवाज़े के बाहर घुटनों के बल बैठ गई, नीलम की आँखों से आंसू निकल रहे थे।उधर दूसरे कमरे में समीर का पिता महेश और महेश की पत्नी सरिताजाओ मुझसे दूर हटो. अब तीनों औरतों की मादक सिसकारियां मुझे और अधिक उत्तेजित कर रही थीं.

मैं अपनी लोअर के अन्दर से ही अन्डवियर में हाथ डाल कर अपने लंड को सहलाने और मसलने लगा. कुछ पल ऐसे ही चूमने पर वो और भी मदहोश हो गयीं और अपना दिखावटी प्रतिरोध छोड़ कर उन्होंने भी मेरी पीठ को सहलाना शुरू कर दिया.

वो मेरी तरफ देखने लगे तो मुझे शर्म आने लगी क्योंकि वो मेरे पापा जैसे थे. ये सब बातें सुन कर मैं धीरे-धीरे उनसे और चिपक गया, जिस कारण उनके चुचे मेरे सीने से टच होने लगे. अब उसने बिल्कुल भी देर किये बिना मेरी टी-शर्ट के अंदर से हाथ डाल दिया.

हम दोनों फिर से एक दूसरे से लिपटकर पति पत्नी की तरह प्यार करने लगे.

कभी कभी भाभी भी मेरे निप्पल्स को चूसने लगती जिससे मैं और जोश में धक्के लगाने लगता. उसके होंठों को चूसते चूसते मैंने उसकी साड़ी का पल्लू गिरा दिया और ब्लाउज के अन्दर हाथ डाल कर उसके मम्मों को दबाने लगा. मेरे इस प्रहार के लिए अनीता रानी अभी तैयार नहीं थीं, तो उनकी चीख निकली- अभी नहीं …पर मैंने भाभी की एक न सुनी और धक्के जारी रखे.

बहुत दिनों से सेक्स न करने के वजह से बहुत पानी निकला उसका और मेरा लंड उस पानी में पूरा भीग गया. जब मैं सुबह उठा और अपने कमरे से बाहर आया, तो मॉम रसोई में खाना बना रही थीं.

मैंने कहा- क्यूं? इसको देखने में क्या बुराई है? सीधे सादे लोग मजा नहीं ले सकते क्या?वो मेरी बात सुन कर कुछ नहीं बोली और बस नजर को नीचे झुका कर बैठी रही. अपनी बीवी की निष्क्रियता के चलते मैं महीने में 2-3 बार ही सेक्स कर पाता था. उसी रात मैंने कविता को गुडनाईट का मैसेज भेजा, तो उसका भी रिप्लाई आ गया.

हिंदी 3x बीएफ

जब भी बोतल का मुंह किसी कि ओर आता है तो उसे अपना एक कपड़ा उतारना होता है.

इन लोगों का एक रूटीन था, सुबह सब मिलकर जिम करते फिर बाहर लॉन में बैठकर अपनी अपनी बीवियों के साथ चाय पीते … दिन भर कमर तोड़ मेहनत के बाद रात को एक एक पेग लगाने के बाद दसों लोग एक साथ खाना खाते. ‘आह वरुण … चोद दो मुझे … आज फाड़ दो मेरी चूत को … ओह वरुण … और जोर से आह आ आ आह ओह … यस कम ऑन वरुण … और जोर से. उसे वहां का मौसम सूट नहीं कर रहा था जिस वजह से उसे मुझे अपने पुराने घर पर छोड़ना पड़ा।पत्नी के जाने के बाद मैं अब बिल्कुल अकेला था इसलिए घर का सारा काम जैसे खाना बनाना, साफ-सफाई करना और यहां तक कि अपने कपड़े भी मुझे खुद ही धोने पड़ते थे.

कुछ देर बाद मैंने उनसे खाने के बारे में पूछा, तो बोले- थोड़ा कुछ ऑमलेट वगैरह बना लो. इसीलिए मैंने उससे बोला- तुम अपने बच्चे को उसकी नानी के पास छोड़ के दोपहर में आ जाना. हिंदी में सेक्सी वीडियो फुल एचडीरानी के जाने के बाद नीता ने एक एक के कमरे में जाकर उन्हें उठाया … सब बहुत खुश थीं.

मेरे पड़ोस में एक भैया विवान रहते हैं जो बहुत अच्छे हैं लेकिन मुझे नहीं पता था कि वो भी मुझे वासना भरी नजर से देखते हैं. अब किसी को कुछ दिख तो नहीं रहा था पर चूमने चाटने की सीत्कारें तो बता रहीं थीं कि वहां क्या हो रहा है.

कहानी के बारे में अपनी राय जरूर दें और कहानी पर कमेंट करना न भूलें. मैंने अपनी उस फ्रेंड को अपनी सारी कलाकारी समझाई और उससे मेरा साथ देने का वादा लिया. मैंने भी ऑफ़िस का कोई काम ख़त्म करने का बहाना बनाके ख़ुद घर रहने का पक्का कर दिया है.

मैंने पहले उससे बोला था कि तू घर से बाहर आ जाना बाकी का मैं देख लूंगा. ”तुम्हें सैंडविच बनाना तो आता है ना?”हओ … दीदी ने सिखाया है”ठीक है पर जरा कड़क बनाना। कड़क और टाईट चीजों में ज्यादा मज़ा आता है. आंटी का बदन कांप उठा- आआआह … इसे बेहतर तू मुझे जान से मार दे … मेरी गलती थी, मैंने तुझको ऑफर दिया और तुम्हें इतना मारा.

मैंने भाभी को अपनी बांहों में भर लिया और उनको फिर से गर्म करने लगा.

मैं मम्मी पापा को बोल दूँगा कि हम दोनों फिल्म देखने जाने वाले हैं और रात को आने में थोड़ी देर भी हो सकती है. कुछ लोगों को ये बात अटपटी लगे लेकिन हम दोनों भाई-बहन ने तो ऐसा ही किया.

उनकी मासूमियत भरी मुस्कराहट से मेरा मन उन्हें पकड़ कर किस करने का हो रहा था. वो जैसे ही रेडी होकर मेरे सामने आईं, मेरा तो मुँह खुला का खुला रह गया. अन्दर आकर मैंने दरवाजा बंद किया, अपनी बांहें फैलाईं तो डॉली करीब आकर लिपट गई.

तो दोस्तो, इस तरह चार दिन की जुदाई के बाद पति ने मेरी चूत और गांड की जमकर की चुदाई की. मैं खुद को बहुत खुशनसीब समझ रहा था कि इतनी मस्त औरत मुझसे अपने बदन की मालिश करवा रही है. वो शनिवार सुबह चले जाएंगे और मेरे बेटे को संडे की छुट्टी होने के कारण उसके मामा उसे अपने घर लेके जाएंगे.

ब्लू सेक्सी बीएफ बीएफ इसलिये आप पहले मेरी कहानी का पहला भाग जरूर पढ़ लें ताकि मेरी इस सेक्स कहानी का पूरा मजा आए. मैंने उसके पेट पर गुदगुदी कर दी और जैसे ही वो उचकी उसकी जांघें खुल गईं और मेरा लंड एकदम से अंदर चला गया.

सेक्सी बीएफ देहाती साड़ी वाला

इतनी बात करने के बाद मैंने वापस अपना ध्यान पेपर को पढ़ने में लगा दिया. फिर उनकी आग शांत करने के लिए मैंने भाभी के सर की मालिश करना चालू कर दी, जिससे उनकी आग शांत हो गयी. कुछ देर में सीमा ने मुश्ताक की जीभ से अपने को अलग किया और मुश्ताक को बेड पर लिटाया और ऊपर बैठ कर उसका लंड और छाती चाटने लगी.

5 इंच मोटा लंड हवा में उछलने लगा, ज्योति ने अपने बड़े भाई का लंड अपने हाथ में लेते हुए अपने होंठों से उसके गुलाबी सुपारे को चूम लिया।आह्ह …” ज्योति ने जैसे ही लंड को चूमा समीर के मुंह से सिसकारी निकल गई।ज्योति ने अपनी जीभ से अपने बड़े भाई के लंड को चाटते हुए उसके गुलाबी सुपारे को अपने मुंह में ले लिया. मैंने माहौल को ज़्यादा सीरीयस होते देखा, तो कहा- अरे आप दोनों माँ बेटी भी कहां किस लफड़े में फंस गई हो, चलो चलो जल्दी जल्दी एक पैग और बनाओ और मम्मी जी का सब गम ग़लत करो. अफगानिस्तान वर्सेसक्योंकि मेरे सास ससुर दोनों कभी एक दूसरे को छोड़ कर अकेले नहीं जाते.

मेरे लंड को देख कर वो बोला- यार मोंटू तेरा लंड तो बहुत बड़ा है … यकीन नहीं होता तू अभी इतना छोटा है और तेरा लंड 7 इंच का हो गया.

मेरी क्लास में 10-15 लड़कियां थीं, लेकिन मैं किसी से बात नहीं करता था, क्योंकि लड़कियों से बात करने में मेरी गांड फटती थी. लेकिन मुझे यकीन था कि अगर मॉम मना भी करेंगी, तब मैं उन्हें मना लूंगा.

तब तक मैं और मेरी बीवी जो मेरे बाजू में सोफे पर बैठी थी, वो मुझसे चिपकी हुई थी. फिर मैंने अपने लंड पर तेल लगाया और अंकल की गांड में पूरा लंड एक साथ डाल दिया. काजल के हरकतों से मुझे पता चला कि लड़कियों के मन में क्या चल रहा होता है ये एक लड़का कभी पता नहीं लगा सकता क्योंकि इसका उदाहरण मेरी बहन भी थी.

वो जुबान से चूसते हुए मेरे लंड के अगले भाग को अपने मुँह के अन्दर लेकर तालू से रगड़ रही थीं.

दोस्तो, यहां मैं आप लोगों को बताना चाहूँगा, जिन महिलाएं की चूत के मुँह के ऊपर दाने से जो बंधी हुई नसें होती हैं और किन्हीं कारणों से किसी महिला की बच्चेदानी की नस चिपक जाती है, तो उसका गर्भ धारण नहीं हो पाता है. नीलम ज़्यादा सेक्स पसंद नहीं करती थी, मगर समीर तो डेली चुदाई के बिना रह ही नहीं सकता था।आह्ह स्स …” नीलम अपने पति समीर की चुदाई से दूसरी बार झड़ रही थी।नीलम ने समीर से कहा- अब निकालो बहुत हो गया, मुझे दर्द हो रहा है. पर एक दिन मेरी किस्मत चमक गई, मुझे ओकले का फ़ोन आया कि उसका बिज़नेस फ्रेंड 4 दिन के लिए जोधपुर आ रहा है और उसे इंडियन माल बहुत पसंद है.

सेक्सी वीडियो बात करते हुए” ज्योति ने अपने भाई के लंड को अपने मुंह से निकालते हुए कहा और उसके लंड को ऊपर से नीचे तक चाटने लगी।आह्ह … इस पर तुम्हारी भाभी की चूत का पानी लगा हुआ है. मैंने उसकी चूत में उंगली करना चालू कर दी थी, जिससे उसको डबल मजा आने लगा था.

मोटी औरत की बीएफ एचडी

मुझे मजा आ रहा था; मैं चाह रहा था कि वह मेरा अंडरवीयर नीचे कर मेरी गांड में पेल दे. और फिर मैंने भी अपने आपको नंगा किया और वासनामयी प्रेमालाप के साथ शुरुआत कर दी. मैं जोरदार धक्के मारने लगा, आंटी मेरे सब धक्कों का जवाब अपनी गांड उछाल कर दे रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… और ज़ोर से चोद … कितना मज़ा देने लगा.

चूंकि मीनू टीचर थी और उसकी छुट्टियां चल रही थीं इसलिए मीनू भी हमारे साथ चलने के लिए तैयार हो गई. मैंने पूछा- भैया और अंकल हॉस्पिटल से आ गए क्या?भाभी बोली- नहीं अभी तक नहीं आए. स्मायरा के पापा को दीपक ने मेरे बारे में बता दिया था कि स्मायरा मेरे साथ जोधपुर आ रही है.

मैंने उसको अपने सीने से चिपकाते हुए कहा- इसी बात पर हो जाये राजा रानी का मिलन. मैंने पैंट को खोल दिया और अंडवियर को देखा तो अंडवियर के बीच वाला पूरा हिस्सा मेरे लंड के कामरस से भीग चुका था. तभी वो कमर की मालिश करने लगा उसका लंड पूरा टाइट हो चुका था, जो मालिश करते हुए मेरी कमर पर लग रहा था.

अब सीमा ने कहा- सभी लड़कियां एक मिनट के लिए पिंकी के बेड रूम में आयें. कई बार ऐसा होता है कि हम जान नहीं पाते हैं कि लड़कियों के मन में क्या चल रहा होता है.

चयन ने मेरा लंड अपनी गांड में लेने के बाद कहा- मोंटू आज तुमने मुझे बहुत मज़ा दिया.

फिर मैंने अपने हाथ की स्पीड को कम कर दिया और आहिस्ता से सुमन की चूत में डिल्डो को चलाने लगी. माहेरची साडी मराठी पिक्चर दाखवातब मैं रूड़की उत्तराखण्ड में रहकर पढ़ाई कर रहा था और अपने दोस्त की शादी में उसके घर आया था। हमारी दोस्ती कब प्यार में बदल गयी, ये हम दोनों को ही नहीं पता चला।उसके घर में इतनी बंदिशें थीं कि उसका घर से निकलना लगभग नामुमकिन ही था. दिसावर सट्टा किंग की खबर आज कीउसके बाद मैंने उन्हें अपनी गोद में बिठा लिया और उनके स्तनों को धीरे धीरे सहलाना शुरू किया. मैंने पूछा- क्या समझ लूं?उसने कहा- जब वो इतने बिजी रहते हैं तो फिर आप खुद ही समझ लीजिये कि कुछ होता होगा या नहीं.

पति को इशारा करते ही उन्होंने उन्होंने आधा लंड मेरी चूत में उतार दिया.

उन्होंने मुझसे पूछा- तुम्हारा पहली बार है क्या?तो मैंने उनको बताया कि मैंने तो आज तक किसी लड़की को नंगी तक नहीं देखा. वो बोली- सॉरी, गुस्से में डांट दिया मैंने, बुरा क्यों मान रहा है?मैंने कहा- गलती तो मुझसे हो गई है लेकिन अब मैं आपके साथ कुछ नहीं करूंगा. फिर मैंने उसकी पैंटी निकाल दी और अब उसकी प्यारी सी गुलाबी गुलाबी चूत मेरे सामने थी.

अब उसको दर्द होने लगा था लेकिन मेरे लंड के आनंद में वो दर्द को अनदेखा कर रही थी. मुझे पता नहीं था कि उसका ही फ़ोन है, क्योंकि मैंने उसका नम्बर लिया ही नहीं था. जहां शिवानी की चुदाई बहुत रफ़ थी, वहीं पर मेरी चुदाई सागर प्यार से कर रहा था.

हिंदी में बीएफ फिल्म सेक्सी हिंदी में

” महेश ने हँसते हुए कहा।ज्योति का चेहरा शर्म से लाल हो चुका था। उसे कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि वह क्या करे, उसके पिता की नॉनवेज हरकतें उसकी साँसें ज़ोर से चल रही थीं। ज्योति अचानक वहां से उठकर अपने कमरे में चली गयी. अब मुझे मजा आने लगा और वो मेरे दूध को दबाते हुए मुझे जोर से किस करने लगा. वो दीदी की चूत में उंगली करने लगा और लंड को मेरे मुंह में देकर चुसवाने लगा.

” महेश ने अपना मुंह लटकाते हुए कहा।थैंक्स पिता जी, मगर आप मुझसे ख़फ़ा तो नहीं हैं?” नीलम ने अपने ससुर का लटका हुआ मुँह देखकर पूछा।नहीं बेटी, मैं भला तुमसे कैसे नाराज़ हो सकता हूं.

अब आगे:उसने मेरी चूत में उंगली पेलते हुए पूछा- कैसा लग रहा है?मैंने आह भरते हुए कहा- उन्ह … अच्छा लग रहा है.

सर बोले- नहीं नहीं … पूरे साल तुम दोनों स्कूल से घंटा पार करके दूसरों के साथ घूमती रही हो, मुझे सब पता है. तभी जैसे आंटी ने मेरा दर्द समझा और मेरी जींस का बटन खोल कर मेरी जींस और चड्डी को उतार दिया. डोल आश्रमइसके बाद वो बेड पर पीठ के बल लेटी रही और मैं उसकी जांघों के बीच आकर उसकी चूत में आना लंड पेलता रहा.

फिर उसने अपनी बड़ी सी हथेली पर ढेर सारा थूक लेकर मेरी छोटी सी चुत पर लगा दिया. अंदर बेड के पास छोटी टेबल पर दो जाम रखे थे और शबनम लाल रंग की ब्रा और पैंटी में खड़ी सिगरेट पी रही थी … उसने लाल रंग के ही नेल पेंट किये थे. इसी बीच में मैंने अपने लंड को थोड़ा और अंदर खसका दिया था। लेकिन अब भी लंड आधा ही गया था और हम दोनों ही ठण्ड के मौसम में भी पूरी तरह पसीने पसीने हो गए थे।वो बार बार यही बोल रही थी- मुझे दर्द हो रहा है, मेरी सहेली मेरा इंतजार कर रही होगी, मुझे घर जल्दी पहुंचना है.

तभी मैंने उनसे पूछा कि आपको ससुरजी के साथ सबसे ज्यादा मज़ा कब आया था. मेरे नंगे चूतड़ देखते ही पति ने एक बार उनको हाथ से दबा दिया और फिर मेरी गांड को किस करने लगे.

अभी तक तो मैंने शिवानी की सोहबत में पड़ कर चुदाई को सिर्फ ब्लू फिल्मों में ही देखा था.

मुझे आप सभी के बहुत सारे ईमेल मिले और इन सभी ईमेल में सबका एक ही सवाल था कि ‘मेल एस्कॉर्ट कैसे बना जाए. बस उस दिन से मैं राजनाथ को पापा बोलने लगा … क्योंकि मेरी मॉम विभा का पति का फ़र्ज़ वो ही निभाते थे. उनको पैर से भी पता चल रहा था कि मेरा सांप अंदर ही उनकी गुफा में घुसने के लिए तड़प उठा है.

इंडियन सेक्स लाइव वीडियो बस 5 मिनट में एक पैकेट कंडोम ले कर वापिस उसके पीजी के नीचे आकर उसे फोन किया- आ जाओ, मैं नीचे हूँ. मेरी पत्नी ने अपने दोनों पैरों को ऊपर किया और मैंने उसके पैरों के ज्वाइंट में अपने हाथ फंसा कर उसकी चूत को एकदम पूरी तरह से खोल दिया क्योंकि मुझे बोला गया कि मैं उसके दोनों पैरों को जितना ज्यादा चौड़ा कर सकता हूं, करके पकड़ लूं.

चाची- कौन है वो? कोई गर्लफ्रेंड?मैं- लगभग ऐसे ही … लेकिन अब उससे मेरा कोई सम्पर्क नहीं है. मैं उसके होंठों को चूसने की कोशिश कर रहा था लेकिन वो अपने होंठों को आपस में चिपका कर भींच कर रखे हुए थी. वीना आंटी को फिर से ज्यादा दर्द हुआ तो उन्होंने मुझे जकड़ कर रुकने को इशारा किया.

2021 का नया बीएफ सेक्सी

काफी देर तक मुंह में लंड को रखने के बाद उनका लौड़ा अच्छी तरह से गीला हो गया ताकि चूत में आराम से जा सके. एक दिन मैंने अपने ममेरे भाई को बाथरूम से निकलते हुए देखा तो मेरा ध्यान उसके जिस्म पर गया. ऋतु ने लम्बी सी ड्रेस पहन रखी थी जिसकी बाजू आधी थी और रेस्तरां की लाइट में उसके गोरे हाथ चमक रहे थे.

शाम को वापस आते समय काफी जाम हो गया था तो हमें रात के 11 वहीं पर बज गये थे. हमने दरवाजा बंद कर लिया और दरवाजा बंद होते ही मेरे पति ने मेरी मैक्सी उतार फेंकी.

उसने कहा- मैं कभी अकेली नहीं लेटती हूँ … मुझे अकेले सोने में डर लगता है, इसलिए तो मैंने कहा है.

उनके बाद जस्मीन आंटी थीं, वे काफी लंबी थीं … कोई 5 फुट 10 इंच की होंगी. सीमा तो बौरा गयी थी … कह रही थी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आज मजा आ गया मेरे राजा … आज फाड़ दो मेरी चूत को!दस मिनट कि धक्का मुक्की के बाद मुश्ताक ने अपना माल सीमा की चूत में भर दिया. लेकिन मैंने उसकी बात नहीं सुनी और उसकी गांड को अपने हाथों से पकड़ कर उसको थोड़ी अपनी तरफ खींचा और तेजी के साथ उसकी चूत में फिर से लंड को घुसाने लगा.

पांच-सात मिनट तक नंगी चूचियों और चूतों को मन ही मन सिसकारियां भरते हुए देखने के बाद आखिरकार मैंने अपने अंडकोषों में हवस की गर्मी से उबल रहे वीर्य पर नियंत्रण खो दिया और मेरे तने हुए लंड ने अपना सारा उबाल वीर्य के रूप में अंडरवियर में ही उड़ेल दिया. हम दोनों किचन में आ गए अंकल ने मुझे फ़्रिज़ में रखा सब सामान दिखाया. मेरे पड़ोस में एक भैया विवान रहते हैं जो बहुत अच्छे हैं लेकिन मुझे नहीं पता था कि वो भी मुझे वासना भरी नजर से देखते हैं.

देखा तो संतोष जी का फ़ोन था।मैंने फ़ोन उठाया, उधर से आवाज आई- कहा है रंडी? सब कुछ तैयार है … आ जा अब.

ब्लू सेक्सी बीएफ बीएफ: मैंने उसे पकड़ कर उसके होंठों को अपने होंठों के बीच लेकर किस करने लगा. ”अरे मेरी जान! मैं तुम्हारी जान कैसे निकाल सकता हूँ? तुम भी तो हमारी अपनी ऐसी बातें मधुर को थोड़े ही बताती हो? तो फिर मैं भला कैसे बता सकता हूँ बोलो?”हूँ.

मेरी तो जैसे लॉटरी ही लग गई थी और मैंने भी उनके सुरों से अपना ताल जोड़ दिया।हम एक दूसरे की जुबान को चूस रहे थे और हम दोनों के चूसने से ढेर सारा लार बन गया था जिसे हम दोनों ने एक दूसरे को पिला दिया. उसने फिर कहा- ये क्या कर रहे हो?मैं डर की वजह उससे कुछ नहीं बोला और करवट लेकर लेट गया. महेश ने कमरे में दाखिल होते ही दरवाज़ा अंदर से बंद कर दिया।नीलम उस वक़्त सिर्फ नाईट ड्रेस पहन कर लेटी हुई थी.

मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं किसी लड़की के साथ इस तरह से लेस्बियन वाला मजा लूंगी.

इसलिए इस मुलाकात को हर हाल में होना था और इसे ख़ास भी बनाना था।अगले दिन शाहमीन अपनी सहेली के साथ बस से शहर आयी, मैंने ऑफिस में अपने बॉस को बता दिया कि मुझे कुछ पर्सनल काम है इसलिए दो बजे के बाद ही ऑफिस आ पाऊँगा।मैं अपनी कार लेकर नियत समय पर बस अड्डे पहुंच गया। हम दोनों ही अपनी इस पहली मुलाकात के लिए बहुत ही ज्यादा उत्तेजित थे। सबसे पहले उन दोनों को लेकर रेस्टोरेंट गया. इस पर शिवानी ने गाली देते हुए बोलना शुरू कर दिया- साले लुच्चे … अपनी मां को चुदते देखा है ना … अपने बाप से बता कर पूछ, उस वक्त वो क्या कहती थी तुम्हारे बाप से. मेरा लंड चूसने के बाद सासू जी ने आगे बताना शुरू कर दियासासू- उनका लंड चूसने के बाद उन्होंने मुझे अपने नीचे भींच लिया और अपना लंड मेरी चूत में खूब रगड़ा.