बीएफ व्हाट्सएप

छवि स्रोत,इंडियन सेक्सी बीपी फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

भक्ति बीएफ: बीएफ व्हाट्सएप, थोड़ी देर तक मेरा लंड सहलाने के बाद भाभी बोलीं- तुमने अभी तक सुहागरात का मज़ा भी नहीं लिया है और मैं समझती हूँ कि तुम भी एकदम भूखे होगे.

इंडियन सेक्सी इंडियन बीपी

उपिंदर ने उसके होंठों का एक भरपूर चुम्बन लिया- चिंता न कर … सब ठीक हो जाएगा. भाभी और देवर की सेक्सी वीडियो बीएफफिर अंकल जी ने मुझे पानी पिलाया और मैंगो वाली कोल्ड ड्रिंक ला कर दी.

वह लोलुपता भरी निगाहों से मुझे घूरता हुआ बोला- ठीक है, जब मैं इधर रहूँ, तो तुम आ जाया करो, मैं इंग्लिश में स्ट्रोंग कर दूंगा … आओ आ जाओ अन्दर. सुंदर लड़की का बीएफउसके कमरे में पहुंच कर उसने मुझे पलंग पर बैठने को कहा और वो नहाने चली गई.

एक महिला मित्र नीलिमा ने पूछा: मैं आजकल इस बात को लेकर बहुत ज्यादा चिंतित हूँ कि मैंने बहुत बार अपनी योनि में उंगली और कुछ अप्राकृतिक वस्तुओं के द्वारा योनि को सन्तुष्ट किया.बीएफ व्हाट्सएप: लेकिन जैसे तुमने शालू के साथ किया था, उस तरह मेरे साथ मत करना … नहीं तो मुझे भी बहुत तकलीफ़ होगी और मेरे मुँह से भी चीख निकल जाएगी.

मैंने थोड़ा सा आगे होकर उसका हाथ अपने हाथ में ले लिया और उसको बिठाया.मैंने अपने दोस्त राहुल और वरुण से इस बारे में बात की तो उन्होंने कहा कि तेरा काम तो हो जायेगा लेकिन इस चिकनी की चूत तो फिर हम भी मारेंगे.

ब्लू नंगी फिल्म दिखाएं - बीएफ व्हाट्सएप

फिर मैंने कल रात को तेरी आइसक्रीम में नींद की गोली मिला दी थी और तेरी गांड को नंगी करके चाट भी लिया था.उसके चिल्लाने की आवाज सुनकर भाभी ने बाहर से पूछा- अब क्या हुआ?वो रोते हुए कहने लगी- दीदी, मुझे बचा लो … नहीं तो मैं मर जाऊंगी.

फिर एक महीने बाद उसके घर से सब गेस्ट जा चुके थे, तो मैं रात को निहारिका के घर चला गया. बीएफ व्हाट्सएप लेकिन वो महेश के सामने अनजान बनी रही, जैसे वो मुझे जानती ही नहीं हो.

हम दोनों ही संभोग में इतने लीन हो चुके थे कि दरवाजा बंद करना भी याद नहीं रहा.

बीएफ व्हाट्सएप?

मेरे साथ यह सब कुछ पहली बार हो रहा था इसलिए कुछ ही देर में मेरा पानी निकल गया और मैं निढाल हो कर आँखें बंद करके आराम से लेट गयी. फिर मैंने अपनी जीभ को चूत के अन्दर कर दिया और अन्दर से निकलते हुए गीलेपन को चाट चाट कर साफ करने लगा. निहारिका ने पूछा कि क्या वो मेरे साथ सो सकती है?मुझे कोई दिक्कत नहीं थी तो मैंने हां कर दी.

उनके बड़े लंड से मेरी तो जैसे साँस ही रुक गई … इतना मोटा और लम्बा लंड था कि मुझे कुछ समझ ही नहीं आ रहा था. लेकिन जैसे तुमने शालू के साथ किया था, उस तरह मेरे साथ मत करना … नहीं तो मुझे भी बहुत तकलीफ़ होगी और मेरे मुँह से भी चीख निकल जाएगी. मैंने पहले‌ तो थोड़ा सा पीछे होकर मोनी की चूत से अपने लंड को बाहर निकाला फिर अपने लंड पर से उस कॉन्डोम को उतारा जो कि मेरे वीर्य के भरे होने के कारण नीचे लटक सा गया था।सही में मेरे लंड से उस दिन कुछ ज्यादा ही वीर्य निकला था.

वो चलते हुए एक बार दरवाजे के सामने रुक कर कुछ पल के लिये सोचने लगी मगर फिर उसने दरवाजा खोल दिया. ’अपनी औलाद से चुदने में पूरी कसर निकल गई थी … मैं अपने बेटे से सुबह 5 बजे चुदती रही. फोन पर ही हम दोनों एक दूसरे में इतना खो जाते थे कि कब मेरी टोंटी से पानी निकल जाता, पता ही नहीं चलता था.

मैं आज भी जब घर जाता हूँ मैं तब तब मौक़ा निकालकर उनके घर जाता हूँ और उनको मजे देता हूँ।उम्मीद है आपको यह चोदन कहानी पसंद आयी होगी. उसने मुझसे कहा- अब और मत तड़पाओ, जल्दी से चोद दो … वरना मैं मर जाऊँगी.

जी नहीं! मैं कुछ सोच रहा था, बेख्याली में मेरे मुंह से कुछ लफ्ज़ निकल गए … सॉरी!” मुझे खुद ही अपनी आवाज़ बहुत नर्म, बहुत कोमल सी लगी.

आज मैं जो कहानी आप लोगों को सुनाने जा रहा हूँ, वो किसी और की नहीं, मेरी अपनी है.

इतने में ही वरुण ने आंटी की साड़ी की सिलवटों को खोलना शुरू कर दिया. और फिर उसने मेरी चुत पर थूक लगाया और कंडोम पहना और मेरी टाँगें ऊपर ले ली और चुत में अपना काला लोड़ा घुसा दिया और धक्के लगाने लगा. दोस्तो, मैं जो कहानी आप लोगों को सुनाने जा रहा हूँ वह आपको जरूर पसंद आएगी.

फिर कुछ कलर सिलेक्ट करने के बाद उसने एक दो लैगिंग ले ली और हम वापस आ गये. कुछ दोस्त मुझसे सेक्स करने की चाहत रखते हैं, तो कुछ ने लड़की के नाम से मेल आईडी बना कर हेल्प के लिए मुझसे सम्पर्क किया. वो गीतू को एक रंडी कुतिया की तरह रगड़ रहा था। इसी बीच उसने गीतू की सलवार उतार दी। गीतू की गोरी-गोरी टांगें देख कर मेरे अंदर भूचाल आ गया और मैं सीधा गेट से अंदर चला गया।मेरे अंदर आने की आवाज़ सुनकर गीतू डर गयी और जोर से चिल्लाई- भूत!तब मैंने कहा- भूत की माँ की चूत! इधर आ हरामण! इतनी देर से इस भड़वे के हाथों से गर्म हो रही है जिसका झाँट बराबर भी लण्ड नहीं है!महेश के बारे में मैं जानता था.

”मम्मी खड़ी हुईं और एक एक कर के सारे कपड़े उतार दिए, पूरी नंगी लेट गयी।अंशु ने मेरी चुचियाँ दबाई- सोच रही हैं कि जांच होगी। इसे पता नहीं कि अभी मेरा भाई इसके ऊपर चढ़ेगा.

उसको मैं इससे पहले कितनी ही बार चोद चुका हूँ मगर जब भी उसको ऐसे नंगी देखता हूँ तो लगता है कि मैं पहली बार उसको नंगी देख रहा हूं. तो मैं उसका लन्ड मुंह में भर के ऊपर नीचे चूसने लगी और जीभ से लन्ड को छू छू के खेल रही थी। करन का लन्ड पूरा तन गया था और लगभग सात इंच तक बड़ा हो गया था. तभी इतने में मौसी ने पलट कर देखा और चौंक कर बोलीं- ये क्या हो रहा है?वहां खड़ी एक लेडी ने मौसी को चाकू दिखा दिया और मौसी डर गईं.

कार हाइवे पर आई, तो राजेन्द्र जी की कोहनी मेरे मम्मों को टच होने लगी भी. तू मुझे बिना कपड़ों के देखना चाहता है न?उसने मेरे गर्दन में अपने बांहें पिरोते हुए मुझे अपनी बांहों में कसा. उसने मेरी चूत पर थूक लगाया, और अपना लंड मेरी गीली हो चुकी चूत के दरवाजे पर रखा और धक्का लगाया.

मैंने अपनी जीभ उसकी चिकनी चुत में लगा दी और कुत्ते जैसे उसकी चुत को चाटना शुरू कर दिया.

इस वजह से उसकी आवाज़ ही निकलनी बंद हो गई और वो अपना सिर ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगी. मैं वहीं पर खड़ा होकर उस लड़के का चेहरा देखने की कोशिश करने लगा लेकिन उसकी पीठ दरवाजे की तरफ थी.

बीएफ व्हाट्सएप अपनी प्रतिक्रयाओं द्वारा आपके जीवन में हमारी इस कहानी की महत्व को प्रदर्शित कीजिए. मेरी मौसी की दो लड़कियां हैं, बड़ी 26 साल की स्वाति और छोटी 24 साल की पूजा.

बीएफ व्हाट्सएप वो बोले- क्या?तब वनिता बोली- बाबूजी आपके दोस्त रवींद्र से मुझे चक्कर चलाना है. वो नीचे लेट गया और मैंने 69 में होते हुए अपनी चूत को उसके मुँह के ऊपर रख दिया.

बारह बजे तक पढ़ने के बाद कुलजीत ने लाइट बंद कर दी और हम लोग लेट गये.

सेक्सी आर्केस्ट्रा भेजो

इससे पिछले भाग में आपने पढ़ा कि अपने भाई विक्रम और उसकी बीवी रीनल की सच्चाई जानने के बाद राजवीर यानि कि मैं किस कदर हैरान हो गया था. मैंने कहा- हां जीजा, अपने यार आशीष के अलावा मैं पांच-छह मर्दों से और चुदवा चुकी हूं. उसने मुझे आंख मारते हुए ऐसे दोनों हाथ ऊपर करके अंगड़ाई ली कि उसका सीना फूल गया.

मेरी आंखों से आंसू निकल गए, मेरी बुर फट चुकी थी और झिल्ली फटने से खून बहने लगा था. वो मेरे लंड को पकड़ना तो चाहती थी लेकिन शर्म के मारे पूरे तरह से खुल नहीं पा रही थी. कई बार तो ऐसा हुआ कि उससे बात करने के बाद मैं बाथरूम में जाकर उसके नाम की मुट्ठी मार लेता था.

मैंने उससे बोला- तुम तो सब चीज़ पैक करके आई हो … मुझको तो तुम्हारा दूध पीना था.

वो दरवाजे छेद पर आंख लगाकर झुकी हुई थी और मैं उसकी गांड के छेद पर अपने लंड को लगाकर रगड़ने लगा. भाबी- नहीं नहीं देवर जी, आंगन में नहीं … अगर कोई आ गया तो मुश्किल हो जाएगी. रानी ने अपने हाथ उरोजों की जड़ पर जमा के दबाया तो चूचे थोड़े ऊपर को उठ गए.

वो मेरे लिए सोचती थी कि उसकी जान अकेली होगी, मैं क्या कर रहा होऊंगा, क्या नहीं कर रहा होऊंगा. मेरी नजर उसके चूचों से फिसल कर उसकी चूत पर चली जाती थी और फिर ऊपर आ जाती थी. फिर वो मुझे बांहों में दबा के कहने लगा- आई वोन्ट टू मैरी यू एन्ड आई वोन्ट टू टेक यू माय कंट्री माय लव.

मैंने उसकी पूरी बॉडी को प्यार से देख रहा था, तो उसने शर्मा कर हाथों से चेहरा छिपा लिया. उसके गोल-गोल जवान चूचे मेरे सख्त हाथों को मखमली अहसास दे रहे थे और टाइट होने लगे थे.

सामने का नजारा देख कर ऐसा हाल हो गया था कि अगर मैं लंड को केवल पैंट के ऊपर से ही सहलाने भी लगता तो दो मिनट में ही मेरा वीर्य छूट जाता. हम दोनों की गाण्ड फट गयी। मैंने मुँह पर उंगली रखते हुए शान्त रहने का इशारा किया।कुछ देर बाद मैं कड़कती आवाज में बोला- कौन है?बाहर से आवाज आई- कुछ नहीं भाई, चैक कर रहा था. थोड़ी देर बाद मैंने सुना अर्पित के रूम से टीवी से अजीब सी आवाजें आ रही थीं- आहह अहह … उम्म्ह… अहह… हय… याह… यासस … याअसस्स.

बाद में फिर तकरीबन डेढ़ घण्टे बाद हम लोग वापस आए, तो पूरी तरह अन्धेरा हो चुका था.

चूंकि मुझे उसके लंड का स्वाद मजेदार लगा था इसलिए मैं अपने मुँह में बचे वीर्य का स्वाद लेने लगी. एक तरफ गांड पसीज रही थी तो दूसरी चुड़ैल को देखने का मन भी कर रहा था. उसने अपनी एक टांग को मेरे दोनों टांगों के बीच फंसा कर दूसरी टांग को मेरी कमर पर चढ़ा दी.

उसने मुस्कराते हुए जवाब दिया- हां, अपने मम्मी-पापा और भाई के साथ रहती हूं. राधिका- इतनी सुबह तुम भाई-बहन ने चुदाई शुरू कर दी?सोनल- ये सब भाई का काम है, मुझको उठाकर चोदने लगे.

मैंने इस बार थोड़ा ज्यादा ही जोर लगा दिया, तो वो अपने आपको रोक नहीं सकीं. उसने बताया कि वो जिम करता है।मैंने उसे चेस्ट पे किस कर दिया और नीचे बैठ गयी. मेरे भाई को इस बात का पता नहीं था कि मैं उसके एक दोस्त से मैसेज पर बात करती हूँ.

सेक्सी नंगी देखना

मैं अभी उन दोनों को ही देख रहा था कि तभी दोस्त ने मुझे जोर से हिलाते हुए कहा कि ये उसकी गर्लफ्रेंड है और साथ आई लड़की, उसकी गर्लफ्रेंड की सहेली है.

मैंने जाकर बेल बजाई ताकि सुमिना को किसी भी तरह इस बात का शक न हो कि मैंने उन दोनों की चुदाई को देख लिया है या मुझे पता चल गया है कि उसका कुणाल के साथ क्या चक्कर चल रहा है।सुमिना ने दरवाजा खोला तो उसका चेहरा खिला-खिला सा लगा मुझे. आदाब दोस्तो, आपने मेरी कहानी ‘आपा का हलाला’ पर आप सब की ढेर सारी ईमेल भेजी, आप सबका इस प्यार के लिए बहुत शुक्रिया. अगर कोई टाइट कपड़ों में ऐसे ही देख ले तो उससे मुट्ठ मारे बिना नहीं रहा जाए और यह तो मेरे सामने अपने असली रंग को दर्शाती हुई नंगी गांड थी।मैंने वीणा के बालों को पीछे खींचते हुए उसकी चूत में अपना लंड ठेल दिया और अपनी पूरी जान लगा कर वीणा की चूत को चोदने लगा.

मैं उसके दोने चुचों को दबाये उसके सीने और गर्दन के भागों पे किस कर रहा था. मगर हम दोनों को इतना मौका नहीं मिल पाता था कि हम पूरे नंगे होकर चुदाई का मजा ले सकें. चूत सेक्सी चूत सेक्सीमैंने इधर की कामुक कहानियों को पढ़ कर सोचा कि क्यों न अन्तर्वासना के दूसरे पाठकों के साथ मैं अपनी कहानी को भी साझा करूं.

फिर अचानक से कमरे की लाइट जली तो देखा कि वो लंड तुम्हारा नहीं रितेश जीजू का था. मैं समझ गया कि मौसी का दर्द अब कम हो गया है और मौसी अब तैयार है दूसरे झटके के लिए.

माँ के कंठ से मादक आहें निकल रही थीं- उम्मम … आह अअई अआ … चाटो इसी तरह से … निकाल दो मेरी चुत का पानी … चूसो मेरी चुलबुली को … आह कब से तड़प रही है … याम्म्म आ. मेरा बदन अब तक अच्छा खासा भर चुका था, मेरे चेहरे पर लुनाई आ गई थी, मेरी ब्रा का साइज़ भी बदल गया था और मैं पूरी तरह से माल बन चुकी थी. कार रोज़ मैडम को स्कूल छोड़ने आती थी और छुट्टी के टाइम वापिस घर ले जाने आया करती थी.

अब तो वो भी अपने डर को भूलकर मुझपर टूट पड़ा और सीधा मेरे दूध में हमला बोल दिया, अपने हाथ से मेरे दोनों दूध को मस्त मसलने लगा. कुछ देर के बाद मैंने उसके कंधे पर हाथ रख कर जैसे ही उसकी चुची के ऊपर रखा तो आतिशा बोली- नहीं भैया, ये ठीक नहीं है. नम्रता- तो तुमने क्या किया? तो तुमने क्या किया?नम्रता ने दो बार पूछा.

फिर पता नहीं क्या हुआ कि वो बोले- चल आज तुझे नहीं चोदता, 2 दिन बाद मुझे ऑफिस के काम से बाहर जाना है.

उन्होंने धीरे से अपने दोनों हाथ मेरे गांड के नीचे लगा दिए और मेरी गांड को कस के पकड़ के तेज़ी से धक्के मारने लगे. मैंने मामी से लंड चूसने को बोला तो वो बोलीं- नहीं मुझे उल्टी आ जाती है.

मैंने उसे डांटा तो दिलिया बोली- देखने दो ना … इनसे क्या शर्म?सारा बोली- दिलिया देख … अब इसी लंड से तेरी भी चूत फटेगी. कुछ ही पलों आग भड़क उठी और हम दोनों की जीभें एक दूसरे के मुँह में एक दूसरे के रस को चूस रहे थे. पति शराबी था और कभी कभी ही घर आता था इसलिए मुझे पंद्रह दिन वहीं रहना था.

मैं अभी उन दोनों को ही देख रहा था कि तभी दोस्त ने मुझे जोर से हिलाते हुए कहा कि ये उसकी गर्लफ्रेंड है और साथ आई लड़की, उसकी गर्लफ्रेंड की सहेली है. फिर मैंने उससे बोलना ठीक समझा और एक दिन मैं उससे बात करने के लिए ऑफिस जल्दी आ गया. पास ही सिगरेट की दुकान से मैंने गोल्डफ्लेक सिगरेट का पैकेट ले लिया.

बीएफ व्हाट्सएप थोड़ी देर लंड चूसने के बाद वो सोफे पर टांगें उठा कर लेट गई और मुझे अपने ऊपर खींच लिया. पेन ड्राइव समाप्त होकर पुन: चल पड़ी तो बेबी बेड से उतरी, अपनी चूत को सहलाया और बाथरूम चली गई.

लड़का लड़का लड़का सेक्सी वीडियो

अब मैंने पीछे से उसके दोनों मम्मों को अपने हाथों से पकड़ लिया और जोर जोर से दबाने लगा. इसके बाद वो अपने कड़ियल लंड से धकाधक चोदने लगता, जिससे मेरी चूत झड़ ही नहीं पा रही थी. मैंने फिर भाभी से पूछा- आप कहां रहती हैं?उन्होंने बताया कि वो आवास विकास में रहती हैं.

मैंने उससे पूछा- डू यू वांट मोर? (और चाहिए?)उसने नशीली आंखों से हां में सर हिलाया. चूंकि प्रिया मैथ्स में बहुत कमजोर थी इसलिए उसको लालच आ गया और वो पूछ बैठी- मुझे क्या करना होगा सर?मैंने कहा- अगर तुम मनमीता से मेरी बात करवा दो तो मैं तुम्हें मैथ्स में आसानी से पास करवा सकता हूँ. सेक्सी दिखाइए ब्लू सेक्सीएक बार बाजार से वापिस आते टाइम पर आंटी ने बाइक को एक शराब के ठेके पर रोकने के लिए बोला.

एक बार फिर से अपने अफ़साने के सच्चा-झूठा होने का फैसला मैंने अपने पाठकों के विवेक पर छोड़ दिया है, अगर आप का मन इस को सच मानता है तो इसे सच जानें, अगर आपका मन इसको काल्पनिक मानता है तो इसे काल्पनिक ही मानें.

मेरी पैंटी में खुजली बढ़ने लगी थी और मेरी बुर बार बार गीली होने लगी साथ ही मम्मों में एक अजीब सी कसक, अजीब सी सनसनी मचने लगी, मीठा मीठा दर्द रहने लगा; दिल करता कोई इन्हें अच्छे से मसल डाले और आटे की तरह गूंथ दे एक बार. मैंने कहा- मैडम आप घर जाइये … मैं यह बंडल अपनी साइकिल पर आपके घर पर छोड़ दूंगा … आप समय बता दीजिये कि आप कब घर पर मिलेंगी?ठीक है राजे … तुम तीन बजे यहाँ से यह कापियां ले जाना … मैं साढ़े तीनतक घर पहुँच जाऊंगी.

फिर मैं अपने लंड पर भी क्रीम लगा ली और धीरे से उसकी चुत पर रखकर रगड़ने लगा. जब नम्रता ने पाया कि अभी भी मेरा रिएक्शन ढीला है, तो वो मेरे मुँह से अपनी चूत रगड़ने लगी. साथ ही में वो मुझे अपनी ओर खींचने लगी, जैसे वो मुझे अपने में समा लेना चाहती हो.

वो मर्चेंट मेरी चुदाई से इतनी अधिक संतुष्ट ही गई थी कि उसने मुझसे आगे भी चुदाई करवाने का बोला.

फिर 15 मिनट बाद जब मैं उसके ऊपर से उठा, तो मैंने वापस उसको लेटाया और उसकी चुत फिर से चाटने लगा, चूसने लगा. मुझे भी दारू पीनी पड़ी क्योंकि मैंने उनको कहा था कि वो मेरी बहन के साथ कुछ नहीं करेंगे. मैं वापस कमरे में आया और गुप्ताइन को फोन करके पूछा- यह लड़की कौन है?तो बोली- मेरी भतीजी है, गोरखपुर से आयी है.

नंगी सेल्फीवो अपने हाथों से मेरी गर्दन को पकड़ कर अपने लंड पर मेरे मुंह को ऊपर-नीचे करने लगा. वो अपनी बुर को पैंटी के ऊपर से रगड़ने लगी और मेरी गोलियों को भी दबाने लगी.

हिंदी सेक्सी फिल्म मराठी

हम लोगों ने खाना खाया, इसके बाद बाहर निकले, तो बहुत तेज़ बारिश शुरू हो गई. मैं देव कुमार जयपुर राजस्थान से इस कामुक सेक्सी कहानियों के विश्वविख्यात अन्तर्वासनाx. अन्तर्वासना की कहानियां पढ़ते पढ़ते मेरे मन में भी चाह जगी कि कोई मेरी भी सत्य कथा लिखे जब मैं पहली बार शादी से पहले किसी से चुदी थी.

7 फीट है। मैं सदैव व्यायाम करता हूं। जिससे मेरा शरीर बिल्कुल फिट है। मेरे लंड का साईज करीब 7 इंच लम्बा और करीब 2. उसके बाद मैंने उसकी ब्रा को खोल दिया और उसकी चूचियों को अपने मुंह में लेकर पीने लगा. मैं जल्दी से ऊपर वाली मंजिल पर गया तो वहां आखिरी कोने वाले कमरे के दरवाजे पर मनमीता खड़ी हुई मेरा इंतजार कर रही थी.

मैंने उससे खुल कर कहा- जब मैं तुम्हारे पास हूँ, तो तुमको किसी और से चुदने की क्या जरूरत है. मेरे हाथ अपने आप उनकी पीठ पर चले गए और मैंने अपने नाख़ून पीठ पे गड़ा दिए. मैंने पूछा- आप क्या करोगी?वो बोली- कुछ भी, पर तुम मुझे मना नहीं करोगे.

मैंने उसके पेट पर से शुरू किया, फिर धीरे धीरे नीचे आने लगा और उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसके चूत को चूमने और चाटने लगा. वो निर्भीकता उजागर होने लगी थी, जिसके कारण वो हम्म, हम्म की आवाज के साथ खुलकर सहयोग कर रही थी.

जबकि वास्तव में उसकी गांड में मेरा लंड घुसा हुआ उसकी गांड मार रहा था.

तेरी चूत को तो भोला भाई चोद रहे हैं और मैं तेरी गांड को अच्छी तरह से चौड़ी कर दूंगा. पंजाबी ब्लू सेक्सी फिल्म वीडियोमैंने पूछा- ये क्या है?मेमसाब, इसमें गर्म तेल है, इससे आपको आराम मिलेगा. एकदम सेक्सी फोटोदिशा की माँ चुद गई, वो ऐसे झटके से एकदम से चिल्ला उठी और मुझे अपना लंड बाहर निकालने को कहने लगी. शुरू में थोड़ा मजा लेने के लिए मैंने निक के करीब आयी थी, पर आज वो मेरे दिल पर राज कर रहा है.

जितनी प्यासी मेरी बहन थी उतनी ही प्यास मेरे अंदर भी लगी हुई थी उसकी चूत को चोदने की.

उसने सुमिना की एक टांग को उठाया और अपना लंड उसकी चूत में सेट करके फिर उसकी चुदाई करने लगा. मेरे साथ यह पहली बार था कि मैं किसी के लिंग को मुंह में लेकर चूस रही थी इसलिए मुझे नहीं पता था कि लिंग से कितनी देर में वीर्य निकलता है. तुम्हारी ये सेक्सी आवाज और सेक्सी बात सुनकर मैं अपना लंड मसल रहा हूं, कहीं मेरा माल निकलकर मेरी पैंट न खराब कर दे.

मैंने अपने लंड को उसके मुंह से बाहर निकाल लिया और उसको सीधी लेटा कर उसकी टांगों को चौड़ी करवा दिया. मैंने उनकी वासना को समझ गया था कि आज दारू की महफ़िल के बाद आंटी की चुदास मिटाने का मौका मिल सकता है. वो बोली- ओके फिर आज क्या हुआ?मैंने उसे सब बता दिया कि अंकल ने किस किया, मम्मों को दबाया … वगैरह वगैरह.

अंग्रेजी सेक्सी स्कूल

झट से मैं रानी के चूत की तरफ मुंह करके लेट गया और टाँगें रानी के मुंह की तरफ फैला लीं. मैं उसको जल्दी से नंगी कर देना चाहता था ताकि उसकी चूत में अपने लंड को डाल सकूं लेकिन मैंने सब कुछ धीरे-धीरे करना ही ठीक समझा ताकि उसका विश्वास मुझ पर बना रहे. यह मेरी रीयल स्टोरी है आप को कैसी लगी, मुझे बतायें।[emailprotected].

अब आयशा भी मदहोश हो रही थी, वो मेरे सर को पकड़ कर अपनी चूत पर दबा रही थी और सिसकारियाँ ले रही थी। हमारे पास ज्यादा समय नहीं था इसलिए मैं खड़ा हो गया और आयशा को बिठाकर अपना लण्ड जो अब तक पूरी तरह से खड़ा हो गया था सीधे उसके मुँह में दे दिया और मुख-चोदन शुरू कर दिया.

मैंने उसके और उसके पति के बीच सेक्स को लेकर चर्चा की, तो बोली- यार मूड मत खराब करो.

मैं उतावला हो रहा था तो सुमेर से बोला- भाई, गुलाबो कैसी दिखती है?सुमेर बोला- थोड़ा सब्र रख … सुंदर है. मैंने जानबूझ कर दुपट्टा सही नहीं किया और अपने मम्मों का क्लीवेज दिखाती रही. बांग्ला सेक्सी बीएफफिर मैंने उनसे पूछा- आपकी आपके पति के साथ लाइफ कैसी चल रही है?उनका मैसेज आया- ठीक है … लेकिन वो बहुत बिजी रहते हैं और मुझे बहुत कम टाइम देते हैं.

मैं सुबह से उठकर सोनल को चोदने लगा था और सोनल भी अपनी गांड उठा कर मेरा साथ दे रही थी. मैं तेजी से उसकी चूत को पेलता रहा और दस मिनट में मेरे लंड ने उसकी चूत में अपना माल गिरा दिया. फिर 15 मिनट बाद जब मैं उसके ऊपर से उठा, तो मैंने वापस उसको लेटाया और उसकी चुत फिर से चाटने लगा, चूसने लगा.

उसी दौरान भाभी ने जल्दी से मेरी पैन्ट की जिप खोल दी और मेरा लंड पकड़ के आगे पीछे करने लगीं. मैं उसकी गुलाबी सी चुत को देख रहा था तो बोली- देखते ही रहोगे क्या, अब कुछ करो ना … नहीं तो मैं मर जाऊँगी.

फिर उसका दर्द कुछ कम हुआ, तो उसने रोना बन्द किया और मैं भी उसके होंठों को चूमने लगा.

उसके नंगे जिस्म को देख के इतनी उत्तेजना बरस रही थी कि कोई भी झड़ जाए. फिर अंकल बोले- मुझे औरतों की गांड पर चांटा मारते हुए चोदना पसंद है. मेरे मन में तरह तरह की ख्याल उठ रहे थे कि पता नहीं अब मेरा भाई मेरे साथ क्या करेगा.

डिलीवरी वीडियो बीएफ मेरी तरफ़ से ग्रीन सिग्नल मिलते ही भाई ने मुझे दीवार से लगा दिया और पागलों की तरह मेरे होंठों को चूसने लगा. मैंने हल्का सा अपने आप को पुश किया और मेरा लंड उसकी चूत के अन्दर था.

मगर किस्मत खराब थी कि सायमा बेड से उठने लगी और उसने मुझे अपना लंड हिलाते हुए देख लिया. पति- यार तुमने आज सेक्सी आवाज के साथ मुझे उत्तेजित कर दिया, मुझे भी आज तुमने आज सड़का मारने के लिए मजबूर कर दिया. उसकी नंगी चूचियों को आज मैं पहली बार अपने हाथ में इस तरह से भर कर उनका आनंद ले रहा था इसलिए मेरे मुंह में जैसे पानी सा आने लगा उनको पीने के लिए.

वेरी-वेरी सेक्सी ब्लू पिक्चर

वो वाकया उस दिन का है जब एक दिन आंटी अपने घर में कपड़े धो रही थी। मैं किसी काम से आंटी के घर गया हुआ था, मैंने देखा कि बैठने के कारण आंटी की आधी चूची बाहर निकली हुई थी। बहनचोद … उसकी चूची जब मैंने इस हालत में देखी तो मेरा लौड़ा तो जैसे तनतना गया. इस वजह से उसकी आवाज़ ही निकलनी बंद हो गई और वो अपना सिर ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगी. मैं आशा करता हूँ कि आपको मेरी और बहुत ही सुंदर भाभी से साथ की यह मस्त सेक्स कहानी बहुत पसंद आएगी.

और दिलिया की चीख निकल गयी- आईई आहाह आआआआ आईईईई स्स्सस!मगर गजब की हिम्मत थी उसमें … अपने हाठों में मेरा चेहरा लेकर चूमते हुए बोली- गज़ब किला फ़तेह किया तुमने आमिर … आई लव यू! बहुत दर्द हुआ लेकिन मुझे गर्व है कि मेरी चूत को तुमने एक ही धक्के में ही फाड़ दिया. अब उन्होंने होंठ चूसते चूसते मेरी सलवार का नाड़ा भी खोल दिया और मेरी पेंटी में हाथ डाल कर मेरी कुंवारी बुर मसल दी.

मैं भी तेजी से धक्के लगाने लगा और 5-7 झटकों में मैं भी अनुषी की चुत में ही झड़ गया.

वो हमेशा साड़ी और ब्लाउज पहनती हैं … उनके चूचे इतने बड़े हैं कि उनकी क्लीवेज हमेशा उनके ब्लाउज में से दिखती रहती है. मन तो बहुत करता था मगर जीजा जी ने वादा किया था कि वो खुद ही मेरे साथ सुहागदिन मनाएंगे इसलिए मैं बस उस दिन का इंतजार कर रही थी. उसके बाद मैंने अपने हाथों को उसके सर से हटा कर उसके चुचियों पर रख दिए.

कुछ देर बाद मैं सारा से उसकी तबियत पूछने गया तो वह मुझसे लिपट गयी फिर मुझे चूमने लगी. ऐसा कहते हुए मेरी चूत से एक फव्वारा सा फूट पड़ा और गर्म-गर्म रस बहने लगा. मैंने अपनी दोनों उंगलियां चुत में डाल दीं और चुत की मलाई चाटने लगा.

फिर उसने कहा- आशना अपना मुँह नहीं खोलोगी?उसके यह कहने पर मैंने अपना मुँह खोल दिया.

बीएफ व्हाट्सएप: मैंने अपने दोनों हाथों से वसुन्धरा का चेहरा कनपटियों पर से थामा और पहले तो वसुन्धरा चेहरे पर, माथे पर, गालों पर, कानों पर कानों की लौ पर, चिबुक पर और यहां-वहां ढेर सारे चुम्बन लिए और फिर उसके दोनों होंठ अपने मुंह में लेकर मज़े-मज़े से चूसने लगा. मैंने तो झूठ ही कहा था कि उसने राज से चुदवाई है अपनी चूत लेकिन वो सच में ही चुदवा चुकी थी.

मौसी इस झटके के लिए तैयार नहीं थीं, उनके मुँह से जोर की आह निकल गयी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मौसी थोड़ा और चीखतीं, उससे पहले ही मैंने अपने होंठ मौसी के होंठों पर रख दिए … मौसी की चीख दब कर रह गई. अब आगे:मैं एयरोड्रम पहुंच कर प्लेन तक का रास्ता तय करते वक्त अपने बेटे की बांहों में बांहें डाल कर चल रही थी. अब वो वैसा ही करती और मैं भी थोड़ा सा अपने पेट को हल्का करते हुए गांड को फुला-पिचका रहा था ताकि उसकी उंगली अन्दर चली जाए.

नया ऑफिस था और पद भी काफी बड़ा था, इसलिए लोगों से मिलते मिलते कब दो महीने गुजर गए पता ही नहीं चला.

आज जीजा जी शायद सेक्स करने में पगला गये थे इसीलिए वो आज बुरी तरह दीदी को ठोक रहे थे. लेकिन उसने मेरे हाथ की सिगरेट ले ली और मुझे दूसरी सिगरेट जलाने की कह दी. जीभ का चूत पर अहसास होने के साथ ही उसने अपनी मुंडी घुमायी और बोली- अच्छे-अच्छे की औकात चूत के आगे फेल हो जाती है.