देसी गर्ल का बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी बीएफ खून

तस्वीर का शीर्षक ,

मामी के सेक्सी: देसी गर्ल का बीएफ, उन्होंने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोलीं- ना बेटा ,ये मत कर बस माफ़ कर दे.

बीएफ सेक्सी हिंदी लेडीस

मैं उसे तड़पता देखकर अपने मन में बहुत खुश थी, कैप्सूल इतनी पावरफुल होती है, ये मुझे भी पता नहीं था. देहाती बीएफ फिल्म वीडियो मेंमैंने कहा- अन्नू मेरी जान, तेरी चूत के चक्कर में मेरा लंड फूल कर कुप्पा हो गया है.

अमित- हां ठीक है पर नहीं कहूँगा, तब तो पूरा करोगी ना?मैं- हां तब पूरा कर दूंगी. ब्लू बीएफ हिंदी फिल्मफिर वो मेरे खड़े लंड के ऊपर लपक पड़ी और लंड को मुँह में भर कर जोर जोर से चूसने लगी.

उसका कमरा फर्स्ट फ्लोर पर था, नीचे उसके मकान मालिक अपने परिवार के साथ रहते थे और उसके आने जाने का रास्ता घर के बाहर से ही था.देसी गर्ल का बीएफ: जैसे गाड़ी रुकी, सिराज ने बोतल मुझे थमा दी, मैंने एक घूंट भरा और अपना मुँह उसकी तरफ किया। वो मतलब समझ गया और उसने अपने होंठ मेरे होटों से जोड़ दिए.

मुझे किस में ही इतना मजा आ रहा था कि और कुछ करने की इच्छा ही नहीं हो रही थी.काकी पिंक गाउन में थीं, जिसमें उनके खरबूजे जैसे स्तन, पतली कामुक कमर और उनकी उठी हुई गांड आह.

मारवाड़ी बीएफ मारवाड़ी बीएफ - देसी गर्ल का बीएफ

पर वो पहले अपनी बहू मयूरी को चोदना चाहता था, उसने मयूरी को कहा- बहू.जैसे जैसे चुदाई होती जा रही थी, मेरी गांड खुलने लगी थी और दर्द थोड़ा कम हो गया था.

उसने मेरे हाथ को नीचे पकड़ लिया और फिर उसने वो पट्टी खोल कर दूसरे हाथ से नीचे खींच दिया. देसी गर्ल का बीएफ इसके बाद अचानक मेरी बीवी को उसकी माँ का कॉल आया तो उसको एक घंटे के लिए वहाँ जाना पड़ा.

होली का दिन था, होली पे भाभी के कज़िन्स के कुछ दोस्त भी आए थे, सो मैं भी वहां होली खेलने चला गया था.

देसी गर्ल का बीएफ?

माया के 36C के भारी भारी मम्मे अंकित के हर धक्के से ताल से ताल मिला रहे थे. तभी मैंने सोचा, नहीं इसकी गांड कल फ़ाड़ूंगा, आज अपनी जान को ज्यादा दर्द नहीं दूंगा. इसी कारण से सेक्स को अनैतिक और धर्मविरुद्ध कृत्य माना जाने लगा है।धर्म, राज्य और समाज ने स्त्री पुरुष के मध्य संबंधों, सम्पर्क को नियंत्रित और सीमित करने की कोशिश की।इस नियन्त्रण के कारण लोग सेक्स पर बात करने और किसी भी प्रकार की यौन सामग्री पढ़ने, देखने से कतराते हैं.

तभी मेरे दिमाग में एक आइडिया आया कि क्यों न आज रानी को चोदने की कोशिश की जाए. मैंने उनसे पूछा कि क्या आप भी पियोगी?भाभी बोलीं- मैं वोड्का पियूंगी. ओय… क्या कर रहा है… छोड़ मुझे…मुझसे अब रहा नहीं गया और मैंने अपने होंठ धीरे से ममता जी के होंठों पर रख दिए। मैंने सीधा ही उनके होंठों को चूमा नहीं बल्कि धीरे धीरे बहुत ही हल्के से अपने होंठों को ममता जी के होंठों पर रगड़ने लगा जिससे उनके होंठ थरथराने लगे- म्म्म.

भाभी टांगें फैलाए हुए चूत खोल कर पूरी तरह से उस आदमी के सर को अपनी चूत पर दबाए हुए कामुकता से ‘अह अह अह्ह्ह. मैंने उसकी बांह के ऊपर तक आया, तभी उसको कुछ लगा और उसने मेरी तरफ देखा. कहते हुए वो मुझे दुखी सी लगी तो मैंने भी आगे कुछ नहीं पूछा और हम टीवी देखने लगे.

तो मैं उनकी एक्टिवा लेकर मार्केट से एप्पल फ्लेवर विद स्प्राइट वाली वोड्का ले आया. (मुठ मारने के कारण मेरा लंड टेढ़ा हो गया है)मैंने भी कहा- होने दो भाभी.

पूरी चुदाई होने के बाद मैंने बोला- कैसा लगा राखी?वो बोली- जीजा जी मैंने ऐसा पहले कभी नहीं किया है… मेरी शादी के बाद आज पहली बार मुझे इतना अधिक मजा आया है.

मेरे पूरे चूचे उनकी हथेली में थे, जिन्हें बारी बारी से वो दबा कर मस्त करने लगे.

मेरे ससुर जी का लंड एकदम काला और मोटा था। इतना बड़ा लंड देख कर मेरी चूत में भी आग लग गयी।मम्मी ने उनके लंड को मुँह में ले लिया और चूसने लगी। मम्मी के मुख से पुच पुच की आवाज आ रही थी. भाभी ने भी अपने देवर का पूरा साथ दिया लेकिन सिर्फ दो तीन मिनट तक…अब अंजना ने घड़ी देखी तो शाम के 6 बज रहे थे. उतने में पानी की वजह से मेरा हाथ कंधे पर से फिसलकर माला की कमर पर आया, लेकिन उसने कोई आपत्ति नहीं जताई.

शादी घर के पास में थी, तो घर के ज़्यादा लोग वहां शादी में जाकर बिज़ी हो गए थे. वो अपने बाथरूम में घुसीं तो मैं उनके पीछे बाथरूम में घुस गया और दरवाजा बंद कर लिया. अब हम 69 की पोजिशन में थे, वो मेरा लंड चूस रही थी और मैं उस की चूत और गांड चाट रहा था.

अलार्म बजते ही मेरी आँखें खुल गईं क्योंकि दिमाग में एक बात जो परेशान किए जा रही थी.

मैंने कहा- अब भाभी प्रेग्नेंट है क्या?सुभाष बोला- नहीं यार, ये ही तो झंझट है. ऐसे ही अब हमारे बीच प्यार की शुरूआत हो गई थी मगर उस किस के बाद दोबारा मौका नहीं मिला. अगर मैं 20-25 मिनट में आने वाली होऊंगी तो दरवाजा खोल के सो जाए, अगर देर होगी तो बंद करके सो जाए.

सेक्सी लगोगी और इस पर ये शाल ओढ़ कर जाओ, उसके सामने शाल हटाओगी तो उसे झटका लगेगा. भूमिका- आई एम् सो हैप्पी!वो बोली- और बताओ क्या कर रहे हो आप?मैं- बस तुमने मेरी नींद उड़ा दी है, तुम्हारे बारे में ही सोच रहा था सुबह से!भूमिका- अच्छा जी, तो चलो अब सो जाओ मेला बाबू, रात बहुत हो गयी सुबह मिलते हैं क्लास में!मैं- अच्छा ठीक है, मैडम और हस्बैंड वाली फीलिंग आ रही है।चलो, मैंने आपको बहुत बोर कर दिया यह सेक्स साईट है यहां सेक्सी स्टोरी होंनी चाहिए मैं अपनी लव स्टोरी सुनाने लगा. मैंने देखा कि उसकी जीन्स पर दोनों पैरों के बीच चूतरस झड़ने के कारण बड़ा सा धब्बा उसकी जाँघों तक फैला हुआ था.

तभी मेरे सब्र का बांध टूट गया और मैंने पिंकी को अपनी ओर खींच लिया और उसे चूमने लगा.

मैंने उसे बेड पर लिटा दिया और मेरे इशारे पर उसने अपनी टांगें फैला लीं. मैं चुपके से जाकर मॉम की चारपाई पर लेट कर उनके साथ रज़ाई में घुस गया और उनको अपनी बांहों में ले लिया.

देसी गर्ल का बीएफ मंजरी कमरे में आई तो पुलकित वैसे ही बेड पर लेटा था, उसका लंड ढीला सा हो कर एक तरफ को लटका पड़ा था और थोड़ा सा वीर्य उसके लंड से उसकी जांघ पर भी चू रहा था. एक दिन मुझे अपने सेल फोन में पड़ोस की लड़की का नंगा फोटो दिखाया और कहने लगा कि मैंने इसको चोदा है.

देसी गर्ल का बीएफ उसने बताया कि आज उसके घर के सब लोग पूर्णागिरि जा रहे हैं इसलिए घर पर वो अकेली रहेगी. पर मुझे स्लो मोशन में मज़ा नहीं आ रहा था तो मेरे दिमाग़ में एक आइडिया आया और मैंने एक बार फिर से जोश दिखाया और अपना लंड बाहर निकाला और पायल को गोद में उठाकर सीधा टेबल पर लेटा दिया.

मैं सिर्फ पिंक पैंटी में थी जो सिर्फ मेरी चूत को ही छिपा पा रही थी.

मेरी चुदाई की कहानी

ओमार खुश हो गया, उसने अपनी नजर दौड़ाई और वो हमारी नाव के नजदीक तैरती नाव जिसमे सांवली रंगत वाला लड़का बैठा था पर जा कर मुस्कुराते हुए स्थिर हो गई. अमित- यार मैं उस दिन उसकी फोटो ली थी ना उस सेक्सी ड्रेस में तो वो बहुत अच्छी लग रही थी और उस फोटो को मेरे एक दोस्त ने देखी है. मैंने पीछे से ही रानी के हाथों से बेलन ले लिया और चकले पर बेलन चलाने लगा.

मैंने भाभी के रूम के पास जा कर देखा कि भाभी गहरी नींद में सो रही हैं तो मैं भाभी के पास बेड पर जा कर लेट गया. मेरे मेल आईडी पर मेल भेज कर अपने विचार मुझे बताइये।आपकी आरती[emailprotected]. वो मेरे सीने से चिपकी रही शायद उसे अच्छा लगा था इसलिए वो कुछ नहीं बोली.

एक दिन मैंने अपनी सास से कहा- क्या आप रियल में लंड लेना चाहती हो?तो मेरी सासू मां बोली- नहीं यार, घर में बच्चे हैं, इन पर गलत असर पड़ेगा.

चाचा बोले- घबड़ा मत, वह केवल देखेगा कोई परेशानी नहीं, डिस्टर्ब नहीं करेगा, वह भी मेरे से मरा चुका है. मैं तुम्हारे पापा की उम्र का हूँ?”बेबी दिखती हूँ लेकिन मैं तो बेब हूँ… मस्त बेब… अंकल, आपसे पहले ले चुकी हूँ कई दोस्तों का. लड़का बोला- नहीं मैंने ऐसा कहा क्या?लड़की बोली- घबराओ नहीं, मुझे बुरा नहीं लगेगा, अगर दिल में इच्छा है तो देख आओ.

मुझे लग रहा था कि दूसरी बार की चुदाई में उसकी चुत का भोसड़ा बनेगा या उसकी गांड की माँ चुदेगी. मेरे अन्दर घुसते ही उसने मुझे अपने गले से लगा लिया और मेरे होंठों को चूमने लगी. घर आकर वाशरूम में मैं हाथ मुँह धोने गया, तब नजर मेरी बनियान पर पड़ी, जो नीचे से सारी खून में लाल सी हो रही थी.

इस बार मैंने उसको घोड़ी बना कर चोदने का प्लान बनाया था, लेकिन वो थक गई थी बोली- कल घोड़ी बना कर चोद लेना. मैं उसे अभी मना ही रहा था कि इतने में उसके घर वाले जाग गए और आवाज सी आई तो वो घर दौड़ गई, पर खुशी इस बात की थी कि शुरूआत तो हुई.

अब तक मेरा लंड पिंकी की गांड में अपने लिए जगह बना चुका था और मैं जानता था कि पिंकी को जितना दर्द होना था, हो चुका है. अमित- वो कैसे?मैं- जब वो गुस्सा हो कर चली आएगी तो तुम उसे दो दिन बाद कॉल करना और उस दिन के लिए सॉरी कहना. मैंने उसके साथ भागने के लिए इसलिए मना किया क्योंकि उससे छोटी उसकी तीन बहनें थीं तो उनकी दुनिया ही ख़राब हो जाती.

रमेश, सुरेश और काजल के लिए मयूरी का ये व्यवहार समझ के एकदम बाहर था.

मैं मायूस सा हुआ, पर कहते हैं ना कि अपना हाथ जगन्नाथ, तो बस मुठ मार मार कर टाइम काटा. अब मैंने तेल लिया और उसकी गांड पर लगा दिया और एक उंगली से उसकी गांड के अन्दर तक तेल लगाने लगा. फिर उसके मुँह में मेरी एक चूची का निप्पल पिल गया कि तभी अवी ने दाब दिया, तो मैं हल्का सा चीख पड़ी.

फिर भी उसकी चूचियां एकदम हिमालय जैसी खड़ी थीं… गोल-गोल और सख्त मम्मे किसी का भी लंड खड़ा कर देने को आतुर थे. मुझसे उसकी चुत को देख कर रहा नहीं गया, मैंने उसकी टांगें फैलाईं और अपनी जीभ से उसकी चुत को चाटने लगा.

एसएमएस में जो लिखा था, वो बताती हूँ क्योंकि मैसेज पढ़ने के बाद मुझे शरारत सूझी और मैंने उसका रिप्लाई कर दिया था. आप तो जानते हैं कि दिसंबर में दिल्ली की सर्दियां कैसी रहती हैं? ऐसे ही एक शाम को हम दोनों सहेलियां घर पे बैठी बैठी उकता गयी थी. उसने फिर अपना ब्लाउज खोला और ब्लाउज खोलते ही मैंने झट से पूनम के ब्रा का हुक़ लगा दिया.

बंगाली सेक्स गर्ल

फिर अगले दिन मैं पीछे के गेट पर अपने डॉग को बिस्किट्स खिला रहा था, तब वो मुझे खिड़की से देख रही थीं.

मैंने उससे पूछा कि दिव्या मजा आ रहा है?तो उसने मेरी तरफ देखा और अपनी आँखें बंद कर लीं. मैंने सागर के पास जाकर उसका पैग बनाया और उसकी गोदी में जाकर उसको पिलाने लगी. फिर कुछ देर बात करने के बाद ननद मेरी सास के साथ एक पड़ोसी के यहाँ चली गई.

थोड़ी देर बाद मैंने महसूस किया कि कोई मेरे होंठों पर लंड रगड़ रहा है, तो मैंने आंख खोल कर देखा तो वो तिवारी सर थे, हमारे कॉलेज के एकाउंट्स के सर।उन्हें देख कर मैं डर गई और नायडू सर को अपने ऊपर से हटा दिया और अपनी टीशर्ट से अपने नंगे जिस्म को छुपाने लगी।तभी नायडू सर बोले- बहन के लोडे, थोड़ी देर से नहीं आ सकता था? बस इस रण्डी का पानी निकालने ही वाला था।और दोनों हँसने लगे. जब तुमने मेरी बात नहीं सुनी तो मैं क्यों सुनूं?”उसने कहा- एक बार मेरी बात सुन लो फिर मैं चली जाऊंगी. मोटी औरत वाला बीएफ’मैंने पूनम के पेटीकोट का नाड़ा खोल उसका पेटीकोट खींच कर निकाल दिया.

यह जानते हुए कि भाभी को भी लंड की जरूरत है मैं कुछ नहीं कर पा रहा था. एक दिन बारिश हो रही थी, मेरी गर्ल फ्रेंड मेरे कमरे के सामने से निकली, वो भीगी हुई थी.

सर्दियों के दिन थे, वो हमेशा सलवार सूट पहन कर आती थी, ऊपर से वो एक कार्डिगन या जरसी पहनती थी, ऊपर ऊपर सर पर से दुपट्टा भी लेती थी. इस क्लास में पढ़ाई का काफी भार रहता है तो मैं ज्यादातर पढ़ाई में ही व्यस्त रहता था, इस कारण से भाभी से ज्यादा बात हो ही नही पाती थी. वो मेरा लंड फिर से चूसने लगी और अब मैं भी पूरे रंग में आ गया, मैंने अपना पूरा लंड उसके गले तक अंदर कर दिया तो ‘गू गूं गू… की आवाज़ उसके गले से निकलने लगी.

मैंने अपनी उँगलियों से पैन्त्य्य एक तरफ सरका के अपनी जीभ जैसे ही चूत पर लगाई, अंजलि कराह उठी. शाम को 5 बजे वापस आया तो देखा उसने मुझे देखते ही कंप्यूटर में कुछ किया और नॉर्मली काम करने लगी. मैं कोल्ड ड्रिंक अपने लंड पर थोड़ा थोड़ा गिराने लगा और मुमताज मेरे लंड से कोल्ड ड्रिंक पीने लगी.

पर वो डरी हुई थी क्योंकि उसके भाई को पता होने के बाद भी उसके भाई ने उस लड़के को कुछ नहीं कहा, उल्टा मोनिका को डांटा.

शाम को मेरे भैया मुझे स्टेशन छोड़ने गए और कहा कि अच्छी तरह से पढ़ना और जब पहुँच जाओ तो कॉल कर देना. मेरी इच्छा है कि मुझे एक ऐसी ब्लू फिल्म मिल जाये जो सिर्फ देवर भाभी की हो.

इस कहानी में आपने पढ़ा था कि मेरे बेटे को दस दिन की ट्रेनिंग पर बाहर जाना था और बहूरानी को अकेली न रहना पड़े इसलिए मुझे उसके पास दस दिनों के लिए जाना पड़ा था. ऐसा मैंने 3 बार किया, उस वजह से रश्मि बहुत गरम हो चुकी थी और मेरी तरफ बहुत कामवासना भरे क्रोध से देख रही थी. मेरी इच्छा है कि मुझे एक ऐसी ब्लू फिल्म मिल जाये जो सिर्फ देवर भाभी की हो.

मैंने उनकी चड्डी नीचे कर दी और उनकी गांड के छेद पर अपना लंड लगा कर धीरे धीरे धक्के मारने लगा. मोहन लाल ने आगे बोला- तुम्हारे नाना और मैं तुम्हारी माँ को इतना चोदते थे कि हमें आज तक नहीं पता कि तुम दोनों मेरे बेटे हो कि अपने नाना के हो. 5-6 मिनट के बाद मेरा छूटने वाला था तो मैंने एक जोरदार झटका मारा और ममता की चूत की जड़ तक लंड घुसा दिया और अपना सारा वीर्य ममता की चूत की गहराई में उतार दिया.

देसी गर्ल का बीएफ फिर हम दोनों बाथरूम चले गए और खुद को साफ करने के बाद बिस्तर पर आकर लेट गए. तुमने कभी फूल पर तितली को मंडराते हुए देखा है ना?मैंने- हां देखा है.

हिंदी फिल्म सेक्सी देखने वाली

इधर मोहन लाल की उंगलियों और जुबान के लगातार प्रहार से मयूरी ज्यादा देर तक टिक नहीं पाई और और इतनी देर में एक बार झड़ चुकी थी. अब उसने मेरे लंड को फिर से चूमना शुरू किया और चूमते चूमते उसने मेरा लंड मुंह में ले लिया, पहले तो सिर्फ काफी देर तक लंड के टोपे को ही चूसती रही. दोनों हाथ और कंधे और पीठ और पेट के बीच वाली जगह पूरी नीचे तक खुली थी.

आप सभी को बता दूं कि हमारी बातचीत सभी अंग्रेजी और कुछ कुछ हिंदी में हो रही थी. मैंने पिंकी के मुँह से हाथ हटाया और उस हाथ से लंड पकड़ कर फिर से एक ज़ोर का धक्का लगाया, एक ही धक्के में मेरा आधा लंड पिंकी की कुँवारी गांड में घुस चुका था. बीएफ सेक्सी इंडियन बीएफकुछ देर बाद सरिता की चुत लंड खाने की अभ्यस्त हो गई और धकापेल शुरू हो गई.

आप लोगों को मैं पुनः बता दूं कि आंटी ने इतने खुले शब्दों का प्रयोग नहीं किया था जितने नग्न शब्दों का प्रयोग मैंने किया था.

मैं भी पूरा साथ दे रही थी, हम एक दूसरे के होंठों को चूसे जा रहे थे, मैंने दोनों हाथ चाचा जी की पीठ पे सहलाते हुए उनसे चिपक गई. यह कहते हुए काजल एक अच्छे बच्चे की तरह अपने पापा के आदेश का पालन किया.

कभी कभी तो मैं भाभी की बैक पर हाथ फेरता रहता था, भाभी बस मुस्कुरा देती थीं. फिर मैंने उस की टॉप को उठाया और उससे अलग कर दिया अब वो मेरे सामने ब्रा में थी. ” विक्रांत ने बुरा मानते हुए कहा।हा हा हा… तुम तो नाराज़ हो गए… मैं तो मजाक कर रही थी। मुझे भी तुम कहना ही अच्छा लगता है आखिर हम दोस्त हैं? हैं ना?”हां दोस्त तो हैं… अब मुझे आफिस के लिए सच में देर हो रही है… आफिस पहुँच के रिप्लाई करूँगा.

वो चिल्लाने लगी- बंद करो इसे! बाद में चला लेना!मैंने उसे शांत करते हुए कहा- पगली आ कर तो देख मैं तेरे लिये क्या लाया हूँ!वो चली आयी और आकर मेरे गोद में बैठ गयी और मजे लेने लगी! जब तक एक पूरी वीडियो खत्म नहीं हुई तब तक मैंने बूब्स और किस के अलावा कुछ नहीं किया क्योंकि घोड़ी कभी भी लात मार सकती है.

चोदो मयंक चोदो मज़ा आ रहा है…’अब वो अपनी गांड को हिला हिला कर चुदवा रही थी. तभी सामने वाले यंग लड़का भी जोर से अपना मस्त लंड मेरी चूत में एक ही झटके में पूरा डाल दिया, मुझे लगा कि मर जाऊंगी, मेरी आँखों से आंसू निकलने लगे, बहुत दर्द हो रहा था, मुंह में लंड घुसा था इसलिए चिल्ला भी नहीं पा रही थी।अब मेरी चूत में गांड में और मुंह में तीनों जगह एक साथ लंड अन्दर बाहर हो रहे थे, बहुत तेज दर्द हो रहा था, सबके लंड बहुत बड़े और मोटे थे। जोर जोर से मुझे तीनों एक साथ चोदने लगे. अब आप अपनी कहानी को निःसंकोच लिखना शुरू कर दें, ये कभी न सोचें कि इस पढ़ कर कोई क्या कहेगा … बस लिखते जाइए, जो भी जैसे भी विचार मन में आयें लिखते जाइए; पीछे देखना मना है किआपने क्या लिखा है.

बीएफ बिहार के वीडियोलेकिन वो काफ़ी ज़्यादा गुस्से वाली थी, ऐसा लगता था कि अपनी खूबसूरती का घमंड है. उसकी चूत पर हल्के हल्के बाल नज़र आ रहे थे, जैसे उसने अभी कुछ दिन पहले ही चूत की झांटें साफ़ की हों.

కుష్బూ సెక్స్ వీడియో

कॉफी खत्म हुई तो सिमरन ने कहा- लाइए मैं आपका फॉर्म फिल अप कर देती हूँ, बस आपसे मैं जो जो पूछती जाऊँ, आप मुझे वो बताते जाना! ओ. राहुल, हमें काफी देर हो गयी है, हमें चलना चाहिए अब!” अंजना ने राहुल से कहा।राहुल ने कोई उत्तर न दे अंजना को एक बार फिर अपनी बाहों में थाम लिया और अपने गर्म होंठ अंजना के होंठों पे रख दिए। अंजना समझ गयी कि राहुल को इस चुदाई में बहुत बहुत मजा आया है और वो उसी आन्नद से अनुभूत होकर बार बार अपनी भाभी को पकड़ रहा है. हम दोनों पति-पत्नी कुछ देर यूं ही एक दूजे की बांहों में पड़े अपनी अपनी साँसें काबू करते रहे.

दोस्तो मेरा स्कर्ट मेरे कूल्हों की दरार में घुस गया था और उसके ऊपर से उसका लंड भी अड़ा हुआ था. गांड गीली होने की वजह से थप्पड़ की आवाज़ बहुत मस्त आई और फिर मैंने उनकी टी-शर्ट को खींच कर फाड़ दिया और सिलेक्स को भी एक झटके में नीचे खींच दिया. मेरी मम्मी ने चारा लेने मुझ को भेजा, मुझ को नहीं पता था कि कहाँ से चारा काटना है.

मैंने सागर के पास जाकर उसका पैग बनाया और उसकी गोदी में जाकर उसको पिलाने लगी. मेरी जीभ का अहसास अपनी चूत पर पाते सुष्मिता मेम पर पागलपन सवार हो गया, उन्होंने मेरे बालों को अपने हाथों से दबाते हुए मेरे मुँह को ज़ोर से अपनी चूत पर दबा लिया, कहने लगीं- आह मेरे राजा. उसने कहा कि सोचने में जितना समय लेना है ले लो, बस जवाब हाँ में देना.

ऊपर से चूमते हुए नीचे तक आने लगा, पहले गर्दन को, फिर कन्धों को चूमा. वो एक घंटे बाद घर पे आई और पहले तो उसने मुझसे सामान्य बात की फिर बोली- जीजा जी, उस दिन के बाद मैं आपको भूल नहीं पा रही हूँ.

मेरा घर कोई ज़्यादा बड़ा नहीं है, बस नीचे और ऊपर एक एक कमरे बने हैं.

मैंने इस बात पर ज़्यादा ध्यान नहीं दिया क्योंकि अभी भी मेरी आँखों के सामने अपनी बहन के मम्मे दिखाई दे रहे थे. सेक्सी बीएफ फिल्म एचडी हिंदीवैसे तो उनकी चूत से बहुत पानी आ रहा था लेकिन जैसे ही मेरे होंठ उनकी चूत पे पड़े, ऐसा लगने लगा कि किसी ज़मीन से अपने आप पानी निकल रहा हो और मैं उस ज़मीन का किसान हूँ और मेहनत करके अपनी फ़सल तैयार कर रहा हूँ।मैं मौसी की चूत को जीभ और होंठों से चूसता रहा और वो आह…उमहँ… आह… आह… ऊह… आह… की आवाज़ निकलती रही. इंडियन बीएफ फुल एचडी मेंइसी तरह दूसरे दिन शनिवार था और आज ही दिव्या को घर भी जाना था, तो वो हम कॉलेज गए, इसके बाद वो घर चली गई. थोड़ी देर तक उनके चूचे दबाने लगा, जब दर्द कम हुआ… तो मैं फुल स्पीड में उसे डॉगी स्टाइल में चोदने लगा और साथ में उनके मम्मों भी जोर जोर से दबाने लगा.

मुझे बड़ा शॉक लगा कि शादीशुदा की गर्लफ्रेंड और वो भी उसके घर के अन्दर!उसके बाद वो जुगाड़ शाम को चली गई.

मुझे महसूस हुआ कि भाभी मेरे में कुछ ज्यादा ही रूचि लेने लगी हैं, मेरी ओर आकर्षित हो रही हैं. जब तक कहानी पूरी न हो तो उसका मजा नहीं आता, इसलिए मैं जहाँ तक लिख सका लिख दिया. मैंने लंड की ठोकर देते हुए कहा- आज भी पार्क में उस बहनचोद की चुदाई न देखता तो मैं आज भी तुमको चोदने की न सोचता.

तो मैं भी अपने कपड़े पहन कर घर जाने के लिए कह कर भाभी का एक लंबा चुम्बन लेकर अपने घर आ गया. मेरी मॉम के साइड में एक साइड मौसी बैठी थीं, एक साइड मेरा एक कज़िन बैठा था. मुझे देखते ही दीदी चिल्लाई- ये क्या बदतमीज़ी है? नॉक करना नहीं आता तुम्हें?अपनी पैंटी ऊपर करते हुए बोली अंजलि दीदी.

बॉय सेक्स व्हिडिओ

सन्नी- नहीं सर, वो बात नहीं करनी… और दफ़ा करो उस करण को, अब मेरा कोई दोस्त नहीं करण नाम का… मेरा कोई रिश्ता नहीं उसके साथ, साला जहाँ मरता है मरे, अच्छा किया जो आपने उसको अपनी टीम में नहीं लिया, और मैं सॉरी बोलना चाहता हूँ कि मैंने उस हरामी करण की वजह से आप लोगों से झगड़ा किया था, सॉरी सर. मगर आज इन कपड़ों में तुम बहुत मस्त लग रही हो, तो सोचा आज अपने दिल की बात कर ही लेता हूँ. मैंने उसे बहुत दिनों से नहीं देखा था क्योंकि मेरी जॉब प्राईवेट होने की वजह से मैं घर पर कम ही जा पाता था.

अन्तर्वासना पर ये मेरी दूसरी हिंदी सेक्सी स्टोरी है और पूरी तरह काल्पनिक है.

मुझे मेरी भाभी के साथ नंगे होकर नंगी फिल्म देखनी है… नंगी फिल्म देखते हुए मैं उसके मम्में दबाना चाहता हूँ और भाभी मेरा लंड हाथ में पकड़ के हिला रही हों…13.

फिर वो चला गया, मैं इस सब में इतना थक गई थी कि मैंने जल्दी से ड्रेस बदली और ब्रा पैंटी पहनी और बिस्तर पर आकर सो गई. उन्होंने मेरी चूत में अपने गर्म रस को छोड़ दिया और मुझे चिपका कर सो गए. बीएफ फिल्म खुल्लावो हिल भी नहीं सकती थी क्योंकि उसकी एक चुची उसके बच्चे के मुँह में थी.

कुणाल- हां वैसे ही हम लौंडे अपने लंड से लौंडियों की फूल की तरह ताज़ी खिली हुई चूत का रस निकालते हैं और उनकी चूतों को अपने रस भी पिलाते हैं. उनमें से 7 लड़कों के साथ मेरी बहुत अच्छी दोस्ती हो गई थी, उनके नाम थे राजीव, रवि, महेश, योगेश, दीपक, बिजेंदर उर्फ बीजू, सुदेश. मैं भी उसके पीछे खड़ा हो गया, अब मेरा लंड उसकी गांड पे था और मैंने बड़ी हिम्मत करके उसके गर्दन पे एक किs किया पर वो कुछ ना बोली तो मैं भी शुरू हो गया.

भाभी बोलीं- तेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है क्या?मैं बोला- नहीं भाभी, लेकिन मैं किसी को पसंद करता हूँ. मेरी इच्छा है कि मेरी भाभी बाथरूम में शावर के नीचे मेरा लंड चूस रही हों, उनके सर पर शावर का पानी गिर रहा हो और वो मेरा लंड चूस रही हों… यह नज़ारा मैं अच्छे से देखना चाहता हूँ.

चचा जान बहुत मजाकिया किस्म के आदमी हैं इसलिये मेरी उनसे बहुत बनती थी.

अब चुदाई नहीं होगी तो क्या वहां दोनों अकेले भजन करने गए हैं?योगेश- यार वैसे ये दिव्या है बड़ी जालिम चीज. पापाजी इस बात के खिलाफ हैं तो जब तक शादी नहीं हो जाएगी तब तक हम ऐसे बातें नहीं कर सकते. मंजरी ने हल्के से अपना सर हिला कर पुलकित को आने को कहा, पुलकित नीचे को झुका और उसने मंजरी के होंठों को चूम लिया.

एक्स एक्स बीएफ एचडी सेक्सी सागर- क्यों मेरे जीजू का बड़ा नहीं है क्या?मीना- उनका नाम भी मत लो भैया. सच कहूँ तो उसके मम्मों का आकार बहुत प्यारा है, वो एक क़यामत की तरह लगती है.

सन्नी- सच में सर… वो आपको तंग कर रही है क्या लेकिन मैंने तो आपको कई बार देखा है उसके साथ घूमते हुए!अमित- हाँ यार बस घूमना फिरना ही होता है… साली कभी कुछ करने का मौक़ा ही नहीं देती. उधर मेरी बेटी रेखा अभी भी यकीन नहीं कर पा रही थी कि पिंकी अपनी गांड में एक ही बार में इतना मोटा लंड ले चुकी है. उसने उठा कर सारी लाइटें बंद कर दीं और दोनों मोमबत्ती जला कर नाईटी को उतार दिया.

सेक्स टाइम

राजधानी से भी तेज स्पीड से चोदूँगा तुझे पूरी दो रातों तक; तेरी तंग चूत का भोसड़ा न बन जाए तो कहना!” मैंने कहा. मैं अपने आप पर जैसे तैसे काबू रखते हुए इरफान से फोन पे बात कर रही थी. ना ज़्यादा टाइट और ना ज़्यादा ढीले, उन पर ब्राउन कलर के बड़े से कड़क निप्पल, तिस पर 38 इंच की मस्त भारी सी गांड और 30 इंच की लचकती कमर.

फिर उसने मुझे अपने आपसे अलग किया, मुझे बिठाया और मेरे लिए पानी और कॉफ़ी लेकर आई. फिर दो पल बाद मैंने लंड हिलाया तो उसका लंड एकदम से टाइट हो गया और खड़ा होने लगा.

उसके बाद मैं उसकी बाँहों में ही लेटा रहा उस रात मैंने उसकी 4 बार चूत की चुदाई की और मैं सुबह घर वापस आ गया.

लगभग एक घंटे के बाद मैं दस बजे के करीब मेरे मामा के घर पहुंचा और घर की बेल बजाई. मगर जैसे ही मेरे होंठ ममता जी के होंठों के पास जाते वो अपना चेहरा घुमा ले रही थी. मयूरी ने अपनी जुबान सुरेश के मुँह में डाल दी और दोनों चुम्बन के इस प्रगाढ़ दौर में मस्त हो गए.

बात तब की है जब मेरे माँ और पापा गाँव गए थे, तब मैं अपने कॉलेज से हमारे यहाँ के मेडिकल स्टोर में गया और उस समय मेडिकल स्टोर में हमारे यहाँ की एक भाभी आईपिल की गोलियां ले रही थीं. इतने में अचानक से बाथरूम का दरवाजा खुला और भाभी की ननद अन्दर आ गई और अन्दर आते ही हम दोनों को नंगा देख कर बोली- ये सब क्या चल रहा है… भाभी तुम तो एक नम्बर की चुड़क्कड़ निकली. मैं और मेरा दोस्त एक ही बिल्डिंग में रहते थे, लेकिन तीसरे और पांचवें माले पर रहते थे.

उसके छेद की लाल गुलाबी चमड़ी थी, जो मेरे लंड को पहला न्यौता दे रही थी.

देसी गर्ल का बीएफ: उस दिन के बाद मैं बहुत खुश हुआ और इस तरह से मैंने प्यासी मकान मालकिन भाभी की प्यास बुझा दी. जहा नसीब ले जायेगा, वहां चलेंगे।दो मिनट के बाद हम दोनों अपनी कार में बैठी थी.

रूचि जी को जोर से गले लगा लिया और उनके बालों में उंगलियों को फंसा कर उनके चेहरे को अपनी ओर खींच कर लम्बा सा चुम्बन होंठों पर धर दिया. मुझे भूख लगी थी तो पहले अवी ने खाना लाकर दिया, फिर कहा कि आराम कर लो. दोस्तो, कैसी लगी मेरी ये चुदाई स्टोरी आपको मुझे मेल करके ज़रूर बताएं.

मैंने उसके गले पर कानों पर किस करना जारी रखा और उसे चेयर पर बैठाया, देखा तो सारी टेबल खून में खराब हो चुकी थी.

खुशबू ने जल्दी से कपड़े पहने और जाने लगी, तो मैंने जाने नहीं दिया और पैन्ट के ऊपर से ही अपना लंड उसकी चूत पे दबाने लगा. तो दोस्तो, कैसे लगी मेरी मॉम की चुदाई की आँखों देखी कहानी, अपने रिप्लाई मुझे मेल जरूर करें. फिर मैं विवेक के लंड को पकड़कर सहलाने लगी और फिर नीचे बैठ कर उसके लंड को अपने मुँह में भर कर फिर से चूसने लगी.