बीएफ बीपी सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,बहुत खराब सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी ब्लू बीपी मूवी: बीएफ बीपी सेक्सी बीएफ, मैंने हिम्मत करके, अपनी उंगलियाँ समेट कर अपने हाथ को धीरे धीरे मम्मों के निचले हिस्से पर फिराया और वो कुछ नहीं बोलीं, सिर्फ अपना बाकी का ड्रिंक एक ही सांस में खलास कर दिया.

इंग्लिश पिक्चर सेक्सी जानवरों की

थोड़ी देर बाद भाभी फिर से झड़ गईं और अब तक बेडशीट भी थोड़ी गीली हो गई थी. जीजा साली सेक्सी वीडियो फिल्मवो योग गुरू आनन्द मेरी बीवी मोना के होंठों के रस को पी रहा था और मेरी बीवी के हुस्न की दावत उड़ा रहा था.

उसने एक बोतल मेरे गाल को लगाई। चिल्ड बियर का ठंडापन मेरी हड्डियों में फ़ैल गया. मारवाड़ी इंग्लिश पिक्चर सेक्सीहद तो तब हो गई, जब मैं भाबी को डॉगी बना कर चोद रहा था, मैंने एक उंगली गांड में डाल दी और भाबी चौंक कर बेड पर गिर गईं.

कुछ ही पलों में उसकी टी-शर्ट को उतार फेंका, कैपरी भी उतार फेंकी, पेन्टी भी खींच दी.बीएफ बीपी सेक्सी बीएफ: और कमीने ने थूक भी नहीं लगाया, मेरी चूत अंदर तक छिल गई थी, मेरा इंसानियत पर से भरोसा ही उठ गया.

अब तक उसकी कामुकता अपने पूर्ण चरम पर आ चुकी थी, वो अपने कूल्हे उचका उचका कर अपनी चूत मेरे लंड पर रगड़ने की कोशिश कर रही थी.वह मेरा लंड चूसने लगा और बोला- हाँ ठीक है, तू मेरी मार लेना, बस अब तू लेट जा.

मौसी की चुदाई सेक्सी मूवी - बीएफ बीपी सेक्सी बीएफ

थोड़ी देर बाद एक आदमी और एक खूबसूरत सी महिला मुझे अपनी ओर आते दिखाई दिए.माया ने अंकित का लंड अपने मुँह से बाहर निकाला और अंकित के टट्टों को अपने मुँह में भर लिया.

मगर मैंने उन्हें ऐसे‌ ही दबाये रखा… मैंने हल्के से बस एक बार ममता जी के कम्पकपाते होंठों को चूमा‌ और फिर सीधा उनके चिकने बदन को ऊपर से चूमते हुए धीरे धीरे नीचे की तरफ खिसकने लगा. बीएफ बीपी सेक्सी बीएफ हमने दस मिनट तक चूमा चाटी की होगी, मैंने उनकी जीभ को अपने मुख में लेकर चूसा और उन्हें भी अपनी जीभ चुसवाई.

इतना सुनते ही मैंने अपनी और भाभी की प्लेट साइड में की और उन्हें बेड पर लिटा कर चूमने लगा.

बीएफ बीपी सेक्सी बीएफ?

लंड घुसते ही उसकी आँखें चौड़ी हो गईं और मुँह से एक जोर की आवाज़ निकल पड़ी- आआआअ म्म्म्मम. भाभी ने बुलाया और कहा- थोड़ा सा बॉडीलोशन मेरी पीठ पर लगा दो? मेरे हाथ वहां तक नहीं पहुचते हैं. मैं बोली- क्यों?वो बोली- क्योंकि तुम मुझे उकसा रही हो अपने जैसा बनाने के लिए.

मेरे बैंक की शाखा छोटी थी और इसमें दो ही क्लर्क होते थे, एक मैं था, दूसरी निर्मला जी थीं. कल्याणी शर्मा गई- तुम हमारे बारे में क्या सोच रहे हो कि कैसे बेशरम लोगों से पाला पड़ा है. अब कमल कभी मेरी चूत में डालता, तो कभी मेरी गांड में लंड पेलता जा रहा था.

विक्की तू अपनी रोशनी दीदी के पीछे से हाथ पकड़ और मैं इसके कपड़े उतारता हूँ. थोड़ी ही देर में भाभी ने आवाज़ लगाई और कहा कि मैं सोनू को बेडरूम में ही सुला दूँ. मैं उन्हें होटल ले गया और उनसे कहा कि मैं नीचे लॉबी में वेट करता हूँ, आप फ्रेश हो कर आ जाइए, फिर रेस्टोरेंट में लंच करते हैं और वहीं बात भी कर लेंगे.

कुछ पल बाद मैं उठ कर किचन से एक पानी की बॉटल ले आया और उन पर पानी छिड़का. फिर अपनी जीभ से उनकी चूत के दाने को छेड़ने लगा और अपने दोनों हाथों से उनकी चुचियों को जोर-जोर से दबाने लगा.

मैंने दीदी की तरफ देखा, मानो वो पूछ रही थी कि अब मुझे क्यों तड़पा रहे हो? लंड को चूत में क्यों नहीं घुसाते?लेकिन मैं चुपचाप लंड को चूत के ऊपर वाले लिप्स पर रगड़ रहा था.

मेरे फ्रेंड्स इतने ज्यादा हैं कि कोई ना कोई फोन या मैसेज करता ही रहता है.

जैसे ही पूजा की ज्वालामुखी का विस्फोट हुआ, उसका गरम लावा भैया के लंड की खुली टोपी को जलाने लगा. अब मंजरी बाहर का मेन गेट अच्छे से बंद करके बड़े अंदाज़ से मटकती हुई धीरे धीरे आई. तो एक दिन जब मुझे ठीक लगा मैंने सानिया से पूछ ही लिया- मैंने उस दिन ट्रेन में जो भी किया तुम्हारे साथ… तो तुम्हें वो बुरा लगा था क्या?मेरे इस मेसेज से फिर 2 दिन तक सानिया का कोई जवाब नहीं आया।फिर तीसरे उसका मेसेज आया- गुड मॉर्निंग!तो मैंने फिर वही बात पूछ ली.

चाची तो शुरू से ही उत्तराखंड में रहती थीं, लेकिन हम लोग कभी दिल्ली, गुजरात, मेरठ अलग अलग जगहों पर रहे, इसलिए चाची से ज़्यादा नज़दीकियां नहीं बन पाईं. मैंने कहा भी कि ऐसी कोई बात नहीं है, मैं बिल्कुल ठीक हूँ, पर वो जिद करने लगीं, कहने लगीं- नहीं, मुझे जानना है कि बात क्या है? तू क्यों इतना परेशान रहता है. लगभग दस मिनट चलने के बाद मेरी बैटरी लो हो गई, उधर सुकुमारी भौजी भी हांफने लगी थीं.

रोहण मुझे रूम में ले गए तो मैंने देखा कि रूम बिल्कुल सुहागरात के हिसाब से सजा हुआ था.

कुछ देर बाद चाची की चिल्ल पों कम हुई तो मैंने चाची के मम्मों को जोर पकड़ा और एक ही झटके में पूरा लंड अन्दर घुसा दिया. मैंने उससे पूछा- आप कौन और मेरी बीवी कहां है?वो बोली- वो अन्दर नहाने गई हैं. वैसे मोना भी कम नहीं लग रही थी, वह सफेद टॉप और काली स्कर्ट पहने हुई थी उस पर काले रंग के हाई हील के सैन्डिल उसको एक कातिलाना लुक दे रहे थे.

उसमें से तीन सीडी के कुछ अंशों का मैंने क्लोन बनाया तथा उन्हें अलग कर रख लिया. जैसे ही वो कुछ शांत हुई, मैंने धीरे धीरे लंड अन्दर बाहर करना शुरू किया. मैं- ठीक हैं मना नहीं करूँगी, अब बताओ क्या काम है?अमित- तुम्हारे लिए जॉब है, कर लो काफी अच्छी है.

इस कहानी में मैं आपको बताऊँगा कि कैसे मुझे अन्तर्वासना के माध्यम से मुझे नई चूत चोदने को मिली.

जैसे मैंने तेरा पानी निकाला है वैसे ही अब तू भी मेरा पानी निकाल!फिर दीदी नीचे आ गयी और मैं उनके ऊपर आकर उनके बदन के हर हिस्से को चूमने लगा. दस मिनट उसकी छूट रगड़ने के बाद मैं उसके टॉप में हाथ डाल कर उसकी मक्खन जैसी नर्म चुचियों को दबाने लगा.

बीएफ बीपी सेक्सी बीएफ अंधेरे का फ़ायदा लेते हुए मेरी बहन उस लड़के के लंड के साथ खेलने लगीं. (गांड नहीं मरवाऊँगी, बहुत दर्द होता है!)तो मैंने उसे समझाया और उसे किस किया और उसे मना कर गांड मरवाने के लिए तैयार किया और अपना लंड उसकी गांड के छेद पे रख दिया और जैसे ही धक्का देने को तैयार हुआ तो तभी बाहर से जोर से आवाज आई- उतौली कर लै, कोई आण लाग रया है.

बीएफ बीपी सेक्सी बीएफ तभी थोड़ी देर में मेरा शरीर भी अकड़ने लगा और मैंने धक्के और तेज कर दिए और उसकी चूत में ही झड़ गया. मेरे लंड का साइज 6 इंच है, छोटा है पर मैं किसी को भी संतुष्ट कर सकता हूँ.

रुबीना मुझको कहने लगी- जब मैंने लंड निकालने को बोला तो आपने सुना नहीं?तो मैंने कहा- मेरी जान, उस वक़्त अगर लंड निकाल लेता तो तुम दुबारा लेने की हिम्मत नहीं कर पाती और दुबारा डालने पर तुमको उतना ही दर्द सहना पड़ता और मैं अपनी डॉली को और दर्द कैसे देता.

भावना सेक्सी सेक्सी

शहजाद- कहां गई थी?मैंने डर के मारे अपनी नजरें झुकाते हुए कहा- ऊपर मेरा फोन लेने गई थी, आप जल्दी से तैयार हो जाइए, मैं चाय नाश्ता बना कर लाती हूँ. वैसे एक बात बताऊँ आज तुम बहुत अच्छी लग रही हो, इतनी अच्छी कि मैं शब्दों में बयान नहीं कर सकता हूँ. मैं सोच कर गया था कि इस बार कैसे भी करके दीदी को पूरा नंगा देखना है.

यह बात मुझे पता चली तो मैं तो खुशी से पागल हो गया, पर मम्मी को पता ना चल जाए इसलिए नॉर्मल रहा और सिंपली हाँ बोल दिया. मैंने कह- भाभी, आप इसे मुँह में लेकर प्यार करोगी?वो बोलीं- नहीं ये सब मुझे पसंद नहीं है जानू. मुझको भी जोश आ गया और मैंने पीछे हाथ ले जाकर चाची की गांड को सहलाना शुरू कर दिया.

बेल बजाई तो अन्दर से किसी ने पूछा कि कौन?मैंने कहा- शालू!दरवाजा खुला तो मैंने देखा कि अन्दर एक लड़का था जिसकी उम्र 25-26 साल रही होगी.

तो उनको भी मुझे लेकर कोई टेंशन नहीं थी। रोशनी भी मेरे साथ फ्रंट सीट पर आकर बैठ गई। मुझे लगा उनमें से कोई और गले की हड्डी बनने न आ जाए. तभी उसने अपने हाथों से मेरे टॉप को थोड़ा ऊपर कर दिया और हाथ से रगड़ने लगा. उसी बीच भाभी का हाथ मेरे लंड से टकराया तो लंड ने एक तुनकी सी मार दी, जिससे भाभी हंसने लगीं.

मैंने अंजू से कहा- अंजू, तुम तो कह रही थीं कि लड़के कमेंट करते हैं? जिस किसी ने भी मुझे देखा. बाद में खाना खाते वक़्त शहजाद ने बच्चों से संजय को मिलवाया, कुछ ही देर में संजय उनसे घुल मिल गया. ” कहते हुए वो उठने का प्रयास कर रही थी और मैं उसे जकड़ कर जबरदस्ती बिठा रहा था.

छोटी की गांड का साइज कम जरूर लग रहा था पर चपटी हुई या बेडौल बिल्कुल नहीं थी।छोटी ने अपना दुपट्टा निकाल के किनारे रख दिया और अपने हाथों से मेरे सीने को सहलाने लगी. पहले तो उनके बदन से साड़ी अलग की और भाभी को थोड़ा पीछे करके उनके चुचों पर टूट पड़ा.

फिर मैंने कहा- तुम्हारी कमी बस ये है कि तुम सब कुछ हाँ में जवाब देती ही और बहुत डरती भी हो. जोया केवल ब्रा में ही रह गई थी, इससे उसकी मदमस्त चूचियां भी ब्रा फाड़ कर बाहर आने के लिए मचल रही थीं. यह सब तो मेरे लिए चुटकी बजाने जैसा आसान काम था क्योंकि शहर के 80% कम्प्यूटर इंस्टिट्यूट मुझ से जुड़े थे.

मेरे घर में मेरे पति के अलावा मेरे सास ससुर और एक नटखट देवर भी है, उसका नाम अरविन्द है.

मेरा लंड अब पिस्टन की तरह उसकी चूत के अन्दर-बाहर हो रहा था और हाथ उसके पूरे जिस्म को मसल रहे थे. फिर वो साले मेरी बीवी के हाथ में रूपए देते हुए अपने कपड़े पहनने लगे. बाकी दोनों दोस्त उसकी चूचियों को मसलते और सहलाते हुए पूरे नंगे शरीर को चूम चाट रहे थे.

शाम को जब हम घर पर डिनर कर रहे थे, तब मेरी बहन मेरे सामने वाली चेयर पर बैठी थी. इतने में सोनी ने गुस्से से मेरी तरफ देखा और बोली- मुझे कहीं नहीं जाना, मुझे चक्कर आ रहे हैं, घर चलो.

मैं समझ गया था कि वे जॉब के बहाने खुद को सेटिस्फाइड करवाना चाहती हैं. मैं उनके पास जा कर बैठ गया और फिर हिम्मत करके मैंने भाभी से बात करना स्टार्ट किया. वे मेरी चुचियों को अपने दोनों हाथों से मसलने लगे, मसल मसल कर उन्होंने मेरी चूचियों को पहले तो नर्म कर दिया, फिर वासना से उत्तेजित होकर मेरी चूचियाँ और मेरे निप्पल सख्त हो गए.

हिंदी सेक्सी पिक्चर सेक्सी हिंदी

उसके मुँह से आवाज़ ठीक से निकल नहीं पाई क्योंकि इस समय रमेश उसको बहुत ही तेज़ तेज़ धक्के लगाकर चोद रहा था.

मुझसे अब रहा ना गया… दोस्तो, झूठ नहीं बोलूंगा, कोई प्यार की बात नहीं हुई थी, मैंने सीधा ही उसके होंठों पर चुम्बन कर दिया था. रियल सेक्स स्टोरी जारी है, कहानी पर अपने विचार दे सकते हैं।मेरा ईमेल है-[emailprotected]. दिव्या- अरे बेटा, कुछ दिन बाद तू भी सब जान जाएगी, जब उसके साथ चुद लेगी तब!मैं- धत्त पागल, कैसी बातें करती हो मैं ऐसा नहीं करने वाली हूँ.

उसका नंगा पिछवाड़ा और होने वालीभाभी के मटकते चूतड़बहुत मस्त लग रहे थे. दूसरे दिन मैंने रात को आकर मोना का फ़ोन चैक किया तो आनन्द से थोड़ी बात हुई थी. सेक्सी वीडियो चुदाई ने वालाक्योंकि उन लड़कों ने मुझे गिरा दिया था, जिस से सड़क पर गिरने से मुझे खून आने लगा था.

फिर उसने मेरे हिप्स मसाज करना शुरु कर दिए फिर उसने मेरी पूरी बॉडी की मसाज कर दी और वो चला गया. कुछ पल बाद मैं उठ कर किचन से एक पानी की बॉटल ले आया और उन पर पानी छिड़का.

ये थी मेरी देसी मामी की चुदाई की सेक्स स्टोरी, कैसी लगी, मुझे जरूर बताना. वो हद से ज्यादा पगला उठी और उसके मुँह से मादक सिसकारियां निकलने लगीं ‘आअहह हुउऊ. हैलो दोस्तो, अन्तर्वासना सेक्स कहानी के आप सभी पाठकों को मेरा प्यार, नमस्कार!जैसा कि मैंने आपको पहले की कहानीरात को आ जाना.

मेल और फीमेल दोनो प्रजातियों को मिस्टर इलाहाबादी कानमस्कार!दोस्तो, मेरी एडल्ट स्टोरी इस उम्मीद से पेश कर रहा हूँ कि आपको पसंद आयेगी. मैं ये सब जानकर दंग रह गया और पूछा- उनके घर पर ये मुमकिन कैसे होगा?कुणाल- जहां चाह वहां राह. हालांकि मैं गांव में ये सब करने नहीं गई थी, लेकिन मेरे वापस आने के पहले की बात है कि अंजू ने मुझसे कहा- दीदी, आज शाम को अपनी एक ड्रेस मुझे दे देना.

मैंने चाची से बोला कि आंटी हमारे यहां पानी नहीं आ रहा और आपको देख के मेरा मन भी नहाने को हो रहा.

माया अंकित को अपनी बांहों में लेते हुए बोली- कल का इंतज़ार करो मेरे चोदू राजा. मैंने पूछा- क्या हुआ भाभी?भाभी बोलीं- नहीं होगा अगला बेबी…मैंने बोला- क्यों?तो वो बोलीं- तुम्हारे भैया को दिक्कत है कुछ!मैं समझ गया, अब मैंने टॉपिक बदल दिया क्योंकि भाभी उदास हो गई थीं.

आज मैं अन्तर्वासना के माध्यम से अपना पहला अनुभव आप दोस्तों के सामने रख रहा हूँ. मुझे दर्द भी हो रहा था लेकिन मेनका को दर्द में देख कर मैं अपना दर्द भूल गया था. इससे पहले मेरी एक अन्य कहानी भी अन्तर्वासना पर प्रकाशित हुई थी-पड़ोसन भाबी सेक्स के लिए तैयार थीजिसे आप सभी ने बहुत पसंद किया था.

हमें चूसो, खा जाओ!मैं उसकी ब्रा के ऊपर से उसके बूब्स चाटने लग गया और उसने मेरी शर्ट निकाली और मेरे नंगे बदन को चाटने लग गई. ”साली, तेरी बेटी तो बहुत सेक्सी है, इसे तो दो दो लंडों से चोदना चाहिये. मैं खुद किसी और दिन डलवा लूँगी; आज बस मेरी चूत की खुजली मिटा दो।उसने इतनी मासूमियत से कहा तो मैंने भी अपना प्लान बदल दिया; फिर उसकी कमर पकड़कर लण्ड पीछे से चूत पर रगड़ने लगा।थोड़ी देर बाद मधु अपना हाथ पीछे लाई और लण्ड को पकड़कर चूत पर लगा दिया। मैं उसे और तड़पाना नहीं चाहता था, इसलिए एक झटके में ही पूरा लण्ड चूत में ठोक दिया।मधु के मुँह से आहह्.

बीएफ बीपी सेक्सी बीएफ और गाड़ी फिर से हाई वे पे डाल दी, अब भीड़भाड़ से दूर आने पर कहा कि तुम अपना गीला टॉप खोल कर यही बदल सकती हो, मेरे से शर्माने का कोई डर नहीं है. मैंने नाइट गाउन को रुबीना के शरीर से अलग किया, रुबीना ने अपने दोनों हाथों से अपने शरीर को ढकने की नाकाम कोशिश की.

एक्सएक्सएक्स सेक्सी वीडियो देहाती

मैं उसके होंठों और मम्मों को किस करने लगा ताकि उसका दर्द कुछ कम हो जाए. उसको अपनी गोद में बैठाते ही नीचे से मेरा लंड खड़ा होकर ममता की गांड के छेद में घुसने की नाकाम कोशिश में लगा हुआ था. तुम्हारे चाचा ने आज तक मुझे संतुष्ट नहीं किया, वो तो ढंग से चुदाई कर भी नहीं पाते और बहुत जल्दी थक जाते हैं.

फिर मैंने सोचा कि अपने को क्या है… अपने को तो चोदने को चुत मिल रही है, और वो भी पहली बार लंड को मौका मिल रहा था तो आँखें मूंद कर खेल खेलता गया. ससुराल छोड़ कर आने के बाद माधुरी ने पढ़ाई की और किसी स्कूल में नौकरी करने लगी. ब्लू वीडियो दिखाइए सेक्सीप्रिया के घर वापिस लौट जाने के कोई तीन महीने बाद सुधा से उसकी बहन यानि प्रिया की मां ने फ़ोन पर सुधा को उनके यहाँ आने को कहा, कोई प्रिया की शादी-ब्याह का मसला था.

फिर मैंने एक एक कर उसके ब्लाउज़ के बटन खोले और ब्लाउज़ और ब्रा दोनों को एक साथ ही उसके जिस्म से अलग कर दिया.

तभी मेरे बेटे के क़दमों की आहट सुनाई दी, वो मेरा बैग वगैरह ले के आ रहा था. ” अब अंकित माया की गांड से लेकिन चुत तक धीरे धीरे अपनी जीभ चलाने लगा.

मैं धीरे धीरे उनके पेट को चाटते हुए उनकी नाभि पर आया, नाभि में जीभ घुसा कर कहता तो उनको मजा आया. राजधानी एक्सप्रेस के प्राइवेट कोच में हम ससुर बहू ने क्या क्या किया ये सब जानने के लिए कल ट्रेन चलने का इंतज़ार कीजिये. कुछ देर उंगली करने के बाद चुत पे किस किया और इस बार भाभी ने मेरा सर पकड़ कर चुत पर दबा दिया.

मैंने भी शरारत करते हुए उसकी ब्रा ऊपर को सरकायी और उसके निप्पल को दांतों से काट लिया, जिस पर वो ज़ोर से चीखी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… क्या कर रहे हो यार? आराम से करो ना!मैंने कहा- क्या हुआ? जोर से काट लिया क्या?उसने प्यार से गाली देते हुए कहा- तो और क्या? हरामी, घर का माल है.

मुझसे सब्र ही नहीं हो रहा था तो मैंने झपट्टा मार कर भाभी की ब्रा को खींच कर उतार दिया और उनके मस्त मम्मों पर अपने प्यासे होंठों को लगा दिया. उसने वहां केक मंगवा कर मेरा जन्मदिन मनाया और गिफ्ट में मुझे एक किस और रोज देते हुए ‘आई लव यू. तभी सड़क पर ट्रेफिक आते देख हम अलग अलग हो गए और मैंने गाड़ी आगे बढ़ा दी.

सेक्सी 1 सेक्सीक्या इससे बड़ी साइज़ का लंड देखा है?”गोलू का 3 इंच की भिन्डी मुर्झाई हुई थी. दो पल बाद मैं नीचे को आया, दूसरा टुकड़ा मैंने भाभी के पेट पर फिराते हुए अपनी जीभ उनकी नाभि में घुसड़ते हुए कोल्ड ड्रिंक चाटने लगा.

जालौर का सेक्सी वीडियो

मैंने अवी से कहा- ज्यादा कॉल या एसएमएस ना करना, मैं बात नहीं कर पाऊँगी. मीना- अलग? क्या मैं अच्छी नहीं दिख रही हूँ?मैंने कहा- मेरा मतलब है कि कयामत लग रही हो. फिर राजधानी एक्सप्रेस के प्राइवेट केबिन में डेढ़ दिन यानि पूरे 36-37 घंटे वासना और चोदन का नंगा धमाल होना तय था.

वो दोनों एक दूसरे को चुंबन करने लगे, उसके बाद आनन्द अपना लिंग मोना की योनि के पास रगड़ने लगा. थोड़ा और नशा ज्यादा चढ़ जाने से वह फ्रेंड बेड पर लेट गया और पदमा से ऊपर आकर अपना लंड चूत में लेने को बोला. अब शादी ब्याह वाले घर में कई सारे पुरुष होते हैं पता नहीं कौन पिछली रात उनका शील भंग कर गया होगा… यही चिंता उन्हें खाए जा रही थी.

मैंने गाड़ी पार्किंग में खड़ी की और हम दोनों उसके अपार्टमेंट में आ गए।उसने टीवी चला दी और खुद बाथरूम में चली गई। पांच मिनट बाद जब वो वापस आई. तभी पापा उन लोगों को बोले- तुम लोग भी आ जाओ, तीनों लोग मिल कर चोद लो!सुरेंद्र अंकल सामने आ गए और अपना लंड मेरे मुंह में डाल दिया, मैं फुल जोश में चूसने लगी, उधर पापा मेरी गांड चोदे जा रहे थे. भाभी के कहने पर कभी कभी उनके घर में चला जाता और सोनू के साथ खेल लेता.

वो चिल्ला रही थी… मैंने उसके मुँह पर अपना मुँह रख कर उसका मुँह बंद कर दिया और नीचे से लंड अंदर डालने लगा. ममता जी अब बिल्कुल नंगी मेरे नीचे लेटी हुई थी और मैं उनके मखमली बदन के स्पर्श का मजा ले रहा था.

तो दीदी ने मुझे और ज़ोर से पकड़ लिया और म्म्म्म… उहस्स्स्स… की ज़ोर ज़ोर से आवाज़ें करने लगीं.

मेरे दिल में कई सवाल पैदा होने लगे कि क्या होगा आज??मुझे खुशी भी थी और डर भी था. सेक्सी नएउसने हाथ पकड़ कर मेरे हाथ पर किस कर लिया और कहा- बहुत अच्छा लगा तुमसे मिल कर. न्यू फैशन सेक्सीमैंने बहुत कोशिश की कि उसके लिए ऐसा न सोचूँ, पर वो थी कि मेरे दिमाग़ से उतरती ही नहीं थी. मेरे दिल में हलचल सी मची थी कि अब बरसों की प्यास कब बुझेगी और कब तन मन का मिलन पूरा होगा.

वो बोली कि यदि पैसे के लिए मुझे यह काम होता तो मैं आपके यहाँ नौकरानी का काम क्यों करती.

मैंने उनकी साड़ी पेटीकोट को जैसे ही ऊपर किया तो देखा कि जैसे उन्होंने मुझसे चुदने की पहले से तैयारी कर रखी थी. हम दोनों गरम हो चुके थे लेकिन मैं भाबी को तड़पते हुए देखना चाहता इसलिए मैं चुत में उंगलियां करने लगा. जैसे-तैसे खुद को संभाला मैंने… दुनियावी तौर पर प्रिया पर मेरा किसी किस्म का कोई हक़ ही नहीं बनता था और सब से बड़ी बात यह थी कि मुझे अपना परिवार, अपनी बीवी जान से ज्यादा प्यारे थे.

उसने विक्की को बुलाया, वो ख़ुशी से अपनी पेंट उतार कर पूजा के चन्दन से बदन पर लिपट गया. मेरा लंड लंबाई में 6 इंच का ही है, मगर मेरे लंड की मोटाई बहुत ज़्यादा है. मैं भाभी को पीछे से देख कर यही सोच रहा था कि भाभी को ऐसे ही गोद में बिठा कर चोद डालूँ.

भाई भाभी की सेक्सी

अब बॉस मेरे निप्पल को चूस रहे थे और हाथ मेरे जींस में डाल कर मेरी चूत को सहला रहे थे. मैं ट्रेन में ऊपर वाले बर्थ पे चढ़ गया और मेरा नसीब भी इतना अच्छा कि वह ठीक मेरे सामने वाले बर्थ पे बैठ गयी और मैंने उसे घूरा और उसने मुझे देखा और स्माइल दे दी. उम्र के इस पड़ाव पर भाभी करीब करीब हर रात चुदना चाहती थीं, पर भाई साहब चोदने से भागने लगे थे.

उनकी पीठ मेरी तरफ थी, मैं उनसे चिपक गया तो मेरे लंड उनके शरीर से रगड़ने लगा.

इसलिए मीना जी को भी पेपर साइन करने के लिए अक्सर अलग अलग स्टेट में जाना पड़ता है.

अवी ने वो दोनों ड्रेस और टॉप दे दिया और उसी के साथ एक घड़ी भी बिलिंग के लिए दे दी. घर के आसपास वाले केमिस्ट मुझे जानते थे तो कहीं दूर वाली दूकान से कंडोम खरीदने का सोचा मैंने. भोजपुरी गाना वीडियो में सेक्सी गानाऔर जोर से चोदने की मांग करते हुए मेरी पीठ में अपने नाखून चुभाने लगी.

इसके बाद बात में पता चला कि वो मस्त लड़का मेरा सीनियर है और थर्ड ईयर का स्टूडेंट है. बहुत कुछ दूँगीमें बताया था मैं बीकानेर का हूँ और अभी जोधपुर में रह कर अपनी CA की पढ़ाई कर रहा हूँ।दोस्तो, अन्तर्वासना पर यह मेरी दूसरी कहानी है. लेकिन आंटी मुझे आपकी बेटी से भी प्यार है… आप मुझे उससे मिलने से मत रोकना.

इतनी टाईट चूत में एकदम से लंड डालने से मेरे लंड में भी हल्का सा दर्द हो रहा था पर मिलने वाला मज़ा उस दर्द से काफी ज्यादा था. उन्होंने मुझे देखा और हंटर लहराते हुए कहा- चल बहन के लंड, आज तेरी माँ चोदती हूँ.

मेरी पिछली देसी कहानीफुफेरी बहनों की रंगरेलियाँ और चुत चुदाईमैं गांव में अपनी फुफेरी बहनों की चुत चुदाई में उनके भाई के साथ शामिल था.

साथ ही सोने पे सुहागा ऐसा हुआ कि अजय भैया की नाईट शिफ्ट भी चल रही थी. जैसा कि आप सब जानते हैं कि उस दिन के बाद से मेरी हिम्मत बढ़ गई थी तो मैं भी उससे बोला- तुम इतना सजधज कर आओगी भाभी. माया ने बधाई लेने के लिए सुमित की तरफ हाथ बढ़ाया ही था कि सुमित बोला- माया डार्लिंग, मुझे तेरी पेंटी चाहिए.

देहाती चुदाई सेक्सी फिल्म थोड़ी देर के बाद जब वो आया तो मैंने देखा उसके हाथ में कंडोम का पैकेट था, उसके बाद उसने वो कंडोम मेरे हाथों में दे दिया और कहा- मेरी रानी इसे अपने राजा को पहना दो. वो बचपन से कभी भी मेकअप नहीं करती, फिर भी वो एकदम गुलाब की कच्ची कली लग रही थी.

मेरे भीतर का मर्द बहूरानी की कामुक चेष्टाओं से पूर्ण उत्तेजित हो चुका था. मैंने उसको हटने को कहा और खुद उसके पास बैठ कर हल्के से एक बार टोपे को किस किया. मेरी माँ ने मुझसे कई बार पूछा भी कि आजकल तू इतना चुप चुप सा क्यों रहता है? किसी से झगड़ा हुआ है क्या? या फिर किसी ने तुझे कुछ कहा?मैंने माँ से कहा- नहीं माँ ऐसी कोई बात नहीं है, तुम परेशान मत हो, मैं बिल्कुल ठीक हूँ.

सेक्सी वीडियो नहीं चलता

किसी नवयौवना के अधरों का चुम्बन, उनका रसपान करना, विशेष तौर पर जब वो भी दिल से साथ निभा रही हो, कितनी स्वर्गिक आत्मिक आनन्द की अनुभूति कराता है, इसे शब्दों में बयाँ करना आसान नहीं है. पहले तो वो हिचकिचाई, पर मैंने भी नीचे से धक्के लगाना शुरू किए तो पहले तो वो ‘ओफ्फ्फ्फ. उसने रूम में आकर पानी की बॉटल रखी और जाने लगी कि तभी उसकी नज़र मेरे पे पड़ी.

दीदी अपनी कमर उछाल कर मेरा पूरा साथ दे रही थीं, दीदी बोलीं- अब और बर्दाश्त नहीं होता. इसे आप यहाँ से download करें!भारतीय लड़कियों से हिंदी अंग्रेजी और स्थानीय भाषाओं में सेक्स चैट, वीडियो सेक्स चैटिंग करने के लियेसेक्स चैट, विडियो चैटपर आयें और सेक्स की मजेदार बातें करके, नंगी जवान कामुक लड़कियों को देख कर मजा लें!.

बहूरानी मेरी छाती को सहलाने लगी, उसका हाथ मेरे सीने पर पेट पर सब जगह फिरने लगा, फिर उसने मेरी छाती चूमना शुरू कर दी.

उसी बीच भाभी का हाथ मेरे लंड से टकराया तो लंड ने एक तुनकी सी मार दी, जिससे भाभी हंसने लगीं. मैंने पहले तो उसकी चुची पर बड़े प्यार से हाथ फिराया और फिर उन्हें हल्के हल्के दबाने लगा. फिर मैंने थोड़ा स्पीड को बढ़ाया तो उसके कंठ से आवाज निकलने लगी- आअहह आअन्न चोद दो.

कमल ने मेरी दोनों टांगों को पकड़ कर फैला दिया और अपना लंड मेरी चूत में घचाक से पेल दिया. मैंने उसको पेट के बल लेटाया और बहुत मस्त तरीके से उसकी मोटी मुलायम गांड चोदी. स्कूल में भी सारा दिन सिर्फ़ माँ की चूचियाँ ही आँखों के सामने दिख रही थी.

और उस लड़की के तो कहने ही क्या… साली अपनी गांड और बुर उन चारों से मरवा रही थी जैसे पटा नहीं कब से चुदवाती आ रही हो!खैर जब मूवी देखने के बाद मुझपे भी मस्ती चढ़ी तब मैं अपने अब्बू के रूम की तरफ गयी और धीरे से अंदर चली गयी.

बीएफ बीपी सेक्सी बीएफ: और मेरे हल्का सा धकेलते ही ममता जी फिर से बिस्तर पर लुढक गयी। ममता जी के बिस्तर पर गीरते ही मैं उनकी चूचियों को छोड़ कर फिर से उनकी चुत पर आ गया. वो बोली कि यदि पैसे के लिए मुझे यह काम होता तो मैं आपके यहाँ नौकरानी का काम क्यों करती.

मुझे उसके मोटे लंड से दर्द हो रहा था, गांड जलने लगी थी, पर चुपचाप लेटा रहा. इस तरह मैंनेदीदी को पहली बार चोदा!जब हमारी आग शांत हुई तो दीदी बोलीं- ये तुमने क्या किया?मैंने कहा कि दीदी आप ही ने मुझे पकड़ लिया था. मैं कॉलेज से शाम को 4 बजे तक आ जाता था और दीदी के ऑफिस का टाइम भी 5 बजे का था लेकिन अब वो 8 बजे के पहले नहीं आती थीं.

बिस्तर पर लेटा तो बदन में थकावट के साथ साथ सेक्स की सुरसुरी उठने लगी लंड अंगड़ाई लेने लगा.

जय लक्ष्मी ने उन्हें बताया डिफरेंट स्टाइल के बारे में, ज्यादा मजा आता है, मेरा मतलब आजकल सेक्स के बारे में. मैं चाचा को बोलती थी कि हम चुदाई कैसे करें, घर पर कोई न कोई रहता था. मैंने उसे अपने लंड को चूसने को बोला तो मना करने लगी, बोली- अच्छा नहीं लगता है.