देवर भाभी का हिंदी बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी सोनाक्षी सिन्हा

तस्वीर का शीर्षक ,

याणवी सेक्सी फिल्म: देवर भाभी का हिंदी बीएफ, मैंने बोला- हां भेज दीजिये … मुझे कोई समस्या नहीं है … मगर मैं एक बार अपने पति से पूछ लेती हूँ, उसके बाद आपको बताती हूँ.

सैक्स power capsule patanjali video

मैं अकेला रहता था, सो मैंने एक मस्त चुदाई की वीडियो देख कर मुठ मारी. चोदने वाली ब्लू पिक्चरहालांकि मैं बहुत थक गई थी, लेकिन तब भी इसके बाद मैं घर का काम करने लगी.

अरे वाह मास्टर जी, मैं हमेशा से सेक्स की गोली खा कर चुदना चाहती थी, पर मेरे पति बहुत बोरिंग किस्म के इंसान हैं. कट्रीना सेक्सीअब तो मेरी कुछ समझ में ही नहीं आ रहा था कि अब आगे क्या बोलूं? जब इन लोगों को सब पता था … तो उससे मेरी शादी क्यों करायी.

ये भी बताया कि उसकी शादी एक साल पहले हो चुकी थी, पर बच्चा इसलिए नहीं है क्योंकि अभी कोई प्लानिंग नहीं की है.देवर भाभी का हिंदी बीएफ: लेकिन शादी या अन्य किसी त्यौहार में मैं साड़ी और ब्लाउज ही पहनती हूँ.

मेरी पैंट में लंड ने तंबू बना दिया और झटके देकर कहने लगा कि चोद दे इसकी चूत को.मैं उसको बस देखे जा रहा था जैसे उसको आँखों ही आँखों में सब कुछ समझाने की कोशिश कर रहा था.

मारवाड़ी चोदा चोदी वीडियो - देवर भाभी का हिंदी बीएफ

वह अपने हाथ से अपनी बुर को मींजे जा रही थी तथा मुँह से अजीब अजीब आवाजें निकाले जा रही थी ‘आआआह … ऊउम्म्म म्म्मम … आईईई … सीईईईईसीई.अमित का एक हाथ मेरी कुर्ती के अंदर सरक गया और सुरक्षा कवच के अंदर गंतव्य स्थान पर पहुंच कर उसने मेरे उरोजों को सहलाना शुरू कर दिया.

उसकी एक मदमस्त सी आह के साथ ही मेरा लौड़ा उसकी चूत की गर्मी और चिकनाहट से खेलने लगा. देवर भाभी का हिंदी बीएफ ऐसे ही आहहह … तेरा मस्त लौड़ा तो मेरी चूत में बिल्कुल कस कर रगड़ मार रहा है, आहहहह… अब ज़ोर से चोद … अब लगा अपने लौड़े का ज़ोर.

इसके बाद तो उसकी सेक्स लाइफ में हमेशा-हमेशा के लिए बंसती बयार बहने लगी.

देवर भाभी का हिंदी बीएफ?

मेरा लंड उसकी गांड से टच हो रहा था और वो पीछे से अपने पैर मोड़ कर मेरे चूतड़ों पर लात मार रही थी. मैंने उसे उसी होटल का एड्रेस दिया और वहां पर एक रूम बुक करने के लिए कहा. इस बीच अचानक प्रशांत के भुतहा लंड का दीदार होने के बाद नीना के दिल में उससे चुदने की ख्वाहिश और भी अधिक तेज हो गई.

अब उसने कहा- मुझे नीचे जाना होगा, मेरी बहन मेरा इंतज़ार कर रही होगी. मैंने भी उनसे कुछ देर तक बात की और उनके मम्मों को एक दो बार दबा दिए. खाना खत्म होने के बाद मैंने राहुल को गिलास में पानी दिया तो राहुल बोले- भाभी, पहले आप पानी पीओ.

अब मुझे डर लगने लगा तो नामित ने बोला- कुछ नहीं जान … बस आज तेरी जमकर कुटाई होगी और तुझे कई तरह के मजे मिलेंगे. साथ ही मैं उसकी कोमल मुलायम चूचियों को दबाते हुए उसके होठों के रस को भी पीता जा रहा था. बाद में उसने मेरी चुत का खून पौंछा और मेरी चुत में लंड फिर से डाल कर आगे पीछे होने लगा.

लगभग 25 मिनट तक उसकी चूत और गांड को पेलने बाद भी लंड लोहे की रॉड जैसे खड़ा था. मेरा मन कर रहा था कि अभी अपनी निगोड़ी चूत को इसके लंड से चुदवा लूं.

मैं बाथरूम में गया ही था कि पीछे से भाभी अपनी नंगी जवानी को लिए अन्दर आ गईं.

मैंने अब अपना लंड उसकी चुत में से निकाला और उसकी गांड में डाल दिया.

आंटी बोली- विकास आज तूने मुझे खुश कर दिया।बहुत दिनों के बाद उनकी चूत की खुजली शांत हुई थी तो आंटी भी काफी खुश लग रही थी. काफ़ी देर तक करने के बाद मैंने उससे कहा- सब कुछ मैं ही करूँगा, तो तुम क्या करोगी?ये कहते हुए मैं उसके ऊपर से हट गया. कुछ ही देर में मैं झड़ने वाला था तो मैं उसके मुँह में ही झड़ गया और थोड़ी देर तक मैंने लंड को मुंह में ही रहने दिया और उसने मुझे जोर से धक्का देकर हटा दिया और थोड़ा वीर्य पी गयी मेरी प्यारी बहन.

मैं आंटी के घर में अन्दर आ गया और उससे जोर से कहने लगा- तू आज मेरा पैसा वापस कर दे. लेकिन मुझे ये चिंता थी कि इसके साथ अगर करवाने की कोशिश भी करूँ तो कहां काम उठवाऊं. जैसे ही मेरी उंगलियां उनके जी स्पॉट पर पड़ीं, वो आनन्द के मारे बौखला गईं और मेरा सर पकड़ कर पूरी ताकत के साथ मुझे अपनी चूत पर दबा लिया.

मैं देखना चाहता था कि इन दोनों के बीच में पक रही खिचड़ी कहाँ तक पहुंची है.

अपना मुँह उसकी चूत पे लगा दिया और उसकी गुलाबी चूत को चाटना शुरू किया. मुझे लगा था कि कुछ न कुछ बवाल होगा, पर उन्होंने भी मेरा कोई विरोध नहीं किया. एक दूसरे से लिपटे हुए दोनों के बदन साँपों के मैथुन जैसे बिहेव कर रहे थे.

भाभी को चूमते हुए मैंने उन्हें बेड पर पटक दिया और उन्हें कातिल नज़र से देखते हुए अपना लोअर निकाल दिया. वो लड़का अकेले रह कर पढ़ता था, तो उसको सुबह में खाना बनाने के लिए समय नहीं मिलता था. पर ये तो बाक़ायदा इस पर टिपण्णी कर रही है!अब मैंने इतने अरसे में पहली बार उसके शरीर को ध्यान से देखा.

वो कहने लगीं- ये सब क्या बोल रहे हो?मैंने उनसे कहा- मुझे चोदते वक्त गालियां देना अच्छा लगता है.

आंटी भी हाथ में दूधों को पकड़ कर मुझे पिलाने लगी, कहने लगी- पी जा सौरभ. मैंने प्यार से चुत को ऊपर से ही को सहलाया … फिर मैं उनके होंठों को चूमने लगा और वह भी मेरा साथ देने लगीं.

देवर भाभी का हिंदी बीएफ मैंने उसकी टांगों को ऊपर उठा दिया तो उसका सिर दीवार से जा लगा, और वो विरोध की पॉजीशन में नहीं रही. फिर संध्या बोली- अमित तुम लेट जाओ, मैं तुम्हारे मुंह पर बैठ जाती हूँ, फिर चूसो मेरी चूत को.

देवर भाभी का हिंदी बीएफ इस पौने घंटे में दोनों तीन तीन बार झड़ गयी और मेरा लंड था कि झड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था. फिर मैंने धीरे से उसके रेशमी लंबे बालों में अपना हाथ घुमाया और कहा- रिलेक्स रहो, डरो मत.

अब मैं जोश ने आकर बोल रही थी कि आह फाड़ दे मेरी आज गांड … मैं रंडी बन चुकी हूँ.

देवर ओर भाभी

उसका नाम मैं यहाँ पर नहीं बता सकता लेकिन बिना नाम के कहानी का किरदार समझने में पाठकों को परेशानी न हो इसलिए मैं उसका नाम बदलकर लिख रहा हूँ।उसका नाम नीरू था. यह मेरा काम थोड़े है दोस्त। बस शौकिया कर देता हूं अगर चीज पसंद आई तो … उम्मीद है कि मेरी बात समझेंगे।मेरे पते वही हैं:[emailprotected]https://www. ये एक दो बीएचके का फ्लैट था और उसकी दोनों फ्रेंड्स ने मेरे साथ अपना परिचय किया.

भाभी उस धक्के के लिए तैयार नहीं थी और जैसे ही पूरा लंड चूत के अंदर फंसा, भाभी की एकदम चीख निकल गई, बोली- राज! मुझे मार ही दिया, इतना मोटा लंड है तुम्हारा. रात में हॉस्पिटल हमारे यहाँ से 13-14 किलोमीटर था। सोनू जो अभी मात्र ढाई साल का था, आगे बैठा होने से मैं बाइक धीरे-धीरे चला रहा था। अचानक स्पीडब्रेकर आने से मुझे ब्रेक लगाने पड़े और रेखा जो कि मेरे पीछे बैठकर आगे सोनू को पकड़े हुए थी. दो-तीन मिनट बाद, जिसके हाथ में पेंटी थी, वह आया और मेरे पास खड़े होकर बोला- चल आजा मेरे पीछे, यहीं पास में एकांत जगह है, वहीं तुम्हारी पैंटी दे देता हूं.

क्योंकि गर्मी के कारण लण्ड के आस-पास पसीना आने लगता था और मुझे खुजली होती थी.

मैं मस्ती से इतनी भर गई कि झड़ते हुए मैंने उसके अंडों को कस के दबाए रखा और लिंग पर दांत गड़ाए रखे. ऊपर से शॉवर से पानी गिर रहा था और हम दोनों चिपके हुए बियर पी रहे थे. लंड उसके गले तक जा रहा था जिससे उसे सांस लेने में दिक्कत आ रही थी।उसके बाद फिर मैं जोर जोर से लंड को अंदर और बाहर करने लगा.

मैं उसके गर्म माल से चूत की परपराहट से स्वर्ग का आनन्द महसूस करके शांत हो गयी थी. मेरा मन कर रहा था कि अभी अपनी निगोड़ी चूत को इसके लंड से चुदवा लूं. भाभी की तबीयत ठीक ना होने के कारण मैंने ही दूध गर्म किया और भाभी और मैं साथ में दूध पीकर सो गए.

दो लंड से मेरी चूत और गांड की चुदाई चल रही थी बाकी दो लंड में से, एक मेरे मुँह में घुसा था और एक मेरे मम्मों के बीच में रगड़ खाए जा रहा था. देरी के लिए माफ़ी चाहता हूँ … कुछ वजह से आगे की कहानी पूरी नहीं लिख सका था, लीजिये पेश है आगे की कहानी.

कहानी शुरू करने से पहले मैं सभी गर्म भाभियों और सेक्सी आंटियों को धन्यवाद देना चाहता हूँ जो मेरी कहानियों को प्यार देती हैं. उसने अपने घर का पता मुझे दे दिया और कहा कि तुम सुबह 11 बजे के आस पास घर आ जाना. अब आगे:मैंने पूछा- क्यों तुम्हारा हस्बैंड तुम्हारे साथ सेक्स नहीं करता?वो बोली- करता है पर मुझे मज़ा नहीं आता.

अब उसने मेरी पैंटी को नीचे किया और मेरी गीली योनि पर अपने गर्मा-गर्म होंठ रख दिये.

मैंने पंकज को बता दिया था कि वह ऊपर छत की तरफ से घर में आए क्योंकि अगर वह नीचे से आता तो पड़ोस के लोगों को भी पता लग जाने का डर था. वो मेरे लंड को चड्डी के ऊपर से तिरछी निगाह करके वाशरूम की तरफ जाने लगीं. कुछ देर बाद मैंने भाभी को नीचे उतारा और पूछा- कुछ ठीक लगा?भाभी कहने लगी- राज! ऐसा दो तीन बार कर दो.

खिड़की के बाहर लोग आ जा रहे थे, लेकिन हमारी पोजीशन ऐसी थी कि उन्हें केवल वाणी दिख रही थी और फिलहाल उसने अपना पल्ला भी सही कर लिया था. मैं मादक सिस्कारियां निकालने लगी और वो मेरी चूत को चाटने के बाद मेरे जांघों को मसलने लगा.

अब उसने मेरी पैंटी को नीचे किया और मेरी गीली योनि पर अपने गर्मा-गर्म होंठ रख दिये. हमारे पड़ोसी तिवारी ने मुझे बताया था कि घर के अन्दर जाके देख, तेरी बेटी मजदूर के साथ गुलछर्रे उड़ा रही है और मैं भड़क गया. तो दीदी बोली- सोनू कंट्रोल कर यार … नहीं तो तू पीछे चली जा, उधर कई जेंट्स हैं.

भोजपुरी बीएफ पिक्चर

इसलिए अगर कोई ग़लती आप लोगों को मिल जाए तो मैं उसके लिए आप सब से पहले ही माफी मांग लेता हूँ.

वे लंड मेरी चूत के अन्दर डालने लगे और आखिर में उन्होंने अपना पूरा का पूरा लंड मेरी चुत में घुसेड़ ही दिया. लेकिन जैसे लड़के मुझे पसंद थे वैसे लड़के किसी गे साइट या डेटिंग ऐप पर बहुत ही कम मिलते थे. मिशिका ने उसके अंडरवियर के ऊपर से ही उसके लंड को हाथ में ले लिया और सहलाने लगी.

वो मुझे प्रथम श्रेणी के उस केबिन में ले गया जिसमें सिर्फ दो ही बर्थ होते हैं और बोला- आप यहाँ आराम कीजिये, मैं यात्रियों की टिकट चेक करके आता हूँ. मन भर चोदने के बाद मैंने अपना सारा माल उसकी गांड में ही निकाल दिया. एक्स वीडियो इंग्लिश फिल्मपांच मिनट बाद वो बाहर निकली, तो उसके चाल में थोड़ा लचकपन था, पर चेहरे पर सन्तुष्टि के भाव थे.

अब मैं भी चलता हूं … इस रंडी को कभी मेरे को अकेले में देना … साली को दिल से खुश करूँगा. उसने तभी एक उंगली से योनि की ऊपर की दीवार की तरफ रगड़ना शुरू किया और बस पल भर में ही मेरे सब्र का बांध टूट पड़ा.

शुरू के दिनों में तो मैं सारा दिन इंटरनेट पर नौकरी ढूंढता रहता था और जगह-जगह अप्लाई करता रहता था. मैंने अमित को अपने बदन पर खींच लिया और उसके होंठों को अपने होंठों पर लगाकर चूसना आरंभ कर दिया. राहुल बोले- हाँ अमित, संध्या की बात ही कुछ ऐसी है कि हर कोई अपने होश खो दे.

मैंने तुरंत अपना बैग पैग किया और उसके घर की तरफ चल दिया जो कि पैदल की दूरी पर था. क्या बोलूँ … इतनी सॉफ्ट स्किन और टेस्टी थी कि बस मैं उसे चूमता चला गया. मैंने रिंकी का बैग खोला और देखकर दंग रह गया, उसमे मेरे कपड़ों के साथ साथ उसकी ब्रा और पैंटी भी थी.

फिर मैंने अपना हाथ थोड़ा सा साइड में कर के नीचे से उसके टॉप के अन्दर ले गया और उसकी ब्रा के ऊपर से उसकी चुचियां दबाने लगा.

उसने पीछे से मेरे कूल्हों को पकड़ लिया और अपनी चूत में खुद ही मेरे लंड को अंदर की तरफ धकेलने लगी. अब मैंने अपना ग्लास उठाकर एक घूँट अपने मुँह में भर लिया और अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए.

चलो कोई बात नहीं मेरे गोलू मोलू अभी लिख कर भेजती हूँ, तुम भी अब एक काम करो अपने लंड पर मेरा नाम लिखो और फोटो भेजो. जिसने मुझे ये कहानी भेजी है, वो एक आंटी है, उसने अपना नाम भी बताया है, लेकिन मैंने इधर उसका नाम बदल दिया है. उसने कभी घोड़ी बन कर चुदाई नहीं करवाई थी, इसलिए इस अवस्था में उसकी बुर थोड़ी कस गई थी.

वो बोली- ये क्या कर रहा है?लेकिन मैं नहीं माना और चूत चुसाई करता गया. मैंने उसकी पति की गैर मौजूदगी में तीन दिनों तक रोज चूत चुदाई का मजा लिया. मैंने उससे पूछा कि दूसरी बर्थ पर किसी ने आना है क्या?उसने कहा- नहीं, ये बर्थ मेरी है.

देवर भाभी का हिंदी बीएफ मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और लगभग 5 मिनट की चुदाई के बाद भाभी की बुर ने फिर पानी छोड़ दिया और भाभी ने अपनी छाती और चूचियाँ बेड पर टिका ली. मिसेज रॉय ने मुझे देखते ही मुझे बुलाया- कम ऑन अरमान … प्लीज ज्वाइन अस.

हिंदी बीएफ गांव की देहाती

बस यूं ही किस करते-करते हम दोनों एक-दूसरे को कस कर दबाते और टाइट हग भी करते रहे. दो मिनट बाद रिशु ने मिशिका की चूत पर लंड को रखा और एक धक्का दे दिया. मेरे पास पहले से ही लैपटॉप था इसलिए पढ़ाई के साथ साथ मैं मूवी वगैरह भी उसी में देख लिया करता था.

अब मैंने उसको नीचे बाथरूम मैं लिटाया, ऊपर से शावर का पानी गिर रहा था. उसका लंड थोड़ा सा घुसा था, तो मैं बिल्कुल रंजना दीदी से लिपट गई और कान में बोली- दीदी बहुत मन कर रहा है कि कोई अन्दर कर दे. नंगा टिक टॉकमैं उसके मम्मे और चूत दोनों सहला रहा था, जिससे मेरे लंड में फिर गरमी आ गयी थी.

तो रंजना दीदी बोली- अरे नहीं पगली, तेरे लिए थोड़ा बहुत तेरे सुकून के लिए तो मैं कुछ भी कर सकती हूं.

जब मेरे लंड ने उसकी जवानी का भरपूर रस पी लिया तो वह भी हाँफता हुआ उसकी चूत में थूकने लगा. यह शायद वायग्रा का ही असर था कि मेरा लंड कुछ ही मिनट के बाद फिर से खड़ा होना शुरू हो गया था.

फ़िर मैंने बात बदलते हुए कहा- अच्छा अब सच कौन बताएगा?तो फ़िर से दोनों ने साथ में बोला- कौन सा?मैंने कहा कि आप दोनों का क्या प्लान है?और वाणी से बोला कि गीता कौन है. वह स्टोर वाला मुझको बोला- देखो सामने हमारी बड़ी सी गाड़ी फॉर्च्यूनर खड़ी है. पूरे लंड को सुपारे से टट्टों तक को दबा दबा कर चुदवा रही थी, मेरी बीवी की हालत इस तरह की हो रही थी, जैसे किसी मछली को गरम रेत पर छोड दिया गया हो.

मैंने पूछा- आपके पति क्या करते हैं?वो बोली- वो बाहर टूर पर रहते हैं और कभी कभी आते हैं.

वो बोली- बहुत अच्छे … और तुम्हारे भी अच्छे हैं, ये मुझे गीता (कामवाली) ने बता दिया है. देख मेरा अच्छा दामाद है न, प्लीज, सिर्फ एक बार चूत लंड का मिलन करवा दे, मुझ पर रहम कर. मैं फौजी हूं और एयरपोर्ट रोड पर ग्रीन फील्ड में अपने एक दोस्त के साथ किराये पर रहता हूं.

गर्म कहानियांतुझे क्या लगा दुप्पटा अपने आप गिरा था? नहीं … मैंने जानबूझ कर गिराया था. अजय ने कहा- नहीं रे … रमेश भी तेरे साथ मस्ती करने की बात मुझसे एक दो बार कह चुका है, पर मैंने ‘तेरा मूड नहीं है.

नागी सेक्स

मैं बेड के ऊपर लेट कर सोनू की चूत का क्लिटोरिस मसलने लगा और धीरे-धीरे एक उंगली उसकी चूत के छेद में भी चलाने लगा था. ऊपर से गीता भी उसके ऊपर लेट कर मुझे किस करने की कोशिश करते हुए तूफ़ानी धक्के लगा रही थी. अब मैं ठहरा अन्तर्वासना पढ़ने वाला और मेरे दिमाग़ मैं एक ही बात घूम रही थी कि इतने सालों से वो अपनी चुदाई की आग को कैसे शांत करती होगी.

उसने मेरी कमर में कस के हाथ लगा कर अपना लंड मेरी गांड के छेद में रख दिया और फिर मुझसे बोला कि अब संभल जा!जैसे ही उसने मेरी गांड में अपना लौड़ा टच कराया, तो मुझे लगा कि इसका लंड तो अब और बड़ा हो गया है. मेरे दिमाग में भी बहुत कुछ चल रहा था, जैसे कि कल्पना कैसी दिखती होंगीं? क्या क्या करना पड़ेगा आज? कैसे खुश करूँगा उन्हें? और खुश कर भी पाऊंगा या नहीं!यही सब सवाल मन में लिए मैं अपनी तैयारी में लग गया. मेरी सहेली ने मेरे घर वालों से झूठ बोल दिया कि हम दोनों बाहर बाजार में सामान लेने जा रहे हैं.

कुछ देर बाद गर्मी कम हुई, तो हम दोनों ने सेक्स करते करते चादर ओढ़ लिया. हम तीनों नंगे ही छत पर चले गए और फ़िर चियर्स कर के हम सबने दो तीन घूँट में ही बियर खत्म कर दी. वहां जाकर उसने ही बाथरूम खोला और मुझे नीचे उतार कर कहा- आप फ्रेश हो जाएं … मैं बाहर दरवाज़े के पास खड़ा हूँ.

उसने चड्डी के ऊपर से ही मेरे लंड पर हाथ फेरना शुरू किया और चूमने लगी. एक चूचे को मुंह से चूस रहा था।कुछ देर के बाद मैंने पेंटी के अंदर अपना हाथ ले जाकर चूत पर रख दिया जो बहुत ही गीली और गर्म हो चुकी थी। मैं धीरे-धीरे उसकी गर्म चूत पर हाथ फेरने लगा। मैं कभी चूत में उंगली कर देता तो कभी उसके चूचे को दबा देता था.

वह आदमी बोला- तुम अगर मना करोगी, तो मैं चलकर सबको तुम्हारी पूरी करामात बता दूंगा कि तुमने झाड़ी के पीछे क्या क्या किया है.

जल्दी-जल्दी रोते हुए अपने कपड़े उनके सामने पहने और रोते रोते ही वहां से अपने घर के लिए निकली. सेक्सी वीडियो इंदौर कीथोड़ी ही देर में मेरा औजार फिर से खड़ा हो गया। अब अंताक्षरी खेलते-खेलते भी बहुत समय हो गया था. vidmate 2017 डाउनलोडउसका घर मेरे घर से 1 किलोमीटर की दूरी पर था। मैं वहाँ पर गया और दरवाज़ा खटखटाया तो उसने पूछा- कौन है?तो मैं बोला- विकास. जब वो मुझसे या मेरे सामने अपने किसी चोदू से बात करते वक्त ज्यादा गर्म हो जाती थी, तो वो मुझे किस करने लगती थी.

सुबह भैया आए तो डांटने लगे कि उधर से क्यों आ गया था?मैं बोला- अच्छा नहीं लग रहा था.

साथ ही नामित और निक अपनी चटाई और मसलाई करके मेरी वासना को और बढ़ा रहे थे. उस बिल्डिंग में काफ़ी आंटी रहती थीं, उनमें से मुझे दो आंटी बहुत ज्यादा पसंद थीं. मैं अवी हाजिर हूँ अपनी रीयल लाइफ स्टोरीमेरा पहला सेक्स कुंवारी लड़की के साथका अगला भाग लेकर.

बाद में रात को जब मैंने उसको मैसेज किया कि कहीं मिलने का प्लान बनाते हैं. आपको मेरी यह कहानी पसंद आई तो आपके लिए मैं अपने साथ हुई और भी घटनाएँ साझा करना चाहूँगा. मैंने एक हाथ उसकी चुत पर रखा, तो पता चला कि उसकी चुत पूरी भट्टी की तरह जल रही थी … जो ज्वालामुखी की तरह गर्म थी.

बीएफ फिल्म दिखाओ ब्लू फिल्म

कभी जब बहुत मन करता है तो रात भर नींद नहीं आती और मैं चूत में उंगली से कर लेती हूँ. रमीज मुझसे बोला- वन्द्या, मैं लौड़ा घुसा दूं तेरी गांड में?मैं बोली- हां रमीज डाल दो. तब उन्होंने पूछा- कैसा स्वाद लगा तुझे वन्द्या?मैं बोली- बहुत मस्त लग रहा है राजा जी … क्या कमाल है कि अभी 5 मिनट पहले मैं आपको जानती नहीं थी और पांच छह मिनट में आपके कितने करीब आ गई हूँ.

उन्होंने तुरन्त बोला- क्यों?मैंने सहज में बोला- ऐसे ही देखूं तो सही.

शीला मुझसे बोली- हम दोनों बहनों की सेवा पसंद आई पतिदेव को या नहीं?‘तुम दोनों ने मुझे पागल कर दिया है, चार बार पानी छोड़ने के बाद भी लंड खड़ा है.

फिर हम तीनों थककर लेट गए, दोनों मेरे अगल बगल में लेटकर मेरे दोनों निप्पल चूसने लगीं. बुआ- आआहह …अभी चुत में लंड पूरा गया भी नहीं था कि उन्होंने मुझे अपने पास बुलाया, जैसे ही मैंने अपना मुंह उनके पास किया उन्होंने मेरे माथे पर किस कर लिया, मैंने अपने एक हाथ से उनके मम्में दबाते हुए उनके मुंह में अपना जीभ घुसा दिया. गाना वाला फाइलउसके बाद ट्रेन आई और मैं इंतज़ार करने लगा कि कब वो लोग आएंगे मेरे सामने.

मैं देख कर बिल्कुल आश्चर्यचकित हो गई, तब मैंने राजा जी की सारी बातों को मान लिया कि मम्मी सच में ऐसी थीं, जैसा वह लोग बोल रहे हैं. लेकिन उसने वाईब्रेटर मेरी चूत में से निकालने की बजाय उसको फुल स्पीड पर कर कर दिया. अत: मैंने अपने दोनों हाथ उसके पैरों के नीचे से ले जाकर उसके दोनों पांव ऊपर उठा लिए, जिससे उसकी बुर ऊपर की ओर उठ गई तथा लंड उसकी बुर के बिल्कुल सामने आ गया.

फिर मैंने उसे शांत करते हुए उसके आंसू पौंछे और उसको गले से लगा लिया. सुबह उठा तो देखा कि रिंकी अपने मायके यानि मेरी बुआ के घर जाने की तैयारी कर रही थी.

मैं दिल्ली में रहती हूं इसलिए इधर इस तरह के होटल बड़ी आसानी से मिल जाते हैं, इस बात की मुझे खूब जानकारी थी.

मैंने उससे कहा- अपनी प्राब्लम बताओ … अगर नहीं समझा तो गांड नहीं मारूँगा. सबसे पहले वो मेरे माथे को चूमने लगे, मेरे गालों को चूमने लगे, मेरे कानों की लड़ी को अपने होंठों से चूसते तो कभी मेरी नाक को चूसते. मैंने उसको अपने हाथों से पीछे हटा दिया और अपने अंडरवियर को ऊपर कर लिया.

छोड़ने की वीडियो कौशल्या और गर्म हो गयी- आह्ह आअह्ह हम्म …फिर उसने मेरी धोती खोली और मेरे लंड को बड़े प्यार से चूसने लगी. मैं बेकाबू हो गयी और उसको बोलने लगी कि मेरी चूत में अपना लंड डालो, मेरी चूत को चोदो.

उधर एक रद्दी पेपर पड़ा था, मैंने दुकानदार से अखबार लेने की बात कही, तो उसने मुझे ले लेने की इजाजत दे दी. तो उन्होंने कहा- कोई बात नहीं, तुम मेरे अंदर ही निकालो।मेरे लंड से वीर्य का फ़व्वारा निकला और भाभी की चूत वीर्य से भर गयी. दो दिन बाद मैंने भाभी के बाथरूम का नल ख़राब कर दिया ताकि भाभी मेरे बाथरूम में नहाने के लिए आए और मैं उनको नहाते हुए देख सकूँ.

बीएफ बीएफ न्यूज़ meaning 2017

क्या मस्त गांड है तेरी, दुनिया में कोई लड़की गांड में ऐसे नहीं चुदवा सकती, जैसे तू मस्त चुदवाती है और गांड में चुदवाते चुदवाते तेरी गांड भी मस्त हो गई है. उसके बाद मैंने अपनी चुदाई तेज कर दी और जोर जोर से उसकी चूत को चोदने लगा. फिर मैंने अपनी फुद्दी को सहलाया और सोचने लगी कि काश यह लंड अभी अपनी फुद्दी में फंसा लूं और तब तक ना निकालूं, जब तक फुद्दी पानी पानी नहीं हो जाती.

आअअह्ह … बस जल्दी … करो … ओओ … ह्ह … मैंने उसके सिर को अपने लंड पर दबा दिया और मेरे पूरा बदन ऐंठने लगा. फिर मैंने धीरे-धीरे चूमते हुए उसकी चूत के ऊपर से पैंटी के ऊपर अपना मुँह रख दिया वो एकदम से सिहर गयी.

मुझे ऐसा लगा कि मेरी योनि की मांसपेशियों पर मेरा वश नहीं रहा और अब पानी का फव्वारा सा छूट निकलेगा.

मेरा भी दिल आया हुआ था उससे चुदने के लिए … मगर मैं खुल कर कुछ कह नहीं सकती थी जब तक की आरती को कुछ ग़लत करते हुए ना देख लूँ ताकि वो खुद ही मुझे उससे चुदवा कर अपना भेद छुपा कर रख सके. उसने मुझे अपनी ओर खींच लिया और मेरे होंठों को पागलों की तरह चूसने लगा. मैं उसको जगाने जाती थी … तो उस वक्त एक बेबी डॉल टाइप की नाइटी पहन कर जाती थी.

’ ज़रीना उत्तेजना में चिल्ला रही थी और अपने कूल्हे उछाल-उछाल कर मेरे धक्कों का साथ दे रही थी. लेकिन मुझे कन्नड़ नहीं आती थी और वो दोनों कन्नड़ में बातें करने में लगी थीं. भैया भी मेरे पास आ के खड़े हो गए और मुझे और मेरे पूरे नंगे शरीर को देखने लगे.

कोई बात नहीं …” मैंने बिना उसकी तरफ देखे ही बोला और मूवी देखता रहा।आप नाराज मत होइए … वो तो मुझे किसी और पर गुस्सा आ रहा था ऐसे ही मुँह से निकल गया.

देवर भाभी का हिंदी बीएफ: जब मैंने चैट में पीछे जाकर देखा तो यह वही लड़का था जो उस दिन बारात में मिशिका के साथ बात कर रहा था. कुछ समय के लिए मुझे संतुष्टि मिल गई मगर अभी भी बार-बार राधिका आंटी और उनकी सेक्सी हरकतें मेरी नज़रों के सामने नाच रही थीं.

एक अजीब सी खुशी थी जिसको मैं शायद शब्दों में नहीं कह पा रहा हूँ।उसी वक़्त कोमल का मैसेज आया- जानू, आज पहली बार किसी ने मुझे इतना प्यार किया है; आज से मैं तुम्हारी हो गई हूँ. मेरी इस इच्छा पर उसने मुझसे बोला कि ठीक है, वो मेरे लिए एक लंड की जुगाड़ करवा देगी. मैंने कहा- क्या तुम मेरी उससे बात करवा सकती हो?उसने कहा- आपको दो दिन रुकना पड़ेगा.

मेरे बूब्ज़ बिल्कुल तने हुए रहते हैं और मेरे हिप्स मेरा पॉइंट ऑफ़ अट्रैक्शन हैं एकदम गोल और पीछे को निकले हुए, बिल्कुल शेप में! इन्हें देख के बहुत सारे लोग मुझे लाइन मारते हैं और पटाने की कोशिश करते रहते हैं.

लंड सलहज की बच्चेदानी पर बार बार टकराता और वो सिसकारी लेती, इससे मेरा जोश और बढ़ जाता. मैं- चलो अच्छा है … और सुनाओ तुम क्या कर रही हो?यहाँ मैं उसे भाभी लिख के आगे की बातें स्टार्ट करता हूँ, जिससे आपको समझने में आसानी हो. फिर अंत में जब उससे नहीं रहा गया तो उसने मेरे सर को पकड़ लिया और जोर से अपनी चूत पर दबाने लगी.