2019 बीएफ

छवि स्रोत,चूत सेक्सी लंड

तस्वीर का शीर्षक ,

dinesh सेक्सी वीडियो: 2019 बीएफ, वाइट शर्ट में हॉट पैंट शर्ट मम्मी की चुचियाँ बाहर को दिख रही थी।आकर वो ससुर जी की गोद में बैठ गयी।ससुर जी ने पहले तो मम्मी के नीचे के शर्ट के दो बटन को खोला और उनके पेट पर हाथ फिराने लगे, मम्मी को किस करने लगे.

రాజస్థాన్ సెక్స్

मेरी ये बात सुनीता ने सुन ली तो वो मुझसे बोली- दीदी, क्या आप भी अंकित जी से चुदवाना चाहती हो?मैंने थोड़ा नाटक किया, पर बाद में मैंने सुनीता से बोला कि जिस तरह तुम बता रही हो कि अंकित ने तुम्हें चोदा है, तो मैं भी उससे चुदना चाहती हूँ. वहिनी सेक्सीइसके बाद धीरे धीरे हम एक दूसरे से काफी क्लोज होते गए और सभी तरह की बात करने लगे.

मेरी जवान बदन की हवस की कहानी आपको कैसी लग रही है, मुझे इमेल करके अवश्य बतायें।मेरा मेल आई डी है[emailprotected]. मद्रासी सेक्सी सीनऐसे ही मैंने बहुत देर तक चोदना जारी रखा जिससे कि मेरा वीर्य गिरने वाला हो गया था.

मैं कई बार उसके रूम पर ऑफिस के काम की वजह से गयी थी, चूंकि वो मेरे साथ काम करता था, इसलिए ये एक सामान्य सी बात थी.2019 बीएफ: मैंने पास जाकर उसे थोड़ा हिलाया, बोला- मिसेस रानी, वेक अप!उसने अधखुली आँखों से मुझे देखा और मेरा हाथ पकड़ लिया.

रजत थोड़ी शैतानी से मुस्कुराते हुए- तो तुम कर दो गीला!विक्रम आश्चर्य के साथ- मतलब?रजत- अरे… जैसे तुमने दीदी की चूत को गीली किया, वैसे ही मेरा लंड अपने मुँह में लेकर इसको भी गीला कर दो…रजत के ऐसा कहने से मयूरी और रजत दोनों धीरे-धीरे मुस्कुराने लगते हैं.हम तीनों ने एक और पेग बनाया, यह रितु का तीसरा और हमारा चौथा पेग था.

देवर भाभी की सेक्सी वीडियो खेत में - 2019 बीएफ

मैं अब बिस्तर पर आ गया, हल्की होने के बाद वो भी मेरी बाजू में लेट गईं और अपने हाथों से मेरा लंड सहलाते हुए उससे खेलने लगीं.मेरी सेक्स कहानी के प्रथम भागमेरे बेटे की डायरी: बेटे ने अपनी माँ को चोदा-1में आपने पढ़ा कि मुझे अपने बेटे की डायरी से पता चला कि वो अपनी मॉम को यानि मुझको चोदना चाहता है.

ईद के त्यौहार वाली रात को मैंने वो डिल्डो भाभी को ईदी कहकर तोहफे में दे दिया. 2019 बीएफ अच्छा यह बताओ इस कि इसकी बहन क्या करती है?मैंने कहा- नौकरी की तलाश कर रही है.

वो इतने हट्टे कट्टे मजबूत शरीर दिखने भी हैंडसम हैं ओर चड्डी के अन्दर उनका लंड भी बहुत बड़ा लग रहा था.

2019 बीएफ?

वो मेरा सर पकड़ कर मेरे बालों को नोंचते हुए अपनी जाँघों को मेरे गालों पर दबाते और घिसते हुए मेरा सर अपनी चुत पर दबोचने लगीं. तो मैंने उस दिन मरने का सोच लिया था और घर की छत पर कूद कर मरने के लिए चली गई थी. कुछ दिन बाद मुझे भाभी से बात करने में मजा नहीं आ रहा था, तो मैं उनसे कम बात करने लगा था क्योंकि भाभी सेक्सी बात करने को मान ही नहीं रही थीं.

उनका लंड इतना मोटा था कि मेरे मुँह में पूरी तरह से नहीं आ पा रहा था. मेरी पिछली कहानीससुर और बहू की कामवासना और चुदाईके प्रकाशन के उपरान्त मुझे बहुत सारे ईमेल सन्देश मिले. पीछे चाचा मेरी कमर को कस के पकड़ कर गांड में लौड़ा डाले जमके अन्दर बाहर कर रहे थे.

कल छुट्टी है तुम पूनम से कोई बहाना बना कर मेरे घर पर आ जाओ, फिर पूरा मज़े लेंगे. फिर वो बोली कि तुम गुस्सा मत हो जानू… मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ लेकिन वो सब नहीं कर सकती और अगर तब भी तुम करना चाहते हो तो ऊपर ऊपर से जो भी करना है, कर लो. धीरे धीरे वो एक एक करके अपने कपड़े पहन रही थीं और मैं सांस रोक कर उनके गोरे बदन को निहार रहा था.

उन्हें जैसे करंट सा लगा, उन्होंने मुझे कस कर पकड़ लिया और मुझसे लिपट गयी, उनका गोरा बदन सुर्ख लाल हो गया था. सुबह जैसे ही काम खत्म करके मैं घर जाने को रेडी हुआ, बॉस का कॉल आ गया.

तब मैंने उनके आंसू पौंछे- ईट्स ओके अंकल, मौसी भी घर पर नहीं रहती, आपका भी मन करता होगा। आखिर आप भी तो इंसान हैं.

मैं कभी कभी अपनी सहेलियों के साथ वर्कआउट करने के लिए एक फिटनेस ट्रेनर के पास जाती हूँ जो कि एक लेडी है.

अब मुझे पता लग गया था कि तबस्सुम लड़कों को घर पर भी बुला कर अपनी चूत को चुदवाती है. फिर रात को खाना खाने के बाद उन्होंने मेरी 3 बार अलग अलग आसन में मेरी गांड मारी और हर बार अपना पानी मेरी गांड में छोड़ते रहे. मैंने पूछा- तुम हंस क्यों रहे हो?उसने कहा- सुखमन, मैंने सब कुछ तो देख लिया है.

मुझे हल्का सा दर्द हुआ लेकिन कुछ देर बाद मैं भी अपनी गांड को नीचे से उछाल कर उसका लंड अपनी चूत में लेने लगी थी. मन लो ऐसा नहीं हुआ तो?मयूरी कुछ सोचते हुए- वैसे तुम लोगों का मन नहीं करता कि तुम दोनों मम्मी की चूत की चुदाई करो? एक साथ!रजत- मैं सच्ची बताऊँ, मेरा तो बहुत मन करता है कि मैं माँ का दूध जोर से दबा दूँ और भाई पीछे से मम्मी को पकड़ कर उसकी चूत में उंगली डाल कर मजे ले. दूसरे हाथ से वो मेरे लौड़े को इतनी जोर से मसल रही थी कि मैं कराह उठता.

इसलिए बताना नहीं चाहते?अरे नहीं ऐसी बात नहीं है, मैं तो बस ये कह रहा था कि आप तो दिल में बसाने की चीज हो.

मैं अपनी उंगली भाभी की चूत में चलाने लगा,भाभी की कामुकताकी आग विशाल रूप ले चुकी थी. थोड़ी देर बाद मम्मी ने अपनी नाइटी उतारी और उसके बाद तो मैं अपना आपा खो बैठा, एकदम बर्दाश्त के बाहर हो चुका था … मैं अपनी मम्मी को सिर्फ ब्रा और पेंटी में देख रहा था!एकदम गोरा चमकता हुआ जिस्म, बूब्स तो लग रहे थे कि ब्रा फाड़ के बाहर आ जायेंगे!मम्मी ने फिर अपनी ब्रा और पैंटी उतारी, ओह … वो गोरी गोरी गांड देख कर मेरा दिमाग ही घूम गया, एकदम बड़े बड़े बूब्स … उन पर मोटे मोटे निप्पल, मॉम की चूत एकदम साफ़ थी. फार्म हाउस मैं हमारा बूढ़ा वॉचमेन रमेश अपनी दूसरी पत्नी रूपा के साथ वहीं रहता है.

मैं राज का धन्यवाद कहना चाहता हूं कि मेरे सपने को साकार करने में मदद की और मेरे कहने पर उसने यह कहानी भी आपके समक्ष रखी. अब हम कॉलेज पहुंच गए और मुस्कान का काम होने के बाद मुस्कान बोली- चलो अब घर. मुझे ऐसे ही रोज चोदना और मेरी चूत और गांड में अपने ये मस्त लंड डाले ही रहना.

इतनी देर में विक्रम भी बाथरूम से आ गया और मयूरी की मस्त चूचियों से खेलने लगा.

अंजलि कह रही थी।उसका फ्रेण्‍ड कह रहा था- साली रंडी, तेरी गांड मारने का मज़ा बहुत आता है. नलिन गुस्से से पागल हो कर बोला- यह लड़की बेशर्मी की सारी सीमाएं पार कर चुकी है! मम्मी जी इससे कहो कि ये अभी मेरा घर छोड़ दे … चली जाए यहाँ से!मम्मी बोली- बहू कहीं नहीं जायेगी … यह अपनी जगह सही है.

2019 बीएफ मेरे प्यारे पाठको, अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज का मजा ले रहे हैं आप… मुझे भी खूब मजा आता है हिंदी सेक्स कहानी पढ़ कर… दोस्तो, मेरा नाम कविता है. भाभी ने कहा- ठीक है … तो जो उस निशा के साथ किया था, वही सब मेरे साथ करना होगा.

2019 बीएफ खैर, इसी तरह शीतल अगले कुछ देर तक विक्रम को कभी अपनी चूचियां तो कभी अपनी गांड का दर्शन और स्पर्श कराती रही. दोस्त बोला- ठीक है ये ले एक लड़की का नम्बर इसका नाम पायल (बदला हुआ नाम) है, इसको पटा.

उसने कहा कि कल जब मैं अपने कॉलेज जाऊंगी, तो तुम मेरे साथ बाइक लेकर चलोगे.

हिंदी आवाज में

अगर आप सोई होती तो शोर आपको कहाँ सुनाई पड़ता… और पता चल गया जूसी रानी का नाम तो चलने दो क्या फर्क पड़ता है. उसका मज़ा देखकर मैं और जोश में आ गया और मैंने धकापेल चुदाई करनी शुरू कर दी. उसकी आंखें, गला, नाक, होंठ, गाल एक भी जगह ऐसी नहीं बची थी कि जहां पर मेरे होंठ ना लगे हों.

उसने जवाब दिया- देखो अगर भावुक हो कर कुछ भी करोगी तो जिंदगी में सफल नहीं हो पाओगी. मेरा बेटा बहुत तेज आहें भर रहा था, वो बोला- आह मॉम, आज से पहले किसी ने मेरा लंड ऐसे नहीं चूसा।अब वरुण ने मुझे अपने नीचे पटका और झटके से मेरे सारे कपड़े फाड़ दिए, मैं समझ चुकी थी कि आज मेरी जोरदार चुदाई होने वाली है।वरुण ने मुझे उल्टा किया और मेरे चूतड़ों को जोर-2 से दबाने लगा और अपने होंठों को मेरे चूतड़ पे लगा कर चूसने लगा। मैं मस्त होती जा रही थी. इस चीज़ में पहली बाधाएनल सेक्सथा जो मैं पार कर ही चुकी थी और दूसरी बाधा दोनों से उस तरह का रिलेशन होना था जो कि आलरेडी था।”अब अगर मान लीजिये आपको इसके लिये जाना पड़े जहाँ एक हाफ अजनबी हो, यानि मैं और एक फुल अजनबी यानि मेरा कोई दोस्त.

मनोज के लंड का पानी भी शायद खत्म हो चुका था, जिसका नतीजा यह हुआ कि अब लंड भी बाहर तभी आता जब वो अपना पानी छोड़ता.

मम्मी बोलीं- क्या मिला?कमलेश सर झूठ बोले कि एक आंसर बुक में देख रहा था, वही वन्द्या ने पूछा है. मैं सोचने लगी कि पीयूष और लालजी लगता है घर के बाहर डर के मारे भाग गए. उनकी गदराई नग्न देह, ये बता रही थी कि अभी उनमें कितनी जवानी बाकी है.

मैं शांत सी हुई तो अंकल ने एकदम से एक ज़ोरदार झटका मार के लंड अन्दर डाल दिया. दो बजे के बाद मैंने फिर उसे किस किया, वो हटाने लगी और बोली कि उसके पीरियड्स चल रहे है. जब मैं उनकी सलवार निकालने लगा तो उन्होंने उसको पकड़ लिया- प्लीज़ सतीश और नहीं करो, इतना ही बहुत है, मैं मर जाऊंगी.

ये कोई कहानी नहीं, मेरी जिंदगी की सबसे हसीन याद है, जिसको मैं आप सभी को बताना चाहता हूँ. 30 बज रहा था इसलिए ज्यादा विस्तार में पूछे बिना हमने कपड़े पहने और अपने अपने बिस्तर पर लेट गए.

और वह बहुत मस्त हॉट सेक्सी लड़का है, अंकित का लंड तो मेरे से भी मस्त है, तुझे उससे चुदना हो तो बता, मैं बुला लूंगा. फिर उन्होंने जम्हाई लेना चालू किया तो मैंने उन्हें सुझाव दिया कि आप एक तरफ सो जाइए, मैं इस तरफ सो जाता हूं. इन दोनों को थोड़ी देर आराम करने के बाद विक्रम मयूरी के रसीले होंठों को चूसने लगा… रजत ने मयूरी की पास ही पड़ी पैंटी से उसकी चूत को साफ़ किया.

अरे कुछ नहीं आज थोड़ी ज्यादा ही ठंड है ना?”ऐसा कहकर मैंने उसका हाथ मेरे सीने पर रख दिया.

मैं जब भी उसके कमरे में सफाई करने जाती, तो वो जान बूझ कर मेरे सामने ही अपने सारे कपड़े उतार देता था और सिर्फ एक चड्डी में आ जाता था. और मैं उसको तुम्हारे बारे में बोलता हूँ कि मेरी एक मौसी वन्द्या है. अब मैं सीधे कहानी पर आता हूँ! बात आज से 10 महीने पहले की है जब मैं स्कूल की पढ़ाई पूरी करके महाविद्यालय में प्रवेश लिया था.

उसने याद किया कि किस तरह से पद्मिनी ने अपनी स्कर्ट ऊपर उठाकर अपनी जाँघ और पेंटी उसको दिखाई और जब कि वह अपनी जवान बेटी के सामने मुठ मार रहा था… तो क्या मजा आ रहा था. उसी समय मुझे न जाने कैसा महसूस होने लगा और मैंने भी मनोहर को जोर से पकड़ के अपनी बांहों में पूरी ताकत से चिपका कर कस लिया.

वो मेरी रसीली चूत की गहराई में अपना लंड डाल कर मेरी चूत को चोद रहा था और मैं आहें भर रही थी. और फिर वो एक संभ्रांत महिला हैं, अगर गलती से भी उन्हें मेरे इन विचारों के बारे में पता चल गया, तो उनकी नजरों में मेरी क्या इज्जत रह जाएगी? और कहीं मेरी पत्नी ने ये जान लिया तो फिर क्या होगा? फिर तो मेरा बसा बसाया घर टूट जाएगा. पर एक साल बाद किसे याद रहता है, तो आपको फिर से बता दूँ कि निक्की एक 5’8″ लंबी अच्छे और भरे हुए शरीर की मालकिन है.

गौतम सेक्सी

जैसे ही मैं घर पर पहुँची तो गाड़ी से उतरते हुए मैंने राहुल को अपनी तरफ खींचा और उसके होंठों पर एक जोरदार किस कर दी, मगर राहुल ने इस बीच मेरा कोई साथ नहीं दिया.

घर आते ही मैंने सामान कमरे में रखा और मैं रिमूवर लेकर बाथरूम में घुस गई. ”तो क्या हुआ माँ जी… जब तक जिन्दगी है, मजे लो!”पर रमिता अब दिक्कत कुछ बढ़ती जा रही है. !”इसमें अब क्या शर्त? बोलो क्या शर्त है?”तुम्हें भी मेरे जैसा होना पड़ेगा.

पहले से ही उसकी चुत पानी छोड़ चुकी थी, इसलिए मेरा मोटा लंड बिना किसी रूकावट उसकी चुत में घुसता चला गया. मैं उन्हें देखने में खोया हुआ था, मुझे उनकी आवाज़ दूर से आती सुनाई दे रही थी. सपना चौधरी का सॉन्गहोटल वालों ने हमें सोने के लिए जो कंबल दिया था वह काफी हल्का था, उसमें काफी ठंड लग रही थी.

तभी मैंने देखा कि एक बहुत सेक्सी मस्त भरे हुए बदन वाली मस्त औरत उनके साथ आ रही थी. मेरी सेक्स कहानी के पिछले भागमेरा नौकर राजू और मैं-2में आपने पढ़ा कि कैसे मैंने कामवासना के वशीभूत होकर अपने नौकर को अपने कमरे में बुलाया और मैं उसके जिस्म से चिपक गई, उसके लंड को पकड़ लिया.

इसके बाद तो चाचा ने अपने होंठों को मेरे होंठों पर रख कर ऐसा चूमा कि मैं बता नहीं सकती कि किसी ने ऐसा किस नहीं किया था. मुझे बड़ा गुस्सा आया इसकी इतनी हिम्मत? मैंने थोड़ी देर उसे नज़रअंदाज किया, पर वो नहीं माना. तभी पीछे का दरवाजा खुला और मेरी मल्लिका, मेरी कामदेवी, मेरी मधु बाहर आयी.

मैं उनके पास गया और पूछा- क्या हुआ?तो सारिका ने कहा- गाड़ी पंचर हो गई और मैं लेट भी बहुत हो गई हूँ. तभी मेरा ध्यान तब टूट गया, जब देखा उसके साथ एक बहुत ही मोटा सा इंसान उसको कार में लेकर जाने लगा. उसने मुझे कुछ नम्बर दिए और कहा कि आप ये कोड लो और कोड बात करने के बाद जब कोड नंबर माँगा जाए तब दे देना.

एकदम सेफ भी रहूंगी और मज़े भी लूँगी और अगर ज़रूरत पड़ी तो शादी के बाद भी इसके मजे लूँगी.

मैंने अपने दोस्त को कोल्ड ड्रिंक पिलाई और सिगरेट दिला के उसे मुस्कान के घर के पास गया. वो अब कुछ ज्यादा ही ज़ोर से अपनी कमर को उठा कर अपनी बुर को मेरे मुँह से रगड़वा रही थी.

अभिलाषा ने कंप्यूटर देखा और उस लड़की से कहा- जूली! साहब को 210 नंबर कमरा दे दो और सामान कमरे के अंदर रखवा दो. क्योंकि वहाँ मैंने फ़ूड ग्रेड वाला सेंट लगाया हुआ था, इसलिए उसकी भीनी भीनी खुशबू से वो और ज्यादा उत्तेज़ित होने लगा. उसने हंस कर कहा- अरे सतीश, शादी तो मैं पापा की मर्ज़ी से ही करूँगी, वो तो बस टाइम पास था.

मैंने उससे पूछा- तुम्हारे बॉयफ्रेंड का लंड कितना बड़ा था?तो उसने बताया- उसका तो साले का बहुत ही पतला और छोटा सा था, आप से तो आधा भी नहीं था. खैर हिम्मत करके ऊपर गया और चुपचाप उनके सामने आंखें नीची करके खड़ा हो गया. भैया को आने दो, तुम्हें जेल में ना करवाया तो कहना, तुम्हें ज़रा भी शर्म नहीं आई, अपनी छोटी बहन से गंदा काम करते हुए?मैं बहुत डर गया था कि आज तो सब खत्म हो गया है, बस किसी तरह से जान बच जाए और मैं यहाँ से भागूं.

2019 बीएफ भाभी बोलीं कि आज मुझे मेरी चूत की मस्त चुदाई करवानी है, तो पहले मैं आपके लंड को एक बार मुँह में डाल कर पानी निकाल देती हूँ, फिर दुबारा से आपका लंड मेरी चूत की अच्छे से चुदाई भी करेगा और आप मेरे को अच्छे से गर्म भी करना. आप बोलिए तो मैं आपके आगे अपनी नाक रगड़ देता हूँ मगर प्लीज़ यह पिक्चर डिलीट कर दो.

हिंदी हॉट सेक्सी फिल्म

वो अब कुछ ज्यादा ही ज़ोर से अपनी कमर को उठा कर अपनी बुर को मेरे मुँह से रगड़वा रही थी. अब मेरे मुँह में ही दिनेश का लंड छोटा हो गया, मतलब कि दिनेश झड़ कर पूरा खाली हो गया. उसने टॉप और ढीला सा लोवर पहन रखा था। मैंने धीरे धीरे उसके टॉप को उतारने की कोशिश की और उतार कर अलग डाल दिया.

पुरुषों की सोच बदलने का वक़्त आ गया है! नलिन तुम सफ़ेद चादर बिछाना चाहते तो पहले मुझे बताओ कि क्या तुम वर्जिन हो? साबित करोगे? अगर नहीं साबुत कर सकता तो तू इस घर को छोड़ने की सोच … यह घर तेरा नहीं मेरा है … आयुषी को मैं इस घर की लक्ष्मी बना कर लाई हूँ. लालजी बोला- अब हम लोगों के लिए तुम क्या बोल रही हो वन्द्या?तो मैं बोली- अभी कुछ नहीं… मुझे चुपचाप लेटे रहने दो और पीयूष, तुम अपने दोस्त को मना कर दो कि वो नहीं आए. सेक्सी सेक्सी सेक्सी नंगीहमने प्लान किया कि दोनों शादी में चलते हैं और रात को वहीं शादी अटेंड करके वहीं होटल ले लेंगे.

भाभी पहले से ही चुदासी थीं, सो वे मेरे सामने ज्यादा देर टिक ना पाईं और उन्होंने अपनी चूत से भलभला कर पानी छोड़ दिया.

पूरा लंड चाटने के बाद ललिता मैडम ने बॉस के टट्टे चाटने शुरू कर दिए. ऐसे में वो अन्दर तक मेरी चूत को बजा रहा था और साथ में मेरे मम्मों को पकड़ के मसल रहा था.

लगभग 15 मिनट की चुदाई के बाद मैंने उसकी चूत को अपने वीर्य से फिर भर दिया. सुरेश जी का वजन ज्यादा होने की वजह से अब मैं हिल भी नहीं पा रहा था. मैंने मौका देख कर जब उनकी चुची को छुआ तो वो एकदम से मुझे देखने लगीं.

अब मंजू के जिस्म की बढ़ती हुई गर्मी उसे बेचैन कर रही थी, वो चुप थी! मैंने उसे राज के लिए मना लिया था लेकिन फिर भी मन में डर था कि वो फिर से मना नहीं कर दे.

वो 69 में हो कर मेरी चूत को सहलाने लगा और मेरी चूत में अपनी जीभ डाल कर मेरी चूत को चाटने लगा. दोनों बस एक दूसरे को वो जिस्मानी सुख देना चाहते थे वो हर औरत मर्द एक-दूसरे को देना चाहता है. खाने के बाद मैंने जूली को फिर से अपनी गोद में बिठा लिया और उसकी चूचियों को मसलने लगा, उसकी चूचियाँ भी दर्द करने लग गई थी.

सेक्सी वीडियो साड़ी परउन सभी पाठक पाठिकाओं का आभार जिन्होंने मेरी कहानी को सराहा और अपने सुझाव भी दिये. उसका जरा सा गेहुंआ रंग भारी धूप की तेज रोशनी के कारण रूम के अंदर एकदम सोने जैसे चमक रहा था.

xxx 👙👠💋

मयूरी- तुम लोग मायूस मत हो… ईश्वर ने चाहा तो शायद माँ तुम दोनों का लंड एक साथ चूसे… और क्या पता मां भी ऐसा ही चाहती हो?विक्रम- क्या सच में… म… मतलब ऐसा हो सकता है क्या?मयूरी- हाँ. उनकी धमकी से मैं बेहद डर गई और चाचा से बोली- ठीक है चाचा पर सिर्फ दो मिनट के लिए ही. मुझे बहुत गुस्सा आया तो मैंने निशा को बोला- दीदी, उस भाई के पैर अकड़ जाएंगे.

खाला की चूत बहुत टाइट थी मुझे लगा कि मेरा लंड भी छिल गया है, मेरी भी चीखें निकल गयी… हम दोनों एक साथ चिल्ला रहे थे. उसने अपने कपड़े पहने और मुझे गुडबाइ किस किया, बोली- ऐसा नहीं होना चाहिए था. मैंने भाभी को अलग अलग पोजीशन में हचक कर चोदा, सब कुछ गीला हो गया था.

अब रूबी को कंट्रोल करना मुश्किल हो रहा था, वो बोल रही थी- अब चोद दो मुझे… चोद दो मुझे!मैंने अपना लंड तैयार किया और उसकी चूत पे सहलाने लगा, अपने लंड के टोपा उसकी चूत के फांकों में घुसाने लगा. उस दिन हम दोनों में बस इतना ही हुआ मैंने देखा कि आंटी के चेहरे पर एक अजीब सी चमक थी. बस नाम बदल रही हूं, वो भी अपना नहीं, जिन्होंने किया उनका नाम ही बदला है, पर फिर भी सब कुछ सच ही है.

झड़ जाने के बाद उन्होंने अपना जिस्म पूरी तरह से मेरे हवाले कर दिया था. मैं उन्हें देखने में खोया हुआ था, मुझे उनकी आवाज़ दूर से आती सुनाई दे रही थी.

मैंने अपना हाथ उनकी बगल में से ले जाके उनकी पीठ पर रख दिया और अपना एक पैर उनके पैरों पे रख दिया.

ये बात अभी नवम्बर 2016 पहले की है, जब 500 और 1000 के नोट बंद हुए थे. भाभी देवर की सेक्सी वीडियो भोजपुरीपर मुझे अपनी गांड में उनके इस हरकत से गुदगुदी बहुत हो रही थी और मैं उछल उछल जा रही थी. बहुत अच्छा लगासुनीता ने आपके लंड की इतनी तारीफ की थी कि मैं भी खुद को रोक नहीं पाई और मैं यहाँ आप से चुदवाने के लिए आ गई. जो लोग गाँव में रहते हैं, वो जानते होंगे कि उस टाइम सब तरफ फूल ही फूल दिखाई देते हैं.

वो इस वक्त बहुत अधिक गर्म हो गयी थी, सो चुत खोल कर लंड का मजा ले रही थी.

बाथरूम में जाते ही मैंने सुरेश जी का तना हुआ लंड अपने मुँह में भर लिया और अपने सिर आगे पीछे करके उनके लंड को जोरों से चूसना शुरू कर दिया. इशारे में मैंने उसे घोड़ी बनने के लिए बोला और जूही धनुष आकार में घोड़ी बन गयी, मैं लपक कर उसकी चूत में अपना लन्ड घुसेड़ कर धक्के लगाने लगा और उसकी गांड में उंगली करने लगा जिससे वो अपनी चूत कस लेती और चोदने का मज़ा दोगुना हो जाता था. मैंने कहा- यह क्या बात हुई? अगर कोई आ गया तो क्या दरवाजा नहीं खोलोगे?बड़ी मुश्किल से मैंने उसे मनाया कि कम से कम एक गाउन तो डालने दो, जो जल्दी से उतर भी सकता है.

मेरी आंखें बंद थीं और मुँह से ‘आह आह आह सी… सी… सी…’ की आवाज निकल रही थी. अब मुझसे कंट्रोल करना मुश्किल हो रहा था तो मैं भी उनके जस्ट सामने खड़ा हो गया और उनकी आँखों में आँखें डालते हुए मैंने ‘भाभी आई लव यू’ बोल दिया. मैंने उसके मुँह पे उसका दुपट्टा बाँध दिया और दोनों हाथ पकड़ कर मेरी गांड की तरफ़ पीछे ले लिए और लंड डालने लगा.

जंगल की सेक्सी हिंदी में

वो कसमसाते हुए बोलीं- आह मर गई हनी… आज मेरा सपना पूरा कर दो आह…मैंने झट से भाभी की पेंटी निकाल दी और उनकी चुत को किस कर दिया. अब वो अपनी गांड ऊपर नीचे हिलाकर मेरा लंड अपनी चुत में अन्दर बाहर करने लगी. फिर मैंने पूछा कि वो गाड़ी कब धोते हैं?तो बोली- दो दिन में एक बार, वो भी एकदम सुबह सुबह.

फिर मेरे ज़ोर देने पर उसने बताया कि उसकी चुत की पहली चुदाई उसी ने की थी.

उसने मेरे लिंग का निशाना अपनी योनि के छेद में लगाया और बैठती चली गयी.

मैंने एक हाथ से उसका मुँह बंद किया और गांड में जोर से लंड को पेल दिया. मैं इसका मज़ा उठाने लगा। तभी उन्होंने मेरे मुँह का सारा थूक अपने मुँह में ले लिया और मेरी जीभ को चूसने लगीं।ऐसे ही हम दोनों कुछ मिनट तक किस करते रहे। तब धीरे-धीरे उनका हाथ मेरे लंड पर आ गया और उन्होंने मेरी पेंट उतार दी। मैंने अंडरवियर नहीं पहन रखी थी. नंगी फिल्म भेजो सेक्सीबता मुझे?मैं- अबे कैसी भी हो मुझे सब चलेगी, पर चुत के मज़े देने वाली हो क्योंकि मुझे बस अब चुत चाहिए.

मैं बहुत अच्छे से उनके लंड को चूस रही थी और वो वासना से भरी हुई सिसकारियां लेते हुए आनन्द ले रहे थे. अनु मेरे नीचे लेटी थी और उस वक्त वो अपनी चुत में मेरा मस्त लंड लिए हुए पड़ी थी. लेकिन थोड़ी देर बाद जब मैंने हाथ नीचे करना चाहा तो उसने मेरा हाथ हटा दिया। मैं फिर थोड़ा झूठा गुस्सा दिखाकर उससे अलग हो गया.

कुछ दिन बाद उसने मुझे वापस पैसे दे दिए, तो मैं विवेक को देने उसके घर चली गई. उसकी बातों से मैं भी अपनी चूत को सहलाते हुए पूछने लगी- फिर?सुनीता- फिर उन्होंने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और मेरी दोनों टांगों को फैला कर अपनी जीभ मेरी चूत में रगड़ते हुए चाटने लगे, तो मैं चुदास से तड़फ उठी मेरे मुँह से भी ‘आहाआ ऊउन्न्ह ऊम्म्ह.

लगभग बीस मिनट के धक्कों के बाद फाइनली मेरा डिस्चार्ज हुआ और दोनों पसीने से लथपथ, वहीं लेट गए.

उस वक़्त हमारे कॉलेज में एक नया लड़का आया, उसका नाम हरीश था हरीश और मेरी पहले से बिल्कुल भी नहीं बनती थी क्योंकि वह कुछ ज्यादा ही एटीट्यूड में रहता था. अब राज मंजू के शरीर से खुद को कस लिया और उसके गले में चूमने लगा उसके हाथ मंजू की पीठ और मेरे पेट के बीच में आ गये थे. जैसे ही मैंने उसके बूब्स देखे तो मेरी आँखें उन्हें देखती ही रह गई। क्या बूब्स थे उसके… एकदम गोरे और एकदम टाइट और उन पर ब्राउन कलर के निप्पल क्या लग रहे थे।मैंने उसके एक निप्पल को मुंह में लिया और चूसने लगा और पागलों की तरह काटने लगा.

सेक्सी बीबी करीब दस मिनट बाद जब मैं झड़ने वाला था, तो मैंने अपना लंड उसके स्तनों पर रख दिया. लेकिन मैंने दारू पी हुई थी और इसीलिए मुझमें इतनी ताकत नहीं थी कि मैं उसे रोक पाऊँ.

और देखते भी क्यों नहीं, वो लग ही इतनी कालिलाना रही थी कि ना जाने उसने कितनों के लंड खड़े करवा दिए. मैं और रितु जब भी बाहर घूमने जाते तो रितु गहरे गले के टॉप पहनती और वह भी ब्रा के बिना. दीदी राजू को पूछने लगी, मैंने तुरंत राजू को फोन किया तो उसने फोन नहीं उठाया.

हिंदी में सेक्सी वीडियो हद

मुझे किधर मिलोगे?मैंने बोला- ठीक है आ जाओ जान, मैं इन्तजार कर रहा हूँ. एक बार जब मेरी बड़ी बहन की शादी नहीं हुई थी, यह बात तब की है, मैं, मेरी बड़ी बहन और छोटी बहन अमनदीप कौर ने अमृतसर से आगे वाघा बॉर्डर पर जाने का प्लान बनाया. फिर पीयूष फोन पर बोला कि मैंने बोला था ना कि मैं तुझे वन्द्या मौसी की चूत दिलाऊंगा, अब तुम भी अपनी कजिन निकिता की चुत दिलाने का इंतजाम कर लो.

मनोरमा ने उससे कहा- मुझे कल मिलना, यहाँ नहीं पहले मैं तुम्हारा टेस्ट लूँगी. मैंने धीरे से अपनी उंगलियाँ पैंटी के इलास्टिक में डाली और धीरे धीरे उसे नीचे करना शुरू कर दिया और पैंटी उतर फेंकी.

आधे घण्टे बाद उसका लंड फिर से खड़ा हो गया और वो बोला- अबकी बार तुम्हें भी मज़ा आएगा.

करती हुई मंजू कभी अपना मुंह पकड़ती, कभी होंठ!हाय… मेरी बीवी स्खलित हो रही थी! उसने मेरे लन्ड को कस कर पकड़ लिया और हिलाने लगी मानो अपने साथ साथ मुझे भी स्खलित करना चाहती हो. सुजाता वहां से मेरे पास वाले नीम के पेड़ की नीचे आकर खड़ी हो गई और कुछ सोचकर उसने अपना सलवार का नाड़ा खोल दिया और अपना बांयाँ हाथ अन्दर डालकर चूत सहलाने लगी थी. जेम्स ने रितु को बेड पर लिटाया और उसकी दोनों टाँगें चौड़ी कर उसकी चूत पर अपना मुंह लगा दिया और चाटने लगा.

विक्रम ने जरा भी देर ना करते हुए वो बैठा और सीधा उसकी शॉर्ट्स और फिर पैंटी को एक साथ ही लगभग खींचता हुआ-सा निकलने लगा. आंटी कमाल की खूबसूरत थीं, दो बच्चों की माँ होने के बाद भी उनकी जवानी मानो किसी नवयुवती तक को मात करती थी. ससुर जी मम्मी के पेट को सहलाते हुए बोले- जानू, तुम्हारा पेट तो बहुत स्लिम है.

तो मतलब उतना फैल ही सकता था।यानि अगर दर्द होता भी तो बर्दाश्त के लायक ही होगा और जब अभी उंगलियों के अंदर बाहर होने पे मजा आ रहा था तो लिंग के अंदर बाहर होने पे क्या न आयेगा।छेद उसके हिसाब से ढीला हो चुका तो उसने मुझे उठा दिया।अब बताओ.

2019 बीएफ: वो अपने ऩाम के उलट बड़ी सख्त मिजाज थीं और दिखने में कामदेवी लगती थीं. थोड़ी देर बाद मनोज आया और बोला- क्या बात है? लगता है आज कुछ उदास हो?मैंने कहा- तुम सही कह रहे हो.

कमलेश सर ने मेरे सर के बाल पकड़ लिए और अब वे अपना लंड मेरे मुँह में जोर जोर से अन्दर बाहर करने लगे. मैंने सोचा कि चाचा को फोन करके सब बता देता हूँ, लेकिन सोचा कि अभी देखते हैं, जब ज़्यादा ग़लत लगेगा तो चाचा को फोन करूँगा. तो मैंने 20-25 मिनट तक उसे धकापेल चोदा, फिर मैं उसकी चूत में ही झड़ गया.

मेरा बेटा बहुत तेज आहें भर रहा था, वो बोला- आह मॉम, आज से पहले किसी ने मेरा लंड ऐसे नहीं चूसा।अब वरुण ने मुझे अपने नीचे पटका और झटके से मेरे सारे कपड़े फाड़ दिए, मैं समझ चुकी थी कि आज मेरी जोरदार चुदाई होने वाली है।वरुण ने मुझे उल्टा किया और मेरे चूतड़ों को जोर-2 से दबाने लगा और अपने होंठों को मेरे चूतड़ पे लगा कर चूसने लगा। मैं मस्त होती जा रही थी.

कुछ ही देर बाद मुझे भी बहुत मज़ा आने लगा था और मैं भी अपनी गांड साथ में हिलाए जा रही थी. ये मेरी पहली चुदाई नहीं थी लेकिन ऐसे हालत का अनुभव पहली बार लिया था. बोली- नहीं!मैं- जाओ नहीं बात करना फिर!बोली- समझो सरताज, ये सब अभी नहीं सही है.