दक्षिण अफ्रीका के बीएफ

छवि स्रोत,नौकर के साथ चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

इंग्लिश बीएफ फुल मूवी: दक्षिण अफ्रीका के बीएफ, चुत के रस का स्वाद तो मैं काफी बार ले चुका था मगर आज अपने ही वीर्य को स्वाद लेना ये कुछ अजीब सा लग रहा था.

खुला ओपन वीडियो

वो ज़ोर से सीत्कारें भर रही थीं- आह ये तूने क्या कर दिया … अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है … मेरी जान जल्दी से चोद दो … मेरी चूत में आग लग रही है. हिंदी में ब्लू पिक्चर हिंदी मेंरात ऐसे ही मज़े में गुजर गयी, सुबह वो अपने घर चला गया और मैं भी रेडी होकर ऑफिस के लिए निकल गया.

मैंने अपने झटके चालू रखे और करीब बीस मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों अलग हुए. ज्योति सेक्सी पिक्चरतभी अनिल ने मेरी बहन मीनाक्षी की चोली खोल दी और उसके बोबे उछलते हुए बाहर आ गए.

अनु मेरी बीवी है … चुपचाप छोड़ दो इसे … नहीं तो अंजाम बहुत बुरा होगा.दक्षिण अफ्रीका के बीएफ: वो भी एक चाची और भतीजे के बीच सब हो रहा था, जो शायद जल्दी से कहीं नहीं होता होगा.

यही हाल रजनी का भी था।कुछ देर बाद हम अपने कॉलोनी के गेट तक पहुँचे जहाँ मैं अमित को बोली- यहीं रोक दो.मैंने कहा- भाभी थकान हो जाती है, प्राइवेट नौकरी पैसे तो देती है, लेकिन तेल निकाल लेती है और उस कारण थकान को मिटाने के लिए रोज 2 पैग लगाकर खाना खा कर सो जाता हूँ.

चुदाई सेक्सी वीडियो चुदाई सेक्सी वीडियो - दक्षिण अफ्रीका के बीएफ

’ये कहते हुए उन्होंने अपने मज़बूत किसानी हाथों से मेरी गांड को मसल दिया.मैंने एक हाथ से चूची पकड़ी और दूसरे हाथ से उसकी चूत में भी उंगली डाल दी.

आप विश्वास नहीं करोगे कि आधे घंटे से ज्यादा देर तक मैं अपनी गांड चुदवाती रही थी. दक्षिण अफ्रीका के बीएफ अनिल झट से बोला- अरे भाई फ्रेश होने गया था … आज पता नहीं, इस वक्त कैसे प्रेशर बन गया.

तो मैंने उसे चुप कराया, उसकी आँखों पर चुंबन किया और उसके बदन के साथ खेलने लगा.

दक्षिण अफ्रीका के बीएफ?

मैंने भी अब सोचा कि जब ये लड़की होकर नहीं डर रही तो मुझे क्या है और वैसे भी घर‌ में नेहा ही है, जिसको पहले से ही सब पता है. वहां मैं एक महिला से मिला और उसके साथ रात को पार्टी करते हुए बिना हाथ लगाये, उसका पानी निकाल दिया था. झड़ने के बाद जैसे जैसे वो आगे पलंग पर लेटती गयी, मैं उसके ऊपर लेट गया और फ़िर साइड में लुढ़क गया.

मैंने जांघों को कस कर भींच लिया ताकि मेरी चूत में लंड आसानी न जा पाए और मेरे चूतिया पति को लगे कि मैं कुंवारी ही हूँ अब तक. पर मैं कहां रुकने वाला था, मैंने उसे करीब 10 से 15 मिनट तक यूं ही बांहों में जकड़े रखा. मम्मी ने कहा- कोई बात नहीं बेटा, हम लोग 4 दिनों के लिए ही जा रहे हैं.

उसमें भी वो घर के कामों, बच्चों की जरूरतें पूरा करने में रोज पूरा दिन पर कर देते हैं. फिर कुछ 20-25 दमदार शॉट लगाने के बाद, वो भी फिर से चार्ज हो गई और गांड को उछाल उछाल कर मेरा साथ देने लगी. मैं यहाँ आप लोगों को अपनी जीवन की सच्चाई बताने जा रही हूँ। यह कोई मनघड़न्त कहानी नहीं है। ये मेरे जीवन की सच्ची कहानी है जो मेरे और मेरे देवर की है। यह मेरी पहली कहानी है.

मैं फिर उसके दूध पीने लगा और साथ ही साथ दूसरे हाथ से उसकी चूत को सहलाने लगा। रोजी फिर से सिसकारियां लेने लगी. तो वो घोड़ी बन गई और मैंने लगातार धक्के मारते हुए और 10 मिनट तक उसको चोदा.

मेरी उससे पहले से ही कभी कभी बातें होती थीं, पर मैं कभी लिमिट से आगे नहीं बढ़ा था.

अब मैं और देर नहीं करना चाहता था, मेरा लंड बहुत सख्त हो गया था, इसलिए मैं देर न कऱते हुए गुड़िया की पैंटी निकालने लगा.

जैसे ही दादाजी ने उंगली सोनल की चूत पर रखी, तो सोनल ने अपनी कमर को नीचे से उठा दी. मैंने उनसे पूछा- कहां जा रहे हो?तो वो बोले कि एक रिश्तेदारी में जा रहे हैं. बिना कपड़ों के क्या माल लग रही थी वो … एकदम रसगुल्ले की तरह गोलू मोलू.

मैं- अब तुम आनन्द लो …यह बोल कर उसके काँधे से हाथ हटा कर उसकी जांघ के बीच रख दिया।मानसी- कोई देख लेगा।मैं- देखने दो … कौन पहचानता है यहाँ हमें!और दो उंगली उसकी चूत पर भिड़ा दी. इधर मेरा लंड भी हमारी कामुक बातों के कारण पूरा तना हुआ था और मेरी पैंट में अलग से ही शेप बना रहा था. 00 बजे मम्मी कमरे में आई और बोली- मैंने दूसरे वाले बाथरूम का बाहर वाला दरवाजा खोल दिया है, तुम लोग उस दरवाजे से बाथरूम में आ जाना … और मैं कमरे की तरफ से उसका दरवाजा खोल दूँगी, जिसमें पर्दा डाल दूँगी जिससे तुम्हारे पापा को शक न हो.

[emailprotected]कहानी का तीसरा भाग:कामवासना पीड़िता के जीवन में बहार-3.

अब जगत अंकल मेरी पैंटी को धीरे-धीरे नीचे उतारने लगे और पैंटी मेरे पैरों के नीचे आ गई तो झुक कर मेरे पैरों से पैंटी खींचकर उसे फोल्ड करके अंकल ने अपनी पैंट की जेब में डाल लिया और बोले- वन्द्या, तेरी पैंटी मेरे पास है. इस तरह के अवसर जब बार बार पड़ने लगे तो मैं और मेरी सहेली के पति में अच्छी दोस्ती हो गयी. मेरा नाम विक्रम है, लोग प्यार से विक्की बुलाते हैं, मैं आगरा का रहने वाला हूँ, मैंने अब तक बहुत सारी कहानियों को पढ़कर उनके मज़े लिए हैं जो मुझे बहुत मजेदार लगी और आज मैं अपना भी एक सच्चा सेक्स अनुभव आप सभी को सुनाने के लिए यहाँ पर आया हूँ.

मेरे लगातार चूत चूसने के कारण उनकी चूत पनिया गयी थी और वो कभी भी पानी छोड़ सकती थी मैंने फिर भी चूत को चूसना बंद नहीं किया. मेरी सहेली का पति मेरी चूत को चाटने लगा और मैं उसके लंड को चूसने लगी. जब मैं वहां पहुंचा, तब उसने काले रंग की गहरे गले वाली नाइटी पहनी हुई थी, जिसमें से उसकी रक्तिम वर्ण की चोली यानी लाल रंग की ब्रा साफ देखी जा सकती थी.

साथ ही मेरे पति बहुत ही हैंडसम भी हैं और उनका लंड का साईज भी आम औसत लंड से बड़ा, पूरे सात इंच का है.

मेरे प्रिय दोस्तो, आप सभी पाठक पाठिकाओं को मेरा और मेरे खड़े लंड का सलाम. जी … अच्छा लग रहा है!” मैंने जवाब दिया और फिर से उनके मेरे होंठों पर लंड रखते ही मैंने अपने मुँह को खोल लिया.

दक्षिण अफ्रीका के बीएफ नूरी खाला- मेरे राजा, पहले मेरी चुत चोदो … फिर जैसा चाहे वैसा कर लेना … लेकिन धीरे से चोदना … ताकि दर्द न हो. इसके बाद से मैं अपने देवर से खुल गई थी और अब तो मेरे पति मुझे चोदें या नहीं चोदें, मेरा देवर मुझे अपने मोटे लंड से बड़ी तसल्ली से चोदता है और मेरी चूत की आग को शांत करता है.

दक्षिण अफ्रीका के बीएफ मैंने बारह बजे आने का इशारा किया, तो वो मुस्कुरा उठी और दरवाजा बंद कर लिया. बात उस समय की है जब मैंने एक सोशल साइट पर कॉल ब्वॉय की आई-डी बनाई थी.

इससे चाची गनगना उठीं- जल्दी घुसाओ न … कितना तड़पा रहा है … चोद न जल्दी.

वीडियो बीएफ सेक्सी हॉट

तभी अचानक से चाची उठ गई और मुझसे पूछने लगी- तुम यहाँ पर इस समय क्या कर रहे हो?मैंने मन बना लिया था कि मैं आज आर या पार करूँगा तो तपाक से उनसे बोला- क्या आप एक मिनट के लिए बाहर आयेंगी?और फिर मेरे कहने पर वो तुरंत बाहर आ गई. तब वंदना ने मुझसे पूछा कि रात में तुम्हें क्या हो गया था?तब मैंने नाटक करते हुए पूछा- कब?तब उसने कहा- जब मैंने तुम्हारा हाथ अपने पेट और गले के थोड़ा नीचे रखा था, तो तुम अपना हाथ कहां ले गए थे और क्या कर रहे थे?पहले तो मैंने उसको यह पूछा- क्यों तुम्हें मजा नहीं आ रहा था. अगले शनिवार के दिन भाभी का बहुत ज्यादा चुदने का मन हो रहा था … तो उन्होंने रात में जब सब सो रहे थे, तो भाभी ने अपना दरवाजा खोल कर मुझे अपने पास बुलाया.

वैसे तो मुझे उसकी इस हरकत के बारे में मालूम ही नहीं चलता, लेकिन मैंने एक बार अपनी सहेली को उसके बॉयफ्रेंड्स से फ़ोन पर बात करते हुए देख लिया था. साथ ही लंड हल्के हल्के मधुर ध्वनि के साथ पच्च पच्च अन्दर बाहर हो रहा था. पर मुझे उसमें से ठीक से दिख नहीं पा रहा था क्योंकि उसका छेद छोटा था.

तुम मुझे फ्रेंड मानती हो?उसने कहा कि कल जब हम चले जाएंगे तब क्या करोगे?मैंने उससे कहा- मैं तुमको बहुत चाहता हूं और जिंदगी भर चाहूंगा.

ज़्यादा उम्र की औरतों को चोदने में मुझे अच्छा लगता है और मज़ा भी बहुत आता है. मर्द के लौड़े का रस काफी मजेदार होता है जिसका मैं पूरा स्वाद ले रही थी. मैंने अपने सास और ससुर को रात का खाना खिलाया, जो हम बाहर से पैक करवा लाए थे.

मेरी पिछली कहानी में मैंने दुल्हन की बहन का नाम नहीं लिखा था, मैं उन्हें पियू नाम से बुलाता हूँ तो यहाँ पर उनके लिए यही नाम प्रयोग करूँगा. उसकी चुत की फांकों के ऊपर से चाटते हुए धीरे धीरे मैंने अपनी जीभ को चुत की दोनों फांकों के बीच घुसा दिया और अब चुत की दोनों फांकों के अन्दर के गुलाबी भाग को अपनी जुबान से चाटने लगा. मेरा मन तो कर रहा था कि अभी नंगी करके इसकी चूत के दर्शन कर लूँ मगर मैं कुछ बोल नहीं पाया.

तभी जगत अंकल ने अपने नीचे वाले हाथ से मेरी पैंटी की इलास्टिक को खींचने लगे. ये सब मुझे शुरू में नहीं पता था कि लंड चूत की चुसाई में भी मजा आता है.

मैंने अपनी पिछली रचनाहैडमास्टर और स्कूल टीचर का सेक्समें बताया था कि मैं उनकी (मेरी पड़ोसन की) कैसे रोज़ चुदाई करता हूँ. एक समय तो ऐसा था कि 6 औरतें और 4 लड़कियां ऐसी थीं कि जिनकी चुदाई मैं जब चाहूं, तब कर सकता था. थोड़ी देर बाद उसने कहा- क्या आप यह बॉटल बाथरूम में जाकर खाली कर देंगे.

जब मेरी और रूपा की नज़रें आपस में टकराईं, तो रूपा बड़ी अदा के साथ मुस्कुरा उठी और अपनी गांड मटकाते हुए स्टोर रूम में चली गयी.

धीरे धीरे वो हाथ अपने आप ही उसकी टी-शर्ट के अन्दर चले गए, फिर जब वहां पर पुलिस वाले ने सीटी बजाई, तब हमें अपना होश आया और हम अलग हो गए. मामा कभी बाइक पर खड़े हो जाते, तो कभी बैठ जाते, तो कभी एक हाथ पीछे लेकर मेरी छाती के उभार को मसल देते. कुछ देर बाद वो नीचे आ गई, मैं उसे धकापेल चोदने लगा और लगभग आधे घंटे बाद मैं फिर से उसकी चुत में झड़ गया और सो गया.

मैं घर से निकल गया और जहां शादी थी, वहां से कुछ ही दूरी पर मेरे दो चाचाओं के घर आस पास थे. भाभी ने पूछा- क्या पियोगे टी, कॉफी या फिर कोल्ड ड्रिंक?मैंने कहा कि आप तो चाय ही पिला दो भाभी मगर अपने दूध की चाय बनाना.

लेकिन उस दिन मज़ाक-मज़ाक में बात थोड़ी आगे बढ़ गयी। उस दिन ये हुआ कि मैं कभी-कभी बहुत ज्यादा मज़ाक करता था और लोगों का इतना मज़ाक बनाता था कि उन्हें रोना आ जाए और इस बात पर हम बात कर रहे थे, जो कुछ ऐसी थी. ”नेहा अपने नाख़ून मेरी कमर पर गाड़ रही थी और अपने दाँत मेरे कंधे पर गाड़ रही थी. कुछ देर बाद मैंने उसके मुँह से लंड बाहर निकाला और उसकी ब्लैक कलर की पेंटी को उतार कर साइड में रख दिया.

हिंदी फिल्म फुल एचडी बीएफ

अपने‌ लंड‌ के सुपारे को नेहा की मुनिया पर घिसते हुए मैंने फिर से एक बार नेहा के चेहरे की तरफ देखा.

मैं भी मुस्कुरा दी और वह कमरे में चली गई।क्या मस्त टाँगें थी सुमन की … गोरी-गोरी! मजा आ गया देखकर!फिर मैं उसके कमरे में गई तो देखा कि सुमन बिल्कुल नंगी थी और अपने बदन पर कोई क्रीम लगा रही थी. नीचे आनन्द की रफ़्तार बढ़ रही थी और पूजा ‘आह … आहआह …’ करके आवाजें निकाल कर हमारे सेक्स में और चार चांद लगा रही थी. मैंने सामान्य होकर कहना शुरू किया- सॉरी यार … मुझे तो अभी भी यकीन नहीं हो रहा कि मेरे दादाजी ऐसी हरकत करेंगे.

उसने छटपटा कर मुँह से लंड निकालने की कोशिश की, पर मैंने उसका सर कस कर पकड़ रखा था. मुझे मेरे लंड पर नाज था, जिसने आज वंदना की सील तोड़ दी थी और वंदना की चुत से खून आने लगा था. एक्सएक्सएक्स देहातीथोड़ी देर चिपके रहने के बाद रमीज का लौड़ा सिकुड़ कर छोटा हो गया और वह उठ कर मुझे छोड़ के कपड़े पहनने लगा.

मैं उसके अहसास को महसूस करने लगा था और मेरा लण्ड पैंट में तनाव में आना शुरू हो चुका था. इस कहानी को पढ़कर सभी भाभी लोग मेरे लंड के नाम की अपनी चुत में उंगली करेंगी.

जब मैं चलने लगा तो मैंने अपना हाथ सोनू की तरफ बढ़ाया, सोनू ने मेरे हाथ को पकड़कर हाथ मिला लिया. उन्होंने मेरी पेंटी उतार कर फेंक दी थी और मुझे चुदाई के लिए अपने बंगले पर ले जाने के लिए मेरी मम्मी से भी परमीशन ले ली थी. हमारी पहली मुलाकात मतलब मेरी और उस लड़की की मुलाक़ात, जो इस कहानी की नायिका है.

इसलिए मैं नेहा के कमरे से बाहर आ गया और प्रिया से मिलने के लिए सीधा ड्राईंगरूम में चला गया. साली छिनाल इतनी भारी थी, अब पता लग रहा था कि इसके चूतड़ इतने मोटे क्यों हैं. ये सुनकर अंकल ने सीधे अपना लंड पकड़ा और बहुत सारा थूक लगाकर मेरी गांड में अपना लंड दबाने लगे.

वो कुछ देर इसी तरह मेरे से चिपकी रही, तो मेरे अरमान फिर से जागने लगे.

मेरी सहेली का पति मेरी चूत को बड़ी मस्ती से चाट रहा था तो मैं भी अपनी गांड उठाते हुए उसकी पीठ को अपने नाख़ून से नोंचे जा रही थी. लंड को जीभ से ऊपर से नीचे तक धुलाई करने के बाद नीना ने अपने गले में उतार लिया.

मैंने टी-शर्ट खोल कर अपने हाथ अन्दर डाल कर पीछे लेजाकर उसकी ब्रा का हुक भी खोल दिया. श्वेता की चुदाई के बाद अगली चुदाई की कहानी में मैं फिर आप सभी से मिलूँगा अबकी बार मेरे लंड के नीचे श्वेता की देवरानी की चुदाई की कहानी का मजा दूँगा. जल्दी ही मैंने जिम जाना शुरू कर दिया ताकि शाम को दो घंटे जिम में कट जाएं.

झा जी की थोड़ी तोंद निकली हुई है, बड़ी बड़ी मूँछें आंखों में चश्मा लगता है. हो गयी तसल्ली? कर आया अपनी मर्जी? या और भी कुछ बाकी है …” उसने गुस्से से मेरी तरफ देखते हुए कहा और वहां से जाने लगी. मैं अंकल की बात सिर्फ सुन सकती थी, मम्मी के बैठे होने के कारण कुछ बोल नहीं सकती थी.

दक्षिण अफ्रीका के बीएफ मैं उसकी बाहों में झड़ना चाहती थी। फिर हम दोनों चरम सीमा पर आ गए तो मैंने उससे कहा- अपना पानी मेरी चूत मैं ही निकाल दे!उसने सारा वीर्य मेरी चूत में भर दिया. कंचन मैम ने लंड को मुँह से चचोरते हुए ही इशारे से कहा कि मेरे मुँह में ही झड़ जाओ.

कॉलेज की लड़कियों का बीएफ वीडियो

तभी एक बंदे ने झोपड़ी में जाकर उन दो बंदों को भी बता दिया और वो उनको बुलाकर बाहर ले आया. दादाजी अपना हाथ उसकी गर्दन के पीछे ले गए और सोनल के सिर को अपनी तरफ खींचा. वैसे तो हमने शादी से पहले ही बहुत बार सेक्स किया था लेकिन मेरा बहुत मन करता था कि मैं प्रियंका को एक साथ दो लंड का मजा दूँ.

तुमने ही उससे मेरी चुदाई के लिए हां कहा था, तुम्हारे कहने पर मैंने पहली बार उससे चूत चुदवाई थी. उसे जो मज़ा मिला, वो उसे खोना नहीं चाह रही थी इसलिए वो जोर जोर से अपनी चुत मेरे मुँह पर रगड़ने लगी. ब्लू पिक्चर दो ब्लू पिक्चरअब तो कभी कभी वो मेरे बेडरूम में आकर मुझसे बहुत देर तक बात भी करने लगा है.

सलोनी अभी भी वैसे ही आंखें बंद करके लेटी थी, मैं उसके बगल में लेट गया और वो भी मेरी बाँहों में सिमट आई.

भाभी आंटी मुझे अपने लंड के लिए बहुत ही ज्यादा पसंद आती हैं … क्योंकि वे खुल कर बेझिझक चुदवाने का मजा लेती और देती हैं. मैं बाइक के छोटे से पैरदान पर बड़ी मुश्किल से अपने दोनों पैर रखकर खड़ा हो पाया था.

मैं अपनी भाभी के कमरे में लेटा था और मोबाइल पर वीडियो गाने सुन रहा था. ’ फिर मैंने कायदे से उसके दूध को बाहर से दबाया फिर अन्दर हाथ डाल कर दबाया और उसकी दूध की घुंडी को मसलता रहा. खैर कुछ 3-4 मिनट के बाद वो उठी और बोली- अब मैं अपनी पोजीशन में आती हूँ.

मैं- मैं अकेला क्या करूँगा, करने को तो बहुत तरीके हैं, लेकिन अकेला कुछ नहीं कर पाउँगा.

मेरे खुद के बड़े उद्योग, रिअल इस्टेट व्यवसाय, गाड़ियां, नौकर एवं बड़ी प्रतिष्ठा है. उसके मम्मों को मैंने घूर कर देखा, तो वो भी शर्माई और साड़ी ठीक करके चली गयी. रमीज जोर से बहुत ताकत लगाकर अपने लंड को गांड के अन्दर जड़ तक घुसा देता.

चुदाई करने वाली सेक्सी वीडियोअभी तक आधा लन्ड चूत में जा चुका था और मुझे थोड़ा दर्द भी हो रहा था क्योंकि यह मेरा पहली बार था. सरोज चाची के गहरे गले के ब्लाउज से पल्लू के हट जाने से उनके गोरे गोरे मम्मे उनके जल्दी जल्दी पेंट साफ़ करने की वजह से मस्ती से हिल रहे थे.

वीडियो सेक्सी बीएफ वीडियो बीएफ

मैंने भी देर ना करते हुए अपने लंड को उसकी चुत के छेद की मोरी पर रखा और जोरदार धक्का लगा दिया. मेरी जांघों पर जोरों से चपत लगाते हुए बाकी का बचा हुआ वीर्य भी अब नेहा ने मेरी जांघों पर ही थूक कर उगल दिया और फिर मुझ पर से उतरकर मेरी बगल में लेट गयी. बस्स … अब क्या है? प्रिया आ जाएगी …” उसने फिर से बिस्तर पर बैठते हुए कहा.

मुझे कॉलेज के बाद जॉब के लिए 6 महीने दिल्ली जाना पड़ा, फिर अचानक उस लड़की की शादी हो गई और उसने मुझे बताया तक नहीं. मेरे एक बड़े भाई की शादी 5 साल पहले ही हो गयी थी और इस बार 2 लोगों की शादी एक साथ होनी थी. रास्ते में मैंने कार एक पेट्रोल पंप पर रोकी और अपने मकान मालिक की बीवी, राखी आंटी को फ़ोन करके कहा कि मेरी पत्नी आ रही है.

प्रिया काफी समझदार निकली, वो मेरे होंठों को छोड़कर मुझसे थोड़ा अलग हो गयी और उसने खुद ही अपनी टी-शर्ट को पूरा बाहर निकाल दिया. उससे पहले भाभी जब किचन में बर्तन रखने गई तो मैंने भाभी को कहा कि आधा तो यह तैयार हो गई है बाकी आप तैयार कर देना. उनकी सास ने पूछा- कहां थीं तुम?मैंने कहा कि भाभी मुझे चाय नाश्ता खिलाने ले गई थीं.

मैंने उनकी एक न सुनी और उनकी चूत में दो उंगलियां डाल दीं और उनकी चुत को अपनी उंगलियों से चोदने लगा. कुछ पल के दर्द के बाद भाभी भी अब अपनी गांड उठा उठा कर लंड के मज़े लेने लगीं.

और अपनी आदत के अनुसार वो मुझे भी अपनी जवानी की झलक दिखाते हुए गर्म कर रही थी.

मैंने तुरंत नीरू के पीछे से जाकर उसके डॉगी स्टाइल का फायदा उठाते हुए नीरू की चूत में अपना पूरा लंड डाल दिया. न्यू हिंदी एक्स एक्स वीडियोऊपर से सोनल की मेरी चूत पर घूमती हुई उंगलियों की वजह से मेरी चूत गर्म हो कर पानी छोड़ने लगी. पोर्न वेदिओउसने मेरे लंड को पकड़ कर चमड़ी पीछे की … और सुपारे को किस करके धीरे से मुँह में भर लिया. कुछ देर बाद मैंने भी खाना खा लिया और मेरी दीदी के सास ससुर के पास बने आगे वाले कमरे में चला गया.

मगर मालती भी पूरी खेली खाई हुई थी उसने अपना मुँह उठा कर जो डिल्डो उस ने अपनी कमर पर बँधा था, उसको मेरी चूत में डाल दिया.

मैंने जेठ जी के लंड को अपने मुँह से बाहर निकाला और उनसे बोली- बस बहुत हो गयी चुसाई … जेठ जी, अब सहन नहीं होता … अब डाल भी दो आप अपना लंड मेरी चुत में. ? गांड फट गई इतनी देर में? मुझे पता था कि तू मेरे ही चक्करों में घूम रहा है. तभी भाभी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोलीं- रुक क्यों गए देवर जी, मैं भी यही चाहती हूँ.

मामी को लगा मैं सो रही हूँ।मामी ने आवाज़ भी दी मुझे- अन्नु …मैं कुछ नहीं बोली. उपिंदर ने मेरी माँ को अपनी बांहों के घेरे में लिया- आप गलत कह रही हैं, मेरी एक गर्लफ्रैंड नहीं है, दो हैं. फिर मेरी किस्मत चमकी और सोहन ने मुझे कॉल किया और कहा कि हेमा की जवानी और सेक्स के मज़े लेने हो तो तुरंत आ जाओ.

बीएफ गांड मारते हुए

मेरी इस हरकत से पल्लवी का रिएक्शन मुझे मिला, उसने मेरे कूल्हे को कस कर दबाया और बोली- बार-बार मेरा पिछवाड़ा क्यों दबा रहे हो?मैंने उसके कान में कहा- तुम्हारी गांड बहुत मुलायम है, इसलिये मन कर गया!एक बार फिर मुझे जवाब मिला, उसने एक कस कर चिकोटी काटी और इशारे से मुझे मेरा कान उसके मुंह के पास लाने के लिये बोली- और मुझे तुम्हारी गांड में चुटकी काटने में बड़ा मजा आता है. मैं उनकी चुचियों को बेरहमी से मसलने लगा और वो मादक आवाजें निकालने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह…मादक आवाजें पूरे कमरे में गूंज रही थीं फिर मैंने उनके मम्मों को चूसना शुरू कर दिया. मैं उसके गालों को सहलाने लगा, मैं महसूस कर रहा था कि सोनू की सांसें तेज होने लगी थीं.

ऐसा बोल कर वो घुटनों पर आ गया और उसने मेरे सोते हुए लंड को अपने मुँह में भर लिया.

ये सब मैं रवि से नहीं बताना चाहता था कि मेरी बहन उसकी बहन से भी बड़ी चुदक्कड़ है और वो पैसे के लिए चुदती है.

एक पीले बल्ब की हल्की रोशनी में कुछ अनाज की भरी बोरियां और एक खटिया, जिस पर कल रात का बिस्तर और मच्छरदानी पड़ी हुई थी, दिखाई दे रहे थे. गत वर्ष मैं मेरे व्यावसायिक काम के चलते कर्नाटका एक्सप्रेस से दिल्ली जाने के लिये मनमाड़ स्टेशन से सेकंड ए सी में शाम चार बजे बैठा. राजस्थानी एक्स एक्स एक्स सेक्सीमैंने देखा कि अन्दर ले जाते ही उसने जोर से बेड पर पटका और अनु के होंठ खाने लगा.

मैंने और दोस्त ने मिल कर ट्रेन की टिकेट्स तो कर ली पर बस का इंतजाम यहाँ से करना सम्भव नहीं हो रहा था तो मैंने मेरे पूना के दोस्त से मदद ली और एक अच्छी 32 सीटर बस बुक कर दी. मैंने अब उसके कुर्ते में हाथ डाल कर उसके बोबों को दबाना शुरू कर दिया, उसे बहुत मज़ा आ रहा था. मैक ने भी अपनी पोजीशन बनाई और उसने मेरे छोटे-छोटे दूधों को अपनी हथेली में पकड़कर जमकर दबाकर भरा और मेरी चूत को अपने हाथों की हाथों से थप थप किया.

उसने कहा- सर, क्या किसी का फोन इस तरह से चेक करना सही बात है?मैंने दबी सी आवाज़ में कहा- नहीं, मैं तो बस ऐसे ही देख रहा था. बहुत देर तक लंड चुसाने के बाद करण ने मेरी बीवी को घोड़ी बना लिया और अपना विशाल लंड अनु की चूत में अन्दर तक डाल दिया.

ऐसी सेक्सी गांड वाली भाभी को तो मैं किसी भी कीमत पर चोदने के लिए हमेशा तैयार रहता हूँ.

इधर आप समझ सकते हो कि जो महिला मेरे साथ बंद कमरे में दारू पीने को राजी हो गई हो, वो भला चुदाई का मूड न बना चुकी हो ये कैसे सम्भव था. मगर डिल्डो तो पूरे 5 मिनट तक अन्दर घुसा रहा, जिससे उसने मेरी चूत की सारी नसों को पूरी तरह से दबा कर रखा था. चलो‌ मेरे लिए ये तो अच्छा ही हो गया‌ था‌ कि नेहा और प्रिया को भी सुलेखा भाभी के बारे में मालूम हो‌ गया‌ था.

क्सक्सक्स विडियो हिंदी कॉम और हां अगर मुझे तुम्हारे लिये दर्द को बर्दाश्त करना पड़ेगा तो मैं बर्दाश्त कर लूंगी।”मतलब?”बुद्धू … मतलब तुम अपने मुस्टंडे लंड को मेरी गांड का मजा दे सकते हो।”मैंने कस कर पल्लवी को चिपका लिया।इससे पहले हम लोग अपने गांड चोदन कार्यक्रम को आगे बढ़ाते, कमरे की घंटी बजी. उसने पीछे से देखा तो उसको मेरा लंड चूतड़ों में लगा हुआ बहुत अच्छा लगा.

इसके बाद जगत अंकल ने सीधे मेरी पेंटी के ऊपर से, जहां मेरी चूत थी, वहां पर हाथ रख दिया. उसके बाद अचानक उसने पैंटी फाड़ कर अपना मजबूत हाथ नेहा की चूत में डाल दिया. लाल टॉप और काली लाल छींट की लॉन्ग स्कर्ट चेहरे पर काला चश्मा देखकर गाना याद आ गया ‘गोरे गोरे मुखड़े पे काला काला चश्मा …’मैंने उसे अपने पीछे आने का इशारा किया और वो स्कूटी लेकर मेरे पीछे पीछे आ गई.

प्रियंका चोपड़ा के वीडियो बीएफ

तभी उसने कहा- बस करो, अब देखते ही रहोगे? मैं गर्मियों की छुट्टियों तक यहीं रहूंगी. ऐसी सेक्सी गांड वाली भाभी को तो मैं किसी भी कीमत पर चोदने के लिए हमेशा तैयार रहता हूँ. मैंने एक बार में ही उसके सारे कपड़े निकाल दिए और उसपे टूट पड़ी, मैं बस उस वक्त उसके मम्मों को पूरी तरह निचोड़ देना चाहती थी.

उसने कहा- उसके बाद कोई मिली नहीं?तो मैंने बोल दिया कि अब तो सोच लिया है कि आपके जैसी ही कोई मिलेगी, तो ही प्यार करूँगा. मैंने उससे कहा- मैं एक शर्त पर दिल्ली आऊँगा, हम दोनों होटल के कमरे में व्हिस्की का मजा लेंगे, ढेर सारी बातें करेंगे और मैं तेरे घर का बनाया हुआ खाना खाऊँगा जो तू मेरे लिए टिफिन में लाएगी.

थोड़ी देर बात एक बूढ़ा और एक औरत जिसके साथ नवजात बच्चा था, वहाँ आए.

मुझे से उतरते ही आंटी किसी प्यासी दुल्हन की तरह मेरे सीने से चिपक गईं. मैंने फिर कमरे में रखी क्रीम की डब्बी से बहुत सारी क्रीम निकालकर उसकी गांड पे लगा दी और फिर मैंने अपने लन्ड पे थूक लगा कर गांड की छेद पे रखा और थोड़ा झुककर अंदर की और जोर लगाया तो मेरा आधा लन्ड सरक सरक कर मेरी बहन की गांड में चला गया. और चुत में लंड ना डालने की कह रही हो?मैंने कहा- चुत चोदना बाद में … अब तुम आज अपना लंड मेरी गांड में डालकर चोदो.

मेरी मॉम को सेक्स चढ़ चुका था, दो मिनट लंड चुसवाने के बाद नामित ने उन्हें अपनी बांहों में उठा लिया और सीधे ले जा कर बेड पर पटक दिया. मैंने भी अपनी टी-शर्ट और पजामा उतारा और फिर अपना अंडरवियर उतार कर अपना लौड़ा मालिनी के सामने कर दिया. अब आगे …तभी छोटी चाची मेरे बेड के पास आईं और फुसफुसा कर बोलीं- दोनों सो जाएं तो मेरे कमरे में आ जाना.

मैंने चौंक कर उसकी तरफ देखा और उससे विनती भरे शब्दों में कहा- क्या हुआ?उसने इशारे से मुझे दरवाज़े की तरफ दिखाया, तो मुझे होश आया कि मैं भी कितना बेवक़ूफ़ हूँ, दरवाज़ा पूरा खुला हुआ था.

दक्षिण अफ्रीका के बीएफ: मैं तो पहले ही नंगा हो चुका था और मॉम को देखकर इतना उत्तेजित था कि जैसे ही नेहा आंटी ने मेरा लंड पकड़ा, मैंने तुरंत उनको भी नंगी कर दिया और सीधे उनके बूब्स चूसने लगा ‘उम्म उम्म उम्म …. मुझे कोई नजर तो नहीं आया, मगर बाहर सूरज की रोशनी के कारण उसके कपड़ों के लाल रंग की लालिमा फैली हुई दिखाई थी.

सुलेखा भाभी मेरे ऊपर निढाल होकर ढेर हो गयी थीं, मगर मेरे धक्के लगाने से वो अब फिर से कराहने‌ लगी थीं. तुम मुझे फ्रेंड मानती हो?उसने कहा कि कल जब हम चले जाएंगे तब क्या करोगे?मैंने उससे कहा- मैं तुमको बहुत चाहता हूं और जिंदगी भर चाहूंगा. मगर वह चुपचाप खड़ी रही।ऐसी सहेलियाँ बनाती ही क्यूँ है जो तेरे सामने खड़ी होकर भी तेरी सील टूटते देखती रहें? ये किसी काम की नहीं है.

वे बोलीं- जाओ हम तुमसे अब कभी नहीं चुदवाऊंगी … कोई ऐसे भी अपनी खाला को चोदता है.

तो उसने कहा- आकर ले लो।उस समय मेरी ड्यूटी नाईट शिफ्ट में चल रही थी तो मैंने उसको आने की हामी भर दी।उसके जन्मदिन वाले दिन मैं सुबह अपने पी. जब वह मेरे साथ सेक्स करते थे तो मुझे किसी और से चुदवाने के लिए कहते थे। पहले तो मुझे यह बहुत अजीब सा लगता था परंतु धीरे-धीरे सामान्य लगने लगा और कुछ दिन बाद मेरा भी मन किसी और से चुदवाने के लिए करने लगा।कुछ दिनों बाद मेरे पति ऑफिस के काम से बाहर चले गए और 2 हफ्ते बाद वापस आए. जब तू यहां से जाएगी, तो हम दोनों भाई दबा दबा के तेरे दूध बहुत मस्त कर देंगे.