बीएफ ब्रेजर

छवि स्रोत,सील कैसे तोड़ा जाता है

तस्वीर का शीर्षक ,

तृषा कर मधु वीडियो वायरल: बीएफ ब्रेजर, अभी अर्चना भाभी अपनी एक्टिवा पर जा कर बैठी ही थीं कि उन्हें याद आया कि वो एक्टिवा की चाबी तो भूल ही आई हैं.

सेक्स काहानी

भाभी की दोनों टांगें मेरे कंधे के ऊपर थीं मैंने अपने लंड को चुत के ऊपर सैट किया और धक्के लगाना शुरू कर दिया. बुर चोदा वीडियोमेरे लंड के हर धक्के के साथ दी की नई नई सिसकारियां मेरे मज़े को डबल कर दे रही थीं.

हम लोगों ने साथ में खाना खाया और फिर वो मुझे घर जाने के लिए कहने लगी. हिन्दीसेकसउसकी गान्ड काफी बड़ी थी।फिर मैंने उसे गान्ड से ही पकड़ कर आगे को खींचा तो उसे देख कर मैं बहुत डर गया.

फिर भाभी ने मेरी चड्डी उतार दी और मुझे पूरा नंगा करके मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगीं.बीएफ ब्रेजर: उसी समय एक ही झटके में फूफा जी ने अपने लंड को अम्मी की फूलों की खाई में उतार दिया.

थोड़ी देर पश्चात वह मेरे और नजदीक आई और मेरी जांघों में हाथ फेरने लगी.दो दिन बाद टीना की कॉल आई- क्या कर रहे हो मेरे मीत?मैं- मैं अपनी जान टीना को ही याद कर रहा था.

भारतीय नंगी फिल्म - बीएफ ब्रेजर

शकील ने अपना लंड बाहर निकाल कर अम्मी की गले में उतार दिया जिसकी वजह से इनकी सांस तक रुक गई.दिसंबर में ठंड भी होती है तो हम रात में सोने के लिए टेंट हाउस जाकर बिस्तर ले आए। जिन लोगों ने गांव की शादी देखी है वो इस कहानी को ज्यादा अच्छे से महसूस कर सकते हैं।शादी से दो दिन पहले की बात है.

अब वो बहुत सेक्सी आवाजें निकाल रही थी- अह भाई ऐसे ही मस्त मजा आ रहा है और जोर से चोदो … आह!मैं धकापेल चुदाई करता रहा. बीएफ ब्रेजर हालांकि मेरा लंड किसी अफ्रीकन की तरह लम्बा तो नहीं, मगर सात इंच का है.

मुझे लगा कि शादी के बाद शायद वो संदीप के लंड से चुदते हुए एक बार भी झड़ी नहीं है.

बीएफ ब्रेजर?

उसकी आहह ऊईई ऊईई आआआ आहह आहह हह आहह से मेरे लौड़े को जोश आ रहा था।अब हम दोनों बिस्तर पर चुदाई का पूरा मज़ा ले रहे थे। अब वो भी अपनी गांड को आगे पीछे कर लंड ले रही थी।तब मैंने लंड निकाल लिया और उसे कहा- तुम मेरे लौड़े पर बैठ जाओ. फिर मैंने आंटी की गांड में भी उंगली डाली और जरा सी ही की होगी कि आंटी का पानी छूट गया. उसकी इस अदा से मैं तो घायल ही हो गया। चारू आज मुझे हुस्न की मलिका दिखाई दे रही थी.

निशा भाभी हंस कर बोलीं- क्या हुआ?मैं- हम दोनों रोज बात करते हैं न!निशा भाभी- हां. तो मैंने उसे कहा- हम बाहर नहीं मिलेंगे तो कहां मिलेंगे?उसने मेरे को कहा कि मैं उसके घर आ जाऊं. चाची की इसी बात सुनकर मैं भी थोड़ा निराश हो गया कि चाची दुखी हो गई हैं.

अभी हम दोनों एक दूसरे को देख ही रहे थे कि अचानक अर्चना भाभी नीचे आ गईं और ज़ोर से बोलीं- प्रिया, चल चलें. तभी मैंने वॉइस चैट में कॉल किया और पहले तो ऐसे ही कोई ना कोई आता रहा, कभी कोई लड़की कभी कोई लड़की. मगर दोनों को ही इस बात का अहसास था कि उनका हाथ मेरे लंड से टच हो गया है.

मैंने इशारे से उससे पूछा कि आज वो रनिंग करने क्यों नहीं आई?तो उसने मुझे इशारे से समझाया कि वो सिर्फ सुबह ही जॉगिंग के लिए गई थी. आंटी ने अपने गुलाबी होंठों से मेरे लंड को पूरा दबा लिया और अन्दर लेकर लंड चूसने की आवाज निकलने लगी.

बुआ बोलीं कि और हम लोग दूध निकालने जाते हैं … लेकिन इतनी जल्दी जाने में हमें डर लगता है.

गांव में हमारे साथ मेरी बुआ की लड़की रहती थी, वो बचपन से ही हमारे यहां रहती थी, यहीं पढ़ी और यहीं से उसकी शादी हुई.

संजय अंकल स्टेशन के अन्दर चले गए और मैं कार में बैठी उनसे हुई चुदाई को एक बार फिर से याद करने लगी. वो एकदम से चिल्लाई- आह्ह ओह्ह … पूरा डालो न… आह्ह।मैंने एक बार फिर से धक्का लगाया और उसकी चूत में पूरा लंड उतार दिया. पहली बार सुहागरातको और फिर एक आध बार उसके बाद!तो मैंने कहा- मैं आपकी इसमें क्या मदद कर सकता हूँ?उसने कहा- शिवा, मैं बहुत दिनों से चुदना चाहती हूँ.

पिता जी का लिंग अन्दर घुसते ही एक बार फिर से कमरा फुच फुच की आवाज़ों से गूंज उठा. क्योंकि जब तक पापा थे, तब तक हर हफ्ते सुधा उनसे चुदती थी और सुधा को अपनी गांड बजवाने का भी बहुत शौक है, इसीलिए उनका पिछवाड़ा भैस की तरह बाहर आ गया है।अब उन्होंने सागर से हाथ मिलाया और फिर वो उससे उसके बारे में पूछने लगी।कुछ देर बाद जूही आयी तो मैंने उसका भी परिचय सागर से कराया. हालांकि उसने कैब में और पिछले एक घंटे में मेरे पैंट के ऊपर से मेरे लंड का आकार कई बार पता किया और उसको पकड़ने की कोशिश भी की थी.

मेरा लंड में इतना दम है कि ये किसी भी आंटी औरत और भाभी और लड़की की चुत प्यास बुझाने को काफ़ी है.

Mauseri Bahan Ko Chodaमैंने सीधे एक निप्पल अपने मुंह में लिया और चूसने लगा. फिर उसने सीधे मुझे धक्का देकर बेड पर लिटाया और मेरे लौड़े को पकड़ कर अपना मुख की गर्मी देने लगी. बोलो, कब सेवा दोगी?मैं बोली- बहुत जल्दी … शायद अगले हफ्ते!वो बोले- ठीक है, तो फिर दो दो लंड से चुदने के लिए तैयार रहना.

तो मेरे लंड के सुपारे का अगला भाग उसकी गांड की छेद में चल गया।मैंने ज्योति की कमर को कसकर पकड़ लिया औऱ एक जोर का झटका दिया और आधा लन्ड उसकी गांड की छेद में चल गया।ज्योति की चीख निकल गयी और वो मुझसे बोली- भैया, निकालिये, दर्द हो रहा है. ऐसे करते करते मैंने अपना एक हाथ धीरे से चाची की चूत पर रख दिया तो चाची ने मेरा हाथ पकड़ लिया. मैंने आपकी सुहागरात के बाद ही समझ लिया था कि भैया आपको नहीं चोद पाये।मैंने कहा- जीजा जी, चुप रहो और मेरी प्यास बुझाओ।उनका लंड भी काफी लम्बा और मोटा महसूस हो रहा था.

सच बता?” उसने पूछा।मैंने उसका हाथ पकड़ा और करीब ले आया; उसको पास खींच कर गले से लगाकर मैंने कहा- हां सच!करीब एक मिनट तक ऐसे ही गले लगे रहने के बाद हम अलग हुए।वो पीछे मुड़ने लगी कि एक बार फिर मैंने उसे बाजू से पकड़ा और अपनी तरफ खींचकर गले लगा लिया और गले के पास किस कर दिया।किस करते हुए मैं अपने हाथ उसकी पीठ पर घुमा रहा था.

मुझसे रुका न जा रहा था और फिर हड़बड़ी में मैंने उसके ब्लाउज को फाड़ दिया. इसके बाद उसने मामी की गांड की दरार में जैसे अपनी जीभ डाली, मामी एकदम से सिसक उठी.

बीएफ ब्रेजर मैंने उसकी स्कर्ट को उतार फेंका और उसकी मखमली गोरी चूत को देख कर खो गया. अब से मुझे जब भी भाभी को चोदने का मौका मिलता है, तो मैं भाभी को चोद लेता हूँ.

बीएफ ब्रेजर सुनीता ने अम्मी की गांड पर हाथ फेरते हुए कहा- तुम्हारी गांड की वजह से मुझे चुदाई का मौका मिला है, धन्यवाद. क्या हम दोनों भी यहां पर रुक सकते हैं?मैंने मुस्कराते हुए कहा- मैंने इस जगह की रजिस्ट्री थोड़ी न करवाई है, जैसे आप लोग यहां पर शेल्टर के लिए आये हो मैं भी आ गया था.

दस मिनट पेलने के बाद वो पूरी तेजी से कमर हिलाने लगे और ‘आह आह …’ करते हुए मेरी गांड में झड़ गए.

करिश्मा कपूर की सेक्सी पिक्चर वीडियो

आज ये पहली बार था, इसलिए सबको छोड़े दे रहा हूँ, अगली बार से सब होमवर्क करके आना. रमेश ने बाबा से पानी मांगा और कहा कि हमारी गाड़ी खराब हो गयी है, मैं गाड़ी में पानी डालने जा रहा हूं. उसी समय मैंने उसकी चूची को मसलते हुए कहा- बेबी गधे का पसंद आया!वो अब समझी कि गधा कितने काम का होता है.

करीब 20 मिनट बाद मैंने लंड चुत से निकाल लिया और लंड हाथ से हिला कर उसकी चुचियों पर वीर्य गिरा दिया. इसमें मैंने अपनी भाभी के साथ अपनी सगी छोटी बहन की चुदाई की थी और यह बहुत ही सेक्सी स्टोरी है. उन्होंने पानी पी कर गिलास आया को दे दिया और वो चली गयी, वो रूमाल से अपना हाथ और मुँह पौंछने लगे.

कुछ ही देर में हम दोनों घर पहुंचने वाले ही थे कि तेज़ बारिश आ गई और मैं तेज बाइक चलाने लगा.

उस दिन मैंने अम्मी के पैरों की और कमर की मालिश की क्योंकि उनको बहुत तेज दर्द हो रहा था. फिर मेरी बड़ी बहनों नजमा और आसिफा बाजी के आ जाने के बाद घर में भीड़ हो गई।हमारे घर में अब चूत तो बहुत थीं मगर चोदने का मौका नहीं था। हम काफी दिन तक चुदाई नहीं कर सके. फिर वो मेरे करीब आई और दोबारा से मेरे लंड को मुंह में भर कर चूसने लगी.

हालांकि मेरी तरफ से इतना सब कुछ नहीं था लेकिन वो जैसे मुझ पर जान छिड़कता था. जिस वजह से भाभी ने चिल्लाते हुए अपनी चुत झाड़ दी और चुत से पानी को फेंक दिया. रानी की चीख निकल गयी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मगर तभी पिंकी ने रानी के होंठों को चूसना शुरू कर दिया.

थोड़ी देर लंड चूसने के बाद मैंने अपना लंड उसके मुँह में अन्दर की ओर धकेल दिया, जिसकी वजह से आधा लंड उसके मुँह में चला गया. लेकिन मां मुझे नहीं देख सकती थी पर मौसी मुझे पूरे गौर से देख रही थी और बड़ी गौर से देख रही थी.

दोस्तो, ट्यूशन के साथ-साथ वह मेरे से बहुत सी अश्लील हरकत करते भी थे और करवाया करते थे. और लंड के घुसते ही मुझे इतना दर्द हुआ कि मानो उसने अपना लंड ना डालके कोई धारदार चाकू मेरी चूत में डाल दिया हो।मैं दर्द से इस कदर तिलमिला गई कि मैं एकदम से पसीने में भीग गई। कुछ देर तक वो अपना लंड मेरी चूत में आगे पीछे करके हिलाता रहा. मामी भी अपनी चूत को बार बार मेरे अंडरवियर पर सटा रही थी।लगभग दस मिनट तक हम दोनों चूमा चाटी करते रहे.

उसने अपनी गाड़ी पार्क करने के लिए गार्ड को चाभी दे दी और मुझे लेकर अपने घर में प्रवेश कर लिया.

मैं भी हैरान थी कि इतनी देर से वो मेरी चूत चोदने में लगा हुआ है और अभी तक टपका नहीं है. हल्का सा सुपारा अंदर गया तो वो चीख पड़ी- आह्ह … क्या कर रहा है कुत्ते … तुझे करना नहीं आता क्या … ऐसे क्यों डाल रहा है?मैंने सोचा कि अगर मैंने एकदम से इसकी चूत में लौड़ा फंसा दिया तो ये बहुत शोर मचा देगी. जिस समय बुआ लोग मेरी मदद कर रही थीं, उस वक्त मैं साड़ी पहने दोनों बुआओं की गांड देख रहा था.

कभी मैं उनके पेट को टच करता, तो कभी ब्रेक लगा कर पीठ पर किस कर देता. एक दिन की बात है कि मैं सुबह बाजार गया हुआ था और काफी समय अपने दोस्तों के साथ व्यतीत किया.

उसका लंड इतना बड़ा था कि मेरे गले में जाकर फिर अंदर धक्का मारता तो मेरी तो जान ही निकल जाती थी। कुछ देर ऐसे ही चलता रहा. कुछ पल बाद मैंने उन्हें फिर से लंड खड़ा करने को कहा, तो वो उसे चाट कर खड़ा करने लगीं. काजल के मां पिता सभी बड़े ही सीधे और अच्छे लोग हैं, पर ये साली न जाने कैसे ऐसी निकल गई है.

ब्लू सेक्सी ब्लू पिक्चर वीडियो

मेरी बहन ने चुत फैलाते हुए कहा- भाईजान अब अपना लंड मेरी चुत में पेल दो … अब मुझसे सहन नहीं होता.

मैं रात के 12:00 बजे तुम्हारे रूम में आऊंगी, तब हम रात में मस्ती करेंगे. मैंने सुमन भाभी को बिस्तर पर अपनी बांहों में खींच लिया और साड़ी खोल कर जल्दी जल्दी उनको नंगी कर दिया. तो भाभी भी हंसने लगीं और बोलने लगीं- आज से पहले मुझे इतना मजा मेरी पूरी लाइफ में नहीं आया था.

तुमको अपने पति से ही गर्भ रुका होगा।फिर मैंने उसे कहा- तुम्हारे मेरे बीच जो भी हुआ, किसी को मत बताना, आज के बाद यह बात हमारे बीच ही रहेगी।इधर मेरी बीवी के पाँव भी भारी हो गए थे. अब उसकी चूत ने मेरे लंड को बहुत ही जोर से कस लिया और वो एकदम से मेरे होंठों को काटते हुए मेरे जिस्म से लिपट गयी. सिल तोड़ने वाला वीडियोमैंने आज हिम्मत कर ली थी और चाय लेते समय ही जानबूझ कर कप अपनी शर्ट पर गिरा लिया.

तो दोस्तो, कैसी लगी मेरी और पड़ोसन भाभी की सेक्सी चुदाई हिंदी कहानी? प्लीज मुझे मेल जरूर करना. कोई काम है?वो बोली- नहीं उसे सोने दो। तुम भी आराम करो, मैं मंदिर जा रही हूं।बुआ के जाने के बाद मैंने राखी को जगाया.

लेकिन मुझे डर है कि अगर उसे मुझसे चुदना पसंद नहीं आया, तो बवाल हो जाएगा. मुझे वहां देख कर पहले तो वो चौंकी, फिर मुस्कुरा कर बोली- मेरा पीछा कर रहे हो?मैं- नहीं तो!दीपा- झूठ मत बोलो. पर शायद यीशा को राजीव के मोटे लंड पर दिल आ गया था, इसलिए वो कुछ समझ नहीं पा रही थी क्या करे.

एक दिन मैं शाम को खाना खाकर बाहर घूम रहा था कि तभी मोनिका भाभी कुछ काम से नीचे आईं तो मैं उनकी सीढ़ियों के पास में जाकर खड़ा हो गया. जैसे किसी को जब अचानक से सुई चुभ जाती है … तो वो उईईईईई करता है, ऐसे ही ये आवाज़ लैब की टॉयलेट से आई थी. सुबह मुझे कुछ सामान भी ले जाना था तो मेरे सारे पैसे पर्स में ही थे।अब जागरण खत्म हो गया था तो सारे लोग अपने घरों को जा रहे थे.

कुछ समय तक लंड अन्दर बाहर करने के बाद मैंने एक जोर से धक्का लगा दिया, जिससे मेरा पूरा लंड चुत के अन्दर समा गया था.

देखो … कितनी खूबसूरत हो तुम!भाभी- राज आज तक किसी ने मेरी इतनी तारीफ नहीं की. ’अब मेरी मादक आवाज निकल रही थी और भाभी लंड का पूरा स्वाद लेते हुए मुँह में अन्दर गले तक डालतीं और मस्ती से लंड चूसने लगतीं.

फिर दोबारा किसी दिन मिलेंगे।यह कहकर मैंने चारू की ओर देखा और थैंक्स कहते हुए उसको आंखों से ही दोबारा मिलने का इशारा भी दे दिया. तभी बड़ी बुआ बोलीं कि इसके साथ नहाने में क्या है … हमने तो इसे कई बार बचपन में नंगा देखा है … और ये भी तो हमारे साथ नहाया है. मैंने उसका पट्टा खींचा और बोला- साली कुतिया बहुत तड़पाया है तूने … आज जाकर मेरे नीचे आयी तू … और क्या बोली थी तू उस दिन कि कुत्ते हरामजादे शर्म कर अपनी बहन से गन्दी हरकतें करते हुए.

लेकिन मैंने थोड़ा धीरज रखा और फिर मैंने एक झूठ बोला- मैं आपके पास काम से अक्सर आती हूँ लेकिन आपका केबिन बन्द रहता है. मैंने कहा- मेरा नाम अमित है भाभी जी … और आपका नाम क्या है?जब मैंने उनका नाम पूछा, तो उन्होंने अपना नाम सलोनी बताया. मैं उसकी चूत का बाजा बजाना चाहता था और वो मुझसे भी ज्यादा प्यासी निकली।मेरे प्यारे दोस्तो, मैं राजू शाह अपनी पड़ोसन भाभी की गर्म सेक्स कहानी आपको बता रहा था.

बीएफ ब्रेजर प्रियंका भाभी मेरी जांघ के ऊपर आकर बैठ गईं और हम दोनों एक दूसरे को प्यार से देखने लगे. कुछ मिनट बाद भाभी बोलने लगीं- दबाने का ही मजा लेते रहोगे या कुछ और भी करना है.

हिंदी भोजपुरी सेक्सी एचडी

आइला की बात सुनकर ज़ाफिरा बोली- आइला, हम सब भाई बहन अवश्य हैं … लेकिन चूत और लंड कभी भी भाई-बहन नहीं होते हैं. पापा बहुत जोर से अपने लंड को अन्दर बाहर करने लगे और मम्मी जोर जोर से चीखने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह उह उह!फिर दस मिनट बाद प्रशांत ने मम्मी की चूत में अपना पानी झाड़ दिया. ननदोई जी के बदना की सिहरन से मैं समझ गयी कि ये उत्तेजित होने लगे हैं और इनका लण्ड खड़ा होने लगा है।ये सब जान कर मेरी चूत से पानी बहने लगा जब तक घर पहुँची।अब मुझे जब भी मौका मिलता तो मैं उनके सामने अपनी गांड हिलाकर चलती.

मैं मीनाक्षी को अपनी बांहों में पकड़ लिया।मुझे पता नहीं था कि मेरी मम्मी कहाँ होगी. फिर उनकी दोनों टांगों को उठा कर उनके सिर के पास दोनों हाथों से अपने कस के पकड़ लिया और मामी से गांड के छेद पर अपना लन्ड सेट करने को बोला।मामी ने थोड़ा सा थूक लिया अपने मुँह से और सागर के लन्ड पे मल दिया. सेकस की जानकारीमैंने सोनिया भाभी की टांगें खोलीं और भाभी जी की चुत को चाटना शुरू कर दिया.

वैसे तो उसका एक 3-4 साल का एक बच्चा है, लेकिन देखने में वो एक कॉलेज गर्ल जैसी थी.

मैंने ननदोई जी को यह खुशखबरी दी तो वे भी बहुत खुश हुए कि मेरे पेट में बच्चा ठहर गया है. रात भर में फूफा ने अम्मी की एक बार गांड मारी और 4 बार चुत चुदाई की.

मुझे वह आवाज आज तक याद है चट चट की आवाज!और जैसे ही दीदी की गांड पर चांटा पड़ता, वह उछल जाती और मुझे मजा आता. इसी तरह सुबह ग्यारह बजे से ले कर दोपहर के दो बजे तक दो राउंड हुए जिसमें सबकी भरपूर चुदाई हुई. करीब 10 मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों साथ में झड़ गए और थक कर लेट गए.

थोड़ी देर बाद हम दोनों अलग हुए और कँगना मेरा हाथ पकड़ के मुझे बेडरूम की तरफ ले गई।बेडरूम में लाइट काफी कम थी.

अम्मी हंस कर बोली- ज़ोहरा, आज तुझे भूख नहीं है? चल उस तरफ अशफ़ाक के बगल में बैठ जा. जैसे ही मेरा हाथ भाभी की गांड पर गया, तो मैंने धूल झाड़ने का नाटक करते हुए जोर से गांड पर हाथ दे मारा. वो दो दिन तक वापिस नहीं आने वाले! तो तुम आ जाओगे ना?मैं बोला- नेकी और पूछ पूछ? ऐसा नहीं हो सकता कि मैं ना आऊँ.

मियां खलीफा वीडियो सेक्सीउसने एक पिंक कलर का सूट पहन रखा था, जिसमें वो बहुत सुंदर लग रही थी. ऐसे कहानी का मजा नहीं आता क्योंकि आधा समय तो उनके बारे में पढ़ते पढ़ते ही निकल जाता है.

ऑनलाइन तोता

मैं- अगर ऐसी फोटो किसी ने देख ली तो?निशा भाभी- मैं सम्भाल कर रखूंगी. उंगली को चुत की फांकों तक अभी ले जाता कि उतने में ही उन्होंने मेरा हाथ पकड़ लिया. पर अपने आप पर कंट्रोल कर उससे ऐसे ही सामान्य बात कर दोस्ती की और फिर मोबाइल नंबर लेकर व्हाट्स एप्प पर बात करने लगे।माफ कीजियेगा उसका नाम प्रियंका था और उसके जिस्म का साइज 30 34 38 इंच था.

वो मेरे लंड की मुठ मारने लगी और मैंने उसके चेहरे को पकड़ कर उसके होंठ चूसने शुरू कर दिये. वो मुझसे बोले- तुमको चलेगी?मैंने कहा- नहीं अंकल, मैंने पहले से दो पैग लिए हुए हैं. मैं उस बीच भी उसके शरीर को सहलाता हुआ उसके निप्पलों पर चुटकी काट रहा था.

मैंने कहा- इतना सब बता दिया, कर भी लिया और अब मैदान छोड़ कर भाग रही हो … लगता है तू डर गई है. वैसे तो उसका एक 3-4 साल का एक बच्चा है, लेकिन देखने में वो एक कॉलेज गर्ल जैसी थी. जब मामी की जीभ मेरे लंड के टोपे पर आकर प्यार से सहलाती थी तो मैं स्वर्ग में पहुंच जाता था।धीरे धीरे करके वो लंड को अंदर तक मुंह में भरने लगी.

मेरे अब्बू एक कम्पनी में काम करते थे और उनकी आमदनी कोई बहुत ज्यादा नहीं थी. अब मैम सिर्फ काली डिज़ाइनर पैडैड ब्रा में उनके 34 इंच के चूचे छुपाए खड़ी थीं.

और उसको अपने पास बुला ले। एक दिन तू मजे ले लेना और अगले दिन इस लड़के को मेरे हवाले कर देना ताकि मैं भी इससे मजे ले सकूँ।उसी समय हम दोनों ने यह डिसाइड किया कि कल सुबह ही हम दोनों रेलवे स्टेशन जायेंगी.

मुझे उसकी चिल्लपौं से कोई डर ही नहीं था क्योंकि मेरा ये कमरा सबसे अलग था और इस कमरे में होने वाली आवाजें बाहर नहीं जा सकती थीं. यूट्यूब क्यों नहीं चलता हैमैंने देखा है कि वह अक्सर पुराने जमाने की पट्टीदार चड्डी में ही रहा करते थे. एक्स व्हिडिओजतभी नीता दरवाजे में से आई और जोर से हंसने लगी।मेरी तो कुछ समझ में नहीं आ रहा था. उसे समझ नहीं आ रहा था कि वो मेरा लौड़ा चूसने का आनन्द ले या फिर उंगली से चोदन का मजा ले.

मैंने दायें हाथ से उसके बायें गाल को खींच दिया और दायें गाल पर किस कर दिया।मैं उसके स्तनों को सहलाने-दबाने लगा.

श्रुति भाभी ने मुझे वैशाली भाभी से हमारी ही दूकान में मिलवाया और कहा कि यहाँ खुल कर बात नहीं हो सकती तो मैं घर से फोन पर तुम दोनों की बात करवा दूंगी. इसके बाद मैंने शोभा भाभी से कहा- भाभी, आप जब तक अपनी गांड में तेल लगा कर ढीली करो … मैं तब तक सुमन भाभी की गांड बजाता हूँ. अब मैं उसे 15 मिनट से देख रहा था, मुझे वो काफ़ी परेशानी में लग रही थी.

हाय दोस्तो, मैं शिखा आसाम से आप सभी के साथ अपने जीवन की एक सच्ची घटना को एक हॉट सेक्सी लेडी चुदाई कहानी के रूप में साझा करना चाहती हूँ. हम तो एक दूसरे को बस नाम से जानते हैं और ज्यादा कुछ नहीं जानते हैं. मैं बहुत चिल्लाई भी लेकिन वह नहीं हटा और उसे मजा आने लगा तो उसने कहा- बेबी बताओ अपना वीर्य कहां निकालूं?मैंने उससे कहा- अंदर ही निकाल दो, मुझे आपके बच्चे की मां बनना है.

ऑंटी फुल सेक्सी

मैंने पहले उसकी चूत को पैंटी के ऊपर से चूमा और फिर उसकी पैंटी को हटाकर उसकी चूत को देखा. उसके झड़ते ही मैंने उसकी चूत का रस पूरा चाटा और उसको सीधा करके खुद उसके ऊपर आ गया. वो थोड़ी सकपकायी और बोली- आप कुर्सी पर बैठिये ना भैया, मैं चाय लेकर आ तो रही हूं.

भाभी बोलने लगीं- मजा आया परिमल!मैंने हामी भरते हुए बोला- हां बहुत मजा आया भाभी जी.

उसने मेरे नाईटी को नीचे करवा दिया और मुझे खींचते हुए दो बोगियों के बीच बने टाईलेट के गलियारे में ले गया.

भाभी ने कहा- तुम्हारी गर्ल फ्रेंड नहीं है, इसीलिए तो तुम्हारी यह हालत है. अबकी बार मैंने कॉन्डम नहीं लगाया और उसको मेरे लंड पर बैठने के लिए कहा. ब्लू पिक्चर नंगी बताओफिर बाबा ने मुझे नीचे पटका और मेरी टांगों को चौड़ी करवा कर मेरी चूत में लंड पेल दिया.

अगले दिन मैंने चलती कार को कहीं सड़क के किनारे चुदाई करने का कहा, तो भाभी ने मना कर दिया. कॉलेज से रूम पर जाने के बाद मैंने रात तो उस लड़की को कॉल करने का सोचा. इससे भाभी के मुँह से जोर से आवाज निकल गई- उई मां आराम से!जब उनकी आवाज़ निकली, तो मैंने कहा- लगता है भाभी यहां ज्यादा चोट लग गई है आपको.

अगर आपको कोई दिक्कत नहीं हो, तो क्या आप 3 दिन रात के लिए अमित को सोने को हमारे घर भेज सकती हैं?उनकी बात सुनने के बाद मम्मी ने कहा- हां हमें कोई परेशानी नहीं है, अमित रात को आपके घर पर आ जाएगा और इसके अलावा भी कोई दूसरी दिक्कत हो, तो बता देना. मैं आपको कैसे भूल सकती हूं।मैं उसकी बातों को अनसुना कर और तेज़ी से धक्के लगाकर उसे चोदने लगा.

मैं कुछ देर बाद एक हाथ से उसके एक चुचे को दबाने लगा और दूसरे हाथ से उसकी जींस का बटन खोलकर उसकी अंडरवियर में हाथ डालकर उसकी गांड को भींचने लगा.

खुशबू हल्के स्वर में कहे जा रही थी- आह विक्की … तेरी नजरों ने मेरी चूचियों को क्या ताड़ा, साले चुत में आग लग गई. अंकल का लंड बहुत मोटा और बड़ा था उसके मुकाबले मेरी लुल्ली पतली लेकिन कड़क थी जैसे की कुल्फी वाला सबसे पतली ₹10 की कुल्फी देता है वैसी!जैसे ही दीदी ने मेरी लुल्ली को अपने मुंह में लिया, मुझे झनझनाहट होने लगी. दोनों इस समय बेड पर ही थे, तो मैं उनके चूचों को कुछ जोर से दबाने लगा.

नगें फोटो मैंने उसे हिलते हुए चूचे देख कर सोचा अगर ये पेलने को मिल जाए, तो मज़ा आ जाए. सुबह मुझे कुछ सामान भी ले जाना था तो मेरे सारे पैसे पर्स में ही थे।अब जागरण खत्म हो गया था तो सारे लोग अपने घरों को जा रहे थे.

मैं तो उसकी पारदर्शी नाइटी में उसकी चूचियों और उसकी मुनिया को देखते ही पनिया गया. मैंने उसे देख कर हैलो बोला, लेकिन उसने सिर्फ़ स्माइल पास की और चली गयी. फिर एक सुनहरा मौका मेरे हाथ लगा। मार्च का महीना शुरू हुआ था और रविवार का दिन था.

सेक्सी नंगी वीडियोस

फूफा जी ने अम्मी को अपनी बांहों में भरा और उनके होंठों से होंठों को मिला दिया. मैं प्रिया भाभी को आई लव यू बोलना चाह रहा था … लेकिन मेरी गांड में उतना दम नहीं था. अभी तू अपनी गर्ल फ्रेंड की बात कर रहा था … वो बता!मैंने उसके मम्मे ताड़ना बंद नहीं किए और कहा- कोई बनती ही नहीं है यार, पर मन करता है कि काश मेरी गर्लफ्रेंड होती, तो मैं उसके साथ खूब मजे करता.

तभी मुझे बुक में एक प्रोजेक्ट के लायक टॉपिक दिखा, मैंने उसे दिखाया तो वो बोली- तुम रहने दो, मैं तुम्हें अपना पूरा प्रोजेक्ट दे दूंगी।मैं बहुत खुश हुआ और उसे थैंक यू बोलकर हाथ मिलाने को हुआ तो उसने मुझे एक अजीब तरीके से देखा और बोली- रात को कॉल करूँगी और टॉपिक के बारे में पूरी जानकारी दूंगी।मैं कॉलेज से सीधा अपने रूम पर जाकर उसके कॉल का इंतजार करने लगा. फिर शांता बर्तन धोने के लिए चली गयी और मैं सोने के लिए चला गया।अभी तो रात बाकी थी.

अंकल मॉम की गांड मारते रहे और मॉम चिल्लाती रहीं- इह उम्म एयेए छोड़ दो … चूत फाड़ दो मेरी गांड छोड़ दो.

अब मैंने उसके निप्पल को मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया जिससे वो और ज्यादा मचलने लगी. मगर इस बार कोरोना के चलते लॉकडाउन हुआ तो वो बिल्कुल ही घर नहीं आ पा रहा था. मेरे पूरे लंड ने अन्दर जाकर चुत को अपने मुताबिक़ फैला लिया और उसको आराम सा मिलने लगा.

उसकी नज़र भी इसी चीज़ पर थी।कुछ देर इसी तरह देखने के बाद दरवाज़े किसी ने खटखटाया तो अब मेरी और मामी की दोनों की एक साथ फटी की कहीं मम्मी या सपना तो नहीं आ गए।मामी उठी और थोड़ा सा ही दरवाज़ा खोल कर देखा तो बगल वाली आंटी को मम्मी से कुछ काम था. संजय अंकल बोले- आओ मेरे साथ ही बैठ जाओ … अगर कुछ होगा, तो मैं संभाल लूँगा. एक बार फिर से अपना लंड उसके मुँह में दे दिया और माही ने फ़िर से लंड चूसना शुरू कर दिया.

मैं नंगा ही गया और उसे आवाज देकर बाथरूम का दरवाजा खोलने के लिए कहा.

बीएफ ब्रेजर: मेरे विचार से तुम कुछ दिन के लिए अलग घर ले लो तो सब कुछ ठीक हो जायेगा. उसने ये भांप लिया था कि मैं उसकी जवान और रसभरी चुचियों को देख रहा हूँ और शायद वह भी मज़े लेना चाहती थी.

कुछ पल बाद मैंने अपने लंड को उसकी चूत पर रखा और सुपारे से चुत के दाने को रगड़ने लगा. मैं कामुक सिसकारियां लेने लगी और ज़ोर ज़ोर से ‘उफ्फ़ अहह यससस्स ओह उफ्फ़ यहह … फक्क मी … उफफ्फ़. पर कुछ ही वक्त बाद ज़ोहरा को भी इस फ़रिश्ते की चुदाई में पूरा मज़ा आने लगा.

बड़ी बुआ बोलीं- ठीक है … और हां हम जो भी कर रहे हैं, वो किसी को बता मत देना कि हम तुम्हारे सामने नंगे हुई थी.

मैं भी समझ गया कि ज़ोहरा आपा अम्मी बनने के लिए किसी भी हद तक गिर सकती हैं. मेरी बड़ी बहन की चूत चुदाई की कहानी के पिछले भागमेरी आपा की औलाद की ख्वाहिश-2में अपने पढ़ा कि कैसे गलती से मैंने अपनी आपा की चुदाई कर डाली थी और मैं समझ रहा था कि मैंने अपनी बीवी की चुदाई की है. बाबा का लंड 7 इंच का था जो मेरी चूत में अंदर मेरे पेट तक जाकर ठोक रहा था.