बीएफ सेक्सी इंडियन गर्ल्स

छवि स्रोत,कुंवारी लड़कियों के बीएफ वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ पिक्चर हिंदी देहाती: बीएफ सेक्सी इंडियन गर्ल्स, मोना को भी मेरे लंड का पानी का स्वाद शायद बुरा नहीं लगा इसलिए उसने जोया के मुँह में जीभ डाल कर उसके मुँह को साफ करना शुरू कर दिया.

बीएफ बुर में लौड़ा

यहाँ सब मिलनी कर रहे थे और मैं उस लेडी को देखता हुआ सोच रहा था कि यार क्या मस्त माल है… साला लंड के नीचे आ जाए तो मजा आ जाए. हिंदी बीएफ एचडी हिंदी बीएफ सेक्सीदो मिनट यूं ही पड़े रहे और फिर अलग हुए ही थे कि तभी नीचे से कोमल की आवाज़ आई- मम्मी…हम दोनों ने जल्दी ही अपने कपड़े पहन लिए.

जो लोग xxx पोर्न फिल्मों जैसा सेक्स करना चाहते हैं, पर शर्मिंदगी की वजह से या गंदे सीन की घृणा की वजह से यदि ऐसा नहीं कर पाते हों. बीएफ स्टोरी हिंदी मेंमैं सोच रहा था कि आज मुझे दीदी को पूरी नंगी देखने का चान्स मिल ही गया.

बहुत से पुरुष विदेशों में अपनी नई नवेली पत्नी को इस तरह से चुदवाते हैं.बीएफ सेक्सी इंडियन गर्ल्स: इसके बाद तो रोज का नियम सा बन गया था कि मैं दीदी की सेवा करता और वे मुझे तरह तरह से प्रताड़ित करते हुए मुझे अपनी चूत की चुदाई करवा लेतीं.

बस और ये आखिरी बार है, इसके बाद मैं मिनी के साथ कुछ भी करने को कभी नहीं कहूँगा.चाची ने गेट खोला उन्होंने एक मैक्सी पहन रखी थी और शायद वो इस वक्त कपड़े धो रही थीं जिससे उनकी मैक्सी हल्की सी गीली थी.

हिंदी या बीएफ - बीएफ सेक्सी इंडियन गर्ल्स

उसकी उम्र तो कम नहीं थी पर उसकी शारीरिक बनावट हल्की होने की वजह से मैंने उस पर ध्यान नहीं दिया.राजधानी एक्सप्रेस के प्राइवेट कोच में हम ससुर बहू ने क्या क्या किया ये सब जानने के लिए कल ट्रेन चलने का इंतज़ार कीजिये.

मैंने उसके चीखने की चिंता नहीं की, गाड़ी सुनसान जगह पर थी, सो मैंने बेपरवाह होकर लंड घुसा दिया. बीएफ सेक्सी इंडियन गर्ल्स लेकिन उसी रात 4 बजे लंड फिर खड़ा हो गया, मैंने अंजलि की ओर देखा तो वो तो सो रही थी.

मैंने उसके चुचों को कसके पकड़ा और ताकत से एक एक इंच अन्दर घुसाता हुआ हिलने लगा.

बीएफ सेक्सी इंडियन गर्ल्स?

उसने मुझे गले लगा लिया और मेरे गालों पर किस करके बोला- सरिता आई लव यू, तुम आज कितनी हॉट लग रही हो. मैंने एक बार फिर उसके पूरे जिस्म को मसल दिया और शावर के नीचे उसकी चूत लेने का सपना पूरा किया. मेरा लण्ड फिर खड़ा हो गया और मैं मधु के जवान जिस्म को नंगा होते हुए देखने की चाह को नहीं छोड़ सका।मधु ने मेरी तरफ पीठ की हुई थी.

और एक बार दे दी तो फिर तो जब चाहो तब उसकी चूत और मेरा लंड खेल सकेंगे. वह बोला- अबे यार, मैं भी तेरे पर मरता हूं, पर अभी तेरी नहीं मारूंगा. अगले दिन प्रोपोज़ डे था तो मैं रोज लेकर भी गया और आज वो रास्ते में भी नहीं मिली.

पर उसका जिस्म बहुत मादक था। मैं उसको देख कर बहुत रोमांचित हो उठा था। मैं तो उसे देखता ही रह गया।शायद उसने भी मुझे खुद की तरफ घूरते हुए देख लिया था. मैंने ज्यादा ना तड़पाते हुए कंडोम लगाया और ऊपर से एक्स्ट्रा तेल लगा कर चुत के अन्दर डालने लगा. मैं बिस्तर पर लेट गई।वो मेरे जिस्म को चूमने लगा, उसने कहा- मुझे आपसे ‘करना’ है।मैं- लेकिन नहीं.

तुम तो ऐसा नहीं सोचती हो, चलो फिर कहीं मुझे ले चलो कोई मुझे कुछ नहीं कहेगा. मैंने सोचा कि अभी नहीं तो कभी नहीं… और मैंने जोर से घुमाया और उसके होंठों को चूसने लग गया पूरा इमरान हाश्मी की तरह!तभी मैंने किस करते करते उसकी टीशर्ट निकाल दी.

‘आप तो कह रही थीं कि आपको केला चूसना पसंद है!’‘वो तो ऐसे ही मजाक में कह दिया था.

30 बज गए पौने बारह भी बज गए, तो उसने किताब बंद की और सोने को चल दी.

मेरा पूरा लंड भाभी की चूत में चला गया और पायल भाभी ज़ोर से चीखने लगीं. मुझे समझ में नहीं आया कि क्या कहूँ तो मैंने कहा- रुको, तौलिया रख दूँ और मोबाइल ले लूँ. मगर अन्तर्वासना की कामुक कहानियाँ पढ़ पढ़ कर और ब्लू फ़िल्में देख देख कर काफ़ी एक्सपर्ट हो गया था। अब मैंने भी अपनी शर्म त्याग कर उनका साथ देना ही ठीक समझा क्योंकि यही एक रास्ता मेरे लिए बच गया था।मैम मेरे पास आई ओर मुझे किस करने लगी, उनके होंठ मेरे होंठ से लगते ही मेरा लंड बिल्कुल खड़ा होने लग गया।मैंने भी अब उनका साथ देना शुरू कर दिया और उनको किस करने लगा।वाह क्या होंठ थे.

पूरा कमरा मेरी मम्मी की चुदाई की सेक्सी सेक्सी आवाजों से गूंजने लगा. फिर मैंने एक एक कर उसके ब्लाउज़ के बटन खोले और ब्लाउज़ और ब्रा दोनों को एक साथ ही उसके जिस्म से अलग कर दिया. अब मैं बॉस को किस करने लगी और बॉस ने मेरे टॉप के अन्दर हाथ डाल कर मेरी चुचियों को दबाना शुरू कर दिया.

अब वो माया के घुटनों तक पहुँच चुका था और माया की जाँघों की तरफ बढ़ रहा था.

फिर हम गोवा पहुँच गए, उसी दिन मेरी भैया से बात हुई तो उनकी जॉब बंगलौर में किसी कम्पनी में लग गई थी. इस पर मैंने कहा- हाँ अगर मोना को कोई ऐतराज ना हो तो मुझे क्या दिक्कत हो सकती है. मैं उसके बेड रूम के अन्दर गया तो देखा कि बाथरूम का दरवाजा थोड़ा सा खुला था.

महेश मेरे होंठों को, कभी गर्दन को, तो कभी मेरे निपल्स को चूसता रहा. उधर मैं सुकुमारी भौजी की चूचियों को दबाते हुए उनकी साड़ी को धीरे-धीरे खींचने लगा, इधर सुकुमारी भौजी मेरे पैंट की चैन खोल कर मेरे 8 इंच के तने लंड को मेरे कसे हुए पेंट से निकालने लगीं. अचानक से रजनी लिविंग रूम में आ गई, शायद वो मुझे पीछे से देख रही थी.

मैंने ऐसे ही किया और निर्मला की टांगें ऊपर उठा कर अपना लंड उनकी गीली चूत में घुसा कर धक्के मारने लगा.

मेरी तो फिर से लाटरी निकल पड़ी… उसका फिगर क्या मस्त था, बस पेट पर दो ऑपरेशन के निशान थे, बच्चे हुए थे उनके. उन दिनों हमारे घर का मरम्मत का काम चल रहा था, इसलिए हम सभी एक फ्लैट में रहने आ गए थे.

बीएफ सेक्सी इंडियन गर्ल्स सुबह उठा तो रात का सीन आँखों के सामने आ गया और लंड फिर से खड़ा हो गया. मैं समझ गया कि मैं पूरी तरह अपनी बीवी के चक्रव्यूह में फंस गया हूँ.

बीएफ सेक्सी इंडियन गर्ल्स मैं बोला- जब मैं वहां पे रहूँगा तो सब कुछ कैसे होगा?छाया ब़ोली- उसके जाने के बाद. उसने अपनी दो उंगलियों से चूत की ऊपरी परत को फैलाया, उसमें एक छोटे से दाने जैसे आकार वाली झिल्ली लटक रही थी.

तब भी मैं काफ़ी सेक्सी लग रही थी।फिर उसने मेरे सिर के बाल भी खोल दिए।वो- चलो चाची जी.

செக்ஸ் வீடியோ மலையாளம்

मैंने कहा- जो देखने के लिए होता है, मैं वही देख रहा था, उसमें बुरा क्या था?तब भाभी बोलीं- अच्छा तो तुम्हारी मम्मी को बोलना पड़ेगा. दीदी- सॉरी सन्नी, मैं बहक गई थी अमित की बातों में, लेकिन अब तुम बेफिकर रहो, अब मैं करण की किसी भी बात का गुस्सा नहीं करूँगी, जितनी फिकर मेरी वो करता है उतनी ही फिकर अब मैं करूँगी उसकी. लंड तो सिर्फ अन्दर बाहर हो सकता है लेकिन अंगूठा तो हर एंगल से मज़ा दे सकता है.

मैंने उसकी कमर को झुकाया और उसकी चूत का छेद मेरे लंड के सामने आ गया था. ‌मुझे उन्होंने पूरी नंगी कर दिया और खुद भी पूरे नंगे हो गए और अपने लंड को मेरे मुंह में भरने लगे. मैंने सुबह सुबह ही चाची की चुत याद करके मुठ मार ली और नहाने चला गया.

जैसे ही भाभी ने मुँह लंड के पास किया कि मैंने उनके बाल पकड़ कर लंड उनके मुँह में डाल दिया.

इसा कहानी से पहले भी मेरी एक कहानीभाभी ने पूछा कि कोई लड़की फंसाई है या नहीं?प्रकाशित हो चुकी हैमैं एक छोटा सा फैमिली बिजनेस भी करता हूँ. मैंने झट से जाकर गेट बंद कर दिया और वापस आया तो देखा कि दीदी ने मैक्सी निकाल दी थी, वो सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में थीं. अभी तक मेरी सेक्सी स्टोरी में आपने पढ़ा कि विक्रांत ने अकीरा से वादा किया था कि वो अपनी नई सेक्रेट्री को अपना लंड दिखाएगा.

वो अपनी पेन्ट उतारने लगा, लंड निकाल के बोला- जान चूसोगी नहीं?मैं झुक कर घुटनों पर बैठ गई और लंड लगी चूसने!वो आह्ह्ह आह्ह्ह करने लगा और मेरा मुह लंड पे दबाने लगा, मैं भी गले के नीचे लंड उतार लेती, पूरा निगल लेती, वो आह्ह्ह आह्ह करते अकड़ने लगा, मेरा मुंह लंड पे दाब दिया. मगर एक दिल तो ये भी कह रहा था- पांच जने चोदने वाले है तो जिंदगी बन गयी यार! अपने आप मेरे मुँह से सिसकारियां निकलने लगी. मैं चुप थी और उनके दोस्तों के नाम थे, लड़की का नाम स्वाति और लड़कों में एक का अरुण और दूसरे का शैलेष था.

उसको सम्हलने का मौका नहीं देते हुए मैंने उसकी दोनों चुचियों को पकड़ कर, जोर से खींचकर एक और शाट दे मारा. वो मुझे अपने में इस तरह भींच रही थीं, जैसे वो मुझे अपने अन्दर तक लेना चाहती हों.

पर रोज कॉलेज के बाद उनके यहां चाभी लेने जाना पड़ता था सो बोलचा ल शुरू हो गई थी. ये देख कर मुझे ऐसा लग रहा था कि उसका इंटरेस्ट मुझसे थोड़ा कम हुआ है पर वो तो आने वाला वक्त ही बताएगा. भाभी मेरे लंड को देख कर बोलीं- जीत यार, तुम्हारा लंड तो बहुत बड़ा है.

यह सुनते ही सेल्स गर्ल ने भाबी से हंसते हुए कहा- भाबी जी क्या भैया को आपकी साइज़ की बारे में पता नहीं.

नमस्कार दोस्तो, इस एडल्ट कहानी के पिछले भाग में अब तक आपने पढ़ा कि हम बाबा जी का पाखंड जानने आश्रम में श्रद्धालु बनकर पहुंचे थे. फिर मैंने तौलिया को थोड़ा और ऊपर सरकाया और जैसे ही वहां पर हाथ रखा चाची ने आँख बंद कर लीं और मुझसे बोलीं कि तुम मालिश बहुत अच्छी तरह करते हो. महिला बहुत ही सुंदर थी, गोरी 5 फीट 6 इंच की हाइट, भरे हुए चूचे, पतली कमर, आह, मैं तो उसके हुस्न में खो सा गया.

उन्होंने मुझे एक लेडी डॉक्टर का नाम बताया और कहा कि उन से बात करके देखो. अब मेरी ज्वाइनिंग में केवल एक महीना बचा था और मैं हर टाइम उनके चोदने की सोचता रहता था.

मैं गांड में उंगली डलवाते हुए लिफाफे को खोलकर पढ़ने लगी तो मेरी ख़ुशी दोगुनी हो गई. शहजाद- कहां गई थी?मैंने डर के मारे अपनी नजरें झुकाते हुए कहा- ऊपर मेरा फोन लेने गई थी, आप जल्दी से तैयार हो जाइए, मैं चाय नाश्ता बना कर लाती हूँ. कुछ सलवार तो हाथ से घुटने तक चली गई और बाकी की सलवार को मैंने अपने पैरों से उतारना शुरू कर दिया.

राजस्थानी सेक्सी फोटो वीडियो

बॉस- नेहा बेबी जब तुम बांहों में रहोगी तब कोई नहीं आएगा, टेंशन मत लो.

मेरी पिछली कहानीअपनी मां की चुदाई की हसरतको आप सबने बहुत पसंद किया और मुझे खूब प्यार दिया. मेरी चूत से रस की धारा बहने लगी जिसे महेश मज़े लेकर ऐसे चाटने लगा, जैसे कोई आइसक्रीम चाट कर खा रहा हो. जब मैं लेट्रिन जाती हूँ ना तो रोज कोई ना कोई मेरा पीछा करता है, इसीलिए मैं अब अकेली बहुत कम आती हूँ.

गोरी सहेली ने ओमार के गोरे लंड पर अपनी गांड को झुलाते हुए सोफे पर बैठ चुके किड को पूरी लम्बाई में चूसते हुए अपनी गुलाबी जीभ से चाटना शुरू कर दिया. लेकिन कुछ धक्कों में ही मेरी बीवी नताशा का दम घुटने लगा और किड को अनमना होकर अपना लंड बाहर निकालना पड़ा. सेक्सी वीडियो चाहिए बीएफ मेंवैसे वो मेरे से सेक्स कर चुकी थी पर लंड को देख कर उससे रहा नहीं गया, और उसने उसे मुंह मे भर कर एक बार चूस लिया पर मैंने उसे छुड़ा दिया, मुझे लंड चुसवाना बहुत पसंद है पर अभी वक्त चूसाने का नहीं चूत चाटने का था।छोटी सफेद ब्रा और पेंटी पहने मेरी प्रतिक्रिया का इंतजार कर रही थी.

मेरे छोटे ताऊ प्रेम की उम्र 45 साल है, छोटी ताई माला 43 साल की हैं, उनके भी दो बच्चे हैं. कैसे भाभी?”एक दोपहर को मैं नीचे भाभी के फ्लैट में गई तो दरवाजा खुला हुआ था.

जब मैंने अन्तर्वासना पर इतनी सारी कहानियाँ पढ़ीं, तो मेरा भी मन किया कि मैं भी कुछ इन सब कहानियों से अनुभव लेकर अपनी कहानी भी लिखूँ. वैसे मुझे लंड लेने की आदत हो गई है तो अब दर्द सहने की आदत भी हो गई है. आपको मेरी गरम कहानी अच्छी लगी या नहीं, मुझे मेल ज़रूर करें ताकि मैं अपनी अगली गर्म कहानी भी आपके सामने ला सकूं.

एक हाथ से उसके दूध जैसे धवल उरोजों को सहलाता हुआ, दूसरे हाथ से उसकी क्लिट को मसलने लगा, जबकि किड इस समय आराम से मीठी गोरी लड़की की गांड को पेलने में लगा हुआ था. पुलकित मंजरी को रेस्तराँ में ले जाता, खूब खिलाता पिलाता, मंजरी बहुत खुश थी क्योंकि वो खाने पीने की शौकीन थी. दीदी ने मेरे चूतड़ों पर एक हंटर मारा तो मुझे उसकी चोट से दर्द की जगह मजा आया.

[emailprotected]कहानी का तीसरा भाग :सेक्स कहानी प्यार में दगाबाजी की-3.

यह देख कर मैं डर गयी, घबरा गयी और बोली – मुझे छोड़ दो, प्लीज़ जाने दो!तभी भाभी के पापा बोले- आरती, चिंता मत करो, डरो नहीं, कोई दिक्कत नहीं होगी! मेरी जिम्मेदारी… भरोसा रखो, किसी को पता नहीं चलेगा, तुम एंजॉय करो, मेरा वादा है, भरोसा रखो. मैंने अपना संयम खो दिया और उन्हें अपने सीने से लगा कर किस करने लगा.

मैंने हंसते हुए लंड हिलाया और कहा- चल साली रंडी मादरचोद, आज तो तेरी चुत फाड़ के ही रहूँगा. मुझे लगा कि कहनी साली चालू माल ना हो, चुदक्कड़ हो और मेरा इस्तेमाल अपनी कामवासना पूर्ति के लिए कर रही हो. फिर भाभी ने मुस्कुराते हुए कहा- जब तूने सब कुछ देख ही लिया तो चल मेरे पूरे बदन पर बॉडीलोशन लगा दे.

इस बार उसने मुझे अपने ऊपर लेकर चोदा और शाम चार बजे तक संजय ने मुझे 3 बार बेड पर चोदा. भाभी उठ कर झट से खड़ी हो गईं, तो मेरी नजर उनके हाथ में एक किताब पर पड़ी, जो कि सेक्स से सम्बंधित कहानियों की थी. इसे आप यहाँ से download करें!भारतीय लड़कियों से हिंदी अंग्रेजी और स्थानीय भाषाओं में सेक्स चैट, वीडियो सेक्स करने के लियेसेक्स चैट, विडियो चैटपर आयें और सेक्स की मजेदार बातें करके, नंगी लड़कियों को देख कर मजा लें![emailprotected].

बीएफ सेक्सी इंडियन गर्ल्स पर वो नहीं चाहती थी कि उसकी माँ और बहन तनु को इस बात का पता चले। इसलिए प्रेरणा ने ही छोटी को यहाँ आने का उपाय बताया, यहाँ आने से हमारे बहुत से काम एक साथ निपट जायेंगे।मैंने उनसे कहा- चलो अच्छा ही है, मेरा आँटी को किया वादा कि ‘मैं छोटी को कुछ नहीं करूँगा’, वो कम से कम उसकी नजर में तो नहीं टूटेगा. मेरी बीवी तीन मर्दों से चुद कर मेरे साथ बेवफाई करने के बाद मुझसे ऐसे बर्ताव कर रही थी जैसे कुछ हुआ ही ना हो.

देहाती सेक्सी वीडियो भोजपुरी में

कुछ देर तक भाभी ने मेरा साथ दिया और फिर मुझे अलग करके बोलने लगीं- यह क्या कर रहे हो. बार बार उस पल को याद करके मेरी चूत गीली हो जाती थी और कई बार तो मैंने उंगली भी की. यह कह कर मैंने बाइक में जोर से ब्रेक लगाए तो भाभी के गोल गोल संतरे मुझे छू गए.

अदिति बेटा, तेरी ये नीचे वाली सच में दुख रही है?” मैंने उनकी चूत सलवार के ऊपर से ही सहलाते हुए पूछा. कह रहा है पेट में कुछ दर्द सा है और बुखार जैसा लग रहा है, तो मैंने भी उसे छुट्टी के लिए कह दी और कहा है कि दवाई ले लेना. 18 साल की लड़कियों का सेक्सी बीएफमैं बोली- अभी राजेंद्र अंकल बहुत चोदे मेरी गांड को… और उनका लंडरस भी अभी मेरी गांड में भरा है, इसलिए इतनी चिकनी मिल गई, नहीं ताकत लगती अंदर घुसाने में!तब भाभी के पापा बोले- बहुत मस्त गांड है तुम्हारी!भाभी के पापा मुझे उल्टा करके बहुत चोद रहे थे, मेरी गांड में अपना पूरा लौड़ा दिया और बोले- आरती तुम्हें आज बहुत चोदूंगा.

पिंकी ने रोशनी के फिगर को नोट किया- क्या बात है रोशनी दीदी, आखिरकार सर ने उनकी ताकत तुम्हारे जाँघों और पुट्ठों में भर ही थी.

मेरी एडल्ट स्टोरी पर आप अपनी राय नीचे दिए ईमेल पते पर भेजें![emailprotected][emailprotected]. जब उनको लगा गांड ढीली हो गई तो उन्होंने अपने लंड पर थूक लपेटा और मेरी गांड पर टिका कर अपनी एक टांग मेरी कमर पर रखी और जोर का धक्का दे दिया.

उस सेक्स कहानी में मैंने आपको बताया था कि कैसे मुझे मोना नाम की एक लड़की ट्रेन में मिली और कैसे हम दोनों ने ट्रेन में ही सेक्स किया. मैं उसके होंठों और मम्मों को किस करने लगा ताकि उसका दर्द कुछ कम हो जाए. वो पूरी तन्मयता से अपनी जीभ को कामिनी की चुत में अन्दर बाहर करने लगा.

”फिर एक दिन उसने मुझे अन्तर्वासना की साइट के बारे में बताया और मैं रोज कहानियाँ पढ़ने लगी। इसमें बहुत सी कहानियाँ मेरी जैसी लड़कियों की थीं.

मैं नाटक करने लगी, मैंने रोहण से कहा- रोहण, क्या कर रहे हो?रोहण बोला- माँ, आई लव यू! मैं आपको प्यार करना चाहता हूँ, आपको चोदना चाहता हूँ. ये महीना नवम्बर का था, उस सर्द रात में मेरे पप्पू महाराज ने अंगड़ाई ली तो मैंने मन ही मन अपने पप्पू को कहा महाराज जी थोड़ा रुक जाओ, बस आपके लिए छेद का इंतज़ाम होने वाला है. भाभी ने सॉरी बोल कर मेरा पैर खींचा और अपनी गोद में रख कर दवाई लगाने लगीं.

हिंदी बीएफ सेक्सी मूवी देहातीमैंने उसे अपनी बांहों में भरा और किस करने लगा, कभी उसके होंठों पे तो कभी उसके गालों पे, कभी कान की लौ पे, तो कभी गर्दन पे. मैं खाना खाकर अपने कमरे में गया, पर मेरा ध्यान मेरी दीदी से हट ही नहीं रहा था.

हिंदी सेक्सी फिल्म इंग्लिश सेक्सी फिल्म

मैं- क्यों? सब कुछ तो तुमने उतार दिया है?संजय- हां, पर मैं तुम्हें ऐसे देखना चाहता हूँ. आज तक कभी किसी औरत को पटाने के बारे में नहीं सोचा था, वो भी सिर्फ सेक्स के लिए, तो समझ में ही नहीं आ रहा था कि उससे बात कैसे की जाए और अपना काम निकलवाया जाए. जब दूर दूर तक मुझे कोई नहीं दिखा तो अब मैं अंदर देखने लगा कि वहां क्या चल रहा है.

दीदी की चूत ने मेरा वीर्य सोख लिया था, पर वह इतना ज्यादा था कि चूत से बह कर बेड पे गिर रहा था. मैं हल्का हल्का धक्का देते हुए उसकी गांड में लंड डालने लगा तो थोड़ी देर में लंड बड़ी कोशिश के बाद गांड में घुस पाया, उसको दर्द होने लगा तो वो लंड बाहर निकालने को कहने लगी. मैंने चाची की दोनों टांगों को अपने कंधे पर रख लिया और एक ही झटके में अपना आधा लंड चाची की चुत में बाड़ दिया.

मैं बोला- दीदी, मैंने कभी किस नहीं किया, मुझे नहीं पता कि किस कैसे करते हैं. जब मैंने उसकी बुर की फांकों को खोला तो अन्दर एकदम गुलाबी गुलाबी रंगत देखकर मैं खुद को रोक ही नहीं पाया और अपनी पूरी जीभ उसकी बुर में घुसा दी. फिर रोहण मुझे किस करना शुरू कर दिया और मैं भी उसका साथ देने लगी और हमारी किस 10 मिनट तक चली। इसके बाद रोहण ने मेरी ब्रा निकाल दी और मेरे बूब्स को जानवर की तरह चूस रहा था.

रात के सन्नाटे को चीरती हुई बंगलौर दिल्ली राजधानी अपने पूरे वेग से आंधी तूफ़ान की तरह अपने गंतव्य की ओर भागी दौड़ी चली जा रही थी. तब भी मैं काफ़ी सेक्सी लग रही थी।फिर उसने मेरे सिर के बाल भी खोल दिए।वो- चलो चाची जी.

‍ऽऽऽ… ऐसे ही… अपनी अदिति बिटिया की चूत बेदर्दी से चोदो, इस राजधानी से भी तेज तेज चोदिये… आःह! कितना मस्त लंड है आपका… पापा खोद डालो मेरी चूत… अब आप ही मालिक हो इस चूत के!” बहूरानी जी ऐसे ही वासना के नशे में बोलती चली जा रही थी.

इधर प्रिया ने मेरा काम-ध्वज अपने हाथ में ले कर उस का मर्दन शुरू कर दिया था. बीएफ 2021 के बीएफकुछ मिनट के बाद साफ सफाई करके मैंने अपने कपड़े पहने और घर जाने के लिये तैयार हो गया. मुसलमान की बीएफ मुसलमान की बीएफमैंने नेट से प्यासी भाभी की मूवी डाउनलोड की और मम्मी पापा के गांव जाने का इन्तजार करने लगा. मैं उसके पेट पर बैठ गई अपना पूरा अपना वजन धर दिया, अब वो कुछ नहीं कर सकती थी.

माँ हर रोज़ की तरह अपने बुटीक चली जातीं और उस किरायेदारनी का पति, जिनको मैं सुनील भैया कह कर बुलाता था, वो भी अपने काम पर चले जाते.

अदिति बेटा, अब तू अपने पैरों से मेरे लंड से खेल; अपने पंजों में इसे दबा कर इसकी मूठ मार और इसे रगड़!”मेरे कहने से बहूरानी ने मेरा लंड अपने पैरों के पंजों में अच्छे से दबा लिया और इसे हल्के हल्के रगड़ने लगी जैसे हम कोई चीज अपनी हथेलियों से मलते या रगड़ते हैं. जो उसने नाईट क्लब में पहने थे।मुझसे रहा नहीं गया और मैं उसके कपड़े उठा कर चूमने लगा. मैंने हल्की सी जबरदस्ती की तो ममता जी ने अपने हाथों को भी चुत पर से हटा लिया और अब ममता‌ जी की‌ नंगी चुत मेरे सामने थी.

मैं उनको देखता तो मेरा मन करने लगता था कि अभी इनकी गांड चूचे सब दबा दूँ. वो मेरे कान के पास आकर मेरे कान में हवा फूँकने लगीं, मुझे गुदगुदी होने लगी थी. अब सुरेश और मयूरी भी दरवाजे की तरफ खड़े अपने पिता और ससुर को देखने लगे.

हम हैं कमाल के

अब मैं और जीजू किस कर रहे थे, मैं उनके अंडरवियर में अपना हाथ डाल कर उनका लंड पकड़ कर सहला रही थी. खाना होने के बाद वो बर्तन साफ करने किचन में चली गईं, मैं भी उनका हाथ बंटाने किचन में आ गया और उनकी हेल्प करने लगा. मैंने अंजू से कहा- अंजू, तुम तो कह रही थीं कि लड़के कमेंट करते हैं? जिस किसी ने भी मुझे देखा.

इस आसन में भाभी के चूचे बहुत तेज़ी से उछल रहे थे, तो मुझे जोश आ गया और मैं उनके मम्मों को पकड़ कर ज़ोर से दबाने लगा.

मुझे पता था कि आम तौर पर कम्प्यूटर इंस्टिट्यूटस का अपना कोई हॉस्टल नहीं होता सो इस नेक काम के लिए मेरा घर तो था ही!थोड़ी ना-नुकर के बाद प्रिया के मां-बाप ने इस के लिए हाँ कर दी.

दो बार के बाद और कैसे कल तीसरी बार मुझसे लिपट लिपट कर वो देर तक चुदती रही. मैंने कहा- चिंता मत करो मैं सिर्फ लंड को तुम्हारी चूत पर सहलाउंगा, अन्दर नहीं डालूँगा. हीरो की बीएफमैंने चाची से बोला कि आंटी हमारे यहां पानी नहीं आ रहा और आपको देख के मेरा मन भी नहाने को हो रहा.

करीब 2 मिनट में वो शांत हुई और मैंने धीरे से अपना लंड अंदर बाहर किया तो उसने मोनिंग करना शुरु कर दिया. ज्यादातर पानी मैंने पी लिया, अजीब सा स्वाद था, पर उत्तेजना में मुझे इसका स्वाद पसंद आ गया. उसने मुझसे कहा- मैम आपको पूरी बॉडी मसाज करवानी है?मैंने कहा- हाँ!तो उसने कहा- आपको आपकी ब्रा पैंटी उतारनी पड़ेगी!मुझे शर्म आ रही थी।फिर मैंने कहा- ओके!और फिर मैं उल्टी लेट गयी और मैंने उसे कहा- मेरी ब्रा का हुक खोल दो।तो उसने मेरी ब्रा का हुक खोल दिया और फिर मेरी ब्रा उतार कर फेंक दी.

फिर उसने कुछ कहा तो मुझे कुछ समझ नहीं आया, मैंने उसे कहा- क्या?और उसने कहा- आपको नहीं!अरे माफ़ करना दोस्तो, मैंने उसका तो नाम ही नहीं बताया, उसका नाम उसने पूनम बताया था मुझे बाद में!उसकी उम्र भी मेरे जितनी ही थी, 19 साल और वो पुणे अपने भाई से मिलने जा रही थी. चाची कान में लीड लगा कर अपनी चुत में उंगली करके अपनी कामवासना शांत कर रही थीं.

भाभी मेरे पास आकर कहने लगीं- सॉरी मुझे उस दिन तुम पर गुस्सा नहीं करना था.

मेरे पूरे शरीर में अजीब सी सरसराहट हो रही थी, मेरी धड़कनें बढ़ रही थीं, घबराहट के मारे मेरा गला सूख रहा था और होंठ कांप रहे थे. मैंने बैग से नारियल का तेल निकाला और अपने लंड और उसकी बुर पर लगाया और उसकी चूत में उंगली डालनी शुरू की, फिर धीरे धीरे वो सिसकारियां भरने लगी, उसे मजा आ रहा था. मीना जी दो गिलासों में ड्रिंक बनाकर लाईं और फिर पहले की तरह बैठ गईं.

बीएफ सेक्सी फिल्में देहाती उस दिन वे मुझसे पूछने लगीं कि तुम्हें फ्रूट कौन से पसन्द हैं?मैंने उनके मम्मों की देखा और बोला- भाभी मुझे चूसने वाले आम पसन्द हैं. तकरीबन जब दस बार मेरी उंगलियाँ उनके मम्मों को छुईं, तब मीना जी ने खामोशी को तोड़ते हुए कहा- बंटी, डरो नहीं और मुझसे शरमाओ भी मत, मालिश ठीक से करो और फिर तुम किसी को बताने वाले तो हो नहीं.

अंजलि की चूत की कामुक सुगन्ध मेरे नाक में भर कई और मेरे लंड को एक झटका सा लगा एक जवान लड़की की चूत की खुशबू लेकर!मैंने उसकी चूत पर पैंटी के ऊपर से ही किस किया और अपने नाक से उसकी चूत कुरेदने लगा. मेरी पिछली कहानीअपनी मां की चुदाई की हसरतको आप सबने बहुत पसंद किया और मुझे खूब प्यार दिया. कुछ देर बाद मुझे महसूस हुआ कि उसकी बुर में कुछ हलचल सी हो रही थी और जैसे गर्म लावा निकाल रही हो, मतलब वो झड़ रही थी.

सेक्स वीडियो हिंदी पिक्चर फिल्म

माँ हर रोज़ की तरह अपने बुटीक चली जातीं और उस किरायेदारनी का पति, जिनको मैं सुनील भैया कह कर बुलाता था, वो भी अपने काम पर चले जाते. तो मैंने सोचा कि छोड़ न यार! माँ चुदाने दे साली को!तीन दिन बाद मेरे दोस्त का फ़ोन आया और बोला- खेत में आ जा, आज रंडी बुला रखी है!मैं वहां गया तो देख कर दंग रह गया, देखा तो वो प्रियंका थी, वही औरत जो मुझे खेत में मिली थी. थोड़ी देर बाद जब कॉफ़ी तैयार हो गयी तो उन्होंने मुझे पीछे से हटाया और दो कप में कॉफ़ी डाल कर बाहर लेकर चलने लगी और मैं भी उनके साथ बाहर आ गया।हम दोनों सोफे पर बैठ गए।हम दोनों ने जल्दी से कॉफ़ी ख़त्म की और मैंने फिर से प्रीति को अपनी बांहों में ले लिया उनके होठों पर अपने होंठ रख कर किस करने लगा। वो भी मेरा साथ दे रही थी.

अब मैंने चाची की टांगें उठा कर अपने कंधों पर रख लीं और अपना लंड चाची की चूत पे सैट करके हल्का सा धक्का लगाया ही था कि चाची की चीख निकली- उई अम्मी. मुझे पता ही नहीं चला कब गेट खुला कब भाभी के पापा गाड़ी में अंदर आ गये.

मैंने पीछे से लंड उनकी चुत पर थोड़ी देर रगड़ा और फिर लंड को चुत के अन्दर घुसा कर उनकी कमर पकड़ कर धक्के मारने लगा.

ओके।मैंने देखा उसका लण्ड पैन्ट में खड़ा हुआ था।उसने बड़ी मासूमियत से कहा- चाची शादी तो बाद में होगी. इतने में मुझे लगा कि शायद दीदी जाग गई हैं और सोने का नाटक कर रही हैं. संजय ने एक ही झटके में अपना 7 इंच लंबा और मोटा लंड मेरी चुत में डाल दिया.

लेकिन बहन ने जो ब्लाउज पहन रखा था वो बहुत तंग था, इसलिए मुझे बहन के मम्मे दबाने में दिक्कत हो रही थी. लंड तो सिर्फ अन्दर बाहर हो सकता है लेकिन अंगूठा तो हर एंगल से मज़ा दे सकता है. थोड़ी देर में बाथरूम का दरवाजा खुला, मेरी नज़र उधर चली गई और जो देखा वो देख कर मैं हैरान रह गया.

”हाँ साल कुत्ते चोद मुझे… चोद… और चोद… मुझ मस्त कर मुझे जितनी गालियाँ दे सको, दो और मेरी फ़ुद्दी को चोद चोद कर चिथड़े उड़ा दो इसके.

बीएफ सेक्सी इंडियन गर्ल्स: मैंने जल्दी से दरवाजा बंद किया और तेजी से मधु की नंगी गाण्ड को याद करके मुठ्ठ मारने लगा। जल्द ही मेरा माल निकल गया और मैं नहाने घुस गया।मित्रों ये मेरे जीवन की एकदम सच्ची घटना है जिसमें मैंने सिर्फ वो लिखा है जो वास्तव में मेरे साथ हुआ था।मेरी एडल्ट कहानी आपको कैसी लगी, आप सभी पाठकों की प्रतिक्रियाएं आमंत्रित हैं।[emailprotected]. मैंने कहा- नमस्ते छाया जी, बोलिए कैसे याद किया?छाया बोली- आज मिलना चाहती हूँ.

भाभी ने पूछा- और किसने ये सीडी देखी है और क्या चाहते हो? ब्लैक मेल करना चाह रहे हो?मैंने कहा- भाभी, आप इस सोसाइटी की सबसे नेक औरत हो, किसी की तकलीफ में सबसे पहले आप आती हैं, इसलिए उसे तो आप अपने दिमाग से निकाल लें. उनके नजर में सवाल था, जैसे पूछ रही हों कि मैं क्यों?मैंने कहा- भाभी, एक बार देख लें तब सवाल पूछियेगा. तब वो ज़िद करने लगीं कि मैंने अपने हाथों से तुम्हारे लिए खाना बनाया है, तुमको खाना ही पड़ेगा.

तुम बहुत गंदे हो।उसने सिर्फ़ नीचे निक्कर ही पहनी थी। उसमें उसका लंड खड़ा हुआ था।वो- अरे चाची जी शर्म की क्या बात.

अब मैंने एक हाथ उनके सीधी तरफ वाले चूचे पर रख दिया और दूसरा हाथ उनकी गांड पर रख दिया. उसी फ्लोर पर एक दो कमरे का सैट भी था, जिसमें एक फैमिली किराये पर रहती थी. भगवान ने तुम्हें क्या चीज़ बनाया है, तुम्हारा हुस्न और फिगर किसी को भी दीवाना बना दे.