हिंदी में सेक्सी फिल्म बीएफ हिंदी में

छवि स्रोत,बफ देहाती हिंदी

तस्वीर का शीर्षक ,

लंड बुर की चुदाई: हिंदी में सेक्सी फिल्म बीएफ हिंदी में, मैंने जब उनकी ओर एक नजर देखा, तो भाभी मुझे कातिल मुस्कान देते हुए बोलीं- लगे रहो राजा …फिर भाभी अपनी चूत की ओर इशारा करते हुए बोलीं- इसको भी लौड़े की जरूरत है.

অ্যাডাল্ট ছবি ভিডিও

उसे खुद पर हैरानी हो रही थी कि वह अपने ससुर के क़रीब आते ही इतनी गर्म क्यों हो जाती है कि उसे अपने ससुर की हर हरकत मजा देने लगती है।बहू तुम बस मेरी एक बात का जवाब दो, जब मैं तुम्हें छूता हूँ तो तुम्हें कैसा महसूस होता है?” महेश ने भी अपनी बहू के पास जाकर बैठते हुए कहा।पिता जी, यह कैसा सवाल है?” नीलम ने शरमाते हुए कहा।बेटी, जो मैं पूछ रहा हूँ उसका जवाब दो. इंग्लिश बीएफ वीडियो मेंअतः अपने अपने कॉटेज में जाकर कपड़े बदलने थे … रात की प्लानिंग सीमा-राजीव के जिम्मे थी इसलिए सभी आदमियों को राजीव ने बोल दिया कि वे इस तैयारी से आयें कि रात उन्हें अपने कॉटेज के अलावा कहीं और भी काटनी पड़ सकती है.

शरीर का तापमान बढ़ने लगा और ज्वालामुखी विस्फोट के साथ ही मन को थोड़ी राहत महसूस होने लगी. राजस्थान वाली बीएफक्या रात भर करोगे?”तो क्या … आज रात न मैं सोऊँगा, न तुमको सोने दूँगा.

मेरे दाएं हाथ ने उसकी बायीं चूची को हथेली में भर रखा था, लेकिन मेरा एक हाथ उसकी पूरी चूची को हथेली में नहीं भर पा रहा था.हिंदी में सेक्सी फिल्म बीएफ हिंदी में: मैंने भी मौके का फायदा उठाया और उसकी पत्नी के बूब्स को चूसना शुरू कर दिया.

धीरे धीरे बिना रुके ही मैंने पूरा लंड उसकी गांड में उतार दिया और उसको होंठों को अपने होंठों से दबाये रखा.मैंने जीभ को जैसे ही भाभी की चूत में डाला, मुझे लगा कि मैं तृप्त हो गया.

नाइन एक्स मूवी - हिंदी में सेक्सी फिल्म बीएफ हिंदी में

एक हाथ में चाबुक ले लिया … मतलब वही जो जानवर को मारने के लिए इस्तेमाल करते हैं.कुछ ही देर बाद पूजा ने अमित के लन्ड को छोड़ मुझे दोनों हाथों से कस लिया.

फिर आंखें खोलते ही उसने मुझे देखा मेरी नजरें उसके छिपे लंड पर ही गड़ी हुई थीं. हिंदी में सेक्सी फिल्म बीएफ हिंदी में पर मामी ऐसे देर रात घर आना, नशे में आपको अनसेफ (असुरक्षित) नहीं लगता?”मामी कुछ देर तक सोचा, फिर वे बोलीं- मेरी कहां सुनती है बेटा, तुम्हीं उससे बात करना … हो सकता है, वो तुम्हारी सुन ले.

मैं उसके लंड को चूसने लगा और फिर उसका लंड दोबारा से रॉड की तरह टाइट हो गया.

हिंदी में सेक्सी फिल्म बीएफ हिंदी में?

मैंने देखा वो धीरे धीरे दीदी के पास को चले गए और अपना एक हाथ दीदी के जांघ पर रख दिया. हमने एक दूसरे को बांहों में भर लिया और होंठों को सटा करके स्मूच करने लगे. इसके बाद भैया ने मेरी जीन्स को भी उतार दिया और मेरी चड्डी को फाड़कर फेंक दिया.

राहुल ने रिसोर्ट को बता रखा था कि सुइट को ये लोग कॉमन इस्तेमाल करेंगे इसलिए पहुँचते ही नाश्ता सूट में लगवा दिया गया. मैंने आप लोगों को अपने परिवार के बारे में बताया था कि मेरा परिवार ज्यादा बड़ा नहीं है. मेरी आग अब बढ़ती जा रही थी तो मैंने उसे मेरिउइ कुंवारी बुर लन्ड डालने को बोला तो उसने धीरे धीरे में बुर में लन्ड डालना शुरू कर दिया.

इसलिए मैंने उस दोस्त को कहा कि मैं थोड़े थोड़े करके तेरे पैसे लौटा दूंगा. फिर मैंने उसकी चूत पर तेल लगाया और उसकी चूत पर फिर से अपने लंड का सुपारा रख दिया. शबनम का तो हाथ मुश्ताक के स्विम सूट के अंदर था और यही बेशर्मी धीरज और पिंकी भी कर रहे थे.

फिर मेरे हस्बैंड हम सबके लिए कुछ ठंडा लेकर आए और हमने फिर आराम किया. जब उसने अपना अंडरवियर नीचे किया, तो उसका फनफनाता लंड देख कर मेरी तो बांछें खिल उठीं.

मैंने कहा- जान, ये क्या कर रही हो?तो उन्होंने कहा- मुझे एक बार घर जा कर आना पड़ेगा, मैं जल्दी ही आ जाऊंगी.

वो बोली- बस करो दीदी, अब मुझे भी जीजू का लन्ड चूसने दो!नीरू बोली- आ जा मेरी प्यारी बहना, तू भी चूस ले!मेरा लन्ड नीरू के थूक से सना हुआ था जिसे वन्दना झट से मुंह में लेकर चूसने लगी.

कुछ ही देर में जॉली की नाराजगी, उसके लंड से गहरा गाढ़ा रस बनकर निकलने को तैयार थी. उसके मुंह से ये शब्द सुन कर मैं समझ गया था कि उसकी चेतावनी में गम्भीरता थी. मुझे इस बात से तसल्ली भी हुई कि उसकी पत्नी भी मेरा सहयोग कर रही थी.

सोनिया- मेरे पास आ जाओ ना … तुम्हारी प्यास बुझाने के लिए मेरे पास बहुत सारा पानी है … आओ और जी भर के पियो. उसको समझाते हुए मैं बोली- देखो, तुमने ही मुझसे सब कुछ सच बताने को कहा था. मुझे गांड मारना बहुत पसंद है और मासी की गुलाबी गांड ने मेरा मन भी बना दिया था.

पर मैंने उससे सेक्स की बातें करना शुरू कीं, तो धीरे धीरे हम दोनों फोन सेक्स करने लगे.

मैंने धीरे से पूजा के लोअर में हाथ डाल दिया और उसकी चूत को पेंटी के ऊपर से मसलने लगा. मैंने आह … आह … करते हुए लंड की तऱफ इशारा करते हुए कहा- चाची, यहां पर भी दर्द हो रहा है … प्लीज़ यहां भी लगा दो. मैंने देर ना करते हुए उनकी पैंटी को निकाल दिया और अब मेरे सामने वो चीज थी, जिसका मुझे कबसे इंतजार था.

मैं ये कहते हुए उसके पास गया और उसके गाल को मसल कर और कूल्हों को सहला कर कहा- कल इसी जगह इसी वक़्त फीता कटवाने आ जाना. फिर मैं कुरते की छाया से बाहर निकला और कुरता ऊपर करके अपना लंड उनकी चूत में रगड़ने लगा. इसलिए मैंने उस दोस्त को कहा कि मैं थोड़े थोड़े करके तेरे पैसे लौटा दूंगा.

मतलब आप समझिये कि मैं एक कॉलब्वॉय हूँ और मुझे चुत की कमी नहीं है बल्कि चुदाई के एवज में मुझे पैसे तक मिलते हैं, तब भी अन्तर्वासना पर प्रकाशित सेक्स कहानी को पढ़ कर मुझे हद से ज्यादा उत्तेजना हो जाती है, जिसका निदान मुठ मारकर ही हो पाता है.

चूत साफ किए मुझे कुछ ही दिन हुए थे, इसलिए छोटे-छोटे रोंए चूत की खूबसूरती बढ़ा रहे थे. अभी मैंने केला तो नहीं उठाया था, पर मैं अपनी दो उंगलियों में चूत के दाने को मसलते हुए सहलाने लगी थी.

हिंदी में सेक्सी फिल्म बीएफ हिंदी में जैसे ही मैंने सुनीता की चड्डी निकाली, तो देखा कि उसकी चूत पर बड़ी बड़ी झांटें थीं, जो उसके पानी से पूरी गीली हो रही थीं. तभी मैंने हाथ बढ़ा कर उसके मूसल जैसे लंड को अपने हाथों में पकड़ कर सहलाना शुरू कर दिया.

हिंदी में सेक्सी फिल्म बीएफ हिंदी में कई इतना झूठ लिखते हैं कि कहानी के दूसरे पैराग्राफ में ही उसकी पोल खुल जाती है. थोड़ा और आगे बढ़ने पर मैंने देखा बांस के पेड़ के झुंडों के इर्द-गिर्द मिट्टी के टीले से बने थे और उन टीलों के बीच में बांस के पेड़ लगे हुए थे.

मेरा भीगा बदन ऐसे लग रहा था … मानो मैं सीढियों से चढ़ कर नहीं, बल्कि चुद कर आयी हूं.

सेक्सी एप्स एप्स

वो दीवार से टेक कर खड़ी हो गयी और मैंने उससे सटते हुए उसके रसीले होंठों को पीना शुरू कर दिया. फिर मैंने उपन्यास एक तरफ रखी और उठ कर मेरी बेटी का शहज़ादी जैसा मुखड़ा अपने हाथों में लेकर कहा- बेटी, अगर मैं ये सब करना बंद कर दूँ … तो तू ही बता हमारा यह घर कैसे चलेगा? तेरे पापा के जाने के बाद यह घर तेरी पढ़ाई और राहुल की जॉब और उसकी शादी … यह सब मैं कैसे करवाती? बताओ तो भला … लेकिन किटी, टीवी फिल्म देखना … यह सब करने के लिए तू है ना … मैंने तो तुझे हर बात की छूट दे रखी है. हैलो मेरे प्यारे दोस्तो, कैसे हैं आप सब? उम्मीद करती हूँ आप सब मजे में होंगे.

जो पाठक नये हैं उनकी जानकारी के लिए एक बार मैं अपनी पूर्वप्रकाशित रचनाओं से आप लोगों को अवगत कराने के लिए उनका नाम बता देता हूं. रीता शाम के चार बजे पहुंची मेरे पास।होटल के कमरे में पहुंच कर हमने कुछ देर तक आराम किया. इतने से भी उसका मन नहीं भरा तो उसने मुझे पीछे धकेलते हुए मुझे नीचे पटक लिया.

और मुस्कुरा के चली गयी।अब पूरे कमरे में कॉफी की महक उड़ने लगी और मैं अलग ही दुनिया में।मम्मी और आंटी ने अपनी कॉफी पीनी शुरू भी कर दी थी.

श्वेता दीदी- मम्मी को फोन किया … वे लोग पहुंचे कि नहीं?दीदी- हां, मम्मी से बात हो गई. ”आपको अपनी बहू के नितम्ब बहुत अच्छे लगते हैं ना?” ज्योति ने पापा के बॉल्स को अपने हाथ से सहलाते हुए पूछा।हां बेटी, बहुत ही सेक्सी नितम्ब हैं नीलम के. अपनी जवान बहू की चिकनी कमर देख कर मेरे और मेरे लंड महराज को नशा सा छाने लगा। सायरा की पीठ मेरी तरफ थी और वो अपने काम में मशगूल थी।मैं दबे पांव रसोई के अन्दर गया और सायरा की कमर को सहलाते हुए उसको पीछे से कस कर पकड़ लिया।बड़ी सहजता के साथ बोली- पापा जी, नहा चुके है आप?हां नहा तो चुका हूं!” मैं उसकी चूची को उसके ब्लाउज के ऊपर से दबाते हुए बोला.

मैंने वैसे ही चुत को थोड़ा सहलाया और उसके बाद एक उंगली उसकी चुत में घुसा कर उंगली से चुदाई करने लगा. उसने बरमूडा और टी शर्ट डाली, पर दीपा को तो सुहागरात के लिए तैयार होना था. लेकिन 15-20 मिनट बाद इनके बॉस फिर से तैयार हो गए।मैंने उनसे कुछ देर रुकने के लिए कहा लेकिन वे नहीं माने, मुझे उल्टा लेटा कर मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया और मुझे चोदने लगे.

मेरे ब्वॉयफ्रेंड ने मुझे बहुत ही ज्यादा गर्म कर दिया था … मेरी चूत से पानी आने लगा था. मैं उसे देख कर उसके अन्दर की चीजों को देखने के लिए बहुत उतावला हो रहा था.

कोमल ने तो झट से बात मान ली और कहा कि पैसों का खेल तो जुआरी करते हैं, हमें तो मस्ती करनी है, इसलिए शर्त ही लगाकर खेलते हैं. ”रस्म, कैसी रस्म?”अभी पता चल जाएगा, पहले मैं तेरे चूतड़ों के बीच में लिपस्टिक का निशान तो दे दूं. मैं बोली- यहां क्यों लाये हो?कुमार- कल हम अच्छे से बात नहीं कर पाए थे … इसलिए.

सीमा ने पिंकी से तय कर लिया था कि वो 11 बजे तक आ जायेगी क्योंकि पार्लर से वेक्सिंग के लिए दो लड़कियां 11 बजे तक आ जानी थीं.

वो तो सीत्कार करते हुए मज़े लेने लगीं- आह … आह …मैंने उनको कमर से पकड़ लिया और अपनी तरफ खींचने लगा. उसने टाईट सा पर छोटा स्लीवलेस टॉप लिया जिसमें उसके मम्मे उभर कर आ रहे थे. उसने मेरी तरफ देखा और सवालिया अंदाज में हाथ के इशारे से पूछा कि कौन सा खेल.

उसकी सास ने जोर देकर कहा था कि मैं अपने पति मनोज को लेकर एक हफ्ता पहले ही पहुंच जाऊं और जन्मदिवस मनाने के लिए हो रही तैयारियों में हाथ बटाऊं. उसकी कातिल मुस्कान देखकर तो कभी कभी मन करता था कि इसको यहीं पटक कर चोद दूं.

मेरी माँ ने शान का हाथ पकड़ लिया था और वो उसको गुस्से से देख रही थीं. उसने मेरे मम्मों को खूब चूसा, फिर मेरे मम्मों में लंड फंसा कर चुदाई भी की. जब तक उसमें गृहस्वामिनी न हो तब तक उस मकान को मकान कहना अनुचित होता है.

घर आई साली की

उस दिन शाम को घर वालों का फोन आया कि वो लोग रात को नहीं आएंगे और मैं घर पर चौकसी के साथ रहूं.

आंटी हंस कर बोलीं- कोई बात नहीं … मुझे नेहा ने फ़ोन पर सब बता दिया था. मैंने अमन से पूछा- हम जा कहाँ रहे हैं?तो उसने बताया- हम मेरठ जा रहे हैं. उसके लिंग और मजबूत जवान शरीर का ही दृश्य उसके दिमाग में तैर रहा था.

मैंने उसे सिगरेट उठाने का कहा, तो उसने खुद मुझे एक सिगरेट जला कर दी. मैंने बिना देर किये उसके लंड के सुपारे को अपनी जीभ से चाट लिया और उसको अपने होंठों में दबा लिया. पत्नी से प्यारएकाएक वो उसी अवस्था में रोहित के तरफ पलटी और रोहित के गमछा को हटा कर उसके लंड को चूसने लगी.

उसके कपड़ों के ऊपर से उसके चूचे दबाकर मुझे कोई मक्खन का गोला सहलाने सा अहसास हो रहा था. फिर मैंने चाची की ब्रा को पकड़कर फाड़ दिया और चाची के चूचों को आज़ाद कर दिया.

मुझे लगता है कि मामी जरूर इसका मज़ा लेंगी और मैं मामी के करीब और सटता जाऊंगा. मैंने उनके पास जाकर उनको पीछे से पकड़ लिया और अपना लौड़ा उनकी गांड पर रगड़ने लगा. तभी राजेश्वर सर ने मेरी जांघ पर हाथ रखा और कहा- साली रंडी … अभी तो वहां पर रंडी की तरह चार चार लौड़ों से चुदवा रही थी.

उसके बाद उन्होंने मेरी चूचियों को दबाना शुरू कर दिया और मैं गर्म हो गई. मैं- ह्म्म … अच्छा चलिए खाना खा लीजिए, आपकी वजह से काफी देर हो चुकी है. ’मैं अपनी जीभ को उनके निप्पल और एरोला के ऊपर गोल गोल घुमाते हुए मजा ले रहा था.

अब महेश ने ज्योति की चूत के रस में से सना हुआ लंड अपनी बेटी की कुँवारी गांड के छेद पर टिका दिया.

मैंने एक तौलिया भिगोया और रानी के शरीर और अपने लौड़े को अच्छे से साफ़ किया. फिर मैंने सोचा कि जब प्रतीक का मूड एकदम खुशनुमा होगा, तब उनको बताऊंगी.

उसी रात की बात है कि जब मैं खेतों में पेशाब करने के लिए गई थी तो दो लड़कों ने मेरी चूत को अपने हाथ से छेड़ दिया था. जिसके कारण वो लोग भाग गये और वो मेरे साथ छेड़खानी के अलावा कुछ नहीं कर पाये. इन दिनों मेरा कॉलेज जाना नया नया शुरू हुआ था और सभी की तरह मेरे भी अरमान थे कि कोई लड़की को पटा कर मज़े करूंगा.

वो बोली- हमारी बातें कहां से शुरू हुई थीं … और आज हम कहां बैठे हैं. बाद में मैंने उसके मुँह से लन्ड हटाया और उसे मेरा स्खलन करने के लिए धन्यवाद दिया. जब आशीष को यह बात पता लगी तो उसने भी अपने गांव में इस शादी के बारे में पता किया.

हिंदी में सेक्सी फिल्म बीएफ हिंदी में अगले दिन सुबह जब मधुर स्कूल चली गई तो गौरी नाज-ओ-अंदाज़ से चलती हुई हॉल में आ गई। उसने आँखें मटकाते हुए इशारों में पूछा- चाय या कॉफ़ी?गौरी मैं तुम्हारे लिए लीची और मैंगो फ्रूटी के पाउच और इम्पोर्टेड चॉकलेट लाया था वो तुमने टेस्ट की या नहीं?”किच्च!! तहां रखी हैं?”अरे फ्रिज़ में ही तो रखी हैं. मेरी आंखें भी बन्द हो गईं और थोड़ी देर उसके मसलने के कारण लंड ने भी माल छोड़ दिया.

इंग्लिश पिक्चर दिखाओ नंगी

इस तरह से उन्होंने अपने लंड को पकड़ कर मेरी चूत के फांकों में एक दो बार ऊपर नीचे घुमा कर चूत में घुसा दिया और मुझे चोदने लगे. मेरी चालू बीवी हद से ज्यादा चुदक्कड़ है यह आपने मेरी पिछली पोर्न स्टोरीज में पढ़ा. अब उन्होंने भी मेरा धीरे धीरे साथ देना शुरू कर दिया था, मैंने अपनी पूरी जीभ चाची के मुँह में दे दी और उनके मुँह में फिराने लगा.

फिर मैंने उसकी चूत पर तेल लगाया और उसकी चूत पर फिर से अपने लंड का सुपारा रख दिया. उपिन्दर ने शैली को गोद में उठाया और बिस्तर पे लिटा के उसके ऊपर चढ़ गया।मैं देख रही थी, उपिन्दर ने मेरी बहन को दबोच रखा था, उसकी चूची चूस रहा था और चूत में उंगली कर रहा था।तभी अंशु बोली- कामिनी मालिनी … तुम दोनों को शर्म नहीं आ रही?शर्म क्यों?”सिर्फ तुम दोनों पूरे कपड़ों में हो. बीएफ एचडी वीडियो पोर्नमैं कोई पहली दफा चूत में उंगली नहीं कर रही थी, पर आज पता नहीं क्यों, एक अलग अहसास से मेरा मन रोमांचित हो रहा था.

नमस्कार दोस्तो, मेरी पिछली चुदाई स्टोरीफुफेरी भाभी को दारू पिला कर चोदाके लिए कई सारे ईमेल आए, जिसमें ज्यादातर ईमेल भाभी की पिक्चर मांगने के लिए थे.

मैं फिर से अपने दोस्तों के लिए अपनी नई सेक्सी कहानी लेकर हाजिर हुआ हूँ. मैं उसके हाथ में अपना लौड़ा देकर कम्बल के अन्दर ही हिलाने को बोला और मैं उसके गांड में उंगली करने लगा.

”हाय हाय मज़ा आ रहा होगा न … पूरा प्रोग्राम वहीं होगा?”हाँ अब यहाँ और कोई नहीं है। अब तेरी मम्मी को नंगी करेंगे। तू वहां चुदवाएगी और तेरी माँ यहां! अब रखती हूँ, चुदाई की शुभ कामनाएं. ” महेश ने अपनी बहू का हाथ पकड़ते हुए कहा।अपने ससुर का हाथ लगते ही नीलम के पूरे शरीर में एक सिहरन सी दौड़ गयी।बापू जी, जब आप मुझे छूते हैं तो मुझे पूरे शरीर में कुछ होने लगता है. मैंने उंगलियाँ बाहर निकाली, मेरा पूरा हाथ उसके चूत के पानी से गीला हो गया था.

मैं आपको आज मेरे जीवन की सच्ची घटना को एक गंदी कहानी के माध्यम से बताने जा रहा हूँ.

उधर संजय ने अपने ऊपर के कपड़े निकाल दिए, बनियान तो उसने पहनी ही नहीं थी, ऐसे में उसका कसरती आकर्षक चिकना बदन माहौल को कामुक बनाने लगा. तभी उसने चुदास के चलते अपने ब्लाउज के चटकनी बटन एक झटके में खोल दिए और मेरे सामने उसके बिना ब्रा के चूचे फुदकने लगे. उम्मम्मह सर …स्स्स्सस आआआ मर गई!”सर मेरी चूत को अपने मुँह में भर के चूसने लगे और जीभ अंदर डालने लगे.

भोजपुरी bf चाहिएमैंने पीछे से उनकी चुत के छेद पर लंड लगा कर जोर से झटका मारा और पूरा लंड एक बार में ही अन्दर डाल दिया. उस दिन ऑफिस में कुछ नया या रोचक नहीं हुआ … वही रोज की तरह पूरा दिन काम करते हुए ही गुजरा.

खेतों की चुदाई

धीरे धीरे बिना रुके ही मैंने पूरा लंड उसकी गांड में उतार दिया और उसको होंठों को अपने होंठों से दबाये रखा. पहले उसने अपने लंड के सुपारे को मेरी फांकों में घिसा, तो मुझे एकदम से झुरझुरी सी छूट गई. रुक गई, आवाज भी अच्छे से नहीं निकल पा रही थी।मैं उसको कस कर पकड़े हुए था।और जब वो शान्त हुई तो उसकी चुदाई शुरू कर दी।मेरे धक्के से उसके जिस्म का हर अंग काम्प रहा था। वो पहली बार अपनी गांड चुदवा रही थी।बहुत ही टाइट गांड थी उसकी … वो तो बस रोए जा रही थी.

बीवी की अदला बदली की मेरी सेक्स कहानी के पहले भागबीवी की बड़े लंड की चाहत-1में अब तब आपने पढ़ा कि कैसे मेरी बीवी होटल के कमरे में मेरे दोस्त के लंबे लन्ड से चुदी और अपनी मन की इच्छा पूर्ति की। यह तब सम्भव हुआ था जब मेरी पत्नी को प्राइवेसी देने के लिए मैं निक्कू (रॉकी की वाईफ) को लेकर घूमने निकल गया था. वो लगातार मुझे मना किए जा रही थीं और मैं उनके होंठों पर, उनके गर्दन पर और कान के पास लगातार किस किए जा रहा था. मैंने अपनी बहन को मेरे ऊपर लेटा दिया और अपने हाथ उनकी दोनों तरफ से पीछे ले जाकर उनकी चुत को थोड़ा चौड़ा कर दिया.

वो बोले- आह्ह रंडी, आ गई तू, जोर से चूस … आह्ह, पूरा मुंह में लेकर चूस इसको. मगर तुम दोनों पहले मुझे ये बताओ कि क्या मैं तुम लोगों को सच में ही अच्छी लगती हूं या नहीं?अभय बोला- बंध्या रानी, तू हमें इतनी अच्छी लगी है कि मन करता है कि हम तुझको अपने साथ ही उठा कर ले जायें. ये क्या है? भेदभाव नहीं है तो क्या है?”मैंने हंसकर कहा- नाराज़ क्यों होती है रानी … ध्यान नहीं रहा … तू इतनी नशीली चीज़ है कि मैं सुध बुध खो गया था … कोई नहीं डार्लिंग, आज कोई आखिरी चुदाई थोड़े ही की है … रोज़ मौके मिलेंगे … अगली बार नहीं भूलूंगा … माफ़ी दे दे जान.

राहुल ने दो दिन बाद ही सबको बता दिया कि उसने जयपुर में एक रिसोर्ट में चार कॉटेज बुक करवा दी हैं. कुछ देर सोचने के बाद दीदी ने अलमारी से स्कूल ड्रेस निकाली और श्वेता दीदी से बोली- श्वेता तुम थोड़ा बाहर जाओ … मैं इसे चेंज कर लूं.

लगभग 5 मिनट तक रीमा के मुँह को चोदने के बाद राहुल के लंड का पूरा वीर्य रीमा के मुँह में गिर गया.

संदीप तो बेचारा अभी तक अनुभव हीन है, पता नहीं दस मिनट भी टिक पाता या नहीं. xxx सूहागरातउसके यौवन का दूर से लंड का रसपान करना देखना भी किसी अमृत पी कर तृप्त होने से कम ना था. सेक्सी ब्लू पिक्चर मूवी वीडियोसोनिया- हाय तो मेरी चूत में उंगली डालकर रब करो ना … मेरा दाने और दूसरे हाथ से मेरी चूचियों को दबाओ जानू. करीब 20 मिनट के बाद हम दोनों ने पानी छोड़ दिया और हम दोनों ने एक दूसरे के लंड चुत को अच्छे चाट चाट कर साफ कर दिया.

मेरा मन कर रहा था कि मैं सर को बोल दूँ कि मुझे जल्दी से पूरी नंगी करके अपने लंड मेरे मुँह में दे दो.

मैंने अपनी जीभ उसकी चुत में घुसा दी और मैं चॉकलेट से सनी चूत चाटने लगा. इस पर शबनम बोली- उसे तो सीमा दिलवा देंगे क्योंकि सीमा का सेक्स ज्ञान कुछ ज्यादा ही है. इसी तरह अचानक से एक दिन हम तीनों को एक साथ मौका मिल गया और हम तीनों ने मिल कर मौके पे चौका दे मारा.

मैं अपनी जीभ से चटखारा लेते हुए बोला- हां मेरी जान … अब आप मेरा लंड मुँह में ले लो और इसे भी चूस दो. मैंने अपने नंगी भीगे बदन पर आहिस्ता से हाथ फेरा … मैं देख तो नहीं पायी, लेकिन मुझे अंदाज हो गया था कि भाई ने अपना लंड पकड़ लिया होगा. कुछ देर चूत में धक्के देने के बाद उसने एकदम से मेरी टांगों को उठाया और अपने कंधे पर रख लिया.

सेक्सी कैटरीना कपूर

सच में बहुत देर से रूका हुआ रस था क्योंकि खाली करने में रानी को काफी वक़्त लगा. जब उसकी चूचियां मेरी पीठ पर स्पर्श होने लगीं तो फिर मेरे अंदर भी हलचल सी मचने लगी. मेरी चीख निकल गई ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’कोई 6-7 मिनट की चुदाई के बाद उसने अपना पानी अन्दर ही छोड़ दिया.

दोस्तो, आपकी अपनी प्यारी सी मुस्कान सिंह मेरी सैक्सी स्टोरीगैर मर्द के लंड का सुख-1का अगला भाग लेकर हाज़िर है।अभी तक आपने पढ़ा कि मैं शादी के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए एक गाँव में आई और कैसे मेरी सेटिंग किशोर से हो गई.

अब आगे:हमारी जानकारी अनुसार परमीत ने भी कभी लंड नहीं देखा था और ना ही किसी से सेक्स किया था, फिर भी शर्त और नशे के कारण वो एक कामुक और पुरानी खिलाड़ी की तरह नजर आ रही थी.

इस तरह से मम्मों को चुदवाते समय भी मुझे भी हनी का लंड अपने मुँह में लेना अच्छा लग रहा था. एक दिन अचानक हमारे सामने तीन लड़के और दो लड़कियां आ खड़ी हुईं और उन्होंने हमें घूर कर देखना शुरू कर दिया. सेक्सी वीडियो नवहां पर भी उन दोनों ने मेरे कपड़े उतारे थे लेकिन अपना लंड मेरी चूत में नहीं दे पाये थे.

अगर तुम चाहो तो हम इस खेल का और खुल कर मजा लेते हैं। बहुत मजा आयेगा।”मैं बोली- नहीं, मुझे डर लग रहा है! ये सब नहीं।वो बोले- अरे कुछ नहीं होगा … तुम्हें चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है।मैं चुप ही रही और वो मेरी सहमति पा गये थे।अगली ही सुबह वो अपने किसी दोस्त से फोन पर बात कर रहे थे. हम दोनों आखिरी की सीटों पर बैठे हुए थे लेकिन अभी तक हमारे बीच में सब कुछ नॉर्मल ही चल रहा था. मैंने कहा- ऐसी सर्विस तो रंडियां भी नहीं दे सकतीं दीदी, आपने कहां से सीखी है.

सोनिया- कर रही हूँ जानू … मैं अपनी चूत के दाने को रगड़ कर रही हूँ और अपनी चुचियों को मसल रही हूं. फिर मेरे शरीर के ऊपर के हिस्से को पीछे की ओर धकेल कर खड़े खड़े ही धक्के लगाने लगे.

उसे इतना मजा आ रहा था कि उसकी चूत से पानी बहना शुरू हो गया था मगर वह सिर्फ अपने पिता को दिखाने के लिए मना कर रही थी जबकि उसको अपने पिता के लंड को हाथ में लेने के बाद मजा आ रहा था.

मैंने बस बटन खोला और थोड़ा सा नीचे किया तो उसके जिस्म से उसके शॉर्ट्स अलग हो गए थे. मैंने कहा- चाची अब चाचा 10 दिन आने वाले नहीं हैं, इन दस दिनों में हम खूब चुदाई करेंगे. मुझे उसकी कोई बात ठीक ढंग से समझ नहीं आ रही थी तो मैंने दुभाषिये को फोन लगा दिया.

सेक्सी मध्ये करीब 20 मिनट बाद मैं झड़ गया और पूरा पानी उनकी गांड में ही छोड़ दिया. मैंने कुछ सोचा और बोला- नहीं मुझे वहां नींद नहीं आती … मैं अकेले सोऊंगा.

मैंने कहा- तो फिर आप बाथरूम में चुपके चुपके क्या देख रही थीं?चाची जी ने कुछ नहीं बोला और नीची गर्दन कर ली. पर मैं कहां सुनने वाला था … मैंने उसके ऊपर 69 में आकर उसके मुँह में अपना लंड दे दिया, जिसे वो लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी. वो लंड और चुदाई जैसे शब्द सुनकर और भी तुनक गई और बोली- साले तुम क्या मुझे बाजारू आइटम समझ रहे हो.

फनी एक्स वीडियो

उन्होंने लंड सहलाते हुए कहा- हां ये तो है … अब मैं इसे कहीं नहीं जाने दूंगी, अब तो जब भी टाइम लगेगा, मैं हर रोज चुदूँगी इससे. परी मैम का साईज 36-30-38 का था … जो मुझे बाद में खुद उन्होंने ही बताया था. फिर तो मामी और भी मेरे बांहों में मदमस्त होती चली जाएंगी और हम दोनों कामुकता के सागर में डूबते चले जाएंगे.

अगले ही पल उसने मुझे गोद में उठा लिया और बोला- हमारे होते आप चलने की तकलीफ़ क्यों उठा रही हो जानेमन. पापा जोर से मेरी चूचियों को मसल रहे थे और मैं सिसकारियां लेते हुए उनको रोकने की कोशिश कर रही थी.

सुनील आज्ञाकारी बच्चे की तरह दीपा की गोरी गोरी नाजुक उंगलियाँ दबाने लगा.

मैंने एक तौलिया भिगोया और रानी के शरीर और अपने लौड़े को अच्छे से साफ़ किया. जब मैं थोड़ा सामान्य हुआ, तो मैंने गांड हिलाते हुए उससे बोला- हां अब डालो. मेरे हाथ उसकी कमर पर घूम रहे थे और उसके जिस्म में सेक्स की जो गर्मी भर चुकी थी वो उसकी चूत से भांप बन कर मुझे साफ-साफ बाहर आती हुई महसूस हो रही थी.

मैं यह सोचकर ही कि आज मैं दो लोगों की जरूरत का हिस्सा बनने वाली हूं, पागल सी हुई जा रही थी. मैंने उससे पूछा कि क्या हुआ … नींद नहीं आ रही है क्या?वो दबी आवाज़ में बोला- मुझे ठंड ज़्यादा लग रही है. पांच मिनट बाद संजू उठी और रोहित के लंड पर एक ही बार में घप्प से बैठ गई.

फिर मैंने नीचे ही अपने लंड को हल्का सा बाहर निकाला और दूसरा धक्का जोर से लगते हुए उसकी योनि में पूरा लंड घुसा दिया.

हिंदी में सेक्सी फिल्म बीएफ हिंदी में: फिर मैंने कहा कि किसी को चाहती हो … या चाहती थीं?उसने मेरी इस बात पर कुछ नहीं कहा, बस चुप हो गई. फिर मैंने भाभी से पूछा- क्या ये सही में साधना भाभी ने कहा?तो भाभी ने कहा- हां सही में साधना भाभी ने ही कहा.

अब मनोज नीचे से दीपा के पैर अपने पैर से सहलाने लगा और सुनील की ओर करने लगा. अब वो भी नंगी थी और मैं भी … मैं उसके मम्मों को लगातार मसलता रहा, चूसता रहा. ओह … क्या मस्त डबल रोटी की तरह एकदम फूली हुई … आगे से बिल्कुल गीली उनकी चूत की दरार में ढेर सारा चिपचिपा रस दिखाई दे रहा था, जो नीचे वाले छेद तक रिस रहा था.

उस पर मेरी उसे दी हुई छूट से उसने काफी कम उम्र में जिंदगी के काफी गहरे अनुभव हासिल कर लिए थे.

उन्होंने खींच कर मुझे ऊपर किया और मेरे होंठों को अपने मुंह में कैद कर लिया. बॉस ने आंखों को बन्द कर लिया था और मेरे मुँह में अपना लंड घुसा कर मजे से चुसवा रहे थे. मैं- आह्ह्ह आह्ह्ह मजा आ रहा है … और जोर से … सालों मुझे नंगा करके चोद रहे हो … आह रंडी बना दिया मुझे … आह्ह्ह … मस्त लंड है दोनों के … जोर से और जोर से.