एक्स एक्स अंग्रेजों की बीएफ

छवि स्रोत,बदन शायरी

तस्वीर का शीर्षक ,

जलपरी की सेक्सी वीडियो: एक्स एक्स अंग्रेजों की बीएफ, जैसे ही मैं कमरे में गई तो मैंने जाते ही उन दोनों की नंगी 3-4 फोटो खींच ली.

राजा रानी सेक्स

जब मेरी नजर उसकी लुंगी पर पड़ी तो उसका लिंग मुझे अलग से दिखाई देने लग गया था. सेक्स करते हुए पकड़े गएउसका घर बहुत बड़ा था, जाते ही उसने मुझे सोफे पे बैठा दिया और मेरे बगल आकर में बैठ गयी.

उसके बाद जब मैं कपड़े पहनने के लिए उठने लगी तो जीजा जी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और मेरी चूची को दबाते हुए कहने लगे कि एक राउंड और कर लेते हैं. बीपी के साथफिर उसने अपना हाथ सीधे मेरे पेंटी में डाल दिया और मेरी चूत को अपनी उंगली से रगड़ना स्टार्ट कर दिया.

मैं बोला- मैं तो कब से इंतजार कर रहा हूँ … लेकिन मौका मिल ही नहीं रहा है.एक्स एक्स अंग्रेजों की बीएफ: मेर पूछने पर उसने मुझे बताया कि उसने मेरे साथ बस एक ही बार सेक्स किया है … नहीं तो साला बस किस ही करके रह जाता है.

आहना कहने लगी- मैंने उन्हें बहुत समझाया, लेकिन वो मेरी कोई बात नहीं सुनते हैं.इतना कहकर भाभी फिर से हंसने लगी।मैं- तो क्या हुआ? पिला दो ना भाभी जी।भाभी- क्यों देवर जी? कोई गर्लफ्रेंड नहीं है क्या?मैं- है तो सही, मगर वह आप जैसी नहीं है.

जंगल में लड़की को चोदा - एक्स एक्स अंग्रेजों की बीएफ

हम चल पड़े और रास्ते में एक-दूसरे के बारे में बातें करते हुए जा रहे थे.बनाऊँ?”जी … तलाशी ले लीजिये … पर प्लीज़ … केस मत बनाना!” मैंने याचना सी करते हुए कहा।वो तो मैं तलाशी लेने के बाद सोचूँगा.

मैंने उसके बेल्ट को पहले खींचा, फिर उसकी जींस का बटन खोला और अपने हाथों से उसकी पैन्ट उतारने लगी. एक्स एक्स अंग्रेजों की बीएफ उसको तुम्हारी चुत में पेल दूंगा और लंड को तुम्हारी गांड में डाल दूंगा.

उन्होंने बताया कि जगह कम होने की वजह से हम यह कमरा किसी परिवार वाले को नहीं दे सकते, अतः हमें कोई बैचलर ही चाहिए.

एक्स एक्स अंग्रेजों की बीएफ?

मैं उसे पास के ही एक होटल में ले गया औऱ एक कमरा बुक करके हम दोनों रूम में आ गए. जब मैंने प्रीति की चूत से अपना लंड बाहर निकाला तो उसकी चूत से पानी निकल रहा था. और मैं चाहे कितना ही शोर करूँ, मेरी चूत चुदाई रुकनी नहीं चाहिए।मैंने सोचा कि अब चुदाई की आग पूरी लगी है इस रंडी को … इस फटाफट चोदा जाये।मैंने उसको बेड पर ही लेटे रहने दिया, उसकी गांड के नीचे तकिया लगाया और लण्ड सेट कर के झटके मारा.

मैंने एक जांघ पर अपनी बेटी को बिठाया औऱ दूसरी जांघ पर उसे बैठा लिया. सब उनके साथ खूब एन्जॉय करती थीं और सेक्स भी काफी नार्मल था उनके बीच. और थी भी वही बात … वो बोली- मेरा होने वाला है।अचानक मेरे घर के मेन गेट की घंटी बजने लगी और बाहर से आवाज आई- दूध ले लीजिए।सन्जू पूरा गुस्साई कि अभी ही इसे आना था और बोली- दूध लेने छोड़िये ना अभी मुझे कीजिए ना!मैं बोला- नहीं, वो चिल्लाते रहेगा.

मेरी पिछली कहानीदोस्त ने अपनी बीवी को चुदवायामें आपने पढ़ा कि कैसे मेरे मित्र अजय ने मुझसे इच्छा जाहिर की थी वो अपनी बीवी को मुझसे चुदते हुए देखना चाहता है. हम घर आ गए, लता भाभी ने फिर हमें अच्छी तरह बैठे देख लिया था और उन्होंने अपना मुंह बिचका लिया था. भाभी ने ऊपर-नीचे होना तेज़ कर दिया और कुछ ही देर में उनकी चूत ने दोबारा पानी छोड़ दिया और वह मुझसे लिपट गई.

अब मैं धीरे धीरे मेरी जीभ को उसकी चुत के अन्दर घुसाने लगी, सोनल भी अपनी कमर को हरकत में लाते हुए मेरी जीभ को अपनी चुत के अन्दर लेने लगी. उसके बाद उसने अपने हाथों से मेरे अंडरवियर को निकाल दिया और मैं नंगा हो गया.

उनकी ये सब कहने में फटी ही नहीं, क्योंकि बताना होता तो पहले ही बता देतीं.

मैंने उसकी चूत को अच्छी तरह से चूसना और चाटना जारी रखा और मैडम की आवाजें तेज होती जा रही थी.

उसकी सहेली का एक भाई है, वो तो तो मादरचोद किस्म का था ही साथ ही उसकी फ्रेंड का बाप भी ठरकी किस्म का है. उसने मेरे यह कहते ही मेरे होंठों को चूम लिया और बोला- तू बहुत अच्छी है पर एक बात बोलूं, तू बिल्कुल एक नंबर की माल लगती है. मैंने घूमना चाहा तो उसने मेरे सर फ्लशटैंक में दबा कर जानवर बना गया.

इस बार भी मैंने पैग बनाने में वही चालाकी की और भैया को हार्ड हार्ड पैग देता रहा. अगर आपके मन में सेक्स को लेकर कोई सवाल या कोई फैंटसी है, तो बता दीजिये, ताकि हम उसका पहले ही कोई सोल्यूशन निकाल सकें. मैं सीमा के साथ में लेट गया तो सीमा ने लेटने के तुरंत बाद ही मुझे किस करना शुरू कर दिया.

मामी जी एक टांग को उठा कर मैंने अपने कंधे के ऊपर रखा, इससे मामी जी की चुत की दोनों फांकें खुल गईं.

खासकर जब वो हंसती है तो कयामत ढाती है।सन्जू की गांड उसके शरीर के अपेक्षा काफी बड़ी और उभरी हुई है. फिर सोनल ने अपना मुँह मेरी चुत पर से हटा लिया और मेरे मुँह पर बैठते हुए अपनी कमर हिलाने लगी. मामी जी के रसीले होंठ चूसने के बाद मैं उनके बड़े बड़े मुलायम स्तनों की तरफ बढ़ा.

एक बात कहूँ!वो बोले- हां बोल ना?लेकिन फिर भी मैं चुप ही रहा तो उन्होंने मुझे हिम्मत दिलाते हुए कहा- अरे बोल पागल… बोल दे. लेकिन मैं ये तो भूल ही गई थी कि पुराने घर में कुछ रिनोवेशन (मरम्मत) का काम चल रहा है और मेरे पति अपने दोस्तों के साथ बाहर गए हुए हैं. उसे कोई शंका न हो, इसलिए मैंने उससे कहा कि हमने अपने जीवन में बच्चे पैदा करने से लेकर आनन्द लेने तक सब कुछ कर लिया, हम दोनों को किसी भी चीज की कमी नहीं रही.

फिर उन्होंने उठ कर मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और बड़े प्यार से लंड चूसने लगीं.

पर मैंने अपने आपको संभाला, पर मन ही मन मैं ये सोच रहा था कि क्या ये वही लड़की है, जिससे मैं कल बात कर रहा था. मैंने प्यार से उसके गाल को चूमा और बोली- अरे पगली, कुछ खा ले, उसके बाद इत्मीनान से टॉप और जीन्स उतार के बैठना उनकी गोद में.

एक्स एक्स अंग्रेजों की बीएफ आशीष, मैं अभी पांच महीने से अन्तर्वासना की सेक्स स्टोरी सहित अन्य सेक्स की कहानियों की कम से कम बीस किताबें पढ़ चुकी हूं और ब्लू फिल्म की सीडी डीवीडी में सौ से ज्यादा फिल्म देख चुकी हूं. मेरी कामवासना भरी कहानी के पहले भागकाम पिपासु को मिली काम ज्वाला-1में आप ने पढ़ा कि अपनी पत्नी की मृत्यु के बाद से मैं अपनी कामुकता को हस्तमैथुन से दबा रहा था, मुझे कोई चूत नहीं मिल रही थी.

एक्स एक्स अंग्रेजों की बीएफ फिर उन्होंने मुरझाए हुए लंड का दबा दबा के तीन चार बूंदें और निकालीं. दोनों के जिस्म नंगे थे और दोनों के अंदर ही सेक्स की आग की गर्मी अलग से दिखाई दे रही थी.

मैंने उसे अन्दर करने के बाद सभी खिड़की दरवाजे बंद किए और पर्दे लगा लिए.

बीएफ भोजपुरी में दिखाइए

मैंने अपनी एक टांग उठाई और उसकी मोटी जांघों से बीच में उसके लंड वाले एरिया पर रख दी जिससे मेरा घुटना उसके लंड से टच होने लगा. उसके बूब्स जो उसके ब्लाउज से आधे बाहर निकलने वाले थे तो मेरी नज़र वहीं पर जाकर रुक गई. मैं उसकी बात सुन हंस पड़ी और भीतर ही भीतर अपनी प्रसंसा सुन खुश हो रही थी.

दोनों काफी दिनों के बाद मिली थीं इसलिए दोनों ने पहले तो आपस में खूब बातें की और उसके बाद दोनों ने ही साथ में खाना भी खाया. मैंने जैसे ही उसकी ओढ़नी उतारी, तो वो फिर मना करने लगी कि कपड़े मत उतारो, ऐसे ही खड़े खड़े कर लो. मैडम ने तुरंत ही लंड को पकड़ के उसकी उछल कूद काबू में कर ली और दूसरा हाथ लंड के सामने फैला कर दनादन झड़ते हुए मसाले को हथेली पर आने दिया.

ननकू की बीवी मीना ने भी चिन्टू पर कोई ज्यादा ध्यान नहीं दिया था लेकिन वह जब भी उसके घर आता था तो वह मौसी होने के नाते उसे अच्छे से चाय पानी पूछ लेती थी.

फिर धीरे से जानबूझ कर उनके उस तरफ वाले हाथ पर अपने हाथ को टच कर दिया. मैंने भी सोचा कि भैया कभी भी आ सकते हैं, तो मैं भी उनसे दूर हट गया. वैसे मैं सब कुछ पहले से जानती थी, सब कुछ पढ़ चुकी थी सेक्सी कहानियों में, कमलेश सर मुझे सब पहले ही पढ़वा चुके थे.

जब कुछ देर के बाद मैंने अपनी सलवार के ऊपर अपनी पैंटी पर हाथ लगाया तो मेरे बदन में एक सरसरी सी दौड़ गई. मैं चुत को मुहह हहह मुआहह हहह कर के चाटता जा रहा था और भाभी मेरे मुख में चुत सटाती जा रही थी. वो आरती से बोला- देखो आरती, तुमको तो बहुत बार चोद चुका हूँ, आज इसी पर ध्यान रखता हूँ.

अपने अलग तरह के खास अंदाज में करीब तीन-चार मिनट तक फिंगरिंग करने के बाद प्रशांत ने नीना की एक टांग को उठाया और चूत के मुहाने पर अपना लंड सटा दिया. हम दोनों काफी देर तक सेक्स की बातें करने के बाद सेक्स करने के लिए मूड में आ गए थे.

उसने मेरी टांगों को इधर-उधर फैला करके सीधे अपना मुँह रखकर उसे चूमा और फिर जीभ निकाल कर मेरी चुत में जैसे जीभ को डाल दिया. ‘हाँ जीजा जी, आप वो मम्मी के अगले प्रोग्राम का कुछ बता रहे थे, वो फिर से यहाँ आएंगी?’‘नहीं रानी, वो जालंधर जाएगी. मैं यह सब देख कर डर गई मगर जीजा जी ने मेरे बालों में हाथ फिराना शुरू कर दिया.

साथ में सीमा लेटी हुई थी इस कारण से मुझे अपने आप पर कंट्रोल करना बहुत मुश्किल हो रहा था.

चाची ने हाथ बाहर किया और हल्का सा अपना मम्मा दिखाते हुए तौलिया और ब्रा पेंटी मेरे हाथ से ले ली. उन्होंने मुझे इतनी तेज़ गले से लगाया कि मैं खुद को उनसे छुड़ा ही नहीं पाया. मैंने उसके लिए पहले से सब तय करके रखा था, जिसके मुताबिक पहले हम लोग नाइट के शो में मूवी देखने गए.

मैंने पूछ लिया कि पति के बिना रात को अकेले कैसे रह लेती हो?मेरा आशय था कि अकेली औरत होने के कारण डर तो नहीं लगता, मगर जब आधी से ज्यादा फिल्म बन चुकी हो तब इसका मतलब भी दूसरा निकलता है. मजा आया होता तो क्या आज यहां नंगी लेटी होती चुदवाने को … वो तो अपना काम कर मुझे ऐसे ही छोड़ देता था.

फिर उनमें से एक ने जाकर उसे पीछे से पकड़ लिया और रिया का मुँह हाथ से बंद कर दिया. वह मेरे चूतड़ों को अपने हाथों में लेकर दबा रहा था और फिर मुझे कमरे के एक कोने में लेकर चलने लगा. उनका सिर मेरे कन्धे पर आ गया, जिस वजह से उनके दोनों स्तन सामने की ओर उभर गए.

बीएफ इंग्लिश मीडियम

इतना कहकर उसने मुझे धक्का देकर सोफे पर नीचे गिरा लिया और खुद मेरे ऊपर आ गई.

मैं बोली- तेरे लिये ही तो जिम और योग करके शरीर को ऐसा मस्त बनाया है. मैंने कोलेज के बाद आगे पढ़ाई करने और अपना करिअर बनाने के लिए अपना छोटा शहर छोड़ कर पास के बड़े शहर में जाने का तय किया और मेरे माता-पिता ने भी बिना हिचकिचाहट सहमति दे दी. चारों ओर से चूत की दीवारों में फंसे हुए टाइट और खासे मोटे लंड की मौजूदगी मेरी नीना रानी को जन्नत का सैर कराने लगी.

फिर सबने खाना खाया और सोने की तैयारी करने लगे।अभी तक मैं जब भी दीदी के यहां जाती थी तो दीदी जीजू के साथ बेड पर ही सोती थी इसलिए मैं बेड पर ही सोने लगी. वह ज्यादा सुंदर तो नहीं थी मगर मैंने चूत पहली बार देखी थी अपनी आंखों के सामने. बालवीर वीडियोअब की बार मैंने उसे डॉगी स्टाइल के लिए बोला, तो वो तुरंत तैयार हो गयी.

मैं मुंबई में अपने घर में जहां रहता हूँ, वहां हम लोग सात साल पहले रहने आए थे. अंकल अकेले ही रहते थे, इसलिए उनके खाने की व्यवस्था भी हमारे ही यहां की थी.

अब उसका दर्द मजे में बदल गया तो मैंने सही समय समझ कर एक जोर का धक्का दे दिया और पूरा लंड अंदर घुस गया। फिर मैं अपनी बहन के बूब्स को चूसने लगा और दांतों से निप्पल को काट रहा था। उसे भी मजा आने लगा और मेरे बालों में हाथ फेरने लगी।उसने दोनों टांगों से मेरी कमर को जकड़ लिया और धीरे से कूल्हों को हिलाने लगी. ननकू की बीवी मीना ने भी चिन्टू पर कोई ज्यादा ध्यान नहीं दिया था लेकिन वह जब भी उसके घर आता था तो वह मौसी होने के नाते उसे अच्छे से चाय पानी पूछ लेती थी. कैसे हम दोनों ने अपनी अपनी वर्जिनिटी लूज़ की, अपना कौमार्य भंग किया, पहली चुदाई की.

इस तरह सेक्स लाइफ में मेरी शुरुआत गे सेक्स से हुई और करीब डेढ़ से दो साल तक मेरे सिर्फ गे रिलेशन ही रहे. थोड़ी देर आराम करने के बाद फिर मैंने उसे गांड मारने को बोला लेकिन उसने मना कर दिया. मैंने उसके कूल्हों को अपने दोनों हाथों में पकड़ लिया और उसकी चूत की जोर से चटाई शुरू कर दी.

ये बात मामी ने मामा को बताई- तुम्हारा भांजा, तुम्हारी भानेज बहू की कमर का दर्द ठीक कर देता है और तुम उसके साथ ही रहते हो, फिर भी तुम्हें नहीं आता.

मैं- तू कुछ नहीं समझ पा रही है, अब देख करके बताता हूँ सुहागरात में तेरा पति क्या क्या करेगा औऱ तुझे क्या करना है. मैंने सोनू के मुंह को अपने हाथ से दबाकर, एक जोर का झटका दिया और सोनू की चीख को उसके मुंह में ही दबा दिया और अपने लंड की हरकत को जारी रखते हुए एक और जोरदार झटके से आधा लंड अंदर घुसेड़ दिया.

मैं पीठ के बल जा गिरा और उन्होंने बेड ही पर खड़ी होकर अपना पेटीकोट भी निकाल दिया. उसे मेरे चूतड़ किसी बड़े गोलाकार घड़े से लग रहे थे, जिसके वजह से वो कामुकता भरे शब्दों से मेरी तारीफ़ किये जा रहा था. रुको, मैं अभी लेकर आती हूँ।कहकर विमला कमरे से बाहर चली गई और कुछ ही देर बाद कमरे में वापस आकर विमला ने मेरे हाथों में वह नाइटी थमा दी.

भाभी ने मेरा पैंट उतारा और मेरे बाबूराव को हाथ में पकड़ कर उससे खेलने लगीं. फिर मैं जल्दी से चाची के पास गया और चाची की गांड मारने के लिए तैयार हो गया. मेरी नीना का आज भी मानना है कि चूत में कितना भी मोटा या लंबा लंड घुसे, वह अपनी जगह बना ही लेता है.

एक्स एक्स अंग्रेजों की बीएफ लेकिन ये बातें लड़कियां बहुत जल्दी समझ लेती हैं कि कौन उसे कैसे देखता है. मैं और मैनेजर सर हम दोनों को मीटिंग में अक्सर देर हो जाती थी, तो हम दोनों को होटल में रुकना पड़ता था.

बीएफ चुदाई वाली वीडियो हिंदी

अंधेरे की वजह से मैं कुछ देख नहीं पा रही थी। बहुत कोशिश के बाद चाचा मेरी सलवार के नाड़े को खोलने में कामयाब हुए। वे मेरी सलवार को नीचे खींचने लगे पर मुझे लाज लग रही थी इसलिए मैंने अपनी टांगों को जोर से भींच लिया. मैं बोली- हां आशीष, जो तुम्हारा मन करे, जिससे तुम्हें खुशी मिले, सब करो. इस बार भी मैंने पैग बनाने में वही चालाकी की और भैया को हार्ड हार्ड पैग देता रहा.

उसके वापस आते ही मैंने उसे गोद में उठाया और सीधा उसके बैडरूम में ले गया और किस करने लगा. मेरी समस्या को सुनने और समझने के बाद मेरे मित्र ने मुझे एक काम के बारे में बताया. दिल्ली सट्टे का फोटोवो मेरी सलवार उतार के मेरी पैन्टी नीचे कर के मेरी चूत में उंगली करने लगा और जीभ लगा कर चाटने लगा.

मैं जितना हो सकता था, अपनी जीभ से उसके दाने को छूने की कोशिश कर रही थी, जिसकी वजह से उसकी मुनिया थरथरा उठती थी.

मैं समझ गयी कि क्यों ऐसा हुआ क्योंकि मैंने ही प्रीति को कपड़े दिलाये थे और मेरी तरह के कपड़े यहाँ नहीं मिलते हैं. भाभी एकदम मस्ती से अपने सिर को इधर-उधर मारने लगी और बोली देवर जी- करो … ज़ोर … ज़ोर … से करो … ठोको!मैंने भाभी की चूत में पीछे से लंड चलाना जारी रखा, कभी मैं उनको कमर से पकड़ता, तो कभी उनके चूतड़ों पर हाथ रखता, कभी उनके चूचों को पकड़ता, तो कभी उनकी जांघों में हाथ डालकर ज़ोर ज़ोर से चुदाई करने लगा।सारा कमरा फच … फच … की आवाज़ से गूंजने लगा, यहां तक की हर धक्के पर बेड आवाज़ करने लगा था.

तो एक बार टीवी पर बीएफ चलने लगी थी, शायद बगल में कोई वी सी आर में देख रहा था और हमारी टीवी ने उनके सिग्नल कैच कर लिया था. जब तक मैंने यह महसूस किया कि लंड मेरे कच्छे से बाहर आ चुका है, मैडम ने अपने गाउन खोल कर धरती पर गिरा दिया था. दोस्तो, लंड चुसाने में जो मजा है, उसे मैं लफ्जों में बयान नहीं कर सकता.

तेज झटकों के बाद मैं भाभी की चूत में ही झड़ गया और हम दोनों निढाल से होकर गिर गए.

अब मैंने दुबारा चॉकलेट उसकी बॉडी और चूत पर लगाया और उसको पूरी बॉडी को चाटने लगा. अब मेरा लंड झड़ने वाला था, तो मैंने झट से माँ की गांड से अपना लंड बाहर निकाला और माँ के मुँह में डाला और उनके मुँह में ही झड़ गया. मैं भाभी के होंठों को चूसने लगा और साथ में उसके चूचों को भी हाथों से दबाने लगा.

हॉट्स वीडियोफिर मैंने कहा- आज रात को मुझको अपनी छत पर मिलने बुलाओ, तब समझाता हूं. दूसरे दिन भाई नहीं आया तो दूसरे दिन भी पूरी रात हमारा चुदाई का कार्यक्रम चला, इस रात को हमने जो किया जैसे किया वो मैं अगली कहानी में लिखूंगा.

हिंदी सेक्सी बीएफ गांव का

भाभी मेरा लंड हाथ में पकड़ कर मुझे बेडरूम में ले गयी और में पीछे पीछे खिलौने की तरह लंड लिए खिंचता चला गया. तो दोस्तो, बात ऐसी है कि पिछली कहानी में आपने पढ़ा था कि मेरे घर में सामूहिक चुदाई का हंगामा मचा हुआ था और मेरे घर के सभी लोग नंगे एक साथ एक ही पलंग में सोये हुए थे. भैया जैसे ही बाहर के हॉल में आने लगे, मैं जल्दी से जाकर दारू की बोतल ग्लास के पास जाकर ऐसे बैठ गया … जैसे मैंने कुछ देखा ही नहीं हो.

उनको ऑफिस में सब लोग मैनेजर सर कहते हैं, क्योंकि वो ऑफिस के सारे लेन देन का काम भी करते हैं. एक लौंडे ने मेरी जीएफ रिया को खींच कर गाड़ी से निकाल कर उसे दरी पर बिठा दिया और बोला- चल कपड़े उतार … वरना फिर हम कपड़े फाड़ेंगे, तो तुझे यहां से नंगी ही घर जाना पड़ेगा … सोच ले. मगर मामी तो गर्म हो चुकी थी और कूद-कूद कर लंड को अंदर निगल रही थी उनकी लंडखोर चूत.

अन्तर्वासना का नाम सुनते ही वो लेडी एकदम से चहक उठी और बोली- वाह, तुम भी अन्तर्वासना साईट के फैन हो. मैं जैसे ही अन्दर गया, उसने तुरंत दरवाजा बंद कर दिया और मुझे अन्दर ले गयी. एक लौंडे ने मेरी जीएफ रिया को खींच कर गाड़ी से निकाल कर उसे दरी पर बिठा दिया और बोला- चल कपड़े उतार … वरना फिर हम कपड़े फाड़ेंगे, तो तुझे यहां से नंगी ही घर जाना पड़ेगा … सोच ले.

वो मुझसे उम्र में दो साल बड़ी थी और उसका एक बच्चा भी था जिसे वो अपनी माँ के पास छोड़ के आयी थी. वहां होंठ चूसते हुए ही नीचे धकेल कर सोफे पे बिठाया और उसे नीचे लाके पायल के होंठ का रसपान शुरू किया.

दूसरे दिन भाई नहीं आया तो दूसरे दिन भी पूरी रात हमारा चुदाई का कार्यक्रम चला, इस रात को हमने जो किया जैसे किया वो मैं अगली कहानी में लिखूंगा.

ये जितने सारे मेरे शौक हैं न, ये मेरे घर से थोड़ी पूरे होते है, उन्हीं से पूरे होते हैं. दोस्त की माँ को छोड़ाआशीष अब बिस्तर में चढ़ गया और बोला- अब मैं तेरे एक-एक कपड़े उतारता हूं. कंचना आंटीपर मन ऐसे ख्यालों से ये सोच कर कांप जाता, क्योंकि प्रीति मेरी अच्छी सहेली बन चुकी थी और उसके पीठ पीछे ऐसा करना सही नहीं था. वो भी एक मेहनती किसान का जवान लंड, जो कि देखने में ही इतना खूबसूरत था कि किसी के भी मुँह में पानी आ जाए.

जब मैंने खुद को आइने में देखा तो मेरी लाल रंग की ब्रा और पैंटी साफ दिखाई दे रही थी.

शैली ने लंड हाथ में लिया, प्यार से सहलाया, ऊपर से नीचे तक चाटा, फिर मुँह में ले लिया. एक दिन आफिस में कुछ ज्यादा काम की वजह से हम दोनों को घर जाने में देर हो गई. एक दिन चिन्टू दुपहरी में मीना के घर आया और खाट पर बैठकर इधर-उधर की बात करने लगा.

सलोनी की सिसकारी, पीठ में गड़ते नाख़ून … ओह राहुल … आह हम्म्म्म … ओह्ह्हराहुल …जितनालण्डअंदर जाता उतना ही सलोनी सिसकती … आह्ह … अह्ह्ह … जो र र र से … उफ़ राहुल!सलोनी की चूत से निकलता रस लण्ड की राह आसान बना रहा था. मैं बोला- भाभी एक बात और पूछनी है … आप मुझसे ही क्यों?भाभी बोलीं- शादी के दिन तेरा ही पहला लंड टच हुआ था. मैंने भी झट से चाची के ऊपर छलांग मारी और लंड डालने लगा कि तभी चाची ने मेरा लंड पकड़ लिया और बोलीं- मेरे राजा इतनी जल्दी भी क्या है, पहले कंडोम तो पहन ले.

खतरनाक हिंदी बीएफ

वह बोली- ठीक है, मगर अभी तुम गार्ड से कह दो कि कोई भी अंदर न आने पाए. मम्मी जी- बेटा, दो दिन बाद हम सूरत जा रहे है, तुझे साथ में नहीं ले जाऊँगी, बोल तो किसी को बुक करूँ तेरे लिए या तो तू खुद किसी को ढूंढ लेगी?मैं- मैं किसे ढूंढूंगी मम्मी जी यहां, यहां तो कोई पहचान का है भी नहीं, आप ही देख लो क्या करना है आपको. मैंने बाथरूम में भी शॉवर के नीचे दीदी, जो अब मेरी बीवी है उसको घोड़ी बना कर चोदा.

मैं आगे बोला- आपके गुलाबी नर्म गुलाब की पंखुरियों जैसे होठों का रस चूसना शुरू करे तो रूकने का नाम ही न ले। मैंने आज तक तुम जैसी सेक्सी लड़की नहीं देखी! आय लव यू जान! तुम बहुत अच्छी लग रही हो! आज मैं अपनी दुल्हन को प्यार करूंगा और तुम्हारी सील तोड़ दूँगा!मेरी ऐसी बातों से गुलाबो पागल हो गयी, उसकी गर्म बांहों में मेरा शरीर जल रहा था.

पहले तो वो हटने लगी, पर जैसे ही मैंने उसके हाथ पर पैसे रखे, वो मेरा साथ देने लगी.

मैंने कहा- आप मेरा नम्बर लेकर क्या करोगी?उसने कहा- आपने मेरी हेल्प की, आप मुझे बहुत अच्छे इन्सान लगे. फिर एक दिन उसका मैसेज आया कि आज उसके घर कोई नहीं है, सभी घर वाले एक रिश्तेदार की बेटी की शादी में जा रहे हैं और उसने बीमारी का बहाना करके शादी में जाने से मना कर दिया. सेक्सीvideosऔर तेज़!बस इतना कहकर वो निढाल सी हो गईं मैं अब भी लंड पेले जा रहा था.

यदि आपको मुझसे कहानी के बारे में कुछ और कहना है अथवा अपने विचार रखने हैं तो आपका स्वागत है. दोस्तो! हेमा भाभी के बात करने के तरीके और उनकी नशीली आंखों से मुझे लग रहा था कि यह लेडी इस प्रोफेसर के मतलब की नहीं है और यह ज़रूर पट जाएगी. वो भी फिर से जाग गई … और लगभग 10 मिनट की गरम लड़ाई में हम दोनों एक साथ झड़ गए.

मैंने उनकी तरफ देखा तो उस गाड़ी में 4 लड़के बैठे थे … सभी 25-26 साल के यंग थे. प्रीति ने मेरी बात मान तो ली, पर मुझे लग रहा था कि अभी इतनी जल्दी कोई हल नहीं निकलने वाला है.

मैंने उसको अपने पास बैठाया और उससे पूछा- क्या हुआ तुम उदास क्यों हो?तो वो बोली- मैंने तुमसे झूठ बोला और बताया नहीं कि मेरा एक बच्चा भी है.

मुझे हल्का हल्का दर्द हुआ क्योंकि मुझे दो महीने हो गए थे सेक्स किये हुए।हम दोनों बहन भाई शॉवर के नीचे कुछ देर यूँ ही खड़े रहे।फिर भाई ने लण्ड बाहर निकल कर शावर बन्द किया और तौलिये से अपना और मेरा बदन साफ किया और मुझे नंगी ही बाँहों में भर कर बैडरूम में ले गए। मुझे बेड पर लेटा दिया और खुद बेड पर लेट गए और मुझे अपने ऊपर खींच लिया. जैसे ही मैंने भाभी की पीछे की गर्दन को चूमा, भाभी एकदम आह … आह … करने लगी. वह भी पियक्कड़ थीं, सो उन्होंने भी गिलास को एक ही सांस में खींच लिया था.

मोटू पतलू की कहानी बताइए उसके बाद हम अच्छे दोस्त बन गए, फिर मैंने उससे उसका फ़ोन नंबर मांगा और उसने बिना कुछ सोचे दे दिया. मेरी उत्तेजना और अधिक बढ़ने लगी और मैं पूरी तरह से उसका सहयोग देने लगी.

मेरा रस निकलने वाला था, पर मैंने बाहर नहीं निकाला और मामी के मुँह में ही पिचकारी मार दी. सोनल अब हल्के से आगे की ओर झुकी, उसका चेहरा धीरे धीरे मेरी कमर के नजदीक झुकने लगा. हेमा भाभी ने मस्त सोनू की चूत कैसे दिलवाई यह मैं अगली कहानी में लिखूंगा.

सेक्सी बीएफ वीडियो हीरोइन का

कुछ देर में हम दोनों का पूरा बदन भीग गया और हम दोनों फ़िर से गर्म हो गए. भाभी के शरीर पर कोई भी कपड़ा नहीं था और भाभी एक अप्सरा की तरह दिख रही थी. मैं नए ब्रा और पैंटी लेने गयी थी और मेरी पसंद देख प्रीति ने भी मुझसे सुझाव माँगा कि वो अपने लिए किस तरह के ले.

उसे मैंने दीवार से टिकाया और उसका घाघरा ऊपर किया, तो देखा उसकी चूत बुरी तरह पानी छोड़ रही थी. हम जल्दी से टैरेस पर पहुंचे तो वहां का दृश्य देखकर मुझे थोड़ी शर्म आने लगी.

मध्यम वर्ग परिवार से होने के कारण मेरी पारिवारिक स्थिति ठीक नहीं है.

अब वो मज़े लेने लगी और बोलने लगी- फ़क मी फ़क मी … आह ऊऊह्ह्ह्ह!वो लगातार उम्म्ह… अहह… हय… याह… ईईईइ ह्ह्ह्ह कर रही थी. मैं बस यही सोच रही थी कि आखिर यह मुझे इस तरह से एकटक घूर क्यों रहा है?थोड़ी देर बाद जब मैं अन्दर गई, तो वह लड़का मेरे आगे पीछे होने लगा, नाश्ता की ट्रे लेकर आया और मुझे दो प्लेट नाश्ता दे गया. फिर प्रेम सोफे पर बैठा, उसने उसका लंड मेरी गांड में डाल कर मुझे ऊपर बैठाया.

उसकी चूत में इतना अधिक रस भर गया था कि मुझे अपनी जीभ में नमकीन मलाई सी आती महसूस हो रही थी. तब उसने मेरा हाथ पकड़ा और कहा- चिंता मत करो, तुम्हें आज मैं और तुम्हारे अंकल तुम्हें जन्नत की सैर करवा देंगे. वो सलवार कमीज में एकदम चट-चट गोरी, सुडौल स्तन, गोल मांसल मोटे मोटे चूतड़, चूड़ीदार पाजामे में मोटी-मोटी जांघें थीं.

लंड को मुंह में देने के बाद अब बात उसके काबू से बाहर हो गई और उसने मेरे मुंह में अपने लंड को अंदर-बाहर करना शुरू कर दिया.

एक्स एक्स अंग्रेजों की बीएफ: मैं पीठ के बल जा गिरा और उन्होंने बेड ही पर खड़ी होकर अपना पेटीकोट भी निकाल दिया. मामी जी- अह्ह्ह्ह … ऐसे ही मन लगा कर बीबी की सेवा करना … हाय … सीईईईई … उफ्फ्फ … मेरे राज्जाअ … राहुल … और तेज़ … अओउरर्रर तेज.

आशीष फिर जोर से पकड़ के मेरे मम्मों को दबाकर बोला- तुम बहुत अच्छी हो, यह तेरे दूध और बड़े कर दूंगा, मैं तुमसे मिलने आता रहूंगा और अब तुम्हें कभी नहीं छोडूंगा. इस सेक्स स्टोरी के दूसरे भागदीदी को चोद कर बीवी बनाया-2में अब तक आपने पढ़ा था कि मेरी प्रमिला दीदी मुझे ज्यादा चुदाई नहीं करने देती थी. मैंने उसकी चूत में जीभ को अंदर बाहर करना शुरू कर दिया और रीना पागल होने लगी.

मैंने कुछ देर तक उसकी नाभि में जीभ को घुसाकर उसको और ज्यादा उत्तेजित कर दिया.

मेरा नाम जोर्डन (बदला हुआ नाम) है, मेरी उम्र 27 साल है। इस समय में सीकर (राजस्थान) में रहता हूं। मेरी बॉडी एवरेज बॉडी है दिखने में ठीक ठाक हूँ और लण्ड का साइज 7. उस वक्त मेरी आंखें उनके उसी कड़ियल जिस्म पर टिक जातीं और मैं बस यही दुआ करता कि रवि मामा बस एक बार मुझे अपने जिस्म को छूने दें. चूंकि भाभी थोड़ी भरे हुए शरीर की थी इसलिए उनके शरीर का हर हिस्सा कोमल और गुदाज था.