ब्लू पिक्चर बीएफ सेक्सी हिंदी वीडियो

छवि स्रोत,सेक्सी फिल्मे

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ सेक्सी बिहारी की: ब्लू पिक्चर बीएफ सेक्सी हिंदी वीडियो, कुछ ही देर में आंटी एकदम चीखती हुई झड़ गईं और मैंने उनके नमकीन अमृत रस को पूरा पी लिया.

सेक्सी सेक्सी व्हिडिओ पिक्चर

गांव के सारे लोग तुझे रंडी समझते हैं और सोचते हैं कि तू धंधा करती है. मैथिली सेक्सउस दिन तू फार्म हाउस के लिए जो बुला रहा था, उसी दिन मुझे सब पता चल गया था.

मैं उसके ड्रॉइंग रूम में बैठ गया और उससे पूछ कर सामने बने शोकेस में से दो गिलास निकाल कर पैग बनाने लगा. वीडियो एचडी सेक्सी पिक्चरउन्होंने भी मेरे प्यार को प्यार से स्वीकार करते हुए ‘आई लव यू टू दीपक …’ बोल दिया.

इसे इवेंट इसलिए कहा है क्योंकि इसमें काम करने की कोई एक निश्चित जगह नहीं होती है.ब्लू पिक्चर बीएफ सेक्सी हिंदी वीडियो: उस दिन सुलेखा भाभी अपनी पड़ोसन के साथ बाजार गयी हुई थीं और घर में बस नेहा और प्रिया ही थीं.

24 फरवरी को मेरा कानपुर में एग्जाम था तो मैंने गाँव वापस आने का प्लान बनाया.मतलब उसके हुस्न को सोचते हुए मैं ये कहानी लिख रहा हूं, तब भी मेरा लंड फड़फड़ा रहा है.

मेरी कार्पेटर - ब्लू पिक्चर बीएफ सेक्सी हिंदी वीडियो

ऊपर से शॉवर का ठंडा पानी गिर रहा था और नीचे से कबीर का मोटा गर्म लंड मेरी चूत में जा रहा था.और समझा दो मेरी चुत को कि मोटे लंड से चुदवाने का मतलब क्या होता है.

फिर उसने कहा- पूरी तरह से प्राइवेसी रहे, कोई जोर जबरदस्ती नहीं और मुझे नहीं, मेरी एक फ्रेंड को करना है. ब्लू पिक्चर बीएफ सेक्सी हिंदी वीडियो ये सुनकर वो हंस पड़ी- तुम्हारी गर्लफ्रेंड तो तुमसे भी ज्यादा सेक्सी बात करती है बाबू.

हालाँकि मन में एक चोर था जो बार बार उसी तरफ देखने के लिए जोर मार रहा था.

ब्लू पिक्चर बीएफ सेक्सी हिंदी वीडियो?

उसने मेरा लंड अपने हाथों में लिया, मेरी आंखों में देखा और बैठते हुए अपने मुँह में ले लिया. मेरे रोंगटे खड़े हो गए, मैं मस्त होने लगी और मेरी टांगें खुद ब खुद खुलने लगीं. और उसको बोला कि जब चाची पूछे तो बोलना कि फिसल कर गिर गयी थी, पैर में मोच आ गयी.

दूसरा कारण ये था कि मेरे लंड का टोपा भी बहुत मोटा था इसलिए लंड जरा भी नहीं सरक पा रहा था. उसकी गांड मारने में उसके साथ साथ मुझे भी बहुत दर्द हुआ क्योंकि ये उसका पहली बार था और गांड बहुत कसी हुई थी. मां को क्या पता था कि हम लोग पढ़ाई का प्रैक्टिकल नहीं बल्कि चूत और लंड का प्रैक्टिकल करने की परमिशन मांग रहे थे.

की निवासी हूँ। मेरे वक्ष का साइज़ 34, कमर 30 और गांड 36 की है। नैन-नक्श से हुस्न की मल्लिका हूँ मैं। मेरे स्तन गोल-मटोल हैं और निप्पल भूरे रंग के हैं। मेरी इस पहली कहानी में मैं बताऊंगी कि मैने अपनी सील कैसे तुड़वाई।मैं अंतर्वासना की नियमित पाठिका हूँ. जब 3-4 दिन में एक बार सेक्स करो तो सेक्स का मज़ा थोड़ा ज्यादा ही आता है. ” महेश ने अपने बेटे को चुप खड़ा देख कर खुश होते हुए कहा।पिता जी उसमें जितना मेरा क़सूर है उतना ही ज्योति दीदी का!” महेश ने हकलाते हुए कहा ।हाँ … तुम्हारे साथ उसे भी सजा मिलेगी!” महेश ने अपने बेटे की तरफ देखते हुए कहा।पिता जी मैं हर सजा के लिए तैयार हूं.

कैसा लग रहा है मेरी गुड़िया रानी को?” मैंने उसकी चूत पर चिकोटी काट कर पूछा. क्या वाकिया था वो लाइफ का … यह भी अन्तर्वासना की सेक्स कहानी से मिले एक दोस्त ने मेरे साथ सेक्स किया और हमारी कहानी चुदाई तक चली गई.

औरत को जितना लंड मजा देता है, उससे कहीं ज़्यादा मज़ा आपकी जीभ देता है.

मुझे लगता है कि आज मेरे मम्मों की जो साइज़ है, वो उसके दबाने से ही हो गई है.

मैंने भी देर न करते हुए फटाफट कुंडी लगायी और उन्हें गोद में उठा कर बेडरूम में ले गया. फिर मैंने एक दिन आराम आराम से नकली लंड तेल लगा कर अपनी गांड में घुसा लिया. उन्होंने कई बार ऐसे ही किया, पर उनका लंड इतना दमदार नहीं था कि मेरी जवान सील तोड़ सके.

” नीलम ने भी इस बार ज्यादा गर्म होते हुए कहा।बेटी क्या तुमने कभी अपने पति का लंड अपने मुँह में लिया है?”छी छी… इसे मुंह में? नहीं मुझे तो बहुत गन्दा लगता है. मैं- इतनी फिक्र करती हो मेरी खुशी की?परवीन- तू बाकी के सब मर्दों जैसा नहीं है … मैंने तुझे गांड मारने बुलाया, लेकिन तूने मुझे पहले खुशी देकर खुश किया, फिर मेरी गांड मारी. मगर उसकी दाल नहीं गली तो वो मारे गुस्से के उसके पति से हमारे बारे में सब बता दिया और बोला- मेरे पास सभी सबूत हैं.

मैंने एक बार और जोर लगाया और इस बार पूरा लंड उसकी गांड में घुसा दिया.

लेकिन दीदी ने अपना पूरा टाइम लिया और करीब दस मिनट बाद दीदी बाथरूम से बाहर आ गईं. भाभी मुझसे ऐसे चिपक गई थीं, मानो वो जैसे मुझमें समा जाने की कोशिश कर रही हों. जल्दी ही अगली कहानी में मैं लेकर आऊंगी कि कैसे जीजा जी ने मुझे एक दोस्त के फ्लैट में ले जाकर मुझे पूरी रंडी बना दिया.

उसने अपना मुँह फिर से दबा लिया, तो मैंने इस बार कुछ ज्यादा ही जोर लगा दिया. खैर वो 15 दिन की छुट्टी में शादी व हनीमून निपटाकर वापस अपनी पत्नी के साथ बालघाट आ गया. अब आगे…तब पूजा मेरे मुँह के पास अपनी चूत रख कर मेरे सीने के ऊपर अपनी चूतड़ रख कर बैठ गयी.

पूजा की चुत से जब लंड को बाहर निकाला, तो उसकी चुत मेरे रस से और खून से सनी हुई थी.

अब से पहले तो मेरे दिमाग में यही बात रहती थी कि पता नहीं मैं किसके साथ अपने जिस्म की प्यास अपनी कामुकता को शांत कर रही हूं. मैंने कहा- बोलिए मैडम कैसे क्या करना है?उसने कहा- जो करना है, करो! लिप किस मत करना!नहीं करूंगा.

ब्लू पिक्चर बीएफ सेक्सी हिंदी वीडियो ये अन्दर कैसे घुसेगा?मैंने कहा- जैसे दूसरी औरतों के अन्दर घुसता है. मैंने उसकी इस बात पर दांव आजमाते हुए कहा- तो मुझे बना लो न अपना ब्वॉयफ्रेंड.

ब्लू पिक्चर बीएफ सेक्सी हिंदी वीडियो क्या तुम तब मुझे पेलना नहीं चाहते थे?मैंने रितिका से कहा- ऐसी कोई बात नहीं थी यार, लेकिन जब पहली बार था न … एक डर सा मन में लगा रहता था कि अगर तुम चिल्ला दी, तो क्या होगा?फिर उसने मुझसे पूछा- तुम्हारी मुझे पेलने की इच्छा कब हुई?मैंने कहा- कई बार … लेकिन समय अच्छा नहीं था. उसने मुझे बांहों में उठा लिया, अंदर ले जाकर मेरी पैंटी और स्कर्ट को खींच कर मेरी चूत को नंगी कर दिया.

चाचा का लंड मेरी गांड को देख कर खड़ा हो जाता था क्योंकि मैं जब भी चाचा की पैंट की तरफ देखती थी तो उनकी पैंट में तम्बू बना रहता था.

देसी भाभी का सेक्सी पिक्चर

हम दोनों मैडम की चूची पीने लगे एक साथ और मैडम हम दोनों का लंड हाथों से हिलाने लगी. मैं- मम्मी आप इससे पहले तो मौसी के घर इतना तैयार होकर कभी नहीं गई?मम्मी बोलीं- आज मौसी के घर कोई आए हुए हैं, तो अच्छा नहीं लगता. इस बात पर संजय ने भी हां में हां मिलाते हुए हंसिका भाभी से सहमति जता दी.

आज जब हम लोग वहां से निकलने लगे, तो उसने फिर से मुझ चूमा और मैंने भी उसका उत्तर चूम कर ही दिया. बॉस ने एक मिनट ताल मेरी चूत की फांकों में लंड का सुपारा घिसा तो मैं मस्त हो गई और मैंने अपने पैर फैला दिए. उसके अंदर की पतिव्रता स्त्री ने अब हवस भरी कामुक स्त्री का रूप ले लिया था.

उन्हें देख कर मेरा लंड इतना टाइट हो गया कि अन्दर चड्डी में ही दुखने लगा.

यह देख कर राज का लंड भी उसके शॉर्ट्स में तन कर अलग से दिखाई देने लगा था. अभी मैं कुछ समझ पाती कि भोसड़ी वाले ने अपना लंड मेरी चूत में झटके से पेल डाला. मैंने टाइम पास करने के लिए एक किताब पढ़ना शुरू कर दिया और फिर कुछ ही देर बाद मुझे नींद आने लगी.

कुछ देर तक मेरे ऊपर लेट कर मेरी चूत को चोदने के बाद कबीर ने मुझे उठा कर घोड़ी बना लिया. सिर्फ अपनी क्लास लेना और खाली समय में लाइब्रेरी में बुक्स पढ़ता रहता था. वो अपने एक हाथ में पैग पकड़े हुए थीं और एक हाथ से वो मेरी पीठ पर सहलाने लगीं.

आप मेरी कहानी पे कमेंट जरूर करना ताकि अन्तर्वासना पर मेरी रसीली कहानियों का सिलसिला यूं ही चलता रहे. शादी के दो साल बाद भी बहुत प्रयास करने के बाद भी मैं प्रेगनेंट नहीं हो रही थी.

वो मस्ती में ‘आह … आह … आहह यस यस’ करने लगी और बोली- हाय जीजू क्या लन्ड है आपका! जितनी तारीफ करो, उतनी कम है. मामा जी- बड़े किस्मत वाले थे वे जिन्हें तुम जैसे नमकीन की मारने को मिली. तभी इतने में हिना आंटी झड़ गयी थीं, उन्होंने एक ज़ोर से चीख मार दी- आहह.

आपके सामने तो मैं बच्चा जैसा लग रहा हूँ, एक काम करो आप किसी और को पकड़ लो, आपको झेलना अब मेरे बस की बात नहीं है.

फिर मैंने एक दिन आराम आराम से नकली लंड तेल लगा कर अपनी गांड में घुसा लिया. जब वो आंटी सफाई करने आती थी, तो बस मन करता था कि इसको यहीं पर पटक कर चोद दूं. तुमको अगर यहां पर काम करते हुए किसी ने कुछ भी कहा, तो तुम सीधा मुझको बोलना.

आप लोगों को भी पता होगा कि मसाज की आड़ में कई जगह लोगों ने धंधा करने वाली लड़कियों को रखा होता है. मैं उठ कर बैठा हुआ था और बिस्तर के सिरहाने से टिक कर कमर के बल बैठा हुआ था.

बिक्कू फोन को उठाने के लिए चला तो मैंने उसके लंड को हाथ में पकड़ लिया. परवीन- आआह … ऊऊऊफ्फ … मर गयी मैं … पहले वो रंडी रेशमा को मारूँगी, फिर तेरी माँ को ये सब बोलूंगी. जल्द ही हम दोनों के होंठ एक दूसरे के मुंह के अंदर की गहराई का जायजा ले रहे थे। वो बीच बीच में अपने दांतों से मेरे होंठो पर हल्के से काट लेता.

हिंदी सेक्सी भोजपुरी हिंदी सेक्सी

अचानक से एक दिन रात में बालकनी में धूम्रपान करते हुए मुझे हंसिका की रोने की आवाज़ और साथ में उन दोनों की बातें सुनाई दीं.

मोहन भैया ने ऐसे ही एक दिन बातों बातों में मुझसे मेरा फोन नम्बर ले लिया था. ” मैंने वैसे ही मुंह बनाते हुए कहा।बिगाड़ा था तो तुम‌ अब फिर से बना‌ लो, आ रही है पिंकी अगले‌ महीने। वैसे मैंने तो तुम्हारे अच्छे‌ के लिये ही किया था। वो उम्र थी तुम्हारी ये सब करने की?” उसने सारे कपड़े उतारकर अब हमारी छत के पास आते हुए कहा।पिंकी की भाभी की बात सुनकर मुझे अब झटका सा‌ लगा और मेरा सारा गुस्सा एक पल में ही गायब हो गया. उसने जैसे ही गैलरी खोली, उसमें खूब सारे सेक्स के वीडियो और फोटो सामने आ गए.

थोड़ी देर बाद मैडम और संतोष दोनों झड़ गए और कुछ देर के लिए एक दूसरे के ऊपर पड़े रहे. वैसे तुमने सुना भी होगा कि कोई भी फिल्म की हिरोइन बिना इस काम के सफल नहीं होती क्योंकि उनको भी काम लेना होता है, तो उन्हें भी किसी ना किसी लंड के नीचे से निकलना ही पड़ता है. सेक्स वस जेंडरअगर कोई ऐसी बात है, जो नहीं बताना चाहते, तो छोड़ो … वरना बताओ कि क्या हो गया.

उसने धीरज का वो बुरा हाल कर दिया कि धीरज को उससे रिक्वेस्ट करनी पड़ी- छोड़ दो नायरा … वर्ना मेरा काम तुम्हारे मुँह में ही हो जाएगा. सही मैं तुम्हारी इतनी सुंदर चूत से निकलते पेशाब की धार देख कर आज मैं धन्य हो गया.

वो जब भी मुझसे मिलती थी हम दोनों एक दूसरे के साथ अलग-अलग तरीकों से चुदाई का मजा लेते थे. अब आगे:मैं नीचे झुकते हुए बोली- पहले लंड की मोटाई नापने के लिए उसके टोपे पर इस तरह जीभ घुमाते हैं. मुकुल राय को अपने लंड के इर्द गिर्द परीशा की टाइट चूत की दीवारें कसी हुई महसूस हो रही थी, उसके लंड में तेज गुदगुदी सी होने लगी।दोनों थोड़ी देर वैसे ही लेटे रहे.

” अंकित ने एक अंगड़ाई के साथ कहा और शबनम को अपनी तरफ खींचते हुए उसके होंठों को देर तक चूमता रहा. एक लड़का मम्मी का पेटीकोट उठा कर उनकी पेंटी से ही चूत रगड़ने में लग गया था. निशा की जुबानी:मैं निशा आप सबके लंड को एक प्यारा सा चुम्बन देकर और लंड को मुँह में लेकर मजा सुनाती हूँ.

दोस्तो, मेरी सेक्स स्टोरी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि मेरी बीवी की गैरमौजूदगी में मैंने अपनी सलहज की चूत चुदाई कर डाली.

पिछले भाग में आपने पढ़ा कि चाची की चुदाई के बाद उनकी दोनों बहनें घर आती हैं. कई बार ऐसा हुआ कि मेरा लंड फिसल कर उसकी चूत से बाहर निकल गया लेकिन उसने जल्दी ही मेरे लंड की लेंग्थ के हिसाब से अपनी कमर उठाना और गिराना सीख लिया और फिर एक बार भी लंड को बाहर नहीं निकलने दिया.

उसने मुझे कुछ बोलने का मौका तक नहीं दिया और बस मेरे लण्ड को पैंट के ऊपर से ही चलाए जा रही थी और मुझे ताबड़तोड़ किस किए जा रही थी. इसलिए मैं वहाँ पर एक किराए का घर लेकर रहता था और अपनी कम्पनी के ऑफिशियल टूर में हर माह 4 दिन बालाघाट और 3 दिन सिवनी जाया करता था. यह सुनकर वो गुस्से में आग-बबूला हो गई और हरियाणवी भाषा में मुझसे बोली- मैं तन्ने ये इल्ज़ाम लगा कै अन्दर करवा दूंगी कि तूने मेरे साथ छेड़छाड़ की है.

अरे बेटी, तो आओ आज मेरी गोद में सिर रखकर सो जाओ न। बचपन में भी तो तुम सोती थी. उसके अंदर आते ही मैंने दरवाजा बंद कर दिया और उसने अंदर आते ही बैग साइड में पटका और कहने लगी कि मेरे पास सिर्फ दो ही घंटे का वक्त है. इससे उनके बाल खुल गए और वो मुझे एक हसीन तरीन पोर्न स्टार लगने लगीं.

ब्लू पिक्चर बीएफ सेक्सी हिंदी वीडियो हम सब हंसते हुए सोफे पर बैठ गए और भाभीजी ने तुरंत ही स्नैक्स, आइस, गिलास और स्कॉच की बोतल ला कर रख दी. हम दोनों ही मैच्योर तरीके से तो सेक्स नहीं कर पाए थे, लेकिन जैसे भी हुआ था, बहुत मजा आया था.

सेक्सी सेक्सी आदिवासी वीडियो

अंकित ने अपने लंड को शबनम की चूत के अन्दर हिलाते हुए धक्के मारने चालू रखे. गे सेक्स स्टोरी के पहले भागकुलबुलाती गांड-1में आपने पढ़ा कि मैं गांडू हूँ तो मैं गांड मराना चाहता था अपने रूममेट से … लेकिन उसे मुझमें कोई रूचि नहीं लगती थी. फिर मैंने सोचा कि अगर इसे किसी के सामने खोला, तो हो सकता है कोई मुसीबत ना आ जाए, इसलिए उसको मैंने छुपा कर रख दिया.

लेकिन पहली रात में ही मैंने ये जान लिया था कि वो शादी से पहले चुद चुकी थी. और एक बात आपसे और कहना चाहती हूं कि मेरी फ्रेंड को 2 लोगों के साथ चुदना है. गुजराती आदिवासी सेक्सीउसने दीदी के बाथरूम में छोटा छेद कर दिया था और वहां से कई बार दीदी को नंगा देख मुठ मारता था.

जब मेरी आवाज पर जब कविता बोलती कि ‘यहां कोई नहीं है, पापा मम्मी खेत गए हैं.

मैंने अपने दांतों से उनकी पेंटी उतारी और उनकी बिल्कुल साफ क्लीन शेव चुत देखी, तो मुझसे रहा नहीं गया. फिर तो सोफे पर, बाथरूम में, किचन में, हर जगह मनोज की चूमा चाटी चलती.

उसके हाथ बार बार मेरी जांघों पर ना सिर्फ़ लगते थे … बल्कि ऊपर से नीचे घूम भी रहे थे. कुछ पल बाद वो उठी और मुझे अपने गले से लगा कर मुझे बेहताशा चूमने लगी. इतना कह कर पूजा ने अपनी पीठ के बल लेट कर अपने पैरों को ऊपर उठा दिया और बोली- चलो पेलो अपना लंड मेरी चुत में.

मैंने दीदी को अपने बाहुपाश में भर लिया और उनके होंठों पर ज़ोर से चुंबन धर दिया.

मैंने कहा- अच्छा हमारे आपके रिश्ते के बारे उन्हें पता चलेगा, तब उन्हें दुःख नहीं होगा क्या? तब तो हमारी दोस्ती टूट जाएगी. मैंने भी बिना कुछ सोचे समझे तेज धक्का लगाया और मेरा पूरा लंड उसकी चूत के अन्दर चला गया. फिर मैंने समीरा से कहा- तू मुझे ये सब मम्मी पापा को ना बताने के लिए क्या देगी?उसने बोला- मैं पैसे दे सकती हूँ, मेरी किसी सहेली से आपकी सैटिंग करा सकती हूं.

न्यू सेक्सी मूवीइस तरह से धीमे धीमे करने पर वो दोनों ज्यादा देर एक दूसरे का आनंद ले पाएंगे. मुझे अब अंदर बेचैनी सी हो रही थी तो मैं सिगरेट जला कर बाहर पार्क में टहलने लगा.

स्टोरी सेक्सी हिंदी

मैंने भी अपना गिलास पूरा खाली किया और एक सिगरेट जलाते हुए कहा- तुम्हारा भी मन हो, तो मैं आज तुमको चोदना चाहता हूँ. मैडम- क्यों संतोष बड़ी मस्ती चल रही है तुम्हारी … थोड़ी मस्ती हमको भी दे दो. भाभी मुझसे ऐसे चिपक गई थीं, मानो वो जैसे मुझमें समा जाने की कोशिश कर रही हों.

औय्य … क्या है चल हट …” कहते हुए वो अब सीधा नीचे भाग गयी।कहानी जारी रहेगी. मोटी मोटी चूची खरबूजे की तरह और बाहर को निकली हुई मोटी गांड। कोई भी एक बार देख ले तो मेरी मम्मी का दीवाना हो जाए!मेरे पापा की मौत एक साल पहले बीमार होने के कारण हो गई थी।हमारा एक पड़ोसी है विक्की जिसकी उम्र 30 साल है। चौड़ी छाती, लंबा कद सांवला रंग का है उसका! बांका जवान है. इतना बोल कर मैंने दीदी को दबोच लिया और उनके होंठों को बेतहाशा चूमने लगा.

मेरे पूछने पर उन्होंने बताया कि ये खुशी के आंसू है … आज तक उनके पति ने उन्हें ऐसा यौन सुख कभी नहीं दिया था … जो आज मुझसे मिला. मैं सोनी की फुद्दी को ऐसे चूस रहा था, जैसे किसी कुल्फी को चूस रहा हूं. मैंने उसका सूट ऊपर करके एक चुचे को ब्रा से बाहर निकाल लिया और चूसने लगा.

तुम यहां कैसे!मैं- ऐसे ही दोस्त से मिलने आया था, आंटी का घर यहीं पर था, तो आ गया. अब वो मेरे सामने पीठ करके ब्लैक ब्रा और पेंटी में अपने घुटनों के बल खड़ी थी.

फिर दो मिनट के बाद उसकी गांड ने मेरे लंड को कुबूल कर लिया और खुद ही लंड को अपने अंदर आराम से समा लिया.

कॉलेज की लड़कियां भी जब कबीर को मेरे साथ देखती थीं तो उनकी गांड सुलग जाती थी. कमर तेरी लेफ्ट राइट हालेहालांकि ऑफिस के बाद कई बार तुम अपनी सहेली के घर भी तो जाया करती हो. व्हाट्सएप ग्रुप लड़कियों काउसके लंड के स्पर्श ने मेरी चूत में वो आग लगाई कि मैं खुद ही अपनी चूत को उसके लंड की तरफ धकेलने लगी. मैंने तेल की शीशी से कुछ तेल उसकी गांड में और टपका दिया, ताकि चिकनाई से उसको मजा ज्यादा आए.

तू शादी के बहाने मेरे घर आ जाना और यहाँ से ही उनसे मिलने भी चली जाना.

सच में उसके मम्मे थे तो 35 इंच साइज़ के … पर उन्हें वो ब्रा में फंसाकर छोटा दिखाती थी. वो … दरअसल ऑफिस में इतना काम रहता था कि सिर खुजाने का भी समय नहीं मिला यार।”यह सब तो बहाने हैं. एक दिन मैं सारे कपड़े निकाल कर नहाने जा ही रहा था कि घर के दरवाजे की घंटी बजी.

उन्हें लाल रंग की साड़ी में देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया और तौलिया तन गया. आलिया चुत पर हाथ घुमाते हुए कराहने लगी- आह अ … आह … फट गई शायद …मैं- सॉरी …वो मुझसे पूछने लगी- तेरा पहली बार था क्या?मैंने हां में सर हिला दिया. सासू माँ के इन तीन महीने की गैरमौजूदगी में हम दोनों ने बहुत चुदाई की.

डब्लू डब्लू एक्स सेक्सी

फिर मेरे बहुत जोर देने पर उस इनकम टैक्स ऑफिसर ने बताया कि मेरी बीवी ने ही उसे ऐसा करने के लिए कहा था क्योंकि मेरे सामने रहने से मेरी बीवी खुल कर चुदाई के मजे नहीं ले पा रही थी. मुकुल राय अपने लंड को अंदर बाहर करते हुए- क्या हुआ?परीशा मुस्कुराती हुई- कुछ नहीं. इतने में भाभीजी नाचते हुए अपना पल्लू नीचे गिरा दिया और मेरे सामने झुक कर अपने स्तन दिखाने लगीं.

मुझे लगता है कि वो कला मेरे अंदर है इसलिए मैं लड़कियों को जल्दी ही पटाने में कामयाब भी हो जाता हूं.

मेरा नाम विनय है, मैं नौकरी करता हूं और मेरी शादी को काफी साल हो चुकी है। मेरी पत्नी का नाम नीलम है।मैं उस समय की बात बता रहा हूं जब मेरी शादी को केवल 7-8 महीने का वक्त हुआ था। मेरी पोस्टिंग देहात के इलाके में थी जो एक छोटा कस्बा था वहां पर मकान मिलने की बहुत बड़ी समस्या थी.

मैंने अपने मन में ठान लिया था कि अमायरा को कैसे भी करके चोदना ही है. मैं कोई धंधा नहीं करती और न ही मेरी मां मेरे लिए ग्राहक लेकर आती है. माही वे सॉन्गजब हम दोनों वहां पहुंचे, तो उसी दौरान मेरे मौसा और मौसी को नाना के घर जाना पड़ा.

रशीद ने कच्छा पहना और इसके बाद मैंने दिया बुझा दिया और चुपचाप दबे पाँव अपने कमरे में आकर चारपाई पर लेट गयी. ड्राइवर और नौकर अपनी दो दो उंगली चुत में डाल कर दीदी का पानी निकाल रहे थी. हम लोग अंदर गए तो वहां विस्की, बीयर, चिप्स, सलाद, चिकन बहुत कुछ था.

फिर मैंने मोबाइल नंबर मांगा, तो उसके पति के पास मोबाइल नहीं था, वो साला पूरा शराबी था और उसने पता नहीं किस किस से लेन देन का झंझट पाला हुआ था. वन्दना ने भी अपने लिए एक पेग बनाया और मेरी गोद में बैठ कर पीने लगी.

जिस कमरे में वे गए हुए थे, उसकी खिड़की से मुझे अन्दर का नजारा साफ़ दिख रहा था.

कुछ सेकंड बाद मेरे दो बड़े-बड़े अंटियों को जोर से दबायी। मैंने गहरी सांसें ले रहा था … मुझे मजा आने लगा … मेरे मन में उसके रसीले होठों को चूसने का ख्याल आया ही था कि उसने अपने होंठ मेरे होंठों के ऊपर रख दिए. बूब्स के नीचे बिल्कुल सपाट पेट हो जिस पर गहरी नाभि भी हो, जिसमें आपका पूरा से समा जाने का दिल करे. क्योंकि वो भी मुझसे अब अच्छे से बात करने लगे थे और मुझे मेरी गलती पर भी डांटते भी नहीं थे.

सट्टा गली दिसावर खबर कई बार ऐसा हुआ कि मेरा लंड फिसल कर उसकी चूत से बाहर निकल गया लेकिन उसने जल्दी ही मेरे लंड की लेंग्थ के हिसाब से अपनी कमर उठाना और गिराना सीख लिया और फिर एक बार भी लंड को बाहर नहीं निकलने दिया. रोहन- बी एंड पी? वह क्या होता है?सोनिया- तुम सच में चम्पू हो … इतना भी नहीं जानते?रोहन- सच कह रहा हूँ.

पर फिर भी रवि कि जिद पर उसे रवि का लंड चूसना पड़ा और रवि ने उसके मम्मे चूसे. उसकी चुचियों को मैंने मसलना शुरू कर दिया तो वो बोली- मुझे गुदगुदी हो रही है. कम्मो बेटा, मेरा लंड खाकर अब तू लड़की से औरत बन गयी अब तो मजा आ रहा है न मेरे लंड का?” मैंने उससे पूछा.

सेक्सी बीपी का सेक्स

हम मिल सकते हैं क्या?मैं थोड़ा सहम सी गई परंतु उसे मेरी हमेशा हेल्प की थी तो मैंने बस हां कर दी. कोई गुड्डे गुड़िया का खेल नहीं कि आपने पूछा और मेरा जवाब हाज़िर हो गया. हम मिल सकते हैं क्या?मैं थोड़ा सहम सी गई परंतु उसे मेरी हमेशा हेल्प की थी तो मैंने बस हां कर दी.

पहले सबके हाल-चाल लिया, फिर बोली- मैंने जो रात में भेजा था उसका मतलब आपको नहीं पता है?मैंने कहा- मुझे पता है उसका मतलब! मगर आप तो जानती हो कि आपके भाई मेरे पक्के मित्र हैं. पूजा- नहीं … कभी नहीं … दुबारा कभी ऐसा मत सोच लेना तुम!इतना कहकर जो पूजा मेरे सीने में सर रख कर लेटी थी, वो मेरी तरफ पीठ कर सो गयी.

दोपहर तीन बजे रितिका का कॉल आया, तो मैं उसको लेने उसके होटल पर चला गया.

नमस्कार मेरे प्यारे साथियो, मैं बहुत लम्बे समय से अन्तर्वासना का पाठक हूँ. इसके बाद हम दोनों आने लगे, तो संजय ने मुझसे उसके घर चलकर चाय नाश्ता करने का आमंत्रण दिया. मेरे भीतर ही भर दो आप तो!” वो मुझसे कस के लिपटते हुए बोली कि कहीं मैं उससे अलग न हट जाऊं.

अब दादा जी मेरे पीछे से डालने लगे और मैंने अपनी टांगें चिपका लीं, ताकि उन्हें लगे कि लंड चुत में जा रहा है और वैसा ही हुआ. वो हँसते हुए ही बोली- घबराओ मत, मैं किसी से शिकायत नहीं करुँगी तुम्हारी. मुझे तो शिवानी पर भी कोई विश्वास नहीं था … क्योंकि अगर किसी दिन उसका दिल किया, तो सबके सामने सब कुछ उगल देगी.

दोस्तो, मुझे लिखियेगा कैसी लगी आपको यह मस्ती भरी पति बीवी की अदला बदली की कहानी?आप में से अनेक पाठकों ने मुझे अपने सेक्स अनुभव और फंतासी शेयर की हैं कि मैं उस पर कहानी लिखूं.

ब्लू पिक्चर बीएफ सेक्सी हिंदी वीडियो: दो ही साल में कुंवर साहब का देहांत हो गया और उन्होंने अपनी जायदाद का थोड़ा हिस्सा बेटी के रूप में मेरे नाम भी कर दिया था. पर मैं थोड़ा बोर होने लगी थी रोज रोज एक सा जीवन बिताते हुए … सुबह सुबह ऑफिस जाते हुए हस्बैंड को खाना देना और फिर वही अपने छोटे बेबी के साथ पूरा दिन टाइम पास करना … यह भी सालों तक चला.

धीरज ने नायरा को बेड पर ही डौगी स्टाइल में खड़ा किया और पीछे से अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया. वो बोली- जीजा जी, पिछवाड़ा क्या, मेरे शरीर में जितने छेद हैं वो सभी आपके ही हैं. सच कहूँ तो मेरा चुदाई से दिल ही नहीं भरता … आह क्या करूँ …माँ की इस तरह की आवाजें सुनकर आगे में नहीं सुन सकी और फिर से अपने कमरे में आ गई.

तभी वो मुझसे अलग होकर बोली- ले बस हो गई तेरे मन की … अब चुपचाप बैठ कर मुझे पीने दे.

फिर वो मुझे किस करते हुए मेरी कमर पर बैठ गयी … पेट से नीचे चुत के ठीक ऊपर. उसे मुकुल राय के लंड का सुपारा अपनी चूत के दीवारों पर रगड़ ख़ाता हुआ साफ महसूस हो रहा था. परसों पूरी रात आपकी वजह से मैं सो नहीं पायी और कल रात की … और आज सुबह की भी … आपकी और पल्लवी की चुदाई के बारे में सोच कर मैं परेशान रही और अपनी चूत के अन्दर उंगली डालकर काम चलाने में मजबूर हुई.