मद्रासी बीएफ एचडी

छवि स्रोत,सेक्सी विडीयो 2020

तस्वीर का शीर्षक ,

नौकरानी का सेक्स: मद्रासी बीएफ एचडी, आनन्द और सोमेश अब हफ्ते में 3 से 4 दिन ही आते थे … क्योंकि उनको अपनी बीवियों को ज्यादा समय देना पड़ता था.

मराठी लडकी सेक्सी व्हिडिओ

उसे चूचे चुसवाने में बहुत मज़ा आ रहा था और मुझे टाइट बूब्स चूसने में. एक्स एक्स वीडियो ब्लू पिक्चर सेक्सीमैंने पूछा तो उन्होंने समझाया- तुम मेरे ऊपर आकर लंड अन्दर बाहर करो.

मुझे उसे यकीन दिलाना था कि मैं उसे एक बहन की तरह कितना प्यार करता हूँ. सेक्सी पिक्चर बीपी चुदाईवंदना मैम के मुँह से अजीब सी आवाजें निकल रही थीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह….

वे पहले तो एकदम अचरज में पड़ गए, फिर मुस्करा उठे- शाबाश! तुम यार … वाकई मराना जानते हो, लंड का मजा लेना जानते हो.मद्रासी बीएफ एचडी: मेरे मुँह से निकल गया- भाभी, आपको अकेले में डर नहीं लगता?वो मेरी तरफ एकटक लगातार देखे जा रही थी.

फिर भाभी की रेशम जैसे होंठों को भी चूसा और अपना लंड बहन के मुँह में पेल दिया.इस ग्रुप में ज़बरदस्त नंगाई और उत्तेजना का भूचाल तब आया जब इसमें एक छठी औरत शामिल हुयी.

नंगी सेक्सी पिक्चर इंग्लिश में - मद्रासी बीएफ एचडी

यह जानते ही मैं एकदम खुश हो गई और अपनी टांगों से संजय की कमर को जकड़ कर उससे मस्ती से चुदवाने लगी.लंड के सुपारे पर उसकी जीभ का अहसास पाते ही मेरे तो शरीर में जैसे आग लग गई.

फिर एक साथ रंडी बीवी की गांड और चुत में लंड डाल कर 3 घण्टे की दमदार चुदाई हुई. मद्रासी बीएफ एचडी विभोर पहले से ज्यादा मुझे घूरता था और साथ में मेरी चूची को भी देखता था.

40 हुआ, तो मैं बोला- अब मैं घर जा रहा हूँ … शाम 5 बजे तक पैसा लेकर आऊंगा … तब तक आप लोग आज का काम खत्म कर देना.

मद्रासी बीएफ एचडी?

कुछ देर तक चूचों को दबाने के बाद उन्होंने मेरी कमीज को निकलवा दिया. मैं उनकी टांगों को हवा में उठा कर आंटी की गांड के छेद को अपनी जीभ से चाटने लगा. फिर थोड़ी देर बाद जब माहौल थोड़ा ठीक हुआ, तो मैं और असगर मेरे घर आ गए.

दस्तूर ने कार से उतरते वक़्त मुझसे मेरा मोबाइल नंबर लिया और थैंक्स बोल कर चली गयी. जब मुझे गांड घूरते हुए भाभी ने देखा, तो उन्होंने इशारे से मुझे अपने रूम में बुलाया. सुरेश- अरे नहीं यार … ये तो जरूरत थी, मेरी पत्नी सेक्स में उतनी अच्छी नहीं थी, पर कभी मना नहीं करती थी.

मैंने बहुत कोशिश की कि ये सब बात मेरे मन से निकल जाएं पर हो ही नहीं पा रहा था. उन्होंने पूछा- ट्यूशन क्यों नहीं आ रहे थे?मैंने कहा- तबियत ठीक नहीं लग रही है. यही सोच कर मैंने पहले अपना मोबाइल सैट किया, ताकि वहां की सारी वीडियो मैं रेकॉर्ड कर सकूँ.

फिर मैंने सोचा कि जो होगा देखा जाएगा … मान गईं तो ठीक, नहीं तो सालियों के सामने ही मुट्ठ मार लूँगा. वो भी मेरी मस्ती से समझ गया था कि अब मैं विरोध नहीं बल्कि साथ दूंगी, इसलिए उसने अपना पूरा वजन मेरे ऊपर डाल दिया और धक्के मारते हुए मेरे स्तनों को बा री बारी से चूसने लगा.

मैं चूंकि खेल रहा था और फोन नम्बर अंजान था, तो मैंने फोन साइलेंट करके रख दिया.

अमित इन 5 दिनों में तुम चाहो, तो मुझे अपनी फ्रेंड, गर्लफ्रेंड, रांड या बीवी समझ कर खूब एन्जॉय कर सकते हो.

फिर उसने ही कंडोम चेंज कर दिया और हम दोनों में फिर से चुदाई शुरू हो गयी. ” आधी नींद में मेरे मुँह से सिसकारी निकल गयी और वह स्पर्श वहीं रुक गया. मैं बहुत सीधा लड़का था मगर मेरी एक टीचर ने मुझसे अपनी अन्तर्वासना का इलाज करवाया.

भाभी के फोन में उनके एक फ्रेंड के कुछ मैसेज और फोटो दिखे, जिनको देखकर मैं एकदम से चौंक गया. मैंने बिना देरी किये उसके गोरे-गोरे गोल चूचों को अपने मुंह में भर लिया और उनको पीने लगा. मुठ मारने में इतना मजा कभी नहीं आया जितना मामी के मुंह में लंड को देकर आ रहा था.

किन्तु समस्या यह थी कि ज़रीना मुझे भाईजान बोलती थी और उसके दिल में मेरे लिए कुछ नहीं था.

फिर उसने बोला- यार कितना टाइम लगा दिया तुमने … मैं भी तुमको लाइक करती थी … लेकिन तुम कभी मुझ पर ध्यान ही नहीं देते थे. भगदड़ सी मची हुई थी जो हम दोनों को आगे की तरफ धकेल कर ले जाने का आमादा थी. मैंने उसे लिटाया और उसकी चूत में अपनी जीभ से चुदाई करना शुरू कर दिया.

आजकल कुछ बोल्ड, आधुनिक ज़माने की औरतों द्वारा निजी बर्थडे पार्टी या किटी पार्टी में बाकायदा जिगोलो ब्वॉय को बुलाया जाता है और सब औरतें उसके साथ अपनी सेक्स फेंटेसी पूरी करती हैं या मस्ती करती हैं. इसलिए हम दोनों ने अपनी अपनी चड्डी उतार कर अलग रख दी और मैंने फिर से उसकी बुर की दरार में लंड रख दिया. आराम आराम से किया तेल लगा लगा के … इस वजह से उसे उतना तकलीफ नहीं हुई थी और न ज्यादा खून आया था.

शाम को खाना खाते समय भाभी ने कहा कि रात को तुम मेरे कमरे में आकर ही पढ़ाई कर लेना.

जब मैं गया, तो लाला अपनी दुकान में बैठा था और उसने माँ की पेंटी अपनी गोद में रखी हुई थी. लेकिन मैं नहीं रुका और चूत से बाहर लंड निकाल कर उसकी गांड में डालने लगा.

मद्रासी बीएफ एचडी मैं एक लिंक हूँ, लोगों के काम कराता हूँ … अफसर नेताओं से सम्पर्क बनाए रखता हूँ. वो लंड इतना अच्छे से चूस रही थी कि मैं जल्दी ही उसके मुँह में झड़ गया.

मद्रासी बीएफ एचडी एक और बात भी थी कि मेरी मॉम पापा के न रहने पर नहाने से पहले मुझसे मसाज करवाती थीं. मेरे मोटे चूतड़ और कम ऊँचाई की वजह से उसका लिंग मेरी योनि में गहराई तक नहीं जा रहा था.

मैं झट से उठा और दरवाजे की सिटकनी खोल कर फिर उन्हीं के ही घर में सोफ़े और दीवार के कोने में छिप गया.

बीएफ सेक्सी वीडियो नई नई

कहते हुए साहब ने अपनी जेब से पांच सौ रूपये का नोट निकाल कर मेरी तरफ बढ़ा दिया. मैंने भी जानता था कि ये दोनों आज मेरी गैरमौजूदगी में चुदाई करने वाले हैं. वो मुझे चूमते चूमते बिस्तर पर ले आया और मुझे लिटा कर मेरे ऊपर चढ़ गया.

मुझे ऐसा करते देख निर्मला मुझसे लिपट गई और मेरे होंठों को चूमने लगी. उनको भी अब मजा आने लगा और उन्होंने अपनी गांड उठाकर मुझे इशारा कर दिया. इस बार हमारी चुदाई का राउंड 35 मिनट तक चला और मैंने उसकी चूत को रगड़ दिया.

दो मिनट बाद मैंने लंड की स्पीड बढ़ा दी और गांड की तेज़ तेज़ चुदाई करने लगा.

उसका चुम्बन करने का तरीका साफ़ बता रहा था कि ये सच बोल रही थी कि कोई बॉयफ्रैंड नहीं रहा होगा इसका. काफी देर तक वो दीदी को चूत को चाटता रहा और फिर जब दीदी से रहा न गया तो उसने प्रिंसीपल को खड़ा किया और उसके होंठों को चूसने लगी. मैं शेविंग किट उठा लाया और उसकी चुत पर शेविंग क्रीम लगा कर हाथ से झाग बनाना शुरू कर दिया.

करीब 15-20 मिनट चूसने के बाद मैं उसे अपनी जांघों पर बैठा कर उसे बड़े आराम से चूसने लगा और साथ ही साथ एक हाथ से उसकी ड्रेस को उतारने लगा. मुझे महसूस ऐसा हो रहा था कि उसके लंड का टोपा अंदर चला गया है लेकिन ऐसा वास्तव में नहीं था. उसको देख कर मेरा लंड तन गया और मैंने पीछे से जाकर उसको अपनी बांहों में भर लिया.

यूँ ही चलते चलते मैडम ने पूछा- साहिल, तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैंने कहा- अभी कोई नहीं है. कुछ मिनट बाद मैंने अपना लंड अपनी प्यारी बहन को बिस्तर पर चित लेटाया और टांगें खोलने को कहा तो उसने शर्मा कर अपनी बाँहें अपनी आँखों और चेहरे पर रख ली.

तुम्हें बुरा तो नहीं लग रहा है?वो बोली- नहीं पिता जी, जो होता है अच्छे के लिए ही होता है. कुछ देर बाद उसकी आवाजें आना शुरू हो गईं- उहह … उम्म्ह … अहह … हय … ओह … उम्महह …उसके मुँह से सिसकारियां निकलने लगीं. मैं झट से उठा और दरवाजे की सिटकनी खोल कर फिर उन्हीं के ही घर में सोफ़े और दीवार के कोने में छिप गया.

उसे शायद मेरी योनि का द्वार नहीं दिख रहा था, इसलिए उसने लिंग को पकड़ कर सुपारे से मेरे छेद को टटोलने सा किया और लिंग टिका दिया.

इतने में उनकी बेटी कोचिंग से आ गयी तो हम दोनों संभल कर बैठ गये।फिर आंटी भी अंदर चली गयी और मुझे बोली- मैं अब खाना बनाऊँगी तो आ जाना खाने।8 बजे के लगभग मैं खाना खाकर वापिस अपने घर की तरफ आ गया और पढ़ाई करने लगा. मैंने उसकी पीठ पर दबाव दिया तो वो दर्द के कारण तड़प उठी।मैंने पूछा- क्या हुआ?तो उसने कहा- क्रीम लगा कर हल्के हाथ से मसाज करिए! मर्दाना ताक़त मैं सहन नहीं कर पाऊँगी. पहली बार मुझे उनके बूब्स को चूमने का मौका मिला था।आंटी ने मुझे लेटा दिया, खुद मेरे ऊपर आ गयी और मुझे किस करने लगी, मेरी जीभ को भी चूसने लगी.

उसने तनिक भी देरी किए बिना लिंग तुरन्त मेरी योनि में प्रवेश करा दिया और फिर से तेजी से धक्के मारने लगा. कुछ देर के बाद वो फिर मेरे पास आया और बोला- सॉरी सारिका, मैं जबरन नहीं करना चाहता था.

हालांकि उस वक्त ऐसा कर पाना बहुत मुश्किल था मगर ऐहतियातन मैंने लंड को निकाल ही लिया. मुझे पता नहीं उन दोनों के बीच में क्या बात हुई मगर फिर बहन नहा धोकर तैयार होने लगी. और तब मैंने अपने लंड को उसकी योनि के छेद में टिका दिया और जोर से धक्का मारा.

हिंदी बीएफ अच्छा-अच्छा

मेरा दिल तो बहुत चाहता था कि मैं भी अपनी मम्मी के साथ सेक्स करूँ, मगर ये संभव नहीं था.

मैंने भाभी के कान में कहा कि मुझे आपकी चूची पीनी है … और मैं जानता हूं कि आप जाग रही हैं. मैंने उनको इंजेक्शन लगाया, दवा गोलियां दीं और लगाने किये एक मल्हम लिख दी. आशिमा मेरी पहली गर्लफ्रेंड थी और उसके साथ मैंने सेक्स करने के लिए ही दोस्ती की थी.

मॉम ने मुझे पूरी घटना को बताया औऱ कहा कि मैं कई लोगों से चुद चुकी हूँ. वे बोलीं- हां हां आप मेरे बेस्ट फ्रेंड हो … मैं आपकी किसी बात का बुरा नहीं मानूँगी. देसी बुढ़िया की सेक्सी वीडियोमेरी जीभ आशिमा की जीभ से लार खींच कर मेरे मुंह में ला रही थी और मेरी लार को आशिमा की जीभ उसके मुंह में लेकर जा रही थी.

मेरे शांत होने से पहले ही सुरेश ने अपना प्रेम रस मेरी योनि के भीतर छोड़ना शुरू कर दिया. उसके बाद झाग बनने पर मैंने रेजर से मामी की चूत को साफ करना शुरू कर दिया.

मैंने तेरे आने से पहले तेरे घर में बोल दिया कि आज मैं तुझे एग्जाम की वजह से नाईट क्लास दूंगी और तू खाना भी यहीं खाएगा. तो मैं तो निश्चिन्त था, कोई बेसब्री नहीं ज़ाहिर कर रहा था।उसकी चूत में पानी आ रहा था जो मुझे पार्लर में लगे आइनों में साफ़ दिख रहा था। उसकी चड्डी सामने से पूरी गीली हो गई थी और बंद कमरे में उसकी सुगंध भी आ रही थी. हालांकि ये रिश्तों में सेक्स की कहानी है लेकिन ये एक रियल स्टोरी है.

मुझे पता था कि आज इसकी जम कर चुदाई करनी है, पर मैं सब्र रखे हुए था कि जब ये खुद चुदने के लिए मेरे साथ आई है, तो इसे पूरा गर्म करके ही आगे बढ़ना चाहिए. मैं आपको अगली कहानी में बताऊंगा कि मैंने भाभी की गांड कैसे बजाई और उनकी मदद से अपनी सगी बहन को कैसे चोदा. कुछ देर मैंने उसे अपने सीने से लगाये रखा, उसके बालों से खेलता रहा, उसके गालों को सहलाता रहा.

मुझमें फिर से मस्ती चढ़ने लगी और मैंने हल्के हल्के कराहना शुरू कर दिया.

कहानी का पिछला भाग:प्यासी टीचर चूत चुदाई ने मुझे चुदक्कड़ बनाया-3 मैम ने कहा- अब तुम मेरी चूत को चोदो. हम सब लोगों के नाश्ता करने के बाद मुझे पता चला कि घर मम्मी और बुआ बाजार जा रही हैं, तो मैं न जाने क्यों आज कुछ ज्यादा ही खुश हो गई थी.

दस मिनट बाद मेरा लंड उसकी बुर में फिर से हरकत करने लगा … तो वो भी अपनी कमर धीरे धीरे आगे पीछे करने लगी. दस मिनट की धकापेल मेरी माँ की चुदाई के बाद उसने अपना लंड मम्मी की चूत से निकाल लिया. वो टीवी को देखते हुए आगे बोली- मेरा पति तो साला कई दिनों और रातों तक बाहर रहता है … उस चूतिए को मेरी बिल्कुल परवाह नहीं रहती कि उसकी बीवी की भी कुछ तमन्ना है … उसे भी लंड का प्यार चाहिए.

जब मिहिर ने अपनी छाती को बेपर्दा किया तो उर्वशी के होंठ खुले रह गये. फौजिया दीदी- कुछ मोबाइल से फोटो खींचो … मैं भी तो देखूँ कि ठीक है, या दूसरी लेना पड़ेगी. तो मैंने उसे कैसे चोदा और आनन्द दिलाया?दोस्तो, ये मेरी मेरी गर्लफ्रेंड सेक्स की पहली गंदी कहानी है, इसलिए कोई गलती हो जाए, तो माफ कर दीजिएगा.

मद्रासी बीएफ एचडी भाभी की कमर जैसे मुझे बुला रही थी कि आओ मुझे सहलाओ और फिर दोनों बांहों में कसके मेरी नाभि की गहराई को चूम लो. उसकी चूत में दर्द हो रहा था जिसकी वजह से वो ठीक से चल भी नहीं पा रही थी.

सेक्सी बीएफ हिंदी मद्रासी

सुरेश ने मुझे बहुत कुछ बताया, तब मैंने भी सोचा कि छोड़ो … सब तो अपने ही हैं. वह करीब तीन मिनट बाद बोला- झड़े नहीं?मैंने कहा- अब तू थक गया, अब मैं चालू होता हूं।मैंने धक्के शुरू किए अंदर बाहर अंदर बाहर … वह उनको अनुभव करता रहा. यह सुनकर एकता और कल्पना शरमा गई और झेंप गई लेकिन बाकी सब औरतें यस यस करने लगी.

उसने मेरी मॉम के मुँह में लंड डाल दिया और मेरी मॉम एक रंडी की तरह अनिल का लंड चूसने लगीं. इसके बाद सुनील ने नितिन को रंग लगाया और फिर बाहर होली खेलने चला गया. सेक्सी potoअन्दर आंटी एक सीट पर बैठ गईं, मैं भी उनका बैग लेकर उनके पीछे पीछे आ गया और मैं भी बैठ गया.

उर्वशी बिस्तर पर लेट गई और मिहिर के बारे में सोचने लगी कि तभी मिहिर का मैसेज आ गया.

साड़ी का पल्लू मेरे स्तनों से हट गया और उसकी गांठ मेरे कमर से खुल गयी. अभी मेरे लंड का टोपा ही अन्दर घुस पाया था कि आंटी दर्द से चिल्लाने लगीं.

मैंने नीचे की तरफ करके मोबाइल की टॉर्च को जलाया और हल्के से देखा कि संध्या कहां है. मेरा निशाना तो दीदी ही थी, मगर वो बोली- अपनी गर्लफ्रेंड बना ले … उसी से करना. जब मैं घर में आकर चाय गर्म करने लगा, तो वो कहने लगी- अमित मुझे चाय की नहीं, तुम्हारी गर्मी चाहिए … मेरे करीब आओ ना!मैं बोला- पूजा इतनी जल्दी क्या है … खाना खाकर बाजार चलते हैं … न्यू मार्किट में कुछ खरीदारी करेंगे.

प्रीति ने मुझसे पूछ लिया- तुम क्या देख रहे थे?मैंने कहा- आप मेरी सीनियर हैं, आप बुरा मान जाएंगी.

दोस्तो आपको तो पता ही है कि इस उम्र में चोदा चोदी के बारे में तो सबको सब कुछ पता हो जाता है. वो गर्मी के कारण ऊपर छत पर सोने आ गयी और मेरे बगल में चटाई बिछाकर सो गईं. उसके बाद मैंने मामी की चूत में जीभ डाल दी और उसको तेजी से अंदर तक साफ करने लगा.

तेलुगु हीरोइन का सेक्सी वीडियोएकदम मुलायम बड़ी बड़ी भारी भारी सफेद चुचियां, पतली मासूम कमर और टाइट भरी हुई गांड … जो मेरे लंड को बक्शने के मूड में नहीं थी. मैं इससे तो समझ गयी कि सुरेश कोई नौसिखिया नहीं है और मेरी तरह वो भी संभोग क्रियाओं का पुराना खिलाड़ी है.

बीएफ सेक्स 2020 का

लेकिन दो किटी पार्टी हो चुकी थी और अब तक उसका रोल इसके आगे नहीं आया था. फिर बुआ ने कहा- खाना खा लें क्या?मैंने कहा- बुआ आप बुरा न मानो, तो आज मैं थोड़ा एन्जॉय कर लूं?बुआ ने आंखें नचाईं और पूछा- कैसा एन्जॉय?मैंने अंगूठा उठाया और दारू पीने का इशारा किया. आंटी ने अपने पति को टिफ़िन बनाकर ऑफिस भेजा और बच्चे को स्कूल चले जाने दिया.

कल्पना ने बहुत शर्माते हुए अपनी सेक्स फेंटेसी बताई कि उसका बहुत मन है कि वह किसी औरत के साथ लेस्बियन सेक्स करे. जब माँ अपनी नाईटी उठा कर दूध निकालने बैठतीं, तो उनकी कसी हुई नाईटी में उनके बैठने पर जिस्म की बड़ी गोल आकृति बनती. मैंने कहा- हम्म डर तो लगेगा ही … क्योंकि तुम मेरे दोस्त की गर्लफ्रेंड हो … मेरी थोड़ी हो.

मैं धीरे से बोला- कजरी भौजी, कहां खोई हो?इतना सुनते ही वो घबराहट के साथ साड़ी नीचे करके खड़ी हो गई और बोली- प्रभात बाबू आप ये क्या कर रहे हो … मुझे पेशाब करते देखने आ गए. मौसी बोली- बेटा, तेरी चूत से 20 लाख वसूल करने है … अभी काम कर, सुबह सो जाना. पहले मुझे ऐसा अहसास कभी नहीं हुआ था … शायद मुझे अब मैम के मम्मों को देखने में मजा आने लगा था, इसीलिए मैं उनके मम्मों को चोरी से देख लेता.

हम दोनों कमरे के अन्दर गए और जाते ही मैंने अन्दर से गेट बंद कर लिया. सुरेश- चलो न एक बार और … फिर सो जाएंगे … प्लीज…हमें संभोग किये हुए एक घन्टा से ऊपर हो चला था और मैंने देखा कि सुरेश के लिंग में हल्का हल्का तनाव फिर से आने लगा.

वे वाकयी बड़े धीरे धीरे लंड घुसा रहे थे, पर उनका लम्बा मोटा सख्त लंड मेरी लिटिल सी गांड में घुस नहीं रहा था.

उसके अब्बू का शहर से बाहर तबादला हो गया था, इसलिए घर में सिर्फ तीन ही लोग रहते थे. देहाती लेडीस का सेक्सी वीडियोमेरी चूत में उंगली करने के बाद विभोर अपना लंड मेरे मुंह में दे दिया. अंग्रेजी सेक्सी वीडियो अंग्रेजमेरा एक बेस्ट फ्रेंड था संजय, जो मुझसे हर एक बात शेयर करता था और मैं भी उससे हर एक बात शेयर किया करता था. वो तपाक से बोली- क्या कर रहे हो?मैंने बात पलटते हुए कहा- मतलब मैं तो आगे बढ़ रहा हूं.

एक पल बाद दरवाजा खुला तो मैंने देखा कि एक बहुत ही सुंदर औरत खड़ी थी.

मैं उसके एक बूब को हाथों में भरकर और दूसरे को मुँह में लेकर चूसने लगा. बहुत दिन से चुदाई न होने के कारण मोनिषा आंटी की चूत का छेद सिकुड़ गया था. वैसे तो मैं और श्वेता औरों के सामने चाचा भतीजी का रिश्ता निभाते थे, मगर अकेले में हम दोनों पति पत्नी बन कर ही रहते थे.

अब दीदी जोर से सिसकारियां लेते हुए अपनी चूत उस प्रिंसीपल से चुदवा रही थी. नमस्ते दोस्तो, मैं आपका साथी सोनू …आपने मेरी हिंदी सेक्स कहानीमैंने हॉस्टल गर्ल की सील तोड़ी-1में पढ़ा कि कैसे मेरी मम्मी अपने हॉस्टल की एक लड़की को हमार घर लाई और मैंने उसे खूब चोदा. तू अब से मुझे मॉम नहीं … अपनी रखैल बना ले और रोज़ सुबह शाम अपने लंड को मेरी इस चूत की सैर कराया कर.

बीएफ फिल्म फुल एचडी मूवी

करीब दस मिनट तक मैंने उसकी चूत को चोदा और फिर जब मेरा माल निकलने को हुआ तो मैंने उसकी चूत से अपना लंड बाहर निकाल लिया और उसके मुंह में दे दिया. मैंने आंटी को दीवार के सहारे खड़ा कर दिया और मैं मोनिषा आंटी को जोर जोर से किस करने लगा. मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया और आंखों से चूमने का इशारा किया, तो उसने झुक कर मेरे लंड के सुपारे को प्यार से चूम लिया और फिर चली गई.

मैं समझ गई कि साहब के मन में क्या चल रहा है इसलिए मैं वहां बाहर निकलने लगी लेकिन साहब ने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे रोक लिया.

अगर किसी को मेरी मदद की जरूरत होती थी तो मैं कभी मना भी नहीं करता था.

मैंने सोचा के बाकी घर के तो सब बिज़ी हैं, क्यों न अपना थोड़ा सा प्रोग्राम फिट किया जाए. एक शाम को माँ ने बोला- बेटा बगल की आंटी आयी थीं, वो तुमको पूछ रही थीं. बड़ा लंड की सेक्सी फिल्ममैंने कहा- आह्ह … शाबाश मेरे बच्चे … ऐसी चुदाई करना कहां से सीख कर आया है तू?वो बोला- इसमें सीखने वाली कौन सी बात है मां.

उसके पैंट के ऊपर से ही उसका लंड सहलाते हुए मैंने पैंट की हुक और फिर जिप खोल दी. मेरी जब शादी हुई थी, तब मैं सोचती थी कि अपने पति के साथ ही सेक्स करूंगी और अपने ब्वॉयफ्रेंड लोग को भूल जाऊँगी. मेरे शरीर में इतनी ताकत आ गयी थी कि मैं बिना कोई समय गंवाए उसके सामने जाकर खड़ा हो गया.

मुझे भी मजा आ रहा था … मैंने उसकी चूत दस मिनट तक चाटी, फिर वो झड़ गयी. आपको ‘भाई ने बहन की चुत मारी’ रिश्तों में चुदाई की कहानी में मजा आया होगा … इस पर अपनी प्रतिक्रिया दें और अपने मैसेज के जरिये भी अपनी राय देना न भूलें.

घर में उनकी बहू थी जो अपनी नन्हीं सी नवजात बच्ची के साथ अपने कमरे में ही लेटी हुई थी.

मैंने उससे फिर पूछा- कुछ खाया है कि नहीं?टिफ़िन नहीं आया … आने के बाद खा लूँगा. उसने कहा- तुम ऊपर जाओ, तब तक मैं अपने 3 साल के बच्चे और सास ससुर को डिनर करवा के और सुला कर आती हूँ. उनकी इन कामुक आवाजों को सुन कर मेरे लंड का हाल और बुरा होने लगा था.

बांग्ला मूवी सेक्सी वीडियो मैंने उसे अपनी बाइक पर बिठाया और सुबह की खाली सड़कों पर बाइक दौड़ा दी. वैसे हमारे बीच सारी बातें होती थी- मूवीज, कपल्स, चुम्बन, सेक्स, पॉर्न … सब कुछ … पर एक हद तक सिर्फ नॉलेज के उद्देश्य से।फिर दोस्तों ने अन्तर्वासना के बारे में बताया तो मेरा ध्यान सबसे पहले भाई बहन सेक्स की कहानियों पर ही गया.

सुरेश को मेरी योनि में बहुत मजा आ रहा था और मैं अब समझ गयी थी कि जितनी जोश में अब वो है, जल्द झड़ जाएगा. अगली कहानियों में मैं बताऊंगा कि मैंने किस-किस अंदाज में उसकी चूत को चोदा और उसके अलावा और किन-किन चूतों के मजे लिये. लेकिन आज तूने ये सब बताकर मेरे अंदर की बहन को मार दिया है … अब तूने इतना सब खर्चा भी किया है मेरे लिए और प्यार भी करता है मुझसे तो ठीक है … मगर इस बात का पता किसी को चला तो जान से मार दूंगी।उसने जैसे ही ये बोला, मैंने उसे अपनी ओर ज़ोर से खींचा और उसके चूचों को मसलते हुए उसकी जीभ चूसने लगा.

डब्ल्यू डब्ल्यू एक्स एक्स बीएफ सेक्सी

जब वो मेरे पास आती, तो उसके बदन की खुशबू मेरे सांसों में बैठने लगती. ये चाची सेक्स कहानी कुछ ऐसी हॉट है कि लड़कों व लड़कियों का पानी निकलवा देगी. हम दोनों का घर बगल बगल में था इसलिए हम दोनों छत पर जाकर एक दूसरे से बात करने लगे.

खैर … भला हो नए जमाने का कि फ़ोन की वजह से मेरे पास विमला का नंबर था और मैंने उसे फ़ोन लगाया. वो सिसकारियां ले रही थीं।अब मैं धीरे धीरे नीचे सरकते हुए उनकी चूत पे आ गया, भाभी की चूत एकदम चिकनी थी.

अभी तक आपने मेरी दो हिंदी सेक्स कहानीटीचर ने चुदक्कड़ बना डालाऔरमैंने हॉस्टल गर्ल की सील तोड़ीपढ़ी.

जैसे ही खिड़की खोल कर वो पीछे की तरफ मुड़ी तो मिहिर पीछे खड़ा था और उर्वशी के उरोज मिहिर की छाती से टकरा गये. थोड़ी देर के बाद सौम्या कमरे में आई, उसने साड़ी चेंज करके सेक्सी पारदर्शी नाइटी पहनी हुई थी. उसे क्या पता था कि मुझे लंबे समय तक चलने वाले संभोग में मजा आता है.

उस दिन मैंने उसे साफ साफ कह दिया था कि इस बारे में दोबारा न चर्चा करे और मैंने फ़ोन रख दिया. मैंने उसकी चुत के होंठों को उंगली से फैला दिया और कहा- मूतो मेरी रानी. मैंने बोला- आंटी तब तक आप अकेली रहोगी?उन्होंने बोला- अकेली कहां हूँ … अब तुम आ गए हो न.

क्या मस्त पतली और गोरी कमर थी … यार मन तो किया कि एक बार कसके दबा दूँ, पर उस समय उसकी हालत पर मुझे दया भी आ रही थी.

मद्रासी बीएफ एचडी: उसी समय मैं भी वहीं उन सबके सामने आ गया … तो मुझे देख कर सब औरतें चुप हो गईं. वासना से मेरी हालत अब ऎसी हो गई थी कि मैंने राजशेखर के बांहों को जोर से पकड़ रखा था और बीच बीच में खुद से अपने चूतड़ों को उठा कर उसे चोदने का न्यौता दे रही थी.

संजय के घर में उसकी बीवी के होने के कारण वो मेरे घर में आकर मुझे नहीं चोद पा रहा था. मैंने अपने लंड पर थोड़ा था थूक लगाया और पूर्वी ने लंड पकड़ कर अपनी चुत पर रखा. जिस प्रकार वो अपनी मदमस्त सुडौल थुलथुल चूतड़ों को हिला रही थी, उससे तो अंदाज लगाया जा सकता है कि राजशेखर शायद ही खुद को ज्यादा देर रोक सकता था.

जितना मैं चूस रहा था, वो उतना ही तड़फ रही थी ‘ईईईई उईई आह ओऊऊ ओऊऊह सीईईई आई अमित आह धीरे … काटो तो मत … उह आह ओ मर गई रे!’मैं भी उसकी चुत के रस को, उंगली कर करके रस निकाल निकाल कर चाट रहा था.

फिर मैम ने मुझे दो वीडियो दिए और कहा- अकेले में देख कर प्रैक्टिस करना. मुझे जरूरी काम से मार्केट जाना है, जब तक मैं आ न जाऊं, तुम इसके पास ही रहना. उसकी बेताबी इतनी अधिक लग रही थी, मानो वो मुझे पूरा ही अन्दर ले लेगी.