भोजपुरी बीएफ ब्लू वीडियो

छवि स्रोत,एक्स एक्स एक्स हॉट सेक्सी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

जंगली सांड: भोजपुरी बीएफ ब्लू वीडियो, क्योंकि वो कोई मामूली नहीं बल्कि सरकारी ऑफिसर है।इसी तरह उल्टे सीधे ख्यालों में पता नहीं कब नींद आ गई।अगले ही दिन मैंने मैडम को कॉल किया और बताया कि एक तांत्रिक बाबा से मैंने बात की है, वो जादू-टोने को ठीक करने में महारत रखते हैं और उनका तरीका भी अलग है।मैडम ये सुनकर बहुत खुश हुई और कहा- जल्दी से उनका पता दो.

बीएफ ब्लू पिक्चर देखने वाला

चल अब कोई चादर ओढ़ और मेरे साथ छत पर चल।सुमन ने एक बड़ी सी चादर अपने जिस्म पर लपेट ली और डरते हुए कमरे से बाहर निकली तो उसकी माँ से उसका सामना हो गया।अब सुमन को संजय के मुताबिक़ करने का सिलसिला शुरू हो गया था।मेरी इस सेक्स स्टोरी में आपको मजा आ रहा होगा मुझे मेल करते रहिएगा।[emailprotected]कहानी जारी है।. बीएफ हिंदी पिक्चर फिल्म वीडियोनिकाल रही थी।दस मिनट ऐसे ही गुजर गए अब काका का लावा किसी भी पल फूटने वाला था, वो और ज़्यादा स्पीड से चोदने लग गए थे।मोना- आह.

मैं वहां जाकर तकिया लगाकर लेट गया, फिर कल्पना जल्दी से वाशरूम होकर आई और मेरे सीने पर सर रख कर लेट गई। फिर आभा आई और मेरे जांघों पर अपना सर रख कर लेट गई।हमारी आंखें कब लगी, हमें पता ही नहीं चला।रात को मेरे लंड पर मैंने किसी रगड़ या छुवन को महसूस किया और मेरी नींद खुल गई। मैंने देखा कि आभा मेरा लंड सहला रही है, जिसे उसने मेरे अंडरवियर के बीच वाले छेद से निकाल रखा था. वीडियो में बीएफ भेजिएऔर मैं धीरे से उनके स्तनों को सहलाने लगा।मैंने अब उनकी साड़ी को उतारना शुरू कर दिया और उनके पेट पर हाथ फेरने लगा.

मेरा भी उनके जैसा लग रहा था तो सुकान्त सही कह रहा था केवल चुदाई की टेक्नीक का कमाल था। मैंने मन ही मन अपने गांड मराई के उस्ताद राजा को थैंक्स पे किया जिन्होंने सिखाया था कि जब वे मुझसे गांड मरा रहे हों.भोजपुरी बीएफ ब्लू वीडियो: वो तुम करोगी तो प्लीज आज मेरी खातिर उस बूढ़े की कल्पना करो ना, जिसे तुमने पहली बार इमेजिन किया था, आज मेरी खातिर उसे फिर से इमेजिन कर लो ना!वो बोली- क्या बकवास कर रहे हैं आप.

लाइट मेरे बिल्कुल सामने हो गई थी।कुछ ही पलों में उन दोनों ने मुझे पूरी नंगी कर दिया। मुझे जमीन पर लिटा दिया और मेरी टांगों को फैला दिया। मुझे मजा आ रहा था पर मैं कुछ कर नहीं पा रही थी।तभी मेरी चुत में एक लंड ऐसे घुसा मानो बंदूक से गोली मार दी गई हो। चूत में लंड घुसते ही मुझे काफी दर्द होने लगा था.‘तो अंकल जी शादी की सिवाय और कोई उपाय नहीं है?’ उसने बेचैनी से पूछा.

घोड़े और लड़कियों की बीएफ - भोजपुरी बीएफ ब्लू वीडियो

’ कर रही थी।आंटी मेरे लंड को हिला रही थी और मैं बोबे दबा रहा था। आंटी के बोबे बहुत बड़े थे और मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।मैंने आंटी के ब्लाउज के सारे बटन खोल दिए और मस्ती से उसके बोबे रगड़ने लगा। वो भी मेरा लंड ज़ोर-ज़ोर से रगड़ रही थी, मुझे नहीं लगा था कि आंटी इतनी सेक्सी होगी। मैंने आंटी के गालों को चूमना शुरू किया।फिर मैंने आंटी से कहा- मुझे तुम्हारी चूत को चाटना है.टाइम रात 9 बजे का तय था। जब साथ डिनर करते थे तो सुनील और मैं हमेशा ड्रिंक करते थे। घर में दारू पीने का पूरा इंतजाम भी रहता था।शाम को मैं उनके घर गया और दरवाजे की घंटी बजाई.

मैंने भी धीरे से अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाला और फिर से उसकी चूत पर टिकाते हुए धक्के लगाना शुरू कर दिए. भोजपुरी बीएफ ब्लू वीडियो साराह ने ऐसा दिखाया कि उसने कुछ देखा नहीं है और जोर से विवेक को आवाज दी.

उसके पश्चात राजे ने दो तरह की मलाई से बुरी तरह सनी हुई चूत, झांटें और जांघों का ऊपरी भाग चाट के साफ किया.

भोजपुरी बीएफ ब्लू वीडियो?

और मैं यह गाना गाते हुये टॉयलेट चला गया ‘भीगा ये बदन तेरा… पानी में आग लगाये…पानी वाला डाँस (सन्नी लियोन वाला ) और खड़े लौड़े को मुठ मार कर शांत किया. अम्मा ने बालक को मेरी ओर बढ़ाते हुए बोली- लो साहिब, यह है आप के लगाये हुए बीज की उपज. शायद शादी नई-नई हुई है। अभी मैं इन्हीं विचारों में था कि मुझे किसी के आने की आहट महसूस हुई।थोड़ी देर बाद मेरी खटिया के पास आकर एक औरत खड़ी हो गई। लहंगा-चोली में चुन्नड़ ओढ़े हुए करीब साढ़े पांच फिट लंबी थी.

मैं इतनी गर्म थी कि 5 मिनट में ही मेरा बदन अकड़ने लगा और मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया. तो इनकी बेटी कितनी सुंदर होगी।मैं आंटी के पास को गया, तभी अंकल ने आंटी से कहा- रमा चलो अब ज़रा घोड़ी बन जाओ. उसने मेरे मुँह में पेलना शुरू किया।मुझे धीरे-धीरे मज़ा आने लगा, एक तो लंड की खुश्बू, वो भी बिना धुला हुआ लंड और साथ ही इतना तगड़ा लंड। मैंने लंड को हलक तक लेने की कोशिश की और जोर-जोर से चूसना शुरू कर दिया।रमीज़- शाबाश गांडू, तुझे हमने पहली नज़र में सही पहचाना था कि तू हमारे काम का ही बंदा है।मैंने अपनी वेस्ट उतार दी.

उसकी तो जैसे जान निकल गई हो… उम्म्ह… अहह… हय… याह… वो बहुत ज्यादा उत्तेजित हो गई थी लेकिन मैं उसे अभी और तड़पाना चाहता था. ’ बोल रही थी।वे दोनों अपनी चुदाई में मस्त थे, दीदी भी ये भूल गई थी कि मैं भी उस कमरे में हूँ। लगभग 20 मिनट की चुदाई के बाद सुनील का पानी दीदी की चुत में निकल गया और वो दोनों निढाल हो गए।अब तक मैं भी मुठ मार चुका था और दीदी भी झड़ चुकी थीं।इसके बाद आगे क्या-क्या हुआ. मेरे गाल पर हल्के से चपत लगाई- बहुत बदमाश हो।तब तक वे मैडम भी आ गईं। साहब अलग खड़े हो गए और उन्होंने आदेश दिया- इन्हें ले जाएं और जहां ये कहें.

राजू एक घुटने के बल बैठ कर बेल्ट में लिपटे लंड को मेरी बीवी के मुंह में घुसेड़-2 कर खेलने लगा, तो मैंने भी छेद बदला और खुद की पोजीशन भी… अब मैं घुटनों के बल बैठा राजू का लंड चूसती अपनी बीवी की बायीं टांग आसमान में उठा कर उसकी गांड मारने लगा. मानसी ने मेरे होंठ को अपने दांतों से बहुत ज़ोर से काट लिया था जिससे मेरे होंठ से खून निकलने लगा था और वो उसको चूस चूस कर पी रही थीं.

अब हम दोनों भाइयों जैसे दोस्तों ने एक आखिरी बार नताशा का मुंह चोदने का फैसला किया, पहले मैंने अपनी बीवी के मुंह में अपना लंड डाल कर उसे चोदना चालू किया ही था कि राजू भी अपना लंड लेकर उसके मुंह में घुसने को उतावला हो उठा.

मैंने फिर उसके जिस्म की तारीफ की और उससे बेतहाशा चूमने लगा, उसने भी मेरा पूरा साथ दिया.

बाकी लड़के भी तो नॉर्मल हैं, फिर मुझे ही क्यों भगवान ने लड़कों के लिए आकर्षण दिया… और अगर दिया तो ऐसे समाज में पैदा ही क्यों किया. फिर रीना पहले चुदी और आखिर में रात के डेढ़ बजे मेरी चुदाई की बारी आई. मेरा नाम दीपक है, मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ। मेरे परिवार में मॉम-डैड, दीदी और मुझे मिला कर हम 4 लोग हैं।मैं अन्तर्वासना पर नया हूँ.

और वो दोबारा कभी मुझे चोदने नहीं देगी।तो मैंने उसके पैर अपने कंधे पर लिए और किस करते-करते जोर का झटका दे मारा तो मेरा आधे से ज़्यादा लंड चुत में घुस गया और चुत की झिल्ली फट गई. ‘हाय…! रवि…’ मेरे मुँह से आनन्द भरी सीत्कार निकल गई और मैं उस धक्के से आगे की तरफ हो गई।रवि मुझे चोदते हुए बोले- सोना… तुम्हारी चूत तो बहुत गर्म हो रही है. स्नेहा मेरे ऑफिस के बाहर एक स्टेशनरी की दूकान पर अपनी साइकिल लिए खड़ी थी.

माँ को भी मजा आने लगा, वो अब आवाज करने लगी थी- आआआ ई ई पेलो मेरे राजा आहह… ठीक से पेलो व्व्ह्ह्ह मजा आ रहा है बेटा वाह आअहह दोनों अच्छे से चोद रहे हैं… आआईयईईई अभी पानी मत निकालना आऐईय ईईईई… खूब चोदो रंडी की तरह!मैं और आलोक ज़ोर के झटके दे रहा था और माँ चिल्ला रही थी- आआअ उउउआआआअ… धीरे… मैं मर गई.

पर वो नहीं माने और धक्का लगा-लगा कर मेरी कुँवारी चुत को अपने भुजंग लंड से ठोकते रहे।अब मुझे थोड़ा मज़ा आने लगा, पर ये क्या कुछ ही मिनट में ही मेरे पति झड़ चुके थे।उन्होंने लंड बाहर निकाल लिया और बाहर चले गए, मुझे कुछ अच्छा नहीं लगा, ऊपर से चुत में इतना दर्द कि जैसे किसी ने मेरी चुत में लाल मिर्ची भर दी हो. अंजलि- किशोर, मैं बच्ची नहीं हूँ, मुझे पता है कि मेरा क्या हाल होने वाला है, बस तुम रुकना नहीं… चाहे कुछ हो जाए!मेरी सबसे बड़ी समस्या थी कि मेरे पास कंडोम नहीं था. मैंने नीचे नजरें करके बैठ गया, हिम्मत नहीं हुई कि उनकी तरफ देखूं!तब वो बोली- क्या अभी तो कह रहा था मुझसे क्या शर्माना… और खुद ही नीचे नजरें करके बैठा है… देख ले मुझे… उन किताबों की लड़कियों से अच्छी नहीं हूँ क्या?मैंने आंटी की तरफ देखा.

मैं जल्दी से अपने पति को देखने उठी कि वो भी जग रहे है या नहीं…वो जग रहे थे. रात के 10:30 बजे थे कि मेरे फ़ोन की घण्टी बजी।मैंने फोन उठाया- हलो!‘मेमसाब सो गई क्या, दरवाजा खोलिये!’अब यह कौन है? यही सोच रहे हैं ना, शहर के फ्लैट में क्या गुल खिल रहा है।यह बात पड़ोसियों को भी नहीं पता चलती, लेकिन कोई होता है जिसे सब पता होता कि किसके यहाँ क्या हो रहा है, वो होता अपार्टमेंट का सेक्युरिटी गार्ड!मेरी चुत तो चुलबुला उठी, मैं सोचने लगी क्या करूँ. मैंने उन्हें जमकर दबाया एकदम निचोड़ दिए और निप्पलों को मैं चूस चूस कर बीच बीच में काटने लगा.

इतना सख़्त हो गया कि पेंट को फाड़कर बाहर आने को बेताब था।अन्दर फ्लॉरा ने जालीदार ब्लू पेंटी पहनी थी.

आज से लगभग 3 महीने पहले एक दिन की बात है, वो मंडे था, मैं कॉलेज नहीं गई थी पर मेरा भाई रोज की तरह कॉलेज चला गया और मम्मी बैंक में…मैं अकेली क्या करूँ… बस अन्तर्वासना सेक्स हिंदी में पढ़ने लगी. मेरी उम्र तब 19 साल और ऊपर कुछ दिन ही हुई थी, मेरा बड़ा भाई सुन्दर मुझसे 8 साल बड़ा था और उसकी बीवी अनुपमा से उसका तलाक हो चुका था.

भोजपुरी बीएफ ब्लू वीडियो बारिश के मौसम ने हम दोनों के बदनों में कामुकता भर दी और हमारे बदन आपस में खेलने लगे. काका पूरी ताक़त से झटके मारने लगे और मोना भी गांड उछाल-उछाल कर उनका साथ देने में लग गई।काका ने कई मिनट तक अलग-अलग पोज़ बना कर मोना की चुदाई की। वो ना जाने कितनी बार झड़ी होगी तब कहीं जाकर काका के लंड का लावा फूटा।उसके बाद काका ने उससे कहा- अब आराम से सोजा.

भोजपुरी बीएफ ब्लू वीडियो चूंकि दोपहर के वक्त मैं अकेला रहता हूँ।भैया ने सारी बात बताई और कहा- मेरी वाइफ को औरत बना दो और मुझे पिता बना दे, तू अपनी भाभी के साथ सेक्स कर सकता है. अब मुझे सबा मत कहना, रंडी कहना! आज से मैं एक रंडी हूँ!उन्होंने कहा- ठीक है!अगले दिन मैंने अपनी चूत को अच्छी तरह साफ किया और चल पड़ी.

बारिश का मौसम चालू होते ही मेरे दिल में बिजली जाने का डर सताने लगता है, हमारे यहाँ बिजली वाले बाबू बस इसी फिराक में रहते है कि बारिश बरसे और वो बिजली की लाइन काट दें.

hindi xxx वीडियो

क्योंकि वो कोई मामूली नहीं बल्कि सरकारी ऑफिसर है।इसी तरह उल्टे सीधे ख्यालों में पता नहीं कब नींद आ गई।अगले ही दिन मैंने मैडम को कॉल किया और बताया कि एक तांत्रिक बाबा से मैंने बात की है, वो जादू-टोने को ठीक करने में महारत रखते हैं और उनका तरीका भी अलग है।मैडम ये सुनकर बहुत खुश हुई और कहा- जल्दी से उनका पता दो. वैसे है बड़ा टेस्टी!‘आ जा, रेखा बदजात कुलटा, अपनी चूत दिखा बहन की लौड़ी!’ राजे ने मुझे खींच के लिटा दिया और मेरी टाँगें पूरी चौड़ी कर दी. तू माँ चुदी बन गई आज… और सुल्लू रानी आज से तू मेरी रानी बन गई बद्ज़ात कुलटा… अब तू जीवन भर मेरी रखैल बन के रहेगी अपनी इस चुदक्कड़ बेटी की तरह.

मेरा जाना पॉसिबल नहीं है।अंजलि बहुत रिक्वेस्ट करने लगी- प्लीज़ प्लीज़ तुम ही चलो ना. क्या बात है! कितनी ताकत है हमारे राजू के लंड में!! हम बेकार ही बेचारे को डांट रहे है. अगर मैंने आगे का खेल ठीक से खेला तो पक्का वो मेरे लंड के नीचे होगी, बहुत जल्दी!’ मैंने मन ही मन खुश होते हुए सोचा.

मैंने खीर के डोंगे में लौड़ा पूरा डुबा दिया और फिर खीर से खूब लिबड़े लंड को बाहर निकाल के दोनों रंडियों को खीर चाटने को बोला.

‘आअह्ह्ह आह आह आह आह ये ये ये यस यस यस ओह्ह्ह आआह्ह…’हालाँकि यह उसका पहली बार था, फिर भी वो अपनी पहली कोशिश में ही सफल रही शायद पोर्न फिल्म से सीखा था. जैसे ही वो गया, मैंने तुरन्त ही दरवाजा बन्द किया और जेसिका को तुरन्त किस करने लगा क्योंकि अब मुझे सब्र नहीं हो रहा था. बातों बातों में मेरी पैन्ट गीली हो जाती थी और उसकी चड्डी भी गीली हो जाती थी, वो फोन पर बता रही थी कि जब हम दोनों बात करते हैं तो उसकी चूत में कुछ होने लगता है और फिर एक दम से चूत उसकी फूली फूली हो जाती है.

मैं हौले-हौले मारूँगा और वैसे ये खुली हुई तो है ही, तो ज़्यादा दर्द नहीं होगा तुझे।मोना- नहीं काका खुली हुई नहीं है, शादी के दस दिन बाद गोपाल ने एक बार मारी थी. मेरा दर्द धीमे धीमे कम होता गया और अब तो मुझे गांड में लंड से मजा आने लगा. उनके निप्पल को हल्के से दांतों में दबाकर खींचा तो उनकी तेज चीख निकल गई.

प्लीज़ बाहर निकाल लो।मैं रुक गया और उनको चूमने लगा।थोड़ी ही देर में भाभी कुछ शांत हुईं. मैंने दोनों हाथ से अपने चूचे छुपा लिए और फिर उन्होंने दोनों हाथों पकड़ के साइड कर दिया और मेरे बूब्स पर किस किया.

फिर उसने मेरे गले में हाथ डालकर मुझे झुका लिया और मेरे होंठ काटने लगी ‘हाय राजा, चोदो मुझे… मस्त चुदाई करते हो आप! बेरहमी से फाड़ो मेरी बुर आज! पता नहीं फिर लंड कब मिले मुझे, अच्छी तरह से चटनी बना दो चूत की! हाँ हाँ… और जोर से… जल्दी जल्दी… मैं फिर से झड़ने पे आ रही हूँ… हाय रे!ऐसे बड़बड़ाते हुए उसके मुंह से किलकारियाँ निकलने लगीं. तभी आदित्य ने मुझे एक टेबलेट देते हुए कहा- सोनाली जी… आप ये टैबलेट खा लीजिये।मैंने वो टेबलेट खा ली और फिर हम दोनों लोग बातें करने लगे. उसके बाद हम दोनों पब गये, वहाँ के माहौल का भी मजा लिया, हम दोनों ने खूब डांस भी किया और बियर का भी मजा लिया।जिन्दगी में पहली बार मैंने बीयर पी थी।खाना वगैरह खाकर हम लोग फिर होटल पहुंचे तो साहिल बिस्तर पर एक किनारे लेट गये.

आज बड़े प्यार से मारूँगा बस तू हां कर दे।मोना- उह गोपाल तुम कितने अच्छे हो काश पहले ही ऐसे प्यार से मेरी गांड मार लेते.

यह हिंदी चुदाई की सेक्सी कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!उसके इस हमले को मैं सिर्फ़ 5 मिनट ही झेल पाया और मेरा निकलने वाला था, मैंने उसको बताया, फिर भी भाभी ने चूसना चालू रखा और मैं उसके मुँह में ही झड़ गया… वो मेरा सारा माल पी गई…हमने जल्दी से अपनी हालत ठीक की और तम्बोला किट लेकर नीचे पहुँच गये. इधर अंजलि भी पीछे नहीं थी, उसके हाथ में मेरा लंड था, वो उसको मसल रही थी, आगे पीछे कर रही थी, लंड पूरा तना हुआ खड़ा था अपनी ड्यूटी को निभाने को तत्पर!अंजलि- आपका ये तो बहुत मस्त है लगता नहीं कि आपकी उम्र हो गई है!मैं- क्यों तुमने पहले किसी का देखा है?‘हाँ, पिक्स में और पोर्न में देखा है. अभी वापस चला जाएगा साला, इसके साथ थोड़े ही अन्दर तक आएगा।वो सब सुमन को आता हुआ देख रहे थे, बस उसके पापा उसके सर पे हाथ रख कर वापस चले गए।जैसे ही सुमन उनके पास से गुज़री तो वीरू ने उसको आवाज़ देकर अपने पास बुला लिया और वो भी चुपचाप उनके पास आ गई।विक्की- तुझमें थोड़ी भी अकल नहीं क्या.

शुरू हो गया गर्लफ्रेंड के संग प्यार का खेल।वो तो पहले से ही मुझसे पटने को राजी थी लेकिन मैंने ही कभी उस पर ध्यान नहीं दिया था। अब मैं उससे रोज मिलता था और रोज उसको प्यार करता था।मेरी गर्लफ्रेंड बहुत प्यारी थी. मैं प्लेट से पुलाव खाता हुआ मन ही मन खयाली पुलाव पकाता हुआ बार बार उसकी जाँघों के जोड़ को निहार रहा था जहाँ उसकी जीन्स के नीचे पेंटी होगी और उसके भीतर रोमावली से आच्छादित उसकी कुंवारी योनि या बुर या चूत कुछ भी कह लो, होगी.

हम अब भी 69 अवस्था में थे तो मैं अपने लंड को उसके मुँह के आगे ले गया और उसको चूसने के लिए बोला. उसको जब उसकी गर्दन पे रगड़ पड़ती है तब बड़ा मजा आता है और उसकी चुदास और बढ़ती है. अचानक उठ कर ऐसा नाटक करो। ये सब तुम अपने भाई के सामने ऐसे ही चिल्लाते हुए पूरी नाइटी उतार देना और सिर्फ़ ब्रा-पेंटी में ही बनी रहना। बाद में शरमाना और साथ में घबराने का नाटक करना और बोलना कि भैया मैं तो तुम्हारे साथ ही सोऊंगी.

ब्लू फिल्म दिखाइए सेक्सी वाली

उसके बाद मैंने उसकी चुदाई शुरू की, वो मुझे बताती रही मैं वैसे वैसे करता रहा, रामू काका भी बीच बीच में अपनी सलाह देते रहे.

यही मैं चाहता था कि उसके दिमाग में यह बात बैठ जाए कि मुहाँसे मिटाने का पक्का इलाज कोई लंड ही कर सकता है चूत में घुस के. मेरी चचेरी बहन की कामुकता इतनी अधिक बढ़ गई थी कि उसने खुद ही अपनी पैंट निकाल कर एक तरफ रख दी।फिर वो मेरी तरफ बढ़ी और मेरा पैंट भी खोल दिया। अब तक मैं भी अपनी शर्ट और बनियान निकाल चुका था। मैं बिल्कुल नंगा था और मेरा लंड एकदम फूलकर लोहे की रॉड की तरह हो चुका था।फिर प्रीति जो कि अभी भी रेड ब्रा और पेंटी में थी. मेरा मतलब आभा के नाखूनों से है।उसने उत्तेजना में आकर अपने नाखून मेरे कमर में गड़ाये और अपने पैरों को मेरे दोनों तरफ करके अपनी चूत मेरे मुंह से टिका दिया, उम्म्ह… अहह… हय… याह… और मेरा लंड अपने मुंह में ले लिया.

मैं अन्तर्वासना साइट की सेक्स स्टोरी का बहुत पुराना पाठक हूँ। मेरा नाम विक्की राणा है। मैं आप सब प्यासी चुत वालियों का अपने 7″ के खड़े लंड से स्वागत करता हूँ। मैं 25 साल का स्मार्ट एक कॉल बॉय हूँ। मैं बहुत कोशिश करके आप लोगों के लिए सच्ची सेक्स स्टोरी को खोज कर लाता रहा हूँ। यह सेक्स स्टोरी रमेश और उसकी बहन की है।अब आप रमेश की ज़ुबानी उसकी बहन की जवानी की चुदाई स्टोरी का आनन्द लीजिए।हैलो. मैं देखने लगा तभी वो शायद कुछ लेने को झुकी तो उसकी चूचियाँ लटकीं, मैं देखता रह गया. बीएफ वीडियो सेक्सी दिखाओकुछ देर बाद हम मिशनरी स्टाइल में आ गये और मैं काफ़ी तेज झटके मारने लगा.

मैंने कुछ देर ऐसे ही लिपटे रहने के बाद अपना लौड़ा सुनीता की चूत में अंदर बाहर किया और जब मेरा वीर्य छूटने को हुआ तो सुनीता का इशारा पाकर मैंने अपना सारा माल उसके पेट पे निकाल दिया. थोड़ा-थोड़ा करके बताऊंगी। शायद बात पूरी करने के लिए मुझे रोज आना पड़े।मैंने कहा- आपकी अपनी ही दुकान है, आप चाहो तो रोज आइये या फिर रोज हमें बुला लीजिये!मैंने तुरुप का इक्का फेंक दिया था, अब मैं उस इक्के के चलने का इंतजार कर रहा था।कहानी बहुत लंबी है, धैर्य के साथ पठन करें। कहानी कैसी जा रही है अपनी राय इस पते पर दें।[emailprotected][emailprotected]लेखक सन्दीप साहू की सभी कहानियाँ.

सुपारा मेरी गांड में फंस चुका था, मुझे दर्द सा महसूस हो रहा था, मैंने साहिल से कहा- यार, मूवी में तो लड़की की गांड में इतनी आसानी से लंड चला गया और मेरी गांड में तुम्हारा लंड जा ही नहीं पा रहा है?‘वो मादरचोद अपनी गांड रोज मरवाती है, जब पहली बार उसने भी मरवाई होगी तो उसकी भी गांड में नहीं गया होगा! इतना कहने के साथ ही एक तेज धक्का लगा दिया, ‘उईईईई ईईईईई माँ…’ आवाज मेरे मुंह से तेज निकली. लेकिन मैंने कभी किसी को भी इस बात को नहीं कहा। यदि तू अब भी मॉम को बताना चाहती है. मैंने उसका लंड मुँह में ले लिया। वो खड़े-खड़े ही मेरे मुँह को चोदने लगा.

अग्रवाल साहब पूजा का सिर पकड़ कर अपने लंड पर दबाने लगे और बोले- ले चूस ले अपने भाई का लंड… उम्म्ह… अहह… हय… याह… निकाल दे इसका सारा माल अपने मुँह में!पूजा ने उनका लंड 8-10 मिनट तक चूसा और उनका पानी निकाल दिया, सारा माल खुद पी गई. तभी आंटी ने पूछा- क्या तुम्हें सच मैं नहीं पता था आज मेरा बेटा घर पर नहीं है?मैं- नहीं, मुझे नहीं पता था. ‘माँ कसम क्या चूसती है!’वो मेरे मुँह में धक्के देने लगा, थोड़ी देर मैंने मेरे मुँह से लंड को बांहर निकाल लिया.

अगले दिन बैंक हॉलि डे था तो रयान और ऋषिका दोनों ने ही अपने अपने घर जाने का प्रोग्राम बनाया.

तभी दूसरी लड़की ने कहा- अगर छूने देगी तभी तो हम बता पायेंगी कि तुझे छूने वाले उस शहजादे को कैसा फील होगा।और ऐसा कहते हुए उसने फिर टावेल खींचने के लिए अपना हाथ बढ़ाया, इस बार मैंने भी ज्यादा विरोध नहीं किया, अब मैं पूरी नंगी उनके सामने खड़ी थी, मैं शर्माने के बजाय उनको मॉडल जैसा पोज देने लगी, वो हंसने लगी और एक लड़की ने मेरे स्तन को छूते सहलाते हुए अपनी आँखें बंद कर ली और कहा- कसम से यार. सॉरी।दिनेश ने मेरे हाथ में 50000 रुपये दिए और सैट पर चला गया।मेरी चुत की चुदाई की कीमत मुझे अब समझ आ रही थी।ये थी मेरी बॉलीवुड सेक्स की कहानी.

हैलो मित्रो, मेरा नाम योगू है मैं एक स्टूडेंट हूँ और महाराष्ट्र से हूँ. इधर मेरे भी लंड में तनाव पैदा होने लगा था और मेरे टट्टे सिकुड़ने लगे थे. मैंने उसे मेरा लंड चूसने को बोला और थोड़ी देर में, मेरा लंड फिर खड़ा हो गया और मैंने उसकी अलग-अलग पोस्चर में चुदाई की.

अब मैडम फर्श पर लेटी हुई थी, मैंने एक तकिए को मैडम की गांड के नीचे रख दिया, मैडम की चूत बहुत मोटी थी, बहुत मस्त चूत थी. इसीलिए माँ भगत के साथ सेक्स करती हैं।बातों ही बातों में मैंने नीलू की चूची को दबा दिया और बोला- जब माँ भगत, चाचा और फूफा से चुदवा सकती हैं. जहाँ मैं जा रहा था, वहीं का पता पूछ रही थी वह… मैंने उसे मुझे फॉलो करने को कहा.

भोजपुरी बीएफ ब्लू वीडियो मेरा लंड पूरी स्पीड से चुत में अन्दर-बाहर होते हुए तूफानी गति पकड़ता जा रहा था. मेरे शौहर ने कहा- रुकना मत, पूरा एक बार में डाल दो!उसने एक झटका इतना ज़ोर मारा कि पूरा लंड मेरी गांड में घुस गया.

এক্স ভিডিও এক্স এক্স

हमारे पड़ोस में में एक नया परिवार रहने आया, उस परिवार में एक पति पत्नी और उनके पिताजी थे. नीलेश जीजू ने सिर्फ एक टॉवल ही लपेटा हुआ था और उनके एक हाथ में बाल्टी थी. फिर अग्रवाल साहब ने बोला- मेरा भी होने वाला है पूजा, बोलो माल अंदर डालूं या मुँह में लोगी?पूजा बोली- मुँह में लूँगी!यह बोल कर उसने अपना मुख खोल दिया और अग्रवाल ने अपना लंड उसमें घुसा दिया.

मैं 9 बजे तक आ जाऊंगा।ये सुनकर वो मुस्कुराकर कहने लगी- रात खाना यहीं मेरे साथ खा लेना।मैंने हामी भरी और वहाँ से चल दिया।आज रात मैं बेसब्री से फिर एक नई चुत की चुदाई का इंतज़ार करने लगा। किसी तरह से 9 बजे और मैं वहाँ सज-संवर के पहुँच गया, कॉलबेल बजाई तो मैडम ने मुस्कुराकर दरवाज़ा खोलकर मेरा स्वागत किया।अन्दर जाते ही खाने की तैयारी शुरू हो गई. काका पूरी ताक़त से झटके मारने लगे और मोना भी गांड उछाल-उछाल कर उनका साथ देने में लग गई।काका ने कई मिनट तक अलग-अलग पोज़ बना कर मोना की चुदाई की। वो ना जाने कितनी बार झड़ी होगी तब कहीं जाकर काका के लंड का लावा फूटा।उसके बाद काका ने उससे कहा- अब आराम से सोजा. गौरव बीएफकभी तूने बॉय फ्रेंड नहीं बनाया ऐसा क्यों?सुमन- वो दीदी बात ये है कि मैं बचपन से सीधी साधी हूँ.

30 बजे हिम्मत ने मुझे बताया कि वो ऑफिस निकल रहा है और बिमलेश अभी अकेली है और खुश भी है, तुम फोन कर लो!मैंने हिम्मत को कॉन्फ्रेंस में लिया और बिमलेश को फोन किया, घण्टी गई.

मैंने उसकी पीठ को सहलाते हुए उसके चूतड़ों को दबाया और अपना एक हाथ भाभी की चूत पर लगाया तो पूरी गीली थी… मैंने उसको चूमना नहीं छोड़ा और अपने हाथ से भाभी की गुलाबी चूत को सहलाने लगा. सॉरी।दिनेश ने मेरे हाथ में 50000 रुपये दिए और सैट पर चला गया।मेरी चुत की चुदाई की कीमत मुझे अब समझ आ रही थी।ये थी मेरी बॉलीवुड सेक्स की कहानी.

उसको देख कर उसको मज़ा आ रहा था। उसने पूरे 20 मिनट तक मूवी में सब कुछ देखा।थोड़ी देर बाद मैंने फोन माँगा कि अब तो गेम खेल लिया होगा. अंशुल ने बताया- सचिन सर करीब 34 साल के हैं और बहुत बड़े बिजनेसमैन हैं, भारत में उनके कई बिजनेस हैं. उसने दरवाजा खोल दिया मगर मेरी हिम्मत उसके घर में जाने की नहीं हुई और मैं वापस अपने घर आ गया.

वो सीधे कैफे पहुँच गई और किसी से पूछने के बाद वो सुधीर के सामने खड़ी थी.

’मेरा लंड अब आधे से ज्यादा अन्दर था तभी रसीली ने कमर हिलाना शुरू कर दिया।सच कह रहा हूँ बिल्कुल अठारह साल की नादान बच्ची जैसी टाइट चुत थी भाभी की. अब मैं बाजार में तो जा नहीं सकता इसके लिए… आखिर हमारी भी कुछ बायोलॉजिकल नीड्स हैं. दोनों कुछ दूरी तक ऐसे ही नंगे होके गये एक दूसरे को चूमते और दबाते हुए… यश पीछे से मम्मी की गांड खूब दबा रहा था.

बीएफ वीडियो ओपन सेक्सीअपनी राय मेल करें कि मेरी कहानी आपको कैसी लगी? आप मुझे फेसबुक पर भी अपनी राय दें![emailprotected]. उसके आने के बाद हम बाकी लोगों से थोड़ी दूरी बना कर खड़े हो गये। रात का वक्त था ज्यादा रोशनी नहीं थी। अब मैंने आज सुबह की चुम्बन वाली हरकत के बाद उससे पहली बार कुछ कहने की सोची.

बीएफ इंग्लिश पिक्चर देखने वाली

उनकी पीठ अभी भी मेरी तरफ थी, उनका जिस्म मैं एक घंटे पहले ही देख चुका था, बिल्कुल परफेक्ट थी और उनको देखकर लगता था कि किसी के भी लंड का पानी वो बड़ी आसानी से निकाल सकती थी. जवाब में स्नेहा का मुंह लाज से लाल हो गया और उसने सर झुका के सहमति में अपना सर हिला दिया. अंजलि ने कस कर मुझे बाँहों में भर कर मेरे होंठों को चूम लिया- किशोर लव यू… मुझे पता था कि आपके साथ मैं इसका भरपूर आनन्द उठा सकती हूँ, और आपने तो मुझे मेरे उम्मीदों से ज्यादा आनन्द दिया… लव यू… बस आप ऐसे ही मुझे प्यार देते रहना!बुर की चुदाई स्टोरी कैसी लग रही है आपको, अपने विचार मुझे मेल करें![emailprotected]कहानी जारी रहेगी!.

यह तो मैं जानती ही हूं।मैंने कहा- मैं अंतर्वासना का लेखक संदीप साहू हूं।भाभी सन्न रह गई. दोस्तो, जितनी होट भाभी है, शायद ही कोई औरत हो!फिर मैंने भाभी के कपड़े उतार दिये और खुद भी नंगा हो गया और मैंने नीचे बैठ कर भाभी की चुत को मुंह लगा दिया. मगर आप कोई हरकत ना करना, और उसका क्या हुआ वो किसी को कुछ बता ना दे?काका- मैंने उसका बंदोबस्त कर दिया.

उन्होंने कहा- विंडो की सीडी उनके घर पर है, जो इंस्टिट्यूट से दस मिनट की वाकिंग डिस्टेंस पर है. मैं धीरे से रूम में घुसा तो देखा कि बिमलेश लाल साड़ी में ही बेड पर लेटी थी।मुझे देख कर बिमलेश मुस्कुराई और मुझे नमस्ते बोला और पेट के बल लेट गई. बेटी चोद है ही बहुत ज़्यादा चुदक्कड़!कहानी पढ़ने के उपरांत कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य लिखें.

लेकिन उसने कुछ नहीं कहा। मुझे लगने लगा कि शायद वो मुझे पसंद करने लगी है।एग्जाम खत्म होने के दो महीने बाद भी उसके साथ यह सिलसिला यूं ही चलता रहा। हमारा केमिस्ट्री की लैब का पीरियड एक साथ लगता था तो हम एक दूसरे को देखते रहते थे।फिर एक दिन लंच टाइम में मैंने उसे प्रपोज कर दिया. 30 बजे मुझे किस करके उठाया, वो आज नहाई नहीं थी।मैंने कहा- अभी तक तू नहाई नहीं है?वो बोली- नहीं, आज साथ-साथ नहाने का मजा लेंगे।मैंने यह सुनते ही उसको अपनी बांहों में ले लिया और चूमने लगा।वो बोली- जल्दी करो.

मेरी जानेमन की बच्चेदानी में कुछ हैवी शॉट्स मारने के बाद उसने अपना आग उगलने को तैयार लंड चूत से बाहर निकाल लिया और मेरी बीवी का सिर पकड़ कर उसके मुंह में ठूंस दिया.

लेकिन अनूप ने पीछे से आकर मेरी चूचियों को पकड़ लिया और जोर-जोर से दबाने लगा। मैं सिसकारी भरने लगी. हिंदी में बीएफ पिक्चर चाहिएमैंने भी कहा- कहो तो रात को आपके नाम कर दूं लेकिन मेरे साथ चुदाई में लौड़ा चूसना पड़ेगा. सेक्सी बीएफ ब्लू में‘लगता है तेरी गांड भी बहुत चुदासी है, जरा जबान लगाने से साली को करंट लगता है!’ मेरी गांड चाटने के बाद उसने मुझे बेड पर बिठाया और खुद बेड पर खड़ा हो गया, मैंने उसका लंड हाथ में पकड़ लिया, थोड़ी देर हिलाने के बाद चूसने लगी. मैंने प्यार से फोर्स किया तो बोलने लगा- जब मैं स्कूल से आया तो तू सो रही थी पर तेरी जींस उतारी हुई थी, तेरी पेंटी घुटनों पर थी, चूत नहीं पड़ी थी.

मैं किस करते हुए उसके रसीले बूब्स दबाने लग गया, वो बहुत सॉफ्ट और बड़े थे.

सुबह की फ्लाइट थी उनकी!किस्मत की बात, अगले महीने ही रूबी की शादी भी दिल्ली के एक ज्वेलर अजय के साथ तय हो गई. चुची चूसने के बाद मैं उसकी चुत में उंगली करने लगा, उसको बहुत मजा आ रहा था, निकिता बोली- मुझे अभी चोदो… मैं नहीं रह सकती!तो हम मूवी बीच में छोड़ कर अपने रूम पर आने लगे. जिस काम के लिए मैं आया हूँ, वो मुझे ठीक से करने दो… अगर तुम कोआपरेट करोगी तो सब कुछ सही होगा, तुम को भी अच्छा लगेगा और मुझको भी!उसने सहमति में सिर हिला के मुझे ग्रीन सिग्नल दिया पर मुंह से कुछ न बोली.

भाभी- ओ जान… मुझे किस करो ना!मैं- मैं आपको किस कर रहा हूँ, मेरे होंठ अपने होंठों पे महसूस करो. और मैंने भी बताया कि मैंने तुम्हारे का नाम लालू रखा है तो आज तुम मुझे राजेश के योगीराज से (धीरे से बोली) चोदोगे। फिर हमने रात भर चुदाई की और आज तो बिमलेश को तीन बार चोदा। आज तुम भी पूछना कि रात को चुदाई कैसे की।फिर हमारी बात खत्म हो गई, वो बोला- ग्यारह बजे फोन कर लेना तुम बिमलेश को।कहानी जारी रहेगी. कुछ रस तो उसके गले में सीधा चला गया था, जो उसे निगलना पड़ा बाकी उसके मुँह में था वो भाग कर वॉशरूम गई.

बीएफ एक्स एक्स एक्स एक्स

इस पर रूबी हंस कर बोली- देखो कमीनी मुझे मजे भी नहीं लेने दे रही… अरे तेरे लिए एक जवान मर्द छोड़े तो जा रही हूँ…उनके वाशरूम से लौटते ही चारों अपने अपने रूम की ओर चल दिए. मैं आप सभी को बताने वाला हूँ ताकि आपको मेरी इस चुदाई की कहानी पर यकीन आए कि ये सच्ची चुदाई की कहानी है।ये बात एक साल पहले की है। मेरे घर के सामने एक लड़की रहती थी. अब आंटी ने मुझे नीचे किया और मेरी चेस्ट को काटने लगी और बोली- बहुत चौड़ी छाती है तेरी!मैंने आंटी का ब्लाउज उतारा और उनके निप्पल से खेलना शुरू कर दिया.

फिर साहब के बंगले में ही हम दोनों रूके। वो महिला साहब के कमरे में ही रूक गईं। मैं बरांडे में सोया.

उसके बाद चिंटू ने एक और काम के सिलसले में चला गया और थोड़ी देर में आने के लिये बोल कर चला गया.

और इसकी चिकनी गांड का भोसड़ा बना दूँगा।आसिफ़- अरे भाई, तुझे जितना पेलना है पेल, इसकी तो आज खैर नहीं. तभी आकाश भी झड़ गया और मुझसे चिपक कर मेरे होंठों को चूमने लगा।फिर वो मेरे ऊपर ही चिपक के लेट गया।कुछ देर बाद मैंने आकाश से कहा- अब मुझे घर के लिए भी निकलना है. सेक्सी वीडियो फुल चुदाई बीएफमैडम ने फिर मेरी गर्दन को दबाया और बोली- ज्यादा हंस मत!और इस बार उनके बूब्स मेरी छाती से पूरी तरह चिपक गये और मेरा लंड एकदम टाईट होने लगा.

मैं उसकी शर्ट के बटन खोल कर उसकी चुची मसलने लगा, उसे अच्छा लग रहा था, मजा आ रहा था, वो मुझे किस करने लगी और लंड बाहर निकाल कर सहलाने लगी. फिर उसने पूछा- आप किस की तरफ से?‘मैं भी दूल्हे की भाभी…’फिर उसने अपना नाम अजय बताया और पूछा- आप किस के साथ आई हो?मैंने कहा- मैं अपने पति के साथ आई हूं. आंटी- मुझसे मिल के तुम्हें क्या मिलेगा, मिलना है तो किसी लड़की से मिलो!मैं- नहीं, मुझे लड़की नहीं, आप अच्छी लगती हो!आंटी- मुझमें क्या अच्छा लगता है?मैंने आंटी की क्लीवेज की तरफ इशारा करते हुए कहा- ये अच्छा लगता है.

मैं बोली- मुझे बहुत शर्म आएगी आप दोनों के सामने!तब उन्होंने समझाया कि वो भी लड़कियाँ ही हैं और शरमाने की कोई बात नहीं है. उसको रोज नहीं तो हफ्ते में एक बार चुत चाहिए ही चाहिए। अब अगर उसको ना मिले तो वो चिड़चिड़ा हो जाता है और अपने ही नियम कायदे चलाने लगता है। तेरे पापा के साथ भी शायद यही हो रहा होगा.

हम रात के दो बजे घर पहुँचे थे और जो अजय ने हमें पैसे दिये थे जब हमने घर पर उन्हें देखा तो वो तो पूरे दस हज़ार रुपये थे.

तभी मेरे दिमाग में खुराफात सूझी, क्यों ना आज तो रीना को एक यादगार गिफ्ट दिया जाए… उसकी कुंवारी चूत की जोरदार चुदाई कर आज उसे औरत बनाया जाये. गे सेक्स स्टोरी: गांड की चुदाई के शौकीन-1अब तक आपने मेरी इस गे सेक्स स्टोरी में पढ़ा था कि मेरा एक वकील दोस्त मिल गया था जो मेरी गांड की चुदाई करने में झिझक रहा था।अब आगे. फुन्नी छोटे बच्चों की होती है। अब तू बड़ी हो गई है मगर किसी और के सामने नहीं बोलना, बस मेरे सामने ही.

बीएफ सेक्स ओपन वीडियो वो नीचे भागी और साराह ने विवेक को फोन कर दिया की वो वापस आकर रूबी को मोबाइल दे दे. आंटी- ऐसी क्या चीज़ है जो तूने देखी भी नहीं और अच्छी भी लगती है?मैं- ये मैं आपको तभी बताऊँगा जब आप खड़ी होकर आँख बंद करेंगी और जब तक आँख नहीं खोलेंगी, जब तक मैं नहीं कहूँगा.

मैंने धीरे से अपने लण्ड को उसकी चुत में प्रवेश कर दिया, उसने मेरा पूरा सहयोग दिया. मैं भी जोर जोर से धक्के देना लगा, अब मेरा भी छुटने को आया और मैंने उसकी चूत की अंदर ही मेरा फव्वारा छोड़ दिया. अब तू भी जा ऊपर और रात भर चुदवा अपने अंकल से!’ रानी स्नेहा का बूब मसलते हुए बोली.

सेक्सी मूवी ब्लू पिक्चर हिंदी

ऐसा रोल प्ले करके मेरे साथ मजे लो।मैं उन्हें बेडरूम में ले गया और उन्हें खड़ा रहने को कहा।मैं नीचे बैठ गया और उनसे बोला- मेम, मैं एक बिगड़ा हुआ लड़का हूँ और अपना होमवर्क करके नहीं आया हूँ. मैंने स्वाति को अपनी यह दुविधा बताई तो स्वाति ने अपनी एक नाइटी लाकर मुझे दे दी और मुझे वह पहनने के लिए कहा।स्वाति की नाइटी केवल घुटनों तक ही थी और आर्मलेस थी… उस नाइटी को कमर पर बांधने के लिए एक रिबन लगी हुई थी. सारा मूड खराब कर दिया।टीना धीरे से संजय के पास गई और उसके लंड को सहलाते हुए कहा- अरे नाराज़ क्यों होता है, मेरे ये होंठ किसी चुत से कम हैं क्या और साथ में ऐसा नजारा दिखाऊंगी तुझे कि 5 मिनट में तू पानी फेंक देगा।संजय सवालिया नज़रों से टीना को देख रहा था और टीना उसके लंड को पेंट से आज़ाद कर रही थी। टीना ने पेंट उसके घुटनों तक खिसका दी और अंडरवियर को भी नीचे कर दिया।संजय का 8″ का लंड आज़ाद हो गया.

भाभी शायद कई महीनों से नहीं चुदी थी और उसकी चूत कुछ टाईट जरूर थी पर वो इतना पानी छोड़ चुकी थी की मेरा लंड बड़ी आसानी से अंदर घुसता चला गया. तभी भाभी ने मेरे लंड से अपना हाथ हटा लिया और फिर मेरे कानों पर धीमे-धीमे फूँक मारने लगीं। कभी वो ऐसा मेरे निप्पलों पर भी कर रही थीं। वो मुझे बहुत ही बुरी तरह से तड़पा रही थीं।फिर उन्होंने मेरे हाथ और पैर खोले और मुझे एक चाकू दे कर बोला।भाभी- मेरी साड़ी फाड़ो।मैं- फाड़ दूँ.

मैंने पूछा- क्या हुआ?तो बोली- पेट दर्द कर रहा है…तो मैं बोला- फिर आप हाथ मेरे ऊपर क्यों हाथ फिरा रही थी?चची डर गई और रोने लगी तो मैंने उनको गले से लगाया और आहिस्ता से उनके बूब्स पर हाथ रखा.

बस एक लालटेन जल रही थी।हम में से कोई भी किसी का चेहरा उस रोशनी में साफ नहीं देख सकता था। वहाँ लालटेन की रोशनी में उस परिवार में कुल पाँच सदस्य दिखाई दे रहे थे। दो वो पति-पत्नी और दो लड़कियां थीं, शायद उनकी बेटियां रही होंगी. थोड़ा दम ले लूं।दो पल बाद उसके धक्के जोरदार हो गए ‘दे दनदना दन दन धच्च धच्च फच्च फच्च. उन्होंने कहा- तुम्हें जो चाहिए, मांग लो… आज से जो तुम्हें चाहिए, मिलेगा!मैंने मौसी से कहा- मैं आपकी गांड मारना चाहता हू.

वो अक्सर फरीदाबाद रीना रानी से मिलने के बहाने आ जाती थी और खूब दिल भर के चुदाई करती थी. रयान के पास तो टाइम नहीं था, इसलिए उसने कुशल से बात करके अपने पिताजी से मिलने को कह दिया और जब तक मकान न मिले वो रयान के घर ही रह ले, ऐसा उसने कुशल से कहा. आज भी नीनू ने पहले नाइट बल्ब ऑफ करने को बोला तो मैंने धीरे से कहा- नहीं आज मुझे तुम्हें पूरी नंगी देखना है।वो बोली- दादी माँ कभी भी जाग सकती हैं.

! मैं पानी लाऊं?’वो रोहन था, आज तक वो मुझसे अच्छे से बात नहीं कर पाया था, पर आज उसने मुझसे बात करने की हिम्मत कहाँ से जुटाई मैं नहीं जानती पर उसका ये पूछना मुझे अच्छा लगा। मैंने उसे कहा.

भोजपुरी बीएफ ब्लू वीडियो: एक दिन मैं और मेरी सिस्टर बाइक पर कॉलेज जा रहे थे, तब एक लड़की मुझे अच्छी लगी. अब मैंने सोचा कि यह सही टाइम है उठने का… मैं उठा तो चची डर गई और नाईटी नीचे करने लगी.

मुझे भी बड़ी हैरानी हो रही थी, मैं तो समझता था कि मेरा लंड साधारण सा है, मगर गीता ने बताया- मैंने एक नहीं बहुत से लंड लिए हैं, मगर इतना लंबा, मोटा और बड़ा लंड आज तक नहीं देखा. मैं जितना अच्छा चूम सकता था, उसके नीचे वाले होंठों को पूरा मुँह में भर कर चूसा और उसने भी मुझे खूब चूमा. मैं अन्दर आ गई उसने दरवाजा बंद किया और मुझे कमरे में ले गया। वहां पर एक चॉकलेट केक रखा था और बिस्तर सफेद चादर से ढका हुआ था।मैंने कहा- ये सब किस लिए?तो आकाश ने मुझे बिस्तर पर बिठाया और कहा- केक काटो।मैंने केक काटा और आकाश को खिलाने के लिए हाथ बढ़ाया.

दोस्तो, मेरा नाम शालीन (बदला हुआ) है, मेरी उम्र 26 साल है सामान्य बॉडी है और लंड का साइज़ 6.

आप ऐसे हंस क्यों रही हो? मैंने कुछ ग़लत कहा क्या?टीना हंस-हंस के पागल हो रही थी, उसका पेट दर्द करने लगा था। काफ़ी देर बाद उसने अपने आपको संभाला।टीना- मुझे पता था तू ऐसा ही कुछ बताएगी. भाई स्कूल चला गया।मेरा कॉलेज में मन नहीं लग रहा था। मेरे दिमाग़ में रात वाली बात घूम रही थी। तभी 12 बजे के आस-पास मेरा फोन बजा और मैंने देखा तो वो उसी डिलीवरी बॉय का नम्बर था, मैंने कॉल पिक की- हैलो. पर मेरे अरमान अधूरे रह गए थे।यहाँ मैं पहली बार कहानी पोस्ट कर रहा हूँ। मेरी FB ID है –[emailprotected]ये सुहास कुमार के नाम से है। इधर आप लोग इस सेक्स स्टोरी पर मुझे अपने कमेंट्स दे सकते हैं।.