ओन्ली बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो हिंदी दीजिए

तस्वीर का शीर्षक ,

मराठी बीएफ चाहिए: ओन्ली बीएफ सेक्सी, थोड़ी देर ऐसे चोदने के बाद मैंने उसको अपने ऊपर ले लिया और उसके मम्मों को अपनी छाती में लगाकर उसके गालों को चूमते हुए नीचे से तेज तेज धक्के देने लगा.

मर्दों की सेक्सी

वह एक हाथ से मेरे मम्मे दबा रहा था तथा गंदी गंदी गालियां दे रहा था, मुझे बोल रहा था- मेरी रंडी चुद रही है … आह ले मेरी रंडी. सेक्सी इंग्लिश सेक्सी सेक्सी इंग्लिशमैंने कहा- आप तो अर्चना से भी ज्यादा क्यूट हो, बस आपकी शादी हो गयी है, इसलिए आप पे कभी ट्राय नहीं किया.

बस मामा ने वहीं लंड रोक कर मेरे मुँह को अपने मुँह में भर लिया और फिर लगा चोदने. ग्रुप सेक्सी चुदाईतभी मेरी बीवी राधिका ने मुझसे कहा- हम सभी ने बहुत रंग लगा लिया है, अब हम सब बैठ कर ताश खेलते हैं.

”तुम्हारा साइज क्या है?”साइज तो याद नहीं है, आप ऐसे अन्दाज़ से ला दीजिये.ओन्ली बीएफ सेक्सी: मैंने उंगली को उसके लबों पे फेरा, तो वो मीठी आहों के साथ बस इन खुराफातों का मजा ले रही थी.

सुमन भाभी ने आंखें मूंदे हुए कहा- यार, तुम तो बड़ी अच्छी मालिश करते हो.मौसी ने ब्रा को ऊपर खींच दिया और उनके फुटबाल जितने मोटे चूचे उनकी छाती पर दोनों दिशाओं में फैल गये.

वीडियो सेक्सी बंगला - ओन्ली बीएफ सेक्सी

मेरी भाभी का भाई जिसका नाम संजीव था, वो भी मेरे साथ काफी हंसी मजाक कर रहा था.सास ने बच्चा न होने के उलाहने और छोड़कर दूसरी लाने की धमकी देना शुरू कर दिया था.

मैंने भाभी से मिलने से पहले ही ठान लिया था कि आज भाभी को बहुत मज़ा दे कर ही उनकी बुर में लंड पेलूंगा. ओन्ली बीएफ सेक्सी पतली कमर और उसके नीचे फैलते हुए चौड़े व भारी नितम्ब।यह नजारा देख कर एक बार फिर से मेरी दिल की धड़कन बढ़ गई थी। इस बार मैंने हिम्मत करके भाभी से पूछ ही लिया- भाभी, आज मेरा एग्जाम है और आप को तो जैसे कोई चिंता ही नहीं थी मेरी.

तभी मैंने नीचे से धक्का लगा दिया और लंड उसकी चुत को फाड़ता हुआ अन्दर चला गया.

ओन्ली बीएफ सेक्सी?

आप एक काम कीजिये! मैं बाहर जाता हूँ … आप कैसे भी कर के अपना लहंगा उतार कर मुझे बाहर दे दीजिये, मैं सीऊंग मशीन पर इसको दो सिलाइयाँ मार देता हूँ , आप पहनिए और फिर हम चलें. क्योंकि मैंने नशे में उन्हें गले तो लगा लिया था, पर अब मुझे उनकी सांसें मेरी छाती पर महसूस होने लगी थीं. वो उधर दर्द से चिल्ला रही थी, पर उसके होंठों को मैंने मेरे मुँह में भर रखे थे, इसलिये उसकी आवाज दब कर रह गयी.

उसे देखकर लग रहा था कि साथ लेकर घूमने लायक तो नहीं, मगर ये बंद कमरे में चोदने लायक जरूर हो सकती है. हम लोग भी वहीं खड़े थे और दूल्हा-दूल्हन एक दूसरे के गले में माला पहना रहे थे. वह एक हाथ से मेरे मम्मे दबा रहा था तथा गंदी गंदी गालियां दे रहा था, मुझे बोल रहा था- मेरी रंडी चुद रही है … आह ले मेरी रंडी.

मैंने उसे पीछे धकेलना चाहा, पर उसने मुझे थोड़ा टाइट पकड़ा था, तो मैं उससे छूट ना सका. फिर मैंने उसके पैर को कंधे से नीचे सरकाया और एक हाथ से जांघ को पकड़ कर उसके होंठों को किस करते हुए धक्के मारने लगा. मैं पहली बार ट्रक में बैठा था, तो उसने जैसे ही स्टार्ट किया, तो गियर के झटके से मैं एकदम गिरने सा लगा.

तो चाची बोलीं- यह कैसे संभव है?मैं बोला- चाची आप मेरा साथ दो, तो सब कुछ संभव है. मेरे मुंह से सहसा ही शान्ति नाम निकला, वैसे मैं उसको कभी सीधे नाम लेकर नहीं बुलाता था.

मैंने उसकी टी-शर्ट ऊपर उठाई और उसके खूबसूरत कबूतरों की चोंच अपने मुँह में भर ली.

कहीं किसी को कुछ पता चल गया तो क्या होगा।तब वह आदमी बोला- अरे मेरी जान, 3 महीने से मेरा चूस रही हो, जब अब तक किसी को पता नहीं चला ना तो फिर अब किसको क्या पता चलने वाला है?यहां रमेश अंकल उनकी बातें सुन रहे थे और सोच रहे थे कि ये औरत तो काफी शरीफ बनती थी और यहां एक पराये मर्द के साथ मजे ले रही है।शाम को रमेश अंकल मां को गार्डन में मिले और उन्हें नमस्ते किया.

मैंने कहा- भाभी कहने में जितना मजा आता है, वो नैना कहने में नहीं आएगा. मैं उनकी आंखों से आंखें नहीं मिला सकी और अपनी आंखें बंद कर कर उनके लंड को अपने आप ही हिलाने लगी. वह एकदम चिल्लाती हुई बोली- उह्ह ओह अहमद … थोड़ा ठहरो … आह्ह अहमद आईह … आज ज्यादा दर्द हो रहा है … प्लीज रुक जाओ।तो अब्बू के मुख से निकल गया- बोलो मत … वरना सब जाग जायेंगे.

लेकिन इस बार नम्रता की गांड मेरे लंड के ऊपर थी और उसने मेरे दोनों हाथ पकड़कर अपने मम्मे के ऊपर रख दिया और गुनगुनाने लगी. घर पहुंचने के बाद सौरव का फोन आया और मुझसे पूछने लगा- कैसा लगा?मैंने कहा- बहुत मजा आया. उसके आंखें बन्द करने से और दाँत भीचने से ऐसा लग रहा था कि अभी सुराख इतना नहीं फैला है कि लंड आसानी से अन्दर चला जाए.

फिर राधिका ने सोनल को कैट वाक करने को बोला और सोनल ने कैट वाक किया.

इधर किधर?”आपको आप की मंज़िल तक पहुँचाना नहीं क्या?” मैंने थोड़ा हंस कर कहा, हालांकि ठण्ड से मेरी कुल्फी जमे जा रही थी. वो काफी चालक था, तुरंत समझ गया और अगले चक्कर में ही उसने मुझसे मोबाइल नम्बर का इशारा किया. आंटी कुतिया की पोजीशन में आ गईं और अपने चूतड़ मटकाने लगीं- लो मेरे मालिक आपके लंड के लिए पेश है इस कुतिया की भोसड़ी, ठोक दो इसमें अपना लौड़ा और भर दो इसे अपने काम रस से.

प्रिया मुस्कुराने लगी और बोली- तुम पागल हो, मेरी गलती की वजह से तुम परेशानी उठा रहे हो।प्रिया- अब मुझे भी नींद नहीं आ रही है। चलो बात करते हैं, बोर नहीं होंगे।मैं- ठीक है. मेरी साड़ी, पेटीकोट को उसने ऊपर किया और पेंटी को नीचे किया, मेरी चुत में उंगली डाली और मजे से अन्दर बाहर करने लगा. चाची ने अपनी बड़ी सी गांड को मेरे लंड पर बैठ कर फैला दिया और मैंने नीचे से चाची की चूत में धक्के देना शुरू कर दिया.

मेरे उंगली करने से भाभी का भी बुरा हाल हो गया।उन्होंने मुझे कस कर पकड़ लिया औऱ बोली- देवर जी, तुमने मुझे बहका दिया अब और मत तड़पाओ और डाल दो अपना ये गर्म हथियार मेरी चूत में। अब सहन नहीं होता।मैंने भाभी को घुमा कर झुका लिया.

’फिर वंश बोला- मम्मी मैं जिन्दगी भर तुमको चोदूंगा आहह!मैं बोली- हां चोद ले मेरी जान … चाट मेरी चूत को मेरे लाल … आअहह!तभी वो मेरे मुँह में झड़ने लगा और मूतने भी लगा. मैंने अपना बायां हाथ उठा कर वसुन्धरा के बायें कंधे से नीचे लंबवत उतारना शुरू कर दिया.

ओन्ली बीएफ सेक्सी फिर मेरे पूरे जिस्म को चूमते हुए नीचे की तरफ आयी और मेरे लंड को अपनी मुट्ठी में भर लिया और मुठ मारने लगी. यह कच्छी भी उतनी ही छोटी थी और बड़ी मुश्किल से भाभी की चूत को ढक पा रही थी.

ओन्ली बीएफ सेक्सी अक्सर जवान लड़कों को इस उम्र में सेक्स के सपने आते रहते हैं इसलिए सुबह के टाइम में उनका लंड भी खड़ा हुआ दिखाई दे जाता है. तभी अंकल ने अम्मी को बेड पर गिरा दिया और उनके गले से लेकर उनकी कमर तक पूरी जगह चाटने लगे.

इसके बाद खाना खत्म हुआ और फिर रात 10 बजे अंकल अपने घर चले गए, अब मैं और अम्मी टीवी देखने लगे थे.

मारवाङी सेक्स विडियो

करीब बीस मिनट की चुदाई के बाद में मैं छूटने वाला था और वो भी झड़ने वाली थी. अम्मी बोलीं- परवेज जी, हमारा ये रिश्ता किसी को पता नहीं चलना चाहिए. मैंने बोला- अदिति मैं तुम्हें बहुत चाहने लगा हूँ और तुमसे बहुत प्यार करने लगा हूँ, पहले दिन से ही जब से तुम्हें ट्रेन में देखा है.

वो कपड़े चेंज करना चाहती थी लेकिन जल्दी के कारण उसने ऊपर का टॉप ही चेंज किया और नीचे जिम वाली ट्रैक पैंट ही पहने रही. मैं सोच रहा था कि अब तक इसको किसी ने चोद कैसे नहीं पाया?कुछ ही देर में सोना और मैं, दोनों ही मिल कर सोनम को चाटने लगे. अब मुझे हल्का-हल्का दर्द होने लगा था क्योंकि उसका लंड बहुत ही मोटा था और उसकी स्पीड बहुत ही तेज थी.

देख सोनम, अंकल लोग सेक्स के मामले में अनुभवी होते हैं, उन्हें सब पता होता है कि उनकी पार्टनर को पूरा मज़ा कैसे देना है और सबसे बड़ी बात कि अंकल लोग शादीशुदा होते हैं, इनकी अपनी फैमिली, अपनी इज्जत होती है सो इनसे किसी लड़की को कोई धोखा खाने की सम्भावना होती ही नहीं है.

सपना ने थोड़ी देर बाद कपड़े पहन लिए और कहा- एक बात कहूँ?मैंने कहा- हां बोलो. जैसे ही मेरे लंड ने माल छोड़ना शुरू किया, वो रूक गयी और मुँह के ही अन्दर लंड लिए हुए माल को लेने लगी. ताऊ जी ने अपने लंड को कोमल की गांड से निकाल लिया और उसके ऊपर से हट गए.

मैंने भी सोचा कि चलो देखते हैं, अगर राधिका और सोनल को कोई एतराज नहीं है. वो आयी और बोली कि साहब काम तो सारा हो गया है, मैं जाऊं?मैंने बोला- ठीक है जाओ. वो अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ रहा था तो कभी मेरी चूत में अपनी उंगली डाल कर मेरी चूत को चोद रहा था.

कुछ देर इसी अवस्था में रहने के बाद मैंने अपना हाथ उसकी छाती पर फेरना शुरू कर दिया. इसलिए मैंने कई नाम से फ़ेसबुक पर सर्च किया, तो मुझे कुछेक दोस्त मिल गए.

इस सेक्स कहानी के पहले भागमैडम ने जिगोलो बनने का रास्ता दिखाया-1में अब तक आपने पढ़ा कि मेरे साथ काम करने वाली श्वेता मैडम के साथ मेरी काफी नजदीकी बढ़ चुकी थी. मैं तब तक लेटा रहा जब तक कि मेरा लंड सिकुड़ कर खुद ही भाभी की चूत से बाहर नहीं आ गया. इस कहानी पर अपनी राय देने के लिए आप नीचे दिये गये मेल आई-डी का प्रयोग कर सकते हैं.

उसने पूछा- क्या?तो मैंने कहा कि तूने जो शुरू किया था कम से कम उसे पूरा कर दे.

मैंने उससे कहा कि मैं उसको पसंद करता हूँ और उससे रिक्वेस्ट की कि मैं उससे दोस्ती करना चाहता हूं. मुझे लगता है कि जो भी कोई उनको एक बार देख लेगा, तो मुठ मारे बगैर नहीं रह सकता. मैं दीक्षा की गर्दन को चूमने लगा और ऐसे ही चूमते हुए उसके कंधों को पूरी तरह से अपने होंठों में लेकर चूमने लगा.

बंटी जी उठ गए और सनी जी ने सीधा जोर से कूदते हुए अपना लंड एक सेकंड में अन्दर पेल दिया. मेरे मन में चोर था कि कहीं आंटी ने मेरे वीर्य से सनी हुई पेंटी को देख लिया और उनको पता लग गया कि मैंने बाथरूम में आकर कुछ गड़बड़ की है तो पता नहीं क्या होगा.

पुष्पिका ने उठते हुए मेरे लंड पर हाथ फेरा और मेरी गर्दन पर किस करते हुए किचन में चली गई. उसका बोलना ही था कि मेरे एक हाथ की दो उंगलियां धीरे-धीरे उसकी जांघों पर चलने लगी. मैं तो उसी दिन सब कर लेना चाहता था लेकिन मैं उसका भरोसा जीत कर आगे बढ़ना चाहता था.

देवर भाभी का सेक्सी फिल्म

दीदी के चूसने से लंड जल्दी ही झड़ गया और दीदी मेरा पूरा माल चट कर गयी.

ये सब पहले मुझे अजीब लगा, लेकिन फिर मैं भी अपने होश खोकर उसका साथ देने लगा. नेहा के मुँह से एक पतली सी चीख निकली उम्म्ह… अहह… हय… याह… जो बारिश की तेज़ आवाज़ के बीच दब कर दम तोड़ती हुई शांत हो गयी. कुछ देर तक चुसवाने के बाद उसने मुझे दोबारा से नीचे पटक दिया और मेरी ब्रा को खोल कर मेरे चूचों को आजाद कर दिया और उन पर टूट पड़ा.

उसको पता नहीं था कि मैं बाहर बैठा हुआ हूँ, वो सिर्फ ब्रा पेंटी में बाहर आ गई. फिर एकाएक उसने पैंटी को नाक से हटाया और उसे उस किताब के ऊपर साइड में रख दिया. सेक्सी मूवी चोदी चोदाबस फिर क्या था, मैंने नम्रता की कमर कस कर पकड़ा और जितनी ताकत लगा सकता था, लगाते हुए एक जोर का धक्का लगा दिया.

उसने मुझे बाहर आने को बोला और खुद अपने रूम की तरफ गया, बाहर बरामदे की लाइट ऑन की और रूम का ताला खोलने लगा. मैं बेड पर ऐसे लेटने का नाटक कर रहा था जैसे कि मैं गहरी नींद में हूं.

मैंने जैसे तैसे उनको समझाया और विक्की का लंड उसकी बहन की चूत के अन्दर डलवा दिया. फिर ऋतु ने खुद ही अजय से पूछा- सर, आपको मेरे अंदर कौन सी चीज़ सबसे ज्यादा पसंद आई जो आप मेरे दीवाने हो गये हो?अजय बोला- वैसे तो तुम पूरी की पूरी ही मस्त हो लेकिन तुम्हारी गांड इतनी जबरदस्त लगी मुझे कि मैं इस पर लट्टू हो गया हूँ, मैंने आज तक किसी महिला की ऐसी गांड नहीं देखी है जैसी तुम्हारी है. मेरा काला सा लंड और उसके अन्दर छिपा हुआ लंड का लाल रंग का टोपा, मैडम बड़े ध्यान से देख रही थीं.

मैंने बोला- पर चुत चिकनी रखती हो … ऐसा क्यों?वो- नहीं बाबू … आज ही साफ़ की है, जब आपने बोला कि यहीं रुक जा, मैं तब ही समझ गयी थी कि आज आप मेरी चुदाई करोगे. क्या राज यहां पर आने के लिए तैयार होगा? अगर होगा तो वह राज को किस बहाने से बुलायेगी. यह एक ऐसा सवाल है जिसका ज़वाब हर स्त्री को पहले से ही अच्छे से पता होता है लेकिन फिर भी वो अपने चाहने वाले से पूछती है … बार-बार पूछती है.

उसके हाथों को मैंने उसके चेहरे से हटाया तो देखा कि आज सचमुच चांद मेरे सामने था.

फिर मैं कहाँ … आप कहाँ! पता नहीं जिंदगी में हम कभी दोबारा मिलें … न मिलें. मेरे इतना कहते ही वो मेरे मुँह पर बैठ गयी और हिल डुल के अपनी चूत चटवाने लगी.

वह शांत हो गया और दीवार के साथ सट कर हांफते हुए खुद को शांत करने लगा. जब वो हंसती, तो उसके गालों में दोनों तरफ गड्ढे पड़ते और उसके सफ़ेद दांत मोतियों की तरह चमक उठते. हवस की एक विशेषता यह होती है कि उसको जितना शांत करने की कोशिश करो, वो और बढ़ती जाती है.

मैंने ब्रा के ऊपर से ही उसके बूब्स चूसना शुरू कर दिए तो उसकी ब्रा गीली हो गई. मेरे लंड को घुसने से पहले ही उसने अपनी आँखें बंद कर ली और बिस्तर की चादर को अपने हाथ से भींच लिया. लेकिन मेरे बातचीत करने का … और रहने का ढंग ही कुछ ऐसा है कि जो मेरे साथ एकाध घंटा भी बिता ले, तो मुझे जीवन भर शायद ही भूल पाए.

ओन्ली बीएफ सेक्सी मैंने उनके चूतड़ों को उठा कर, अपने लण्ड को उनकी चूत के मुंह पर टिकाया. एक बार फिर वो हटी और इस बार लंड को चूत के अन्दर ले कर लंड के साथ खेलने लगी.

काली चूत वाली

दस बारह मिनट की चुदाई में दीदी दो बार झड़ चुकी थी और अब मैं भी झड़ने वाला ही था. उसके बाद उसने मेरी निक्कर को निकाल दिया और मैं जीतू के सामने एक पेंटी में थी. सोनल भाभी अब ब्रा और पैंटी में मेरे सामने पड़ी थी और किसी नागिन की तरह तड़प रही थी बिस्तर पर लेटी हुई.

ये कहानी मेरी और मेरी चाची और उनकी दो बहनों के बीच गुज़री हुई एक सच्ची घटना है. मगर मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि वहाँ ना कोई हवेली थी ना कोई मकान तो फिर मैं किस अक्षिता से मिला और कौन सी थी वो हवेली।कैसी अजीब पहेली थी ये जो आज तक मेरे लिए एक सवाल बनी हुई है. கங்கனா ரனாவத்मुझे बहुत दर्द हो रहा था क्योंकि उसने बहुत जोर से मेरे बालों को पकड़ा हुआ था.

उसके ब्लाउज के ऊपर से ही मैंने भाभी के चूचों को दबाना शुरू कर दिया.

मैंने उससे पूछा- क्या तुमको मैं याद हूँ?उसने बोला- बहुत अच्छे से याद हो. फिर एक और द्विअर्थी बाण छोड़ा और उसको पूछा- वैसे तुम्हारा साइज क्या है?वो एकदम चौंक कर बोला- मतलब?मैंने कहा- अरे मैं यह पूछ रही हूं कि L है, XL है या XXL है?उसने कहा- शालिनी जी, यह तो मुझे नहीं पता लेकिन हम लड़के लोग मॉल में जाते हैं वहां पर पहनते है और जो फिट आता है उसको लेकर आ जाते हैं.

मैंने अपने होंठों को होंठों से मिला दिया और नीचे की ओर चूत में जोरदार झटके देने लगा. मेरी बदली हुई नजर का शायद उन्हें अंदाज हो गया था, आंटी की नजर चुराते हुए वो मेरी टांगों को निहारते रहते थे. फिर मैंने उसके होंठों से होंठ अलग किये और उसके चूचों की दरार पर अपनी नाक घुसा दी.

अक्षिता मेरे इस प्यार से पागल होती जा रही थी।मैंने अपनी उंगलियों से उसकी फ़ांकों को फैलाया.

जब मैं उसकी फैमिली से बात कर रहा था तब उसकी नज़र सिर्फ ऋतु के बदन पर ही थी. वो चिल्लाने लगी- आह-आह … आह बस ऐसे ही और तेज पंकज …मैं लंड को तेज-तेज चुत में अन्दर-बाहर करने लगा. इस बार अंकल को उन पर दया आ गयी और दो चार तेज धक्के लगाकर उन्होंने अपना लंड बाहर निकाला.

शिल्पा सेक्सी व्हिडीओ[emailprotected]कहानी का अगला भाग:जाट छोरे नै जाट छोरी की सीलपैक चूत चोदी-2. आह सुमन भाभी की संगमरमर सी चिकनी और गोरी जांघें देख कर मेरा कंद एकदम से आन्दोलन करने लगा था.

एक्स एक्स एक्स वीडियो देखना

थोड़ी देर तक मुझे चोदने के बाद एक बार वो फिर 69 की पोजिशन पर आयी, लेकिन इस बार उसने कूल्हे फैला दिए और मेरे मुँह पर रख दिए. मैं पूल के पानी में तैरते हुए मजा ले रही थी कि फिर से दरवाजे बेल बजी. सी!उधर वसुन्धरा के दोनों हाथों की उँगलियों के नाख़ून मेरे सर में गड़े जा रहे थे और इधर मेरा बायां हाथ वसुन्धरा के पेट का पूरा जुग़राफ़िया नाप रहा था.

अब्बू ने पहने और फिर कौसर से बोले- कैसा लगा?कौसर मुस्कुरा कर नंगी ही उठ बैठी और अपना चेहरा अपनी चूचियों और घुटनों में छिपा लिया. मैंने गेट पे उसे रोका और बोला- दीदी, तुम गेम पूरा नहीं कर पाईं, इसकी सजा तो तुम्हें मिलेगी. लण्ड अब मेरे कंट्रोल में नहीं था। वो झुक कर अपनी चूत में साबुन लगाने में मस्त थी। मैं चुपके से अंदर घुस गया। साथ में पाजामा और अंडरवियर भी उतार लिए। वो तो झुकी हुई थी और पीछे से मैंने अपना लण्ड उनकी उभरी गांड पर टिका दिया।वो अचानक से हुई मेरी इस हरकत से घबरा गई और मेरी तरफ घूमी.

मेरी चूत के पानी की गर्मी से उनके लंड का भी पानी निकलने को हो गया था. चाहे मुझे अपने हाथों से ही मुट्ठ ही क्यों न मारनी पड़े। लण्ड तो मेरा हर समय, हर जगह खड़ा ही रहता है। मगर अपने लंड की प्यास तो रात को ही बुझा पाता हूं।बहुत दिनों से मेरे लण्ड को चूत के दर्शन नहीं हुए थे, तो मैंने सोचा कि चंडीगढ़ में तो किसी भी लड़की, आंटी और भाभियों की चूतों को मेरी जरूरत ही नहीं है। शायद सबकी चूतें शांत होंगी. वो बोली- आई लव यू शिव … जल्दी आओ बाय…दोस्तो, कैसी लगी मेरी ये सच्ची सेक्सी कहानी … जरूर बताना, मुझे आपके ईमेल का इंतज़ार रहेगा.

मेरी ये सेक्स कहानी आपके लंड में तूफान और चुत में रस की बाढ़ ला देगी. कौसर बेगम की पूरी चूत पानी से लबालब थी। अब्बू ने मेरी बीवी कौसर को जांघें चौड़ी करने को कहा.

कहानी के दूसरे भाग में आपने पढ़ा कि मेरी बहन मानसी अपनी चूत में डिल्डो लेकर मजा ले रही थी.

हाय … क्या बताऊं … उसके गोरे बदन पर काले रंग की ब्रा में खड़े हुए उसके चूचे देखकर मैं तो पगला गया. सेक्सी पिक्चर आजा वीडियो मेंउनके मेरे लंड पर बैठते ही मेरा 6 इंच का लंड उनकी चुत को फाड़ता हुआ पूरा का पूरा भाबी की चुत में फंस गया, जिससे भाबी को थोड़ा दर्द होना शुरू हो गया. ஹிந்தி பிஎப்मैंने श्वेता मैडम के पहले दो लड़कियों से शारीरिक संबंध बनाए थे और अब भी हैं. मैंने उसकी गांड को कस कर पकड़ लिया उसकी गांड में धीरे-धीरे लंड को उतारना शुरू कर दिया.

कुछ ही देर में दिन का उजाला हो गया, तो हम स्टेशन से बाहर आकर टैक्सी वाले से अपना अपना पता दिखा के पूछने लगे.

फिर उसने नारियल के तेल की शीशी से तेल निकाल कर अपने लंड पर लगाया और थोड़ा सा तेल मेरी चूत के मुंह पर भी लगा दिया. दो मिनट तक लंड को मेरे मुँह में अन्दर बाहर करने के बाद उसने लंड बाहर निकाला, तब मैंने राहत की सांस ली. मेरी समझ में नहीं आ रहा था कि पता नहीं कमल मेरे बारे में क्या सोच रहा होगा.

दीदी बहुत ज़ोर से चिल्ला पड़ी और बोलने लगी- हरामखोर जल्दी बाहर निकाल. चाची मुझ पर गुस्सा करने लगीं- अरे ये क्या कर रहे हो जीशान? छोड़ो मुझे. तू देख नहीं रहा कि तेरी बेटी बंध्या कैसे खुश हो रही है मेरा लौड़ा लेकर? मैंने इसके साथ कोई जबरदस्ती नहीं की है, ये अपनी मर्जी से ही चुद रही है.

चुड़ै दिखाओ

कुछ देर पहले ही भाभी मेरे साथ झड़ चुकी थीं तो उनकी चुत पूरी गीली हुई पड़ी थी. अपने दोनों हाथों को अपने सीने पर क्रास बांधे हुए, काली कजरारी आँखों में सैंकड़ों सलाम और सवाल लिए वसुन्धरा की वही अदा. ”अईं … ऐसा कह रही थीं?”हां बिल्कुल ऐसा … साफ साफ!”चलो कोई बात नहीं, पड़ोसी हैं, सुन डालो.

फिर उसने लंड को अपने मुंह से निकाल लिया और मेरी जांघों पर लंड के आस-पास से चूमने लगी.

मैंने मेरी साली को जम कर रंग लगाया और इसी दौरान उसके मस्ताने जिस्म का टटोल कर जायजा भी ले लिया.

जब मैंने जीभ अंदर डाली तो उसने अपनी टांगें उठाईं और मेरे कन्धे पर रखते हुए मुझे अपनी टांगों के बीच में जकड़ लिया. अगर मैं अंकल को बोलती कि मुझे जाने दो तो वो बाजू हो जाते, पर मेरे अन्दर तो वासना भरी हुई थी. होली का सेक्सी पिक्चरमैंने अपना बायां हाथ थोड़ा सा और पेटीकोट के अंदर घुसाया, तत्काल मेरी उंगलियां जाली जैसी संरचना से टकराई.

मेरे सभी दोस्त लड़की पटा चुके थे और जब जी में आता उन्हें चोदते भी थे. वो बोला- तो क्या फिर से मजा नहीं लेना चाहोगी?मैंने कहा- मन तो कर रहा है लेकिन भैया-भाभी आ जायेंगे तो उनको पता लग जायेगा और वैसे भी हम शादी में आये हुए हैं अगर किसी और ने देख लिया तो बहुत बदनामी हो जायेगी. अब ताऊ जी ने लंड को चाची के चूत के छेद पर रख के जोर से कमर को झटका दे मारा.

मैं उनको आवाज लगाने को हुई, उसी समय मुझे उनके बेडरूम से ‘अउम्म … अहह … ‘ की आवाजें आ रही थीं. वो बोली- मैं तुम्हें उसी के लिए यहां पर बुलाने आई थी लेकिन तुमको जब सोते हुए देखा तो मेरे अंदर सेक्स करने की इच्छा जागने लगी.

डिनर करके दोनों सीमा के फ्लैट के आधे रास्ते में ही पहुंचे ही थे कि एक साथ तेज बारिश शुरू हो गयी.

मैं बोला- साली हरामजादी, मेरे से चुदने में तुझे रोना आता है और अब तू बड़ी चुदक्कड़ बन रही है. सुमन मेरी तरफ देख के बोली- तुम्हें नंगी लड़कियाँ पसंद हैं क्या?मैंने भी बोल दिया- मुझे सिर्फ तुम को नंगी देखना है. अम्मी अंकल के सीने पर किस करने लगीं और उनकी घुंडियों को काटने लगीं.

गुजराती बीपी सेक्सी सेक्सी आज से 2 साल पहले सीमा भाबी और विकास भैया को रूम की तलाश थी, इसलिए हमने उनको कमरा रेंट पर दे दिया था. फिर उन्होंने मुझे इशारों में कहा की यह डील जरूरी है, नहीं तो आपका यह नौकरी का आखिरी महीना हो सकता है.

दोस्तो, यह मेरी पहली कहानी उस वक्त की है, जब मुझे गांड मरवाने का शौक लगा. सिर्फ हम दोनों ही बाहर निकले, बाहर हमें कोई नहीं जानता था, इसलिए जब उसने मेरी कमर पे हाथ रखा, तो मुझे कोई एतराज नहीं हुआ. साहिल उठ कर दरवाजा खोलने के लिए गया तो दरवाजे पर समीरा बानू खड़ी थी.

અંગ્રેજી સેક્સી પિક્ચર

दो-तीन चक्कर लगाने के बाद नम्रता बैठ गयी और फिर मुझे छत का चक्कर लगाने को बोली. अंकल- कैसा है फातिमा जी?अम्मी बोलीं- आज से सिर्फ फातिमा कहो … और आपका लंड बहुत अच्छा है. दरअसल हम दोनों ही आपस में इतने खुले हुए थे कि खुद को एक ही फैमिली का सदस्य समझने लगे थे.

मैं बोला- अरे यार इतनी शर्मा क्यों रही हो … तुम्हें चोदने के लिए उतारा है. मेरी भी छुट्टियां चल रही थीं, तो मैं भी तैयार हो कर उनके साथ लखनऊ चल दिया.

अपनी चारपाई को खींच कर मैं खिड़की के पास ले आया और नेहा को मैंने उस परगिरा दिया.

मुझे उसके होंठ इस समय इतने मस्त लग रहे थे कि मैंने उसके होंठों को अपने होंठों में दबा लिया और उसके होंठों का रस चूसने लगा. इससे पहले कि मैं अपनी कहानी शुरू करूं, मैं आपको अपनी कजन यानि चचेरी बहन और उस वृद्ध का परिचय करा दूँ. पता नहीं क्या हो गया था कि इतनी उत्तेजना हो गई थी कि मेरा पानी वहीं पर निकल गया.

मैं लगातार आंटी की चुत से लेकर गांड के गोल गोल गुलाबी छेद तक चटाई कर रहा था और बीच बीच में कभी टीना आंटी की बुर में और कभी गांड के छेद में जीभ भी अन्दर कर देता. अब मेरी जीभ और होंठ कभी श्वेता मैडम चूस रही थीं, तो कभी मैं उनकी जीभ और होंठ चूस रहा था. मौसी ने मुझे और मेरी बहन से कहा- तुम दोनों यहीं पर रहो, हम जाकर आते हैं.

वैसे तू इसके लायक तो नहीं है लेकिन फिर भी मैं इससे पूछ लेता हूं कि ये तेरे साथ करने के लिए तैयार है या नहीं.

ओन्ली बीएफ सेक्सी: मैंने अपने बैग से टीशर्ट निकाला जो बहुत लंबा था, मेरे घुटनों तक आता था. फिर पूछ बैठा- यार, तुम्हारी गांड मारी?नम्रता- अरे यार सुनो तो, मैं सब कुछ बताऊंगी.

पहली बार मैंने अपनी आंखों के सामने इस तरह किसी लड़के के लंड को यूं तना हुआ देखा था. उसकी भी चीख निकल गयी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मैंने पूछा- दर्द क्यों?तो वो बोली- बाबू साल भर बाद चुद रही हूँ … पति तो छूता भी नहीं है. रूपाली ने मुझसे कहा- तेरे घर में तेरा भाई तो है, उसी से क्यों नहीं चुद लेती तू?मैंने कहा- ये कैसे हो सकता है? मैं अपने भाई से कैसे चुद सकती हूं?मैंने उसकी बात को इग्नोर कर दिया.

कहानी के पहले भाग में आपने पढ़ा कि एक फ़िज़ियोथेरेपिस्ट राहुल जो तैराकी में भी चैंपियन था, उसे नॉएडा के बड़े अस्पताल में जॉब मिली.

मेरा मानना है कि किसी भी घर में मेरा पहला रिश्ता इस बात को तय करेगा कि मैं उस घर की औरतों को चोद पाऊंगा या नहीं. वह हंसने लगी और बोली- भाग यहां से!मैंने अंगड़ाई सी लेकर आंटी के सीने पर हाथ रख दिया और सीधे ही अपने होंठ उसके होंठों पर रख कर चूसने लगा. थोड़ी देर मेरी चूत को सहलाने के बाद उसने अपना लंड एक बार में ही मेरी चूत में डाल दिया और मेरी चूत को चोदने लगा.