भाभी की चूत वाली बीएफ

छवि स्रोत,हिंदी देहाती देसी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

dipak सेक्सी वीडियो: भाभी की चूत वाली बीएफ, दरअसल एक बार जब हम दोनों उसके घर में सेक्स कर रहे थे, तो उसकी बेटी विदेश से उससे बिना बताए घर आ गई थी.

बीएफ एचडी वीडियो चुदाई

मुझे एक अजीब सी ठंडक मिलने लगी और मैंने महसूस किया कि उनकी चूचियां मेरी छाती में कुछ ज्यादा ही गड़ रही हैं. एक्स एक्स एक्स हिंदी हिंदी वीडियोहम दोनों सेक्स कर रहे थे तो दरवाजे से मेरी साली बेटी हमारी कामलीला देख रही थी.

हालाँकि मैं आया तो था चाची की शिफारिश से उनकी बहन के पास … लेकिन बहन का रवैया देखकर मुझे कुछ अच्छा नहीं लगा. एक्स एक्स एक्स देसी भोजपुरीमैं धीरे धीरे उनके चूचों को चूसते हुए नीचे आ गया और जीवन में पहली बार चूत को चाटने लगा.

दोस्तो … इनके बीच ये नॉर्मल बात है, ये एक दूसरे को पूरा नंगा (न्यूड) देख चुके हैं.भाभी की चूत वाली बीएफ: फिर बिना कुछ कहे मेरे होंठ उसके प्यारे लाल सुर्ख होंठों से टकरा गए और हम दोनों एक दूसरे को ऐसे चूमने लगे जैसे कि ये पहली और आखिरी बार का प्यार हो.

भैया की शादी में जब तुम्हें देखा, तब से ही मैं अपना दिल तुम्हें दे बैठी थी.जैसे ही मैं रूम में गया, रचना बोली- बोलो बेबी, आज तुम्हारी क्या सेवा करूं?रचना मुझे प्यार से बेबी कहती थी और मैं उसे जानू कहता था.

भारतीय बियफ - भाभी की चूत वाली बीएफ

रूबी- तू बावला है … मैं क्यों बताऊँगी और ऐसी क्या बात है?मैं- चल छोड़ मुझे डर लग रहा है.शायद तब तक मुझे कोई अच्छी सी नौकरी भी मिल जाए और तब मेरे मम्मी पापा मुझ पर दबाव भी नहीं डाल पाएंगे.

रूबी सुपारे की मोटाई से तड़फ उठी और बुरी तरह से कराहने लगी- आह उम्म आई … फट गई मेरी चूत … निकाल ले साले मुझे नहीं चुदवाना … आह बहुत दर्द हो रहा है. भाभी की चूत वाली बीएफ मैंने देखा, तो खुशी ने अपनी ब्रा पैंटी निकाल कर बेड पर ही रख दिए थे और वो एक पारदर्शी गाउन पहन कर खड़ी थी.

कुछ सेकण्ड्स बाद मैंने लंड बाहर निकाला और मदहोशी में आंखें बंद करके दीवार के सहारे से शॉवर के नीचे बैठ गया.

भाभी की चूत वाली बीएफ?

वो बोली- अगर तुमको कुछ ऐतराज ना हो, तो मैं तुम्हारे साथ हर रोज आ सकती हूँ क्या? मैं आपको महीने के पैसे दे दूंगी. तो जैसे ही हम दोनों चाची जी के घर पहुंचे, चाची जी गले लगा कर मेरा स्वागत किया. आज सही समय लग रहा है मुझे क्योंकि मुझे पता था आज तुम्हारी मम्मी तुम्हारी मौसी के घर जाएगी और तुम घर पर अकेले होंगे.

करीब 4 बजे नींद में किसी औरत की कराहने और रोने जैसी आवाज मेरे कानों में पड़ी. मेरे लौड़े के दबाव से आँटी की स्कर्ट उनके चूतड़ों में अन्दर चली गई थी. इसलिए मामाजी के घर पहली बार अनु दीदी को लेकर मैं दोपहर को पहुंच गया.

अगले दिन इंस्टीट्यूट में छुट्टी थी तो रात को ही उस ऑटो वाले लड़के को कल मिलने को बोला. कुछ दिन बाद मेरी शादी की सालगिरह के बारे में मैंने उनको जानकारी दी तो उन्होंने मुझे जल्दी ऑफिस आने को कहा, वह भी साड़ी पहनकर. कुछ देर की मस्ती के बाद उससे रहा नहीं गया और उसने अपनी एक टांग को अपने लोअर बाहर निकाल दिया और मेरे लंड में थूक लगा कर मेरे ऊपर चढ़कर बैठ गयी.

मैं भी भाभी के बूब्स और निप्पल्स से खेल रहा था, उनके निप्पल्स भी कड़क होने लगे थे. मैंने उस समय घर पर कमरा बदलने की बात कही थी जो भैया को पता चल गई थी.

मैं चाह रही थी कि उसके गर्म लंड को हाथ में पकड़ कर देखूं मगर फिर मैंने सोचा कि ये अब दो मिनट बाद खुद ही पूरा नंगा हो जायेगा.

समीना इस बात से अनजान थी कि मैं उसकी नौकरानी की चूत भी मार रहा हूँ.

मेरा नाम सिर्फ़ उस कॉलेज में चलता है बाक़ी मैं हमेशा हॉस्टल की ही टीम के साथ प्रैक्टिस करती और खेलती हूँ. मैं जान गया कि ये दोनों की प्लानिंग थी और अब दोनों मिलकर मेरी गांड चोदेंगे. गुलजान की मोटी मोटी चुचियां मेरे सीने के नीचे दब रही थीं और मुझे एक मखमली गद्दे का अससास करा रही थीं.

जवां हुस्न की मल्लिका अर्चना मेरा भरपूर सहयोग कर मुझे मस्त मज़ा दे रही थी. मैं भाभी की गांड में ज़ोर से झटका दे रहा था, जिससे उनकी चीख निकल रही थीं और वो गुलजान की चूत को काट ले रही थीं. चूंकि वो सब मेरे कार्यक्षेत्र का मामला था तो मुझे सारा इंतजाम करने में ज्यादा समय नहीं लगा.

मैंने अनन्या को बोला हुआ था कि डिनर तुम यहीं करोगी, इसलिए वो ऑफिस का काम खत्म करने के बाद हमारे यहां चली आई.

विक्रम बोला- सॉरी यार, मैं महीनों से भूखा था, इसलिए तेरी बीवी को मैंने इतना परेशान किया. अब मैंने अपने आपको थोड़ा हिम्मत दी और अपने होंठ उसके एक निप्पल पर रख दिए. मैं उठा तो देखा कि दिव्या मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूस रही थी.

मुझे मालूम था कि ऐसी तंग चूत को खोलने के लिए एक जोरदार प्रहार की जरूरत है और उसकी चीख इस प्रहार से जरूर निकलेगी. ब्रो सिस सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं अपने मामा के घर गया तो मामा की बेटी यानि अपनी ममेरी बहन को कैसे मामी की जानकारी में चोदकर आया. वो बोला- वो मेरी स्पेशल वाली कोल्डड्रिंक है, बाजार में नहीं मिलती है.

फिर अपने घर की चाबी निकाल कर दरवाजा खोलकर अन्दर आ गयी और सब लाईटें जला दीं.

जवाब में मैंने उसकी चूची के निप्पलों को जोर से उमेठ दिया और जोर जोर से मसलने लगा। अब मैंने उसकी चूत में झटके मारने शुरु कर दिए थे. रूम में ही एक चार फिट की दीवार बनाकर एक बाजू आने जाने को रास्ता कर रखा था और इधर बेडरूम बनाया था.

भाभी की चूत वाली बीएफ पता नहीं मैं इतनी ज्यादा चुदासी कैसे हो चुकी थी क्योंकि मैंने आज तक इतनी ज्यादा खुजली अपने अन्दर कभी भी महसूस नहीं की थी. आंटी 5 मिनट बाद अलग हुईं तो मैंने कहा- मैं आपको बहुत पसंद करता हूँ.

भाभी की चूत वाली बीएफ पूरे कमरे में हम दोनों की चुदाई की मदमस्त कर देने वाली आवाजों ने कब्जा कर रखा था. यह सुन कर भाभी भी थोड़ी शांत हो गईं और उन्होंने मुझे देखा तो मैं एकटक उनकी चूत को ही घूर रहा था.

हो सकता है कि मैं तुरंत उत्तर ना दे पाऊं क्योंकि कहानी प्रकाशित होने पर मुझे काफी मेल आते हैं, तो सबका उत्तर दे पाना थोड़ा मुश्किल हो जाता है.

बीएफ चुदाई वाली व्हिडिओ

डॉक्टर बोला- अरे तुम टेंशन मत लो … तुम्हारी बीवी तो मेरी बीवी जैसी ही है. उन्होंने मेरा हाथ मेरी चूत से हटा दिया और मेरे दोनों हाथों को पीछे ले जाकर उन्हें अपने हाथ से पकड़ लिया. उस दिन दोपहर में मम्मी के पास एक रिश्तेदार का फ़ोन आया, जिसमें उन्होंने बताया कि उनकी लड़की की कल शादी है और उन्होंने कार्ड भेजा था लेकिन गलत पते की वजह से वो उनके पास वापस आ गया.

मनीष अपनी साली के गले लगे लगे बोला- अब घर भी चलना है … या यहीं से मिल कर वापस जाने का इरादा है. मैंने तुरंत वक्त ना गंवाते हुए भाभी को विधि करने बैठा दिया और झूठी विधि करने का ड्रामा चालू कर दिया. बस उस दिन के बाद से जब भी मेरा मन ब्लोजॉब का करता था, मैं चॉकलेट को लौड़े पर लगा कर समीना से लंड चुसवा लेता था.

मैंने उसको संभाला मगर वो अनायास ही मेरे सीने पर सिर रख कर रोने लगी इसलिए मैंने उसे कस कर गले से लगा कर उसको चुप कराया और उसके साथ कहीं बाहर घूमने का प्रस्ताव रखा.

वो सोने से पहले कपड़े चेंज करने गईं और जब बेडरूम में आईं तो मेरी आंखें फट गई थीं. वे हेलीमा से बोलीं- जब तुम तीनों को चुदाई पूरी हो जाए और राज अपने फ्लैट में चला जाए, तो गेट बंद करके सो जाना. उस दिन मैंने ऑफिस से यह कह कर कि मेरी बुआ का लड़का आया हुआ है … मुझे कुछ काम है … छुट्टी ले ली.

वो मेरे लंड से खेल रही थी और मुँह में लेने के लिए उतावली हो रही थी लेकिन मैं जल्दबाज़ी में नहीं था. वहां पर ट्रैफिक काफी होता है इसलिए कार से चलने में काफी समय लग जाता है। हम लोग ड्राइव करते हुए आ रहे थे. उसकी गर्म गर्म सांसें मुझे महसूस हो रही थीं, जो मुझे पागल कर रही थीं.

कमरे में कूलर और पंखे के चलने के बावजूद भी पसीने से भीगे मेरे चेहरे को और सीने को अनामिका चूमने लगी. उसकी चूचियों के पीछे दिख रहे उसके सुर्ख लाल होंठ अब आनंद में खुलने लगे थे.

मैंने सोचा कि शायद ये अब तो उसे छोड़ देगा मगर उसे पता नहीं क्या जोश चढ़ा था. हम दोनों ऐसी सेक्सी बातें कर रहे थे और हम दोनों फिर से गर्म होने लगे थे. मुझे इंटर्नशिप करते हुए चार महीने हो चुके थे और अब आखिरी महीने से पहले मुझे अपनी रिपोर्ट और प्रपोजल सबमिट करना था.

बीस मिनट बाद जैसे ही अंकल ने दरवाज़े पर दस्तक दी, मैं तुरंत खोलने पहुंच गयी.

अब सुरेश का एक हाथ सोनी की चूची दबा रहा था और दूसरा हाथ उसकी जांघ को सहला रहा था. मैंने कहा- ये सब क्या है, मैं नहीं करूंगी यहां पर!विपिन बोला- अरे दीदी नखरे मत करो … जल्दी से आ जाओ. कुछ देर बाद मैंने ललिता भाभी को उठाकर अपने लौड़े पर बैठा दिया और पोर्नस्टार की तरह चोदने लगा.

जब पहली बार मैंने उसको अपनी बिल्डिंग की छत पर देखा था, तो वो कपड़े धो रही थी. खुद अपनी कच्छी मुँह में दबाते हुए और पानी गांड ऊपर उठाते हुए आंखें बंद करके वो मेरे जीभ की कलाबाजी का मन माफिक आनन्द ले रही थी.

मैं बोली- आगे भी मुझे ही बताना पड़ेगा या तुम भी कुछ करोगे?विपिन मुस्कुराया और बोला- नहीं दीदी अब मैं अपने आप कर लूंगा. खुशी चूत रगड़ने में इतनी मदहोश हो गई थी कि वो आह आह करती हुई मचलने लगी. मैंने कहा- नहीं, मुझे कुछ नहीं चाहिए।मैं उसकी आंखों में देख रही थी और वो मेरी आँखों में देख रहा था.

हिन्दी सेक्सी भिडीयो

वो बोलीं- मैं ये बात तुम्हें कैसे बताऊं मेरी समझ में नहीं आ रही है.

शायरा को कैसा लगा और कैसा नहीं, ये तो मुझे नहीं पता मगर उसको देखकर लग रहा था कि शायद वो भी यही चाहती थी कि मैं खुद आगे से उससे बात करूं. मैं मन ही मन खुश हो गयी कि चलो मेरे सब्र का फल बहुत मीठा होने वाला है. अब जब भी हमें मौक़ा मिलता है, तो हम दोनों किस कर लेते हैं, कभी कभी मैं उनके चूचे भी दबा देता हूँ.

हम दोनों लग गए और धकापेल चुदाई के बाद जब वो पूरी तरह से ठंडी हो चुकी तो मैंने वो ही लंड उनकी कमर से बांध दिया. दोस्तो, चाहे आपके उत्तर अच्छे हों या बुरे … मुझे जरूर बताना क्योंकि आपके रिप्लाई से ही पता चलता है कि मेरी स्टोरी कैसी लिखी गयी है. बंगाली सेक्सी बीएफ पिक्चरमैंने उसको कपड़े पहनाए और सहारा देकर ख़ामोशी से उसके कमरे तक छोड़कर आया.

मगर बाहर वाले बाथरूम में रिपेयरिंग का काम चल रहा था और वो हमने बंद किया हुआ था. मैंने संचालन का काम दूसरे व्यक्ति को सौंपा और उसके पास आकर बैठ गया.

[emailprotected]जवान लड़की की सेक्सी कहानी का अगला भाग:लंड चुत गांड चुदाई का रसिया परिवार- 3. मैं नीचे बैठ गया और उनकी नाभि, चूत के इर्द-गिर्द के भागों को चूमने लगा. पार्क में जिस समय आंटी एक्सरसाइज़ करती थीं, तो उनकी छातियां ऐसी हिलती थीं, जैसे कोई मदमस्त हथिनी उछल रही हो.

घर में आकर मैंने बैग में से अपनी लुंगी और तौलिया बाहर निकाली और बैग एक कोने में रख दिया. मैंने उनको अपना नाम ग़लत बताया और कहा कि एक औरत को अपने वश में करना है. फिर हम दोनों एक साथ बाथरूम में नहाए और नहाते हुए एक बार फिर सेक्स किया.

जैसे ही चुदाई खत्म हुई, रूपा का फोन आया और बोली- लंच तैयार है, जल्दी से आ जाओ.

वो बहुत जोर से चीखी क्योंकि उसकी चुत जमाने से बिना चुदी हुई थी और वो नई लड़की की तरह से ही हो चुकी थी. अंकल ने लगभग सोलह सत्रह लाख का एस्टीमेट बनाया था कि उतने में जगह हो जाएगी.

ये सब मेरे लिए एकदम नया था, तो उनको देख कर मुझे ज़्यादा मज़ा आने लगा. कद काठी में पूरे लंबे, पूरे हट्टे कट्टे, गोरा रंग लिये।पहले ट्यूशन करते थे और फिर नौकरी लगने पर यहां आ गये थे. मगर जब मैं बार-बार पूछने लगा, तो उसने एक बार कह ही दिया कि मुझे खाने को तो कुछ नहीं चाहिए लेकिन तुम्हें यहां आना है, तो तुम आ सकते हो.

मैंने प्रियंका की गांड में जैसे ही लंड डाला … वो मजे से कराह उठी- आह जीजू … बहुत अच्छा लग रहा है. जैसे गुलाब का फूल मधुमक्खी को खींचता है, उसी तरह रचना की चूत मेरे लंड को अपनी तरफ खींच रही थी. आप समझ रहे हैं न … उसकी चूचियों का जरा सा भी दाब मुझे महसूस नहीं हो सका.

भाभी की चूत वाली बीएफ मगर कुछ सालों तक मेरी किस्मत ऐसी थी कि चूत के दर्शन किये मुझे कई महीने हो जाते थे।मैं एक शादीशुदा आदमी हूँ मगर मेरी पत्नी एक ठंडी बोतल है जो कभी गर्म नहीं होती थी. अब तक आपने पढ़ा था कि मैं अपनी सलहज की चूत में अपना मोटा लंड पेल कर उनकी चुदाई कर रहा था और वो मोटा लंड न झेल पाने के कारण तड़फ रही थीं.

बीएफ ब्लू पिक्चर सेक्सी वीडियो हिंदी

इसलिए मैं जानवर बन चुकी थी और मैं राकेश के मुँह को और उसकी छाती को भी नौंच रही थी. मतलब ऊपर वाले ने मेरी चुत के लिए लंड का इंतज़ाम एकदम पक्का करके रखा था. करीब 20 मिनट तक चूत चुदाई के बाद मैंने पूरा माल उसकी चूत में भर दिया.

स्नेहा ने जैसे ही चिराग की आवाज सुनी तो ब्रा उठा कर अपने स्तन पर ले ली और ब्रा ठीक से पहनते हुए बोली- तुझे इतना भी नहीं पता कि किसी लड़की के रूम में बिना नॉक किए नहीं जाना चाहिए?चिराग- ओये भूतनी … ये हमारे बीच कब से होने लगा और तेरे पास ऐसी कौन सी चीज बची है, जो मैंने नहीं देखी. उसकी चूचियों को दबाते हुए मुझे महसूस हुआ कि उसके निप्पल कठोर होने लगे थे. કનાડા સેક્સ વીડિયોक्योंकि मैं जब शायरा से मिलने उसके घर गया, तो मकान मालकिन पहले ही उसके पास बैठी हुई थीं.

इतने में जोश में मैंने अनामिका के दोनों निप्पलों को मसलते हुए कहा- उधर देख प्रियंका को … साली कैसे खीरा अपनी चूत में पेल रही है.

फिर आपा बोली- आसिफ, अपना लंड अपनी सबीना आपा से नहीं चटवाओगे क्या? जो अब तेरी बीवी बन जाएगी. जब मुझे लगा मेरे लंड से माल निकलने वाला है तो मैं तुरंत बाथरूम में जाकर मुठ मार कर ठंडा हो गया.

उसकी चूत को देख कर ही मुझे पता चल गया कि ये चुदना तो दूर … इसने कभी चुत में उंगली तक नहीं की होगी. सुबह फिर से मुझे गांव आना था लेकिन आज आने का मन नहीं कर रहा था क्योंकि दिव्या का इवेंट कल ही ख़त्म हो गया था. कुछ देर की चुसाई के बाद प्रियंका ने थोड़ी चॉकलेट अपने चूचों में गिरा दी और अनामिका के ऊपर पलट कर बैठ गई.

लेकिन एक दो दिन देखने के बाद मुझे लगा कि ये लौंडिया शायद उम्र में मुझसे काफी छोटी है.

मैंने तुरंत विजय के निक्कर को अपने हाथ से नीचे किया और उसने भी अपने पैरों में से उसे निकल जाने दिया. उससे दो चार बार मिलना होगा, धीरे धीरे उससे खुलना होगा और इसके लिए बातों को सिलसिला मुझे ही चालू रखना होगा. मैं- हां मिलता तो है … पर होटल के खाने में प्यार नहीं मिलता, जो आपके नाश्ते में मिला है.

सेक्सी बीएफ औरत वालाअब दोबारा से चिकना करने की जरूरत थी वर्ना साबुन के सूखा होने से त्वचा में जलन हो सकती थी. उसके लेटने पर मैंने उसके पेट पर एक दिया रख दिया और कहा- सीधे लेटे रहना … ताकि दिया गिरे नहीं.

बीएफ चुदाई वाली बीएफ

वो बोलीं- अरे सीधे मिल कर बात करते हैं न!मैंने मुस्कुरा कर कहा- ये तो वही मिसाल हुई कि अंधा क्या चाहे … दो आंखें. स्नेहा भी थकावट के कारण ज्यादा नहीं बोली और अपने रूम में आराम करने के इरादे से आ गई. सरिता आगे आगे ऊपर कमरे में जाने के लिए सीढ़ियां चढ़ने लगी, मैं उनके पीछे चलने लगा.

सुरेश ने झुक कर उसके चूतड़ों पर चुम्मा लिया और उसके चूतड़ थपथपाये।फिर सुरेश ने अपना लंड उसकी चूत पर सटा दिया. मैंने अपने तने हुए लिंग को नारियल के तेल में डुबोकर लिंगमुण्ड उसकी गुदाद्वार पर रखा।वो शायद इस हमले से अंजान थी. कि तख्त पर बैठकर सब्जी काट रही मामी ने कहा- विजय ये कुछ छिलके नीचे गिर गये हैं, उन्हें भी उठा लो.

गुलजान और हेलीमा और के लिए ये नया अनुभव था, तो दोनों की चुत ने एक साथ पानी छोड़ दिया. मुझे आज भी वो दिन याद है, जब साले साहब की शादी में डांडिया लाने के ऊपर चाची ने मज़ाक में कह दिया था कि दीपक के पास तो ऑलरेडी लंबा मोटा डंडा होगा, इनको नकली डंडे की क्या जरूरत होगी. देसी आंटी सेक्स कहानी का अगला भाग:कोटा में कोचिंग और चुदाई साथ साथ- 2.

इससे मैं समझ गया कि आज मेरी छम्मक छल्लो अपनी जवानी लुटाने का मूड बना कर आई है. मैंने कुछ देर उसे और चोदा फिर लंड निकाल कर उसके मुँह में लंड दे दिया.

हॉट यंग टीन पोर्न कहानी में पढ़ें कि कैसे बाप बेटी की आपस की शर्म खुली और उनकी गुड मोर्निंग किस वासना भरे चुम्बन में बदल गयी.

[emailprotected]पार्क सेक्स कहानी का अगला भाग:चढ़ती जवानी में सेक्स की चाह- 5. 16 साल की लड़की का बीएफसबके निकल जाने के बाद मैंने दरवाज़ा भेड़ा और लैब वाले रूम में अन्दर आकर साइड में होकर मैं अपने कपड़े बदलने लगी. कालेज सेकसकुछ मिनट के आराम के बाद मैं सर उठाकर अदिति को देखने लगा तो वो आंखें बंद करके लेटी थी. मेरा एक भी टारगेट नहीं हुआ था लेकिन आज 50 लाख की पॉलिसी डन होने वाली है.

मैंने बीस मिनट से ज्यादा आपा को चोदा और कहा- आह सबीना डार्लिंग, मैं झड़ने वाला हूँ, जल्दी बोल … लौड़े का रस कहां निकालूं?आपा ने कहा- अब मैं तुम्हारी बहन बाद में हूँ … बीवी पहले हूँ.

अब हम दोनों ने मोबाइल को बंद करके फोटो देखने का नाटक बंद दिया था और मैं खुल कर उसके बूब्स को दबाने लगा था, उसके बालों को सहलाने लगा था. शायरा कुछ देर तो किचन की ओर बढ़ती हुई मुझे दिखाई देती रही‌, फिर शायद वो किचन में घुस गयी थी. बाकी दिनों तो शायरा जब सुबह सीढ़ियों पर झाड़ू लगाने आती थी … तो मुझे जगा देती थी मगर आज सुबह वो मुझे जगाने नहीं आई.

खुले आसमान में उड़ने की ख़्वाहिशों को दफ़न कर वो जमीं पर चलने में ही संतोष किये हुए थी. आज तक हम दोनों ने एक बंद कमरे में अकेले कभी भी इस तरह से बेड पर बात कर चूमाचाटी नहीं की थी. फिर एक दिन पार्क में कोई बैंच खाली नहीं थी, तो मैं हिम्मत करके उसी बैंच पर बैठ गया, जिस पर वो बैठी थीं.

चोदी चोदा बीएफ चोदी चोदा बीएफ

आँटी मेरे लौड़े और मेरी बाजुओं में जकड़ी, मेरे ऊपर उल्टी हो कर लटक रही थी. बुआ ने अपने कपड़े बदले और वो एक टी-शर्ट लोअर में आकर खाना बनाने लगीं. मैंने कहा- साहब कहना बंद करो … जान कहो मुझे।वो ये सुनकर और ज्यादा चुदासी हो गयी और मेरे मुंह को अपनी चूचियों में दबाने और मेरे बालों को सहलाने लगी.

मैंने अनजान बनने का नाटक करते हुए कहा- कौन रेशमा?उधर से वो बोली- वही रेशमा, जिसको आप कुछ देर पहले फोन कर रहे थे.

[emailprotected]भाभी सेक्स पोर्न कहानी का अगला भाग:सलहज और बीवी के साथ ससुराल में सेक्स- 3.

इस सबमें आगे क्या क्या हुआ था ये सब जानने के लिए अन्तर्वासना के संपर्क में रहें. जब तक वो पेटीकोट पकड़ती वो उसके पैरों में गिर चुका था।पहली बार उसके नितंबों को इतने करीब से देखकर मेरी हालत खराब हो रही थी. ब्ल्यू फिल्म बीएफप्रियंका भी मेरा अनामिका के मम्मों के साथ खेलना देख कर काफी गर्म हो गयी थी … और वो मजे से मेरा लंड चूस रही थी.

ये देखकर मैं आंटी को लिटाते हुए उनके पेट पर आ गया और उनकी नाभि को चूमना शुरू कर दिया. यह सुनते ही मैंने अपने स्पीड बढ़ा दी और मैं साथ में भाभी की चूत में भी उंगली करने लगा जिससे उनका तीसरी बार भी पानी निकाल गया था. अब या तो चाय पीनी थी या यौवनरस।कामुकता ने यौवनरस चुना और मैं रेनू को उठाकर बेडरूम में ले आया.

फिर मैं उसको वहां से दूर एक तरफ ले गया जहां पर कुछ पेड़ और झाड़ियां थीं. मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ जमा दिए और बेदर्दी से उसकी चुत को चीर दिया.

फिर रचना ने अपनी गांड आगे की और बोली- जिस छेद में लंड डालना चाहते हो, डाल दो.

मैंने भी तुम्हारी पीठ से खून निकाला, दर्द हो रहा है क्या?”नहीं जानू, इतनी सी खरोंच से दर्द कहां होगा. पर तुम्हें इस रूप में देख कर मैं अपने आप पर काबू नहीं रख पाया और यह सब कुछ कर बैठा … अगर तुम्हें बुरा लगा हो तो उसके लिए सॉरी! जब तक तुम मेरे दोस्ती के प्रस्ताव पर हां नहीं बोलोगी मैं वादा करता हूं कि मैं तुम्हें टच भी नहीं करूंगा।मुझे पता था कि विजय पर अब सेक्स का भूत सर चढ़कर बोल रहा है और करीब-करीब वही हालत मेरी थी. मैंने उसके चेहरे को अपने हाथों से थामा और उसके गुलाबी होंठों पर अपने होंठ रख दिए.

नहाती हुई लड़की की फिर प्रियंका यूं ही बैठी बैठी मेरे गले से लग गई और बोली- जीजू … यार आप सच में बहुत चोदू हो … स्वर्ग का सारा मजा इसी धरती पर दे रहे हो. आपकी करतूत के बारे में किसी को पता चला क्या?मां बोली- मैं और सबकी बात नहीं करती … मगर तुम्हारे पापा को पता चला तो क्या होगा?मैंने कहा- ये कौन बताएगा?मां बोली- मेरा मतलब समझो बेटा … अब इस खेल से अनिकेत विवेक लोगों को किसी तरह हटाओ.

अब उसकी योनि योनिछिद्र से अंदर तक गुलाबी दिख रही थी।रेनू और मैं हांफने लगे।मगर दोनों की आंखों में एक संतुष्टि थी, जैसे आज वर्षों की प्यास बुझ गयी हो।मैंने समय देखा तो उसने कहा- अरे अभी तो बहुत समय है, अभी तो इसको एक और चढ़ाई करनी है. एक पैंटी जैसी चमड़े की पेटी थी, जिसे पहना जा सकता था … और एक डिब्बी में चिकनाई के लिए क्रीम थी. फिर शाम को पांच बजे के लगभग उसकी नींद खुली, तो वो अपनी बड़ी दीदी के ख्यालों में उठ कर बाथरूम में गयी और एक एक कर सारे कपड़े उतार दिए.

हिंदी ब्लू सेक्सी बीएफ

मुझे उसका गाली देना अच्छा नहीं लगा, पर समीना को किया वायदा निभाना भी था. इस बार के इन इवेंट्स में कई कॉलेज ने हॉस्टल के खिलाड़ियों को भी बुलाया हुआ था. मैंने चुपके से मेरी भाभी की ब्रा-पैंटी, लेगिंग, कुर्ती चुराई और पार्क में जाकर वो पहन लिये.

जैसे ही मैंने उसकी साड़ी निकालने कोशिश की, उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और दबी जुबान से बोली- प्लीज पहले लाइट बंद कर दीजिए न. अब जो होगा सो देखा जाएगा, मां की लौड़ी खुद ही कह रही है कि इसे खसम की चिंता नहीं है … अपनी चुत में लंड की आग की चिंता है.

मेरी बीवी रिंकू अच्छी है मगर मुझे उसकी मां यानि कि मेरी सास उससे भी ज्यादा पसंद थी.

मैंने आंखों का इशारा किया तो वो शर्म से लाल हो गयी और आगे देखने लगी. मेरी माँ की भी जॉब है तो वह भी जल्दी ही घर से निकल जाती है।अब मैं जल्दी उठ जाता था सुबह ताकि जब वो आये तो मैं उससे बातें करते हुए उसको पटाने की कोशिश करूं. कहानी के पिछले भागसहकर्मी दोस्त लड़की का नंगा बदनमें अब तक आपने पढ़ा था कि मेरे सामने अंकिता सिर्फ एक पैंटी पहनी हुई लेटी थी.

अभी परसों ही मैंने बैगन घुसा कर अपनी चुत ठंडी कर रही थी, तब से पता नहीं क्या हो रहा है कि चुत के अन्दर खुजली सी बनी रहती है. उसके पीछे मकान मालिक और उनकी‌ पत्नी भी चले जाएंगे, तो कल घर पर कोई‌ नहीं रहेगा. पर संजू फिर अपनी गांड को अपने हाथ में दबाए हुए उठी और अपनी गांड के छेद को वीर्य वाले ग्लास में सटा कर जोर लगाकर सारे वीर्य को गिराने लगी.

चूत फट जाती होगी इतने दमदार हथियार से?कितनी लौंडियां अभी तक चोदीं? दस पंद्रह तो होंगी.

भाभी की चूत वाली बीएफ: जैसे ही मैंने उनकी चूत पर अपना मुँह रखा, भाभी ने मेरा मुँह हटा दिया और बोलीं- ये क्या कर रहे हो, अब इसे भी चाटोगे क्या?मैंने बोला- हां, आप आराम से लेटो और चूत चटाई के मज़े लो. मैं नीचे बैठ गया और उनकी नाभि, चूत के इर्द-गिर्द के भागों को चूमने लगा.

मैंने उसकी बातों पर ध्यान नहीं दिया और उसके दोनों निप्पलों को बारी-बारी से चूसने लगा. मैंने पूछा- शेखर जी कहां हैं?भूरा- भाईसाहब तो गांव में गये हुए हैं. पहले तो मैंने इग्नोर करने की कोशिश की लेकिन फिर मेरी भी नज़र उन पर जाने लगी.

चाचा जी इतना बड़ा नहीं है क्या?चाची ने लंड को पकड़ते हुए कहा- नहीं उनका तो तुम्हारे लंड से आधा ही होगा.

कुछ करीब 20-30 झटके खाने के बाद प्रियंका ने फिर से अपनी चुत से पानी छोड़ दिया. जल्दी ही एक और सेक्स कहानी के साथ आप सबसे रूबरू होऊंगा, तब तक आप सब अपना और अपने परिवार का ख्याल रखें और कोरोना नियमों का पालन करें. मैं बोला- यार बात को समझा करो, संजू के साथ नहाने का मजा ही कुछ अलग है.