इंडियन सेक्सी बीएफ चोदा चोदी

छवि स्रोत,सेक्सी देहाती सेक्सी देहाती सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी राजस्थान सेक्सी: इंडियन सेक्सी बीएफ चोदा चोदी, मैं पीछे सो गया।करीब 8 बजे के आस-पास पूनम ने आवाज़ दी- सैम उठो, जयपुर आ गया।मैंने कहा- जयपुर.

बाबू सेक्सी पिक्चर

मैंने विभा को पटा लिया था और उसकी सहेली के घर उसकी चुदाई की तैयारी हो गई थी।अब आगे. करीना की सेक्सी विवो मना करने लगी- अंजलि दीदी उठ गईं तो?मैंने कहा- कुछ नहीं होगा।मैंने उसकी कुर्ती उतार दी, उसने पिंक कलर की ब्रा पहनी थी। क्या मस्त बोबे थे उसके.

मेरे पति का तो ढीला सा है और पतला भी है।यह सुनकर मैं खुश हो गया और उन्हें लौड़ा चूसने को कहा. रेखा का सेक्सी पिक्चरकुछ ही पलों बाद मैंने महसूस किया कि दीदी का एक हाथ मेरे लण्ड पर था.

उसको पता चल गया था। मुझे नहीं पता वो ये सब कैसे जानती थी।जैसे ही उसको पता चला कि मैं झड़ने वाला हूँ। मैं बस ‘हूँ.इंडियन सेक्सी बीएफ चोदा चोदी: पर मैं और राखी हँसने लगे।तब राखी ने कहा- बहन की लौड़ी, तू मुझे गाली दे रही थी न साली.

यह रूप तुमने अब तक कहाँ छुपाया था? आज तुम क़यामत सी लग रही तो मुझसे भी रहा नहीं गया और तुझे चबाने को दिल हो गया। सॉरी.पर वो किसी से भी कहने से डरते हैं जैसे मैं पहले किसी से सेक्स करने के लिए कहने से डरता था।आज कहने को तो मैं 3 लड़कियों के साथ हूँ.

सेक्सी हिंदी मूवी हद - इंडियन सेक्सी बीएफ चोदा चोदी

’ मैं तो बस बिना रुके उनका मूत पिए जा रहा था।जब उन्होंने मूतना खत्म किया.मेरी तबियत ख़राब थी इसलिए शायद उससे उस पल मेरे प्रति दया जगी।मुझे शायद उससे सच्चा प्यार हो गया था।अंकिता ने मैसेज किया- राहुल मुझे तुम पसंद हो.

तो वो चिहुंक उठी।मैंने चूत को चाटना शुरू कर दिया। कुछ मिनट तक मैं चूत को चाटता रहा. इंडियन सेक्सी बीएफ चोदा चोदी तो मैंने अपने मुँह उठा कर आपी को देखा और नीचे को होता हुआ आपी की चूत पर आ गया।फरहान खड़े हुए लण्ड को हाथ में लिए ये सब देख रहा था।तभी आपी ने उसे इशारा किया कि फरहान आओ।वो आ कर आपी के मुँह पर बैठ गया तो आपी उसका लण्ड मुँह में लेकर चूसने लगीं।फरहान ने एक दफ़ा बड़े मज़े से ‘आहहह.

तो मैं उसे देखता ही रह गया।वो ब्लैक स्कर्ट और वाइट टॉप पहने हुई थी, उसमें वो बहुत सेक्सी लग रही थी।मैंने उसे स्कर्ट में पहली बार देखा था।उसने मुझे कॉफी ऑफर की और हम थोड़ी बातें करने लगे।उसके घर पर मूवी देखने लग गए।उस फिल्म में कुछ सेक्सी सीन आ रहे थे.

इंडियन सेक्सी बीएफ चोदा चोदी?

ऐसी कोई दिक्कत नहीं है।तो कहने लगी- ठीक है तो हम लोग बस से अभी उतर जाते हैं।मैंने कहा- मैं कुछ समझा नहीं. फूल गई थी, चलने में चूत में दिक्कत हो रही थी।मैं अपने आप पर मन ही मन हँसी। मूत की धार पतली हो गई थी क्योंकि अन्दर रास्ता सूजन से तंग हो गया था।मूत कर मैंने ढेर सारा थूक एक उंगली पर लेकर अन्दर तक लगाया।उंगली ही अभी तो पूरा लंड लग रही थी।फिर मैंने दो उंगलियों पर थूक लेकर दोनों को एक साथ जबरदस्ती घुसेड़ा।इस समय दर्द. स्त्री की चूत का केवल अगला डेढ़-दो इंच का ऊपरी हिस्सा ही संवेदनशील होता है।हालांकि चूत के अन्दर की दीवारें काफी नर्म और संवेदनशील होती हैं.

जब से सब उसे इतना ज्यादा महत्व देने लगे तब से ही सेक्स समस्याएं बढ़ने लगी है।ऐसे ही काम करते करते एक महीना चला गया।फिर एक दिन मेरे देश भारत से कॉल आया।वर्मा- हैलो जयदीप. मैं एक मॉडल रही हूँ इसलिए इन सब बातों को जानती हूँ।उसकी तुनक मिजाजी और अक्खड़ भाषा को झेलते हुए सविता भाभी सोचने लगीं कि हे भगवान. लेकिन मैं पानी पीकर वापस लेट गया।मैं लेटा हुआ था लेकिन नींद नहीं आई थी अभी तक.

मैंने भी देर न करते हुए उनकी टाँगें फैलाकर अपना लण्ड निशाने पर टिकाया और धक्का मार दिया।पहले बार में थोड़ा ही गया था, पर वो इतने में ही चीख पड़ीं- आह. जिससे वो मुझ पर और ज्यादा मेहरबान हो गई।मैंने ख़ुशी की जांघ को सहलाना जारी रखा।अब मेरा हाथ उसकी योनि की तरफ बढ़ रहा था. वो मेरे सीने पर अपना सिर रखकर लेट गई और अपनी लाइफ के बारे में बताने लगी कि कैसे उसके ब्वॉयफ्रेंड ने उसे प्यार किया.

और ये तो बताओ कैसा लगा बर्थ-डे गिफ्ट?वो मुस्कुराई और कहने लगी- अब तक की ज़िन्दगी का सबसे अच्छा गिफ्ट मिला है।वो इतना थक गई थी कि 5 मिनट के अन्दर ही फिर सो गई।फिर मैंने अपनी जीन्स और अंडरवियर को भिगा दिया और सूखने के लिए बाहर रूम में चेयर पर रख दिया।वहाँ अंकिता की पैन्टी पड़ी हुई थी। वो बहुत टाइट थी. बस शुरूआत में थोड़ा सा दर्द होगा फिर तुम्हें भी बहुत मजा आएगा।उसने कहा- ठीक है.

मैं डॉक्टर के कहे अनुसार 18 दिन बाद चैकअप कराने के क्लिनिक गया। वहाँ जाने पर मालूम हुआ कि आज सिर्फ नर्स आई थी.

यह स्थान बहुत ही निचले दर्जे का है और कुछ प्रतियोगी तो बहुत ही निम्न श्रेणी के हैं.

मेरा नाम रवि है और मैं अपनी पहली सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ।बात उस समय की है. लेकिन मैं अभी कहाँ रुकने वाला था।उनके झड़ने के काफी देर बाद मैं झड़ने को हुआ इसी बीच वो फिर से मेरा साथ देने लगी थीं।फिर हम दोनों साथ में झड़ गए।मैंने उनको अपनी बांहों में भर लिया और चिपका कर सो गया।इसके बाद तो रोज दोपहर को हम चुदाई का खेल खलते थे।कुछ दिन बाद उनके पति को शक होने लगा. और फिर से लंड डाल कर उसकी चुदाई करने लगा। कुछ मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों झड़ गए.

यह रूप तुमने अब तक कहाँ छुपाया था? आज तुम क़यामत सी लग रही तो मुझसे भी रहा नहीं गया और तुझे चबाने को दिल हो गया। सॉरी. ट्राई कर ले।मैंने छुन्नू से कहा- यार अगर मैं उसको पटा लूँ और वो खुद अपनी मर्ज़ी से चुदवाने को तैयार हो जाए. मैंने उसके मर्दाना जिस्म पर लेप लगाना शुरू कर दिया और वो बिल्कुल किसी राजपूताना महाराजा की तरह तनकर बैठा हुआ था और मैं किसी दासी की तरह उसके जिस्म पर लेप लगा रहा था।मैंने उसकी पीठ पर लेप लगाया जो कि काफी चौड़ी थी.

पता ही नहीं चला।इस घटना के बाद मुझे अनामिका को चोदने का मौका कई साल बाद मिला।तो दोस्तो, ये मेरे हरामीपन का ‘ब्रीफ इंट्रोडक्शन’ था। अगले भागों में आप मेरी सभी चुदाइयों के बारे में विस्तार में पढ़ेंगे। बस आपके उत्साहवर्धक ईमेल की जरूरत है।कुछ ही दिनों में अगली कहानी लेकर पेश होऊँगा। तब तक अपने लौड़ों और चूतों का ख्याल रखिएगा।बाय.

तो साला काट कर फेंक देगा।’यह सुन कर पम्मी ने अपनी शार्ट के अन्दर नंगी चूत से मेरी टांग पर झटका मारा।‘घंटा काट कर फेंक देगा साला हरामी. तो मैं रुक गया।उसकी बुर से खून निकल रहा था।कुछ देर बाद जब मैंने धक्के मारे तो उसके कुछ ही बाद वो भी अपनी कमर उचकाने लगी। मैं भी ‘हच्च. पर कोई बच्चा नहीं था।यह सुन कर तो जैसे मेरी खुशी का ठिकाना नहीं था, मुझे तो ऐसा लगा कि मेरे लौड़े की नौकरी लग गई हो।खैर.

हाथ हटा ले फिर धक्का दे।अब मैं लंड के धक्के दे रहा था, मेरे साथ वह भी नीचे से धक्के लगा रहा था।बदन सनसना रहा था।हम 15-20 मिनट तक लगे रहे।निपट कर बैठे ही थे कि चाचा आ गए, बोले- चलो।राजा बोला- चाचा. अपना लंड इतने झटके से पेल कि लंड चूत में से जाए और गांड से बाहर निकल आए।वो बोले जा रहा था- तू कुतिया मेम. हम दोनों के बीच यह सब सही नहीं है।उसकी हल्की और धीरे आती आवाज़ से मैं अंदाज़ा लगा सकता था कि उसको अच्छा लग रहा है.

तब तक के लिए लव शर्मा का धन्यवाद।अपनी प्रतिक्रियाएँ मुझे मेल करें।[emailprotected].

दोस्तो, मेरी कहानियों को तवज्जो देने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद. उसकी चूत गीली होने की वजह से मेरा लंड सरकता हुआ आधा अन्दर चला गया और उसके मुँह से एक प्यारी सी आवाज़ आई ‘अह्ह्ह्ह्ह्.

इंडियन सेक्सी बीएफ चोदा चोदी मेरी बीवी को चोदोगे?वो एकदम सकते में आ गया और बोला- क्या जय, ऐसा नसीब मेरा कहाँ?मैंने कहा- हाँ यार, सही कह रहा हूँ।वो बोला- कैसे. मैं तो बस भाभी को ही देखे जा रहा था और मेरा लिंग तो मेरी हाफ पैंट को फाड़ कर बाहर आने को हो रहा था।कुछ देर में ही भाभी ने वो सवाल हल कर दिया और कहा- समझ आ गया?मैंने झूठ-मूठ में ही ‘हाँ’ कह दिया जबकि मैंने तो ठीक से किताब की तरफ भी नहीं देखा था.

इंडियन सेक्सी बीएफ चोदा चोदी लेकिन वो हर बार मना करती थी। हर बार किसिंग करके ही रह जाना पड़ता था।एक दिन मैंने सोचा कि आज आरती को चोद कर ही रहूँगा। मैंने आरती को खरौली ले जाने का प्लान बनाया। पहले तो वो इतना दूर जाने को मना कर रही थी. तो मैंने उसे नीचे धकेल दिया और खुद उसके ऊपर चढ़ गया।वो खुश हो कर बोली- आह्ह.

पर अगले 5 मिनट की चटाई के बाद डंबो तो मेरे मुँह में झड़ गई।आमतौर पर दोस्तो, यह देखा जाता है कि झड़ने के बाद लड़कियां सेक्स में उतना आनन्द नहीं लेतीं.

गांव की लड़की को चोदते हुए दिखाओ

कमेंट्स भी सुनने को मिलते हैं। वैसे किसी का इस तरह का कमेंट्स करना मुझे अच्छा नहीं लगता।’वह अभी भी झुकी हुई थी।मैंने उसे खड़ा किया और बोला- तुम्हारे होंठ मोटे हैं।‘अब देख लिया ना. उसे नज़र अंदाज़ करके उसने तुझे पसंद किया है। ऐसे लोग कहाँ मिलेंगे?मैं भी उदास सा हो गया था।हम लोगों ने चुपचाप दोपहर का खाना खाया और मैं ऊपर अपने कमरे में चला गया। आज इतवार होने से मैं सुस्ता रहा था. गालों में शर्म की लाली उभर आई, सुबह की बात को याद कर के उसकी आँखें शर्म से झुक गईं।मैंने उसको अपने पास खींचा और बाँहों में ले लिया। पायल भी मेरी बाँहों में सिमटी से खड़ी रही।मैंने धीरे से उसकी टी-शर्ट को ऊपर उठाया.

दोनों इतनी गर्म बहनें जो हैं।आपी वहाँ से उठ कर मेरे पास मेरी गोद में बैठ गईं।मैंने आपी से कहा- आपी हनी भी सेम आपकी तरह ही है. पर उसने उसमें पासवर्ड डाल रखा है।मैंने कहा- पासवर्ड मेरे को पता है. फिर चूत पर आ गया।इस काम में एक मिनट भी नहीं लगा होगा।मैंने कहा- थूक लगाकर लौड़ा जल्दी अन्दर डाल दो।उसने चूत देखी, कहा- बहुत शानदार चूत है।इस समय मेरा उत्तेजना से बुरा हाल था.

मैं समझ गया कि ज़्यादा मोटा और लंबा लंड होने के कारण से बुर से खून निकल आया है, कुछ खून तकिये पर भी गिरा था।राज ने फिर से लंड संजना की बुर में पेल दिया.

पर मुझे उनके गरम लंड का मज़ा भी लेना था।कुछ देर बाद फिर उन्होंने मुझे खड़ा किया और खुद झुककर मेरी गांड चाटने लगे। उनकी जीभ मेरी गांड पर टच होते ही मेरा पूरा शरीर हिला जा रहा था, मुझे मज़ा आ रहा था।तभी उन्होंने मेरे कान में कहा- मज़ा आ रहा है?मेरे मुँह से आवाज़ निकली ‘हाँ. अपने दोनों पैर चाचा की कमर पर लपेट लिए और गांड को उचकाने लगीं।थोड़ी देर में ही मम्मी शांत हो गईं, वे कहने लगीं- देवर जी. जब कहें बुला दूँगा। वैसे काम चलाने को मैं तो हूँ।उस दिन मरवाने के बाद जब राम प्रसाद हँस रहा था, तो चाचा का लंड लेने को मेरी भी गांड कुलबुलाने लगी थी।चाचा- मिल जाए तो बुला लेना।शाम को चाचा फिर मेरे कमरे में आए- मिला?मैंने झूठ ही कह दिया- चाचा मिला नहीं। और अपना प्रस्ताव दोहरा दिया- चाचा.

’फिर मैंने उसके होंठों से उसके होंठों को लगा दिया और एक बार में पूरा लंड उसकी चूत में पेल दिया, उसकी आँखों से आंसू टपकने लगे।मैं धक्के लगाता रहा और थोड़ी ही देर में उससे अच्छा लगने लगा, अब वो उछल-उछल कर मेरे लंड को अपनी चूत में लेने लगी।मैं उसके मम्मों को दबाने के साथ उसको चुम्बन करता जा रहा था, इससे उसे बहुत मजा आने लगा, वो ‘आहा. देखो क्या तुम्हें ये अच्छे लग रहे हैं?कामेश- पता नहीं उस पर ये कैसे लगेंगे? इस तरह से तो मैं कुछ अंदाजा ही नहीं लगा पा रहा हूँ।सविता भाभी- अच्छा शायद मैं तुम्हें पहन कर दिखाऊँ तो समझ में आ जाएगा हा हा हा. लेकिन अब भी वो लिमिट में रह कर बात करती थी।मैं उसे कभी-कभी उसके गालों को चूम लेता था। वो कुछ नहीं कहती थी। मैंने सोचा कि मुझे थोड़ा और आगे बढ़ना चाहिए। धीरे-धीरे मैं उसके साथ काफ़ी खुलने लगा.

आपी की कमर के नीचे तकिया रखा और आपी की एक टांग मैंने अपने कंधे पर रख कर अपने लण्ड को हाथ में पकड़ा और आपी की चूत पर रगड़ने लगा।आपी ने बेसब्र होते हुए कहा- सगीर एक ही झटके में पेल दो. जब उसने दरवाजा खोला, तो तुम अंडरवियर में थे। इसलिए वो समझी कि हमारे बीच कुछ नहीं हुआ।मैंने प्राची से पूछा- तुमने उसे बताया क्यों नहीं कि मेरा लंड तुम्हारी चूत में फिर से घुस चुका था?वो बोली- क्योंकि मैं तुमसे सच में चुदना चाहती थी और जबसे अंकिता ने मुझे खुद की चुदने के बात बताई कि किस तरह से तुमने अंकिता को नहलाया और चोदा.

अब रुक और जैसा मैं बोलूँ वैसा कर!मैं दीदी की तरफ देखने लगा।वर्षा बोली- चल पहले तू अपने लौड़े पर थूक. आअह्हाह… कर रही थी, जिससे मुझे भी जोश चढ़ रहा था।मैंने उसकी चूत में उंगली डाली और हल्का-हल्का सा आगे-पीछे को किया।उसका बदन ऐंठ रहा था, उसकी चूत से उसका रस फिर निकल गया।मैंने उसकी चूत को थोड़ी देर रगड़ा, फिर उसकी गांड में उंगली करने लगा।उसे अजीब लगा. कुछ देर रुका रहा कि वो जाग ना जाए।जब कुछ भी नहीं हुआ तो मैंने उसके चूचे दबाने शुरू कर दिए।वो अचानक से हिली.

तो मेरी नज़र एक खूबसूरत आंटी पर पड़ी। उनका फिगर 38सी-30-38 की थी।बड़े-बड़े मम्मे और इतनी सेक्सी गाण्ड थी कि देखता ही रह गया।जब वो रास्ते पर चल रही थीं तो उनके पीछे वाले हिस्से में चूतड़ों के आकार को देख कर मेरे पैन्ट में धीरे-धीरे गर्मी होने लगी।लेकिन जब मैंने गौर से देखा तो वो हमारी पड़ोसन आंटी जया थीं।मैंने उन्हें देखकर स्माइल दी.

तुझे बोर नहीं होने दूँगा।तो वो बोली- ऐसा क्या करोगे जो आप मुझे बोर नहीं होने दोगे।तो मैं उसके पास जाकर खड़ा हो गया और उससे पूछा- तू क्या चाहती है?वो बोली- अंकल जी मैं अपने भाई के कंप्यूटर पर फिल्म देखना चाहती हूँ. तो देखा कि करन का लंड मोनिका की चूत में था और करन उसके चूचे चूस रहा था।जैसे ही लाइट जली. ’ कर रही थी।वो लम्हा अजीब सा मदहोश करने वाला था। आज भी मुझे वो पल याद आता है तो मेरा लंड एकदम से तैयार हो जाता है।कुछ मिनट बाद मेरा स्पर्म निकलने वाला था। मैंने तेज़ और तेज़ झटका लगाया और ढेर हो कर गिर गया। उसकी चूत भी झड़ चुकी थी। अब मैं उसके नीचे हो गया वो मेरे ऊपर लेट गई।कुछ मिनट बाद मैं उससे बोला- फिर से उठाऊँ?वो हँसी.

पर मजा पूरा आ गया था।भैया ने चोदते हुए मेरे चूचों को पी-पी कर मुझे जल्द झड़ने पर मजबूर कर दिया था।कुछ ही देर में भैया भी झड़ गए और मैंने उनसे चुदवाने के बाद जल्दी से बिना ब्रा के टॉप पहन लिया और पैन्टी से चूत को पोंछलिया।तभी ड्राईवर भी आ गया. पूरे 6 फीट का हूँ। मैं पंजाब का रहने वाला हूँ। अभी मैं मेडिकल का स्टूडेंट हूँ और कसरत करने का दीवाना हूँ। किशोरावस्था से ही जिम में कसरत करने के कारण मेरा कद इतना बढ़ गया।मेरा लंड 18 की उम्र से ताकत बढ़ाने वाली दवाएं लेने के कारण मेरा लंड औसत से काफी बड़ा हो गया था।ये उस वक्त की बात है, मैं जब 19 साल का था।हमारे खेतों में बिहार की एक लड़की काम कर थी और अब भी करती है। वो उस वक्त 23 साल की थी.

जहाँ वो लोग कपड़े सुखाया करते थे। मेरा कमरा कॉलेज से केवल दो किलोमीटर दूर था।मैं वहाँ अपना सामान ले कर पहुँच गया। पहली बार था. ’और मैं पहुँच गया।आज सामने अंकिता और प्राची दोनों खड़ी थीं। मैं झट से दीवार पर चढ़ के उनके पास पहुँच गया और प्राची से ‘थैंक यू’ बोल कर हम दोनों कमरे में चले गए।आज दोनों लड़कियां गज़ब लग रही थीं।प्राची भी गोरी है. अपने पैर को मेरे इधर-उधर करते हुए मेरे सीने पर बैठ गई।उसकी चूत मेरे सामने थी, मैं उसे देख कर मुस्कुराया.

नई ब्लू फिल्म

सुबह तुम दोनों भी अपना सामान ऊपर शिफ्ट कर लेना।अब्बू के साथ बात खत्म करके आपी ने मुझे आँख मारी और किचन में चली गईं।मैं आपी का इशारा समझ गया कि आपी ने हनी को मना लिया है इसी लिए उन्होंने फरहान और हनी को जाने नहीं दिया।उसके बाद सबने रात का खाना खाया और अब्बू और अम्मी अपने रूम में चले गए।मैंने आपी को कहा- आप इन सबको कमरे में लेकर जाओ.

थोड़ी देर में शायद उसे भी मज़ा आने लगा था। मैंने देखा कि अब वो भी अपनी गांड पीछे की तरफ उछाल-उछाल कर मेरा लण्ड ले रही थी।जैसे ही राखी ने विभा के मुँह को छोड़ा. रात में हॉस्टल की गैलरी में कुछ आवाजें आती सुनाई दीं। बाहर जा कर देखा तो मोनिका अपने बॉयफ्रेंड के साथ थी।उसका नाम करन है, वो दिखने में काफी हैंडसम है।लेकिन वो दोनों इतनी रात में क्या कर रहे थे और मोनिका ने सिर्फ अपनी पैन्टी और एक टॉप डाला हुआ था, जिसमें से उसकी काली ब्रा की स्ट्रिप साफ-साफ दिख रही थीं।वो दोनों मोनिका के कमरे के बाहर कुछ बात कर रहे थे, शायद मोनिका उससे कह रही थी कि ‘शोर न मचाओ. तो उसने वापिस खींच लिया। मुझे गुस्सा आया और मैंने उसकी चूत से हाथ हटा लिया और मुँह फेर कर लेट गया।दो मिनट में उसने अपना हाथ अपने आप मेरे लंड पर रखा और उसे सहलाने लगी।दुनिया का सबसे बड़ा सुख मुझे मिल रहा था, मैं ऐसे ही हल्की ‘अह्ह्ह…उह्ह्ह.

जल्दी से मेरी भट्टी की आग अपने पानी से बुझा दो।मैंने बोला- पहले मेरा पाइप तो सीधा कीजिए।भाभी तुरंत मेरा लंड फिर से मुँह में लेकर चूसने लगीं. तब मैंने अपनी जीभ उसके मुँह में डाल दी और उसकी जीभ के साथ खेलने लगी।रिया ने जीभ चचोरते हुए मेरा थूक चाट लिया, मैं उसकी गर्दन को किस करते हुए चाटने लगी।मेरा हाथ कब उसकी कमर पर चला गया और कब उसे सहलाने लगा. कनाडा सेक्सी बीपीमैं भी घूम कर उनके गले से लग गया। उन्होंने मुझे चूमना करना शुरू किया.

वो पागल सी होने लगी, उसने अपनी बेडशीट को अपने हाथ में ज़ोर से पकड़ लिया ओर बहुत तेज आवाज़ निकालने लगी ‘उऊहहुउ. क्या खाकर आए थे आज?तो मैंने डॉली से कहा- जान 3 दिन का आज एक दिन में ही निकाल दिया है समझी।अब हम दोनों हँसने लगे। फिर कुछ देर बाद स्टूडेंट आने शुरू हो गए और मैं भी वहाँ से घर आ गया।आपको मजा तो आ रहा है ना.

लेकिन चाची की वजह से मैं उसे मना किए जा रहा था।बाद में उसके बार-बार कहने पर मैंने उसको अपने पलंग पर बुला ही लिया और उसके मम्मों को चूसने लगा।आज तो वो खुद कहने लगी थी- मुझे चोद दो मेरे भैया. ताकि उसकी चीख न निकले।मैंने देखा कि विभा राखी जीभ चूसने में लगी है. और शिथिल हो गए।थोड़ी देर बाद जब हम लोग सयंत हुए तब हम दोनों ने अपने-अपने कपड़े पहने और वो अपने घर चली गई।बाद में मैंने खून से सनी चादर को धोया।दोस्तो, यह थी मेरी और शिवानी की चुदाई।क्या आप भी मुझसे बात करना चाहते हैं.

तो मैंने उससे पूछा- तुम अपने भाई से कितना प्यार करती हो?तो उसने कहा- जितना आप मुझसे करते हो. दूसरे हाथ से दूसरे निप्पल को मसलने लगा। मैं छोटे बच्चे की तरह चूस रहा था।देर तक मैंने ऐसा किया और कब सो गया. तो वो मेरे लिए कॉफ़ी बना कर लाई और साथ में मेरे लिए 5000 रुपए भी लाई।उसके चेहरे पर जो मुस्कराहट थी.

तो भोपाल में अपने एक रिश्तेदार के यहाँ रुकूँगी।मैंने भी अपने ऑफिस में फ़ोन पर अपनी छुट्टी आगे 4 दिन और बढ़वा ली।फिर हम यहाँ से पचमढ़ी के लिए चले गए.

पूरी तरह से उसके लंड को मुंह में नहीं ले रहा था लेकिन वो पूरा लंड मुख में देने के लिए उतावला हुआ जा रहा था।अचानक ही उसने मेरे बालों को पकड़ा और मेरा मुंह अपने लंड के सामने लेकर एक झटके के साथ अपना मोटा लंड मेरे गले तक उतार दिया. अब मैंने अपना लण्ड पीछे से उसकी चूत में डाल दिया और पायल के चूतड़ पकड़ कर सटासट लण्ड को अन्दर-बाहर करने लगा।पायल मज़े से सिसकारी भर रही थी ‘आह आह आह्ह्ह्ह्.

उसको बाहर से बंद कर दिया।फिर हम दोनों ने ऊपर जाकर कमरे में घुस गए और कमरे को अन्दर से लॉक कर लिया।दीदी मुस्कराई और उसने मेरा मोबाइल लेकर उसमें ब्लू फिल्म देखने लगी।फिल्म देखते-देखते जब उससे एकदम से रहा नहीं गया. ’ उसकी दर्द भरी चीख उसके मुँह से निकली।मैं थोड़ा रुक गया और पायल को देखा. तो मैंने सीमा को किस करना शुरू कर दिया।लेकिन मेरा पलंग सीमा के पलंग से थोड़ा नीचा था.

ऐसे करते हैं सेक्स? अकल से काम लो थोड़ा किस से शुरु करो।तो फरहान ने अपना मुँह उठाया और उठ कर ऊपर हो गया तभी मेरे लण्ड ने एक और झटका मारा जो कि आपी को फील हुआ।आपी ने मेरी तरफ देखा और अपना हाथ नीचे ले जाकर मेरे लण्ड को पकड़ लिया।मेरा लण्ड फुल तना हुआ था. पर फिर क्या?क्रिस- क्या मतलब है आपका?मैं- आप पैसे अपने बच्चे के लिए ही बचा रहे हो. उस समय मेरी उम्र 19 साल की रही होगी। हमारे स्कूल में मैं बहुत सेक्सी लड़का था सब मुझे चिकना बुलाते थे।ठरकी बूढ़े तो बड़ी गन्दी नजर से मेरी गांड को ताड़ते थे।मगर कोई नहीं जानता था कि मुझे भी लोगों की गांड और लंड देखना पसंद है।पता नहीं क्यों.

इंडियन सेक्सी बीएफ चोदा चोदी पर कुछ ठीक से लिख नहीं पा रहा था।अब बहुत हिम्मत करके अपनी आपबीती प्रस्तुत कर रहा हूँ अगर पसंद आए तो तारीफ जरूर करें. जैसे सालों बाद मिले हों।इसके बाद हग करते-करते मैं उसके कूल्हों पर हाथ फेरने लगा।तब वो मुझसे अलग हुई और बोली- इतनी भी क्या जल्दी है.

सेक्सी वीडियो में गाना

लंड बड़ा जरूर है, पर तुम्हें दर्द नहीं होगा। ये क्रीम गांड में लगा देते हैं तो दर्द नहीं होता है। फिर तुम मेरा विश्वास करो. मैंने नाश्ता किया और अभी क्लाइंट के पास पहुँचा भी नहीं था कि फ़ोन बज गया, दिव्या का था- बड़े जालिम हो तुम राज…‘क्यों जी, मैंने क्या किया?’‘मैंने क्या किया… जानते हो आग लगी पड़ी है बदन में… और तुम हो कि प्यासी छोड़ कर ही चले गए?’‘मेरी रानी. पर उसने मुझे प्यार करने में कही कमी नहीं छोड़ी।अभी सुबह के लगभग 4 बजे थे। वो पूरे मस्ती में थी… और सुबह के उस समय मेरे लंड को बड़े प्यार से चूस रही थी।डंबो मुझ पर इतनी मुहब्बत बरसा रही थी कि मैं भी उसे प्यार करे बिना कहाँ छोड़ने वाला था, मैंने डंबो को मेरे ऊपर उल्टा लेटने को कहा।इस 69 जैसी स्थिति में वो मेरा लंड चूस रही थी और मैं डंबो की चूत चाट रहा था। डंबो अब फिर से पूर्णतः गरम हो चुकी थी.

जिसका नाम मनप्रीत है। उसकी उम्र 18 साल की है और वो 12 वीं में पढ़ती है।उसका रंग एकदम दूध सा गोरा है. आंटी नाइट गाउन में थीं। आंटी का फिगर एकदम साफ़ नज़र आ रहा था।उनके मोटे-मोटे मम्मे और उभरी हुई गाण्ड. राजस्थानी सेक्सी वीडियो रियलउसमें एक वासना के अंगारे भड़के हुए दिखाई दे रहे थे।मुझे लगा कि आज यह मुझे कच्चा चबा जाएगी।इस समय इतना एकांत होने के कारण मेरा दिल थोड़ा फड़क गया।अगले ही पल मुझे सीमा का ख्याल आया और लगा अगर मैं इसके जल में फंसा तो सीमा हाथ से छूट जाएगी जो कि वो मेरी हॉट एंड फेवरिट थी।इतने में माया ने अपनी बाँहें फैलाते हुए कहा- लल्ला आज चाय नहीं.

मैं माँ को कुछ नहीं बताऊँगी और अगर तू सच बोलता है तो मैं तुझको अपने ससुराल की एक ऐसी रस्म के बारे में बताऊँगी जिसको सुनके तुझे मजे आ जाएंगे.

जिसके कारण कमरा बहुत ठंडा हो गया था।मुझे ठंड लग रही थी तो मैं ज़मीन पर गद्दा बिछा कर लेट गया।कुछ देर बाद ध्रुविका ने ए. मैं एक बार तुझे गले लगाना चाहता हूँ और किस करना चाहता हूँ।वो भी मेरी बातों से थोड़ा भावुक हो गया था तो उसने कहा- ठीक है.

उसकी साँसें तेज होने लगीं।मैंने उसकी ब्रा का हुक खोला और उसके कबूतरों को आज़ाद कर दिया और उसको मसलने लगा जो कि वो टाइट थे।ऐसा लग रहा था कि उसने बहुत कम सेक्स किया होगा।मैं उसके मम्मों को चूसने लगा, एक मुँह में. ’ सविता भाभी ने एक ब्रा को कामेश के सामने लहराते हुए कहा।‘जरूर जरूर. वो सब भी आपको मजा देगा।मेरा नाम राहुल है, उम्र 19 साल की है। मैं एक छोटे शहर से हूँ।मैं देखने में स्मार्ट, लम्बा और फ्लर्टिंग टाइप का हूँ।मैंने अपने शहर से 2013 में 12 का एग्जाम पास किया.

मैंने अपना लौड़ा उसकी चूत में से निकाला और कंडोम हटाकर अपना लौड़ा उसकी चूत में घुसेड़ दिया और जोर-जोर से झटके लगा कर अपना सारा माल उसकी चूत में भर दिया।फिर 15-20 शॉट लगाकर उसके ऊपर गिर गया।वो बोली- आज मेरा बदला पूरा हुआ।मैंने कहा- कैसा बदला?तो उसने मुझे किसी को नहीं बताने और तनु को ना कहने का वादा लेकर बताया।‘जब तनु कुंवारी थी.

’ और उसको लौड़े को घोड़ा समझ कर अपनी घुड़सवारी का लुत्फ़ लेने लगी। डॉली और अन्नू के हाथ मेरी छाती पर रखे हुए थे।इधर मैं अपनी जुबान की नोक बना कर अन्नू की चूत में डाले जा रहा था।अन्नू की चूत में से भी नमकीन पानी बहना चालू हो गया था।दोनों मेरे ऊपर सवार थीं. उनका खड़ा लंड उनके हाथ में था, उनका लंड राम प्रसाद की गांड में से निकल आया था।उन्होंने अपनी हथेली पर थूका और थूक को राम प्रसाद की गांड में लगाया, फिर उसकी गांड में उंगली डाली. जिसे देख कर वो शर्मा गई।मैं उसकी टांगों के बीच में आ गया और अपना लण्ड उसकी चूत पर रख दिया।उसकी चूत बहुत टाइट थी.

हिंदी सेक्सी वीडियो फुल सेक्सवो फिर अपनी चूत की तरफ इशारा करके कहने लगी- अंकल जी यहाँ पर मेरे को खुजली हो रही है. उन्होंने दो बार और पानी छोड़ दिया।अब मेरा लौड़ा भी जवाब देने लग गया, मेरा भी होने वाला था- भाभी मेरा होने वाला है.

रात को नमक क्यों नहीं देना चाहिए

ऐसे करते हुए मैंने उसके पेट पर भी लेप लगाया और आनन्द का यह सिलसिला यहीं समाप्त हो गया।अब सब अपनी परफॉर्मेंस के लिए जा चुके थे और कमरे में कोई नहीं था, राजेश भी चला गया था. इसलिए मैंने सोचा ये सब गलत होगा।इस वजह से मैंने उसे कुछ नहीं कहा और उसको लैपटॉप दे कर चली आई।फिर शाम को मैं बाजार गई. और वो भी मुझे देख कर गुस्सा होने का नाटक कर रही थी।उसके मदमस्त फिगर को देख कर मैं पागल हुए जा रहा था।फिर न जाने क्या हुआ कि उसकी स्कर्ट पर सब्जी गिर गई.

मैं छूटने वाला हूँ।डंबो तुरंत मुझसे अलग हुई और मेरा लंड चूसने लगी और चूसते-चूसते मैंने अपना सारा लावा उसके मुँह में छोड़ दिया और वो बड़े प्यार से पूरा कामरस चट कर गई।वो इतनी थकी हुई थी कि वो तुरंत ही बिस्तर पर कंबल ओढ़ कर सो गई।फिर से सुबह 6 बजे मेरे लंड महाशय मालिश माँग रहे थे. वो दर्द से कंपकंपा रही थी।मैं उसके मम्मों को दबाने लगा, अब उसे ज़रा आराम महसूस हो रहा था।कुछ पलों के बाद मैंने धक्के लगाना चालू किए। अब उसे अब दर्द के साथ साथ मज़ा आने लगा था और वो ‘आहह. मतलब अब भाई के हाथ मेरी पीठ पर थे और मेरा एक हाथ भाई की पीठ पर था।मेरे मम्मे अब भाई के सीने से दबे हुए थे।वो कुछ कर नहीं रहा था.

तो मेरे लिए जरूर भिजवाते थे।एक दिन मैं ऐसे ही इंस्टीट्यूट के लिए निकल रहा था. मैं उठ गया तो आपी ने मेरा हाथ पकड़ा और मुझे भी बिस्तर पर ले गईं।वे फरहान से कहने लगीं- ध्यान से देखो अब सगीर जैसे-जैसे मेरे साथ करता है. उसका बदन अकड़ने लगा। फिर उसने गरम-गरम सा रज मेरे मुँह में छोड़ दिया।अब हम दोनों थोड़ा रिलेक्स फील कर रहे थे।हम दोनों बिस्तर पर एक-दूसरे के बगल में लेट गए.

हमने चाय पी।फिर मैं भाभी की गोदी में सर रख कर लेट गया।रात की नींद नहीं होने की वजह से थकावट ज़्यादा थी. उसने अपने दोनों हाथ दीपराम की दोनों जांघों पर टिकाए हुए थे और लंड को गांड में अंदर बाहर करवाते हुए आंखें बंद करके गांड चुदाई का आनन्द ले रहा था।दीप राम भी उसकी कमर को कसकर पकड़े हुए उसे अपने लंड पर उछाल रहा था, जब उसका लंड का टोपा उसकी गर्म गांड में अंदर जाकर लग रहा था तो उसके आनंद की सीमा न रहती थी.

आज से तुम ऊपर एक कमरे में सोया करना और इसका काम ध्यान से कवर करवाओ।यह सुनते ही मैं खुशी से दिल ही दिल में उछल पड़ा और आपी को आँख मारी.

हाइट 5 फीट 11 इंच है।मैं देखने में काफ़ी खूबसूरत और स्मार्ट हूँ, ऐसा सभी कहते हैं।मेरे लंड का साइज़ भी लम्बा और मोटा है।यह कहानी मेरे अपने दोस्त जय की है, जिसे मैं उसकी सहमति से लिख रहा हूँ।इसमें मैं भी एक महत्वपूर्ण पात्र हूँ।घटना की शुरुआत मैं जय की सुनाई हुई दास्तान को उसकी कलम से ही लिख रहा हूँ।दोस्तो, मैं जय. भूगोल सेक्सीमैंने भी देर न करते हुए उनकी टाँगें फैलाकर अपना लण्ड निशाने पर टिकाया और धक्का मार दिया।पहले बार में थोड़ा ही गया था, पर वो इतने में ही चीख पड़ीं- आह. सेक्सी पिक्चर आदावासी मेंजब मैं अपने कम्पटीशन की तैयारी करने के लिए अपने गाँव से लखनऊ में आया।मैं 2004 में डिग्री पूरी करने के बाद आल ओवर इंडिया ओपन कम्पटीशन की तैयारी करने के लिए लखनऊ जैसे बड़े शहर में आ तो गया. न बोलता। क्योंकि मुझे डर लगता था कि अंकल-आंटी मेरे बारे में क्या सोचेंगे।आंटी और अंकल मुझे बहुत पसंद करते थे.

फिर कभी मिलेंगे।मैंने पूछा- अब आप कहाँ रहते हो? शहर में दिखते नहीं.

हल्की सी ठंडी लग रही थी।उसने कहा- ठंडी लग रही है।मैं उससे चिपक कर बैठ गया और बोला- अब ठंडी दूर हो जाएगी।वो कुछ नहीं बोली।मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए। पहले तो वो रिस्पोन्स नहीं दे रही थी। मगर मैं उसके होंठों को चूसता ही रहा।धीरे-धीरे वो भी मेरा साथ देने लगी।मैं कभी उसके होंठ के ऊपर का हिस्सा चूसता. तो भाभी नीचे से खुद हिलने लगीं। मतलब दर्द कम हो चुका था।मैंने लंड थोड़ा सा बाहर निकाल कर फिर से झटका मारा, तो इस बार लंड पूरा अन्दर घुस गया और बाहर रह गए दो जुड़वाँ भाई. अब ये जान आपकी हुई। ये कहते हुए वो मेरी गोद में आ गई।मैंने नीलू को गोद में उठाया और फिर से किस करते हुए उसके टॉप में हाथ डाल दिया। मैं साथ ही उसके होंठों को चूसता हुआ.

’ कर रही थीं। मुझे उस वक़्त कुछ मालूम नहीं था कि अपने लण्ड का इस्तेमाल कैसे करते हैं।वे दोनों इतनी जोर से हिल रहे थे कि पूरा बिस्तर हिलने लगा।नानी के स्तन जोर से आगे-पीछे होने लगे।थोड़ी देर के बाद नाना-नानी पर लेटे रहे. लण्ड बिल्कुल भी अन्दर नहीं जा रहा था।जैसे ही लण्ड जरा सा अन्दर गया. ये सब तो तुम्हरे लिए ही है भाई।वो इतना सुनते ही उठा और मुझे किस करने लगा। भाई ने मेरा तौलिया खोल दिया, मैं बिल्कुल नंगी हो गई।भाई मुझे नंगी देख कर बहुत खुश हो गया, उसने मुझे बिस्तर पर गिरा दिया, फिर मेरे नंगे बदन के ऊपर लेट कर किस करने लगा।मैं ‘आआहह.

xxx करीना कपूर

उसके घर में में छत पर भी एक रूम है। तो हम लोगों ने नीचे से चॅनेल लॉक कर दिया और जिस कमरे में मम्मी सोई थीं. पर तुमको कैसे पता?उसने बताया- उस दिन जब आप नहीं थे तो मैंने देखी थी।फिर हम रोज ऐसे ही किस करते और उस दिन के बाद वो हमेशा लोअर और टी-शर्ट ही पहन कर आती और पूछती- सेक्स में क्या-क्या होता है?इस तरह की और भी सब बातें करते थे।धीरे-धीरे हम दोनों का एक-दूसरे से शर्माना छूट गया।एक दिन वो मेरे पास बैठी थी, मैंने उसकी जांघ पर हाथ रखा. कंचन भाभी की प्यासी चूत को मैंने उनके ही कमरे में खूब हचक कर चोद कर मज़ा दिया।अब आगे.

ये पका हुआ माल हो चुकी हैं।बस अगले ही दिन मैं अपने दोस्त की बताई हुई सेक्स बढ़ाने वाली मेडिसिन मार्केट से लेकर आया और मुझसे रुका ना गया तो मैंने सोचा यार क्या रात तक का वेट करूँ.

क्यों बुलाया है?यह कहते हुए आपी कमरे में दाखिल हुईं और फिर खामोश हो गईं।हनी ने आपी को देखा तो खड़ी हो गई और रोने लगी।तो आपी ने मुझसे पूछा- ये क्या है सगीर?मैंने बताया- मैंने अपना काम कर दिया है अब बाकी आपको संभालना है।यह कह कर मैं कमरे से बाहर निकल गया।मैं जाते-जाते कमरे का दरवाज़ा बंद करके नीचे चला गया और अब्बू के पास बैठ गया।अब्बू ने बताया- मैं और तुम्हारी अम्मी कल आउट ऑफ सिटी जा रहे हैं.

आगे चलकर कहीं आपको दिक्कत न हो।उसने कहा- वो मैं मैनेज कर लूँगी।मैंने उसे ‘हाँ’ किया. वो इंग्लिश में हुईं, पर मैं हिंदी में बताता हूँ।मैं- थैंक्स!वो कमाल की लग रही थी, मानो कोई एक्ट्रेस हो। वो करीब 22 साल की होगी।उसका फिगर 34-28-36 का था, एकदम गुलाबी गाल और शार्ट टॉप और जीन्स में वो बहुत ही मस्त लग रही थी।नैंसी- सफर सही तो रहा ना?मैं- बिलकुल सही. शिल्पी राज का सेक्सी वीडियो दिखाएंतो वो मुझसे कहती- सोचो तुम मुझे चोद रहे हो।इस प्रकार वो मुझसे मुठ मरवाती।अब तो क्लास में मैं कभी-कभी उसकी जींस के ऊपर से उसकी चूत के पास हाथ रखता.

वरना कमरे में पानी आ जाता है।दरअसल अंकिता ने ये मुझे सुनाया था कि दरवाजा बन्द कर लो।शायद अब उसे मुझ पर ट्रस्ट हो गया था। बाथरूम बन्द हो गया. मुझे कुछ अच्छा लगा।सुबह के करीब 5 बजे में दीवार फांद कर वापस अपने हॉस्टल में आ गया।वो रात मेरी ज़िन्दगी की सबसे खूबसूरत रात थी। जिस पल मैंने अपने प्यार को चोदा था. आप जो इतनी सुन्दर हो, आपको देख कर सामने वाला यूँ ही हार जाएगा।रोशनी- सच में इतनी खूबसूरत हूँ मैं.

तो मेरा तो काम लग जाएगा।मेरे एक मित्र ने मुझे एक आइडिया दिया।मैं ठीक दो बजे उसकी खिड़की के बाहर पहुँच गया. मैं फिर लंड को उसकी चूत पर रगड़ने लगा, वो सनक गई और इस बार उसने मेरे लंड को पकड़कर हाथ से खींच लिया, मुझे भी दर्द हुआ तो अब मैं उसकी चूत में अपना लंड पेलने के लिए तैयार था।मैंने अपना लंड का टोपा उसकी चूत में सरका दिया.

सो प्लीज़!मैंने कहा- ओके।अब मैंने पैन्ट निकाल दी और मुँह में लेने का इशारा किया।वो मेरे लण्ड को दबा-दबा कर सक करने लगी, मैं उसका सिर पकड़ कर अन्दर-बाहर करता रहा।बस 5 मिनट में ही लण्ड देवता ने माल की पिचकारी छोड़ दी और वो सारा माल साफ कर गई।फिर वो अलग हुई और दो मिनट बाद वो बोली- थैंक्यू सैम.

तो मैंने उनके दोनों पैर अपने कंधे पर रखकर उनकी गीली चूत पर अपना लण्ड रखकर एक धक्का मारा. तो उसकी चीख निकल गई और उस समय आँखें बंद हो गईं।मैंने बाकी का पानी उसके मुँह में लंड देकर चुसवा लिया।फिर मैंने उसको बाथरूम में ले जाकर आँखें साफ करवाईं। कुछ देर बाद उसकी आँखें ठीक हो गईं।अब हम दोनों बादाम शेक पीकर नंगे ही लेट गए हम दोनों काफी शिथिल से हो चुके थे। इसलिए कब सो गए पता ही नहीं चला।करीब दो घन्टे के बाद मैं जाग गया और उसकी चूत में उंगली करने लगा. इसलिए घर पर कम ही रहते हैं।दूसरी तरफ भाभी जी ने घर में दो भैंसे रखी हुई हैं.

गर्भवती महिला के सेक्सी वीडियो अन्दर ब्रा थी, उसके बाद जींस उतारी, उसके बाद मैं उसे दबाने लगा।वो सिसकारियाँ ले रही थी ‘अह. मैं तो पागल ही हो गया।मैं उससे बातें करने लगा और उधर एक तरफ थोड़ा अँधेरा सा था, सो मैं उसको बातें करते हुए उधर को ले गया और मैंने उसे किस करना शुरू कर दिया।जैसे ही मैंने उसके मम्मों पर हाथ लगाए.

वो इधर ही कहीं होंगी।’जब जीत कुमार को खुद से मुखातिब होते सुना तो सविता भाभी एकदम से लजा गईं और बोल उठीं- ओह. लेकिन चोदने के लिए रीतू भाभी की चूत मिल जाए।राहुल का भाई दिल्ली में जॉब करता है, वो हफ्ते में 2 दिन शनिवार और रविवार को घर आता है।इधर राहुल भी अब मर्चेंट नेवी में जाने की तैयारी कर रहा है।भाभी की और मेरी अच्छी दोस्ती हो चुकी थी. दर्द कर दिया उउउ उउउ आ प्लीज़ निकाल लो आ मैं दर्द से आह मर जाऊँगी आ.

जानवरों के साथ सेक्सी वीडियो

जो बंद पड़ा रहता था, उसमें कोई नहीं रहता था।उसके सामने छोटा सा बरामदा था, हम लोग पानी से बचने के लिए उसी घर में रुक गए।उसमें बने हुए घर के दरवाज़े काफ़ी खराब हो गए थे. मैंने अपने लंड के टॉप को उसकी चूत पर रखा।वो पहले से ही चुद चुकी थी. इसी लिए तो तुझसे चुदी हूँ!’ मेम ने कहा।बस 5-6 धक्कों के बाद मेरी भी पिचकारी उनकी चूत में ही निकल गई.

मैं आपको आराम से चोदूँगा।आंटी ने मुझसे बोला- मैंने ऐसा लण्ड कभी चूसा भी नहीं है।मैंने बोला- अब चूस लो।आंटी ने झट से झुक कर मेरा लण्ड अपने मुँह में ले लिया और दबा कर चूसने लगीं।वाऊऊऊऊ. ’भाभी मेरे सर को अपनी चूत पर जोर से दबाकर झड़ने लगीं।मैं भी भाभी का पूरा माल पी गया और फिर भी भाभी की चूत को चूसता रहा।अब भाभी कहने लगीं- राहुल अब मुझ से रहा नहीं जाता.

जो मस्ती में मेरे मुँह में गले तक चला गया था।जब मैंने हाथ से छोड़ा तो नीचे गिरने की जगह लिंग केले के आकार जैसे मेरी तरफ तन्नाया हुआ था.

इतनी देर में सीतापुर आ गया और हम दोनों को उतरना पड़ा।जाते-जाते शबनम मुझे अपना मोबाइल नंबर दे गई और मैं अपना काम निपटा कर वापस लखनऊ गया।उसी रात मैंने उसे कॉल किया तो उसने मुझे पहचान लिया और बोली- तुमने मुझे तड़पा कर छोड़ दिया।मैंने कहा- मेरी रानी लखनऊ आओ. तो उसने धक्के और तेज़ कर दिए।फिर एक-दो धक्कों के बाद मैं जैसे आसमान में उड़ती चली गई. ’हम दोनों ने रात 2 बजे तक सेक्स किया मैंने 3 बार उसकी चूत का मजा लिया। फिर वो और मैं हम दोनों ही बहुत थक गए थे सो ऐसे ही नंगे एक-दूसरे की बांहों में बांहें डाल कर सो गए।फिर जब सुबह मेरी आँखें खुलीं.

वैसे भी मेरा हॉस्टल ‘पेइंगगेस्ट’ है और यहाँ सिर्फ 6 लड़कियां रहती हैं। कुल 3 रूम हैं।एक रूम में दो लड़कियां और मेरा रूम सबसे अलग है। वो भी छत पर सबसे अलग साइड पर है। अब जब प्राची किसी रात अपने बॉयफ्रेंड के पास जाएगी. पर थोड़ी देर में उसे मज़ा आने लगा और वो मेरे लण्ड को लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी।अब वो कभी मेरे आंड चूसती कभी लण्ड के सुपारे को चाटती और चचोरती. उसने दो महीने तक बात नहीं की।फिर मैंने ही सॉरी बोला और बात करने के लिए कहा।वो मान गई.

ताकि कल फिर जम कर चुदाई कर सकें।मैंने कहा- ठीक है आपी, सो जाते हैं।आपी ने कपड़े पहने और मुझे एक लंबी किस करके नीचे चली गईं।आपी के नीचे जाने के बाद मैंने कैमरा की रिकॉर्डिंग बंद की और मैं भी ऐसे ही सो गया। जब सुबह उठा तो हिम्मत जवाब दे रही थी। किसी तरह मैं नहा-धो कर नीचे गया तो अब्बू सामने बैठे थे।उन्होंने कहा- मैं तुम्हारा ही वेट कर रहा था.

इंडियन सेक्सी बीएफ चोदा चोदी: सीधे उनकी नाइटी उतारने लगा।मैंने पहले उनकी नाइटी फिर गुलाबी ब्रा और अंत में काली पैन्टी भी उतार दी और बिल्कुल नंगा कर दिया। उन्होंने भी मेरे सारे कपड़े उतार दिए।फिर मैंने उनके अंगों को सहलाना शुरू किया और जब भाभी गर्म हो गईं. इतना सुनते ही मैंने उसे बांहों में ले लिया और उसे चूमने लगा।वो भी मेरे लौड़े को लोवर को ऊपर से ही सहलाने लगी।मैंने उसके होंठ को छोड़ा और उसे गले लगाते हुए उससे कहा- मेरी जान तुमको क्या पता.

पर मुझे उनके गरम लंड का मज़ा भी लेना था।कुछ देर बाद फिर उन्होंने मुझे खड़ा किया और खुद झुककर मेरी गांड चाटने लगे। उनकी जीभ मेरी गांड पर टच होते ही मेरा पूरा शरीर हिला जा रहा था, मुझे मज़ा आ रहा था।तभी उन्होंने मेरे कान में कहा- मज़ा आ रहा है?मेरे मुँह से आवाज़ निकली ‘हाँ. पर मैंने धक्के लगाने जारी रखे।कुछ ही देर बाद आपी ने कहा- सगीर, थोड़ा ज़ोर से लगाओ ना. लगता था कि उसने चूत में पहली बार लौड़ा लिया था।कुछ देर बाद वो कुछ शांत हुई और उसका खून रुकना बंद हुआ।मैंने चूचे सहलाते हुए कहा- अब तो दर्द नहीं हो रहा है?उसने कहा- तूने ये ठीक नहीं किया।मैंने कहा- सब ठीक है.

’ ऐसा करते हुए जब वह आगे की ओर झुकी तो उसकी गोलाई लिए हुए गांड की पहाड़ी और भी विशाल लगने लगी।मैं उसके करीब आया और उसके चूतड़ों को सहलाते हुए बोला- तुम्हारे जिस्म में सबसे सेक्सी पार्ट तुम्हारा ये है।‘मुझे पता है.

यह हिन्दी सेक्स कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मम्मी मस्त हो रही थीं।जब चाचा ने दोनों हाथों से मेरी मां की चूत के होंठों को फैलाया तो उसमें एक लाल रंग का दाना दिखा. तो वो चुप नहीं हो रहा था।अब टीचर वहीं मेरे सामने बैठ कर अपना एक चूचा निकाल कर उसे दूध पिलाने लगी।वाओ. मैं सामने एक सुंदर लड़की की उम्र की नवविवाहिता को देख कर देखता ही रह गया।तभी उसने पूछा- क्या काम है?तो मुझे एकदम से होश आया.