एचडी बीएफ बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,घोड़ा वाली सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सुंदर लड़कियों के बीएफ: एचडी बीएफ बीएफ सेक्सी, कहाँ कहाँ अपने सैटिंग बना रखी है और ये एसीपी कहाँ से ले आए आप?सन्नी- ये कोई एसीपी नहीं.

ಇಂಗ್ಲಿಷ್ ಸೆಕ್ಸ್ ಮೂವಿ

उसने मुझको फोन किया, हम दोनों ऐसी सामान्य बात कर रहे थे।उसने कहा- मैं तुमसे मिलना चाहती हूँ।मैंने कहा- ठीक है रेस्टोरेन्ट में मिलते हैं।तो उसने कहा- नहीं. व्हिडिओ सेक्स हिंदीये अंजलि का देवर है।प्रीत बोली- यश, ये सब भी आपकी भाभी हैं।मैंने सबको ‘हैलो’ किया और मैंने देखा कि प्रिया मुझे देख कर स्माइल कर रही थी।करीब 7 बजे तक हम सब वहीं रहे और मैंने सबको हँसा-हँसा कर पेट में दर्द कर दिया.

और सुरभि मेरे लण्डरस को नीचे से मजे से चाटे जा रही थी।प्रियंका थक कर वहीं लेट गई. कार्टून चित्रमैंने फटाक से अपने दोनों कपड़े उतार दिए और उसके पीछे चला गया।मुझे देख कर वो बोली- अरे वाह.

पापा इसे ग़लत नहीं समझते थे। घर के खुले माहौल में हम सबके लिए यह आम बात थी।बिस्तर पर लेटते ही मेरे जिस्म में और भी तरंगें उठने लगीं। मेरा एक हाथ आहिस्ता-आहिस्ता नीचे चूत से जा लगा और दूसरा हाथ एक चूचे के निप्पल पर चला गया।मेरी नंगी टाँगों और मम्मों पर बेहद नर्म कम्बल का एहसास मुझे और भी उत्तेजित करने लगा। एक इंच तक उंगली अपनी बुर में डाल कर अन्दर-बाहर करने लगी.एचडी बीएफ बीएफ सेक्सी: पता नहीं नतीजा क्या होगा?यही सोचते सोचते नींद आ गई, सुबह उठे तो नाश्ता करके दीपेश और बाकी लोग भी अपने अपने डिपार्टमेंट चले गए। उस दिन मैं चाहता तो घर जा सकता था लेकिन पीयूष की जवानी मुझे कमज़ोर बना रही थी, मैंने सोचा कि कुछ भी हो मैं इसको एक बार तो दिल की बात बताकर रहूंगा।मैं कॉलेज के बहाने से उस वक्त तो कमरे से निकल गया लेकिन फिर 12 बजे ही वापस आ गया।करीब 1.

मुझे चूचियों से खेलना और उन्हें पीना बहुत पसंद है और सबसे ज्यादा भाभियों को चोदना।यह थी मेरी पहली सेक्स की दास्तान.और फिर उन्होंने अपनी छूट में अपनी दो उंगलियों को पेल दिया और मॉम के मुँह से हल्की-हल्की सिसकारी निकालने लगी ‘ऊऊओ.

रोटी कपड़ा और मकान मूवी - एचडी बीएफ बीएफ सेक्सी

आज हम दोनों मर्द तुम्हें असली चुदाई की महारानियाँ बनाते हैं।यह कहते हुए मैंने अल्फ नंगी गीत के मम्मों को अपने मुँह में ले लिया.तो मैं भी उससे थोड़ा दूर हट गया और अपनी शर्ट और बनियान उतार दी।नीलम ने मेरा लोअर आधा नीचे तो कर ही दिया था.

मैं भी करीब ही था।आखिरकार मैं भी इंसान था, मैं भी झड़ गया, मैंने फ़टाफ़ट अपना लौड़ा बाहर निकाल लिया और दिव्या को सीधा करके उसके मम्मों के बीच में लन्ड रख कर हिलाने लगा।मैंने उसे कहा- प्लीज़ मेरे लिए अपना मुँह खोलो. एचडी बीएफ बीएफ सेक्सी आशा करता हूँ कि आपको पसंद आया होगा।आप मुझको मेल कर सकते हैं या मेरे प्रोफाइल से मेरी फेसबुक आईडी लेकर बात कर सकते हैं।मेरी ईमेल आईडी[emailprotected]पर अपने विचार भेज सकते हैं।.

वाओ देख तेरे अन्दर कैसे आग लगी है और मेरा लौड़ा बुझा रहा है तेरी जवानी की आग.

एचडी बीएफ बीएफ सेक्सी?

मैं वो किताब देखने लगा। उस किताब में अलग-अलग लड़कियों की नंगी फोटो थीं।कुछ बड़ी उम्र की औरतों की भी नंगी फोटो थीं। कुछ फोटो स्तन चूसने की. और सीधे तेज-तेज झटके मारने लगा।सुरभि अपने सर का ज़ोर इतना अधिक दे रही थी कि प्रियंका की गाण्ड दबे जा रही थी। उसकी गाण्ड की लाइन दो फाँकों में हो रही थी. सरिता शादी के बाद भी तुम्हारी चूत तो पहले जैसे ही है।सरिता- क्या करूँ.

अब उसे मजा आने लगा।थोड़ी देर बाद वो बोली- राजा अब अपना पूरा लण्ड जल्दी से मेरी चूत के अन्दर करो. फिर मैंने उनके गालों पर तीन-चार थप्पड़ मारे और उन्हें फिर से बिस्तर पर पटक दिया और उनके ऊपर चढ़ कर दोबारा लंड को पूरा उनकी गाण्ड में घुसेड़ दिया। हालांकि वो मुझसे ताक़त में काफ़ी ज़्यादा थे. यह कहीं भाग कर नहीं जा रही है।मैंने कहा- मेरे से ज्यादा मेरा लौड़ा बेचैन हो रहा है।वो बोली- हाँ.

पहले वो टॉयलेट से बाहर निकली और फिर मैं निकला।उसके बाद ट्रेन का सफ़र खत्म हो गया तब से मैंने उसको कभी नहीं देखा।[emailprotected]. पर मन नहीं माना और सोनी ने भी बोल दिया- एक राउंड और हो जाए।मैंने कहा- क्यों नहीं।करीब 5:15 बजे तक मैंने सोनी की गाण्ड और चूत दोनों में लण्ड पेला और खूब चुदाई की।सुबह उससे चला तक नहीं जा रहा था. अब जल्दी से इसको चूत के दीदार करवा दो।सन्नी हँसता हुआ उस घर के पास गया और घन्टी बजाने लगा।थोड़ी देर बाद नौकर ने दरवाजा खोला.

तो मैंने सोचा कि यार ये तो आ नहीं रही है। मेरे पास भी बस 1 घंटा ही बचा है. मैं भी तेज़ी से अपना लंड मॉम की बुर में अन्दर-बाहर करने लगा।‘आआअहह.

तभी मेरा लंड खड़ा हो गया।‘राजू क्या सोच रहे हो?’फिर से मैंने होश संभाला- कुछ नहीं।सविता- राजू थोड़ा इधर आना.

वो घोड़ी बन गई। मेरा तो चूत मारने को मन कर रहा था, मैं बोला- अब भी देख ले.

तो महंगा लगता है। मेरा सारा ध्यान तो घर के माल पर ही था।मौसी ने उससे कहा- आज रात को यहीं रुक जाओ. और फिर हम दोनों दोस्त आराम से सीट पर बैठ गए।मुझे एकदम से ध्यान में आया कि यार आज तो भारत-पाक का क्रिकेट मैच था. मैंने हैरानी से कहा- यह तुम क्या कह रहे हो? लेकिन मैं अपनी बीवी को किसी और मर्द को चोदने नहीं दूँगा।राजेश बोला- मुझे भी वैसी कोई इच्छा नहीं है। मैंने कहा ना.

पर अच्छा भी लग रहा था।मैंने जब उसको मना करते हुए कहा- अरे आराम से करो न. अब दूसरी बार मैं आप मुझे पैन्टी निकालने को कहोगे यही ना?यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !पायल ने यह बात जल्दी से बोली. पर लण्ड अन्दर नहीं जा पा रहा था।मैंने अपना थूक उसकी चूत और अपने लण्ड पर लगाया और कहा- अब डालो थोड़ी कोशिश के बाद थोड़ा अन्दर चला गया.

जिसके ऊपर केक रखा हुआ था। उसने आते ही हमें इस हाल में देखा तो पहले तो हमारी तरफ थोड़ा घूर कर देखने लगी.

34 साल की होकर भी तुम किसी कुंवारी लड़की से कम नहीं हो।’‘ऐसे मत बोलो. तब मेरे माँ और पिताजी की एक रोड दुर्घटना में मौत हो गई थी। मेरे पिताजी के एक छोटे भाई और एक बहन हैं, मेरे पिताजी उन सब में बड़े थे।पूजा बुआ- 32 सालचाचा- 28 सालचाची- 26 सालएक और छोटी चाची भी थीं रिश्ते में जो मेरे परिवार के साथ ही बगल के एक कमरे में रहती थीं. तभी सन्नी और बिहारी उसको सामने से आते दिखाई दिए तो अर्जुन ने निधि को हॉस्पिटल भेज दिया और खुद वहीं रुक गया।जब निधि जा रही थी बिहारी बड़े गौर से उसकी गाण्ड को घूर रहा था।बिहारी- क्या मस्त गाण्ड है ससुर की नाती की.

पता ही नहीं चला।रात में मुझे कुछ भारीपन महसूस होने के कारण मेरी नींद खुल गई। जब आँख खुली. अनीता दीदी की आवाज़ में एक अजीब सा उतावलापन था, उन्हें शायद ऐसा लग रहा था कि हम भाई-बहन आपस में ही चुदाई का खेल न खेलते हों।इधर उन दोनों की बातें सुनकर मेरी आँखों की नींद ही गायब हो गई। मैंने अब हौले से अन्दर झांका और उन्हें देखने लगा। वो दोनों बिस्तर पर एक-दूसरे के साथ लेटी हुई थीं और दोनों पेट के बल लेट कर एक साथ किताब को देख रही थीं।तभी दीदी ने फिर पूछा- बोल न नेहा. तो उन्होंने मुँह में ही माल डालने को कहा।बस 3-4 पिचकारियों के साथ मैंने आंटी के मुँह में अपना सारा पानी गिरा दिया।आंटी ने सारा पानी पी लिया और बहुत खुश हो गईं, वो कहने लगीं- वीर मेरी जान.

मैंने कुछ सोचा और मान गया।तब वो शर्माते हुए धीरे-धीरे अपना कुरता ऊपर की तरफ से उतारने लगी।उसकी कमर बिल्कुल मेरे सामने थी। वो हल्की सी सांवली थी.

तो रात भर वहाँ की हवा भी खानी पड़ेगी तू यही तलाशि दे दे और कुछ ना निकला तो चले जाणा. समझे।मैंने कहा- फिर और कुछ?शमिका बोली- साफ़-साफ़ बताओ और क्या चाहिए?मैंने कहा- ज़्यादा कुछ नहीं.

एचडी बीएफ बीएफ सेक्सी लेकिन उस दिन उसने लॉक किया हुआ था।यह देखकर मेरा मन फिर उदास हो गया।मैंने धीरे से डोर को ठोका. क्योंकि उस दिन मेरा मन थोड़ा उदास सा था।मैं कैंडल जला कर बाहर आ गया और अपनी कार में बैठ कर सिगरेट पीने लगा।तभी मेरी नज़र मेरी कार के बगल में खड़ी एक मर्सडीज कार पर पड़ी। मेरे होश मानो उड़ से गए.

एचडी बीएफ बीएफ सेक्सी पर मैं उसे रोज रात को पढ़ती थी।अवि- कोई स्टोरी बुक थी क्या? अगर हो तो मेरे पास भी कुछ स्टोरी बुक हैं. लेकिन उनकी छुअन मुझे अच्छी लग रही थी।रवि एक लड़की को ताड़ने में व्यस्त था और मैं यह देखकर हैरान था कि वो लड़की भी उसे देखकर मंद मंद मुस्कुरा रही थी और शर्मा रही थी।इन सब के बीच मुझे महसूस हुआ की रवि ने अपनी जिप मेरी गांड पर लगा रखी है और मेरे कंधों को दबाते हुए उभरे हुए लंड को मेरी गांड पर रगड़ रहा है।मैंने भी अपनी गांड उसकी तरफ निकाल दी और लंड पर रख दी.

लेकिन आयशा मेरी तरफ मुँह करके बैठी थी सो उसने नहीं देख पाया कि उसकी सहेली हम दोनों की हरकत देख रही है.

बढ़िया बीएफ हिंदी

’ कहा और उसको बिस्तर पर सीधा लिटा दिया और उसकी टाँगें फैला कर अपना कड़क लण्ड उसकी चूत के मुँह पर लगाया और एक धक्का लगा दिया। उसकी चूत वाकयी बहुत टाइट थी. फ्रेश हुआ नास्ता आदि करके लैपटॉप से एफबी पर ऑनलाइन हो गया।करेक्ट 9 बजे वो ऑनलाइन हो गई और कल के लिए बोलने लगी।‘सॉरी. मैं आज इतनी खुश थी कि मैं बता नहीं सकती।मैं जल्दी ही थक गई और उनसे एक मस्त चुदाई की रिक्वेस्ट की। फिर वो मेरे ऊपर आ गए और उन्होंने मेरी इतनी मस्त और जबरदस्त चुदाई की.

तेरी बहन तो बड़ी मुस्कुरा रही है।विवेक- लगता है आज तो कोई मजेदार सेक्स होने वाला है।सभी ने देखा कि अर्जुन बिस्तर पर जाकर लेट जाता है और आँखें बन्द कर लेता है।पायल बड़ी अदा के साथ उसके पास जाती है और उसके होंठों को किस करती है. चूत से क्या मस्त खुशबू आ रही थी।मैं उसकी गाण्ड के नीचे हाथ फेरता हुआ उसकी चूत की भीनी-भीनी महक को सूंघने लगा।फिर धीरे से मैंने उसकी चूत के बालों में अपना मुँह रगड़ना शुरू कर दिया. आज तो ब्लू फिल्म जैसा करके दिखा सकता हूँ।उसने कहा- अच्छा इसमें कुछ गाने चला ले।मैंने चला दिए।फिर शुरू हुई हमारी लव स्टोरी… मैंने उसे अपनी बाँहों में भर के गोद में बिठा लिया और मैंने उसकी गर्दन को चूमना शुरू कर दिया और बालों को सहलाता रहा।कुछ देर बाद मैंने उसके सूट के ऊपर से ही उसके मम्मों को सहलाना शुरू कर दिया, उसने सिसकारी लेनी शुरू कर दी ‘आहह.

वो मेरी जुबान से अपनी जुबान लड़ाने और चूसने लगे और मैंने भी उनका साथ देना शुरू कर दिया।हम करीब 10 मिनट ऐसे ही एक-दूसरे को प्यार करते रहे। फिर वो मेरे ऊपर से हटे और मेरी साड़ी को उतारने लगे। मैं भी जानती थी कि वे ये सब क्या कर रहे हैं.

तो फिर अब तुम भी भाभी के जैसी मालिश के लिए तैयार हो या नहीं?माँ- मैं तो सालों से इसी दिन का इन्तजार कर रही हूँ बेटा।माँ के ऐसे कहते ही मैंने माँ को खड़ा किया और चूमने लगा।माँ के होंठ क्या मस्त नरम और मादक थे. मेरा तो लण्ड खड़ा होकर फुँफकारने लगा।उसको तुरंत अपनी गोद में उठा कर मैं उसे चूमने लगा। वो भी मेरा साथ देने लगी. ’ उसने मुझे डरा हुआ देखा तो बोली और उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने पास बैठा लिया।‘आप यहाँ कैसे?’‘यार आज घर पर कोई नहीं था तो पापा ने मुझे बोला था कि मैं सुबह-सुबह ऊपर जा कर देख आऊँ।’ उसने जवाब दिया।‘वो तो ठीक है.

बोल लेगी मेरा बच्चा अपनी कोख में?सरिता- नेकी और पूछ-पूछ?हम दोनों हँसने लगे।अब हमने अपने चूतड़ धोए और घर निकल पड़े।घर आते ही मैं नहाने घुस गया. अंकल पीछे-पीछे मेरे कमरे में आ गए और मुझसे बोले- क्या तुम्हें बुरा लगा?मैंने अपने आपको संभाला. इसलिए पढ़ाई नहीं कर पाता हूँ। हॉस्टल में रहूँगा तो अच्छे से पढ़ लूँगा। मैंने हॉस्टल का फॉर्म भी ले लिया है.

तो वो मदमस्त हो गई।मैंने पहले उसकी चूत के बाहरी हिस्से को चाटना शुरू किया. मैं आता हूँ।पायल के जाने के बाद पुनीत ने सन्नी से कहा- ये अचानक एसीपी तेरा दोस्त कैसे बन गया और वहाँ इसको क्यों बुलाया.

मैंने फिर पूछा- हुआ क्या दीपक?तो उसने मुझे ‘आई लव यू’ बोल दिया और फिर मेरे मुँह से भी ‘आई लव यू टू’ निकल गया।दीपक बोला- पूर्वा कल हम कहीं घूमने चलते हैं. इसलिए मैंने कंट्रोल करके काजल को कहा- जा अभी तो छोड़ देता हूँ।अगर मॉम नहीं होतीं. इसी वजह से मेरे साथी संगी मुझसे मज़ाक करते हुए मुझे छेड़ते रहते हैं लेकिन मैं भी सबको हंसी में टाल देता हूँ।मुझे मर्दों में रुचि है इस बात का मुझे तब पता चला मैं आठवीं क्लास में था.

सब ने हामी भर दी और पुनीत के कहने पर नौकरों ने खाना लगा दिया, सबने मिलकर खूब खाया, उसके बाद अलग-अलग कमरों में सब चले गए।टोनी की टीम अलग और पुनीत की अलग कमरे में गई.

फिर उसे धीरे से नीचे उतार दिया। अंकल का सात इंच का लण्ड बाहर आ गया. तो उसमें लड़कियों की नंगी फोटो बनी थीं।मैंने किताब उठा ली और देखने लगा। तभी अन्दर के कमरे से कुछ आहट हुई. तो वो इस तरह से अपने हाथ उठाकर मुड़ गई कि उसका कमीज मेरे हाथों उतरने सा लगा, मेरे सामने उसकी पूरी नंगी पीठ और गोरी मखमली कमर आ गई।जब उसकी ब्रा की पट्टी तक दिखने लगी.

दो बार तूने मुझे हर्ट किया है।काजल ने कहा- भैया मैंने बहुत कोशिश की. इसलिए मेरे दिमाग में केवल उसको चोदने के अलावा कुछ घूम ही नहीं रहा था।उस दिन के बाद जब भी मौका लगता.

लेकिन बात नहीं बन पाती।एक दिन राज कहीं जमीन के काम से सुबह निकल गया. तो वह मुझसे बाहर ही मिल गई। मैंने इशारे से अपने पास बुलाया तो वह बोली- दीदी के पास जा रही हूँ।मैंने कहा- उनसे बाद में मिल लेना. उसमें दिखाया गया था कि एक लेडी बहुत देर तक मर्द के मुँह पर नंगी बैठ जाती है और शायद झड़ने के बाद ही उठ जाती है.

चंडीगढ़ के बीएफ

वे अपनी चूत को मुक्त करते हुए हटीं और वहीं से एक कटोरा लाईं और बोलीं- लो इसमें निकालो।मैं उनकी कामुक सोच को देखता ही रह गया। मैंने फिर वैसा ही किया.

जो उसके दोनों चूतड़ों को अलग किए हुए था। ऐसा लगता था कि दोनों गोलों को संभाल कर रखा हुआ था।उसके ऊपर उसकी पतली सी कमर और उसके ऊपर उसकी नंगी पीठ जिस पर सिर्फ उसकी ब्रा की स्ट्रिप थी। उस पर उसकी सुराहीदार गर्दन. तो मैं मुस्कुराते हुए राज़ी हो गई।उन्होंने फट से अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए और 15 मिनट तक मुझे लिपकिस करते रहे। फिर मेरी शर्ट में हाथ डाल दिए और मेरे चूचों को दबाने लगे।वो और भी जोश में आते जा रहे थे. और चूत रिसने का सारा जादू वैसे ही चालू है।मैं नीचे बैठ गया और अपने दातों से उसकी पैन्टी को नीचे की ओर खिसकाने लगा.

लेकिन डर के मारे कुछ कर नहीं पा रहा था।फिर मुझे एक आइडिया आया… मैंने अपने बैग से पैन निकाला और जान बूझकर उसे उसके पैरों की तरफ गिरा दिया. लेकिन फ़र्क सिर्फ़ इतना था कि आज वो चुदवा रही थी और मैं देख रही थी।ब्लू-फिल्म के चलते-चलते मैंने अपनी गाण्ड में भी उंगली की और चूत में भी मजा लिया।अब तो आदत ऐसी हो चुकी थी कि चूत में उंगली करने के बाद मैं अपनी उंगली मुँह में लेकर ज़रूर चूसती थी।मैं अपनी फीलिंग नहीं बता पा रही हूँ कि मैं उंगली करते और चूसते हुए कितना मस्त हो गई थी।अब वो वीडियो ख़त्म हुआ. तेलुगु सेक्सी एचडी वीडियोइसलिए बिना पूरा भरोसा हुए किसी को प्रपोज करना बड़ी समस्या थी।मेरे घर से लगा हुआ ही एक परिवार और रहता था.

बड़ी बेदर्दी से उसको मम्मों को दबाने लगा।पायल जल बिन मछली की तरह तड़प रही थी और अर्जुन उसको मसले जा रहा था।टोनी- उफ़ साला. तो मस्ती वाला मौसम लग रहा था।इतने में सोनी बोली- यार ठण्ड लग रही है.

आयशा के मम्मों को सहलाने लगी और टॉप के ऊपर से ही उसके निप्पलों को चूसने लगी. पर राकेश उनकी चीख की परवाह किए बिना ही अपने लण्ड को अपनी बहन की सहेली की चूत में डाल कर धक्के पर धक्के दे रहा था। लगभग 10 मिनट तक धक्के लगाने के बाद राकेश जोर से चिल्ला कर बुआ के ऊपर गिर गया।बुआ- क्या राकेश. और प्रियंका से बातें करने लगी। प्रियंका तैयार होने बाद बातों के जवाब भी देती जा रही थी.

तब मैंने उसको ज़मीन से उठाया और बाँहों में भर लिया। फिर हम बिस्तर पर आ गए. क्योंकि मैंने स्कर्ट के नीचे उनसे छुपा कर बहुत पहले से ही एक बहुत ही मोटा और लंबा रबर का लंड पहना हुआ था। उसे देखकर उनकी आँखें फटी की फटी रह गईं और मेरे चेहरे पर एक कातिलाना स्माइल आ गई।फिर मैंने उनके बालों को पकड़ा और उनके मुँह में लंड घुसेड़ दिया. इस थन से जो दूध निकलता है उसका स्वाद वही जानता है जिसे उसको पीने का सौभाग्य मिला है.

राजेश ने मेरी गाण्ड के छेद की चुम्मी लेते हुए कहा- ताकि मेरे जैसे गाण्ड के दीवानों का काम बन जाए। मैं तो बस अब सिर्फ तुम्हारी गाण्ड मारने के लिए ही अपना लौड़ा यूज करूँगा।मैंने कहा- मैं भी अब बस तुमसे ही अपनी गाण्ड मरवाऊँगी.

वो भी मुझे पसन्द करता है।जब मैंने उस लड़के से इस विषय में बात की तो उसने हाँ कर दी। अब हम दोनों रोज बात करने लगे. ऐसा समझो कैमरा घूमता रहेगा बस।अर्जुन अब पायल की चूत को चाट रहा था और वो सिसकारियाँ ले रही थी।पायल- आह्ह.

पाँव पर खड़े करके हाथों को आगे टिकाकर उकड़ू कर दिया। फिर मैंने पीछे से अपना मूसल लण्ड उसकी चूत में डालकर उसके बड़े-बड़े नितंबों को मसलते हुए ज़ोर-ज़ोर से चुदाई शुरू कर दी।वो बोली- वाह. उसे चूमना शुरू कर दिया।इस बार सोनी मेरा पूरा साथ दे रही थी। मैंने उसे 15 मिनट तक चूमा और फिर मैंने उसके कपड़े उतारने शुरू कर दिए।उसने अन्दर लाल रंग की ब्रा और पैन्टी पहनी थी।मुझसे अब कण्ट्रोल नहीं हो रहा था. उसने मेरे को धक्का दे कर बिस्तर पर गिरा दिया। फिर मुझको किस करने लगी। कभी होंठों पर.

इसलिए मैंने अपने सब कपड़े उतारकर पलंग पर रख दिए और बाथरूम में जाकर नहाने लगा।हाँ, नई जगह होने के कारण मैंने बाथरूम को अन्दर से लॉक कर लिया था।हालाँकि मैंने कमरे के दरवाजे को भी अन्दर से बन्द करने की कोशिश की. मुझे तो बिन माँगे ही सब कुछ जैसे मिल गया हो। यारों मैं बता नहीं सकता कि उस समय मैं कैसा महसूस कर रहा था।मैंने कहा- ठीक है भाभी. तो उसका हाथ काफ़ी देर तक मेरे सीने पर रहता था और मुझे एक अजीब सा मज़े की सेन्सेशन होती थी।फिर हम एक-दूसरे की सलवार नीचे करके चूतड़.

एचडी बीएफ बीएफ सेक्सी मुझे ऐसा लगा जैसे मैं नींद से जागा होऊँ और मैं तेज़ी से उससे सॉरी बोलता हुआ आगे चला गया। जब मैं बैग का मालूम करके आया. प्रियंका मेरे नीचे से किसी तरह निकलते हुए सुरभि की साइड में लेट गई.

चुदाई वीडियो बीएफ सेक्सी

और वो खुद ऊपर के हिस्से में रहती थी।उसके फोन पर बात करते समय मैं उसके पैरों पर अधलेटा सा हो गया। वो फोन पर लगभग 30 मिनट तक बात करती रही। मैं धीरे-धीरे उसकी जाँघों को सहलाने लगा. और औरत को उतना ही मजा चूत चुसवाने में आता है।पांच मिनट तक चूसने के बाद ऐसा लगा जैसे सोनिका कि चूत में सैलाब आ गया हो. उसके दिमाग़ में बस यही ख्याल आया कि पहली बार निधि ने इसको लिया कैसे होगा।अर्जुन- पी मेरी रानी.

तो आराम करना तो चाहिए ही था।मैं सोचने लगा कंडोम से तो मजा आता ही नहीं है. ’और मॉम मेरे लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसने लगीं।हम दोनों के मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगीं आआहह. च नाम लिस्ट बॉय new 2020अब आमिर भी अपनी गाण्ड उठा-उठा कर लंड मेरे मुँह में पेल रहा था, मैं भी मजे से चूस रहा था, उसके लंड से प्री-कम निकल रहा था.

तब मैं बाथरूम में था और मेरे लंड का साइज़ 4 इंच ही होगा या उससे भी कम होगा। जब मैं पहली बार झड़ा था.

फिर हमारी कॉलेज की परीक्षा शुरू हो गईं। परीक्षा होते ही आमिर को अपने गांव वापस जाना पड़ा।हम दोनों फोन पर बातें कर लेते थे और एक-दूसरे के साथ के लिए तड़प भी रहे थे. जिससे सोनी सिसकारियाँ लेने लगी।पांच मिनट सोनी के चूचों को खूब चूसा और दबाया.

अब मैंने अपनी उंगली उसकी गाण्ड में से निकाली और अपना लण्ड उसके मुँह में डाल दिया. मैं वो किताब देखने लगा। उस किताब में अलग-अलग लड़कियों की नंगी फोटो थीं।कुछ बड़ी उम्र की औरतों की भी नंगी फोटो थीं। कुछ फोटो स्तन चूसने की. दोस्तो, क्या होंठ थे।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !धीरे-धीरे मैंने अपने हाथ उसके चूचों पर सटा दिए.

’‘लेकिन तेरी भाभी ज्योति से मैंने जब इस बारे में बात की तो उसने मुझे समझाया कि आजकल लड़के भी लड़कों को पसंद करते हैं.

इसलिए दरवाज़े को ज़ोर से ठोक भी नहीं सकता था, मॉम-डैड सुन लेते तो दिक्कत हो जाती थी।इसलिए जब 2-3 बार दरवाजा ठोकने के बाद काजल ने नहीं खोला. तुम्हें भी मालूम है कि मैं क्या कर रही हूँ।मैंने कहा- नहीं आंटी गलत है ये. ’ दो दिन से उस साले ने लंड को उसने धोया भी नहीं था। इसके पहले की चुदाई का सफेदा उसके लंड के चारों और फैला था.

सबसे अच्छा सीरियल कौन सा हैमैं दिलीप पिछले पाँच वर्षों से लगातार अन्तर्वासना की कहानियाँ पढ़ता आ रहा हूँ।मुझे भी लगा कि मैं भी एक कहानी लिखूँ। यह मेरी पहली कहानी है. अब वो भी मेरा साथ दे रही थी।पूरे कमरे में ‘फच फच’ की आवाजें आ रही थीं।वो सिसकारियाँ लेकर चुदाई का मजा ले रही थी ‘चोद मेरे भाई और जोर से चोद.

डब्ल्यू डब्ल्यू बीएफ बीएफ

जो भी हो, उस वक़्त मेरा दिमाग ज्यादा चल नहीं पा रहा था। मेरे दिमाग में तो बस अनीता दीदी की मस्त चिकनी चूत ही घूम रही थी।थोड़ी देर के बाद मैं धीरे से उठा और वापस उनके दरवाज़े के पास गया और जैसे ही मैंने अन्दर झाँका. मोनू को मैंने 3 साल बाद देखा। मुझे देखते ही मुझसे लिपट गया।मैंने कहा- मोनू तू कद में तो मुझसे भी उँचा हो गया है. अब उनसे मेरी गर्म बातें भी होने लगीं।फिर एक दिन उन्होंने कहा- मैं चड़ीगढ़ जा रही हूँ.

पर हल्की हल्की दो दिन पहले शेव की हुई मूछें और हल्की दाढ़ी ने मुझे उसको घूरते रहने पर मजबूर कर दिया. लगता था जैसे उसके पति ने कभी वहाँ हाथ भी नहीं लगाया था।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने उसके दोनों फलक खोले और अपना मुँह उनमें डाल दिया. यह सुन कर मैंने और तेज़ी से उसके मम्मों को निचोड़ा।उसके मुँह से अजीब सी आवाजें आने लगी थीं- आआ आहह.

तो मुझे टयूशन की ज़रूरत महसूस हुई और मैंने ज़िद की कि मुझे भी घर पर टयूटर लगवा दिया जाए।मेरी ज़िद के आगे हथियार डालकर मेरे पापा ने मेरी लिए होम टयूशन का इंतज़ाम कर दिया।मेरे टयूटर एक स्मार्ट यंग स्टूडेंट थे. उसने ‘हाँ’ बोल दिया, मैंने अपने कपड़े उतार दिए।मैंने देखा कि मेरे पहले दीपक ने अपने कपड़े उतार कर फेंक दिए।मैंने दीपक को जैसे ही नंगा देखा. तुम दोनों कभी भी ऐसी हरकत नहीं करोगे।नेहा मुस्कुराने लगी।‘अच्छा नेहा एक बात बता.

और शहरों की अपेक्षा मुंबई के लौंडे दस गुण ज्यादा ले कर पैदा होते हैं। मैंने एक बार में ही उनका सूट. तो मैं उसे देखने लगा। तब शर्म से उसने अपने हाथ से अपना मुँह ढक लिया।वो शायद मुझसे एक साल बड़ी होगी.

’मैंने अपनी स्पीड थोड़ी और तेज कर दी और जोर-जोर से प्रीत की चूत की चुदाई करना जारी रखा। करीब 5 मिनट बाद मैंने अपनी स्पीड फुल कर दी और अब तो प्रीत की चीखें भी निकलने लगीं ‘ऊऊओहह्ह्.

उसकी चूत गीली हो गई थी।मेरा लण्ड उसकी चूत में जाने के लिए बेताब हो रहा था। मैंने उसे सोफे पर अधलेटा कर दिया और लैगी और पैन्टी को नीचे खिसका दिया और उसकी चूत पर एक गहरा चुम्मा ले डाला।वो ‘हाय. हिंदी सेक्सी पंजाबी सेक्सीआज तो आप बहुत हॉट और सेक्सी लग रही हैं।वो बोली- गौरव मुझे ‘आप’ और ‘जी’ मत बोलो. आदिवासी मराठी सेक्सीतुम्हें इसे इसका नाम लेकर बुलाना होगा।वो झट से बोली- प्लीज अपना लण्ड दिखाओ।मैंन अपना अंडरवियर उतार दिया, लण्ड देखते ही वो मदहोश हो गई और मेरे लण्ड को पकड़ कर सहलाने लगी- इसे किस कर लूँ क्या. ’ मैंने कहा।वो बोली- मुझे तो डर है कि तुम दोनों एक साथ लण्ड डालोगे.

रोज ही अपने काम पर जाता था।मेरे दफ्तर में कुछ लोग बड़े अच्छे थे लेकिन कुछ लोग शुरू से ही मेरे को डांटते रहते थे.

तेरी इज़्ज़त मेरी नजरों में और बढ़ गई।अब भाई फिर से मेरे मम्मों को दबाने लगे। भाई ने साड़ी बिल्कुल अलग कर दी. फिर धीरे-धीरे अपनी गति बढ़ाई और अब वो बहुत तेज़-तेज़ सिसकारियां ले रही और बड़बड़ा रही थी ‘आआह. जब मैं दिल्ली के एक कॉलेज में अपना ग्रेजुएशन कर रहा था।कॉलेज में मेरी दोस्ती अदिति से हुई। अदिति की जितनी भी तारीफ करूँ.

तेरी प्यासी चूत की प्यास अब मेरा लौड़ा ही बुझाएगा।रॉनी की बात सुनकर मुनिया की चूत से पानी रिसने लगा. जिससे वो मान भी गईं और मुझसे कहने लगीं- देख जुगाड़ तो तेरा करा दूँगी. हम दोनों के जवानी के रस से भीग चुके थे।भाभी के चेहरे पर एक खुशी की चमक थी और उन्होंने मुझे कुछ इस तरह से पकड़ा हुआ था कि मानो अब मुझे कभी नहीं जाने देंगी।फिर मैं और भाभी शांत हो गए और बिस्तर पर एक-दूसरे को प्यार करते रहे।उस दिन के बाद जब भी मौका मिलता.

बीएफ वीडियो सेक्सी साड़ी में

और अपने लण्ड के ऊपर जीन्स के ऊपर से ही रख दिया। वो भी अब उसको मस्ती से दबाने लगी।फिर मैंने उसकी चूत में दूसरी उंगली डाली. तो फोन मैं ही उठाता था।इस तरह से शादी से पहले ही भाभी से मेरी अच्छी दोस्ती हो गई थी।फिर भैया की शादी हो गई. नंगा तड़फता हुआ। जब मैंने इस चीज़ को गूगल किया तो मुझे पता लगा इसे ‘फेस सिटिंग’ कहते हैं। जिसमें लड़की मेल के मुँह पर बैठकर उसकी जीभ और होंठों से अपनी ‘पुसी’ को चटवाती है.

मेरा लण्ड नब्बे डिग्री के कोण में खड़ा हो गया था। वह मेरी ओर मुँह करके मेरे लण्ड के ऊपर चूत रख कर धीरे-धीरे ऊपर-नीचे करने लगी.

तो मैंने इशारा किया।फिर वो अपने आप ही मेरे बगल में आकर लेट गई। अब मेरा हाथ गले की तरफ से अन्दर नहीं जा पा रहा था.

पर कोई जाता ही नहीं।फिर मैंने कहा- कभी बारिश में सेक्स किया है?तो प्रीत बोली- नहीं।मैंने कहा- करोगी?प्रीत बोली- ओके. और झट से हाथ अपना हाथ उसके मम्मों में उगे हुए अंगूरों की ओर ले गया. आदिवासियों का सेक्सी वीडियोमैंने भी जोर-जोर से धक्के लगाए और अपना वीर्य उसकी चूत में ही छोड़ दिया और कुछ देर तक एक-दूसरे से चिपक कर पड़े रहे.

मैडम ने मुझे गले लगा लिया।मैडम- आज तो तुम ने मुझे जन्नत दिखा दी।अवि- मैडम थोड़ा पानी मिलेगा।मैडम- अभी तो दो बार में अपनी चूत का पानी पिला चुकी हूँ। फिर भी तुम्हें पानी चाहिए।अवि- मैडम मैं थक गया हूँ थोड़ा।मैं हँस दिया।मैडम मुझे आँख मारते हुए हँसने लगीं- तुम उस पानी की बात कर रहे हो. तब मैं बाथरूम में था और मेरे लंड का साइज़ 4 इंच ही होगा या उससे भी कम होगा। जब मैं पहली बार झड़ा था. ऐसा मौका हमें फिर कभी नहीं मिलेगा।तो संजना ने जबाव दिया- मेरी फ्रेण्ड ने बताया था कि पहली बार में बहुत दर्द होता है.

तो सोनिया को भी मजा आने लगा।सोनिया ने मदन को भी हिलने को कहा तो मदन भी हिलने लगा जिससे सोनिया का दर्द कम हो गया।अब सोनिया को भी दो लौड़ों से चुदने में और ज्यादा मजा आने लगा।हजारों गर्मागर्म कहानियाँ हैं अन्तर्वासना डॉट कॉम पर…अब मदन और में सोनिया को धकापेल चोदने लगे और उधर सोनिया रिंकू का लण्ड चूसे जा रही थी।सोनिया की चूत में दो लण्ड एक साथ पिस्टन की तरह चल रहे थे. मैं उनकी इस काबिलियत पर थोड़ा हैरान रह गया और जैसे वो मुझे चोद रही थीं उससे लगता था कि जैसे इस तरह चुदाई करने का उनको अच्छा अनुभव है।मैंने भाभी से पूछ ही लिया.

पर मुझे मालूम नहीं था कि उसे मुठ मारना कहते हैं। उसी तरह आज मैंने अपने आइटम को हिलाना शुरू कर दिया।किताब पढ़ते-पढ़ते आखिरी पेज पर कुछ लिखा था, शायद वो मैडम ने लिखा था ‘मेरे पति का लण्ड 6 इंच लंबा है।’यह पढ़कर.

मुझे तुम्हारे रस का स्वाद लेना है।वो तुरंत सीधी हुईं और मैंने सारा कामरस उनके मुँह में डाल दिया। वो मेरा सारा कामरस पी गईं और मेरे महाराजा को चाट कर साफ़ कर दिया।हम करीब 10 मिनट तक यूँ ही किस करते रहे और वो मेरे लौड़े पर लेट गईं।बाद में हम दोनों नहाने गए. जो उस रात में उसके साथ हुआ।मैं खुश भी था कि अब मैं शायद उसके मम्मों को पास से देख और दबा सकूँगा. जिससे वो एकदम से मचल गई और अपना बदन मोड़ने लगी और ज़ोर से चीखने लगी ‘आआह्ह्ह्ह.

सेक्सी वीडियो लुधियाना इनके लंबे और मोटे लौड़े से निकलती दूध की धार अपने मुंह में छुड़वाना और उसका स्वाद लेते हुए अंदर पीना. मसलता और मस्ती लेता रहा।फ्रॉक पहन कर उसने अपनी मोटी चूचों के ऊपर दुपट्टा डाल लिया। मैंने दुपट्टे के नीचे हाथ डाल कर उसकी फ्रॉक को चूचियों से नीचे सरका कर उसकी चूचियाँ नंगी कर दीं।उसने शरारत भरी नज़रों से मेरी तरफ देखा और धीरे से अपना सीना तान लिया.

अब मैंने पूरा हाथ उसके लंड और आंड पर रख दिया जिससे उसने टांगें थोड़ी और फैला दीं और उसका मर्द-पना और छलकने लगा।अब मैं पागल हो चुका था. मॉम सपन के पास आईं और उनके हाथ में सिंदूर की डिब्बी थी।मॉम ने सपन से बोला- तुमने सब कुछ तो किया है मेरे साथ. तो मैंने कहा- तुम बताओ?उसने बताया- आज किस डे है और मैं ये दिन तुम्हारे साथ मनाना चाहती हूँ।मैं एकदम से हक्का-बक्का रह गया।मैंने कहा- तुम्हारा बॉयफ्रेंड तो है न?तो वो बोली- मैं तुमसे 6 वीं क्लास से ही बहुत प्यार करती हूँ.

बांग्ला सेक्स बीएफ वीडियो

ये तो सोने पर सुहागा हो गया। अब तो मैंने भी ठान लिया कि पूनम की सील तो पूनम की रात में ही तोडूंगा।एग्जाम खत्म हुए. आप मुझे कार से ही घर तक छोड़ दो।मैंने कार स्टार्ट की और अपना हाथ उसकी जांघ पर रख कार आगे बढ़ा दी। उस समय तक हल्का अँधेरा हो गया था। जैसे ही मेरा हाथ उसकी चूत पहुँचा. मैं आपका बदन पोंछ कर पाउडर लगा दूँ?उनकी मौन मुस्कराहट देख कर मैंने उनके बदन पर से तौलिया को सामने से खोल दिया और उनके नंगे जिस्म को एक छोटी तौलिया से मस्ती से रगड़ कर पोंछना शुरू किया। पहले गर्दन.

वो बोलीं- अरे पहले अपना सामान तो दिखाता जा।मैं शर्मा कर बोला- नहीं आंटी. दोस्तो आख़िर वो दिन भी आ गया जब मेरी मुराद पूरी होने वाली थी।एक दिन जब उसके घर में कोई नहीं था.

तो मुझे कोई खतरा नहीं था।अपनी सीट पर आकर मैंने उससे कहा- मैंने हमारे लिए पिछली डबल बेड वाली सीट बुक कर दी है.

भाभी ने वो पानी वाला बर्तन वहीं पर रखा और सब्जी बनाने के बाद वो बर्तन ले कर मेरे पास आईं।मैंने पूछा- आपने ऐसा क्यों करवाया?तो उन्होंने कहा- देखते रहो. और मेरे लण्ड के टोपे को मजे से चूसने लगी।उसने लण्ड को फिर से चूस कर गुलाबी बना दिया. मैं भी चारों तरफ देख कर उसके अन्दर चला गया।मेरा अन्दर घुसना था कि वो पागलों की तरह मुझ पर टूट पड़ी, मेरे होंठों को बुरी तरह चूसने लगी।मैंने भी तुरंत अपना हाथ उसके दूधों पर रखा और धीरे से दबाने लगा.

’ करते हुए भी लण्ड चूसने लगी। उनका 8 इंच का लण्ड मेरे मुँह को चोद रहा था. तब से ये सारी फीकी सी लग रही थीं।मैं सबको काम समझा कर खेत में छप्पर के बने हुए घर में आकर चारपाई पर लेट गया। उस लड़की को याद करते-करते कब मेरी आँख लग गई. कि क्या करना है?सोनिया बोली- मेरा मन तो ग्रुप सेक्स करने का है।मैंने बोला- ठीक है एक नए तरह का ग्रुप सेक्स ही करते हैं.

मेरी छाती पर कुछ बाल थे और वो उन बालों पर अपने हाथ फेरने लगी। मैं तो मानो.

एचडी बीएफ बीएफ सेक्सी: ‘हाँ’ करना पड़ा।मैं सुबह नाश्ता करके खेत की ओर चल पड़ा।आज खेतों में कुछ काम बाकी था. मैं प्रियंका की गाण्ड का गुलाबी छेद देख कर सोच में पड़ गया कि इसकी गाण्ड तो पहले से थोड़ी सी एक उंगली की जगह के लिए खुली हुई है।फिर मैंने एक बार फिर से उसकी चूत को देखा.

तो मैं बस सोनी की चुदाई करने में लगा हुआ था।हम दोनों ही पसीने से भीग गए थे. लेकिन उसने दरवाज़ा नहीं खोला।मेरे मॉम-डैड का रूम काजल के कमरे से एकदम लगा हुआ था. जिसके कारण भाई भी मुझे कुछ अजीब से नज़रों से देखता था।एक दिन जब वो घर पर नहीं था.

मेरा नाम हेमाली है और मैं 29 साल की शादीशुदा हूँ। मेरी हाइट 5’11” है.

तो वो जल्दी से घोड़ी बन गईं।मैंने देखा कि उनकी चूत बिल्कुल लाल हो गई है. ’ की आवाजें निकलने लगी थीं और आँखें भी अधमुंदी सी हो रही थी।उसने विचलित सी आवाज में कहा- कुछ और म़त करना भैया. करीब 20 मिनट के बाद मॉम नहा कर रेड कलर की साड़ी पहन कर आईं।सपन तब सिगरेट पी रहा था.