सनी लियोन की बीएफ सेक्सी पिक्चर

छवि स्रोत,नंगे वाली बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

हीरोइन वीडियो सेक्स: सनी लियोन की बीएफ सेक्सी पिक्चर, मगर उसने कहा- इससे उसकी सील टूट जाएगी और उससे कोई शादी नहीं करेगा।मैंने उससे बोला- मैं तुमसे सच्चा प्यार करता हूँ और मैं ही तुमसे शादी भी करूँगा।इस पर थोड़ी देर सोचने और थोड़ा भाव खाने के बाद वो मुझसे चुदवाने को तैयार हो गई।अगले दिन हमने अपना स्कूल बंक करने का प्लान बना लिया था, तय समयानुसार और जगह पर वो मुझसे मिली.

हिंदी नंगी चुदाई बीएफ

अमर अब यह सोच कर दीवाना हुआ जा रहा था कि जब उस नन्ही गांड में उसका भारी भरकम लंड जायेगा तो कितना मजा आयेगा पर बेचारी कमला जो अपने भाई के इस इरादे से अनभिज्ञ थी, मस्ती से चहक उठी. बीएफ पिक्चर सेक्सी फोटोमुझे भी वैसे तो डर लग ही रहा था कि इतना बड़ा मूसल इसकी चूत में कैसे अन्दर जाएगा। वो भी लेने को तैयार नहीं थी।बात नहीं बनी और बस अपना हाथ जगन्नाथ.

यानि यह बड़ी काम की चीज थी।उस दिन तो मैं ये सोच कर वापस आ गया कि यह अनार कल खाऊँगा।मैं उस रात को कमली के साथ सोया, कमली मेरी काम वाली थी। यह भी साली बड़ी चुदक्कड़ थी. वीडियो बीएफ सील पैक’मेरी मस्ती से अब जेठ ने भी मेरी चूत के निकलते रस को चाटते हुए जैसे ही मेरी चूत के फांकों को मुँह में भर कर खींचकर चूसा.

मैंने एक बात पर ध्यान दिया कि कुछ देर पहले जो भाई साहब मुझे देख कर कर रहे थे। ऐसा जेठ जी से बात करते कुछ जाहिर नहीं हो रहा था।मैं बोली- जी भाई जी.सनी लियोन की बीएफ सेक्सी पिक्चर: ’ कह कर मैं तुरन्त लिफ्ट की तरफ गई। शुक्र था लिफ्ट फस्ट फ्लोर पर ही थी। मैं सीधे फोर्थ फ्लोर पर पहुँची.

’ कहकर रेशमा उठी और अपनी गाण्ड मटकाते हुए रसोई में चल दी।थोड़ी देर बाद उसने राहुल को आवाज दी, राहुल अन्दर चला गया। कुछ देर बाद रेशमा गिलास लेकर लौटी। उसनी हल्की सी मुस्कान बिखेरी और वो झुक कर गिलास रखने लगी। उसकी लटकी हुई चूची को मैंने हल्का सा दबा दिया।तभी वो बोली- राहुल को दारू पिला कर तुम टुन्न कर दो.मैं तो सिर्फ उसकी खुश्बू महसूस करना चाहता हूँ।इस पर उन्होंने कुछ नहीं कहा।अब मैं जैसे ही अपनी नाक उनकी चूत के नजदीक ले गया और एक जोर की सांस ली.

बीएफ वीडियो कुंवारी लड़की की - सनी लियोन की बीएफ सेक्सी पिक्चर

पर तुम अपना वक्त बर्बाद कर रही हो।सोनिका- आप ऐसा क्यूँ कह रहे हैं?मैं- क्योंकि मुझे लगता है कि वो तुमसे अब प्यार नहीं करता है। वो कभी तुम्हारे बारे में पूछ्ता भी नहीं है।सोनिका- ओह्ह… तो अब आप ही बोलो मैं क्या करूँ? मैं तो उसके बिना जिन्दा नहीं रह सकती हूँ।मैं- यही लाईफ है.उसमें से उसकी पैन्टी दिख रही थी।मेरा लण्ड खड़ा हो गया, मैंने देखा वो हेड फोन लगा कर लेट कर ब्लू-फिल्म देख रही थी.

उसने सिमरन और हरलीन से शीरीन के चूचों और चूत से खेलने को कहा जिससे शीरीन दर्द भूल जाए और आलोक के लंड को अपनी चूत में घुस जाने दे. सनी लियोन की बीएफ सेक्सी पिक्चर नमिता ने अचानक मुझसे पूछी- आंटी आप मम्मी की तरह नाभि में छल्ला क्यों नहीं पहनती, आपको बहुत सूट करेगी.

वो बहुत ही सेक्सी लग रही थी। उसके मम्मे मुझे बड़े आकर्षित कर रहे थे। मैंने भी ट्रान्सपरेंट नाईट ड्रेस पहनी थी.

सनी लियोन की बीएफ सेक्सी पिक्चर?

गाँव की गोरी को डॉक्टर दिल दे बैठे लेकिन बदकिस्मती से उन्हें दूर दिया पर हालात ऐसे बदले कि साहब को गोरी को इतना करीब लाया कि दोनों दो जिस्म एक जान हो गए. इसलिए मेरे आने का कोई फिक्स टाइम नहीं था।नेहा ने मुझे कॉल किया और कहा- तुम जल्दी घर आ जाओ और 3 दिन का कॉलेज से ऑफ ले लेना. लेकिन बाद में उसे भी मजा आने लगा और वो उससे खेलने लगी।फिर हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए, अब मैं उसकी चूत चाटने लगा और वो मेरा लण्ड चूसने लगी।क्या मस्त मलाईदार चूत थी उसकी.

वहाँ जाकर उन सबने म्यूज़िक चालू कर दिया और सबने डांस करना स्टार्ट कर दिया। यह सब 10 बजे तक होता रहा!फिर आहिस्ता-आहिस्ता से सब दोस्त अपने-अपने घर जाने लगीं. इसके पहले घर वालों ने इसकी शादी आकाश से कर दी और ये अपने शादीशुदा जीवन में सब भूल गई।संजय शुरू से इस पर गंदी नियत रखता था, किसी ना किसी बहाने से इसे छूना उसकी आदत बन गई थी। अपने छोटे भाई के घर जाना. तो सर से पूछिये?’मैं सन्न रह गई थी। क्या मेरा पति गाण्ड मरवाने का शौकीन था? मुझे ये कुछ जंचा नहीं। मैंने तत्काल उनको मोबाईल पर कॉल की।मैंने उनसे पूछा- क्या ये कुसुम कह रही है.

तो सब लोग मेरे स्वागत में लगे हुए थे, मुझे भी मजा आ रहा था।सब लोग मेरी खातिरदारी में लगे थे पर चाची मुझ पर कुछ ज्यादा ही ध्यान दे रही थीं. गरम गरम गाढ़े वीर्य का फ़ुहारा जब कमला की बुर में छूटा तो वह होश में आई और अपने भैया को झड़ता देख कर उसने रोना बन्द करके राहत की एक सांस ली. !मैं वहाँ से अपने कमरे में आ गया और कमरे में आ कर आंटी के बारे में सोचने लगा कि इस माल को कैसे चोदूँ, इस माल का एक-एक हिस्से को अपने मुँह से कैसे चूमूँ.

ऊऊऊऊऊ’ निकलती।मैं देश दुनिया से बेखबर बुर चुदाती रही ताबड़तोड़ चुदाई से मेरी बुर पानी छोड़ रही थी। तभी उसका लण्ड मेरी चूत में वीर्य की बौछार करने लगा। मैं असीम आनन्द में आँखें बंद करके बुर को लौड़े पर दबाकर उसके गरम वीर्य को बुर में लेने लगी।तभी उसने अपना लण्ड बाहर खींच लिया। सट. नहीं तो मौका नहीं मिलेगा।तब मैंने कहा- अनु को तो कल रात ही मैं चोद चुका हूँ। इन दो दिनों में तो मुझे कहानी आगे बढ़ानी है।तो मौसी को विश्वास ही नहीं हुआ.

फिर तुम कैसे मेरी चूत से लण्ड लड़ाते हुए मेरी बुर का बाजा बजा डोगे?’वह बोला- पर तुम चूत चुदाने ही जा रही थी न.

क्योंकि उसका दिमाग ब्लू-फिल्म देखने की वजह पहले ही गरम था।जब मैंने उसकी ब्रा उतारी तो उसके चूचे हवा में उछलने लगे।मैं एक चूचा चूस रहा था और दूसरा मसल रहा था। मैंने दूसरा हाथ उसकी पैन्टी के अन्दर डाल कर उसकी चूत में फेरना शुरू कर दिया।उसकी कामुक आवाजें निकलना शुरू हो गईं- आहा.

बाहरी लण्ड से चूत की भूख शान्त करवाने की कोई ज़रूरत ही नहीं है।तो मैंने धीरे-धीरे माँ जी को फुसलाया कि उनका अपने बेटे के बारे में क्या ख्याल है? यह जानने की कोशिश करने लगी. मैं बताती हूँ।फिर हम चारों एक कमरे के अन्दर आ गए।रितिका बोली- आज नया खेल शुरू करते हैं।‘कैसा खेल?’ मेरे मुँह से निकला।रितिका ने बोला- मैंने सुना है कि लड़के लोगों की ‘सुसू’ लम्बी सी होती है। आज हम लोग मिल कर एक-दूसरे की सुसू देखते हैं।हम सभी राजी हो गए।फिर रचना. आलोक अभी भी सावधानी बरत रहा था कि कहीं हरलीन को ज्यादा दर्द न हो इसलिए वो धीरे धीरे ही लंड चुत में आगे पीछे कर रहा था.

मेरी यह चूत आपको ही चोदने को मिलेगी।उसने मेरी साड़ी उतार दी और मैंने बस लाज से कांपते हुए अपना चेहरा हाथों से ढक लिया। वह मुझे गोदी में उठा कर बेड पर ले जाकर. यह मेरे जीवन की एकदम सच्ची कहानी है।यह बात सही है कि आम जीवन में बहन भाई में आमतौर पर जिस्मानी ताल्लुकात नहीं होते हैं और अधिकतर पाठक इस तरह की कहानी को मात्र एक झूठ मान कर हवा में उड़ा देते हैं. और तुम भी तो कपड़े उतारो।मोहन- मेरे कपड़ों को मधु उतारेगी।मधु मोहन के एक-एक कर कपड़े उतारने लगी।मोहन- मधु इसके भी कपड़े उतारो, आज न जाने न इसे क्या हो गया है?मधु ने मेरे भी कपड़े उतार दिए, अब हम तीनों मादरजात नंगे थे।मधु हमारे लंडों को पकड़ कर का चूसने लगी।कुछ देर बाद मैंने मधु की टांगों को फैलाकर उसकी चूत में जीभ डालकर जीभ से चोदने लगा। मधु अपने कूल्हे उचका कर अपनी चूत को चुसवा रही थी- ओईईईई.

किसी तरह से पैंट को थोड़ा नीचे करके अंडरवियर के साइड से लण्ड को बाहर किया तो वो बोली – ऐसे नही, अंडरवियर उतारो.

तुम्हारे अंकल की आज रात की पारी है मैं तुझे रात को 11 बजे रोशनी बन्द करके इशारा कर दूँगी तू तैयार रहना. उसकी साँसें तेज़ हो गई थीं। मेरा लण्ड भी पूरा खड़ा हो चुका था और उसकी गाण्ड की दरार में धँस गया था।सोनिका बोली- ओह्ह. और वो बस चड्डी में रह गया था। मैं सोच ही रही थी कि मेरी समीज़ उसके हाथ में थी। उसके बाद जीन्स के बाद मैं पैन्टी और ब्रा में थी।उसने जल्दी से मेरा हेयर कट किया। पहले से मेरे बाल कुछ छोटे हो गए थे.

अबकी बार आरती ने अपनी आंखें खोलने की कोशिश की लेकिन मैंने उसको पहले ही बोल दिया कि अगर उसने आंखें खोलीं तो वह शर्त हार जाएगी और इसलिए अभी अपनी आंखों को बंद ही रखे. इतना कहकर वो चाय रख कर चली गईं।उस दिन उनके हाव-भाव से मैं इतना खुश हुआ कि दोस्तों को पार्टी दे डाली। उस दिन मैं यह तो समझ गया था कि भाभी को मुझमें कुछ तो रूचि है।अब मैंने भाभी से और खुल कर बात करनी शुरू कर दी. तो सारी खुजली एकदम मिट जाती है।आज तो मेरी चांदी थी, शर्माजी सीधे मेरी तरफ ही देख रहे थे, मेरा पल्लू मेरे कंधे पर रुकने को तैयार ही नहीं था, मेरे दो कबूतर जैसे मसले जाने के लिए लालायित थे। नीचे का चीरा लगा पाव जैसे खोदे जाने के लिए उत्सुक था।‘क्यों रे रानी.

थोड़ा और जोर लगाने पर लंड पूरा घुस गया।अब छोटे नवाब नई चूत के मजे ले रहे थे, काफी महीनों के बाद नई चूत नसीब हुई थी।चोदते-चोदते उसे किस कर रहा था.

इसका पता आगे चल जाएगा।आप बस देखते रहो और ‘हाँ’ ये कोई मैंने अलग से इसमें एड नहीं किया। आगे चलकर ये भी कहानी का एक हिस्सा बन जाएगा ओके. मैं अपनी कमर लचकाती बोली- हाय उमेश, जो करना हो जल्दी से कर लो, कहीं पापा ना आ जाएँ!मैं पागल होती बोली.

सनी लियोन की बीएफ सेक्सी पिक्चर निकल जाती। कुछ ही देर में उसने पूरा लौड़ा चूत में घुसा दिया और पायल के ऊपर लेटकर उसके निप्पल को चूसने लगा।पायल- आह. चूसो इसे… अपने होठों में भर कर चूस मेरे राजा !’मैंने फिर से आंटी का कहना माना और उनकी चूत की दरार को ऊँगली से चौड़ा करके दाने को मुंह में भर कर चूसना शुरू कर दिया.

सनी लियोन की बीएफ सेक्सी पिक्चर उसकी साँसें तेज़ हो गई थीं। मेरा लण्ड भी पूरा खड़ा हो चुका था और उसकी गाण्ड की दरार में धँस गया था।सोनिका बोली- ओह्ह. ’ की आवाजें आ रही थीं।उसकी ‘आहें’ मुझे और उत्तेजित कर रही थीं, मैं उसके मम्मों को और जोर से दबाने लगा.

गाड़ी में रोमांटिक गाने चल रहे थे। बातें करते-करते हम अहमदाबाद के इस्कॉन मॉल में पहुँच गए।वहाँ वेस्ट साइड में गए.

एंकर सेक्सी

मुझे भी वैसे तो डर लग ही रहा था कि इतना बड़ा मूसल इसकी चूत में कैसे अन्दर जाएगा। वो भी लेने को तैयार नहीं थी।बात नहीं बनी और बस अपना हाथ जगन्नाथ. क्योंकि मैंने अपनी कहानी में कुछ भी ग़लत नहीं कहा है, जो मेरे साथ हुआ वो आप लोगों को सच-सच ही बताया है।[emailprotected]. उनका एक पैर मेरे कंधे पर था और दूसरा नीचे था, जिस कारण मुझे उनकी झांटे और चूत के दर्शन हो रहे थे क्योंकि माँ ने अन्दर पैन्टी नहीं पहनी थी.

भाई साहब ने एक जोरदार शॉट मार कर अपना पूरा लण्ड मेरी चूत में उतार दिया।भाई साहब का लण्ड मेरी योनि को चीरता हुआ मेरी बच्चेदानी से जा टकराया और मैं चीख उठी- आआआ आआहह. एक तरफ चीखती हैं और एक ओर और ज्यादा लण्ड चाहती हैं।मैंने भी देर न करते हुए अपनी स्पीड बढ़ा दी। हर बार में पूरा लण्ड बाहर निकालता और फिर पूरा अन्दर डाल देता।अब भाभी पूरी तरह चुदाई में मस्त हो चुकी थीं. वो लेने मैं बेकरी चला गया।बेकरी से थोड़ा दूर एक होटल है।मैंने केक बेकरी से लिया और उस होटल में चला गया.

और मैं अपने अपको सम्भाल न सकी उन्होने नाड़ा खींचकर पेटीकोट को गिरा दिया, मैं नंगी हो गई, मौसाजी बहुत खुश हो गये मेरा नंगापन देख कर उठा लिया, मुझे बेड पर करके उन्होने अपने सभी कपड़े निकाल दिये.

इतना सुनते ही तो मेरा अन्दर का बॉस जग गया और मैंने तुरंत ही उसकी जीन्स और पैन्टी दोनों उतार दीं। अपने लण्ड पर थूक लगा कर उसकी चूत के मुँह पर रख दिया और लवड़ा घिसने लगा। सोनू के मुँह से गालियां निकल रही थीं- बहन के लौड़े. कि मेरे लण्ड की गोटियों में खून जोर से बहने लगा।मैं भी अपना मूसल लण्ड गुलाबो के चूतड़ों के बीच में जोर-जोर से घिसने लगा।साली थी तो बड़ी मस्त माल. मैं फिर कुछ नहीं बोली और सीधे बाथरूम में चली गई, फ्रेश होकर मैंने चार्ली के द्वारा दी गई ड्रेस पहन ली.

मैं दस मिनट में फिर से फोन करूँगी।सोनिका का घर मेरे घर से एक किलोमीटर दूर है सो मैं जल्दी-जल्दी चलता हुआ उसके घर पहुँचा। तभी उसने फोन किया।सोनिका- दीवार फाँद कर सीढ़ी के पास आइए।मैंने तुरन्त फोन को बन्द किया और दीवार फाँद गया। सीढ़ी के पास पहुँचते ही सोनिका की फुसफुसाहट भरी आवाज आई- आ गए. तो मैं दोनों के बीच में सो जाता हूँ।अब रजनी मेरी तरफ़ मुँह कर के सो गई और मेरे पैरों में अपना पैर लाद लिया। मैं एक हाथ से रानी का चूची दबा रहा था कि मेरा लण्ड को किसी के हाथ के स्पर्श मिला. मैंने अपना हाथ वहाँ से निकाल कर उसके बालों में पीछे से इस तरह घुसाया कि उसका पूरा सिर मेरे गिरफ्त में ही रहे।वो पहले से मेरी ओर देख रही थी.

मैंने कहा- तड़पने में ही मजा है मेरी जान!और मैंने धक्का लगा कर उसकी फैली हुई चूत में लण्ड को 3 इन्च तक घुसा दिया. ’ की आवाज़ आने लगी।पति अपना पूरा लंड बाहर खींचते और एक जोरदार धक्का देकर अन्दर पेल देते। आज वे बहुत ही जबरदस्त तरीके से चोद रहे थे.

पर मसालेदार एक भी नहीं थे। फिर हॉट एंड सेक्सी नाम से सर्च किया तो मैम का ही फोटोज मिले। मैंने देखा कि वो एक फोल्डर था. वो बोले- चुप रह साली रंडी, अब तू मुझे समझायेगी कि क्या छोटा है और क्या बड़ा है?ऐसा बोल कर उन्होंने आहिस्ता आहिस्ता से मेरे छेद में लंड को अंदर डालना शुरू किया. तो उसके अपने बैग से वैसलीन की डिब्बी निकाली और मेरी गाण्ड पर मलने लगा, गाण्ड के अन्दर भी उंगली करके उसने अच्छे से क्रीम लगा दी।फिर मेरी गाण्ड पे लंड रख के अन्दर घुसाने की कोशिश करने लगा। मेरी गाण्ड का छेद काफ़ी तंग था क्यूंकि मैंने बहुत सालों से नहीं मरवाई थी।फिर उसने मेरी कमर जोर से पकड़ कर अपना लंड को ज़ोरदार तरीके अन्दर धकेला.

मेरा पूरा ध्यान आंटी की चूची की तरफ़ था और आंटी का ध्यान मेरे औज़ार की तरफ़!तभी मैंने आंटी की नज़रों की तरफ़ देखा तो उनकी नज़र अपने औज़ार पर टिकी देख कर अंदर ही अंदर खुश हो गया और धीरे से अपनी टांगें और खोल दी ताकि आंटी और अच्छी तरह से लंड का दीदार कर सकें!उसके बाद हम दोनों ने कोफ़ी पी.

बेजान सी बेड़ पर पड़ी थी, महमूद दीपक राना के लण्ड से निकले वीर्य को चाट रहे थे।दीपक का लण्ड मेरी बुर में पड़ा पड़ा जब कुछ ढीला हुआ. उसकी नज़रों से नजरें मिलते ही मेरे मन में एक अलग सी मस्ती छाने लगी थी।मुझे लगा कि कोई तो है इस महफ़िल में जो मेरी तरफ देखने वाला है। मैं भी उसको अपनी तरफ आकर्षित करने की पूरी कोशिश कर रही थी. टॉयलेट यूज किया तो चूत में जलन हो रही थी। मैं वापस आ कर बिस्तर पर ऐसे ही नंगी लेट गई।उस रात हमने 3 बार चुदाई की.

बेजान सी बेड़ पर पड़ी थी, महमूद दीपक राना के लण्ड से निकले वीर्य को चाट रहे थे।दीपक का लण्ड मेरी बुर में पड़ा पड़ा जब कुछ ढीला हुआ. लेकिन मैं अपनी गलती पर शर्मिंदा हूँ। मैं क्या करता तुम हो ही इतनी खूबसूरत कि मैं खुद पर कंट्रोल नहीं कर पाया।इतना कह कर मैं घर से बाहर चला गया और देर रात को लौटा। घर आकर देखा तो स्नेहा जाग रही थी.

पूजा ने अपने दोनों हाथों से मेरे सर को अपनी चूत में दबा लिया था। वो बहुत गरम हो गई थी। मैंने भी देर न करते हुए अपना लण्ड उसकी चूत के मुँह पर लगा कर एक ही झटके में अपना पूरा लण्ड उसकी चूत की गहराइयों में उतार दिया और उसकी चूत की चोदने लगा। इधर मैं अपने लण्ड से उसकी चूत को चोद रहा था और ऊपर उसके मम्मों को मुँह में लेकर चूस रहा था।वो चिल्लाने लगी- आअह्ह्ह. पर मैंने कुछ नहीं सुना और उसे बिस्तर पर धकेल कर उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उसे किस करने लगा। उसने अपने आपको छुड़ाने की पूरी कोशिश की। इससे पहले कि वो अपने आपको मुझसे छुड़ा पाती. वो सिसकार रही थी लेकिन साथ भी दे रही थी।होंठों का रसपान करने के बाद सूजी अब नीचे की तरफ बढ़ रही थी, वो मेरे निप्पल पर अपनी जीभ चला रही थी, मेरे निप्पल को चाटते हुए उसने बड़ी कातिलाना नजर से मुझे देखा और अचानक मेरे निप्पल में अपने दाँत जितनी तेज गड़ा सकती थी गड़ा दिए।मेरी चीख ही निकल गई लेकिन वो अपना काम करती रही।उसके बाद वो मेरी नाभि पर अपने जीभ का कमाल दिखाती रही.

ब्लू फिल्म सेक्सी ब्लू फिल्म हिंदी

वो पूरी तरह गरम हो गई।इधर रजनी मेरे लण्ड को सहला रही थी और मुझे मजा आ रहा था। तभी मैंने रजनी के मुँह को मेरे लण्ड की तरफ़ मुँह ले जाने लगा और उसे चूसने को इशारा किया.

मेरे तो पूरे बदन में मानो आग सी लग गई और फिर मैं किसी न किसी बहाने से उसकी चूचियों को बार-बार रगड़ने लगा।थोड़ी देर में हम उसके घर पहुँच गए। मैं अपना बैग लेने के लिए पीछे मुड़ा. मां बोली- चोद रे, मादरचोद और चोद्द, दबा मेरे बोल्ल और दबाआआअ और चाट और काट… मेरे बोल को… और उन्हे बड़ी कर दे ताकि मेरा ब्लाउज़ से वो बाहर आये दबा और दबा चल डाल पानी अब… भर डाल अपनी मां की बुर पानी से आआऊओ… तेरे गर्म्मम पानी से आआऊऊओ!तभी मैंने ज़ोर का झटका दिया और मेरा लंड का पानी मां के बुर में डाल दिया. उस दिन से मैंने सोच लिया कि किसी भी औरत को कभी गंदी नज़र से नहीं देखूँगावो अगर नंगी भी आके सामने खड़ी हो जायेगी तो भी अपने पज़ामे को उतार के नहीं फेंकूंगा.

मैं एकदम से उठ गई, देखा कि दिव्या है और वो मेरी मुन्नी को सहला रही थी।मैं उठ कर बैठ गई और बोली- इसका यह हाल तेरी ही वजह से ही हुआ है. करते हुए अपना चूतड़ उछाल कर लंड को अन्दर कर लिया।इधर नवीन भी अपनी वाइफ की चुदाई देखकर उत्तेजित होकर पीछे से ही मेरी चूत पर लंड लगा कर ठेल दिया।सही में नवीन का लण्ड बहुत छोटा तो नहीं था. बीएफ सेक्सी गर्ल व्हिडीओतो आप तो बस जल्दी से मुझे अपनी प्यारी-प्यारी ईमेल लिखो और मुझे बताओ कि आपको मेरी कहानी कैसी लग रही है।कहानी जारी है।[emailprotected].

चोद दो प्लीज़्ज़ज़्ज़ज़्ज़ज़्ज़ज़्ज़ज़्ज़ज़्ज़ फ़िर मैने उसके मुंह में अपना लंड डाला तो बोली चाटो मज़ा आ रहा था ६९ की पोज़िशन में हम दोनो पागल हो रहे थे वो बोली संजु……. और वो जोर-जोर से ‘आहें’ भरने लगी।उसने कस कर मेरे सर को अपनी चूत पर दबाया और उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया।मैंने थोड़ा सा पानी पी कर देखा उसका स्वाद नमकीन सा था।फिर मैंने उसकी चूत को रूमाल से साफ़ किया।उसने कहा- मुझे भी तुम्हारा पानी पीना है.

मेरे लंड का साइज़ 7 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है। मैं रात में ही वियाग्रा की गोली लाया था, मैंने उसको खा लिया।फिर मैंने धन्नो को आवाज़ मारी. हफ़्ते भर में चुद चुद कर फ़ुकला हो जायेगी तुंहारी बहन, फ़िर दर्द भी नहीं होगा और खुद ही चुदैल हमसे चोदने की माम्ग करेगी. गोलियों का असर शुरू हो चुका था और मेरा लण्ड आँटी की बड़ी बड़ी छातियाँ और सफाचट चूत को याद करके खड़ा हो रहा था.

फिर ब्रा का हुक भी खोल दिया। एक चूचा मेरे मुँह में और दूसरा मेरे हाथ से पिसा जा रहा था। अँधेरे के कारण मैं 36 साइज़ का उसका नर्म चूचा देख नहीं पा रहा था।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !धीरे से मैंने उसका पजामा और पैंटी भी उतार फेंकी, अब वो पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी, उसके हाथ मेरे पैन्ट के अन्दर मेरे लण्ड को टटोल रहे थे. उसे देख कर लग रहा था साली पानी भी पीती होगी तो आर-पार दिखता होगा। उसकी चुस्त कुरती में दबे उसके मम्मे. तो बाकी दो पुनीत और पायल के थे।सुनीता को नीचे का कमरा दिया गया।कुछ दिन ऐसे ही गुज़रे।एक रात अनुराधा जागरण में गई हुई थी। बच्चे सोए हुए थे.

ऐसे ही प्यार से मेरी छातियाँ चूसे जैसे आज आपने चूसी हैंसच आरती रानी मुझे तो विश्वास ही नही हो रहा क़ी तुम मेरा बच्चा जनोगी ” मेरा दिल मेरे मूह को आ रहा था” इसमे विश्वास ना करने वाली कौन सी बात है बाबूजी.

क्योंकि इतना बड़ा लौड़ा पूरा उसके गले तक जा फँसा था।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !दस मिनट तक अर्जुन बड़ी बेरहमी से निधि के मुँह को चोदता रहा. तुम हमको चोदोगे?मैं हैरान था कि मैम कितनी बिंदास होकर ये सब मुझसे कह रही हैं।तब भी मैंने सहज भाव से पूछा- मैम इस सबका करती क्या हो आप?‘किस सबका?’‘यही.

नमस्कार दोस्तो, मैं काफी समय बाद ये कहानी लेकर आया हूँ, मेरी कहानियाँ अक्सर अन्तर्वासना पर आती रहती हैं। जिन्हें आप सब पसंद करते हैं. फिर उसने मेरे लंड को मुँह में ले लिया और टीवी में जैसा आ रहा था, वैसे ही उसने अपना थूक मेरे लंड पे लगाया और अन्दर बाहर करने लगी. तो देखता ही रह जाए।मुझे अन्तर्वासना साइट पर हिन्दी सेक्स कहानियाँ पढ़ने में बहुत मज़ा आता है।मेरी सेक्स स्टोरी आपके सामने पेश कर रही हूँ, यह मेरी चूत की पहली चुदाई की कहानी है।बात पिछले महीने की ही है.

अब सिमरन बोली- जब आपको मालूम है कि मेरे होंठों का चुम्मा और भी मीठा होगा … और आपको सुगर की बीमारी नहीं है, तो देर किस बात की है … जल्दी से और मीठा खा लीजिए. लेकिन उसकी आँखों में वही प्रश्न था। मैंने उसकी जिज्ञासा मिटाते हुए कहा- मुझे तुमसे दस मिनट का काम है। एक प्रोजेक्ट है. उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोला- मैं तुम्हारा ही इन्तजार कर रहा था।वो मुझे अन्दर ले गया, वहाँ पर उसके और दोस्त भी थे।मैंने वहाँ पर काफ़ी मज़े किए, खूब खाया पिया.

सनी लियोन की बीएफ सेक्सी पिक्चर मैं सिसियाते हुए विनए का मुँह अपनी चूत से हटाने लगी और विनय ने भी चूत चुसाई छोड़ कर मुझे दबोच लिया मैंने अपना एक हाथ ले जाकर उसका मूसल लण्ड पकड़ लिया और उसे सहलाते हुए बोली- विनय. क्या कर रहे थे?मैंने कहा- नींद नहीं आ रही है, कुछ बेचैनी सी है।फिर मैंने मॉम से पूछा- क्या आपको भी नींद नहीं आ रही है?वो बोलीं- हाँ मुझे भी नींद नहीं आ रही है।मैंने कहा- आप भी यहीं लेट जाओ न।फिर वो मेरे पास बैठ गईं।मैंने फिर कहा- यहीं सो जाओ ना, मेरे पास।वो सीधी लेट गईं। कुछ देर बाद मैंने पूछा- नींद नहीं आ रही है.

सेक्सी पिक्चर पहली फिल्म

और बहुत मज़े से भी किया था।मैंने कहा- फिर क्या प्रॉब्लम है भाभी?बोलीं- तुम्हारे भैया स्टार्ट तो बहुत ही तेज करते हैं लेकिन वो कंटिन्यू नहीं रख पाते हैं।मैं समझ तो गया था कि भाभी सेक्स की बात कर रही थीं।लेकिन तब भी मैंने उनसे पूछ लिया- क्या कंटिन्यू नहीं रख पाते हैं भैया?पहले तो भाभी शरमाईं. लिप किस, जीभ को चूसना, कान के नीचे की लटकन को चूसना लटकन के नीचे गर्दन को चूसना और बोबे चूसने से औरत में आग भड़कती है. उसका पटना में ही अपना मकान है। इसलिए हम साथ ही पटना तक आते और उसके बाद फिर मैं बस पकड़ कर निकल जाता।बात है 31 जनवरी 2013 की.

!’इन शब्दों को पढ़ कर आपको लगेगा कि ये गालियाँ किसी वेश्या को दी जा रही हैं। लेकिन यह सच नहीं है। मेरे शौहर मेरे महबूब मेरे पति. इसके अलावा आपअन्तर्वासना की इस लिंकको क्लिक मेरी सारी कहानियों का लुत्फ़ ले सकते हैं।अब आपको एक और कहानी सुनाने जा रहा हूँ. बीएफ रिकॉर्डिंग वीडियोअब मेरी पीठ अभी की तरफ थी। मैं उसे अपने गोल-गोल चूतड़ों को दिखा कर मोहित करना चाहती थी। आखिर वो भी जवान लड़का है और मुझे इस हाल में देख कर उसका मन भी बदल गया।अब मैं भी रजाई में आ गई और लेट गई।अभी सीधी-साधी बातें कर रहा था.

थोड़ा और जोर से धक्का मारो ना प्लीज़! तुम्हें अपनी बहन की कसम है … आज सारी ताकत झोंक देना मेरी चूत में! ज़रा भी तरस ना खाना! साली बहुत कुलबुलाती रहती है.

और फ़िर मैंने सोचा कि आज तक मैंने कभी किसी लड़की के साथ सेक्स का मज़ा नहीं लिया है क्यों ना आज इसका भी अनुभव कर लिया जाये!यही सोच कर उसके हाथ अपनी चूची पर रखे और उससे कहा- इन्हें मसल डालो, जोर जोर से दबाओ मेरी चूची को!वो मेरी चूची दबा रही थी, तब ही मैंने उसकी सलवार की तरफ़ हाथ बढ़ाया तो उसकी सलवार मुझे भीगी भीगी सी लगी. पर मना भी नहीं किया। मैंने उसे अपने सीने से चिपका लिया और उसका चेहरा पकड़ कर उसके लबों पर अपने लब रखने ही वाला था कि उसने रोक दिया।वह बोली- यह सब गलत है।मैंने कहा- ठीक है.

तब पूजा ने कहा यह ब्लॅक मैल नहीं यह तो हमारी चूत का नशा हे तुम्हारे कुंवारे लंड का मज़ा लेने के लिए और वो दोनों हँसने लगी और इस तरह जब दोनों मुझे बुलाती है तब मुझे जाना पड़ता है और भाभी और पूजा अपनी मज़े लेने लगती है। तो मेरे इंडिया के भाभी और आंटी तुम्हारी क्या राय है मुझे कैसे इनसे छुड़ा सकते है. ’मैं विनय को कस के पकड़ कर झड़ रही थी और विनय मेरी झड़ी हुई चूत पर धक्के पर धक्के लगाते हुए काफी देर तक मुझे रौंदता रहा। मेरी चूत में लण्ड जड़ तक चांप कर झड़ने लगा और मुझको पूरी तरह अपनी बाँहों में कसकर दाब के. और मैं खड़ी होती… इससे पहले वह गायब हो गया।मैं भी नीचे बाथरूम में जाकर चूत साफ करके मेकअप आदि ठीक करके बाहर आकर महमूद के पास बैठ गई। देखा कि डिनर भी आ चुका था। अब लण्ड खाने के बाद भूख भी जोरों से लगती है न.

जैसा कि मैंने पहले से प्लान किया था।अपने एक दोस्त से उसके कमरे की चाभी ले ली थी। मेरा दोस्त कॉलेज चला गया और मैंने लुब्रिकेंट.

वो सब लड़कियाँ कल मेरी बर्थ डे पार्टी पर आ रही हैं।इस तरह हम दोनों कुछ देर तक उल्टी सीधी बातें करते रहे।फिर मैंने कहा- कल में आपको एक बहुत अच्छा सर्प्राइज़ दूँगा। यह कह कर मैंने अपनी बहन के गाल पर आहिस्ता से चुम्मी कर दी और कमरे से बाहर चला गया।फिर मैं अपने कमरे में जा कर लेट गया. ’ की आवाज़ के साथ मैं डॉली के ऊपर लेट गया, उसके होंठों से होंठ मिला दिए और चूमना शुरू किया।डोली ने मुझे कस कर पकड़ लिया और मेरी कमर पर नाख़ून गड़ा दिए, चूमते-चूमते मैंने 2-4 झटके और प्यार से लगा दिए।फिर मैं खड़ा हुआ और लंड से और चूत से खून साफ़ किया। डॉली ने खून देख लिया और घबरा गई।मैंने कहा- हनी, पहली बार ऐसा होता है अब तुम वर्जिन नहीं रही हो. मैं लेने आ जाऊँगा।वो खुश हो गई और बोली- ठीक है।मैं दस बजने का वेट करने लगा और मैं कुछ खाने-पीने की चीजें भी लेकर आ गया।वो ठीक दस बजे आ गई.

बीएफ पीचरपर अब तो इतना अधिक कामुक सोच का हो गया हूँ कि बस या सफर में मेरे पास अगर गल्ती से कोई लड़की या औरत बैठ जाती है. माँ की सुरीली और नशीली धीमी आवाज मेरे कानो में पड़ी- बेटा अब तुम थक गए होगे, यहाँ आओ ना! और मेरे पास ही लेट जाओ ना.

सेक्सी ब्लू पिक्चर दिखाइए ना

उसको पता था रॉनी चादर को पकड़ कर खींचने वाला है।पुनीत- अरे रॉनी क्यों उसकी नींद खराब कर रहा है। रात को बेचारी की तबियत खराब थी। बड़ी मुश्किल से सोई थी। अब उसको उठा मत. जिसने आज सुबह मेरी चूत का मुँह चौड़ा कर दिया था।दरवाजा खोलने के बाद सब लोग अन्दर आए और मैंने सबको ‘भैया नमस्ते कहा’. ’अभी उसने इतना ही कहा था कि मैंने उसकी परवाह किए बिना ही एक तगड़ा झटका लगा दिया।वो जोर से चीख पड़ी- ऊई माँ.

तो क्यों न बाथरूम की खिड़की से इसके नंगे बदन के दीदार शुरू कर दें?ऊपर जाने की सीढ़ियों के नीचे टॉयलेट था और उसके साइड में बाथरूम था। झक्कास बात तो ये थी कि टॉयलेट के दरवाज़े से देखो तो बाथरूम की खिड़की दिखती थी. तो मुझे वहाँ एक लड़की का मेल मिला। उसने मुझसे मेरी एक कहानी के लिए बहुत तारीफ की जिससे मैं बहुत खुश हुआ और मैंने उसका धन्यवाद किया।बातों-बातों में उसने बताया कि वो भी बंगलोर में रहती है और यहाँ किसी अच्छी कंपनी में जॉब करती है।इधर मैं उस लड़की का नाम आपको बताना ही भूल गया. जिसमें नायर ने अपनी एक उंगली डाल दी और आगे-पीछे करने लगा। तभी बाहर से बाथरूम का दरवाजा खुलने की आवाज आई और नायर मुझे छोड़कर जाने लगा।मैं नायर से गुस्से में बोली- जो आप अभी कर रहे थे.

यह देख कर मैं भी कुछ मज़ा लेने के खातिर उस के चूतड़ों को छूने लगा और फिर आहिस्ता से अपनी ऊँगली उस की गांड से होतेहुए उस की उभरी हुई चूत में डालने की कोशिश करने लगा. ” रेखा हंस कर बोली हां मेरी रानी बिटिया, ककड़ी, केले, गाजर, मूली, लम्बे वाले बैंगन, इन सब से मुट्ठ मारी जा सकती है. झूलते हुए उठता है और बिस्तर के किनारे पर बैठ जाता है। वो अपनी मम्मी की ओर देखते हुए दाँत निकालता है और फिर घमंड से अपने तगड़े लण्ड की ओर इशारा करता है।‘हाँ.

मैंने सोचा- मैं किसी मर्द के सामने इस तरह से कैसे आधी नंगी हो सकती हूं!फिर सोचने लगी कि यह तो मेरे ही भैया हैं. लण्ड चुसवाने में बहुत मजा आता है।उसने मेरे लंड पूरा मुँह में ले लिया और मेरी गोलियों को सहलाते हुए लंड चूसने लगी।फिर हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए, मैं उसकी चूत चाट रहा था और वो मेरा लंड चूस रही थी और अपने हाथों से हिला रही थी। मैंने उसकी चूत चाटते हुए उसकी गाण्ड में उंगली डाल दी। वो सिहर सी गई और टाइट हो गई और उसने ‘आह.

मगर उसकी हिम्मत नहीं हो पाई कि वो खुल कर कुछ देखे या ऐसा हो सकता है कि उसके अन्दर का भाई उसे ये सब करने से रोक रहा हो.

पर हमें कोई भी होटल में रूम नहीं मिला।फिर मैंने उससे एक दिन जल्दी आने को कहा और वो मेरे टाइम पर आई। उसने उस दिन ब्लू टॉप और ब्लैक जीन्स पहनी थी. सेक्स वीडियो बीएफ फुल सेक्सथोड़ी देर बाद वो थोड़ा शांत हुई, और अब मैंने दुसरा शॉट लगाया तो मेरा बचा हुआ लौड़ा भी जड़ तक उसकी चूत में धंस गया. गधा वाला सेक्सी बीएफदिल्ली में लगभग हर दिन की होने वाली घटनाओं को बता रहा हूँ कि कैसे लड़का और लड़की खुले में भी चुदाई करने से नहीं डरते।एक रात करीब नौ बजे दिल्ली – नोएडा हाईवे से अपनी बुलेट से लौट रहा था कि मैंने सड़क के एक किनारे एक कार को हिलते हुए देखा. तो उसका गला रुक जाता या उसकी साँस ही बंद हो जाती।उसके बाद कामोत्तेजित माँ अपने बेटे के लण्ड को अत्यधिक कड़ाई से चूसना चालू कर देती है.

कभी मेरे को दर्द हुआ तो तुम मालिश कर देना।मैंने उनकी हाँ में हाँ मिला दी।आप लोगों को आंटी के बारे में बताना तो भूल ही गया हूँ। वो क्या मस्त माल किस्म की औरत हैं.

उई मम्मी’ वत्सला ऐसे ही हिस्टीरिया के मरीज की तरह बोलती चली जा रही थी।और फिर‘अंकल जी हटो जल्दी से… अब मेरा पानी निकल रहा बड़े जोर से!’ वो बड़ी व्यग्रता से बोली।मैंने तुरंत अपना लण्ड उसकी चूत से बाहर निकाल लिया. ऐसे चिल्ला रही थी जैसे पहली बार मरवा रही हो चूत! अच्छा ये बताओ कि अब क्या अफ़रोज़ की चूत में खलबली हुई होगी?तब मैंने कहा- 100% खलबली हुई होगी. उम्र 21 साल है। अभी मैं दिल्ली में रहता हूँ। मैं आज आपके सामने अपना पहला सेक्स अनुभव बाँटने जा रहा हूँ। मैं अन्तर्वासना का लंबे समय से पाठक रहा हूँ। लोगों की कहानियाँ पढ़कर मेरे दिल में भी लालसा जागृत हुई कि मैं भी अपने बीते पलों को यहाँ अपने मित्रों के सामने प्रस्तुत करूँ।मुझसे अपनी आपबीती लिखने में जो ग़लतियाँ हों.

नमस्ते दोस्तो, उम्मीद है आपने इस साइट पर पोस्ट हुई हर कहानी का आनन्द लिया होगा। इसके लिए मैं आप सबका आभार व्यक्त करता हूँ और उन सभी लेखकों का भी शुक्रिया करता हूँ।तो दोस्तो, मैं आर्यन दोबारा हाजिर हूँ अपनी कहानी लेकर. मैंने अपने सर्किल में पूछताछ कि तो किसी ने मुझे बताया कि पास की कालोनी में हमारे घर से लगभग एक किलोमीटर दूर बड़े अस्पताल के स्किन रोग विशेषज्ञ रहते है उनको दिखा दू, अच्छे डॉक्टर है. उस साली की चुदास इतनी अधिक थी कि उसने अन्दर अपनी पैन्टी नहीं पहनी थी। उसकी चूत पर कोई बाल नहीं था। एकदम साफ़ शेविंग की हुई चूत थी।मैंने उसकी चूत में एक उंगली डाली.

हिंदी सेक्सी वीडियो एचडी बिहारी

हॉट कॉलेज गर्ल्स से कहानी में पढ़ें कि कैसे चूत चुदाई की प्यासी तीन सगी बहनों ने एक एक करके एक ही दिन में अपने टीचर से अपनी सीलबंद चूतें फटवा ली. वो मेरे पास ही बैठ गईं और अपने बाल संवारने लगीं।अचानक उन्होंने पूछा- राजवीर दरवाजे के बाहर तुम ही थे ना?मुझे काटो तो खून नहीं. बुआ जी मस्ती से भर कर सिसकारी लेते हुए अपनी चूत को फ़ैलाते हुए बोलीं- हाँय राजा अह्!जीभ से चाटो ना! अब और मत तड़पाओ राजा! मेरी बुर को चाटो! डाल दो अपनी जीभ मेरी चूत के अन्दर! अन्दर डाल कर जीभ से चोदो!अब तक उनकी नशीली चूत की खुशबू ने मुझे बुरी तरह से पागल बना दिया था.

चूंकि मैं एक जिगोलो बन चुका हूँ।दोस्तो, मैं प्रीति सिंह आपके मेल का इंतजार कर रही हूँ।[emailprotected].

कस-कस कर बुर से लण्ड सटाकर चोद रहे थे। मैं भी बुर में सटासट पति का लण्ड पेलवा रही थी। मेरी चूत शॉट लेते हुए झड़ने के करीब थी.

उसकी पीठ पर ‘लव बाईट’ देते हुए और ज़ोर-ज़ोर के झटके देने लगा।फिर कुछ देर बाद उसकी गाण्ड में ही झड़ गया। मैं वैसे ही उसकी गाण्ड में लंड डाल कर उसके ऊपर लेट गया। हम थोड़ी देर वैसे ही पड़े रहे।इसके बाद हमारी रेग्युलर ऑफिस वाली चुदाई शुरू हो गई।अगली बार कैसे मैंने ऑफिस में उसकी गाण्ड मारी. पर मैं तो प्यार इश्क़ और मोहब्बत में कुछ ज्यादा ही मसरूफ था। शायद शाहरुख की फिल्मों का कुछ ज्यादा ही असर था मुझ पर. हिंदी में बीएफ गानेबेहद खूबसूरत।उसने अगले ही पल मेरे गालों पर एक प्यारी सी पप्पी भी ले ली।मेरी तो जैसे किस्मत ही चमक गई, कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि बस में सफ़र करते हुए ही कोई अनजान लड़की पर सेक्स इस कदर हावी होगा कि मुझ पर मेहरबान हो जाएगी।खैर.

बेहद खूबसूरत।उसने अगले ही पल मेरे गालों पर एक प्यारी सी पप्पी भी ले ली।मेरी तो जैसे किस्मत ही चमक गई, कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि बस में सफ़र करते हुए ही कोई अनजान लड़की पर सेक्स इस कदर हावी होगा कि मुझ पर मेहरबान हो जाएगी।खैर. तो नेहा ने कहा- मैं चेंज करके आती हूँ।मैं तो पहले से ही लोवर और टी-शर्ट में था।जैसे ही नेहा वापिस आई. फिर मेरे नीचे के हिस्से में पहुँच गई। अब वो मेरे लण्ड को चूसती तो कभी उसके अग्र भाग में अपने दाँत लगाती तो कभी मेरी जाँघों को चाटती.

तब खा लेंगे।मुझे सेक्स का मजा सता रहा था, मैं अपने कमरे में गया और दरवाजा बन्द किया और बाथरूम के दरवाजे पर दस्तक करने लगा।डॉली बोली- कहो।मैंने कहा- दरवाजा खोलो डॉली।डॉली- मैं अभी आई बस 2 मिनट. क्या कमाल की खुश्बू थी।मेरी इस हरकत पर वो मुस्कुराईं और देखने लगीं।मैंने कहा- मैं आपकी चूत को तो छू नहीं सकता.

कुछ देर बाद उनका पानी बहने लगा और, मैं उनकी चूत की दोनों फाँकों को अपनी मुँह मे दबा कर उनका अमृत-रस पीने लगा.

उसकी दरार में अपना हथियार डाल दिया।अब मैं लौड़े को ऊपर से ही आगे-पीछे करते-करते गुलाबो के होंठों को चूमने लगा।गुलाबो के नरम होंठों को चूमते-चूमते मैंने उसके ब्लाउज में हाथ डालकर उसके मम्मों के आकार का अंदाज लिया, उसके दोनों मम्मे बड़े ही गुंदाज थे। मैंने उसके ब्लाउज के बटन खोले और उसके मम्मों को चूमने लगा।अय हाय. मैं झट से बाथरूम में घुस गई और फ्रेश होकर बाहर निकली। मैंने एक गुलाबी रंग का लहंगा और चुनरी पहन कर कमरे के बाहर निकली और अरुण जी को खोजने लगी।भीड़-भाड़ में अरुण जी कहीं दिख ही नहीं रहे थे।तभी मेरे पीछे से किसी ने मुझे ‘भाभी जी. दरअसल मैं तो मामी के सेक्स ऑर्गन की कल्पना कर रहा था।फिर मैंने उनसे पूछा- कन्डोम लगा कर सेक्स करने पर ज़्यादा मज़ा आता है या बिना कन्डोम के?तो वो झूटा गुस्सा दिखा कर बोलीं- क्यों??मैंने कहा- ऐसे ही.

एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो एचडी बीएफ मैं कैसे कहती कि नायर सब बता चुका है और आपकी बहू की बुर पेल चुका है और आज रात दुबारा अपने लण्ड को आपकी बहू की बुर में डालना चाहता है।मैं भी कमरे में गई तभी पति का फोन आया- मैं आज नहीं आ पाऊँगा. जवळच्याच एका फार्म हाउस निवृत्तीने बुक केले त्या फार्महाउस मध्ये आवश्यक असणर्या गोष्टी सदाने पहिलेच नेउन ठेवल्या होत्या.

तब पूजा ने कहा यह ब्लॅक मैल नहीं यह तो हमारी चूत का नशा हे तुम्हारे कुंवारे लंड का मज़ा लेने के लिए और वो दोनों हँसने लगी और इस तरह जब दोनों मुझे बुलाती है तब मुझे जाना पड़ता है और भाभी और पूजा अपनी मज़े लेने लगती है। तो मेरे इंडिया के भाभी और आंटी तुम्हारी क्या राय है मुझे कैसे इनसे छुड़ा सकते है. स्नेहा थोड़ी कसमसाई लेकिन उसने विरोध नहीं किया।मैंने अपना हाथ धीरे से उसकी पैंटी के अन्दर डाल दिया और अपने लिंग का दबाव उसकी गाण्ड पर बढ़ाने लगा। स्नेहा अब कसमसाने लगी और उसने मेरी तरफ करवट ली. मेरा नाम सुखमदीप सिंह है। मेरे परिवार में मेरे पापा बलदेव सिंह (52), माँ परमजीत कौर (48), भाई अमनदीप सिंह (25), बहन हरमनप्रीत (27) शादीशुदा, मेरी पत्नी(भाभी 25+) और मैं सुखमदीप सिंह (23) का हूँ। हमारे घर में सभी गोरे रंग के हैं.

सेक्सी वीडियो गानों में

मैं छत पर ही था। दस मिनट ही हुए होंगे कि पिंकी की छोटी बहन सोनी आ गई।आपको सोनी के बारे में भी बता दूँ।सोनी तो पिंकी से भी ज्यादा गोरी है. कुछ नहीं कर सकती थी, बस कामना कर रही थी कि किसी तरह ये दोनों झड़ जाएँ, करीब दस-बारह धक्के मेरे हलक में लगा कर रिची ने अपना लण्ड पूरी तरह हलक में ठोक दिया।अब वो ‘आहआह. निशा बोली- क्या तू मुझे अपने साथ नहीं ले आएगी?मैंने निशा से मजाक किया, तुझे तो ज्यादा लम्बा और मोटा लंड पसंद ही नहीं है.

आप लोग मुझे ईमेल भी कर सकते हैं और मुझे बता सकते हैं कि मेरी स्टोरी में कैसी लगी।[emailprotected]आप लोग मुझे फेसबुक पर भी मिल सकते हैं इसी आईडी को फेसबुक पर सर्च करें।. रेखा अपनी जीभ से कमला के मुंह के अन्दर के हर हिस्से को चाट रही थी, उस बच्ची के गाल, मसूड़े, तालू, गला कुछ भी नहीं छोड़ा रेखा ने.

उनके घरों का पता ले लिया।करीबन 130 कार्ड्स थे। मैंने एरिया सैट कर लिया और कार्ड्स बाँटने निकल पड़ा। उसमें से कई लोग तो मेरे पहचान के थे और कई नहीं थे।मैंने ठान लिया जो पहचान के हैं वो आज कर लेंगे.

तो उसके लम्बे बाल और चूतड़ क्या बल खा रहे थे। उसी समय मेरे दिमाग में एक खुरापात सूझी।मैं पेशाब करने के बहाने रेशमा को अपने लण्ड का दर्शन कराना चाहता था।तभी राहुल बोल पड़ा- दोस्त. पता ही नहीं चला। कुछ देर बाद मुझे महसूस हुआ कि कोई मेरी स्कर्ट में हाथ डालने की कोशिश कर रहा है।मैंने एकदम से आँख खोली तो सामने दीपक को पाया। फिर मैंने घड़ी की तरफ़ देखा तो 6 बज रहे थे।मैं जल्दी से उठ कर बैठ गई और दीपक से पूछा- सब लोग कहाँ है. अचानक से हरलीन बहुत जोरों से अपनी कमर उछालने लगी और वो एकदम से निढाल होकर बिस्तर पर अपने हाथ पैर फ़ैला कर ढीली पड़ गयी.

हो जाओ शुरू! अब मेरी प्यारी ननद रानी को लड़की से औरत बना दो, खिला दो इस कली को!’ आरती ने मुझसे कहा।मित्रो अपने कमेंट्स मुझे नीचे लिखे मेल एड्रेस पर जरूर लिख भेजिए ताकि मैं इस कथा को आप सबकी रूचि के अनुसार और रोचक लिख सकूँ।कहानी जारी है![emailprotected]. रेखा अब धीरे से कमला के नीचे से निकल कर बिस्तर पर बैठ गई और अमर अपनी बहन को बाहों में भरकर उसपर चड़ कर पलंग पर लेट गया. अब नीलम की चुदाई की तैयारी करनी थी मुझे अपने पूर्ण अनुभव के साथ उसको इस तरह चोदना था कि उसको दर्द न हो.

क्योंकि मैंने यहाँ तक पहुँचने में 20 मिनट लगा दिए थे।फिर मैंने नेहा की चूत को उंगली से टच किया और उंगली को चूत के ऊपर गोलाई में घुमाया.

सनी लियोन की बीएफ सेक्सी पिक्चर: अब उसे कैसे समझाऊँ कि तेरे से ज्यादा मुझे इस बात की चिंता रहती है।मैं उसे लंच के लिए मेहसाणा से दूर एक बढ़िया होटल में ले गया। वहाँ हमने लंच किया. उन्हें कमर से पकड़ कर लंड पूरा अन्दर उतारने लगा।लंड चूत को चोद रहा था और उनके मम्मे हिल रहे थे।थोड़ी देर उन्हें ऐसे ही चोदा और बाद में ज़ोर-ज़ोर से उनके बाल खींचते हुए मैं उनको कुतिया बना कर चोदने लगा.

ब्लाउज के बटन खोल कर हाथ ऊपर कर के जब उसने ब्लाउज उतारा तो उसकी स्ट्रैप्लेस ब्रा में कसे हुए उभरे स्तन देखकर कमला की चूत में एक बिजली सी दौड़ गई. रानी तो तुम बन गयी हो आरती , आज से मेरे इस दिल क़ी ” कहकर मैने झुककर उसके होंठ चूम लिए” हाय राम बाबूजी , आप तो बड़े बेशरम हो ” उसने अपना चेहरा अपने हाथों से छुपा लिया. मैंने अपना हाथ वहाँ से निकाल कर उसके बालों में पीछे से इस तरह घुसाया कि उसका पूरा सिर मेरे गिरफ्त में ही रहे।वो पहले से मेरी ओर देख रही थी.

’ यह कहते हुए नायर बाहर निकल गया और मैं बाथरूम में चली गई।फिर मैं फ्रेश होकर नाईटी के नीचे ब्रा-पैन्टी पहन कर रसोई में चली गई और चाय बनाकर जेठ और नायर को दे कर और अपनी चाय लेकर अपने कमरे में आकर सोचने लगी कि आज जो हुआ ठीक हुआ कि नहीं.

सच मैं उसकी मम्मे काफी बड़े थे। मैंने ब्रा के ऊपर से मम्मों को दबाया और ब्रा को उतार दिया। मैंने उसके गोरे-गोरे मम्मों को उछल कर बाहर आते देखा. ’ और उनका पूरा का पूरा लंड मेरी गाण्ड के छेद में चला गया था।इसी बीच में मेरे शौहर भी जाग गए थे। फिर तो जैसे गालियों की बारिस के साथ मेरी चुदाई की राजधानी एक्सप्रेस शुरू हो गई थी। गाण्ड मरवाना इतना खूबसूरत होता है. अब ज्यादा बनो मत।तभी मैंने अपनी एक उंगली उनकी चूत में पैन्टी के ऊपर से ही डाल दी, उनकी चूत अन्दर से चिपचिपी हो चुकी थी।मैं उंगली चूत में हल्के से अन्दर-बाहर कर रहा था, उनकी पैन्टी गीली हो गई थी।अब तो आंटी ‘आहें’ भर कर कहने लगीं- आहहह हहहह.