मासी के बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी हिंदी फिल्म दिखाओ

तस्वीर का शीर्षक ,

ભારતીય સેક્સ વીડિયો: मासी के बीएफ, हालांकि, किसी को भी असलियत में मिले बिना सही अंदाज़ा नहीं लगाया जा सकता … हो सकता है तुम असल में चम्पू निकलो.

सेक्सी बीएफ हिंदी बीएफ

खैर सबसे पहले तो मैंने मुकेश औऱ निशा को शादी में न आने की क्षमा माँगकर उन्हें शादी हेतु उपहार में घड़ी का सेट दिया. बीएफ इंडियन ब्लूपीले कलर की ब्रा में मैं उसके सामने थी, जो मेरी पीठ पर एक पतली डोरी से बंधी थी.

मैंने जो उनके लोन का पैसा जमा करा दिया था, वो उन्होंने मुझे वापस किया. देसी पेशाबफिर थोड़ी देर बाद मैंने ही हिम्मत करके शीना से कहा- कम से कम दरवाजा खोलते वक्त आवाज तो किया करो.

वह फिर चिल्लाने लगा- आ…आ… ब…स! लग रही लग रही है, तेरा बहुत मोटा है।मैंने कहा- यार, बार बार गलत समय गांड टाइट करेगा तो लगेगी ही! मेरी तो बड़ी बेरहमी से मारी, अब बहाने बाजी कर रहे है?मामा जी मुस्कराए- यह बदमाशी करता है.मासी के बीएफ: इसके बाद कुछ दिनों तक हमारी फोन पर बच्चे को लेकर कुछ ज्यादा ही बातें होने लगी.

वो भी मेरी टांगों को फैलाये हुए मेरी चूत को हाथ से रगड़ते हुए उसमें अपनी जीभ को चला रहा था.फिर 15 मिनट की धमाकेदार गांड चुदाई के बाद मेरे लंड से निकले हुए पानी से उसकी गांड भर चुकी थी और उसकी सांसें उखड़ चुकी थीं.

सुंदर लड़की के बीएफ वीडियो - मासी के बीएफ

तभी निशा भाभी ने करवट ली जिससे उनकी जामुनी ब्रा साफ दिखाई देने लगी.भाभी दिखने में दूध सी गोरी हैं, उनकी बॉडी एकदम स्लिम है, इसलिए उनके स्तन ज्यादा बड़े नहीं है.

उसकी सास ने मेरी तरफ आश्चर्य से देखा क्योंकि मौसम में इतनी गर्मी नहीं थी और मेरे चेहरे का पसीना देख कर सास को अचंभा सा हुआ. मासी के बीएफ उसने बताया कि वो करीब 8 महीने से नहीं चुदी है और अब बर्दाश्त नहीं कर पा रही है.

अब आगे:मैं नीचे झुकते हुए बोली- पहले लंड की मोटाई नापने के लिए उसके टोपे पर इस तरह जीभ घुमाते हैं.

मासी के बीएफ?

रीमा कुतिया बनी हुई धीरे धीरे आगे मेरी तरफ बढ़ रही थी … और उसके पीछे से लगा हुआ, हनी मुझ तक आ गया था. दूसरा पुलिस वाला तेजी के साथ मेरी कामुक बीवी की चूत को चोदने में लगा हुआ था. नमस्कार पाठको … मेरा आप सबको प्रणाम, मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ.

फिर अगले दिन सुबह उसका मैसेज आया कि वह कुछ दिनों के बाद अपने घर वापस चला जायेगा. एक दिन उन सभी ने मुझे घेर लिया और पूछने लगीं कि जब तक तुम अपनी चुदाई की कोई बात नहीं बताओगी, तब तक हम तुमको नहीं छोड़ेगीं. बबलू ने पिंकी को बांहों में भरते हुए कहा- कैसी हो पिंकी रानी?पिंकी बेशार्मों की तरह उसके गले में बांहें डालते हुए बोली- मस्त हूँ मेरे राजा …पिंकी का ये अंदाज़ देख कर मैं हैरान थी.

मगर सबसे ध्यान देने वाली बात यह है कि आप अपने मन में किसी भी बात को दबा कर न रखें. ऊपर से शॉवर का ठंडा पानी गिर रहा था और नीचे से कबीर का मोटा गर्म लंड मेरी चूत में जा रहा था. आंटी की चीख इतनी तेज थी कि क्या बोलूँ … यूं समझो कि कोई औरत बच्चे को जन्म देने के वक़्त चीखती है … वैसी चीख निकली थी.

ऐप इंस्टाल कैसे करेंहाय दोस्तो, मेरा नाम गायत्री है और मैं बाड़मेर, राजस्थान से हूँ. काले रंग की ब्रा में से उसके गोरे गोरे मुम्मे ऐसे लग रहे थे, जैसे कोयले की खान से हीरे निकल रहे हों.

उन्होंने बड़ी स्टाइल से मेरा अंडरवियर अपने दांतों में दबाया और नीचे खींचने लगीं.

पर तब मुझे मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा जिले में एक कंपनी में दवा प्रतिनिधि की नई नौकरी मिली थी.

मैंने उसके घर के फ्रिज से थोड़ा सा दही लेकर उसकी चूत पर लगा दिया और चूत चाटने लगा. अब मेरी सास ने बॉक्सर के बाजू से अन्दर हाथ डाल कर मेरे लंड को सहला दिया और अपने हाथों की ग्रिप और मजबूत कर ली. यह मेरे लिए एक बिल्कुल नया अनुभव था जब एक औरत मेरा लोड़ा मुंह में लेकर चूस रही हो और दूसरी मेरे होंठों का रसपान कर रही हो.

काफी देर बात करते-करते आधी रात हो गई, तब सोने का सोचने लगे।रवि ने कहा- आज मुझे कुछ सिखाओगे या नहीं?सब लोग हंसे और मेरी पत्नी ने रवि को डांटा।फिर हम सो गए।लेकिन कुछ देर बाद ही मेरी आंख खुल गई और मुझे सेक्स की बहुत तलब लगी हुई थी। मैंने पत्नी को अपनी तरफ खींचकर होठों पर प्यार किया. मैं धीरे से दबे पांव रोशनदान तक चढ़ कर पहुंचा और मैंने देखा कि मेरी बहन दादाजी के पलंग पर घोड़ी बनी थी और दादा जी अनाड़ी की तरह पतला सा मुरझाया हुआ सा लंड आगे पीछे कर रहे थे. रोहन- वो इसलिए क्योंकि मैं एक पीसी यूज़ कर रहा हूं और मेरे पास वेब कैमरा नहीं हैसोनिया- सच में? ये तो ना इंसाफ़ी है.

कुछ दिनों के बाद पापा का भी स्वर्गवास हो गया, तो भैया ने मुझे अपने पास ही रहने के लिए पटना बुला लिया.

अब मामाजी बोले- अब ढीली हो गई!उन्होंने तेल भीगा अपना लंड मेरी गांड पर टिकाया, बोले- डाल रहा हूं, ढीली रखना, कसना नहीं, बिलकुल परेशानी नहीं होगी. वैसे आप बताइए … क्या आपका कोई ब्वॉयफ्रेंड है?सोनिया- हां, हैं मेरे पति. मुझे खड़ा करके उन्होंने अपनी बांहों में ले लिया और अपने होंठ मेरे कापते होंठों पे रख दिए.

मेरा फार्म हाउस नज़दीक ही था … कोई 10 किलोमीटर दूर … हम दोनों आधा घंटे में वहां पहुंच गए. इस तरह से धीमे धीमे करने पर वो दोनों ज्यादा देर एक दूसरे का आनंद ले पाएंगे. आपके लौड़ों और चूतों को ज्यादा इंतजार ना करवाते हुए मैं, विराज आपके सामने पेश हूँ.

अंकल जी अंकल जी, मुझे कसके पकड़ लो आप, जमीन सी हिल रही है मेरे भीतर से कुछ तेज तेज निकल रहा है.

उसने अंकित को धीरे से धकेल दिया और एक शर्मीले लेकिन वासनापूर्ण तरीके से अपना कुर्ता पकड़ कर ऊपर की तरफ खींचने लगी. मैंने उसको किस करना शुरू किया तो वो फिर से गर्म हो गयी और मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत के पास ले गयी.

मासी के बीएफ एक हाथ से उनकी एक टांग को ऊपर किया और सामने से चूत में लंड डाल कर ऐसे ही चोदने लगा. मैं- ह्म्म्म!मैं- लेकिन हुआ क्या?पूजा- सच बताऊं तुम बुरा तो नहीं मानोगे?मैं- नहीं नहीं … पूजा बताओ तो?पूजा- दिन में नींद नहीं आ रही थी तो मैंने कल जो कहानी पढ़ी थी, उसके बाद का भाग पढ़ा और मेरे हाथ खुद ब खुद मेरी चूत में जा पहुँचे और मैंने कहानी पढ़ते पढ़ते हस्तमैथुन कर लिया और ऐसी नींद आयी कि पता ही नहीं चला.

मासी के बीएफ उन्होंने जवाब में कहा- क्या अकेले जन्मदिन मनाओगे?मैंने उनकी तरफ प्रश्न वाचक मुद्रा में देखा, तो उन्होंने कहा- कभी कभार मैं भी ड्रिंक कर लेती हूँ, पर सबके सामने नहीं. उसकी चुचियों को मैंने मसलना शुरू कर दिया तो वो बोली- मुझे गुदगुदी हो रही है.

इस वजह से हमारे घर पर अधिकतर समय मैं, मेरी मॉम और मेरी सिस्टर ही रहते हैं.

सेक्सी वीडियो indan

उसका फिगर इतना शानदार था कि कोई भी शख्स उसकी नशीली जवानी की तपिश के आगे पिघल जाए. बेतहाशा मुझे चूमने लगी, मेरे गर्दन, गले, गालों पर चेहरों पे उसके चुम्बन होने लगे. वे कहने लगे कि तुम काम अच्छे से करो, मैं तुम्हारी सैलरी बढ़वा दूंगा … तुम्हारी फैमिली में कौन कौन है, तुमको किसी चीज़ की जरूरत हो, तो मुझे बताना.

और सच बात तो यह थी कि मुझे वाकयी में इस वक़्त अपने खड़े लंड को बिठाने के लिए हस्त-मैथुन करने की सख्त ज़रूरत महसूस हो रही थी. मैं उसके बूब्स को ब्रा के ऊपर से ही चूमने, चूसने, दबाने लगा था और वो मेरे सर पर हाथ घुमा रही थी. जब 3-4 दिन में एक बार सेक्स करो तो सेक्स का मज़ा थोड़ा ज्यादा ही आता है.

तभी उसने मेरे कान को काटना शुरू किया। मैं समझ गया अब मुझे मजा आने वाला है।उसने मुझे किस करना शुरू किया, मैं भी उसका भरपूर साथ दे रहा था।इतने में दूसरी तरफ से सोनाली ने मेरे लण्ड को जीन्स से निकाल कर चूसना शुरू कर दिया, मुझे बहुत मजा आ रहा था। मैं मजे लेने में व्यस्त था.

मैंने कहा- ठीक है गर्लफ्रेंड नहीं, तो न सही … मेरे साथ घूम-फिर तो सकती हो … कभी कभी कॉफी लंच के लिए तो चल सकती हो … वैसे तुम्हारे पास भी कहां ब्वॉयफ्रेंड है. मैं उसे तेज तेज झटके मारते हुए चोदने लगा और साथ साथ में किसी और मर्द से चोदने के लिए उत्तेजित करने लगा. अशोक बोला- आह चूस मेरी भूखी रांड आह … और चूस कर खा जा मेरा लंड … मेरी रांड.

विकी ने उनका परिचय बबलू और गजन के नाम से करवाया। गजन ने ऊ पर से नीचे तक मुझे बहुत गौर से देखा और बोला- हमें काफी देर से तुम लोगों का इंतज़ार था. मैं और बॉस ने पीछे मुड़ कर देखा, तो विनय दारू लेकर आ गया था और हम दोनों को देख रहा था. थोड़ी देर बाद मैंने पोजिशन बदल ली और कुसुम की एक टांग को टेबल पर रखवा कर आगे से उसकी चूत में लंड डाल कर हिलाने लगा.

आहहहह … की मादक ध्वनि के साथ उसने दोनों जांघों से मेरा सर दबा लिया और दबी हुई आवाज में बोली- चूस ले मादरचोद …ये शब्द मेरे लिए चकित करने वाला था. हो सकता है तुमने वो सब मुझे टीज़ करने के लिए कहा हो, लेकिन उस बात ने मेरे मन में बहुत सारी उम्मीदें जगा दी हैं.

एक दिन जब मैं स्कूल से आ रहा था तो अचानक मुझे रास्ते में विक्की भैया मिल गये. रितिका- तू मेरी चुत का बाजा बजाता है कि मैं तेरे लंड को ढीला कराती हूँ … ये तो बिस्तर पर ही देखेंगे. मैंने अपने पहले हाथ को उसकी चूचियों पर रख दिया और दूसरे हाथ की उंगली से उसकी चूत में सहलाने लगा.

अब मैंने भाभी को बोला- भाभी, आप मेरे लंड को प्यार नहीं करोगी?उन्होंने मुझसे कहा- मैंने कभी ऐसा नहीं किया.

मैं उसकी चूत के दाने को अपनी उंगली से रगड़ने लगा तो वो मचल उठी और अपने हाथों से अपने बूब्स दबाने लगी. जब मैंने उनसे मिलने की बात की, तो मुझसे कहा गया कि बिना समय लिए उनसे नहीं मिला जा सकता. उन दिनों, चैटिंग काफी लोकप्रिय थी और मैंने याहू मैसेंजर और रेडिफ बोल दोनों पर एकाउंट्स बना रखे थे.

मेरा भी यही हाल था!मेरी बीवी भी अब बेकाबू हो चुकी थी उसने मेरा लन्ड कसकर पकड़ लिया और मुँह में लेने लगी. इसी दौरान दारु के नशे में और हंसी मजाक में मेरे मुँह से निकल गया कि अगर आप लोग इतने अच्छे दोस्त नहीं होते, तो मैं ही आपको बच्चा दे देता.

मैंने अपने मम्मों को सहलाते हुए बोला- ये इतने बड़े हो गए हैं न … इसलिए अपने आप दिख जाते हैं. रूम में पहुंच कर मैंने उससे कहा- टाईम खराब किए बिना कपड़े उतारो और पूरी नंगी हो जाओ. आलिया- मैं तुम्हारे प्रपोजल को स्वीकार लूंगी, लेकिन इस के लिए तुम्हें मेरी कुछ शर्त माननी पड़ेगी.

सेक्सी हिंदी चूत वीडियो

वो बोली- मुझे उसका लंड दिलवाओ … वरना मैं मायके चली जाऊंगी और असलियत सबको बता कर तलाक ले लूंगी.

मेरा नाम विनय है, मैं नौकरी करता हूं और मेरी शादी को काफी साल हो चुकी है। मेरी पत्नी का नाम नीलम है।मैं उस समय की बात बता रहा हूं जब मेरी शादी को केवल 7-8 महीने का वक्त हुआ था। मेरी पोस्टिंग देहात के इलाके में थी जो एक छोटा कस्बा था वहां पर मकान मिलने की बहुत बड़ी समस्या थी. फिर जब मैं वापस आया, तो उसके एक हाथ में एक सीडी थी और दूसरे हाथ में वो स्टोरी का पेपर था. वह तुरंत अपने घुटनों के बल बैठ गयी और मेरे 90 डिग्री पर खड़े लंड को अपने मुंह मे लेकर चूसने लगी.

वन्दना ने बेड को फूलों से सजा रखा था और खुद दुल्हन की तरह तैयार होकर बेड पर घूंघट ओढ़ कर बैठी हुई थी. ज्यादातर लड़कियों के काले ही होते हैं लेकिन लाखों में किसी एक लड़की के निप्पल इस तरह के होते हैं. हिंदी बीएफ जंगलों कीगुलाब काका ने कुछ देर तक उनकी गोरी नंगी पीठ को चूमा, चाटा और सहलाया.

बड़ी वाली तो कुछ ख़ास नहीं है, लेकिन उससे छोटी बहुत सुंदर है, लेकिन वो मुझे कुछ छोटी लगती थी. मुश्किल से उठकर यहां-वहां बिखरे कपड़ों में से मैंने अपने कपड़े ढूंढे.

वो जल्दी से कुर्सी पर बैठ गयी, लेकिन वो सेक्स स्टोरी अभी भी उसके हाथ में थी. कुछ देर की कोशिश के बाद दोनों के लंड मेरी चूत ने ले लिए और बस फिर क्या था मेरे हस्बैंड मुझे नीचे से चूमने चाटने लगे और ऊपर से वो!मैं दोनों का साथ दे रही थी. उसके नाजुक नर्म होंठों से लंड चुसवाकर मुझे जो मजा आया, वो मैं लिख कर बता ही नहीं सकता.

अब तक निशा भाभी पूरी तरह से गर्म हो गयी थी, उन्होंने भी मुझे ओंठों और छाती पर चूमते हुए मेरे पेनिस को भी मुँह में ले लिया. मैं ‘ठीक है’ बोल कर अपने काम में लग गई।शाम साढ़े 6 बजे मैं तैयार हो गई एक गुलाबी रंग की हल्की सी साड़ी और उस पर काले रंग का ब्लाउज पहनी थी। ब्लाउज पीछे से गहरे गले का था जिसमे से मेरी गोरी पीठ मस्त दिख रही थी,7 बजे दरवाजे की घंटी बजी. अब मुझे बॉस को ये बताना था कि मेरे पति घर पर नहीं है और जिनसे मिलवाने के लिए मैं बॉस को घर लेकर आई थी वो घर पर नहीं हैं.

मेरे लंड से पानी निकल आया था।मैंने खुद से बोला ‘एक न एक दिन तुझे जरूर चोदूंगा साली! नहीं तो मेरा नाम भी आनंद मेहता नहीं।उसके नंगे बदन को देखने के बाद, मैंने अपनी आंखें बंद कर ली और उस लड़की को चोदने की कल्पना करते हुए अपने खड़े लंबे लंड को सहलाने लगा और मूठ मारने लगा। करीब दस मिनट के बाद मेरे लंड से रस निकलने लगा।मेरे लंड से रस निकलने के बाद भी मेरा लंड सामान्य रूप में नहीं आया.

फिर मैं उठा और फ्रिज में से चॉकलेट सीरप की बोटल निकाल कर लाया और उसके चुचों, नाभि और चूत पर लगा दिया. कभी-कभी अपनी गांड को इस तरह उचकाती थी कि ऐसा लगता था कि मेरे लंड को और अंदर तक लेना चाहती हो.

अभी उनका पानी नहीं निकला था पर वे ढीले दिख रहे थे, लंड भी ढीला पड़ गया था. मैंने बोला- पैर ही दबा रही थी या कुछ और भी?वो मुझे ऐसे देखने लगी कि मैंने उसकी दुखती रग पर हाथ रख दिया हो. वो लंड घुसते ही एकदम से बेड पर उचक गई और चीखी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…उसकी चुत से थोड़ा खून भी आ गया.

साथ ही मैं अपने लंड को लोवर के ऊपर से ही उसकी गांड में मानो घुसा देना चाह रहा होऊं … ऐसे झटके दे रहा था. मैंने पूछा- कौन?तो वो बोली- प्रियंका।यह सुनकर मैं दंग रह गया कि इसने कैसे मुझे फ़ोन कर दिया।वो सीधी ये बोली- पंकज, तेरे साथ रिलेशन बनाकर मैंने लाइफ की सबसे बड़ी गलती की थी और उसकी सजा मैं आज तक भुगत रही हूँ. आपको मेरी यह कहानी पसंद आई या नहीं … मुझे अपनी प्रतिक्रिया दें ताकि मैं अपने जीवन के कुछ और रोचक किस्से आप सब के साथ बांट सकूं.

मासी के बीएफ इसलिए मैंने अपना मुंह खोला पर मेरे मुंह से कुछ बात ही नहीं निकल रही थी. जबकि मैं पुराना खिलाड़ी था, मेरी गांड लंड पिलवाने को लपलपा रही थी, उसे वाकई बहुत दिन बाद कोई मारने वाला मिला था.

ससुर बहू की सेक्सी फिल्म दिखाएं

इस तरह से हमने बाथरूम में जाकर भी मस्ती की और फिर वो अपनी नकली ड्रेस पहन कर वहाँ से निकल गये. फिर भाई ने कहा- अगर तुम दोनों की बातें खत्म हो गई हों तो हम कुछ कर लें अब?फिर हमने दिव्या के लिए भी पैग बना दिया. मैंने कहा- कोई टेंशन नहीं लो सासू माँ … अब अपने को एक हफ्ते तक कोई देखने वाला नहीं है.

उन्होंने भी मेरे प्यार को प्यार से स्वीकार करते हुए ‘आई लव यू टू दीपक …’ बोल दिया. थोड़ी ही देर बाद उसकी चूत अच्छे से पनियां गयी और लंड सटासट इन आउट इन होने लगा. हिंदी सेक्सी बीएफ मस्तयह जॉब भारत की सबसे बड़ी कंसल्टिंग कंपनियों में से एक कंपनी में थी.

’मैं जरीना की दोनों टांगों को ऊपर करके उसे टेबल पर लिटा कर खप्पा खप गच्चा गच्च चोदे जा रहा था.

बीच-बीच में अपने हाथों से उसके दोनों बूब्स को जोर से दबाता तो उसके मुंह से कराह निकल जाती।वह मेरे पीठ पर और कभी मेरे चेहरे पर अपने हाथों से सहलाये जा रही थी। अब तक मेरा लंड अपने अधिकतम लम्बाई प्राप्त कर चुका था. ससुर ने अपनी बहू को उठाया और अंदर ले गया लेकिन अब बहू का कामुक जिस्म देख ससुर की नियत ही बहू पर बिगड़ने लगी और वो बहू के जिस्म के मजे लूटने लगा.

उसकी एक हाथ से मेरी गांड में चलती हुई उंगली मुझे बेहद सनसनी दे रही थी. मुझे पता था कि वो यही कहेगी तो मैंने उसकी चूत को उंगली से छेड़ना शुरू किया और दाना दबा कर हिलाने लगा. कुछ देर किस करने के बाद नितिन ने मेरे कपड़े उतारते हुए मुझे नंगी करना शुरू कर दिया.

भाभी जी ने पूछा- आप कौन?मैं बताया कि अरे भाभी जी आपने पहचाना नहीं, मैं वही सुबह आया था … वही फायनेंसर बोल रहा हूँ.

एक तो मैं बिना कपड़ों के लेटा हुआ था और ऊपर से वो चिकनी चमेली मेरे सामने थी इसलिए लंड का बुरा हाल हो रहा था. मैंने भाभी जी के सपाट और चिकने एकदम बेदाग़ पेट पर किस करना चालू कर दिया. ”फिर भैया ने कुछ नोट आधे मोड़कर (अंग्रेजी के उलटे V के आकार में) फर्श पर रख दिए।आप अपना मुंह उधर कर लो, मुझे शर्म आ रही है.

बीएफ सेक्स वीडियो सॉन्गसोनिया- ठीक है ये बताओ … केवल महिलाएं ही ब्रा क्यों पहनती हैं और पुरुष नहीं. कपड़े पहनने के बाद प्रिया ने उस बेडशीट को खींचते हुए कहा- इसे छोड़ … मैं इसे अभी धुलाई कर‌ देती हूँ, कल‌ अगर गलती से मम्मी ने देख लिया, तो तेरा सारा प्यार निकल‌ जाएगा.

ब्लू फिल्म सेक्सी ओपन में

उसने अपना हाथ नीचे किया और अंकित के फड़कते हुए लंड को अपने हाथों में ले लिया. वेटर ने बिना टाइम गंवाए अपने कपड़े उतार दिए और सीधे माँ के शरीर को खाने के लिए उनके ऊपर चढ़ गया. मेरे मुंह से बस इतना ही निकला- यह तुम क्या बोल रही हो संजना? ऐसा करने के बारे में मैंने कभी सोचा भी नहीं!तो संजना मुझसे कहने लगी- मेरे प्यारे, मैं तुमसे इतना प्यार करती हूं कि मैंने अपने आपको तुम्हें दे दिया.

हमारी शादी को अब चार साल हो गए थे, तब अचानक मेरे पति ने मेरे सामने डिवोर्स के पेपर रख दिए. अब तक की मेरी दीदी की इशिता के साथ की लेस्बियन सेक्स की कहानी में आपने पढ़ा था कि मेरे साथ फोन चैट के बाद मेरी दीदी गरम हो गई थी और उसने आज की रात इशिता के साथ लेस्बियन सेक्स करने का पक्का कर लिया था. उस दिन मैंने स्मृति को अलग अलग आसन में चोद कर चुदाई का पूरा मजा दिया.

राहुल ने एक धक्का लगाते हुए अपने लंड को पिंकी की चूत में घुसेड़ दिया और अब दोनों ही एक दूसरे से ताल मिलाते हुए चुदाई करने लगे. फिर मैंने अपनी पैंट की चेन को खोल लिया और अपने लंड को अंडरवियर से बाहर निकालते हुए चेन से बाहर निकाल लिया. भाई का अपनी बहन के साथ और बहू का अपने ससुर के साथ चुदाई का खेल अब रोज का ही रुटीन बन गया था.

उसने मुझे किस करते हुए हाथ मेरी टी-शर्ट के नीचे डाल कर मेरे कबूतरों को भींच लिया. मेरी सास बाहर जा रही है 2 दिनों के लिए और अपने साथ ऋषि को भी ले जा रही है.

उसे अब इतना मजा आने लगा था कि वो मुझे बार-बार चूमने लगी और प्यार करने लगी.

उनको मंजूर नहीं था, उन्होंने साफ साफ मना कर दिया और साथ में ही मुझे ताने मारना चालू कर दिया. बिहारी बीएफ सेक्सी भोजपुरीअब मैंने अपने लंड को जन्नत का दरवाजा दिखाया और उसे एक हाथ से दबा लिया ताकि वो फिसले न; फिर मैंने कम्मो की आंखों में झांका. देहाती चूत की चुदाई वीडियोवो दरअसल मेरा आशिक था, पर अभी तक हमारे बीच में चुदाई का सिलसिला शुरू नहीं हो सका था. मैंने धीरे से दादाजी के दरवाजे पर कान लगा कर सुना, तो मुझे यकीन नहीं हुआ.

जब 3-4 दिन में एक बार सेक्स करो तो सेक्स का मज़ा थोड़ा ज्यादा ही आता है.

मैं आलिया के दोनों हाथ पकड़कर उसके ऊपर चढ़ गया- अब कहां जाओगी?आलिया हंसने लगी. कम्मो बेटा, मेरा लंड खाकर अब तू लड़की से औरत बन गयी अब तो मजा आ रहा है न मेरे लंड का?” मैंने उससे पूछा. उन सभी लोगों से अभी भी मेरी बात होती है, लेकिन मुझे अब किसी नए लंड की तलाश है.

भाई दुकान पर नहीं जाता था, जिस कारण भाभी को एकांत नहीं मिल पाता था. वो ये देख कर हंसने लगी, मैंने उसे आंख मारी और उसे एक गहरा स्मूच किया और बारी बारी उसके चूचों पे लगा सीरप चाटने लगा. मैं चाची को झट से पीछे से पकड़ने लगा और उनके गले पे चूमने लगा, उनके मम्मों को दबाने लगा.

सेक्सी दिखाओ जी

मैंने उसे बताया, तो उसने अपनी चूत में से मेरा लंड निकाला और उसे चूसने लगी. अगर हम नीचे से ऊपर की ओर चुत चोदते हैं, तो अन्दर बच्चेदानी को ज़ोर ज़ोर से छूता है. मम्मी बोली- मेरे विक्की, और चोद मुझे!फिर मम्मी और विक्की भैया की चुदाई पूरी रात चलती रही।पर मुझे तो नींद आने लगी थी तो मैं अपने कमरे में जाकर सो गया.

प्लीज …रोहन- नो प्रॉब्लम मिसेज ब्यूटीफुल … लेकिन एक चीज है, जो आपको मेरे लिए अभी करनी पड़ेगी …सोनिया- क्या?रोहन- अपनी नई स्कर्ट पहनो और मुझे दिखाओ.

ये सब कहते हुए उसने उसकी पैंट और अंडरवियर को एक ही झटके में निकाल दिया.

तभी मैंने अपने एक उंगली को उसकी गांड के छेद पर रख कर थोड़ा दबाव बनाया, तो उसने खुद अपनी गांड को खींच कर और थोड़ा खोल दिया. कुछ देर के बाद में वो आई और उसने कल जैसे पेपर अपने दरवाजे पर पड़े देखे, तो उसने इधर उधर देखा और झट से स्टोरी वाले कागज़ उठा कर अपने कपड़ों में छिपा लिए. भाई बहन की चुदाई का बीएफउसने कहा- बाबू छोड़ो मुझे … ये क्या कर रहे हो?तो मैंने उससे कहा कि तुम छुपछुप कर क्या देख रही थी?नहीं … कुछ भी नहीं?”क्यों झूठ बोल रही हो? मेरे लंड पर तुम्हारी नजर थी.

इसलिए जब भी आपके मन में कोई शंका पैदा हो तो आप अपने किसी सगे संबंधी या अपने मित्र गणों से इस विषय पर चर्चा करने से कतई परहेज न करें. उसके लंड की ऐसी करारी चोट मेरी बच्चेदानी पर आज तक उसके अब्बू भी नहीं मार सके थे. मुझे उसकी जवानी देख कर नशा सा होने लगा और लंड खड़ा हुआ तो मैं बाथरूम में चला गया.

शबनम के दिमाग से ये नहीं निकल पा रहा था की ये रिश्ता उसके लिए वर्जित है, लेकिन ये उसे और अधिक उत्तेजना दे रहा था. कुछ देर चूत चूसने के बाद मैंने कहा- अब तुम्हारी बारी … मेरा भी लंड खड़े रहकर अब दर्द करने लगा है.

मैंने चूमना जारी रखा और धीरे धीरे भाभी जी के गले पर चूमते हुए उनके चूचों को चूसना और दबाना चालू कर दिया.

मैडम ने मेरी तरफ गुस्से से देखा और कहने लगीं- इतनी देर से कहां गई थीं?मैंने कहा कि मैडम मुझे नींद नहीं आ रही थी इसलिए मैं टहलने चली गई थी. अब वो मस्त होकर सिसकारियां भर रही थी- आ उम्म्ह… अहह… हय… याह… आ आ …मैं उसकी चुचियों को पूरा दम लगा कर मसल रहा था … और उसकी चूचियों के निप्पलों को बारी बारी से चूसने में लगा हुआ था. अब आगे:कार में म्यूजिक बज रहा था, करीबन आधे घंटे बाद हम चित्रा के घर पर पहुंच गए थे.

बीएफ सेक्स इंडियन उन दोनों के अलावा मेरे घर में मैं अपनी स्कूटी किसी को भी चलाने के लिए नहीं देती हूं. मैं बस यही सोच रहा था कि ये मुझसे क्या हो गया, आखिर इतनी बड़ी गलती कैसे हो गयी.

फिर बॉस जोर जोर से मेरे निप्पलों को काटने लगे और मेरी चूत रगड़ने लगे थे. दिसम्बर का महीना था, सब एक साथ सोए तो वहीं एक दोस्त ने मेरी रात को मार दी. धीरे धीरे हम दोनों खुल गए और हम दोनों में गर्म बातें भी होने लगी थी। अब उनके फ़ोन का मुझे भी इंतजार रहने लगा। अब वो भी मुझे अच्छे लगने लगे थे.

इंग्लिश पेपर सेक्सी

उन्होंने मेरी साड़ी उठा दी और पेंटी नीचे करके मेरी चुत में उंगली डाल दी. उसमें भी उषा जैसी कामवाली हो, तो चुदाई में चार चाँद तो लगना लाजमी है. मनोज दीपा ने जाने का प्रोग्राम बना लिया पर अचानक जाने वाले दिन ही मनोज के पिताजी को अहमदाबाद में हार्ट अटैक आ गया तो वो लोग नहीं जा पाए.

कुछ ही धक्कों के बाद शबनम का पानी निकलने वाला था- ओह हां!जोर से कराहते हुए शबनम ने अपने कूल्हों को आगे की तरफ धकेला और अंकित के कूल्हों को पकड़ कर वहीं का वहीं रोक दिया. बस मैं इतना ही कह सकता हूँ कि कोई अप्सरा भी आपको देख ले, तो जलन के मारे मर जाएगी.

सो उन दो दिनों में मेरी अमायरा से काफी देर देर तक की मुलाकात हो जाती थी.

उसके बदन की मालिश कर ही रहा था कि तभी डोरबेल बजी और मैं समझ गया कि वो दोनों भी आ चुके हैं. फिर दादाजी ने खुद एक एक करके मेरे सारे कपड़े निकाल दिए और मुझे पलंग पर लेटा दिया. जिस तरह से मैंने पल्लवी के साथ किया, ठीक उसी तरह पल्लवी मेरे साथ कर रही थी। वो मजे से मेरे दानों काट रही थी और जीभ से खेल रही थी। मेरे निप्पल कड़े हो चले थे और तो और झुरझुरी तो ऐसी हो रही थी कि सुपारे में एक मीठा सा मादक अहसास हो रहा था।मैं अपनी भावनाओं पर काबू रखना चाहता था लेकिन हो काबू हो नहीं पा रहा था, मैंने कस कर उसके चूचुक को दबाना शुरू कर दिया और निप्पल को जोर-जोर से मलने लगा.

दो ही साल में कुंवर साहब का देहांत हो गया और उन्होंने अपनी जायदाद का थोड़ा हिस्सा बेटी के रूप में मेरे नाम भी कर दिया था. मेरा बीए हो गया है और मैं घर से ही सरकारी नौकरी के लिए एग्जाम की तैयारी कर रही हूं. उन्होंने मेरे लंड की तरफ अपना मुँह किया और मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर ज़ोर ज़ोर से चूसने लगीं.

जिस कमरे में वे गए हुए थे, उसकी खिड़की से मुझे अन्दर का नजारा साफ़ दिख रहा था.

मासी के बीएफ: फिर उसने दूसरे वाले को इशारा किया और दूसरे ने आकर उसकी चूत में लंड को पेल दिया. मैंने फिर से उससे पूछा- कब से चल रहा है ये सब?वो घबराहट के मारे उठ कर जाने लगी.

फिर धकापेल चुदाई करके मैंने लंड का माल कुसुम की चुत में ही छोड़ा और उसे चूमने लगा. वो कभी मेरे लंड को चूसती, कभी उसके टोपे पर अपनी जीभ फेर कर उसे चाटती. ” नीलम ने बिना अपनी नज़रें हटाये ज़ोर से साँस लेते हुए कहा। नीलम ने अपनी ज़िंदगी में कभी इतना बड़ा और मोटा लंड नहीं देखा था।बेटी मैंने तुम्हारी शर्म ख़त्म करने के लिए ही अपनी धोती हटायी है.

क्या तुम तब मुझे पेलना नहीं चाहते थे?मैंने रितिका से कहा- ऐसी कोई बात नहीं थी यार, लेकिन जब पहली बार था न … एक डर सा मन में लगा रहता था कि अगर तुम चिल्ला दी, तो क्या होगा?फिर उसने मुझसे पूछा- तुम्हारी मुझे पेलने की इच्छा कब हुई?मैंने कहा- कई बार … लेकिन समय अच्छा नहीं था.

मेरी बुर गीली हो गयी थी, यहां तक कि उसमें से चाशनी जैसी टपकने लगी थी. इसलिए मैंने उसे भरोसा दिलाया कि पहले हम मेल पर या हेंगआउट्स में बात करेंगे. मेरे बड़े चूचे 18 साल की लड़की जैसे हैं, गोल मोल गांड है, जिसमें कई लंड समा चुके हैं.