इंडियन सेक्सी बीएफ जबरदस्त

छवि स्रोत,विद्मते चाहिए

तस्वीर का शीर्षक ,

जंगल की बीएफ हिंदी में: इंडियन सेक्सी बीएफ जबरदस्त, वो मेरे बराबर में लेट गयी और बोली- आमिर … मुझे ज़िंदगी में इतना मज़ा कभी नहीं आया … जितना आज आया है.

सेक्सी कंडोम

हां हां … लंड पूरा चला जायेगा, तुम कहो तो अभी अपना लंड तुम्हारी चूत में डाल के तुम्हें विश्वास दिला दूँ? और इसमें तुम्हें मजा भी आएगा. सेकसिविडिओमुझे भी यही लगता है कि शादी में लड़कियाँ लड़कों को दिखाने के लिए सजती हैं.

उनकी बातों से मुझे फील हो रहा था कि ये आराम से फंस जाएगी, बस थोड़े खर्चे करने पड़ेंगे. काजोल की नंगी फोटोसबसे पहले एक होटल में एक रूम बुक किया, फिर उसके लिए कुछ गिफ्ट ख़रीदे और उसको तय जगह पर रिसीव करने चल दिया.

डॉली को मैंने अपने आगे बैठाया और उसके मम्मों को मैं पानी और बॉडीवाश से साफ करने लगा.इंडियन सेक्सी बीएफ जबरदस्त: बड़े शहर में एकदम से घर मिलना कितना मुश्किल होता है, ये तो आप जानते ही हो.

एक दिन उसने बताया कि अब उसके पति मुझे बहुत प्यार करने लगे हैं, बिस्तर पे भी अब वो बहुत रोमांटिक होते हैं और मेरे साथ प्यार से ही सेक्स करते हैं.अगले 15 दिनों में ही उसके अलग अलग लड़कों के साथ किये गए करतूत हमारे सामने आ गए.

लड़की की चूत में कितने छेद होते हैं - इंडियन सेक्सी बीएफ जबरदस्त

जहां बेड लगा था, वहां जाकर मैं कपड़े चेंज करके अंकित को बोली कि मम्मी को जाकर बोल देना कि मेरी तबीयत खराब है, मैं नहीं आऊंगी.अब उसने मुझे बेड पर लिटाया और मेरी दोनों टांगें अपने कंधों पर रख लीं.

उसके बाद रिशु ने जब दूसरा धक्का मारा तो मिशिका की चूत में पूरा का पूरा लंड उतर गया. इंडियन सेक्सी बीएफ जबरदस्त लेकिन एक बार में उसकी गांड में पूरी तरह से लंड नहीं घुस सका था और वो भी उंगली की जगह कड़क लंड की मोटाई को न झेल सकी.

पर मुझमें चुदने की ललक थी इसलिए मैं कमरे में चलती हुई अन्दर चली गई.

इंडियन सेक्सी बीएफ जबरदस्त?

उन्होंने 4-5 थप्पड़ बहुत जोर के मारे और बोलीं- इतना ही मन पढ़ने में लगा … अभी तेरी उम्र ही क्या है. फिर मैंने सोचा कि लेकिन वे दो-तीन लोग निहाल से एक साथ बहस कर रहे थे. वह बोला- तो फिर दोस्ती के नाते अब यह भी बता दो कि मैं आपको किस तरह से हैंडसम लगा?उसके इस सवाल पर मैं शरमा गई.

तो वह बोले- अभी कुछ पूछूं, बुरा ना माने तो?मैं बोली- हां बोलिए … मैं नहीं मानूंगी बुरा. नैना ने मेरी कमर पे किस करते हुए मेरे जॉकी को नीचे कर दिया, जिसमें से टाइट हो चुका मेरा लंड बाहर आ गया. शिल्पा मुझसे लिपटते हुए बोली- मैंने आज तक अपने पति से पीछे से नहीं मरवाई, आज पहली बार है.

गीता जोर जोर से खुद आगे पीछे होने लगी और चिल्लाने लगी- आह आह हा हा हा इस्स्स्स माँ बचा ले … मुझे इन चोदुओं से. मुझे बहुत मजा आ रहा था, मेरा लंड मीशा की चूत में कसा कसा जा रहा था. बस पांच मिनट के अन्दर ही रमीज बोला- अब मेरा काम तमाम होने वाला है, वन्द्या तेरी गांड में मेरा लंड का रस गिरेगा.

लेकिन वही कुछ देर बाद उसकी शिल्पा की गांड ने मेरी दोनों उंगलियों को रास्ता दे दिया. उसने बताया कि वो अपनी कामेच्छा को अपनी उंगली से शांत कर लेती थी और कभी कभी मूलीमैथुन से भी खुद को शांत किया था.

चूंकि उसने अपना मुँह पिल्लो में दबाया हुआ था, इसलिए आवाज़ चिल्लाने की नहीं हो रही थी.

दोस्तो, सोना की कहानी सुनकर मुझमें बदलाव आए और अब मैं उन महिलाओं की मदद करना चाहता हूँ, जो एड्स की शिकार हैं.

बड़े शहर में एकदम से घर मिलना कितना मुश्किल होता है, ये तो आप जानते ही हो. मैं आप सबको अपनी चुदाई की कहानी बताने जा रही हूँ और ये कहानी मेरे और मेरे पड़ोसी की है. अगर दो-तीन सेकेण्ड भी वह ऐसा और कर देती तो मेरा वीर्य उसके सिर के बालों को नहला देता.

काफी देर लंड चूसने के बाद वो अपनी टांगें फैला कर बोलीं- आ जा जमाई राजा. मैंने सोचा जब तक कोई काम नहीं है तब तक ड्राईवर का काम ही कर लेता हूँ. वे आपस में बोल रहे थे कि ये मैडम की चूत का रस है … वो भी वो वाला जो चुदाई के बाद निकलता है.

उन्होंने मेरे कान में आकर कहा- होने वाले के पापा जो हैं उनको भी बता दो.

उसके बाद मैंने धीरे से भाभी की चूत में लंड को डाल दिया और भाभी ने मेरे कंधे को नोच लिया. इतनी भीड़ में उन दोनों को पहचान पाना भी आसान काम नहीं था क्योंकि मैं उनसे पहले कभी मिला ही नहीं था. बीच-बीच में उसकी चूचियों को मसल देता तो सलोनी की सिसकी निकल जाती- आअह … उफ्फ्फ!नतीजा सामने था.

फ़िर एकदम से उसने मेरी गर्दन जोर से पकड़ी और दूसरी टांग भी उठा कर मेरी कमर पर लपेट कर मुझे यहां वहां चूमने लगी. तो शायद इससे वह समझ गया कि मुझे यह अच्छा लग रहा है इससे वह अब सीधे लहंगे के ऊपर से मेरी जहां चूत थी, वहां मुट्ठी से पकड़ कर निहाल दबाने लगा. फिर वो मुझसे बोला- जा … टिश्यू पेपर ला कर मेरी रंडी का चेहरा साफ़ कर दे और ऋतु की गांड से और मेरे लंड से क्रीम साफ़ कर दे.

मेरी तो एक मिनट में हवा टाइट हो गयी मैंने एकदम से पल्टी खायी और अब हम तीनों बिस्तर पर आ गये.

इस बार वो चिंहुक गईं, पर इस बार उन्होंने मुझे रोका नहीं, उन्होंने दर्द को बर्दाश्त कर लिया. ऊपर से मैं हमेशा टाइट कपड़े पहनती हूँ, जिससे मेरे कटावदार एंड और अधिक सेक्सी लगते हैं.

इंडियन सेक्सी बीएफ जबरदस्त थोड़ा सा मैंने होंठों को गीला किया और प्रिया के होंठों पर रगड़ने लगा. उसके बाद आंटी ने मुझे उठने के लिए कहा और खुद मुझे नीचे लेटने के लिए बोला.

इंडियन सेक्सी बीएफ जबरदस्त होटल रूम में बहुत अच्छा बिस्तर था इस गुदगुदे गद्दे पर सेक्स करने में बहुत अच्छा लग रहा था. मैंने भाभी की खुल्लम खुल्ला बात सुन उनके गाल पर चुंबन धर दिया और कहा- मेरी प्यारी भाभी अगर तुम्हें चुदना ही था … तो इतने दिनों तक इंतज़ार करने की ज़रूरत क्या थी.

मैं समझ गयी कि ये साथ नहीं दे पा रहा है, मेरी जरूरत के हिसाब से उसके धक्कों में दम नहीं लग रहा था.

फुल एचडी वीडियो सेक्सी बीएफ

मुझे भी इतना मजा आ रहा था कि मैं चुदास की मस्ती में ख़ुशी के मारे चिल्ला रही थी. पटेल जैसे ही मेरी एक टांग को पकड़कर कर फैलाने लगा कि जहां बारात आयी थी, उधर से तीन चार लोग बातें करते उधर को आने लगे. मेरा बॉयफ्रेंड अकेले अपने घर चला गया और मैं अपनी सहेली के साथ घर आई ताकि मेरे घर वालों को शक नहीं हो.

उसकी तंग गांड मेरे लौड़े को जैसे दबा कर उसकी जान ले लेने की कोशिश कर रही थी. उस दिन मेरे मन में लड्डू फूटने लगे थे और मैं ख़ुशी से उसकी चुदाई के सपने देखने लगा. फिर उसने कहा- चल आजा मेरे घोड़े … चढ़ जा मेरे ऊपर मेरी चुत पहले से ही काफ़ी गीली है.

रमीज की इस तरह की हरकत से मुझे बहुत गुदगुदी होने लगी और मैं तड़पने लगी.

भाभी बोली- कोई बात नहीं, मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता, बस तुम अपना लंड मेरी चूत में डाल दो. जैसे-जैसे उसके जिस्म से कपड़ों की परत उतर रही थी मेरे लंड का तनाव हर पल और ज्यादा बढ़ता जा रहा था. तभी उसने मुझे बेडरूम में चलने को कहा और आंटी ने मेरे लंड को हाथ से पकड़ा और मुझे बेडरूम की तरफ ले जाने लगी, फिर से मेरा लंड तैयार हो गया था.

मैंने देखा कि सामने एक चमचमाती हुई काली होंडा सिटी सरकती हुई आ रही थी. सोनम की मम्मी उसकी चाची और वो सामने वाली लेडीज तीनों पड़ोस और गांव में, जो भी मिलता सबसे बतातीं कि बंध्या को चुदवाते रंगे हाथों पकड़ा है. आह कितने सॉफ्ट मम्मे थे, क्या बताऊँ यारो … मुझे तो बस यूं समझो, मजा ही आ गया.

उसने मुझे गौर से देखा और उसके बाद आंखें बंद करके अपने चेहरे को आगे कर दिया जैसे वो मुझे किस करने के लिए कह रही हो. मैं बेकाबू हो गयी और उसको बोलने लगी कि मेरी चूत में अपना लंड डालो, मेरी चूत को चोदो.

मैं दोनों हाथ से भाभी के चुचे दबाये जा रहा था और मुँह से चूसे जा रहा था. मेरे लंड का पानी तो मेरी बहन की चूत नहीं पी पाई फिर भी मेरे लंड फड़कने से उसकी बुर को भी बहुत सुकून मिला होगा. फिर मैं अगले दिन अपने टाइम से पहले ही ऑफिस छोड़ कर उसके घर के नीचे आ गया.

थोड़ा सा मैंने होंठों को गीला किया और प्रिया के होंठों पर रगड़ने लगा.

उसने मेरी चुनरी उतार फेंकी, जिस वजह से मेरे पहाड़ जैसे चूचे और उनके बीच का चीर … और चीर के बीच मेरा लॉकेट खेल रहा था. हम दोनों की ऑफिस की गाड़ी भी वही थी, पर हमारे बीच एक सन्नाटा सा रहने लगा. मुझे उनकी गैर-मौजूदगी लंड लेने की प्यास जगी और वहीं से मैं एक चुदक्कड़ महिला बन गई.

मैं भी कामुक आवाजें निकालने लगी और उसके बाद उसने अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और मेरी चूत को चोदने लगा. मुझे देखकर हँसने लगी, कहने लगी- तुम बिना कपड़ों के सिर्फ तौलिया लपेट कर क्यों घूम रहे हो.

उन्होंने मेरी जीएफ के बारे में पूछा तो मैंने मना कर दिया कि मेरी कोई जीएफ नहीं है. अभी कहाँ सासु माँ, अभी तो मुझको तेरे इस भड़कीले बदन से और खेलना है, पर अभी मैं थोड़ा थक गया हूँ, तू एक काम कर. दस मिनट तक मेरी गांड बजाने के बाद राजिंदर ने मेरे चूतड़ों के बीच में सफेद फव्वारा छोड़ दिया.

फुल सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ

इसलिए मैंने भाभी से कहा- भाभी! जैसे आप लंड के लिए तरसती हो ऐसे ही लता भाभी भी लंड के लिए तरसती है.

कुछ घंटे बाद बारिश बंद हुई, मैं बाज़ार गया और सलहज के लिए एक स्वेटर खरीद लाया और साथ में एक ब्रा भी ले आया. पहले दिन तो उसने मुझसे ज्यादा कुछ नहीं पूछा, लेकिन उसके तेवर बता रहे थे कि वो हम दोनों की चुदाई की कहानी पूरी तफ्सील से सुनना चाहती है. मैंने दोनों की टांगें ऊपर उठवा कर दोनों की गांड साथ साथ में बिस्तर के कोने में लगा कर, बारी बारी से लंड दोनों चूतों में अन्दर बाहर करने लगा.

जब से अपनी गर्लफ्रेंड को चोदा था, तब से हर दिन चुदाई करने का मन करता था. कुछ देर तक गाजर को लंड समझ कर मैं अपने मुँह में अन्दर बाहर करती रही. नाबालिक बच्ची हुई शिकारबस पांच मिनट चूत चाटने के बाद वो कमर उठाने लगी और मेरे सिर को पकड़ कर अपनी चुत पर दबाने लगी.

हम दोनों जब कंपनी से बाहर निकले तो शिखा कहने लगी कि उसके सिर में दर्द हो रहा है और उसका सिर बहुत भारी सा लग रहा है. फिर मैंने उसकी गांड पे दांत से काटना शुरू कर दिए, जिससे वह मरने की हद तक पहुंच गयी.

लगभग 10-15 पिचकारियों के बाद मेरा लंड शांत हुआ और मैं भाभी को ऊपर सरका कर उनके ऊपर ही लेट गया. उनके चौड़े सीने पर उंगलियों को फेरते हुए कहा- जो मर्ज़ी पिला दो सुनील. एक दिन मैं दोपहर को उठी, तो देखा चाचा कमरे से बाहर गए हैं और बाकी के सब लोग अपने काम से बाहर गए थे.

उनका डायमंड का पुश्तैनी कारोबार था, लड़का भी अपने माँ बाप का इकलौता था और अब अपने पापा के साथ मिल कर अपना पुश्तैनी कारोबार ही संभाल रहा था. अब तक वो दो बार छूट चुकी थी।फिर मैं छूटने के बाद वैसे ही उसके ऊपर लेट गया और हम दोनों को नींद आ गयी. मेरी योनि से चिपचिपा तरल, तेज़ी से रिसता देख सरदारजी का लिंग अकड़ने लगा.

करीब 15 मिनट तक चूमने के बाद मैंने भाभी से कहा- कल मेरा एग्जाम है तो सुबह मुझे जल्दी उठना होगा.

फिर चुदाई को ब्रेक करके मैं किचन में गई और कुछ खाने के लिए लेकर आई. यहां तो वैसे ही तरसी हुई चूत में आग लगी हुई थी। डर लगा कि नया लड़का है, कहीं उतावलेपन में फिर जल्दी न झड़ जाये तो यह सोच कर उठ गयी और नीचे हो कर उसके लंड को चूत से सटाया और उस पर बैठती चली गयी। एकदम गीली चूत थी और लंड भी गीला.

मैंने दवाई दुकान से एक पैकट कंडोम का खरीदा और उसके दरवाजे पर जा कर बेल बजा दी. शुरू शुरू मैं उसने थोड़ा विरोध किया, लेकिन बाद में वो मेरा साथ देने लगी. कुछ दिनों में हम दोनों की आँखों ने एक दूसरे की चाहत को समझ लिया था.

अभी कहाँ सासु माँ, अभी तो मुझको तेरे इस भड़कीले बदन से और खेलना है, पर अभी मैं थोड़ा थक गया हूँ, तू एक काम कर. मैं दर्द से तिलमिला उठी, मैंने उसके हाथ हटा दिये।फिर उसने कहा- बुरा मत मानो, इसी में तो मजा है।और धीरे धीरे हाथ से मसलने लगा. मैं अपनी इस पहली सम्भोग यात्रा के अनछुए पहलू एक एक करके आपके सामने लाती रहूंगी.

इंडियन सेक्सी बीएफ जबरदस्त प्रमिला की चुत का रस मेरे लंड से होता हुआ मेरी गोटियों और गांड पर भी आ गया. आसमान ने शोर करना बंद कर दिया और बारिश की तेज़ मधुर आवाज़ आने लगी थी.

ब्लू पिक्चर बीएफ हिंदी बीएफ

मैं एक बार फिर से उछल गई और फिर चीखी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…इस बार मैंने कसके कुर्सी सहित दीदी को जमके पकड़ लिया और उनके दूधों को जोर से अपने हाथों से दबा दिया. मैंने सम्भोग और इससे जुड़ी हुई बातों के बारे में बस सुन और पढ़ा था. कुछ हफ्ते बाद मुझे सुबह से ही अजीब लग रहा था और एक बार वोमिट भी हुई तो मैंने प्रेग्नेंसी का रिपोर्ट करवाई, तो वो पॉजिटिव आई.

अगले दिन मैं घर की सफाई कर रही थी और वो सोफे पर बैठा टीवी देख रहा था. वो एक आज्ञाकारी मनुष्य की तरह सटाक से उठा कर घुटनों के बल खड़ा हो गया. लवली कुमारीदूसरे दिन मैं दीदी के साथ शॉवर के नीचे सेक्स करना चाहता था, लेकिन उसने दीदी ने ना बोला.

उसने मुझसे कहा- आपकी योनि बहुत अच्छी है, कुछ देर और चाटना चाहता हूँ.

इतना बोलकर उन्होंने अपनी लुंगी उतार दी और मेरे पास आकर अपने होंठ मेरे होंठों से लगा दिए, फिर मेरी लुंगी उतार कर फेंक दी. मैंने सासू को ध्यान से देख कर तो लग रहा था कि जैसे वो किसी गहरे पानी में डुबकी लगा कर आई हों.

फिर मैंने सोचा कि लेकिन वे दो-तीन लोग निहाल से एक साथ बहस कर रहे थे. ’ बोलते हुए अपने मुँह का माल गटक गई और दोनों एक दूसरे का मुँह पर गिरा हुआ वीर्य साफ करने लगीं. इस वक्त एक जवान लड़का मेरे सूने घर में मुझसे बात करते करते मेरी चूची को देख रहा था और मुझे इस बात से बेहद सनसनी हो रही थी.

सारिका की कामुक सिसकारियां और बढ़ गईं और वो अपने पैरों को फैला कर अपनी चूत को ऊपर उठाने लगी.

वो मजदूरी करता है, कभी काम मिला तो किया, नहीं तो इधर उधर गावों में घूमना, देर रात को घर आना औए पत्नी से मार पिटाई करनी. मुझमें क्या कांटे लगे हैं?मैंने कहा- तुम चलो तो सही, मैं तुम दोनों के लिये कपड़े निकाल कर आता हूँ. वहां पहुंचने पर मेरे साथ जो औरतें थीं, उनके लड़कों ने हमें चाय नाश्ता दिया और बैठने को कुर्सी दी.

क्ष्क्ष्क्ष्न्क्ष्मेरा लण्ड माँ की चूत में गहराई तक चला गया और मेरी गेंदों ने हर झटके के साथ उसकी चूत के होंठों को मारा और ‘थड … थड़ … थड़ …’ की तरह आवाज़ दी।कमरा वासना से भरा हुआ था।मैंने मम्मी को 5 मिनट तक उसी अवस्था में चोदा. वाणी की आवाज़ लड़खड़ाने लगी, सामने वाले के पूछने पर वो बोली- बस आज थोड़ी तबियत ठीक नहीं है.

हैदराबाद का बीएफ

लगभग पांच मिनट बाद जब मेरा पूरा लंड उसकी बुर में हिचकोले खाने लगा, तो वह भी चूतड़ उछाल उछाल कर अपनी बुर में मेरा लंड लेने लगी. इतने में रमीज ने मेरे दूधों को चूसने के लिए मेरे दूध को पकड़कर जोर से दबाया और फिर पहले निप्पल पर अपनी जीभ चलाने लगा, जिससे मुझे थोड़ी राहत मिली और अच्छा लगा. तीन मर्दों को चुम्मियां देने के बाद, उनके सामने सिर्फ ब्रा पैंटी में, शराब के नशे में मैं गर्म हो चुकी थी और बेशर्म भी.

मैं- मतलब?सासू माँ- मतलब ये कि बेटा, मुझे सब पता है कि हितेश ने अभी तक तुझे छुआ तक नहीं है … और वो तुझसे दूर भागता है. इन परिधानों में सच में मेरा सुडौल कटाव, गोल गहराईयां, तने हुए उभार निखर कर दिख रहे थे. उन्होंने अपना ओवरकोट, स्वेटर, साड़ी उतारी तो देखा कि उनके हाथ और कंधों पर हल्की चोट लगी थी.

बीच बीच में मैं उनके पेट, चुचों और कंधों को भी चूम रहा था ताकि उनको और उत्तेजना आये और वो ऐसे ही बेकरार रहें. तू वहां बारात की स्वागत में नहीं जा रहा … यहां सैटिंग के साथ जमावट जमा रहा है. फिर हम दोनों शॉवर लेकर फ्रेश हुए और हम ज्यादा थकने की वजह से एक साथ सो गए.

मैं- अरे भाभी तुम 15 मिनट रुको, फिर मजे करते हैं ठीक है!भाभी- हां ठीक है … अच्छा मैं तुमको शाम को बोल रही थी, तुम यहाँ मेरे घर पे किराये पे रह सकते हो? तुम अगर चाहो तो?मैं- रह तो सकता हूँ … लेकिन मैंने यहाँ किराया दे दिया है यार, तो मैं अभी कैसे आ सकता हूँ. जब मैंने अपनी जुबान उसकी चूत के आसपास फेरी, तो मुझे उसकी गीली चूत का कुछ अजीब सा स्वाद लगा लेकिन मैं मज़े से पागल हो रहा था.

फिर मैंने उसको पकड़ के खड़ा किया और पकड़े पकड़े उसके पीछे कान के पास चूमते चूमते बिस्तर पर ले गया.

हम दोनों एक दूसरे का भरपूर साथ दे रहे थे और सेक्स का मजा ले रहे थे. दक्षिण कोरिया सेक्सी वीडियोमैंने उनकी भावनाओं को पढ़ने की कोशिश की और उनकी आँखों में देखता रहा. धूम 3 फुल मूवी डाउनलोडफिर मैंने उसके निप्पल्स को काटना शुरू कर दिया और साथ ही साथ हम एक दूसरे के होंठों को भी बीच-बीच में चूस रहे थे. वहीं पास में एक होटल है, मैंने वहीं जाकर काफी आर्डर की और भाभी की तरफ सवालिया नजर से देखा.

वो सोचता था कि इतनी सुंदर और सेक्सी मॉडल लड़की हाथ लग गयी है, इसके साथ जवानी के सारे मज़े ले लूँ.

मैंने भी देर ना करते हुए अपनी पैन्ट को नीचे सरकाया और उसको नीचे फर्श पर लेटा कर उसकी साड़ी को ऊपर सरका कर उसकी पेंटी को नीचे सरका दिया. मेरी योनि तप रही थी और उस पर अमित का गर्म लिंग मेरी वासना की अग्नि को और भड़का रहा था. लेकिन प्रीति ने बड़ी ही बेशर्मी दिखाते हुए मेरे चेहरे के पास खड़ी होकर मेरे ऊपर ही सूसू कर दी। ऊपर से मेरे ऊपर प्रीति सूसू कर रही थी, दूसरी तरफ मेरे नीचे से मेरा मूत निकल रहा था। इसके बाद प्रीति ने मेरी चूत में से वो ​डिल्डो वाईबेटर निकाल दिया और मेरे हाथ खोल दिये.

फिर थोड़ी देर चूमने के बाद उसने मेरे कपड़े निकाल दिए और मैं अब सिर्फ अंडरवियर में था. यह सब सोचते सोचते मैंने नहाना पूरा किया और टॉवल लपेट कर बाथरूम से रूम में निकल आया. उस वक्त रात के 11:30 हो रहे थे, मैं फटाफट 2-3 छत कूद कर उसके छत पर आ गया और एक कोने में छुप गया.

बीएफ हिंदी फुल वीडियो

मैं उसके ऊपर लेट के चाटने चूसने किस करने लगा, उम्म्मम म्मम अहहह हहह की आवाज आने लगी. उसने अपने हाथ से अपनी सलवार थोड़ी ढीली कर दी, जिससे मेरा हाथ आसानी से अन्दर आ जा सके. मैंने स्कर्ट में पीछे हाथ लगाया तो सच मेरी स्कर्ट गीली सी लगी और चिपचिपा रही थी.

इन परिधानों में सच में मेरा सुडौल कटाव, गोल गहराईयां, तने हुए उभार निखर कर दिख रहे थे.

कहानी पर अपनी राय देने के लिए आप नीचे दिए गए मेल आई-डी का प्रयोग कर सकते हैं.

एक दिन वह मुझसे बोला- एक लिप किस कर लूं?मैंने कहा- तुम्हें पूछने की कोई जरूरत नहीं है. थोड़ी देर बाद मेरा काम तमाम हो गया लेकिन मैंने ध्यान रखा और मैंने झड़ने से पहले अपना लंड मीशा की रक्तरंजित चूत से बाहर खींच लिया था. लङकी फोटोइतना मोटा डंडा मेरी चूत के अंदर जाने के बाद मैं दर्द से कराहने लगी तो उसने अपने होंठों से मेरे होंठों को दबा दिया और मेरी आवाज उसके मुंह में दब गई.

मेरे पापा एक प्राइवेट जॉब करते हैं और मेरी मम्मी एक सरकारी स्कूल टीचर हैं. मेरी सांसें बहुत तेज चल रही थीं कि कहीं वो लोग मुझे पहचान ना जाएं और किसी को कुछ बता ना दें, नहीं तो मैं किसी को कैसे मुँह दिखाऊंगी. इधर डेविड ने मेरी दोनों टांगें अपने कंधों पर रखी और मुझे लगातार पेलता रहा.

मैं समझ तो गया था कि आंटी ये फ्रूट्स देने का बहाना करके आई हैं और उनके दिल में कुछ और ही चल रहा है. तभी मैंने अपने आपको संभाला और मामी के आने के डर से उससे कहा कि हम लोग बाकी की प्यास बाहर चल कर बुझा लेंगे, अभी जल्दी से बाहर चलना चाहिए.

मेरे लंड को देखते ही भाभी एकदम से बोली- राज! तुम लगते तो छोटे हो परंतु तुम्हारा लंड इतना बड़ा कैसे हुआ?उन्होंने लंड को अपने हाथ में पकड़ा और बहुत देर तक उसको आगे पीछे करके देखती रही.

मैंने अमित के अंडरवियर को खींचना चाहा किंतु इस बार भी कामयाबी नहीं मिली. बस पांच मिनट चूत चाटने के बाद वो कमर उठाने लगी और मेरे सिर को पकड़ कर अपनी चुत पर दबाने लगी. पता नहीं उसे मज़ा आ रहा था या नहीं, पर वो किसी तरह मेरे मोटे लंड को अपनी गांड की गहराई तक झेल रही थी.

फोटो नंगे तभी वो उल्टा होकर मेरे कूल्हों को फैलाकर मेरी गांड में अपनी उंगली डालने लगा. आप सब इस कहानी कि घटना को ऐसे सोचें कि यह सब आपके साथ हो रहा है तब आपको मेरी कहानी पढ़ने में पूरा मजा आयेगा.

दिन रात बस रोती रहती थी कि या अल्लाह ऐसी कौन सी खता हुई मुझसे कि तूने मुझसे सब कुछ छीन लिया. उसने पूछा कि क्या करना है आगे?मैं बोला- जो तुम चाहो, मैं सब कर सकता हूं. पहली बार जब मैंने उस आंटी को देखा तो मैं रोज उसका ही इंतजार करने लगा था.

नंगी देसी बीएफ

एक दिन जब साहिल स्कूल आया तो उसे देखते ही मेरी बॉडी में करंट दौड़ने लगा. फिर चाय बनाकर पी और जो खाना पैक करवा कर लाया था, वो खा कर एक सिगरेट सुलगाई और टीवी ऑन किया ही था कि डोरबेल बजी. कभी मैं राहुल को अपने हाथों से खाना ख़िलाती तो कभी राहुल मुझे खिलाते.

अगर कोई ग़लती हुई हो तो लण्ड पकड़ कर माफी माँगता हूँ।[emailprotected]. मन कर रहा था कि उनके होंठों को अभी चूस लूँ मगर मैं भी उनको और ज्यादा तड़पाना चाहता था.

वो अपने हाथों के बालिश्त से खड़े लंड को नापने लगी और कहने लगी- ह्म्म्म … बड़ा दम है इसमें.

उसने मुझे अपनी कहानी लिख कर अन्तर्वासना पर भेजने का कहा, तो मैंने उसकी कहानी को शब्द देने का प्रयास किया है. जब काफी देर हमने आपस में प्यार कर लिया और सोनू उत्तेजित हो गई तो मैंने सोनू से कहा- सोनू, जरा नीचे हाथ लगा लूं. मैं लड़कों से भी खुलकर बात कर लेती हूँ और इस वजह से मेरी सभी तरह के लड़कों से अच्छी दोस्ती हो जाती हूँ.

यह लाइन बार-बार सुनने के बाद मुझे अंत में कहना ही पड़ा- तुम क्यों परेशान हो रही हो. जिसमें पूरा पेट दिख रहा था और हाई हील के कारण पीछे का इलाका भी बहुत निकला हुआ था. ’‘न न … ये खूबसूरत चीज़ पैंट फाड़ने के लिए नहीं बनी, मेरी गांड फाड़ने के लिए बनी है.

इंटरव्यू के पहले राउंड में शिखा बाहर हो गई और दूसरे राउंड में मैं भी बाहर हो गया.

इंडियन सेक्सी बीएफ जबरदस्त: आशीष अब पूरा नंगा होकर मेरे बगल से फिर लेट गया और उसने मेरी तरफ अपना लौड़ा किया, तो उसका लौड़ा मेरी नंगी जांघों में टच करने लगा. आज पूरी तरह से फाड़ दो मेरी बुर को … कल अगर कोई कसर रह गई हो, तो आज पूरी कर दो.

मैं उसकी बात को अनसुना करता रहा और उसकी चूत पर ऊपर ऊपर से लंड रगड़ने लगा. इधर मैंने उसकी चूचियां चूसना शुरू किया ही था कि सलोनी मेरी जींस खोलने की कोशिश करने लगी. दोस्तो, यह मेरी कहानी का पहला भाग है आगे मैं मेरी भाभी को विभिन्न आसनों में चोदने की पूरी कहानी बताऊंगा.

खैर, शाम को भाभी को चोदने के ख्याल से मैं अन्तर्वासना की सेक्स स्टोरी पढ़ के अपने लंड को हिला रहा था.

सलवार को नीचे सरका कर उन्होंने मेरी रेशमी जांघों को सहलाते हुए, चूमते हुए मेरी फुद्दी को पैंटी के ऊपर से चूम लिया. ’‘न न … ये खूबसूरत चीज़ पैंट फाड़ने के लिए नहीं बनी, मेरी गांड फाड़ने के लिए बनी है. जब मैंने उसको उठाया तो वो रोने लगी और मेरे पैरों में गिरकर माफी मांगने लगी और कहने लगी- भाभी, मुझे माफ कर दो.