बीएफ बीएफ बीएफ देहाती बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी बीएफ वीडियो जानवर वाली

तस्वीर का शीर्षक ,

गर्ल्स की बीएफ: बीएफ बीएफ बीएफ देहाती बीएफ, चोद दो मेरी चूत को मेरे भाई… आह…विक्रम- हाँ मेरी बेहेना… आज से मैं तेरा भैया और सैयां दोनों हो गया… अब तेरी चूत को मैं खुद चोदूँगा.

नंगी सेक्सी दिखाइए वीडियो

अनीता दीदी ने मुझसे कहा- तुम यही देखते हो?मैंने अनीता दीदी को सॉरी बोला और कहा- दीदी प्लीज़ किसी को मत बोलना नहीं तो बदनामी होगी. चोदा चोदी एक्समैं बोली- तू सच कह रहा है, मेरा दिन रात चुदवाने का मन करता रहता है, लगता है कि कोई भी मर्द आये और बस मेरे जिस्म को मसलने लगे और मेरे मुँह में अपना लंड डाल दे, फिर चूत का और गांड को इतना चोदे कि मुझे कुछ होश नहीं रहे.

कुछ दिन पहले ग्रेटर कैलाश मार्केट में मेरा बचपन का दोस्त सतीश मिला, बिल्कुल बदला हुआ, चश्मा लगा कर, मस्त मोटरसाइकल पर सवार, पूरा छह फुट का कद, पहलवानी, कसरती बदन. सेक्सी बीएफ सेक्सी सेक्सी सेक्सी बीएफउसने कंडोम चढ़ाते हुए बोला- क्या देख रही हो चाहिए क्या? दोनों एक साथ ले लेना.

अभिलाषा ने मुझसे कहा- सर! यह बहुत मुश्किल है, क्योंकि इस लड़की से मैंने कभी ऐसी कोई बात नहीं की है.बीएफ बीएफ बीएफ देहाती बीएफ: कुछ ही देर में हम दोनों झड़ गए और दो मिनट के लिए यूं ही चिपके पड़े रहे.

जैसे ही मेरे नंगे पेट पर उसके हाथों का स्पर्श हुआ, तो मैं एकदम सिहर गयी.हम दोनों एक दूसरे से चिपके हुए कम्बल में अपनी साँसों को लड़ा रहे थे.

देसी सेकसी बिडीओ - बीएफ बीएफ बीएफ देहाती बीएफ

दरवाजा खुलते देखा, एक गोरी लंबी हॉट लड़की, बड़े बड़े बूब्स और कमाल का फिगर.तेरा लौड़ा बहुत मस्त है, लगता है बस तू मुझे चोदता ही रहे उंहहह ऊंहहह उंहहह दिनेश आहहहह.

जिससे चादर का एक फीट का हिस्सा पूरी तरह ख़राब हो गया था, उसमें दाग लग चुका था. बीएफ बीएफ बीएफ देहाती बीएफ ”मैंने उसे अन्दर बुला लिया और थोड़ी देर में ही उसके थोड़े से पैसे बदल दिए क्योंकि ज्यादा बदलने का नियम नहीं था.

जब खाना आया तो खा पी कर फिर से उसने मुझे जकड़ लिया और बोला कि आज ना छोड़ूँगा मैं तुमको, चाहे तुम कुछ भी कहो.

बीएफ बीएफ बीएफ देहाती बीएफ?

दे दनादन… दे दनादन… उसकी गांड गरम हो गई, मेरी सांस जोर जोर से चलने लगी, पसीने पसीने हो गया, दिल धड़कने लगा. तेरी बीवी जैसी हूं मनोहर और इन दोनों चाचा और दिनेश की रखैल बन गई हूं. मुझे डर भी लग रहा था क्योंकि मैं कभी अकेले अपनी बुआ के लड़के के साथ नहीं रही थी.

दिसंबर 22 को मैंने अपने फ्रेंड के कहने पर एक एप डाउनलोड किया, उसमें गे ब्वॉय्ज की आईडी लोकेशन सहित दिखाई देती है. मैंने भी हरीश की मम्मी से बातें करना शुरू कर दिया और उन्हें जन्मदिन की बधाइयां दीं. मैंने अभिलाषा से कहा कि यदि जूली नहीं आती है तो फिर आप आ जायें!अभिलाषा कहने लगी- मैं अब नहीं आ सकती, मैं घर पहुंच गई हूँ, घर पर बच्चे हैं, अभी हस्बैंड आने वाले हैं, आप इंतजार करो, मैं थोड़ी देर बाद जूली से बात कर के आपको फोन करती हूँ.

उनकी सुबह की एक्टीविटी के बारे में जानकर मैं खुश हो गया कि कम से कम अब मैं उनको रोज करीब से देख तो सकूँगा, इसलिए मैंने भी उसी जिम को ज्वाइन कर लिया और रोज जाने लगा. ये सब करते हुए उसकी सहेली काजल भी हम दोनों को देख रही थी और मुझे लगा कि उसको भी थोड़ा थोड़ा मन हो रहा होगा. उनके पति एक कंपनी में जॉब करते थे और पूरे दिन भर घर में वो अकेली रहती थीं.

तो मैंने बाथरूम में रखी हुई क्रीम अपने लिंग और उसकी गांड के छेद पर मल कर एक बार फिर प्रयास किया. तुम नहीं जानती कि तुमने अपनी भाभी के दिल से कितना बड़ा बोझ उतार दिया है.

ये सब करते हुए उसकी सहेली काजल भी हम दोनों को देख रही थी और मुझे लगा कि उसको भी थोड़ा थोड़ा मन हो रहा होगा.

मेरी बीवी बोल रही थी- आह… घुसा दो तुम अपना मोटा लंड… मेरी चुत में अन्दर तक दबाओ… और दबाओ…मैंने अपनी बीवी की चौड़ी गांड पकड़ कर अपना लंड उसकी चुत में जड़ घुसा दिया और उसी वक्त मेरे लंड से वीर्य की धार निकल कर चुत में गिर गई.

मैं मस्त हवा में उड़े जा रही थी मेरी चूत और गांड के दोनों छेद लंड से चुदाई कर रहे थे. बाबा ने ये चमत्कार कैसे किया था, यह बात अभी तक वल्लिका को समझ न आ सकी थी. उसको उसके पार्लर से थोड़ा दूर छोड़ा क्योंकि वो नहीं चाहती थी कि कोई हमें साथ देखे ओर कुछ गलत समझे.

मैंने उसका लंड पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर लगा दिया और उसको इशारे में बोली कि अब मेरी चूत में लंड डालो. उससे कहना कि वो तो सारा दिन ऑफिस रहती हैं, इसलिए पूरे दिन में जब भी उसे मौका मिले तो वो आए. सर उसी रेखा में पैंटी के ऊपर से उंगली चलाने लगे, मेरी आंखें बंद होने लगीं.

वो हमारे घर के पास ही रहता था, हमारे परिवारों के बीच आना जाना भी है तो वो मेरे घर अक्सर आ जाया करता था और अक्सर रोमांस करता रहता था, पर धीरे धीरे हमारे बीच प्यार और रोमांस बढ़ता गया.

मेरी बीवी की चूत गीली हो चुकी थी और हम दोनों उसकी चूत में उंगली कर रहे थे. मैंने उसके पासवर्ड को अपने मोबाइल से लीक कर लिया और फिर मैंने अपने ऑफिस में ही उसकी सारी मेल्स जो जाती थी और उसको मिलती थीं, पढ़ लीं. उस दिन से मुझे पता चला कि शायद उनकी जिंदगी में ऐसा कोई नहीं था कि जो उनको वक़्त दे सके, उनसे हंसी मजाक कर सके और उनको खुश कर सके.

थोड़ी देर में एक आदमी बारिश से बचकर भागता हुआ स्कूल की तरफ आया और बाहर छज्जे के नीचे खड़ा हो गया. कुछ देर बाद मैं उनकी चुत के ऊपर अपना लंड रगड़ने लगा तो वो चिहुँक उठीं. बीएफ हॉट मूवी.

हमारा कार्य अन्तर्वासना पर अपनी कहानी भेज कर आप पाठकों की सेवा करना है.

बुआ जी ने गुस्से से गरजते हुए कहा- मैं तुम्हें अपने घर का सदस्य समझती थी, भाई जैसा प्यार दिया तुमको… और तुमने, जिस थाली में खाया, उसी में छेद किया, नमकहराम. फिर मैंने अपनी चुदास को शांत करने के लिए उससे मेरी मुठ मारने को कहा.

बीएफ बीएफ बीएफ देहाती बीएफ वो ब्रा पैंटी में इतनी गजब की माल लग रही थी कि मन कर रहा था कि साली की ब्रा खोल कर नहीं, फाड़ कर इसके चुचे आजाद कर दूँ, पर मैंने अपने आप पर काबू रखा. मैंने बगल से तेल की शीशी को उठाया और अपने लंड और उनकी गांड दोनों में लगा दिया.

बीएफ बीएफ बीएफ देहाती बीएफ मयूरी- पर ये तब हो पायेगा जब तुम्हारी बीवी इस बात के लिए मानेगी… और हर लड़की तुम्हारी अपनी बहन मयूरी नहीं है… की तुम दोनों का लंड एक साथ लेने को तैयार हो जाएगी. अचानक उसकी हिम्मत पता नहीं कैसे बढ़ गयी, उसने पूछा- भाभी जी, क्या हुआ पसंद नहीं आया?मैं मुस्कुरा दी और आगे चल पड़ी.

रूबी थोड़ा पीछे हट के झुकी, अपना सैन्डल निकालने को… उसकी वक्षरेखा देख के हम सब का लौड़ा तन गया.

लेडीस पुलिस वाला सेक्सी वीडियो

फिर आधा घंटे बाद वो मेरे मुँह में झड़ गए और मैं उनका पूरा गाढ़ा, गरम रस गटक गया. कुछ देर बाद मुझे ऐसा लगा जैसे मेरी चूत से कुछ बह रहा है, मैं बुरी तरह से तड़पने लगी, मैंने अपनी कमर से पापा का हाथ हटा दिया और पापा का लंड अपने चूत के नीचे रख कर अपनी चूत उनके लंड से रगड़ने लगी।मैं पूरी तरह से जल रही थी मुझे पहले कभी ऐसा कभी महसूस नहीं हुआ था. खैर शादी से दो दिन पहले मैं और जूसी रानी मेरठ पहुँच गए शाम के चार साढ़े चार बजे.

मम्मी ने अब मामा का लौड़ा अपनी चुत में और दूसरे आदमी का लौड़ा अपनी गांड में ले रखा था!अब दोनों मर्द मेरी मम्मी को एकदम रांड समझ के बेदर्दी से चोद रहे थे, लेकिन शायद मम्मी को भी मज़ा आ रहा था तभी वो सिर्फ हल्की हल्की सिसकारी भर रही थी, वरना दर्द होता तो चिल्लाती!नीलम ने मुझे देखा और मैंने नीलम को … और फिर मुस्कुराने लगे. मैं उसके मूसल लंड को देख कर डर रही थी कि ये इतना बड़ा लौड़ा मेरी चूत के अन्दर कैसे जाएगा. अनुप्रिया बोली- आप सेक्स में सन्तुष्ट हो?मैंने कहा- नहीं यार… और तुम?वो बोली- मेरे पति भी सेक्स ठीक से नहीं कर पाते हैं.

ऐसा सभी कहते हैं कि एक बार मुझे जो भी मर्द देख लेगा वह बिना मुझसे मिले रह नहीं पायेगा.

चलें देखते हैं…क्लास में पद्मिनी बापू के साथ वाली सवेरे वाला दृश्य को फ़्लैश बैक में देख रही थी. मैं छटपटा रही थी और उनको अपने ऊपर से हटाने की कोशिश कर रही थी, पर मैं नाकाम रही. अब मेरा बांया पैर बीवी के दोनों पैर के बीच में था और दांया पैर उठाकर बिस्तर पर बीवी की कमर के बाजू में रखकर बीवी की चुत चोदने लगा.

एक दिन मैं अपने घर आ रहा था, तो घर के पास ही हमारे एक पड़ोसी राधे अंकल ने मुझे रोक लिया. मैंने उठकर रूम की बत्तियां बुझा दीं, केवल बेड की साइड में रखा हुआ टेबल लैंप जलने दिया. उसके साथ करीब 3 महीने तक चला था मेरा!स्मिता- तुम्हारा बेस्ट सेक्स एक्सपीरियंस क्या था आज तक का?वरुण- मेरा बेस्ट सेक्स एक्सपीरियंस मम्मी की सहेली के साथ था.

मेरी जिस वजह से सोनम से लड़ाई हुई थी, वो बात मैं उससे चैटिंग पर पूछने लगा कि तुमने मेरे संग इतना बड़ा धोखा क्यों किया?उसने कहा- क्या धोखा दिया मैंने?फिर मैंने अपनी सब बातें उससे कही कि तुम सेक्स करते बीच में ही घर क्यों चली गई थीं. थोड़ी देर बाद हम थक कर बिस्तर में लेट गए और मैंने उनको मेरी बांहों में ले लिया था और बातें करने लगा.

अब मैं उसके बच्चे को क्लास देने उसके घर जाता हूं और मौका मिलते ही उसकी भी क्लास ले लेता हूं. अगर मेरा उससे बात करने का मन करता था तो मैं उसको कुछ भी मैसेज करता था और सोचता था कि इस मैसेज का अच्छा रिप्लाई आये और मुझे उस से बात करने का बहाना मिल जाये,मन में बहुत सारी बातें सोचता था. वो कार मेरे घर के एकदम पास ही एक कॉलोनी में गयी, जहाँ बहुत से मारवाड़ी रहते हैं.

तो सोनम बोली कि तो ठीक है, चलो तुम अपने घर जाओ, आज मैं सबको बताऊंगी.

मेरी प्यारी भाभी!”अगले दिन दीपक का फोन आया और बोला- मुझे आपसे सुनना है, जो मुझे मेरी बहन ने बताया है. क्या हम यह सब ग़लत तो नहीं कर रहे हैं?मैं- मैडम, मुझे भी पता नहीं यह सही है या ग़लत, पर यह सच है कि मैंने आप अब तक जैसी महिला नहीं देखी और आपके साथ के लिए मैं तड़प रहा हूँ. अब नूरी खाला उत्तेजित हो चुकी थी और सिसकारियां भरती हुई मुझसे लिपटी जा रही थी.

दस मिनट बाद हम दोनों यूं ही नंगे चिपक कर लेट गए और एक घंटे बाद फिर से चुदाई का खेल हुआ. मैंने भी उनकी मर्दानी छाती के निप्पल चूसे और फिर हम बॉडी प्ले करने लगे.

खाने के बाद मैंने जूली को फिर से अपनी गोद में बिठा लिया और उसकी चूचियों को मसलने लगा, उसकी चूचियाँ भी दर्द करने लग गई थी. कमरे में आने के बाद मैं सोफे पर बैठ गया और उसको मैंने कहा- नीचे कालीन पर बैठकर मेरे लंड को चूसो. मैं उनकी कामुक अवस्था देखते ही समझ गया कि ना तो नौकरी जाएगी, ना ही जेल जाना पड़ेगा.

भाटी की सेक्सी

मैंने उसको अन्दर चलने को कहा, तो उसने कहा कि मैं कपड़े चेंज करके आता हूँ, तब तक आप भी कपड़े चेंज कर लो.

मैं तो अपना सब कुछ आप पर लुटाना चाहती हूँ मगर आप लूटना ही नहीं चाहते. पता नहीं क्यों … पर मुझे बहुत गुस्सा आया था।मतलब तुम मुझसे प्यार करती हो?”सुजाता ने शरमा कर हाँ कर दी और मैंने झट से उसकी गर्दन को एक हाथ से झुकाकर किस कर दिया. चलो ठीक है एक बार और चोद देता हूँ!बस हम दोनों ने फिर से चुदाई का खेल शुरू कर दिया.

नाश्ते के दौरान जैसे ही उसने मौका देखा तो मेरे पास आयी और बोली- तुम लोग कितना हल्ला गुल्ला करते हो… रात भर सोने नहीं दिया तुम दोनों के शोर ने… सारी दुनिया को पता लग गया होगा कि आप किरण को जूसी रानी कहते हैं. मैं भी इस बात को जानती थी कि पहली बार में दर्द होता है लेकिन मुझे ये नहीं मालूम था कि दर्द कितना होता है. इंडियन सेक्सी बीएफ वीडियोरितु ने भी हंस कर जवाब दिया- आप भी हैंडसम हैं और मस्त बॉडी का मालिक हैं.

मैंने उससे कहा- तुम इतने छोटे हो और ऐसा लगता है कि बिल्कुल जवान मर्द हो गए हो. घर में सेठ जी, सेठानी जी, उनकी एकलौती लड़की (अनु दीदी) और सेठ जी की कुँवारी बहन, जो करीब 28 साल की थी, उसे मैं भी बुआ जी ही कहता हूँ.

इतने मैं सुरेश जी उठ कर बैठ गए और बोले- सुबह हो गई है, अब यहां नहीं. स्मिता- तुम्हारी माँ का नाम क्या है?वरुण- उसका नाम सविता अग्निहोत्री है. क्या यह सच है?मैं बोली- हां अंकित आ जाओ, मुझे तुमसे लंड घुसवाना है, यह लालजी तुम्हारे सामान की बड़ी तारीफ कर रहा है.

तभी दिनेश अपना लंड पकड़ के मेरे मुँह में डाल कर बोला- तुझे चुदते देख कर वन्द्या मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है. इसके बाद भी बहुत चूतों का स्वाद लिया, वो सब अगली कहानियों में आप सबके साथ शेयर करूँगा. उसका लौड़ा बहुत ही तगड़ा औजार था, साला मेरी मुठ्ठी में समा ही नहीं रहा था.

सुधा भाभी- अब मैं भी बेवफ़ाई करके उनसे बदला लूँगी और तुम अपने बॉस की बीवी को भोग कर अपनी बेइज़्ज़ती का बदला लो.

इस पर वो जैसे पागल हो गई और इतनी उन्होंने ज़ोर से मुझे जाँघों में जकड़कर अपनी चुत पर हाथों से दबा दिया, जिससे मुझे सांस लेने में भी दिक्कत होने लगी. मैं उनकी बात सुनकर सोच में पड़ गया, फिर मैंने पूछा- क्या हुआ अनीता दीदी?उन्होंने ‘कुछ नहीं.

पर कोई बात नहीं जो एंजॉयमेंट मेरा हुआ, उसके लिए इससे ज्यादा भी दर्द मुझे हो तो भी कोई फर्क नहीं पड़ता है. मैंने कहा- जूली नहीं आई है, वह धोखा दे गई, आप उससे बात करें या उसका फोन नंबर मुझे दे. शराब पीते वक्त उनकी हरकतें कुछ नॉटी सी हो रही थीं, मेरे दोस्त की सेक्सी मॉम मुझे एडल्ट जोक सुनाने लगीं और बार बार झुक झुक कर अपने मम्मे दिखाने लगीं.

तो दीदी मुझे दूर करके बोली- इतनी हड़बड़ाहट किस बात की है? मैं भागी नहीं जा रही! और ऐसे ही करेगा सब ऊपर से? कपड़े तो निकाल ले।लेकिन तभी हमें ख्याल आया कि हमारा बड़ा भाई हमारे साथ सोया हुआ है तो मैंने अर्चना को उसके कमरे में चलने को कहा. पर यह बता दो कि तुम्हें मजा आया कि नहीं?तो मैं बोली- तुम दोनों को थैंक्स तुम दोनों की वजह से मुझे बहुत मजा मिला. भाभी की चूत बहुत प्यारी थी और उसकी खुशबू मेरे अन्दर की कामुकता को और बढ़ाने लगी.

बीएफ बीएफ बीएफ देहाती बीएफ उन्हें इस रगड़ में मजा आया तो वो भी अपने हाथ को मेरी गांड पे लाकर गांड दबाते हुए अपनी ओर खींचने लगीं. यह सेक्स स्टोरी 2 साल पुरानी है। मेरी फैमिली दिल्ली में रहती है। मैं अपनी अपनी कब से अपना एग्जाम देकर अपनी फैमिली के पास दिल्ली आया था। उस टाइम मैं जवान हो चुका था। दिल्ली आने के बाद मुझे कुछ अच्छा नहीं लग रहा था क्योंकि माहौल अलग सा हो गया था। मेरा इधर मन नहीं लग रहा था.

भाई बहन सेक्सी वीडियो एचडी

करीब 15 मिनट तक लंड चूसने के बाद मैं उसके मुँह में ही झड़ गया और वो मेरा पूरा माल गटक गयी. रितु की चूत ने ढेर सारा पानी जेम्स के मुंह पे छोड़ दिया और वह मजे से स्वाद ले रहा था. मैं मुँह से उसका लौड़ा चूसते चूसते उसकी गांड के छेद पर उंगली घुमा रही थी.

उसने मेरी तरफ अनुराग भरी निगाह से देखा तो मैंने धीरे से उसे किस किया. जब भी मैं उनके को क्लीवेज देखता, मेरे मन में वासना की लहरें उठने लगती, मेरा लंड हिलोरें मारने लगता. एक्स एक्स एक्स बीएफ वीडियोफिर मैंने मौसी की ब्रा भी खोल दी, 32 इंच के दूध उछल कर बाहर आ गये। मैंने मौसी के निप्पल मुंह में लेकर खूब चूसे और चूस चूस के लाल कर दिये.

मेरी गांडू सेक्स कहानी के पहले भागजगह नई नये दोस्त-1में अपने पढ़ा कि मेरी उम्र अब 27-28 साल हो चुकी थी तो अब मैं चिकना नहीं रहा था, मुझे लौंडे नहीं मिलते थे.

कुछ ही देर चूसने के बाद उसने मेरे लन्ड को बाहर निकाल दिया और बोली- मुझसे न होगा!तो मैंने भी जोर नहीं दिया।अब बारी मेरी बहन की चूत चुदाई की थी तो कुछ देर उसे चूमने और फिर से गर्म करने के बाद मैंने थोड़ा सा थूक अपने लन्ड और उसकी चूत पे लगाया और लन्ड का सुपारा पकड़ कर उसकी चूत पे रगड़ने लगा. फिर मैंने उनका ब्लाउज और ब्रा भी उतार दिये और उनके खरबूजों का रस पीने लगा.

थोड़ी देर में रितु ने जेम्स को बोला- तुम क्या देख रहे हो? मेरा दूसरा बूब तुम्हारा इंतजार कर रहा है. मयूरी थोड़ा इठलाती हुई- अगर इतनी ही अच्छी लग रही है तो नजदीक से एक बार अच्छे से देख लो. मेरा ध्यान अब भाभी पर ही था क्योंकि भीगने के बाद उनकी साड़ी उनके बदन से चिपक गई थी और उनका सेक्सी जिस्म थोड़ा नुमाया हो रहा था.

अनुप्रिया बहुत ही गोरी और मस्त थी, उसके चूतड़ तो बहुत ही गोरे और मोटे थे, देखकर मेरी चूत में पानी निकलने लगा था.

थोडी देर बैठने के बाद धीरे धीरे हम दोनों की नजरें मिलने लगीं और वो काफी खुल कर मुझे लाईन मारने लगी. वैसे तो मैं चूत चाटता नहीं हूँ, लेकिन मैंने कोमल को 69 में किया और मैं भी कोमल की चूत को मुँह में लेकर किस करने लगा. मेरी नंगी पीठ पर चुभते उसके नाखून, अब ये बता रहे थे कि वो भी अब पिघलने लगी है.

ब्लू फिल्म एक्स वीडियोउन्होंने मुझसे बोला- क्यों खटिया में मज़ा नहीं आएगा क्या?ये कह कर अंकल ने मुझे किस कर लिया. फिगर ठीक ठाक थी, तगड़ी तंदरुस्त थी। नाक नक्शा उतना अच्छा नहीं था लेकिन जो ख़ास बात थी उसमे, वो यह कि वो खूब गोरी, एकदम झक सफ़ेद थी और उसकी तवचा भी काफी चिकनी थी।नाश्ते की ट्रे रखते हुए उसकी निगाह मुझसे मिली थी और एक लहर सी मेरे शरीर में गुज़र गयी थी। कुछ तो था उसकी निगाह में.

एक्स सेक्सी आदिवासी

बापू आहिस्ते आहिस्ते अपनी बेटी पद्मिनी की जवान कुंवारी चुत की पंखुड़ियों को अपनी उंगलियों से आराम से खोलते हुए अपनी जीभ को चूत के उन मुलायम हिस्सों पर फेर रहा था. ऐसे उतना नहीं होगा।”क्या करने वाली हो?” मैंने संशक भाव से कहा।छोटा बैंगन तेरे लिये है।”मुझे थोड़ा अजीब लगा. मेरा गर्म, आकार में बड़ा लिंग पूरी तरह से गीली हो चुकी योनि में घुस गया.

उसने उसी पल अपना मुँह ऊपर उठाकर मुँह खोला और आवाज निकाली- आ… आ…हा… ओह… अम… गई…फिर वो मेरे सीने पर गिर गई, गिरते ही वो तीन बार थरथराई. मैंने अपने पति के अलावा किसी को नहीं चाहा और ना ही सोचा कि किसी और को चाहूँगी. मैं बोली- बस इन दोनों के कपड़े उतार कर नंगी लिटा देना है, फिर दुल्हा-दुल्हन एक साथ सोएंगे और दोनों एक दूसरे को मिलकर चोदेंगे.

वो किचन में चाय बना रही थीं, दरवाजा खुला था तो मैं सीधे किचन में आ गया और आंटी को कस कर पकड़ लिया. रास्ते में मैंने रेखा से पूछा- आप क्या बहाना लगा के आईं होटल में? मैंने तो जूसी रानी से कहा कि एक दोस्त से मिलने जा रहा हूँ. फिर मैं आंटी को टच करने और चोदने के बहाने के बारे में सोचने लगा था.

दीदी मैं भी उनके लंदन जाने से पहले जितनी बार हो सके, चुदना चाहती हूँ. सुरेश जी ने अपने हाथ में साबुन लेकर मेरी गांड में लगाने लगे और साबुन का फैन अपनी उंगलियों से मेरी गांड में डालने लगे.

दोस्तो, क्या बताऊँ कितना मस्त था वो उसकी आँखें, उसके होंठ, पूरा का पूरा ही बिल्कुल वरुण धवन जैसा दिखता था.

तब तक आप अपने अपने लौड़े या चूत मसलते हुए आगे की दास्तान विकी से ही सुन लीजिएगा, मैं चली अपनी चूत में डिल्डो चलाने. इंडियन सेक्सी गर्ल सेक्सनमस्ते दोस्तो, मैं रोहन हूँ मेरी उम्र 20 साल है, मैं होशंगाबाद (मध्यप्रदेश) का रहने वाला हूँ. जीजा साली की एक्स एक्स एक्स वीडियोतेरी बीवी जैसी हूं मनोहर और इन दोनों चाचा और दिनेश की रखैल बन गई हूं. मगर उस दिन के बाद हमारी किस्मत भी वो अपने साथ ले कर चली गई या यह कहूँ कि मैंने अपनी किस्मत भी उसके साथ भेज दी.

उसी समय मुझे न जाने कैसा महसूस होने लगा और मैंने भी मनोहर को जोर से पकड़ के अपनी बांहों में पूरी ताकत से चिपका कर कस लिया.

फिर मैंने एक बार और उसी समय उसके साथ सेक्स किया और अबकी बार उसने मेरे लन्ड को भी चूसा था. मैं बोला- आप ही निकाल दो यार!भाभी ने मेरी पेंट शर्ट और बनियान अंडरवियर आदि सब निकाल दी. मैंने अपना काम चालू रखा और गांड मारने के लिए अपने धक्के थोड़े थोड़े और तेज कर दिए.

नूरी खाला शर्मा कर बांहों से अपनी छाती छुपाने लगी और मुझसे लिपट गयी. मैंने झट से हां कर दी और इसके बाद हम दोनों यहां वहां की बातें करने लग गए. रितु की चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया जो मेरे लंड को भिगो रहा था और नीचे बेड पर गिर रहा था.

सेक्सी वीडियो दिखाइए अच्छे वाले

मैंने भी इससे ज़्यादा कुछ बात नहीं की, क्योंकि अगर मैं लेट हो गया तो बॉस मेरी क्लास ले लेगा. मैंने पूछा- आपको क्या पसंद है सेक्स में?तो उन्होंने कहा- वाइल्डली पुसी लिक करवाना. जब बहन उतर गई तब उसने पूछा- आजकल क्या कर रहे हो?तो मैंने बताया- मैंने मोबाइल और कंप्यूटर की एक शॉप खोली है.

पर अब मेरी बारी थी, मैंने रितु की चूत को कपड़े से साफ़ किया और अपना लंड पेल दिया.

लेकिन आखिर है तो मेरा बेटा … यह सोचकर मैं अंदर चली गयी और खाना बनाकर सीधा बेड पे लेट गयी.

एक दिन बॉस ने जिसने मुझे कहा था कि मैं तुम्हारी सहायता करूँगा, उसी बदले के लिए तो उसने मुझे रात को बुलाया. सिर्फ उतना कहूँगा जितना कर पाना आपके लिये मुमकिन हो। पर एक बात और बताइये. देवर और भाभी सेक्सीमुझे चूत मारने में मज़ा तब आता है जब लड़की मजे से आह… उह… करे और सेक्स का आनंद ले.

इसलिए मैं उठ के बैठ गया और रजाई को पूरी तरह से हम दोनों के शरीर से हटा दी. मैंने मम्मी की एक अच्छी सी साड़ी निकाली और उन्हीं का ब्लाउज और पेटीकोट, मेकअप का सामान निकाल कर मेकअप करने लगी. उधर मेरे भाई मुझे अपने पास बुला रहा था मगर मैं चाहती थी कि पिंकी को अपने पैरों पर खड़ा करके किसी अच्छी जगह नौकरी लगवा दूँ.

मैंने भी उन्हें कहा- क्या वाकयी में आप शराब पीती हैं?उन्होंने कहा- हां. आंटी बोली- तो चल अब बेडरूम में दिखा रेस्पेक्ट!फिर मैं और आंटी दोनों उनके बेडरूम में चले गए.

दो तीन मिनट जब वो चूत में अपनी जीभ डाल कर चूसते रहे, तब ना जाने मुझे पहली बार क्या होने लगा, यह मैं भी नहीं जान पाई और अपने आप मेरी सांसें बहुत तेज होने लगीं.

मैं उससे हर बात शेयर करने लगा था और वो भी मुझसे हर बात शेयर करती थी. फिर जैसे ही मैं और वो रूम के अन्दर आये, वो पागलों की तरह मेरे होंठों को काटने लगी और मेरे कपड़े निकालने लगी. खाने के बाद मैंने जूली को फिर से अपनी गोद में बिठा लिया और उसकी चूचियों को मसलने लगा, उसकी चूचियाँ भी दर्द करने लग गई थी.

गांव का देहाती बीएफ जेम्स ने रितु को बेड पर लिटाया और उसकी दोनों टाँगें चौड़ी कर उसकी चूत पर अपना मुंह लगा दिया और चाटने लगा. मैंने अपना सात इंच का लंड हाथ में पकड़ कर बीवी की चुत के छेद पे रख दिया और लंड को दबाते हुए पूरा लंड चुत में पेल दिया.

अर्थात चूत के अन्दर दो बार और लंड को जोर लगा कर डालना पड़ा और काफी अन्दर जाकर कहीं फंस गया था. मैं परमानन्द के शिखर पे था और मैंने अपना पानी रूबी के मुँह में छोड़ दिया. अनु तो ठीक तुम्हारे नीचे आई थी, वैसे तुमने उसको तसल्ली से मसला होगा.

चाचा की सेक्सी पिक्चर

अनुप्रिया बोली- दीदी, अब मैं आपके यहाँ जल्दी आऊँगी जिससे कि मैं आपके और आपके सभी चाहने वालों से सेक्स कर सकूँ! खासतौर से आपकी बेटी के साथ सेक्स करूँगी।मैंने कहा- मैं अगर फ्री हुई तो हम दोनों यहीं गुवाहाटी में मिलेंगी किसी होटल में!वह बोली- हाँ दीदी, आप मुझे फोन जरूर करना!और हम दोनों रोज बात करने लगी. मैं दिन भर के लिए ऑफिस चला जाता था और मेरी पत्नी सारा दिन अकेले घर पर रहती थी, जिससे कि उसे पूरा आराम नहीं मिल पाता था. इसके बाद भी बहुत चूतों का स्वाद लिया, वो सब अगली कहानियों में आप सबके साथ शेयर करूँगा.

करीब एक घण्टे बातें करने के बाद वो फिर से कॉफी बनाने जाने लगीं, तो मैंने उन्हें रोक लिया, मैंने कहा कि इस बार कॉफ़ी में बनाऊंगा. उसको डर भी था कि कहीं पद्मिनी नाराज़ न हो जाए और उससे बात करना छोड़ दे या पुलिस को खबर कर दे.

रितु ने हम दोनों के सर अपनी छाती पर दबा रखे थे और हमारे दूसरे हाठों ने रितु के शोर्ट को उतार दिया था.

मुझे लगता था कि बहुत ही ज्यादा घमंडी किस्म का लड़का है, इसलिए मैं उससे बिल्कुल बात नहीं करता था और ना ही वह मुझे पसंद था. सुजाता 10वीं में थी और मैं 12वीं क्लास में था क्योंकि गाँवों में देर से ही पढाई शुरू होती है. अबकी बार लंड को चूत में जाने के लिए कोई खास तकलीफ़ नहीं हुई और मुझे अब कुछ मज़ा आने लग गया था.

मैंने खाला को एक बार फिर से अपनी बाहों में भर लिया और हम दोनों एक दूसरे की आँखों में देखने लगे. दर्द के मारे वो कराह उठी, लेकिन नशे के कारण वो कमजोर हो चुकी थी, अपने को छुड़ा नहीं पाई. उन दोनों की बातों से पता चला कि मास्टर ने पट्टियाँ लगवाई थीं और मैडम जी को अन्दर ले गए थे.

चाचा ने बोला- दिनेश तुम भी कपड़े उतार लो, जरा वन्द्या से गले तो मिल लो.

बीएफ बीएफ बीएफ देहाती बीएफ: मेरी गांड के अन्दर गरम रस लंड का अहसास मैं बता नहीं सकती, पर बहुत ही मस्त लग रहा था. मेरी एक सेक्स स्टोरीआंटी सेक्स स्टोरी- गर्लफ्रेंड की माँ को पटा कर चोद दियापहले भी अन्तर्वासना पर आ चुकी है.

थोड़ी देर में सुमेर का पानी निकल गया, वे अलग हुए, देवेश खड़ा हो गया, अपना अंडरवियर उठा कर पहनने लगा पर सुमेर ने रोक दिया- ठहरो!और आगे बढ़ कर उसका लंड पकड़ा और चूसने लगा. मैं समय से पहुंच कर कुर्सी पर बैठा था कि चाची अन्दर से आईं और बोलीं- अरे पवन तुम कब आ गए?मैंने गौर किया कि चाची को बाल गीले थे. मधु- अब बताओ… कल क्या बोल रहे थे?मैंने हिम्मत करके उससे बोल दिया कि मैं उसे पसंद करता हूँ.

मैं- समझ सब रही हो लेकिन कहना नहीं चाहती!मुस्कान- छी … कितने गंदे हो तुम!मैं फिर गुस्सा हो गया.

अब उसने धीरे से अपने लंड को मेरी बुर से थोड़ा निकाला और फिर घुसा दिया. मैंने कहा किसको क्या मिल जाएगी भाभी?तो वो मुस्कुराते हुए बोलीं- अब इतने भोले भी न बनो. जब हम फौजियों की परेड देखने लगे तो मेरी बहन मुझसे आगे खड़ी हुई थी उसने बहुत ही अच्छा पंजाबी सूट डाल रखा था जिससे वह बहुत ही खूबसूरत लग रही थी और उसकी सफ़ेद रंग की ब्रा साफ साफ दिखाई दे रही थी.