साड़ी ब्लाउज वाली सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,बीपी सेक्सी फिल्म हिंदी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स वीडियो बीएफ भेजें: साड़ी ब्लाउज वाली सेक्सी बीएफ, क्या मस्त फिगर है उसका 34-32-34 का! उषा के जाने के बाद मैं प्रीति से कोई भी भी मौका मिलने का नहीं छोड़ता था.

ब्लू पिक्चर सेक्सी हिंदी में हिंदी में

अब पिंकी मेरे सामने पूरी अनावृत हो चुकी थी, खजुराहो की सेक्सी मूर्ति के तरह उसका सेक्सी बदन मेरे सामने था. मोटी चाची कीएक कारण यह भी था कि इससे पहले श्वेता कभी मेरे इतने करीब नहीं आई थी.

उस दिन मैं घर वालों को नींद की गोली खिला देती थी और अपनी चुत की खुजली शांत करवा लेती थी. खुली हुई चूतमैं कुछ पलों में सामान्य होने लगी, तो संदीप ने फिर से लंड आगे सरका दिया.

मैं धीरे धीरे उसके पूरे शरीर पर हाथ चलाने लगा, जिससे वो और बेताब होने लगी.साड़ी ब्लाउज वाली सेक्सी बीएफ: दूसरे दिन ऑफिस से एक हफ्ते की सीएल ले कर घर में ताला लगा कर हम तीनों खाला के घर आ गए.

मैं मन ही मन खुश हो रहा था कि मैं अपनी कोशिश में कामयाब हो रहा हूं.15-20 मिनट मेरी इस तरह चुदाई करने के बाद राज अंकल ने अपना लन्ड मेरी चूत में, असलम अंकल ने मेरी गांड में और भानुप्रताप अंकल मेरे मुँह को चोदने लगे.

ब्लू सेक्सी वीडियो हद - साड़ी ब्लाउज वाली सेक्सी बीएफ

वो मेरी गांड को पकड़ के जोर लगा रहे थे, गप गप लंड मेरी चुत के अंदर घुस रहा था.कहानी के इससे पहले वाले भाग में आपने पढ़ा कि जीजा के दोनों दोस्तों ने मेरी चूत और गांड को चोद दिया था और मुझसे चला भी नहीं जा रहा था.

भाभी मेरी छाती को चूमने और चूसने लगीं और धीरे धीरे मेरे लंड पर जाकर उससे चूमने और चूसने लगीं. साड़ी ब्लाउज वाली सेक्सी बीएफ इस बीच हम दोनों ने फिर से वाइन के दो दो पैग लगाए और फिर से चुदाई का मजा लेने लगे.

अभी जैसे ही आफिस पहुंचा तो पता चला कि सब सर लोग रायपुर मीटिंग में गए हैं.

साड़ी ब्लाउज वाली सेक्सी बीएफ?

वो तो जैसे मेरे नंगे जिस्म से खेलने के लिए, मेरी चूत चुदाई के लिए बेताब था. दोस्तो, जैसा आप लोगों ने पिछली कहानी पढ़ी कि कैसे मैंने अपने नए ब्वॉयफ्रेंड विक्की से पहली बार गांड मरवाई थी. मुझे लग रहा था कि मेरे लंड के स्वागत के लिए यह छेद खुल और बंद हो रहा था.

उन्होंने बड़ी अदा से जैसे फिल्मों में दिखते हैं, अपने बालों को खुला किया. ज़ेबा रोनी सी सूरत बनाते हुए बोली- भाई … प्लीज़ आप आज कुछ मत कीजिएगा. उसने मुझे अलग अलग पोज़ में करीब 20 मिनट तक चोदा और मेरे अन्दर ही झड़ गया.

तो दोस्तो, मेरे जवान जिस्म की चारों ओर से हुई जोरदार चुदाई की डर्टी कहानी आपको कैसी लगी?मुझे जरूर बताना!मेरी मेल आई डी तो आपके पास है ही!आपकी चुदासी रजनी[emailprotected]. साले ये सारे अंकल मेरे बाप की उम्र के थे, पता नहीं क्या खाकर आये थे, सब के सब देर तक चोद रहे थे. हम दोनों अपने अपने लंड पर कंडोम चढ़ाकर एक बार एक दूसरे को देखा और उन दोनों के ऊपर चढ़ गए.

साकेत भैया ने दीदी को फिर से पेट के बल लिटा दिया और अपना लंड दीदी की चूत में डालने लगे. दरअसल मैं एक मर्द के जिस्म के हर अंग को छूकर उसकी प्रतिक्रिया को देखना चाह रही थी कि एक पुरुष के किस अंग पर क्या प्रतिक्रिया होती है.

वो भी मेरी जांघों को पकड़ कर अपनी ज़ुबान को मेरी फुदी के अंदर तक घुसेड़ रहा था.

मैंने कहा- क्या हुआ जीजू? आपको कुछ काम था क्या?वो बोले- नहीं, मैं तो अपने रूम में बोर हो रहा था इसलिए सोचा कि अपनी साली से जाकर बात कर लूं ताकि थोड़ा मन बहल जाये.

दस मिनट की धाकपेल चुदाई के बाद मैंने भाभी की चुत में ही सारा माल डाल दिया. लंड बाहर निकलते ही उसने अपने दोनों हाथ पीछे की तरफ ज़मीन पर रखे और जोर जोर से सांस लेने लगीं. अंकल ने अपनी कमर को धीरे धीरे आगे किया और मैंने देखा कि दीदी की चुत में उनके लंड का सुपारा घुसता चला गया.

प्रीति का मन तो नहीं था लेकिन ना चाहते हुए भी प्रीति को थोड़े समय के बाद अच्छा लगने लगा. दीदी की फूली हुई अनुभवी चूत, जिसमें कुछ हिस्सा बाहर की ओर आ चुका था. मैं ये सब सोच ही रहा था कि तभी अंकल ने मॉम की गांड में अपना काला लंड घुसा दिया.

ऐसा कहते हुए अपना एक हाथ मेरी कमर में डालते हुए मुझे अपनी तरफ खींच लिया.

मैं- वो बोल रहा था ना … ये देगी तो घोड़ी बनाकर लेंगे … वो ऐसा कुछ नहीं बोल रहा था?दीदी कुछ नहीं बोली … और चली गई. फिर चाची मुझसे बोली- ओ … पैंटी क्या चाट रहा है? मेरी चूत चाट!मैं चाची की चूत पे से हाथ फेरने लगा और उनकी चूत में उंगली डाल के उन्हें मजा दे रहा था।फिर मैं उनकी चूत पे अपनी जीभ को फेरने लगा तो उन्होंने एक मादक सी आवाज निकली- आ … ओ … आ!मैं चाची की चूत को चाटने लगा पर उनकी चूत के बाल बढ़े हुए थे इसलिये मुझे ज्यादा मजा नहीं आया. मैंने उनकी चुत के अन्दर ही अपना वीर्य गिरा दिया … क्योंकि इस बार मैंने कंडोम नहीं पहना था.

जब मेरा वीर्य निकलने को हो गया तो मैंने लंड से वीर्य छूटने का वीडियो रिकॉर्ड किया. बिक्कू मेरे टॉप के ऊपर से ही मेरे बूब्स को दबाता हुआ कहने लगा- आह्ह बंध्या, तू बहुत गर्म माल है. एक बार उन्होंने मुझसे ऐसे ही पूछा- रूचि, तुम कैसा सेक्स करना पसंद करती हो?मैंने उनसे कहा- सच बताऊं अंकल?उन्होंने मुझसे कहा- रुचि देखो, मैं तुम्हें अपना दोस्त मानता हूं.

लंड पूरा का पूरा उसकी चूत में घुसा दिया और उसके होंठों को चूसने लगा.

सपना के मुँह से खुद के लिए पति सुनकर एक पल के लिए तो मैं अकबका गया. कुछ देर बाद मैंने अपना लंड उनकी गांड में ही झाड़ दिया और उनकी कमर पर लेट कर लंबी लंबी सांसें लेने लगा.

साड़ी ब्लाउज वाली सेक्सी बीएफ वो फिर मेरे ऊपर गिर गया और उसने मुझे बांहों में काफी देर तक पकड़े रहा. काफी देर तक हम दोनों एक दूसरे के सेक्स अंगों को चाटते और चूसते रहे.

साड़ी ब्लाउज वाली सेक्सी बीएफ मैंने कहा- चलेगा भाभी … इतना ही भरोसा है मेरे ऊपर … तो अगली प्लानिंग मुझे करने दो. फिर भी वो मेरे हर धक्के को झेल रही थीं क्योंकि वो मुझसे आज पूरी तरह से चुदना चाहती थीं.

अब उसके मुँह से सिसकारियां और नाक से गरम सांसें निकलनी शुरू हो गईं.

एक्स एक्स एक्स सेक्स वीडियो फिल्म

मैं अपनी आंख बंद करके अपने मम्मों को दबाने लगी और फिर विक्की का हाथ पकड़ कर अपने मम्मों को दबवाने लगी. फिर असलम अंकल मेरी चूत को चाटने लगे भानुप्रताप अंकल मेरे दोनों बूब्स को दबाने लगे. इस दो अर्थी बात पर हम दोनों ने एक दूसरे को पल के लिए देखा और हंस दिए.

तब मैंने देखा कि साकेत भैया के लंड से व्हाईट व्हाईट कुछ बाहर आ रहा था और दीदी की चूत से भी बाहर आ रहा था. मेरा अनुमान एकदम ठीक था, जेठजी का लंड मेरे पति के लंड से करीब आधा पौना इंच ज्यादा लंबा और मोटा था. फिर जब मैं उदास रहने लगी, तो हॉस्टल में एक सहेली ने डिल्डो लाकर दिया और खुद से प्यार करना और अपनी जरूरतों के लिए आत्मनिर्भर बनना सिखाया.

अब मेरी कोशिश रहती थी कि मैं किसी न किसी बहाने से चाची के करीब आऊं.

मैंने मन बना लिया था कि दीदी की चूत मैं घर जाकर नहीं बल्कि यहीं पर चोदनी है. मनु और मैंने कॉलेज से ही संदीप के घर जाने का प्लान बनाया था, क्योंकि परमीत ने अपने जाने के लिए पहले ही मना कर दिया था. ”फट जाएगी तेरी फुद्दी!”फट जाने दो … बस तुम चोदते रहो!”अब उनकी चुदाई की स्पीड तेज़ हो गई.

बाद में मैं मामी जी के पास से उठ कर बाहर पड़े दीवान पर लेट कर सो गया. अब मेरा भी मन करने लगा था कि मैं भी किसी के साथ लेस्बियन सेक्स करने के लिए ट्राई करूं. मेरे कॉलेज तक पहुंचते-पहुंचते पता नहीं कितने लोगों ने मुझे खा जाने वाली नजरों से घूरा होगा.

पहले भी कई बार ऐसा हो चुका था जब मैं बिना दरवाजा बंद किए चुदाई में लग गई थी. इतने में श्वेता दीदी का एक मौसेरे बड़े भाई साकेत, जो श्वेता दीदी के यहां ही रहते हैं, वो वहां आ गए.

इतना कह कर मैं कस कर विवेक के बालों को खींचने लगी और उसका मुंह अपनी चूत में दबाने लगी. मेरे मुंह से जोर जोर से सिसकारियां निकल रही थीं- आह्ह जीजा जी … आई लव यू … फक मी जीजा जी … चोदो मुझे आह्ह … बहुत मजा आ रहा है. आपको तो पता ही है कि शादी में बहुत सारे रिश्तेदार इकट्ठा हो जाते हैं और सबको कहीं न कहीं एडजस्ट करना होता है.

मैं तुरन्त उनके ऊपर हो गई और उनके लंड को अपनी फुद्दी में लगा कर बैठ गई.

पायल जैसे-जैसे मैगजीन के पन्ने पलटती जा रही थी, उसके चेहरे की लाली बढ़ती जा रही थी. मुझे पता था कि वो मना कर देगी, लेकिन इस बात का विश्वास था कि वो अपने पेरेन्टस को नहीं बताएगी. इसलिए ना तेरे भैया शादी करना चाह रहे हैं … ना तेरी दीदी की शादी होने दे रहे हैं.

दीदी ने भी अपने कपड़े ठीक किये और सामान्य होते हुए दरवाजा खोल दिया. वीडियो कॉल में जब मैं उनको लंड दिखाता था, तो वो मुझे अपनी चूत दिखाने लगती थीं.

कुछ देर बाद नीतू अलग हुई और शावर जैल लेकर मेरे और अपने जिस्म पर अच्छे मला. इससे आपको डर भी नहीं लगेगा और कहीं कुछ गड़बड़ हुई तो मैं संभाल लूंगा. आप सभी पाठक हमेशा मेरा उत्साह बढ़ाते हैं और मुझे अपनी अपनी राय देते हैं, मैं आपसे यही उम्मीद करती हूं कि मेरी सच्ची यह घटना, मेरे जीवन की सच्चाई आप पाठकों को कैसी लगी, मुझे मेरे ईमेल पर अपनी राय लिखकर जरूर भेजें।मैं आपके द्वारा भेजे गए कमैंट्स को पढ़ती हूं.

विवाह वर्षगाँठ

वो ना-नुकुर और हल्का विरोध करती रही … लेकिन उससे बहला फुसला कर मैं उसका जम्पर और ब्रा उतारने में कामयाब हो गया.

मुझे लगा अगर भाभी ने मम्मी को बता दिया, तो मैं तो समझो मारा ही गया. डिनर-टेबल की मास्टर्स चेयर पर बैठी वसुंधरा अपने बायें हाँथ की कोहनी टेबल पर टिका कर अपनी बायीं हथेली से अपनी ठुड्डी को सहारा दिये अपलक मेरी ओर देख रही थी. मैंने उसकी चूचियों में मुंह दे दिया और उसकी चूत में लंड को धकेलने लगा.

शाम को दीदी कोचिंग चली गई … मैं जल्दी से उनके कमरे में गया और उनकी किताब से उस कागज को निकाल कर पढ़ने लगा. थोड़ी देर आईने में ऐसे ही देख कर मैं अपने मम्मे दबा कर मज़े ले रही थी. बिहार का एक्स एक्समेरे चेहरे पर चिंता के भाव देख कर विशाल डर गया और वो मुझे मनाने लगा- सॉरी दीदी, मेरा ऐसा कोई इरादा नहीं था.

वैसे तो हमें बहुत बुरा लगा, पर सर पर तो संदीप की धुन सवार थी, इसीलिए हम दोनों सामने ही एक तीसरी दुकान पर उपहार छांटने पहुंच गए. इसी कमरे में हमने अपनी सुहागरात मनाई है, यह बिस्तर मेरी सुहाग की शैय्या है … यह बिस्तर अपने देवता से मेरे मिलन का गवाह है.

”कैसे हो जायेगा? कोई हंसी खेल है क्या?”तुम उसे बुलाओ तो सही, हंसी हंसी में ही हो जायेगा. मैं बोला- क्यों नींद नहीं आ रही क्या?वो बोली- नहीं आ रही!और फिर बातें शुरू हो गई. वैसे मेरी गर्लफ्रेंड बहुत सुंदर थी, लेकिन उसके पिता को पता चलने पर उन्होंने मेरी गर्लफ्रेंड का कॉलेज ही चेंज करवा दिया था और साथ में मुझसे मिलने के लिए मना कर दिया.

मैंने उसे कुतिया बनाए हुए ठेला और सिगरेट की डिब्बी से एक सिगरेट जला कर उसे दे दी. मैं अपनी जीभ से उसकी चुत के होंठों को चूसने लगा, बीच बीच में उसकी भग को भी चाट रहा था. खैर … ये सब तो उसे कल्पना करने के लिए बताया जाता है, जिस बताने के लिए कोई उदाहरण न हो.

उनके मुँह से एक तेज सीत्कार निकल गयी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… उफ्फ … मर गई.

ये बोलकर उसने मेरी टी-शर्ट उतार दी और मेरे होंठों को चूम कर मेरी छाती पर हाथ फेरते हुए मेरा शॉर्ट्स उतारने लगी. हम 20 मिनट तक ऐसे ही एक दूसरे के आगोश में गुम से होकर पड़े रहे।उसके चेहरे पर सन्तुष्टि के भाव साफ झलक रहे थे। मैंने उसकी चूत को देखा तो उसकी चूत में से अभी भी वीर्य और लहू के मिश्रण का रिसाव हो रहा था.

यह सुन कर वो भी घबरा गया और उठने लगा, तो मैंने उसे खींच कर वैसे ही रहने दिया. तय योजना के अनुसार रात करीब बारह बजे कमरे में जल रहे नाइट लैम्प की रोशनी में मैंने अपनी पत्नी पूजा का गाउन ऊपर खिसकाया और पैन्टी उतारकर उसकी चूत को थोड़ा सहलाया. तो बाबू जी ने हंसते हुए बात टालने की कोशिश की और कहा- चलो जल्दी से संदीप को मंगल टीका लगा दो, फिर तुम सब गप्पें मारना और मेरा भी दुकान जाने का समय हो गया है.

कुछ ही देर में मोना भी अपने कपड़े उतार कर नंगी हो गयी और एक तरफ कुर्सी पर बैठ गयी. अगली सुबह जब हम निकले तो मैंने जानबूझकर पजामे के नीचे अंडरवियर नहीं डाला. फिर मैंने उसे पकड़ कर उसकी चूत में उंगली दे दी, तो वो बोली- अब उंगली से बात नहीं बनेगी … फटाफट अपना लंड मेरी चूत में डालो.

साड़ी ब्लाउज वाली सेक्सी बीएफ शाम को प्रीति दिखाई नहीं दी तो मैं बेचैन होने लगा कि क्या बात है कि प्रीति आज कल नजर नहीं आती और मुझसे उखड़ी उखड़ी रहती है. मोनिका- क्यों?मैं- तुमको पता है … मैं क्यों अपने आपको रोक नहीं पाऊंगा.

बीपी सिक्सी वीडियो

फिर मुझे चूमते हुए सोफे पर ठीक उसी तरफ लिटा दिया, जैसे थोड़ी देर पहले वो लेट कर अपना लंड चुसवा रहे थे और खुद ठीक मेरी तरह ही मेरी दोनों टांगों के बीच बैठ गए. यही सब कहते-कहते मैंने उसके मुँह से अपना मुँह लगा दिया और संदीप ने भी बिना कुछ कहे मौन स्वीकृति देते हुए मेरा साथ देना शुरू कर दिया. जब मैंने वो कमरा देखा तो मुझे पसंद आ गया और मैंने वहां रहना शुरू कर दिया.

सबसे पहले आप सभी को मेरा नमस्कार! रोज इस साइट मैं कहानियाँ पढ़ता हूँ तो मैंने सोचा कि आज अपनी भी जीवन की सच्चाई लिख डालूं. पूरा लंड एक ही बार में अन्दर लेकर खुद ही अपनी चुत को उठा उठा कर पटकने लगी. સેક્સ વીડિયો સેક્સ સેક્સ વીડિયોमैंने बोला- तो फिर तुम सबके सोने के बाद चुपके से मेरे कमरे में आ जाना.

आलिया- आहहह याह ओह उम्मह आहहह ओह …नताशा- आहहह ओह गॉड याहह ओह अविनाश यू आर सो हार्ड … फक मी …चित्रा- आहहह ओह या याह उम्मह यस आकाश याह आह या आहहह.

उनको भी अपनी चूत पर एक जवान लड़की की चूत के घर्षण में बहुत मजा आ रहा था. मेरे पति ने मुझे खूब चोदा और मेरी चूत से मैंने चार बच्चे निकाल दिये.

उसकी आंखें इतनी मादक और आकर्षक हैं, जिससे कोई भी मर्द उसकी तरफ आकर्षित हो जाए. फिर साकेत भैया ने जल्दी जल्दी अपने कपड़े पहने और दीदी को भी उठा कर कपड़े पहनने को कहा. मैंने मैम की चूची को जोर से दबा दिया।अंत में फिर मैम ही हार गई पूरी नंगी हो गयी।अब वो उठकर सबके कपड़े उतारने लगी।मैं उठ के नाज़िमा की चूत चाटने लगा.

चूंकि मेरी मम्मी और भाभी, कपड़े धोने के बाद साथ में छत पर सुखाने जाती थीं.

उसकी सहेलियों में मनु का शरीर पहले से भरा-पूरा था इसलिए अब उसकी कसावट में कमी आ गई थी. अब मैंने अपना एक हाथ चाची के मम्मों पर रख दिया और उन्हें दबाने लगा. देखते ही देखते उसके लंड ने अपना पूरा आकार ले लिया और वो उसकी पैंट में उछलने लगा.

xxx बीएफ एचडी वीडियोएक साथ घूमना, एक साथ खाना, अपनी जिंदगी के हर सुख दुख में एक दूसरे का साथ देना हमारी आदत में था. गोरी तो वह थी हीं और भारी स्तनों के कटाव और उन पर बने भूरे गोल घेरे मेरी जान निकाल रहे थे.

बड़ी भाभी का सेक्स

यह मेरा आजतक का सर्वश्रेष्ठ मुखमैथुन का अवसर था जिसकी लज्जत को मेरा रोम रोम महसूस कर रहा था. फिर मैंने जाते हुए कहा- संदीप, अगर तुमने गर्लफ्रेंड वाली बात मजाक में ना कहकर सच में कही होती, तो तुम्हें जबाव हां में भी मिल सकता था. एक बार तो उसने मुझे अजीब सी नजरों से देखा मगर फिर रिक्वेस्ट करने पर मान गयी.

मेरे ब्लाउज के हुक पीछे थे तो अब पीछे वाले ने पीछे से मेरे ब्लाउज के सारे हुक खोल कर वहीं नीचे डाल दिया. ड्राइवर और ससुर जी साथ में खाना खा रहे थे और साथ ही साथ बातें कर रहे थे. उन्होंने मुझसे कंडोम देखने के लिए मांगा- दिखाना जरा कौन सा फ्लेवर है?मैंने चाची के हाथ में कंडोम का पैकेट दे दिया.

फिर मैं अपने रूम में आई और अपने कपड़े उतार कर मैंने वही गोवा वाली नाइटी पहन ली. यह सुन कर वो भी घबरा गया और उठने लगा, तो मैंने उसे खींच कर वैसे ही रहने दिया. मेरी लंबाई 5’9″ इंच है मेरा लंड का साइज 7 इंच से भी थोड़ा लंबा है जो किसी भी औरत को खुश करने के लिए काफी है.

मैं नीचे से उसके गाउन में हाथ डाल कर उसकी टांगों और जांघों पर फेरने लगा. रात के 1:30 बजे थे, पता ही नहीं चला कि हम दोनों आपस में चिपक कर कब सो गए.

जैसे ही प्रीति अपने घर से निकली, सबसे पहले प्रीति का चेहरा मैंने देखा और इशारों इशारों में पूछा कि कल क्या हुआ जो बात नहीं कर रही थी?प्रीति भी मेरा इशारा समझ गई थी और वो मुझे एक लेटर मेरे हाथ में चुपके से पकड़ा कर अपने स्कूल चली गई.

और मेरे ब्लाउज का पीछे से काफ़ी डीप गला था और आगे से भी गहरा गला होने के कारण मेरी अच्छी ख़ासी क्लीवेज़ यानि स्तनों की घाटी दिख रही थी. भाभी की चुदाई हिंदी में बीएफआप ही सोच लो, उसका पति चूत को कितनी यूज़ कर पाया होगा, जो महीने में बस 3-4 दिन के लिए घर आता हो. ब्लू फिल्म एक्स एक्स एक्स बीएफबेड पर आने के बाद हम दोनों इधर उधर की बातें करने लगे और लगभग एक घंटे बाद मैं बोला- तुम्हारी भाभी तो और ज्यादा मस्त हो गई है. आज सपना इतनी खुश थी कि उसने मेरे गाल पर एक जोरदार किस किया और मेरे गले से लग गई.

पर उसे ध्यान आया पोर्न मूवीज का … तो उसने झट से लोलीपोप समझ कर गप्प से उसका लंड मुंह में ले लिया और पहले धीरे धीरे … फिर तेज एक मंजे हुए खिलाड़ी की तरह राजन का लंड चूसना शुरू किया.

निधि फिर बोली- अरे दिल से बुलाओ न मेरे को मेरी जान … सामने न आ जाऊं तब कहना. जैसे ही मैंने उसे अन्दर किया मुझे बहुत दर्द हुआ, मैंने उसे बाहर निकाल लिया। मैं उस केले को वहीं रखकर कमरे से बाहर आ गई।मेरे घरवाले 2 दिन तक आने वाले नहीं थे। मैं शाम को जब बाजार गयी तो कंडोम के दो पैकेट खरीद कर ले आयी। उस दिन के खाने की मुझे चिंता नहीं थीं, क्यूंकि वो फ्रिज़ में पहले से ही रखा था। मैं फ्रिज़ से खाना ले कर खाने लगी. बेचारा मेरा बाबू … वो तो डर के मारे रोने लगा और बोला- प्लीज़ दीदी … मम्मी को मत बताना, सॉरी दीदी अब नहीं करूंगा.

मुझे ऐसा फील हो रहा था कि मेरा लौड़ा रबरबैंड में फंसा हुआ सा अन्दर जा रहा है. उसने 9 बजे के बाद मिलने का टाइम कहा था क्योंकि उसको बदनामी का भी डर था. आआआ आअई ईईई ईईई माम्आ अम्आ अम्अम् … निकालो निकालो … बस बस … नहीं नहीं … निकालो!”उनका आधा लंड मेरी फुद्दी को चीरता हुआ अंदर घुस गया था.

देसी सेक्स क्लिप

अगली सुबह जब हम निकले तो मैंने जानबूझकर पजामे के नीचे अंडरवियर नहीं डाला. वो कुछ बोल नहीं रही थीं … लेकिन अपने होंठ दबाते हुए मेरी हरकतों का पूरा मजा ले रही थीं और सीत्कार रही थीं. मुझे दर्द हो रहा था, मैं छः रही थी कि अंकल अपना लंड मेरी चूत में से निकाल लें.

जब वो नहीं माना, तो भाभी की मामी ने कहा कि तुम भी चली जाओ और जब ये सो जाए, तो आ जाना.

तब मेरी गांड जितनी विक्की ने चोद कर नहीं फाड़ी थी, उतनी तो वो सीन देख कर फट गई.

आपको मेरी सेक्स कहानी अच्छी लगी या नहीं? ईमेल करके अपने विचार जरूर बताना. मेरे दोनों पर्वतों का बराबर मर्दन करते हुए संदीप ने उन्हें सम्मान दिया और कुछ देर तक वहां अपनी जिह्वा का करतब दिखाने के बाद वापस चूत की और लौटने लगा. हिंदी क्सक्सक्स माँये कहते हुए उन्होंने एक वी-नेक की टी-शर्ट और एक शॉर्ट स्कर्ट पहनने को दिया.

उसने कुछ देर मेरे लंड को दबा कर देखा और फिर मेरे अंडरवियर को निकाल कर मेरे लंड को भी नंगा कर दिया. मेरा एक हाथ मेरे मम्में पेट जांघ और चूत को सहला-सहला कर मुझे और उत्तेजित कर रहा था. वो जोर जोर से लंड हिला रहा था और मुझे देखते देखते उसने आगे से लंड का मुंह दबा लिया, पानी निकल गया था उसका … तो उसने आंख मार दी।मैं चुपचाप घर आ गई लेकिन अब मैं पागल होती जा रही थी वासना में! और सब शर्म छोड़ मैंने सोच लिया कि संजय का लंड चाहिए मुझे अब।अगली सुबह मैं दूध लेने गई तो संजय की मां दूध निकाल रही थी.

मैंने उनसे पूछा- अंकल का क्या हुआ?उन्होंने कहा कि तुम्हारे अंकल को मैंने दूध में नींद की गोली डाल कर सुला दिया है और खुशी को सुला कर आई हूं. मालकिन ने एक मस्त सी आह भरी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ और अपनी कमर जोर जोर से ऊपर नीचे करने लगी.

उससे राजन ने उससे कहा- चलिए एक दिन मैं बनाया करूँगा, एक दिन आप बनाइएगा.

मैं जाने के बाद हमने थोड़ी बातें की, फिर मैंने उनसे कहा- मैं कहाँ सोने वाला हूँ?तब उन्होंने कहा- हम दोनों मेरे रुम में यानि बेडरूम में ही सोने वाले हैं. फिर उन्होंने मेरी टांगों को चौड़ी कर दिया और मेरी चूत में से लंड को पूरा बाहर निकाल कर फिर से पूरा अंदर घुसाने लगे. उसके 5 मिनट बाद मैंने भी अपना पानी निकाल दिया मैम की चूत में।तब तक उनके हस्बैंड भी मैम के मुंह में झड़ चुके थे।उसके बाड मैम नंगी ही बाथरूम में गयी और अपने को साफ़ करके आई.

सेक्सी बीएफ पंजाबी सॉन्ग आगे क्या क्या हुआ मेरी जिंदगी में … वो आगे की कहानियों में बताऊँगी. थोड़ी देर मेघा ने मेरा लंड मुँह से निकाला और हम दोनों की पोजीशन में थोड़ा सा और बदलाव किया.

अंकल का लंड हाथ में लेते ही मम्मी बोलीं- आह तुम्हारा इतना बड़ा है?वो अंकल के लंड को प्यार से मसलने लगीं. संदीप ने मेरे चेहरे के भाव पढ़ लिए, वो पास आया और मेरे दोनों हाथ अपने हाथों में लेकर मुझे उठाया. चाची को इतना मजा आ रहा था दोस्तों कि वो बस यही कहे जा रही थीं कि मेरी चूत मारते रहो जान … मुझे बहुत मजा आ रहा है.

ओम सेक्सी

उधर संदीप ने पेंटी को किनारे करके जैसे ही चूत पर अपनी जीभ फिराई, मैं एकदम से सिहर और तड़प उठी. चूत पर लंड लगवाने के बाद उसने लंड को थाम लिया और मैंने एक बार फिर से जोर का धक्का मारा और लंड उसकी चूत में घुस गया. तब मैंने देखा कि चाची अपनी चुत को उंगली से सहला रही हैं और टूथ ब्रश के हैंडल को अपनी चुत के अन्दर बाहर कर रही हैं.

मैं सोच रहा था कि पता नहीं अब तक इसने कितने लड़कों के साथ सेक्स कर लिया होगा. अभी मुझे जवानी के और मज़े लेने हैं मुझे 4-5 से और चुदने दो, फिर मैं शादी कर लूँगी.

उसने अपनी जांघों पर बहते रस को अपनी हथेली से पोंछा और उसको चाटने लगी.

मुझ पर खीझते हुए बोली- तुम्हें बड़ी भूख लग रही है इसके साथ खाने की! मुझे इसके साथ खाना नहीं खाना है. धीरे धीरे हो रही चुदाई से मीना मस्त हो रही थी, तभी एक बार लण्ड अन्दर पेलते समय मैंने जोर लगाया तो पूरा लण्ड मीना की चूत में चला गया, वो चिल्लाने ही वाली थी कि मैंने उसके होठों पर अपने होंठ रख दिये और चोदना शुरू कर दिया. उसने मुझे पहले भी मेरे एक ब्वॉयफ्रेंड के साथ चुदते हुए देख लिया था, पर तब वो और छोटा था.

उसके हाथ मेरे गालों पर कामुक स्पर्श देते हुए मेरे चेहरे को उसकी चूत की तरफ ले जाने के लिए जैसे मिन्नत सी करने लगे. मैंने उसकी ब्रा उतारी और मम्मे को पीने लगा, तो वो मेरे सर पर हाथ फेरने लगी. उन्होंने कहा- हाँ चला ले। अरे यार ये शॉर्ट कहा रख दिया मम्मी ने?भैया बोलने लगे- चल कोई ना … मैं चड्डी में ही सो जाऊंगा।बोलते हुए वो बेड पर उल्टा लेट गये।मैंने टीवी का रिमोट उठाया और टीवी ऑन किया.

जबकि किसी भी नारी को उसकी मर्जी के बिना टच करने पर सबसे पहला काम उसका चिल्लाना ही होता है.

साड़ी ब्लाउज वाली सेक्सी बीएफ: जब मुझे उन्होंने इस बारे में बताया तो पहले मुझे बहुत गुस्सा आया लेकिन एक बार चुद गयी तो फिर मुझे भी रोमांच पैदा होने लगा. प्रीति को जैसे परम सुख का आनंद मिल रहा हो!दोस्तो, इससे पहले कभी भी प्रीति ने ऐसा काम नहीं किया था.

उनकी चूचियों की दरार देख मेरा लंड खड़ा होने लगा था, जो मेरी पैन्ट से साफ नजर आ रहा था. मैं- करना कुछ नहीं है, बस सीधे थन से दूध पीना है, मगर तुम हो कि सुनती ही नहीं हो. उसके बदन का कोई हिस्सा ऐसा नहीं था जो मैंने अपने होंठों से चूसा या काटा न हो.

एक मिनट तक मामी की चुत के दाने से खेलने के बाद मैंने उन्हें अपनी गोद में उठाकर बेड पर लिटा दिया.

(साला चूतिया है क्या ये! मुझे क्यों घसीट रहा है साथ में)फिर हम उठ कर बाहर आ गये. जब बात मेरी बर्दाश्त के बाहर हो गयी तो मैंने उसकी चूत को बहाने से अपने अंगूठे से छूना शुरू कर दिया. उसका लंड बड़ा था और मैं आंखें फाड़कर देखती रही।फिर उसने तेज हिलाना शुरू कर दिया तो मैं समझ गई कि अब उसका पानी निकलने वाला है.