करवा चौथ की बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,সেক্স ফিল্ম

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स वीडियो हिंदीxxx: करवा चौथ की बीएफ सेक्सी, कई बार खाना बनाने के वक्त वो अपनी साड़ी पेट के नीचे दबा लेती हैं और उस वक्त उनकी नाभि साफ झलकती है.

ऑपरेशन कैसे होता है वीडियो

कितना सारा खून निकला है उसका!दोनों हिजड़ों ने मेरा खून से भरा बदन साफ़ किया और कमरे की साफ़ सफाई करके मुझे साफ़ बिस्तर पर लेटा कर चले गए. दुखी शायरी मराठीमुझे लगा कि अब कहीं ये हार्ड सेक्स न करने लगे तो मेरा काम हो जाएगा.

चाचा का नाम रंजन, उम्र 45 साल, चाची संतोषी उम्र 39 और उनकी बेटी उम्र 19 साल की थी. सेक्स वीडियो इंग्लिश हिंदीमुझे नई लड़कियों से ज्यादा भाभी और आंटी के साथ सेक्स में ज्यादा मजा आता है.

फिर मैंने उन्हें झुकाया और नीचे होते हुए उनकी नाभि पर जीभ फेरने लगा.करवा चौथ की बीएफ सेक्सी: भैया भी मौका देख कर वीडियो कॉल पर मुझसे बात करते हुए मुट्ठ मारा करते थे और मैं अपनी चूत में उंगली करके खुद को शांत करती थी.

जलालुद्दीन आलिम ने मुझे कपड़े उतारने को कहा तो मैंने तुरंत उतार दिये.मैं तो पहले ही समझ गया था मगर मैंने निशा को गर्म सीन दिखाकर गर्म करने का सोचा था.

गांव की सेक्सी पिक्चर दिखाएं - करवा चौथ की बीएफ सेक्सी

दोस्तो, कानपुर से मैं अभिनव फिर से आपके समक्ष अपनी नई सेक्स कहानी रखने जा रहा हूँ.मेरी बाइक की आवाज सुन कर माधुरी फ़ौरन अपनी शॉप से बाहर आयी और सीधा मेरी तरफ स्माइल देती हुई आ गयी.

चाची भी मेरे बग़ल में ही लेट गईं और मेरे होंठों पर किस करती हुई कहने लगीं- वाह मेरे शेर, मान गई आज तुझे मैं. करवा चौथ की बीएफ सेक्सी अब आगे नंगी भाभी फोरप्ले सेक्स कहानी:मैं माधुरी की बात सुनकर इतना खुश हुआ कि पूछो मत.

आप सब लोगों को तो पता होगा कि सर्दियों में छह बजे के बाद अंधेरा होना शुरू हो जाता है.

करवा चौथ की बीएफ सेक्सी?

मैं सोचता था कि चाची को मैं किस तरह से अपनी बात कहूँ कि चाची बस एक बार मेरे साथ सम्भोग कर लीजिए पर गांड में दम ही नहीं था. उनकी सिसकारियां निकल रही थी- आआहह आआ हहह आहह … आहह अईई … उइई ईईई … आह … ओहह ओहह उम्म!खूब पलंगतोड़ चुदाई की मैंने उस दिन!फिर कुछ देर में हम दोनों झड़ गए, मैंने अपना सारा वीर्य उनके मुंह में डाल दिया और उनकी चूत का सारा पानी पी गया।मैं और आंटी कुछ देर बिस्तर में लेटने के बाद कपड़े पहनकर रूम में आ गए. अचानक ही उसका पानी छूट गया और उसने अपने गरमागरम वीर्य की ना जाने कितनी पिचकारियां मेरे गले के अंदर उतार दीं.

तभी छोटी बुआ का फोन आ गया- राज कहां हो?मैंने झूठ कह दिया- बुआ बस में बैठ गया हूँ, सुबह 6 बजे जयपुर पहुंच जाऊंगा. सविता भाभी के चचिया ससुर कुणाल का बेटा आयुष शादी से इंकार कर रहा है।तो थक हार कर उन्होंने सविता को अपने बेटे को समझाने को कहा।आयुष की अपने चचेरे भाई अशोक से अच्छी बनती है. मैंने आगे बोलना शुरू किया- फिर जब तुम अपने बाल सुखाने के लिए झुकीं, तो तुम्हारे टॉप के गहरे गले से मुझे अन्दर का नजारा देखने को मिला.

वीडियो कॉल में मेरे नंगे जिस्म को देख उनका तो पहले से ही बुरा हाल था और मैं भी उनके जैसे हट्टे-कट्टे मर्द से चुदाई के लिए बेकरार थी. उनकी विधवा होने की स्थिति भी उन्हें ज्यादा बनाव शृंगार करने की इजाजत नहीं देती थी. मैं भी चुदने के लिए तड़प रही थी तो बस उनसे मिलने, अपने घर पर कॉलेज जाने का बोलकर निकल गयी.

अलग अलग आसनों में चोदते हुए हम दोनों को करीब एक घंटा हो चुका था और अधिकतर पोजीशन में मैं ही मेहनत कर रहा था. लेकिन पिछले लम्बे समय से जो लड़की किसी सड़कछाप रंडी की तरह भकाभक गांड मरवा रही थी उसे चूत में लण्ड डालने से भला क्या फर्क पड़ता, तो मैं चुपचाप लेटी रही और जलालुद्दीन साहब अपना लण्ड मेरी चूत में पेलते रहे.

हिजड़ों ने मेरी चीख सुनी तो घबराकर दौड़े दौड़े आये लेकिन जब उन्होंने देखा कि मैं बिस्तर पर नंगी लेटी हूँ और मेरे ऊपर चढ़े हुए जलालुद्दीन देसी वर्जिन गर्ल चुदाई कर रहे हैं, मेरी चूत में अपना लंड पेल रहे हैं तो हिजड़े मेरी हालत देख कर हंसने लगे.

इसलिए मैं इंतजार में थी कि मेरे साथ अगर कोई नया मर्द आया या मेरे साथ कोई नई घटना होती है, तो उस चुदाई की कहानी को मैं आपको बताऊंगी.

मैंने पास खड़ी एक लड़की, जो मेरी दोस्त भी है, नेहा से बोला- यार, ये सब कुछ ज्यादा हो रहा है. तुझे पहले ही बता देना चाहिए था कि मैं तुम्हें देना चाहती हूं, पर तू इतना नाटक क्यों करती है. उसकी कमीज़ उसके घुटनों के थोड़ा ऊपर तक ही थी और उसने नीचे कुछ भी नहीं पहना था.

मैं बोला- हां बताइए क्या काम है आंटी?आंटी बोलीं- पहले ये बताओ, तुम दोनों उस दिन क्या कर रहे थे?मैं कुछ नहीं बोला. मैंने धीरे से उनका कुर्ता ऊपर करके निकाल दिया और सलवार का नाड़ा ढीला कर दिया. भाभी ने मेरी पैंट कसके पकड़ी और साथ में मेरी अंडरवियर भी पकड़ ली और एक झटके में नीचे खींच दी.

फिर मैं क्रीम ले आया और मेरे लंड और उसकी चूत पर बहुत सारी क्रीम लगा दी.

मैं उसका पेट, उसकी नाभि को चूमने लगा और मेरा हाथ उसकी चूत की गहराई को नापने लगा. अचानक हुए इस हमले से बुआ ‘ऊईई मादरचोद गांड में फिर से पेल दिया उई ऊईईई …’ कहती हुई चिल्लाने लगीं. वो बोली- रुको!पर मैंने उनकी नहीं सुनी और फिर से एक ज़ोर का धक्का लगा दिया.

शहर में जाने के बाद चाची की चुदाई बिल्कुल ना के बराबर होने लगी थी क्योंकि चाचा जी सारा दिन काम पर रहते थे और रात के दस बजे घर आते थे. पहले पहले तो उन्हें लगा कि मैं लड़की हूं; फिर मैंने उन्हें सच्चाई बता दी. बाक्सर में उनकी गांड एकदम बाहर निकली हुई थी, इस उम्र में भी उनकी गांड में कसावट पूरी थी और जब वो अपने बाल सुखा रही थीं, तो टी-शर्ट बार बार ऊपर उठ रही थी, जिससे उनका गोरा गोरा पेट मुझे बार बार दिख रहा था.

ऐसा नहीं है कि आज मैं जलालुद्दीन को पहली बार देखने वाली थी लेकिन रोज हम दोनों के बीच हवस का रिश्ता बनता था और आज पहली बार मैं दिल में मुहब्बत लेकर उनकी राह देख रही थी, इसलिए अपने आप ही मुझे शर्म भी आ रही थी.

मैंने पूछा तो दोनों कहने लगे कि आज शाम के लिए जलालुद्दीन साहब ने ख़ास तैयारी करने को कहा है. तो भाभी ने बोला कि अभी तो 8:30 ही बज रहे हैं, अभी से कमरे में जाकर क्या करोगे?मैंने भी सोचा कि हां बात तो सही है.

करवा चौथ की बीएफ सेक्सी चैट के साथ साथ थोड़ी बहुत चुदाई की बात हो जाती, जिससे दोनों को मजा आता. उसने मेरा कमर का बेल्ट खोला और मेरे पैंट के हुक निकाल कर मेरी ज़िप खोल दी.

करवा चौथ की बीएफ सेक्सी जब वो आपको पहली बार नंगी करता है … तो शर्म से ऐसा लगता है कि आप पहली बार किसी के सामने नंगी हो रही हों. ये इन्फैचुएशन सेक्स कहानी मेरी और एक अनजान भाभी के बीच की है जो मुझे भाग्य से मिल गयी.

उसके बाद मामी ने मुझसे कहा- तू मेरी ब्रा पैंटी में क्या देखता है?मैंने कहा- मैं आपको सेक्सी ब्रा पैंटी में देखना चाहता हूँ मगर आपके पास एक भी सेक्सी ब्रा पैंटी नहीं है.

सनी लियोन की बीएफ सनी लियोन

उन्होंने अपनी वाइफ से पूछा होगा और शायद उन्हें मेरा नम्बर दे दिया होगा. लेकिन जब से उसने जवानी में कदम रखा, मेरी नजर बदल गयी और मैं उसे चोदने के सपने देखने लगा. मैंने उससे कहा- नहीं यार, ऐसा नहीं है, तुम बोलो तो सही, तुम्हें क्या मदद चाहिए.

एकदम लाल लंड देख कर मीनू मुस्कुराने लगी और अपनी ननद से बोली- खुल गई तेरी चूत की मोरी!कोमल भी हंसने लगी. अबकी बार तो वो मुझे लात मारने की कोशिश करने लगी लेकिन मैंने उसकी टांगों को पकड़ लिया और झटकों की स्पीड तेज कर दी. उसने भी मुझे कस पकड़ लिया और उसके नाखून मेरे शरीर में घुस कर मुझे और उत्तेजित करने लगे.

मैं- रचना, मेरा मन कर रहा है कि तुम्हें पूरी नंगी कर दूँ, मेरा तुम्हारी नंगी जवानी देखने का मन है.

चुत की फांकों में सुपाड़ा रख कर मैं दम लगाने लगा और लंड उसकी चुत में घुसाने लगा. यह नंगी लड़की देसी कहानी एक साल पहले की है जब मेरी मम्मी ने कहा कि उनके मुँहबोले भाई की बेटी हमारे घर आने वाली है. हम लोग गांव वालों की मदद करते, फल सब्जी उगाने के आधुनिक तरीके गांव वालों को भी सिखाते.

ठंडे आइसक्यूब से टच होते हुए कोमल के चूचे मुझे बहुत आकर्षक लग रहे थे. अब मैं मॉम की गोरी गोरी मांसल जांघों को चाट रहा था और बीच बीच में मैं उनकी कच्छी के ऊपर से उनकी चूत पर जीभ फिरा रहा था. मैंने उसकी शंख जैसी चूचियों को पीने लगा था और वो अपनी गांड मेरे लंड पर घिसने लगी थी.

तो अजय ने दरवाजा खोल कर सीधा मुझे अंदर खींच लिया और मुझसे लिपट गया।वो बोला- ओ मनीष, बहुत मन था तुमसे मिलने का! मुझे तुम्हें बांहों में लेकर मज़ा आ रहा है।मैंने भी अजय को टाइट पकड़ा और बोला- हाँ अजय, तड़प तो मैं भी रहा हूँ। आज मैं बस तुम्हारा हूं, तुम मेरे साथ जो चाहो करो, मैं मना नही करूँगा।अजय मेरी पीठ पर हाथ फेरने लगा. मुझे इस तरह घूरते देख उसने अपनी बांहों से अपने स्तनों को ढकना चाहा.

ये सब देखकर मीनू बहुत खुश हो रही थी क्योंकि वो अपनी ननद को लंड चूसना सिखा चुकी थी. दोस्तो, आपको मेरी हॉट इंडियन भाभी न्यूड स्टोरी कैसी लगी, प्लीज़ कमेंट्स कीजिएगा. सुरेंद्र जी ने पीछे हाथ ले जाकर पैंटी की डोरी को अलग किया और मेरी पैंटी को निकाल कर अलग कर दिया.

दे दे अगर तू मुझे भरोसा अपने साथ का,तो यकीन मान … अपनी सांसें भी तुझे दे दूँ.

मैंने उसके स्कर्ट को ऊपर करते हुए उसके पैर को चूमना शुरू किया और धीरे धीरे ऊपर बढ़ने लगा. अब ना चाहते हुए भी मेरा लंड उसके होंठों पर तैरने लगा था।थोड़ा सा गर्म करने के बाद वह भी तैयार हो गई थी और उसने अब मेरा लंड का अगला हिस्सा अपने मुंह में ले लिया था।शुरुआत में तो वो एकदम देसी हिंदी Xxx रंडी की तरह मेरा लंड चूस रही थी. मैंने भाभी की सलवार को खोलकर नीचे कर दिया और अपने हाथ को सीधा अन्दर फुद्दी पर रख दिया.

मैं जल्दी से बाइक पार्क करके अन्दर चला गया और अपनी जगह पर जाकर काम करने लगा. छेद पर लंड सैट होते ही मैंने हल्का सा ज़ोर लगाया मगर उसका छेद बहुत छोटा सा था.

फिर सुबह मैं 8 बजे उठी, तो मेरी बुर सूज गई थी और दर्द भी हो रहा था. उन्होंने एक एक करके मेरे पैर की सारी उँगलियाँ चूस डालीं और मेरे तलवों को किसी कुत्ते की तरह चाटते हुए ऊपर की तरफ आने लगे. मैंने किसी तरह से खुद को रोका और उनकी टांगें उठा कर गांड का खड्डा देखा.

देसी चोदा चोदी बीएफ

वो दीवार से टिकी किसी बेसुध और मदहोश अप्सरा की तरह मेरी जीभ को अपने मुँह में लिए हुई थी.

वो हमेशा साड़ी ही पहनती थी, जिसमें से उसकी कमर और उसका पेट दिखता था. यह Xxx गे पोर्न स्टोरी उस वक्त की है, जब मैं अपनी ग्रेजुएशन में था. मैं हमेशा उन्हें चोदने के लिए मौके की तलाश में रहा करता था।एक दिन मैं सुबह उनसे मिलने गया था उनके घर … क्योंकि उन्होंने मुझे चाय नाश्ता के लिए बुलाया था।पर घर पर कोई नहीं था उस दिन!उनके बच्चे स्कूल जा चुके थे रोज की तरह और अंकल तो बाहर ही रहते थे।तब मैं सोफे पे जाके बैठ गया क्योंकि दरवाजा खुला था बाहर का … और कोई नजर भी नहीं आ रहा था.

वो बीच बीच में मेरे मम्मों की तारीफ भी करते थे- वाह कितने प्यारे, नर्म और रसीले मम्मे हैं. फिर जलालुद्दीन ने मुझे मुंह बंद करने को कहा और अपना लण्ड मेरे मुंह में अंदर बाहर करने लगे. स्कूल सेक्स वीडियोतभी अचानक से मुझे पीछे एक आवाज सुनाई दी- मामा जी, आपने तो बहुत देर कर दी, मैं यहां खड़ी खड़ी एकदम थक गई हूं.

शायद यही बात रम्भा को भी पता चल रही थी इसलिए अब वह मेरे सामने बैठकर उसने अपने शरीर को टेबल पर थोड़ा आगे की तरफ झुकाया जिससे कि अब मुझे उसके चूचों की गहराई भी दिखने लगी।वह जानबूझकर मुझे अपना बदन दिखा रही थी. मैं समझ गया कि चाची ऐसे नहीं मानेगी, इसे पहले चूत मरवाने के लिए तड़पाना पड़ेगा.

घर जाकर सोनी ने व्हिस्की दो गिलास में डाली, दोनों चिकन तंदूरी के साथ व्हिस्की पीने लगे. आंटी ने मुझसे पूछा कि आज बात क्यों नहीं कर रहे हो?मैंने बताया कि आज थोड़ी तबियत खराब है, सर्दी लग रही है. लेकिन थोड़ी देर बाद ही उसे अक्ल आई और उसने अपने दोनों हाथों से अपने चूचों को छुपा लिया और अपनी पीठ मेरी तरफ कर दी और वहीं खड़ी रही।मैं झट से उसके पीछे की तरफ चला गया और उसकी नंगी पीठ पर अपना बदन सटा दिया.

खाना खाने के बाद चाची ने अपने कपड़े पहन लिए, पर मैं अभी भी नंगा ही था. मीनू कपड़े डाल ही रही थी कि मैंने उससे कहा कि आज तुम दोनों मेरे पास ही रुक जाओ, रात को मजे करेंगे. गर्मी के दिनों में मैं रात को ऊपर आ जाता था, जहां वो सोयी हुई होती थी.

सोनी- क्या तुम कभी किसी वेश्या के पास गए?पुणे के बुधवार पेठ में वेश्या आसानी से मिलती है.

आपको मेरी Xxx गाँव पोर्न स्टोरी कैसी लगी, प्लीज़ मेल और कमेंट्स से बताएं. कुंवारे होने का मतलब ये कि अभी तक तुम्हारे लंड ने किसी को चोदा नहीं है.

उनकी दशा देख कर साफ़ समझ आता है कि मेरे चाचा ने उनकी चूत तो बहुत मारी होगी, लेकिन ये नहीं लगता था कि वो कभी उनकी चूचियों के साथ खेले होंगे. देसी मम्मी की चुदाई की कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपनी स्टेप मॉम की चूत और गांड चुदाई की. उसने स्कर्ट पहनी हुई थी, उसकी गोरी गोरी भरी हुई जांघें देखकर ही मेरा लंड खड़ा हो गया.

दोस्तो, मेरा नाम नगमा खान है और मैं पाकिस्तान में लाहौर के पास एक गाँव की हूँ. ड्राइवर ने टेक्सी से उतर कर देखा तो परेशान होकर बोला- लगता है पाइप फट गया है, मैकेनिक को बुलाना पड़ेगा. उसने भी मुझे नमस्ते की और मुझसे पूछने लगी- आप यहां कैसे आए, क्यों आए आपने अपने आने का बताया ही नहीं.

करवा चौथ की बीएफ सेक्सी मैंने ड्राइवर को अपनी बांहों में कस लिया और नीचे से जोर का धक्का उसके लंड पर मार दिया. हमने फार्म का नाम रखा था- दोस्ती फार्मअब कुछ नौकरों के बारे में भी बता देते हैं.

बीएफ सेक्स सुहागरात

कई बार खाना बनाने के वक्त वो अपनी साड़ी पेट के नीचे दबा लेती हैं और उस वक्त उनकी नाभि साफ झलकती है. न जाने कितने ही लड़के मेरी बहन को पटाना चाहते थे, पर मेरी बहन कभी किसी को भाव नहीं देती थी. मैंने कहा- कैसा काम हो जाता है बताओ न?ये कह कर थोड़ी देर तक मैं उसका हाथ मलता रहा.

ये सुनते ही पुलकित मेरे पास आने लगा तो मैंने कहा- रुक जा चूतिये तुझे और ज्यादा मज़ा देती हूँ. चाची की वासना से भरी हुई सिसकारियां तेज़ होने लगीं और वो आह आह आह करने लगीं. बड़ों से माफी शायरीचूत ने मुँह खोल दिया था और मेरा सुपारा चूत की फांकों के रस से लिथुड़ने लगा था.

मेरे होंठ कोमल के सेक्सी होंठों से चिपके हुए थे और मेरी जीभ कोमल मुँह के अन्दर चली गई थी, जिससे कोमल की लार मेरे मुँह में आने लगी थी.

मैंने उससे कहा कि यदि तुम्हारा जवाब हां में है, तो वही ड्रेस जो शादी वाली रात पहनी थी, उसी ड्रेस में मुझे फला जगह पर मिलना. कुछ तूफानी धक्कों के बाद मैं चाची की चूत में ज़ोरदार धमाके के साथ झड़ गया और उनकी चूत को अपने माल से पूरा भर दिया.

उसने मुझे धक्का दिया और एक पैर मेरे कंधे पर रख दिया, जिससे उसका स्कर्ट थोड़ा ऊपर को हो गया. वो बोली- यह क्या कर रहे हो आप?पर मुझे पता था कि उसको मन ही मन में अच्छा लग रहा है. मैंने अपना लंड ज़ोरदार झटके के साथ मामी की गांड में पेला और एक बार में ही पूरा लौड़ा गांड में डाल दिया.

जैसे जैसे चूत पे लंड ठोकर देता, उसके मुँह से ‘आहह मम्मी मर गई अम्म्म … अर्णव स्लो … आह.

मैंने पूछा- ये चुदास का जिन्न क्या होता है?तो हिजड़े ने बताया- जब लड़के लड़कियां जवान होने लगते हैं तो उनके शरीर में काफी बदलाव आते हैं. अब्दुल हँसते हुए बोला- जब चुदाई शुरू की थी तो चूत थी लेकिन अब साली भोसड़ा बन चुकी है. बस मैंने अपने बचे हुए लौड़े को भी एक और बड़े झटके के साथ उसके अन्दर उतार दिया.

ब्लूटूथ सेक्सी सेक्सीमैं समझ गया कि इस फोरप्ले से ही गीली हो गई है।फिर मैंने अंजलि को बोला- अब नहीं रहा जा रहा है, अब मेरे को भी आजादी चाहिए।प्रिय पाठको, आपको इस भाभी वांट सेक्स कहानी में मजा आ रहा होगा. अब रुकना मेरे लिए मुश्किल था, मैंने उसको सीधा लिटाया और उसकी टांगों के बीच आ गया.

बीएफ मूवी प्लेयर

अगले दिन सुबह फिर से चाची ने मुझसे कहा- राकेश साथ चलो, आज खेत में जाना है. कोमल भाभी का कसा हुआ 36 नम्बर का ब्लाउज, होंठों पर सुर्ख लाल लिपस्टिक, उसके ऊपर गहरा लिपलाइनर एक अलग ही छटा बिखेर रहा था. तो उसने मुझे भी साथ चलने का आफर किया, बोला- कंपनी का तो सिर्फ दो दिन का ही काम है.

चाची दर्द से ‘आहहह आह आहहह …’ करने लगी और मैं लंड को अन्दर बाहर अन्दर बाहर करके धक्के लगाने लगा. आज की सेक्स कहानी मेरे एक पाठक और मेरे दोस्त दीपक जी ने भेजी है जो कि अपने सेक्स जीवन में काफी परेशान रहते थे लेकिन उन्होंने अपने एक दोस्त की मदद ली और आज एक अच्छा सेक्स जीवन जी रहे हैं. उसके बाद उसने बताया कि उसकी ग्रेजुएशन अभी कंप्लीट हुई है और वो अभी कंप्यूटर और टैली सीख रही है.

दोस्तो, ये मेरी पहली सेक्स कहानी है, हो सकता है कि कोई गलती हो गई हो, मगर एकदम सत्य घटना है. वो आगे कुछ बोलती, उससे पहले मैंने उससे कहा- वो तो मैंने गलती से बोल दिया था और उसके लिए तुमसे माफ़ी भी मांगी थी. मैंने दोनों हाथ आंटी के मम्मों पर रखे और चोदते हुए आंटी के चेहरे को देखने लगा.

मुझे अपने ऊपर गुस्सा आ रहा था कि सुबह के नाश्ते के लिए भी पैसे नहीं बचे. मैंने हाफ में बची हुई दारू देखी और सीधे मुँह से ही बोतल लगा कर दो बड़े घूंट खींच लिए.

मैंने बुआ से पूछा- आप लाई हो क्या?वो बोली- नहीं यार, कंडोम का पैकेट तो मैं घर में ही छोड़ आई.

मैंने उनको पानी दिया तो वो मुस्कुराते हुए बोले- और सुनाओ सकीना कुश्ती में मजा आया या नहीं?मैं घबरा उठी- कौन सी कुश्ती जीजू?जीजू- अरे वही, जो तुम खिड़की के कोने से देख रही थीं. गुलाबाचे फुल दाखवामैं ब्रा नहीं खोल पा रहा था, तो मीना ने मेरी मदद करते हुए अपनी ब्रा खोल दी. गूगल बोलने वालाइतना कहकर मैंने मम्मी की चूचियां छोड़ दीं, मम्मी की टांगें अपने कंधों पर रख लीं और अपना लंड मम्मी की चूत में अन्दर बाहर करना शुरू किया. मन में ये आ रहा था कि यार आंटी‌ मुझसे बहुत बड़ी हैं और मेरी मम्मी की सहेली हैं, इनके बारे में मुझे ये सब नहीं सोचना चाहिए.

ये सुन कर मेरी ख़ुशी का ठिकाना ही ना रहा और मैं उनके मम्मों को प्यार से सहलाने लगा.

मैं चूत के अन्दर जीभ डालकर अपनी जीभ को ऐसे गोल गोल घुमाने लगा था, जिससे कोमल की उत्तेजना उसके चरम पर पहुंचने लगी थी. इतना सुनते ही उसने कहा- नहीं बिल्कुल नहीं, मैं नहीं खेलती, ऐसे सिंपल खेलना है तो खेल … नहीं तो रहने दे. धीरे धीरे मैंने कोमल की सलवार के अन्दर हाथ डाल दिया और उसके सेक्सी चूतड़ों पर अपने हाथ को पहुंचा दिया.

मैं तड़पती रहती हूँ पर अब नहीं तड़पूँगी, अब तो मैं तेरे से ही मजे लूँगी. तो मजा लें इस अंकल पोर्न स्टोरी का!जो नए पाठक मेरी कहानी पहली बार पढ़ रहे हैं, उन्हें मैं अपने बारे में बता देती हूँ. माधुरी ने कहा- मैं हमेशा चूत साफ रखती हूँ, पर इस शॉप की भागदौड़ में वक़्त नहीं मिला.

बीएफ वीडियो कुत्ता

मैंने चाची की तरफ देखा तो वो बातों का लुत्फ़ ले रही थीं; उनकी नजरें मुझसे मिल ही नहीं रही थीं. बुआ की गांड में लंड घुसा तो उनकी ‘ऊईई … मर गई … आंह बचाओ कोई इस राक्षस से … आंह बचाओ …’ आवाज निकल गई और वो दर्द से कराहने लगीं. मैंने पहले कभी इतना अच्छे से नोटिस नहीं किया था और कभी उसके बारे में कुछ उल्टा सीधा नहीं सोचा था.

कभी मैं ऊपर की तरफ़ रगड़े मारता, कभी हल्के जोर से लंड का टोपा उसकी चूत में घुसाने की कोशिश करता.

डिंपी- फिर इसकी आदत डाल लो, क्योंकि अभी तुम्हें और भी बहुत कुछ करना पड़ेगा.

पहले तो हम दोनों एक दूसरे को ऐसे ही खा जाने वाली नज़रों से देखते रहे, फिर एक झटके से एक दूसरे की बांहों में चिपक गए. आंटी भी बार बार मुझसे लंड चूत में डालने की कह रही थीं, पर मुझे उनको अभी और तड़पाना था. सेक्सी फिल्म भाईमुझे छोड़ कर शेखर जाना नहीं चाहता था लेकिन कोई और रास्ता ना होने के कारण उसको जाना ही पड़ा.

सामने फिल्म चल रही थी मगर मुझे तो भाभी को चोदना था तो मैंने नाटक किया कि जैसे मुझे बियर पीने के बाद नशा चढ़ गया है. उस रात चार बार चुदाई का खेल हुआ और वो पूरी तरह से चुदाई में खुल गई थी. भाभी ने सारा पानी मेरे मुंह में छोड़ दिया और खुद निढाल होकर पड़ गई.

फ़िर मैंने जैसे ही उसकी साड़ी को दोनों हाथों से पकड़कर उसकी कमर तक उठाया, वो झटककर मुझसे दूर हो गई. मैं चूंकि चाची के साथ ही रहता था तो चाची अपना हर काम मुझसे ही करवाने लगी थीं.

वो कुछ नहीं बोली, बस अपने हाथ से अपने दूध को मेरे मुँह में देती रही.

चौड़ी छाती, देखने में एकदम बॉलीवुड मूवी के किसी विलेन जैसे लगते थे. वो बिस्तर पर इतना मस्त खेलने लगी थी कि कभी कभी तो मुझे खुद भी लगने लगता था कि ये साली मुझे पूरा खा जाएगी. बुआ कमर उठा उठा कर चुदाई का मज़ा लेने लगीं और मैं झटके पर झटके लगाने लगा.

बच्चों की मालिश मैं और जोर जोर से साक्षी की चूची को अपने मुँह में और अन्दर तक खींच लेता और जोर जोर से निप्पल को अपने होंठों में दबा कर अन्दर भींच लेता. मैं तभी समझ गया कि ये भी चुदाई के लिए तड़प रही है, तभी उंगली डालकर अपनी प्यास बुझा रही है.

कसम से मम्मी के वो बड़े बड़े मम्मे और उनके ऊपर वो काले चूचे देखकर ऐसा लगता है कि बस उनको पकड़ कर चूस लो. दोस्तो, जितना मज़ा मुझे गांड चोदने में आता है, मेरी चाची को उससे ज्यादा आता है. थोड़ी देर बाद मॉम की फिर से आवाज घबराई हुई आई- आदर्श जल्दी से आ … बाथरूम में बिच्छू निकल आया है.

बीएफ वीडियो सनी लियोन के

मैंने अपने दोस्त से फोन पर कहा- भाई, एक दिन के लिए अपने रूम की चाबी दे दे. शबाना के एटीट्यूड से साफ जाहिर था कि वह अहसान आज और अभी उतारना चाहती थी. मैं अपनी पढ़ाई के चलते शहर में रहने लगा था और वो गांव में ही रह रही थी.

फिर उसे कुतिया बनाकर शुभी को बिना बताए उसकी गांड में अपना लन्ड डालने लगा।मगर उसकी गांड इतनी कसी थी कि एक बार में मेरा लन्ड अन्दर घुसा ही नहीं. फौजी बाबू शादी और सुहागरात के अगले ही दिन ड्यूटी पर चले गए थे और करीब एक साल से छुट्टी न मिलने से घर नहीं आ सके थे.

जब मैं कॉलेज की पढ़ाई के लिए हॉस्टल में रहने आया, तब तो मानो मैं आज़ाद हो गया था.

मैं उसको अपनी तरफ खींचते हुए उसकी चूत चाटने लगा।वो भी मदहोश होके बोलने लगी- उम्म आह म्म्ह … हां और तेज चाटो आर्यन … और तेज … कब से भरी पड़ी थी टंकी … आज खाली कर दो इसे!मैं भी तेजी से उसकी चूत चाटने लगा और अपनी जीभ उसकी चूत के अंदर डाल कर उसके चूत के दाने के साथ खेलने लगा. मैंने अपने हाथों से चाची के सर को थोड़ा ऊपर उठाया और अपना लंड चाची के मुँह में डाल कर ज़ोर ज़ोर से धक्के लगाने लगा. मुझे सोते समय नंगे होकर सोने की आदत है तो मैंने अपना अंडरवियर निकाल दिया था.

सब कपल्स को देखकर अब मुझे भी लगने लगा था कि मुझे भी किसी को पटा लेना चाहिए. फिर उन्होंने मेरे लेट आने का कारण पूछा तो मैंने बता दिया कि अच्छा रिज़ल्ट लाने के लिए घर वालों ने मेरी ट्यूशन लगवा दी है. जैसे ही आंटी ने अपना हाथ मेरी ज़िप के ऊपर किया, मैंने भी शॉल के अन्दर से अपना हाथ उनके मम्मों पर रख दिया और एक को सहलाने लगा.

माशाल्ला … क्या तराशा हुआ बदन था … उसका संगमरमर सा … ताजमहल के जैसा तराशा हुआ बदन … मेरे सामने था.

करवा चौथ की बीएफ सेक्सी: मैं मॉम से पूरी तरह सटा हुआ था और मैं उनके बड़े बड़े चूतड़ों को बहुत बुरी तरह मसल रहा था. उसके बाद मैंने उसे फोन किया और पूछा कि मज़ा आया क्या?तो वो शर्मा गई.

क्या जबरदस्त मस्ती भरा अहसास हो रहा था चूत में!और एक जोर के झटके के साथ सब कुछ शांत हो गया. डिंपी- ओह, फिर तो बहुत लकी हो तुम, मेरी किस्मत में तो वो भी नहीं है. मैंने एक जोर का झटका दिया और मेरा करीब आधा लंड चूत को चीरता हुआ अन्दर चला गया.

मैं तो आज बहुत खुश था क्योंकि आज मुझे इतने मस्त गदराये औरसेक्सी बदन वाली औरतजो चोदने को मिली थी.

थोड़ी देर के बाद मैंने अपनी गति को तेज किया और उसे खूब जोर से चोदने लगा. आंटी का नाम नम्रता था और वह बैंगलोर से लगभग 100 किलोमीटर दूर मांड्या में रहती थी. फर्स्ट पुसी फक़ स्टोरी में पढ़ें कि मैंने कभी चूत नहीं मारी थी क्योंकि मैं शर्मीला था.