बीपी बीएफ चोदा चोदी

छवि स्रोत,सेक्सी डाउनलोड करें सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

कॉलेज की लड़कियों का: बीपी बीएफ चोदा चोदी, उसके मुँह से थूक बह कर मेरे लंड को सराबोर कर रहा था, पर वो उसी थूक को ले कर दोनों हाथों से मेरे लंड की मसाज कर रही थी.

इंडियन मूवी सेक्सी फिल्म

मैं बोली- हां फाड़ दे साले … डाल दे पूरा लंड मेरी चुत में … मैं भी देखती हूं, तेरे लंड में कितना दम है. 10 फिल्म सेक्सीमुझे लग रहा था कि मेरी चूत में जैसे आग जल रही हो और किसी ने मेरे दोनों पैर फैला कर चीर डाले हों.

उसने मुझसे भी साथ में चलने के लिए कहा क्योंकि मैं रिश्ते में उसका भाई लगता था. विदेशी सेक्सी नंगी फिल्मधीरे धीरे बात होने भी लगी और शायद आंटी को हमारी बातें ठीक नहीं लग रही थी.

हे दाता! ये किस झँझट में फंस गया मैं? अब तो यहां से जल्दी से जल्दी निकल भागने में ही भलाई थी पर नाड़े की गाँठ तो अभी भी नहीं खुली थी.बीपी बीएफ चोदा चोदी: मैंने फिर से उसको अपनी बांहों में पकड़ा और उसकी गर्दन को चूमने लगा.

मैं डर गया।मैंने पूछा- आप यहाँ कैसे?भाभी- तेरे भाई से लड़ाई हो गई, मैं अब तेरे पास ही सोऊंगी।मैं- पागल हो क्या आप?भाभी- कुछ भी समझ ले, मैं नहीं जाने वाली।मैं- भाभी किसी को पता चला तो गड़बड़ हो जायेगी.ये जुलाई का महीना था, मानसूनी मौसम था, सो कुछ ही देर में बारिश होने लगी.

भोजपुरी वीडियो देहाती सेक्सी - बीपी बीएफ चोदा चोदी

अब मैं चाची और अपनी बहन कोमल की चुदाई की कहानी याद करता हुआ अपना लंड हिलाने लगा.जैसे ही उसने मेरे लंड को देखा, तो काँप कर बोली- देवर ज़ी आपका लंड तो बहुत ही बड़ा है.

मैंने एक हाथ से अपना मुँह दबाया और दूसरे हाथ से उसके सर पे प्यार से बालों को सहलाने लगी. बीपी बीएफ चोदा चोदी पर ये सब दूर दूर से हो रहा था, मेरे बदन को छूने की उनकी हिम्मत नहीं हो रही थी, या फिर वो मुझसे ग्रीन सिग्नल मिलने की राह देख रहे थे.

सोनू ने एक बार तो पीछे हटने की कोशिश की मगर मैंने उसकी गर्दन को नहीं छोड़ा.

बीपी बीएफ चोदा चोदी?

मुझको मज़ा आया, तो मैं उसे लिफ्ट देने के लिए अपनी चूचियों को उभार देते हुए उसकी तरफ ललचाई और मदभरी आंखों से उसकी ओर देख कर बोली- ओह्ह अंकल. वसुन्धरा”हुँ …”जानती हो … मेरे दोनों हाथों में क्या हैं?” मैंने शरारत भरे लहज़े में पूछा. उसने कहा- नहीं, फिर कभी!मैंने कहा- नहीं!और मैं बैठा रहा और उसे भी बैठना पड़ा.

मैं और रश्मि दिन में एक बार और रात में दो बार चुदाई जरूरी में करते ही थे. वो मेरे लंड को पकड़ कर अपने मुँह में लेने लगी- मैं बिना लंड लिये पहली बार इतना झड़ी. उसके बाद उसने कहा- मैडम, अगर आपको और भी चुदाई करवानी है तो आपको उसके लिए एक्सट्रा चार्ज देना होगा.

अब तक आपने पढ़ा कि मैंने आंटी की चूत से लेकर गांड तक को अपनी जीभ से बड़ी देर तक चाटा, जिससे आंटी की हालत बड़ी खराब हो गई थी. अब गिन्नी गर्भवती है और मुझसे दूर है लेकिन मुझे कोई दिक्कत नहीं क्योंकि बेबी तो है. उस वक्त मेरी उम्र 25 साल की थी, जब मैंने पहली बार इस गांड मारने की विधा का अनुभव किया.

आप मुझे मेल करते रहें और मुझे अपने विचार भेजते रहें, जिससे मुझे आगे कहानी लिखने की प्रेरणा मिले. वहां मैंने उसे किसी फूल की तरह लेटाया और उसके ऊपर खुद भी लेट कर किस करने लग गया।मैं किस करते-करते नीचे की ओर जाने लगा.

आप सबके द्वारा मेरी ईमेल[emailprotected]पर भेजे गए विचारों से मैं आपका आभारी हूँ और उम्मीद करता हूँ कि आगे भी आपकी उम्मीदों पे खरा उतर सकूँ.

बीच बीच में वो अपने पे माथे पे आ रहे बालों को पीछे करती तो और भी सुन्दर लगती.

सच बात तो ये कि मैं किसी को अपना कौमार्य समर्पित करूं तो वो कम से कम मेरे मन को अच्छा तो लगे, अब इतनी भी गयी गुजरी नहीं थी मैं कि किसी को भी अपनी बेदाग़ जवानी, अपनी सील बंद चूत यूं ही परोस दूं. पहले बुरके के ऊपर से वो मेरी गांड दबाने लगा, फिर अन्दर हाथ डाल दिया. कमसिन कॉलेज गर्ल के साथ मेरी सेक्स कहानी में अभी तक आपने पढ़ा कि डॉली को चोदने के बाद हम दोनों नंगे ही लिपटकर सो गये.

उसका बोलना ही था कि मेरे एक हाथ की दो उंगलियां धीरे-धीरे उसकी जांघों पर चलने लगी. मैंने बहाने से पीछे हाथ किया तो मेरे हाथ पर कुछ तनी हुई आकार वाली चीज़ छू गई. कुछ दूर चलने के बाद उसमें एक बहुत ही सुन्दर लड़की आकर मेरे साथ बैठ गई।क्या बताऊं दोस्तो, उसकी उम्र 21-22 साल के आस-पास थी.

मैंने इशारे से मेरे फारिग होने की सूचना दी, वो पास बैठी और मग में पानी लेकर मेरी गांड धोने लगी.

मैंने उसके निप्पलों को अपनी एक उंगली और अंगूठे के बीच में दबा कर मसला तो वो उसके मुंह सिसकारी निकल गई. मैंने उठ कर देखा तो भैया और भाभी अभी तक भी नहीं आये थे और संजीव आंखें बंद किये हुए था. चाचा के घर से निकल कर मैंने सोचा कि मैं कौसर को बता देता हूँ कि मैं देर से आऊंगा, नहीं तो वो नाहक मेरा इंतजार करेगी.

घर में कोई नहीं था इसलिए हम दोनों नंगे सोफे पर ही एक दूसरे को सेक्स का मजा दे रहे थे. तभी उसके पापा यह कहते हुए घर के अंदर जा घुसे- चलो चलो! अंदर चलो यार! बहुत भूख लगी है. धीरे धीरे उसका मौसम फिर से बना, तो उसने मुझे सोफे पर टांगें चौड़ी कर लिटा दिया.

खाना खाकर पहले की तरह ही मैं टीवी चालू करके बैठ गया और मोनी बर्तन आदि साफ करने लग गयी। मोनी अभी भी मुझसे बात नहीं कर रही थी.

मैंने मोनिषा को सीधा लेटाया और लंड उसकी चुत पर सैट करके उसकी गांड पकड़ कर अन्दर की तरफ धक्का दे दिया. जब तो काफ़ी मज़े से चूत चाट रहे थे तुम अपनी भाभी की … और वो भी बड़े चाव से देवर का लंड चूस रही थी.

बीपी बीएफ चोदा चोदी मेरा बेटा मेरी गांड में अपना मूसल जैसा लंड ऐसे पेल रहा था, जैसे रियल में कोई घोड़ा किसी घोड़ी को चोद रहा हो. सूट की कमीज पे हल्के लाल रंग के फूल और उसी रंग का उसका दुपट्टा, उस पे बहुत फब रहा था.

बीपी बीएफ चोदा चोदी मैं समझ गया कि वो आदमी मामी से डबल मीनिंग वाले शब्दों में बात कर रहा था. ज़ायरा की बगल से बहुत ही मादक खुशबू आ रही थी, जो उसके पसीने ने ओर भी मादक बना दी थी.

वह बोली- यह क्या किया? तुमने तो मेरी ब्रा फाड़ दी।मैं बोला- कोई बात नहीं आंटी मैं नई लाकर दे दूंगा।फिर मैंने उसकी पैंटी खोल दी.

हरियाणवी सेक्सी चूत

मैं उनके ऊपर आ गया और उनके होंठों को चूसने लगा, पूरे चेहरे पर चूसने लगा. सोनू ने एक बार तो पीछे हटने की कोशिश की मगर मैंने उसकी गर्दन को नहीं छोड़ा. मेरी इस रंगीन चूत चुदाई की कहानी पर आपके मेल का मुझे इन्तजार रहेगा.

अब तो वो मुझे देख कर घूंघट भी नहीं करती थी, बल्कि मेरी तरफ गुस्से से देखती थी. अब तक आपने पढ़ा कि मैंने आंटी की चूत से लेकर गांड तक को अपनी जीभ से बड़ी देर तक चाटा, जिससे आंटी की हालत बड़ी खराब हो गई थी. आंटी ने भी अंकल को कस कर पकड़ा हुआ था और नीचे से अपनी कमर उठाकर धक्के लगा रही थीं.

कुछ ही देर में मेरे लंड से वीर्य का फव्वारा छूटा और उसका मुंह मक्खन मलाई से भर जिसे वो गटक गई.

इसलिए समीरा के जाते ही वह साहिल की टांगों के बीच में जाकर नीचे जमीन पर बैठ गई. कुछ दिन मैंने इंतजार किया कि किसी तरह मानसी की चुदाई करने का मौका मिले लेकिन ऐसा कोई भी अवसर हम भाई-बहनों के हाथ नहीं लग पा रहा था. मैंने ज्यादा देर न करते हुए उससे बातों बातों में उसके ब्वॉयफ्रेंड के बारे में पूछा, तो उसने बताया कि उसका ब्वॉय फ्रेंड है.

मगर मैंने प्रयास जारी रखा और धीरे-धीरे करके उसकी चूत में लंड को अंदर तक प्रवेश कराता रहा. अब कॉफ़ी की जलन तो कम हो गयी थी पर अंदर काम ज्वाला भड़क गयी थी, राहुल के हाथों में रजनी के बड़े बड़े मम्मे थे. मैंने कहा- आप तो शादीशुदा हो, तो आप इतना क्यों चीख रही हो?भाभी- मैंने कभी इतना मोटा लंड नहीं लिया, मेरे पति का लंड भी तेरे लंड से छोटा और पतला है.

मेरी सीट साइड लोअर सिंगल बर्थ थी अकेली की, उसके ठीक ऊपर मेरी सास की साइड अपर सिंगल बर्थ थी. मेरी मां उस गाड़ी को देख रही थी लेकिन न जाने क्यों वह अंदर नहीं गई। उस बस के जाने के बाद फिर वही बस आई जिसमें मेरी मां को एक अजनबी से मजा मिला। मां उस बस में चढ़ गई परंतु थोड़ी झिझकते हुए.

इसलिए भाभी मुझे देखते ही सबसे पहले अपनी मैक्सी का गला ठीक करती थीं. जब आगे जाती तो आधे से ज्यादा लण्ड बाहर निकल आता लेकिन पीछे की और धक्का मारती तो लण्ड का सुपारा उसकी नाभि से टकराता. नम्रता ने भी अपनी जीभ को सुपारे पर चलाई और फिर मुँह के अन्दर लंड को ले लिया, तभी लंड ने वीर्य रस को छोड़ना शुरू कर दिया.

कोई दस मिनट लंड चूसने के बाद भी मेरा पानी नहीं गिरा, तो वो हैरान होकर मेरा मुँह देखने लगी.

उन्होंने अंदर कुछ नहीं पहना था इसलिए वो पूरे नंगे हो गए।जैसे ही अंकल की लुंगी खुल गई उनका लंड मेरी मां के सामने आ गया। मेरी मां उसे देखती रह गई. कुछ देर बाद वो वापस बोला- लेकिन आपके कपड़े? वो तो पूरे गीले हो चुके हैं. बस अगले पल ही उसका पूरा जिस्म ढीला हो गया और कसे हुए पैर अलग हो गए.

जब तक मैं वहां पर रहा मैंने भाभी की चूत को चोद-चोद कर चौड़ी कर दिया. मैं जान गयी थी कि वो मुझ पर लाइन मारने की कोशिश कर रहा है लेकिन मैंने इस बात को नॉर्मली ही लिया.

आपको तो पता ही है मैं तो खेली-खाई हुई हूं, मैंने उसकी नजरों को ताड़ लिया कि वह मुझे किस नजर से घूर रहा है. अपनी पैंट को खोलते हुए जीजा बोले- बंध्या, तू तो बहुत ही चुदक्कड़ है. बंटी बोला- फिर आगे?फिर मैं नीचे आ जाता और आपका लंड बाहर निकाल कर धीरे से लंड की टोपी पे अपनी जुबान फेरने लगता.

सेक्सी बीएफ चुदाई धकाधक

कुछ देर पहले ही भाभी मेरे साथ झड़ चुकी थीं तो उनकी चुत पूरी गीली हुई पड़ी थी.

थोड़ा मुँह चुदाई के बाद, उसको पहले वाली पोजिशन में किया और चूत और गांड एक साथ बारी बारी से लंड पेल कर चोदने लगा. क्योंकि मैंने अभी तक यही पढ़ा था कि नई चूत में लंड जाता है तो लड़की चीखती चिल्लाती है. दो घण्टे चलने के बाद बाथरूम वगैरह जाने के लिए बस रुकी और मेरी सलहज शान्ति देवी चलकर संवाहक के पास आई और मेरी तरफ देख कर कहने लगी कि कंवर साहब पीछे गाड़ी उछलने के कारण मेरी हालत खराब हो रही है.

मुझे भी अब ये खेल थोड़ा थोड़ा समझने आ रहा था, लेकिन नशे के वजह से मैं ज्यादा सोच नहीं रहा था. तस्वीर में स्त्री पुरुष जो कर रहे थे, वो मैं और अंकल … मैं मन ही मन ऐसा सोच कर शर्मा गई, पर चुत की खुजली शांत नहीं बैठने दे रही थी. हिंदी इंग्रजी सेक्सी व्हिडिओमॉल में जाकर भी मुझे काजल से अकेले में बात करने के कुछ लम्हे नसीब हो ही गये.

मैंने आंटी की बुर से लौड़ा निकाला और आंटी के पेट पर बैठ कर दोनों चूचों के बीच में आंटी की चुत रस से भीगे लौड़े से चूचों की चुदाई करने लगा. ऐसा कहकर दरवाजे की ओर चलने को हुई तो मैंने कहा- मैंने भी आपसे कुछ पूछना है.

मेरे पापा जॉब करते हैं, इसलिए वे तैयार होकर अपनी जॉब के लिए निकल गए. अब शादी आ गई है तो अपना वादा भूलना नहीं और पूरे परिवार के साथ चार-पांच दिन पहले पहुँच जाना और शादी की जिम्मेदारी संभालो आकर!मैं भी बहुत उतावली हो रही थी अपने भाई की शादी में जाने के लिए तो मैंने चाचा और चाची को बोला- ठीक है, हम सब पांच दिन पहले पहुंच जाएंगे. जिससे ज़ायरा कामुक सिसकारियां ले रही थी- ओह्ह यशसस … इस्स … ऐसे ही और जोर से चूसो डियर … यस!फिर मैंने उसे बेड पर लिटाया और उसके शॉर्ट्स को निकाल दिया.

उसके गुलाबी रंग लिये निप्पलों का तनाव देख कर मैं उसके चूचों पर टूट पड़ा. साफ़ था कि यह मेरी बीवी की चूत का पानी था जो अब्बू से उसकी चुदाई के दौरान निकला था. अब तक आपने पढ़ा था कि नम्रता और मेरी चुदाई सारी रात छत पर चलने के बाद कमरे में भी होने लगी.

मैंने भाभी से देर न करते हुए कहा- दसो जी कदो ऑना और केमे आना? (बताओ कब आना है और कैसे आना है?)मैं मन ही मन बहुत खुश था कि कब भाभी से मिलूं और कब उसके साथ जोर जोर से सेक्स करूं.

एक बार हम दोनों सेक्स की बातें कर रही थी तो हम दोनों ही गर्म हो गईं और हमने उस दिन थोड़ा बहुत सेक्स भी किया. जब बात मर्द वाली आ जाती है तो कोई भी मर्द अपनी बेइज़्ज़ती नहीं करवा सकता.

रजनी कभी कॉफ़ी बनाती तो कभी चाय … वो कपड़ों से उतनी ही लापरवाह थी, पर अब राहुल और उसके मन में कोई पाप नहीं था. फिर जब हमारे होंठ अलग हुए, तो अदिति मेरी तरफ देख क़े मुस्करायी और मेरे माथे पे और गालों पे किस करके मेरे ऊपर ही लेट गयी. वैसे भी वो बहुत देर से इस टॉपिक पर बातें कर रही थी इसलिए मैंने खुद को रोका हुआ था.

मैं तो सोच रहा था कि पता नहीं भैया इस सेक्स की प्यासी भाभी के सामने कैसे टिक पाते होंगे. इस तरह से उस रात मैंने तीन बार उस भाभी की चूत चोदी और वो खुश हो गई. साहिल- कहीं प्यार-व्यार का चक्कर तो नहीं?हीना- नहीं मामा, ऐसी कोई बात नहीं है.

बीपी बीएफ चोदा चोदी जैसा मैंने आपको पहले ही बताया मैं यानि मैं मादरचोद तो हूँ, मैं गंदे इशारे करता हूँ … मगर जबरदस्ती नहीं करता हूँ. हैलो दोस्तो, मैं अक्षय (नाम बदला हुआ) आज आपके सामने मेरी फंतासी कहानी लेकर आया हूं।तो आपका ज्यादा समय न लेते हुए आपको बता दूं कि मेरी फंतासी है कि मेरी मां मेरे दोस्त के पापा से चुदे। हो सकता है आपको माँ की चुदाई की कहानी अच्छी न लगे, इसलिए जो पाठक माँ की चुदाई नहीं पढ़ना चाहते हैं वो अन्तर्वासना पर अन्य गर्म कहानियों का मजा ले सकते हैं.

sex videos हिंदी

बंटी जी उठ गए और सनी जी ने सीधा जोर से कूदते हुए अपना लंड एक सेकंड में अन्दर पेल दिया. जिससे ज़ायरा कामुक सिसकारियां ले रही थी- ओह्ह यशसस … इस्स … ऐसे ही और जोर से चूसो डियर … यस!फिर मैंने उसे बेड पर लिटाया और उसके शॉर्ट्स को निकाल दिया. जी में आया कि अभी पकड़ कर इसका ब्लाउज फाड़ दूँ और इसके मम्मों का रस पी लूँ.

मैंने उसको पीछे घुमाते हुए अपना हाथ आगे की तरफ डाल कर उसका एक बोबा मसलना शुरू कर दिया, वहीं दूसरा हाथ उसकी जांघों पर फेरना शुरू कर दिया. उसका नाम पूछा तो उसने अपना नाम सोनू (बदला हुआ) बताया। धीरे-धीरे मैंने उससे उसके बारे में पूछा तो पता लगा कि वो भी मेरे कोचिंग सेंटर में ऑटो कैड सीखने जा रही है।मैंने उसे अपना परिचय दिया और बताया कि मैं भी वहीं से कोचिंग ले रहा हूं।मगर मेरे मन एक सवाल चल रहा था कि मैंने उसको कभी पहले अपने कोचिंग सेंटर में नहीं देखा था. सेक्सी दो भाईसोनल भाभी अब ब्रा और पैंटी में मेरे सामने पड़ी थी और किसी नागिन की तरह तड़प रही थी बिस्तर पर लेटी हुई.

शायद उसे आदत होगी वहाँ लड़कियां ले जाने की।वो बिना गेट पे रुके गाड़ी बिल्डिंग के अंदर ले गया और रोक दी।हम दोनों गाड़ी से उतरी और लिफ्ट से हर्षिल के फ्लैट के बाहर पहुंच गयी। क्योंकि फ्लोर पे कोई नहीं दिख रहा था तो हम दोनों ने शरारत में अपना कोट उतारा और सेक्सी अंदाज़ में टाँगें मोड़ कर खड़ी हो गई और डोर बैल बजाई।जैसे ही उसने गेट खोला वो हैरान हो गया और मुंह खोल के देखने लगा.

ये देख कर मेरे चेहरे पर कुटिल मुस्कान आ गई और मैंने उसे घूरते हुए एक बार नजरें उसके ब्लाउज के अन्दर कैद चुचियों पर डालीं. इस वक्त ताऊ जी ऐसे लग रहे थे जैसे चाची की चूत पर वो दंड पेल रहे हों.

मेरी चूत के छेद पे लंड टिका कर उसने धक्का मारा तो उसका लंड मेरी चूत में चला गया. अंत में तंग आकर अमृता ने उन लोगों से मिलने जाना बंद कर दिया तो उसके बॉयफ्रेंड ने अमृता के प्रेम पत्र सबको दिखाने शुरू कर दिए. आई मम्मी रे … मर गयी … मैं!” मेरे मुंह से चीत्कार निकली जिसे दबाने का उन्होंने कोई प्रयास नहीं किया.

जल्दी से घर में फोन लगाया और गाड़ी की लाइट खराब होने का बोलकर देर होने की वजह बताई.

वो कहने लगी- अरे राजा जन्नत का सुख दे रहे हो, बस इसी तरह मेरी गांड मारते रहो. वो मुझे जिम के कसरत करने के मशीन के पास ले गए और पोजीशन बना कर बारी बारी फिर से मेरी चुदाई की. मैंने कहा कि अगर तू वो लिक्विड अपने होंठों पर लगाएगी, तो वो सॉफ्ट और पिंक हो जाएंगे.

xx सेक्सी व्हिडिओलेकिन लड़कियां फिर भी अपनी भावनाओं को छिपा जाती थीं लेकिन लड़कों की गांड से उठते धुंए की गंध मुझे साफ-साफ महसूस हो जाती थी. मैंने अपने हाथों से उसका लंड अपनी चुत पे सैट किया और धीरे धीरे अपने मजे की स्पीड से चुदवाने लगी.

साउथ बीपी वीडियो

कुछ देर के बाद वो भी जैसे मेरा साथ देने लगा, उससे लगा कि शायद इसे भी मज़ा आने लगा था. फिर मैंने धीरे-धीरे अपनी गति बढ़ाई और तेजी के साथ उसकी चूत की चुदाई करने लगा. उसका लंड मेरी चूत में पूरा फंस गया था और चूत को पूरी फैलाता हुआ अंदर और बाहर हो रहा था.

इसके बाद वह मेरे पास आकर खड़ी हो गयी और पूछा- कैसा लगा सरप्राइज़?मैं क्या बोलता … मैंने कहा- तुम्हें पहले बताना चाहिए था. चूंकि मेरी माँ के गुजर जाने के बाद मानसी और मैं अकेले ही रहते थे इसलिए गीता मौसी अक्सर हमारे पास कुछ दिन ठहरने के लिए आ जाया करती थी. मैं मन ही मन समझ गया था कि सीमा भाबी भी अपनी चुत मुझसे चटवाना चाहती हैं.

पहले बुरके के ऊपर से वो मेरी गांड दबाने लगा, फिर अन्दर हाथ डाल दिया. वैसे तो वो पंजाब की थी, लेकिन उसके हज़्बेंड अपनी जॉब के लिए यहां काफ़ी दिनों से रह रहे थे. मैंने नोट किया कि वसुंधरा का पूरा गोरा पेट बिल्कुल सपाट और अंदर को धंसा हुआ था, जरूर वसुंधरा नियमित तौर पर जिम जाती थी या प्राणायाम जैसा कोई योगा करती थी, नहीं तो … कोई नियमित कसरत नहीं करने वाले पतले लोगों में भी अक्सर नाभि के नीचे पेट थोड़ा सा बाहर को निकला ही रहता है.

और जब मैं लंड बाहर खींचता, तो दीदी भी अपनी गांड को दबा कर झटके के लिए तैयार कर लेती. मेरे चुदाई के और भी अनुभव रहे हैं, जिन्हें मैं आगे आपके साथ शेयर करता रहूँगा.

ये सीन देख कर मेरा भी हाथ रूक नहीं रहा था, अपने आप सुपाड़े पर चलने लगा.

मेरी पड़ोसन भाभी के बारे में लिखते हुए मेरा लंड ऐसे तन गया था कि मुझे मुट्ठ मारकर उसको शांत करना पड़ा. नई सेक्सी वीडियो सुहागरातएक दिन मेरी पत्नी ने बताया कि तीन लोगों का परिवार है, भाभी, उनका बेटा और बहू. लाइव सेक्सी वीडियो लाइव सेक्सी वीडियोहम एक दूसरे में इतने खो गए थे कि एक दूसरे का साथ छोड़ ही नहीं रहे थे. अब मैं वो टीचर के बारे में बता दूँ … उनकी उम्र 40 साल के आस पास होगी और उनके बूब्स का साइज 34 या 35 के आसपास होगा और गांड भी 40 की होगी मतलब कुल मिलाकर चोदने लायक थी.

अब मैंने पूनम से कहा- मैं अंदर ही डाल दूंगा।उसने कहा- ठीक है, आप अंदर डाल देना लेकिन कल मेरे लिए दवाई ले आना नहीं तो मैं प्रेग्नेंट हो जाऊंगी।मैंने कहा- ठीक है, मैं अंदर ही डाल रहा हूं और तुम्हारे लिए दवाई ले आऊंगा।मैंने अपने माल को उसकी योनि के अंदर ही डाल दिया।उसके बाद मैंने थोड़ा सा उससे सकिंग करवाई। उसने बहुत अच्छे से सकिंग की और अब मैं और वह घर के लिए निकल गए।[emailprotected].

मैं मुनव्वर को लेकर घर पहुंचा तो कौसर कहने लगी- हमारे कमरे में मैंने छिपकली देखी है. ये सब देखते मैं उत्तेजित हो उठा, वासना की लहर सी दौड़ गयी मेरे शरीर में. उसकी नंगी पीठ पे चूमते हुए मैं उससे चिपक गया और अपना लौड़ा उसकी चुत में पेल दिया.

वो बाइक से उतर गई और घुटनों के सहारे बैठ गई, मैं खड़ा हो गया और लंड उसके मुँह के पास ले गया. वह उठी, मैंने उसकी कमर से पकड़कर उसको घुमाया और उसका चेहरा अपनी तरफ कर लिया. मैंने भाभी से देर न करते हुए कहा- दसो जी कदो ऑना और केमे आना? (बताओ कब आना है और कैसे आना है?)मैं मन ही मन बहुत खुश था कि कब भाभी से मिलूं और कब उसके साथ जोर जोर से सेक्स करूं.

bf वीडियो सेक्सी

उसकी एक जोर की चीख निकली- आआईई … उम्म्ह… अहह… हय… याह… मर गयी।फिर मैंने उसे प्यार से किस किया और धीरे-धीरे धक्के लगाने लग गया. मैं- सच!दीक्षा- अरे हां बाबा सच … अब बोलो!मैं- दीक्षा मैं बहुत दिन से फील कर रहा हूँ कि मैं तुमसे प्यार करने लगा हूँ, आई रियली लव यू. फिर वो मुझसे अलग हुई और मेरे लंड को अपनी चूत के अन्दर लेकर उछाल मारने लगी.

उसने शॉर्ट लीव के लिए मैनेजर से इण्टरकॉम पे बोला और मेरी तरफ देखते हुए घर जाने लगी.

मैं उठा और बाथरूम के अन्दर घुसा और आदत के अनुसार दरवाजा अन्दर से बन्द करने लगा.

दस मिनट में ही उसकी चूत ने मेरे वीर्य को मेरे अंडकोषों से बाहर खींच लिया और मेरा लंड उसकी चूत में वीर्य की पिचकारी मारने लगा. मैं झड़ने वाला था, करीब 4-5 झटकों में चूत में ही अपना लावा निकाल दिया. स्कूल टीचर स्टूडेंट सेक्सी वीडियोचूंकि उसकी चूत गीली थी और कई सालों से शायद उसने लंड भी नहीं लिया था इसलिए चूत नवयौवना की भांति लंड को अंदर नहीं ले रही थी.

थोड़ी देर मसलने के बाद उन्होंने मेरी मां के ब्लाऊज को खोलना शुरू किया और उसका ब्लाऊज उतार कर नीचे गद्दे पर फेंक दिया. मेरी गांड में अपनी जीभ को नुकीली करके अन्दर तक डाल कर वंश बोल रहा था- साली रंडी तेरी गांड … चूत … मुँह पूरा जिस्म मेरा है … साली कुतिया. लेकिन यह क्या, एक बार फिर नम्रता 69 की पोजिशन पर आ गयी और अपनी चूत को मेरे मुँह पर रखकर खुद लंड को मुँह में लेकर चाटने लगी.

वहां से मैंने कुणाल की पत्नी के लिए मेरे घर की तरफ से पोशाक और कुणाल के लिए भी कपड़े के लिए और शाम को वापस घर आ गए. उनकी चुदाई से मेरा मन नहीं भरता था, लेकिन के करूं, मेरे पति तो एक बार चोदने के बाद सो जाते थे और मैं अपनी चूत में उंगली करके सो पाती थी.

ज़िंदगी में पहली बार मैं किसी मर्द के ऊपर थी, शौहर ने मुझे कभी ऊपर नहीं आने दिया.

उसने कहा- नहीं, फिर कभी!मैंने कहा- नहीं!और मैं बैठा रहा और उसे भी बैठना पड़ा. सोनू ने एक बार तो पीछे हटने की कोशिश की मगर मैंने उसकी गर्दन को नहीं छोड़ा. मेरे लंड का नाप 6 इंच ही है, पर ये इतना मजबूत है कि किसी भी भाभी और लड़की की चीख निकालने के लिए काफी है.

पोर्न वीडियो सेक्सी चोदा चोदी मैंने पूरी ताकत से भाभी की चूत में दो धक्के लगाए और मेरा वीर्य उछल कर बाहर आने लगा. चाची बोली- बस कर, अगर किसी ने हमें ऐसे एक दूसरे के गले लगे हुए देख लिया मेरी भी फट कर हाथ में आ जायेगी.

कई बार मेरी उससे नजरें भी मिल जाती थीं, तो मैं अपनी नजर हटा लेता था. बाकी की डिटेल मैनेजर ने खुद ही हम दोनों को पति पत्नी मानते हुए भर ली. डिब्बे से लंड निकालने के बाद ताऊ जी ने अपने लंड को कोमल की चूत पर घिसा और उससे पैर फ़ैलाने के लिए बोला.

शुद्ध भोजपुरी बीएफ

थोड़ी देर मेरे स्तनों को मसलने के बाद उन्होंने मेरी शर्ट के बटन खोलने शुरू कर दिए, तो मैं वापिस होश में आ गयी, मैंने उन्हें बड़ी मुश्किल से दूर धकेला- अर्र … अंकल, रुको … आंटी आ गयी तो?आंटी को अन्दर गए बहुत वक्त हो गया था और वह कभी भी बाहर आ सकती थीं. मैंने हैरानी से काजल की तरफ तिरछी नजर करके देखा तो उसने अपना दुपट्टा अपने हाथ से ठुड्डी के नीचे इस तरह से दबाया हुआ था कि दुपट्टे ने सुमिना और मेरे बीच में एक दीवार सी बना दी थी और सुमिना की नजर इस तरफ पड़ ही नहीं सकती थी. मैंने पीछे मुड़कर उनको एक अच्छी सी स्माइल दी, उनके मुँह पर आश्चयर्जनक भाव देख कर मुझे हंसी आने लगी थी.

मैं भाबी को इमोशनल करते हुए बोला- भाबी हमने भी तो कभी चुदाई नहीं की है … आपको मेरी कसम है, आज सिर्फ़ मेरे कहने पर कर लो … इसके बाद मैं कभी आपको लंड चूसने के लिए नहीं कहूँगा. इससे पहले कि मैं कुछ और समझ पाता उसके लंड ने मेरे मुंह में वीर्य की पिचकारी मारनी शुरू कर दी.

फिर उसने अपने होंठों से शैम्पेन की बोतल को लगाया और एक लम्बा घूंट भर लिया.

पांच मिनट तक उसकी चूत को चोदने के बाद उसने फिर से कहा कि अब वो पलट जाये. हाँ मेरे दोस्तों की बात अलग थी लेकिन यहां पर तो मैं अपनी रिश्तेदारी में आया हुआ था और वो मेरी भाभी लगती थी. वो बोली- कोई बात नहीं चन्दन, तुम्हें पूरी छूट है तुम जो करना चाहो, कर सकते हो.

अंदर डालने के तुरंत बाद ही वो उनको आगे पीछे करते हुए मेरी चूत में अंदर और बाहर चलाने लगा. मेरा लंड पुनः टाइट हो गया था और उसने कहा- अब क्या करेंगे?मैंने कहा- ऐसे ही बैठ जाओ, कुछ करो मत. मैंने अपनी चाटने की स्पीड और बढ़ा दी और उसके क्लीट को भी चूसने लग गया.

मैं आप सभी को अगली सेक्स स्टोरी में बताऊंगा कि कैसे मैंने अपनी मोनिषा की गांड भी मारी.

बीपी बीएफ चोदा चोदी: मेरे लिए हर किसी के साथ सेक्स कर पाना या सेक्स चैट कर पाना संभव भी नहीं है. चूस लो इसे भाभी।मेरे कहते ही उसने मेरे लंड को अपने मुंह में भर लिया और तेजी के साथ उसको चूसने लगी.

हम दोनों अपनी वासना में बहे जा रहे थे।अब मैं धीरे से उसकी पैंटी की तरफ बढ़ा. आप लोगों ने मेरी कहानियों पर कमेंट करके मुझे ढेर सार प्यार दिया इसके लिए आप सभी पाठकों का बहुत-बहुत धन्यवाद. जो बात मैं आपको आज बताने जा रही हूं वह घटना आज से चार साल पहले की है.

जैसा कि औरतों की आदत होती है, नम्रता ने पूछ लिया- इस कुप्पी का क्या करोगे.

जब मैंने उसकी जांघों पर अपने कोमल हाथ फिराये तो मेरे अंदर एक चुदास सी जग गई. जब मैं ठंडी बियर उनके चूत में डाल कर चूसता, तो वो मदमस्त आवाज करते हुए चिल्ला उठतीं. मैं तब तक लेटा रहा जब तक कि मेरा लंड सिकुड़ कर खुद ही भाभी की चूत से बाहर नहीं आ गया.