देसी ब्लू फिल्म बीएफ

छवि स्रोत,हिंदी सेक्सी चुदाई वीडियो मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

कुत्ता और लेडीस सेक्सी: देसी ब्लू फिल्म बीएफ, मेरी इस बात पर उसने एक ही बार में मेरे हाथ से अपना पैग ख़त्म कर लिया.

मस्त सेक्सी फोटो

मैं अगले दिन अपनी ड्यूटी पर पहुंचा और उस कमरे में मैंने अपने तीनों मोबाइल अलग अलग ऐंगल में कैमरा मोड पर लगा दिए. सेक्सी ब्लू फिल्म चोदने वालामैंने देखा कि वो मेरी चूत के खून से सना हुआ था। मुझे खून देख कर टेंशन होने लगी। मैंने उसे साफ़ कर दिया और मैंने अपनी ताजी ताजी फटी चूत पर हाथ लगाया तो मेरे हाथ पर भी काफी खून लग गया था। मैं और घबरा गयी.

उसके बाद उन्होंने मुझे अपने रूम में बुलाया और कहने लगीं- शालू अभी छोटी है. सेक्सी वीडियो कैटरीना कपूर कामेरी चूत में दर्द के कारण लंड बर्दाश्त के बाहर होने लगा था और मैं उनसे रुकने के लिए कहने लगी लेकिन चाचा नहीं रुके और दो मिनट बाद फिर से मेरी चूत में अपना माल गिरा दिया.

भाई की बात सुन कर बिक्कू की गांड फट गई और फटाक से उठ कर कपड़े पहनने लगा.देसी ब्लू फिल्म बीएफ: दस मिनट किस करने के बाद मैं बोला- आप मुझे गलत तो नहीं समझी न?भाभी जी बोलीं- मैं आपको पसंद करने लगी हूं.

उसकी बात सुनकर मैं एन्ट्री गेट पर चला गया और पास चैक करके स्टाफ को अन्दर भेजने लगा.भाभी मादक अदा में वापस मेरे पास आकर मेरी गोद में ऐसे बैठ गईं, जिससे उनकी जांघें मेरी जांघों के दोनों तरफ थीं और उनके स्तन सीधा मेरे चेहरे पर लग गए थे.

ऐश्वर्या बच्चन सेक्सी वीडियो - देसी ब्लू फिल्म बीएफ

अचानक से उनकी नज़र ऊपर उठी तो उन्होंने मुझे वहां देखते हुए पकड़ लिया.उसने बोला- सेक्स दो जिस्मों का मिलन है, ये मिलन, मेल (नर) मेल के बीच हो, मेल फीमेल (मादा) के बीच, या फिर फीमेल फीमेल के बीच.

पर अब दीपा को कोई संकोच या डर तो था नहीं तो कभी कभी मनोज की गैरमौजूदगी में भी वो जला लेती. देसी ब्लू फिल्म बीएफ मैंने कहा- अपना पैर जरा उस नल पर रखके खड़ी हो जाओ ना …थोड़ी ना नुकुर के बाद उसने अपना पैर एक नल पर रख दिया.

मैंने उसकी आँखों में देखते हुए ही एक निप्पल को अपने मुँह में भर लिया.

देसी ब्लू फिल्म बीएफ?

इसका कारण ये था कि भाभी जब भी बाहर जाती थीं, तो सास के पास एक वाइब्रेशन मोड पर करके मोबाइल दे जाती थीं. ” कहकर गौरी रसोई में चली गई।थोड़ी देर में गौरी फिर से चाय बनाकर ले आई थी। अब तो वह बिना झिझके ही स्टूल के बजाये सोफे पर बैठने लगी थी।मैंने गाँव वालों की तरह गिलास से सुड़का लगाकर चाय पीना शुरू कर दिया। मेरी इस हरकत पर गौरी मंद-मंद मुस्कुराने लगी थी।गौरी एक बात बताऊँ?”हओ. पर उसे वहां सुरक्षित नहीं लगा। फिर उसने मुझे फैसला सुनाया कि हम सामने खड़ी हुई पुराने रेल के डिब्बे में जाएंगे। वो काफी दिनों से खड़ा हुआ डिब्बों का झुंड था शायद 6 य 7 डिब्बे।मैंने उसे मना किया पर उसने मुझे समझाया कि यहां कोई नहीं आता और अगर कोई आता भी है तो वो सब सम्हाल लेगा।मेरा मन तो नहीं था इतने असुरक्षित स्थान पर लेकिन हवस के आगे इंसान की नहीं चलती.

या फिर ऐसा कहें कि जब तक किसी लड़की के नर्म कोमल हाथ मेरे बदन को ऊपर से लेकर नीचे तक न सहलायें तो मुझे कुछ अधूरापन सा लगता है. एक रात करीब एक बज रहा था, गर्मी बहुत ही ज्यादा थी, तो मैं ऊपर जाकर कुछ देर बैठा रहा. अब आगे:कार में म्यूजिक बज रहा था, करीबन आधे घंटे बाद हम चित्रा के घर पर पहुंच गए थे.

मैंने उसकी इस बात पर दांव आजमाते हुए कहा- तो मुझे बना लो न अपना ब्वॉयफ्रेंड. मैंने उसे अपनी बांहों में उठा लिया और वहीं बिस्तर पर मोहिनी के पास लेटा दिया. परवीन आंटी के मुँह से प्यारी चीख निकली- आआह …उस चीख से मेरा पूरा बदन खिल उठा.

आज मुझे अपनी किस्मत पर भरोसा नहीं हो रहा था कि मैंने आंटी को लगभग नंगी देखा था. मेरे मुँह से चीख निकल गई- अह्ह्ह कौन है … लंड बाहर निकाल मादरचोद … मेरी गांड फट जाएगी.

वो जोर जोर से सिसकारियां लेते हुए अपनी गांड को मेरे मुंह की तरफ दबाने लगी और उफ्फ उफ्फ आह आह करके झड़ गयी.

लगभग 15 मिनट डॉगी स्टाइल में चोदने के बाद उसे नीचे लिटा कर उसके पैर अपने कंधे पर रखकर मैं घचाघच पेलने लगा उसको और वो चुदाई का मजा लेने लगी.

अब हम दोनों किस करने लगे और मैंने भाबी की चूत को फिर से चाट कर उनको गर्म कर दिया. आलिया- मैं तुम्हारे प्रपोजल को स्वीकार लूंगी, लेकिन इस के लिए तुम्हें मेरी कुछ शर्त माननी पड़ेगी. भाबी ने अपने दूध मेरी आंखों के सामने एक बार मस्ती से हिला क्या दिए कि मैं तो मानो बुरा गया.

ये पहली बार था, जब उसके बारे में मुझे बुरा ख्याल आया कि इसके रसीले और हॉट से होंठों को चूस डालूँ. अब मैंने उसकी ओढ़नी को उसके सीने से हटा दिया और उसे मदमस्त निगाहों से निहारने लगा. रोज मैं इसी अवतार में सोती हूं, अगर भाई मुझे नंगी सोने का टास्क न दे तो.

मतलब उसके हुस्न को सोचते हुए मैं ये कहानी लिख रहा हूं, तब भी मेरा लंड फड़फड़ा रहा है.

वाह, क्या नज़ारा था … भाभीजी के निप्पल बिल्कुल हल्के भूरे रंग के थे. भाभी जी लंड की मोटाई से तड़फ उठीं और चिल्लाने लगीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मैंने पूछा- क्या हुआ आप तो खेली खाई हो?भाभी जी ने बताया- शराब पीने के लत ने मुझे मेरे पति संतुष्ट ही नहीं कर पाते थे, इसलिए उन्होंने मुझे महीनों से छुआ ही नहीं है. जब मैं चूत की तरफ बढ़ा, तो देखा कि उसकी चूत का पानी और सीरप दोनों मिक्स हो गए थे, जिसमें से एक मादक खुशबू आ रही थी.

मैं घुटने के बल बैठकर गुलाब उसके सामने एक हाथ से लेकर प्रपोज करने लगा. आलिया का बाद में देख लेना, पहली उसकी माँ को तो चोद ले भोसड़ी के!हिना आंटी लंड के ऊपर नीचे बैठने लगीं. मैंने सोनी से पूछा- इतना अच्छा लंड चूसना कहां से सीखा?वो शरमाते हुए बोली कि हम कभी कभीपोर्न वीडियोदेखती हैं, वहीं से ये सब सीखा.

मैं जब भी अपनी सहेली के घर जाती थी, तो उसके बड़े भैया मुझसे बहुत बात करते थे.

और ये तुम्हारे लिए है बेटा!” शबनम ने अपना अनुभव दिखाते हुए अंकित को हैरत में डाल दिया था. चाची- हां रे जीशान … बहुत मस्त दिख रही है … ठंडी हवा भी लग रही है … मेरे बेटू को सब पता है.

देसी ब्लू फिल्म बीएफ हाय दोस्तो, हम दोनों, निशा और विराट फिर से आप लोगों के लिए एक कहानी लेकर तैयार हैं. थोड़ी देर बाद मैंने पोजिशन बदल ली और कुसुम की एक टांग को टेबल पर रखवा कर आगे से उसकी चूत में लंड डाल कर हिलाने लगा.

देसी ब्लू फिल्म बीएफ यह सब कुछ इतनी जल्दी से हो गया कि मुझे संभलने का कोई मौका भी नहीं मिला. कुछ देर तक मैंने तेजी से ऋतु की चूत को चाटा और फिर जब मैंने जीभ बाहर निकाली तो एक पुलिस वाले ने अपना आठ इंच का लौड़ा मेरी बीवी की चूत में एकदम से घुसा दिया.

मैं शेफाली की चूचियों से खेलने लगा और अपने होंठों से उसके मम्मों को रबर की तरह खींच कर चोदता रहा.

16 साल लड़कियों का बीएफ

तभी सीमान्त ने भी एक बियर की बोतल ले ली और मेरे पेट की नाभि में डालने लगा. अब दर्द तो नहीं हो रहा न?” मैंने पूछा तो उसने इन्कार में सिर हिला दिया पर बोली कुछ नहीं. ’धकापेल चुदाई के बाद आख़िर मैं भी निकलने वाला हो गया था, मैंने कहा- कहां निकालूँ?मेरी सास बोलीं- सब तुम्हारा ही है बेटा … जहां मन करे, निकाल दो … अब कोई रिस्क नहीं है.

मैंने उससे छूटने का प्रयास किया, लेकिन उसकी मजबूत भुजाओं से बच कर निकल पाना मुश्किल था. थोड़ी देर के बाद मैं पूजा की पीठ पर झुक गया और उसकी चूचियों को अपने दोनों हाथों से मसलने लगा. मैं अपने घर आने लगी, तो उसके बड़े भाई मोहन ने मुझे पकड़ लिया और बोलने लगे कि मैं तुमको बहुत पसंद करता हूँ और मुझे तुम्हारे बूब्स बहुत पसंद आते हैं.

वो बोली- मैं आपको बहुत सारे पैसे दूंगी, पर आप ये बात किसी मत बोलना भाई.

मैंने दूसरा हाथ उसकी पैंटी में डाल दिया और उसकी चूत में उंगली डाल दी. इसके बाद आंटी ने मेरा लंड पकड़ कर अपनी चुत पर लगाया और बोली- अब डाल!मैंने फिर से धक्का मारा, तो इस बार मेरा आधा लंड आंटी की चुत में उतर गया. अब तक मैंने भाभी के शरीर से उनके कपड़ों को अलग करना चालू कर दिया था.

उन्हें देख कर मेरा लंड इतना टाइट हो गया कि अन्दर चड्डी में ही दुखने लगा. कोई 15 मिनट की धुआंधार चुदाई के बाद उसकी गरमी अब ढलान पर आने लगी थी. मैंने रात भर खूब सोचा कि मैं अपने नए दोस्तों की किस तरह मदद कर सकता हूँ.

पर मुझे लगा कि शायद तुम शहर में अपनी किसी गर्लफ्रेंड के साथ मस्ती करते होगे. उनकी बात सुनकर मैंने झट से सब कुछ समेट लिया और तैयार होकर मेडिकल शॉप के लिए निकल गया.

मैंने अपने कपड़े अपने बदन से अलग कर लिये और एक हाथ से अपने चूचों को दबाते हुए अपनी चूत में उंगली करने लगी. मैं जब भी ऑटो में बैठती थी, तब कई बार मेरे पैर बाजू वाले के साथ टच हो जाते थे … और बस में तो पूछो ही मत, भरी हुई बस की भीड़ में खड़े खड़े कितना घर्षण होता था. अब तक की चुदाई में ऐसा दो बार हो चुका था और मैं उन दोनों बार ऐसा महसूस कर चुकी थी कि मोहन भैया के लंड के मेरी चूत में थम जाने से मैं पानी पानी हो गई थी.

थोड़ी देर उसके होंठों को चूसने के बाद मैंने उसे इशारा किया कि वह भी मेरा लंड चूसे.

उसके मुँह से आवाजें आना शुरू हो गई थीं- आह ज़ोर से जानू … आअज ऊऊहह हमम्म्म जानू … अया आज हम दोनों माँ बेटी को चोद कर खुश कर दो जानू आज हम दोनों का जीवन सफल कर दो … आ मम्मी मैं आई … आआहह ऊओह उउउम्म्म जानू …यह कह कर उसने ज़ोर से मेरे मुँह पर अपनी चूत दबा दी और उसकी चुत का रस मेरे मुँह में छूटने लगा. मटके में से पानी भरते समय मैंने अपने लंड को आंटी की गांड पर स्पर्श किया, तो वो भी अपनी जगह से हिली नहीं और वैसे ही खड़ी रहीं. मैं घर से बाहर निकल गया और बालकनी के रास्ते से खिड़की के पास आ गया.

मैं अपने जिस्म पर भाभी जी के रसीले मदभरे होंठों का स्पर्श महसूस करते हुए मदमस्त हुआ जा रहा था. अब आगे पढ़ें कहानी चुदाई की:बेटी जब समीर ऑफिस से घर आता है तो तेरी सास और ज्योति सोयी हुयी होती हैं हमें उस वक्त कुछ ऐसा करना होगा जिससे समीर हैरान हो जाए.

या फिर ऐसा कहें कि जब तक किसी लड़की के नर्म कोमल हाथ मेरे बदन को ऊपर से लेकर नीचे तक न सहलायें तो मुझे कुछ अधूरापन सा लगता है. पर धीरे धीरे मैं इसी समलैंगिक जीवन में रमता चला गया। अब तो यह मुझे इतना अच्छा लगता है कि मन में ख्याल आता है काश मेरी शादी किसी ऐसी लड़की से हो जिसके पास एक बड़ा और कलेजा हलक तक ला देने वाला लन्ड हो। वैसे यह मेरी जीवन की सबसे बड़ी ख्वाहिश है कि मैं कभी अपने जीवन में किसी लण्डधारी लड़की से मिल सकूँ. तो उसने कहा- होटल में होगा, आप होटल में आ जाइएगा और बाहर आकर फोन करिएगा, मैं रिसीव कर लूंगी आपको.

हिंदी में बीएफ एचडी हिंदी

महेश ने अपने लंड को अपनी बेटी की चूत से निकलते हुए पानी से गीला किया और उसे पकड़ कर अपनी बेटी की चूत के छेद पर रख दिया।इन्सेस्ट सेक्स कहानी अगले भाग में जारी रहेगी.

थोड़ी देर फ़ोन डिस्चार्ज हो गया, तो मैंने अमायरा से मेरा फोन चार्ज पर लगाने को बोला. मैंने उसे उठने दिया और फिर बिस्तर पर से नीचे खड़ी कर दिया और एक टांग बिस्तर पर चढ़ा कर फिर से उसे पीछे से चोदना शुरू कर दिया।शालिनी जी का शायद अब मन भर गया था और वो थकान महसूस करने लगी थी इस वजह से वो मेरा अब खुल कर साथ नहीं दे रही थी।5 मिनट की चुदाई में वो चिड़चिड़ी होने लगी और मुझे जल्दी झड़ने को कहने लगी। मैं उसे थोड़ा और थोड़ा और कह कर चोदता रहा. मैं उनके लिए अपने तरफ से सब्जी वगैरह लाकर दे देता था, ताकि उनको ऐसा न लगे कि मैं फ्री में खा रहा हूँ.

फिर मैंने मेरे दोस्त की फेवरट व्हिस्की मंगाई और कहा- यार, अब पीकर कुछ गम हल्का कर लेते हैं. मैंने उनकी डिसकस प्रोफाइल में से कुछ लोगों के नम्बर निकाल लिये और फिर उनसे बात करनी शुरू कर दी. कृष्णा कपूर सेक्सी पिक्चरऐना आंख दबा कर बोली- सिर्फ देखना चाहते हो, तो पूरी रात की क्या जरूरत है, वो तो कुछ ही देर में देखा जा सकता है.

अपने खड़े लंड पर थूक लगा कर उसकी गांड के छेद को अंदाज से उंगली से टटोला और अपना नौ इंची का हथियार थूक लगा कर उसकी गांड में पेल दिया. जैसे ही वो चुप हुई उसके मुँह से एक ही सवाल निकला- इतना प्यार करते हो मुझसे कि मेरे लिए इतना ख़तरा मोल लिया? और ऐसा मौका गंवा दिया? तुम चाहते तो शीना की चुदाई कर सकते थे पर तुमने मेरे लिए यह सब किया? मैं आज तक ऐसा ही प्यार तलाश कर रही थी जो मुझे तुम में मिला … प्लीज़ कभी मुझसे अलग मत होना, नहीं तो मैं खुद की जान ले लूँगी.

कुछ देर की कोशिश के बाद दोनों के लंड मेरी चूत ने ले लिए और बस फिर क्या था मेरे हस्बैंड मुझे नीचे से चूमने चाटने लगे और ऊपर से वो!मैं दोनों का साथ दे रही थी. मैंने बॉस को बोलकर अपना ट्रांसफर एक महीने के लिए रुकवा लिया और जरीना को कॉल करके बता दिया. मैं हल्का सा चिल्लायी- आहहह … प्लीज थोड़ा धीरे करो … मुझे दर्द हो रहा है.

मैंने सीधा उसको अपनी बांहों में भर लिया और उसके होंठों को पागलों की तरह चूसने लगा. उसके पति को कुछ दिनों के लिए ऑफिस के काम से बाहर जाना था और वो इस कॉलोनी में मेरे अलावा किसी को जानती भी नहीं थी. एक दिन जब मैं स्कूल से आ रहा था तो अचानक मुझे रास्ते में विक्की भैया मिल गये.

अब रोज चुदाई का काम चलता था, आज भी जब कभी अजमेर जाता हूं, तो जरीना से जरूर मिलता हूँ.

अभी तीन चार साल पहले ही तो कहीं और शिफ्ट हुए हैं वे!”उनकी बीवी बड़ी चुदक्कड़ थी. मेरे धक्के बहुत ही हल्के थे लेकिन फिर भी शालिनी के मुंह से सिसकारी निकल रही थी.

अनिल तौलिया लपेटे खड़ा था, तौलिये में से उसका तना हथियार दिख रहा था।मैंने कहा- तू भी यार … कर ले।वह बोले- मैं रगड़ दूंगा तो छिल जाएगी।मैं बोला- करके देख!मामा जी ने उसका तौलिया निकाल दिया और कहा- अनिल बातें देता रहेगा या कुछ करेगा भी?उसका खड़ा लंड उत्तेजना से ऊपर नीचे हो रहा था. मैं ऊपर नाभि पर पहुंचा, फिर पेट को चूमा, जिससे दीदी को एक बड़ी थरथराहट सी हुई, जो मुझे साफ़ समझ आ रही थी. कुछ देर बाद मेरी चूत में से सूसू निकल गई और वो झट से लंड बाहर निकाल कर मेरा सूसू पीने लगा.

आप लोग बने रहिये अन्तर्वासना के साथ और पढ़ते रहिये यारों का ये सेक्सी याराना. मैंने ये सुनते ही एक राहत की सांस ली और अगला एक और झटका मार कर पूरा लंड अन्दर डाल दिया. मैंने उनको काफी समझाया और कहा- कोई बात नहीं, चिंता न करो, सब ठीक हो जाएगा.

देसी ब्लू फिल्म बीएफ धीरे धीरे मोहिनी और मेरी बीवी को सेक्स और वोड्का का नशा चढ़ने लगा था. तो उन्होंने आकर मुझे बांहों में भर लिया और गोद में उठा कर बेड पर ले गए।[emailprotected].

इंग्लिश बीएफ सेक्स ओपन

उसने अन्दर आकर मुझे जगाया और बोली- अरे भाई … आप कब आए?वो मुझे भाई बुलाया करती थी. उसने आगे की तरफ झुक कर मुझे किस की और गांड हिला कर चार उंगलियां अपनी चुत में लेने लगी. मैंने अपने लोड़े की आखिरी बूंद तक संजना के मुंह में छोड़ दी और संजना भी उसे बड़े प्यार से गटक रही थी.

वो बोली- अगर सेक्स नहीं करना तो होटल क्यों? रेस्टोरेंट क्यों नहीं?मैंने कहा- मैं थोड़ा अकेलापन चाहता हूँ. उस दिन तू फार्म हाउस के लिए जो बुला रहा था, उसी दिन मुझे सब पता चल गया था. तेल मालिश वाला सेक्सीमगर बिक्कू ने मेरी बात नहीं सुनी और वो उठ कर जल्दी से कपड़े पहनने लगा.

ज़रीना के मुंह से आह्ह … श्सस्स … अम्म … आह्ह की आवाजें निकल रही थीं.

मैंने हाथ पकड़ कर उसे वापस बैठा लिया और थोड़ा ग़ुस्से से पूछा- बता मुझे … तू कब से ये गन्दे काम कर रही है … बोल नहीं तो मैं अभी पापा मम्मी को फ़ोन करके सब बता दूंगा. तुम्हारा यह प्यार देखकर ही मुझे भी चार्ली पसंद आ गया … और मैं चाहती हूँ कि चार्ली तुम्हारे साथ साथ मुझे भी चोदे.

”गौरी की सूरत रोने जैसी हो गयी थी। मुझे लगता है गौरी को इस समय यहाँ से जाना बिल्कुल भी अच्छा नहीं लग रहा था।तब जाना होगा?” उसने रुआंसी मरियल सी आवाज में पूछा।मैं ऑफिस जाते हुए तुम्हें ड्राप कर दूंगा. उसने अपना मुँह फिर से दबा लिया, तो मैंने इस बार कुछ ज्यादा ही जोर लगा दिया. छी अंकल जी … वहां गन्दी जगह मुंह क्यों लगा रहे हो?” उसने प्रतिवाद किया.

मैं दुर्ग के पास के एक गांव से हूँ … लेकिन अभी मैं शहर में रह रहा हूँ.

उन्होंने फिर से मेरा मुंह दीवाल की ओर कर दिया और अपने लंड में थूक लगाने लगे. मनोज को दीपा के गोल गोल दूध जैसे मम्मे और गुलाब की पंखुरी सी नाजुक चूत चाटने में बड़ा ही मजा आता था. अब नायरा ने धीरज को खड़ा किया और खुद नीचे बैठी और वाइन का गिलास भरा.

ബ്ലൂ ഫിലിം മലയാളംउनकी बीवी गांड नहीं मराती थी, तो वो मेरे को गांड मरवाने का अलग पैसा देते थे. मैंने भी उन्हें चुप करवाया और बोला कि जब इलाज़ चल रहा है, तो बस समय की ही तो बात है; हो जाएगा बच्चा.

एक्स एक्स बीएफ नई

मैं बोला- कम से कम मेरे ऊपर ही सो जा…तो वो लेट गयी।वो मेरे ऊपर लेट कर सोने लगी तो मैंने उसकी ब्रा के हुक भी खोल दिये और उसकी कमर पर हाथ फिराने लगा लेकिन उसका कोई रिएक्शन नहीं आया. वो ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ करने लगी और उसकी कराहों से मुझे जोश आने लगा. लेकिन मेरा अभी हुआ नहीं था, सो मैंने भाबी को नीचे लिटा लिया और उनकी चूत में लंड डाल कर ज़ोर ज़ोर से धक्के देने लगा.

फिर वहीं पेस्ट दांतों में लगा लिया, दांतों की मालिश के साथ साथ वे मेरी गांड की भी मालिश कर रहे थे. कुछ पड़ोस के अंकल, चाचा, मामा ने मारी उन्होंने गांड मराना व मारना सिखाया. और आप भी नहा लो आपते भी चेहले और सीने पल मेले प्रेम की तुछ निशानियाँ रह गई हैं जिन्हें दीदी ने देख लिया तो मुझे ओल आपको जान से माल डालेगी.

कुछ देर बाद मैंने खुद ही पूछ लिया- क्या हुआ … कुछ प्रॉब्लम है?फिर भी उसकी कोई आवाज़ नहीं आयी. नेट की सर्फिंग के दौरान ही मुझे एक लेडी मिली और मैंने उसे अपने मॉम को चोदने के सपने के बारे में बताया. मेरी जवानी शुरू होने बस मेरी यही ख्वाहिश थी कि एक बार मैं अपनी बहन समीरा को खूब चोदूं … कितनी ही बार मैंने उसके नाम की मुठ मारी है.

पर इसमें तुम मेरा साथ दोगे?उन्होंने कहा- क्या करना होगा?मैंने उनसे कहा- क्यों ना कुछ नया किया जाए और कुछ पैसा भी कमाया जाए? ई-मेल पर बहुत सारे लोग जो मुझे प्यार करने वाले हैं, मुझे चोदने के लिए पैसे देने के लिए भी तैयार हैं. मैं एना के मम्मों की तरफ बार बार देखे जा रहा था … क्योंकि उसने एक गहरे गले वाला टॉप पहना हुआ था.

फिर मैंने भी दूसरे हाथ से अपना पैग भी एक बार में ही निपटा दिया और दोनों गिलास वहीं प्लेटफार्म पर रख दिए.

तभी मुझे बाहर एक कार रुकने की आवाज आई तो मैंने खिड़की से देखा कि कौन है? बाहर उसकी माँ वापस आ गयी थीं, लेकिन वो इन बातों से बेखबर बेड पर लेटी मछली की तरह तड़प रही थी. स्कूल या लड़की के सेक्सी वीडियोरचना शॉक होते हुए कहने लगी- क्या!रोनित- अरे डार्लिंग सारे कपड़े नहीं … ब्रा पेंटी में आ जाओ, तुम मुझे अपनी फिगर तो दिखाओ, तभी तो मैं कोई फैसला ले पाऊंगा. इंडियन सेक्स मूवी सेक्सीतो दोस्तो, आपको मेरी यह चाचा भतीजी सेक्स कहानी पसंद आई या नहीं … मुझे बता देना. अब मैं एक हाथ से उसके मम्मे मसल रहा था और दूसरे हाथ से उसकी सलवार के अन्दर उसकी फुद्दी का दाना मसल रहा था.

”क्या?”अब क्या … क्या?”हाय मेरे हाथ तो छोड़ो बाबू?”भागोगी तो नहीं?”वो हंसकर बोली- भागना ही होता, तो मैं ऐसे छुप कर देखती ही क्यों?आज एक तैयारी करनी है?”उसने पूछा- कौन सी बाबू?मैंने कहा कि मेरी एक्स गर्लफ्रेंड आज मुझसे मिलने आ रही है, उसको क्या दूँ, ये समझ में नहीं आ रहा है.

उसने मेरे निप्पल को कस कर दोनों हाथों से दबा दिया तो दर्द के मारे मैं चीख उठी फिर मुट्ठी में भर कर इतनी जोर से कस कर मेरे दूध को दबाया कि मैं बिल्कुल जोर से ही चिल्ला उठी. भाबी ने भी बैठे हुए ही मेरे सारे कपड़े निकाल दिए और मैं अंडरवियर में रह गया. सीमान्त- अह्ह्ह तू तो मेरी रंडी है … तुझे ऐसे ही रंडी की तरह चोदूँगा साली …मैं- आह तो चोद ना मादरचोद … तेरा लंड मुझे हमेशा ऐसे ही अपने गांड में लेना है.

दोस्तो,आपको मेरी पिछली कहानीमस्ती की एक रातऔरअदल बदल कर मस्तीकैसी लगी. फिर मैंने शिवानी से कहा- यार तुम सच ही कह रही थी, यह सागर तो बहुत रूखा सा इंसान है. मैंने ऐसी हालत में मैंने संजना की तरफ देखा तो वह तो बिचारी पसीने से भीग चुकी थी.

बीएफ बीएफ चोदने वाली बीएफ

और हमारे आपके पारिवारिक सम्बन्ध भी अच्छे हैं तो मैं नहीं चाहता कि हमारी दोस्ती टूटे या पारिवारिक सम्बन्धों में कोई दरार पड़े. मैंने‌ आंखें खोलकर देखा तो हाथ में बेडशीट लिये प्रिया मेरे सामने‌ खड़ी मुस्कुरा रही थी. मेरी और हनी की चुदाई के बाद राहुल और सीमांत भी मुझे चोदने की फिराक में थे.

मैंने उसके बाजू में लेट कर उसकी टी-शर्ट में हाथ डाल कर उसे ऊपर सरका दिया.

मैंने बस अपने तरीके से उसके मुंह को चोद कर छोड़ा और फिर तैयार हो गया।मैंने सोच लिया था कि अबकी बार लम्बी पारी खेलनी है.

सोनी ने बड़ी कातिल अदा से मेरी तरफ देखा और बोली- मैं तो कब से इस दिन का इंतजार कर रही थी. उफ्फ्फ … क्या मस्त नज़ारा था … वैसा बदन फिर मुझे अभी तक देखने को नहीं मिला. सेक्सी रोमांस बुक्समैंने सोचा था कि शायद रशीद झड़ने वाला है, पर इसके साथ ही उसने फिर से मेरी बुर में लौड़ा पेल दिया.

मैंने पूछा- क्या रास्ता है मैडम … मुझे क्या करना होगा?मैडम बोलने लगीं- जो संतोष ने जो तुम्हारे साथ किया, उसे वो मेरे साथ भी करना होगा. अभी 10 दिन पहले ही जब मैं चित्रकूट घूमने के लिए गई थी तो होटल मेंजीजा ने मेरी चूत को जम कर बजायाथा. मैं बस हल्के से मुस्कुरा दी।अब मुझे मेरे हस्बैंड को जाना था इसलिए हम दोनों वहां से आ गए।आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी? मुझे जरूर बताएं मेरी ईमेल पर[emailprotected].

इस चूमाचाटी के चलते मैंने अपने एक हाथ को फिर से उसके कुर्ते में घुसा दिया था. उसकी चूत की चुदाई करते हुए इतना मजा आ रहा था कि मैं उस आनंद को यहां पर बता नहीं पा रहा हूं.

पात्र बदल जाते हैं, काल बदल जाते हैं, परिदृश्य बदल जाता है, लेकिन सार वही रहता है.

इस सबसे मेरी चुदास अत्यंत बढ़ गई थी और नीचे मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया था. आज भी जब मैं उससे राखी बंधवाने जाता हूँ, तो हम दोनों सेक्स ज़रूर करते हैं. चाची से मैंने पूछा भी … पर वे बोली- जानू इस लंड के आगे दर्द कुछ भी नहीं! तू डाल तो मेरी चूत में!मैंने हल्के हल्के पूरा लंड घुसा दिया और शुरू हो गया.

5 साल लड़की का सेक्सी ई …” की आवाज के साथ उसने मेरे सिर को छोड़कर तुरन्त ही दोनों हाथों से अपनी चूचियों को छुपा लिया. उसके बाद आया मुसीबतों का दौर … जब कोई उनके दूर का रिश्तेदार उनके घर आया और उनका मोबाइल हैक कर ले गया.

उसने वो मेरे पेट से मेरे हाथों को हटाया और मेरे पेट पर किस करने लगा. उसको पलंग पर लिटा कर मैंने पहला ही झटका मारा कि वो चिल्ला उठी- आह साले … धीरे कर ना … कमीन चुत फाड़ दी मादरचोद. ” अंकित को अहसास भी नहीं था कि उसने अभी अभी शबनम को क्या सुख दिया है.

सुहागरात देसी बीएफ

जब वह स्टूल पर खड़ी हो रही थी, उसकी स्कर्ट थोड़ी ऊपर उठ गयी, जिसकी वजह से उसकी दूधिया टांगों की छोटी सी झलक दिखाई पड़ी. जब लड़का कर सकता है तो लड़की क्यों नहीं कर सकते। लड़के जिस लड़की के साथ करते हैं, वह भी तो किसी की बीवी बनती ही है. धीरे धीरे उसने मेरी मदनमणि को अपने होठों में पकड़ा और उसे जीभ से छेड़ने लगा। मैंने अपने हाथों से उसके बालों को पकड़ा और उसके सर की मेरी चुत पर दबाने लगी.

हां तुम बोल रही थी कि तुम किसी निजी काम से यहां आई थी, बताओ क्या काम था. रशीद थक चुका था, मुझे उस पर दया आ रही थी क्योंकि उसकी हालत हारे हुए जुआरी की तरह हो गयी थी.

मैंने उसे चोदते हुए उससे पूछा- मुझे तुम्हारी गांड मारनी है, क्या ख्याल है?वो बोली- ख़ुशी से मार सकते हो.

तब मैंने अपनी एक उंगली उसकी चूत में डालकर उसकी चुदाई स्टार्ट की और उसके होंठों को चूसने लगा, तो कुछ ही देर में वो डिसचार्ज हो गयी. इस वक्त नेहा ने नीचे एक ढीला सा लोवर पहना हुआ था और ऊपर कुर्ते के जैसा ही कुछ पहना हुआ था, जो कि काफी ढीला था. उसने मेरी जीभ का अहसास पाते ही एक मदभरी सीत्कार भरी और अपनी टांगें खोल दीं.

उस दिन तू फार्म हाउस के लिए जो बुला रहा था, उसी दिन मुझे सब पता चल गया था. तभी आलिया का फोन बज उठा, जो वहीं टेबल पर पड़ा था … इसलिए मैं उस पर से उतर गया और आलिया ने अपना फोन उठा लिया. चिकनी देह वाली दीदी इस वक्त एक बहुत ही मादक कामुक दिखने वाली पोर्न एक्ट्रेस लग रही थीं.

मैंने प्रीति को अपने गले से लगा लिया और उसकी पीठ पर हाथ फिराने लगा.

देसी ब्लू फिल्म बीएफ: भाभी ने शालू से पूछा- क्या ये सही कह रहा है?उसने अपना सिर हां में हिला दिया. वो बार-बार पिंकी की गांड पर थूक रहा था और लंड को बाहर निकाल कर पूरा घुसा देता था.

रोहन- हैलो? कहां खो गई मिसेज़ ब्यूटीफुल?सोनिया- ह्म्म्मम्म … यहीं हूँ. धीरज ने बिना देर किये अब नायरा को नीचे लिटाया और उसकी टांगें चौड़ी करके ऊपर करीं और अपना फनफनाता औज़ार नायरा की गुफा में डाल दिया. मैंने पूछ लिया कि मिल के क्या करना है?तो उसने कहा- मुझसे मिल कर आप जो भी करना चाहते हों, वो कर लेना.

हैलो डियर … मेरी ये सेक्स कहानी काल्पनिक है, इसका किसी से कोई लेना देना नहीं है.

मेरी ईमेल आईडी है[emailprotected]अगली बार मैं अपनी ज़िंदगी के कुछ और भी किस्से अन्तर्वासना पर आपसे शेयर करूँगा. मेरे हाथों ने उसकी ब्रा को ऊपर से पकड़ लिए और कहा- ब्रा का हुक लग रहा है. मैं गीली ही उसकी छाती से चिपक कर अपने मम्मों को उसके बदन से रगड़ने लगी.